चांदपुर नगरवासियों को चेयरपर्सन फ़हमीदा ख़ातून ने दी शानदार पार्क की सौग़ात

चेयरपर्सन फ़हमीदा ख़ातून ने दी चांदपुर नगरवासियों को शानदार पार्क की सौग़ात

-सहयोग के लिए चांदपुर वासियों का रहेंगे दिल से शुक्रगुज़ार : अरशद अंसारी

बिजनौर। नगर पालिका परिषद चांदपुर की चेयरपर्सन फ़हमीदा ख़ातून ने चांदपुर नगर वासियों की परेशानी और उनकी सेहत को अच्छा बनाने के लिए नगर वासियों को एक शानदार पार्क की सौग़ात दी है। चेयरपर्सन फ़हमीदा ख़ातून ने फ़ीता काटकर पार्क का शुभारंभ करते हुए पार्क नगर वासियों को सौंपा। पार्क में बच्चों के खेलने कूदने व बड़ों के लिए टहलने, जिम के सामान, फूल हरियाली का माकूल इंतजाम किया गया है। चेयरपर्सन पुत्र अरशद अंसारी ने कहा कि उन्होंने 5 साल में शहर को चमकाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। सड़कें नालियां, साफ़ सफ़ाई, बिजली, पानी आदि को प्राथमिकता के साथ किया है।

फ़ीता काटकर पार्क का उद्घाटन करतीं चेयरपर्सन फ़हमीदा ख़ातून साथ में मौजूद समाजसेवी अरशद अंसारी

अरशद अंसारी ने कहा कि उनका मकसद शहर को सभी सुविधाएं उपलब्ध कराना रहा है। उन्होंने ने कहा कि पिछले 5 साल में बिना किसी जाति भेदभाव के साथ चाँदपुर नगर पालिका परिषद का विकास किया गया है। आगे भी चांदपुर क्षेत्रवासियों को शिकायत का मौका नहीं दिया जाएगा।

12 दिसम्बर तक जनपद में लागू धारा-144

12 दिसम्बर तक जनपद में धारा-144 लागू

प्रतिबंध का उल्लंघन करने वाले के विरूद्व धारा-188 के अंतर्गत कार्यवाही की जाएगी- अपर जिला मजिस्ट्रेट (प्रशासन) विनय कुमार सिंह

बिजनौर। अपर जिला मजिस्ट्रेट (प्रशासन) विनय कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि जनपद में विभिन्न प्रकार की परीक्षाओं एवं आगामी नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन आसन्न है उक्त के दृष्टिगत विश्वस्त सूत्रों एवं विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों से संज्ञानित है कि जनपद में तेजी से चल रही राजनैतिक गतिविधियों के परिप्रेक्ष्य में कुछ अवांछनीय तथा असमाजिक तत्व सक्रिय होकर जनपद की लोक प्रशांति एवं साम्प्रदायिक सौर्हाद को प्रभावित कर सकते हैं। अतः उक्त आधार पर जनपद बिजनौर में लोक प्रशांति बनाये रखने हेतु अविलम्ब निषेधाज्ञा लागू किया जाना आवश्यक हो गया है।
उन्होंने बताया कि उपरोक्त के दृष्टिगत तत्काल प्रभाव से आगामी 12दिसम्बर, 2022 तक दण्ड प्रक्रिया की धारा-144 के अधीन निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि उक्त आदेश के किसी भी प्रतिबंध का उल्लंघन करने वाले के विरूद्व धारा-188 के अंतर्गत कार्यवाही की जाएगी।

आवास बनवाने के नाम पर धन मांगने वाले की करें शिकायत: सीडीओ

आवास बनवाने के नाम पर धन मांगने वाले की करें शिकायत: सीडीओ

जिला बिजनौर को 1912 आवासों का लक्ष्य प्राप्त, ऑनलाईन स्थायी प्रतीक्षा सूची से वरीयता क्रम में पात्रता के अनुसार आवासों का होगा आवंटन, धनराशि की मांग करने वालों के खिलाफ दर्ज कराई जाएगी एफआईआर-मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा

बिजनौर। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत सरकारी मकान बनाए जाने के लिए जिला बिजनौर को 1912 आवासों का लक्ष्य प्राप्त हो गया है। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि विकास खण्डवार एवं ग्राम पंचायतवार लक्ष्य का निर्धारण सीधे ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा ही किया गया है। प्राप्त लक्ष्य के सापेक्ष ग्राम पंचायतों में आवास प्लस साइट पर उपलब्ध ऑनलाईन स्थायी प्रतीक्षा सूची से वरीयता क्रम में पात्रता के अनुसार आवासों का आवंटन किया जायेगा।
उन्होंने बताया कि यह सूची किसी भी स्तर पर परिवर्तित नहीं की जा सकती है। उन्होंने जन सामान्य को सूचित करते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में आवास बनाने के लिए किसी कर्मचारी अथवा अन्य व्यक्ति को पैसा न दें। उन्होंने कहा कि यदि किसी लाभार्थी से कोई कर्मचारी अथवा अन्य व्यक्ति आवास बनवाने के नाम पर धनराशि की मांग करता है, तो उसकी शिकायत मुख्य विकास अधिकारी, बिजनौर (मो0नं0 9454416912), परियोजना निदेशक, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण, बिजनौर (मो0न0-7906808872) एवं जिला विकास अधिकारी, बिजनौर (मो0न0-7380300169) से उनके मोबाइल नम्बर पर अथवा लिखित रूप में साक्ष्य के साथ कर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। इसके अलावा यदि कोई ग्राम पंचायत सचिव/सरकारी कर्मचारी अथवा अन्य कोई बाहरी व्यक्ति धनराशि मांगता है, तो उसकी वीडियो/आडियो क्लिप बना लें और तत्काल उसकी सूचना उपरोक्त दूरभाष नम्बरों पर उपलब्ध कराएं ताकि संबंधित दोषी व्यक्तियों के खिलाफ तुरन्त FIR दर्ज करायी जा सके।

बिजनौर की 10 पालिकाएं सामान्य, दो एससी के लिए आरक्षित

बिजनौर की 10 पालिकाएं सामान्य, दो एससी के लिए आरक्षित

बिजनौर। शासन ने निकायों के अध्यक्ष पद के आरक्षण की घोषणा कर दी है। इस बार बिजनौर जिले की दो पालिकाओं किरतपुर और शेरकोट को अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित किया गया है। बाकी दस पालिकाओं में अध्यक्ष पद की सीट सामान्य है। वहीं बिजनौर पालिका को इस बार अनारक्षित कर दिया गया है, जबकि पिछली बार महिला के लिए आरक्षित थी। पिछली बार हुए चुनाव में जिले में सिर्फ हल्दौर पालिका ही एससी वर्ग के लिए आरक्षित थी। इस बार हल्दौर को अनारक्षित की श्रेणी में कर दिया गया है। वहीं पालिका किरतपुर को इस बार एससी वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। शेरकोट में अध्यक्ष अनुसूचित जाति का ही बनेगा। नगर पंचायतों की बात करें तो जिले में झालू को महिलाओं के लिए आरक्षित किया गया है। बाकी पांच नगर पंचायतों में कोई भी चुनाव लड़ सकेगा।

जिले की दस पालिकाओं की स्थिति
बिजनौर – अनारक्षित

नगीना – अनारक्षित

नजीबाबाद – अनारक्षित

नूरपुर – अनारक्षित

स्योहारा – अनारक्षित

चांदपुर – अनारक्षित

नहटौर – अनारक्षित

धामपुर – अनारक्षित

अफजलगढ़ – अनारक्षित

हल्दौर – अनारक्षित

किरतपुर – अनुसूचित जाति

शेरकोट – अनुसूचित जाति

नगर पंचायत आरक्षण

झालू – महिला

मंडावर – अनारक्षित

बढ़ापुर – अनारक्षित

सहसपुर – अनारक्षित

जलालाबाद – अनारक्षित

साहनपुर – अनारक्षित

साइड पटरी इण्टरलॉकिंग रोड व नाली निर्माण के नाम पर हजम कर लिए साढ़े 77 लाख!

भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा, कहानी का दूसरा हिस्सा…

साइड पटरी इण्टरलॉकिंग रोड व नाली निर्माण के नाम पर हजम कर लिए साढ़े 77 लाख!

जांच पड़ताल में मौके पर नहीं पाया गया निर्माण

बिजनौर। नगर पंचायत मण्डावर में पदस्थ लोगों ने भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा पार कर डाली। विकास कार्य के नाम पर करोड़ों रुपए का घोटाला कर लिया गया। सब कुछ सन 2012 से 17 तक के बीच सपा नेता और सभासद की पत्नी के कार्यकाल में हुआ। कई ऐसे कार्य हुए जिनमें घोर अनियमितता कर शासन को कई करोड़ रुपए के राजस्व की क्षति पहुंचाई गई। इस मामले में तत्कालीन जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, अधिशासी अधिकारियों और तीन ठेकेदारों की शिकायत मुख्यमंत्री से की गई थी। मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्कालीन अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) ने जांच कराई।

ऐसे ही एक मामले में आरोप है कि कस्बे में प्रकाश पब्लिक स्कूल से मण्डी समिति की ओर साइड पटरी इण्टरलॉकिंग रोड व नाली का निर्माण कराने के नाम पर रुपए 4333160-00 एवं रुपए-3420807-00 कुल 77 लाख 53 हजार 967 का भुगतान किया गया, जबकि ऐसा कोई कार्य वहाँ पर मौजूद तक नहीं है।

नायब तहसीलदार से जांच करने के बाद एसडीएम ब्रजेश कुमार सिंह ने 19 अक्टूबर 2019 को अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) को लिखित में अवगत कराया कि शिकायत के संबंध में अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर से आख्या प्राप्त की गयी। अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर की आख्यानुसार आवेदक द्वारा प्रार्थना पत्र में यह शिकायत की गयी है कि नगर पंचायत मण्डावर में प्रकाश पब्लिक स्कूल से मण्डी समिति की ओर साईड पटरी इण्टरलॉकिंग रोड व नाली का निर्माण कराया गया है, जिसका सत्यापन सईद अहमद सहायक अभियन्ता प्रा०खं०लोक निर्माण विभाग बिजनौर एवं श्रीमती सीमा रानी वर्मा अधिशासी अधिकारी एवं उमेश बाबू अवर अभियन्ता नगर पंचायत मण्डावर के साथ संयुक्त रूप से किया गया है, जो कि सरासर गलत व निराधार है, जबकि ऐसा कोई कार्य वहाँ पर मौजूद तक नहीं है।

उक्त संबंध में अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर से आख्या प्राप्त की गयी। अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत द्वारा अपनी आख्या में यह उल्लेख किया गया है कि उक्त इण्टरलॉकिंग टाइल्स वर्णित स्थल पर लगायी गयी थीं, जिन्हें पी0डब्लू0डी० द्वारा मार्ग चौड़ीकरण के दौरान हटा दिया गया था, जिसका वर्णन सहायक अभियन्ता चतुर्थ प्रान्तीय खण्ड लो०नि०वि० बिजनौर के पत्रांक संख्या 866 / 1सी0 दिनांक 04.05.2018 में किया गया है। साथ ही उक्त कार्य का सत्यापन गठित समिति के सदस्यों द्वारा किया गया था। बाद में उखाड़ी गयी टाइल्स की नीलामी नगर पंचायत मण्डावर द्वारा दिनांक 10.12.2018 को की गई एवं अवशेष टाइल्स नगर पंचायत मण्डावर में रखी हुई है। 

प्रकाश पब्लिक स्कूल से मण्डी समिति तक रोड

उपरोक्त शिकायत के संबंध में नायब तहसीलदार बिजनौर द्वारा जाँच करायी गयी। नायब तहसीलदार बिजनौर की जाँच आख्यानुसार…

कार्य का विवरण-प्रकाश पब्लिक स्कूल से मण्डी समिति तक इण्टरलॉकिंग टाइल्स। कुल भुगतान राशि- रुपए-4333160-00 एवं रुपए-3420807-00 है।
मौके पर कोई निर्माण नहीं पाया गया। अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर एवं लिपिक द्वारा बताया गया कि उक्त टाइल्स को वहाँ (वर्णित स्थल) से उखाड़ दिया गया है, जिसमें से कुछ टाइल्स को रुपए-50800-00 में नीलाम कर दिया गया है, जिसकी नीलामी पत्रावली नहीं दिखाई गयी और न ही उपलब्ध करायी गयी तथा कुछ टाइल्स रखी हैं। स्थलीय निरीक्षण के समय शिकायतकर्ता मौके पर साथ में उपस्थित रहे।

