काकोरी कांड की वर्षगांठ पर हुईं विभिन्न प्रतियोगिताएं

लखनऊ। काकोरी ट्रेन ऐक्शन की 97 वीं वर्षगांठ को भव्य स्तर पर मनाए जाने के क्रम में जिला प्रशासन के निर्देश पर लखनऊ जिले के विद्यालयों के छात्र-छात्राओं की निबंध प्रतियोगिता, भाषण एवं चित्रकला प्रतियोगिता जनपद स्तर पर काकोरी स्थित बाबू त्रिलोकी सिंह इंटर कॉलेज काकोरी में संपन्न हुई। इन प्रतियोगिताओं में जिले के 36 विद्यालयों के 205 छात्र छात्राओं ने उत्साह पूर्वक प्रतिभाग किया।


प्राथमिक, जूनियर तथा सीनियर वर्ग के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इन प्रतियोगिताओं में ‘ काकोरी ट्रेन ऐक्शन स्वतंत्रता आंदोलन के संदर्भ में ‘विषयक निबंध प्रतियोगिता में प्राथमिक वर्ग से प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान क्रमशः शगुन पाल, ऐलीना, अतुल जूनियर वर्ग से क्रमशः अंजू गौतम, जोया खातून, राखी कुमारी को व सीनियर वर्ग से शादियां हसीन, आंचल मौर्य, उमे कुलसुम को प्राप्त हुआ।

आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत काकोरी के क्रांतिकारियों का योगदान विषय पर संपन्न हुई भाषण प्रतियोगिता में प्राथमिक वर्ग से प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान क्रमशः तस्मिया फातिमा, शैलवी मिश्रा तथा अब्दुल फहद व मोहम्मद तनवीर को प्राप्त हुआ। वहीं जूनियर वर्ग में प्रथम, द्वितीय तृतीय स्थान पर रिमझिम यादव, पूर्वी शर्मा तथा अंश यादव रहे। सीनियर वर्ग में प्रथम द्वितीय तृतीय स्थान पर क्रमशः वेदांत, आर्यन सिंह, राशि गुप्ता का चयन किया गया। आजादी का अमृत महोत्सव तथा काकोरी ट्रेन ऐक्शन विषय पर संपन्न कक्षा 1 से 8 व 9 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता में कक्षा एक से पांच तक के वर्ग में प्रथम स्थान श्रेयांश कुशवाहा, द्वितीय कृतिका तथा तृतीय आलिया कुरैशी को प्राप्त हुआ वहीं जूनियर वर्ग से प्रथम द्वितीय तृतीय स्थान क्रमशः अंशिका सिंह, सिमरन तथा गुलशन को प्राप्त हुआ तथा सीनियर वर्ग में प्रथम द्वितीय तृतीय स्थान खुलूद मोहम्मद रफी, विशेष कुमार तथा प्रार्थना सोनकर को प्राप्त हुआ।

भव्य रूप में संपन्न इन प्रतियोगिताओं में 6 प्राथमिक विद्यालय, 8 उच्च प्राथमिक विद्यालय, 1 कंपोजिट विद्यालय, 3 राजकीय हाईस्कूल/इन्टर कॉलेज, 8 सहायता प्राप्त इण्टर कालेज तथा 10 मान्यता प्राप्त प्राइवेट विद्यालय के विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता का संचालन एवं निर्णायक मंडल का चयन जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा किया गया। जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार पांडे एवं कालेज के प्रधानाचार्य डॉ राजकुमार सिंह ने विजेता प्रतिभागियों को बधाई दी। प्रधानाचार्य ने बताया कि विजेता प्रतिभागियों को 9 अगस्त को काकोरी शहीद स्मारक पर आयोजित समारोह में प्रशासन द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा।

वर्दी के पीछे धड़कता मासूम सा दिल

मानवता की बेहतरीन मिसाल कायम कर रहे आजमगढ़ के एएसपी सिटी

दीपक कुमार की विशेष रिपोर्ट 

लखनऊ। कहते हैं मानवता की सेवा करने के लिए दिल में  जज्बातों की जरूरत होती है। इसके लिए समय और धन जरूरी तो हैं लेकिन प्राथमिक नहीं माने जा सकते। आज के आपाधापी भरे दौर में जब इंसान अपने सगे संबंधियों तक से दूरी बनाए रहता है, ऐसे में एएसपी सिटी के पद पर आजमगढ़ में तैनात शैलेन्द्र लाल मानवता की बेहतरीन मिसाल कायम कर रहे हैं।


एक विशेष बातचीत में उन्होंने बताया कि उन्हें हमेशा से ही पशु पक्षी और प्रकृति से लगाव रहा है। मेरे यहां बगीचा है, साग सब्जी होती है। बंदर उनका कुछ भी नुकसान नहीं करते। एक फूल भी नहीं तोड़ते। जो साग सब्जी होती है, हम और बंदर के लिए काफी हो जाती है; दोनों खुश…।

जनपद लखीमपुर खीरी में तैनाती के दौरान उनके घर के बाहर कई गाय व कुत्ते आदि आते थे, इसलिए उनके लिए वे घर के बाहर चारा / खाना और पानी रखने लगे। यही नहीं चिड़ियों के लिए भी दाना और पानी की भरपूर व्यवस्था रहती।
उन्हें हमेशा से ही पशु पक्षियों के प्रति बेहद लगाव रहा है।  सहारनपुर में तैनाती के दौरान उन्होंने अलग-अलग किस्म के चार कुत्ते भी पाल रखे थे।


जब पोस्टिंग नोएडा में हुई, तब भी कई जानवर उनके घर आते थे। इस दौरान एक बंदर ने दोस्ती कर ली। वह घर आता था और जब पत्नी सब्जी लेने जाती थी तो कांधे पर आके बैठा जाता था।

यहां यह बताना भी समीचीन होगा कि इनकी गिनती एक तेज तर्रार पुलिस अधिकारी के तौर पर होती है। जनपद मुख्यालय बिजनौर के मोहल्ला जाटान में वर्ष 2014 में हुए बम विस्फोट कांड के दौरान सीओ सिटी रहे शैलेन्द्र लाल को एक तेज तर्रार पुलिस अफसर के तौर पर जाना पहचाना जाता है। सूचना मिलते ही घटनास्थल पर तत्काल वह न केवल खुद पहुंचे, बल्कि घटना के संबंध में पूरी जानकारी भी जुटाई। मामला बेहद ही खूंखार आतंकवादी संगठन सिमी से जुड़ा हुआ था।

अब फोटोज देखकर उनके पशु एवं प्रकृति प्रेम के प्रति कुछ भी कहना, लिखना बेमानी ही होगा। किस कदर अकेले एक बंदर हो या झुंड में परिवार सहित…बड़े प्रेम से खाते पीते हैं और चले जाते हैं। किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं करते।

परिचयमूल रूप से जनपद उरई जालौन निवासी इनके पिता यूपी कैडर 1971 बैच के आईपीएस अफसर थे, लिहाजा इनकी अधिकांश पढ़ाई हॉस्टल में रहकर ही हुई। सेंट जोसेफ कॉलेज नैनीताल से कक्षा 10 तक पढ़ने के बाद उन्होंने डीपीएस आरकेपुरम नई दिल्ली से इंटरमीडिएट किया। दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। बिजनौर में तैनाती के दौरान विवेक कॉलेज में एडमिशन लेकर रुहेलखंड विश्वविद्यालय से एलएलबी कंप्लीट किया। पत्नी दिल्ली हाईकोर्ट में वकालत करती हैं जबकि पुत्री जर्मनी में जॉब कर रही है। इनके बेटे का सेलेक्शन आईबी में असिस्टेंट इंटेलिजेंस ऑफिसर के तौर पर हुआ है। परिवार प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रहता है।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान; वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्गल जी के विचार

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=pfbid02uv7FYX2j1NyaCRSpSkZexwU15eZDT8hhadZyRR2xb96re1Qy4gM3KxMYRZLPkwCql&id=100010324394979
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के संदर्भ में वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्गल जी के विचार। उनकी फेसबुक वॉल से…

