बिजनौर से फर्जी शिक्षक को पकड़ ले गई उत्तराखंड पुलिस

धामपुर (बिजनौर)। उत्तराखंड की खानपुर पुलिस ने फर्जी प्रमाण-पत्रों के आधार पर शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहे आरोपी को गिरफ्तार किया है। मई 2021 में तत्कालीन उप खण्ड शिक्षा अधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय खानपुर के शिक्षक लोकेश कुमार निवासी बिजनौर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। जांच उपरांत मामला कुछ और ही निकलकर सामने आया। जब पुलिस सुबूतों के आधार पर धामपुर पहुंची और रणबीर सिंह उर्फ प्रीतम सिंह नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया तो उसने यकायक सब कुबूल लिया।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस जांच में यह पता चला कि रणबीर उर्फ प्रीतम सिंह पुत्र सुखराम निवासी खुर्द कादराबाद थाना स्योहारा जिला बिजनौर, लोकेश कुमार के फर्जी प्रमाण-पत्रों पर नौकरी कर रहा था; जबकि उसकी शैक्षिक योग्यता बहुत कम थी। प्रथमदृष्ट्या शिक्षा विभाग के अधिकारियों को भी यही लगा था कि लोकेश कुमार फर्जी प्रमाण-पत्र के आधार पर नौकरी कर रहा है; जबकि उसके डॉक्यूमेंट सही थे और प्रीतम सिंह उसके फर्जी प्रमाण-पत्र बनाकर शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहा था। ऐसे में पुलिस फर्जी प्रमाण-पत्र लगाकर शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहे आरोपी प्रीतम सिंह को तलाश कर रही थी, जो काफी समय से फरार चल रहा था। उसकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही थी। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने आरोपी रणबीर सिंह उर्फ प्रीतम सिंह को धामपुर शहर पहुंचकर दयावती अस्पताल के पास से गिरफ्तार कर लिया। खानपुर थाना प्रभारी संजीव थपलियाल ने बताया कि फर्जी कागजों के बलबूते आरोपी शिक्षा विभाग में नौकरी कर रणबीर सिंह उर्फ प्रीतम सिंह को गिरफ्तार किया गया है। बताया कि थाना खानपुर में पंजीकृत मु.अ.सं. 5/21 धारा 420/467/468/471 आईपीसी, जिसमें तत्कालीन उप शिक्षा अधिकारी प्राथमिक शिक्षा खानपुर जनपद हरिद्वार द्वारा फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर शिक्षा विभाग में अध्यापक की नौकरी प्राप्त करने के संबंध में लोकेश कुमार पुत्र चंद्रपाल सिंह निवासी कादराबाद खुर्द स्योहारा जनपद बिजनौर उत्तर प्रदेश के विरुद्ध थाना खानपुर में अभियोग पंजीकृत कराया गया था। विवेचना क्रम में प्रकाश में आया कि रणबीर उर्फ प्रीतम सिंह पुत्र सुखराम निवासी खुर्द कादराबाद थाना स्योहारा जिला बिजनौर द्वारा लोकेश कुमार उपरोक्त के फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर शिक्षा विभाग में नौकरी पाई गयी। उन्होंने बताया कि आरोपी के दो-दो नाम होने से यह तय नहीं हो पा रहा था कि यह एक ही है या अलग अलग, लेकिन लोकेश के अनुसार आरोपी रणबीर सिंह उर्फ प्रीतम सिंह एक ही नाम है। इसके पश्चात अभियोग से संबंधित वांछित अभियुक्त रणबीर सिंह उर्फ प्रीतम सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

परिंदा तक न मार सकेगा पर; प्रशासन मुस्तैद


चुनाव के मद्देनजर यूपी-उत्तराखंड के अधिकारियों की बैठक
जनपद की सीमाओं पर सतर्कता बरतने के निर्देश


बिजनौर। डीएम उमेश मिश्रा ने बिजनौर एवं उत्तराखंड के सीमावर्ती जिलों पुलिस एवं आबकारी अधिकारियों को निर्देशित किया कि आगामी विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के दृष्टिगत जिला बिजनौर से मिलने वाली सीमाओं पर विशेष सर्तकता एवं सजगता की आवश्यता है। इसके लिए दोनों राज्य विशेष रूप से बिजनौर के सीमावर्ती जिलों के पुलिस एवं आबकारी अधिकारियों को आपसी
समन्वय के साथ कार्य करने की आवश्यकता है ताकि असामाजिक एवं अपराधिक तत्व चुनाव के दौरान शराब, अवैध धन तथा किसी भी प्रकार की सामग्री की तस्करी न
करने पाएं जो निर्वाचन प्रक्रिया अथवा मतदाताओं को कुप्रभावित कर सके। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी सीमावर्ती क्षेत्रों में अपराधियों एवं असामाजिक तत्वों के विरूद्व संयुक्त रूप से विषेश सर्चिंग अभियान चलाया जाए और गश्त की प्रक्रिया में भी वृद्धि की जाए।

डीएम उमेश मिश्रा बरकातपुर चीनी मिल के प्रांगण में आगामी विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के दृष्टिगत जिला बिजनौर उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्य के सीमावर्ती जिले के प्रशासनिक, पुलिस एवं आबकारी अधिकारियों के साथ आयोजित समन्वय बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दे रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि विधानसभा चुनाव-2022 के दृष्टिगत जिला बिजनौर के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी उत्तराखण्ड के सीमावर्ती थानों के सीयूजी नंबर, सीमावर्ती मार्गों, सीमावर्ती नदी एंवं वन क्षेत्रों के नक्शों के साथ-साथ वांछित वारंटी एवं कोविड-19 के दौरान अंतरिम जमानत पर रिहा अभियुक्तों, इनामी, पंजीकृत गैंग एवं संपत्ति संबंधी अपराधों में संलिप्त रहे अभियुक्तों की सूची भी प्राप्त कर लें ताकि सीमा पर संदिग्ध असामाजिक/अवांछित व्यक्तियों के आवागमन पर नियंत्रण स्थापित हो सके तथा अवैध शराब एवं मादक पदार्थों, अवैध हथियारों, तथा अवैध धन की तस्करी पर नियंत्रण रखना सम्भव हो सके। उन्होंनेे निर्देशित किया कि विधानसभा निर्वाचन को लेकर अंतर्राज्यीय सीमावर्ती जिलों में आवागमन के मार्गों पर नियमित दृष्टि रखी जाए और संयुक्त रूप से गश्त एवं सजगता के लिए कार्यक्रम का निर्धारण किया जाए ताकि उसके अनुसार कार्यों का संचालन किया जा सके। उन्होंने थाना पुलिस व अभिसूचना इकाई को सक्रिय कर सीमावर्ती अवैध शराब, मादक पदार्थ की तस्करी करने वालों पर नजर रखने के भी निर्देश दिए। इस मौके पर बिजनौर एवं उत्तराखंड के हरिद्वार, पौड़ी गढ़वाल, उधम सिंह
नगर के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने अपने मुद्दों को रखते हुए आपस में समन्वय बातचीत बैठक करने का आश्वासन देते हुए सहमति प्रकट की ताकि चुनाव
को पारदर्शिता के साथ शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराया जा सके। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर डा.
प्रवीण रंजन, अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण रामाअर्ज, पूर्वी ओमवीर, हरिद्वार, उधम सिंह नगर, कोटद्वार के पुलिस एवं आबकारी अधिकारी सहित जिले के सभी उप जिलाधिकारी, उपाधीक्षक पुलिस एवं सीमावर्ती जिलों के थानाध्यक्ष मौजूद थे।

विधानसभा चुनाव का बजा बिगुल, अधिसूचना जारी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश समेत 5 राज्यों के चुनाव का ऐलान निर्वाचन आयोग ने कर दिया है। 403 विधानसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में मतदान होगा। इसके अलावा उत्तराखंड, गोवा और पंजाब में 14 फरवरी को एक ही राउंड में मतदान होना है। मणिपुर में दो चरणों में 27 फरवरी और 3 मार्च को वोटिंग होगी। उत्तर प्रदेश में पहले राउंड की वोटिंग 10 फरवरी को होगी। इसके बाद दूसरे चरण का मतदान 14 फरवरी को होना है। 20 फरवरी को तीसरे और 23 तारीख को चौथे राउंड की वोटिंग होगी। 27 फरवरी को 5वें, 3 मार्च को छठे और 7 मार्च को 7वें राउंड का मतदान होना है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा ने बताया कि 10 मार्च को सभी 5 राज्यों के नतीजों का ऐलान किया जाएगा।

सिर्फ वर्चुअल कैंपेन की होगी परमिशनरैली, रोड शो पर लगी पाबंदी

यूपी समेत सभी 5 राज्यों में वोटिंग का समय एक घंटा बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा सभी राज्यों में 15 जनवरी तक किसी भी तरह की रैली, रोड शो, बाइक रैली, नुक्कड़ सभाओं पर रोक लगा दी गई है। सिर्फ वर्चुअल कैंपेन की ही अनुमति होगी। 15 जनवरी के बाद हालात की समीक्षा की जाएगी। यदि कोरोना नियंत्रण में होता है तो फिर कुछ छूट दी जा सकती हैं। चुनाव की समाप्ति के बाद किसी भी तरह के विजय जुलूस पर रोक होगी।

UP में 7 चरणों में होगी वोटिंग

पहला चरण- 10 फरवरी
दूसरा चरण- 14 फरवरी
तीसरा चरण- 20 फरवरी
चौथा चरण- 23 फरवरी
5वां चरण- 27 फरवरी
छठा चरण- 3 मार्च 
7वां चरण- 7 मार्च

उत्तर प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल 14 मई 2022 को पूरा हो रहा है। ऐसे में 14 मई से पहले हर हाल में विधानसभा और नई सरकार के गठन की प्रकिया पूरी होनी है। उत्तर प्रदेश में कुल 403 विधानसभा सीटें हैं।

सभी चुनाव अधिकारियों के लिए कोरोना की दोनों डोज जरूरी

मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने चुनाव के दौरान कोरोना नियमों की जानकारी देते हुए कहा कि हमें महामारी से निकलने का यकीन रखना होगा। उन्होंने बताया कि चुनाव में तैनात सभी कर्मियों को वैक्सीन की दोनों डोज लगी होनी चाहिए। चुनाव आयुक्त ने कहा कि उत्तराखंड और गोवा में ज्यादातर लोगों को दोनों डोज लग चुकी हैं। यूपी में 90 फीसदी वयस्कों को कम से एक टीका लग चुका है।

अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू

चुनाव आयोग ने कहा कि इलेक्शन के दौरान अवैध पैसे और शराब पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी। इसके अलावा कोरोना संकट को देखते हुए उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन की भी सुविधा दी जाएगी। चुनाव आचार संहिता इलेक्शन शेड्यूल जारी होने के बाद ही लागू हो जाएगी। चुनाव की अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है और इसके चलते अब किसी भी राज्य में कोई सरकार जनता को लुभाने की घोषणाओं का ऐलान नहीं कर सकेगी।

आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों के बारे में अखबार में देनी होगी जानकारी

यदि कोई राजनीतिक दल आपराधिक छवि वाले कैंडिडेट को चुनता है तो उसके बारे में अखबारों में जानकारी देनी होगी। इसके अलावा यह भी बताना होगा कि उन्हें क्यों चुना गया है। उम्मीदवारों को भी अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मुकदमों के बारे में जानकारी होगी। Know Your Candidate ऐप भी लॉन्च किया गया है। इसके जरिए लोग अपने उम्मीदवार के बारे में विस्तार से जान सकेंगे। मुख्य आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि सभी राज्यों में कुल 900 पर्यवेक्षक चुनावी प्रक्रिया पर नजर रखेंगे।

हर कार्यक्रम की वीडियोग्राफी, 1620 पोलिंग स्टेशनों पर महिला कर्मचारी

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी कराई जाएगी। कोरोना काल में चुनाव कराना चुनौतीपूर्ण है। यूपी समेत 5 राज्यों के चुनावों में 690 सीटों पर मतदान कराया जाना है। हमने सभी राज्यों के डीजीपी और प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात कर चुनावी तैयारियों का जायजा लिया है। कोरोना काल में भी चुनाव कराना हमारा कर्तव्य है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि 1620 पोलिंग स्टेशनों पर महिला कर्मचारी होंगी। सभी राज्यों के लिए मतदाता सूची 5 जनवरी को प्रकाशित हुई है। इसमें 24.9 लाख नए वोटर जोड़े गए हैं। पोलिंग स्टेशनों में 16 फीसदी का इजाफा हुआ है। 

काशीपुर-धामपुर के बीच चलेगी छुक छुक रेलगाड़ी!

काशीपुर-धामपुर नई रेल लाइन परीक्षण को केंद्रीय रेल मंत्री के निर्देश। पूर्व विधायक डॉक्टर इंद्रदेव सिंह ने की थी उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मांग।


धामपुर (बिजनौर)। काशीपुर से लेकर धामपुर तक नई रेल लाइन बिछाने की कड़ी में अब गति आने की उम्मीद जाग रही है। केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव ने रेल मंत्रालय के अधिकारियों को नई रेल लाइन बिछाने को परीक्षण कराने के निर्देश दिए हैं। पूर्व विधायक डॉक्टर इंद्रदेव सिंह ने यूपी उत्तराखंड निवासी हजारों लोगों के लाभ के लिए पिछले दिनों उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मिलकर इस संबंध में मांग की थी।

लगातार उठ रही थी मांग-
धामपुर से लेकर काशीपुर तक नई रेल लाइन बिछाने के लिए पिछले काफी समय से लगातार मांग उठाई जा रही है। इसी कड़ी में पिछले दिनों पूर्व भाजपा विधायक डॉक्टर इंद्रदेव सिंह ने अक्टूबर माह में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मिलकर यूपी, उत्तराखंड को जोडऩे वाले इस कार्य में गति दिलाने की मांग की थी। पूर्व विधायक की मांग के बाद उन्होंने इसके लिए जल्द कार्रवाई का भरोसा दिलाया था। बताया जाता है कि
केन्द्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने धामपुर-काशीपुर नई रेल लाईन के परीक्षण कराने के लिए अब रेल मंत्रालय के अधिकारियों को निर्देशित किया है।

दोनों प्रदेशों की जनता को होगा लाभ- पूर्व विधायक डा.इंद्रदेव सिंह ने धामपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में जनसंपर्क करते हुए इस बात की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि नई रेल लाइन बनने से दोनों ही प्रदेशों को लाभ होगा। इसके साथ ही उन्होंने भाजपा सरकार की उपलब्धियां भी गिनाई। कई लोगों ने उनको प्रशासनिक स्तर पर आ रही समस्याओं से भी अवगत कराया, जिस पर उन्होंने निराकरण कराने का आश्वासन दिया।

मनसा देवी मंदिर में अवैध निर्माण: सरकार व निरंजनी अखाड़ा को नोटिस

मनसा देवी मंदिर में अवैध निर्माण पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार, वन विभाग, नगर निगम हरिद्वार, सचिव निरंजनी अखाड़ा को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब पेश करने को कहा है।

नैनीताल। हाईकोर्ट ने बुधवार को हरिद्वार स्थित मनसा देवी मंदिर में किए गए अवैध निर्माण के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर सुनवाई की। कोर्ट ने मामले को सुनने के बाद राज्य सरकार, वन विभाग, नगर निगम हरिद्वार, सचिव निरंजनी अखाड़ा को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब पेश करने को कहा है। सुनवाई मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान एवं न्यायमूर्ति एनएस धानिक की खंडपीठ में हुई।

हरिद्वार निवासी रमेश चंद्र शर्मा की ओर से जनहित याचिका दायर की गई है। इसमें कहा है कि मनसा देवी मंदिर को 1940 में अंग्रेजों ने जनता के लिए खोल दिया था। उसके बाद से इस मंदिर में सरस्वती देवी नाम की महिला रहने लगी। इस महिला ने 82 वर्ष की उम्र में हरिद्वार के कुछ लोगों के हित में वसीयत कर दी। बताया कि वन विभाग ने इस महिला के हित में कोई पट्टा जारी नहीं किया था। कुछ समय बाद कथित रूप से निरंजनी अखाड़ा के सचिव महेंद्र गिरी ने फर्जी दस्तावेज बनाकर इसे ट्रस्ट घोषित कर दिया। फॉरेस्ट ने जो भूमि मंदिर के लिए दी थी, उस पर अखाड़े द्वारा तीस कमरे, गोदाम, दुकान व भंडार गृह बना दिए गए। इसके अलावा उनके द्वारा रिजर्व फॉरेस्ट की भूमि पर भी कब्जा कर दुकानें बना दी गईं। याचिकाकर्ता का कहना है कि मंदिर परिसर में इतना अधिक निर्माण करने से इस क्षेत्र में भूस्खलन की संभावना बढ़ गई है, इसलिए इस क्षेत्र वैज्ञानिक सर्वे किया जाए। याची ने कोर्ट से अवैध रूप से बने सभी निर्माण कार्यों को ध्वस्त करने को कहा है, जिससे कि मनसा देवी क्षेत्र में भूस्खलन को रोका जा सके।

यूटिलिटी वाहन के गहरी खाई में गिरने से 13 की मौत

देहरादून। उत्तराखंड के त्यूनी क्षेत्र में रविवार सुबह एक यूटिलिटी वाहन के गहरी खाई में गिरने से 13 लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। चकराता पुलिस थाना के प्रभारी अरविंद कुमार ने बताया कि बायला-पिंगुवा मार्ग पर एक निजी यूटिलिटी वाहन करीब 300 मीटर गहरी खाई में गिर गया, जिससे छह लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। बस त्यूनी से विकासनगर जा रही थी। एसडीएम चकराता सौरभ असवाल ने बताया घटनास्थल के लिए चकराता और त्यूणी तहसील से राजस्व टीम मौके के लिए रवाना कर दी गई है।

पुलिस के मुताबिक, हादसे के पीछे ओवरलोडिंग एक वजह हो सकती है। कहा जा रहा है कि जिस रूट से ये यूटिलिटी निकल रही थी, वहां ज्यादा वाहन नहीं हैं, इसलिए बड़ी संख्या में लोग एक ही वाहन में सवार थे।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि.) ने दुर्घटना में हुई मौतों पर दुख व्यक्त किया है और अधिकारियों को घायलों के इलाज के लिए हरसंभव मदद देने का निर्देश दिया है। घटना की सूचना मिलने के बाद चकराता के विधायक और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह और धामी सरकार में कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी भी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए है।

राकेश टिकैत का जिले में जगह जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत

बिजनौर। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का जिले में जगह जगह कार्यकर्ताओं ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। वह उत्तराखंड के लक्सर में होने वाली महापंचयत में शामिल होने जा रहे थे।

भाकियू बिजनौर कार्यालय पर भाकियू युवा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह, भाकियू के जिलाध्यक्ष कुलदीप सिंह, सुनील कुमार, राम अवतार सिंह, अतुल कुमार, संदीप सिंह, दीपक तोमर आदि किसानों ने उनका पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। इस दौरान इकरार, वजीर, सत्यपाल, धर्मेंद्र राठी, बाबू राम तोमर, डॉ. विजय सिंह, विकास, कार्मेंद्र, सुभाष कैलाश, अंकित चौधरी, शाहनवाज अब्बासी, वजीर हसन, आजाद, शब्बू, माजिद हुसैन, राजा, शबाब काजी, दानिश सैफी आदि मौजूद रहे।

इसके बाद राकेश टिकैत के काफिले का मण्डावर चुंगी पर नगर अध्यक्ष वकार अहमद के नेतृत्व में क्षेत्र व कस्बा मण्डावर के सैकड़ों किसानों ने जोरदार स्वागत किया। इस दौरान बाबा महेन्द्र सिह टिकैत अमर रहें व राकेश टिकैत जिदाबाद के नारे गूंजते रहे।

