राजस्थान में दलित छात्र की पिटाई व मौत पर बसपाइयों में रोष

राजस्थान मामले को लेकर भड़के बसपाई। दलित छात्र की पिटाई व मौत पर बसपाइयों में रोष। डीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी ने राजस्थान के जिला जालोर अंतर्गत ग्राम सुराणा में 9 वर्षीय दलित छात्र इन्द्र कुमार की पिटाई और मौत के मामले को लेकर रोष जताया है। इस संबंध में एक ज्ञापन जिलाधकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा गया है।

ज्ञापन में कहा गया है कि दिनांक 14 अगस्त 2022 को राजस्थान के जिला जालोर ग्राम सुराणा में 9 वर्षीय दलित छात्र इन्द्र कुमार मेघवाल को प्यास लगने के कारण पानी से भरे मटके को छूने पर मनुवादी विचारधारा के अध्यापक छैल सिंह द्वारा बेहरमी से पीटा गया। उसकी दाहिनी आंख तक फोड़ दी गई, इलाज के दौरान मृत्यु हो गयी। इस घटना से समस्त दलित समाज में रोष व्याप्त है। राजस्थान सरकार उपरोक्त घटना तथा राज्य में हो रहे दलितों पर अत्याचार के मामलों की पूर्ण जानकारी होते हुए भी कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। इससे यह प्रतीत हो रहा है कि राजस्थान में सरकार के इशारे पर दलितों पर जानबूझकर अत्याचार किये जा रहे हैं।

ज्ञापन में बहुजन समाज पार्टी जनपद बिजनौर की यूनिट ने घटना की घोर निन्दा करते हुए अनु०जाति के मृतक छात्र इन्द्र कुमार मेघवाल के परिवार में से किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी तथा 1 करोड़ रुपए की सहायता राशि प्रदान करने के साथ ही अध्यापक छैल सिंह को फांसी की सजा देने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में जितेंद्र सागर (जिला अध्यक्ष), धनीराम सिंह (मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल), दीपक कुमार सिंह (मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल), नाजिम अहमद अल्वी (जिला उपाध्यक्ष), दलीप कुमार उर्फ चिन्टू (जिला महासचिव), पंकज शर्मा (जिला कोषाध्यक्ष), दीपक राज, राजेन्द्र सिंह, मुनीश भारती, सुल्तान अहमद, परम सिंह प्रधान, छोटे सिंह, करतार सिंह, काके रवि, विनोद कुमार, रामपाल, मोहम्मद अशरफ, लाल सिंह प्रधान, महमूद अहमद (पूर्व प्रत्याक्षी विधानसभा), कविराज सिट (पूर्व मंडलद्‌भा), ब्रह्मपाल सिंह, अनिल कुमार, पुष्पेन्द्र कुमार, चेतराम सिंह, अमित चौधरी, अनुज राठी, समर सिंह एड० प्रमोद कुमार, बलवन्त सिंह, अजय कुमार, लखवीर सिंह, रोहिताश सिंह, राजेन्द्र सिंह, अंसार उलहक, नसीमुदीन अंसारी, तिलकराज वौद्ध, मुंशी सद्दीक, इसरार नवी, अनुज कुमार, मोंटी कुमार, तिमिरुदीन, मोहम्मद सकी, नौशाद अहमद, श्रीराम, गजराज, दिलशाद अहमद, राकेश कुमार, विपिन कुमार, राजकुमार, राजू, संजीव कुमार, आमिर अहमद, विपिन कुमार, संजय कुमार, सुदेश कुमार, अमित, प्रधान, ब्रजवीर प्रधान आदि शामिल रहे।

UP BSP की सभी इकाइयां भंग

मायावती ने लिया बड़ा एक्शन, BSP की सभी इकाइयों को भंग किया

नई दिल्ली (एजेंसी)। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं यूपी की चार बार मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती ने सभी प्रत्याशियों और पार्टी पदाधिकारियों को बुलाकर हार के कारणों पर मंथन किया। इसके बाद उन्होंने पार्टी की सारी कार्यकारिणी को भंग करने के साथ ही 3 चीफ कोऑर्डिनेटर्स की नियुक्ति कर दी।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने यूपी चुनाव में हार पर बड़ा एक्शन लिया। उन्होंने पार्टी की सभी इकाइयों को भंग कर दिया। उन्होंने हार के कारणों पर समीक्षा के लिए बैठक बुलाई थी। बैठक में पार्टी पदाधिकारियों के साथ हारे हुए 402 प्रत्याशी भी बुलाए गए। विदित हो कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बसपा प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों में से सिर्फ एक सीट पर ही जीत दर्ज कर सकी है। इस शर्मनाक प्रदर्शन के बाद राजनीतिक पंडितों का कहना है कि बसपा लगभग खत्म हो चुकी है। उसके वोट बैंक का एक बड़ा हिस्सा भी भाजपा और अन्य पार्टियों में शिफ्ट हो चुका है।

लोकसभा चुनाव को लेकर मायावती का पैंतरा! नेता पद से रितेश की छुट्टी

नई दिल्ली (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश में 18 वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव की मतगणना में मिली शर्मनाक हार से बहुजन समाज पार्टी अभी तक उबर नहीं पाई है। पार्टी की हार का असर लोकसभा के भीतर तक अब दिखाई देने लगा है। बसपा मुखिया ने लोकसभा में पार्टी के नेता पद से रितेश पांडे को हटाकर उनके स्थान पर गिरीश चंद्र जाटव को कमान सौंप दी है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मिली शर्मनाक हार के बाद मंगलवार को बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बड़ा फैसला लिया है। मंगलवार को उन्होंने लोकसभा में पार्टी के नेता पद से रितेश पांडे को हटाकर उनके स्थान पर गिरीश चंद जाटव की तैनाती कर दी है। गिरीश चंद्र जाटव की जगह संगीता आजाद को सौंपी गई है। बसपा मुखिया मायावती ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को खत लिखकर इस आशय की जानकारी दे दी है। बसपा सुप्रीमो मायावती के इस फैसले को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली हार और अगले लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी की रणनीति में बदलाव से जोड़कर देखा जा रहा है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को चिट्ठी लिखकर इस बदलाव की जानकारी दी। साथ बताया कि पार्टी ने लोकसभा में दल के नेता रितेश पांडे के स्थान पर अब गिरीश चंद जाटव को नामित किया है। राम शिरोमणि वर्मा पार्टी के उप नेता बने रहेंगे। संगीता आजाद को गिरीश चंद्र जाटव की जगह सौंपने का फैसला लिया गया है।

भाजपा को हराने के लिए सपा की तरफ शिफ्ट हुआ मुस्लिम वोट

लखनऊ (एजेंसी)। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद पहली बार मीडिया के सामने आयी और कहा कि मुस्लिम समाज बसपा के साथ तो लगा रहा लेकिन इनका पूरा वोट भाजपा को हराने के लिए समाजवादी पार्टी की तरफ शिफ्ट कर गया। बसपा को इसी की सजा मिली। भारी नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज ने बार-बार आजमाई पार्टी बसपा से ज्यादा सपा पर भरोसा करने की बड़ी भारी भूल की है।

विधानसभा चुनाव के नतीजों पर बात करने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती मीडिया के सामने आई। चुनाव में मिली भाजपा की जीत और बसपा, कांग्रेस की हार पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने भाजपा और सपा पर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि प्रदेश की जनता ने भाजपा को सपा के गुंडाराज से बचने के लिए एकतरफा वोट दिया है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज बसपा के साथ तो लगा रहा परन्तु इनका पूरा वोट समाजवादी पार्टी की तरफ शिफ्ट कर गया। इससे बसपा को भारी नुकसान हुआ।

मायावती ने पार्टी कार्यकताओं का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बसपा की उम्मीद के विपरीत जो नतीजे आए हैं उससे बुरा और क्या हो सकता है ?. लेकिन इससे घबराकर और निराश होकर पार्टी के लोगों को टूटना नहीं है। उसके सही कारणों को समझकर और सबक सीखकर हमें अपनी पार्टी को आगे बढ़ाना है और आगे चलकर सत्ता में जरूर आना है।

उन्होंने कहा कि सपा ने यह प्रचारित किया कि बसपा भाजपा की बी-टीम है। बसपा, सपा के मुकाबले से कम मजबूती से चुनाव लड़ रही है जबकि सच इसके विपरीत है। कहा कि बसपा की भाजपा से लड़ाई राजनीतिक के साथ-साथ सैद्धान्तिक भी है। अगर मुस्लिमों का वोट एकतरफा सपा में नहीं जाता तो यूपी का चुनाव परिणाम ऐसा नहीं होता है। ऐसा करने वाले लोग समय बीतने के बाद पछताएंगे।

बसपा मुखिया ने कहा कि यदि मुस्लिम वोट भी दलित वोटों के साथ मिल जाता, तो पश्चिम बंगाल जैसा चमत्कार हो सकता था। भाजपा फिर से सत्ता में वापस आ गई। यदि त्रिकोणीय संघर्ष हुआ होता तो भाजपा को आने से रोका जा सकता था । मायावती ने कहा कि हर बार की तरह ही दलित वोट बैंक इस बार भी बसपा के साथ पूरी तरह बना रहा।

यूक्रेन में फंसे भारतीयों की सुरक्षा को लेकर बसपा चिंतित, डीएम को सौंपा ज्ञापन

बिजनौर। रुस द्वारा युक्रेन पर हुए हमले के बाद बहुजन समाज पार्टी ने वहां फंसे जिला बिजनौर के लोगों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। इस परिप्रेक्ष्य में पार्टी के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी से भेंट कर ज्ञापन सौंपा और लोगों को सुरक्षित बुलाये जाने की मांग की।

बसपा के उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी उमेश मिश्रा से उनके कार्यालय पर मुलाकात कर एक ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में रुस द्वारा युक्रेन पर हुए हमले में जिला बिजनौर के फंसे लोगों को सुरक्षित अपने घरों को बुलाये जाने की मांग की गई। जिलाधिकारी ने बसपा नेताओं को इस संबंध में शीघ्र ही कार्यवाही का आश्वासन दिया।

प्रतिनिधिमंडल में जिला अध्यक्ष जितेन्द्र सागर, बढापुर से पूर्व विधायक एवं प्रत्याशी मोहम्मद गाज़ी, बिजनौर से पूर्व विधायक एवं प्रत्याशी रुची वीरा, धामपुर से पूर्व विधायक एवं प्रत्याशी मूलचंद चौहान के सुपुत्र अमित चौहान, नजीबाबाद से प्रत्याशी शाहनवाज खलील, नुरपुर से प्रत्याशी जियाउद्दीन अंसारी, पूर्व मन्त्री धनीराम सिंह शामिल रहे।

सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों से वसूली गई रकम वापस करेगी सरकार

… लेकिन नए कानून यूपी रिकवरी ऑफ डैमेज टू प्रॉपर्टी एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी एक्ट के तहत सरकार कर सकती है कार्यवाही

नई दिल्ली। सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ जारी रिकवरी नोटिस को यूपी सरकार ने वापस लेने का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि रिकवर की गई रकम को वापस किया जाए। ये धनराशि करोड़ों में है। यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोगों के खिलाफ रिकवरी नोटिस और उसके लिए शुरू की गई कार्यवाही को वापस ले लिया गया है। सीएए के खिलाफ 2019 में प्रदर्शन हुआ था। इस दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा था। इस मामले में यूपी सरकार ने रिकवरी नोटिस जारी किया था।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली बेंच ने कहा कि राज्य सरकार ने जो भी रकम कथित प्रदर्शनकारियों से वसूले हैं, वह रिफंड करे। साथ ही यूपी सरकार को इस बात की इजाजत दे दी है कि वह एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ नए कानून यूपी रिकवरी ऑफ डैमेज टू प्रॉपर्टी एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी एक्ट के तहत कार्यवाही कर सकती है।

इससे पहले यूपी सरकार की अडिशनल एडवोकेट जनरल गरिमा प्रसाद ने कहा कि प्रदर्शनकारियों और सरकार को इस बात की इजाजत देनी चाहिए कि वह क्लेम ट्रिब्यूनल के सामने जाएं। मामले में रिकवर किए गए रकम को वापस करने का आदेश नहीं दिया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने इस दलील को स्वीकार करने से मना कर दिया और कहा कि रिकवरी नोटिस वापस हो चुका है और कार्रवाई खत्म हो गई। यूपी सरकार रिकवर की गई रकम वापस करे, ये रकम करोड़ों में हो सकती है।

11 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने सीएए कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ यूपी सरकार द्वारा जारी रिकवरी नोटिस पर कड़ी नाराजगी जताई थी। सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को आखिरी मोहलत देते हुए कहा था कि वह रिकवरी से संबंधित कार्रवाई को वापस लें और साथ ही चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर कार्रवाई नहीं वापस किया गया तो हम कार्रवाई को खारिज कर देंगे क्योंकि यह नियम के खिलाफ है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हमारे आदेश के तहत जो नियम तय है, उसके तहत कार्रवाई नहीं हुई है।

साभार- इंडेविन टाइम्स, लखनऊ

…इसलिए कमल का बटन दबाओ… सपा को हराओ!

बहन कुमारी मायावती जी का संदेश…दूसरे चरण में 14 फरवरी को होने वाले मतदान को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा संदेश।

  • यादव… जाटव का जीना मुश्किल कर देंगे… इसलिए कमल का बटन दबाओ… सपा को हराओ
  • बहन मायावती जी इस बात को लेकर बहुत दु:खी हैं कि पहले फेज़ में बहुत बड़ी संख्या में हमारा कोर वोटर जाटव वोटर वोट डालने नहीं गया और चुपचाप घर बैठ गया… क्योंकि मनुवादी मीडिया ने हर जगह ये प्रचार किया है कि बहन कुमारी मायावती जी चुनाव ही नहीं लड़ रही हैं।

-बहन कुमारी मायवाती जी इस बात से काफी नाराज हैं कि आगरा की फतेहाबाद सीट, सिवालखास और सरधना सीट पर मौजूद हमारा जाटव वोटर वोट देने के लिए पोलिंग बूथ पर गया ही नहीं।

वायरल संदेश में बताया गया है कि बहन कुमारी मायावती ने कल शाम लखनऊ में अपने आवास पर अपने खास लोगों के साथ हुई बैठक के बाद ये फैसला किया है कि अब जाटव भाइयों और बहनों को स्ट्रेटेजिक वोटिंग करने की आवश्यकता है।

मीटिंग में अपने खास लोगों से बहन कुमारी मायावती ने ये बात कही कि इस चुनाव में तो मेरा मुख्यमंत्री बन पाना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि सारा मुस्लिम वोट अखिलेश यादव की तरफ शिफ्ट हो गया है… बहन जी ने अपनी रणनीति स्पष्ट करते हुए कहा कि मैं, यानी मायावती 10 पर्सेंट जाटव वोटर की नेता हूं, जबकि अखिलेश भी 10 पर्सेंट यादव वोटर का ही नेता है। हम दोनों में से ताकत उसी की बढ़ती है, जिसके पास मुस्लिम वोटर शिफ्ट होता है… लेकिन दु:ख की बात ये है कि मुसलमान हमको वोट नहीं दे रहा है, जिसकी वजह से अखिलेश ताकतवर हो गया है… जैसे एक मयान में दो तलवार नहीं रह सकती, वैसे ही एक ही मुस्लिम वोट बैंक के दो दावेदार नहीं हो सकते हैं…. मुसलमान इसलिए अखिलेश की तरफ शिफ्ट हो गया है क्योंकि मुसलमान को लगता है कि अखिलेश ही बीजेपी को हरा सकता है… इसीलिए हमारा पहला लक्ष्य बीजेपी नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी को हराना है, ताकी 2024 में मुसलमानों को ये भरोसा हो जाए कि अखिलेश निकम्मा है इसलिए अब मायावती ही एक मात्र विकल्प है….

वायरल संदेश के अनुसार सारी स्थितियां स्पष्ट करने के बाद मायावती ने अपने सहयोगियों को ये गुप्त संदेश दिया है कि जाटव वोटर घर बैठकर आराम ना फरमाएं बल्कि अधिक से अधिक बीजेपी को वोट करके साइकिल की हवा निकाल दे ताकी अगली बार 2024 में मुसलमानों के पास हाथी पर बैठने के सिवाय दूसरा कोई विकल्प ही नहीं रह जाए।

  • बैठक के आखिर में मायावती जी ने ये बताया कि जाटव अपना सारा वोट बीजेपी को ट्रांसफर कर दे क्योंकि अब जब मैं मुख्यमंत्री नहीं बन सकती हूं तो अखिलेश को भी मुख्यमंत्री नहीं बनने दूंगी…. अगर अखिलेश सीएम बन गया तो जाटव का जीना हराम हो जाएगा !

उधर ये भी बताया गया कि जिस तरह हाथरस में सपा नेता के खेत से दलित लड़की की लाश बरामद हुई है, उससे भी बहन कुमारी मायावती जी अखिलेश यादव से काफी ज्यादा नाराज हैं… बहन कुमारी मायावती ने योगी जी की तारीफ करते हुए कहा कि आचार संहिता लगने के बाद अभी सिर्फ लॉ एंड ऑर्डर ही योगी जी के हाथ से निकला है अगर मुख्यमंत्री की कुर्सी भी योगी जी के हाथ से निकल गई तो यादव और मुसलमान गुंडे जाटवों का जीना हराम कर देंगे और उनके घर की बहन बेटियों का घर से निकलना मुश्किल हो जाएगा। इसलिए इस चुनाव में सारे जाटव मिलकर अखिलेश को हराने के लिए बीजेपी को अधिक से अधिक वोट दें और बीजेपी के प्रत्याशियों को विजयी बनाएं… ताकी दलितों का जान और माल सुरक्षित रहे !

सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार

बिजनौर। सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। जानकारों के अनुसार भाजपा प्रत्याशी सूची मौसम चौधरी की राह इस बार आसान नजर नहीं आ रही। चुनाव में उन्हें जहां सपा रालोद गठबंधन से कड़ी टक्कर मिल रही है, वहीं बसपा प्रत्याशी रूचि वीरा भी पूरी ताकत से चुनाव प्रचार में लगी हुई हैं। आम आदमी पार्टी प्रत्याशी विनीत शर्मा ने भी धुआंधार प्रचार कर अपने चुनाव को मजबूत बना लिया है। उस पर मतदाताओं की चुप्पी से सभी प्रत्यशियों की नींद उड़ी हुई है।

सपा रालोद गठबंधन प्रत्याशी डॉ नीरज चौधरी

चुनावी समीक्षकों के मुताबिक 389356 मतदाताओं वाली बिजनौर सदर सीट पर भाजपा ने इस बार भी अपनी निवर्तमान विधायक सूची मौसम चौधरी को प्रत्याशी बनाया है। सपा रालोद गठबंधन से वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ नीरज चौधरी चुनाव मैदान में हैं। वहीं बसपा के टिकट पर पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा भी पूरी ताकत के साथ डटी हुई है। इस चुनाव में पहली बार आम आदमी पार्टी के टिकट पर पढ़े लिखे नौजवान विनीत शर्मा शिक्षा, बेरोजगारी, महिला सुरक्षा किसानो के गन्ना भुगतान जैसे मुद्दों के साथ चुनाव मैदान में उतरे हैं।

भाजपा प्रत्याशी सूची चौधरी

जातीय समीकरण के लिहाज से इस सीट पर लगभग एक लाख 40 हजार मुस्लिम, 45 हजार जाट, 48 हजार अनुसूचित जाति 40 हजार सैनी, 14 हजार पाल 12 हजार कश्यप, 10 हजार राजपूत, 10 हजार वैश्य, 8 हजार बंगाली, 5 हजार ब्राह्मण व शेष अन्य जातियों के मतदाता हैं।

बसपा प्रत्याशी रुचि वीरा

जाट मतदाता का रुझान स्पष्ट नहीं- 13 महीने चले किसान आंदोलन को लेकर भाजपा से नाराजगी के चलते जाटों का रुझान किसी एक पार्टी की तरफ होता दिखाई नहीं दे रहा है। हालांकि रालोद प्रत्याशी डॉक्टर नीरज चौधरी बिरादरी के दिग्गजों के साथ घर घर जाकर भाईचारे व विकास के वादे कर रहे हैं।

भाजपा के पास भी है जाट समुदाय- किसान आंदोलन को लेकर जाटों के भाजपा से नाराज होने की अटकलें लगाई जा रही हैं। इसके बावजूद, इन दावों में कोई ख़ासा दम नहीं दिखता। पश्चिम उत्तर प्रदेश में बीजेपी के मंत्री, विधायक से लेकर कई वरिष्ठ पदाधिकारी भी जाट हैं। सभी ने सुशासन, विकास, सुरक्षा आदि मुद्दों को लेकर अपनी बिरादरी में खासी पैठ बना रखी है।

मुस्लिम मतदाता भी साधे है चुप्पी- पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा इस बार बसपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। विधानसभा क्षेत्र के ग्रम पेदा में एक वर्ग विशेष के तीन लोगों की हत्या के बाद अल्पसंख्यक समुदाय का उनके प्रति झुकाव तो हुआ लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यक मतदाताओं का उनके पक्ष में ध्रुवीकरण होने के बावजूद चुनाव हार गई थी। इस बार रुचि वीरा दलित व मुस्लिम गठजोड़ के सहारे चुनावी वैतरणी पार करना चाहती हैं। जानकारों का कहना है कि इस बार के चुनाव में मुस्लिम समाज पूरी तरह से एकजुट होता नजर नहीं आ रहा है। समाजवादी पार्टी और रालोद गठबंधन के चलते डॉ नीरज चौधरी को भी इस वर्ग के वोट मिलना तय है।

ठिठका हुआ है मुस्लिम वोटर- बताया जाता है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के कथित बयान कि “चाहे भाजपा को वोट देना पड़े, समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी नहीं जीतना चाहिए!” इसके बाद मुस्लिम मतदाता एक तरह से ठिठक सा गया है। जानकारों के अनुसार इस वर्ग के मतदाताओं के मन में संशय है कि यदि वो बसपा को वोट देते भी हैं, तो वह भाजपा के खाते में ही जाना है। इसलिए वह पशोपेश में है।

आप प्रत्याशी विनीत शर्मा

आम आदमी पार्टी ने इस बार बिजनौर सदर सीट से युवा व पढ़े-लिखे विदित शर्मा को चुनाव मैदान में उतारा है। उनके धुआंधार चुनाव प्रचार, दिल्ली के विकास मॉडल, किसानों की कर्ज माफी, महिला सुरक्षा, रोजगार, शिक्षा तथा स्वास्थ्य जैसे वादों के बाद आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की उनके समर्थन में वीडियो संदेश जनता के बीच पहुंचाए जाने के बाद चुनाव प्रचार के अंतिम चरण में आप प्रत्याशी की स्थिति मजबूत होती दिखाई दी। क्षेत्र की चुनावी समीक्षा के बाद बिजनौर सदर सीट पर इस बार मुकाबला दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा, ये तो आने वाली 10 मार्च को मतगणना के बाद ही पता चल पाएगा, किंतु दूसरे चरण में 14 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए मतदाताओं में काफी उत्साह दिखाई दे रहा है। इसके बावजूद जनता अपने पत्ते खोलने को तैयार नहीं है।

बहकावे में न आएं, बसपा को करें वोट: डॉ शकील

बसपा प्रत्याशी की जनसभा में उमड़ा जनसैलाब

बिजनौर। राम लीला ग्राउन्ड चाँदपुर में विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए बसपा प्रत्याशी डॉ शकील ने कहा कि जनता किसी बहकावे में न आये और बहुजन समाज पार्टी को वोट करें।


जनसभा को उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री धनीराम, इफतखार कुरैशी, याहया सैफी, भूपेन्द्र सिह, सदाकत अंसारी, महेन्द्र सिह, डा. अरशद जैदी, मुनीश भारती, अकील अंसारी आदि के अतिरिक्त बसपा प्रत्याशी शकील हाशमी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आप लोग बहकाने न आएं और बसपा को वोट करें।

वक्ताओं ने मायावती की सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि प्रदेश का विकास केवल बसपा की सरकार में ही हो सकता है। बसपा के शासन में हर वर्ग का व्यक्ति खुश रहता है।

शिवपाल की करीबी फातिमा को बीएसपी का टिकट

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी ने गाजीपुर जिले की जहूराबाद सीट से सपा की बागी शादाब फातिमा को उम्मीदवार व प्रभारी विधानसभा घोषित किया है।

यह जानकारी बसपा के गाजीपुर जिले के अध्यक्ष अजय कुमार भारती ने ट्विट कर दी है। उन्होंने लिखा है कि बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती से शादाब फातिमा ने शुक्रवार को मुलाकात की। पूर्व मंत्री शादाब फातिमा ने समाजवादी पार्टी छोड़कर बसपा की सदस्यता ग्रहण कर ली है। मायावती ने उन्हें जहूराबाद विधानसभा से प्रभारी- उम्मीदवार बनाया है।

अखिलेश सरकार में मंत्री रहीं शादाब फातिमा ने वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में जहूराबाद सीट पर ही ओम प्रकाश राजभर को हराया था। शिवपाल सिंह यादव की करीबी मानी जाने वाली शादाब फातिमा ने अखिलेश और शिवपाल के बीच हुए विवाद में शिवपाल का साथ दिया था। मगर इस बार अखिलेश ने शिवपाल के अलावा उनके किसी अन्य सहयोगी को टिकट नहीं दिया। इस वजह से पहले शादाब फातिमा के निर्दलीय चुनाव लड़ने की चर्चा चल रही थी। मगर9 बसपा ने उन्हें जहूराबाद सीट से उम्मीदवार घोषित कर दिया।

बसपा प्रत्याशी की अपने ही गांव में हो रही छीछालेदर

बसपा प्रत्याशी इजी. बृजपाल से लोग कर रहे सवाल….

नोएडा में रहने वाले बसपा प्रत्याशी अपने गांव की नहीं लेते खबर तो क्षेत्र की क्या लेंगे? खुद उनके गांव की सड़कें बनी हुई हैं तालाब। उनके लुभावने वादों पर भरोसे के लिए तैयार नहीं है मतदाता।

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी ने नगीना सुरक्षित सीट पर इस बार नोएडा में रहने वाले इंजीनियर बृजपाल सिंह को प्रत्याशी बनाकर चुनाव मैदान में उतारा है। बसपा प्रत्याशी विधानसभा क्षेत्र के ही ग्राम कड़कपुर उर्फ लकड़ा के रहने वाले हैं। वह अपने गांव में कभी कभार ही आते हैं। यही कारण है कि मतदाता उन के बड़े-बड़े चुनावी वादों पर विश्वास करने के लिए तैयार होते दिखाई नहीं दे रहे हैं।

प्रत्याशी के गांव की सड़कें हुईं तालाब में तब्दील
बसपा प्रत्याशी के गांव की सड़कें तालाब में तब्दील हो चुकी हैं। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि जिस प्रत्याशी के गांव की ये हालत है, वह पूरे क्षेत्र का विकास करा पाएगा, इसमें उन्हे संदेह है। बसपा प्रत्याशी गांव गांव जाकर लोगों से विकास के बड़े बड़े वादे कर रहे हैं, जबकि ग्रामीणों का कहना है कि चुनाव के दौरान वादों का खेल जो एक राजनेता मतदाताओं के सामने खेलता है, वही खेल बसपा प्रत्याशी अपने गांव के लोगों के साथ खेल रहे हैं। बसपा प्रत्याशी के गांव के ही कुछ लोगों का कहना है कि इंजी. साहब जब यहां से सुबह सुबह अपने काफिले के साथ बड़ी-बड़ी गाड़ियों के काफिले को लेकर निकलते हैं तो अपने ही गांव के एक छोर पर मुख्य सडक पर गुजरते समय साइड में चल रहे बच्चों, बुजर्गों, माताओं, बहनों को भी नहीं देखते और गाड़ी के टायरों से सड़क में भरे गंदे पानी को उन पर उछाल कर चले जाते हैं। इस सड़क की हालत इस कदर खराब है कि उसमें जहरीले सांप व अन्य जहरीले कीड़े पलते रहते हैं। अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए गांव के लोग इस जहरीले कीड़ों को मारने में लगे रहते हैं। सड़क न हो मानो गंदगी का तालाब हो।

विधायक बनूंगा, तो सड़क की सोचूंगा- बसपा प्रत्याशी के जनता से किए वादों की बात करें तो शिक्षा को लेकर वह मंझे हुए राजनेता की तरह बात करते हैं। बताया जाता है कि ग्रामीणों ने बसपा प्रत्याशी से मिलकर उनके सामने एक सड़क की समस्या का प्रस्ताव रखा। लोगों ने कहा कि आप हर सभा व रैली में लाखों रुपए खर्च करते हो, क्या इस सड़क से अपनी ही गाड़ियों को निकालने के लिए ठीक नहीं करा सकते, यह सड़क बनवा दीजिए। इस पर बसपा प्रत्याशी इंजीनियर बृजपाल सिंह ने जवाब दिया कि जब मैं विधायक बन जाऊंगा, तब इस गांव सड़क के बारे में कुछ सोच लूंगा। इसी बात से नाराज हुए ग्रामीणों ने मीडियाकर्मियों को बताया कि नेता जी अपने ही गांव के लोगों की कोई खबर नहीं लेते। गांव व क्षेत्र की सड़के खराब हैं, जिनसे होकर मासूम बच्चों, छात्राओं, बुजुर्गों व महिलाओं का आना जाना लगा रहता है। बार-बार ध्यान दिलाने के बाद भी उनकी अपने गांव के विकास में कोई रुचि नहीं है। फिर भी बसपा प्रत्याशी बन कर क्षेत्र के विकास करने का दावा कर रहे हैं। ग्रामीण उनसे सवाल कर रहे हैं कि जो
व्यक्ति अपने ही गांव का विकास नहीं करा सकता, वह क्षेत्र का क्या विकास करेगा। ग्रामीणों का कहना है कि बसपा प्रत्याशी बृजपाल सिंह क्षेत्र के लोगों को विकास की बात कर सब्जबाग दिखा रहे हैं और क्षेत्र के लोगों को धोखा देने में लगे हैं। गुस्साए ग्रामीणों ने मीडिया कर्मियों को सड़क की हालत दिखाते हुए उनसे अपनी इस समस्या का समाधान कराने की मांग की।

तुम तो ठहरे परदेसी- ग्रामीणों का कहना है कि बृजपाल का एक घर तो नोएडा सेक्टर 62 में भी मौजूद है और एक हॉस्टल भी नोएडा में ही है। इंजीनियर साहब तो विधायक बनने के बाद अपने नोएडा वाले घर में शिफ्ट हो जाएंगे और गांव ज्यों का त्यों ही रह जाएगा। सभी ग्रामीण बार बार एक ही बात को दोहरा रहे हैं कि जो अपने गांव का ही विकास नहीं करवा पाये वह क्षेत्र का क्या विकास करेंगे।

विजय अभियान पर हर वर्ग को साथ लेकर निकले डॉ. शकील हाशमी

बिजनौर। चांदपुर के राजनीतिक इतिहास की अब तक की सबसे ऐतिहासिक मीटिंग मोहल्ला मिर्दगान में इमामबाड़ा पर आयोजित की गई। बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ. शकील हाशमी भी इस मीटिंग को देखकर भावुक हो उठे और उनकी आंखें नम हो गईं। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि चांदपुर शहर के मुस्लिम समाज के इस ऐतिहासिक जनसैलाब को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो पूरा जिला बिजनौर मोहल्ला इमामबाड़ा अनसारयान में एकत्रित हो गया हो।

जैसे-जैसे दूसरे चरण का चुनाव नजदीक आता जा रहा है। वैसे वैसे चुनावी जनसभाएं भी तेजी से हो रहीं हैं। ऐसे में चांदपुर की सीट पर मुकाबला एक दिलचस्प मोड़ पर आ खड़ा हुआ है। चांदपुर सीट पर भारतीय जनता पार्टी की मौजूदा विधायक कमलेश सैनी प्रत्याशी हैं तो दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ, शकील हाशमी हैं। बताया गया है कि बसपा प्रत्याशी के साथ दलित वोटर के साथ-साथ मुस्लिम वोटर भी एक चट्टान की तरह खड़ा है। जो हरदम डॉ. शकील हाशमी के साथ कंधे से कंधा मिला कर साथ दे रहा है।

इस बात का एहसास चांदपुर के लोगों को उस वक्त हुआ जब गुरूवार को चांदपुर के राजनीतिक स्थान, जहां पर प्रत्याशियों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी रहती है। वह स्थान जहां पर इलेक्शन का रुख मोड़ दिया जाता है। उस स्थान पर मुस्लिम समाज का जनसैलाब डॉ शकील हाशमी के लिए एक साथ एक होकर उमड़ पड़ा।

चांदपुर में अब चुनाव उस मोड़ पर आकर खड़ा हो गया है, जहां पर दो ही प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला होता दिखाई रहा है।

राजनीति के जानकर कहते हैं; यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि चांदपुर सीट किसके कब्जे में जाती है परंतु जिस तरह से मुस्लिम समाज की हर बिरादरी का समर्थन बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी को मिल रहा है तो ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार सीट बसपा के खाते में जाना तय है।

चिकित्सकों ने डॉ. शकील को दिये ₹ पांच लाख- विधानसभा क्षेत्र के चिकित्सकों ने हमपेशा डॉ. शकील को चुनाव के लिए ₹ पांच लाख भेंट स्वरूप दिये। बसपा प्रत्याशी ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए हर वक़्त उनका साथ निभाने का वायदा किया।

बसपा राज में थे सब सुखी: जगदीश रावत

मलिहाबाद,लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने जनपद लखनऊ की 168 मलिहाबाद विधानसभा सीट से बसपा से जगदीश रावत को चुनाव मैदान में उतारा है। जगदीश रावत अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र में लगातार डोर-टू-डोर प्रचार अभियान चलाकर मतदाताओं से वोट देने की अपील कर रहे हैं।

इसी कड़ी में गुरुवार को जगदीश रावत ने अपने क्षेत्र नई बस्ती, पहाड़पुर, बहरू, जमोलिया, संतनगर, अटौरा, दतली सहित दर्जनों गांवों में डोर-टू-डोर प्रचार करने के लिए समर्थकों के साथ बसपा को जिताने के लिए वोटरों से अपील की। प्रचार के दौरान जगदीश रावत ने पत्रकारों को बताया कि जब बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी तो कानून व्यवस्था एकदम स्वस्थ दुरुस्त रहती थी।

सरकारी कार्यालयों में अधिकारी कर्मचारी समय से पहुंचकर आम जनता का काम करते थे। रिश्वतखोरी पूरी तरह से बंद थी। स्वास्थ्य सेवाओं में गुणवत्ता थी। काफी संख्या में बेरोजगार को रोजगार दिया गया और रिक्त पड़े पदों पर भर्तियां की गई थी।

किसानों को बिजली पानी खाद की कोई समस्या नहीं रहती थी, लेकिन इस सरकार में आम जनता परेशान है। बसपा की सरकार बनते ही पूरे उत्तर प्रदेश में खुशहाली ही खुशहाली होगी और मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र में भरपूर विकास होगा। इसलिए क्षेत्र के वोटरों से अपील है कि बहुजन समाज पार्टी को वोट देकर मायावती को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाएं।

ठगबंधन नहीं; मुझे बनाएं कामयाब: डॉ शकील

बिजनौर। चाँदपुर नगर के मोहल्ला पतियापाडा में बसपा प्रत्याशी डाक्टर शकील हाशमी के समर्थन में एक विशाल जनसभा का आयोजन किया गया। सभा को सम्बोधित करते हुए डाक्टर शकील हाशमी ने कहा कि ठग बन्धन के प्रत्याशी के कारनामों को आप लोग पहले ही देख चुके हैं। आप लोगों के पास मौका है। मुझे आप अधिक से अधिक मत देकर कामयाब बनाएं, जिससे मैं आप लोगों की लडाई लड सकूं।

तन-मन-धन से लड़ा रहे डॉ शकील का चुनाव

बिजनौर। चाँदपुर विधानसभा क्षेत्र में बसपा प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी का चुनाव प्रचार जोर पकड़ चुका है। जगह जगह जनसंपर्क के दौरान लोग उन्हें हाथों हाथ ले रहे हैं। यही नहीं उन्हें तन-मन-धन से चुनाव लड़ाने का यकीन भी दिला रहे हैं।

ग्राम शेख पुरा मडयो में उनके समर्थन में जन सैलाब उमड़ पड़ा। यहां मोहसिन ठेकेदार के निवास पर एक चुनावी सभा हुई। इस दौरान सभी गाँव वालों ने उनका स्वागत फूल मालाओं से किया। साथ ही उन्हें यकीन दिलाया कि पूरा गांव तन मन धन से उनके साथ खडा है। इस अवसर पर बसपा प्रत्याशी डॉ शकील हाश्मी ने कहा कि यह ग्राम शेख पुरा मडयो चाँदपुर क्षेत्र की अर्थिक राजधानी के नाम से जाना जाता है। उन्होंने गांव वालों का शुक्रिया अदा करते हुए बसपा को वोट देने की अपील की। इससे पूर्व गांव में घर घर पर शकील हाश्मी का स्वागत किया गया। इस अवसर पर असलम ठेकेदार ने पचास हजार व मोहसिन ठेकेदार ने एक लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की।

बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी का फूल मालाओं से लाद कर स्वागत

बिजनौर। चांदपुर विधानसभा से बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी का आज विधानसभा क्षेत्र के ग्राम खेड़की में सभी ग्राम वासियों ने फूल मालाओं से लाद कर स्वागत किया।

भारी तादाद में उपस्थित सभी ग्राम वासियों ने अपना समर्थन बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी को दिया। सभी ग्राम वासियों ने एक सुर में कहा कि इस बार इस चुनाव में एक एक वोट हाथी के सामने वाला बटन दबाकर डॉक्टर शकील हाशमी को विजयी बनाया जाएगा।

गुंडे, माफिया होंगे जेल में: मायावती

आगरा। सत्ता में आने पर गुंडे, माफिया और आपराधिक प्रवृत्ति के लोग जेल में होंगे। यह बात आगरा के कोठी मीना बाजार मैदान में बसपा प्रत्याशियों के समर्थन में पहली चुनावी रैली में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कही। उन्होंने सपा को गुंडों और भाजपा को जातिवादी पार्टी बताया। कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह नौटंकीबाज पार्टी है। तीनों सरकारों में बेरोजगारों को पलायन करना पड़ा, मगर अब ऐसा नहीं होने देंगे। बसपा सभी वर्ग के लोगों के लिए काम करेगी। सरकारी कर्मचारियों की समस्याओं का निदान आयोग बनाकर कराया जाएगा। मंच पर पहुंचते ही बसपा सुप्रीमो ने भाजपा, सपा और कांग्रेस को निशाने पर लिया। कहा- सपा सरकार में गुंडे बदमाशों का राज रहा।

बसपा प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी पहुंचे डोर टू डोर

चांदपुर (बिजनौर)। विधानसभा क्षेत्र चांदपुर के ग्राम बास्टा एवं बीबीपुरा में बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी ने डोर टू डोर पहुंच कर जनता से वोट व सपोर्ट की अपील की।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि जिस तरह से जनता ने भारी समर्थन और प्यार देने का काम किया है, उसके वह सदैव आभारी रहेंगे। साथ ही कहा कि विजयी होने के बाद निरंतर क्षेत्र की जनता की सेवा और सम्मान को अपना प्रथम कर्तव्य समझेंगे। वह अपनी जिम्मेदारी का निष्ठा व ईमानदारी के साथ निर्वाहन करेंगे, यह उनका संकल्प है।

बसपा प्रत्याशी ने कहा कि विधानसभा चांदपुर का भाईचारा सदैव जिंदा रहा है और जिंदा रहेगा। इस बार क्षेत्र की जनता से हमें उम्मीद है। हर मुद्दे से ऊपर उठकर क्षेत्र के विकास के लिए और क्षेत्र के भाईचारे को कायम रखने के लिए हमें वोट करेगी।