गांधी शांति प्रतिष्ठान की 9 जुलाई 2022 की सांझ समर्पित थी हिंदी को गढने, स॔वारने और उसे विषय गत वैविध्य से समृद्ध करने, सरस्वती पत्रिका के माध्यम से उसे निरंतर सृजनात्मक नया उन्मेष प्रदान करने वाले युग प्रवर्तक साहित्यकार, संपादक आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम।
महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मारक समिति ने अपने अनेक समर्पित गणमान्य सदस्यों और वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार गौरव अवस्थी के दायित्वपूर्ण देखरेख और संचालन में, अपने 25 वर्षों का सार्थक और सक्रिय सफर पूरा किया है। इस स्वागत योग्य संकल्प के साथ कि यह वर्ष महावीर प्रसाद द्विवेदी के जयंती वर्ष के रूप में मनाया जाएगा देश के कोने कोने में और उसकी पहली कड़ी का आरंभ हो रहा है, देश की राजधानी दिल्ली से।
अचानक अस्वस्थ होने के चलते गौरव अवस्थी जी की अनुपस्थिति में, मीडिया विशेषज्ञ, पत्रकार श्री अरविंद सिंह जी ने पूरे समय उनकी अनुपस्थिति को अपनी सरस उपस्थिति के चलते महसूस नहीं होने दिया।

बैसवाड़ा के साहित्य प्रेमियों के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश और विश्व भर में फैले हिंदी प्रेमियों के लिए यह सूचना हर्ष और गौरव का विषय है।
महावीर प्रसाद जयंती वर्ष के शुभारंभ के साथ ही 9 जुलाई की यह सांझ साक्षी बनी देश के प्रतिष्ठित जाने-माने पत्रकार त्रिलोक दीप जी के सम्मान के साथ, वरिष्ठ पत्रकार रहे साहित्य तक के प्रस्तोता श्री जय प्रकाश पांडे जी के साथ देश के कोने-कोने से आए अपने-अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देने वालों विशिष्ट जनों को आदर पूर्वक सम्मानित करने का भी।…

वृद्धाश्रम पहुंचे एसपी को मिलीं ढ़ेरों शुभाशीष

पिता की पुण्यतिथि पर वृद्ध आश्रम पहुंचे एसपी दिनेश सिंह। समस्याओं को सुना, फिर कराया वृद्धों को भोजन। उनके साथ ही भोजन किया स्वयं गृहण।

बिजनौर। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह अपने पूज्य पिताजी स्व0 श्री आर0डी0बी0 सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर थाना कोतवाली शहर क्षेत्रान्तर्गत विदुर कुटी स्थित वृद्ध आश्रम पहुंचे। उन्होंने आश्रम में रहने वाले वृद्धजनों की समस्याएं सुनी तथा उनके शीघ्र निराकरण का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने वृद्ध आश्रम में रहने वाले सभी वृद्धों को भोजन कराया व स्वयं भी उनके साथ बैठकर भोजन किया। वृद्धाश्रम में मौजूद बुजुर्गों ने एसपी को हार्दिक शुभाशीष देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

टॉप 10 में शामिल बिजनौर की UP 112

सराहनीय कार्य यू0पी0-112, जनपद बिजनौर
बिजनौर। जनपद की यू0पी0-112 पीआरवी को प्रदेश में आठवां स्थान मिला है। इसी के साथ जनपद शीर्ष-10 में भी शामिल हुआ है।

जनपद बिजनौर के पुलिस अधीक्षक डॉ0 धर्मवीर सिंह के दिशा-निर्देशन व डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर/नोडल अधिकारी यू0पी0-112 के निकट पर्यवेक्षण तथा रजी अहमद, प्रभारी निरीक्षक यू0पी0-112 के कुशल नेतृत्व में जनपद बिजनौर की पीआरवी द्वारा प्रचलित माह जून-2022 में इवेंट में Dispatch, Acknowledge Enroute, Arrive, ATR की समस्त कार्यवाही में न्यूनतम समय लिया गया है।

प्रचलित माह जून-2022 में औसत रिस्पोंस टाइम 10 मिनट से भी कम रहा है, इसके अतिरिक्त Wrong Arrival तथा Preempt की संख्या भी न्यूनतम पायी गयी है। पुलिस मुख्यालय, लखनऊ द्वारा प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले शीर्ष 10 जनपदों में जनपद बिजनौर का नाम सम्मिलित किया गया है तथा जनपद बिजनौर का प्रचलित माह जून-2022 में अष्टम स्थान (08वीं रैंक) हेतु चयनित किया गया है।

श्री अशोक कुमार सिंह, अपर पुलिस महानिदेशक यू0पी0-112 लखनऊ द्वारा जनपद बिजनौर यू0पी0-112 पीआरवी द्वारा इस प्रकार लगनशील एवं तत्परता पूर्वक कार्य करने की भूरि-भूरि प्रशंसा की गयी तथा इस सराहनीय कार्य के लिये डॉ0 धर्मवीर सिंह, पुलिस अधीक्षक जनपद बिजनौर को पीआरवी गाडी का मॉड्यूल व श्री रजी अहमद, प्रभारी निरीक्षक यू0पी0-112 को प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय पुरस्कार 9 जुलाई को

लखनऊ। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के रजत जयंती वर्ष पर समारोह की श्रंखला नई दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान के सभागार में 9 जुलाई 2022 दिन शनिवार को प्रारंभ होने जा रही है।
राष्ट्रीय आयोजन समिति के संयोजक वरिष्ठ पत्रकार गौरव अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि समारोह की मुख्य अतिथि प्रसिद्ध कथाकार श्रीमती चित्रा मुद्गल जी हैं।

समारोह में बुजुर्ग पत्रकार आदरणीय श्री त्रिलोकदीप जी को आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा। उनके अतिरिक्त अन्य दिग्गज पत्रकार-साहित्यकार विभिन्न पुरस्कारों से पुरस्कृत किए जाएंगे (विस्तार से विवरण आमंत्रण पत्र में उल्लिखित है)। उन्होंने कहा कि अपने पूर्वज की स्मृतियों से जुड़ने का यह सुनहरा मौका हाथ से जाने न दें।

75 साहित्यकार एवं समाजसेवी कुमुद सम्मान से अलंकृत

साहित्यकार ज्ञान स्वरूप ‘कुमुद’ जी की जयंती पर कुमुद सम्मान से अलंकृत 75 साहित्यकार एवं समाजसेवी

बरेली। रोटरी क्लब भवन चौपुला में साहित्यकार ज्ञान स्वरूप ‘कुमुद’ जी की जयंती समारोह पूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर 75 साहित्यकार एवं समाजसेवी कुमुद सम्मान से अलंकृत किए गए।

हास्य कवि निर्मल सक्सेना ( कासगंज), वरिष्ठ शायर जीतेश राज नक़्श (पीलीभीत), मुख्य अतिथि आईएमए के पूर्व अध्यक्ष डॉ सत्येंद्र सिंह, विशिष्ट अतिथिगण बरेली बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अरविंद कुमार श्रीवास्तव, बरेली बार एसोसिएशन के सचिव वीपी ध्यानी, वरिष्ठ साहित्यकार एवं कार्यक्रम अध्यक्ष आचार्य देवेंद्र देव एवं कार्यक्रम संचालक कवि रोहित राकेश को संस्था के संस्थापक एवं कार्यक्रम आयोजक एडवोकेट उपमेंद्र सक्सेना एवं संस्था अध्यक्ष करुणा निधि गुप्ता ने उत्तरीय, प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह देकर कुमुद सम्मान से अलंकृत किया

इसके अलावा 75 कवियों एवं समाजसेवियों को भी समारोह में सम्मानित किया गया। आमंत्रित कवियों में निर्मल सक्सेना एवं जीतेश राज ‘नक़्श’ ने अपने काव्य पाठ से सभी का दिल जीत लिया और खूब वाहवाही लूटी।

