मैं भगवान विष्णु का 10वां अवतार, नहीं आ सकता ड्यूटी!

ऑफिस न जाने का परफेक्ट बहाना! गुजरात के अफसर ने कहा- मैं विष्णु का 10वां अवतार, काम पर नहीं आ सकता

अहमदाबाद। गुजरात सरकार के एक अधिकारी ने दावा किया है कि वो भगवान विष्णु के दसवें अवतार कल्कि हैं और वो ऑफिस नहीं आ सकते क्योंकि वह ‘‘विश्व का अंत: करण’’ बदलने के लिए ‘‘तपस्या’’ कर रहे हैं। 

सरदार सरोवर पुनर्वास एजेंसी के इंजीनियर रमेश चंद्र फेफर ने कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए कहा कि उनकी तपस्या को धन्यवाद कि देश में अच्छी बारिश हो रही है। फेफर को जारी किया गया नोटिस और उनका अजीबो गरीब जवाब वायरल हो गया है। फेपर ने अपने राजकोट स्थित घर पर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि – आप विश्वास नहीं करेंगे, लेकिन मैं भगवान विष्णु का दसवां अवतार हूं और आने वाले दिनों में मैं इसे साबित कर दूंगा। मैं मार्च 2010 में ऑफिस में था तो मुझे महसूस हुआ कि मैं कल्कि अवतार हूं। तब से मेरे पास दिव्य शक्तियां हैं।

8 महीने से दफ्तर नहीं गया, नोटिस के जवाब में कहा- मैं विष्णु अवतार हूं, काम  नहीं कर सकता - A superintendent engineer in Gujarat claimed to be Kalki the  tenth incarnation

तीन दिन पहले एजेंसी की ओर कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। 50 साल पूरे कर चुके फेफर ने नोटिस का जवाब देते हुए कहा है कि वो ऑफिस नहीं आ सकते हैं, क्योंकि तपस्या में लीन हैं। फेफर ने कहा कि वैश्विक अंत:करण के बदलाव के लिए अपने घर में तपस्या कर रहा हूं। मैं आफिस में बैठ कर इस तरह की तपस्या नहीं कर सकता हूं। उन्होंने दावा किया कि उनकी तपस्या की वजह से ही भारत में पिछले 19 साल से अच्छी बारिश हो रही है। अब यह एजेंसी को तय करना चाहिए कि मुझे ऑफिस में बैठाकर टाइम पास कराना ज्यादा महत्वपूर्ण है या फिर देश को सूखे से बचाने के लिए कुछ ठोस काम करना है। मैं कल्कि अवतार हूं, इसलिए भारत में अच्छी बारिश हो रही है।

नोटिस के मुताबिक, फेफर पिछले आठ महीने में वडोदरा स्थित अपने आफिस में सिर्फ 16 दिन गए। नोटिस में कहा गया है कि गजटेड ऑफिसर का इस तरह से अनधिकृत रूप से अनुपस्थित रहना शोभा नहीं देता है। आपकी अनुपस्थिति के चलते एजेंसी के काम रुकावट आ रही है। गौरतलब है कि सरदार सरोवर परियोजना से प्रभावित लोगों के पुनर्वास का काम SSPA देख रही है। (साभार)

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s