शमशुद्दीन राइन समेत 125 पर रिपोर्ट

बिजनौर। धामपुर पुलिस ने सांसद गिरीश चंद के आवास के निकट कोविड प्रोटोकॉल उल्लंघन और आचार संहिता उल्लंघन मामले में 6 नामजद और 125 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। प्रभारी मजिस्ट्रेट की ओर से यह मुकदमा दर्ज धामपुर कोतवाली में दर्ज कराया गया है।

विदित हो कि बुधवार सुबह स्योहारा रोड स्थित सांसद गिरीश चंद के आवास के निकट बसपा के टिकट को लेकर हंगामा हुआ था। बसपा प्रत्याशी हाजी कमाल और उनके समर्थकों ने टिकट को लेकर बसपा के वरिष्ठ नेता पश्चिम उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राइन का घेराव किया था। सूचना पर पुलिस प्रशासन मौके पर मुस्तैद हो गया। देर शाम विधानसभा धामपुर के प्रभारी मजिस्ट्रेट धर्मेंद्र कुमार की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई। कोतवाली धामपुर में बसपा के पश्चिम में उत्तर प्रदेश प्रभारी शमशुद्दीन राइन, धामपुर के सभासद फरीद, शेरकोट के सभासद कमरुद्दीन, बसपा प्रत्याशी हाजी कमाल के भाई सोहेल, अशरफ कबाड़ी को नामजद करते हुए 125 अज्ञात लोगों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

हाजी कमाल का टिकट कटने की खबर पर हंगामा

बिजनौर। धामपुर विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी हाजी कमाल का टिकट कटने की खबर सुनते ही उनके समर्थकों में ज़बरदस्त रोष व्याप्त हो गया। हाजी कमाल के समर्थकों ने बसपा सांसद गिरीश चन्द्र की कोठी का घेराव किया और वहां मौजूद बसपा के पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी शमसुद्दीन राईन को बाहर ले आए। आरोप है कि पुलिस की मौजूदगी में बसपा प्रभारी के साथ अभद्र व्यवहार किया गया। हाजी कमाल के समर्थकों का कहना है कि यदि टिकट काटकर किसी और प्रत्याशी को दिया गया तो वह आत्मदाह कर लेंगे, उनका टिकट किसी सूरत में कटने नहीं देंगे।


उधर हाजी कमाल के समर्थकों में भारी रोष को देखते हुए बसपा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमसुद्दीन राईन ने पत्रकारों से कहा कि हाजी कमाल को ही टिकट दिया जायेगा। वहीं सूत्रों का दावा है ठाकुर मूलचन्द चौहान का टिकट हो चुका है। हंगामे के दौरान मौके पर धामपुर उपजिलाधिकारी विजयवर्धन तोमर, एसएसआई शिशुपाल सिंह सहित भारी पुलिस बल मौजूद रहा।

बसपा प्रत्याशी समेत तीन के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज

बसपा प्रत्याशी समेत तीन के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज

बिजनौर। नगीना विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी के विरुद्ध आदर्श चुनाव संहिता व कोविड 19 महामारी के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है।
एसआई अजय कुमार की ओर से नगीना थाने में लिखाई गई रिपोर्ट में कहा गया है कि बहुजन समाज पार्टी के नगीना विधानसभा के प्रत्याशी इंजी. बृजपाल सिंह व उनके साथियों ने चुनाव आयोग की गाईड लाईन के विरुद्ध मोहल्ला मनीहारी सराय में चुनावी जनसभा आयोजित कर आदर्श चुनाव संहिता का उलंधन करने के साथ महामारी कोविड़ 19 के नियमों का उल्लंघन किया है। प्रभारी कृष्ण मुरारी दोहरे ने बताया कि एसआई की रिपोर्ट पर बसपा प्रत्याशी व उनके 2 अज्ञात साथियों के विरुद्ध धारा 171 एच व धारा 188, 269, 270 सहित महामारी अधिनियम की धारा 3/4 में मामला दर्ज कर अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है।

प्रचार अभियान में अन्य से आगे निकलते दिख रहे डा. शकील

रणनीति के चलते प्रचार अभियान में अन्य दलों से आगे निकलते दिख रहे बसपा प्रत्याशी डा. शकील हाशमी। चिकित्सा के माध्यम से कर रहे क्षेत्र की जनता की सेवा।

चांदपुर। विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार अभियान में बहुजन समाज पार्टी अन्य दलों से आगे निकलती दिख रही है। पार्टी प्रत्याशी डा. शकील हाशमी जनसंपर्क के दौरान 2007 से 2012 तक के बसपा सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां गिना कर मत एवं समर्थन मांग रहे हैं। लोग भी उनकी बेदाग छवि और समाजसेवी कार्यों को देखते हुए पूर्ण सहयोग का आश्वासन देने से पीछे नहीं हट रहे। वह पिछले करीब 15 वर्ष से बाईपास रोड स्थित अपने कफील नर्सिंग होम के माध्यम से क्षेत्र की जनता की सेवा कर रहे हैं।

गिना रहे बसपा सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां- मिनी छपरौली के नाम से विख्यात चांदपुर विधानसभा क्षेत्र में बसपा प्रत्याशी डा. शकील हाशमी सुबह से ही जनसंपर्क में जुट जाते हैं। कार्यक्रम के तहत डा. शकील हाशमी ने मंडी समिति के आढ़तियों एवं वहां पहुंचने वाले व्यापारियों से मिलकर बहुजन समाज पार्टी के जनहितकारी कार्यों को बताया। उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा व सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि यह दोनों झूठों की पार्टी हैं। इनके वादे किसानों का कर्ज माफी, बिजली-पानी मुफ्त, मुस्लिमों को 18 प्रतिशत आरक्षण, महंगाई से मुक्ति, अच्छे दिन, भ्रष्टाचार का खात्मा सभी हवा हवाई साबित हुए हैं।

उन्होंने 2007 से 2012 तक के बसपा सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि भाजपा हिदुओं के नाम पर तो सपा मुस्लिमों के नाम पर वोट बैंक की राजनीति करती है, जबकि बसपा सर्वधर्म की पार्टी है। आने वाला समय बसपा का ही है। लोग बसपा की तरफ ही निगाह लगाए हुए हैं।

इस दौरान बसपा के नगर अध्यक्ष मुजम्मिल कुरैशी, नबील अहमद, नसीम अहमद, जिला सचिव अकील अंसारी आदि नेता, कार्यकर्ता व समर्थक मौजूद रहे। इसके अलावा डा. हाशमी ने धनौरा रॉड स्थित मोहल्ला सराय रफी में भी डोर टू डोर जनसंपर्क किया।

काम आई आगे दिखाई देने की रणनीति- गौरतलब है कि पिछले साल नवंबर में हुए कार्यकर्ता सम्मेलन में पश्चिमी उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड प्रभारी शमसुद्दीन राईन ने चांदपुर विधानसभा सीट से डा. शकील हाशमी को प्रत्याशी बनाए जाने की घोषणा की थी। उस समय यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर तमाम राजनीतिक दल अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटे हुए थे। इसके पीछे मंशा यह थी कि पार्टी अपने उम्मीदवारों को लेकर जनता के बीच की प्रतिक्रियाओं को जान सके। साथ ही पार्टी ने विधानसभा क्षेत्र के लिए तय किए गए उम्मीदवारों को ही प्रभारी की जिम्मेदारी दे दी थी, ताकि जनता का मूड देखकर आगे की रणनीति तय की जा सके। इसका फायदा ये हुआ कि मतदाताओं को साधने के लिए बेहतर तरीके से रणनीति तैयार कर उस पर अमल भी किया गया। यही कारण है कि इन तैयारियों के चलते अब बसपा आगे निकलती दिख रही है। भारतीय जनता पार्टी ने एक दिन पहले ही सिटिंग एमएलए कमलेश सैनी को प्रत्याशी घोषित किया है, जबकि सपा-रालोद गठबंधन में सहमति नहीं बन सकी है।

BSP ने जारी की 53 सीटों के प्रत्याशियों की सूची

पहले चरण की अहम सीटों पर बीएसपी ने चर्चित सीट कैराना से राजेंद्र सिंह उपाध्याय और बुढ़ाना से मो. अनीश को टिकट दिया है। नोएडा से कृपाराम शर्मा को टिकट दिया गया है। अलीगढ़ से पार्टी ने रजिया खान को प्रत्याशी बनाया है।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी ने यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 58 में से 53 सीटों के प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है। आज मायावती का जन्मदिन भी है। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से पूर्ण बहुमत की सरकार बनवाने का तोहफा मांगा है। उन्होंने कहा है कि कोविड काल में सभी कार्यकर्ता घर से ही मेरा जन्मदिन मना रहे हैं और वह अपने क्षेत्र में ही पार्टी के प्रत्याशियों को भारी मतों से जिताएं। इसके साथ ही 2007 की भांति बसपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनवाएं।


पूर्व मुख्यमंत्री शनिवार को राजधानी स्थित पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से बात कर रही थीं। इस मौके पर उन्होंने बीएसपी की ब्लू बुक मेरे संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेंट का सफरनामा भाग-17 और उसके अंग्रेजी संस्करण का विमोचन भी किया। उन्होंने कहा कि बसपा किसी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। साथ ही बसपा को इस बार के विधानसभा चुनाव में फिर से जनता वापस जरूर लाएगी। इसके साथ ही पूर्व की भांति सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय के आधार पर सरकार चलेगी। सारे ओपीनियन पोल व सर्वे फेल हो जाएंगे।

उन्होंने प्रचार के लिए क्षेत्रों में न जाने को लेकर विपक्षियों द्वारा भ्रम फैलाने का आरोप लगाया साथ ही भतीजे आकाश आनंद को लेकर की जा रही तरह-तरह की बातों को भी षडयंत्र बताया। उन्होंने कहा कि आकाश धीरे-धीरे आगे आएंगे। यदि विरोधी आकाश आनंद के पीछे पड़ते हैं तो और वह उन्हें और बढ़ावा देंगी। यही नहीं उन्होंने महासचिव सतीश मिश्र के बेटे कपिल मिश्र द्वारा पार्टी में नौजवानों को जोड़कर किए जा रहे कामों की भी सराहना की। बसपा प्रमुख ने कहा कि यही नहीं पार्टी में बाकी पुराने लोगों की नयी पीढ़ी भी आगे आ रही है। उन्होंने कहा कि मेरा निजी परिवार नहीं है। दलित, गरीब, शोषित, पीड़ित ही मेरे परिजन हैं। पार्टियों में नेताओं की चल रही जोड़तोड़ पर कहा कि इसके लिए सख्त दल बदल विरोधी कानून बनना चाहिए।

छात्र छात्राओं को फ्री वाईफाई उपलब्ध कराएंगी रुचि वीरा

रूचि वीरा का बड़ा ऐलान

बहुजन समाज पार्टी से प्रत्याशी घोषित होने के बाद से पूर्व विधायक कुँवररानी रुचि वीरा का जनसंपर्क अभियान तेजी से जारी है। विधानसभा क्षेत्र के अधिक से अधिक मतदाताओं तक पहुंचना खास रणनीति का हिस्सा है।

इसी क्रम में उन्होंने बिजनौर के मोहल्ला काजीपाड़ा में लतीफ भाई के आवास पर लोगों से मुलाकात की। इस दौरान नदीम, ज़ाकिर हुसैन, रज़ि अहमद, फुरकान, ज़ाकिर, गणेश जी, अंकुर चौधरी, गौरव, सईद अहमद सहित काफ़ी लोग मौजूद रहे। वहीं बिजनौर विधानसभा के मण्डावर में इक़रार कुरेशी की बैठक में चाय पर चुनावी चर्चा की। इस दौरान नवनीत, मोहम्मद ज़ाकिर, बाबू कुरैशी, कोमल सिंह, नईम अहमद आदि लोग उपस्थित रहे।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि अपने कम समय के विधायकी के कार्यकाल (लगभग 2 वर्ष) में उन्होंने अपनी बिजनौर विधानसभा में भरसक विकास कार्य कराने का प्रयत्न किया था। उनके 2 वर्ष के विकास कार्य, बिजनौर के 20 वर्ष के अन्य विधायकों के कार्यकाल पर भारी हैं। उन्हें  खुशी और गर्व है कि विरोधी भी इस बात से सहमत हैं। इसके बावजूद वह जानती हैं कि मात्र 2 वर्ष में पूर्ण विकास नहीं कराया जा सकता है, कुछ कार्य अधूरे रह गए हैं।  उदाहरण के तौर पर बालावाली के गंगा पुल में उनके कार्यकाल के बाद एक भी कट्टा सीमेंट का विकास के नाम पर नहीं लगाया गया है। उन्होंने वादा करते हुए कहा कि यदि  वह विधायक बनती हैं, तो आने वाले समय में बिजनौर में और अधिक विकास देखने को मिलेगा एवं अधूरे छुटे विकास कार्यों को पूर्ण कराया जाएगा।

वहीं एक बयान में उन्होंने कहा कि विधायक बनीं तो बिजनौर के छात्र छात्राओं को फ्री वाई फाई देंगी। इस बार रुचि वीरा बड़े दांव खेल रही हैं। माना जा रहा है कि रूचि वीरा और भाजपा प्रत्याशी के बीच इस बार कांटे की टक्कर है।

बिजनौर विधानसभा क्षेत्र की जनता से अपीलमैं आप सभी के सामने पली बढ़ी हूँ, आप में से ही एक सेवक हूँ। आपके बीच हमेशा से थी, हूँ और रहूँगी। मेरा कई सालों का समर्पण, त्याग और प्रतिज्ञा सिर्फ इस मेरे क्षेत्र के लिए समर्पित रहे हैं और आगे भी रहेंगे। आप सभी का स्नेह और आशीर्वाद ही मुझे निरंतर निष्ठा, ईमानदारी और ऊर्जा से काम करने की प्रेरणा देता आया है। मैं ये प्रतिज्ञा लेती हूँ कि आपकी सेवा नि:स्वार्थ भाव से करती रहूँगी और मैं आशा करती हूँ कि आप भी हर स्थिति में मेरा साथ ऐसे ही देते रहेंगे।

आपकी बेटी, आपकी बहन
रुचि वीरा
प्रत्याशी बिजनौर सदर विधानसभा (22)

निष्पक्ष चुनाव के लिए EC का सख्त होना जरूरी: मायावती

यूपी में अभी भी चल रहा है जंगलराज। चुनाव को दिया जा रहा धार्मिक रंग। कहने से ज्यादा करने में विश्वास करती है बीएसपी। फ्री और फेयर होने चाहिए चुनाव। वर्तमान सरकार से यूपी की जनता परेशान।

लखनऊ। बीएसपी अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने चुनाव आचार संहिता सख्ती से लागू करने की जरूरत पर जोर दिया है। राजधानी में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को इस पर सख्ती से नजर रखनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरकारी मशीनरी में EC का खौफ जरूरी है। ‘निष्पक्ष चुनाव के लिए उसका सख्त होना जरूरी’ है, वह शांतिपूर्ण तरीके से मतदान कराए। उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव को धार्मिक रंग दिया जा रहा है। चुनाव लोकतंत्र का त्योहार है। साथ ही कहा कि बीएसपी एक अनुशासित पार्टी है। हमारे कार्यकर्ता आचार संहिता का पालन करेंगे। बीएसपी की कथनी-करनी में कोई अंतर नहीं है। ‘बीएसपी कहने से ज्यादा करने में विश्वास करती है’, अधिकारी निष्पक्ष रूप से कार्य करें। ये चुनाव फ्री और फेयर होने चाहिए। जनता इस बार बीएसपी को सत्ता में लाएगी। अभी भी यूपी में जंगलराज चल रहा है, जबकि हमारी सरकार में कानून का राज रहा है। वर्तमान सरकार से यूपी की जनता परेशान हो चुकी है, इस बार जनता की हितैषी बीएसपी की सरकार बनेगी। बसपा सुप्रीमो ने जनता को सचेत करते हुए कहा कि वह दूसरे दलों के प्रलोभन से दूर रहे। चुनावी घोषणा पत्र के बहकावे में न आएं। चुनाव में बाधा डालने की इजाजत किसी को नहीं होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि उम्मीदवारों के चयन को लेकर बैठक बुलाई है। पंजाब में भी बीएसपी गठबंधन की सरकार बनेगी।

इससे पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक के बाद एक कर के चार ट्वीट किये; जिसमें उन्होंने कहा कि…

  1. यूपी सहित पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव हेतु भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तिथि की घोषणा का स्वागत। आशा ही नहीं बल्कि पूर्ण विश्वास है कि आयोग यह चुनाव स्वतंत्र, निष्पक्ष, सुचारू व शान्तिपूर्वक कराने की अपनी ज़िम्मेदारी को जन अकांक्षा के अनुरूप पूरी मुस्तैदी से जरूर निभाएगा।
  2. खासकर सत्ताधारी पार्टी द्वारा हर चुनाव में नए-नए हथकण्डे अपनाकर आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने की प्रवृति घातक रूप से आम होती जा रही है, जिस पर इस चुनाव में पूरी गंभीरता से ध्यान देने एवं तत्परता के साथ उसके विरुद्ध कार्रवाई करने की चुनाव आयोग से ख़ास अपील।
  3. चुनाव लोकतंत्र का त्योहार है, जिसके प्रति खासकर ग़रीब, मजदूर व मेहनतकश लोग अति उत्साहित रहते हैं, जिनकी भावना व अधिकारों की विशेषकर वोटिंग वाले दिन हर प्रकार से रक्षा जरूर हो। नागरिकों के मताधिकार की रक्षा उनके मूलभूत अधिकार की तरह संविधान के मंशा के अनुरूप हो तो बेहतर।
  4. बी. एस. पी. के सभी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं व उम्मीदवारों आदि को भी सख्त निर्देश है कि वे पार्टी अनुशासन के साथ-साथ आज से ही लागू आदर्श चुनाव आचार संहिता ( Model Code of Conduct) का कड़ाई के साथ अनुपालन करें।

प्रदेश में फिर से परचम लहराने को बसपा ने छेड़ी जंग

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी ने आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बहुस्तरीय जंग छेड़ दी है। समाज के हर स्तर तक सम्पर्क कर प्रदेश में एक बार फिर परचम लहराने का जोश भरपूर है। इसी क्रम में नूरपुर विधान सभा क्षेत्र में बहुजन समाज पार्टी की सेक्टर स्तरीय मीटिंग का आयोजन किया गया। मीटिंग में जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर ने पार्टी की नीतियों से अवगत कराते हुए कहा कि केवल बसपा सरकार ही उत्तर प्रदेश में कानून एवं प्रशासनिक व्यवस्था को बेहतर कर सकती है। इस दौरान नूरपुर विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी हाजी जियाउद्दीन, इसरार नवी, मुख्य सेक्टर प्रभारी काके रवि, सेक्टर प्रभारी पुष्पेंद्र सिंह, जिला संयोजक बलवंत सिंह, अध्यक्ष नूरपुर डॉक्टर शमशाद, जिला सचिव परम सिंह प्रधान, जिला सचिव डैनी भाई आदि साथी उपस्थित रहे।

अवनीश अग्रवाल (टांडेवाले) ने छोड़ी बसपा

सांध्य दैनिक प्रयाण के एमडी नजीबाबाद निवासी एवं पश्चिम उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के सुप्रसिद्ध उद्यमी श्री अवनीश अग्रवाल (टांडेवाले) ने डेढ़ दशक का सफर तय करने के बाद बहुजन समाज पार्टी को अलविदा कह दिया है। उनके इस निर्णय से समर्थकों में मायूसी है।

बिजनौर। सांध्य दैनिक प्रयाण के एमडी नजीबाबाद निवासी जिला बिजनौर के सुप्रसिद्ध व्यवसाई श्री अवनीश अग्रवाल (टांडेवाले) ने बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया है। जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर को भेजे त्यागपत्र में उन्होंने बताया कि अत्यधिक व्यस्त होने के कारण वह पार्टी कार्य में समय नहीं दे सकेंगे। इस कारण वह अपनी सदस्यता से कार्यमुक्त होते हुए त्यागपत्र दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2006 से उन्हें बहुजन समाज पार्टी के सभी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं का पूर्ण सहयोग मिला है। इसके लिए वह दिल से हमेशा आभारी रहेंगे।