खटीमा से पधारे सुप्रसिद्ध कवि प्रिय भाई रामरतन यादव द्वारा बहुत सुंदर सरस्वती वंदना प्रस्तुत की गई। साहित्यकार डॉ महेश मधुकर एवं साहित्यकार रणधीर प्रसाद गौड़ धीर ने ‘कुमुद’ जी के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कार्यक्रम आयोजक एडवोकेट उपमेंद्र सक्सेना एवं संस्था अध्यक्ष  करुणा निधि गुप्ता ने सभी अतिथियों को हृदय से साधुवाद एवं आभार व्यक्त किया।

उन्नाव को धूल चटा कर शेर ए रजा क्लब ने जीता पहला मुकाबला


लखनऊ में स्वर्गीय मुन्नी देवी क्रिकेट लीग का शुभारंभ। मुख्य अतिथि सीनियर पत्रकार चंद्रभान यादव ने किया शुभारंभ। क्रिकेट खेल रहे बच्चों का बढ़ाया उत्साह। मैन ऑफ द मैच वाहबुल को सप्रेम भेंट प्रदान कर की उनके भविष्य उज्जवल कामना।

लखनऊ। स्वर्गीय मुन्नी देवी क्रिकेट लीग का मैच शुक्रवार को जीबी पंत क्रिकेट ग्राउंड में खेला गया। इसमें रॉयल क्लब उन्नाव व शेर-ए-रजा के बीच कड़ा मुकाबला हुआ। पहले बल्लेबाजी करने उतरी रॉयल्स क्रिकेट क्लब उन्नाव की टीम महज 18 ओवर में 110 रन बनाकर आल आउट हो गई। मोहित कनौजिया (39 रन) व विवेक कुमार (30 रन) के अलावा कोई बल्लेबाज क्रीज पर नहीं टिक सका। शेर ए रजा की थोड़ी खराब शुरुआत हुई; 40 रन पर दो विकेट गिर गए। फिर धीरे-धीरे मैच शेरे रजा के पक्ष में चला गया और टीम ने 113 रन 4 विकेट खोकर बना लिए। मैन ऑफ द मैच का खिताब वाहबुल अली ने 3 ओवर में 4 विकेट झटक कर हासिल किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि jk 24×7 न्यूज़ के पत्रकार चंद्रभान यादव ने मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार वाहबुल अली को दिया। उन्होंने सभी खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामनाएं करते हुए आयोजक अभिषेक चौरसिया की जमकर तारीफ की।

आचार्य द्विवेदी स्मृति अभियान के रजत जयंती समारोह में होगा देशभर के साहित्यकारों-पत्रकारों का जमावड़ा

आचार्य द्विवेदी स्मृति अभियान का 25वां वर्ष

रजत जयंती समारोह में होगा देशभर के साहित्यकारों-पत्रकारों का जमावड़ा

मुख्य आकर्षण
-दौलतपुर में महावीर चौरा पर सुंदरकांड पाठ से रजत जयंती समारोह की शुरुआत
-दो दिवसीय मुख्य वार्षिक समारोह 11-12 नवंबर को
-ऐतिहासिक दस्तावेजों और दुर्लभ फोटो वाली प्रदर्शनी का आयोजन
-रायबरेली शहर में आचार्य द्विवेदी स्मृति खेल महाकुंभ
-गीत-संगीत, नृत्य और नाटक के माध्यम से आचार्य द्विवेदी के जीवन वृत्त की प्रस्तुति
-“आचार्य पथ” स्मारिका/पत्रिका का विशेषांक

रायबरेली से शुरू हुआ आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान रजत जयंती वर्ष में प्रवेश कर गया है। अभियान की रजत जयंती धूमधाम से मनाई जाएगी। रजत जयंती वर्ष को यादगार बनाने की तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं। 11-12 नवंबर 2022 को आयोजित होने वाले रजत जयंती समारोह में देशभर के साहित्यकारों पत्रकारों को आमंत्रित किया जाएगा। लखनऊ और दिल्ली में भी कार्यक्रम आयोजित करने का संकल्प लिया गया। आचार्य पथ स्मारिका का विशेषांक भी निकालने की तैयारी है।
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की रायबरेली के आशीर्वाद इन होटल में आयोजित बैठक में तय किया गया कि रजत जयंती वर्ष में आचार्य द्विवेदी की स्मृतियों को नए रूप में संजोया जाएगा। वर्ष पर्यंत कार्यक्रमों की श्रंखला चलेगी। इसकी शुरुआत आचार्य द्विवेदी के जन्म ग्राम दौलतपुर में सुंदरकांड के पाठ के साथ होगी। आचार्य द्विवेदी स्मृति खेल महाकुंभ के साथ ही जनपद के साहित्यिक स्वाधीनता संग्राम इतिहास को समेटने वाली प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। 12 नवंबर को वार्षिक आयोजन भी इस बार दो दिवसीय होगा। इसमें देशभर के पत्रकार-साहित्यकार शामिल होंगे। आचार्य द्विवेदी के जीवन वृत्त को गीत-संगीत, नाटक और नृत्य के माध्यम से भी प्रस्तुत करने की तैयारी की जा रही है।


अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने बताया कि स्मृति संरक्षण अभियान 9 मई 1998 को समाज और सरकार को जगाने के लिए ध्यानाकर्षण धरने के माध्यम से प्रारंभ हुआ था। यह स्मृति अभियान 9 मई से रजत जयंती वर्ष में प्रवेश कर गया है। 25 वर्ष के सफर में कई सोपान तय किए गए। शहर से लेकर गांव तक तीन स्मृति द्वार बनाए गए। कई सरकारी और निजी संस्थाओं में सभागार आचार्य द्विवेदी के नाम पर रखे गए।
उन्होंने बताया कि आचार्य द्विवेदी की स्मृतियां सात समंदर पार अमेरिका तक पहुंच गई। अमेरिका इकाई की कमान श्रीमती मंजु मिश्रा एवं सदस्य श्रीमती रचना श्रीवास्तव, श्रीमती शुभ्रा ओझा, कुसुम नैपसिक, डॉक्टर ममता त्रिपाठी संभाले हुए हैं। अमेरिका इकाई साल में आचार्य द्विवेदी की स्मृति और हिंदी के प्रचार- प्रसार के लिए ऑनलाइन चार कार्यक्रम आयोजित कर रही है। इनमें बच्चों की प्रतियोगिताएं भी शामिल हैं।

कार्यक्रमों के लिए अलग-अलग प्रभारियों की नियुक्ति-
महामंत्री अनिल मिश्र ने बताया कि कार्यक्रमों के लिए अलग-अलग प्रभारियों की नियुक्ति की गई है। खेल प्रतियोगिताओं के लिए मुन्ना लाल साहू, स्मिता दुबे, अनुपमा रावत और हिमांशु तिवारी को प्रभारी बनाया गया है। नाटक-नृत्य आदि के लिए अमित सिंह, रवि प्रताप सिंह और क्षमता मिश्रा को जिम्मेदारी दी गई है। प्रदर्शनी का प्रभार अभिषेक द्विवेदी, नीलेश मिश्रा और अरुण पांडे को सौंपा गया है।
बैठक के अंत में डॉ सुशील चंद्र मिश्र ने सभी को रजत जयंती वर्ष की शुभकामनाएं दीं। बैठक में राजीव भार्गव, दिनेश शुक्ला, सुधीर द्विवेदी, स्वतंत्र पांडे, राजेश वर्मा, श्रीमती रजनी सक्सेना, रामेंद्र मिश्रा, अमर द्विवेदी, दीपक तिवारी, लंबू बाजपेई, शशिकांत अवस्थी, घनश्याम मिश्रा, राकेश मोहन मिश्रा, राजेश द्विवेदी, कृष्ण मनोहर मिश्रा, अभिषेक मिश्रा, रोहित मिश्रा, यशी अवस्थी, शिखर अवस्थी, हर्षित द्विवेदी आदि मौजूद रहे।

