घरों में रहना बेहतर समझा लोगों ने, सड़कों पर पसरा रहा सन्नाटा

लॉक डाउन: पहले दिन लोगों ने घरों में रहना बेहतर समझा सड़कों पर पसरा रहा सन्नाटा। अति आवश्यक कार्य से ही निकले लोग। हूटर बजाते दौड़ती रहीं पुलिस की गाडिय़ां।

बिजनौर। कोरोना के कहर पर ब्रेक लगाने के उद्देश्य से लगाए गए वीकेंड लॉक डाउन के पहले दिन ही खासा असर दिखाई दिया। शहर की सडक़ें पूरी तरह सुनसान रहीं। मेडिकल स्टोर व दूध की कुछ दुकानें ही खुलीं, लोगों ने घरों में ही कैद रहना मुनासिब समझा। वहीं सड़कों पर दौड़ती पुलिस की गाड़ियों का बजता हूटर भी लोगों को घर में ही रहने की हिदायत दे रहा था। शाम को आवाजाही में बढ़ोतरी हुई। रात्रि आठ बजे के बाद में फिर एक बार सन्नाटा पसर गया।

कोरोना की दूसरी लहर से निपटने को प्रदेश सरकार द्वारा शनिवार व  रविवार को लॉक डाउन लगाने का निर्णय लिया गया है। शुक्रवार रात्रि आठ बजे तक लोग आराम से सडक़ पर चहलकदमी कर रहे थे। किसी को चिंता ही नहीं थी कि रोजाना की तरह रात्रि कर्फ्यू ही नहीं सोमवार सवेरे तक लॉक डाउन भी है। रात्रि करीब साढ़े आठ बजे जब पुलिस सड़क पर उतरी तो नजारा बदल गया। लोग, दुकानदार, ठेले वाले घरों की ओर भागने लगे। देखते ही देखते बाजार पूरी तरह बंद हो गया। दो दिवसीय लॉक डाउन के पहले दिन शनिवार को सुबह से ही सड़कों पर आवाजाही बेहद कम रही। मुख्य बाजार, सिविल लाइन, शास्त्री चौक, जजी चौक आदि पर दुकानें शत प्रतिशत बंद रहीं। पिछले कुछ दिनों से कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बाजार में भीड़ वैसे भी कम ही देखी जा रही थी। शनिवार को अधिकांश लोग घर से बाहर नहीं निकले। वहीं शाम होते होते गली मोहल्लों में ही थोड़ी बहुत हलचल दिखाई पड़ी। हालांकि लोग मास्क और सामाजिक दूरी का पालन करते नजर आए। 

पुलिस को देख छिपने वाले फिर उतरे मैदान में: दो दिन के लॉक डाउन के चलते हल्दौर नगर में बाजार पूर्ण रूप से बंद रहा, ग्रामीण क्षेत्रों में वीकेंड लॉक डाउन पूरी तरह बेअसर साबित हुआ। शहर में पुलिस की कड़ी सख्ती होने के कारण लोगों ने  इसका पालन किया, जबकि ग्रामीण इलाकों में इसका तनिक भी असर नहीं दिखाई दिया। पुलिस का वाहन गांव के गलियों में गुजरते ही सायरन की आवाज सुनकर बाहर घूमने वाले भाग खड़े होते। बाद में सभी एकजुट होकर बैठ जाते।

नगीना में पूरी तरह बंद रहे बाजार: लॉक डाउन के चलते नगीना के समस्त बाजार पूरी तरह बंद रहे। कोई वाहन नहीं चला। प्रशासन ने फलों व सब्जी के ठेले तक नहीं लगने दिए। राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित सभी होटल व रेस्टोरेंट भी बंद रहे। रोजेदारों को रोजा इफ्तारी का सामान नहीं मिल सका। महिलाओं ने घर मे ही बनाया। मंडी में सब्जी व फल विक्रेताओं की बैठक में प्रशासन से अपील की गई कि वह पाबंदी न लगाएं। नगर में सफाई व्यवस्था नगर पालिका द्वारा कराई गई। थाना प्रभारी कृष्ण बिहारी दोहरे ने चेताया है कि यदि कोई बिना मास्क लगाए घूमता पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के साथ ही जुर्माना वसूला जाएगा। सभी को कोविड-19 के निर्देशों का पालन करने की अपील की गई है।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s