स्वागत करने वालों में नगर पंचायत सभासद, हाजी तहज़ीब बेग, नगर अध्यक्ष विकार अहमद के पिता इकबाल अहमद, डॉक्टर अनीस, रशीद अहमद, खुर्शीद ठेकेदार, शाहिद हुसैन, अमान हैदर, विशाल, वकील अहमद, जितेंद्र पहलवान, डॉक्टर विजय सिंह, योगेश आदि शामिल रहे। वहीं मंडावर चुंगी से बालावाली जाने के दौरान क्षेत्र के ग्राम देविदासवाला, दयालवाला, मोद्दीनपुर नारायणपुर, नारायणपुर, रामजीवाला आदि में उनका जोरदार स्वागत किया गया।

STF ADTF की नशे के खिलाफ बड़ी कार्यवाही, 12 लाख के 21 किग्रा अवैध गांजे के साथ एक गिरफ्तार

 STF ADTF की नशें के खिलाफ बड़ी कार्यवाही, 12 लाख के 21 किग्रा अवैध गांजे के साथ एक को किया गिरफ्तार

स्पेशल टास्क फोर्स उत्तराखंड का लक्ष्य – नशा मुक्त उत्तराखंड

देहरादून (liveskgnews)। स्पेशल टास्क फोर्स उत्तराखंड की एन्टी ड्रग्स टास्क फोर्स ने बिहार से आगरा (उत्तर प्रदेश) के रास्ते से उत्तराखंड में अवैध गांजे की तस्करी के रैकेट का भंडाफोड़ किया है।

ADTF ने नशा तस्कर नौरंगी निवासी हाथरस (उत्तर प्रदेश) को हर्रावाला देहरादून में आगरा डिपो की बस में परिवहन कर लाते इक्कीस किलो (21 kg) गांजे के साथ गिरफ्तार किया है। पकड़े गए माल की कीमत करीब 12 लाख रुपए बताई गई है। नशे के विरुद्ध कार्यवाही करते हुए एक दिन पूर्व भी कलियर हरिद्वार से करीब दस किलो गांजे के साथ हापुड़ निवासी तस्कर को गिरफ्तार किया गया था।

साभार- https://www.liveskgnews.com/uttarakhand/49-cases-of-coronavirus-came-in-uttarakhand-today-see-detailed-report/

कोटद्वार में नया ट्रैफिक प्लान लागू

कोटद्वार (SKG news)। गढ़वाल का द्वार कहे जाने वाले कोटद्वार में दिन प्रतिदिन यातायात को समस्याओं को देखते हुए अपर पुलिस अधीक्षक मनीषा जोशी के निर्देश पर कोटद्वार में नया ट्रैफिक प्लान लागू कर दिया गया है।

विगत दिनों से कोविड-19 की महामारी का प्रभाव कम होने, कोटद्वार शहर में बढ़ते यातायात के दबाव व जनमानस की यातायात सम्बन्धी समस्या को देखते हुए यातायात पुलिस कोटद्वार द्वारा नया यातायात प्लान जारी किया गया है। इस कारण यातायात को निम्न प्रकार से डायवर्ट किया जायेगा-

  • यदि कोई वाहन चालक झण्डा चौक से मस्जिद रोड पर जाना चाहता है तो…
  1. वाहन चालक पेन्सिल फैक्ट्री रोड से होकर जायेगा।
  2. वाहन चालक नजीबाबाद चौक से दाहिने तरफ यू टर्न लेकर मस्जिद रोड़ पर जायेगा।
  3. झण्डा चौक से पेन्सिल मार्ग के लिये वाहन केवल जा सकते हैं तथा आने के लिये पूर्णतः प्रतिबन्धित रहेगा। (ONE WAY)
  4. पटेल मार्ग से वाहन केवल आ सकते हैं तथा जाने के लिये पूर्णतः प्रतिबन्धित रहेगा। (ONE WAY)
  5. मस्जिद तिराहा से यदि कोई वाहन चालक नजीबाबाद चौक अथवा झण्डाचौक आना चाहता है तो सिनेमा तिराहे से पटेल मार्ग से होकर आयेगा। 
  6. मस्जिद तिराहा रोड़ से वाहन सिनेमा तिराहे की तरफ जा सकते हैं। आने के लिये पूर्णतः प्रतिबन्धित रहेगा। (ONE WAY)
  7. मस्जिद वाली रोड से आने वाला वाहन लेफ्ट टर्न करके झण्डाचौक को जा सकता है। बद्रीनाथ मार्ग से मस्जिद की तरफ जा नही सकेगा क्योंकि बीच में बैरियर लगाया गया है। उस स्थिति में नजीबाबाद चौक से यू टर्न लेकर जायेगा।

श्री निरंजनी अखाड़े के सचिव कर रहे आश्रम पर कब्जा!

ज्योतिर्मयानंद गिरि शिष्या ब्रहमलीन महामण्डलेश्वर स्वामी गणेशानंद गिरि ने श्रीपंचायती अखाड़ा के सचिव पर उत्तरी हरिद्वार स्थित आश्रम पर कब्जा करने का आरोप लगाया।


हरिद्वार। स्वामी ज्योतिर्मयानंद गिरि शिष्या ब्रहमलीन महामण्डलेश्वर स्वामी गणेशानंद गिरि ने श्री पंचायती अखाड़ा के सचिव पर उत्तरी हरिद्वार स्थित आश्रम पर कब्जा करने का आरोप लगाया है। साथ ही दावा किया कि उक्त आश्रम का महंत उन्हे बनाया गया है। इसके बावजूद उनके हरिद्वार से बाहर जाने के दौरान अखाड़ा के सचिव की ओर से षडयंत्र कर करोड़ो के आश्रम पर कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा है। इस सम्बन्ध में अखाड़ा परिषद भी किसी प्रकार की कोई कारवाई नही कर रही है।

मंगलवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए स्वामी ज्योर्मियानंद गिरि ने बताया कि उन्होंने 07अप्रैल 1986 को हरिद्वार के पूर्ण कुम्भ मेला में श्री मोहनानंद आश्रम भीमगोड़ा में पूज्य स्वामी श्री गणेशानंद जी से सन्यास दीक्षा ग्रहण किया। गुरूदेव के साथ रहकर कथा करक सभी संस्थाओ को चलाया। 16 फरवरी 1996 को पटियाला पंजाब में कथा हो रही थी। पूज्य गुरूदेव पूर्णाहूति के समय महाशिवरात्रि को ब्रहमलीन हो गए। पटियाला से पार्थिव शरीर हरिद्वार भीमगोड़ा लाया गया। श्रीनिरंजनी अखाड़े के मुख्य महंत श्री शंकरभारती, श्री रामकिशन गिरि व अन्य संतमण्डली के साथ ज्योतिमयानंद ने समस्त विधि से नीलधारा में जलसमाधि दी गई। मेरे गुरू भाई स्व. सुदर्शनानंद जी महाराज हरिद्वार में रहते थे। गुरूदेव के स्वास्थ्य ठीक ना होने के कारण वे भरूच में मुख्य संस्था में रहते थे। 23 जून 2014 को मेरे गुरू भाई का शरीर शान्त हो गया। उस समय मैं हरिद्वार आयी, किन्तु मुझे कोई कागजात नहीं दिया गया और सभी कागजात निरंजनी अखाड़े वाले ले गए। हरिद्वार से मुरादाबाद के पास राजा का सहसपुर में अपनी संस्था में जाकर पोषसी भण्डारा किया। तब से आज तक मेरी संस्थाओं में कथित रूप से अखाड़ा सचिव ने अपना नाम लिख दिया है। यह भी कहा निरंजनी अखाडे का प्रमाण पत्र, सभी कुम्भ मेले में दी गई दक्षिणा का रसीद मेरे पास है। उन्होने आरोप लगाया कि अखाड़े के सचिव द्वारा जबरन उक्त आश्रम को अपने नाम कराकर खुर्द-बुर्द करने का प्रयास किया जा रहा है। चेतावनी दी कि उक्त आश्रम को खुर्द-बुर्द नही होने दुंगी।

उत्तराखंड में भूकम्प से पहले मिल जाएगा एलर्ट

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया भूकम्प एलर्ट एप्प का शुभारम्भ। ऐसा एप्प बनाने वाला उत्तराखण्ड बना पहला राज्य।

 मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया भूकम्प एलर्ट एप्प का शुभारम्भ, ऐसा एप्प बनाने वाला उत्तराखण्ड बना पहला राज्य

उत्तराखण्ड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, आपदा प्रबंधन विभाग और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रूड़की द्वारा विकसित किया गया भूकम्प एलर्ट एप्प

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में मोबाइल एप्प्लीकेशन ‘‘ उत्तराखण्ड भूकम्प अलर्ट’’ एप्प का शुभारम्भ किया। उत्तराखण्ड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, आपदा प्रबंधन विभाग एवं भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रूड़की के सौजन्य से बनाये गये इस एप्प के माध्यम से भूकम्प से पूर्व चेतावनी मिल जायेगी। उत्तराखण्ड यह एप्प बनाने  वाला पहला राज्य है। इससे जन सुरक्षा में मदद मिलेगी। इस एप्प के माध्यम से भूकम्प के दौरान लोगों की लोकेशन भी प्राप्त की जा सकती है। भूकम्प अलर्ट के माध्यम से भूकम्प से क्षतिग्रस्त संरचनाओं में फँसे होने पर सूचना दी जा सकती है। उत्तराखण्ड भूकम्प अलर्ट एप्प को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। 

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखण्ड भूकम्प की दृष्टि से संवेदनशील राज्य है। इस एप्प के माध्यम से लोगों को भूकम्प पूर्व चेतावनी मिल सके, इसके लिए इस एप्प की लोगों को जानकारी दी जाए। विभिन्न माध्यमों से व्यापक स्तर पर इसका प्रचार प्रसार किया जाय। आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा इसकी लघु फिल्म बनाकर जन-जन तक पहुंचाया जाए। स्कूलों में भी बच्चों को लघु फिल्म के माध्यम से इस एप्प के बारे में जानकारी दी जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों के पास एंड्राइड फोन नहीं है, उनको भी भूकम्प से पूर्व चेतावनी मैसेज पहुंच जाए, इस एप्प के माध्यम से यह सुविधा भी प्रदान की जाए। भूकम्प पूर्व चेतावनी में सायरन एवं वायस दोनों माध्यमों से अलर्ट की व्यवस्था की जाए। भूकम्प  पूर्व चेतावनी के लिए सायरन टोन अलग से हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूकम्प पूर्व चेतावनी के लिए यह एक अच्छी पहल है। इस अवसर पर आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, मुख्य सचिव डॉ. एस.एस.संधु, अपर मुख्य सचिव आनंद बर्द्धन, सचिव आपदा प्रबंधन एस.ए. मुरूगेशन, आई.आई.टी. रूड़की के प्रो. कमल एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

उत्तराखंड STF के हत्थे चढ़ा 20 हजार का इनामी “टमाटर”

उत्तराखंड STF ने किया 10 साल से फरार 20 हजार के इनामी डकैत “टमाटर” को मुरादाबाद से गिरफ्तार

 STF ने 10 साल से फरार 20 हजार के ईनामी डकैत “टमाटर” को किया मुरादाबाद से गिरफ्तार

ऋषिकेश देहरादून में 02 नृशंस हत्याओं व डकैती का आरोपी टमाटर 10 साल से था फरार। उत्तराखंड पुलिस ने किया था घोषित 20,000 रुपए का इनाम। घुमंतू जाति के कुख्यात डकैत को STF ने किया गिरफ्तार। UP के मुरादाबाद जिले से हुई गिरफ्तारी।

देहरादून। उत्तराखंड एसटीएफ ने 10 साल से फरार, 20 हजार के इनामी दुर्दांत अपराधी को उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद से गिरफ्तार कर लिया है। घुमंतू जाति का यह अपराधी मूल रूप से यूपी के थाना दिवियापुर जिला औरया का रहने वाला है। इसके खिलाफ सहारनपुर, बिजनौर, बरेली, मुरादाबाद आदि अन्य जनपदों में अभियोग पंजीकृत बताए गए हैं।

पुलिस महानिदेशक उत्तराखण्ड अशोक कुमार द्वारा इनामी/वांछितों की गिरफ्तारी के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इन निर्देशों के क्रम में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक STF द्वारा जनपद देहरादून, थाना ऋषिकेश के मु.अ.स. 219/11 धारा 302,393 भा.द.वि. एवं जनपद हरिद्वार थाना कलियर मु.अ.स. 372/08 धारा 395/412 भा.द.वि. में 10,000 रुपए के इनामी अपराधी मूंगी पुत्र सूमा नि. घोसीपुरा, थाना पथरी, जिला हरिद्वार की गिरफ्तारी हेतु दिशा-निर्देश देकर टीमों का गठन कर मुरादाबाद, बरेली, मु.नगर आदि क्षेत्रों में रवाना किया गया। STF उत्तराखण्ड टीम द्वारा अभियुक्त को रतनपुरा थाना पाकबाड़ा, जिला मुरादाबाद से गिरफ्तार किया गया।

उत्तराखंड में वारदातें- अभियुक्त मूंगी उर्फ श्यामबाबू उर्फ आरिज उर्फ टमाटर पुत्र इकबाल उर्फ सुब्बा शातिर किस्म का अपराधी है। विगत 10 वर्ष से संगीन अपराधों को अंजाम देता रहा है। अभियुक्त द्वारा वर्ष 2011 में ग्राम मंसादेवी, गुमानीवाला ऋषिकेश में अपने साथियों के साथ मिलकर रात के समय घर में घुसकर सोते हुए दो व्यक्तियों की नृशंस हत्या एवं 04 व्यक्त्यिों को गम्भीर रूप से घायल कर लाखों का सोना चाँदी लूट लिया गया था। इनमें मॅूगी के साथ तीन साथी जोगेन्द्र उर्फ जोगी, नरेश उर्फ छोटा एवं अहसान के नाम प्रकाश में आये थे। इनको पूर्व में गिरफ्तार किया जा चुका है। मूंगी पर पुलिस महानिरीक्षक, अप. एवं कानून व्यवस्था, उत्तराखण्ड, पुलिस मुख्यालय द्वारा 10,000 रुपए का इनाम घोषित था।

कलियर में भी डाली थी डकैती- पुलिस का कहना है कि मूंगी द्वारा जनपद हरिद्वार थाना कलियर के अंतर्गत ग्राम माजरी में अपने 8 साथियों के साथ मिलकर वर्ष 2018 में डकैती डाली गई थी। गिरोह ने रात के समय घर में घुसकर सोते परिवार के साथ मारपीट कर 04 लोगों को गम्भीर रूप से घायल कर सोने चाँदी का सामान अपने कब्जे में ले लिया था। इस मामले में भी वह थाना कलियर से फरार था। इस पर पुलिस महानिरीक्षक अपराध एवं कानून व्यवस्था, उत्तराखण्ड, पुलिस मुख्यालय द्वारा 10,000 रुपए का इनाम घोषित किया गया था। इससे पूर्व स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तराखण्ड द्वारा इसके गैंग के 5000-5000 रुपए के इनामी फाला पुत्र शिब्बु नि. जाफरपुर मुरादाबाद को 19 दिसम्बर 2020 को एवं दिलनशी उर्फ नदीम पुत्र गयुर नि. जाफरपुर, मुरादाबाद को 17 जून 2021 को गिरफ्तार किया जा चुका है।

उक्त अपराधी के साथ उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में थाना मझौला में पुलिस के साथ मुठभेड हुई थी। इसमें मु.अ.स. 536,536/2019 धारा 307 भा0द0वि0 एवं 3/25 आर्म्स एक्ट का अभियोग पंजीकृत किया गया था।

बिजनौर, बरेली में भी खंगाली जा रही कुंडली- उत्तराखंड पुलिस के अनुसार उक्त अपराधी मूंगी घुमन्नतु जाति से सम्बन्ध रखता है। ये लोग समय-समय पर अपना ठिकाना बदल कर गम्भीर अपराध कारित करते रहते हैं। अपनी पहचान छुपाने एवं पुलिस से बचने के लिये ये अपना नाम-पता बदल-बदल कर इधर-इधर डेरे बना कर खानाबदोश की तरह रहते हैं। इनका मूल पता डेरा कमालपुर, थाना दिवियापुर जिला औरया, उत्तरप्रदेश है। यह अपराधी पुलिस के पकड़े जाने पर हर बार अलग-अलग नाम बताता है, जिससे इसकी पहचान छुपी रहे। वर्तमान में इसके मूंगी उर्फ श्यामबाबू उर्फ आरिज उर्फ टमाटर नाम प्रकाश में आये हैं। जानकारी में आया है कि इसके विरूद्व, सहारनपुर, बिजनौर, बरेली, मुरादाबाद आदि अन्य जनपदों में अभियोग पंजीकृत हैं, जिनकी जानाकरी की जा रही है।

अपराधिक इतिहास

  1. मु.अ.स. 219 /11 धारा 302, 393 भा0द0वि0 थाना ऋषिकेश, जनपद देहरादून।
  2. मु.अ.स. 372 / 18 धारा 395, 412 भा0द0वि0 थाना कलियर, जनपद हरिद्वार।
  3. मु.अ.स. 535 /19 धारा 307 भा0द0वि0 थाना मझौला, मुरादाबाद।
  4. मु.अ.स. 372 /18 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट जनपद मुरादाबाद।

पुलिस टीम-

  1. नि. रवि सैनी
  2. उ.नि. उमेश कुमार
  3. हे.का. हितेश कुमार
  4. का. लोकेन्द्र कुमार
  5. का. संजय कुमार
  6. का. कैलाश नयाल
  7. का. महेन्द्र नेगी
  8. का. सन्देश यादव (तकनीकी टीम)
  9. का. अनिल कुमार (तकनीकी टीम)

नगर क्षेत्र में न हो हैलमेट चेकिंग

रुड़की। प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल ने बाजारों में लगातार गश्त करने एवं शहरी क्षेत्र में हैलमेट की चेकिंग न करने की मांग की है। पदाधिकारियों ने सीओ और गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक से मिलकर व्यपारियों की समस्याएं बताई।

प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल रुड़की के पदाधिकारियों ने नवनियुक्त पुलिस उपाधीक्षक विवेक कुमार और गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक प्रवीण कोश्यारी से भेंट की। महानगर व्यापार मंडल अध्यक्ष अरविंद कश्यप एवं व्यापार मंडल के महामंत्री कमल चावला ने व्यापारियों की समस्याओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि शहर के व्यापारियों को अपने कारोबार के चलते शहर के भीतरी मार्गो से आना जाना पड़ता है। उन्हें हैलमेट लगाने को लेकर छूट दी जाए। यह भी कहा कि बाजारों में लगातार गश्त होते रहना चाहिए। इस दौरान प्रवीण मेहंदीरत्ता, महानगर कोषाध्यक्ष मोहित सोनी उपस्थित रहे। नवनियुक्त पुलिस उपाधीक्षक विवेक कुमार को फूलों का गुलदस्ता भेंट किया गया।

उत्तराखंड में 60 और मिले corona संक्रमित, संख्या बढ़कर हुई 341934, ब्लैक फंगस का आंकड़ा पहुंचा 555

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य विभाग से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार उत्तरखंड राज्य में 60 लोग कोरोना संक्रमित मिले है। इसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमित लोगो की संख्या 341934 हो गयी है। प्रदेश में किसी की मौत की सूचना नहीं है। उत्तराखंड में एक्टिव केस की संख्या 672 है तो आज 46 लोग रिकवर भी हुए हैं। अभी तक उत्तराखंड राज्य के जनपद अल्मोड़ा में 07, बागेश्वर 00, चमोली 00, चम्पावत 05, देहरादून 10, हरिद्वार 04, नैनीताल 08, पौड़ी 01, पिथौरागढ़ 06, रुद्रप्रयाग 02, टिहरी 01, उधमसिंहनगर 13 और उत्तरकाशी में 03 मरीज मिले हैं। वहीं प्रदेश में आज 04 ब्लैक फंगस (म्यूकोर माइकोसिस) के मामले सामने आये हैं। अब तक प्रदेश में कुल 555 ब्लैक फंगस के मामले सामने आ चुके हैं। इनमे से 124 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 212 लोग डिस्चार्ज हो चुके हैं।

नवविवाहिता ने नवजात शिशु को झाड़ियों में फेंका, पुलिस ने कराया अस्पताल में भर्ती

कोटद्वार में एक नवविवाहिता ने समाज की बदनामी के डर से नवजात शिशु को झाड़ियों में फेंका। पुलिस ने नवजात शिशु को कराया अस्पताल में भर्ती।

कोटद्वार से नितिन अग्रवाल की रिपोर्ट

कोटद्वार (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड के कोटद्वार में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक नवविवाहिता ने नवजात शिशु को जन्म देने के बाद झाड़ियों में फेंक दिया। सूचना पर मौके पर देवदूत बनकर पहुंची कोटद्वार पुलिस ने बच्चे को उपचार के लिए बेस चिकित्सालय में भर्ती करा दिया है। बच्चे की हालत अब सामान्य बताई जा रही है। पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नरेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया कि भाबर क्षेत्र निवासी एक नवविवाहिता ने नवजात शिशु को जन्म देने के बाद झाड़ियों में फेक दिया। घटना की सूचना मिलते ही कोटद्वार कोतवाली से महिला उप निरीक्षक भावना भट्ट और उप निरीक्षक अनित कुमार मौके पर पहुंचे। झाड़ियों में ढूंढने के बाद नवजात शिशु पुलिस को मिल गया। इस दौरान शिशु की सांसे चल रही थीं। पुलिस ने सूझबूझ का परिचय देते हुए उसे चादर में लपेट कर बेस चिकित्सालय कोटद्वार में भर्ती करा दिया। महिला ने पुलिस को अपने बयानों में बताया कि आज सुबह 4 बजे उसने एक नवजात शिशु को जन्म दिया था। इसके बाद महिला ने नवजात शिशु के बारे में अपने ससुर को ना बता कर के पीछे झाड़ियों में फेंक दिया था।

सीओ लक्सर से व्यापारी को जान का ख़तरा!