आचार्य द्विवेदी के नाम पर चौराहे का सुंदरीकरण करने का सुझाव

रजत जयंती वर्ष की तैयारियों के सिलसिले में आयोजित बैठक में कई सुझाव भी आए। समिति के सदस्य राजेश वर्मा ने सुझाव दिया कि आचार्य द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के रजत जयंती वर्ष को यादगार बनाने के लिए शहर के एक चौराहे को विकसित किया जाए। सदस्य चंद्रमणि बाजपेई ने छात्र-छात्राओं के लिए पुस्तकालय- वाचनालय स्थापित किए जाने पर जोर दिया।

आचार्य द्विवेदी के साहित्य का डिजिटलाइजेशन भी होगा

रजत जयंती वर्ष मनाने की तैयारियों से संबंधित बैठक में आचार्य द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की अमेरिका इकाई की अध्यक्ष श्रीमती मंजु मिश्रा भी ऑनलाइन शामिल हुईं। उन्होंने आचार्य द्विवेदी के साहित्य समेत अन्य विषयों पर लिखी गई पुस्तकों को डिजिटल फॉर्म पर उपलब्ध कराने का सुझाव दिया। अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने आश्वस्त किया कि इस दिशा में भी काम तेज किया जाएगा।

भारत की मैंकल नामदेव व अमेरिका के ऋत्विक ने जीती अंतर्राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता

पेंड्रा की मैंकल नामदेव और अमेरिका के ऋत्विक ने जीती निबंध प्रतियोगिता
-अमेरिका वर्ग से अयाति ओझा दूसरे स्थान पर रहीं
-भारत वर्ग से रायबरेली की आद्या गुप्ता दूसरे और फातिमा अंसारी तीसरे स्थान पर रहीं
-7 बच्चों के निबंध सांत्वना पुरस्कार के रुप में चुने गए
-अमेरिका में भारत के चांसरी प्रमुख रमाकांत कुमार ने की विजेता बच्चों के नामों की घोषणा
-मुख्य अतिथि अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा के जनसंचार विभागाध्यक्ष डॉ कृपाशंकर चौबे ने समिति के प्रयासों की सराहना की

नई दिल्ली आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की भारत और अमेरिका इकाई द्वारा संयुक्त रूप से 12 से 18 वर्ष के बच्चों की आयोजित की गई अंतर्राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ की मैंकल नामदेव और अमेरिका के ऋत्विक अग्रवाल विजेता रहे।

मैकल नामदेव को पुरस्कार में प्रमाणपत्र के साथ 21 सौ रुपए और ऋत्विक को 50 डालर दिए जाएंगे। इसी तरह दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे विजेता बच्चों को भी प्रमाण पत्र और नगद पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा। चयनित सभी निबंधों को ‘आचार्य पथ’ स्मारिका में भी स्थान देने का ऐलान किया गया।

विजेता बच्चों के नामों की घोषणा रविवार को आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में अमेरिका में भारत के चांसरी प्रमुख रमाकांत कुमार ने की। करतल ध्वनि से सभी विजेता बच्चों को बधाई दी गई। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता में अमेरिका वर्ग से ऋत्विक अग्रवाल प्रथम और अयाति ओझा दूसरे स्थान पर रही। भारत वर्ग से मैंकल नामदेव प्रथम, आद्या गुप्ता द्वितीय और फातिमा अंसारी तीसरे स्थान पर रहीं। तमिलनाडु की प्रतिभागी संजना एच, कात्यायनी त्रिवेदी, हिमांशी सिंह, गुनगुन मिश्रा, श्रवण कुमार मिश्रा, शान्तनु पांडेय और पंकज कुमार के निबंध भी सराहे गए। सभी को सांत्वना पुरस्कार देने की घोषणा की गई। विजेता बच्चों ने अपने-अपने निबंध भी पढ़कर सुनाए।

पुरस्कार वितरण समारोह के मुख्य अतिथि एवं अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष डॉ. कृपा शंकर चौबे ने सभी विजेता बच्चों को बधाई देते हुए कहा कि जब हिंदी की विभिन्न विधाओं पर संकट गहरा रहा है ऐसे समय में आचार्य द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति द्वारा बच्चों के लिए निबंध प्रतियोगिता आयोजित करना बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है। बच्चे के अंदर एक रचना छुपी होती है और उस रचना को निखारने एवं सामने लाने का अवसर देना निहायत जरूरी है।

समिति की अमेरिका इकाई की अध्यक्ष श्रीमती मंजु मिश्रा ने सभी प्रतिभागी बच्चों के साथ- साथ कार्यक्रम में उपस्थित निर्णायक मंडल की सदस्य प्रोफेसर नीलू गुप्ता (अमेरिका), डॉ. पद्मावती (चेन्नई), डॉ भारती सिंह (नोएडा), अनुपम परिहार (प्रयागराज), डॉ. सुमन फुलारा (उत्तराखंड) और बद्री दत्त मिश्र (रायबरेली) का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि हिंदी को बचाने और बढ़ाने के लिए भारत के साथ-साथ प्रवासी भारतीयों के बच्चों को मातृभाषा से जोड़े रखने के ही यह छोटे-छोटे प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि भारत से करीब 122 निबंध प्राप्त हुए।

भारत इकाई के अध्यक्ष विनोद शुक्ल ने कहा कि हिंदी को नया व्याकरण और भाषा देने वाले आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के योगदान को आज सभी स्वीकार कर रहे हैं। उनकी स्मृतियों को संरक्षित करने में समाज जागृत हो चुका है लेकिन सरकार का जागृत होना बाकी है।

आभार ज्ञापित करते हुए समिति के संयोजक गौरव अवस्थी ने कहा कि आचार्य द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान का यह 25वां वर्ष है। सभी के प्रयासों और सहयोग से आचार्य द्विवेदी की स्मृतियां सात समंदर पार तक पहुंचने में सफल हुई हैं। भविष्य में भी ऐसा ही सहयोग बनाए रखने का अनुरोध किया।

कार्यक्रम का संचालन अमेरिकी इकाई की वरिष्ठ सदस्य श्रीमती रचना श्रीवास्तव ने किया और अमेरिका की शोनाली श्रीवास्तव ने सुमधुर स्वर में सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। कार्यक्रम में अमेरिकी इकाई की सदस्य डॉ कुसुम नैपसिक, श्रीमती ममता त्रिपाठी, गणेश दत्त, सुश्री नीलम सिंह, श्रीमती संगीता द्विवेदी, सुधीर द्विवेदी, करुणा शंकर मिश्रा, अभिषेक द्विवेदी आदि उपस्थित रहे।

गीत-संग्रह ‘पुन: युधिष्ठिर छला गया है’ एवं ‘मेंहदी रचे हाथ’ का लोकार्पण सम्पन्न

लखनऊ। साहित्य प्रोत्साहन संस्थान मनकापुर गोंडा के तत्वावधान एवं सुनील त्रिपाठी के संयोजन में स्थानीय डिप्लोमा इंजीनियर्स सभागार हजरतगंज लखनऊ में कवि व गीतकार राहुल द्विवेदी ‘स्मित’ एवं कवि चन्द्रगत भारती की काव्य कृतियों ‘पुन: युधिष्ठिर छला गया है’ एवं ‘मेंहदी रचे हाथ’ का लोकार्पण किया गया।

लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व हिन्दी विभागाध्यक्ष प्रो. हरिशंकर मिश्र की अध्यक्षता में सम्पन्न इस लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि कार्यक्रम अधिशासी दूरदर्शन ओबी भट्टाचार्य, विशिष्ट अतिथि डॉ० सुशील कुमार राय, कार्यक्रम अधिशासी, आकाशवाणी लखनऊ एवं संपादक सांध्य दैनिक ‘पब्लिक इमोशन’ बिजनौर डॉ पंकज भारद्वाज तथा मुख्य वक्ता वरिष्ठ नवगीतकार मधुकर अस्थाना, अन्तर्राष्ट्रीय व्यंग्यकार सर्वेश अस्थाना एवं वरिष्ठ साहित्यकार राजेन्द्र शुक्ल ‘राज’ ने मंच को सुशोभित किया।

