सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों से वसूली गई रकम वापस करेगी सरकार

… लेकिन नए कानून यूपी रिकवरी ऑफ डैमेज टू प्रॉपर्टी एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी एक्ट के तहत सरकार कर सकती है कार्यवाही

नई दिल्ली। सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ जारी रिकवरी नोटिस को यूपी सरकार ने वापस लेने का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि रिकवर की गई रकम को वापस किया जाए। ये धनराशि करोड़ों में है। यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोगों के खिलाफ रिकवरी नोटिस और उसके लिए शुरू की गई कार्यवाही को वापस ले लिया गया है। सीएए के खिलाफ 2019 में प्रदर्शन हुआ था। इस दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा था। इस मामले में यूपी सरकार ने रिकवरी नोटिस जारी किया था।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली बेंच ने कहा कि राज्य सरकार ने जो भी रकम कथित प्रदर्शनकारियों से वसूले हैं, वह रिफंड करे। साथ ही यूपी सरकार को इस बात की इजाजत दे दी है कि वह एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ नए कानून यूपी रिकवरी ऑफ डैमेज टू प्रॉपर्टी एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी एक्ट के तहत कार्यवाही कर सकती है।

इससे पहले यूपी सरकार की अडिशनल एडवोकेट जनरल गरिमा प्रसाद ने कहा कि प्रदर्शनकारियों और सरकार को इस बात की इजाजत देनी चाहिए कि वह क्लेम ट्रिब्यूनल के सामने जाएं। मामले में रिकवर किए गए रकम को वापस करने का आदेश नहीं दिया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने इस दलील को स्वीकार करने से मना कर दिया और कहा कि रिकवरी नोटिस वापस हो चुका है और कार्रवाई खत्म हो गई। यूपी सरकार रिकवर की गई रकम वापस करे, ये रकम करोड़ों में हो सकती है।

11 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने सीएए कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ यूपी सरकार द्वारा जारी रिकवरी नोटिस पर कड़ी नाराजगी जताई थी। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को आखिरी मोहलत देते हुए कहा था कि वह रिकवरी से संबंधित कार्रवाई को वापस लें और साथ ही चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर कार्रवाई नहीं वापस किया गया तो हम कार्रवाई को खारिज कर देंगे क्योंकि यह नियम के खिलाफ है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हमारे आदेश के तहत जो नियम तय है, उसके तहत कार्रवाई नहीं हुई है।

साभार- इंडेविन टाइम्स, लखनऊ

अगले कुछ दिन उत्तर भारत के कई राज्यों में पड़ेगी कड़ाके की सर्दी

अभी ठंड से राहत नहीं! अगले कुछ दिनों तक उत्तर भारत के कई राज्यों में पड़ेगी कड़ाके की सर्दी।

नई दिल्ली (एजेंसी)। आगामी कुछ दिनों में उत्तर भारत में ठंड का कहर कम नहीं होगा। पर्वतीय क्षेत्रों में हो रही बर्फबारी की वजह से मैदानी इलाकों में ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग के अनुसार, अगले चार दिनों तक उत्तर प्रदेश में ठंड से कोई राहत नहीं मिलने वाली है। कोल्ड डे के हालात चार दिन तक जारी रहने वाले हैं।

अभी ठंड से नहीं मिलेगी राहत! अगले कुछ दिनों तक उत्तर भारत के कई राज्यों में पड़ेगी कड़ाके की सर्दी

उत्तर भारत में पिछले कुछ दिनों से हाड़ कंपा देने वाली ठंड पड़ रही है। वहीं उत्तर प्रदेश भारत सहित बिहार, दिल्ली, उत्तराखंड समेत कई राज्य ठिठुरन भरी सर्दी से बेहाल हैं। हालांकि, बीते दिन कुछ हिस्सों में दोपहर के समय थोड़ी धूप जरूर निकली है, लेकिन मौसम में फिर भी ठंडक है।

वहीं दिल्ली-एनसीआर में मौसम का मिजाज बदल रहा है और ठंड अब अलविदा कहने की और बढ़ रही है। इस वजह से शनिवार, 29 जनवरी को भी लोगों को ठंड से थोड़ी राहत रहेगी, हालांकि सर्दी अभी लोगों को कंपकंपाती रहेगी। शुक्रवार को दिन में धूप निकली थी, जिसके चलते तापमान में थोड़ी बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

हल्की से मध्यम बारिश की संभावना- आईएमडी के अनुसार, एक सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तर पश्चिमी भारत के प्रभावित होने की संभावना है। इस वजह से 2 से 4 फरवरी तक दिल्ली और उसके पड़ोसी राज्यों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। आईएमडी के वैज्ञानिक आर के जेनामणि ने संभावना जताई है कि 3 फरवरी की रात से, पश्चिमी विक्षोभ के इस क्षेत्र को प्रभावित करने की संभावना है। रात या सुबह के दौरान बादल छाए रहने और बूंदाबांदी की पूरी संभावना है।

यूपी में अभी कई दिनों तक सताएगी शीत लहर

लखनऊ। मौसम विभाग ने यूपी में अगले 2 से 3 दिन तक कोल्ड डे कंडिशन या शीत लहर चलने की संभावना जताई है. मौसम विभाग के मुताबिक 29 जनवरी से मौसम में बदलाव हो सकता है और तेज धूप निकल सकती है.


यूपी में अभी ठंड से कुछ दिन और राहत मिलती नहीं दिख रही है. मौसम विभाग के अनुसार अगले 2 से 3 दिन तक यूपी में कोल्ड डे कंडिशन या शीत लहर चलने की संभावना है. आज भी प्रदेश के कई जगहों पर कोहरे के साथ-साथ शीत लहर चल रही है. मौसम विभाग के मुताबिक 29 जनवरी से मौसम में बदलाव हो सकता है और तेज धूप निकल सकती है, हालांकि इस दौरान सुबह-शाम घना कोहरा छाया रहेगा.
मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी यूपी के जिलों सहारनपुर, शामली, मुजफ्फनगर, मेरठ, बिजनौर और अमरोहा में इन दिनों ज्यादा ठंड पड़ रही है और आने वाले दिनों में भी राहत मिलने की उम्मीद कम है. इस समय प्रदेश के लगभग सभी शहरों में सुबह में कोहरा देखने को मिल रहा है. कई जगहों पर दिन में मौसम साफ हो जा रहा है. वहीं प्रदूषण के स्तर में काफी सुधार है और ज्यादातर शहरों में एक्यूआई संतोषजनक श्रेणी में है.

आज यूपी के कुछ बड़े शहरों में। कैसा रहेगा मौसम?
लखनऊ में आज अधिकतम तापमान 17 और न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है. सुबह कोहरा और धुंध छाई रहेगी, दिन में मौसम साफ रहने की संभावना है. वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘संतोषजनक’ श्रेणी में 93 दर्ज किया गया है।

14 फरवरी तक बंद रहेंगे स्कूल!

बोर्ड के अलावा दूसरी परीक्षाओं पर संशय, केस घटे तो तीसरे सप्ताह तक दोबारा खुल सकते हैं स्कूल

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के कारण प्रदेश में 30 जनवरी तक शहरी इलाकों में स्कूल बंद हैं। इधर, प्रदेश में लगातार कोरोना के केस और मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। ऐसे में 31 जनवरी के बाद स्कूलों के खुलने की उम्मीद कम नजर आ रही है। उम्मीद जताई जा रही है कि 14 फरवरी के बाद केस कम हुए तो स्कूल खुलने की संभावना बन सकती है। हालांकि शिक्षा विभाग ने स्कूल खोलने या नहीं खोलने को लेकर राज्य सरकार को किसी तरह का प्रस्ताव फिलहाल नहीं भेजा है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि स्कूल खुलने का निर्णय लेने में समय लगेगा। इस बीच परीक्षाओं को लेकर संशय बना हुआ है। दरअसल, स्कूल खोलने या नहीं खोलने का फैसला शिक्षा विभाग के बजाय हेल्थ डिपार्टमेंट करेगा। वहां से हरी झंडी मिलने के बाद ही स्कूल खुल सकते हैं। आज की स्थिति में उम्मीद नहीं है कि हेल्थ डिपार्टमेंट ऐसी कोई स्वीकृति देगा। बुधवार को ही राज्य के 33 में से सिर्फ छह जिलों में कोविड पॉजिटिव की संख्या सौ से कम है। बाकी 27 जिलों में कोरोना पॉजिटिव केस का प्रतिदिन का आंकड़ा सौ से ज्यादा है। तीन जिलों में तो यह हजार से ज्यादा है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि फरवरी के दूसरे या तीसरे सप्ताह तक ही स्कूल खुलने की संभावना बन सकती है।

परीक्षा को लेकर भी संशय
कोविड के चलते फरवरी में भी स्कूल नहीं खुले तो गैर बोर्ड कक्षाओं की परीक्षाएं भी खतरे में पड़ सकती हैं। शिक्षा विभाग इन विकल्पों पर विचार कर रहा है कि किस तरह स्टूडेंट्स की मार्किंग की जा सकती है। हाफ इयरली एग्जाम तक के मार्क्स स्कूल के पास हैं। इसी के आधार पर रिजल्ट दिया जा सकता है। शिक्षा विभाग ने पिछले दिनों तीन महीने का शेड्यूल जारी कर दिया था। दरअसल, ये शेड्यूल भी इसी आधार पर निकाला गया है कि स्कूल मार्च तक नहीं खुले तो कैसे पढ़ाई करानी है। बोर्ड परीक्षाएं होना तय
माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर की दसवीं और बारहवीं के साथ बोर्ड पैटर्न पर होने वाली आठवीं की परीक्षाएं होना तय माना जा रहा है। आठवीं बोर्ड के फॉर्म तीस जनवरी तक ही भरे जा रहे हैं। इसकी तारीख में बढ़ोतरी हो सकती है। दरअसल, कोरोना की पहली लहर में भी बोर्ड परीक्षाएं हुई थी। तब से इस बार रोगियों की संख्या कम है और अस्पताल में भर्ती रोगियों की संख्या भी बहुत कम है।

ठंड में आज से मिलेगी राहत, बारिश के आसार नहीं

लखनऊ। राजधानी समेत पूरे प्रदेश में 10 दिन से पड़ रही कंपकंपी छुड़ाने वाली ठंड में आज से राहत मिलने की संभावना है। दरअसल पश्चिमी विक्षोभों का असर खत्म हो गया है। इस कारण सोमवार से छह दिन तक सुबह धुंध रहेगी पर दिन में मौसम साफ रहेगा। अब बारिश के आसार नहीं हैं।