रुड़की (एकलव्य बाण समाचार)। लक्सर आढ़तिया व्यापार संघ अध्यक्ष ने लक्सर में तैनात नए सीओ से जानमाल के खतरे की आशंका जताते हुए डीजीपी का पत्र भेजा है। कहा है कि उनका सीओ से पुराना विवाद हरिद्वार सीजेएम के कोर्ट में चल रहा है। उन्होंने नए सीओ का लक्सर से हटाकर जनपद के किसी भी दूसरे सर्किल में भेजने की मांग की है।

दो दिन पहले ही एसएसपी ने रुड़की के सीओ बीएस चौहान को लक्सर का नया सीओ बनाया है। रविवार को ही उन्होंने लक्सर पहुंचकर चार्ज ले लिया था। उधर, लक्सर आढ़तिया व्यापार संघ के अध्यक्ष रविंद्र चौधरी ने नए सीओ से जान व माल के खतरे की आशंका जताते हुए डीजीपी को पत्र भेजा है। पत्र में उन्होंने कहा है कि बीएस चौहान 2007 में लक्सर में कोतवाल रहे हैं। इस दौरान खानपुर थाने के ब्राहमणवाला गांव के व्यक्ति से रविंद्र का लेनदेन का विवाद था। उसकी शिकायत पर कोतवाल ने उन्हें बिना मुकदमे के कोतवाली की हवालात में बंद रखा था। आरोप है कि बाद में उनसे सुविधा शुल्क लेकर छोड़ा गया। रविंद्र ने उनके खिलाफ न्यायालय में वाद दायर किया था। यह वाद फिलहाल हरिद्वार में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के कोर्ट में विचाराधीन है। रविंद्र ने आशंका जताई है कि बीएस चौहान लक्सर में तैनात रहेंगे तो वे मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाने के लिए उनके खिलाफ झूठा मुकदमा दायर कर नुकसान पहुंचा सकते हैं। रविंद्र ने नए सीओ को लक्सर से हटाकर जनपद के किसी भी दूसरे सर्किल में स्थानांतरित करने की मांग डीजीपी से की है। उधर, संपर्क करने पर सीओ बीएस चौहान ने इस मामले में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

बदरीनाथ मंदिर परिसर में नमाज का वीडियो वायरल !

चमोली (एजेंसी)। बदरीनाथ मंदिर में कुछ मुस्लिम युवकों द्वारा कथित तौर से नमाज पढ़े जाने का वीडियो वायरल होने के बाद इलाके में स्थिति तनावपूर्ण हो गई। बताया जा रहा है कि ईद-उल-अजहा के मौके पर बदरीनाथ मंदिर परिसर में कुछ मुसलमानों ने कथित तौर से नमाज अदा की।

चमोली के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने कहा कि सोशल मीडिया पर जो वीडियो नजर आ रहा है, उसमें दिख रहा है कि कई मुसलमान बदरीनाथ मंदिर परिसर में नमाज अदा कर रहे हैं। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि स्थानीय पुलिस की एक टीम तुरंत इन आरोपों की जांच में जुट गई। यशवंत सिंह चौहान ने कहा कि जांच में पता चला है कि 15 मुस्लिम श्रमिक हरिंदर सिंह नाम के एक मुस्लिम कॉन्ट्रैक्टर के लिये काम करते हैं और सभी युवक मंदिर से करीब 1 किलोमीटर दूर स्थित एक पार्किंग फैसिलिटी प्रोजेक्ट में काम कर रहे थे।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि ईद-उल-अजहा के मौके पर उन लोगों ने सुबह 7 बजे नमाज अदा की। उन सभी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। उन्होंने किसी सार्वजनिक स्थल पर नमाज अदा नहीं की और न ही किसी मौलाना को बाहर से नमाज अदा करने के लिए बुलाया। वहीं पुलिस अधीक्षक ने कहा कि कॉन्ट्रैक्टर और मजदूरों के खिलाफ एक साथ इतने लोग इकट्ठे करने और सोशल डिस्टेन्सिंग का उल्लंघन करने के आरोप में आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। हालांकि मंदिर परिसर में नमाज अदा किए जाने के आरोपों की जांच अभी जारी है। पुलिस अधीक्षक ने लोगों से अपील की है कि जब तक जांच पूरी नहीं हो जाती और सच्चाई सामने नहीं आती, तब तक किसी तरह की अफवाह न फैलाएं और किसी अफवाह के बहकावे में भी न आएं।

पौड़ी गढ़वाल में भारी बारिश से 31 मार्ग बंद

पौड़ी। जनपद में लगातार हो रही बारिश से 31 मार्ग बंद हो गए हैं।

आपदा कंट्रोल रूम से समय 12:00 बजे तक प्राप्त जानकारी के अनुसार इसमें 03 राज्य मार्ग, 03 मुख्य जिला मार्ग तथा 25 ग्रामीण मार्ग अवरुद्ध हैं। हालांकि यातायात सुचारू करने हेतु विभिन्न स्थानों में जेसीबी मशीन कार्य कर रही हैं। जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदण्ड के दिशा-निर्देशन पर आपदा कंट्रोल रूम में तैनात अधिकारी-कर्मचारी जनपद में लगातार बारिश होने के चलते पल-पल की खबर जुटाने में लगे हुए हैं। वहीं जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि बारिश या भूस्खलन से अवरुद्ध मार्गों को जल्द से जल्द खोलें, जिससे आम जनमानस को परेशानियों का सामना न करना पड़े। 

अवरुद्ध हुए मार्गों में चमधार-सिरों, पोखरीखेत-चोरकंडी-भवाई-भसमोली, व्यासघाट-कंसुर, फरासू-मंडोली, खिर्सू- डबरुखाल- मौजखाल, सौड- गजेली, फरसाडी-गडकोट, थलीसैंण-चौंरिखाल, भिक्यासैंण-देधार-बुंगीधार-महलचोरी, मरचूला-सराईखेत-बैंजरों-पोखड़ा-सतपुली, पाबौ-संतुधार-चौबट्टाखाल-चौरिखाल, पैठाणी-बड़ेथ-चंगीन कुचोली-कुठखाल सहित 31 मार्ग शामिल बताए गए हैं। 

घटिया सामग्री से तैयार हो रहा हरिद्वार एनएच-74 फोर लेन

एनएच-74 फोर लेन निर्माण में दरारें

मुकेश कुमार (एकलव्य बाण समाचार)

नजीबाबाद (बिजनौर) हरिद्वार एनएच-74 फोर लेन को तैयार करने में घटिया सामग्री प्रयोग की जा रही है।

नजीबाबाद हरिद्वार एनएच-74 फोर लेन का निर्माण कार्य चल रहा है। आरोप है कि सड़क निर्माण में काफी घटिया सामग्री का प्रयोग किया जा रहा है। नजीबाबाद रोड का काफी कार्य हो चुका है, जिसमें आरसीसी रोड में इतना घटिया मैटेरियल लगाया जा रहा है कि आगे आगे रोड बनती जा रही है और पीछे पीछे दरारें आ रही हैं। थाना मंडावली क्षेत्र के ग्राम भागूवाला पुलिस चौकी के समीप 10 से 20 मीटर की दूरी पर इतना घटिया मैटेरियल लगाया गया है कि सड़क को बने हुए करीब 1 से 2 महीने ही हुए हैं और सड़क में दरारें पड़ने लगी हैं। बताया गया है कि सड़क का निर्माण कहीं-कहीं पर किया जा रहा है। इस कारण प्रारंभ अवस्था में ही दरारें आ चुकी हैं।

एनएच-74 फोर लेन निर्माण में दरारें
snewsdaily24@gmail.com

कांवड मेले पर प्रतिबंध से कांवड़ बनाने वालों में रोष

कांवड़ यात्रा का फाइल फोटो


बिजनौर/हरिद्वार (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड सरकार के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा भी कांवड़ यात्रा को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इस कारण न सिर्फ़ हरिद्वार के व्यापारियों में आक्रोश है बल्कि उत्तर प्रदेश के जनपद बिजनौर अंतर्गत नजीबाबाद थाना क्षेत्र में कांवड़ बनाने वाले लोगों में भी रोष व्याप्त है।

कांवड़ यात्रा का फाइल फोटो

कांवड़ बनाने के कार्य से जुड़े लोगों का कहना है कि कोरोना के चलते हमारे रोजगार बर्बादी के कगार पर खड़े हैं। हम लोग परेशान और बेरोजगार हो रहे हैं। हमारी ओर देखने वाला कोई नहीं है। हम ऐसी मुसीबत में अपने परिवार का लालन पालन कैसे करें। जीवन बहुत दूभर होने लगा है। गौरतलब है कि हरिद्वार क्षेत्र में भी अनेक व्यापारियों में कावड़ यात्रा को प्रतिबंधित करने के कारण रोष व्याप्त है। एक दिन पहले ही व्यापारियों ने प्रदर्शन करते हुए कहा था कि हमें जहर दे दो।

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की बॉर्डर मीटिंग

विदित हो कि उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा कांवड मेला वर्ष 2021 प्रतिबन्धित किये जाने पर एसएसपी हरिद्वार के दिशा-निर्देशन में 16.07.21 को थाना श्यामपुर क्षेत्रान्तर्गत एक बॉर्डर पुलिस मीटिंग आयोजित की गई थी। मीटिंग में उत्तराखंड से सीओ श्यामपुर, एसओ श्यामपुर, चौकी इंचार्ज चंडीघाट, चौकी इंचार्ज लालढांग, नायब तहसीलदार हरिद्वार व उत्तर प्रदेश से सीओ नजीबाबाद, एसओ मंडावली, एसडीएम नजीबाबाद परमानंद झा एवं अन्य अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग कर “कांवड़ मेला 2021 प्रतिबंधित” को लेकर विचार विमर्श करते हुए उच्चाधिकारीगण के आदेशों निर्देशों को साझा किया गया तथा यह भी तय किया गया कि अपने अपने क्षेत्र में इस हेतु भरपूर प्रचार एवं प्रसार करते हुए अन्य सभी राज्यों में भी लोगों को जागरूक करें ताकि प्रतिबंध को देखते हुए कोई भी कांवड़िया उत्तराखंड में न आ सके तथा अनावश्यक रूप से परेशान न हो। इसके अतिरिक्त अपराध की दृष्टि से भी इस मीटिंग में वार्ता हुई, जिसमें किसी भी प्रकार के अपराध से संबंधित घटना में जनपदों में आपसी समन्वय करते हुए एक दूसरे की मदद की जा सके तथा उक्त वार्ता में महत्वपूर्ण मोबाइल नंबर भी साझा किए गए।

UP में भी कांवड़ यात्रा स्थगित

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरे लहर को देखते हुए कावंड़ यात्रा को रद्द करने का निर्णय लिया है। शनिवार को राज्य सरकार इसकी पुष्टि की। इस संबंध में प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कांवड़ संघ से बातचीत के निर्देश दिए थे। सीएम के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी और डीजीपी मुकुल गोयल कांवड़ संघों से बातचीत कर रहे थे। बातचीत में कोरोना संक्रमण और इसकी संभावित तीसरी लहर पर चर्चा की गई, जिसके बाद इस साल कांवड़ यात्रा रद्द करने का फैसला लिया है।

इससे पहले उत्तराखंड सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया था। एक दिन पहले बार्डर मीटिंग में आगामी कांवड़ मेला को लेकर विचार विमर्श किया गया था। यह सुनिश्चित किया गया कि उत्तराखंड में कांवड़ मेला पूर्णतया प्रतिबंधित होने के कारण प्रतिबंध का भरपूर प्रचार एवं प्रसार किया जाए ताकि कोई भी कांवड़िया उत्तराखंड में न आ सके। किसी भी राज्य से पहुंचने वाले कांवड़ियों को रोकने के लिए स्थानीय पुलिस के अलावा पैरा मिलेट्री फोर्स की तैनाती की जा रही थी।

एकलव्य बाण समाचार

थानेदार की वसूली का ऑडियो वायरल, सस्पेंड

टिहरी गढ़वाल वायरल ऑडियो कांड। SO कर रहे थे वसूली। ऑडियो हो गया वायरल। एसएसपी ने किया निलंबित।

टिहरी गढ़वाल (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड में एक एसओ का ऑडियो का वायरल होने से प्रशासन में हड़ंकप मच गया है। बताया जा रहा है कि ये ऑडियो हिंडोलाखाल पुलिस थाने के एसओ जितेंद्र कुमार का है। इसमें वह हफ्ता वसूली की बात कर रहे हैं। इतना ही नहीं शराब मंगवाने की बात भी कर रहे हैं। ऑडियो के सामने आने के बाद एसएसपी तृप्ति भट्ट ने एसओ जितेंद्र कुमार को सस्पेंड कर दिया है। ऑडियो की जांच के आदेश दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार जितेंद्र कुमार की तैनाती हिंडोलाखाल थाने में एक साल पहले हुई थी। वे अवैध शराब के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में भी सक्रिय रहे है। किसी युवक ने उनकी शराब के ठेके के सेल्समैन के साथ फोन पर हुई बातों की रिकार्डिंग को सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। इसमें शराब मंगाने को लेकर कथित बातचीत की जा रही है। वायरल ऑडियो में सुना जा सकता है कि एसओ जितेंद्र कुमार और भंडारी नाम के व्यक्ति के बीच शराब और हफ्ता वसूली के बारे में बातचीत की जा रही है। हालांकि ये ऑडियो काफी पुराना बताया गया है, लेकिन ऑडियो के वायरल होते ही एसएसपी तृप्ति भट्ट ने संज्ञान लेते हुए एसओ जितेंद्र कुमार को सस्पेंड कर दिया है। उनकी जगह पर बलदेव कंडियाल को नियुक्त कर दिया गया है। साथ ही सीओ टिहरी को इस मामले की जांच करने के आदेश भी दिए हैं, मामले में जांच जारी है।

कांवड़ यात्रा प्रतिबंध: नाराज व्यापारी बोले, हमें जहर दे दो!

हरिद्वार (एकलव्य बाण समाचार)। कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा इस वर्ष भी कांवड़ यात्रा रद्द कर दी गई है।

कांवड़ यात्रा रद्द होने से धर्मनगरी हरिद्वार के व्यापारियों में रोष है और व्यापारी लगातार धरना-प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ अपना विरोध प्रकट कर रहे हैं। हरिद्वार में अपर रोड पर आक्रोशित युवा व्यापारियों ने “व्यापारियों को जहर दे दो, हम जीना नहीं चाहते” जैसे स्लोगन लिखी तख्तियां हाथ में लेकर उग्र प्रदर्शन किया।

एकलव्य बाण समाचार

उत्तराखंड नहीं जा सकेंगे कांवड़िए

बिजनौर/हरिद्वार (एकलव्य बाण समाचार)। थाना श्यामपुर क्षेत्रान्तर्गत एक बॉर्डर पुलिस मीटिंग का आयोजन किया गया।

मीटिंग में उत्तर प्रदेश पुलिस एवं उत्तराखंड के अधिकारी क्षेत्राधिकारी श्यामपुर, थानाध्यक्ष श्यामपुर, चौकी इंचार्ज चंडी घाट, चौकी इंचार्ज लालढांग, क्षेत्राधिकारी नजीबाबाद, थानाध्यक्ष मंडावली, एसडीएम नजीबाबाद, नायब तहसीलदार हरिद्वार एवं अन्य अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

बैठक में आगामी कांवड़ मेला को लेकर विचार विमर्श किया गया तथा यह सुनिश्चित किया गया कि उत्तराखंड में कांवड़ मेला पूर्णतया प्रतिबंधित है। इसलिए इस प्रतिबंध का भरपूर प्रचार एवं प्रसार किया जाए ताकि कोई भी कांवड़िया उत्तराखंड में न आ सके। इसके अतिरिक्त अपराध की दृष्टि से भी इस मीटिंग में वार्ता हुई। किसी भी प्रकार के अपराध से संबंधित घटना में जनपदों में समन्वय करते हुए एक दूसरे की मदद की जा सके, इस तथ्य पर खासा जोर दिया गया।

एकलव्य बाण समाचार

उत्तराखंड में सख्ती: नैनीताल-मसूरी आने वाली 5,000 गाड़ियों को भेजावापस

जरूरी कागजात नहीं थे, इसलिए लौटाया (फाइल फोटो-PTI)
  • कोविड गाइडलाइन के उल्लंघन पर पर्यटकों को लौटाया।
  • आने से पहले कोविड की निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना जरूरी।
  • होटल में भी पहले से ही बुकिंग करवाकर आना होगा।
  • जरूरी कागजात नहीं थे, इसलिए लौटाया।

देहरादून (5एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड में नैनीताल और मसूरी की तरफ आने वाली लगभग 5 हजार से ज्यादा गाड़ियों को वापस भेज दिया गया है। इन पर कोविड गाइड लाइन्स के अनुसार कागजात, होटल रिजर्वेशन आदि नहीं थे ऐसा ही हाल मशहूर पर्यटक स्थल धनौल्टी का भी है

देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आते ही पर्यटकों ने पहाड़ी इलाकों की ओर रुख किया हुआ है। इसके बाद प्रशासन की ओर से सख्ती की गई।

प्रशासन की सख्ती का असर न केवल पर्यटकों पर पड़ रहा है बल्कि उन लोगों पर भी पड़ रहा है, जिनकी रोजी-रोटी पर्यटन पर चलती है। धनौल्टी में भी लगभग अलग-अलग जगह से आने वाले 10,000 से ज्यादा लोग यहां तक पहुंचने से वंचित हो गए हैं।

क्या है नियम?