गौरतलब है कि श्री अवनीश अग्रवाल (टांडेवाले) वर्ष 2006 से बहुजन समाज पार्टी के सक्रिय व कर्मठ कार्यकर्ता रहे हैं। उन्होंने पार्टी के विभिन्न कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। उनके इस निर्णय से समर्थकों में मायूसी है।

संसद में उठा मालगोदाम पर फुट ओवरब्रिज निर्माण का मामला

फुट ओवरब्रिज का प्रतीकात्मक चित्र

मालगोदाम पर फुट ओवरब्रिज निर्माण का मामला संसद में उठाया गया। सांसद ने ब्रिज निर्माण के महत्व को बताया। काफी समय बाद संसद में उठाया गया नजीबाबाद के विकास से संबंधित मामला। बसपा के वरिष्ठ नेता इंजीनियर मुअज्जम खां व आरटीआई कार्यकर्ता मनोज शर्मा के प्रयास से हुआ संभव।


बिजनौर। नजीबाबाद क्षेत्र में बसपा के वरिष्ठ नेता इंजीनियर मुअज्जम खां की मांग पर क्षेत्रीय सांसद गिरीश चंद्र ने माल गोदाम पर फुट ओवरब्रिज बनाने का मामला लोकसभा में उठाया।
उल्लेखनीय है कि बसपा के वरिष्ठ नेता इंजीनियर मुअज्जम खां ने क्षेत्रीय सांसद गिरीश चंद्र को नजीबाबाद नगर के माल गोदाम पर फुटओवर ब्रिज बनाने का का सुझाव दिया था। बसपा सांसद ने कहा कि नजीबाबाद के माल गोदाम पर काफी समय से फुटओवर ब्रिज बनाए जाने की मांग की जा रही है। फुट ओवर ब्रिज ना होने से आमजन को बेहद परेशानी का सामना करना पड़ता है तथा एक सिरे से दूसरे सिरे पर जाने के लिए लोगों को डबल फाटक से होकर जाना पड़ता है। पूर्व में इस कारण कई लोगों की जान माल गोदाम पर भी रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए जा चुकी हैं। इस मुख्य लाइन से लगभग 150 रेल गाड़ियां 24 घँटे में गुजरती हैं। पूर्व में आरटीआई कार्यकर्ता मनोज शर्मा ने फुटओवर ब्रिज निर्माण संबंधी नक्शा और उसकी लागत से सम्बंधित कागज बसपा नेता इंजीनियर इंजीनियर मुअज्जम खां को उपलब्ध कराए थे। बाद में बसपा नेता ने यह कागज सांसद गिरीश चंद को दिए और यहां पर फुट ओवर ब्रिज के निर्माण की मांग करने का सुझाव दिया। इसके अलावा सांसद गिरीश चंद्र फुट ओवर ब्रिज निर्माण का मामला मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय मुरादाबाद में सांसदों की आयोजित बैठक में महाप्रबंधक उत्तर रेलवे के समक्ष भी उठा चुके हैं। लोकसभा में यह मामला उठने के बाद अब देखना है कि माल गोदाम पर फुट ओवर ब्रिज निर्माण के संबंध में क्या कार्यवाही की जाती है।

हाजी उस्मान ने बसपा छोडी, थामा सपा का दामन

हाजी उसमान ने बसपा छोड़कर थामा सपा का दामन। बसपा के टिकट पर नूरपूर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके हैं कपड़ा उद्यमी हाजी उसमान अंसारी।

नूरपुर/बिजनौर। क्षेत्र के गांव रवाना शिकारपुर निवासी कपड़ा उद्यमी हाजी उसमान अंसारी ने सोमवार को सपा का दामन थाम लिया है। बता दें कि हाजी उसमान नूरपुर विधानसभा सीट से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं, हालांकि उन्हें विजय नहीं मिल पाई थी। उनके सपा में आने से जहां बसपा को झटका लगा है, वहीं सपा की स्थिति मजबूत होना माना जा रहा है। गौरतलब है कि राजधानी लखनऊ में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मौलाना आब्दी के माध्यम से मुलाकात कर हाजी उसमान अंसारी ने सपा का दामन थामा है।

क्या रही है चुनावी तस्वीर- 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में नूरपुर विधानसभा सीट से भाजपा के लोकेंद्र सिंह चुनाव जीतकर विधायक बने थे। उन्होंने बसपा के हाजी मोहम्मद उस्मान को हराया था। इस चुनाव में भाजपा प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह को 47566 वोट मिले थे, जबकि बसपा के मोहम्मद उस्मान को 42093 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर रहे समाजवादी पार्टी के कुतुबुद्दीन को 34798 वोट मिले थे, वहीं महान दल के गौहर इकबाल को 32141 वोट प्राप्त हुए थे। इसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के लोकेंद्र सिंह ने समाजवादी पार्टी के नईम उल हसन को हराया था। इस चुनाव में लोकेंद्र सिंह को 79172 वोट मिले  थे, जबकि दूसरे नंबर पर रहे सपा के प्रत्याशी नईम उल हसन को 66436 वोट मिले थे. वहीं बसपा के गौहर इकबाल तीसरे नंबर पर थे, उन्हें 45902 वोट मिले थे. चौथे नंबर पर महान दल के विजय पाल सिंह थे, उन्हें 5338 वोट मिले थे. रालोद के योगेश उर्फ टिल्लू त्यागी को 2172 वोट मिले थे। भाजपा विधायक लोकेंद्र सिंह की सड़क हादसे में मौत हो जाने के बाद यह सीट खाली हो गई थी, जिस पर साल 2018 में उपचुनाव कराया गया। इस चुनाव में सपा के नईम उल हसन ने बाजी मारी और चुनाव जीतकर विधायक बन गए। उन्होंने भाजपा की अवनी सिंह को हराया था। दूसरी तरफ सोमवार को बसपा के सम्मेलन में बसपा के उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने नूरपुर विधानसभा सीट से हाजी जियाउद्दीन अंसारी, बिजनौर से पूर्व विधायक कुंवरानी रुचिवीरा, नजीबाबाद से शाहनवाज आलम, बढापुर से पूर्व विधायक मोहम्मद गाजी, नहटौर सुरक्षित से प्रिया सिंह, चांदपुर से डा. शकील हाशमी, नगीना से इं. ब्रजपाल सिंह को प्रत्याशी घोषित किया है।

बसपा ने बिजनौर के चुनावी मैदान में उतारे महारथी

बसपा कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रत्याशियों की घोषणा
नूरपुर विधानसभा सीट से हाजी जियाउद्दीन अंसारी की घोषणा


नूरपुर/बिजनौर।सोमवार को खालसा इंटर कालेज के मैदान में बहुजन समाज पार्टी के एक दिवसीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि बसपा के उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने डा, भीमराव अंबेडकर और पार्टी के संस्थापक कांसीराम के चित्र पर माला पहनाकर सम्मेलन का शुभारंभ किया।


सम्मेलन में बसपा के उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने नूरपुर विधानसभा सीट से हाजी जियाउद्दीन अंसारी, बिजनौर से पूर्व विधायक कुंवरानी रुचिवीरा, नजीबाबाद से शाहनवाज आलम, बढापुर से पूर्व विधायक मोहम्मद गाजी, नहटौर सुरक्षित से प्रिया सिंह, चांदपुर से डा. शकील हाशमी, नगीना से इं. ब्रजपाल सिंह को प्रत्याशी घोषित किया।

इसके उपरांत उन्होंने अपने मुख्य संबोधन में भाजपा, सपा पर जमकर प्रहार करते हुए कहा कि 2012 के चुनाव में सपा और 2017 के चुनाव में भाजपा ने झूठ के सहारे सत्ता हासिल की। सपा ने किसानों का कर्ज माफ करने का झूठा वादा किया था। भाजपा सरकार तो झूठ की बुनियाद पर चल रही है। इस सरकार में महंगाई कम होने के बजाय रसोई गैस, डीजल, पेट्रोल, खाद के अलावा रसोई का सामान के दामों ने जनता की कमर तोडकर रख दी। उन्होंने कहा की सपा और भाजपा समाज को हिन्दू मुस्लिम में बांटकर राजनीति करती हैं। केवल बसपा ही समाज में भाईचारा कायम करने का काम कर रही है। संबोधन के अंत में उन्होंने बसपा सुप्रीमो मायावती को कुशल शासक बताते हुए आने वाले चुनाव में बसपा को जिताकर सपा, भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों की जमानत जब्त करने का आह्वान किया।

इससे पूर्व सम्मेलन को मुरादाबाद मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी डा. रणविजय सिंह, राजेंद्र सिंह, डा. शकील हाशमी, पूर्व विधायक रुचि वीरा आदि ने संबोधित किया। सम्मेलन की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर ने की। संचालन काके रवि ने किया। सम्मेलन के संयोजक द्वारा अतिथियों का माला पहनाकर और प्रतीक चिंह देकर सम्मान किया गया।


भारी भीड़ देख गदगद हुए प्रभारी
नूरपुर। बसपा सम्मेलन में हजारों की भीड़ देखकर मुख्य अतिथि शमशुद्दीन राईन गदगद हो गए। उन्होंने सम्मेलन के सफल आयोजन के लिए हाजी जियाउद्दीन अंसारी को बधाई दी। सम्मेलन में मुख्य सेक्टर प्रभारी इसरार नवी, विजयपाल सिंह, धनीराम सैनी, हाजी कमाल, कविराज सिंह, इंजीनियर मनोहर लाल, जगराम सिंह, दीपक कुमार, मुन्ना सिंह, परम सिंह, सरदार राजेंद्र सिंह, सतनाम सिंह, बलवंत सिंह सहित हजारों की संख्या में कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

भाजपा देश को बेच रही हैः शमशुद्दीन
सम्मेलन को संबोधित करते समय बसपा प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने सरकार पर जमकर निशाना साधा। कहा कि देश को आजाद हुए 74 साल हो गए मगर आज भी 80 परसेंट लोग आजाद नहीं हुए हैं और जो लोग आजाद हुए हैं वह आजादी का हिस्सा नहीं थे। प्रधानमंत्री का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि सरकार ने चुनाव से पहले लोगों के खाते में 15 लाख रुपए एवं कालाधन वापस लाने के साथ ही दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था मगर सरकार ने अपना एक भी वायदा पूरा नहीं किया।
कहा कि देश के मुखिया सरकार की संपत्ति को धीरे धीरे बेचने का काम कर रहे हैं। भाजपा सरकार में गुंडागर्दी चरम सीमा पर है, अधिकारी बेलगाम हो चुके हैं। महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं, बहन जी की सरकार में महिलाएं रात 12 बजे तक अपने घरों के बाहर सड़क पर घूमती थी मगर अब महिलाएं बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार में उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं।

जिला पंचायत सदस्य डा. मुकेश ने सैकड़ों दलितों संग थामा रालोद का दामन

डा.मुकेश का स्वागत करते जिलाध्यक्ष

जिला पंचायत सदस्य डा.मुकेश ने सैकड़ों दलितों संग रालोद का दामन थामा


नूरपुर (बिजनौर)। क्षेत्र के गांव बलदाना शफीपुर के प्रमुख चिकित्सक मुकेश कुमार ने बसपा से किनारा कर लिया है। सैकड़ों दलितों और समर्थकों के संग रालोद का दामन थामकर उन्होंने बसपा को भारी झटका दिया है।
नहटौर में आयोजित रालोद के सदस्यता समारोह में प्रदेश महासचिव नगीना के पूर्व सांसद मुंशीराम पाल एवं जिलाध्यक्ष मोहम्मद अदनान ने उन्हें समर्थकों सहित सदस्यता ग्रहण कराते हुए माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया।
संगठन की सदस्यता ग्रहण कर डा. मुकेश ने संगठन के पदाधिकारियों और समर्थकों का आभार व्यक्त करते हुए संगठन की नीतियों को जन जन तक पहुंचाने का भरोसा दिलाया। इस दौरान उनके साथ मास्टर हेम सिंह चौधरी, आशीष सैनी, नवनीत कुमार, रिआसत अली, आबिद खां, राहत अली, सचिन चौधरी, नुज चौधरी सहित बड़ी संख्या में समर्थक शामिल रहे।

पूर्व मुख्यमंत्री बसपा प्रमुख मायावती की मां का निधन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा प्रमुख मायावती की मां का निधन हो गया। उन्होंने शनिवार (13 नवंबर) को दिल्ली के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। बताया जा रहा है कि 14 नवंबर को दिल्ली में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। यह जानकारी बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र ने दी।

कई दिन से चल रही थीं बीमार
जानकारी के मुताबिक, मायावती की मां रामरती काफी दिन से बीमार चल रही थीं। इसके चलते उन्हें दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां आज हृदय गति रुकने से उनका निधन हो गया। 

सतीश चंद्र मिश्र ने जारी किया शोक संदेश
बसपा के राष्ट्रीय महासचिव ने इस संबंध में शोक संदेश जारी किया। उन्होंने लिखा, ‘अति-दुःख के साथ यह सूचित किया जाता है कि बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद व यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की मां रामरती का लगभग 92 वर्ष की उम्र में आज हॉस्पिटल में हृदय गति रुकने से स्वर्गवास हो गया। कुदरत सभी को इस दुःख को सहन करने की शक्ति दे। उनका अंतिम संस्कार मायावती के दिल्ली पहुंचने व परिवार के एकत्र होने पर 14 नवंबर को किया जाएगा।’

सीएम योगी व सपा मुखिया ने जताया दुःख
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बसपा मुखिया मायावती की माता के निधन पर दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने लिखा है कि उ.प्र. की पूर्व मुख्यमंत्री एवं बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती जी की पूज्य माताजी श्रीमती रामरती जी का निधन अत्यंत दुखद है। प्रभु श्री राम दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान व शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुख सहने की शक्ति प्रदान करें।

सपा मुखिया अखिलेश यादव ने भी दुख जताते हुए लिखा कि बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती जी की माता रामरती जी का देहावसान, अत्यंत दुखद। दिवंगत आत्मा को ईश्वर अपने श्री चरणों में स्थान दे. शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहन संवेदना।

UP में फिर भाजपा सरकार, लेकिन नुकसान भी संभव!

एबीपी न्यूज-सी वोटर का लेटेस्ट सर्वे। सपा को होगा फायदा, बसपा को झटका, कांग्रेस का हाल और भी बुरा।

लखनऊ। अगले साल होने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए अभी से ही राजनीतिक पार्टियां जोर आजमाइश में जुट गईं हैं। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में किसकी सरकार बनेगी और किसकी विदाई होगी, इस पर अभी से ही सियासी गुणा-गणित का काम शुरू हो चुका है। उत्तर प्रदेश में इस बार जनता का क्या मूड है, इसका पता तो चुनाव बाद ही चलेगा, मगर अभी से ही टीवी चैनलों और एजेंसियों ने जनता की नब्ज को टटोलना शुरू कर दिया है। एबीपी न्यूज-सी वोटर ने अपने लेटेस्ट सर्वे में यूपी का मूड बताया है, जिसके हिसाब से यूपी में एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी बाजी मारती नजर आ रही है। 

नवंबर महीने के पहले सप्ताह में किए गए सर्वे में एबीपी न्यूज-सी वोटर ने बताया कि उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा सरकार बनाने में कामयाब होती नजर आ रही है। हालांकि, भाजपा को काफी सीटों का नुकसान हो रहा है और 300 का आंकड़ा भी पार करती नहीं दिख रहा है। इधर, समाजवादी पार्टी को फायदा होता दिख रहा है, जबकि मायावती को तगड़ा झटका लगता दिख रहा है। सर्वे का सैंपल साइज 1,07,193 था और इनमें पांचों राज्यों के लोग शामिल थे।

ABP-CVoter सर्वे के मुताबिक, 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा को 213 से 221 सीटें मिलती दिख रही हैं। यहां ध्यान देना जरूरी है कि 2017 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को 325 सीटें मिली थीं। भले ही भाजपा की सीटों में गिरावट का अनुमान लगाया गया है, मगर अब भी भगवा पार्टी यूपी में आसानी से लीड करती नजर आ रही है और योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार बनाती दिख रही है। 

सर्वे में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को 152 से 160 सीटों पर जीत दिखाया गया है। वहीं, मायावती की बसपा के खाते में महज 16 से 20 सीटें जाती दिख रही हैं। बता दें कि बसपा ने पिछले चुनाव में 19 सीटें जीती थीं। अगर कांग्रेस की बात करें तो उसका हाल और भी बुरा दिख रहा है। सर्वे में कांग्रेस के खाते में महज 6 से 10 सीटें जाती दिख रही हैं। 

वहीं वोट फीसदी की बात करें तो भाजपा को करीब 41 फीसदी वोट शेयर मिलने का अनुमान है। यह 2017 से थोड़ा सा कम है। सपा को 31 फीसदी तो बसपा को 15 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। कांग्रेस को 9 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है। यहां सपा को फायदा होता दिख रहा है, क्योंकि अखिलेश यादव की पार्टी को पिछले चुनाव में महज 23.6 फीसदी वोट ही मिले थे। 

बसपा भाईचारा कमेटी के प्रदेश संयोजक का इस्तीफा

लखनऊ (एजेंसी)। बसपा भाईचारा कमेटी के प्रदेश संयोजक चिंतामणि ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा है कि पार्टी में वह लक्ष्यों व अपने पदीय दायित्वों को सामज के सामने स्पष्ट रूप से प्रस्तुत करने में अपने को असमर्थ पा रहे हैं।

विधानसभा चुनावों की तैयारियों में लगीं बसपा प्रमुख मायावती को बड़ा झटका लगा है। चिंतामणि ने बसपा सुप्रीमो मायावती को सोमवार को पत्र लिखकर कहा कि आपने मेरी सेवानिवृत्ति के बाद मुझे बसपा में बहुजन समाज की सेवा करने, डा. भीमराव अंबेडकर और कांशीराम के कारवां को बढ़ाने का दायित्व दिया था। मैंने पिछले आठ साल से पूरी निष्ठा व लगन से पूरे प्रदेश में इसे निभाने का काम किया। मौजूदा समय ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के लिए समेकित प्रयास नहीं हो पा रहा है। इससे बहुजन समाज अलग-थलग पड़ गया है। अत्याचार व शोषण और अन्याय से अपने को बचाने में बहुजन समाज असहाय महसूस कर रहा है।

उन्होंने पत्र में यह भी कहा है कि जिस बहुजन समाज को जगाकर एवं उन्हें एकजुट करके पार्टी ने राजनीतिक सत्ता प्राप्त की थी, वह अब सही दिशा के अभाव में बिखरती सी प्रतीत हो रही है। ऐसी असमंजस व दिशाहीन स्थिति में समाज की सेवा व मदद पार्टी के माध्यम से किस प्रकार संभव हो, इसका साफ रास्ता दिखाई नहीं पड़ रहा है।  

भाजपा से गठबंधन नहीं करेगी बसपा!