मौसम विभाग के अनुसार दिन का तापमान भी 18 से 20 डिग्री सेल्सियस रहेगा। न्यूनतम तापमान भी 9 से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। वहीं राज्य के कुछ इलाकों में रविवार को ठण्ड से मामूली राहत मिली। शनिवार रात तक चलीं बर्फीली हवाएं रविवार बंद थीं। इससे पारा 17.5 डिग्री आ गया, जो शनिवार से तीन डिग्री ज्यादा है। वहीं रात घने कोहरे के चलते सड़क पर चलना मुश्किल हो गया।

लखनऊ में चार mm बारि

राजधानी समेत राज्य के कई हिस्सों में रविवार भी वर्षा हुई। लखनऊ में मौसम विभाग ने चार मिमी वर्षा दर्ज की। मौसम विभाग के अनुसार अफगानिस्तान और पाकिस्तान के ऊपर बने पश्चिमी विक्षोभों का असर खत्म हो गया है। अब बारिश के आसार नहीं है।

अगले छह दिनों का पूर्वानुमान

दिन -न्यूनतम पारा -अधिकतम पारा -मौसम

24 जनवरी 10 डिग्री 19 डिग्री सुबह धुंध-बदली

25 जनवरी 10 डिग्री 18 डिग्री सुबह धुंध-बदली

26 जनवरी 10 डिग्री 20 डिग्री सुबह धुंध-बदली

27 जनवरी 09 डिग्री 20 डिग्री धुंध-मौसम साफ

28 जनवरी 09 डिग्री 20 डिग्री धुंध-मौसम साफ

29 जनवरी 09 डिग्री 20 डिग्री धुंध-मौसम साफ

कोरोना संक्रमण से बचाएगी ये जानकारी

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना वायरस एक इंसान से दूसरे तक कैसे पहुंचता है, लोग अभी भी नहीं समझ पा रहे। अगर इस बारे में सटीक पता चल जाए तो काफी हद तक बचाव हो सकता है। कई रिसर्चर्स और हेल्थ अथॉरिटीज ने मिलकर इस बारे में शोध किया और अपडेट दिया है। हम अभी तक कोरोना से बचने के लिए सिर्फ मुंह पर मास्क लगाते आ रहे हैं। नई रिसर्च के मुताबिक यह आपके मुंह, नाक और आंखों से भी आपको संक्रमित कर सकता है। WHO ने भी इस बात की पुष्टि की है।

आंखें, मुंह या नाक न छुएं


पिछले हफ्ते WHO ने डॉक्यूमेंट अपडेट किया कि वायरस संक्रमित व्यक्ति के जरिये ज्यादा पास से संपर्क में आने पर फैलता है। इसके अलावा जब भी कोविड पॉजिटिव इंसान सांस लेता या बोलता है तो छोटी-छोटी बूंदें हवा में तैरने लगती हैं। ये लंबे वक्त तक हवा में रहती हैं। स्वस्थ व्यक्ति के वहां से गुजरने पर ये उसे संक्रमित कर सकती हैं। वायरस से संक्रमित जगह को छूने के बाद अगर कोई अपनी आंखें, मुंह और नाक भी छूता है तो उसे कोरोना हो जाता है। हालांकि किसी चीज को छूने से ज्यादा हवा से संक्रमण फैलने के चांस ज्यादा होते हैं। यह बात अगस्त में हुए एक प्रयोग के बाद सामने आई थी।


बचाव के तरीके


कोरोना वायरस के फैलने को लेकर कई तरह की थ्योरीज़ आ चुकी हैं। रिपोर्ट्स थीं कि ओमिक्रोन का पहला वैरियंट आने के बाद चीन में लोगों से मेल खोलने से पहले तक फेस मास्क और ग्लव्स पहनने के लिए कहा जा रहा था। खासतौर पर ऐसे मेल्स के लिए जो बाहर से आ रहे थे। माना जा रहा था कि ओमिक्रॉन कनाडा से पैकेज के जरिये आ जा रहा है। हालांकि अब सबका यही मानना है कि कोविड से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस मेनटेन रखना, बंद जगहों पर इकट्ठे न होना, मास्क के साथ फेस को कवर रखना और हाथ सैनिटाइज करते रहना ही बेहतर तरीका है।

कोहरे के कहर के बीच भारी बारिश का अलर्ट

नई दिल्ली। दिल्ली, यूपी, हरियाणा, पंजाब समेत सर्दी का सितम झेल रहे उत्तर भारत के कई राज्यों में इसका कहर और बढ़ सकता है। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार और रविवार को दिल्ली, हरियाणा, पंजाब समेत उत्तर पश्चिम भारत के कई राज्यों में बारिश हो सकती है। पश्चिमी विक्षोभ के चलते यह स्थिति बन सकती है। शुक्रवार की रात से ही इन इलाकों में बारिश शुरू हो सकती है, जो अगले दो दिनों तक जारी रहेगी। यही नहीं उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी में यह बारिश गुरुवार से ही शुरू हो सकती है। मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन दिनों में जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित बाल्टिस्तान, हिमाचल प्रदेश, मुजफ्फराबाद और उत्तराखंड में बारिश हो सकती है। 

ऊपरी इलाकों में बर्फबारी होने की उम्मीद के साथ ही निचले इलाकों में बारिश से पारा और लुढ़कने की संभावना है। दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा और यूपी में बीते कई दिनों से खुलकर धूप नहीं निकल रही है और इसके चलते लोगों को भीषण सर्दी का सामना करना पड़ रहा है। खासतौर पर शीतलहर का कहर लोगों को झेलना पड़ रहा है। मौसम विभाग का अनुमान है कि बारिश के चलते पारा थोड़ा और लुढ़क सकता है।

21 जनवरी से यहां शुरू हो जाएगी बारिश

इस महीने के अंत तक सर्दी का सितम फिलहाल जारी रहेगा। हिमाचल प्रदेश में 22 जनवरी को भारी बर्फबारी और बारिश हो सकती है। इसके अलावा चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तर राजस्थान में 21 जनवरी से बारिश शुरू हो सकती है, जो 22 और 23 जनवरी को और बढ़ जाएगी। मध्य प्रदेश में भी बारिश होगी। हरियाणा और पंजाब में 22 जनवरी को ज्यादा बारिश होने की संभावना है। यही नहीं 22 और 23 जनवरी की बारिश लंबे क्षेत्र में होनी है।

बिहार, झारखंड व सिक्किम तक रहेगा ऐसा मौसम

दिल्ली-एनसीआर, यूपी, हरियाणा जैसे उत्तर भारत के राज्यों के अलावा सिक्किम, बंगाल, बिहार, झारखंड यानी पूर्वी भारत में भी 22 और 23 जनवरी को बारिश होगी। इसके अलावा सुबह और रात में मैदानी इलाकों में घना कोहरा जारी रहने की संभावना है। खासतौर पर यूपी और बिहार के इलाकों में अगले दो दिनों तक शीत लहर का प्रकोप जारी रह सकता है। वहीं हरियाणा, पंजाब और मध्य प्रदेश में भी ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी।

हिमाचल में एक दिन में 37 बच्चे कोरोना की चपेट में

‘तीसरी लहर’ की शुरुआत! हिमाचल में एक दिन में 37 बच्चे कोरोना की चपेट में

Possible 3rd wave of Covid unlikely to affect children, reveals WHO-AIIMS  survey | Latest News India - Hindustan Times

शिमला। हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी के साथ बच्चों में संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में प्रदेश में तीसरी लहर की संभावना जताई जा रही है। बीते तीन दिन में सूबे में 700 से ज्यादा केस हुए हैं। मंडी जिले में सबसे अधिक एक्टिव केस हैं। शुक्रवार को प्रदेश में 256 कोरोना केस रिपोर्ट हुए हैं, जबकि दो मरीजों की मौत हुई। प्रदेश में 37 बच्चों के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसमें मंडी जिले के 10, कांगड़ा आठ, शिमला के रोहड़ू में 10, बिलासपुर में पांच, हमीरपुर में तीन, ऊना और चंबा में दो-दो बच्चों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कोरोना अब डेढ़ से लेकर 18 साल तक के बच्चों को अपनी गिरफ्त में ले रहा है।

प्रतिदिन सौ मरीज की बढ़ोतरी- हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज और अस्पताल आईजीएमसी शिमला के एमएस डॉक्टर जनक राज ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में गत दो सप्ताह में कोरोना के एक्टिव मरीज़ों की संख्या 23 जुलाई को 829 से बढ़कर 06 अगस्त को 1727 तक जा पहुंची है। इसके आकलन से पता चलता है कि प्रतिदिन मरीज़ों की संख्या में 100 से अधिक की बढ़ोतरी हो रही है। इसका मतलब है कि तीसरी लहर की शुरुआत हो चुकी है!

कोरोना संक्रमण के मामले– चंबा 68, मंडी 60, शिमला 52, कांगड़ा 43, हमीरपुर 24, बिलासपुर 18, लाहौल-स्पीति 10, ऊना आठ, जबकि कुल्लू व सोलन में पांच-पांच और किन्नौर में चार नए मामले आए हैं। कांगड़ा और मंडी में एक-एक संक्रमित महिला की मौत हुई है। बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में 137 मरीज ठीक हुए हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का कुल आंकड़ा 207344 पहुंच गया है। इनमें से 202060 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। सक्रिय मामले 1727 हो गए हैं। अब तक 3517 संक्रमितों की मौत हुई है। बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना की जांच के लिए 13940 सैंपल लिए गए।

स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि आकड़ों के अनुसार राज्य में लगभग 55 लाख 23 हजार पात्र लोग है, जिनका कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण किया जाना है। निर्धारित लक्ष्य के दृष्टिगत राज्य में अब तक 38,90,475 लोगों को केाविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक लगाई जा चुकी है। राज्य में 13,10,577 लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की दूसरी खुराक भी दी गई है। अब तक कुल 52,01,052 डोज कोविड-19 वैक्सीन की लगाई जा चुकी है। वहीं, अब टूरिस्ट के लिए हिमाचल में एंट्री से पहले कोविड नेगेटिव रिपोर्ट लानी होगी, या फिर उन्हें वैक्सीनेशन के दोनों डोज लगे होने चाहिए।

बच्चों की कोविड वैक्सीन देश में आ सकती है अगले महीने

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, इंतजार खत्म। भारत में अगले महीने आ सकती है बच्चों की कोविड वैक्सीन

इंतजार खत्म, स्वास्थ्य मंत्री ने बताया- भारत में अगले महीने से आ सकती है बच्चों की कोविड वैक्सीन