कोविड-19 के दौर में उत्तराखंड में पर्यटकों की बढ़ती संख्या को लेकर पिछले हफ्ते सरकार ने नए नियम जारी किए थे। इसके तहत बिना होटल रिजर्वेशन और कोविड की निगेटिव रिपोर्ट के कोई भी पर्यटक पर्यटन स्थल पर नहीं जा सकता।

बीते दिनों नैनीताल प्रशासन ने आदेश जारी कर आने वाले पर्यटकों के लिए तीन शर्तें रखी थीं। पहली शर्त ये थी कि यहां आने वाले पर्यटकों को देहरादून सिटी पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा। दूसरी ये कि 72 घंटे से पहले की कोविड निगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए और तीसरी शर्त थी कि होटल में रिजर्वेशन होना चाहिए। इसके अलावा नैनीताल में बगैर मास्क पहने घूमते पाए जाने पर पर्यटकों से 500 रुपये का जुर्माना भी लिया जा रहा है।

एकलव्य बाण समाचार

कांवड़ियों को रोकने के लिए उत्तराखंड पुलिस ने बनाई रणनीति

पुलिस लाइन रोशनाबाद के सभागार में एसएसपी ने कांवड मेला वर्ष 2021 स्थगित किये जाने के सम्बन्ध में पुलिस अधिकारियों के साथ की बैठक।

हरिद्वार (एकलव्य बाण समाचार)। कांवड मेला वर्ष 2021 स्थगित किये जाने के सम्बन्ध में एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने जनपद के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

पुलिस लाइन्स रोशनाबाद हरिद्वार स्थित सभागार में एसएसपी हरिद्वार की अध्यक्षता में राज्य सरकार द्वारा कांवड मेला 2021 स्थगित किये जाने के आदेश निर्गत किए जाने के उपरान्त हरिद्वार पुलिस की बार्डर पर आने वाले कांवडियों को रोकने की रणनीति के सम्बन्ध में बैठक आयोजित की गयी।

हरिद्वार पुलिस के सभी अधिकारियों की मौजूदगी में एसएसपी ने सभी क्षेत्राधिकारी, कोतवाली प्रभारी एवं थानाध्यक्षों को निर्देश दिए कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण (तीसरी लहर) से आम जनता की जान की सुरक्षा के दृष्टिगत उत्तराखण्ड सरकार द्वारा कांवड मेला 2021 स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। कांवड मेला में देश के कोने कोने से शिव भक्तों का हरिद्वार आवागमन रहता है।

सरकार के निर्णय के पालन हेतु प्रशासन से समन्वय स्थापित कर समस्त आवश्यक तैयारियां कर बार्डर पर पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल नियुक्त करेंगे तथा शासन द्वारा निर्गत आदेशों के अनुरुप कार्यवाही करना सुनिश्चित करेंगें।

साथ ही सोशल मीडिया के माध्यम से उक्त स्थगन आदेश के सम्बन्ध में व्यापक प्रचार प्रसार करें। एसपी क्राइम, एसपी ग्रामीण व एसपी सिटी को निर्देशित किया कि वह समय से उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों से बार्डर मीटिंग आयोजित करते हुए सूचनाओं का आदान-प्रदान करें।

कोविड नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों को सीज करने की कार्यवाही के लिये पार्किंग स्थलों का समय से चयन करते हुए आवश्यक कार्यवाही कर उक्त स्थलों पर पहले से ही पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल नियुक्त किया जाए। साथ ही बार्डर प्वाइंट्स पर अनुभवी पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों को नियुक्त किया जाए।

एकलव्य बाण समाचार

तीसरी संतान पैदा होने पर लक्सर की पार्षद बर्खास्त

membership-of-the-councilor-canceled-due-to-having-three-children-in-laksar

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। निर्वाचित जनप्रतिनिधि की सदस्यता समाप्त करने का राज्य में पहला मामला सामने आया है। हरिद्वार जिले के लक्सर नगर पालिका की वार्ड नंबर 4 की सभासद नीता पांचाल की सदस्यता तीसरी संतान होने पर समाप्त कर दी गई है। सचिव शहरी विकास शैलेंद्र बगौली ने इसको लेकर आदेश जारी कर दिया है। उत्तराखंड में तीसरी संतान पैदा होने पर निर्वाचित जनप्रतिनिधि की सदस्यता समाप्त करने का यह पहला मामला है।

प्रदेश में जनसंख्या नियंत्रण कानून भले लागू ना हो, लेकिन स्थानीय निकाय और ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधियों के लिए 2 जुलाई 2002 से अधिकतम दो संतान की शर्त लागू है।
प्रदेश में नगर निकाय और पंचायतों में ऐसे व्यक्ति चुनाव नहीं लड़ सकते हैं, जिनकी 2 जुलाई 2002 के बाद तीसरी संतान भी हो, जबकि वार्ड नंबर 4 की सभासद नीता पंचाल के नगर पालिका परिषद के चुनाव के समय 20 अगस्त 2018 में दो ही बच्चे थे, मगर 2 सितंबर 2018 में बोर्ड की सदस्यता पाने के बाद 1 साल के भीतर ही उनको तीसरा बच्चा हुआ। बताया गया है कि नगर पालिका परिषद अधिनियम में हुए संशोधन के अनुसार पद ग्रहण के 300 दिन की अवधि के भीतर तीसरे बच्चे का जन्म होने पर सदस्यता वैद्य नहीं मानी जाती है। ऐसे में उनके खिलाफ निर्वाचन की शर्त का उल्लंघन करने की शिकायत जिलाधिकारी हरिद्वार के पास पहुंची थी।
जिलाधिकारी ने मामले में जांच एसडीएम लक्सर और नगर पालिका परिषद से कराई। तत्कालीन एसडीएम पूरन सिंह राणा और नगर पालिका अधिशासी अधिकारी गोहर हयात ने शिकायत सही पाई। अब इसी रिपोर्ट के आधार पर शहरी विकास विभाग ने जिलाधिकारी हरिद्वार की रिपोर्ट के आधार पर नीता पांचाल की सदस्यता समाप्त कर दी है।

DM ने शासन को भेजी थी सिफारिश

लक्सर। जिलाधिकारी हरिद्वार ने लक्सर नगर पालिका परिषद के मोहल्ला शिवपुरी वार्ड नंबर 4 की महिला सभासद को तीसरा बच्चा होने के कारण पद से अयोग्य घोषित कर दिया था। उन्होंने महिला सभासद की सदस्यता निरस्त करने की सिफारिश शासन को भेजी थी। शिवपुरी निवासी एक व्यक्ति ने सभासद के तीन बच्चे होने पर उन्हें अयोग्य बताया था।

लक्सर नगर पालिका परिषद के चुनाव 20 अगस्त 2018 को हुआ था। 2 सितम्बर को बोर्ड का गठन हुआ था। इसमें नीता पांचाल वार्ड 4 से दूसरी बार 562 मत लेकर सभासद चुनी गई थी। लगभग एक महीने पहले मोहल्ला शिवपुरी निवासी पंकज बंसल नाम के एक व्यक्ति ने शासन को पत्र भेजकर शिकायत की थी कि सभासद नीता पांचाल के तीन बच्चे हो चुके हैं, लिहाजा वह पालिका की सदस्य बनने के योग्य नहीं हैं। इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए डीएम ने लक्सर एसडीएम से इसकी जांच कराई। जांच में एसडीएम ने तीन बच्चे होने का हवाला देकर सभासद को वार्ड की सदस्य के लिए अयोग्य माना था।

जांच रिपोर्ट मिलने के बाद डीएम सी. रविशंकर ने इस पर सुनवाई की। सुनवाई में शिकायत करने वाले पंकज बंसल के वकील अमरपाल सिंह और सभासद की ओर से सुखपाल सिंह ने मामले की पैरवी की। दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद डीएम ने भी माना कि चुनाव लड़ते समय सभासद के दो बच्चे थे, मगर चुनाव जीतने के बाद 15 नवंबर 2019 को तीसरे बच्चे का जन्म हुआ।

नगर पालिका अधिनियम में हुए संशोधन के मुताबिक तीसरे बच्चे से संबंधित धारा लागू होने के 300 दिन बाद तीसरा बच्चा पैदा होने पर सभासद वार्ड की सदस्य बने रहने की योग्य नहीं रह जाती हैं। इस आधार पर डीएम ने एसडीएम की रिपोर्ट को सही माना साथ ही सभासद को पालिका के सदस्य पद के लिए अयोग्य करार दिया। डीएम ने उनकी सदस्यता निरस्त करने की सिफारिश राज्य शहरी-विकास विभाग के सचिव तथा निदेशक को भेजी थी।

एकलव्य बाण समाचार

डॉक्टर ने खाली कर दिया मरीज का बैंक अकाउंट

साईबर क्राइम: डॉक्टर ने Paytm से खाली कर दिया पेशेंट का बैंक अकाउंट

 साईबर क्राइम : डॉक्टर ने Paytm से खाली कर दिया पेशेंट का बैंक अकाउंट

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड के अधोईवाला में महिला के बैंक खाते से डाॅक्टर ने एक लाख की रकम पार कर दी। महिला उक्त डॉक्टर के पास इलाज कराने जाती थी। इस दौरान डॉक्टर ने महिला के नंबर से अपने मोबाइल में पेटीएम अकाउंट बना लिया। डॉक्टर तब तक महिला के खाते से खरीदारी करता रहा, जब तक महिला का खाता खाली नहीं हो गया। महिला का आरोप है कि उनके खाते में एक लाख रुपए से ज्यादा थे। मामले में रायपुर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। शिकायत कुशुम डबराल निवासी अधोईवाला ने दर्ज कराई है।

एसओ दिलबर सिंह नेगी ने बताया कि कुशुम डबराल के घर डॉ. अनुराग सिंह का आना जाना था। बीते दिनों महिला खाते से पैसे निकालने गई तो पता चला कि उनका खाता तो खाली हो चुका है। जबकि, उनके खाते में एक लाख रुपए थे। उन्होंने पुलिस से शिकायत की। जांच में पता चला कि यह पैसा डॉ. अनुराग सिंह ने अपने मोबाइल में पेटीएम चलाकर खर्च किया है। पुलिस ने महिला की शिकायत के आधार पर जांच शुरू कर दी है।

एकलव्य बाण समाचार

रुद्रप्रयाग जिले के 14 शिक्षकों के खिलाफ FIR

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। राज्य में लंबे समय से फर्जी डिग्री के आधार शिक्षक बनने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रमुख सचिव गृह के आदेश के बाद अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था आदेशानुसार बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत फर्जी शिक्षकों व अन्य समस्त शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की जांच अपर पुलिस अधीक्षक/सैक्टर अधिकारी के निर्देशन में सीआइडी सैक्टर देहरादून कर रहा था।

जांच के लिए गठित एसआईटी की ओर से चलाये जा रहे अभियान के अन्तर्गत जनपद रूद्रप्रयाग के 25 शिक्षकों के विरुद्ध विधिक कार्यवाही करने हेतु रिपोर्ट महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा, उत्तराखण्ड को विभिन्न तिथियों को प्रेषित की गई थी। सैक्टर अधिकारी द्वारा महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा उत्तराखण्ड से पत्राचार करने पर 14 अन्य निम्न शिक्षकों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं।

आरोपी शिक्षकों के नाम 👇

  1. कान्ति प्रसाद, सहायक अध्यापक राप्रावि जैली ब्लॉक जखोली जनपद रूदप्रयाग।
  2. संगीता बिष्ट, सहायक अध्यापिका राप्रावि कैलाशनगर ब्लॉक जखोली जनपद रूदप्रयाग।
  3. मोहन लाल, सहायक अध्यापक, राप्रावि सारी, ब्लॉक ऊखीमठ, जनपद रूदप्रयाग।
  4. महेन्द्र सिंह, सहायक अध्यापक, राजकीय प्राथमिक विद्यालय लुखन्द्री, ब्लॉक जखोली, जनपद रूदप्रयाग।
  5. राकेश सिंह, सहायक अध्यापक, राजकीय प्राथमिक विद्यालय धारतोन्दला, ब्लॉक अगस्तमुनि, जनपद रूदप्रयाग।
  6. माया सिंह, सहायक अध्यापिका, राप्रावि जयकण्डी ब्लॉक अगस्तमुनि जनपद रूदप्रयाग।
  7. विरेन्द्र सिंह, सहायक अध्यापक, जनता जूनियर हाई स्कूल, जखन्याल गांव, ब्लॉक जखोली, जनपद रूदप्रयाग
  8. विजय सिंह, सहायक अध्यापक, राप्रावि भुनालगांव, ब्लॉक जखोली, जनपद रूदप्रयाग।
  9. जगदीश लाल. सहायक अध्यापक, राप्रावि जौला, ब्लॉक अगस्तमुनि, जनपद रूदप्रयाग
  10. राजू लाल सअ राप्रावि जग्गीबगवान लॉक ऊखीमठ जनपद रूद्रप्रयाग।
  11. संग्राम सिह. राअ, राप्रावि स्यूर बरसाल, ब्लॉक जखोली जनपद रूद्रप्रयाग।
  12. सहायक अध्यापक मलकराज पुत्र शौला लाल राप्रावि जगोठ, ब्लॉक अगस्तमुनि, जनपद रूदप्रयाग
  13. सहायक अध्यापक रघुवीर सिंह पुत्र भरत सिंह जनता जूनियर हाईस्कूल जखन्याल गांव, ब्लॉक जखोली, जनपद रूदप्रयाग
  14. अध्यापक श्री महेन्द्र सिंह पुत्र रणबीर सिंह राप्रावि रायडी, ब्लॉक जखोली, जनपद रूदप्रयाग

अब तक की कार्यवाही- एसआईटी द्वारा अब तक फर्जी शिक्षकों के विरूद्ध विधिक कार्यवाही करने हेतु 120 रिपोर्ट महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा, उत्तराखण्ड को प्रेषित की गई है, जिनमें से 68 अभियोग 80 शिक्षकों के विरूद्ध एफआईआर पंजीकृत की जा चुकी है। वर्ष 2012 से 2016 तक में नियुक्त कुल 9602 शिक्षक जोकि जांच के दायरे में हैं, उनके नियुक्ति सम्बन्धी कुल अभिलेख 64641 हैं। इनमें से 35722 अभिलेखो का सत्यापन कराया जा चुका है। शेष 28919 अभिलेखों के सत्यापन की कार्यवाही प्रचलित है। वर्तमान में एसआइटी में लोकजीत सिंह के निर्देशन में 8 निरीक्षक (4 देहरादून सैक्टर में तथा 04 हल्द्वानी सैक्टर में) नियुक्त हैं।

कैंपटी फाॅल में अब एक बार में नहा पाएंगे अधिकतम 50 पर्यटक

हर आधा घंटे बाद बजने लगेगा हूटर। पर्यटकों की निगरानी करने के लिए जांच चौकी स्थापित। चौकियों पर कोविड-19 नियमों के तहत पर्यटकों की जांच।

 कैंपटी फाॅल में अब अधिकतम 50 पर्यटक ही एक बार में नहा पाएंगे, हर आधा घंटे बाद बजने लगेगा हूटर

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। कोरोना वायरस का खतरा अभी कम नहीं हुआ है, लेकिन देवभूमि उत्तराखंड में पर्यटकों का आना शुरू हो गया है। पर्यटकों की लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए अब टिहरी डीएम ने आदेश जारी कर कैंपटी फाॅल में नहाने के कुछ नियम बना दिए हैं। यहां एक बार में अब अधिकतम 50 पर्यटक ही नहा पाएंगे और इसके लिए भी उन्हें केवल आधे घंटे का ही समय मिलेगा। हर आधा घंटे बाद हूटर बजाकर सचेत किया जाएगा।

कोरोना खतरे के बीच झरना- कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है, लेकिन उससे पहले ही पर्यटन स्थल कैंपटी फाॅल में पर्यटकों का भारी जमावड़ा लगना शुरू हो गया था। इसको लेकर जहां लगातार खबरें छपी, वहीं, हाईकोर्ट ने भी मामले का संज्ञान लिया था। यही कारण रहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए टिहरी जिला प्रशासन उक्त निर्णय लेना पड़ा। आधा घंटे की अवधि पूरी होते ही वहां लगे हूटर बजने लगेंगे और पर्यटकों को तत्काल उसमें से बाहर निकलकर वापस लौटना होगा। लॉकडाउन में मिली छूट के बाद कैंपटी फॉल में घूमने और नहाने के लिए हर दिन उत्तराखंड ही नहीं, बल्कि बाहरी प्रदेशों के भी सैकड़ों पर्यटक पहुंच रहे हैं। प्रशासन को शिकायत मिली है कि कैंपटी फॉल के झरने में नहाने के दौरान पर्यटक कोविड-19 संबंधी नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा है।

पर्यटकों की निगरानी करने के लिए जांच चौकी- टिहरी की जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने यह आदेश जारी किया। उन्होंने टिहरी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक और धनौल्टी के उपजिलाधिकारी को कैंपटी फॉल आने वाले पर्यटकों की निगरानी करने के लिए जांच चौकी स्थापित करने को भी कहा। आदेश में कहा गया है कि इन चौकियों पर कोविड-19 नियमों के तहत पर्यटकों की जांच की जाए तथा कैंपटी फॉल झरने में एक बार में 50 से अधिक पर्यटकों को जाने की अनुमति न दी जाए। आधे घंटे में पर्यटकों के झरने से वापस लौटने के पश्चात बारी-बारी से 50 पर्यटकों को प्रवेश करने की अनुमति दी जाए।

पार्क में लगाए गए स्वास्थ्य संबंधी इंस्ट्रूमेंट एवं बच्चों के झूले

रुड़की (एकलव्य बाण समाचार)। मेयर गौरव गोयल ने रामनगर स्थित केशव पार्क समिति के प्रयास से पार्क में लगाए गए स्वास्थ्य संबंधी इंस्ट्रूमेंट एवं बच्चों के झूलों का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केशव पार्क में काफी समय से इन उपकरणों की समिति एवं क्षेत्रवासियों द्वारा मांग की जा रही थी, जिसे देखते हुए पार्क का सौंदर्य करण तथा ये सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। उन्होंने कहा कि नगर में पार्कों के निर्माण, सुंदरता एवं सौंदर्यता बनाने के लिए दिन-रात कार्य किए जा रहे हैं। मेयर गौरव गोयल ने कहा कि केशव पार्क समिति सराहनीय कार्य कर रही है। समिति द्वारा दिए गए सहयोग से ही यह पार्क सुंदर एवं सुव्यवस्थित हो पाया है। इस अवसर पर पार्षद मंजू भारती, धर्मवीर पिंकी, केशव पार्क समिति सदस्य रमेश भटेजा, गौरव मेहंदीरत्ता, पवन सचदेवा, दिलीप मेहंदीरत्ता, नरेश अरोड़ा, संजीव मेंदीरत्ता, अरविंद कुमार, राजा धीमान, चंद्रकांता, डॉक्टर इंद्रेश, पुष्पा करण, निखिल सेठी, रवि माटा, सुशांत बत्रा आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

पुलिस मुठभेड़ में एक बदमाश घायल, एक फरार

तांशीपुर में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, एक बदमाश गोली लगने से घायल, एक फरार, कॉम्बिंग जारी

 तांशीपुर में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, एक बदमाश को लगी गोली एक फरार, कॉम्बिंग जारी