लखनऊ। बसपा के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में चुनाव के बाद भी भाजपा के साथ गठबंधन की संभावना से इंकार किया है। उन्होंने कहा कि बसपा स्पष्ट बहुमत के साथ प्रदेश में सरकार बनाएगी।

बसपा महासचिव ने कहा कि हम विपक्ष में बैठना पसंद करेंगे लेकिन यूपी विधानसभा के लिए हम न तो किसी अन्य पार्टी के साथ गठबंधन करेंगे और न ही समर्थन लेंगे। उन्होंने कहा कि बसपा 2022 में पूर्ण बहुमत के साथ अपनी सरकार बना रही है। चुनाव के बाद किसी भी अन्य परिदृश्य की स्थिति में हम कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाएंगे। इससे पहले यूपी में बसपा ने भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी दोनों के साथ सरकारें बनाई थीं। बसपा ने 1993 में सपा के साथ गठबंधन किया था और उस वक्त मुलायम सिंह यादव ने सरकार का नेतृत्व किया। दो साल बाद 1995 में दोनों पार्टियां अलग हो गई और मायावती कुछ महीनों के लिए भाजपा के समर्थन से मुख्यमंत्री बनीं। इसके अलावा 1997 और 2002 में बसपा ने फिर से भाजपा के साथ गठबंधन में सरकार बनाई। इसके बाद 2007 में दलित-ब्राह्मण संयोजन पर भरोसा करते हुए पार्टी ने 403 सदस्यीय विधानसभा में 206 सीटें जीतकर अपने दम पर सरकार बनाई थी।

बसपा एक बार फिर ‘दलित-ब्राह्मण’ संयोजन को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर रही है। पार्टी राज्य भर में ब्राह्मण सम्मेलनों की एक सीरीज आयोजित कर रही है। दलित उत्तर प्रदेश की आबादी का अनुमानित 20 प्रतिशत हैं और ब्राह्मणों की संख्या 13 प्रतिशत है। बसपा के ब्राह्मण चेहरे सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि उनकी पार्टी ने प्रवृत्ति शुरू की और सभी दल अब ब्राह्मणों को शामिल करने और उन्हें लुभाने के लिए आगे बढ़ने का लक्ष्य बना रहे हैं, लेकिन 80 फीसदी ब्राह्मण हमारे साथ हैं। केवल वही ब्राह्मण बसपा के साथ नहीं हैं जो किसी दल के पदाधिकारी हैं या स्वयं चुनाव लड़ रहे हैं। ये सभी दल जनसंपर्क कार्यक्रमों के माध्यम से उनके लिए लड़ रहे हैं।

बसपा से इस बार आपराधिक छवि वालों को टिकट नहीं

लखनऊ। बसपा इस बार आपराधिक छवि वालों को चुनाव नहीं लड़ाएगी। इसीलिए बसपा विधायक मुख्तार अंसारी का टिकट मऊ से टिकट काट दिया गया है। उनके स्थान पर बसपा के प्रदेश अध्यक्ष भीम राजभर को मैदान में उतारा जाएगा।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने विधानसभा चुनाव में टिकट देने को लेकर स्थिति पूरी तरह से साफ कर दी है। बसपा ने वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव में मुख्तार अंसारी को मऊ और उनके बेटे अब्बास अंसारी को घोसी से टिकट दिया था। मुख्तार अंसारी तो मऊ से चुनाव जीत गए, लेकिन उनका बेटा अब्बास अंसारी घोसी में भाजपा उम्मीदवार फागू चौहान से चुनाव हार गया। फागू चौहान को 88298 और अब्बास अंसारी को 81295 वोट मिले। मुख्तार अंसारी के परिजन सपा का दामन थाम रहे हैं।

शुक्रवार सुबह सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा कि बीएसपी का अगामी यूपी विधानसभा आमचुनाव में प्रयास होगा कि किसी भी बाहुबली व माफिया आदि को पार्टी से चुनाव न लड़ाया जाए। इसके मद्देनजर ही आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से अब मुख्तार अंसारी का नहीं बल्कि यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है।बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की ’सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’ जैसी तथा बीएसपी जो कहती है वह करके भी दिखाती है यही पार्टी की सही पहचान भी है।

आपराधिक छवि वालों को टिकट नहीं- बसपा सुप्रीमो ने बुधवार को मुख्य सेक्टर प्रभारियों और जिलाध्यक्षों की बैठक में टिकट बंटवारे को लेकर चर्चा के दौरान ही कहा कि इस बार आपराधिक छवि वालों को टिकट देने से बचना है। इसीलिए नाम भेजते समय इसका जरूर ध्यान रखा जाए। सूत्रों का कहना है कि इसी दौरान मुख्तार को मऊ से टिकट न देने की भी बात आई। उनके स्थान पर बसपा के प्रदेश अध्यक्ष भीम राजभर को टिकट देने पर विचार-विमर्श हुआ।

राजभर बिरादरी को मनाने की कवायद- प्रदेश अध्यक्ष राजभर बिरादरी से आते हैं। बसपा में राजभर नेताओं में रामअचल राजभर हुआ करते थे, लेकिन पंचायत चुनाव के दौरान गड़बड़ी पर उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। इसीलिए राजभर बिरादरी का साथ पाने के लिए भीम राजभर को आगे बढ़ाया जा रहा है। मायावती ने 7 सितंबर को प्रबुद्ध वर्ग विचार गोष्ठी के समापन के दौरान उन्हें अपने साथ मंच पर बैठाकर इस समाज के लोगों को संदेश देने का काम किया।

आजाद समाज पार्टी व भीम आर्मी छोड़कर बसपा में शामिल

आज़ाद समाज पार्टी व भीम आर्मी को छोड़कर थामा बसपा का दामन

बिजनौर। आज़ाद समाज पार्टी व भीम आर्मी को छोड़कर कई पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं ने बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया है। जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर के अनुसार बहुत जल्द ही जनपद बिजनौर में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित करके तमाम राजनीतिक पार्टी के लोगों को बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई जाएगी।

एक संक्षिप्त कार्यक्रम में शमशुद्दीन राईन प्रभारी पश्चिम उत्तर प्रदेश, राजकुमार गौतम मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद, बरेली, मेरठ मण्डल, धनीराम सिंह मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मण्डल, दीपक राज सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मण्डल, जितेन्द्र सागर जिला अध्यक्ष जिला बिजनौर उपस्थित रहे।

इस अवसर पर भीम सैन हल्दिया जिला उपाध्यक्ष आज़ाद समाज पार्टी के नेतृत्व में उनके साथ कई पदाधिकारियों ने अपनी पार्टी छोड़कर बसपा की सदस्यता ग्रहण की। वहीं रजत कुमार जिलाध्यक्ष भीम आर्मी, धर्मराज हल्दिया विधानसभा अध्यक्ष आजाद समाज पार्टी नजीबाबाद, राहुल तेजवान विधानसभा अध्यक्ष बिजनौर ने तमाम साथियों के साथ बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस संकल्प के साथ कि आने वाले 2022 के चुनाव में जनपद बिजनौर की सभी विधानसभा सीटों पर बहुजन समाज पार्टी के विधायक जिता कर बहन कुमारी मायावती को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाना है। जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर ने कहा कि बहुत जल्द ही जनपद बिजनौर में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित करके तमाम राजनीतिक पार्टी के लोगों को बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई जाएगी।

सतीश चंद्र मिश्रा के कार्यक्रम को लेकर तैयारियां जोरों पर

उरई (जालौन)। बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा के आगमन को लेकर जोरशोर से तैयारियां की जा रही हैं। श्री मिश्रा 27 अगस्त 2021 को जानकी पैलेस उरई में प्रबुद्ध समाज सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में आ रहे हैं। उनके आगमन की तैयारियों को लेकर हुई बैठक में पूरे जनपद से प्रबुद्ध समाज की सहभागिता को लेकर रणनीति तैयार की गई।

जिला मुख्यालय पर एक स्थानीय गेस्ट हाउस में बसपा जिला अध्यक्ष धीरेन्द्र चौधरी की अध्यक्षता एवं बुंदेलखंड प्रभारी डॉ. बृजेश जाटव के मुख्य आतिथ्य में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में 27 अगस्त 2021 को प्रातः 11 बजे प्रबुद्ध समाज सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंच रहे राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा (सदस्य राज्यसभा) के कार्यक्रम को लेकर रणनीति तैयार की गई। बहुजन समाज पार्टी की जिला इकाई एवं पार्टी के प्रबुद्ध वर्ग के लोगों ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सम्पूर्ण जिले से सहभागिता और भव्य आयोजन का संकल्प लिया। बैठक का संचालन कन्हैया लाल कुशवाहा जिला महासचिव ने किया। बैठक में प्रमुख रूप से डॉ. अवनीश दीक्षित मंडल प्रभारी प्रबुद्ध समाज भाईचारा, मुख्य सेक्टर प्रभारी नरेश बाबू राठौर, एड. बृजमोहन कुशवाहा, पूर्व मंत्री जगदीश प्रजापति, रफीउद्दीन पन्नू, पूर्व विधानसभा प्रत्याशी माधौगढ़ गिरीश अवस्थी, नारायण हरि अवस्थी, संजीव थापक, राघवेन्द्र पांडेय जिला पंचायत सदस्य, राजेश तिवारी भुआ प्रधान, सुरेश तिवारी ईकहरा, बृजमोहन दीक्षित, एड.अंशुमान दीक्षित, राजेश द्विवेदी, राकेश उपाध्याय, राजीव द्विवेदी नारायणपुरा, मनोज कुमार याज्ञिक जिला पंचायत सदस्य, श्यामसुंदर कुशवाहा जिला सचिव, मानवेन्द्र पाल सभासद विधानसभा संयोजक पिछड़ा वर्ग, शशिकांत दोहरे जिला संयोजक बीवीएफ, अमर नाथ सिंह विधानसभा उरई संयोजक बीवीएफ, चन्द्रशेखर गौतम विधानसभा माधौगढ़ संयोजक  बीवीएफ, जनवेद गौतम बीवीएफ रेढ़र, सुनील कुमार, मिथलेश कुमार आदि उपस्थित रहे। (साभार-जालौन टाइम्स)

बसपा कार्यालय पर मनाया स्वतंत्रता दिवस

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी कार्यालय में 15 अगस्त 2021 को देश के शहीदों को याद किया गया। इस अवसर पर धनीराम सिंह पूर्व मंत्री, अखिलेश कुमार हितेषी, धनीराम सैनी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बिजनौर द्वारा सामूहिक रूप से ध्वजारोहण तथा राष्ट्रगान कराया गया।

75वें स्वतंत्रता दिवस पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन बसपा कार्यालय में हुआ। अध्यक्षता जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बिजनौर एवं संचालन ब्रह्मपाल सिंह जिला सचिव विधानसभा प्रभारी बिजनौर द्वारा की गई। इस अवसर पर भूरे भाई ने मिष्ठान वितरित किया। कविराज सिंह, मुन्ना सिंह, जगराम सिंह, दीपक राज, काम इंदर सिंह, तिलक राज बौद्ध, सद्दाम राणा, डॉक्टर बेग राज सिंह, मुंशी सदीक, हरदयाल सिंह, जीतसिंह कश्यप, गुलाब सिंह प्रजापति, प्रमोद कुमार, देशराज सिंह भूइयार एडवोकेट आदि ने विचार व्यक्त करते हुए उन वीर सपूतों को याद किया, जिन्होंने आजादी के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया। सरदार भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सुखदेव, राजगुरु हंसते-हंसते फांसी पर लटक गए। रानी लक्ष्मीबाई अंग्रेजों से लड़ते लड़ते वीरगति को प्राप्त हुई। सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज का गठन किया, उन्होंने कहा था तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा। 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर वक्ताओं ने कहा की शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर वर्ष मेले, वतन पर मरने वालों का यही आखिरी निशा होगा।

इस अवसर पर वक्ताओं ने वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में विजय हासिल कर पांचवीं बार बहन कुमारी मायावती को उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया और कहा कि अगले वर्ष विधानसभा लखनऊ के प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बहन कुमारी मायावती ही मुख्यमंत्री के रूप में ध्वजारोहण करेंगी। अंत में जितेंद्र सागर जिलाध्यक्ष बिजनौर ने सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा की।

बहन जी ने दिया जाट समाज को सम्मान- चौधरी धर्मवीर

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी विधान सभा क्षेत्र नगीना का एक सम्मेलन ग्राम गढी बान में चौ० तेजपाल सिंह के निवास पर संपन्न हुआ।

मुख्य अतिथि के रूप में चौ० धर्मवीर प्रभारी मुरादाबाद, सहारनपुर, मेरठ, आगरा व अलीगढ़ मन्डल तथा राष्ट्रीय प्रवक्ता ब० स०पा० सम्मिलत हुए। साथ में विजय पाल सिंह प्रभारी पांचों मन्डल उपस्थित रहे।

इस अवसर पर चौ० धर्मवीर सिंह ने कहा कि बसपा सरकार में बहन मायावती ने जाट समाज को विशेष सम्मान दिया 12 विधान सभा के टिकट दिये जिसमें छह जीते और दो को मंत्री बनाने का काम किया। जाट समाज से प्रमुख सचिव व अन्य महत्वपूर्ण पदों पर अधिकारी बैठाए गए। पुलिस भर्ती में जाट समाज के 17000 लड़कों को ईमानदारी से सिपाही बनाने का काम किया। गन्ने का रेट पांच साल में दुगना करने का काम किया। सफाई कर्मी भर्ती में सभी समाज को नौकरी देने का काम किया। कानून व्यवस्था के मामले में कानून का राज कायम करने में रिकार्ड बनाया। महिलाओं को सम्मान व सुरक्षा देने का काम किया। उन्होंने समाज के सभी लोगों से बसपा प्रत्याशियों को जिताने व बहन कु० मायावती को प्रदेश का पांचवी बार मुख्यमन्त्री बनाने का आह्वान किया। विजय सिंह ने भी सभी से बसपा को जिताने व बहन जी को मुख्यमन्त्री बनाने की अपील की।

बैठक में जिलाध्यक्ष जितेन्द्र सागर, मुख्य सेक्टर प्रभारी धनीराम सिद्ध पूर्व मन्त्री, मुख्य सेक्टर प्रभारी अखलेश कुमार, सेक्टर प्रभारी धनीराम सैनी चौ० प्रीतम सिंह, चौ० फूल सिंह, चौ० लटूर सिंह, चौ० समरपाल सिंह, मंगू सिंह मास्टर, चौ० योगेश्वर, मास्टर राजेश कुमार, चौ० मदन सिंह, चौ० राम सिंह, आशाराम, दलीप कुमार, डा0 मनोज, चौ० लोकेन्द्र एड0, राम सिंह कश्यप, डा० आगेश सैनी, चौ० रामकुमार आदि उपस्थित रहे। अध्यक्षता चौ० अमन सिंह ने की तथा संचालन विजय पाल सिंह सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मन्डल ने किया।

सुप्रसिद्ध समाजसेवी हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” बिजनौर से हो सकते हैं बसपा प्रत्याशी!

सुप्रसिद्ध समाजसेवी हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” बिजनौर से हो सकते हैं बसपा प्रत्याशी! साल भर में कराते हैं कम से कम पांच सौ गरीब लड़कियों की शादी। नेक काम मान कर प्रचार से रहते हैं कोसों दूर।

सुप्रसिद्ध समाजसेवी हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” बिजनौर से हो सकते हैं बसपा प्रत्याशी! साल भर में कराते हैं कम से कम पांच सौ गरीब लड़कियों की शादी। नेक काम मान कर प्रचार से रहते हैं कोसों दूर। बिजनौर। आगामी विधानसभा चुनाव में हापुड़ निवासी प्रसिद्ध समाजसेवी हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” बिजनौर से चुनाव लड़ सकते हैं! …और वह भी बहुजन समाज पार्टी से। ऐसा सूत्रों का दावा है। दरअसल हापुड़ निवासी हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” अपने जनपद के अलावा आसपास के क्षेत्र के बहुत बड़े समाजसेवियों में शुमार हैं। विश्वसनीय सूत्रों का कहना है कि हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” गरीब लड़कियों की शादी कराते हैं। साल भर में वह कम से कम पांच सौ गरीब लड़कियों की शादी कराते हैं और इस नेक काम के बावजूद प्रचार से कोसों दूर। यही नहीं, जहां आज के दौर में किसी भी पार्टी का छोटा सा नेता अस्पताल में भर्ती किसी मरीज को दो केले भी देता है, तो अखबारों में बड़ी फ़ोटो और खबर छपवाने को लालायित रहता है। इसके बिल्कुल विपरीत प्रत्येक गरीब लड़की की शादी में ₹एक लाख देने वाले हाजी शाहिद “तुल्ला वाले” को प्रचार से सख्त नफरत है। वह कहते हैं कि ऊपर वाले ने जिंदगी दी है तो उसका नेक काम में उपयोग करना चाहिए। राजनैतिक सफर-14वीं विधानसभा के लिए वर्ष 2002 में उन्होंने बीएसपी के टिकट पर चुनाव लड़ा। इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के महेंद्र सिंह यादव को जीत हासिल हुई थी। हाजी शाहिद 31882 वोट हासिल कर दूसरे स्थान पर रहे। आंकड़ों के अनुसार उन्हें मात्र 4752 वोट से पराजय का सामना करना पड़ा। भारतीय जनता पार्टी के महेंद्र सिंह यादव ने 36634 वोट हासिल कर सीट पर कब्जा जमाया था। अमरोहा से भी उन्हें लोकसभा चुनाव में बीएसपी से टिकट हुआ और किन्हीं कारणों से अचानक मेरठ से लड़ने को कहा गया। उन्होंने मना कर दिया। मुंबई के अलावा कोलकाता सहित कई बड़े शहरों में उनका कंस्ट्रक्शन का कार्य है। यह भी पता चला है कि बसपा सुप्रीमो बहन मायावती से उनकी इस मसले को लेकर मुलाकात हो चुकी है। खबर यह भी है कि यदि वो चाहें तो मेरठ के तीन विधानसभा क्षेत्रों में से किसी पर भी चुनाव लड़ सकते हैं। इसी तरह बिजनौर की चांदपुर अथवा नजीबाबाद विधानसभा से चुनाव लड़ने का विकल्प उनके सामने रखा गया है।

हाजी शाहिद “तुल्ला वाले”

भाजपा सरकार के निशाने पर ब्राह्मण और दलित- सतीश चंद्र मिश्रा 

भाजपा सरकार के निशाने पर ब्राह्मण और दलित- सतीश चंद्र मिश्रा। एससी समाज का शोषण किया जा रहा। 
ब्राह्मण समाज को एकजुट होकर बसपा का दामन थाम ले। 
बसपा सर्व समाज की पार्टी है बसपा। 
सर्व समाज एकजुट होकर भाजपा को हराए। 

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव, राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने बिजनौर में एक विचार – संगोष्ठी को संबोधित किया। सतीश चंद्र मिश्रा ने विचार संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार के निशाने पर ब्राह्मण और दलित है। योगी सरकार में ब्राह्मणों को घर से उठाकर मारा जा रहा है और एससी समाज का शोषण किया जा रहा है जैसे समाजवादी पार्टी की सरकार में ब्राह्मण और एससी समाज के लोगों का कोई काम नहीं होता था। ऐसे ही भाजपा की सरकार में हो रहा है। अब वक्त आ गया है कि ब्राह्मण समाज को एकजुट होकर बसपा का दामन थाम लेना चाहिए। जब ब्राह्मण एससी एकजुट होंगे तो बसपा की सरकार बनने से कोई रोक नहीं सकता क्योंकि बसपा से ओबीसी और अल्पसंख्यक समाज भी जुड़ा हुआ है। बसपा सर्व समाज की पार्टी है। सतीश चंद्र मिश्रा ने बताया कि ब्राह्मण समाज उत्तर प्रदेश में 16 परसेंट है अगर हम एकजुट होकर बहन कुमारी मायावती के साथ आ जाएं तो ब्राह्मण समाज को उसका पूरा अधिकार मिलेगा क्योंकि बहन कुमारी मायावती ने नारा दिया है। जिसकी जितनी तैयारी उसकी उतनी हिस्सेदारी। सतीश चंद्र मिश्रा जी ने आगे कहा कि ब्राह्मण समाज के लोग बसपा के टिकट से 2002 में सर्वाधिक 45 ब्राह्मण विजई हुए अगर एकजुट होकर ब्राह्मण बसपा से जुड़े तो इससे भी अधिक सर्वाधिक 45 ब्राह्मण विजई हुए अगर एकजुट होकर ब्राह्मण बसपा से जुड़े तो इससे भी अधिक विधायक बन सकते हैं। बसपा की सरकार में ब्राह्मण समाज को सर्वाधिक सम्मान मिलता है, बहन कुमारी मायावती ने 15 एमएलसी ब्राह्मण समाज के बनाए थे जब उनकी सरकार थी। सतीश चंद्र मिश्र ने कहा कि भाजपा की सरकार जनता को लूटने का काम कर रही है नोटबंदी के नाम पर जीएसटी के नाम पर पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाकर हर तरह से देश की जनता को लूटने में लगी है। अतः सर्व समाज को एकजुट होकर भाजपा को हराना चाहिए। बहुजन समाज पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है। जो सर्व समाज को साथ लेकर चलती है इसलिए हमें बसपा को समर्थन करके 2022 के चुनाव में जीत दिलाकर बसपा की सरकार बनानी चाहिए। जिससे बहन कुमारी मायावती पांचवी बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बने और सर्व समाज को लाभ मिले। 

