अभिभावक को स्कूल में बंद कर पीटा, गोली मारने की धमकी!

विद्यालय की छुट्टी जल्दी होने की शिकायत अभिभावक को पड़ी भारी। अध्यापक ने अभिभावक के साथ की मारपीट।

बिजनौर। विद्यालय की छुट्टी जल्दी होने की शिकायत अभिभावक को भारी पड़ गई। अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले अध्यापक ने गरिमा तार तार कर दी। दबंग शिक्षक ने अभिभावक को स्कूल में जमकर पीटा और दो घंटे तक बंधक बनाकर रखा। यही नहीं गांव के राशन डीलर को पीड़ित अभिभावक के घर भेज कर गोली मारने की धमकी भी दी। फिलहाल मामला पुलिस के पास है और विकास क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी भी जांच कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार नहटौर क्षेत्र के ग्राम पाडली मांडू निवासी शौकीन अहमद पुत्र मुन्ने का बेटा प्राथमिक विद्यालय पाडली प्रथम में अध्ययनरत है। बताया जाता है कि स्कूल स्टाफ ने बच्चों की छुट्टी कर दी, जल्दी छुट्टी होने पर विद्यालय में पहुंचे शौकीन ने विद्यालय स्टाफ से शिकायत दर्ज कराई। आरोप है कि शिक्षक सचिन चौधरी ने शौकीन अहमद को गालियां देते हुए मारपीट कर स्कूल के एक कमरे में बंधक बना लिया। दो घंटे तक बंधक रहे शौकीन को अन्य स्टाफ ने शिक्षक सचिन के चंगुल से आजाद कराया। किसी तरह घर पहुंच कर शौकीन ने जानकारी अपने परिजनों को दी। परिजनों के साथ शौकीन अहमद ने नीदडू पुलिस चौकी पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई। साथ ही साथ नहटौर विकास क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी सुभाष कुमार से भी लिखित में शिकायत की। वहीं शिक्षक सचिन ने आरोपों को पूरी तरह से गलत बताया है। आरोप यह भी है कि गांव का राशन डीलर शिक्षक की ओर से धमकी देने आया कि सचिन से उलझो मत, वो गोली मार देगा। दूसरी ओर विभागीय अधिकारियों ने शिकायत के आधार पर मामले की जांच शुरू कर दी है।

मोबाइल फोन में व्यस्त रहते हैं गुरु जी- आरोप है कि अधिकांश समय अध्यापक मोबाइल फोन में व्यस्त रहते हैं। कोई व्हाट्सएप्प में जुटा रहता है तो कोई यूट्यूब या फ़ेसबुक में। किसी को देश के नौनिहालों के भविष्य की चिंता नहीं है। ऐसे अध्यापक भारी भरकम तनख्वाह सरकार से वसूल कर अपने कर्तव्य की अनदेखी कर रहे हैं। टोकने पर अभिभावकों के साथ गुंडागर्दी पर उतारू हो जाते हैं। यही नहीं कहते हैं कि अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाओ। दो साल पहले बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री अनुपमा जायसवाल ने चेतावनी भी दी थी कि स्कूल टाइम में ऑनलाइन मिलने पर संबंधित शिक्षक के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इस ओर ध्यान देने की जरूरत है।

फर्जी कागजात के आधार पर बना राशन डीलर, अगली पोस्ट…

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s