रूडकी (एकलव्य बाण समाचार)। रुड़की के समीप तांशीपुर में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ में एक बदमाश गोली लगने से घायल हो गया। अंधेरे का लाभ उठाकर एक बदमाश फरार हो गया। चेन लूट की वारदात के बाद बदमाश किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे थे।

लूट के बाद देहरादून- रविवार सुबह 11:00 बजे रुड़की रेलवे स्टेशन के समीप बदमाशों ने सुनीता देवी निवासी पूर्वावर्ली से चेन लूट ली। इसके बाद बदमाश देहरादून चले गए और वहां भी एक लूट की। उसके बाद बदमाश फिर से रुड़की आए और एक अन्य लूट की घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। सुबह की घटना के बाद से पुलिस फुटेज के आधार पर बदमाशों की तलाश कर रही थी।

रुड़की वापसी पर मुठभेड़- पुलिस को रविवार देर रात सूचना मिली कि बाइक सवार बदमाश तांशीपुर और पाडली गुर्जर को जाने वाले रास्ते से जा रहे हैं। इसके बाद मंगलौर और गंगनहर कोतवाली पुलिस ने घेराबंदी की। आमना सामना होने पर बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस की जवाबी फायरिंग में एक बदमाश के पांव में गोली लग गई। पुलिस ने घायल बदमाश को मौके पर ही दबोच लिया जबकि उसका साथी फरार हो गया। पुलिस ने बदमाश को हिरासत में लिया और उपचार के लिए सिविल अस्पताल ले गए। इसके साथ ही फरार हुए बदमाश की तलाश के लिए कॉम्बिंग शुरू कर दी। घायल बदमाश का नाम साजिद (उम्र 36) पुत्र शमशाद मोहल्ला लकीपुरा लिसाड़ी गेट मेरठ बताया गया है।

घटना की सूचना मिलते ही एसएसपी और एसपी देहात सिविल अस्पताल पहुंचे और मामले की जानकारी ली। पुलिस टीम में कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह, मंगलोर कोतवाली प्रभारी यशपाल सिंह बिष्ट, एसएसआई देवराज शर्मा, सिविल लाइंस कोतवाली एसएसआई दीप कुमार आदि शामिल रहे। 

बदरीनाथ हाईवे सहित कई लिंक मार्ग अवरुद्ध, एक गौशाला में दबे मवेशी

 बारिश से बदरीनाथ हाईवे सहित कई लिंक मार्ग अवरुद्ध, एक गौशाला में दबे मवेशी

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तराखंड के जनपद चमोली में बारिश से कई मार्ग अवरुद्ध हो गये हैं। इसके साथ ही एक गौशाला में भी मवेशी दबे होने की सूचना है।

चमोली जिले में शनिवार की देर से रविवार की सुबह तक हुई तेज बारिश से जहां बदरीनाथ हाईवे कई स्थानों पर बन्द हो गया, वहीं देवाल ब्लॉक के कोटीपार कोटेडा गांव में अतिवृष्टि से हुए भूस्खलन के कारण एक गौशाला मलबे में दब गई है। उसके अंदर कुछ मवेशियों के दबने की भी सूचना है। घाट क्षेत्र में भी काण्डई-खुनाणा मोटरमार्ग पर भी देर रात एक मालवाहक वाहन कर्तीगाड़ के पास ही सड़क के ऊपर आये मलबे में फंस गया। बदरीनाथ हाईवे को पागल नाले व गुलाब कोटी में खोल दिया गया है, जबकि हनुमानचट्टी में बंद है। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग खोलने का कार्य जारी है।

देर रात से हो रही बारिश से बदरीनाथ हाईवे गुलाबकोटी, पागलनाला और हनुमान चटटी में बन्द हो गया था। हालांकि पागल नाले व गुलाब कोटी में हाईवे खोल दिया गया है, जबकि हनुमानचट्टी में बद चल रहा है। हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई है। एनएचआईडीसीएल के ओर से हाइवे खोले जाने का कार्य जारी है।

उधरदेवाल विकासखंड के ही कोटीपार कोटेड़ा गांव के ही दिनेश राम ने जानकारी देते हुए बताया कि अतिवृष्टि के बाद हुए भूस्खलन से आये मलबे और पानी से गांव लोगों की खेती भूमि को नुकसान पहुंचा है। साथ ही खेतों में आलू की फसल भी बर्बाद हो गई है। गांव में ही एक गौशाला के ऊपर भूस्खलन का मलबा आने से गौशाला पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई है। गौशाला के अंदर मवेशी भी मलबे के अंदर दबे हुए हैं। देवाल के ब्लॉक प्रमुख दर्शन दानू ने बताया कि प्रशासन से बातचीत कर राजस्व की टीम गांव के लिए रवाना हो गई है।

बागेश्वर में बारिश की तबाही: मकान पर गिरे मलबे में दबने से पति, पत्नी और बेटे की मौत!

 बागेश्वर में बारिश ने मचाई तबाही, मकान पर गिरा मलबा, दबने से पति, पत्नी और बेटे की मौत!

बागेश्वर (एकलव्य बाण समाचार) उत्तराखंड के जनपद बागेश्वर में बारिश ने भरी तबाही मचाई है। बारिश में एक मकान ढह जाने से पति पत्नी और उनका बेटे की मौत हो गयी।

बागेश्वर जिला अंतर्गत तहसील कपकोट में शनिवार रात अतिवृष्टि के बाद आए मलबे में एक घर दब गया। मलबे में परिवार के तीन सदस्य दब गए। ग्रामीणों द्वारा दी गई सूचना के बाद रविवार की सुबह राजस्व पुलिस, एसडीआरएफ, डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस मौके पर पहुंचने के लिए रवाना हुई। तहसीलदार कपकोट ने इस घटना की पुष्टी की है।

जानकारी के अनुसार ग्राम सुमगढ़ ऐठाण के ईटावन तोक में गृहस्वामी गोविंद सिंह पंडा, उनकी पत्नी खष्टी देवी और आठ वर्षीय बालक हिमांशु पंडा मलबे में दब गए। खष्टी देवी का शव बरामद हो गया है। दो अन्य की खोजबीन की जा रही है। कपकोट के सरन गांव में भी कई घरों में मलबा घुसने की सूचना है। यहां कई पालतू जानवर भी मलबे में दबे हुए हैं। 

आज सुबह ग्रामीणों ने उन्हें मलबे से निकालने का अभियान छेड़ा। उधर तहसीलदार को भी मामले की जानकारी दी गई। एसडीआरएफ की टीम रास्ते बंद होने के कारण अभी तक मौके पर नहीं पहुंच सकी है। इस बीच ग्रामीणों द्वारा शव को ढूंढ निकालने की खबर है। ग्रामीणों का कहना है कि मलबे में दबे तीनों लोगों की मौत हो चुकी है। मलबे में कितने पशु दबे हैं यह अभी पता नहीं है। इस बीच कपकोट क्षेत्र से कई राजनैतिक दलों के लोग भी मौके के लिए रवाना हुए हैं लेकिन मलबे ने उनका रास्ता रोेक रखा है। विदित हो कि सुमगढ़ में वर्ष 2010 में स्कूल भवन में मलबा घुसने से 18 बच्चों की मौत हो गई थी।

कांवड़ यात्रा को लेकर शिवभक्तों में उहापोह

लखनऊ/देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। कांवड़ यात्रा पर उत्तराखंड सरकार के अंतिम निर्णय न लेने से मामला अभी सुलझा नहीं है। एक तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 25 जुलाई से शुरू हो रही कांवड़ यात्रा को निर्विघ्न संपन्न कराने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। वहीं उत्तराखंड सरकार ने यात्रा पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। ऐसे में विभिन्न राज्यों से गंगा जल लेने हरिद्वार पहुंचने वाले भोले के भक्तों में उहापोह बना हुआ है। हालांकि दोनों मुख्यमंत्रियों की बातचीत के बाद मामला हल होने के आसार बने हैं।

यूपी के अपर मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है, पड़ोसी राज्यों उत्तराखंड व बिहार से संवाद स्थापित कर कांवड़ यात्रा को पूरा किया जाए। वहीं हरिद्वार में कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध है। इसी मंगलवार को पुलिस मुख्यालय देहरादून में डीजीपी अशोक कुमार की अध्यक्षता में कांवड़ यात्रा (23 जुलाई से छह अगस्त) पर चर्चा के लिए अंतरराज्यीय समन्वय बैठक बुलाई गई थी। इसमें सात राज्यों (उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, पंजाब) के 36 पुलिस व इंटेलीजेंस अधिकारियों ने ऑनलाइन व ऑफलाइन भाग लिया। इस दौरान डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि उत्तराखंड शासन ने कांवड़ मेले को पूर्णतया प्रतिबंधित किया है। इस बीच यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सीएम पुष्कर धामी के बीच हुई बात के बाद सरकार ने यू टर्न ले लिया है। सूत्रों का कहना है कि हरिद्वार में प्रतिबंध की गई कांवड़ यात्रा पर अब नए सिरे से पुनर्विचार किया जाएगा।

हरिद्वार में प्रवेश रोकने को सख्ती- सभी राज्य थाना स्तर पर सभी कांवड़ समितियों के साथ बैठक कर इस प्रतिबंध के बारे में उन्हें बताएं। आईजी कानून व्यवस्था वी मुरुगेशन ने कहा कि जो यात्री हरिद्वार की सीमा में प्रवेश करेगा। उनसे कोविड महामारी की गाइडलाइनों का सख्ती से पालन कराया जाएगा। डीजीपी ने कहा कि कांवड़ मेले पर प्रतिबंध के निर्णय को मीडिया, सोशल मीडिया के माध्यम से सर्कुलेट करना है। यदि शासन के आदेश में कोई फेरबदल होता है तो उसके लिए सभी अधिकारियों का एक व्हाट्एसएप ग्रुप बनाया गया है। इस पर सभी को समय से अवगत करा दिया जाएगा। पिछले साल 15 मार्च को प्रदेश में कोरोना संक्रमण का पहला मामला मिला था। संक्रमण के खतरे को देखते हुए सरकार ने कांवड़ यात्रा को स्थगित करने का निर्णय लिया था। साथ ही सरकार ने यह भी फैसला लिया था कि शिव भक्तों को गंगा जल उन्हीं के राज्यों में उपलब्ध कराया जाएगा।

केस भी, 14 दिन क्वारंटीन भी- उत्तराखंड में फिलहाल कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध है। ऐसे में जो भी कांवड़ लेकर हरिद्वार आएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी। उस पर मुकदमा दर्ज करने के साथ 14 दिन के लिए क्वारंटीन भी किया जा सकता है।

स्थानीय श्रद्धालुओं की संख्या कम- केवल 1.6 प्रतिशत होते हैं स्थानीय श्रद्धालु 
कांवड़ मेले में जल लेने के लिए स्थानीय लोगों की संख्या बेहद कम रहती है। वर्ष 2019 में कांवड़ मेले में करीब तीन करोड़ श्रद्धालु आए थे। इनमें से स्थानीय यात्रियों की संख्या महज 1.6 प्रतिशत थी। सबसे अधिक हरिद्वार 32 प्रतिशत और फिर उत्तर प्रदेश 27 फीसदी थी। पिछले साल कांवड़ यात्रा नहीं हुई थी। 

केदारनाथ धाम की ब्रह्म वाटिका में खिलने लगे ब्रह्म कमल

केदारनाथ धाम में हिमालयी जड़ी बूटियों और फूलों के संरक्षण की मंशा से तैयार की गयी ब्रह्म वाटिका। अब खिलने लगे राज्य पुष्प ब्रह्म कमल।

(एकलव्य बाण समाचार)

 केदारनाथ धाम में हिमालयी जड़ी बूटियों और फूलों के संरक्षण की मंशा से तैयार की गयी ब्रहम वाटिका में खिलने लगे ब्रह्म कमल

गोपेश्वर / चमोली। केदारनाथ वन प्रभाग की ओर से केदारनाथ धाम में हिमालयी जड़ी बूटियों और फूलों के संरक्षण की मंशा से तैयार ब्रह्म वाटिका में ब्रह्म कमल खिलने लगे हैं। इससे वन प्रभाग के अधिकारी उत्साहित हैं। अधिकारियों का कहना है कि केदारनाथ धाम में बनाई गई ब्रह्म वाटिका में ब्रह्म कमल खिलने से अब पूजा अर्चना के लिये उच्च हिमालयी क्षेत्रों में इसके दोहन पर प्रभावी रोक लग सकेगी।

केदारनाथ वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी अमित कंवर ने बताया कि उच्च हिमालयी क्षेत्रों में उगने वाली जड़ी-बूटियों के संरक्षण और सवर्द्धन के लिये विभाग द्वारा केदारनाथ धाम में भैरव मंदिर, मोदी ध्यान गुफा और ध्यान गुफा के समीप 1-1 हैक्टेयर वन भूमि पर ब्रह्म वाटिका का निर्माण किया। इसमें विभाग द्वारा सभी स्थानों पर 200 ब्रह्म कमल, 1740 कुटकी, 200 बज्रदंती, 35 भूतकेश, 10 नैरपाती, 18 आरचू 14 कूथ के पौधों का रोपण किया गया था। इनमें से सभी स्थानों राज्य पुष्प ब्रह्म कमल की पौध तेजी से विकासित हो रही हैं। उन्होंने बताया कि वाटिका में इन दिनों ब्रह्म कमल के पुष्प भी खिलने लगे हैं। कहा कि केदारनाथ में ब्रह्म कमल के खिलने से जहां तीर्थयात्री सुगमता से राज्य पुष्प का दीदार कर सकेंगे। वहीं पूजाओं में उपयोग आने वाले पुष्पों के दोहन के लिये स्थानीय लोगों को उच्च हिमालयी क्षेत्रों में नहीं जाना होगा। इस कारण उच्च हिमलायी क्षेत्रों में ब्रह्म कमल के दोहन से पड़ रहे दबाव पर भी प्रभावी रोक लग सकेगी।

क्या है ब्रह्म कमल-

उत्तरांखड में ब्रह्म कमल का पुष्प आधात्मिक महत्व का पुष्प माना जाता है। जहां शिव धामों के साथ ही माँ नंदा की पूजा में इसका विशेष रुप से उपयोग किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार उत्पत्ति के देवता ब्रह्मा जी के नाम से ही इसे ब्रह्म कमल नाम मिला है। उत्तराखंड राज्य निर्माण के बाद ब्रह्म कमल को राज्य पुष्प का सम्मान भी प्राप्त है, जिसके चलते इसके संरक्षण और संवर्द्धन को लेकर वन विभाग की ओर से विभिन्न प्रकार से प्रयास किये जा रहे हैं।

कहां होता है ब्रह्म कमल-

ब्रह्मकमल उत्तराखंड का राज्य पुष्प है। यह हिमालय की 11 हजार से 17 हजार फीट की ऊँचाई में पाया जाता है। राज्य में यह पुष्प पिंडारी से लेकर चिलफा, नंदीकुंड, सप्तकुंड, हेमकुंड, ब्रजगंगा, फूलों की घाटी और केदारनाथ के आसपास जुलाई से सितम्बर के मध्य खिलता है। वनस्पति विज्ञानियों के अनुसार ब्रह्म कमल को खिलता देखना स्वयं के स्वप्न देखने जैसा है, क्योंकि यह पुष्प मध्य रात्रि में खिलता है। इसकी सुंगध, रंग और आकार आकर्षक होने के चलते इसे विशिष्ट पुष्प मानते हुए विशेष पूजाओं में उपयोग किया जाता है।

उत्तराखंड में ब्लैक फंगस का आंकड़ा 502 पहुंचा

उत्तराखंड में मिले 109 कोरोना संक्रमित, संख्या बढ़कर हुई 340488

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। उत्तरखंड में 109 कोरोना संक्रमित मिलने के बाद राज्य में यह संख्या 340488 हो गयी है। प्रदेश में शुक्रवार को 02 लोगों की मौत हुई तो एक्टिव केस की संख्या 1864 है। वहीं 108 लोग रिकवर भी हुए हैं।

कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य विभाग से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार अभी तक उत्तराखंड राज्य के जनपद अल्मोड़ा में 02, बागेश्वर 01, चमोली 04, चम्पावत 01, देहरादून 49, हरिद्वार 09, नैनीताल 13, पौड़ी 03, पिथौरागढ़ 12, रुद्रप्रयाग 02, टिहरी 02, उधमसिंहनगर 05 और उत्तरकाशी में 06 मरीज मिले हैं। वहीं प्रदेश में आज 03 ब्लैक फंगस (म्यूकोर माइकोसिस) के मामले सामने आये हैं। अब तक प्रदेश में कुल 502 ब्लैक फंगस के मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 99 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 103 लोग डिस्चार्ज हो चुके हैं।

थाने में लोग जमा कर रहे आटा चावल तेल मसाले

कालागढ़ की आवासीय कालोनी में जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री की किट सौंपती उपनिरीक्षक प्रीति कर्णवाल

थाने में लोग जमा कर रहे आटा चावल तेल मसाले। मिशन हौसला के तहत स्थापित कम्युनिटी बास्केट।

कालागढ़। पुलिस द्वारा संचालित मिशन हौसला के तहत जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री की किट वितरित कर कोरोना संक्रमण से बचाव सम्बन्धी उपाय बताकर जागरूक किया जा रहा है।

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार के निर्देश तथा एसएसपी कु. रेणुका देवी के निर्देशन में पुलिस द्वारा “मिशन हौसला” संचालित किया जा रहा है। मिशन के तहत रोजमर्रा की जरूरत के लिए जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री मुहैया कराई जा रही है। जनसहयोग से आवश्यक सामग्री एकत्र करने के लिए दानदाता दे जाए तथा जिसको जरूरत है, ले जाए, उद्देश्य के चलते थाना परिसर में कम्युनिटी बास्केट स्थापित की गई है। यहां लोग लगातार आटा, चावल, तेल, मसाले, साबुन तथा सब्जी जमा कर रहे हैं।थानाध्यक्ष उमेश कुमार ने कहा कि जरूरतमंदों को चिन्हित करके लगातार किट वितरित की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि अभियान के तहत 50 से अधिक जरूरतमंद परिवारों को राशन किट तथा मास्क व सैनिटाईजर उपलब्ध कराये जा चुके हैं।

UP, UK बार्डर पर भीड़ दे रही कोविड-19 को न्योता

बार्डर पर भीड़ की शक्ल में एकत्रित हो रहे लोग-दोनों प्रदेशों की सीमा तक ही संचालित हो रही बसें-सोशल डिस्टेंसिंग के नियम की उड़ रही धज्जियां

बिजनौर। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सीमा पर कोटा वाली नदी के किनारे तक ही दोनों राज्यों के परिवहन निगम की रोडवेज बसें संचालित होने से लोगों की भीड़ जमा हो रही है। लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की जमकर धज्जियां उड़ा रहे हैं।

