आजादी का अमृत महोत्सव: एक, दो, पांच, 10 और 20 रुपए के नए सिक्के लॉन्च

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी का अमृत महोत्सव को समर्पित एक, दो, पांच, 10 और 20 रुपयों के नए सिक्के लॉन्च किए। सिक्कों की इस विशेष सीरीज की पहचान नेत्रहीन लोग भी आसानी से कर सकेंगे। ये सिक्के आजादी का अमृत महोत्सव को समर्पित किए गए हैं।

इस तरह के हैं ये सिक्के
स्पेशल सीरीज के तहत इन सिक्कों पर AKAM का लोगो है। इससे पहले पीएमओ के बयान में कहा गया था कि “सिक्कों की इन स्पेशल सीरीज में AKAM के लोगो की थीम होगी और दृष्टिबाधित व्यक्तियों को भी आसानी से पहचाना जा सकेगा।” विशेष रूप से, इस सप्ताह को 6 से 11 जून, 2022 तक ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ (AKAM) के हिस्से के रूप में मनाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर कहा कि ये सिक्के लगातार लोगों को अमृत काल के लक्ष्यों की याद दिलाएंगे और उन्हें राष्ट्र के विकास में योगदान करने के लिए प्रेरित करेंगे। प्रधानमंत्री ने इस कार्यक्रम में उपस्थित वित्त और कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय के अधिकारियों, कर्मचारियों से कहा, ‘आप सभी इस विरासत का हिस्सा हैं। देश के आम जन के जीवन को आसान बनाना हो, या देश की अर्थव्यवस्था को सशक्त करना हो, बीते 75 वर्षों में अनेक साथियों ने इसमें बहुत योगदान दिया है। बीते वर्षों में वित्त मंत्रालय और कॉरपोरेट मंत्रालय ने अपने कार्यों के द्वारा, सही समय पर सही निर्णयों के द्वारा अपनी एक विरासत बनाई है, एक बेहतरीन सफर तय किया है।’

वित्त और कार्पोरेट कार्य मंत्रालय 6 से 11 जून तक ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत आइकानिक समारोह आयोजित करेगा। इस दौरान कार्पोरेट कार्य मंत्रालय और वित्त मंत्रालय का प्रत्येक विभाग अपने समृद्ध इतिहास और विरासत के साथ-साथ आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए तत्परता का प्रदर्शन करेगा। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रेडिट लिंक्ड सरकारी योजनाओं के लिए ‘जन समर्थ पोर्टल’ शुरू किया। यह पोर्टल अलग-अलग योजनाओं को एक ही मंच पर उपलब्ध कराएगा। यह अपने आप में पहला ऐसा पोर्टल होगा जो लाभार्थियों को ऋणदाताओं से जोड़ेगा।

UPI 123Pay – बिना इंटरनेट के भी कर पायेंगे बैंकिंग के सभी काम ! वो भी कीपैड मोबाइल से ! ऐसे यूज करें UPI 123Pay

Watch “RBI launch new UPI 123pay payment without internet Live 🔴” on YouTube

https://youtu.be/1e8B6ujXLp0

UPI 123Pay – बिना इंटरनेट के भी कर पायेंगे Phone Pe के सभी काम ! वो भी कीपैड मोबाइल से ! ऐसे यूज करे UPI 123Pay साभार-Career Bhaskar

UPI 123Pay, UPI, RBI, Phone Pe, UPI New Feature, UPI Payment,

UPI 123Pay – UPI के जरिये पैसे लेना भेजना बहुत ही आसान और सुविधाजनक है। लेकिन आज भी ऐसे कई लोग है, जो UPI पेमेंट सर्विस का यूज नहीं कर पा रहे है। और इसका कारण है, लोगों के पास स्मार्टफोन न होना। तो इसी को देखते हुए RBI ने UPI 123Pay सर्विस शुरू की है। इस सर्विस के जरिये अब कोई भी बिना इंटरनेट और स्मार्टफोन के UPI पेमेंट कर पायेंगे।

RBI ने शुरू की नयी सर्विस –

भारत में लगभग 40 करोड़ से भी ज्यादा फीचर फ़ोन (कीपैड मोबाइल) उपयोगकर्ता है। …और ये सभी फीचर फ़ोन उपयोगकर्ता डिजिटल पेमेंट करने में असमर्थ है। इसी को देखते हुए RBI ने एक नई पेमेंट सर्विस शुरू की है, इस नई पेमेंट सर्विस का नाम UPI 123Pay है।

