सिर्फ रेमडेसिविर ही नहीं, सस्ती सी ये गोली भी बचा सकती है जिंदगी!

बेंगलूरु। कोविड के गंभीर मरीजों के उपचार के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) को लेकर देश भर में अफरा-तफरी का माहौल है। कई चिकित्सकों ने इसके उपलब्ध नहीं होने की बात कही है। कालाबाजारी जारी है। लोग हजारों रुपए में इस इंजेक्शन को खरीदने में मजबूर हो रहे हैं। इस बीच, नकली इंजेक्शन बेच कर लोगों की जान से खिलवाड़ के भी मामले सामने आए हैं। हालांकि, कई चिकित्सकों ने साफ किया है कि इस इंजेक्शन का कोई विशेष फायदा नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इसे उपचार प्रोटोकॉल से बाहर रखा है। केंद्र और राज्य सरकार भी यही बात कह रही है। अब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR – आइसीएमआर) और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS – एम्स), नई दिल्ली ने भी नए उपचार प्रोटोकॉल में इसे शामिल किया है।

जीवनदायी साबित हो रही एक सस्ती गोली

ऐसे में एक बेहद सस्ती और आसानी से उपलब्ध इंजेक्शन व गोली डेक्सामेथासोन ( Dexamethasone) चर्चा का विषय बनी हुई है। कोविड मरीजों के उपचार में यह बेहद कारगर और जीवनदायी साबित हो रही है। चिकित्सकों के अनुसार कोविड के गंभीर मरीजों में रेमडेसिविर की एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (Acute Respiratory Distress Syndrome ) को रोकने में कोई विशेष भूमिका नहीं है। इसके मुकाबले डेक्सामेथासोन अधिक कारगर है।

दो हजार मरीजों पर हुआ शोध- हाल ही में ब्रिटेन के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि दुनिया भर में बेहद सस्ती और आसानी से मिलने वाली दवा डेक्सामेथासोन कोरोना वायरस से संक्रमित और गंभीर रूप से बीमार मरीजों की जान बचाने में मदद कर सकती है। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि अगर इस दवा का इस्तेमाल ब्रिटेन में संक्रमण के शुरुआती दौर से ही किया जाता तो करीब 5,000 लोगों की जान बचाई जा सकती थी। ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी की एक टीम ने अस्पतालों में भर्ती 2,000 मरीजों को यह दवा दी और उसके बाद इसका तुलनात्मक अध्ययन उन 4,000 मरीजों से किया, जिन्हें दवा नहीं दी गई थी। जो मरीज वेंटिलेटर पर थे, उनमें इस दवा के असर से 40 फीसदी से लेकर 28 फीसदी तक मरने का जोखिम कम हो गया और जिन्हें ऑक्सीजन (OXYGEN) की जरूरत थी उनमें ये जोखिम 25 फीसदी से 20 फीसदी तक कम हुआ। शोधकर्ताओं के मुताबिक कोरोना वायरस संक्रमण शरीर में इनफ्लेमेशन यानी सूजन बढ़ाने की कोशिश करता है। जबकि डेक्सामेथासोन इस प्रक्रिया को धीमी करने में असरदार पाई गई। बेहद सस्ती होने के कारण यह दवा गरीब मरीजों व देशों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। हालांकि, कुछ चिकित्सकों का कहना है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के साथ डेक्सामेथासोन बेहद प्रभावी है। कई मामलों में दोनों की जरूरत पड़ती है।

1960 के दशक से इस्तेमाल जारी– भारत में डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल 1960 के दशक से जारी है। अनुमान है कि भारत में डेक्सामेथासोन की सालाना बिक्री 100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा है। भारत सरकार के ड्रग प्राइस कंट्रोल ऑर्डर पॉलिसी के तहत इस दवा की गोलियों के पत्ते और इंजेक्शन पांच रुपए से लेकर 10 रुपए के भीतर खरीदे जा सकते हैं।

गौरतलब है कि बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका सहित प्रदेश के कई निकायों की ओर से होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना संक्रमितों को दिए जाने वाले दवा के किट में यह दवा शामिल है।

रेमडेसिविर जीवनरक्षक दवा नहीं– कर्नाटक राज्य के स्वास्थ्य व चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ के. सुधाकर जो पेशे से चिकित्सक भी हैं, कहते हैं कि प्रचार के कारण रेमडेसिविर की मांग ज्यादा है। हालांकि, यह जीवनरक्षक दवा नहीं है। इससे ज्यादा प्रभावी है स्टेरॉयड। डेक्सामेथासोन इनमें से एक है। डेक्सामेथासोन की एक गोली 50 पैसे में उपलब्ध है। रेमडेसिविर की मांग है इसलिए सरकार इसकी भी आपूर्ति करेगी।

सबसे सस्ती,आसानी से मिलने वाली दवा– डेक्सामेथासोन स्टेरॉयड देश में काफी आम है। यह सबसे सस्ती और आसानी से मिलने वाली दवा और इंजेक्शन है। कोविड के उपचार में स्टेरॉयड कारगर है। कोविड के मध्यम व गंभीर मरीजों के उपचार में डेक्सामेथासोन असरदार है। इसके प्रमाण भी हैं। कई मरीजों का फायदा हुआ है। इसके इस्तेमाल को बढ़ावा देने की जरूरत है। चिकित्सकों की सलाह पर ही यह दवा लेनी चाहिए। चिकित्सकों को तय करना होगा कि किसी मरीज को यह दवा कब देनी है।” डॉ. सोनल अस्थाना, यकृत रोग विशेषज्ञ, एस्टर सीएमआइ अस्पताल

मरीज की हालत व चिकित्सक पर निर्भर– गुर्दा रोग विशेषज्ञ डॉ. संजीव कुमार हिरेमठ ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के साथ स्टेरॉयड प्रभावी है। डेक्सामेथासोन भी एक स्टेरॉयड है। कोविड के मध्यम से गंभीर मरीजों के उपचार में इसका इस्तेमाल हो सकता है। दवाओं का विकल्प मरीज की हालत व चिकित्सकों पर निर्भर करता है।” डॉ. संजीव कुमार हिरेमठ, गुर्दा रोग विशेषज्ञ, सागर अस्पताल

हल्के लक्षण वाले मरीजों को जरूरत नहीं-“कोविड के मध्यम व गंभीर मरीजों के उपचार में ही डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल होना चाहिए। याद रहे यह खुद से लेने वाली दवा नहीं है। घरों में 10 दिन के लिए क्वारंटाइन कोविड के हल्के लक्षण वाले मरीजों को इसकी जरूरत नहीं है। डेक्सामेथासोन एक ऐसी दवाई है जिसे निश्चित समय पर दिया जाए, तो अच्छे परिणाम आते हैं। चिकित्सक मरीज की स्थिति को ध्यान में रखकर इस इंजेक्शन के बारे में बता सकते हैं।” डॉ. जी. बी. सत्तूर, सदस्य, कोविड-19 विशेषज्ञ समित

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s