इस कार्यक्रम में मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल धनीराम सिंह, मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल अखिलेश हितेषी, सुबोध पराशर पूर्व एमएलसी, बसपा जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर, बसपा नेता रुचि वीरा, सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल कविराज, सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल कामेंद्र सिंह उर्फ सोनू, बसपा नेता दीपक कुमार, दीपक राज, सद्दाम राणा, आकिब यूनुस, तिलक राज, मुन्ना मुंशी, मुंशी सदीक आदि बसपाई मौजूद रहे।

सुबोध पाराशर को सफलता का श्रेय दे गए मिश्रा
बिजनौर। पूर्व एमएलसी सुबोध पाराशर की बसपा राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्रा ने जमकर तारीफ की। उन्होंने उनका कई बार नाम लिया और ब्राहमण समाज को उनकी मिसाल देते हुए कहा कि बसपा ने सुबोध पाराशर को एमएलसी बनाया था और सरकार आई तो आगे भी इन्हें सम्मान दिया जायेगा। उन्होंने कार्यक्रम की सफलता का श्रेय भी श्री पाराशर को दिया।


बसपा के मंच पर रूचिवीरा
बिजनौर। पूर्व सदर विधायक रूचिवीरा भी बसपा की गोष्ठी में पहुंची और यसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीशचन्द्र मिश्रा को गुलदस्ता भेंटकर उनका स्वागत किया। रूचिवीरा को पार्टी के लोगों ने मंच पर स्थान दिया जिससे ये साफ हो गया है कि रूचिवीरा का अगला राजनीतिक पड़ाव बसपा में ही होगा।

कार्यक्रम की सफलता को बसपा ने झोंकी ताकत

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान सुरक्षा व तरक्की को लेकर विचार संगोष्ठी कार्यक्रम 08 अगस्त 2021 को आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद बहुजन समाज पार्टी सतीश चंद्र मिश्रा उपस्थित रहेंगे।

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बहुजन समाज पार्टी के जिला कार्यालय में जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बिजनौर की अध्यक्षता दलीप कुमार पिंटू जिला महासचिव के संचालन में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में रणविजय सिंह, साजिद अहमद सैफी,  धनीराम सिंह पूर्व मंत्री, धनी राम सैनी, अखिलेश कुमार हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल द्वारा समीक्षा की गई। अवशेष बूथ कमेटियों के गठन के साथ-साथ कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी सेक्टर प्रभारी, जिला सचिव, विधानसभा प्रभारी व विधानसभा अध्यक्ष को जिम्मेदारी सौंपी गई।

इस दौरान इंजीनियर मनोहर लाल, जगराम सिंह, मुन्ना सिंह,  विजय पाल सिंह, डॉ. मनोज कुमार, हरज्ञान सिंह,  प्रजापति, दीपक कुमार सिंह, काके रवि, दीपक राज,  कविराज कामेदर सिंह, सरफराज अंसारी बढ़ापुर,  महबूब अहमद बिजनौर, पंकज शर्मा वरिष्ठ बसपा नेता, ब्रह्मपाल सिंह, सुरेश कुमार, दीपक कुमार, राजेंद्र सिंह, रोहिताश सिंह, प्रमोद कुमार, राम किशन सिंह, बलवंत सिंह विधानसभा अध्यक्ष आदि उपस्थित रहे।

वहीं इससे पहले सुबोध पाराशर पूर्व सदस्य विधान परिषद बसपा, जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बिजनौर, वरिष्ठ बसपा नेता डॉक्टर मोहित शर्मा, पंडित विजय शर्मा, पंडित दिनेश चंद्र शर्मा, डॉक्टर संजीव शर्मा,  राजीव शर्मा, डॉक्टर पंकज भारद्वाज, शरद शर्मा,  विपिन शर्मा, कृष्ण कुमार शर्मा, सुनील भारद्वाज, मणि कांत शर्मा, चिंटू शर्मा, क्रांति कुमार शर्मा, डॉक्टर अशोक कुमार, सक्षम भारद्वाज आदि साथी उपस्थित रहे।

अंत में कार्यक्रम स्थल सिद्धि रॉयल कैसल चक्कर रोड बिजनौर का भ्रमण करने के साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

विचार संगोष्ठी को लेकर बसपा की अभूतपूर्व तैयारियां

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में दिनांक 8 अगस्त 2021 को प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान सुरक्षा व तरक्की को लेकर विचार संगोष्ठी कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इसमें मुख्य अतिथि सतीश चंद्र मिश्रा राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद बहुजन समाज पार्टी होंगे। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बहुजन समाज पार्टी के जिला मुख्यालय कार्यालय में जितेंद्र सागर जिलाध्यक्ष की अध्यक्षता, दलीप कुमार पिंटू जिला महासचिव के संचालन में समीक्षा बैठक हुई। रणविजय सिंह, साजिद अहमद सैफी, धनीराम सिंह पूर्व मंत्री, धनी राम सैनी, अखिलेश कुमार हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल द्वारा समीक्षा की गई। इस दौरान अवशेष बूथ कमेटियों के गठन के साथ-साथ कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी सेक्टर प्रभारी, जिला सचिव, विधानसभा प्रभारी व विधानसभा अध्यक्ष को जिम्मेदारी सौंपी गई। समीक्षा बैठक में इंजीनियर मनोहर लाल, जगराम सिंह, मुन्ना सिंह, विजय पाल सिंह डॉ. मनोज कुमार, ज्ञान सिंह प्रजापति, दीपक कुमार सिंह, काके रवि, दीपक राज, कविराज कामेंद्र सिंह, सरफराज अंसारी बढ़ापुर, महबूब अहमद बिजनौर, पंकज शर्मा वरिष्ठ बसपा नेता, ब्रह्मपाल सिंह, सुरेश कुमार, दीपक कुमार, राजेंद्र सिंह, रोहिताश सिंह, प्रमोद कुमार, राम किशन सिंह, बलवंत सिंह विधानसभा अध्यक्ष आदि उपस्थित रहे। अंत में कार्यक्रम स्थल सिद्धि रॉयल कैसल चक्कर रोड बिजनौर का भ्रमण करने के साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

सतीश चंद्र मिश्रा के कार्यक्रम को लेकर तैयारियां

बिजनौर। 8 अगस्त 2021 को बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में प्रबुद्ध वर्ग के सम्मान सुरक्षा व तरक्की को लेकर “विचार संगोष्ठी” कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सतीश चंद्र मिश्रा राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा सांसद बसपा होंगे। कार्यक्रम स्थान सिद्धि रॉयल कैसल चक्कर रोड बिजनौर है।

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बिजनौर विधानसभा क्षेत्र में जनसंपर्क करते हुए जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष, पंकज शर्मा वरिष्ठ बसपा नेता, बाबू ब्रह्मपाल सिंह जिला सचिव, प्रमोद कुमार, सचिन कुमार, लाल सिंह, जस्सू सिंह, नौबहार सिंह, भीम सिंह, बाबू राम सिंह, दीपक सिंह, कृष्णपाल, घसीटा सिंह, जगमोहन शर्मा, धन सिंह, इंद्राज सिंह, भोले सिंह, भारत सिंह, राम किशोर सिंह, तेजपाल सिंह, हेमेंद्र सिंह आदि साथी साथ रहे।

8 अगस्त के कार्यक्रम की सफलता को बसपा ने झोंकी ताकत

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी के जिला कार्यालय पर जिला कमेटी की मासिक बैठक में पोलिंग बूथ कमेटी की समीक्षा की गई।

बैठक में 8 अगस्त को होने वाले बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में “विचार संगोष्ठी” कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए रणनीति बनाई गई। कार्यक्रम स्थान सिद्धि रॉयल कैसल चक्कर रोड बिजनौर होगा। बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर ने की। संचालन दिलीप सिंह जिला महासचिव ने किया।

बैठक में मुख्य अतिथि धनीराम सिंह मुख्य सेक्टर प्रभारी, धनीराम सैनी मुख्य सेक्टर प्रभारी, इंजीनियर मनोहर लाल, दीपक कुमार, काके सिंह रवि, विजयपाल सिंह, डॉ. मनोज, सुरेश सैनी, हरज्ञान सिंह प्रजापति, जगराम सिंह, कविराज सिंह सेक्टर प्रभारी, इसरार नवी जिला उपाध्यक्ष, अमित चौधरी जिला कोषाध्यक्ष, बलवंत सिंह, रामकिशन सिंह, अनुज राठी, जिला सचिव प्रमोद कुमार, दीपक कुमार, रोहतास सिंह, लखबीर सिंह, बाबू ब्रहमपाल सिंह, डॉ. अभिषेक चंद्रा, विवेक शर्मा, जागेश सैनी, भोपाल सिंह, शेर सिंह, तिलक राज, शौकत मुंशी सदीक, अनिल कुमार, नसीमुद्दीन अहमद आदि साथी उपस्थित रहे।

यूपी में फिर महागठबंधन चाहते हैं अखिलेश!

यूपी में फिर महागठबंधन चाहते हैं अखिलेश? कहा- BJP से लड़ना है या समाजवादी पार्टी से, तय कर लें BSP-कांग्रेस

लखनऊ (PTI)। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने रविवार को कहा कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव से पहले उनकी पार्टी के दरवाजे सभी छोटे दलों के लिए खुले हुए हैं और बीजेपी को हराने के लिए वे ऐसी सभी पार्टियों को साथ लाने की कोशिश करेंगे। पिछले चुनावों में गठबंधन सहयोगी रहीं पार्टियों कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की ओर एक बार फिर हाथ बढ़ाते हुए उन्होंने यह तय करने को कहा है कि वह किस पक्ष में हैं। 

पूछा कि लड़ाई किससे है?- अखिलेश यादव ने कहा, ”इन पार्टियों (बीएसप-कांग्रेस) को तय करना चाहिए कि उनकी लड़ाई बीजेपी से है या समाजवादी पार्टी से?” आगमी चुनाव में गठबंधन की संभावनाओं को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने कहा, ”सभी छोटे दलों के लिए दरवाजे खुले हुए हैं। कई छोटे दल हमारे साथ पहले से हैं और हमारे साथ आएंगी।” 

भाजपा को हराने के लिए एकजुटता- यह पूछे जाने पर कि उनके चाचा शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी भी सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है? अखिलेश यादव ने कहा, ”हम कोशिश करेंगे कि सभी पार्टियां बीजेपी को हराने के लिए एकजुट हो जाएं।” ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एबीएसपी) की अगुआई वाली भागीदारी मोर्चा, जिसमें असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम भी शामिल हैं, से जुड़े सवाल पर अखिलेश ने कहा, ”अभी तक उनसे कोई बातचीत नहीं हुई है।” एसपी अध्यक्ष ने बीएसपी और कांग्रेस जैसी बीजेपी की विरोधी पार्टियों से भी यह तय करने को कहा है कि वे किस पक्ष में हैं और उनकी लड़ाई किस पार्टी से है। उन्होंने कहा, ”इन पार्टियों को तय करना चाहिए कि उनकी लड़ाई किससे है।”

पेगासस जासूसी कांड को लेकर साधा निशाना- अखिलेश यादव ने पेगासस जासूसी को लेकर केंद्र सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, ”एनडीए के पास लोकसभा में 350 सीटें हैं। कई राज्यों में बीजेपी की सरकार है। क्यों और क्या सरकार जासूसी से निकालना चाहती है? इसके जरिए वे विदेशी ताकतों की मदद कर रहे हैं।” 

सतीश चंद्र मिश्र के कार्यक्रम की तैयारियों में तेजी

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के तत्वाधान में 8 अगस्त 2021 को विचार संगोष्ठी कार्यक्रम
किया जा रहा है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि
सतीश चंद्र मिश्र राष्ट्रीय महासचिव
सांसद राज्यसभा होंगे। कार्यक्रम की तैयारी
करते हुए जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष
बिजनौर, पंकज शर्मा वरिष्ठ नेता बसपा,
अमित चौधरी जिला कोषाध्यक्ष, गगन
शर्मा पूर्व सभासद झालू, सर्वेश शर्मा,
प्रमोद शर्मा, विशाल शर्मा, संजय शर्मा,
भूपेंद्र शर्मा, विपिन कुमार, अतुल मिश्रा,
संजीव कुमार शर्मा, पंकज मिश्रा, नितेश
शर्मा आदि साथियों ने मिलकर कार्यक्रम
को सफल बनाने के लिए झालू कस्बे में
जनसंपर्क किया।

विदित हो कि बहुजन समाज पार्टी के इस कार्यक्रम का आयोजन सिद्धि रॉयल कैसल चक्कर रोड बिजनौर पर 08 अगस्त 2021 को
सुबह 11:00 बजे से होना प्रस्तावित है।

बसपा ने किया सरवनपुर की पोलिंग बूथ कमेटी का गठन

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। नजीबाबाद विधानसभा क्षेत्र में सेक्टर नंबर 28 सरवन पुर की पोलिंग बूथ कमेटी का गठन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि साजिद सैफी रहे। उन्होंने बसपाईयों को संबोधित करते हुए कहा कि बसपा की बूथ कमेटियों में हर समाज के वर्ग के लोगों को स्थान मिलता है क्योंकि बसपा की नीति समाज के हर वर्ग के लिए काम करने की है। इसलिए अब 2022 के विधानसभा चुनाव के बाद बसपा की ही सरकार बनेगी।
बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर जिले की हर विधानसभा में पोलिंग बूथ पर बसपा को मजबूत करने के लिए कमेटियों का गठन कर रहे हैं। वह विधानसभा चुनाव से पहले हर पोलिंग बूथ पर बसपा का झंडा बुलंद करना चाहते हैं। उनकी मेहनत रंग लाएगी और जिला बिजनौर की सभी विधानसभा सीटें बसपा के खाते में जाएंगी।
नजीबाबाद विधानसभा क्षेत्र में सेक्टर नंबर 28 सरवन पुर की पोलिंग बूथ कमेटी का गठन करते समय बसपा नेता मौजूद थे, जिसमें मुख्य अतिथि साजिद सैफी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, सुबोध पाराशर पूर्व एमएलसी, जितेंद्र सागर बसपा जिलाध्यक्ष जिला बिजनौर, अखिलेश हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, इंजीनियर मनोहर लाल, जगत सिंह सेक्टर प्रभारी, इसरार नबी जिला उपाध्यक्ष, नंदराम प्रजापति, महेंद्र सिंह, सुरेंद्र सिंह, विजेंद्र कश्यप, सुरेश रवि, अशोक कुमार, नरेंद्र रवि, नासिर सैफी, अयूब अहमद आदि उपस्थित रहे।

UP में लगवाएंगे विकास दुबे और श्री प्रकाश शुक्ला की प्रतिमा!

यूपी में फूलन देवी की प्रतिमा लग सकती है तो विकास दुबे और श्रीप्रकाश शुक्ला की प्रतिमा भी लगवाऊंगा, ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष का ऐलान

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार)। यूपी की सियासत में इस समय ब्राह्मण को रिझाने और अपने पाले में लाने की हर संभव कोशिश हो रही है। बहुजन समाज पार्टी के अयोध्या में ब्राह्मण सम्मेलन के बाद सपा ने पूर्वांचल में ब्राह्मण सभा की घोषणा कर नई टीम बना दी है।

भाजपा भी चलाएगी ब्राह्मण ब्रह्मास्त्र- सूत्रों का दावा है कि अब भाजपा सरकार भी अपने मंत्रिमंडल विस्तार में ब्राह्मण ब्रह्मास्त्र चला सकती है। यूपी के सियासी दंगल के बीच अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष राजेंद्र नाथ त्रिपाठी ने एक बयान देकर नई सनसनी मचा दी है। उन्होंने कहा है कि यदि फूलन देवी की प्रतिमा लग सकती है तो ब्राह्मणों के महापुरुष विकास दूबे और श्रीप्रकाश शुक्ला की प्रतिमा भी लगेगी।

डकैतों की मूर्ति लगेंगी, तो महापुरुषों की क्यों नहीं- पिछले दिनों कानपुर के चौबेपुर स्थित ग्राम बरुआ में भगवान परशुराम मंदिर के भूमि पूजन एवं शिलान्यास कार्यक्रम में अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पं. राजेंद्र नाथ त्रिपाठी पहुंचे थे। उन्होंने मंच से घोषणा की थी, कि ब्राह्मण महासभा यूपी में प्रकाश शुक्ला और विकास दुबे की प्रतिमा स्थापित कराएगी। उन्होंने कहा कि जब फूलन देवी डकैत और ददुआ डकैत की प्रतिमा उनका समाज लगाता है, जो घोषित डकैत थे, तो जो ब्राह्मणों के महापुरुष और वीरता के प्रेरणा स्रोत हैं, उनकी प्रतिमा क्यों नहीं लग सकती है। पूरा ब्राह्मण समाज इसका समर्थन करता है। 

विकास दूबे और श्रीप्रकाश शुक्ला के साथ हुआ अन्याय- राजेंद्र नाथ त्रिपाठी ने कहा कि विकास दूबे और श्रीप्रकाश शुक्ला के साथ अन्याय हुआ है। उन्होंने कहा कि अगर वे गुनाहगार थे, तो उन्हें न्यायालय सजा देता। सरकार कौन होती है, सजा देने वाली? उन्होंने कहा कि ब्राह्मण समाज को आने वाले विधानसभा चुनाव 2022 में फिर से छला जाएगा। समाज के लोगों को पूछना चाहिए अभी तक वो कहां थे, जब ब्राह्मणों के साथ अन्याय किया जा रहा था। 

खुशी दुबे का क्या दोष? राजेंद्र नाथ ने सरकार से सवाल किया कि क्या दोष है खुशी दुबे का? सिर्फ इसलिए कि वह अपराधी की पत्नी है। तीन दिन भी नहीं रही ससुराल में, आज निर्दोष ब्राह्मण की बेटी सलाखों के पीछे से न्याय मांग रही है। उन्होंने कहा कि अब ब्राह्मण समाज को ठगने नहीं दिया जाएगा। 

जाट व सैनी समाज ने जताई बसपा में आस्था

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। झालू क्षेत्र के ग्राम कान्हा नंगला व धनोरी में आयोजित मीटिंग में जाट समाज व सैनी समाज के लोगों ने बहुजन समाज पार्टी के आस्था रखते हुए बसपा की सदस्यता ग्रहण की।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर, सेक्टर प्रभारी दीपक राज, जिला कोषाध्यक्ष अमित चौधरी, नहटौर विधान सभा प्रभारी अभिषेक, विधान सभा अध्यक्ष लखवीर, जिला सचिव सुरेश सैनी आदि उपस्थित रहे। इस दौरान दीपक तोमर, फतह सिंह, अजयपाल राणा, गोपी चौधरी, अमन चौधरी, अनिल चौधरी, सोनू सैनी, मांगे सैनी, राजू चौधरी, सोमपाल सैनी, जगदीश, झरिया, हरदेव सिंह, जसराम, रिंकू सैनी, अवनीश चौधरी, विजयपाल चौधरी, महिपाल चौधरी, राजा चौधरी, अजयपाल राणा, नाथूराम, विजेंद्र, देवेंद्र, देवीलाल, पवन, खूब सिंह, मुनेशवर, जगत सिंह, अमित चौधरी, शुभम, विकुल चौधरी आदि ने बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पार्टी में सभी को भरपूर सम्मान प्राप्त होगा। उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी सुप्रीमो मायावती को फिर से प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाए जाने के लिए जुट जाने का आह्वान किया।

7 नहीं, अब 8 अगस्त को बिजनौर आएंगे सतीश चंद्र मिश्रा

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा के बिजनौर दौरे में परिवर्तन हुआ है। अब वह 7 अगस्त 2021 की जगह 8 अगस्त को बिजनौर आएंगे। यह जानकारी बसपा के पूर्व एमएलसी सुबोध पारस ने दी।
बहुजन समाज पार्टी के जिला कार्यालय में जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि पूर्व एमएलसी सुबोध पाराशर व धनीराम पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश रहे, बैठक का संचालन पंकज शर्मा ने किया।