नई दिल्ली (एकलव्य बाण समाचार)। अगस्त महीने में ही भारत में बच्चों के लिए कोरोना रोधी टीका आ सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को बीजेपी संसदीय दल की बैठक के दौरान यह जानकारी दी है। अभी तक देश में 18 साल या उससे ऊपर की आयु वाले व्यस्कों को ही कोरोना रोधी टीका दिया जा रहा है। 

एक रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य मंत्री ने बैठक के दौरान बताया कि सरकार संभवतः अगले महीने से बच्चों को टीका लगाना शुरू कर देगी। एक्सपर्ट्स भी मानते हैं कि कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने और फिर से स्कूल खोलने के लिए बच्चों को टीका दिया जाना एक बड़ा कदम साबित हो सकता है। अब तक देश में सितंबर महीने तक बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन आने की संभावना जताई जा रही थी।

एम्स चीफ डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी बीते दिनों यह कहा था कि देश में सितंबर तक बच्चों को टीका लगना शुरू किया जा सकता है। उन्होंने इसके पीछे कारण बताया था कि जाइडस कैडिला ने ट्रायल कर लिया है और उसे आपात इस्तेमाल की मंजूरी का इंतजार है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का ट्रायल भी बच्चों पर अगस्त या सितंबर तक पूरा हो सकता है। वहीं, फाइजर की वैक्सीन को अमेरिकी नियामक से आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। ऐसे में उम्मीद है कि भारत में भी सितंबर तक बच्चों को टीका लगाने का अभियान शुरू हो जाएगा। 

विदित हो कि देश में अभी तक कोरोना रोधी टीके की 44 करोड़ खुराकें दी जा चुकी है। इस साल के अंत तक देश की पूरी व्यस्क आबादी का टीकाकरण करने की योजना केंद्र सरकार ने बनाई हुई है।

वैक्सीनेशन अपनाएं जीवन सुरक्षित बनाएं” का नारा देकर चलाया जागरूकता अभियान

तहसीलदार मलिहाबाद ने “वैक्सीनेशन अपनाएं जीवन सुरक्षित बनाएं” का नारा देकर चलाया जागरूकता अभियान

लखनऊ। तहसीलदार मलिहाबाद शंभू शरण ने वैक्सीनेशन के लिए जन जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक किया। वैक्सीनेशन जागरूकता अभियान के दौरान उन्होंने “वैक्सीनेशन अपनाएं जीवन सुरक्षित बनाए” का नारा भी दिया।
ग्राम पंचायत भतोइयां में तहसीलदार व ग्राम विकास अधिकारी ने ग्रामीणों को टीकाकरण के के बारे में बताते हुए कहा कि वैक्सीनेशन पूरी तरह सुरक्षित है और वैक्सीनेशन के बाद ही पूरी तरह से कोविड 19 को हराया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि टीकाकरण के लिए जाने वाले लोगों के लिए बस की व्यवस्था की जाएगी ।जिससे कि ग्रामीणों को आने जाने में कोई दिक्कत न हो।

भतोइयां ग्राम पंचायत में तहसीलदार शम्भू शरण व ग्राम विकास अधिकारी अमरदीप वर्मा प्रधान शमीम जहाँ ने अपनी ग्राम पंचायत के ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए जागरूक करते हुए टीकाकरण कराने की अपील कर प्रेरित किया। ग्राम विकास अधिकारी अमरदीप वर्मा ने बताया कि ग्राम पंचायत भतोइयां में मौजूदा वक्त में कोरोना संक्रमण का कोई केस नहीं है जिसको देखते हुए अब ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए जागरूक किया जा रहा है। जिससे ग्रामीण इलाकों में पूरी तरह से संक्रमण का खात्मा किया जा सके।

ग्रामीणों की शंका को किया दूर

टीकाकरण से जुड़ी अफवाहों के बारे में शंभू शरण ने ग्रामीणों को समझाते हुए कहा कि अफवाहों पर ध्यान न दे, यह वैक्सीन हमारी आपकी सुरक्षा के लिए बनी है। इस महामारी को हराने के लिए टीकाकरण के लिए सभी को आगे आना है। खास कर मास्क व दो गज की दूरी का इस्तेमाल अवश्य करना है। तहसीलदार द्वारा प्रेरित पर ग्रामीण सन्तुष्ट होते हुए वैक्सीनेशन कराने के लिए राजी हुए।

मथुरा में भीषण हादसा: तेज रफ्तार कार ट्रक में घुसी, चार की मौत


ट्रक में घुसी तेज रफ्तार कार, 4 लोगों की दर्दनाक मौत, चालक समेत 3 घायल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जनपद मथुरा में शनिवार तड़के भीषण हादसे में चार लोगों की मौत हो गई। थाना राया इलाके में कोयल रेलवे फाटक के पास ट्रक में पीछे से कार जा घुसी। हादसे में तीन लोग घायल भी हुए हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। साथ ही हादसे की सूचना मृतकों व घायलों के परिजनों को दी।

जानकारी के अनुसार बदायूं के कार सवार चार लोग राजस्थान के मेहंदीपुर बालाजी दर्शन करने जा रहे थे। अलीगढ़-मथुरा रोड पर कोयल रेलवे फाटक के पास इनकी कार सामने चल रहे ट्रक से टकरा गई। हादसे में कार सवार रोहित (18 वर्ष), सिमरन (20 वर्ष), काजल (15 वर्ष) और मनीष की मौके पर ही मौत हो गई। दूसरी ओर नीलम, प्रभाकर और कार चालक अमरपाल सिंह घायल हो गए। हादसे के बाद लगी राहगीरों की भीड़ ने पुलिस कन्ट्रोल रूम को सूचना दी। राया थाना पुलिस ने घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवा दिया। पुलिस ने बताया कि मृतकों के परिजनों के सूचना दे दी है। ट्रक को कब्जे में लिया है। जांच पड़ताल की जा रही है।

देश के कई राज्यों में बारिश की संभावना, मौसम विभाग का अलर्ट जारी

देश के कई राज्यों में बारिश की संभावना, मौसम विभाग का अलर्ट जारी
दिल्ली। मौसम में एक बार फिर बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तर भारत से लेकर दक्षिण व मध्य भारत के कई राज्यों में बारिश का अलर्ट मौसम विभाग ने जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक देश के कई राज्यों में पश्चिमी विक्षोभ का असर देखने को मिल सकता है। उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ सहित ओडिशा, झारखंड, महाराष्ट्र में बारिश का अलर्ट भी जारी किया गया है। साथ ही आने वाले दिनों कोहरा भी इस राज्यों में परेशानी खड़ी कर सकता है। मौसम विभाग ने 15 जिलों में येलो अलर्ट जारी किया है। पश्चिमी विक्षोभ के कारण यहां पर 16 फरवरी से 18 फरवरी तक अधिकांश हिस्सों में बारिश हो सकती है।

उत्तर प्रदेश में भी बदला मौसम – उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ठंडी हवाओं में रोज आ रही कमी की वजह से अब इस सप्ताह अधिकतम पारा 30 डिग्री की ओर है। वातावरण में लगातार हो रहे बदलाव की वजह से अब रातें भी अधिक सर्द नहीं रह गई हैं। इधर महाराष्ट्र में मौसम विभाग ने 3 दिनों तक बारिश की संभावना जताई है।

कोहरे में भिड़ीं यूपी व उत्तराखंड की रोडवेज बस

बिजनौर। थाना कोतवाली शहर बिजनौर अंतर्गत किरतपुर रोड पर यूपी व उत्तराखंड रोडवेज की बसों में भीषण टक्कर हो गई। कोहरे के कारण हुए हादसे में उत्तराखंड की बस ने आग पकड़ ली। सूचना पर पहुंची फायर सर्विस द्वारा आग पर काबू पाया गया। बिजनौर पब्लिक स्कूल के सामने हुई इस दुर्घटना में 15 सवारियों के घायल होने की सूचना है।

जानकारी के अनुसार थाना कोतवाली शहर बिजनौर अंतर्गत किरतपुर रोड पर रविवार सुबह रोडवेज बस संख्या यूपी 15 बीटी 9121 व उत्तराखंड रोडवेज बस संख्या यूके 07 एफए 2049 में आमने सामने की टक्कर हो गई।

बिजनौर पब्लिक स्कूल के सामने हुई इस दुर्घटना में उत्तराखंड की बस में आग लग गई।  सूचना पर पहुंची फायर सर्विस द्वारा आग पर काबू पाया गया। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी कोतवाली शहर ने मौके पर पहुंच कर राहत व बचाव कार्य शुरू कराया। 15 सवारियों के घायल होने की सूचना है। सभी घायलों को उपचार के लिये अस्पताल ले जाया गया। दोनों बसों की सवारियों को अन्य वाहनों से उनके गंतव्य स्थान की ओर रवाना किया गया। वहीं पुलिस अधीक्षक डॉ धर्मवीर सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर ने मौका मुआयना कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

कोहरे में भिड़े मिनी बस व ट्रक, आठ की मौत, 25 घायल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद जिले के नानपुर इलाके में शनिवार सुबह मिनी बस और ट्रक की भीषण टक्कर हो गई। इसमें आठ लोगों की मौत हो गई। 25 जख्मी हुए हैं। इनमें से कुछ की हालत गंभीर है। ऐसे में मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। शुरुआती जानकारी में सामने आया है कि हादसा घने कोहरे की वजह से हुआ।

हादसा मुरादाबाद-आगरा हाईवे पर हुआ। पुलिस ने मौके पर स्थानीय लोगों की मदद से राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजन को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। डीएम और एसपी मौके पर पहुंच गए हैं।

जानकारी के अनुसार निजी बस बिलारी से मुरादाबाद आ रही थी। हादसा सुबह लगभग 8.10 बजे मुरादाबाद आगरा हाईवे पर नानपुर गांव के सामने थाना कुंदरकी इलाके में हुसैनपुर पुलिया पर हुआ। दुर्घटना के बाद आसपास के ग्रामीण राहत कार्य में जुट गए। सभी घायलों को अस्पताल में भेज दिया गया। मोर्चरी और जिला अस्पताल पर शव की शिनाख्त में पुलिस जुटी है। मृतकों में से अधिकांश बिलारी थाना क्षेत्र के लोग बताए जा रहे हैं।

कोहरा: ट्रक व बाइक की भिड़ंत में बड़े भाई की मौत छोटा घायल

जलीलपुर मार्ग स्थित माहू गेट के सामने घने कोहरे के चलते ट्रक व बाइक की हुई भिड़ंत। दिल्ली से आए बड़े भाई की मौत, लेने पहुंच छोटा भाई घायल।