विवेचना का सार यह है कि अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर एवं नायब तहसीलदार बिजनौर की आख्यानुसार शिकायती प्रार्थना पत्र में वर्णित स्थल पर लगायी गयी थी, जिन्हें पी0डब्लू0डी० द्वारा मार्ग चौड़ीकरण के दौरान हटा दिया गया था, जिसका वर्णन सहायक अभियन्ता चतुर्थ प्रान्तीय खण्ड लो०नि०वि० बिजनौर के पत्रांक संख्या 866/ 1सी0 दिनांक 04.05.2018 में किया गया है, जिनकी नीलामी नगर पंचायत भण्डावर द्वारा दिनांक 10.12.2018 को रुपए-50800-00 में की गयी है एवं अवशेष टाइल्स नगर पंचायत मण्डावर में रखी हुई हैं। नगर पंचायत द्वारा लोक निर्माण विभाग की सड़क पर किस अधिकार के तहत निर्माण कराया गया है तथा इसके लिए कौन अधिकारी उत्तरदायी है, इस संबंध में अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत मण्डावर से आख्या प्राप्त किया जाना समीचीन होगा। निरीक्षण के समय नगर पंचायत द्वारा न तो नीलामी पत्रावली दिखायी गयी और न ही अवशेष टाइल्स और न ही किसी सक्षम अधिकारी से अनापत्ति (एन०ओ०सी०) प्राप्त की गयी, जिससे यह प्रतीत होता है कि उक्त प्रकरण में कहीं न कहीं अनियमितता बरती गयी है व सरकारी धन का दुरूपयोग किया गया है।

कहानी अभी भी बाकी है…

कोर्ट के आदेश पर चेयरपर्सन, सभासद, दरोगा सहित 9 के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज

कोर्ट के आदेश पर चेयरपर्सन, नामित सभासद, दरोगा सहित 9 के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज
– नहटौर के पूर्व कस्बा इंचार्ज सहित 4 पुलिसकर्मियों पर भी रिपोर्ट दर्ज।
– पीड़ित ने सीजीएम के यहां दर्ज कराई थी शिकायत

नहटौर। सीजेएम साबिर अली ने धोखाधड़ी से कम किरायेदारी पर दुकान आवंटित कर गबन करने तथा नगर पालिका परिषद को नुकसान पहुंचाए जाने के मामले में पुलिस ने चेयरपर्सन फिरोजा खातून, पुत्र इजहार उर्फ राजा अंसारी, भाजपा के पूर्व नगर अध्यक्ष व नामित सभासद वैभव गोयल, दरोगा सहित नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करके कार्रवाई शुरू कर दी है।
मोहम्मद साबिर निवासी मोहल्ला हकीमान थाना नहटौर ने सीजेएम के यहां दिए गए प्रार्थना पत्र में अवगत कराया कि वर्ष 2017 में एक दुकान ₹11000 प्रति माह के हिसाब से आवंटित की गई थी। नगर पालिका ने 70 हजार रुपए की धनराशि वादी से प्राप्त करके उसके हक में कर दी थी। साथ ही किरायेदारी की रसीद जारी कर दी थी। आरोप है कि प्रार्थी ने दुकान खोलने की तैयारी शुरू की ही थी कि चेयरपर्सन व उसके पुत्र इजहार उर्फ राजा अंसारी ने मार्च 2021 को किरायेदारी जारी रखने के लिए 4 लाख रुपए मांगे, ना देने पर उक्त दुकान को किसी और के नाम आवंटित करने की धमकी दी। धनराशि ना देने पर चेयरपर्सन व उसके पुत्र ने चक्षु गोयल के नाम दुकान आवंटित करके गबन किया और पालिका को नुकसान पहुंचाया। यह भी आरोप है कि 28 जुलाई 2022 को आरोपी चक्षु गोयल, वैभव गोयल, रमन गोयल व उपनिरीक्षक बबलू सिंह मय फोर्स के उसकी दुकान पहुंचे और गाली गलौज, मारपीट की तथा सामान फेंक दिया। इस मामले में वादी ने पुलिस को अवगत कराया। पुलिस द्वारा कार्रवाई न करने पर सीजेएम के यहां प्रार्थना पत्र दिया। सीजेएम ने प्रार्थना पत्र के आधार पर कार्रवाई करने का आदेश जारी कर दिया। पुलिस ने चेयरपर्सन फिरोजा खातून चेयरपर्सन पुत्र इजहार उर्फ राजा अंसारी, चक्षु गोयल, वैभव गोयल, रमन गोयल, दरोगा बबलू सिंह, सिपाही बिट्टू, प्रदीप, सुनील के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करके कार्रवाई शुरू कर दी है। कोतवाल पंकज तोमर ने बताया कि न्यायालय के आदेश पर मुकदमा पंजीकृत करके कार्रवाई शुरू कर दी है।

अपनी झोली भरने के लिए किया काम
नहटौर। भाजपा नेताओं की विपक्ष नेताओं के साथ मिलीभगत उजागर हो गई है। पुलिस द्वारा दर्ज की गई रिपोर्ट से साबित हो गया है कि भाजपा के नामित सभासद वैभव गोयल और गैर भाजपाई चेयरपर्सन फिरोजा खातून द्वारा विकास कार्यों में मिलीभगत करके काफी गोलमाल किया गया। शासन की ओर से नामित सभासद बनाकर जनहित में कार्य करने की उम्मीद की गई थी लेकिन भाजपा सभासद द्वारा निजी हित में कार्य किया गया और जमकर अपनी झोली भरी गई।

75 घंटे, 750 निकाय: स्वच्छता के अभियान को मिशन मोड पर लाने की शुरूआत

75 घंटे, 750 निकाय: स्वच्छता के अभियान को मिशन मोड पर लाने की शुरूआत

चांदपुर/बिजनौर। “75 घंटे, 750 निकाय ” नाम से स्वच्छता के अभियान को मिशन मोड पर लाने की शुरूआत हो गई है। इस मिशन में खासतौर पर शहर के मुख्य स्थानो पर पडे कचरे को साफ किया गया। कुछ स्थानों का सौंदर्यीकरण कर वहां सेल्फी पॉइंट्स भी बनाए गए। अधिशासी अधिकारी श्रीमती पूर्णिमा ने बताया कि स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल उत्तर प्रदेश के शहरों में अब स्वच्छता के लिए एक नई पहल शुरू की गई है। “75 घंटे, 750 निकाय” नाम से स्वच्छता के अभियान को पूरे प्रदेश में मिशन मोड पर लाने की शुरूआत हुई है। इसमें जहां खासतौर पर कचरा डालने के स्थानों को साफ किया जाएगा, वहीं इन स्थानों का सौंदर्यीकरण कर वहां सेल्फी पॉइंट्स भी बनाए गए हैं। एक दिसंबर से इसकी शुरुआत हुई है।

उन्होंने बताया कि शहरों में कुछ ऐसी जगहें होती हैं, जहां जाने-अनजाने कूड़ा कचरा डंप होने लगता है, लेकिन यूपी में ऐसी जगहों पर अब आपको सेल्फी पॉइंट मिलेंगे।

साथ ही प्रयोग के तौर पर कई शहरों में कचरा फेंकने से रोकने के लिए नगर निगम, पालिका, पंचायत की चौकी भी होगी। ये चौकियां लोगों को स्वच्छता के लिए जागरूक तो करेंगी ही साथ ही इस बात को भी सुनिश्चित किया जाएगा कि लोग कहीं और कचरा न डालें। इस मौके पर चेयरपर्सन श्रीमती फहमीदा बेगम, ईओ उमेश बाबू समेत काफी संख्या में सफाई कर्मी मौजूद रहे।

वार्ड आरक्षण: बहुतेरों के अरमान ध्वस्त, जबकि बहुतों की खिल उठीं बांछे

परिसीमन के बाद बिजनौर में वार्ड हुए 25 से 32


बिजनौर। निकाय चुनावों की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जाने लगा है। हालांकि अभी तारीख तो तय नहीं हुई है, लेकिन वार्ड आरक्षण की सूची शासन ने शुक्रवार को जारी कर दी।
प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात ने राजधानी लखनऊ में गुरुवार को 48 और शुक्रवार को 27 जिलों में स्थित वार्डों के आरक्षण की अनंतिम अधिसूचना जारी की। इसी क्रम में शुक्रवार को जिले की 12 नगर पालिका परिषद और छह नगर पंचायतों के वार्ड का आरक्षण जारी किया गया। इसी के साथ चुनाव लड़ने का सपना संजोए बैठे बहुतेरों के अरमान ध्वस्त हो गए हैं जबकि बहुतों की बांछे खिल गई हैं।

बिजनौर नगर पालिका में सीमा विस्तार के बाद पहला चुनाव हो रहा है। पिछले चुनाव तक बिजनौर नगर पालिका में 25 वार्ड हुआ करते थे, अब 32 वार्ड हो गए हैं। पालिका क्षेत्र में शामिल ग्रामीण आबादी को  भी शहर की सरकार चुनने का मौका मिलेगा। बिजनौर पालिका के वार्ड नंबर एक को अनुसूचित जाति महिला, वार्ड दो को पिछड़ा वर्ग महिला के आरक्षित किया गया है। वार्ड तीन और चार एससी वर्ग, पांच और छह महिलाओं के लिए आरक्षित हुए हैं। सात में पिछड़ा वर्ग जबकि आठ में पिछड़ा वर्ग महिला का आरक्षण है। नौ और दस महिलाओं के लिए, 11 में पिछड़ा वर्ग का आरक्षण है। वार्ड 12, 14, 15, 16, 18, 21, 22, 23, 24, 25, 26, 27, 29 और 31 को अनारक्षित रखा गया है। वार्ड 13 में ओबीसी महिला जबकि 19, 28 और 30 में पिछड़ा वर्ग का आरक्षण है। वार्ड नंबर 17, 20 और 32 भी महिलाओं के लिए आरक्षित हैं।

किरतपुर में महिलाओं के लिए नौ वार्ड आरक्षित
किरतपुर। किरतपुर नगरपालिका के वार्डों के आरक्षण की सूची जारी कर दी है है। किरतपुर नगरपालिका में कुल 25 वार्ड है। जिनमें वार्ड एक आंबेडकर नगर महिला वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। वार्ड दो छज्जुपुरा में अनारक्षित, वार्ड तीन भुड्डी में अनुसूचित जाति महिला, वार्ड चार वाल्मीकि बस्ती में अनसूचित जाति, वार्ड पांच हसनपुरा में महिला, वार्ड छह वलीपुरा में अनुसूचित जाति, वार्ड सात नवादा में अनारक्षित, वार्ड आठ लाड़पुरा में अनारक्षित, वार्ड नौ चमारान में महिला वर्ग, वार्ड दस मिर्जापुरा में पिछड़ा वर्ग, वार्ड 11 चौहनान में अनारक्षित, वार्ड 12 काजियान में पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड 13 बागवानान में महिला वर्ग, वार्ड 14 बुद्धूूपाडा अनारक्षित, वार्ड 15 किला महिला, वार्ड 16 शीशग्रान में अनारक्षित, वार्ड 17 चाहरौनक अनारक्षित, वार्ड 18 मिल्कियान पिछड़ा वर्ग, वार्ड 19 महाजनान अनारक्षित, वार्ड 20 झंडा अनारक्षित, वार्ड 21 अफगानान महिला, वार्ड 22 अंसारियान पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड 23 अहमदखेल में पिछड़ा वर्ग, वार्ड 24 लुकमानपुरा में अनारक्षित, वार्ड 25 मीठाशहीद पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित है।

नगीना पालिका में 11 वार्ड अनारक्षित
नगीना। नगीना नगरपालिका के वार्ड आरक्षण की सूची जारी किए जाने के बाद सभासद का चुनाव लड़ने का सपना संजोए बैठे तमाम नेताओं के अरमानों पर पानी फिर गया। आरक्षण सूची में अपनी मनमर्जी का आरक्षण देख कई नेता गदगद नजर आ रहे हैं। पालिका के 25 वार्ड की जारी आरक्षण सूची में 11 वार्ड अनारक्षित हैं। छह वार्ड महिला, एक अनुसूचित जाति, एक अनुसूचित जाति महिला, चार पिछड़ा वर्ग और एक वार्ड पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित किया गया है। वार्ड नंबर 1, 5, 13,15,16,18,20, 21, 22, 23 और 24 अनारक्षित हैं। वार्ड नंबर 2, 8,11,12,14,17 महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। वार्ड नंबर तीन अनुसूचित जाति महिला, वार्ड नंबर चार अनुसूचित जाति, वार्ड नंबर 6,7,19,25 को पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित किया गया है। वार्ड नंबर 9 और 10 पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित की गई है।

अफजलगढ़ में छह वार्ड महिलाओं के लिए
अफजलगढ़। अफजलगढ़ नगर पालिका के गौहरअली खां उत्तरी वार्ड नंबर एक, बेगमसराय पश्चिमी वार्ड छह, जैनुलाबेदीन पश्चिमी वार्ड संख्या 18, जैनुलाबेदीन उत्तरी वार्ड संख्या 19, नेजोसराय उत्तरी वार्ड संख्या 23 व नेजोसराय पश्चिमी वार्ड संख्या 24 को महिला के लिए आरक्षित किए गए हैं। किला पूर्वी वार्ड संख्या दो, अनुसूचित जाति महिला तथा मंझोली उत्तरी वार्ड संख्या 22, नेजोसराय दक्षिण वार्ड 25 पिछड़े वर्ग की महिला के लिए आरक्षित किया गया है। बेगमसराय पूर्वी वार्ड संख्या सात, नेजोसराय पूर्वी वार्ड संख्या आठ, नायकसराय उत्तरी वार्ड संख्या 10, मुमताज हुसैन पूर्वी वार्ड 12, पिछड़ा वर्ग के लिए तथा किला उत्तरी वार्ड संख्या तीन, गौहरअली खां पूर्वी वार्ड संख्या चार, चिरंजीलाल वार्ड संख्या पांच, नायकसराय दक्षिण वार्ड संख्या नौ, नायकसराय पश्चिम वार्ड 11, मियाजीमौखा पूर्वी वार्ड संख्या 13, मियाजीमौखा उत्तरी वार्ड संख्या 14, मुमताज हुसैन पश्चिमी वार्ड संख्या 15, किला दक्षिणी वार्ड संख्या 16, गौहरअली खां पश्चिमी वार्ड संख्या 17, जैनुलाबेदीन दक्षिणी वार्ड संख्या 20 तथा मंझोली दक्षिण वार्ड संख्या 21 को अनारक्षित घोषित किया गया है।