कोरोना महामारी को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से उत्तर प्रदेश राज्य सडक़ परिवहन निगम की बसों को प्रदेश की सीमाओं के अंदर ही चलाने का निर्देश दिया है। इसके चलते उत्तर प्रदेश राज्य सडक़ परिवहन निगम के दूर-दराज के डिपो की बसें भी राष्ट्रीय राजमार्ग-74 पर कोटावाली नदी के पार उत्तराखंड प्रदेश की सीमा तक ही संचालित की जा रही हैं। दूसरी ओर उत्तराखंड परिवहन निगम की काफी संख्या में बसें भी इसी सीमा तक के लिए संचालित की जा रही हैं। हालांकि उत्तराखंड परिवहन निगम की उत्तराखंड के मसूरी, देहरादून, रूडक़ी, हरिद्वार आदि से आकर उत्तराखंड के जसपुर, काशीपुर, रामनगर, नैनीताल, अल्मोड़ा, हल्द्वानी, कोटद्वार, बाजपुर, पिथौरागढ़ आदि के लिए उत्तर प्रदेश की सीमा के अंदर होकर नजीबाबाद, कोतवाली देहात, नगीना, धामपुर, अफजलगढ़ व रेहड़ से होकर संचालित की जा रही हैं। उत्तर प्रदेश की ओर से अंतर्राज्जीय बसों के परिचालन को बंद कर दिए जाने के चलते काफी संख्या में यात्री उत्तराखंड सीमा तक ही उत्तर प्रदेश राज्य सडक़ परिवहन निगम की बसों में सफर कर पहुंच रहे हैं। इस वजह से दोनों राज्यों की रोडवेज बसें यात्रियों को अपने-अपने राज्य की सीमा में उतार देती हैं, जिससे भागूवाला के पास कोटा वाली नदी पर लॉकडाउन लगा होने के बावजूद सवारियों की भीड़ एकत्रित हो जाती है। इस भीड़ में शामिल काफी संख्या में लोग सरकार की ओर से जारी दो गज की दूरी और मास्क जरूरी के नियम का पालन नहीं कर रहे हैं। इसके चलते कोरोना के संक्रमण का खतरा होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। इस भीड़ में शामिल लोगों की ओर से सरकार की गाइडलाइन का पालन न किए जाने से नदी किनारे बसे कोटा वाली गांव के ग्रामीणों को कोरोना का खतरा बना हुआ है। ग्रामीणों ने दोनों राज्यों की पुलिस से बसों से यहां पहुंचने वाले लोगों से सरकार की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराए जाने की मांग की है।

कई राज्यों में बारिश की संभावना

दिल्ली। मौसम विभाग ने देश में पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के असर को देखते हुए कई राज्यों में बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटों में दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, बिहार, छत्तीसगढ़, केरल, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, असम, मेघालय और झारखंड के कुछ हिस्सों में बारिश होने की संभावना है। वहीं इन राज्यों के कुछ इलाकों नें धूल भरी आंधी और बादल की गर्जना के साथ बारिश और ओले गिर सकते हैं।

कोरोना से एक और सिंचाई कर्मी की मौत

चुनाव ड्यूटी से लौटे एक और सिंचाई कर्मी ने तोड़ा दम। एक सप्ताह में मृतकों की संख्या हुई तीन।

कालागढ़। पंचायत चुनाव ड्यूटी से लौटे एक और सिंचाईकर्मी ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इसके बाद पंचायत चुनाव ड्यूटी से लौटकर मरने वाले सिंचाईकर्मियों की संख्या तीन हो गई है। एक सप्ताह के भीतर पंचायत चुनाव ड्यूटी से लौटे 3 सिंचाईकर्मियों की मौत से हडक़ंप मच गया।

पंचायत चुनाव की मतदान ड्यूटी से लौटने के बाद तबियत खराब होने पर सिंचाई विभाग में कार्यरत राकेश कुमार विद्युतकार (40 वर्ष) का स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। वहीं कोरोना संक्रमित पाए जाने की पुष्टि के बाद उपचार के लिए बिजनौर भर्ती करा दिया गया, जहां शनिवार को उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। इससे पहले पंचायत चुनाव ड्यूटी से लौटी सिंचाई विभाग द्वारा संचालित जूनियर हाई स्कूल की सहायक अध्यापिका मोरीस गोयल की गुरुवार को रात कोटद्वार स्थित सरकारी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। वहीं एक सप्ताह पहले बीते रविवार को युवा सिंचाईकर्मी उपेन्द्र सिंह चौहान ने काशीपुर के निजी अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड दिया था। सप्ताहभर के भीतर साथी कर्मियों की मौत हो जाने से माहौल पूरी तरह गमगीन है तथा लोग खौफजदा हैं। 

दिवंगत साथियों को श्रद्धांजलि अर्पित 

कालागढ़। सिंचाईकर्मियों ने शोकसभा आयोजित कर मृतक कर्मचारियों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित कर ईश्वर से मृतात्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की। शनिवार को नई कॉलोनी स्थित विभागीय कार्यालय परिसर में आयोजित शोकसभा में शिक्षिका मोरिस गोयल के अलावा उपेन्द्र चौहान तथा राकेश कुमार के आकस्मिक निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया गया। इसके बाद 2 मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ईश्वर से मृतात्माओं को शांति के लिए प्रार्थना की गई। शोकसभा में मनोज कुमार लिखवार, एमडी जोशी, मुस्तकीम अहमद, विजय सिंह, सुरेश देवान्तक, कमल विश्नोई, एसएस बिष्ट तथा कोमल सिंह सहित अन्य विभागीय कर्मचारी मौजूद रहे।

कोरोना: सिल्ट सफाई कार्य स्थगित करने की मांग 

कालागढ़। कर्मचारी नेताओं का कहना है कि मतदान के दौरान संक्रमण की चपेट में आये 3 कर्मी अपनी जान गवां चुके हैं, जबकि अनेक अन्य कर्मचारी बीमार हैं। बीमारी से ग्रस्त कर्मियों की मतगणना में दोबारा ड्यूटी लगा दी गई है। संक्रमण ग्रस्त कर्मियों की मतगणना में ड्यूटी लगाकर उनकी जान से खिलवाड़ किये जाने का आरोप लगाते हुए कर्मचारी नेताओं ने मतदान ड्यूटी कर चुके कर्मचारियों की मतगणना ड्यूटी निरस्त किये जाने की मांग की। वहीं सिविल डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के मण्डल अध्यक्ष कविराज सिंह ने कोराना संक्रमण के फैलने की आशंका का हवाला देते हुए अधिकारियों तथा कर्मचारियों को नहरों की सिल्ट सफाई के काम में लगाये जाने का अमानवीय करार देते हुये सिल्ट सफाई का कार्य स्थगित कर खरीफ फसली के बाद कराने की मांग की है।

उत्तराखंड में 6 मई तक कोविड कर्फ्यू

देहरादून। कोरोना के मामले लगातार बढ़ने पर सरकार ने बुधवार 06 मई तक के लिए राज्य में कोविड कर्फ्यू बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सभी निकायों में कर्फ्यू का दायरा बढ़ाने को हरी झंडी दे दी है। आवश्यक सेवाओं से जुड़ी दुकानें भी सोमवार दोपहर 12 बजे बजे के बाद से बंद रहेंगी। दवाओं की दुकानें व पेट्रोल पंपों को इससे छूट रहेगी। रविवार देर शाम सीएम तीरथ रावत ने संबंधित प्रस्ताव को मंजूरी दी। सूत्रों ने बताया कि एक्सपर्ट कमेटी ने बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सीएम तीरथ को एक हफ्ते तक के लिए पूरे राज्य में कोविड कर्फ्यू लागू करने का सुझाव दिया था, लेकिन सीएम ने फिलहाल तीन दिन के लिए की मंजूरी दी है।

सरकारी दफ्तर खुलेंगे
सरकार ने कोविड कर्फ्यू के बीच सरकारी दफ्तरों को पूर्व की भांति खोलने का निर्णय लिया है। सचिव पंकज पांडेय ने बताया कि समूह ग व घ के कर्मचारी 50 फीसदी ही दफ्तर आएंगे। राज्य में राजपत्रित अफसरों की संख्या लगभग 12 से 15 फीसदी होने से उन्हें शत-प्रतिशत दफ्तरों में आना होगा।

कोचिंग संस्थान पूरी तरह से रहेंगे बंद
सरकार ने सभी जिलों में कोचिंग संस्थानों, स्वीमिंग पुल और स्पा को पूरी तरह से बंद रखने का निर्णय है। वहीं कंटेनमेंट जोन एवं माइक्रो कंटेनमेंट जोन में कोई भी आयोजन, रेस्टोरेंट, सिनेमाघर, सार्वजनिक वाहन सेवाएं भी बंद रहेंगी।

बसों में 50 फीसदी यात्री बैठेंगे
सार्वजनिक वाहन (बस, विक्रम, आटो रिक्शा आदि में अभी भी 50 फीसदी सवारियां ही बैठ सकेंगी। सिनेमाहाल, रेस्टोरेंट और जिम भी 50 फीसदी क्षमता के साथ चलेंगे। इसका उल्लंघन करने पर आपदा एक्ट और भारतीय दंड संहिता के तहत कारवाई की जाएगी।

65 साल से अधिक उम्र वाले बाहर ने घूमे
सरकार ने 65 साल से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों अनावश्यक बाहर न घूमने की भी सलाह दी है।

प्रतिबंध के दौरान ये रहेंगी छूट
1. विवाह समारोह से लौट कर जा सकेंगे घर

2. सामाजिक एवं धार्मिक आयोजनों से घरों को जाने में रियायत

3. जिन संस्थानों में रात्रि पाली में काम होता है, उन्हें जाने की छूट

4. बस, ट्रेन व हवाई जहाज से आने वाले अपने गंतव्यों तक जा सकेंगे

5. उद्योगों में रात्रिकालीन ड्यूटी करने वाले कर सकेंगे आवाजाही

6. होटलों से होम डिलीवरी भी हो सकेगी

7. राष्ट्रीय व राज्य राजमार्गों पर आपातकालीन परिचालन के लिए व्यक्तियों व सामानों की आवाजाही

8. माल वाहक वाहनों की यात्रा और उतार-चढ़ाव में लगे व्यक्तियों को आवाजाही मे छूट रहेगी।

उत्तराखंड में राजधानी समेत कईं स्थानों पर आज शाम से एक सप्ताह का कर्फ्यू

देहरादून। राजधानी में कोविड संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए डीएम डॉ0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने सोमवार 26 अप्रैल शाम 7 बजे से 3 मई सोमवार सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू लगाने के आदेश दिए हैं। जनपद देहरादून के नगर निगम ऋषिकेश, देहरादून एवं छावनी परिषद गढी कैन्ट और क्लेमनटाऊन के क्षेत्र पर ये लागू होंगे।

दिनांक 26 अप्रैल 2021 (सोमवार) की सायं 07 बजे से दिनांक 03 मई 2021 (सोमवार) प्रातः 05 बजे तक जनपद देहरादून के नगर निगम ऋषिकेश, देहरादून एवं छावनी परिषद गढी कैन्ट और क्लेमनटाऊन के पूर्णतः कोरोना कर्फ्यू रहेगा। इस दौरान निजी वाहनों का आवागमन भी पूर्णतयाः प्रतिबन्धित रहेगा।
पेट्रोल पम्प व गैस आपूर्ति तथा दवा की दुकानें पूरे समय खुली रहेगी।
आवश्यक सेवा से जुड़े वाहनों तथा सरकारी वाहनों को केवल ड्यूटी हेतु आवागमन में छूट होगी। हवाई जहाज, ट्रेन तथा बस से यात्रा करने वाले व्यक्तियों को आवागमन में छूट होगी।

शादी और संबन्धित समारोहों में प्रवेश करने के लिए बैंकेट हॉल / सामुदायिक हॉल और विवाह समारोहों से संबंधित व्यक्तियों / वाहनों की आवाजाही हेतु प्रतिबन्धों के साथ छूट रहेगी। समारोह स्थल पर 50 से अधिक व्यक्ति एकत्रित नहीं हो सकेंगे। सार्वजनिक हित के निर्माण कार्य चलते रहेगे तथा इनसे जुड़े हुए कार्मिक एवं मजदूरों तथा निर्माण सामग्री के वाहनों को आवागमन में छूट रहेगी। औद्योगिक इकाईयों तथा इनके वाहन व कार्मिकों को आने-जाने की छूट होगी।

→ रेस्टोरेन्ट तथा मिठाई की दुकानों से होम डिलवरी में छूट रहेगी।
→ शव यात्रा से संबंधित वाहनों को छूट रहेगी तथा अंतिम संस्कार में 20 से अधिक व्यक्ति सम्मलित नहीं  हो सकेंगे।
→ केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकार के अधीन समस्त शासकीय तथा अशासकीय कार्यालय (आवश्यक सेवा के कार्यालयों को छोड़कर) बन्द रहेंगे।

→ मालवाहक वाहनों के आवागमन में छूट रहेगी।  → वास्तविक रूप से चिकित्सालय उपचार हेतु जाने वाले व्यक्तियों के वाहनों को आवागमन में छूट होगी।

कोविड 19 जांच एवं टीकाकरण हेतु निकटवर्ती केन्द्र तक आवागमन की छूट होगी। पोस्ट ऑफिस तथा बैंक यथा समय खुले रहेंगे। दिनांक 26.04.2021 को बाजार सायं 05 बजे तक खुले रहेंगे तथा सायं 07 बजे से पूर्व की भाँति रात्रि कर्फ्यू लागू रहेगा। जनपद देहरादून के अन्य स्थानों  पर पूर्व आदेश संख्या: 3391 / सीपीओ- डीएम 2021 दिनांक 21.04.2021 यथावत लागू रहेगा।

उक्त कोरोना कर्फ्यू अवधि में निम्न सेवाओं से जुड़े दुकानों व वाहनों को सशर्त छूट इस प्रकार से रहेगी: फल, सब्जी की दुकानें, डेरी, बेकरी, मीट-मछली (वैध लाईसेंसधारी) की दुकानें, राशन की दुकानें, सरकारी सस्ता गल्ला की दुकाने तथा पशुचारा की दुकानें अपरान्ह 04 बजे तक ही खुली रह सकेगी।

उत्तराखंड भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष का निधन

देहरादून। पूर्व केंद्रीय मंत्री, उत्तराखंड भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, 4 बार के लोकसभा सांसद और दो बार विधायक रहे बच्ची सिंह रावत का निधन हो गया है, ऋषिकेश एम्स में उन्होंने अंतिम सांस ली। बच्ची सिंह रावत के निधन से उत्तराखंड भाजपा में शोक की लहर दौड़ गयी है।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत व पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वरिष्ठ राजनेता और पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री बच्ची सिंह रावत के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि प्रभु दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों मेें स्थान दें और शोकाकुल परिजनों को दुख सहने की शक्ति और धैर्य प्रदान करे।

वही नैनीताल लोकसभा सीट से सांसद और पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने बच्ची सिंह रावत के निधन पर श्रद्धांजलि व्यक्त करते हुए इसे उत्तराखंड भाजपा के लिए अपूर्ण क्षति बताया है।

हरिद्वार महाकुंभ के दौरान पुलिस का ट्रैफिक प्लान

01- स्नान पर्व पर पंजाब – हरियाणा – सहारनपुर की ओर से आने – जाने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था

आने का मार्ग- सहारनपुर -इमलीखेड़ा -धनोरी – पीपल तिराहा – सलेमपुर तिराहा – सिडकुल मार्ग – किर्बी चौक – चिन्मय कालेज -पीठ बाज़ार पार्किंग/धीरवाली पार्किंग

जाने का मार्ग – शिवालिक नगर – सलेमपुर तिराहा -बीएचईएल तिराहा- रुड़की बाईपास/रुड़की शहर

02- स्नान पर्व पर नजीबाबाद – कोटद्वार – नैनीताल की ओर से आने – जाने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था

आने का मार्ग – नजीबाबाद/कोटद्वार/नैनीताल – कांगडी – 4.2 कि0मी0 – गौरीशंकर / नीलधारा पार्किंग

जाने का मार्ग – गौरीशंकर / नीलधारा पार्किंग – हनुमान मंदिर रैंप – चंडी चौक – नजीबाबाद

03 – स्नान पर्व पर दिल्ली – मेरठ – मुजफ्फरनगर की ओर से आने – जाने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था

हल्के वाहनों के आने का मार्ग – दिल्ली- मेरठ- फलौदा -पुरकाजी -लक्सर- जगजीतपुर – शनिदेव मंदिर चौक – दक्ष पार्किंग/जगजीतपुर पार्किंग।
बड़े वाहनों के आने का मार्ग- दिल्ली -मेरठ मुजफ्फरनगर मंगलोर -नगला इमारती- लैंडोरा -लक्सर -जगजीतपुर- दक्ष पार्किंग/जगजीतपुर पार्किंग

जाने का मार्ग – दक्ष पार्किंग – सिंहद्वार – रा. राजमार्ग 334 – COER कॉलेज – रुड़की बाईपास/रुड़की शहर

04 – स्नान पर्व पर देहरादून – ऋषिकेश – गढवाल की ओर से आने – जाने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था

आने का मार्ग – नेपाली फार्म – हरिपुर कलां से छोटे वाहन दूधियाबंध पार्किंग/सप्त सरोवर पार्किंग/शन्तिकुञ् पार्किंग
रोडवेज बस – दूधाधारी चौक मेंगो होटल से यूटर्न मोतीचूर पार्किंग
प्राईवेट बस – दूधाधारी चौक – RTO चौक – दूधाधारी पार्किंग

जाने का मार्ग – दूधाधारी पार्किंग /सप्तऋषि पार्किंग/शान्तिकुञ् पार्किंग – मोतीचूर पार्किंग से पुरानी सप्तऋषि पुलिस चौकी से फ्लाईओवर के ऊपर से

05- भारी वाहन— बुधवार 08 अप्रैल शाम से 15 अप्रैल तक हरिद्वार क्षेत्र में भारी वाहनों के प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंध।

हरिद्वार में एंटर नहीं होंगी मैक्स!