बिना इंटरनेट कर पायेंगे यह सभी काम –

UPI 123Pay पेमेंट सर्विस के जरिये आप किसी भी व्यक्ति को UPI और Bank Account से पैसे भेज पायेंगे इसके अलावा आप इस सर्विस के जरिये बैंक बैलेंस चेक, Mobile रिचार्ज, DTH रिचार्ज, LPG Gas Refill, EMI Repayment आदि काम भी कर पायेंगे।

कीपैड मोबाइल में भी चला सकते है UPI 123Pay

अगर आपके पास कीपैड मोबाइल है, या आप ऐसे इलाके में रहते है, जहाँ अच्छे से इंटरनेट नहीं चलता है जिसके कारण आप डिजिटल पेमेंट नहीं कर पा रहे थे। तो अब परेशान होने वाली कोई बात नहीं है, क्यूंकि इस नई पेमेंट सर्विस के जरिये यूजर्स बिना इंटरनेट की सहायता से सिर्फ कीपैड मोबाइल के जरिये ही डिजिटल पेमेंट कर पायेंगे।

ऐसे करे UPI 123Pay का यूज –

इस सर्विस का यूज आप 4 तरीके से कर सकते है। …पर इस पोस्ट में हम आपको Call के जरिये UPI पेमेंट कैसे करते हैं ?, इसके बारे में बतायेंगे। अगर आप इस नई पेमेंट सर्विस का यूज करना चाहते है, या जानना चाहते है, कि UPI 123Pay सर्विस कैसे काम करती है? तो आप नीचे दिया वीडियो देख सकते हैं। वीडियो में call के जरिये UPI 123Pay कैसे यूज करते हैं, इसका लाइव डेमो बताया है।

मार्च में 13 दिन बंद रहेंगे बैंक

नई दिल्‍ली (एजेंसी)। मार्च में बैंक 13 दिन बंद रहने वाले हैं। इन छुट्टियों में दूसरे व चौथे शनिवार और रविवार की छुट्टियां भी शामिल हैं। मार्च महीने में महाशिवरात्रि, होलिका दहन, होली जैसे अवसर हैं, जिन पर बैंकों में छुट्टियां रहेंगी। इस बीच बैंक ग्राहक ध्यान दें कि मार्च माह में देश में हर जगह बैंक 13 दिन बंद नहीं रहने वाले। इसलिए बैंक किस दिन बंद और किस दिन खुले रहेंगे, ग्राहकों को यह जानना जरूरी है।

Bank Holidays Alert: Banks to remain closed for 13 days in March; check  dates here

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मार्च महीने में बैंकों में छुट्टियों की तारीखों की घोषणा कर दी है। इसकी शुरुआत 1 मार्च को महाशिवरात्रि पर्व के साथ हो जाएगी। RBI के अनुसार, मार्च 2022 में त्योहारों और अन्य विशेष अवसरों पर अलग-अलग जोन में कुल 7 दिन बैंक बंद रहेंगे। इसके अलावा रविवार और हर महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को भी बैंक बंद रहेंगे।

छुट्टियों की पूरी लिस्‍ट-

1 मार्च : महाशिवरात्रि के मौके पर उत्तर प्रदेश, बिहार, जम्मू कश्मीर सहित देश के लगभग सभी प्रमुख शहरों में बैंक बंद रहेंगे।
3 मार्च : लोसार के मौके पर गंगटोक में बैंकों की छुट्टी रहेगी।
4 मार्च : चपचार कुट के मौके पर आइजोल में बैंक बंद रहेंगे।
6 मार्च : रविवार की छुट्टी।
12 मार्च : महीने का दूसरा शनिवार होने से छुट्टी।
13 मार्च : रविवार की छुट्टी।
17 मार्च : होलिका दहन के कारण लखनऊ, कानपुर, देहरादून और रांची जोन में छुट्टी रहेगी।
18 मार्च : होली/डोल जात्रा के मौके पर कोलकाता, बंगलुरु, भुवनेश्वर, कोच्चि, चेन्नई, इंफाल और तिरुवनंतपुरम के अलावा अन्य सभी जोन में छुट्टी रहेगी।
19 मार्च : होली/याओसांग के मौके पर भुवनेश्वर, इंफाल और पटना में छुट्टी रहेगी।
20 मार्च : रविवार की छुट्टी।
22 मार्च : बिहार दिवस के मौके पर पटना जोन में छुट्टी।
26 मार्च : महीने का चौथा शनिवार होने से अवकाश रहेगा।
27 मार्च : रविवार की छुट्टी रहेगी।