स्योहारा और सहसपुर के वार्ड आरक्षण
स्योहारा। नगर पालिका स्योहारा के वार्ड एक अनुसूचित जाति महिला, वार्ड दो, तीन और छह, आठ अनारक्षित है। वार्ड चार अनुसूचित जाति, वार्ड पांच और सात पिछड़ा वर्ग, वार्ड 9 व 11, 18 पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड 10,12, 13, 14,17,21 महिला के लिए आरक्षित हैं। वार्ड 15,16,19, 20, 22,23, 24 भी अनारक्षित हैं। वहीं वार्ड 25 पिछड़ा वर्ग घोषित किए गए है।

नगर पंचायत सहसपुर में वार्ड एक और 15 पिछड़ा वर्ग, वार्ड 2 अनुसूचित जाति महिला, वार्ड 3 महिला, वार्ड 4, 5, 6, 7, 8, 10, 13, 14 अनारक्षित हैं। वार्ड 9, 12 पिछड़ा वर्ग महिला, वार्ड 11 महिला के लिए आरक्षित है।

हल्दौर में पांच वार्ड सामान्य वर्ग महिला के लिए
हल्दौर। पांच वार्ड में सामान्य वर्ग की महिला, नौ वार्ड अनारक्षित, दो वार्ड में पिछड़ा वर्ग महिला, तीन वार्ड में अनुसूचित जाति और दो वार्ड में अनुसूचित जाति की महिला का आरक्षण जारी हुआ है।
मोहल्ला जमनावाला और आंबेडकर नगर में महिला, राजीवनगर और मोहल्ला भूड़ उत्तर में पिछड़ा वर्ग महिला, मालीवाला कुंआ, मोहल्ला राजीवनगर उत्तरी, महलवाला, रईसान, शहीद स्मारक, वैश्यान अनारक्षित हैं। जबकि खेड़ा दक्षिण और धूलिया वाला में अनुसूचित जाति महिला, तोल्लावाला, चौधरियान और चमनवाला में अनुसूचित जाति का आरक्षण है। हरवंश बाजार, खेड़ा उत्तर, सैमीवाला में पिछड़ा वर्ग का आरक्षण है।

बढ़ापुर के आठ वार्ड अनारक्षित
बढ़ापुर। बढ़ापुर नगर पंचायत में वार्ड संख्या एक, तीन, आठ, 11, 12, 13,14 और 15 अनारक्षित हैं। वार्ड संख्या छह, 10, चार और पांच पिछड़ा वर्ग महिला एवं वार्ड दो अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित हुआ है।

झालू के दो वार्ड पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित
झालू। झालू नगर पंचायत के वार्ड नंबर 02, 08, 09, 10, 11, 12 को अनारक्षित, वार्ड नंबर 06, 13 को पिछड़ा वर्ग, वार्ड नंबर एक, पांच, 14 को महिला, वार्ड तीन और चार को अनुसूचित जाति महिला, वार्ड सात को पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित किया गया है।

धामपुर नगरपालिका में अनारक्षित किए गए 12 वार्ड
धामपुर। वार्ड नंबर दो, तीन, चार, पांच, 16, 17, 19, 20, 21, 22, 24, 25 को अनारक्षित रखा गया है। वार्ड नंबर एक में अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षण तय किया गया है। वार्ड नंबर छह, सात, 13 महिलाओं के लिए आरक्षित है। जबकि वार्ड नंबर आठ, 18 पिछड़ा वर्ग की महिलाओं के लिए आरिक्षत हैं। वार्ड नंबर 12, 14, 15, 23 पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित किए गए हैं।

चांदपुर में 12, नूरपुर में नौ वार्ड अनारक्षित घोषित
चांदपुर/नूरपुर। नगरपालिका परिषद चांदपुर के लिए जारी सूची के अनुसार वार्ड 3, 5, 6, 7, 8, 11, 16, 18, 20, 21, 22 और 25 अनारक्षित घोषित किए गए हैं। जबकि वार्ड नंबर एक और 17 पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित है। वार्ड दो अनुसूचित जाति महिला तथा 9, 10, 12, 13, 15 और 24 को महिलाओं के लिए आरक्षित किया गया। वार्ड चार, 14, 19 और 23 पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हैं। नूरपुर में 25 वार्ड हैं, जिनमें से रविदासनगर अ, रविदासनगर ब, रामनगर ब, शहीदनगर, रामनगर ब, गोविंदनगर, इस्लामनगर प्रथम, कबीरनगर ब, गोविंदनगर अनारक्षित घोषित किए गए हैं। हजरतनगर ब व इस्लामनगर द्वितीय पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित हुए हैं। इसके अलावा गांधीनगर अ अनुसूचित महिला के लिए आरक्षित है।
बंजारन, इस्लामनगर द्वितीय स, इस्लामनगर ब, रविदासनगर अ पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हैं। रामनगर द्वितीय, हजरतनगर अ पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित हुए हैं। शाहीदनगर ब प्रथम शहीदनगर ब द्वितीय, मोहम्मदनगर हजरतनगर द्वितीय अ पर महिला उम्मीदवार लड़ेंगी

नगरपालिका अध्यक्ष पद के चुनाव में युवा नेता शैंकी ने ठोकी ताल

युवा नेता रजत रस्तोगी उर्फ शैंकी ने नगरपालिका अध्यक्ष पद के चुनाव में ठोकी ताल 

34 साल से रस्तोगी परिवार का है वार्ड नंबर 20 पर कब्जा


बेदाग़ छवि और मिलनसार व्यवहार के कारण नगर में है मजबूत पकड़


स्योहारा। नगर निकाय चुनाव नजदीक आते ही सरगर्मी तेज हो गई है। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहा है सभी उमीदवारों के समीकरण और रुझान भी बदलते दिखाई दे रहे हैं। जहां राजनीतिक पार्टियों से कई भावी उम्मीदवार चुनावी मैदान में है तो वहीं दूसरी ओर निर्दलीय उम्मीदवार भी चुनाव में ताल ठोक चुके हैं। इसी कड़ी में नगर पालिका अध्यक्ष पद के उम्मीदवार सुप्रसिद्ध समाजसेवी, व्यापारी एवं युवा नेता पूर्व सभासद रजत रस्तोगी उर्फ शैंकी भी चुनाव मैदान में उतर चुके हैं। बेदाग़ छवि और मिलनसार व्यवहार के कारण नगर में अपनी मजबूत पकड़ रखने वाले रजत रस्तोगी और शैंकी के परिवार को राजनीति में महारत हासिल है। यह परिवार 34 वर्षों से वार्ड नंबर 20 में बेदाग छवि और विकास कार्यों के कारण लगातार राजनीति करता चला आ रहा है। सन 1988 में युवा नेता रजत रस्तोगी के पिता सुनील कुमार रस्तोगी ने वार्ड नंबर 20 से चुनाव लड़कर जीत हासिल की थी। वह 1988 से 2006 तक लगातार सभासद रहे। 2006 में उनकी मृत्यु होने के बाद 2007 में रजत रस्तोगी की माताजी अर्चना रस्तोगी वार्ड नंबर 20 से चुनाव लड़ीं और जीत हासिल की। वह भी 2007 से 2012 तक सभासद रहीं। उसके बाद 2012 में रजत रस्तोगी इस वार्ड से चुनाव लड़े और ऐतिहासिक जीत हासिल की। इसके बाद रजत रस्तोगी के बड़े भाई सनी रस्तोगी भाजपा से इसी वार्ड पर चुनाव लड़े और जीत दर्ज कराई। वार्ड नंबर 20 पर रस्तोगी परिवार का 34 वर्षों का राजनीतिक इतिहास रहा है। अपने माता-पिता के रास्ते पर चलकर युवा नेता रजत रस्तोगी  हर धर्म व समाज मे अपनी  मजबूत पकड़ रखते हैं। नगर का  हर वर्ग चाहता है कि रजत रस्तोगी उर्फ शैंकी उनके जनप्रतिनिधि बने औऱ हर वर्ग के लोगों को साथ लेकर नगर  का विकास करें। युवा नेता रजत रस्तोगी ने नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिए  चुनाव लडने की मंशा जाहिर करते हुए कहा कि चुनाव लड़ने का उद्देश्य खुद को ऊंचा करना नहीं बल्कि नगर को ऐसा माहौल देना है जिसमें विकास, प्रेम व भाईचारा हो। फिलहाल रजत रस्तोगी के चुनाव मैदान में उतरने से कई उम्मीदवारों के समीकरण बिगड़ते नजर आ रहे हैं।

सेवानिवृत कर्मियों से भी जल, गृहकर वसूल रही पालिका परिषद

बिजनौर। नगर पालिका परिषद, बिजनौर में कार्यरत तथा सेवानिवृत कर्मचारियों को भी जलकर, गृहकर तथा जलमूल्य अदा करना पड़ रहा है। उन्होंने सरकारी कर्मचारियों के समान कोई वित्तीय तथा अन्य कोई सुविधा प्राप्त न होने की बात रखते हुए वर्ष 2014 में उक्त करों से मुक्ति दिलाने की मांग उठाई थी। हालांकि तत्कालीन अधिशासी अधिकारी ने मांगों को स्वीकार करते हुए नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही के निर्देश भी दिए थे। इसके बावजूद अध्यक्ष बदले और अधिशासी अधिकारी भी बदले, लेकिन मामला ठंडे बस्ते में ही पड़ा हुआ है।

27 दिसंबर 2014 को नगर पालिका परिषद बोर्ड की बैठक में कर्मचारियों के प्रार्थना-पत्र पर बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दे पर सहमति व निर्णय हुआ। सभी नियमित, स्थायी तथा सेवानिवृत अधिकारियों / कर्मचारियों को दिनांक 01-04-2014 से उनके जीवन काल तक भूमि भवन कर, जल कर तथा जल मूल्य से मुक्त किया गया। इसके बावजूद  आठ साल बीतने के बाद भी आज तक मामला अधर में लटका हुआ है।

नगर पालिका परिषद बिजनौर बोर्ड की बैठक में कार्यरत तथा सेवानिवृत कर्मचारियों को भी जलकर, गृहकर से मुक्त करने तथा जलमूल्य निःशुल्क प्रदान करने का मुद्दा उठाया गया था। कर-अधीक्षक, कर-निर्धारण अधिकारी तथा अधिशासी अधिकारी को संबोधित करते हुए बताया गया कि वह अल्प वेतन भोगी कर्मचारी हैं तथा उन्हें सरकारी कर्मचारियों के समान कोई वित्तीय तथा अन्य कोई सुविधा प्राप्त नहीं है। वह लोग जलकर, गृहकर तथा जलमूल्य का भुगतान करने में असमर्थ रहते हैं। विशेषकर सेवानिवृत कर्मचारियों की पेंशन राज्य कर्मचारियों से कम होने के कारण, सेवानिवृत कर्मचारी उक्त करों के भुगतान करने योग्य नहीं रहते। नगर निगम कानपुर, आगरा, लखनऊ तथा अन्य नगर पालिका परिषदों में उपरोक्त करों से नगर पालिका में कार्यरत व सेवानिवृत कर्मचारियों को मुक्त किया हुआ है। इसलिए नगर पालिका परिषद, बिजनौर में कार्यरत तथा सेवानिवृत कर्मचारियों को भी जलकर, गृहकर से मुक्त किया करने तथा जलमूल्य निःशुल्क प्रदान करने की मांग की गई।

अवलोकन उपरांत स्वीकृति बोर्ड की ओर से निर्णय हुआ कि  सम्बन्धित पत्रावली पर उपलब्ध कर्मचारियों के प्रार्थना पत्र व कार्यालय की आख्या दिनांक 28-02-2013 और 18-05-2013 का अवलोकन किया गया। प्रस्ताव सर्वसम्मति से स्वीकार्य करते हुए नगर पालिका परिषद बिजनौर के सभी नियमित, स्थायी तथा सेवानिवृत  अधिकारियों / कर्मचारियों को दिनांक 01-04-2014 से उनके जीवन काल तक भूमि भवन कर, जल कर तथा जल मूल्य से मुक्त किया गया। साथ ही निर्णय हुआ कि यह लाभ सम्बन्धित अधिकारी / कर्मचारी को केवल एक उसी भवन/सम्पत्ति तथा वाटर कनैक्शन पर प्राप्त होगा, जिसमें वह स्वयं निवास करता हो, चाहे वह सम्पत्ति / भवन तथा वाटर कनैक्शन उसके स्वयं के नाम हो अथवा पति, पत्नी, माता/पिता व पुत्र, के नाम हो। प्रतिबन्ध यह होगा कि सम्बन्धित भवन/सम्पत्ति का वह आंशिक रूप से अथवा पूर्णरूप से नियमानुसार स्वामी/वारिस भी हो। इसमें नियमानुसार आगामी आवश्यक कार्यवाही के निर्देश भी हुए।