बिजनौर/चान्दपुर। जलीलपुर मार्ग स्थित माहू गेट के सामने घने कोहरे के चलते रात में हुई ट्रक व बाइक की टक्कर में बाइक सवार बड़े भाई की मौत हो गई जबकि छोटा गंभीर रूप से घायल हो गया। युवक की मौत की खबर से परिजनों में कोहराम मच गया।
हीमपुर दीपा थाना क्षेत्र के ग्राम माहू निवासी मुस्तकीम का पुत्र आसिफ दिल्ली में काम करता था। बुधवार को वह दिल्ली से अपने घर वापस लौट रहा था। रात्रि में चांदपुर पहुंचने के कारण कोई सवारी न मिलने पर उसने अपने भाई को फोन कर चांदपुर बुलाया। छोटा भाई आरिफ रात में ही बाइक से आसिफ को लेने चांदपुर से लेने पहुंच गया। रात्रि लगभग ढ़ाई बजे दोनों भाई बाइक पर सवार होकर गांव जाने के लिए निकले। जलीलपुर मार्ग स्थित माहू गेट के सामने दूसरी ओर से आ रहा गन्ने से लदा ट्रक घने कोहरे के चलते दिखाई नहीं दिया। इस कारण दोनों वाहनों की जोरदार भिड़ंत होने से बाइक सवार दोनों युवक सड़क पर गिर गए। चालक ट्रक को छोड़कर मोके से फरार हो गया। छोटे भाई आरिफ ने फोन से घटना की जानकारी परिजनों को दी। रात में ही दोनों को इलाज के लिए सीएचसी स्याऊ ले जाया गया, जहां पर चिकित्सक ने आसिफ को मृत घोषित कर दिया। गंभीर रूप से घायल आरिफ को इलाज के लिए जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। आसिफ की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए बिजनौर भेज दिया। मृतक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ घटना की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पुलिस ने मौके पर खड़े ट्रक को कब्जे में ले लिया है।

उत्तर भारत में फिलहाल ठंड से राहत नहीं

नई दिल्ली। उत्तर भारत के अधिकतर राज्यों में ठंड से फिलहाल राहत मिलने के आसार नहीं हैं। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार नए पश्चिमी विक्षोभ की वजह से मौसम बदल रहा है। दिल्ली-एनसीआर में सुबह के समय कोहरे की धुंध है। पंजाब-हरियाणा, राजस्थान, बिहार, ओडिशा, बंगाल, मध्यप्रदेश में घना कोहरा छाया हुआ है। दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, राजस्थान सहित भारत के कुछ राज्यों में अगले दो-तीन दिनों में शीतलहर की वजह से ठंड बढ़ने का अनुमान है। यहां घना कोहरा रहने की भी संभावना है। राजधानी दिल्ली में शीतलहर से मामूली राहत मिल सकती है लेकिन सुबह के समय कोहरा छाया रह सकता है।

राजमार्ग-3 ब्लॉक होने से बढ़ेंगी मुश्किलें- हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति में भारी बर्फबारी देखी गई। इस कारण लाहौल-स्पीति जिले के सिस्सू में राष्ट्रीय राजमार्ग-3 ब्लॉक हो गया है। इससे पहले शनिवार को क्षेत्र में शीत लहर का कहर देखने को मिला था। मौसम विभाग ने रविवार को भारी बर्फबारी होने की चेतावनी दी थी। बर्फबारी और रास्ते ब्लॉक होने से लोगों की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ सकती हैं।

दिल्ली में फिर सर्दी बढ़ने के आसार- दिल्ली में आज सुबह न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कुछ जगहों पर सुबह के समय विजिबिलिटी 100 मीटर दर्ज की गई। दिल्ली में पश्चिम व उत्तर-पश्चिम से चलने वाली हवाओं के कारण ठिठुरन बढ़ने और तापमान के चार डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने का अनुमान है। विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा कि अगले चार से पांच दिन तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तरी राजस्थान, असम, मेघालय, मणिपुर और त्रिपुरा में घना कोहरा छाया रहेगा। अगले दो-तीन दिनों में बिहार, उत्तरी मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और ओडिशा में घना कोहरा छाए रहने का भी अनुमान है।

तहरी भोज के साथ चौकी इंचार्ज ने बांटे चौकीदारों को कम्बल

चौकी इन्चार्ज कुलदीप सिंह ने किया तहरी भोज का आयोजन, चौकीदारो को बांटे कम्बल
लखनऊ। राजधानी में ठिठुरती ठंड से राहत पहुंचाने के मद्देनजर गरीबों को कंबल वितरण का सिलसिला लगातार जारी है। इसी क्रम में रविवार को मलिहाबाद थाना क्षेत्र की कसमण्डी कलां पुलिस चौकी पर तहरी भोज कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर चौकी क्षेत्र अन्तर्गत आने वाले विभिन्न गांवों के 13 चौकीदारों को कम्बल प्रदान किये गये। तहरी भोज में हर वर्ग के तमाम लोग शामिल हुए।
चौकी इन्चार्ज कुलदीप सिंह ने बताया कि पुलिस के साथ हर समय कन्धे से कन्धा मिलाकर चलने वाले चौकीदारों को ठण्ड से बचाने के लिए उन्हें कम्बल प्रदान किये गये हैं। साथ ही क्षेत्र के अच्छे और सामाजिक लोगों से बेहतर तालमेल बनाने के लिये समरसता तहरी भोज का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में कांस्टेबल सीताराम, इमरान, अमित, विभिन्न गांवों के ग्राम प्रधान व क्षेत्रीय ग्रामीण मौजूद रहे।

भीषण सर्दी की चपेट में समूचा उत्तर भारत

भीषण सर्दी से ठिठुरे समूचे उत्तर भारत के बाशिंदे
कोहरे ने लगाए वाहनों की रफ्तार पर ब्रेक

चंडीगढ़ (धारा न्यूज): उत्तर भारत भीषण सर्दी की चपेट में आ गया है। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर में सुबह से ही कोहरा छा गया। कोहरे के कारण परिवहन सेवाओं पर भी असर पड़ा। उत्तर भारत में तापमान में तीन से पांच डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होने के साथ तीन जनवरी से राहत मिलने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है। चार से छह जनवरी के बीच पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में बारिश या बर्फबारी का अनुमान है।

दिल्ली में टूटा 15 साल पुराना रिकॉर्ड:
मौसम विभाग ने कहा कि हिमालय के पश्चिमी क्षेत्र में कुछ जगहों पर ओले पड़ने की भी आशंका है। पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में अगले 24 घंटे के दौरान यही स्थिति रहेगी। दिल्ली में शीत लहर के प्रकोप के बीच न्यूनतम तापमान 15 साल में सबसे कम 1.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। बेहद घने कोहरे के कारण दृश्यता शून्य हो गई। दिल्ली के सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जोकि 15 साल में सबसे कम तापमान है। आज सुबह दिल्ली-एनसीआर में बारिश हुई और पंजाब के कुछ हिस्सों में भी हल्की बूंदाबादी की सूचना है। बारिश से कोहरा छंट गया लेकिन आसमान में बादल छा गए।

हिमाचल प्रदेश में फिर से बारिश और बर्फबारी: हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर से बारिश और बर्फबारी (Snowfall) का दौर शुरू हुआ है। लाहौल में बर्फबारी व शिमला, मंडी, समेत तमाम इलाकों में शनिवार सुबह हल्की बूंदाबादी हुई। हिमाचल में शीतलहर (Coldwave) चरम पर है। मौसम विभाग ने अगले चार दिन तक प्रदेश में बारिश और बर्फबारी (Snowfall) का अनुमान जताया है। बीते रविवार को हिमाचल में शिमला शहर सहित प्रदेश भर में बर्फबारी देखने को मिली थी, जबकि बीते पांच दिन से प्रदेश में धूप खिली हुई थी, लेकिन एक बार फिर से अब मौसम का मिजाज बिगड़ गया है।

नववर्ष के पहले दिल्ली में बढ़ी ठंड

नई दिल्ली। दिल्ली में न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाने से बुधवार को ठंड का प्रकोप बढ़ गया। मौसम विभाग के मुताबिक ठंडी हवाएं चलने से नववर्ष के पहले राष्ट्रीय राजधानी में ठिठुरन और बढ़ सकती है।

सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि मंगलवार को न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। जफरपुर और लोधी रोड स्थित मौसम विज्ञान केंद्र में न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.5 डिग्री और 3.7 डिग्री सेल्सयिस दर्ज किया गया। रात के समय कोहरा बढ़ने से पालम क्षेत्र में दृश्यता घटकर 50 मीटर रह गयी। हालांकि, सुबह नौ बजे दृश्यता का स्तर बढ़कर 400 मीटर हो गया।

उत्तर भारत के तापमान में आई गिरावट-
मैदानी भाग में न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस से नीचे जाने पर शीतलहर और दो डिग्री से नीचे के तापमान की स्थिति में भीषण ठंड की घोषणा की गई है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो दिनों में शहर में शीतलहर की स्थिति बनी रहेगी। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि हिमालय की तरफ से उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा की हवाएं बह रही हैं, जिससे उत्तर भारत में तापमान में गिरावट आयी है। सफदरजंग वेधशाला में 20 दिसंबर को अब तक का सबसे न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इस साल दिसंबर में औसत न्यूनतम तापमान (7.06 डिग्री सेल्सियस) पिछले साल के औसत न्यूनतम तापमान 7.6 डिग्री से कम है।

DL, RC, परमिट जैसे व्हीकल डॉक्युमेंट अभी रहेंगे वैध

एक बार फिर बढ़ी DL, RC, परमिट जैसे व्हीकल डॉक्युमेंट की वैधता

नई दिल्ली (धारा न्यूज): ड्राइविंग लाइसेंस (DL), रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC), परमिट, वाहन फिटनेस सर्टिफिकेट आदि अभी valid बने रहेंगे। परिवहन मंत्रालय ने इनकी वैधता अवधि को 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दिया है। मतलब जिन डॉक्यूमेंट्स की वैधता खत्म हो गई है, वे अब वैध रहेंगे।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने 30 मार्च और 9 जून को आदेश जारी कर मोटर व्हीकल डॉक्युमेंट्स की वैधता अवधि बढ़ाई थी। 9 जून को जारी आदेश में इसे बढ़ाकर 30 सितंबर 2020 कर दिया गया था और उसके बाद 24 अगस्त 2020 में जारी आदेश में अवधि 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ाई गई। कहा गया था कि वाहनों के फिटनेस सर्टिफिकेट, सभी प्रकार के परमिट, लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन या कोई भी अन्य व्हीकुलर डॉक्युमेंट 31 दिसंबर 2020 तक मान्य माना जाए।