हरिद्वार के लिए मैक्स संचालन पर लगा ब्रेक-कोविड-19 जांच रिपोर्ट लेकर ही कर सकेंगे उत्तराखंड में प्रवेश

बिजनौर। नजीबाबाद-हरिद्वार के बीच संचालित होते रहे हैं मैक्स वाहनों की स्पीड पर ब्रेक लग गया है। कोविड-19 के संक्रमण को लेकर उत्तराखंड की सरकार पहले से सख्त नजर आ रही है। इसके चलते नजीबाबाद-हरिद्वार के बीच दौडऩे वाले मैक्स टैक्सी वाहनों के उत्तराखंड में प्रवेश पर रोक लगा दी गयी है। बसों व निजी वाहनों से उत्तराखंड में प्रवेश करने वाले सभी लोगों को कोविड-19 की निगेटिव परिणाम वाली जांच रिपोर्ट देखने और कोविड की जांच करने के बाद ही उत्तराखंड में प्रवेश दिया जा रहा है। गुरुवार को उत्तराखंड सरकार की ओर से नजीबाबाद-हरिद्वार के बीच कोटावाली नदी पुल के दूसरी ओर स्थित श्यामपुर थाने की चिडिय़ापुर चैक पोस्ट पर बसों व निजी वाहनों से उत्तराखंड की ओर जाने वाले सभी लोगों की सघन जांच की गयी। जिन लोगों के पास कोविड-19 की निगेटिव जांच रिपोर्ट नहीं पायी गयी, उन्हें उत्तराखंड में प्रवेश देने से इंकार करते हुए बैरंग लौटा दिया गया। साथ ही निगेटिव जांच रिपोर्ट होने के बावजूद उत्तराखंड के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी यात्रियों का अपने स्तर पर एंटीजन टेस्ट किया। इस दौरान बसों से यात्रा करने वाले यात्रियों को कतारों में लगाकर उत्तराखंड के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कोविड-19 जांच की। इसके चलते बार्डर पर बसों की लंबी लाइनें लगी रहीं। संतुष्ट होने पर यात्रियों को उत्तराखंड में प्रवेश दिया गया। उधर उत्तराखंड पुलिस ने नजीबाबाद-हरिद्वार मार्ग पर यूनियन के माध्यम से संचालित मैक्स वाहनों को उत्तराखंड सीमा में प्रवेश देने से इंकार कर दिया। मैक्स टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष मलखान सिंह का कहना है कि उत्तराखंड प्रशासन की ओर से मैक्स को उत्तराखंड में फिलहाल 28 अप्रैल तक के लिए प्रवेश न देने (अग्रिम आदेशों तक) का फरमान जारी किया है,जिसकी वजह से मैक्स वाहनों का हरिद्वार मार्ग पर संचालन रोक दिया गया है।     

UP उत्तराखंड के अधिकारी बनाएंगे समन्वय

बिजनौर। जिलाधिकारी रमाकान्त पांडे ने उत्तराखंड के सीमावर्ती पुलिस एवं राजस्व अधिकारियों का आह्वान किया है कि जिला बिजनौर में 19 अप्रैल 2021 को संपन्न होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन-2021 को शांति पूर्वक एवं निर्वाध रूप से संपन्न कराने में सहयोग प्रदान करें।

उन्होंने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों में विशेष सतर्कता अभियान का संचालन तथा उत्तराखंड के निवासी जिला बिजनौर के अभियोग में वांछित अभियुक्तों, उत्तराखंड के निवासी गैर जमानती वारंटियों, इनामी अपराधियों तथा पंजीकृत गैंग के सदस्यों के विरुद्ध निरोधात्मक कार्यवाही कर सहयोग प्रदान करें।अधिकारियों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि उन्हें हरिद्वार में आयोजित होने वाले महाकुम्भ कार्यक्रम में जिला प्रशासन द्वारा हर सम्भव वांछित सहयोग उपलब्ध कराया जाएगा।
जिलाधिकारी श्री पाण्डेय आज पूर्वान्ह 11 बजे बरकातपुर चीनी मिल के सभागार में आयोजित आगामी त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन-2021 के दृष्टिगत जिला बिजनौर एवं उत्तराखण्ड राज्य के सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों के साथ आयोजित समन्वय बैठक/गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
जिलाधिकारी ने बताया कि 19 अप्रैल 21 को बिजनौर क्षेत्र में त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन के लिए मतदान होगा। जिला प्रशासन द्वारा जिले में शांतिपूर्वक, निष्पक्ष और भयमुक्त वातावरण में त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन संपन्न कराने के लिए सभी आवश्यक कार्यवाई कर ली गई हैं। उत्तराखंड के सीमावर्ती जिलों से अवैध शराब, अवैध शास्त्रों तथा अवैध खनन की शंका के दृष्टिगत उत्तराखंड राज्य की सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों के साथ समन्वय गोष्टी का आयोजन किया गया है, ताकि जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों से किसी भी प्रकार की असंवैधानिक एवं अवांछित गतिविधियों पर अपेक्षित नियंत्रण स्थापित किया जा सके। उन्होंने उत्तराखंड राज्य के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों का आह्वान किया कि पंचायत निर्वाचन से तीन दिन पूर्व विशेष रूप से सर्तकता अभियान का संचालन करें और सीमा पर आने जाने वाले सभी व्यक्तियों का पंजिका में नाम, मोबाइल नम्बर, पता आदि सम्पूर्ण जानकारियों का इंद्राज करें और जहां पर सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए गए हैं, उनको क्रियाशील रखते हुए सजगता के साथ निगरानी की व्यवस्था करें। साथ ही संदिग्ध व्यक्यिों की विशेष रूप से जांच पड़ताल करने के पश्चात ही उसे सीमा पार करने की अनुमति दें। उन्होंने निर्देश दिए कि मीटिंग के बाद उपस्थित अधिकारीगण अपने अधीनस्थ राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों को बैठक में लिए गए निर्णयों से अवगत कराते हुए विशेष रूप से सजगता एवं सर्तकता के लिए निर्देशित करें ताकि कोई भी अपराधी, अवांछित व्यक्ति जिले की सीमा में प्रवेश न करने पाए।

पुलिस अधीक्षक डॉ धर्मवीर सिंह ने उत्तराखंड के पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों का आह्वान किया कि इस प्रकार की समन्वय बैठकों का आयोजन भविष्य में निरंतर रूप से जारी रखने के लिए कार्य योजना बनाएं, कम से कम त्रैमासिक रूप से इस प्रकार की समन्वय गोष्ठियों का आयोजन निश्चित रूप से होना चाहिए ताकि दोनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों के अधिकारी समन्वय एवं आपसी विचार विमर्श करते रहें, जिससे दोनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों अपराध पर अपेक्षित नियंत्रण स्थापित हो सके। उन्

कार्यक्रम का संचालन अपर पुलिस अधीक्षक नगर डा. परवीन रंजन सिंह ने किया। बैठक के उपरांत अपर पुलिस अधीक्षक संजय कुमार ने सभी अतिथिगणों का हार्दिक धन्यवाद ज्ञापित किया।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनोद कुमार गौड़, अपर जिलाधिकारी वित्त हरिद्वार उत्तम सिंह चौहान, अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धामपुर, अपर पुलिस अधीक्षक कोटद्वार, काशीपुर, हरिद्वार, उप जिलाधिकारी हरिद्वार के अलावा धामपुर, नजीबाबाद, एवं नगीना के उप जिलाधिकारी मौजूद थे।

कॉर्बेट नेशनल पार्क में मिला बेहद दुर्लभ प्रजाति का सांप

कॉर्बेट नेशनल पार्क अंतर्गत कालागढ़ स्थित वन्य जीव प्रशिक्षण केंद्र के परिसर में बेहद दुर्लभ प्रजाति का सांप मिला है।

कालागढ़। वन्य जीव प्रशिक्षण केंद्र के कर्मचारियों की नजर संस्थान के परिसर में मौजूद हरे रंग के लंबे व बेहद पतले सांप पर पडी, लोगों की आहट को भांप कर सांप देखते ही देखते पेड़ों में गायब हो गया। वहीं इससे पहले ही मौके पर मौजूद कर्मियों द्वारा सांप की तस्वीरें ले ली गईं। विभागीय रैस्क्यूअर दीपक ने फोटो देखने के बाद बताया कि उक्त सांप वाइन स्नैक प्रजाति का है। इसे लता सांप भी कहा जाता है। यह मध्यम जहरीला लेकिन बेहद पतला, लम्बा तथा हरे रंग का होता है। यह सांप पेड़ों के ऊपर ही रहकर शिकार करता है तथा पश्चिमी घाटी जैसे वर्षा वनों में पाया जाता है। इस प्रजाति के सांप की यहां मौजूदगी को आश्‍चर्यजनक मानी जा रही है। कालागढ़ के उपवनसंरक्षक केएस खाती ने मामले की पुष्टि की है। वहीं कार्बेट नेशनल पार्क प्रशासन इस प्रजाति के सांप की मौजूदगी पहली बार दर्ज होने से प्रफुल्लित है।

मेरठ के दामाद हैं उत्तराखंड के नए CM, सास ने खुशी में बांटे लड्डू

मेरठ के दामाद हैं उत्तराखंड के नए CM, सास ने खुशी में बांटे लड्डू। मिस मेरठ भी रह चुकी हैं तीरथ सिंह रावत की पत्नी। यूपी में कई पदों पर रहे तीरथ सिंह रावत।

मेरठ। उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत के इस्तीफे के बाद नए मुख्यमंत्री का पद वरिष्ठ नेता तीरथ सिंह रावत को सौंपा गया है। तीरथ सिंह रावत के नाम की घोषणा के बाद मेरठ में खुशी का माहौल है। कारण ये है कि मेरठ में तीरथ सिंह रावत का ससुराल हैं। दामाद के मुख्यमंत्री बनने पर सास की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होंने अपने दामाद को बधाई दी और मिठाई बांटी गई। ढोल की नगाड़ों की थाप पर खुशी मनाई जा रही है। तीरथ सिंह रावत की पत्नी रश्मि त्यागी मिस मेरठ रह चुकी है। इससे पहले उत्तराखंड में धन सिंह रावत, सत्यपाल महाराज, अजय भट्ट और केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरील निशंक मुख्यमंत्रियों के नामों में शामिल थे। लेकिन पार्टी की विधानसभा बैठक में तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री का पद सौंपा गया।


मिस मेरठ भी रह चुकी हैं तीरथ सिंह रावत की पत्नी-
उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत की पत्नी रश्मि त्यागी मिस मेरठ भी रह चुकी हैं।

यूपी में कई पदों पर रहे तीरथ सिंह रावत-भाजपा के राष्ट्रीय सचिव, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व शिक्षा मंत्री तीरथ सिंह रावत 1983 से 1988 तक आरएसएस के प्रचारक रहे। वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, उत्तराखंड के केंद्रीय मंत्री भी रहे। उन्होंने एबीवीपी से राष्ट्रीय मंत्री का पद भी संभाला। कॉलेज के दिनों में तीरथ सिंह हेमवती नंदन गढ़वाल विश्वविद्यालय के छात्रसंघ अध्यक्ष थे, जबकि तीरथ सिंह रावत उत्तराखंड बनने से पहले छात्रसंघ मोर्चा (उत्तर प्रदेश) के प्रदेश उपाध्यक्ष थे।

सौजन्य से-Kridha’s icecream parlour Neelkamal Road civil lines Bijnor

तीरथ सिंह रावत होंगे उत्तराखंड के नए CM

प्रदेश को मिला नया मुख्यमंत्री, त्रिवेंद्र सिंह रावत ने की घोषणा। राजभवन में शाम 4 बजे लेंगे शपथ।

देहरादून। भाजपा मुख्यालय में चली विधान मंडल की बैठक के बाद भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद तीरथ सिंह रावत के नाम पर मुहर लग गई है। वह राजभवन में शाम 4 बजे शपथ लेंगे।

तीरथ सिंह रावत प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री होंगे। निवर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने की तीरथ सिंह रावत के नाम की घोषणा।

इससे पहले विधायक दल की बैठक में शामिल होने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक देहरादून पहुंचे। सूत्र कयास लगा रहे थे कि कई दावेदार होने के चलते सीएम पद के लिए उनके नाम की भी लाटरी निकल सकती है।
संभावना व्यक्त की जा रही थी कि केंद्र में मानव संसाधन मंत्रालय जैसे महत्वपूर्ण विभाग की जिम्मेदारी निभा रहे रमेश पोखरियाल को आलाकमान चुनाव से 10 महीने पहले राज्य में प्रदेश बीजेपी की नैया पार लगाने के लिए जिम्मेदारी सौंप सकता है।
प्रात: 10:00 बजे भाजपा मुख्यालय में विधायक दल की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक के रुप में छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह एवं दुष्यंत गौतम भी देहरादून पहुंच गए थे।

तीन मार्च को जीएम रेलवे के आने की संभावना

तीन मार्च को जीएम रेलवे के आने की संभावना
-सिद्धबली जन शताब्दी का तीन मार्च को होना है शुभारंभ
-प्रवर मण्डल रेल प्रबंधक ने दौरा कर परखी व्यवस्थाएं
बिजनौर। महाप्रपबंधक रेलवे के तीन मार्च को आने की संभावना को देखते हुए प्रवर मण्डल रेल प्रबंधक, उत्तर रेलवे मुरादाबाद ने नजीबाबाद एवं कोटद्वार रेलवे स्टेशन का गहन निरीक्षण किया।
रेल सूत्रों का कहना है कि तीन मार्च को कोटद्वार से दिल्ली के लिए संचालित होने वाली सिद्धबली जन शताब्दी के शुभारंभ के अवसर पर महाप्रबंधक रेलवे आशुतोष गांगल का आना संभावित है। इसी के मद्देनजर रविवार की शाम प्रवर मण्डल रेल प्रबंधक मुरादाबाद एनएन सिंह ने नजीबाबाद व कोटद्वार रेलवे स्टेशनों की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने परिचालन, सफाई व्यवस्था एवं अन्य व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया। साथ ही संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान लगभग सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त पाईं गई। यात्री सुविधाओं एवं सफाई व्यवस्था को और सुधारने के लिए प्रवर मण्डल रेल प्रबंधक एन एन सिंह ने सभी सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस अवसर पर नजीबाबाद जंक्शन रेलवे स्टेशन के कई अधिकारी कोटद्वार स्टेशन के निरीक्षण के दौरान वहीं मौजूद रहे।

सौजन्य से-Kridha’s icecream parlour Neelkamal Road civil lines Bijnor

हाथी-बाघ लगातार कर रहे चहलकदमी


सैडिल डैम इलाके में जंगली जानवरों का आतंक
हाथी-बाघ लगातार कर रहे चहलकदमी
हमलों की आशंका से कर्मचारी सकते में

कालागढ़। सैडिल डैम इलाके में जंगली जानवरों का आतंक दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। वन्यजीवों की लगातार आमद तथा हमलों की आशंका को लेकर कर्मचारी सकते में हैं। इक्कड़ हाथी ने सैडिल डैम स्थित पवेलियन मैदान में पंहुचकर जमकर उत्पात मचाया। हाथी ने वहां मौजूद बेशकीमती फुलवारी को रौंदकर बर्बाद कर दिया। दूसरी ओर बीते कई दिन से मीरा स्रोत तथा कांदरू मंदिर सहित आसपास बाघ को लगातार चहलकदमी देखा जा रहा है। डैम क्षेत्र सहित सडक़ के किनारे वन्यजीवों की मौजूदगी के चलते बांध क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिक तथा कर्मचारी खासे परेशान हैं।
संबंधित जेई अनिल कुमार ने मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि विभागीय उच्चाधिकारियों को मामले से अवगत करा दिया गया है। वहीं सैडिल डैम प्रभारी एई मनोज लिखवार का कहना है कि लगातार वन्यजीवों की मौजूदगी से डैम के अनुरक्षण कार्य प्रभावित हो रहे हैं। इस सम्बन्ध में कॉर्बेट टाईगर रिजर्व के अधिकारियों को पत्र लिखा जाएगा।

STF ने तमिलनाडु में दबोचा 4 साल से फरार अपराधी

उत्तराखंड STF की दक्षिण भारत में बड़ी कार्यवाही, 04 साल से फरार 10 हजार का इनामी तमिलनाडु से गिरफ्तार

मुजफ्फरनगर का शातिर अपराधी, उत्तराखंड से दस हजार का इनाम, चार साल से फरार पेशा-लूट/चोरी, उत्तराखंड STF की रेड, ग्राम- होसुर जिला कृष्णागिरी राज्य तमिलनाडु

देहरादून। मुजफ्फरनगर के शातिर अपराधी जॉन मोहम्मद को उत्तराखंड STF ने तमिलनाडु के जिला कृष्णागिरी से गिरफ्तार कर लिया है। वह चार साल से फरार चल रहा था। उस पर उत्तराखंड से दस हजार का इनाम था। जानकारी के अनुसार स्पेशल टास्क फोर्स की टीम को सूचना मिली कि मुजफ्फरनगर का शातिर अपराधी जॉन मोहम्मद दक्षिण भारत में कहीं छिपा हुआ है। STF के इंस्पेक्टर जवाहर लाल की टीम द्वारा कुछ दिनों तक रेकी कर जानकारी प्राप्त की गयी। पता चला कि उक्त फरार इनामी बदमाश तमिलनाडु के जिला कृष्णागिरी के होसुर ग्राम में पहचान बदलकर कुछ साल से रह रहा है।
इस पर प्रभारी स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा STF व दून पुलिस की संयुक्त टीम बना कर तमिलनाडु भेजा गया। सूत्रों का दावा है कि आज प्रातः संयुक्त टीम (स्पेशल टास्क फोर्स/रायपुर पुलिस) की छापेमार कार्यवाही में चार साल से फरार अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया गया। वहां की कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उसे लाया जाएगा।

कोहरे में भिड़ीं यूपी व उत्तराखंड की रोडवेज बस

बिजनौर। थाना कोतवाली शहर बिजनौर अंतर्गत किरतपुर रोड पर यूपी व उत्तराखंड रोडवेज की बसों में भीषण टक्कर हो गई। कोहरे के कारण हुए हादसे में उत्तराखंड की बस ने आग पकड़ ली। सूचना पर पहुंची फायर सर्विस द्वारा आग पर काबू पाया गया। बिजनौर पब्लिक स्कूल के सामने हुई इस दुर्घटना में 15 सवारियों के घायल होने की सूचना है।

जानकारी के अनुसार थाना कोतवाली शहर बिजनौर अंतर्गत किरतपुर रोड पर रविवार सुबह रोडवेज बस संख्या यूपी 15 बीटी 9121 व उत्तराखंड रोडवेज बस संख्या यूके 07 एफए 2049 में आमने सामने की टक्कर हो गई।

बिजनौर पब्लिक स्कूल के सामने हुई इस दुर्घटना में उत्तराखंड की बस में आग लग गई।  सूचना पर पहुंची फायर सर्विस द्वारा आग पर काबू पाया गया। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी कोतवाली शहर ने मौके पर पहुंच कर राहत व बचाव कार्य शुरू कराया। 15 सवारियों के घायल होने की सूचना है। सभी घायलों को उपचार के लिये अस्पताल ले जाया गया। दोनों बसों की सवारियों को अन्य वाहनों से उनके गंतव्य स्थान की ओर रवाना किया गया। वहीं पुलिस अधीक्षक डॉ धर्मवीर सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर ने मौका मुआयना कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

केदारनाथ कस्बे में नागरिक सुविधाओं के पुनर्विकास में सहायता करेगा NTPC

एनटीपीसी केदारनाथ कस्बे में नागरिक सुविधाओं के पुनर्विकास में सहायता करेगा

देहरादून। कम्पनी सामाजिक दायित्व – कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) पहल के हिस्से के रूप में, देश की सबसे बड़ी एकीकृत बिजली कंपनी और बिजली मंत्रालय के सार्वजनिक उपक्रम (पीएसयू), एनटीपीसी लिमिटेड ने श्री केदारनाथ उत्थान चैरिटेबल ट्रस्ट के साथ 25 करोड़ रुपये की लागत से केदारनाथ कस्बे में नागरिक सुविधाओं के पुनर्विकास के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

एनटीपीसी के निदेशक (एचआर) डीके पटेल की उपस्थिति में, उत्तराखंड सरकार में पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर, आईएएस और एनटीपीसी लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक (सीएसआर / आरएंडआर / एलए) एमएसडी भट्ट मिश्रा के बीच समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

सीएसआर एनटीपीसी के बिजली उत्पादन के व्यवसाय का एक अभिन्न हिस्सा रहा है और सीएसआर प्रयासों के माध्यम से लाखों भारतीयों के जीवन को रोशन करना इसका लक्ष्य है। एनटीपीसी बुनियादी ढांचागत विकास, शिक्षा, सामुदायिक स्वास्थ्य और स्वच्छता, क्षमता निर्माण और महिला-पुरूष आधारित सशक्तिकरण जैसी विभिन्न पहलों का समर्थन कर रहा है।

एनटीपीसी समूह के पास 29 अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं सहित 71 पावर स्टेशन हैं। समूह के पास निर्माणाधीन 20 जीडब्ल्यू से अधिक क्षमता है जिसमें 5 जीडब्ल्यू क्षमता वाली अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं शामिल हैं। पर्यावरण-अनुकूल ऊर्जा परियोजनाओं के माध्यम से सस्ती कीमतों पर बिजली की निर्बाध आपूर्ति करना एनटीपीसी की पहचान रही है।

***

UP की श्रीराम मंदिर झांकी को प्रथम पुरस्कार

गणतंत्र दिवस परेडः उत्तर प्रदेश की झांकी श्रीराम मंदिर को प्रथम पुरस्कार
नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस को राजपथ पर हुई परेड में इस साल उत्तर प्रदेश की ‘अयोध्या में श्रीराम मंदिर’ झांकी को प्रथम स्थान मिला है। दूसरे स्थान पर त्रिपुरा और तीसरे स्थान पर उत्तराखंड की झांकी रही।