ई-कॉमर्स वेबसाइट्स के नियमों में हुआ बदलाव

अब बदल जाएगा आपका शॉपिंग करने का तरीका, ई-कॉमर्स वेबसाइट्स के नियमों में हुआ बदलाव

काम की खबर: अब बदल जाएगा आपका शॉपिंग करने का तरीका, ई-कॉमर्स वेबसाइट्स के नियमों में हुआ बदलाव 

नई दिल्ली (एजेंसी)। पिछले कुछ दिनों से कयास लगाए जा रहे थे कि ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर खरीदारी के लिए एक जनवरी 2022 देश में डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर हर बार कार्ड के 16 डिजिट वाले नंबर को डालना होगा। लेकिन अब कार्ड का पूरा विवरण देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आरबीआई का डाटा सिक्योरिटी नियम लागू होने के बाद भी ग्राहकों को ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर अपने क्रेडिट कार्ड के विवरण को डालने की जरूरत नहीं होगी।

केंद्रीय बैंक की कार्ड-ऑन-फाइल टोकनाइजेशन की अनुमति के साथ फास्ट चेकआउट जारी रखा जा सकता है। इससे ग्राहक अपने बैंकों से ऑनलाइन कंपनी को कार्ड विवरण के स्थान पर टोकन जारी करने के लिए कह सकते हैं। इसके जरिए ग्राहक कार्ड का विवरण दिए बिना ही भुगतान कर सकेंगे। मौजूदा समय में किसी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स पर अगर आपने एक बार आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड का ब्योरा भर दिया तो खरीदी के वक्त भुगतान करने के लिए आपको सिर्फ सीवीवी (कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू) और ओटीपी (वन-टाइम पासवर्ड) ही डालना पड़ता है। कार्ड डाटा को टोकन के रूप में जारी करने की सुविधा एक ही टोकन सर्विस प्रोवाइडर के साथ होगी। कार्ड डाटा को टोकन के रूप में जारी करने का काम ग्राहक की सहमति से ही किया जाएगा। 

e-commerce: ई-कॉमर्सः अब न जल्दी डिलिवरी और न सस्ता सामान - e-commerce  delivery will now take 4-7 days | Navbharat Times

अब नए पेमेंट एग्रीगेटर/पेमेंट गेटवे (पीए/पीजी) नियम के अनुसार प्रत्येक ऑनलाइन मर्चेंट प्रोसेसिंग ट्रांजेक्शन की एक ‘टोकनयुक्त की’ देंगे। ई-कॉमर्स कंपनी को कार्ड नेटवर्क के साथ इसके लिए गठबंधन करना पड़ेगा। ये टोकन प्रत्येक कार्ड नंबर के साथ लिंक होंगे। इस टोकन नंबर का इस्तेमाल दूसरा कोई नहीं कर सकेगा। 

Explained new rules for e commerce companies flash sales consumer data  grievance officer

रिजर्व बैंक विभिन्न कार्ड्स से किए जाने वाले भुगतान को और मालवेयर वायरस अटैक से सुरक्षित करना चाहता है। टोकन व्यवस्था में आपको भुगतान के लिए अपने कार्ड का पूरा विवरण नहीं देना होगा, बल्कि इसके लिए एक विशेष टोकन देना होगा। यह टोकन एक यूनिक कोड होगा। यह आपके कार्ड, टोकन मांगने वाले स्टोर और डिवाइस जिससे टोकन भेजा जा रहा है, तीनों से मिलकर बना होगा।