राज्यों व केन्द्र शासित प्रशासनों को एडवायजरी जारी

मंत्रालय ने राज्यों व केन्द्र शासित प्रशासनों को इस बारे में निर्देश जारी कर दिया है। एडवायजरी में कहा गया है कि कोविड-19 के फैलाव को रोकने की जरूरत को ध्यान में रखते हुए यह निर्देश दिया जाता है कि “मोटर व्हीकल्स एक्ट 1988 और सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स 1989 से संबंधित डॉक्युमेंट्स को 31 मार्च 2021 तक मान्य माना जाए। इसमें वे सभी डॉक्युमेंट कवर होंगे, जिनकी वैधता 1 फरवरी 2020 के बाद समाप्त हो चुकी है या 31 मार्च 2021 तक समाप्त होने वाली है।” देशभर में कोरोना के प्रसार की रोकथाम के लिए आवश्यक शर्तों के कारण और अभी तक मौजूदा स्थिति को ध्यान में रखते हुए यह फैसला किया गया है।
——-

…और भी मनाने हैं happy new year, तो no cheers

If U want more Happy New Year, no cheers

New year celebrate करने वालों को मौसम विभाग की शराब से दूर रहने की सलाह

नई दिल्ली (धारा न्यूज): नए साल पर जश्न की तैयारियों में लोग जोर-शोर से लगे हुए हैं। इस अवसर पर लोग शराब का भी जमकर सेवन करते हैं, लेकिन मौसम विभाग ने इस बार भीषण ठंड को लेकर चेतावनी देने के साथ ही शराब नहीं पीने की सलाह दी है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने अगले कुछ दिनाेेें में उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड पड़ने की चेतावनी जारी की है। साथ ही कहा है कि घर में बैठे-बैठे या नए साल की पार्टी में शराब पीना बहुत नुकसानदेह साबित हो सकता है।

उत्तर भारत में शीतलहर
मौसम विभाग के अनुसार 28 दिसंबर से पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में ‘भयंकर’ शीतलहर चलने का अनुमान है। इस दौरान फ्लू, जुकाम, नाक से खून निकलने जैसी समस्याएं होने की आशंका है और जो ऐसे दिक्कतों से जूझ रहे हैं लंबे समय तक ठंड रहने के कारण उनकी परेशानियां भी बढ़ेंगी।

आईएमडी की एडवाइजरी जारी-आईएमडी की एक एडवाइजरी में कहा गया है, “शराब न पीएं, ये आपके शरीर के तापमान को कम कर सकती है, घर के अंदर रहिए। विटामिन सी का भरपूर सेवन करिए, फल खाइए। गंभीर ठंड की स्थिति का सामना करने के लिए अपनी त्वचा को मॉइस्चराइज करें।”

आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि हिमालय की ऊपरी पहुंच को प्रभावित करने वाले एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से रविवार और सोमवार को पारा थोड़ा बढ़ने से मिली राहत ज्यादा लंबे समय के लिए नहीं होगी। पश्चिमी विक्षोभ के हट जाने के बाद और उत्तर-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम में निचले स्तर की हवाओं में ठंडी और शुष्कता के परिणामस्वरूप मजबूती के प्रभाव के कारण 29 दिसंबर के बाद पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ में फिर से “गंभीर शीत लहर” की स्थिति हो सकती है।

COLD day की संभावना-
IMD के अनुसार, एक ‘कोल्ड डे’ या ‘गंभीर कोल्ड डे’ तब माना जाता है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से कम हो और अधिकतम तापमान सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस या 6.4 डिग्री सेल्सियस से कम हो। पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में 28 और 29 दिसंबर को और उत्तरी राजस्थान में 29 और 30 दिसंबर को ‘कोल्ड डे’ की स्थिति होने की संभावना है। 28 दिसंबर, 29 दिसंबर को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली में घना कोहरा छा सकता है।

——-

New year पर शिमला में नहीं होगी बर्फबारी, मौसम रहेगा साफ

New year पर शिमला में नहीं होगी बर्फबारी

शिमला (धारा न्यूज़): हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में नए साल की पूर्व संध्या व नव वर्ष के पहले दिन मौसम साफ रहने का अनुमान है। यानी कि पर्यटकों को इस बार नए साल पर बर्फबारी का दीदार नहीं हो सकेगा।

शिमला में हर साल नव वर्ष मनाने पर्यटकों का सैलाब उमड़ता है। कोरोना के चलते इस बार होटलों में नए साल पर पार्टियों व जश्न कार्यक्रमों पर रोक है। इसके बावजूद अधिकतर होटलों में नव वर्ष तक सैलानियों ने एडवांस बुकिंग करवाई हुई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने शनिवार को बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से अगले 24 घंटों के दौरान मौसम में बदलाव आएगा। इस दौरान पहाड़ों पर बर्फबारी व मैदानों में बारिश होने का अनुमान है। 27 व 28 दिसम्बर को शिमला, कुल्लू, चंबा, किन्नौर, लाहौल-स्पीति इत्यादि पर्वतीय क्षेत्रों में हिमपात हो सकता है। वहीं तमाम मैदानी भागों में गरज के साथ बारिश होगी। उच्च पर्वतीय इलाकों में 29 दिसम्बर को भी बर्फबारी होने का अनुमान है, जबकि पर्वतीय व मैदानी हिस्सों में मौसम खुल जाएगा। 30 दिसम्बर से एक जनवरी तक पूरे प्रदेश में मौसम साफ बना रहेगा। मैदानी क्षेत्रों हमीरपुर, ऊना, बिलासपुर सहित कांगड़ा व मंडी जिलों के मैदानी भागों में 29 व 30 दिसम्बर को घरा कोहरा छाने व शीतलहर चलने की चेतावनी जारी की गई है।

शनिवार को राज्य के छह शहरों का न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया गया। लाहौल-स्पीति जिला का मुख्यालय केलंग सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान -11.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गाय। इसके अलावा कल्पा में -1 डिग्री, भुंतर व मंडी में -1 डिग्री, सुंदरनगर में -0.6 डिग्री, -0.2 डिग्री, चंबा में 0.7 डिग्री, कांगड़ा में 1.5 डिग्री, बिलासपुर व उना में 2 डिग्री, हमीरपुर में 2.2 डिग्री, धर्मशाला में 2.4 डिग्री, कुफरी में 2.9 डिग्री, पालमपुर में 3 डिग्री, डल्हौजी में 6 डिग्री, शिमला में 7 डिग्री और नाहन में 7.7 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया है।

चंडीगढ़ में अभी और बढ़ेगी ठंड-
पंजाब व राजधानी चंडीगढ़ के अधिकतम तापमान में लगातार गिरावट जारी है। शनिवार को चंडीगढ़ का अधिकतम तापमान 20.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य तापमान से एक डिग्री सेल्सियस कम था, इससे पहले शुक्रवार को तापमान 21 डिग्री सेल्सियस से ऊपर था। वहीं शहर का अधितकम तापमान, सामान्य से दो डिग्री सेल्सियस कम 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के निदेशक सुरेंद्र पाल के अनुसार आने वाले दिनों में ठंड और बढ़ेगी, इसलिए खिली धूप को देखकर इसे हल्के में न लें, गर्म कपड़े पहनकर ही घर से बाहर निकलें।

रविवार को बारिश का पूर्वानुमान- उन्होंने बताया कि रविवार को दिनभर बादल छाए रहेंगे और हल्की बारिश की भी संभावना बन रही है। शहर का अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम तापमान 06 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। वहीं 28 दिसंबर को भी बादल छाए रहने का पूर्वानुमान है।

—–

बर्फीली हवाओं ने बढ़ाई मुसीबत, कोहरे के कारण विजिबिलिटी बेहद कम

बर्फीली हवाओं ने बढ़ाई मुसीबत, कोहरे के कारण विजिबिलिटी कम

नई दिल्ली। बर्फीली हवाओं केे कारण उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। कई राज्यों में आज सुबह कोहरे की घनी चादर बिछी रही, जिससे विजिबिलिटी की समस्या बनी रही। दिल्ली, बिहार, उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, ओडिशा सहित कई राज्यों में ठंड के साथ कोहरा छाया रहा। वहीं पहाड़ी इलाकों जम्मू-कश्मीर और हिमाचल आदि में बर्फबारी मैदानी इलाकों में ठंड की वजह बन गई है।

बर्फीली हवाओं से कांपा आधा भारत-
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उसके पड़ोसी राज्यों में अगले कुछ दिन तक सुबह के समय घना कोहरा छाया रह सकता है। साथ ही कंपकंपा देने वाली शीत लहर का भी सामना करना पड़ेगा। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार नए साल की पूर्व संध्या का जश्न भी कड़ाके की ठंड के बीच मनाना पड़ सकता है, क्योंकि तापमान में 2 से 3 डिग्री तक की गिरावट आने के आसार बन रहे हैं। गुरुवार को भी दिल्ली और आसपास के इलाकों में घना कोहरा छाया रहा।

पंजाब, पश्चिमी यूपी, दिल्ली, पूर्वी उत्तर प्रदेश समेत तमाम इलाकों में आज सुबह घना कोहरा छाया रहा। दिल्ली के पालम इलाके में इतना घना कोहरा था कि 50 मीटर दूर देख पाना भी मुश्किल था। वहीं अमृतसर में तो दृश्यता मात्र 25 मीटर रही। मौसम विभाग का कहना है कि आज पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में बहुत घने कोहरे की स्थिति देखी गई है। दिल्ली और पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी घने कोहरे की स्थिति बनी हुई है।
आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, उत्तर भारत के कुछ हिस्से बेहद भीषण शीत लहर की चपेट में रहेंगे। खासतौर पर 24 व 25 दिसंबर को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली के कुछ इलाकों में भीषण शीत लहर चलेगी। उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों सहित हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी 24-25 दिसंबर तक शीत लहर का असर रहेगा।

हिमाचल में येलो अलर्ट-
हिमाचल में गुरुवार और शुक्रवार को मौसम साफ रहेगा। 26 दिसंबर से प्रदेश में बारिश और बर्फबारी के आसार हैं। 29 दिसंबर तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान है। प्रदेश के मैदानी जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में गुरुवार सुबह घना कोहरा छाए रहने का येलो अलर्ट है।