पालिका परिषद के तत्कालीन अधिशासी अधिकारी विकास कुमार ने भी उत्तर प्रदेश गजट, 30 अप्रैल 2022 को आदेश जारी किए कि उक्त प्रकरण में 21 अगस्त 2015 को स्थानीय समाचार पत्र में सूचना प्रकाशित करा कर 30 दिन के भीतर आपत्तियां मांगी गई थीं। निर्धारित समय में कोई आपत्ति नहीं प्राप्त हुई। अतः नगर पालिका अधिनियम, 1966 की धारा 293 एवम उसमें दो गई उप धाराओं तथा शासन द्वारा समय समय पर दिए गए दिशा निर्देशों के क्रम में उक्त निर्णय लिया।

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंद

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंदबीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।

बिजनौर। चांदपुर में पोस्टर/फ्लैक्सी के चक्कर में नपे भावी प्रत्याशी। पुलिस ने दो लाख के मुचलकों में पाबंद किया। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।
मामला बिजनौर जिले के तहसील चांदपुर क्षेत्र का है, जहां भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेन्द्र सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर शीर्ष नेतृत्व के आभार और शुभकामनाओं के पोस्टर फ्लैक्सी लगे हुए हैं।
निकाय चुनाव को लेकर भावी प्रत्याशी चांदपुर में भी जगह-जगह पोस्टर फ्लेक्सी लगा रहे हैं। चांदपुर में ऐसा मानो जैसा एक तरह से पोस्टर वार चल रहा हो। अब इस पोस्टर वार के चक्कर में बेचारे नगर पालिका परिषद के भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद नफीस नप गए, जिसका उन्हें भारी खामियाजा भुगतना पड़ा है।

बताया जाता है कि पुलिस रोड गश्त कर रही थी। इसी दौरान देखा कि मोहम्मद नफीस निवासी मोहल्ला काजीजादगान कस्बा व थाना चांदपुर अपने फ्लेक्सी पोस्टर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के लगे पोस्टर फ्लेक्सी को हटाकर लगवा रहे थे। इसके लिए उन्होंने नगर पालिका से अनुमति भी प्राप्त नहीं की थी। दूसरी ओर यह देखकर लोगों में आक्रोश फैल गया। उनके द्वारा ऐसा काम करने से मना करने पर मोहम्मद नफीस आग बबूला हो गए। मौके पर विवाद बढ़ने लगा।

मना करने पर भी नहीं माने
उधर पुलिस ने शांति भंग होने की आशंका में भावी प्रत्याशी को गिरफ्तार कर लिया और थाने ले आई। फिर उनको न्यायालय भेजा गया। न्यायालय से ₹200000 के मुचलके पर उन्हें जमानत दे दी गई है।

चैयरमैन शहजाद ने नुक्कड़ सभा कर किया चुनाव का आगाज

झालू चैयरमैन शहजाद ने नुक्कड़ सभा कर किया चुनाव का आगाज।

सभा में उमडी भारी भीड़ देख विरोधियों में बौखलाहट

बुजुर्गों एवं महिलाओं ने दिया आशीर्वाद।

जनता की सेवा करने आया हूँ, उनके हक के लिए लड़ता रहूंगा: शहजाद।

बिजनौर। नगर निकाय चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहे हैं प्रत्याशियों ने भी अपने दमखम दिखाने शुरू कर दिये हैं। आदर्श नगर पंचायत झालू के चैयरमैन शहजाद अहमद ने एक चुनावी नुक्कड़ सभा कर विरोधियों की नींद उड़ा दी है। सभा में भारी भीड उमड़ी देख लोगों में सुगबुगाहट शुरू हो गई है कि चैयरमैन शहजाद का प्यार जनता के सिर चढकर बोल रहा है।
मोहल्ला पीरजादगान झोजियान में सतार भट्टे वालों की बैठक पर नुक्कड़ सभा आयोजित की गई। इस दौरान चैयरमैन शहजाद अहमद ने अपने विचार लोगों के बीच में रखे, सभा में लोगों का काफी समर्थन प्राप्त हुआ। नुक्कड़ सभा में भारी भीड़ उमड़ी देख विरोधियों में बोखलाहट शुरू हो गई है। चैयरमैन शहजाद अहमद ने कहा कि मैं जनता की सेवा करने आया हूँ और मैं जनता के हक के लिए लड़ता रहूंगा, चाहे मुझे इसके लिए कितनी बड़ी कुरबानी क्यों ना देनी पड़े, मैं पीछे नहीं हटूंगा। उन्होंने कहा कि जनता का प्यार और आशीर्वाद, जो मुझे मिल रहा है वह बना रहे और हर वक्त मैं आपके काम आ सकूं जहाँ भी आपको मेरी जरूरत महसूस होगी, आपके साथ कांधे से काधां मिलाकर खडा मिलूंगा।

सभा से पूर्व जनसंपर्क भी किया। इस दौरान बुजुर्गों एवं महिलाओं ने चैयरमैन शहजाद को दुआओं से नवाजते हुए तनमन धन से चुनाव लड़ाने का वादा किया। नुक्कड़ सभा की अध्यक्षता सूफी इरफान मलिक राइन की तथा संचालन फरीद एडवोकेट ने किया। सभा में तस्लीम कुरैशी, दादा जक्कड़ कुरैशी, सूफी इरफान राइन, इसरार एडवोकेट, असगर सी डी, जाहिद अंसारी, अशरफ अंसारी, दादा निसार अंसारी, भोला अंसारी, इम्तियाज अंसारी, शाहनवाज अंसारी, नूर अंसारी, दिल्लू , मास्टर ताहिर इदरीसी, मास्टर एहसान इदरीसी, मास्टर नदीम, मोबीन उर्फ (गुड्डू), आसिफ, नदीम शेख, आसिफ शेख, खलील अहमद, इफ्तेखार मलिक, दानिश, नसीम, नवाब शाह, नफीस मिस्त्री, गामा लाइनमैन, फरीद एडवोकेट, मुकीम भट्टे वाले, वरीस, आरिफ, शहजाद कंटरवाले, शकील मंत्री, जाहिद उस्ताद, अकबर मलिक, रईस आदि मौजूद रहे।

खुद के सिंबल पर निकाय चुनाव लड़ेगी बीजेपी!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के नगर निकाय चुनाव बीजेपी अपने सिंबल पर लड़ेगी. नगर निगम में मेयर, पार्षद, नगर पालिका अध्यक्ष पार्षद, वार्ड अध्यक्ष समेत सभी चुनाव बीजेपी अपने ही चुनाव चिन्ह पर लड़ेगी.

महत्वपूर्ण चर्चा- उत्तर प्रदेश में नगर निकाय चुनाव को लेकर लखनऊ में एक दिन पहले ही भारतीय जनता पार्टी की महत्वपूर्ण बैठक हुई थी. संभवतः नगर निकाय के उम्मीदवारों के चयन के पैमानों को लेकर भी चर्चा हुई। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी समेत पार्टी के तमाम बड़े नेताओं के अलावा 7 मोर्चों के शीर्ष नेता भी बैठक में पहुंचे। एमएलसी चुनाव पर भी चर्चा हुई. 

मिली थी विधानसभा चुनाव में बड़ी कामयाबी
विधानसभा चुनाव में ग्रामीण इलाकों में संपर्क बढ़ाने के साथ बीजेपी ने शहरी इलाकों में पकड़ कायम रखी थी. अब वह नगर निगमों, नगर पालिकाओं के चुनाव में भी यही प्रदर्शन कायम रखना चाहेगी. पंचायत चुनावों में bjp ने 85 प्रतिशत से ज्यादा सीटें जीतकर बड़ी कामयाबी पाई थी. 

माननीयों की संतानों को टिकट नहीं
नगर निकाय चुनाव को लेकर बीजेपी ने पहले ही स्पष्ट संकेत दे दिया है कि पार्टी के विधायकों और सांसदों के बेटे-बेटियों और अन्य पारिवारिक सदस्यों को टिकट नहीं दिया जाएगा. उनके परिवार का कोई सदस्य निर्दलीय चुनाव लड़ता है तो उन पर ऐक्शन होगा. संगठन को मजबूत बनाने के लिए एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत लागू कराने की तैयारी है, हालांकि बताते हैं कि ये बदलाव नगर निकाय चुनाव के बाद किया जाएगा. 

जल्दी ही सांगठनिक बदलाव
जल्दी ही संगठन में भी बदलाव की तैयारी की जा रही है। अभी परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह प्रदेश उपाध्यक्ष के पद पर भी हैं. नरेंद्र कश्यप पिछड़ा वर्ग प्रदेश अध्यक्ष के साथ मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. बेबी रानी मौर्य राष्ट्रीय महामंत्री के साथ कैबिनेट मंत्री की जिम्मेदारी देख रही हैं. एके शर्मा प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ ऊर्जा मंत्री हैं. जेपीएस राठौर प्रदेश महामंत्री के साथ स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्री हैं.

अखिलेश यादव ने दिया संगठन की मजबूती पर जोर

पालिका परिषद के चुनाव की सुगबुगाहट। अखिलेश यादव से मिलने लखनऊ पहुंचे बिजनौर के नेता। पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं महमूद कस्सार!

बिजनौर। पालिका परिषद के आसन्न चुनाव को लेकर राजनैतिक दलों में सरगर्मियां परवान चढ़ने लगीं हैं। इसी क्रम में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करने बिजनौर के सपा नेता राजधानी लखनऊ पहुंचे। पार्टी कार्यालय पर शिष्टाचार भेंट के दौरान सपा प्रमुख ने स्थानीय मुद्दों पर गहन चर्चा करते हुए व्यापक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने पार्टी संगठन को और अधिक मजबूत करने के लिए सदस्यता अभियान द्रुतगति से चलाने पर जोर दिया। पूर्व मुख्यमंत्री से मिलने वालों में पूर्व जिला प्रवक्ता खिजर अहमद, नगर अध्यक्ष महमूद कस्सार व मो. आसिफ उर्फ चांद शामिल रहे। सूत्रों का दावा है कि महमूद कस्सार पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं।

अतिक्रमण हटाने के नाम नहीं होने देंगे शोषण: चेयरमैन हाजी अख्तर जलील

नगरपालिका की बोर्ड की मीटिंग का हुआ आयोजन
बिजनौर। स्योहारा नगरपालिका की बोर्ड की एक मीटिंग का आयोजन मीटिंग कक्ष में हुआ, जिसकी अध्यक्षता चेयरमैन हाजी अख़्तर जलील व इओ एपी पांडे ने संयुक्त रूप से की।मीटिंग में गत बोर्ड की मीटिंग की पुष्टि के अलावा नगरपालिका द्वारा चल रहे अतिक्रमण अभियान के अंतर्गत भेदभाव पूर्ण रवैया अपनाने, स्ट्रीट वेंडरों को स्थान मुहैया कराए जाने, पालिका द्वारा अतिक्रमण मुक्त कराए गए सरकारी भूमि पर पालिका द्वारा कब्ज़ा किये जाने, नगर में सड़कों की मरम्मत, निर्माण, गड्ढों, चैनल मरमत, निर्माण का कार्य, भवन के मानचित्रों की स्वीकृति व अन्य बिंदुओं पर विचार अध्यक्ष की अनुमति से रखे गए।


इस मौके पर चेयरमैन हाजी अख्तर जलील ने कहा कि अतिक्रमण हटाने के नाम पर किसी दुकानदार के सामने से कोई भी पटरा तोड़ा नहीं जाएगा। यदि कोई कर्मचारी इस मामले में दोषी पाया गया तो उस पर कार्यवाही की जायेगी।साथ ही इस कार्यवाही में किसी तरह का भेदभाव भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।


इओ एपी पांडे ने भी कहा कि अतिक्रमण हटाने के नाम पर किसी भी दुकानदार का शोषण नहीं किया जाएगा, यदि किसी कर्मचारी की शिकायत मिली तो उसको बक्शा नहीं जाएगा।
इस मौके पर लिपिक देवेन्द्र सिंह, मुकुल विश्नोई, मो. शान के अलावा सभासद इकरामुद्दीन, नसीम कुरेशी, अकरम, मो. यूनुस, यासीन, जयशंकर शर्मा, सनी रस्तोगी, संजीव भारद्वाज, बदर खान, इरफान व कई महिला सभासद भी मौजूद रहीं।

एन्टी लारवा के छिड़काव की डीएम से मांग

नगर में एन्टी लारवा छिड़काव, वार्ड सफाई, मिनी डंपिंग साइट, ब्लीचिंग पाउडर छिड़काव की मांग

अमेठी (हरिकेश यादव)। उत्तर प्रदेश शासन के आदेश के अनुपालन में डा. भीम राव अम्बेडकर जयन्ती के पहले (संचारी रोग नियंत्रण नियंत्रण अभियान 02 अप्रैल से 30 अप्रैल) नगर पंचायत अमेठी में 12 एवं 13 अप्रैल 2022 को प्रातः कालीन सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करें। नालियों में एंटी लारवा का छिड़काव कराया जाए। वृहद नाला सफाई अभियान चलाया जाए। इसके अतिरिक्त वार्डों में स्थित मिनी डंपिंग साइट को साफ करवाते हुए ब्लीचिंग पाउडर डलवाने की मांग जिलाधिकारी अमेठी से की गई।