पूर्व एमएलसी सुबोध ने दी जानकारी-
बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व एमएलसी सुबोध पारस ने बताया कि राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा 7 अगस्त की जगह अब 8 अगस्त 2021 को बिजनौर आएंगे और बसपाइयों को संबोधित करेंगे।
अतः बसपा के हर पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं को 8 अगस्त के प्रोग्राम को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए, जिससे बसपा जिले में और मजबूत हो सके क्योंकि जब समाज का हर वर्ग बसपा से जुड़ेगा तो 2022 में निश्चित सरकार बसपा की ही बनेगी और बहन कुमारी मायावती पांचवी बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनेंगी।

ये रहे मौजूद-
बैठक में अखलेश हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, कामेन्द्र सिंह सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, सुभाष शर्मा, डॉ. लोक चंद्र शर्मा, डॉ. आदेश शर्मा, पंकज शर्मा, गौरव शर्मा, राजेंद्र शर्मा, अशोक शर्मा, जेपी शर्मा, मुंशी सिद्धीक आदि बसपा कार्यकर्ता पदाधिकारी मौजूद रहे।

सतीश चंद्र मिश्रा के बिजनौर आगमन को लेकर बढ़ी हलचल

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा 7 अगस्त को बिजनौर आ रहे हैं। उनके कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बसपा जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर ने कड़ी मेहनत के साथ तैयारियां शुरू कर दी हैं।
बहुजन समाज पार्टी के जनपद बिजनौर कार्यालय पर ब्राह्मण समाज से आने वाले बालकिशन शर्मा ने बसपा की नीतियों से प्रभावित होकर पार्टी की सदस्यता ग्रहण की तथा 7 अगस्त को होने वाले कार्यकर्ता सम्मेलन को सफल बनाने का आह्वान किया। इस कार्यकर्ता सम्मेलन को बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा संबोधित करेंगे।

इस बीच बहुजन समाज पार्टी के जिला कार्यालय में राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा के बिजनौर दौरे के मद्देनजर हलचल बढ़ गई है। जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर श्री मिश्रा के दौरे को सफल बनाने के लिए पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं को टिप्स दे रहे हैं।
बसपा के राष्ट्रीय महासचिव श्री मिश्रा के बिजनौर दौरे को लेकर बसपा पदाधिकारी कार्यकर्ताओं में उत्साह का माहौल है। सभी पदाधिकारी कार्यकर्ताओं का मानना है कि श्री मिश्रा के बिजनौर आने से बसपा को बहुत फायदा होगा। ब्राह्मण समाज के लोग पार्टी से जुड़ रहे हैं। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर, सेक्टर प्रभारी दीपक राज, बसपा नेता पंकज शर्मा आदि लोग उपस्थित रहे।

बसपा की सेक्टर कमेटियों के गठन में आई तेजी

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। विधानसभा बिजनौर में मुख्य अतिथि धनीराम सिंह पूर्वं मंत्री मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल एवं जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बिजनौर की उपस्थिति में सेक्टर नंबर 9  मंडावर के बूथ संख्या 84, 85, 8६, 87, 88, 89 व 90 का गठन किया गया।
विशिष्ट अतिथि जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर ने कहा कि सर्व समाज को जोड़कर बूथ कमेटी का गठन करें तथा बीएसपी की नीतियों को को बताएं। मुख्य अतिथि धनीराम सिंह ने  पार्टी की नीतियों पर प्रकाश डालते हुए सर्व समाज को जोड़कर 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत हासिल कर पांचवी बार बहन कुमारी मायावती को उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया।
बैठक में ब्रह्मपाल सिंह जिला सचिव, प्रमोद कुमार विधानसभा अध्यक्ष, देशराज भूइयार एड.,  विधानसभा महासचिव बुधराम सैनी, गजराज सिंह सेक्टर अध्यक्ष, डॉक्टर सचिन कुमार, सचिव धर्मवीर सिंह, अजय कुमार, प्रशांत कुमार, कोमल सिंह, मूलचंद, सत्यवीर सिंह, सोनू कुमार, मुकेश कुमार, विनोद कुमार आदि उपस्थित रहे। बैठक की अध्यक्षता प्रमोद कुमार विधानसभा अध्यक्ष बिजनौर द्वारा एवं संचालन ब्रह्मपाल सिंह जिला सचिव बिजनौर द्वारा किया गया।

सांसद ने किया दो प्रमुख सड़कों का शिलान्यास

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत गिरीश चंद सांसद नगीना लोक सभा के कर कमलों द्वारा नूरपुर क्षेत्र के दो प्रमुख मार्गो का शिलान्यास किया गया।

एसएच 76 से छज्जूपुर होते हुए जलीलपुर नूरपुर मार्ग की कुल लंबाई 9.150 किलोमीटर है और अनुबंधित लागत रुपए 570.40 लाख है। इसी प्रकार यूपी 1666 में ताजपुर रवाना शाहपुर खेड़ी मार्ग की कुल लंबाई 8.900 किलोमीटर है। इसकी अनुबंधित लागत रुपए 507. 51 लाख है। उक्त कार्य नूरपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं। कार्यदाई संस्था निर्माण खंड लोक निर्माण विभाग धामपुर है। शिलान्यास अवसर पर सुधीर कुमार अग्रवाल अधिशासी अभियंता, एई आरसी वर्मा, जेई गजेंद्र सिंह, जेई वीरेंद्र सिंह, जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष बसपा बिजनौर, जियाउद्दीन अंसारी प्रभारी विधानसभा क्षेत्र नूरपुर, इसरार नबी जिला उपाध्यक्ष, अखिलेश हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी, दीपक कुमार सेक्टर प्रभारी, काके सिंह रवि सेक्टर प्रभारी, बलवंत सिंह अध्यक्ष नूरपुर, परम सिंह प्रधान आदि लोग साथ रहे।

एकलव्य बाण समाचार

मुस्लिम समाज का हित बसपा में सुरक्षित: सद्दाम राणा

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के जिला सचिव सद्दाम राणा ने कहा कि मुस्लिम समाज को बसपा का समर्थन करना चाहिए क्योंकि मुस्लिम समाज का हित बसपा में सुरक्षित है, और रहेगा।
सद्दाम राणा ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी की सरकार में सुख और शांति रहती है। कहीं पर हिंदू मुस्लिम दंगे नहीं होते और प्रदेश की जनता शांति के साथ रहती है, राज्य में कानून का राज होता है। गुंडे और बदमाश जेलों में बंद होते हैं।
बसपा जिला सचिव सद्दाम राणा ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि बहुजन समाज पार्टी सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय की नीति पर काम करती है और समाज के सभी वर्गों को जोड़कर आपस में भाईचारा पैदा करती है, जिससे राज्य में शांति बनी रहती है।

बसपा सरकार में अधिकारी करते हैं जनता के काम-
बहुजन समाज पार्टी को मजबूत करने के लिए रात दिन मेहनत कर रहे बसपा जिला सचिव सद्दाम राणा ने कहा कि बसपा की सरकार में जनता को ऑफिसों के चक्कर नहीं काटने पड़ते। अधिकारी वक्त पर ऑफिस पहुंचते हैं और जनता का काम करते हैं। गरीब मजदूर किसान सभी का काम वक्त पर होता है। अतः हम सभी को बसपा का समर्थन करना चाहिए, जिससे विधानसभा 2022 के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी को पूर्ण बहुमत मिल सके और बहन कुमारी मायावती पांचवीं बार मुख्यमंत्री बन सके।

आखिर बसपा के किनारा करने के क्या रहे कारण!

जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख चुनाव
आखिर बसपा के किनारा करने के क्या रहे कारण!

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार)। बसपा का जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखी चुनाव से किनारा एक सोची समझी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है। बसपा सुप्रीमो मायावती विधानसभा चुनाव से पहले किसी भी स्तर पर पार्टी के अंदर मनमुटाव नहीं चाहती हैं, जिससे इसका असर विधानसभा चुनाव पर पड़े।

राजनैतिक जानकारों का कहना है कि पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुखी चुनाव में इसीलिए वोट डालने के लिए कोई फतवा जारी नहीं किया गया। फतवे के बंधन में बांधने का मतलब बिखराव रोक पाना आसान न होता। बसपा ने यूपी के पंचायत चुनाव में बेहतर प्रदर्शन किया। जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में बसपा को 344 सीटें मिली। इसी तरह क्षेत्र पंचायत सदस्य भी काफी संख्या में जीत कर आए थे। बसपा ने पहले जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख का चुनाव लडऩे का फैसला किया, लेकिन अचानक मायावती ने दोनों चुनाव लडऩे से इंकार कर दिया। इसके लिए उन्होंने भाजपा द्वारा की जाने वाली धांधली को जिम्मेदार ठहराया।

फिलहाल संगठन पर पूरा जोर-

बसपा सुप्रीमो मायावती का इस समय सारा जो संगठन पर है। सेक्टर स्तर पर संगठन के गठन का काम पूरा हो चुका है। अब बूथ स्तर पर गठन का काम चल रहा है। विधानसभा चुनाव में उतरने से पहले बसपा संगठन को नए सिरे से तैयार कर लेना चाहती है। इसमें सभी जातियों का समावेश किया जा रहा है, जिससे विधानसभा चुनाव में इसका फायदा उठाया जा सके। मायावती स्वयं मंडलवार इसकी समीक्षा कर रही हैं और जरूरी दिशा-निर्देश दे रही हैं। उनका पूरा ध्यान विधानसभा चुनाव पर है।

मायावती की दूरदर्शिता और ओवैसी साहब के हसीन सपने

🙏बुरा मानो या भला🙏

मायावती की दूरदर्शिता और ओवैसी साहब के हसीन सपने—मनोज चतुर्वेदी “शास्त्री”

बसपा सुप्रीमो बहन कुमारी बहन मायावती ने उत्तरप्रदेश में असदुद्दीन ओवैसी साहब की पार्टी AIMIM से गठबंधन न करने का दूरअंदेशी फैसला लेकर एक बार पुनः यह सिद्ध कर दिया है कि बहन मायावती राजनीति की एक बेहद मंझी हुई खिलाड़ी हैं।
असदुद्दीन ओवैसी साहब उत्तरप्रदेश में पांव जमाने के लिए एक मज़बूत प्लेटफॉर्म की तलाश में हैं, जिसके लिए उनके पास बसपा से बेहतर कोई प्लेटफार्म नहीं हो सकता क्योंकि BSP और AIMIM दोनों ही पार्टियां “भीम-मीम” की राजनीति करती हैं। पिछले कुछ समय में मुस्लिम समाज में ओवैसी साहब जैसे फायरब्रांड नेताओं का कद काफ़ी बढ़ा है। लेकिन ओवैसी साहब पर यह इल्ज़ाम है कि वह भाजपा की B पार्टी हैं, हालांकि ओवैसी साहब और भाजपा दोनों ही इस बात को सिरे से नकारते हैं। उधर दलित विरोधी पार्टियां लगातार यह आरोप भी लगा रही हैं कि BSP और BJP अप्रत्यक्ष रूप से गठबंधन कर चुकी हैं, जिसे बहन मायावती कई बार सिरे से ख़ारिज कर चुकी हैं। ऐसे में अगर BSP असदुद्दीन ओवैसी साहब से हाथ मिलाती हैं तो दलित विरोधी पार्टियों का आरोप और भी मजबूती पकड़ लेगा और यह किसी भी प्रकार से BSP के हित में नहीं हो सकता।

बहन मायावती किसी भी सूरत में यह भी नहीं चाहेंगी कि उनके दलित वोट बैंक में कोई सेंध लगाए और वह बेहतर जानती हैं कि इस समय AIMIM के पास इतना मज़बूत मुस्लिम वोट बैंक नहीं है, जिसका कोई फ़ायदा BSP को मिल सके। अलबत्ता यह हो सकता है कि AIMIM जैसी कट्टरपंथी पार्टी से गठबंधन करने से BSP को मिलने वाला थोड़ा बहुत ब्राह्मण वोट भी उनसे दूर जा सकता है और यदि ऐसा होता है तो BSP को बहुत नुकसान हो सकता है।

असदुद्दीन ओवैसी साहब एक कट्टरपंथी नेता हैं, और उत्तरप्रदेश में उनके राह में सबसे बड़ी रुकावट है, समाजवादी पार्टी। ओवैसी साहब को BSP या BJP से कोई ख़तरा नहीं है, क्योंकि जिस मुस्लिम वोट बैंक पर असदुद्दीन ओवैसी साहब की निगाह है वह अभी तक समाजवादी पार्टी से जुड़ा हुआ है। क्योंकि प्रदेश का मुसलमान अभी तक भी “मुल्ला” मुलायम सिंह जी को ही अपना सच्चा हमदर्द मानता है और दूसरी तरफ़ आजम खान साहब की लकीर भी बड़ी है। इसलिए ओवैसी साहब के लिए जरूरी है कि वह आजम खान साहब जैसे मुस्लिम रहनुमाओं की लकीर को छोटा करें और उसके लिए उनसे बड़ी लकीर खींचें। औऱ बड़ी लकीर खींचने के लिए ओवैसी साहब को सवारी भी बड़ी करनी होगी। इसीलिए उन्होंने “हाथी” को चुना है, लेकिन फिलहाल बहन मायावती की राजनीतिक दूरदर्शिता ने ओवैसी साहब के “हसीन सपनों” पर पानी फेर दिया है। ….लेकिन यह राजनीति है साहब, यहां वक़्त और ज़बान पलटते देर नहीं लगती।

🖋️ मनोज चतुर्वेदी “शास्त्री”
समाचार सम्पादक- उगता भारत हिंदी समाचार-
(नोएडा से प्रकाशित एक राष्ट्रवादी समाचार-पत्र)

व्हाट्सऐप-

9058118317

ईमेल-
manojchaturvedi1972@gmail.com

ब्लॉगर-

https://www.shastrisandesh.co.in/

फेसबुक-

https://www.facebook.com/shastrisandesh

ट्विटर-

विशेष नोट- उपरोक्त विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। उगता भारत समाचार पत्र व newsdaily24 के सम्पादक मंडल का उनसे सहमत होना न होना आवश्यक नहीं है। हमारा उद्देश्य जानबूझकर किसी की धार्मिक-जातिगत अथवा व्यक्तिगत आस्था एवं विश्वास को ठेस पहुंचाने नहीं है। यदि जाने-अनजाने ऐसा होता है तो उसके लिए हम करबद्ध होकर क्षमा प्रार्थी हैं।

विधानसभा चुनाव: बूथ कमेटी गठन में जुटी बसपा


बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी की एक आवश्यक बैठक जिला कार्यालय बिजनौर में जितेन्द्र सागर जिलाध्यक्ष की अध्यक्षता व विजय पाल सिंह सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मन्डल के संचालन में सम्पन्न हुई। मुख्य अतिथि राजकुमार गौतम, रणविजय सिंह, साजिद सैफी उपस्थित रहे।

बैठक में राजकुमार गौतम पूर्व मन्त्री मुख्य सेक्टर प्रभारी बरेली, मुरादाबाद व मेरठ मन्डल ने जनपद बिजनौर की आठों विधान सभा की विधानसभा सेक्टर कमेटियों की समीक्षा की तथा संगठन को और अधिक मजबूत बनाने पर बल दिया। सेक्टर कमेटियों की समीक्षा के बाद बूथ कमेटियों के गठन की प्रक्रिया को बिन्दुवार समझाया तथा पूरे जनपद की आठों विधान सभाओं के बूथ कमेटी के गठन के कार्यक्रम घोषित किये। उन्होंने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा बहुजन समाज पार्टी बाबा साहब व कांशीराम जी के सिद्धान्तों पर काम कर रही है। समाज में गैरबराबरी व छुआछूत को समाप्त कर समतामूलक समाज की स्थापना करना चाहती है। वंचित समाज को राजनितिक, आर्थिक व सामाजिक हक व हकूक दिलाना चाहती है।

साइकिल छोड़कर हाथी की सवारी
इस दौरान मदन लाल बाल्मीकि निवासी रशीदपुर गढ़ी ने बहुजन समाज पार्टी में शामिल होने की घोषणा की। जिलाध्यक्ष जितेन्द्र सागर ने उनका माला पहनाकर स्वागत किया। इसके अतिरिक्त नजाकत भाई सेन्टर अध्यक्ष के नेतृत्व में शादाब, सलमान, सामुददीन, इरशाद, दानिश, शमशाद, अनस, आशिक, शाकिब, आदिल, जुल्फकार, इमरान, अफसर, शाहरुख, शारिक खान, दानिश खान, सौरभ, सलमान अली, इफ्तेखार अहमद, सिकन्दर आदि सैकड़ों व्यक्ति सपा छोड़कर बसपा में शामिल हुए। जिलाधाक्ष जितेन्द्र सागर ने माला पहना कर सभी वर्ग स्वागत किया।

बैठक में धनीराम पूर्व मन्त्री मुख्य सेक्टर प्रभारी, अखलेश हितैषी मुख्य सेक्टर प्रभारी, जगराम सिंह, मुन्ना सिह, दीपक राज, मनोज कुमार, काले राव, कविराज, कामेन्द्र सिंह, हरज्ञान प्रजापति धनीराम सैनी सभी सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मन्डल दिलीप कुमार, सुरेश सैनी, भगीरथ  प्रसाद, हरदयाल सिह, ब्रह्मपाल सिंह, डा. शमशाद, परम सिंह प्रधान, सुरेन्द्र सिंह, मनोहर लाल, तिलक राज, साजिद सैफी, रणविजय सिंह, इसरार नबी आदि के अलावा आठों विधान सभा के अध्यक्ष भी उपस्थित रहे।

कोरोना की चपेट में आने के कारण नहीं आ सके: मलूक नागर 

सांसद मलूक नागर ने पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से कहा कि अपने क्षेत्र की जनता की समस्याएं बताएं वह हर समस्या का निस्तारण कराने की पूरी कोशिश करेंगे।

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। बहुजन समाज पार्टी के जिला कार्यालय पहुंचे सांसद मलूक नागर का पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। बसपा सांसद मलूक नागर ने पार्टी पदाधिकारी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के कारण वह बिजनौर नहीं आ सके। वह स्वयं और उनका परिवार, रिश्तेदार कोरोना महामारी की चपेट में थे। इस कारण जिला बिजनौर में आना कम रहा। उसके बावजूद वह लगातार अधिकारियों से संपर्क करते रहे और बिजनौर की जनता की नि:स्वार्थ सेवा करने के लिए अधिकारियों से कहते रहे। सांसद मलूक नागर के साथ जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर, मुरादाबाद मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी अखिलेश हितेषी, मुरादाबाद मंडल के सेक्टर प्रभारी कविराज, सद्दाम राणा, ब्रह्मपाल सिंह, दीपक राज, प्रमोद कुमार, देशराज भुईयार, मुंशी सिद्धीक, शौकत अली आदि बसपाई मौजूद रहे।

यूपी का चार हिस्सों में बंटवारा जरूरी: मलूक नागर

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। कोहरपुर में गंगा कटान का निरीक्षण करने के बाद बिजनौर सांसद मलूक नागर ने कहा कि गंगा में हो रहे अवैध खनन को कानूनी रूप देकर वैध कर इतना राजस्व मिल सकता है। इससे इलाके की समस्या ही खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि चहुंमुखी विकास के लिए यूपी का चार हिस्सों में बंटवारा जरूरी है और वह स्वयं इस मुद्दे को लोकसभा में उठा चुके हैं।

कोहरपुर से आने के बाद सांसद ने जिला मुख्यालय स्थित अपने आवास पर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि वह संसद में किसानों, अल्पसंख्यकों, अनुसूचित एवं अन्य समाज की समस्याओं को पूरी जिम्मेदारी से उठाने के साथ-साथ कोरोना संक्रमण काल में भी लगातार जनता की सेवा करने में लगे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि बिजनौर गन्ने की पैदावार और मिठास में यूपी में अव्वल है। गन्ने का भुगतान समय से होता है, तो ही किसानों के परिवारों के साथ साथ व्यापारियों के घर में भी खुशियां आती हैं। उनसे पहले गन्ने और किसान यूनियन का मुद्दा कोई भी संसद में नहीं उठाता था, उन्होंने इस मुद्दे को भी उठाया।

जिला पंचायत चुनाव नहीं लड़ेगी बसपा

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार) उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश जिला पंचायत चुनाव से पहले बड़ी घोषणा की है। सोमवार को उन्होंने प्रेस वार्ता में कहा कि बसपा जिला पंचायत चुनाव नहीं लड़ेगी। मायावती ने बोला कि मैं स्पष्ट कहना चाहती हूं कि अगर यह चुनाव पारदर्शी होते तो हम जरूर लड़ते।

इसके साथ ही मायावती ने कहा कि एआईएमआईएम के साथ हमारे गठबंधन की खबरें पूरी तरह गलत हैं। हम भले ही जिला पंचायत चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, लेकिन पूरी तरह सक्रिय हैं। हमारी लगातार बैठकें चल रही हैं। हम विधानसभा चुनाव की पुरजोर तैयारी कर रहे हैं।

UP में बनेगी BSP की सरकार- उन्होंने कहा कि अगले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में बसपा की सरकार बनेगी। यूपी में सर्वजन को बचाना है बसपा को सत्ता में लाना होगा। जब प्रदेश में बसपा की सरकार बन जाएगी तो जिला पंचायत अध्यक्ष खुद ही बसपा में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि पार्टी के लोगों को निर्देश दिया गया है कि वे इस चुनाव में अपना समय और ताकत लगाने की बजाय पार्टी के संगठन को मजबूत बनाने और सर्व समाज में पार्टी के जनाधार को बढ़ाने में लगाएं।

हथकंडों से रहें सतर्क- मायावती ने कहा कि बसपा के लोगों को हथकंडों से सतर्क रहना चाहिए। 1995 में हम सपा सरकार से अलग हुए थे, भारतीय जनता पार्टी भी सपा की ही तरह है। बसपा के खिलाफ तरह-तरह की अफवाह फैलाई जा रही है, जिससे सभी को दूर रहना चाहिए।

मिशन 2022: बसपा से निकाले गए नेताओं की घर वापसी?