1 सितंबर से बदल जायेगा चेक से पैसे निकालने का नियम

दिल्ली। अगर आप भी चेक से पैसे भेज रहे हैं या चेक पेमेंट करते हैं। तो आपके लिए बेहद काम की खबर है। अब 1 सितंबर से 50,000 रुपये से अधिक का चेक जारी करना आपके लिए दिक्कत भरा हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि बैंकों ने अब पॉजिटिव पे सिस्टम को लागू करना शुरू कर दिया है। ज्यादातर बैंक 1 सितंबर से PPS को लागू करने जा रहे हैं।

एक्सिस बैंक (Axis Bank) अगले महीने से पॉजिटिव पे सिस्टम की शुरुआत कर रहा है। बैंक ने अपने करोड़ों ग्राहकों को SMS के जरिए इसकी जानकारी दी है। अब नए नियम के मुताबिक, 1 सितंबर से चेक जारी करने से पहले आपको पूरी डिटेल्स देनी होगी। वरना आपका चेक कैंसिल कर दिया जाएगा और आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है। एक्सिस बैंक के अलावा अन्य बैंक भी पॉजिटिव पे को लागू कर सकती है।

इन बैंकों ने लागू किए नियम: एक्सिस बैंक (Axis Bank) समेत कुछ बैंकों ने PPS को अनिवार्य कर दिया है, जिसके तहत ग्राहकों को बैंक को नेट/मोबाइल बैंकिंग या शाखा में जाकर चेक डिटेल्स देनी होगी। पॉजिटिव पे सिस्टम 50,000 या इससे बड़ी रकम के बैंक चेक पेमेंट पर लागू किया जाएगा। भारतीय स्टेट बैंक (SBI), कोटक महिंद्रा बैंक ने भी पॉजिटिव पे सिस्टम को 50 हजार रुपये से ज्यादा वाले चेक के लिए लागू कर दिया है।

First Uttar Pradesh News
साभार फर्स्ट उत्तर प्रदेश

लगातार चार दिन बैंक रहेंगे बंद

नई दिल्ली। आगामी 7 दिन में से 4 दिन सरकारी बैंक बंद रहेंगे। इसलिए अगर आपको बैंक संबंधित कोई जरूरी काम है तो उसे निपटा लें वरना परेशान होना पड़ सकता है। आरबीआई से अगस्त 2021 के लिए बैंक छुट्टियों की जजरी सूची के मुताबिक महीने में कुल 15 छुट्टियां थी। अब इस माह चार छुट्टियां बच गई हैं। इस महीने के अंतिम हफ्ते में चार दिन यानी 28 से 31 अगस्त तक बैंक बंद रहेंगे। 28 अगस्‍त को इस महीने के चौथे शनिवार की छुट्टी रहेगी। 29 अगस्‍त को रविवार है, जिसके चलते पूरे देश के सभी बैंक बंद रहेंगे, वहीं, 30 अगस्त 2021 श्रीकृष्‍ण जन्माष्‍टमी के उपलक्ष्य में देश के अधिकतर शहरों में बैंक बंद रहेंगे।

हालांकि जरूरी नहीं इन छुट्टियों की वजह से आपके शहर में भी बैंक बंद रहे, क्योंकि रिजर्व बैंक अलग-अलग राज्यों में वहां के स्थानीय त्योहारों की वजह से अलग-अलग जोन के लिए बैंकों की छुट्टियों की लिस्ट जारी करता है। इसमें 30 अगस्त, 2021 को जन्माष्टमी / कृष्णा जयंती है। इस दिन अहमदाबाद, चंडीगढ़, चेन्नई, देहरादून, जयपुर, जम्मू, कानपुर, लखनऊ, पटना, रायपुर, रांची, शिलांग, शिमला, श्रीनगर और गंगटोक के बैंकों में छुट्टी रहेगी। इसके अलावा 28 अगस्‍त को इस महीने के चौथे शनिवार की छुट्टी रहेगी। 29 अगस्‍त को रविवार है, जिसके चलते पूरे देश के सभी बैंक बंद रहेंगे, वहीं, 31 अगस्त 2021 श्रीकृष्‍ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में हैदराबाद के बैंक बंद रहेंगे।

मार्च-अप्रैल के बाद चलन से बाहर हो जाएंगे 100, 10 और 5 रुपए के पुराने नोट!