मांग करने वालों में नगर पंचायत अमेठी के सभासद अरुण कुमार अग्रहरि उर्फ चुन्नू, पुष्पा कनौजिया, रीना जायसवाल, लालता प्रसाद शर्मा, मोहम्मद अकील,आशुतोष मिश्र, मोहम्मद आसिफ, लाईक हवारी, मोहम्मद अली, शहरबानो, मोहम्मद सिद्दीकी, राजा वर्मा, वकील अहमद, बिजय अग्रवाल, राकेश माडवारी, सोनू कसौधन आदि शामिल रहे।

स्ट्रीट वैण्डर्स निधि योजना में धीमी प्रगति पर डीएम नाराज़


अपर जिलाधिकारी प्रशासन को नगर निकाय क्षेत्रों में एमआरएफ सेंटर शुरू न कराने वाले अधिशासी अधिकारियों को चेतावनी जारी करने तथा प्रधानमंत्री स्ट्रीट वैण्डर्स निधि योजना के अंतर्गत 31 मार्च से पूर्व शत प्रतिशत लक्ष्य पूरा करने के अधिशासी अधिकारियों को दिए निर्देश-जिलाधिकारी उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने प्रधानमंत्री स्ट्रीट वैण्डर्स निधि योजना के अंतर्गत अपेक्षित प्रगति न पाए जाने पर असंतोष व्यक्त किया है। उन्होंने अपर जिलाधिकारी प्रशासन को निर्देश दिए कि पूरी गम्भीरता और तत्परता के साथ इस महत्वपूर्ण कार्य में अपेक्षित प्रगति लाएं। साथ ही जिन निकायों द्वारा कार्य में शिथिलता अथवा लापरवाही बरती जा रही है, उनके विरूद्व कार्यवाही अमल में लाएं।

समीक्षा के दौरान डीएम ने लक्ष्य के सापेक्ष कम प्रतिशत वैण्डर्स को ऋण उपलब्ध कराए जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि यह स्थिति खेदजनक है। उन्होंने जिला अग्रिणी बैंक प्रबंधक को निर्देश दिए कि स्ट्रीट वैण्डर्स को ऋण उपलब्ध कराने वाली स्वीकृत पत्रावली को अनावश्यक रूप से लम्बित न रहने दें और प्राथमिकता के आधार पर उन्हें ऋण उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। सभी अधिशासी अधिकारी नगर निकाय को निर्देश दिए कि होली के दृष्टिगत विशेष सफाई अभियान चलाएं और सुनिश्चित करें कि किसी भी स्थान पर सड़क के किनारे कूड़े का ढेर नजर नहीं आना चाहिए और शहीद स्मारकों की भी विशेष रूप से साफ-सफाई कराना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने अपर जिलाधिकारी प्रशासन को नगर निकाय क्षेत्रों में एमआरएफ सेंटर शुरू न कराने वाले अधिशासी अधिकारियों को चेतावनी जारी करने के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी श्री मिश्रा कलक्ट्रेट स्थित सभागार में प्रधानमंत्री स्ट्रीट वैण्डर्स निधि योजना के अंतर्गत आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कार्य की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी केपी सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार सिंह़, जिला अग्रिणी बैंक प्रबंधक, परियोजना अधिकारी सहित बैंकर्स एवं सभी नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी मौजूद थे।

पीडब्लूडी ने शुरू कराया बिजनौर बदायूँ स्टेट हाईवे का निर्माण

पीडब्लूडी ने शुरू कराया बिजनौर बदायूँ स्टेट हाईवे का निर्माण कार्य। छह सौ मीटर टूटे मार्ग में से एक सौ नब्बे मीटर मार्ग पर कार्य शुरू। आचार संहिता के कारण चुनाव बाद आमंत्रित किये जायेंगे बाकी बचे भाग के टेंडर।

बिजनौर। बदायूँ स्टेट हाईवे का पीडब्लूडी द्वारा लगभग दो सौ मीटर का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। इसके कारण जनता को काफी राहत मिलने की उम्मीद है। लगभग छह सौ मीटर टूटे मार्ग में से एक सौ नब्बे मीटर मार्ग पर सीसी रोड बनाया जा रहा है। ठेकेदार द्वारा बताया गया है कि चुनाव के बाद बाकी बचे भाग पर टेंडर आमंत्रित करने के पश्चात कार्य प्रारम्भ कर दिया जायेगा।

पिछले एक वर्ष से जनता द्वारा उक्त मार्ग को बनाये जाने की मांग की जा रही थी। बसपा प्रत्याशी डा शकील हाश्मी भी बार बार अधिकारियों को इस संबंध में अवगत कराते रहे।इसके अतिरिक्त अनेक राजनीतिक पार्टियों की ओर से आन्दोलन किये गये। हालत यह थी कि थोड़ी बारिश के कारण पूरा मार्ग तालाब मे तब्दील हो जाता था, जिसके कारण शहर में जाम की स्थिति पैदा हो जाती थी। यह मार्ग नगर पालिका चाँदपुर के अंतर्गत आता है। नगर पालिका के अधिकारियों की लापरवाही के कारण मार्ग के दोनों ओर गृह स्वामियों ने नालों के ऊपर अतिक्रमण कर लिया, जिसके कारण सडक का पानी नाले में नहीं जा पाता था। इस कारण एसडीएम को खडे होकर इंजन से पानी की निकासी करानी पड़ी।

पीडब्लूडी द्वारा जब नगर पालिका पर सड़क क्षतिग्रस्त करने का क्लेम किया गया, तब जाकर नगर पालिका ने लगभग पचास लाख रुपए पीडब्लूडी को ट्रांसफर किये और फिर मार्ग बनवाने की प्रकिया शुरू की गई। ठेकेदार द्वारा बताया गया है कि बाकी चार सौ दस मीटर का निर्माण कार्य चुनाव आचार संहिता लागू होने के कारण नहीं हो सकेगा। चुनाव के बाद इसके टेंडर आमंत्रित करने के पशचात कार्य प्रारम्भ कर दिया जायेगा। वहीं लोगों का कहना है कि जनता की गाढी कमाई का पैसा पालिका अधिकारियों की लापरवाही के कारण पीडब्लूडी की भेंट चढ गया। जिलाधिकारी को इसकी जवाबदेही तय करनी चाहिये। पीडब्लूडी बिजनौर के अधिकारियों को इस तरफ भी ध्यान देना चाहिए कि निर्माणाधीन सीसी रोड की दोनों ओर दो-दो मीटर इंटरलाकिंग का कार्य भी साथ-साथ हो, क्योंकि बरसात में फिर जनता को परेशानियों का सामना करना पडेगा। फिलहाल सड़क बनने से जनता को थोड़ी राहत जरूर मिलेगी।

अपर आयुक्त ने किया बिजनौर पालिका का निरीक्षण


बिजनौर। अपर आयुक्त (प्रशासन) मुरादाबाद/प्रेक्षक, उ.प्र. विधान सभा निर्वाचन बीएन यादव द्वारा नगर पालिका परिषद, बिजनौर का निरीक्षण तथा शाम 3:00 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में निर्वाचन अधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी प्रमोद कुमार के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।


अपर आयुक्त द्वारा नगर पालिका परिषद, बिजनौर के निरीक्षण के दौरान पत्रावलियों के अव्यवस्थित पाए जाने तथा अभिलेखों का रख रखाव मानक के अनुरूप न पाए जाने पर असंतोष व्यक्त करते हुए उन्होंने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को निर्देश दिए कि व्यक्तिगत रूचि लेते हुए अभिलेखों का सुव्यवस्थित रूप से रखर-खाव कराना सुनिश्चित कराएं। पालिका में सफाई व्यवस्था सही पाए जाने पर अपर आयुक्त द्वारा संतोष व्यक्त किया गया। कर अनुभाग के निरीक्षण के दौरान उन्होंने पत्रावलियों का रखरखाव मानक के अनुरूप न पाए जाने पर अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को संबंधित को निलंबित करने की कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
तदुपरांत श्री यादव द्वारा कलेक्ट्रेट सभागार में उ.प्र. विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम-2021 के द्वितीय चरण के अंतर्गत होने वाले कार्यों की प्रगति का जायजा लिया गया। इस अवसर पर उन्होंने मतदान केन्द्रों के उच्चतम समावेशन एवं विलोपन सम्बंधी कार्य की प्रगति की समीक्षा और संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी आवश्यक सूचनाएं अद्यतन रखते हुए सम्पूर्ण कार्य पूर्ण निष्पक्षता और पारदर्शिता के साथ भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अंतर्गत सम्पन्न कराएं। 

शेख खलीलुर्रहमान के इंतकाल से जनपद को बहुत बड़ा नुकसान

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी के धामपुर सीट से प्रत्याशी हाजी कमाल खान ने नगीना के पूर्व चेयरमैन शेख खलीलुर्रहमान के इंतकाल पर रंजो गम का इजहार करते हुए कहा है कि उनके दुनिया से चले जाने पर जनपद बिजनौर का बहुत बड़ा नुकसान हुआ है।

बहुजन समाज पार्टी के धामपुर सीट से प्रत्याशी हाजी कमाल खान

बुधवार को अपोलो हॉस्पिटल में उपचार के दौरान नगीना के पूर्व चेयरमैन शेख खलीलुर्रहमान का इंतकाल हो गया। इस खबर को सुनकर समूचे जनपद में शोक की लहर दौड़ गई। शेख खलीलुर्रहमान के इंतकाल को जनपद के लिए बहुत बड़ा नुकसान करार देते हुए बसपा प्रत्याशी हाजी कमाल खान ने कहा कि पूर्व चेयरमैन शेख ख़लीलुर्रहमान जनपद की राजनीति में अजीम शख्सियत थे। उनके चले जाने से सभी को गहरा धक्का लगा है। शेख ख़लीलुर्रहमान ने हमेशा से गरीबों और मजलूमों की लड़ाई लड़ी है। उनके व्यवहार और कार्य करने की शैली से लोगों ने उन्हें पसंद किया और उन्हें चार बार नगीना का चेयरमैन बनाया। हाजी कमाल ने कहा कि शेख खलीलुर्रहमान की कमी को पूरा नहीं किया जा सकता। हम अल्लाह से उनकी मगफिरत की दुआ करते हैं, अल्लाह ताला उनके परिवार को सब्र अता फरमाएं।

ईओ द्वारा वेतन काटने की चेतावनी के विरोध में सफाई कर्मचारियों का हंगामा

ईओ द्वारा वेतन काटने की चेतावनी के विरोध में सफाई कर्मचारियों का हंगामा
नूरपुर/बिजनौर। दो दिन पूर्व डयूटी के दौरान कुछ युवकों द्वारा सफाई कर्मी के साथ हुई मारपीट के विरोध में नगर की सफाई व्यवस्था ठप्प कर दो दिन हडताल पर गये कर्मचारियों को पालिका अधिशासी अधिकारी द्वारा दो दिन का वेतन काटे जाने की चेतावनी से गुस्साए सफाई कर्मचारियों ने पालिका परिसर में हंगामा किया। सूचना पर सफाई कर्मचारी संघ के क्षेत्रीय और जिला स्तरीय पदाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर अधिशासी अधिकारी से वार्ता की। वार्ता के दौरान अधिशासी अधिकारी अजीत सिंह द्वारा कोई कार्यवाई न करने का आश्वासन मिलने पर हंगामा शांत हुआ।
बता दें कि तीन दिन पूर्व मुरादाबाद रोड पर सफाई कर्मचारी .मानवेन्द्र उर्फ दिलावर के साथ डयूटी के दौरान कुछ युवकों ने मारपीट की थी। सफाईकर्मी की ओर से मोहल्ला रामनगर निवासी बिजेंद्र, जोगेंद्र व कल्लू पुत्रगण धर्मा के खिलाफ पुलिस मे तहरीर दी गई थी। तहरीर में बाईक चोरी होने का जिक्र भी किया था। इस मामले में पुलिस की कार्यवाही से असंतुष्ट होकर सफाई कर्मचारियो ने नगर की सफाई व्यवस्था ठप्प कर पालिका कार्यालय पर धरना दिया था। दूसरे दिन थाना प्रभारी रविंद्र कुमार द्वारा धरनास्थल पर पहुंचकर तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी और बाईक बरामद होने जानकारी देने पर धरना समाप्त कर बुधवार को सफाई कर्मचारी काम पर लौट आये थे। लेकिन अधिशासी अधिकारी अजित कुमार ने हड़ताल के दौरान दो दिन कार्य बहिष्कार करने पर कर्मचारियों का वेतन काटने और कारण बताओ नोटिस देने की चेतावनी दे दी। इस चेतावनी से आक्रोशित सफाई कर्मचारियों ने पालिका कार्यालय पर जमकर हंगामा किया। सफाई कर्मचारियों के आक्रोश को देखते हुए पालिका अधिशासी अधिकारी को अपना निर्णय वापस लेने को बाध्य होना पडा। वार्ता में सफाई कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष राजाराम मदान, थाना प्रभारी रविंद्र कुमार, रालोद नेता चौधरी अजयवीर सिंह, रवि कुमार, अशोक कुमार, ओमकार सिंह आदि शामिल रहे। उधर, पुलिस ने मारपीट के तीनों आरोपियों का चालान करने का दावा किया है।