कार्यक्रम का आरम्भ माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण, दीपक प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। इसके पश्चात दोनों पुस्तकों का लोकार्पण संस्था के संस्थापक सचिव धीरज श्रीवास्तव एवं मंचस्थ अतिथियों द्वारा किया गया। लोकार्पित कृतियों पर अपने विचार रखते हुए मुख्य वक्ता मधुकर अस्थाना ने कहा कि पुनः युधिष्ठिर छला गया है; गीतकृति अपने शीर्षक से ही प्रतीक और व्यंजना की छाप छोड़ने लगती है, जिससे स्पष्ट होता है कि कवि की वाणी में पूरे  समाज की अन्तरात्मा की अभिव्यक्ति हो रही है और उनके गीत जीवन मूल्यों की प्रतिस्थापना हेतु प्रयत्नशील दिखाई देते हैं।

मुख्य अतिथि ओबी भट्टाचार्य ने राहुल द्विवेदी को उनकी पुस्तक के लिए शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि इस पुस्तक में कल्पना, संवेदना, यथार्थ की अनुभूति और संघर्ष की अभिव्यक्ति के संग लेखनी के तारतम्य का अद्भुत समन्वय देखने को मिलता है। युवा कवि राहुल द्विवेदी स्मित एवं चन्द्रगत भारती में छुपी क्षमता को उनकी पुस्तकें स्वत‍: ही प्रकाशित करती हैं। डॉ० सुशील कुमार राय ने दोनों कृतिकारों को उनकी पुस्तकों हेतु बधाई दी साथ ही पुस्तकों को समय की शिला पर अंकित पृष्ठों का संकलन कहा।

डॉ० पंकज भारद्वाज ने कहा कि ‘पुनः युधिष्ठिर छला गया है’ कृति के प्रत्येक गीत मानवीय चेतना को जगाने में सफल होंगे।चन्द्रगत भारती की पुस्तक ‘मेंहदी रचे हाथ’ पर वक्तव्य देते हुए वरिष्ठ साहित्यकार राजेन्द्र शुक्ल राज ने कहा कि विपुल संवेदनाओं के धनी गीतकवि चन्द्रगत भारती हिन्दी साहित्य की रत्नमाला के आकर्षक व्यक्तित्व हैं। उनके गीत संग्रह ‘मेंहदी रचे हाथ’ में कोमल हृदय की भाव-तरलता के साथ-साथ युगीन बोध की सघनता पाठकों के हृदय को सहज ही मोह लेती है।

अन्तर्राष्ट्रीय व्यंग्यकार सर्वेश अष्ठाना ने कहा कि राहुल द्विवेदी स्मित के गीतों में गहरी संवेदना की प्रभावशाली अभिव्यक्ति है। अंत में कार्यक्रम के अध्यक्ष प्रो हरिशंकर मिश्र ने कहा कि अरसा बाद एक विशुद्ध साहित्यिक कार्यक्रम में गीतों पर हुई चर्चा का विस्तृत स्वरूप देख रहा हूँ।दोनों पुस्तकें अपने कलेवर और रचनात्मक गुणवत्ता से पाठक को आकर्षित करती है।

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में शिक्षा, साहित्य एवं पत्रकारिता से जुड़ी ग्यारह हस्तियों को उनके अपने क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए सम्मानित किया गया। इनमें वरिष्ठ साहित्यकार कमलेश मौर्य मृदु, साहित्य भूषण शिवकांत मिश्र विद्रोही, डॉ अजय प्रसून, केवल प्रसाद सत्यम, रामानन्द सागर, डॉ सीके मिश्र, शालिनी सिंह, मनोज मानव, केदारनाथ शुक्ल, करन सिंह परिहार रहे। समारोह के प्रथम चरण का संचालन नवगीतकार अवनीश त्रिपाठी ने तथा द्वितीय चरण का संचालन ओज कवि उमाकांत पाण्डेय ने किया। कार्यक्रम का समापन संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष उमाशंकर शुक्ल के कृतज्ञता ज्ञापन से हुआ।

कार्यक्रम में सुनील त्रिपाठी, नरेंद्र भूषण, मनोज मानव, साहित्य भूषण कमलेश मौर्य ‘मृदु’, डॉ अजय प्रसून, केदारनाथ शुक्ल, केवल प्रसाद सत्यम, करन सिंह परिहार, कुलदीप बृजवासी, साहित्य भूषण शिवाकांत मिश्र विद्रोही, मंजुल मिश्र मंजर ,  मुकेश कुमार मिश्र, हितेश शर्मा ‘पथिक’, धीरज मिश्रा, राजाभैया गुप्ता ‘राजाभ’, ज्ञान प्रकाश ‘आकुल’, ओमप्रकाश शर्मा, आत्मप्रकाश मिश्र, पुनीता देवी, रेनू सिंह, श्रीमती प्रमिला, रियाज अहमद, अलका अस्थाना, अनुज ‘अब्र’, कमल किशोर भावुक, प्रतिभा गुप्ता, शुभदा बाजपेई ,योगी योगेश शुक्ल, निशा सिंह, महेश प्रकाश अष्ठाना,आदि नगर के अनेक साहित्यिक संस्था-प्रमुखों, कवियों, साहित्यकारों और समाजसेवियों की उपस्थिति रही।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति अंतर्राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण एवं आशीर्वाद समारोह 22 मई रविवार को


आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति अंतर्राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण एवं आशीर्वाद समारोह 22 मई 2022 रविवार को भारतीय समय के अनुसार सुबह 8:00 बजे ऑनलाइन आयोजित किया गया है।
समारोह में बतौर मुख्य अतिथि रमाकांत कुमार (चांसरी प्रमुख, भारतीय कौंसलावास सैनफ्रांसिस्को-अमेरिका) और डॉ. कृपा शंकर चौबे (अध्यक्ष-जनसंचार विभाग, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा-महाराष्ट्र) निबंध प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने वाले भारत और अमेरिका के बच्चों को आशीर्वाद एवं पुरस्कार प्रदान करेंगे।
पुरस्कार वितरण एवं आशीर्वाद समारोह का लाइव प्रसारण हमारी भाषा हिंदी फेसबुक पेज पर भी किया जाएगा। आपकी उपस्थिति हम सबका उत्साहवर्धन करेगी।
यह जानकारी आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की श्रीमती मंजु मिश्रा अध्यक्ष अमेरिका इकाई एवं विनोद शुक्ल अध्यक्ष भारत इकाई ने संयुक्त रूप से दी।

कायस्थ चेतना मंच द्वारा दूसरा प्याऊ संचालित

बरेली। कायस्थ चेतना मंच के तत्वावधान में 17 मई 2022 दिन मंगलवार को प्याऊ का उद्घाटन संस्था के संरक्षक डॉक्टर पवन सक्सेना एवं संस्था के वरिष्ठ सदस्य पार्षद सतीश कातिब मम्मा जी द्वारा किया गया।

डॉक्टर पवन सक्सेना ने इसे संस्था का सराहनीय कार्य बताया। सतीश मम्मा ने कहा कि समय समय पर ऐसे कार्य कराने से संस्था की छवि और उज्जवल होगी। अध्यक्ष संजय सक्सेना ने बताया संस्था द्वारा एक प्याऊ बदायूं रोड स्थित पानी की टंकी के सामने 3 मई अक्षय तृतीया से संचालित हो रहा है, जिससे बदायूं रोड पर राहगीरों के लिए बहुत आराम मिलता है। चौपला पुल से लेकर करगैना तक और कोहरापीर पुलिस चौकी के आसपास भी पानी की कोई व्यवस्था नहीं है। राहगीरों के लिए बहुत परेशानी होती है। यह विचार मन में आया था। इसीलिए प्याऊ संचालित किए गए हैं। अभी दो प्याऊ और संचालित करने का विचार है।