पुराने नोटों की सीरीज वापस लेने की योजना पर RBI कर रहा काम

नई दिल्ली। मार्च-अप्रैल के बाद 100, 10 और 5 रुपए के पुराने नोट चलन से बाहर हो जाएंगे! आरबीआई की तरफ से यह अहम जानकारी दी गई है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर बी महेश ने जानकारी दी है कि इन पुराने नोटों की सीरीज को वापस लेने की योजना पर काम हो रहा है।

भारतीय रिजर्व बैंक के जनरल मैनेजर बी महेश के अनुसार 100 रुपए, 10 रुपए और 5 रुपए के पुराने करेंसी नोट अंततः चलन से बाहर हो जाएंगे, क्योंकि आरबीआई की मार्च-अप्रैल तक इन्हें वापस लेने की योजना है। कारण ये है कि इन पुराने नोट के बदले नए नोट पहले से ही सर्कुलेशन में आ चुके हैं। भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से 100 रुपए का नया नोट साल 2019 में जारी किया गया था। Reserve Bank समय-समय पर नकली नोटों के खतरे को टालने के लिए पुरानी सीरीज के नोटों को बंद कर देता है। अधिकृत ऐलान के बाद बंद किए गए सभी पुराने नोटों को बैंक में जमा कराना होता है। बैंक जमा कराए गए कुल नोटों की कीमत खाते में जमा कर देता है या नया नोट दे देता है।

नोटबंदी के दौरान मची अफरातफरी है ध्यान:नोटबंदी में 500 और 1000 के नोट बंद करने पर मची अफरातफरी को ध्यान में रखते हुए अब आरबीआई अचानक कोई भी पुराना नोट बंद नहीं करना चाहता। इसलिए पहले बाजार में उस मूल्य का नया नोट सर्कुलेशन में लाया जाता है। इसके चलन में पूरी तरह आने के बाद ही पुराने नोट को चलन से बाहर किया जा रहा है। भारतीय रिजर्व बैंक ने साल 2019 में जब 100 रुपए के नोट जारी किए तो तभी साफ कर दिया था कि पहले जारी किए गए सभी 100 रुपए के नोट भी कानूनी निविदा के रूप में जारी रहेंगे। इसके अलावा केंद्रीय बैंक ने 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के बाद 2,000 रुपए के अलावा 200 रुपए के नोट जारी किए थे।

₹10 के सिक्कों को लेकर भी चिंतित RBI: 10 रुपए के सिक्कों को लेकर बाजार में कई तरह की अफवाह फैलाई जाती है कि यह मान्य नहीं है। ऐसे सिक्के जिन पर रुपी का चिन्ह मार्क नहीं है, कई ट्रेडर्स या छोटे दुकानदार उसे लेने से मना कर देते हैं। इस पर आरबीआई का कहना है कि यह बैंक के लिए समस्या का विषय है। इसिलए बैंक समय-समय पर इस तरह की अफवाहों से बचने का सलाह जारी करता है।

ITR: last डेट आज, नहीं तो जुर्माना ₹10 हजार

इन्कम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख आज, तुरंत जमा नहीं किया तो लगेगा 10,000 रुपए जुर्माना
नई दिल्ली (धारा न्यूज): वर्ष 2020-21 (वित्त वर्ष 2019-20) का आईटीआर फाइल करने का आज आखिरी दिन है। आईटीआर (ITR) फाइल करने की अंतिम तारीख 10 जनवरी है। इसके बाद रिटर्न फाइल करेंगे तो दोगुना जुर्माना भरना पड़ेगा। आयकर विभाग भी ट्वीट कर आगाह कर चुका था कि आईटीआर फाइल करने के लिए लॉस्ट डेट का इंतजार न करें।

गौरतलब है कि अगर आप समय पर इन्कम टैक्स रिटर्न नहीं करते हैं तो विभाग की ओर से जुर्माना लगाया जाता है। अगर टैक्स पेयर्स रिटर्न 10 जनवरी के बाद फाइल करते हैं तो  10,000 रुपये लेट फीस चुकानी होगी। इसके अलावा ऐसे टैक्सपेयर्स, जिनकी आय ₹5 लाख से ज्यादा नहीं है, उन्हें लेट फीस के रूप में ₹1000 देने ही देने पड़ते हैं।