हमलावरों की गिरफ्तारी व मुकदमा दर्ज होने के आश्वासन पर धरना समाप्त

नूरपुर/बिजनौर। डयूटी कर लौट रहे पालिका सफाई कर्मचारी पर जानलेवा हमला करने के आरोपियों की गिरफ्तारी और सरकारी कार्य में बाधा डालने के आरोप में मुकदमा दर्ज करने की मांग को लेकर पालिका कार्यालय पर दो दिन से चला आ रहा धरना आश्वासन मिलने पर देर शाम को समाप्त हो गया।


गौरतलब है कि रविवार को सुबह डयूटी कर दफ्तर लौट रहे नगर पालिका परिषद के सफाई कर्मचारी मानवेन्द्र उर्फ दिलावर पर मुरादाबाद रोड पर पेट्रोल पम्प के सामने कुछ युवकों ने जानलेवा हमला बोल दिया था। पीडित की ओर से मोहल्ला रामनगर निवासी बिजेन्द्र, जोगेंद्र व कल्लू पुत्रगण धर्मा के खिलाफ तहरीर दी गई थी। आरोप है कि पुलिस ने आरोपियों पर सरकारी कार्य में बाधा डालने की धाराओं को रिपोर्ट में दर्ज नहीं किया। पुलिस की इस कार्यवाही के खिलाफ सफाई कर्मी सोमवार को नगर की सफाई व्यवस्था ठप्प कर पालिका कार्यालय पर धरना देकर बैठ गये। मंगलवार की देर शाम छह बजे उत्तर प्रदेश सफाई कर्मचारी संघ के जिला महामंत्री अरविन्द सूद और मंगेश पवार की मध्यस्ता में हुई वार्ता में थाना प्रभारी निरीक्षक रविंद्र कुमार वर्मा द्वारा तीनो आरोपियों की गिरफ्तारी और सरकारी कार्य में बाधा डालने की धाराओं में मुकदमा दर्ज करने का आश्वासन दिया गया। आश्वावासन मिलने पर सफाई कर्मचारियों ने धरना समाप्त कर दिया।

धरना देने वालों में यूनियन के शाखा अध्यक्ष ओमकार सिंह, उपाध्यक्ष मोनू कुमार, महामंत्री राहुल कुमार, महामंत्री छम्मेलाल, संगठन मंत्री उमेश कुमार, कोषाध्यक्ष मनीष, महासचिव मुकेश कुमार, उप संगठन मंत्री ललित कुमार, रवि कुमार, अनिल, अशोक कुमार, विमला देवी, सुमन, राधा आदि सफाई कर्मचारी शामिल रहे। उधर, सफाई कर्मचारियों के धरने पर जाने के कारण नगर में सफाई व्यवस्था चौपट रहने से जगह जगह गंदगी के अंबार लगे रहे। इससे नगरवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पडा।

नीलाम पेड़ों के काटने के बाद जड़ें बनीं परेशानी

धामपुर (बिजनौर)। नगर पालिका के शिवाजी पार्क में खड़े पेड़ों की नीलामी के बाद ठेकेदार पेड़ तो काट कर ले गया। मगर जमीन से ऊंची निकल रही उनकी जड़ें बीच रास्ते में होने के कारण मॉर्निंग वॉक पर आने वाले लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई हैं। वहीं नवनिर्मित पुस्तकालय के मुख्य द्वार के बाहर भी पेड़ों की दो जड़ें आवागमन में बाधा उत्पन्न कर रही हैं।
उल्लेखनीय है कि करीब 4 माह पूर्व नगर पालिका द्वारा शिवाजी पार्क में खड़े 50 पेड़ों की नीलामी की गई थी। नीलामी की प्रक्रिया में भाग लेने के लिए जनपद बिजनौर से सैकड़ों ठेकेदारों ने भाग लेकर बोली लगाई थी। सबसे ज्यादा बोली ठेकेदार खूब सिंह की होने के चलते पेड़ों की नीलामी का ठेका ठेकेदार खूब सिंह के नाम छोड़ दिया गया। नीलामी के दौरान पालिका प्रशासन द्वारा शर्त रखी गई थी कि पेड़ों के काटने के बाद उनकी जड़ें भी ठेकेदार को अपने खर्चे पर निकालनी होगी तथा इस दौरान पेड़ों के गिरने से पार्क को होने वाली नुकसान की भरपाई भी ठेकेदार को स्वयं अपने खर्चे पर करनी थी। आरोप है कि ठेकेदार पेड़ों को काटकर तो अपने साथ ले गया मगर उनकी जमीन से निकल रही जड़े वहीं पर छोड़ गया। 4 माह बाद भी जड़ें ना निकलने से पार्क में मॉर्निंग वॉक के लिए आने वाले लोगों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। इन जड़ों के कारण कई लोग चोटिल भी हो चुके हैं। पार्क में जगह-जगह पेड़ों की जड़ें मॉर्निंग वॉक पर आने वाले लोगों की राह में बाधा उत्पन्न कर रही हैं। वहीं परिवहन मंत्री की निधि से 23 लाख रुपए से नवनिर्मित पुस्तकालय के मुख्य द्वार के बाहर भी पेड़ों की दो जोड़े आवागमन में भारी परेशानी उत्पन्न कर रही हैं। नवनिर्मित पुस्तकालय का जल्द ही उद्घाटन भी होने जा रहा है, मगर इसके बावजूद अभी तक पेड़ों की जड़ें निकालने की सुध ठेकेदार द्वारा नहीं ली गई।

जड़े निकालने से पार्क हो जाएगा खराब: ठेकेदार
पेड़ों की नीलामी लेने वाले ठेकेदार खूब सिंह के प्रतिनिधि अमित कुमार का कहना है कि पेड़ों की जड़ें निकालने से शिवाजी पार्क का मैदान खराब हो जाता। इसी कारण जड़े नहीं निकाली गई है।

ठेकेदार को होगा नोटिस जारी ईओ
नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी सुभाष कुमार का कहना है कि नीलामी के बाद पेड़ों की कटाई के दौरान जड़े भी निकालने की शर्ते रखी गई थी। ठेकेदार द्वारा अभी तक जड़े नहीं निकाली गई है। इस मामले में ठेकेदार को नोटिस जारी किया जाएगा तथा पुस्तकालय के उद्घाटन से पूर्व पेड़ों कि जड़ें हटवा दी जाएंगी।

दस माह से लटका है तालाब का सुंदरीकरण, किसान की फसल चौपट


नूरपुर (बिजनौर)। मोहल्ला रविदास नगर में दस माह से तालाब का सुंदरीकरण लटका होने से किसान की फसल चौपट हो रही है। समस्या के समाधान हेतु पालिका अधिकारियों और आला अधिकारियों को कई बार लिखित प्रार्थना पत्र देने के बावजूद कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

नगर पालिका परिषद द्वारा दस माह पूर्व मोहल्ला रविदास नगर के खसरा संख्या 297 पर तालाब के सुन्दरीकरण का कार्य शुरू कराया गया था। निर्माण ठेकेदार द्वारा तालाब सुंदरीकरण का कार्य अभी तक अधूरा रहने के कारण आसपास के खेतों में पानी का भराव होने लगा है। इस कारण खेतों में खड़ी फसलों को भारी नुकसान हो रहा है।
खेत स्वामी चौधरी अजयवीर सिंह एडवोकेट ने बताया कि तालाब का निर्माण कार्य अधूरा होने से गन्ने के खेतों में पानी भरने लगा है। इस कारण गन्ने की कटाई नहीं हो पा रही है। चीनी मिलें चालू होने को लेकर खेत में खड़े गन्ने के प्रति चिंता सता रही है। इसके अलावा जिन खेतों में गेहूँ की बुवाई होनी है, वहां भी जलभराव होने से गेहूँ की बुवाई नहीं हो पा रही है। खेत स्वामी का आरोप है कि वे इस समस्या के समाधान हेतु पालिका अधिकारियों और आला अधिकारियों को कई बार लिखित प्रार्थना पत्र दे चुके है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

बची रहेगी राेेजगार सेवकों की नौकरी

लखनऊ। ग्राम पंचायतों में काम कर रहे राेेजगार सेवकों को नौकरी से निकाला नहीं जाएगा। मनरेगा सम्मेलन के मंच से सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य की 600 ग्राम पंचायतें अब नगर निकाय का हिस्सा हो गई हैं। इन पंचायतों के ग्राम रोजगार सेवकों को सेवा से निकाले जाने का खतरा था। ऐसा नहीं होने दिया गया। 415 को दूसरी पंचायतों में तैनाती दी गई है, किसी को भी नौकरी से नहीं निकाला जाएगा। जो बचे हैं उन्हें भी जल्द तैनाती दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि किसी ग्राम रोजगार सेवक का करीबी रिश्तेदार गांव का प्रधान चुन लिया गया है तो भी उसे सेवा से न हटा कर दूसरी पंचायतों में तैनात किए जाने का इंतजाम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार मनरेगा में और काम जोड़ने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020-21 में 12622 करोड़ रुपए खर्च कर 1.16 करोड़ रोजगार सृजन किया गया। 39.46 करोड़ मानव दिवस का सृजन करने वाला यूपी देश का पहला राज्य बना। पीएम आवास योजना में 42 लाख आवास दिये। इसमें भी यूपी पहले नंबर है। चार साल में 103.27 करोड़ मानव दिवस सृजित किया गया, जिसमें से अकेले वर्ष 2020-21 में ही 39.46 करोड़ में किया गया। 26 जून 2020 को एक दिन में राज्य में 62.25 लाख मजदूर मनरेगा के तहत काम पर लगे थे। इतिहास में कभी ऐसा नहीं हुआ था। 7.79 लाख परिवारों को 100 दिन मनरेगा के तहत रोजगार दिया। किसानों को सिंचाई और खेत तालाब योजना का काम कर लाभ पहुंचाया। 2020-21 में ही 25 नदियों को मनरेगा के तहत पुनर्जीवित किया गया।

अपर आयुक्त व कई अन्य का सम्मान

कोरोनाकाल में मनरेगा के तहत राज्य में रिकार्ड लोगों को रोजगार से जोड़ने पर अपर आयुक्त मनरेगा योगेश कुमार सम्मानित किए गए। ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह ‘‘मोती सिंह’’ ने उनकी सराहना की। मुख्यमंत्री के हाथों मंच पर सम्मानित होने वालों में मनरेगा के तहत एक साल में 100 दिन काम करने वाले कई किसान व अफसर शामिल हैं।

मोदीनगर शहर के साथ पालिका प्रशासन कर रहा सौतेला व्यवहार: आशीष शर्मा

पालिका सभासदों के अनिश्चितकालीन धरने को कांग्रेस ने दिया समर्थन। शहर अध्यक्ष आशीष शर्मा ने लगाया आरोप मोदीनगर शहर के साथ पालिका प्रशासन कर रहा है सौतेला व्यवहार


मोदीनगर। शहर कांग्रेस कमेटी मोदीनगर के तत्वाधान में शहर अध्यक्ष आशीष शर्मा के नेतृत्व में नगर पालिका परिषद मोदीनगर गेट पर पालिका सभासदों द्वारा शहर की विभिन्न समस्याओं को लेकर चल रहे अनिश्चितकालीन धरने पर पहुँचकर भारी संख्या में कांग्रेसजनों के साथ अपना समर्थन पत्र सौंपा।

इस मौके पर शहर अध्यक्ष आशीष शर्मा ने कहा कि पालिका प्रशासन शहर के साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है। पूरे शहर में गढडे हैं, सारी गलियां टूटी पड़ी हैं। सीकरी रोड, फफराना रोड, महेश मार्ग, तिबड़ा रोड, आन्नदीपुरा, गुरूद्वारा रोड, सौंदा रोड, महेन्द्रपुरी सी लाईन, बिसोखर रोड, गोविन्दपुरी, सारा रोड, हरमुखपुरी सभी सड़के टूटी पड़ी हैं। सीवरेज योजना में अनिमितताएं बरती जा रही हैं। वार्डो में कूड़े के ढेर लगे हुए हैं, लेकिन पालिका प्रशासन इन सब समस्याओं से अपनी आंख मूंदे बैठा है।
शहर अध्यक्ष आशीष शर्मा ने सभी सभासदों को कांग्रेस कमेटी की ओर से आश्वस्त किया कि आपके हर संघर्ष में कांग्रेस कमेटी कंधे से कंधा मिलाकर आपके साथ है।

इस मौके पर इंटक प्रवक्ता सुरेश कुमार शर्मा, शहर उपाध्यक्ष पंकज सोई, डा. रवि सिंह, शहर महासचिव नंद किशोर शर्मा, हरविन्द्र भुटानी, शारदा सैन, शहर सचिव बीना ठाकुर, ममता शर्मा, इन्द्रा शर्मा, निर्मल पाॅल, गुलबीर भारद्वाज, पवन कोरी, ईशांत सहगल, कोषाध्यक्ष श्रीओम शर्मा, अरमान मेंहदी, रोहित सिंह अध्यक्ष सेवादल युथ विंग, आकाश वर्मा, वार्ड अध्यक्ष अरूण शर्मा, विनय कुमार, समीर, जितेन्द्र कुमार, राजेन्द्र शर्मा, मुकुल शर्मा, प्रेम कुमार सिंह, महेश दत्त शर्मा, इन्द्रा पाॅल, रामकिशन शर्मा, सन्नी कुमार ब्लाक अध्यक्ष एससी, सुरज कुमार, गोपाल शर्मा, सोमदेव शर्मा, अमन सहित काॅफी संख्या में कांग्रेसजन मौजूद रहे।