——-

तापमान में गिरावट जारी, कड़ाके की ठंड से जनजीवन अस्त व्यस्त

उत्तर भारत में तापमान में गिरावट, अगले चार दिन दिल्ली में पड़ेगी कड़ाके की सर्दी

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में अगले चार दिनों में शीतलहर चलने का पूर्वानुमान है। इस दौरान न्यूनतम तापमान में चार डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की जा सकती है। उत्तर प्रदेश के दूरदराज इलाकों में घना कोहरा छाया रहा।
मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में अगले चार दिनों में मध्यम से घना कोहरा छाए रहने की संभावना है। सफदरजंग वेधशाला ने बताया कि मंगलवार को न्यूनतम तापमान 5.3 डिग्री सेल्सियस तथा रविवार को 3.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया था, जो इस मौसम का सबसे कम तापमान था। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले का चुर्क 3.2 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंडा स्थान दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग ने उत्तर प्रदेश के दूरदराज इलाकों में अगले कुछ दिनों में कड़ाके की ठंड वाली स्थितियां बनने का पूर्वानुमान लगाया है।
उधर कश्मीर घाटी में न्यूनतम तापमान के जमाव बिंदू से नीचे रहने के चलते कड़ाके की ठंड का प्रकोप जारी रहा। हफ्ते के आखिर तक मौसम शुष्क और ठंडा रहेगा और इस दौरान कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम स्तर की बर्फबारी होने का अनुमान है। वहीं कश्मीर में 40 दिन तक पड़ने वाली कड़ाके की ठंड के दौर यानी चिल्लई कलां से घाटी में मौसम शुष्क रहा। इस दौरान बर्फबारी होने की बहुत अधिक संभावना रहती है। अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की गर्मियों की राजधानी श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 5.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया जो पिछली रात के शून्य से चार डिग्री सेल्सियस से भी नीचे चला गया है। उन्होंने कहा कि दक्षिण कश्मीर में स्थित पर्यटन स्थल पहलगाम में भी तापमान पिछली रात के माइनस 4.6 डिग्री सेल्सियस से नीचे गिरकर शून्य से 5.8 डिग्री सेल्सियस नीचे पहुंच गया है। ओडिशा के आंतरिक इलाके में ठंड की वजह से जनजीवन प्रभावित है और कंधमाल जिले के फुलबनी में तापमान चार डिग्री सेल्सियस तक नीचे गिर गया और यह राज्य का सबसे ठंडा स्थान दर्ज किया गया। मौसम कार्यालय ने अगले 24 घंटे में शीत लहर और गंभीर शीत लहर की आशंका व्यक्त की है। हरियाणा और पंजाब में तापमान में आंशिक बढ़ोतरी दर्ज की गई जबकि राजस्थान में रात के तापमान में आंशिक बढ़ोतरी हुई। हरियाणा में दिन में ज्यादातर स्थानों पर सामान्य से एक या दो डिग्री सेल्सियस अधिक तापमान दर्ज किया गया जबकि पंजाब में तापमान 21-22 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज हुआ। राजस्थान के कई हिस्सों में रात के तापमान में मामूली इजाफा हुआ है, वहीं चुरू मंगलवार को प्रदेश में सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने यह जानकारी दी। सीकर, पिलानी, गंगानगर, भीलवाड़ा, डबोक और चित्तौड़गढ़ में न्यूनतम तापमान क्रमश: 4.5 डिग्री सेल्सियस, 4.9 डिग्री सेल्सियस, 6.1 डिग्री सेल्सियस, 6.4 डिग्री सेल्सियस, 6.6 डिग्री सेल्सियस और 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

——

यमुना एक्सप्रेस-वे पर कंटेनर से टकरा कर लगी कार में आग, 5 जिंदा जले

Agra: यमुना एक्सप्रेसवे पर कंटेनर से टकरा कर कार में आग, जिंदा जलकर पांच की मौत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के आगरा में यमुना एक्सप्रेस वे पर कार की कंटेनर से टक्कर हो गई। कार में सवार सभी 5 लोगों की जिंदा जल कर मौत हो गई। कार लखनऊ की थी, जिसका नंबर UP 32 KW 6788 था। ये सभी लोग यूपी से दिल्ली की तरफ जा रहे थे। नागालैंड नंबर के कंटेनर में भी टक्कर के बाद आग लग गई। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। मृतकों की अभी पहचान नहीं हुई है।

हादसा थाना खंदौली क्षेत्र में आज तड़के तकरीबन 4.30 बजे हुआ। आगरा से नोएडा की ओर जा रही कार आगे जा रहे कंटेनर के डीजल टैंक से टकरा गई। टक्कर के बाद कार में आग लग गई। टक्कर इतनी जोरदार थी कि इसमें सवार लोगों को बाहर निकलने का भी मौका नहीं मिला। कार में सवार पांच लोग जिंदा जल गए।
सूचना मिलने के बाद पुलिस और दमकल की गाड़ी घटनास्थल पर पहुंच गई। किसी तरह आग बुझाई गई। तब तक कार में सभी सवार लोगाें की मौत हो चुकी थी। बताया गया है कि कंटेनर चालक ने कंटेनर को अचानक मोड़ दिया। पीछे से आ रही कार तेज रफ्तार में थी। इससे कार अनियंत्रित होकर कंटेनर के डीजल टैंक से जा टकराई।
हादसे के बाद कार सेंट्रल लॉक हो जाने के कारण उसमें सवार लोग दरवाजा नहीं खोल सके। यमुना एक्सप्रेस के बूथ के कर्मचारी ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची तब तक चालक कंटेनर छोड़कर भाग चुका था।

टक्कर लगते ही कार बन गई आग का गोला

बताया गया है कि कार में सवार लोगों को बाहर निकलने का भी मौका नहीं मिला। आग लगते ही कार आग का गोला बन गई, वहां मौजूद लोग भी उन्हें बचाने में बेबस थे। पुलिस का कहना है कि जिंदा जलने वालों में एक बच्चा, एक महिला और तीन पुरुष लग रहे हैं। शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। कार नंबर लखनऊ जिले का UP 32 KW 6788 राजकुमार का पता चला है और उन्नाव के लोग सवार थे। इसी के जरिये शिनाख्त की कोशिश की जा रही है।

ओवरस्पीड बनी हादसे की वजह

इसी हफ्ते कोहरे के कारण यमुना एक्सप्रेसवे पर गाड़ियों की स्पीड कम की गई है। यमुना एक्सप्रेसवे पर अधिकतम गति सीमा 100 थी, जिसे 15 दिसंबर से घटाकर 80 किया गया है। यह फैसला एक्सप्रेसवे पर हादसे बचाने के लिए किया गया है। यमुना अथॉरिटी ने एक्सप्रेस-वे का संचालन देख रही जेपी इंफ्राटेक और पुलिस को स्पीड से जुड़े नए नियम का पालन कराने को कहा है। एक्सप्रेस-वे के एंट्री और एग्जिट पॉइंट पर फॉग लाइट लगाई गई हैं। अथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि कोहरे के कारण एक्सप्रेसवे पर हादसों की आशंका रहती है। इसे देखते हुए वाहनों की अधिकतम गति सीमा को कम किया गया है।

अब भारी वाहनों की गति 60 किमी प्रति घंटा-
यमुना एक्सप्रेसवे पर चलने वाले हल्के वाहन 80 और भारी वाहन 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ही चल सकते हैं। इससे पहले हल्के वाहनों की गति 100 और भारी वाहनों की गति 80 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित थी।

एंट्री-एग्जिट पर बांट रहे चेतावनी पर्चे-
एक्सप्रेस-वे पर ग्रेटर नोएडा से आगरा तक जगह-जगह पर गति सीमा बताते बोर्ड लगाए गए हैं। एक्सप्रेसवे के एंट्री और एग्जिट पॉइंट, टोल प्लाजा और हाइवे के किनारे बनी सुविधाओं पर वाहन चालकों कों इस बारे में पर्चे भी बांटे जा रहे हैं। हर टोल प्लाजा पर गति सीमा और कोहरे के दौरान सावधानी बरतने के लिए अनाउंसमेंट किए जा रहे हैं। एक्सप्रेस-वे के किनारे नए रिफ्लेकिटव टेप भी लगाए गए हैं।
काटे जा रहे चालान-
यमुना अथॉरिटी के अधिकारियों का कहना है कि नियमों का पालन न करने वाले वाहन चालकों के चालान काटे जा रहे हैं। कोहरा की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर हादसे होने का खतरा बना रहता है। इसे देखते हुए वाहनों की गति कम करने का फैसला लिया गया है।

DM-SSP ने घटना स्थल का लिया जायजा-
हादसे की जानकारी मिलते ही आगरा DM प्रभु एन सिंह और SSP बबलू कुमार घटनास्थल पर पहुंचे। सीओ अर्चना सिंह के मुताबिक, टैंकर का फ्यूल टैंक फटने के कारण कार में आग लगी। मृतकों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। कार के नंबर के आधार पर उसके मालिक से जानकारी ली जा रही है।

एक हफ्ते पहले भी हुआ था हादसा-
16 दिसंबर को संभल जिले में एक तेज रफ्तार रोडवेज बस और टैंकर की भीषण टक्कर हुई थी। इसमें बस में सवार 8 लोगों की मौत हो गई। हादसा घने कोहरे की वजह से हुआ। बताया गया कि मानकपुर की मढ़इयां गांव के पास गन्ने से लदी ट्रैक्टर ट्राली खड़ी थी। टैंकर ने इसे ओवरटेक किया, तभी बस सामने आ गई। बस में करीब 45 लोग सवार थे।—–

हिमाचल: कई स्थानों पर पारा शून्य से नीचे-yello alert

हिमाचल में भीषण सर्दी का कहर

कई स्थानों पर पारा शून्य से नीचे-येलो अलर्ट जारी

शिमला। हिमाचल प्रदेश में प्रचंड शीतलहर का प्रकोप जारी रहने से छह जिलों में पारा शून्य से कई डिग्री नीचे रिकार्ड किया गया। मौसम विभाग ने हमीरपुर, ऊना, बिलासपुर, कांगड़ा और मंडी जिलों में आगामी 24 घंटों के दौरान शीत लहर तेज होने की चेतावनी दी है। विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार प्रदेश भर में 24 दिसंबर तक मौसम साफ रहेगा। वहीं मैदानी जिलों में रविवार को घना कोहरा पड़ने का येलो अलर्ट जारी हुआ है। कांगड़ा और मंडी जिलों में तो पारा शून्य से नीचे चला गया है।

