WB में लोकतंत्र के गिरते स्तर की पराकाष्ठा

शुभेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चुराने के आरोप में FIR, सहयोगी राखल बेरा को कोलकाता पुलिस ने किया गिरफ्तार

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के कांथी में बीजेपी नेता शुभेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। यह केस टीएमसी की उस शिकायत के बाद दर्ज किया गया है जिसमें पार्टी ने आरोप लगाया है कि अधिकारी व उनके भाई ने नगरपालिका से राहत सामग्री की चोरी की है। दरअसल, पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के समय से ही विरोधी पार्टी बीजेपी और सत्ताधारी टीएमसी के बीच तनातनी बढ़ गई है। चुनाव से पहले अधिकारी टीएमसी को छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए थे। उन्होंने नंदीग्राम सीट से ममता बनर्जी को करारी मात दी थी।

विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद राज्य और केंद्र के बीच मतभेद साफ तौर पर देखने को मिल रहा है। चक्रवात तूफान यास को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बैठक में ममता शामिल नहीं हुई थीं। इस बैठक के बाद केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव रहे अलपन बंदोपाध्याय का दिल्ली ट्रांसफर कर दिया था। हालांकि, दिल्ली जाने से पहले ही अलपन ने पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद ममता ने एक और दांव चलते हुए अलपन को अपना मुख्य सलाहकार बना दिया।

पश्चिम बंगाल: शुभेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ FIR हुई दर्ज, TMC ने लगाया चोरी का आरोप

बीते गुरुवार को शुभेंदु अधिकारी और उनके पिता शिशिर अधिकारी पर तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी ने निशाना साधा था। उन्होंने कहा कि पूर्व मेदिनीपुर में तटबंधों के निर्माण के लिए आवंटित धन का “दुरुपयोग” किया गया। यहां हाल ही में चक्रवात ‘यास’ की वजह से आई बाढ़ के कारण लोग बेघर हो गए थे। कांथी से लोकसभा सांसद शिशिर अधिकारी ने हालांकि दावा किया कि दीघा-शंकरपुर विकास प्राधिकरण (DSDA) के अध्यक्ष के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान लगभग 90 प्रतिशत काम किया गया था और बाकी को आने वाले सर्दी के मौसम के अंत तक पूरा किया जाना था।

अधिकारी को इस साल की शुरुआत में टीएमसी ने पद से हटा दिया था और कुछ ही समय बाद वे अपने बेटे के नक्शेकदम पर चलते हुए भाजपा में शामिल हो गए। टीएमसी सांसद ने पिता-पुत्र का नाम लिए बिना कहा कि यह स्पष्ट रूप से जाहिर है कि जब समुद्र के किनारे सड़क का निर्माण हुआ उस वक्त डीएसडीए का प्रबंधन किसके पास था। उन्होंने कहा कि लोग यह भी अच्छी तरह से जानते हैं कि सिंचाई विभाग का प्रभारी कौन था, जिसने समुद्र के पानी को बहने से रोकने के लिए तट के किनारे सुरक्षा दीवार बनाई और तटबंधों को बनाया।

वहीं कोलकाता पुलिस ने पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेन्दु अधिकारी के करीबी राखल बेरा को गिरफ्तार कर लिया है। बेरा को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। शुभेन्दु के करीबी की गिरफ्तारी ऐसे वक्त हुई है, जब पश्चिम बंगाल सरकार और केंद्र सरकार के बीच विधानसभा चुनाव के बाद विभिन्न मुद्दों पर तनाव बना हुआ है। बेरा पर 2019 के दौरान सिंचाईं एवं जलमार्ग मंत्रालय में नौकरी दिलाने के फर्जी वादा करके लोगों को धोखा देने का आरोप है। ऐसी शिकायत मिलने के बाद कोलकाता पुलिस ने जांच के दौरान उनकी गिरफ्तारी की है। बेरा की गिरफ्तारी बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद से गरमाई सियासत में नया तूफान ला सकती है।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s