संस्था के वरिष्ठ उपाध्याय अखिलेश सक्सेना ने सभी का स्वागत एवं आभार व्यक्त किया म। इस कार्यक्रम में महिला अध्यक्ष श्रीमती माया सक्सेना, श्रीमती प्रतिभा जौहरी, अविनाश सक्सेना, बीनू सिन्हा, महासचिव अमित सक्सेना बिंदु, निर्भय सक्सैना, पंकज सक्सेना पंछी आदि लोग उपस्थित रहे।

इससे पहले व्यंजन रेस्टोरेंट पर रेस्टोरेंट के मालिक गुप्ता के विशेष सहयोग से राहगीरों को भीषण गर्मी से राहत देने के लिए एक प्याऊ की व्यवस्था की गई। कायस्थ चेतना मंच संरक्षक डॉक्टर पवन सक्सेना वरिष्ठ पत्रकार के द्वारा नारियल फोड़कर प्याऊ का उद्घाटन किया गया।

अध्यक्ष संजय सक्सेना, महासचिव अमित सक्सेना बिंदु, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अविनाश चंद्र सक्सेना, अखिलेश कुमार सक्सेना, सुरेंद्र बीनू सिन्हा, निर्भय सक्सैना वरिष्ठ पत्रकार, जिला महिला अध्यक्ष श्रीमती माया सक्सेना, पार्षद सतीश कातिब मम्मा, वरिष्ठ पार्षद एवं बीडीए सदस्य पंकज जौहरी पंछी, श्रीमती प्रतिमा जौहरी आदि ने कार्यक्रम में सहयोग किया अंत में अखिलेश कुमार ने सभी का आभार व्यक्त किया।

बैलगाड़ी पर निकली डॉक्टर की बारात

बैतूल (एजेंसी)। आमतौर पर शादी समारोह में लोग अपनी हैसियत और ताकत का प्रदर्शन करने से नहीं चूकते, मगर मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में एक चिकित्सक ने अपने विवाह समारोह में सादगी की मिसाल पेश की। उसने अपनी बारात बैलगाड़ी पर निकाली। लगभग तीन किलो मीटर का सफर बैलगाड़़ी पर ही तय किया।

बैतूल के चिचोली विकास खंड का आदिवासी बाहुल्य गांव असाढ़ी है। यहां के डॉ. राजा धुर्वे की शादी थी, उन्होंने आदिवासी समाज की परंपरा और शादी सादगी से करने का फैसला लिया और बारात बैलगाड़ी से निकाली। इसके लिए बैलगाड़ी को आकर्षक रुप दिया। इस बैलगाड़ी की चमक के आगे लग्जरी कार और बग्घियां भी फीकी दिखाई दीं। डॉ राजा पेशे से एमबीबीएस डॉक्टर, शिक्षक और मोटिवेशनल स्पीकर हैं।

इस मौके पर राजा धुर्वे का कहना था कि अपने सामाजिक, सांस्कृतिक मूल्यों को सहेजने और लोगों को महंगाई के दौर में सादा जीवन-उच्च विचार सिखाने का इससे अच्छा मौका नहीं हो सकता था। उनके मुताबिक महंगाई के इस दौर में बैलगाड़ी सबसे सस्ता सुलभ और प्रदूषणमुक्त साधन है। बैलगाड़ी ग्रामीण सभ्यता संस्कृति की पहचान है। इसलिए अपनी संस्कृति को पुनर्जीवित करने के लिए उन्होंने बैलगाड़ी पर बारात ले जाने का फैसला किया।

इस अनूठी बारात में बैलगाड़ी को खास जनजातीय, लोक-कलाओं से सजाया गया था। दूल्हे की बैलगाड़ी के पीछे चार बैलगाडियां में बच्चों और महिलाओं को बैठाया गया। बारात में जनजातीय लोक नृत्य और लोक वाद्य शामिल किए गए थे, जो आमतौर पर किसी शादी में देखने को नहीं मिलते। ग्राम असाढ़ी से बैलगाड़ी में निकले दूल्हे राजा जब तीन किलोमीटर दूर दूधिया गांव में अपनी दुल्हन को लेने पहुंचे तो लोग झूम उठे।

श्री गुरु तेग बहादुर जी का 400वां प्रकाश पर्व समारोह, भाग लेंगे प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री 21 अप्रैल को लाल किले में श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व समारोह में भाग लेंगे

नई दिल्ली (PIB)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21 अप्रैल 2022 को रात लगभग 9:15 बजे नई दिल्ली के लाल किले में श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व समारोह में भाग लेंगे। इस अवसर पर, प्रधानमंत्री उपस्थित जनसमूह को संबोधित करेंगे और एक स्मारक सिक्का तथा डाक टिकट भी जारी करेंगे।

इस कार्यक्रम का आयोजन भारत सरकार द्वारा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सहयोग से किया जा रहा है। इस दो-दिवसीय (20 और 21 अप्रैल) कार्यक्रम के दौरान, देश के विभिन्न हिस्सों से रागी और बच्चे ‘शब्द कीर्तन’ में भाग लेंगे। गुरु तेग बहादुर जी के जीवन को दर्शाने वाला एक भव्य लाइट एंड साउंड शो भी होगा। इसके अलावा सिखों की पारंपरिक मार्शल आर्ट ‘गतका’ का भी आयोजन किया जाएगा।

यह कार्यक्रम नौवें सिख गुरु, गुरु तेग बहादुर जी के उपदेशों को रेखांकित करने पर केंद्रित है। गुरु तेग बहादुर जी ने विश्व इतिहास में धर्म एवं मानवीय मूल्यों, आदर्शों और सिद्धांतों की रक्षा के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया। उन्हें मुगल शासक औरंगजेब के आदेश पर कश्मीरी पंडितों की धार्मिक स्वतंत्रता का समर्थन करने के लिए मार डाला गया था। उनकी पुण्यतिथि 24 नवंबर हर साल शहीदी दिवस के रूप में मनाई जाती है। दिल्ली में गुरुद्वारा सीस गंज साहिब और गुरुद्वारा रकाब गंज उनके पवित्र बलिदान से जुड़े हैं। उनकी विरासत इस राष्ट्र के लिए एकजुटता की एक महान शक्ति के रूप में कार्य करती है।

अक्षरा ने किया बास्टा का नाम रौशन

बिजनौर हिमालयन एकेडमी अकौन्था (बास्टा) की छात्रा कु0 अक्षरा ने कक्षा छह की सालाना परीक्षा में 91% अंक प्राप्त कर अपने कस्बे और परिवार का गौरव बढ़ाया है। अक्षरा ने विद्यालय में तॄतीय स्थान प्राप्त कर बास्टा कस्बे का नाम रौशन किया है। वह वरिष्ठ पत्रकार अलीशेर शाह की भतीजी हैं। उनकी इस उपलब्धि पर पारिवारिक मित्रों, नाते-रिश्तेदारों, समाजसेवियों, पत्रकारों ने उज्ज्वल भविष्य का आशीर्वाद दिया है।

न्यू एरा अकैडमी में वार्षिकोत्सव व परीक्षा फल का वितरण

बिजनौर। नजीबाबाद के न्यू एरा अकैडमी में वार्षिकोत्सव मनाते हुए परीक्षा फल का वितरण किया गया। सभी सफलता प्राप्त विद्यार्थियों ने परीक्षा परिणाम प्राप्त कर खुशी मनाई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि वरिष्ठ भाजपा नेता चौधरी ईशम सिंह ने कहा कि समाज में शिक्षा का महत्वपूर्ण स्थान है।

न्यू एरा अकैडमी लाहक कला में विद्यालय का वार्षिकोत्सव एवं परीक्षा फल का वितरण किया गया। सभी सफलता प्राप्त विद्यार्थियों ने परीक्षा परिणाम प्राप्त कर खुशी मनाई।

विद्यालय के वार्षिकोत्सव में विद्यालय के नन्हे मुन्ने बच्चों ने कई सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि वरिष्ठ भाजपा नेता चौधरी ईशम सिंह ने मां सरस्वती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने विद्यालय के छात्र छात्राओं सब स्टाफ एवं छात्र-छात्राओं के अभिभावकों को संबोधित करते हुए कहा कि समाज में शिक्षा का महत्वपूर्ण स्थान है। शिक्षित व्यक्ति अपने जीवन में जो कार्य भी करता है, उसकी अलग पहचान होती है। उन्होंने सभी अभिभावकों से अपने अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने की अपील की।

