सराहना: फाँसी के फंदे से लटकी महिला की पुलिस ने बचाई जान

बिजनौर। झगड़े की सूचना पर पहुंची सिविल लाइन पुलिस ने घर में बहू को पंखे पर लटकने के दौरान बचा लिया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस द्वारा फाँसी के फंदे से महिला को उतराने का लाइव वीडियो भी वायरल हुआ है।

सिविल लाइन चौकी प्रभारी गौरव चौधरी ने बताया कि मंगलवार की शाम उनको सूचना मिली, कि नजीबाबाद मार्ग स्थित काकरान वाटिका के पास प्रगति विहार में झगड़ा हो रहा है। वह अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे, तो उनको आता देख एक पक्ष मौके से फरार हो गया। तभी किसी ने बताया कि पीटने वाले युवक की पत्नी फांसी पर लटक गई है। दरोगा गौरव चौधरी, सिपाही अचिन चौधरी, शुभम सरोहा, महिला सिपाही फिरमिल दौड़कर महिला के कमरे में पहुंचे, तो देखा कि महिला फांसी के फंदे पर झूल रही थी । सिपाही अचिन व शुभम ने तुरंत ही महिला को पैरों से पकड़कर ऊपर उठाया और पास में खड़े एक व्यक्ति ने कैंची से फांसी वाले कपड़े को काट दिया। पलिसकर्मियों ने देखा कि महिला का शरीर गर्म है, तभी आसपास में खड़े एक व्यक्ति ने महिला के सीने को दबाना शुरू किया और एक ने मुंह से महिला को सांस दिया। महिला कुछ होश में आई, तो पुलिस कर्मियों ने उसको एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां महिला का उपचार चल रहा है। चिकित्सकों के मुताबिक महिला की हालत में सुधार है।

इस पूरे मामले की किसी ने वीडियो बना ली, जो शुक्रवार की शाम से सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। चौकी प्रभारी गौरव चौधरी ने बताया कि किरतपुर थाने के गांव छितावर निवासी ईशांत उर्फ संजू की दो साल पहले कोतवाली नगर के गांव हमीदपुर निवासी रामेंद्र की पुत्री निक्की के शादी हुई थी। दोनों की दूसरी शादी थी। शादी के कुछ दिनों बाद से ही दोनों में विवाद चल रहा था। घटना वाले दिन भी निक्की के भाई ईशांत को घर के बाहर पीट रहे थे। इसी झगड़े की सूचना किसी ने पुलिस को दी थी। निक्की के पिता रामेंद्र की तहरीर पर ईशांत के खिलाफ दहेज के लिए मारपीट आदि धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

सुबह जल्दी उठाने से गुस्सा बेटे ने पिता को उतारा मौत के घाट

भोपाल। मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में एक बेटे ने अपने पिता की इसलिए हत्या कर दी कि उसको पिता ने सुबह जल्दी उठने के लिए कह दिया। गुस्से में बेटे ने सीधे बिस्तर से उठकर अपने पिता पर एक के बाद एक चाकू से कई वार किये, जिसके बाद पिता की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया तो वहीं आरोपी बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

शिवपुरी जिले के कोतवाली थाना इलाके की न्यू शिव कॉलोनी में रामेश्वर दयाल (65 वर्ष) अपने बेटे के साथ किराए पर रहते थे। रामेश्वर दयाल का बेटा उपेंद्र शर्मा एक एजेंसी में सेल्समैन का काम करता है। बताया जा रहा है कि रामेश्वर दयाल शर्मा सुबह जल्दी उठकर पूजा पाठ का काम करते थे और इसी दिनचर्या को अपने बेटे को सिखाने का प्रयास कर रहे थे। रोज की तरह सुबह जब रामेश्वर दयाल शर्मा ने अपने बेटे को जल्दी उठाने का प्रयास किया तो उसे यह बात बुरी लगी और क्रोध में उसने चाकू उठाया और अपने पिता का गला काट दिया। पिता पर उसने एक के बाद एक चाकू से कई वार किए, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