कोरोना के कारण इसकी तारीख बढ़ते-बढ़ते पहले 31 दिसंबर 2020 और फिर 10 जनवरी 2021 की गई थी। नौकरीपेशा लोगों को अपने नियोक्ता से फॉर्म 16 ए जरूर लेकर रख लेना चाहिए। इसमें काटे गए टैक्स (टीडीएस) और आपके द्वारा नियोक्ता को निवेश की दी गई जानकारी का विवरण होता है। इसके अलावा नौकरीपेशा, पेंशनभोगी और स्वरोजगार करने वाले सभी लोगों के लिए बैंक को फॉर्म 15-H भरकर देना होता है, उससे ब्याज का सर्टिफिकेट भी लेकर रख लें। फॉर्म 15-H एक तरह का घोषणापत्र है, जिसमें यह जानकारी होती है कि आपकी आय कर दायरे में नहीं आती है। ऐसा नहीं होने पर बैंक टीडीएस काट लेते हैं। वहीं 10 हजार रुपए से अधिक के ब्याज पर टैक्स लगता है। ऐेसे में ब्याज सर्टिफिकेट रहने पर आंकलन करना आसान होगा। इसके अतिरिक्त बीमा पॉलिसी में निवेश का विवरण, होम लोन की ईएमआई और टैक्स छूट वाले अन्य निवेश के दस्तावेज तैयार रखने चाहिए। इससे ऑनलाइन रिटर्न भरने में परेशानी नहीं होती और समय भी कम लगता है।

ऐसे ऑनलाइन भरें ITR-                    1. इन्कम टैक्स के ई-फाइलिंग पोर्टल पर जा कर यूजर आईडी (पैन नंबर), पासवर्ड और कैप्चा कोड के साथ लॉगिन करें।
2. ‘e-File’ मेन्यू पर क्लिक करें और उसके बाद ‘Income Tax Return’ के लिंक पर क्लिक करें।
3. इन्कम टैक्स रिटर्न पेज पर पैन स्वयं भरा हुआ दिखेगा।
4. अब असेसमेंट ईयर, आईटीआर फॉर्म नंबर, फाइलिंग टाइप में ‘ओरिजिनल/ रिवाइज्ड रिटर्न’ चुनिए। इसके बाद सबमिशन मोड में ‘प्रीपेयर एंड सबमिट ऑनलाइन’ को क्लिक करें।
5. इसके बाद ‘Continue’ पर क्लिक कीजिए. अब दिशा-निर्देशों को सावधानी से पढ़िए और फॉर्म को सावधानी से पढ़ने के बाद भरिए।
6. फॉर्म भरने के बाद ‘टैक्स पेड एंड वेरिफिकेशन टैब’ में उपयुक्त वेरिफिकेशन विकल्प को चुनें।
7. इसके बाद ‘प्रीव्यू एंड सबमिट’ बटन पर क्लिक करें।
8. अगर आपने ‘ई-वेरिफिकेशन’ का विकल्प चुना है तो आप ईवीसी या ओटीपी में से किसी एक जरिए ई-वेरिफिकेशन पूरा कर सकते हैं।
9. अगर आपका पैन आधार से जुड़ा है और मोबाइल नंबर लिंक है तो ओटीपी से ई-वेरिफिकेशन पूरा करें।
9. एक बार वेरिफिकेशन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आप आईटीआर सबमिट कर सकते हैं।

आज से बदले नियम जिंदगी पर डालेंगे सीधा असर

आज से बदले नियम जिंदगी पर डालेंगे सीधा असर
नजरअंदाज किया तो हो सकता है नुकसान

नई दिल्ली (धारा न्यूज): नए साल की पहली तारीख आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े कई बदलाव लाई है। फास्टैग, जीएसटी, गैस सिलिंडर, इंश्योरेंस, चेक पेमेंट, कॉलिंग, व्हाट्सएप, गाड़ियों की कीमत आदि इनमें शामिल हैं। इन नियमों को नजरअंदाज करने पर आपको नुकसान भी हो सकता है। हालांकि, कुछ जगह आपको फायदा भी होगा।