केंद्रीय खेल एवं युवा कल्याण मंत्री किरेन रिजिजू ने गुरुवार को रविंद्र रंगशाला में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में उत्तर प्रदेश की झांकी को प्रथम स्थान प्राप्त होने पर राज्य के अपर मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल एवं निदेशक (सूचना) शिशिर को ट्राफी प्रदान की। परेड में 17 राज्यों ने झांकी प्रस्तुत की थी। त्रिपुरा की ‘पर्यावरण हितैषी आत्म निर्भर’ झांकी को दूसरा स्थान मिला है। उत्तराखंड की झांकी ‘केदारखंड’ को तीसरा स्थान मिला है। इस झांकी में केदारनाथ के परिसर को पुननिर्माण को दर्शाया गया। उत्तराखंड की झांकी को पहली बार पुरस्कृत किया गया है।

उत्तर प्रदेश की झांकी के प्रथम भाग में महर्षि वाल्मीकि को रामायण की रचना करते हुए दर्शाया गया। मध्य भाग में जनभावनाओं एवं भक्ति से जुड़े अयोध्या की सांस्कृतिक पहचान के प्रतीक श्रीराम मन्दिर की प्रतिकृति प्रदर्शित की। इसके अलावा झांकी में भगवान राम का निषादराज को गले लगाना, शबरी के बेर खाना, अहिल्या उद्धार, केवट संवाद, भगवान हनुमान द्वारा संजीवनी बूटी लाना, जटायू राम संवाद, अशोक वाटिका आदि के दृश्य भी थे। झांकी में अयोध्या के दीपोत्सव को भी दिखाया गया। इस उत्सव में लाखों दीप जलाये जाते हैं। वर्ष 2017 से लगातार भव्य दीपोत्सव के आयोजन को ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड’ में लगातार तीन बार रिकार्ड दर्ज कराया है। झांकी के दोनों ओर साध्वी एवं संतों को दिखाया, जो प्रभु राम के प्रति भक्ति भावना एवं अनन्य प्रेम को प्रदर्शित करते रहे। अयोध्या के राजा ब्रह्मा के पुत्र मनु के पुत्र इक्ष्वाकु की बसायी गयी अयोध्या उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक नगरी कहलाती है। इसे अष्टचक्र नवद्वार से युक्त अयोध्या कहा गया है, जिसका वर्णन अथर्ववेद में है।

हाथी के हमले में युवक की मौत, शव रखकर ग्रामीणों का प्रदर्शन


मंडल मुरादाबाद के जिला बिजनौर में खेत की रखवाली कर रहे युवकों पर हाथी का हमला, एक की मौके पर ही मौत, शव रखकर ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन, परिवार को मुआवजा और एक सदस्य को नौकरी दिलाने की मांग

बिजनौर (धारा न्यूज़): अफजलगढ़ क्षेत्र के गांव जामनवाला में हाथी ने खेत पर रखवाली कर रहे एक युवक को मौत के घाट उतार दिया। मंगलवार देर रात घटना के समय कई युवक आग जलाकर हाथ ताप रहे थे। बुधवार सुबह मौके पर पहुंचे पुलिस और वन अधिकारियों ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने का प्रयास किया लेकिन परिजन डीएफओ व आला अधिकारियों को मौके पर बुलाने पर अड़ गए। उन्होंने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया।

अफजलगढ़ के गांव जामन वाला का कुलदीप सिंह गोसाई उर्फ चुन्नू (31 वर्ष) पुत्र बहादुर सिंह मंगलवार देर शाम करीब साढ़े सात बजे अपने साथी सुनील, धीरज, रोहित, दीपक, विमल और दिलशाद के साथ गन्ने के खेत की रखवाली करने के लिए गया था। सर्दी से बचने के लिए सभी लोग खेत में आग जला कर हाथ ताप रहे थे। इसी बीच जंगल की ओर से एक हाथी खेत में घुस आया। युवकों ने हाथी को भगाने के लिये शोर मचाना शुरू कर दिया। हड़बड़ाहट में हाथी ने भागते समय पलटकर कुलदीप को उठाकर पटक दिया। कुलदीप की मौके पर ही मौत हो गई। किसी तरह जान बचा कर भागे अन्य युवकों ने ग्रामीणों को सूचना दी। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण व परिजन शोर मचाते हुए मौके पर पहुंचे। तब तक हाथी वहां से भाग चुका था, जबकि कुलदीप का शव वहां पड़ा हुआ था। इसके बाद परिजन शव को घर ले गए। रात में ही वन विभाग को सूचना दी गई। आरोप है कि सूचना के बावजूद कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा।

बुधवार सुबह वन विभाग के रेंजर वीरेंद्र सिंह बोहर, राकेश शर्मा, वन दरोगा सुनील राजौरा के अलावा सीओ अफजलगढ़ सुनीता दहिया, कोतवाल नरेश कुमार पुलिस बल के साथ पहुंचे। अधिकारियों ने परिवार को समझाबुझा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने का प्रयास किया लेकिन परिजन डीएफओ, एसडीएम व अन्य आला अधिकारियों को मौके पर बुलाने के लिए अड़ गए। परिवार को मुआवजा और एक सदस्य को नौकरी दिलाने की मांग करने लगे। डीएफओ की ओर से एसडीओ को भेजा गया, वहीं धामपुर एसडीएम धीरेंद्र सिंह भी मौके पर पहुंच गए हैं।

उत्तराखंड: एक दिन की मुख्यमंत्री बनेंगी हरिद्वार की सृष्टि

देहरादून। 24 जनवरी को बालिका दिवस पर हरिद्वार जनपद की सृष्टि गोस्वामी एक दिन के लिए बाल मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालेंगी। बहादराबाद के दौलतपुर गांव निवासी सृष्टि गोस्वामी बीएसएम पीजी कॉलेज, रुड़की से बीएससी एग्रीकल्चर कर रही हैं। मई 2018 में बाल विधानसभा में बाल विधायकों की ओर से उनका चयन मुख्यमंत्री के रूप में किया गया था। बाल विधानसभा में हर तीन वर्ष में बाल मुख्यमंत्री का चयन किया जाता है। बतौर मुख्यमंत्री सृष्टि गोस्वामी उत्तराखंड के विकास कार्यों की समीक्षा करेंगी। इसके लिए नामित विभाग के अधिकारी बाल विधानसभा में पांच-पांच मिनट अपनी प्रस्तुति देंगे। बाल विधानसभा कक्ष नंबर 120 में दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक आयोजित होगी।

उत्तराखंड बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने इस आशय का पत्र मुख्य सचिव ओमप्रकाश को प्रेषित किया है।

देवप्रयाग के समीप खाई में गिरी कार, सहारनपुर के दो लोगों की मौत

200 मीटर गहरी खाई में गिरी आल्टो कार, सहारनपुर के दो लोगों की मौत, SDRF जुटी

देहरादून। देवप्रयाग से 1 किलोमीटर दूर तीन धारा की ओर एक आल्टो कार नदी में गिर गई। दुर्घटना में सहारनपुर के दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। जानकारी के अनुसार कोतवाली श्रीनगर से SDRF को सूचित किया गया कि देवप्रयाग से 01 किमी आगे तीनधारा की ओर एक आल्टो कार नदी में दुर्घटनाग्रस्त हो गयी है। सूचना प्राप्त होते ही पोस्ट श्रीनगर से एसआई जगमोहन सिंह के निर्देशन में SDRF की रेस्क्यू टीम मय रेस्क्यू उपकरणों के तत्काल घटनास्थल के लिए रवाना की गई। साथ ही पोस्ट ढालवाला से भी एक डीप डाइविंग टीम घटनास्थल के लिए रवाना हुई।
उक्त घटना में एक आल्टो कार अनियंत्रित होने से नदी में दुर्घटनाग्रस्त हो गयी थी। कार में 02 लोग सवार थे, दोनों सवारों की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई। SDRF इंचार्ज जगमोहन सिंह टीम के साथ शवों को नदी से बाहर निकालने में जुट गए। खाई अत्यंत गहरी होने और वाहन लगभग 200 मीटर नीचे गिरा होने से राहत कार्य में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

मृतकों का विवरण:
1. खुर्शीद पुत्र राशिद, उम्र 43 वर्ष, निवासी मोहल्ला गुलाम ओलिया, थाना गंगू, जिला सहारनपुर।
2. शाहमुद्दीन पुत्र अब्दुल हाफिज, उम्र 33 वर्ष, निवासी ऊपरोक्त।

उत्तराखंड का इनामी डकैत UP के बिजनौर से STF ने दबोचा

उत्तराखंड का इनामी डकैत UP के बिजनौर से STF ने दबोचा

STF ने ₹ 5000 के इनामी डकैती के अपराधी फाल्ला को नजीबाबाद से किया गिरफ्तार देहरादून। STF उत्तराखण्ड की अपराधियों के विरूद्व की जा रही लगातार कार्यवाही के अंतर्गत उत्तराखण्ड में गम्भीर वारदात कर विगत कई वर्षो से फरार चल रहे तथा उत्तर प्रदेश व बिहार आदि राज्यों में छुपे ईनामी अपराधियों की गिरफ्तारी की कार्यवाही के क्रम में STF द्वारा रू0 5,000/- के ईनामी अपराधी की गिरफ्तारी की गई है। अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु जनपद हरिद्वार के थाना कलियर की पुलिस के साथ की गई संयुक्त कार्यवाही में जनपद हरिद्वार के थाना कनखल में पंजीकृत डकैती के मु0अ0सं0 372/2018 धारा 395 भा0द0वि0 तथा थाना कलियर में पंजीकृत डकैती के मु0अ0सं0 195/2018 धारा 395/397 भा0द0वि0 में विगत 02 वर्षो से फरार चल रहे रू0 5000/- के वांछित/ईनामी अपराधी को 18 दिसम्बर 2020 को गिरफ्तार किया गया।

15/16 सितम्बर-2018 की रात्रि में जनपद हरिद्वार के थाना कनखल क्षेत्रान्तर्गत रूद्रबिहार कालोनी जमालपुर में विकास कुमार के निवास पर कुछ अज्ञात बदमाशों द्वारा घुस कर उनके साथ मारपीट तथा हथियारों के बल पर उनको डरा धमका कर घर में रखी समस्त ज्वेलरी, नकदी एवं बैग में रखे कुछ कागजात लूट कर डकैती डाली गई थी। उक्त के अतिरिक्त दिनांक 8/9 सितम्बर की रात्रि में थाना कलियर के क्षेत्रार्तगत ग्राम माजरी में महिपाल सिंह के निवास पर कुछ अज्ञात बदमाशों द्वारा घुस कर उनके व उनके परिवार के साथ मारपीट कर उनके सारे गहने आदि लूट कर ले गये थें। उपरोक्त प्रकरण में की गई विवेचना से उक्त दोनों घटना में 7-8 अपराधियों का संलिप्त होना प्रकाश में आया था। जिसमें से 04 अभियुक्त पूर्व में गिरफ्तार किये जा चुके है। फरार अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु आईजी गढ़वाल द्वारा उक्त अभियुक्त फाल्ला की गिरफ्तारी पर नकद पुरूस्कार घोषित किया गया है। गिरफ्तार अपराधी फाल्ला पुत्र शब्बू भी काफी दिनों से फरार चल रहा था।

कार्यालय वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक STF उत्तराखण्ड से प्राप्त जानकारी के अनुसार STF द्वारा अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु महत्वपूर्ण सूचनाओं का संकलन करते हुए जनपद हरिद्वार के थाना कलियर पुलिस एवं STF के उप निरीक्षक के नेतृत्व में एक संयुक्त टीम द्वारा 18 दिसम्बर 2020 को रू0 5000/- के ईनामी अभियुक्त फाल्ला को नजीबाबाद के थाना कोतवाली उ0प्र0 से गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार अभियुक्त का विवरणः-

फाल्ला पुत्र शब्बू निवासी ग्राम जाफरपुर, थाना मैनाठेर, जनपद मुरादाबाद उ0प्र0।

पूछताछ-

गिरफ्तार अभियुक्त फाल्ला द्वारा पूछताछ के दौरान बताया गया कि 15/16 सितम्बर 2018 को हरिद्वार के थाना कनखल क्षेत्र एवं 8/9 सितम्बर की रात्रि में थाना कलियर के क्षेत्रार्तगत ग्राम माजरी में डकैती की वारदात में वह अपने अन्य साथियों के साथ संलिप्त था। अभियुक्त ने पूछताछ के दौरान यह भी बताया कि, किसी साथी के गिरफ्तार होने पर साथ के अन्य लोग सूचना पाते ही अपने डेरे एवं पुराने मोबाईल नम्बर बदलते रहते हैं, जिससे कि वह पुलिस की गिरफ्त में न आ सके।

टीम STF-

1-उप निरीक्षक उमेश कुमार, 2-हे0कान्स0 हितेश, 3-कान्स0 संजय कुमार, 4-कान्स0 कैलाश नयाल।

गिरफ्तारी टीम हरिद्वार:-

1-उप निरीक्षक नीरज मेहरा थाना कलियर 2-कान्स0 अरविन्द थाना कलियर।

——-

उत्तराखंड में 05 IPS का ट्रांसफर

उत्तराखंड में 05 IPS के ट्रांसफर

देहरादून। पुलिस विभाग में 05 IPS के कार्यक्षेत्र में फेरबदल किया गया है। अभिनव कुमार को पुलिस महानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र से तबादला कर प्रभारी अपर पुलिस महानिदेशक प्रशासन की जिम्मेदारी सौंपी गई है। IPS नीरू गर्ग को पुलिस उप महानिरीक्षक गढ़वाल के पद पर तैनाती दी गयी। IPS अरुण मोहन जोशी को पुलिस उप महानिरीक्षक सतर्कता, पीएसी एवं पीटीएस की जिम्मेदारी दी गई है। टिहरी के एसएसपी IPS योगेंद्र सिंह रावत को देहरादून का एसएसपी बनाया गया है और एसडीआरएफ की सेनानायक IPS तृप्ति भट्ट को एसएसपी टिहरी बनाया गया है।

उत्तराखंड: पहले चरण में 20 % लोगों को वैक्सीन

उत्तराखंड में चीन की कंपनियों पर बैन!

पहले चरण में 20 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन

त्रिवेंद्र कैबिनेट बैठक में हुए 29 फैसले

देहरादून। उत्तराखंड त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार की कैबिनेट बैठक में 29 फैसले हुए हैं। सबसे पहले कैबिनेट ने पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष अध्यक्ष मौखूरी को श्रद्धांजलि दी। बैठक में कोरोना की वैक्सीन के टीके लगाने को लेकर विस्तृत चर्चा हुई।

बैठक में तय किया गया कि 20 प्रतिशत लोगों को पहले चरण में वैक्सीन लगाई जाएगी। फ्रंटलाइन में काम करने वाले कर्मचारियों, 55 साल से ऊपर के बीमार लोगों को भी टीका लगाया जाएगा। उत्तराखंड पेयजल निगम की नियमावली बनाई गई है। देहरादून मेडिकल कालेज में 44 सुपर स्पेशियलिटी पदों को स्वीकृति दी गई। रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज में 927 पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई।
नैनीताल में सेंचुरी पल्प मिल की भूमि लीज को लेकर फैसला लिया गया। निजी सुरक्षा एजेंसी की मान्यता को लेकर भी निर्णय लिया गया। अब एक जिले में ही सुरक्षाएजेंसी खोलने की मान्यता मिलेगी। कैबिनेट ने विधानसभा का सत्र आहुत करने को मंजूरी दी है। सत्र 21 से 23 दिसंबर तक आयोजित किया जाएगा।
खादी ग्रामोद्योग बोर्ड में 7 पद स्वीकृत किये गए। आर्ट या फाइन आर्ट के छात्रों को बीएड से राहत देने के लिए अध्ययन किया जाएगा। इसके लिए एक समिति बनाई जाएगी। हरावाला में 300 बेड का सरकारी अस्पताल के लिए सड़क चैड़ीकरण में छूट दी गई है। सिंचाई विभाग के द्वारा लीज पर दिए गए पट्टे वापस लिए जाएंगे।
शहरी क्षेत्रों में गरीब परिवारों को 100 रुपये में पानी का कनेक्शन मिलेगा। ऋषिकेश कर्णप्रयाग निर्माणाधीन रेलवे लाइन भंडार में शिथिलता को लेकर कमेटी बनाई गई। इसके लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाई गई। स्वच्छ भारत मिशन, जल जीवन मिशन के द्वितीय चरण को भी मंजूर किया गया।
स्वामित्व योजना के तहत जमीन विवाद मामलों को निपटारा 10 दिन में करने का फैसला लिया गया। पीजी डॉक्टरों को लेकर सरकार ने फैसला लिया है। उनको तय करना होगा कि आधी सैलरी या स्कॉलरशिप में एक चीज का ही लाभ ले सकेंगे।
उत्तराखंड अधिप्राप्ति नियमावली में बदलाव किया गया। केंद्र सरकार के बदले गए नियमों को राज्य ने अपनाया है। चीनी कम्पनी को उत्तराखंड में ठेका न मिले इसको लेकर नियम बदला गया है। पीएसी, एपी प्रमोशन सूची में महिला पुरुष की अलग – अलग बनाने पर कैबिनेट ने मुहर लगाई है।
उत्तराखंड सरकार के टेंडर में भाग नहीं ले सकेंगी चीन की कम्पनी। अधिप्राप्ति नियमावली में प्रावधान किया।
स्वयं सहायता समूह से सामान खरीदने का प्रावधान भी नियमावली में किया।
उत्तराखंड पेजयल संसाधन एवं निर्माण नियमावली में संशोधन।
देहरादून मेडिकल कॉलेज में 44 सुपर स्पेशलिटी पदों को मंजूरी।
रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज में 927 पदों को मिली स्वीकृति।
नैनीताल में सेंचुरी पल्प मिल की भूमि लीज को लेकर लिया गया फैसला।
देहरादून में अमृत कौर रोड देहरादून पर स्थित नर्सिंग होम को मार्ग शिथिलता प्रदान किए जाने के संबंध में मंजूरी मिली।
निजी सुरक्षा एजेंसियों के लिए राज्य आदर्श नियमावली 2020 में संशोधन किया गया।
उत्तराखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण नियमावली में संशोधन किया गया।
उत्तराखंड खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के लेखा वर्ग के पदों में चार पद खत्म।
उत्तराखंड शहीद आश्रित अनुग्रह अनुदान अधिनियम 2020 कानून बना।
आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण संशोधन अध्यादेश को मंजूरी मिली।
उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग अधिनियम 2014 में संशोधन, पुलिस की भर्ती भी अधीनस्थ सेवा आयोग करेगा।
आबकारी नीति में संशोधन किया गया।
राज्य के निवासियों के लिए ट्रस्ट सोसाइटी एक्ट बनाने को लेकर हरक सिंह रावत की अध्यक्षता में बनी कमेटी को मिली मंजूरी।
हर्रावाला में 300 बेड के अस्पताल के मार्ग के लिए शिथिलता प्रदान की।
सिंचाई विभाग के द्वारा दिए गए पट्टों को वापस लिया जाएगा, देहरादून के राजपुर रोड में दिए गए थे पट्टे।
राज्य के शहरी क्षेत्र में रहने वाले बीपीएल और 100 वर्ग मीटर कम जमीन वालों को 100 रुपये में पानी का कनेक्शन दिया जाएगा।
ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना, भंडारण, स्टोन क्रेशर लगाने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता की कमेटी बनाई गई, 03 दिन में अपनी रिपोर्ट कैबिनेट के सामने प्रस्तुत करेंगे।
स्वामित्व योजना में 10 दिनों में विवादों का निपटारा किया जाएगा।
उत्तराखंड प्रांतीय सशस्त्र पुलिस (पीएससी, एपी और आईआरबी) में पहले महिलाओं और पुरुषों की प्रमोशन की नियमावली एक थी। अब महिलाओं और पुरुषों की वरिष्ठता सूची अलग बनेगी।
——-