ऊना में 0 रिकॉर्ड, हमीरपुर व बिलासपुर में 0 के करीब

ऊना में शून्य और हमीरपुर व बिलासपुर में शून्य के करीब रिकार्ड हुआ है। इन क्षेत्रों में सुबह 11 बजे तक घना कोहरा छाने से जनजीवन प्रभावित हो रहा है। मैदानी इलाकों में ठंड का प्रकोप अभी और बढ़ेगा। शनिवार को राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में धूप खिली। लाहुल-स्पीति के मुख्यालय केलांग का पारा शून्य से कम रहा। कल्पा में न्यूनतम तापमान शून्य से कम 3.0, मंडी के सुंदर नगर में शून्य से कम 1.6, भ्रुंतर शून्य से कम 1.8, सोलन शून्य से कम 1.3, मनाली शून्य से नीचे 1.0, कांगड़ा में 0.8, ऊना में शून्य, पालमपुर में 0.1, चंबा में 0.4, मंडी शून्य से कम 1.1, हमीरपुर में 1.8, धर्मशाला में 2.4, बिलासपुर में 2.0, डल्हौजी में 4.7, कुफरी में 0.8, शिमला में 4.4 और नाहन में 7.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है।

UP (W) के कई हिस्सों में भी रहेगा शीत लहर का असर

मौसम विभाग के मुताबिक, पंजाब, हरियाणा, चंढीगढ़ और दिल्ली में भारी शीत लहर चल सकती है, साथ ही पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में भी शीतलहर का असर दिखेगा। मौसम विभाग ने कहा कि उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी के साथ ठंडी हवाएं चलेंगी। साथ ही बिहार और मध्य प्रदेश में भी शीत लहर का असर दिखेगा। राजधानी दिल्ली में शुक्रवार सुबह न्यूनतम तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस गिरा था, जिसके बाद मौसम विभाग ने कहा कि शनिवार को भी राजधानी में शीतलहर का असर रहेगा।

——–

शीत लहर से कांपा आधा देश‚ दिल्ली में टूटा 10 साल का रिकार्ड

नई दिल्ली। दिल्ली सहित पूरे NCR में कड़ाके की ठंड के चलते पारे में गिरावट लगातार जारी है। मौसम विभाग का अनुमान है कि इस महीने के अंत तक दिल्ली में पारा 2 डिग्री तक पहुंच सकता है। इस बीच पहाड़ों में भारी बर्फबारी से मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ गई है। ठंडी हवाओं के कारण दिल्ली और आसपास के इलाकों में पारा 3 डिग्री तक गिर गया है।

दिल्ली में शुक्रवार सुबह का तापमान लगभग 3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने गिरते तापमान और ठंड का अनुमान जताते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। पहाड़ों में सर्दी के कारण नदी, नाले बहने बंद हो गए हैं। पारा माइनस डिग्री पहुंचने के कारण देश के कई राज्यों के लोगों की हाड़ कंपा देने वाली ठंड़ अचानक बढ़ गई है।

दिल्ली में ठंड ने तोड़ा 09 साल का रिकार्ड

दिल्ली में ठंड़ ने पिछले 09 साल का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया। इससे पहले 2011 में 16 दिसंबर को न्यूनतम तापमान 5 डिग्री रहा था। शुक्रवार को दिल्ली में दिन में भी जबरदस्त ठंड रही और शीतलहर चली।

1 डिग्री पहुंचेगा दिल्ली में पारा ?

पिछले साल 28 दिसंबर को पारा 2.4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था, जबकि 2013 में न्यूनतम तापमान 23 दिसंबर को 2.4 डिग्री सेल्सियस था। 2014 और 2018 में भी दिसंबर में पारा 3 डिग्री से नीचे चला गया था, लेकिन इस बार ठंड के कारण अनुमान लगाया जा रहा है कि दिसंबर के आखिरी सप्ताह में तापमान 2 डिग्री से भी नीचे जा सकता है। इस बार नवंबर में पहाड़ों में बर्फ गिरने लगी थी, 12 दिसंबर को भारी बर्फबारी हुई थी।

पहाड़ों में शून्य से नीचे पहुंचा तापमान

पिछले 24 घंटों में, हिमाचल प्रदेश, कलोंग, मनाली और कल्पा में शून्य से नीचे तापमान के साथ शीत लहर की स्थिति बनी हुई है। मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि पहाड़ी राज्यों में मौसम शुष्क बना हुआ है, लेकिन न्यूनतम तापमान में एक से दो डिग्री की गिरावट आई है। मौसम विभाग के अनुसार, लाहौल-स्पीति का प्रशासनिक केंद्र केलॉन्ग राज्य में सबसे कम -8 डिग्री सेल्सियस के साथ सबसे ठंडा स्थान था।

किसे कहते हैं ‘cool day’?

राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को अधिकतम 15.2 डिग्री सेल्सियस के साथ साल का सबसे “ठंडा दिन” रिकॉर्ड किया गया, जो सामान्य से सात डिग्री कम था। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने जानकारी दी कि इसे ‘कूल डे’ कहा जाता है। जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से नीचे होता है और अधिकतम तापमान सामान्य से 4.4 डिग्री सेल्सियस अधिक होता है। दिल्ली में पश्चिमी हिमालय से उठीं बर्फीली हवाएं लगातार चल रही हैं।

पंजाब, हरियाणा में शीतलहर

पंजाब और हरियाणा में भी शीतलहर चल रही है। गुरुवार को पारा सामान्य से नीचे चला गया था। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस था। हरियाणा में अंबाला, हिसार, करनाल, भिवानी, रोहतक और सिरसा का तापमान क्रमश: 4.4 डिग्री सेल्सियस, 4.2 डिग्री सेल्सियस, 4.9 डिग्री सेल्सियस, 4.8 डिग्री सेल्सियस, 4.4 डिग्री सेल्सियस और 4.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर में न्यूनतम तापमान 4.2 डिग्री सेल्सियस और लुधियाना में 5.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अगले दो दिनों में, दोनों राज्यों के अधिकांश हिस्सों में ठंड का अंदेशा है।

क्यों बढ़ी ठंड ?

आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण पश्चिमी हिमालय में भारी बर्फबारी हुई है, जिसके चलते मैदानी इलाकों में सर्दी शुरू होने से तापमान गिर रहा है। आईएमडी मैदानी इलाकों के लिए एक शीत लहर की घोषणा तब करता है जब न्यूनतम तापमान 10 सेंटीग्रेड या उससे कम होता है और लगातार दो दिनों तक 4.5 सेंटीग्रेड रहता है। “दिल्ली जैसे छोटे क्षेत्रों के लिए, शीत लहर की घोषणा की जा सकती है, भले ही उपरोक्त शर्तों को एक दिन के लिए बनाए रखा जाए,”

कई राज्यों में बारिश होने की संभावना

दूसरी ओर देश में इस दो तरह का मौसम चल रहा है। कई राज्यों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है, तो वहीं कई राज्यों में बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग की तरफ से शीत लहर चलने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, पश्चिमी यूपी, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली , चंडीगढ़, राजस्थान में कोहरा छाया रहेगा, तो वहीं इन क्षेत्रों में शीत लहर चल सकती है। पूर्वोत्तर के राज्यों में असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में भी कोहरा पड़ सकता है।

दूसरी ओर मौसम विभाग ने तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल तमिलनाडु, पुड्डुचेरी के अलग-अलग क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना जताई है। अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में भी बारिश हो सकती है।

——-

अभी और कंपकंपाएगी सर्दी: अगले 3 दिन पड़ेंगे भारी

कंपकंपाएगी ठंड: उत्तर भारत में अगले 3 दिन घने कोहरे और शीतलहर तेज होने के आसार

चंडीगढ़। उत्तर भारत में अगले तीन दिन घने कोहरे, कोल्ड डे और शीतलहर से राहत मिलने की संभावना नहीं है। कड़ाके की ठंड के चलते न्यूनतम पारा दो डिग्री गिर गया है। सीजन की पहली ठंड ने पश्चिमोत्तर को कंपा कर रख दिया। मौसम केन्द्र के अनुसार पंजाब में अगले तीन दिन कुछ स्थानों पर शीतलहर का प्रकोप बना रहने और अगले 24 घंटे कोल्ड डे और कोहरा पड़ने की संभावना है। हरियाणा में भी घने कोहरे के आसार हैं। पिछले चौबीस घंटों में कड़ाके की ठंड तथा अधिकांश स्थानों पर घना कोहरा छाये रहने से सड़क यातायात प्रभावित रहा लेकिन कुछ इलाकों में दोपहर तक धूप खिलने से कोहरा छंट गया तथा सर्दी से राहत मिली। पंजाब के कुछ इलाके ठंड की चपेट में हैं तथा कोहरा छाये रहने और खिली धूप के दर्शन न होने से लोगों को ठंड से राहत नहीं मिली।

अमृतसर तथा शिमला का पारा दो डिग्री दर्ज किया गया। नारनौल, बठिंडा का पारा तीन डिग्री, आदमपुर, हलवारा, हिसार, सिरसा और फरीदकोट का पारा क्रमश: चार डिग्री,अंबाला, दिल्ली, भिवानी और जम्मू का पारा क्रमश: पांच डिग्री, चंडीगढ, लुधियाना, पटियाला,पठानकोट का पारा छह डिग्री, गुरदासपुर आठ डिग्री, रोहतक सात डिग्री रहा। कश्मीर घाटी में हिमपात के कारण कड़ाके की सर्दी पड़ रही है तथा श्रीनगर शून्य से कम चार डिग्री रह गया है।

हिमाचल प्रदेश में हिमपात तथा बारिश के बाद अधिकांश इलाके शीतलहर की चपेट में हैं। कल्पा शून्य से चार डिग्री कम, मनाली शून्य से कम एक डिग्री, सोलन शून्य डिग्री, उना दो डिग्री, नाहन छह डिग्री, कांगडा एक डिग्री, भुंतर शून्य के आसपास, धर्मशाला दो डिग्री,मंडी तीन डिग्री, सुंदरनगर पांच डिग्री रहा।

