घंटों बसें रोककर बनवा रहे उत्तराखंड में आवागमन को ई-पास

उत्तराखंड में आवागमन को घंटों बसें रोककर बनवा रहे ई-पास
बिजनौर। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते रोजी-रोटी के जुगाड़ में लगे लोग बसों में सवार होकर एक राज्य से दूसरे राज्य में कारोबार के लिए आवागमन कर रहे हैं। ऐसे में उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड में प्रवेश के लिए आवश्यक ई-पास को बनवाने के लिए बसों के चालक-परिचालक घंटों बसों को भागूवाला क्षेत्र में रोककर यात्रियों के ई-पास बनवाने में लगे हुए हैं। इसके चलते क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा बना हुआ है। लॉकडाउन के दौर में भी लोग अपनी रोजी रोटी को लेकर परेशान हैं, जिसके चलते बड़ी संख्या में मजदूर पेशा लोग उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश में चल रही फैक्ट्रियों में कामकाज के सिलसिले में उत्तर प्रदेश राज्य सडक़ परिवहन निगम व उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों से यात्रा कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कोरोना संक्रमण की अधिक दर वाले क्षेत्रों से बड़ी संख्या में यात्री लखनऊ डिपो, सीतापुर डिपो, चारबाग डिपो आदि की बसों में सवार होकर उत्तराखंड में पहुंचने के लिए आ रहे हैं। तहसील के भागूवाला क्षेत्र में कई लोगों ने ई-पास जारी करने का धंधा शुरु किया हुआ है। जहां यात्रियों से एक ई-पास बनवाने के लिए 80 से लेकर एक सौ रुपए तक वसूले जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश राज्य सडक़ परिवहन निगम के कई डिपो के चालक व परिचालक भी यात्रियों के ई-पास बनवाने के लिए अपनी बसों को ई-पास बनाने वालों के स्थान पर ले जाकर घंटों खड़ा कर देते हैं। बसों से यहां पहुंचने वाले यात्री सामान आदि की खरीददारी के लिए इधर-उधर क्षेत्र में घूमते रहते हैं। साथ ही बस चालक-परिचालक बसों को रास्ते में खाने की व्यवस्था के लिए चोरी-छिपे संचालित होटलों पर भी रोक रहे हैं। ऐसे में क्षेत्र के लोगों को कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा बना हुआ है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि ई-पास बनाने वालों तथा होटल संचालित करने वालों ने बसों के चालकों व परिचालकों से सांठगांठ की हुयी है। इसके चलते चालक-परिचालक बसों को घंटों उनके यहां लाकर खड़ा कर देते हैं।

क्षेत्रीय नागरिकों पुष्पेंद्र, सत्यम, रईस, शहजाद, मुकेश आर्य, मुकेश राजपूत का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण ने गांवों तक दस्तक दे दी है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के अधिक मामलों वाले प्रदेश की राजधानी लखनऊ आदि क्षेत्रों से आने वाले लोगों का क्षेत्र में इस तरह व घंटों खुलेआम घूमने से क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के खतरे को बढ़ावा देने वाला मान जा रहा है। उन्होंने बाहर से आने वाली बसों को क्षेत्र में न रोके जाने की मांग की है।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s