छोटे बच्चों से बड़ों में कोविड फैलने का खतरा ज्यादा!

तीसरी लहर के खतरे के बीच चौंकाने वाले आंकड़े

By Hidden Facts- कोरोना वायरस की तीसरी लहर के खतरे के बीच एक चौंकाने वाली रिसर्च सामने आई है। इसमें कहा गया है कि 3 साल से कम उम्र का बच्चा अगर कोरोना संक्रमित होता है, तो घर के बड़े लोगों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा है। कनाडा की स्वास्थ्य एजेंसी पब्लिक हेल्थ, ओंटारियो के रिसर्चर्स ने ये दावा किया है।

जामा नेटवर्क ओपन में पब्लिश इस रिसर्च के मुताबिक 14 से 17 साल के टीन एजर्स के मुकाबले तीन साल से कम उम्र के बच्चों से घर के सदस्यों के संक्रमित होने का खतरा 1.4 गुना ज्यादा है। इसके अलावा, छोटे बच्चों से 20 से 40 साल की उम्र वाले लोगों में संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। जबकि बड़े बच्चों से 40 से 60 साल की उम्र वाले लोगों में संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। रिसर्चर्स का मानना है कि छोटे बच्चों से संक्रमण का खतरा इसलिए भी ज्यादा होता है क्योंकि उनका घर के बाकी सदस्यों के साथ फिजिकल कॉन्टैक्ट ज्यादा होता है। साथ ही छोटे बच्चों को आइसोलेट करना भी मुश्किल होता है, इसलिए इनका ख्याल रखने वाले लोगों में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

6,280 ऐसे घरों में रिसर्च हुई जहां बच्चे संक्रमित थे

  1. बच्चों से बड़ों में संक्रमण फैलने का खतरा किस हद तक है, इसे समझने के लिए रिसर्च की गई। शोधकर्ताओं की टीम 1 जून 2020 से 21 दिसंबर 2020 के बीच 6,280 ऐसे घरों में गई जहां बच्चे संक्रमित थे।
  2. रिसर्च में 4 तरह की एज ग्रुप वाले बच्चे शामिल थे। पहला- 0 से 3 साल, दूसरा- 4 से 8 साल, तीसरा- 9 से 13 साल, चौथा 14 से 17 साल।
  3. रिजल्ट में सामने आया कि 0 से 3 साल के 766 संक्रमित बच्चों से 234 घरों के दूसरे सदस्यों तक संक्रमण फैला। वहीं, 14 से 17 साल की उम्र के 17,636 बच्चों से 2376 फैमिली मेंबर्स में कोविड फैला।
  4. रिसर्चर्स का कहना है कि 1 लाख संक्रमित छोटे बच्चों से 30,548 फैमिली मेंबर्स को संक्रमित होने का खतरा रहता है। दूसरी ओर टीनएजर्स से संक्रमण का खतरा इससे कम रहता है। 1 लाख संक्रमित टीनएजर्स से 26,768 फैमिली मेंबर्स को संक्रमित होने का खतरा रहता है।

छोटे बच्चों में संक्रमण की दो वजह

रिसर्चर्स के अनुसार बड़े बच्चों की तुलना में छोटे बच्चों से परिवार के सदस्यों को संक्रमण का खतरा बढ़ने की दो वजहें हैं।

पहली वजह- छोटे बच्चों के नाक और गले में वायरस लोड, बड़े बच्चों की अपेक्षा ज्यादा होता है।

दूसरी वजह- संक्रमण के बाद किसी तरह का लक्षण नजर न आना। बच्चों के एसिम्प्टोमैटिक होने की वजह से बड़ों तक यह इन्फेक्शन आसानी से पहुंच जाता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि हालांकि बच्चों के जरिए बड़ों में संक्रमण बहुत तेजी से नहीं फैलता है, लेकिन फिर भी अलर्ट मोड में रहने की जरूरत है। अगर घर में बच्चा इन्फेक्टेड है तो माता-पिता और दूसरे बड़े सदस्यों को उसकी केयर के दौरान मास्क जरूर पहनना चाहिए।

…सबसे बड़ा रुपैया, इसलिए मरीज का कर दिया मर्डर

दिल्ली। चेन्नई के राजीव गांधी जनरल अस्पताल में एक कॉन्ट्रैक्ट वर्कर ने महज पांच सौ रुपये के लिए कोरोना पीड़ित महिला की हत्या कर दी। पिछले हफ्ते एक कोरोना पीड़ित महिला का शव मिला था। डॉक्टरों के मुताबिक, यह शव करीब 15 दिनों से अस्पताल के आठवीं मंजिल पर पड़ा था। पुलिस ने अब इस मामले में अस्पताल में ही काम करने वाली कॉन्ट्रैक्ट वर्कर को गिरफ्तार किया है। कोरोना मरीज का शव बीती 8 जून को मिला था। पुलिस ने बताया है कि कॉन्ट्रैक्ट वर्कर पिछले 3 साल से अस्पताल में काम कर रही थी और उसने पैसों के लिए कोरोना मरीज की गला घोंटकर हत्या कर दी। सांस में तकलीफ के कारण 41 वर्षीय सुनीता को राजीव गांधी सरकारी अस्पताल में 22 मई को भर्ती कराया गया था।

जानकारी के मुताबिक, मरीज की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में भी हत्या की पुष्टि हो गई है और आरोपी महिला कर्मी ने भी अपना गुनाह कबूल कर लिया है। आरोपी ने बताया कि उसने पैसों और मोबाइल फोन के लिए पीड़िता की हत्या कर दी। पुलिस अस्पताल में अन्य लोगों से पूछताछ कर आरोपी रति देवी तक पहुंची। रति देवी के पास से मृतका का मोबाइल फोन भी बरामद कर लिया गया है। पुलिस को अस्पताल के अन्य स्टाफ सदस्यों ने बताया कि आखिरी बार रति देवी ही व्हीलचेयर पर सुनीता को ले जाती दिखी थी। सुनीता 23 मई से ही लापता थी। आगे की पूछताछ में पता लगा कि आरोपी रति देवी एक विधवा हैं, जो अपने 22 साल के बेटे और एक बेटी के साथ रहती हैं। उसने सुनीता की हत्या भी इसलिए की क्योंकि उसे पैसों की सख्त जरूरत थी। रति देवी ने पुलिस को बताया कि उसने सुनीता के बैग में 500 रुपये का नोट देखा और उसे चुराने का फैसला किया। इसलिए वह सुनीता को व्हीलचेयर पर स्कैन के बहाने ले गई। वह इमरजेंसी लिफ्ट में सुनीता को आठवीं मंजिल पर ले गई और फिर वहां गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।