झरने, तालाब और पाइपों तक में जमा पानी

हिमाचल प्रदेश में धूप खिलने के बावजूद कड़ाके की ठंड का प्रकोप जारी है तथा पांच जिलों में पारा जमाव बिन्दु से नीचे चले जाने से प्राकृतिक जलस्रोत, नदियों की ऊपरी परत,झरने, तालाब और पाइपों में पानी तक जम जाने से आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। सोलन और ऊना में प्रदेश की राजधानी शिमला से अधिक ठण्ड पड़ रही है, लेकिन दिन में तापमान में कुछ सुधार हुआ है। राज्य भर में गुनगुनी धूप खिलने से दिन में मौसम सुहावना बना हुआ है। हालांकि रात के समय लोगों को ठिठुरन का सामना करना पड़ रहा है। ऊना और सोलन की रातें पहाड़ी क्षेत्रों शिमला व चंबा से भी ठंडी हैं। इसी तरह कांगड़ा और मंडी में भी रात के पारे में गिरावट दर्ज की जा रही है। ये शहर पहाड़ी की रानी शिमला से भी सर्द हैं। बुधवार को शिमला का न्यूनतम तापमान 2.6 डिग्री सेल्सियस था, जबकि सोलन में पारा शून्य से कम 0.8 डिग्री और उना में 2.0 डिग्री दर्ज किया गया। इसी प्रकार जनजातीय जिले लाहौल स्पीति का मुख्यालय केलांग में न्यूनतम पारा शून्य से नीचे 5.6 डिग्री, किन्नौर के कल्पा में शून्य से कम 4.1 डिग्री, कुल्लू के मनाली और चंबा के डलहौजी में शून्य से कम 1.0 डिग्री सेल्सियस रहा। इसी तरह प्रदेश के अधिकतर जिलों में तापमान में गिरावट आई है। सुबह-शाम धुंध छाने से शीतलहर बढ़ गई है।

उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड ने दी दस्तक, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में बारिश

मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार मंगलवार की रात बिलासपुर का न्यूनतम तापमान 6.2 डिग्री, हमीरपुर में 6.0 डिग्री, जबकि कुफरी, चंबा और मंडी का तापमान क्रमशः 2.0 डिग्री, 2.2 डिग्री व 3.0 डिग्री सेल्सियस रहा। इसके इलावा सुंदरनगर में 0.6 डिग्री, भुंतर 0.7 डिग्री, धर्मशाला 1.2 डिग्री, नाहन 6.1 डिग्री, पालमपुर 1.0 डिग्री, कांगडा 1.9 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 1 से 2 डिग्री कम रहे। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक डाॅ मनमोहन सिंह ने बताया कि अधिकांश क्षेत्रों में मौसम साफ रहेगा। 16 और 17 दिसंबर को उना, बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, सोलन और सिरमौर में घन्ना कोहरा पड़ने की संभावना जताई है, जिससे दृश्यता (विजिबिलिटी) 500 मीटर से कम होगी और यातायात तथा ठंड से फसल पर प्रभाव पड़ने की उम्मीद है।

——-

घने कोहरे में भिड़े टैंकर-रोडवेज बस, 8 की मौत, 25 यात्री घायल

UP: संभल में घने कोहरे के कारण टैंकर से टकराई रोडवेज बस, 8 यात्रियों की मौत, 25 घायल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के संभल जिले में कोहरे के कारण बुधवार सुबह एक तेज रफ्तार रोडवेज बस और टैंकर की भीषण भिड़ंत हो गई। भिड़ंत में रोडवेज का आधा हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त होकर रोड पर बिखर गया। हादसे में अब तक मृत 8 लोगों के शव निकाले जा चुके हैं, हालांकि मौत का आंकड़ा अभी बढ़ सकता है। 25 से ज्यादा लोगों के घायल होने की सूचना है। मौके पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। CM योगी ने हादसे पर दुख जाहिर किया है। उन्होंने अफसरों को पीड़ितों की हर संभव मदद करने का निर्देश दिया है।

अलीगढ़ डिपो की थी रोडवेज बस

जानकारी के अनुसार, अलीगढ़ डिपो की बस बुधवार तड़के चंदौसी से यात्रियों को लेकर अलीगढ़ जा रही थी। धनारी थाना क्षेत्र में मुरादाबाद-आगरा नेशनल हाईवे पर घने कोहरे के कारण टैंकर से टक्कर हो गई। हादसे का शोर सुनकर स्थानीय लोग मौके पर राहत कार्य में जुटे। सूचना पाकर प्रशासनिक अधिकारी और इलाकाई पुलिस मौके पर पहुंची, जिसके बाद बस में सवार मृतकों व घायलों को बाहर निकालने का काम शुरू किया गया।

राहत कार्य जारी

SP चक्रेश मिश्रा ने बताया कि 8 लोगों के मौत की पुष्टि हुई है। मौत का आंकड़ा अभी बढ़ सकता है। घने कोहरे के कारण यह हादसा हुआ है। हाइवे से क्षतिग्रस्त वाहनों को हटवाया जा रहा है।

—–

सितम सर्दी का: कुछ राज्‍यों में अगले दो दिन कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार

उत्तर भारत के कई हिस्सों में हाड़ कंपा देने वाली ठंड

कई राज्यों में छाया घना कोहरा

Punjab-Haryana में तापमान पहुंचा सामान्य से नीचे

नैनीताल में रहा न्यूनतम तापमान 5 और देहरादून में 8 डिग्री

नई दिल्ली। उत्‍तर भारत समेत देश के अन्‍य हिस्‍सों में ठंड और कोहरे ने सितम ढाना शुरू कर दिया है। कहीं-कहीं तो पारा जमाव बिंदु के बेहद करीब पहुंच रहा है। इस बीच मौसम विज्ञान विभाग ने उत्‍तर भारत के कुछ राज्‍यों में अगले दो दिन कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार व्‍यक्‍त किए हैं। इसके साथ ही दक्षिण के कुछ क्षेत्रों में भारी बारिश की आशंका जताई है। वहीं पश्चिमी हिमालय से आ रही बर्फीली हवाओं से दिल्ली में ठंड बढ़ गई है। हाड़ कंपा देने वाली शीत लहर की वजह से मंगलवार को दिल्ली में न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 4.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह इस सीजन का सबसे कम तापमान रहा। नैनीताल में न्यूनतम तापमान 5 और देहरादून में 8 डिग्री रहा। इस तरह दिल्ली में इन पर्वतीय शहरों से भी ज्यादा ठंड रही। वहीं राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, त्रिपुरा, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश में घना कोहरा छाया रहा।

उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर बहुत हल्की बारिश भी हुई, जबकि हरियाणा और पंजाब में तापमान सामान्य से नीचे चला गया। हरियाणा में, हिसार का न्यूनतम तापमान सामान्य से छह डिग्री नीचे चला गया, जहां तापमान 3 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया, जबकि करनाल में भी न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हालांकि, दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य के मुकाबले तीन डिग्री अधिक है, जबकि शहर का दिन का तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग के अनुसार अगले 2 दिन तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ, दिल्‍ली, उत्‍तरी राजस्‍थान और पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में कड़ाके की ठंड पड़ने का अनुमान है। हिमाचल प्रदेश के केलांग और कल्पा में पिछले 24 घंटों में शुष्क मौसम के बावजूद शून्य डिग्री तापमान दर्ज किया गया। बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालय से बहने वाली बर्फीली हवाओं ने मंगलवार को दिल्ली का पारा 4.1 डिग्री सेल्सियस तक नीचे ला दिया, जो इस मौसम में अब तक का शहर का न्यूनतम तापमान है।

दिल्ली में बढ़ी सर्दी

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा, ‘अधिकतम तापमान भी गिरकर 18.5 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है, जो सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस नीचे है। दिल्ली शहर में तापमान के आंकड़े उपलब्ध कराने वाली सफदरजंग वेधशाला के मुताबिक मंगलवार को सुबह न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री सेल्सियस था, जो सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस कम था। जाफरपुर में तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया’। मौसम विभाग ने कहा, ‘आयानगर और लोधी रोड मौसम केन्द्रों में न्यूनतम तापमान क्रमश: चार डिग्री और 4.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पिछले साल दिसंबर के अंतिम सप्ताह में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे पहुंच गया था’।

——-

कोरोना के साथ ही अब कोहरा: 31 जनवरी तक कई ट्रेन रद्द

रेलवे ने किया कई के समय में भी बदलाव

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण पहले से ही गिनी चुनी ट्रेनें चल रही हैं तो वहीं अब कोहरे के चलते भी रेल यातायात पर मार पड़ने लगी है। देश के कई हिस्सों में कोहरे के चलते रेलवे ने काफी ट्रेनों को रद्द करने का फैसला किया है। रेलवे ने 31 जनवरी तक कई ट्रेनें रद्द करने के साथ ही कई ट्रेनों के समय में भी बदलाव किया है।

16 दिसंबर से एक जनवरी तक कई ट्रेन रद्द

पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार ने बताया कि यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए 16 दिसंबर से एक जनवरी तक कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इसमें गोरखपुर-आनंद विहार टर्मिनल (ट्रेन संख्या 02571) 16, 20, 23, 27, 30 दिसंबर और 3, 6, 10, 13, 7, 20, 24, 27 और 31 जनवरी के बीच सभी बुधवार और रविवार को रद्द रहेगी। वहीं आनंद विहार टर्मिनल-गोरखपुर (ट्रेन संख्या 02572) 17, 21, 24, 28, 31 दिसंबर और 4, 7, 11, 14, 18, 21, 25 और 28 जनवरी के बीच सभी सोमवार व गुरुवार को रद्द रहेगी।

कुछ ट्रेनों का आंशिक निरस्तीकरण

भारतीय रेलवे ने कोहरे की वजह से कुछ ट्रेनों का आंशिक निरस्तीकरण भी किया है। इनमें गोरखपुर-कानपुर अनवरगंज (ट्रेन संख्या 05004) 16 दिसंबर से 31 जनवरी तक प्रयागराज रामबाग से कानपुर अनवरगंज के बीच रद्द रहेगी। वहीं कानपुर अनवरगंज-गोरखपुर (ट्रेन संख्या 05003) 16 दिसंबर से 31 जनवरी तक कानपुर अनवरगंज-प्रयागराज रामबाग के बीच रद्द रहेगी।

किसान आंदोलन भी बना वजह

कुछ ऐसी भी ट्रेनें हैं जिन्हें किसान आंदोलन के कारण रद्द किया गया है। आंदोलन के कारण पंजाब की कुछ ट्रेनों को रद्द किया गया है। रेलवे ने अमृतसर-दरभंगा (ट्रेन संख्या 05212) को रद्द कर दिया है। ये ट्रेन अमृतसर से 13 दिसंबर को रवाना होने वाली थी। इसके अलावा अमृतसर-जयनगर अंबाला (ट्रेन संख्या 04652) और जयनगर-अमृतसर अंबाला (ट्रेन संख्या 04651) को रद्द किया गया है।

——-