महिला की जान बचाई तो पुलिस ने प्रशंसा पाई, SP ने दिया पुरस्कार

फांसी पर लटकी महिला की जान बचाने वाली पुलिस टीम पुरस्कृत

पुलिस टीम को एसपी ने दिया प्रशस्ति पत्र व 05-05 हजार रुपए का नगद पुरस्कार

बिजनौर। एक सप्ताह पूर्व फांसी के फंदे पर लटकी महिला की जान बचाने वाली पुलिस टीम को एसपी ने प्रशस्ति पत्र व 05-05 हजार रुपए के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया है। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह द्वारा टीम के इस सराहनीय एवं मानवतापूर्ण कार्य की भूरि-भूरि प्रशंसा की गयी। उन्होंने सभी को प्रशस्ति पत्र व 05-05 हजार रुपए के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया। पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी को भविष्य में भी इसी प्रकार से कर्तव्यनिष्ठा एवं समर्पण भाव से जनसेवा करने के लिये प्रेरित किया गया।

गौरतलब है कि थाना कोतवाली शहर अंतर्गत काकरान वाटिका में 27 सितंबर 2022 को गृह कलह से तंग महिला फांसी के फंदे पर झूल गई थी। इससे पहले पति पत्नी में झगड़ा हुआ था। पड़ोसियों की सूचना पर उ0नि0 गौरव चौधरी, आरक्षी अचीन चौधरी, आरक्षी शुभम सरोहा व महिला आरक्षी फिरमिल मौके पर पहुँचे। पुलिस टीम ने बिना समय गंवाए महिला को फांसी के फंदे से उतारा तथा उसे उपचार हेतु तत्काल बीना प्रकाश हॉस्पिटल में भर्ती कराया, जिससे महिला को सकुशल बचा लिया गया।

इस पूरे मामले की किसी ने वीडियो बना ली, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। सिविल लाइंस चौकी प्रभारी गौरव चौधरी के अनुसार किरतपुर थाने के गांव छितावर निवासी ईशांत उर्फ संजू की दो साल पहले कोतवाली नगर के गांव हमीदपुर निवासी रामेंद्र की पुत्री निक्की के शादी हुई थी। दोनों की दूसरी शादी थी। शादी के कुछ दिनों बाद से ही दोनों में विवाद चल रहा था। घटना वाले दिन भी निक्की के भाई ईशांत को घर के बाहर पीट रहे थे। इसी झगड़े की सूचना किसी ने पुलिस को दी थी। निक्की के पिता रामेंद्र की तहरीर पर ईशांत के खिलाफ दहेज के लिए मारपीट आदि धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई गई। महिला की जान बचाने पर पुलिस टीम की जनता में भूरि-भूरि प्रशंसा की गयी जिससे समाज में पुलिस का सकारात्मक चेहरा सामने आया।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s