पालिका की नाकामी, दुकानदार खुद साफ कर रहे नाली

इसे पालिका की नाकामी ही कहा जाएगा कि दुकानदारों को खुद नालियां साफ करनी पड़ रही हैं। नगर पालिका परिषद नजीबाबद के सफाई कर्मचारियों को जैसे सफाई करने की अपनी ड्यूटी से बैर है। स्टेशन वाली मस्जिद के समीप दुकानदार स्वयं नाली साफ करने को मजबूर हो गए हैं। यहां से गुजरने वाले नमाजियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं ईओ साहब कान में तेल डाले बैठे हुए हैं। जनता की समस्याओं का निदान तो तब होगा, जब वो फोन रिसीव करने की जहमत उठाएंगे। नागरिकों और दुकानदारों ने इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से करने का मन बना लिया है।

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। नजीबाबाद नगर पालिका परिषद की उपेक्षा के चलते नालियों से दुर्गंध उठ रही है। इस वजह से स्टेशन रोड पर दुकानदारों ने स्वयं ही नालियों की सफाई करते हुए कूड़ा बाहर निकाला। 

नगर पालिका परिषद की ओर से यूं तो कई बार नगर के सभी छोटे-बड़े नालों व नालियों की बरसात से पहले तलछट सफाई कराए जाने का आश्वासन नागरिकों को दिया गया, परंतु इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। इस वजह से नगर के विभिन्न नालों व नालियों से गर्मी के मौसम में दुर्गंध उठ रही है। दुर्गंध के चलते दुकानदारों को अपनी दुकानों पर बैठकर कारोबार करना दूभर हो रहा है। दुकानदारों ने इस समस्या को लेकर कई मर्तबा नगर पालिका परिषद को अवगत कराते हुए नालियों की तलछट सफाई कराए जाने की मांग की, परंतु नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा।

मस्जिद क्षेत्र में दुर्गंध का साम्राज्य- ऐसा ही हाल रेलवे स्टेशन मार्ग पर भी बना हुआ है। रेलवे स्टेशन वाली मस्जिद की के नीचे की ओर मस्जिद की दुकानें हैं। मस्जिद के समीप से होकर गुजर रही नालियों की सफाई न होने के चलते क्षेत्र में दुर्गंध का वातावरण बना हुआ है। नालियों में कूड़ा अटा रहने के चलते नालियों का पानी निकलकर सड़क पर बहने लगता है। ऐसे में मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए जाने वाले नमाजियों के कपड़ों पर भी गंदगी लग जाती है और उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। मस्जिद के आसपास के क्षेत्र में दुकानें करने वाले दुकानदारों फिरोज खान, मौहम्मद फहीम, मौहम्मद साद, नवाब खान, मौहम्मद राशिद, मौहम्मद शुएब, मौहमद शाकिर, उस्मान गनी आदि का कहना है कि बरसात शुरु होने के कगार पर है और दूसरी ओर गर्म मौसम के चलते नालियों से उठ रही दुर्गंध के चलते रेलवे स्टेशन रोड के दुकानदारों का अपनी दुकानों पर बैठकर कारोबार करना दूभर हो गया है। इसका मुख्य कारण नगर पालिका परिषद नजीबाबाद के सफाई कर्मियों की ओर से स्टेशन वाली मस्जिद के आसपास की दुकानों के बाहर की नालियों की सफाई न किया जाना है। उनके कई मर्तबा कहने पर भी नगर पलिका परिषद अनदेखी कर रही है। इसको देखते हुए उन्होंने खुद ही नाली को साफ करने की सोची और दुकानदारों ने मिल कर क्षेत्र से होकर गुजरने वाली नाली की कीचड़ बाहर निकाल कर ढेर लगाया। नालियों की कीचड़ निकालने के बाद अब गंदे पानी के नालियों से बाहर न आ पने से जहां नमाजियों के कपड़े खराब नहीं होंगे, वहीं दुकानों पर बदबूदार माहौल में नहीं बैठना पड़ेगा।

फोन रिसीव नहीं करते ईओ साहब- बरसात से पहले नगर क्षेत्र के सभी नालों व नालियों की तलछट सफाई का भरोसा दिलाने वाले नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी विजय पाल सिंह से इस संदर्भ में बातचीत करनी चाही परंतु वह अपने कार्यालय में उपलब्ध नहीं मिले। उधर फोन पर उनका पक्ष जानने के लिए सम्पर्क किया तो उन्होंने फोन उठाना गंवारा नहीं किया। नागरिकों और दुकानदारों ने इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से करने का मन बना लिया है।

तीसरी संतान पैदा होने पर लक्सर की पार्षद बर्खास्त

membership-of-the-councilor-canceled-due-to-having-three-children-in-laksar

देहरादून (एकलव्य बाण समाचार)। निर्वाचित जनप्रतिनिधि की सदस्यता समाप्त करने का राज्य में पहला मामला सामने आया है। हरिद्वार जिले के लक्सर नगर पालिका की वार्ड नंबर 4 की सभासद नीता पांचाल की सदस्यता तीसरी संतान होने पर समाप्त कर दी गई है। सचिव शहरी विकास शैलेंद्र बगौली ने इसको लेकर आदेश जारी कर दिया है। उत्तराखंड में तीसरी संतान पैदा होने पर निर्वाचित जनप्रतिनिधि की सदस्यता समाप्त करने का यह पहला मामला है।

प्रदेश में जनसंख्या नियंत्रण कानून भले लागू ना हो, लेकिन स्थानीय निकाय और ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधियों के लिए 2 जुलाई 2002 से अधिकतम दो संतान की शर्त लागू है।
प्रदेश में नगर निकाय और पंचायतों में ऐसे व्यक्ति चुनाव नहीं लड़ सकते हैं, जिनकी 2 जुलाई 2002 के बाद तीसरी संतान भी हो, जबकि वार्ड नंबर 4 की सभासद नीता पंचाल के नगर पालिका परिषद के चुनाव के समय 20 अगस्त 2018 में दो ही बच्चे थे, मगर 2 सितंबर 2018 में बोर्ड की सदस्यता पाने के बाद 1 साल के भीतर ही उनको तीसरा बच्चा हुआ। बताया गया है कि नगर पालिका परिषद अधिनियम में हुए संशोधन के अनुसार पद ग्रहण के 300 दिन की अवधि के भीतर तीसरे बच्चे का जन्म होने पर सदस्यता वैद्य नहीं मानी जाती है। ऐसे में उनके खिलाफ निर्वाचन की शर्त का उल्लंघन करने की शिकायत जिलाधिकारी हरिद्वार के पास पहुंची थी।
जिलाधिकारी ने मामले में जांच एसडीएम लक्सर और नगर पालिका परिषद से कराई। तत्कालीन एसडीएम पूरन सिंह राणा और नगर पालिका अधिशासी अधिकारी गोहर हयात ने शिकायत सही पाई। अब इसी रिपोर्ट के आधार पर शहरी विकास विभाग ने जिलाधिकारी हरिद्वार की रिपोर्ट के आधार पर नीता पांचाल की सदस्यता समाप्त कर दी है।

DM ने शासन को भेजी थी सिफारिश

लक्सर। जिलाधिकारी हरिद्वार ने लक्सर नगर पालिका परिषद के मोहल्ला शिवपुरी वार्ड नंबर 4 की महिला सभासद को तीसरा बच्चा होने के कारण पद से अयोग्य घोषित कर दिया था। उन्होंने महिला सभासद की सदस्यता निरस्त करने की सिफारिश शासन को भेजी थी। शिवपुरी निवासी एक व्यक्ति ने सभासद के तीन बच्चे होने पर उन्हें अयोग्य बताया था।

लक्सर नगर पालिका परिषद के चुनाव 20 अगस्त 2018 को हुआ था। 2 सितम्बर को बोर्ड का गठन हुआ था। इसमें नीता पांचाल वार्ड 4 से दूसरी बार 562 मत लेकर सभासद चुनी गई थी। लगभग एक महीने पहले मोहल्ला शिवपुरी निवासी पंकज बंसल नाम के एक व्यक्ति ने शासन को पत्र भेजकर शिकायत की थी कि सभासद नीता पांचाल के तीन बच्चे हो चुके हैं, लिहाजा वह पालिका की सदस्य बनने के योग्य नहीं हैं। इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए डीएम ने लक्सर एसडीएम से इसकी जांच कराई। जांच में एसडीएम ने तीन बच्चे होने का हवाला देकर सभासद को वार्ड की सदस्य के लिए अयोग्य माना था।

जांच रिपोर्ट मिलने के बाद डीएम सी. रविशंकर ने इस पर सुनवाई की। सुनवाई में शिकायत करने वाले पंकज बंसल के वकील अमरपाल सिंह और सभासद की ओर से सुखपाल सिंह ने मामले की पैरवी की। दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद डीएम ने भी माना कि चुनाव लड़ते समय सभासद के दो बच्चे थे, मगर चुनाव जीतने के बाद 15 नवंबर 2019 को तीसरे बच्चे का जन्म हुआ।

नगर पालिका अधिनियम में हुए संशोधन के मुताबिक तीसरे बच्चे से संबंधित धारा लागू होने के 300 दिन बाद तीसरा बच्चा पैदा होने पर सभासद वार्ड की सदस्य बने रहने की योग्य नहीं रह जाती हैं। इस आधार पर डीएम ने एसडीएम की रिपोर्ट को सही माना साथ ही सभासद को पालिका के सदस्य पद के लिए अयोग्य करार दिया। डीएम ने उनकी सदस्यता निरस्त करने की सिफारिश राज्य शहरी-विकास विभाग के सचिव तथा निदेशक को भेजी थी।

एकलव्य बाण समाचार

नगर पालिका परिषद और स्थानीय सभासद की अकर्मण्यता का परिणाम!

बिजनौर। नगर पालिका परिषद और स्थानीय सभासद की अकर्मण्यता का परिणाम यह तस्वीर है!

सिविल लाइंस नई बस्ती में आकाश प्लाजा के बराबर वाली गली का ये हाल है। सफाई किस कदर होती होगी, ये खुद समझा जा सकता है।

पालिका परिषद, स्थानीय सभासद की लापरवाही है या यहां के निवासियों की! पालिका सूत्रों का कहना है कि इस क्षेत्र में रोजाना कूड़ा उठाने वाली गाड़ी जाती है। लोग ही सफाई नहीं रखना चाहते।

PM आवास योजना में भ्रष्टाचार की शिकायत

जिला नगरीय विकास अभिकरण (डूडा विभाग) जिला बिजनौर में प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में भ्रष्ट कर्मचारियों द्वारा किया जा रहा भ्रष्टाचार।

बिजनौर। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में कर्मचारियों के भ्रष्टाचार की बातें आम हो गई है। इसका कारण यह कि इन भ्रष्ट कर्मचारियों की शिकायत होने के बाद भी ये इस योजना में गरीबों को जमकर लूट रहे हैं। गरीबों का पैसा ऐसे लोगों को दिया जा रहा है जिनके आवास पहले से ही पक्के बने हुए हैं। उक्त आरोप लगाते हुए युवा राष्ट्रीय लोकदल बिजनौर के एक प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

युवा रालोद नेताओं ने जिलाधिकारी उमेश मिश्रा को दिये ज्ञापन में आरोप लगाया कि नगर पालिका परिषद नगीना में डूडा कर्मचारी सर्वेयर मोहित कुमार ने  अपना ही खेल कर रखा है। शिकायत के सम्बन्ध में बिन्दुवार अवगत कराया गया। बताया कि मोहित कुमार द्वारा नीरू पत्नी कृष्ण कुमार निवासी विश्नोई सराय रेती नगीना के मकान का नींव का फोटो बाला पत्नी अमर सिंह निवासी मोहल्ला विश्नोई सराय रेती नगीना के मकान की नींव पर खींचा गया है। मोहित कुमार सर्वेयर द्वारा 50,000 रुपए लेकर नीरू पत्नी कृष्ण कुमार का सरकारी अस्पताल के ऊपर पहले से ही बना हुआ मकान दिखा दिया गया है। सरकारी पैसे का बन्दरबाट मोहित कुमार व नीरू द्वारा किया गया है। नीरू के नाम 20 बीघा जमीन है, पिछले कई वर्षों से अरबन अस्पताल नीरू के खुद के मकान में चल रहा है, जिसका किराया 20,000 रुपए प्रतिमाह सरकार से नीरू द्वारा लिया जा रहा है। युवा रालोद नेताओं ने इस मामले की उच्च स्तरीय सैम्पलिंग जांच अति आवश्यक बताई।

इसके अलावा आरोप लगाया कि मोहित कुमार सर्वेयर द्वारा मोनू पुत्र रामपाल निवासी मोहल्ला कस्बा नगीना का प्रथम जियो-टैग प्लाट पर किया गया था, जिसकी प्रथम किस्त मोनू द्वारा प्राप्त की गई तथा 1 वर्ष 6 माह मोहित कुमार सर्वेयर द्वारा सांठ गांठ कर अपने पुराने मकान की छत पर नींव का फोटो करा कर सरकारी पैसा लिया गया है तथा सरकारी पैसे का दुरूपयोग किया गया है। शिकायत के साथ सबूत के तौर पर  फोटो भी उपलब्ध कराए गए हैं। प्रतिनिधि मंडल ने जिलाधिकारी से कहा कि जनहित में मोहित कुमार सर्वेयर को तत्काल नगर पालिका परिषद नगीना से बर्खास्त कर उच्च स्तरीय जांच समिति से सैम्पलिंग जांच कराई जाए, जिससे भविष्य कोई कर्मचारी ऐसी हरकत ना करें।