इस अवसर पर साबिर अहमद, शाहबपुरा उमराव से इरशाद अहमद ठेकेदार, डा शमशेर खान लाहक कला,
वीरेंदर सिंह, महिपाल सिंह चौहान, हामिद खान पूर्व प्रधान, उस्मान भाई,सुशील कुमार, सुधीर कुमार, राकेश कुमार, शिवम कुमार इत्यादि छात्र कक्षा 1 में मौ फ़ैज़, 2 में रफिया, कक्षा 3 आहिल, कक्षा 4 में कार्तिक कुमार, कक्षा 5 में अक्षित कुमार इत्यादि छात्रों ने अपनी अपनी कक्षाओं में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि चौधरी इसम सिंह, नादिर हसन, अश्वनी कुमार आदि ने सभी छात्र छात्राओं को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर अज़हर हसन अध्यक्ष, अज़रा मैनेजर, स्टाफ श्रवण कुमार, प्रिंसिपल शालिनी चौहान, वाईस प्रिंसिपल हुमेरा, निशा, इरम, फ़िज़ा, आयशा, फरहाना
विनीता इत्यादि उपस्थित रहे।

जाट बाल विद्यालय का वार्षिक परीक्षाफल घोषित

बिजनौर। मोहल्ला जाटान स्थित जाट बाल विद्यालय का वार्षिक परीक्षाफल घोषित किया गया।

इसमें कक्षा 5 में छवि नैना, बॉबी प्रथम, नितिका द्वितीय तथा मुक्ता तृतीय रहे।कक्षा 4 में निहारिका, भूपेंद्र व शगुन, कक्षा 3 में पायल, वंशिका व प्रिंस, कक्षा 2 में जीत, वंशिका व लक्ष्य तथा कक्षा 1 में लक्ष्य, मयंक व प्रिंस क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर रहे।

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अनिल विश्नोई द्वारा बच्चों को पुरस्कार वितरित करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की गई।

इस अवसर पर प्रबंधक राजेंद्र सिंह, प्रधानाचार्य सुनीता सिंह, अध्यापिका अंजली चौधरी, अनिता सैनी, मोनिका चौधरी और गीता आदि उपस्थित रहे।

वैभव अग्रवाल बने आईवीएफ के जिला महामंत्री


बिजनौर। अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महासम्मेलन (उत्तर प्रदेश) के प्रदेश उपाध्यक्ष गौरव अग्रवाल एडवोकेट की संस्तुति पर अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महा सम्मेलन (जनपद बिजनौर) के जिला अध्यक्ष अभिनव अग्रवाल एडवोकेट द्वारा स्थानीय वैभव अग्रवाल को जनपद बिजनौर का जिला महामंत्री मनोनीत किया गया है। उनसे आशा व्यक्त की गई है कि वह संगठन को एक नयी दिशा व मजबूती प्रदान करेंगे। आईवीएफ जिलाध्यक्ष अभिनव अग्रवाल एडवोकेट ने नव मनोनित जिला महामंत्री वैभव अग्रवाल से आशा की है कि वह वैश्य समाज की परम्परा को आगे बढाते हुए समाज में फैली कुरीतियों के उन्मूलन व रचनात्मक कार्यो के प्रति समर्पित रहेंगे।

नवरेह मनाने 2 अप्रैल को घाटी पहुंचेंगे कश्मीरी पंडित

नई दिल्ली। कश्मीरी पंडित नवरेह मनाने 2 अप्रैल को घाटी पहुंचेंगे। द कश्मीर फाइल्स में कश्मीरी पंडितों के विस्थापन का दर्द सामने आने के बाद इस बार नए साल यानी नवरेह पर घाटी में पंडितों की वापसी की आवाज बुलंद होगी। देशभर से कश्मीरी पंडित नवरेह मनाने 2 अप्रैल को घाटी पहुंचेंगे।
जम्मू से भी बस के जरिये कश्मीरी पंडित घाटी में जाकर हरि पर्वत पर मां शारिका मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ ही पंडितों की वापसी की कामना करेंगे। सार्वजनिक समारोह कर वापसी के लिए अनुकूल माहौल बनाने के प्रयास होंगे, जिसमें सभी धर्मों व संप्रदाय के लोग शामिल होंगे। भाजपा नेता डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी व शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी भी इस मौके की साक्षी होंगी।
जेके पीस फोरम की ओर से देशभर के कश्मीरी पंडितों को नवरेह पर दो अप्रैल को कश्मीर में जुटाने की तैयारियां की गई हैं। इसके तहत शारिका मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ ही शेर-ए कश्मीर पार्क में नवरेह मिलन कार्यक्रम होगा। घाटी में भाईचारे को बढ़ावा देने के साथ ही पंडितों की सम्मानजनक वापसी की आवाज बुलंद की जाएगी।
कार्यक्रम का उद्देश्य 30 साल के विस्थापन के बीच धार्मिक-सांस्कृतिक रीति-रिवाजों से नई पीढ़ी को अवगत कराना और दहशत में घर-बार छोड़ने के लिए मजबूर लोगों के लिए सुरक्षा व आत्म सम्मान की भावना जगाना है। फोरम के चेयरमैन सतीश महालदार ने बताया कि इस बार कोशिश है कि सभी धर्मों के लोगों को एक मंच पर लाकर पंडितों की वापसी का माहौल बनाया जाए। इसके लिए अंतर समुदाय सांस्कृतिक महोत्सव भी कराया जा रहा है। कोशिश होगी कि सभी लोग एक-दूसरे की भावनाओं को समझें व सभी के प्रति सम्मान का भाव जगे। विस्थापन का दर्द झेल रहे पंडितों को सम्मान मिले।
सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत भी नवरेह पर इस बार ऑनलाइन संबोधित करेंगे। संजीवनी शारदा केंद्र जम्मू के माध्यम से इस कार्यक्रम का आयोजन तीन अप्रैल को होगा। सर संघचालक पिछले साल संबोधन करने वाले थे, लेकिन अस्वस्थ होने की वजह से यह संभव नहीं हो पाया था।

प्रख्यात ग़ज़लकार दुष्यंत कुमार के नाम से जाना जाएगा बिजनौर पुस्तकालय एवं सांस्कृतिक केंद्र

मंडलायुक्त ने किया पुस्तकालय, सांस्कृतिक केंद्र में नवनिर्मित लाइब्रेरी कक्ष, पुराने लाइब्रेरी कक्ष का जीर्णोद्धार

बिजनौर। अब बिजनौर पुस्तकालय एवं सांस्कृतिक केंद्र को देश के मशहूर कवि हिंदी के पहले गजलकार दुष्यंत कुमार के नाम से जाना जाएगा। मंडलायुक्त ने नवनिर्मित लाइब्रेरी कक्ष, पुराने लाइब्रेरी कक्ष का जीर्णोद्धार किया। काफी समय से जिले के लोग दुष्यंत कुमार के नाम पर पुस्तकालय की मांग कर रहे थे।