यह जानकारी आग की तरह पूरी कॉलोनी में फैल गई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची कोतवाली थाना पुलिस ने आरोपी बेटे को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपी पुत्र ने बताया कि उसका पिता रोज जल्दी सुबह उठने के लिए कहता था। वह सेल्समैन का काम करता है और दिन में बुरी तरह थक जाता है, इसलिए वह पूरी नींद लेना चाहता है, लेकिन रोज की तरह पिता उसे सुबह जल्दी उठाने का प्रयास करते थे और इसी बात से नाराज होकर उसने क्रोध में अपने पिता की हत्या कर दी।

बेटे ने ही उतारा था पिता को मौत के घाट


-बेटा ही निकला बढ़ापुर के प्रीतम का हत्यारा
-दूसरे विवाह से नाराजगी व सम्पत्ति के लिए दिया था घटना को अंजाम
– पुलिस ने मुख्य आरोपी को साले व दोस्त समेत दबोचा


बिजनौर। पुलिस ने प्रीतम हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। इस हत्याकांड को किसी और ने नहीं बल्कि प्रीतम के पुत्र ने ही अपने साले व दोस्त के साथ मिलकर अंजाम दिया था। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।
सोमवार को पुलिस अधीक्षक डा. धर्मवीर सिंह ने पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता कर बताया कि 26 नवम्बर को बढ़ापुर थाने में कैलाश चंद्र ने मुकदमा दर्ज कराया था कि  उसके पिता प्रीतम सिंह (57 वर्ष) को उसकी सौतेली मां बछली ने सिर पर चोट मारकर घायल कर दिया था, जिससे उनकी मौत हो गई थी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया था। मामले के खुलासे के लिए स्वाट/सर्विलांस टीम तथा बढ़ापुर पुलिस को निर्देशित किया गया था। जांच में पाया गया कि मृतक के पुत्र कैलाश चंद्र ने अपने साले संदीप व संदीप के दोस्त सुधांशु के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया है। पुलिस ने तीनों को दबोच लिया। पूछताछ के दौरान कैलाश चंद्र ने बताया कि तीन वर्ष पूर्व उसकी मां की मृत्यु हो गई थी। उसके पिता ने आठ माह पूर्व बछली नामक महिला से शादी कर ली थी, जिसके बाद उसका प्रीतम उसे जमीन-जायदाद से बेदखल करने की धमकी दे रहा था। इससे नाराज होकर उसने इस घटना को अंजाम दिया। एसपी ने घटना का खुलासा करने वाली टीम को 25 हजार का इनाम देने की घोषणा की है।

ISIS के बम धमाकों से काबुल एयरपोर्ट के बाहर 13 की मौत

काबुल एयरपोर्ट के बाहर दो बम धमाके, 13 लोगों की मौत- ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी

काबुल एयरपोर्ट के बाहर दो बम धमाके, 13 लोगों की मौत- ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी

काबुल (एजेंसी)। अफगानिस्तान के काबुल हवाई अड्डे के बाहर दो बम धमाकों में कम से कम 13 लोग मारे गए, जबकि कई अन्य घायल हुए हैं। एयरपोर्ट के पास बने बरून होटल के नजदीक पहला धमाका हुआ, वहां पर ब्रिटेन के सैनिक ठहरे हुए थे। दूसरा धमाका भी एयरपोर्ट के नजदीक ही हुआ। पहले ब्लास्ट के बाद फ्रांस ने दूसरे धमाके को लेकर अलर्ट जारी किया था, जिसके कुछ देर बाद फिर से धमाका हुआ। काबुल एयरपोर्ट और उसके आसपास के इलाकों में धमाके की वजह से अफरा-तफरी का माहौल हो गया। आईएसआइएस ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है।