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार)। बसपा सुप्रीमो मायावती ने विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को मजबूत करने की दिशा में काम शुरू कर दिया है। पार्टी से नाराज होकर या फिर किसी गलतफहमी में निकाले गए कैडर के नेताओं की घर वापसी शुरू हो गई है। मायावती ने स्वयं इसके लिए पहले शुरू की है, जिससे संगठन को मजबूती मिल सके। प्रयागराज, वाराणसी मिर्जापुर मंडल में यह काम शुरू हो गया है। पश्चिमी यूपी में बाहर गए पुराने नेताओं से सेक्टर प्रभारी संपर्क कर रहे हैं।

इसी महीने संगठन का गठन- मायावती ने विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को दुरुस्त करने की कवायद तेज कर दी है। वह स्वयं प्रत्येक मंडल की समीक्षा कर रही हैं। मुख्य सेक्टर प्रभारियों को माह के अंत तक बूथ स्तर तक संगठन को दुरस्त करने को कहा है, जिससे अगले दो महीनों में विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी जाएं। बसपा सुप्रीमो के निर्देश पर संगठन को बूथ स्तर तक गठन करने की दिशा में काम शुरू कर दिया गया है।

प्रयागराज मंडल का पुनर्गठन- बसपा सुप्रीमो ने प्रयागराज मंडल का पुनर्गठन कर दिया है। इसमें पार्टी में वापस आए राजू गौतम को भी शामिल किया गया है। भीमराव अंबेडकर, डाॅ. विजय प्रताप, अशोक कुमार गौतम, अमरेंद्र बहादुर पासी, डाॅ. दीपचंद्र गौतम के साथ ही राजू गौतम को प्रयागराज मंडल का मुख्य सेक्टर प्रभारी बनाया गया है। राजू गौतम एक समय मायावती के विश्वासपात्रों में माने जाते थे और कई राज्यों के प्रभारी भी रह चुके हैं। उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया था, लेकिन घर वापसी की प्रक्रिया में उन्हें जोड़ा गया है। वह कैडर के नेता हैं।

ओवैसी की पार्टी संग चुनाव लड़ने की संभावनाएं खारिज

ओवैसी की पार्टी संग चुनाव लड़ने की संभावनाएं खारिज

लखनऊ (एकलव्य बाण समाचार) बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने 2022 विधानसभा चुनाव असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के साथ मिलकर लड़ने की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया है। मायावती ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी यूपी में अकेले चुनाव लड़ेगी। बसपा सुप्रीमो ने रविवार सुबह इस संबंध में ट्वीट किया। लिखा कि एक न्यूज चैनल में कल से यूपी में आगामी विधानसभा चुनाव AIMIM व बीएसपी के मिलकर लड़ने की पूर्णतः गलत, भ्रामक व तथ्यहीन खबर प्रसारित हो रही है। इसमें रत्तीभर भी सच्चाई नहीं है, बीएसपी खण्डन करती है।

बसपा सुप्रीमो ने आगे लिखा कि फिर से यह स्पष्ट किया जाता है कि पंजाब को छोड़कर, यूपी व उत्तराखण्ड प्रदेश में 2022 का आमचुनाव बीएसपी किसी भी पार्टी के साथ कोई भी गठबन्धन करके नहीं लड़ेगी यानि अकेले ही लड़ेगी। उन्होंने कहा कि बीएसपी के बारे में इस किस्म की मनगढ़न्त व भ्रमित करने वाली खबरों को खास ध्यान में रखकर ही अब बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद सतीश चन्द्र मिश्र को बीएसपी मीडिया सेल का राष्ट्रीय कोओर्डिनेटर बना दिया गया है। साथ ही, मीडिया से भी यह अपील है कि वे बहुजन समाज पार्टी व पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष आदि के सम्बन्ध में इस किस्म की भ्रमित करने वाली अन्य कोई भी गलत खबर लिखने, दिखाने व छापने से पहले एससी मिश्र से उस संबंध में सही जानकारी जरूर प्राप्त कर लें।

इस बीच मायावती ने विधानसभा चुनाव से पहले संगठन को दुरुस्त करने की कवायद तेज कर दी है। वह स्वयं प्रत्येक मंडल की समीक्षा कर रही हैं। मुख्य सेक्टर प्रभारियों को माह के अंत तक बूथ स्तर तक संगठन को दुरस्त करने को कहा है, जिससे अगले दो महीनों में विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी जाएं। बसपा सुप्रीमो के निर्देश पर संगठन को बूथ स्तर तक गठन करने की दिशा में काम शुरू कर दिया गया है।

बसपा में विधानसभा स्तर पर संयोजक नियुक्त

बसपा में विधानसभा स्तर पर संयोजक नियुक्त बिजनौर। बीएसपी कार्यालय में आयोजित बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर ने की। बैठक में मुख्य अतिथि धर्मवीर चौधरी संयोजक सहारनपुर, मेरठ, अलीगढ़, आगरा, मुरादाबाद मंडल व विजय सिंह संयोजक सहारनपुर, मेरठ, अलीगढ़, आगरा, मुरादाबाद मंडल रहे। दोनों नेताओं का बसपा कार्यालय बिजनौर पहुंचने पर जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।
मीटिंग में धर्मवीर चौधरी व विजय सिंह ने कुमारी मायावती के दिशा निर्देशों अनुसार विधानसभा नगीना में प्रीतम सिंह व आशाराम को संयुक्त रूप से विधानसभा नगीना के संयोजक नियुक्त किया। साथ ही विधानसभा नहटौर में संयुक्त रूप से विशाल चौधरी व सत्यपाल पूर्व प्रधान को नहटौर विधानसभा का संयोजक नियुक्त किया गया। मीटिंग में धनीराम सिंह मुख्य सेक्टर प्रभारी, अखिलेश हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी, जितेंद्र सागर जिला अध्यक्ष, विजय पाल सिंह सेक्टर प्रभारी, कामेंद्र सिंह सेक्टर प्रभारी, दिलीप कुमार उर्फ पिंटू जिला महासचिव, प्रमोद कुमार विधानसभा अध्यक्ष, अमित चौधरी जिला कोषाध्यक्ष, अनुज राठी जिला सचिव, ब्रह्मपाल सिंह जिला सचिव, मुंशी सदीक कार्यालय प्रभारी, संजीव धाहिया, सुमित चौधरी, चौधरी तेजपाल सिंह आदि बसपाई मौजूद रहे।

पार्टी में टूट को नकारते हुए मायावती ने सपा पर बोला हमला

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने पार्टी में टूट को नकारते हुए आरोप लगाया है कि घृणित जोड़तोड़, द्वेष व जातिवाद की संकीर्ण राजनीति में माहिर समाजवादी पार्टी मीडिया के सहारे यह प्रचारित कर रही है। बुधवार को समाजवादी पार्टी पर जोरदार हमला बोलते हुए उन्होंने पार्टी में टूट को नकारा। साथ ही कहा कि बहुजन समाज पार्टी के कुछ विधायक टूट कर समाजवादी पार्टी में जाने की बातें घोर छलावा हैं। इन विधायकों को काफी पहले ही सपा और एक उद्योगपति से मिलीभगत के कारण राज्यसभा के चुनाव में एक दलित के बेटे को हराने के आरोप में बीएसपी से निलंबित किया जा चुका है।

…तो सपा में हो जाएगी बगावत- बसपा चीफ मायावती ने बुधवार को लगातार पांच ट्वीट कर सपा को आड़े हाथ लिया। कहा कि सपा अगर इन निलंबित विधायकों के प्रति थोड़ी भी ईमानदार होती तो अब तक इन्हें अधर में नहीं रखती, क्योंकि उनको यह मालूम है कि यदि बीएसपी के इन विधायकों को लिया तो सपा में बगावत व फूट पड़ जाएगी।

हमेशा ही दलित विरोधी रही सपा- बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा कि जगजाहिर है कि सपा का चाल, चरित्र और चेहरा हमेशा ही दलित विरोधी रहा है। इसमें थोड़ा भी सुधार के लिए वह कतई तैयार नहीं हैं। इसी कारण सपा सरकार ने बीएसपी सरकार के जनहित के कामों को बंद कर दिया।

पंचायत चुनाव के लिए रचा नाटक- अपने आखिरी ट्वीट में उन्होंने फिर दोहराया कि बीएसपी के निलंबित विधायकों से मिलने का मीडिया में प्रचारित करने के लिए मंगलवार को किया गया सपा का नया नाटक यूपी में पंचायत चुनाव के बाद अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख के चुनाव के लिए की गई पैंतरेबाजी है।

विदित हो कि बसपा में बगावत की खबरों के साथ मंगलवार से सूबे का सियासी माहौल एकाएक गर्माया हुआ है। बताया गया है कि बसपा से निलंबित 11 विधायकों ने लालजी वर्मा के नेतृत्‍व में एक अलग दल बनाने का फैसला किया है। पांच बागी विधायकों ने राजधानी में सपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की थी। यह भी गौरतलब है कि बसपा के कुल 18 विधायकों में से नौ को पार्टी ने निलंबित और दो को निष्काषित कर दिया है।

जाट मुस्लिम समीकरण बढ़ाएगा भाजपा की मुश्किलें!

पश्चिम उत्तर प्रदेश में भाजपा की जमीन पर वोटों की फसल उगाने की तैयारी में रालोद। विधानसभा चुनाव के पहले घेराबंदी की कवायद।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव नजदीक आ रहा है। सभी राजनीतिक दलों में उठापटक भी शुरू हो गई है। हर दल सत्तारूढ़ भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की जुगत में है। इसके लिए जहां एक ओर सभी विपक्षी दल भाजपा सरकार की नाकामियों को उजागर कर जनता का ध्यान अपनी ओर करने का अभियान चलाए हुए हैं, वहीं चुनाव के बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर आने की रणनीति पर भी काम कर रहे हैं। इसी क्रम में राष्ट्रीय लोकदल ने जाट-मुस्लिम समीकरण को अमलीजामा पहनाने की मुहिम शुरू कर दी है। हाल ही में पश्चिम उत्तर प्रदेश के दो बड़े मुस्लिम चेहरों का रालोद में शामिल होना इसी मुहिम का हिस्सा माना जा रहा है। खास बात यह है कि यह दोनों ही बहुजन समाज पार्टी के मुस्लिम चेहरे के रूप में पहचाने जाते रहे हैं। ये हैं पश्चिम उत्तर प्रदेश के कद्दावर मुस्लिम नेता पूर्व राज्यसभा सांसद वरिष्ठ पत्रकार शाहिद सिद्दीकी और पश्चिम उत्तर प्रदेश में कई साल तक बसपा की मुस्लिम भाईचारा कमेटी के लिए कई मंडलों में काम करने वाले गौहर इकबाल।

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए पश्चिम उत्तर प्रदेश में एक बड़ा सियासी बदलाव सामने रहा है। किसान आंदोलन के चलते जाट मुस्लिम समीकरण बड़ी तेजी से परवान चढ़ रहे हैं। हाल ही में पश्चिम उत्तर प्रदेश के कद्दावर मुस्लिम नेता पूर्व राज्यसभा सांसद शाहिद सिद्दीकी के रालोद का दामन थामने से मुस्लिम जाट समीकरण को और ताकत मिलती दिख रही है। कभी गांधी परिवार के करीब रहे शाहिद सिद्दीकी का शुमार देश के राष्ट्रीय नेताओं में होता है। वह अपने 24 साल के राजनीतिक सफर में भाजपा को छोड़कर उत्तर प्रदेश के सभी प्रमुख दलों का हिस्सा रह चुके हैं।

इसी तरह गौहर इकबाल भी बसपा में एक मजबूत मुस्लिम चेहरा थे। उन्होंने बिजनौर जिले से लेकर पश्चिम उत्तर प्रदेश तक में बसपा में रहकर कई मंडलों में काम किया। मुस्लिम भाईचारा कमेटी में कई साल तक बसपा को मजबूत करने का काम किया। वहीं 2012 में महान दल से विधानसभा का चुनाव लड़ा। उसके बाद बसपा में शामिल हुए और 2017 में नूरपुर विधानसभा से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा, मगर बदकिस्मती से चुनाव हार गए।

राजनैतिक जानकारों का कहना है कि शाहिद सिद्दीकी और गौहर इकबाल के राष्ट्रीय लोकदल में शामिल होने से पश्चिम उत्तर प्रदेश में जाट मुस्लिम समीकरण को ताकत मिलेगी। इस मजबूत समीकरण से भारतीय जनता पार्टी की जमीन उखड़ सकती है, अगर ये समीकरण आगामी विधानसभा चुनाव में परवान चढ़ा तो पश्चिम उत्तर प्रदेश में एक बड़ा सियासी बदलाव नजर आएगा। रालोद में मुस्लिम नेताओं का शामिल होना इस बात का संकेत दे रहा है कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में अपने पुराने मतभेद भुलाकर जाटलैंड पर मुस्लिम खेती करने को तैयार नज़र आ रहा है।

मुस्लिम जाटों की नज़दीकियां से जमीन खिसकती देख भाजपा का शीर्ष नेतृत्व खासा परेशान नज़र आ रहा है। यह तय है कि इस समीकरण से उत्तर प्रदेश की सियासत में एक बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा।

बसपा के कद्दावर नेता गौहर इकबाल ने थामा रालोद का दामन

बसपा के कद्दावर नेता गौहर इकबाल ने छोड़ा बसपा का साथ। थामा रालोद का दामन। पैसे लेकर टिकट बांटने का लगाया आरोप।

बिजनौर। विधानसभा क्षेत्र नूरपुर के गांव मझोला बिल्लौच निवासी बसपा के कद्दावर नेता एवं पूर्व बसपा प्रत्याशी गौहर इकबाल ने बहुजन समाज पार्टी को अलविदा कह दिया है। गौहर इकबाल ने राष्ट्रीय लोक दल का दामन थाम लिया है। गौहर इक़बाल ने बहुजन समाज पार्टी पर इल्जाम लगाते हुए कहा कि बसपा पैसे लेकर टिकट देने का काम कर रही है। इसलिए पार्टी का जनाधार लगातार घटता जा रहा है।

बसपा ने खोया मजबूत मुस्लिम चेहरा- गौहर इकबाल बसपा में एक मजबूत मुस्लिम चेहरा थे। उन्होंने जिले से लेकर पश्चिम उत्तर प्रदेश तक में बसपा में रहकर कई मंडलों में काम किया। मुस्लिम भाईचारा कमेटी में कई साल तक बसपा को मजबूत करने का काम किया। वहीं 2012 में महान दल से विधानसभा का चुनाव लड़ा। उसके बाद बसपा में शामिल हुए और 2017 में नूरपुर विधानसभा से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा, मगर बदकिस्मती से चुनाव हार गए। तब से वह लगातार बसपा के लिए दिन रात काम करते रहे। आरोप है कि पार्टी के बड़े नेता हर मोड़ पर गौहर इकबाल इकबाल को नजरअंदाज करते हुए नजर आए। काफी दिनों से बसपा की जिला कमेटी की बैठक में उनकी गैरमौजूदगी देखने को मिली। वह लगातार बसपा में घुटन महसूस करते नजर आ रहे थे।

बड़े नेता लगातार बना रहे दूरी- राजनैतिक जानकारों का कहना है कि 2017 के चुनाव के बाद से बसपा में लगातार बड़े नेताओं का पार्टी से दूरी बनाने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार पार्टी टूटती हुई नजर आ रही है। वहीं जिला पंचायत चुनाव में बसपा पूरे जिले में सिर्फ और सिर्फ पांच प्रत्याशी जिताने में कामयाब हो सकी। संभवत: कुछ इन्हीं कारणों से गौहर इकबाल ने बसपा को अलविदा कहते हुए किसानों के मसीहा स्वर्गीय चौधरी अजीत सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोक दल का दामन थाम लिया।

रालोद को मिलेगी मजबूती: जयंत चौधरी- रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी ने गौहर इकबाल को पार्टी की सदस्यता दिलाई। जयंत चौधरी ने कहा कि पश्चिम उत्तर प्रदेश में गौहर इकबाल के आने से रालोद को मजबूती मिलेगी। विश्वास दिलाते हुए कहा कि पार्टी में पूरी तरह से मान सम्मान दिलाने का काम किया जाएगा, क्योंकि राष्ट्रीय लोक दल गरीबों, किसानों, सर्व समाज की पार्टी है। किसी के साथ भेदभाव, जाति बिरादरी, हिंदू मुसलमानों की राजनीति नहीं करती। जिले में रालोद को पहले से भी ज्यादा मजबूत किया जाएगा। आने वाली 21 तारीख को उनके निवास पर सैकड़ों कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय लोकदल की सदस्यता दिलाई जाएगी।  

विस चुनाव को जुटें कार्यकर्ता: जितेंद सागर

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी कार्यालय बिजनौर में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि निर्मल सिंह सागर मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, रहे।
निर्मल सिंह सागर ने बताया की बहन कुमारी मायावती के आदेश पर बिजनौर जिला कमेटी, विधानसभा कमेटी, बूथ कमेटी, सब को भंग कर दिया गया है। अब नवनियुक्त जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर के आदेश अनुसार पुनः सभी कमेटियों का गठन किया जाएगा।
बैठक को संबोधित करते हुए बसपा जिला अध्यक्ष जितेंद्र सागर ने कहा की उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मात्र 6 महीने शेष बचे हैं, सभी कार्यकर्ता पदाधिकारी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों में पूरे तन मन धन से जुड़ जाएं। हर पदाधिकारी कार्यकर्ता अपने अपने क्षेत्र में जनता को बसपा की नीतियों के बारे में बताएं।
बसपा जिलाध्यक्ष जितेंद्र सागर ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी समाज के हर वर्ग के लिए काम करती है, बसपा की सरकार आने पर गरीब मजदूर किसान सभी के हितों में योजनाएं बनाकर समाज के हर वर्ग को लाभ पहुंचाने का काम करती है।
अतः हमें जनता के बीच जाकर बसपा की नीतियों को बताना है ताकि 2022 में बहुजन समाज पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार बन सके और बहन कुमारी मायावती पांचवी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।
बैठक में धनीराम सिंह पूर्व राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश, अखिलेश हितेषी मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, कविराज सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल, जितेंद्र सागर बसपा जिलाध्यक्ष, इसरार नबी जिला उपाध्यक्ष, प्रमोद कुमार विधानसभा अध्यक्ष बिजनौर, ब्रह्मपाल सिंह, अमित चौधरी, संजीव दहिया, अनुज राठी, मुंशी सिद्दीक आदि मौजूद रहे।