– चेक से पेमेंट का तरीका
पॉजिटिव पे सिस्टम एक स्वचालित टूल है जो चेक के जरिये धोखाधड़ी करने पर लगाम लगाएगा। इसके तहत, जो व्यक्ति चेक जारी करेगा, उन्हें इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से चेक की तारीख, लाभार्थी का नाम, प्राप्तकर्ता और पेमेंट की रकम के बारे में दोबारा जानकारी देनी होगी। चेक जारी करने वाला व्यक्ति यह जानकरी एसएमएस, मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या एटीएम जैसे इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से दे सकता है। इसके बाद चेक पेमेंट से पहले इन जानकारियों को क्रॉस-चेक किया जाएगा। अगर इसमें कोई गड़बड़ी पाई जाएगी चेक से भुगतान नहीं किया जाएगा और संबंधित बैंक शखा को इसकी जानकरी दी जाएगी। बैंक 50,000 रुपये और उससे ऊपर के सभी भुगतान के मामले में खाताधारकों के लिए नया नियम लागू करेंगे।

– घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतें
तेल कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी सिलेंडर की कीमतें तय करती है। यानी, 1 जनवरी से सिलेंडर की कीमतों में बदलाव होगा। हालांकि, इस बार 1 दिसंबर को कीमतें बढ़ाने की जगह तेल कंपनियों ने तीन दिसंबर को दाम बढ़ाए। अब तक दिसंबर में दो बार रसोई गैस की कीमतें बढ़ चुकी हैं।

– कम प्रीमियम पर मिलेगी टर्म प्लान पॉलिसी अब आप कम प्रीमियम में सरल जीवन बीमा (स्टैंडर्ड टर्म प्लान) पॉलिसी खरीद सकेंगे। भारतीय बीमा विनियामक इरडा ने बीमा कंपनियों को आरोग्य संजीवनी नामक स्टैंडर्ड रेग्युलर हेल्थ इंश्योरेंस प्लान पेश करने के बाद एक स्टैंडर्ड टर्म लाइफ इंश्योरेंस पेश करने का निर्देश दिया था। नए बीमा प्लान में कम प्रीमियम में टर्म प्लान खरीदने का विकल्प मिलेगा। साथ ही सभी बीमा कंपनियों के पॉलिसी में शर्तों और कवर की राशि एक समान होगी।

– जीएसटी रिटर्न जमा करने का तरीका
सरकार ने माल एवं सेवा कर (जीएसटी) प्रणाली के तहत छोटे करदाताओं के लिए तिमाही रिटर्न दाखिल करने और करों के मासिक भुगतान (क्यूआरएमपी) की योजना शुरू की है। ऐसे करदाता जिनका पिछले वित्त वर्ष में वार्षिक कारोबार पांच करोड़ रुपये तक रहा है और जिन्होंने अपना अक्टूबर का जीएसटीआर-3बी (बिक्री) रिटर्न 30 नवंबर, 2020 तक जमा कर दिया है, इस योजना के पात्र हैं। जीएसटी परिषद ने पांच अक्तूबर को हुई बैठक में कहा था कि पांच करोड़ रुपये तक के कारोबार वाले पंजीकृत लोगों को एक जनवरी, 2021 से अपना रिटर्न तिमाही आधार पर दखिल करने और करों का भुगतान मासिक आधार पर करने की अनुमति दी जा सकती है।
– अनिवार्य होगा फास्टैग
केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने एक जनवरी 2021 से सभी चार पहिया वाहनों के लिए फास्टैग को अनिवार्य कर दिया है। डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार देश के सभी टोल प्लाजा पर नकद लेन-देन को पूरी तरह से खत्म कर रही है।

– कॉन्टैक्टलेस कार्ड से लेनदेन की लिमिट
आरबीआई यूपीआई से कॉन्टैक्टलेस लेन-देन की सीमा को 2000 रुपये से बढ़ाकर 5000 रुपये कर दिया है।
– लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉल करने से पहले लगाना होगा शून्य
देशभर में लैंडलाइन से मोबाइल फोन पर कॉल करने के लिए ग्राहकों को नंबर से पहले शून्य लगाना अनिवार्य होगा। दूरसंचार विभाग ने इससे जुड़े ट्राई के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। इससे टेलिकॉम कंपनियों को अधिक नंबर बनाने की सुविधा मिलेगी।