Afghanistan live news: Taliban report multiple fatalities including  children after two explosions outside Kabul airport | World news | The  Guardian

इस हमले पर पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि काबुल एयरपोर्ट के बाहर धमाका हुआ है। काबुल एयरपोर्ट पर धमाका होने के बाद अफगानिस्‍तान में फ्रांसीसी दूत ने संभावित दूसरे हमले की चेतावनी दी और नागरिकों से कहा कि वह उस क्षेत्र को खाली कर दें। अफगानिस्तान में अमेरिकियों को इस्लामिक स्टेट (आईएस) आतंकवादी समूह से जुड़े खतरों के कारण काबुल हवाई अड्डे से दूर रहने की चेतावनी दी जा रही थी। कई अमेरिकी रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि आफगानिस्तान में आईएसआईएस फिदायीन आतंकी हमला करा सकते हैं। वहीं ब्रिटिश सरकार ने भी गुरुवार को चेतावनी दी थी कि इस्लामिक स्टेट (आईएस या आईएसआईएस) के आतंकवादियों द्वारा अफगानिस्तान में काबुल हवाई अड्डे पर जमा लोगों को निशाना बनाकर हमला किए जाने की ‘बहुत विश्वसनीय’ खुफिया रिपोर्ट है। 

Afghanistan: Two explosions outside Kabul airport amid reports of several  casualties | World News | Sky News

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी इस हफ्ते के शुरू में अमेरिका के नेतृत्व वाले नाटो बलों के 31 अगस्त तक अफगानिस्तान छोड़ने की समय सीमा को बढ़ाने से इंकर करने वाले फैसले की जब घोषणा की थी तब उन्होंने भी अफगानिस्तान में आईएसआईएस से संबद्ध आईएसाईएस के द्वारा हमला किए जाने की आशंका जताई थी। ब्रिटिश सशस्त्र बल मंत्री जेम्स हेप्पी ने बीबीसी से कहा कि ‘बहुत विश्वसनीय’ खुफिया सूचना है कि अफगानिस्तान छोड़ने की कोशिश में काबुल हवाई अड्डे पर जमा हुए लोगों पर इस्लामिक स्ट्टेट जल्द ही हमला करने की योजना बना रहा है।

अफगानिस्तान से निकाले गए भारतीय दूतावास के सभी कर्मचारी

अफगानिस्तान से निकाले गए भारतीय दूतावास के सभी कर्मचारी, IAF के C-17 ग्लोबमास्टर ने 120 नागरिकों के साथ काबुल से भरी उड़ान

अफगानिस्तान से निकाले गए भारतीय दूतावास के सभी कर्मचारी, IAF के C-17 ग्लोबमास्टर ने 120 नागरिकों के साथ काबुल से भरी उड़ान

काबुल.अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से ही हालात बिगड़ने लगे हैं। इस खतरे के बीच अफगानिस्तान में भारतीय दूतावास के सभी कर्मचारियों को निकाल लिया गया है। मीडिया को मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय वायुसेना के विमान ने आज सुबह कर्मचारियों और सभी जरूरी दस्तावेजों को लेकर राजधानी काबुल के एयरपोर्ट से उड़ान भरी। तालिबान के लड़ाकों ने काबुल पर कब्जा कर लिया है।

सूत्रों ने बताया कि भारतीय वायुसेना के C-17 ग्लोबमास्टर विमान ने काबुल से 120 से अधिक भारतीय अधिकारियों के साथ उड़ान भरी है। इन लोगों को बीती देर शाम एयरपोर्ट के सुरक्षित इलाकों में सुरक्षित पहुंचा दिया गया। गौरतलब है कि तालिबान का काबुल पर कब्जा हो चुका है।