जिलाधिकारी से मिलने वालों में युवा राष्ट्रीय लोकदल बिजनौर के राजीव चौधरी, सचिन, हर्षवर्धन, पारितोष कुमार शामिल रहे।

पालिका सभासद सपा नेता की गोली मारकर हत्या

जौनपुर में नगर पालिका सभासद की गोली मारकर हत्या
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में जौनपुर जिले के लाइन बाजार थाना क्षेत्र में सिटी स्टेशन के प्लेटफार्म पर सोमवार देर रात नगर पालिका के सभासद सपा नेता बाला यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

पुलिस के अनुसार लाइन बाजार थाना क्षेत्र के सैदनपुर गांव निवासी बाला लखंदर उर्फ बाला यादव (50 वर्ष) सोमवार देर रात सिटी स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक के पश्चिमी छोर पर खड़े थे। उसी समय अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के वक्त हिमगिरि एक्सप्रेस वहां से गुजर रही थी। ताबड़तोड़ पांच गोलियां मारने के बाद हमलावर आसानी से फरार होने में कामयाब हो गए। हत्या के बाद रेलवे स्टेशन इलाके में हड़कंप मच गया। रेलवे पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। मौके पर पहुंची पुलिस ने गोलियों के कई खोखे बरामद किये हैं।

पुलिस सूत्रों के अनुसार सपा नेता व सभासद बाला यादव हिस्ट्रीशीटर था। वह लाईन बाजार समेत कई थाना क्षेत्रों में प्लाटिंग का भी काम करता था। इसकी वजह से उनकी कई लोगों से दुश्मनी थी। सूचना मिलते ही जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। उधर समाजवादी पार्टी के स्थानीय नेताओं ने हत्या की घटना को पुलिस-प्रशासन की लापरवाही बताया है।


हत्या की वजह स्पष्ट नहीं-
सीओ जीआरपी वाराणसी जोन अखिलेश राय ने बताया कि गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। उस समय गोलियों से छलनी बाला यादव की सांसें चल रही थीं। इसके बाद उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां पहुंचते ही डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। सभासद बाला यादव की हत्या क्यों और किन वजहों से की गई, इसकी तफ्तीश की जा रही है।

दोषी इंजीनियर, ठेकेदार से होगी वसूली


लखनऊ (धारा न्यूज) : मुरादनगर शमशान घाट हादसे पर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने जिम्मेदार इंजीनियर और ठेकेदार के खिलाफ रासुका लगाने का आदेश दिया है। इसी के साथ पूरे नुकसान की वसूली दोषी इंजीनियर व ठेकेदार से करने और ठेकेदार को ब्लैक लिस्टेड करने का निर्देश दिया है। इसके साथ-साथ मृतकों के परिवारों को 10-10 लाख की आर्थिक सहायता भी दी जाएगी।

गाजियाबाद के मुरादनगर में बारिश के दौरान शमशान घाट का लेंटर गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई थी। ये लोग अपने परिचित के अंतिम संस्कार के लिए वहां पहुंचे थे। नगर पालिका की EO, जेई व सुपरवाइजर समेत चार लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। मुख्य आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी को कल देर रात पकड़ा गया था। यूपी सरकार ने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को दस-दस लाख की आर्थिक सहायता का ऐलान किया है। वहीं इनमें आवासहीन परिवारों को आवासीय सुविधा मुहैया करने के भी सीएम योगी ने निर्देश दिया है। सीएम योगी की तरफ से ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करने का भी आदेश दिया गया है। डीएम और कमिश्नर को नोटिस जारी कर पूछा गया है कि जब सितंबर में ही 50 लाख से ऊपर के निर्माण कार्यों का भौतिक सत्यापन (इंस्पेक्शन) करने का स्पष्ट निर्देश दिया हुआ था तो फिर चूक कैसे हो गई।

इंजीनियर और ठेकेदार के खिलाफ NSA का आदेश..

गाजियाबाद श्मशान हादसे पर CM योगी का एक्शन-


CM योगी ने घटना के लिए ज़िम्मेदार इंजीनियर और ठेकेदार के खिलाफ रासुका लगाने का दिया आदेश..

पूरे नुक़सान की वसूली दोषी इंजीनियर और ठेकेदार से करने के भी दिए निर्देश..

ठेकेदार ब्लैक लिस्टेड..

डीएम और कमिश्नर को नोटिस जारी कर पूछा जब सितंबर में ही दिया था 50 लाख से ऊपर के निर्माण कार्यों का भौतिक सत्यापन करने का स्पष्ट निर्देश, तो क्यूँ हुई चूक??

मृतक परिवारों को दस दस लाख की आर्थिक सहायता और इनमें आवासहीन परिवारों को आवासीय सुविधा मुहैया करने के भी सीएम के निर्देश..

Continue reading “इंजीनियर और ठेकेदार के खिलाफ NSA का आदेश..”

शमशान हादसा: EO, JE और सुपरवाइजर गिरफ्तार

मुरादनगर हादसा: अब तक 25 लोगों की मौत, EO, JE व सुपरवाइजर गिरफ्तार, ठेकेदार फरार
लखनऊ (धारा न्यूज़): मुरादनगर के शमशान घाट हादसे में अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तत्काल राहत पहुंचाने और कार्रवाई के निर्देश पर लापरवाही और भ्रष्टाचार के आरोप में ठेकेदार, नगरपालिका की कार्यपालन अधिकारी समेत कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में निहारिका सिंह ईओ मुरादनगर नगर पालिका, चंद्रपाल जूनियर इंजीनियर व आशीष सुपरवाइजर को गिरफ्तार किया है। अजय त्यागी ठेकेदार समेत कुछ अन्य लोग अभी फरार हैं। एसपी ग्रामीण डॉ. ई. राजा ने बताया कि इन सभी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है। इसके बाद आगे की विधिक कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद प्रशासन से इस हादसे की पूरी रिपोर्ट मांगी है। मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता का ऐलान यूपी सरकार ने कर दिया है।

पीएम मोदी ने जताया दुःख:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके कहा, ‘मुरादनगर में हुए दुर्भाग्यपूर्ण हादसे की खबर से अत्यंत दुख पहुंचा है। राज्य सरकार राहत और बचाव कार्य में तत्परता से जुटी है। इस दुर्घटना में जान गंवाने वालों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं, साथ ही घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’



घोटाला लील गया लोगों की जान!
तीन महीने पहले श्मशान घाट का छत डाली गई थी। अब सवाल उठ रहा है कि क्या शमशान घाट में हुए घोटाले ने लोगों की जान ली। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि निर्माण में घटिया सामग्री का प्रयोग किया गया, जिसका नतीजा ये हुआ कि जरा सी बारिश में ढह गया। घटना के तुरंत बाद राहत और बचाव कार्य शुरू हो गया था। रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम देने वाले NDRF के CO प्रवीण तिवारी ने बताया था कि उनकी टीम ने इस रेस्क्यू ऑपरेशन में सभी अत्याधुनिक मशीनों का इस्तेमाल किया था। उन्होंने कहा कि किसी भी बिल्डिंग की लाइफ 50 साल तक होती है, लेकिन ये बिल्डिंग हाल ही में बनी थी और इसके कंस्ट्रक्शन को देखकर लगता है कि सीमेंट और रेत का इस्तेमाल सही अनुपात में नहीं किया गया होगा, जिसकी वजह से बिल्डिंग इतनी जल्दी गिर गई।

वर्चस्व व पालिका चेयरमैन बनने के ख्वाब ने लिखी हत्या की इबारत!

वर्चस्व व पालिका चेयरमैन बनने के ख्वाब ने लिखी हत्या की इबारत!

जेल में रची साजिश, भाड़े के शूटरों ने दिया अंजाम

मोहनलालगंज के प्रतिष्ठित व्यापारी सुजीत पांडे हत्याकांड का खुलासा

लखनऊ (धारा न्यूज़) मोहनलालगंज व्यापार मंडल अध्यक्ष सुजीत पांडे की हत्या राजनैतिक वर्चस्व का परिणाम थी। पुलिस ने हत्याकांड में शामिल दो शूटर मुठभेड़ के दौरान पकड़ लिए हैं। प्रारम्भिक पूछताछ में पता चला है कि जेल में रह कर भाइयों के साथ मधुकर यादव ने साजिश रची थी। वर्चस्व और नगर पालिका चेयरमैन बनने के लिए हत्या कराई गई।

20 दिसंबर को ईंट भट्ठा जाते समय बाइक सवार बदमाशों ने मोहनलालगंज व्यापार मंडल अध्यक्ष सुजीत पांडे की गोली मारकर हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने स्कैच जारी कर बदमाशों पर ₹50 हजार का ईनाम घोषित किया था। मंगलवार देर रात एसीपी कैंट बीनू सिंह की क्राइम टीम को सूचना मिली कि आशियाना थाना अंतर्गत बिजनौर रोड पर संदिग्ध लोगों को देखा गया है। इस पर पुलिस ने घेराबंदी कर दी। सामने से आते बाइक सवार दो लोगों को रोका गया तो उन्होंने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। जवाबी फायरिंग में पुलिस की गोली से दोनों घायल हो गए। दोनों को दबोच कर प्रारंभिक उपचार के बाद पूछताछ में खुलासा हुआ कि मुठभेड़ में घायल बदमाश अरुण और मुलायम यादव भाड़े के शूटर हैं। सुजीत पांडेय की हत्या की साजिश तेल चोरी के मामले में जेल गए मधुकर यादव ने रची थी। मधुकर यादव के तीनों भाई वारदात से 3 दिन पहले गिरफ्तार कर जेल भेजे गए थे।

बताया गया कि खाद्य विभाग के द्वारा मधुकर यादव की फैक्ट्री में छापेमारी से बरामद तेल चोरी हो गया था। आरोप है कि सील फैक्ट्री से मधुकर यादव ने ही तेल चोरी करवा लिया था। खाद्य विभाग ने एफआईआर दर्ज करवाई, जिस पर पुलिस ने तीनों भाइयों को गिरफ्तार कर भेजा था। जेल में रहने के दौरान ही मधुकर यादव और उसके दोनों भाइयों ने सुजीत पांडे की हत्या की साजिश रची। मधुकर यादव इलाके में वर्चस्व कायम रखने के साथ ही नवगठित नगर पालिका परिषद का अध्यक्ष बनना चाहता था। 2 साल पहले भी अशोक यादव मर्डर में मधुकर यादव का नाम सामने आया था। सूत्रों का कहना है कि पूछताछ में कई बड़े चेहरे बेनकाब हो सकते हैं।
——

मुठभेड़ के बाद सड़क पर पड़ा भाड़े का शूटर
पुलिस द्वारा जारी स्कैच

EO के खिलाफ संविदा सफाईकर्मियों का फूटा गुस्सा

EO के खिलाफ संविदा सफाईकर्मियों का गुस्सा फूटा
पालिका कार्यालय के बाहर प्रदर्शन

बिजनौर। (धारा न्यूज़) उत्तर प्रदेश राज्य सफाई कर्मचारी संघ नजीबाबाद के बैनर तले संविदा सफाईकर्मियों ने नगर पालिका परिषद कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर अधिशासी अधिकारी के प्रति अपनी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने ईओ पर समस्याओं को गंभीरता से न लेने तथा संतोषजनक जवाब नहीं देने का आरोप लगाया।

सोमवार दोपहर उत्तर प्रदेश राज्य सफाई कर्मचारी संघ की नगर शाखा के पदाधिकारियों के नेतृत्व में संविदा सफाईकर्मियों ने नगर पालिका परिषद के कार्यालय के बाहर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। नगर पालिका में आउटसोर्सिंग के जरिए काम करने वाले संविदा सफाईकर्मियों का सात दिनों का मानदेय काटने पर कर्मचारी आक्रोशित हो गए। सफाईकर्मियों ने कहा कि उन्हें वर्दी, जूते, मास्क, उपकरण आदि की सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराई जा रही हैं। नगर क्षेत्र में कूड़ा निस्तारण के दौरान वाहनों में भरकर कूड़ा ले जाने के लिए कोई मानक तय नहीं किया गया है। वाहनों में कूड़ा ले जाते समय ढकने के लिए तिरपाल अथवा पालीथिन न दिए जाने से अधिकता होने पर कूड़ा सड़कों पर बिखरता हुआ जाता है। उन्होंने कहा कि अपनी मांगों को लेकर चेयरपर्सन से वार्ता की। इस पर चेयरपर्सन ने ईओ से निस्तारण कराने का आश्वासन दिया। आरोप है कि ईओ ने उन्हें वार्ता के लिए बुलाया मगर न ही उनकी समस्याएं गंभीरता से सुनी, न ही निस्तारण का कोई आश्वासन दिया। प्रदर्शन करने वालों में उत्तर प्रदेश सफाई कर्मचारी संघ की स्थानीय शाखा के अध्यक्ष रोहित झंझोटा, मंत्री विपिन, आदेश, चंकी, प्रीतम आदि मौजूद रहे। उधर अधिशासी अधिकारी विजयपाल सिंह का कहना है कि सफाई कर्मचारियों की समस्याओं के लिए वह चेयरपर्सन से बातचीत के बाद निर्णय लेंगे।

——-