– इन मोबाइल पर काम नहीं करेगा व्हाट्सएप
नए साल से एंड्रॉयड 4.3 और आईओएस-9 (iOS 9) से पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफोंस में व्हाट्सएप चलना बंद हो जाएगा। व्हाट्सएप हर साल आउटडेटेड आईओएस और एंड्रॉयड स्मार्टफोन को सपोर्ट करना बंद कर देता है। जो ग्राहक पुराना ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल कर रहे हैं, उनके लिए जरूरी है कि वह अपना फोन अपग्रेड कर लें।

– महंगी हो जाएंगी गाड़ियां
कई कार कंपनियां स्टील, एल्युमिनियम और प्लास्टिक की कॉस्ट बढ़ने के कारण दाम बढ़ा रही हैं। दाम बढ़ाने वाली कंपनियों में एमजी मोटर्स, रेनो आदि शामिल है।

– पीएफ (PF) पर ब्याज
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) वित्त वर्ष 2019-20 के लिए करीब छह करोड़ अंशधारकों के कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) खातों में एकमुश्त 8.5 प्रतिशत का ब्याज डालेगा।

– महंगे टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन
एलईडी टीवी, फ्रिज, वॉशिंग मशीन और दूसरे कुछ होम अप्लायंसेस की कीमतें 10 फीसदी तक बढ़ सकती हैं। इसकी मुख्य वजह कॉपर, एल्यूमिनियम और स्टील की कीमतों में वृद्धि होना है। इसके अलावा, समुद्री और हवाई माल भाड़े में भी बढ़ोत्तरी हुई है। टीवी पैनल्स की कीमतों में 200 फीसदी की वृद्धि हुई है, वहीं क्रूड की कीमतें बढ़ने के चलते प्लास्टिक भी महंगी हो गई है। इसके चलते जनवरी से पैनासोनिक इंडिया, एलजी और थॉमसन ने अपने उत्पादों की कीमत बढ़ाने का फैसला किया है। वहीं सोनी ने कहा कि वह अभी हालात का जयजा ले रही है। इसके बाद वह कीमत बढ़ोतरी पर फैसला करेगी।

अब खरीदें market rate से भी कम में gold

अब खरीदें market rate से भी कम में gold

केंद्र सरकार दे रही बेहतरीन मौका

नई दिल्ली (धारा न्यूज): ज्वैलरी खरीदे बिना gold में निवेश करने की इच्छा रखने वालों के लिये सुनहरा मौका है। केंद्र सरकार की सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना में पैसा लगाने का मौका फिर सामने है। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की यह नौवीं सब्सक्रिप्शन सीरीज है। 28 दिसंबर से 1 जनवरी तक इस योजना में निवेश कर सकते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की नौवीं सब्सक्रिप्शन सीरीज

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा ऑपरेट इस योजना में 8वीं सीरीज के मुकाबले कम दाम में निवेश का मौका मिल रहा है। 8वीं सीरीज में सोने की इश्यू प्राइस 5177 रुपये प्रति ग्राम तय की गई थी। RBI से मिली जानकारी के अनुसार इस बार बॉन्ड की कीमत 5,000 रुपये प्रति ग्राम तय की गई है। ऑनलाइन आवेदन करने वाले निवेशकों को हर बार की तरह इस बार भी बॉन्ड की तय कीमत से ₹50 की छूट दी जा रही है। इसके मुताबिक डिजिटल भुगतान करने पर एक ग्राम सोने के लिए 4950 रुपये चुकाने होंगे। सरकारी गोल्‍ड बॉन्ड की कीमत बाजार में चल रहे सोने के रेट से कम होती है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना में गोल्‍ड की कीमत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से तय की जाती है।

न्यूनतम एक ग्राम, अधिकतम चार किलो तक निवेश

बॉन्ड के तौर पर आप सोने में न्यूनतम एक ग्राम और अधिकतम चार किलो तक निवेश कर सकते हैं। इसमें टैक्‍स पर भी छूट मिलती है। यही नहीं स्‍कीम के जरिए बैंक से लोन भी लिया जा सकता है। 8 साल के बाद मैच्योर होने वाले इन बॉन्‍ड पर सालाना कम से कम ढाई फीसदी का रिटर्न मिलेगा। यानि कि 8 साल बाद इससे पैसा निकाला जा सकता है जबकि पांच साल के बाद इससे बाहर निकलने का विकल्प भी है।

——–