सूत्रों ने बताया कि अफगानिस्तान में कई भारतीय मौजूद हैं, जो स्वदेश वापस लौटना चाहते हैं। फिलहाल वे हिंसा वाले इलाकों से दूर सुरक्षित क्षेत्रों में हैं। सरकार उन्हें एक या दो दिनों में सुरक्षित घर वापस लाएगी। माना जा रहा है कि इसके लिए विशेष विमान भेजा जा सकता है। इससे पहले, अफगानिस्तान में फंसे हुए भारतीयों की संख्या को सरकार द्वारा सुरक्षा कारणों के चलते नहीं बताया गया है। रविवार रात को भी एक विमान काबुल पहुंचा और वहां से कुछ भारतीय यात्रियों के साथ सोमवार सुबह भारत लैंड हुआ था। वहीं, दूसरा विमान भी अपने रास्ते पर है, जल्द ही भारत लौटने वाला है। सूत्रों ने बताया है कि इन दोनों को अभी काबुल के कई चक्कर लगाने हैं।

काबुल से निकाले गए भारतीय दूतावास के  सभी कर्मचारी, IAF के विमान ने भरी उड़ान

इससे पहले सोमवार को भारत सरकार ने कहा कि वह अफगानिस्तान में बिगड़ते हालात के बीच अपने नागरिकों की सुरक्षा को सुनिश्चित करेगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि विदेश मंत्रालय ने भारतीय नागरिकों के अफगानिस्तान से भारत लौटने समेत दूसरे मामलों के लिए एक विशेष ‘अफगानिस्तान सेल’ का गठन किया है। लोगों के बीच संपर्क को बढ़ाने के लिए एक मोबाइल नंबर और एक ईमेल आईडी भी जारी की गई है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि अफगानिस्तान में बिगड़ रही स्थिति पर नजर बनी हुई है। भारत लौटने वाले लोगों को लेकर सहयोगियों से चर्चा हो रही है।

वहीं, संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि और सुरक्षा परिषद (UNSC) के अध्यक्ष राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने सोमवार को अफगानिस्तान में शत्रुता और हिंसा को तत्काल समाप्त करने की आवश्यकता पर जोर दिया। साथ ही, उन्होंने कहा कि किसी भी स्वीकृति और वैधता के लिए एक ऐसा राजनीतिक समझौता होना चाहिए जो महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का पूरी तरह से सम्मान करे। तिरुमूर्ति ने कहा कि ब्रीफिंग में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस की टिप्पणी ‘अत्यंत महत्वपूर्ण है और परिषद के सदस्यों को इसे स्वीकार करने की आवश्यकता है।’

टीएस तिरुमूर्ति ने भारत की अध्यक्षता में अफगानिस्तान मामले पर हुई संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक के बाद मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि परिषद के सदस्यों ने भी इस तथ्य की पुष्टि, ‘हमें शत्रुता और हिंसा को तत्काल समाप्त करने की आवश्यकता है। परिषद के सदस्यों के बीच यह भावना भी है कि स्वीकृति और वैधता के लिए एक राजनीतिक समझौता होना चाहिए जो महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का पूरी तरह से सम्मान करे।’ भारत की अध्यक्षता में लगभग दस दिन बाद अफगानिस्तान के हालात पर दूसरी बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक हुई है।

युवक ने जहरीला पदार्थ खाया, मौत

मुकेश कुमार (एकलव्य बाण समाचार)

भागूवाला (नजीबाबाद)। मोहल्ला चमरिया निवासी एक युवक के जहरीला पदार्थ खा लेने से उपचार के दौरान मौत हो गई। परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया।

शुक्रवार की रात्रि चमरिया निवासी अंकित पुत्र भोला की बिजनौर में उपचार के दौरान मौत हो गई। बताया जा रहा है कि शाम के समय अंकित ने घर की कलह को लेकर जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया था। तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने उसको उपचार के लिए नजीबाबाद के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। हालत खराब होने पर उसको बिजनौर के लिए रेफर कर दिया गया। वहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। सूत्रों का कहना है कि परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही अंतिम संस्कार कर दिया।

snewsdaily24@gmail.com