मुरादाबाद के मंडलायुक्त आन्जनेय कुमार सिंह ने सीतापुर नेत्र चिकित्सालय परिसर स्थित गजलकार दुष्यंत कुमार पुस्तकालय एवं सांस्कृतिक केंद्र का लोकार्पण किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इंटरनेट के दौर में भी किताबों की अहमियत बरकरार है। उन्होंने कहा, बिजनौर की धरती पौराणिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, एतिहासिक रूप से बहुत मूल्यवान है। यह केंद्र इस विरासत को संवारने में उपयोगी सिद्ध होगा। डीएम को निर्देशित किया कि वह इस पुस्तकालय को साहित्यिक, सांस्कृतिक और सामाजिक केंद्र के रूप में विकसित करें, ताकि बिजनौर शहर और आसपास क्षेत्रों के युवा लाभान्वित हो सकें। उन्होंने डीएम उमेश मिश्रा एवं एसडीएम सदर विक्रमादित्य मलिक के प्रयासों की सराहना की। डीएम ने कहा कि इस पुस्तकालय का निर्माण अकौर विकास जनसहयोग से हुआ है। इसके निर्माण का उद्देश्य स्थानीय युवाओं की प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए पर्याप्त पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराना है। एसडीएम सदर विक्रमादित्य मलिक ने कहा कि कई स्थानों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का प्रयास जारी है। जनपद की साहित्यिक, पौराणिक, सांस्कृतिक, एतिहासिक और प्राचीन ध रोहरों को सहेजने, लिपिबद्ध करने और उनके लिए संग्रहालय बनाने का काम भी चल रहा है। सीडीओ केपी सिंह, तहसीलदार सदर प्रीति सिंह, सूर्यमणि रघुवंशी, अनिल चौधरी, नवीन किशोर, खान जफर सुल्तान, डा. राहुल बिश्नोई, तौसिफ अहमद, शकील बिजनौरी आदि मौजूद रहे।

गौरतलब है कि बिजनौर जिले के राजपुर नवादा गांव के रहने वाले देश के मशहूर कवि, हिंदी के पहले गजलकार दुष्यंत कुमार के नाम पर बिजनौर पुस्तकालय का नाम रखा गया है। बहुत दिनों से जिले के लोग मांग कर रहे थे कि दुष्यंत कुमार के नाम पर पुस्तकालय होना चाहिए।

कविता इंसान को सिर्फ जिंदा नहीं रखती, जवान भी रखती है: डॉ. पंकज भारद्वाज

ग्रीन लाइट सीनियर सेंकेडरी पब्लिक स्कूल में हुआ काव्य गोष्ठी का आयोजन। गोष्ठी में कवियों ने प्रस्तुत की रचनाएं। मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए सांध्य हिंदी दैनिक पब्लिक इमोशन के संपादक डॉ. पंकज भारद्वाज।

बिजनौर। साहित्य संगम के तत्वावधान में ग्रीन लाइट सीनियर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल अभिभुरा मंडावली में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया।

मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार डॉ. पंकज भारद्वाज ने कहा कि कविता इंसान को सिर्फ जिंदा नहीं रखती बल्कि जवान रखती है। उन्होंने कहा कि कविता के जरिए मौहब्बत एवं पीड़ा को व्यक्त किया जा सकता है किंतु नफरत बांटने का जरिया कविता को नहीं बनाया जा सकता। संयोजक रविंद्र कुमार और संरक्षक कर्मवीर सिंह के सानिध्य में हुई गोष्ठी की अध्यक्षता श्याम प्रकाश तिवारी व संचालन जितेंद्र सिंह कक्कड़ ने किया।

कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि द्वारा माता सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवल एवं माल्यार्पण से हुआ। इसके बाद संरक्षक कर्मवीर सिंह ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। तत्पश्चात काव्य गोष्ठी में कुमुद कुमार ने कहा- शौर्य के पन्नों पर लिखा हमनें इतिहास भारत का; शस्त्र और शास्त्र से सजाया हमनें इतिहास भारत का।

वरिष्ठ कवि प्रदीप डेजी ने कहा-अपने आंसू पीते पीते हम प्यास बुझाना भूल गए; थोड़े से बस क्या बड़े हुए हम वक्त पुराना भूल गए। जितेंद्र कक्कड़ ने कहा- दर्द जमाने का सह लेते तो सफर कैसा होता; हम तो पी लेते पर आशियाने का क्या होता। राजेंद्र त्यागी ने कहा नफरतों को मेरे दोस्त दिल से हटा; दु:ख को मैं तेरे तू मेरे दु:ख को बंटा। संत भगीरथ सिंह ने कहा- नफरतों की आग को दिल से बुझाने आ गया हूं। डा. प्रमोद शर्मा प्रेम ने कहा- सारी नफरत जहाँ से हटा दीजिये; कोई रूठे अगर फिर मना लीजिए। अशोक सविता ने कहा- भावनाओं को लहूलुहान करना पड़ता है। मनोज कुमार मानव ने कहा – लाया पुत्र विशेष था जाकर बसा विदेश; घर पर सेवा कर रहा नालायक अवशेष। बेगराज यादव ने कहा- मेरे अपने अपने से नहीं लगते; मिलते हैं होली लेकिन दिल से नहीं मिलते। जयपाल रसिक ने कहा- कौन कहता है चार दिन चांदनी फिर अंधेरी रात है। मैं मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूंगा। गमगीन साबिर ने कहा- पहले नफरत की दीवार गिराई जाए फिर होली और ईद मनाई जाए। रंग बिरंगी बहुरंगी सतरंगी छटा सजाई है। यह कौन है तेरा जिसने सुंदर तस्वीर बनाई है।

गोष्ठी में कर्मवीर सिंह, रविंद्र काकरण आदि ने भी रचनाएं प्रस्तुत कर वाहवाही लूटी। बालक अंश प्रताप ने शिव तांडव सुनाकर सभी का अशीर्वाद प्राप्त किया। अशोक कुमार अग्रवाल ने सभी कवियों की रचनाओं पर समीक्षा की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्याम प्रकाश तिवारी ने सभी कवियों के प्रति अपना आभार प्रकट किया। साथ ही सभी कवियों के काव्य पर अपना विचार प्रकट कर संबोधित किया। अंत में मुख्य अतिथि पंकज भारद्वाज, कार्यक्रम अध्यक्ष श्याम प्रकाश तिवारी व संचालन कर रहे जितेंद्र कक्कड़ को शाल और प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

पूजा पाठ करें, गाड़ियों में लगाएं बीजेपी का झंडा

25 मार्च को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ समेत कई मंत्री लखनऊ के अटल बिहारी बाजपेयी इकाना स्‍टेडियम में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में प्रचंड जीत के बाद 25 मार्च को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ समेत कई मंत्री लखनऊ के अटल बिहारी बाजपेयी इकाना स्‍टेडियम में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोरशोर से चल रही हैं। इस बीच पार्टी ने कार्यकर्ताओं के लिए कुछ दिशा निर्देश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि शपथ ग्रहण समारोह वाले दिने कार्यकर्ता पूरे राज्‍य में पूजा-पाठ करें। समारोह में आने वाले कार्यकर्ताओं से अपनी गाड़ियों में पार्टी का झंडा लगाकर आने को कहा गया है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ल ने इस संबंध में 12 सूत्रीय निर्देश जारी किए हैं।

12 सूत्री निर्देश जारी 

1-प्रदेश के सभी जिलों के प्रत्‍येक मंडल और शक्ति केंद्र तक के कार्यकर्ता आएं। 
2-जिलाध्‍यक्ष कार्यकर्ताओं की सूची बनाकर संख्‍या सूचना सुनिश्चित करें। 
3-आवश्‍यकता हो तो आने-जाने के लिए वाहन की व्‍यवस्‍था विधायक, सांसद और संगठन के द्वारा की जाए। अपने व्‍यक्तिगत वाहनों से भी लोग आएं। 
4-हर क्षेत्र से दो कार्यकर्ता एक दिन पहले 24 मार्च को ही भेज दें। 
5-जिले के जनप्रतिनिधियों, सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्‍यक्ष, महापौर, चेयरमैन और अन्‍य प्रमुखों की सूची की अलग से सूचना करें। 
6-सभी आने वाले लोगों के लिए आमंत्रण पत्र/ प्रवेश पत्र की व्‍यवस्‍था की जाएगी। इसको जिलों से ही देकर भेजना है। 
7-अपनी गाड़ियों में लोग झंडा लगाकर आएं। 
8-प्रत्‍येक जिले के प्रमुख चौराहों, बाजारों में होर्डिंग लगाने और साज-सज्‍जा की व्‍यवस्‍था करें। 
9-शपथ ग्रहण समारोह में आने से पहले सुबह 8:10 बजे शक्ति केंद्र स्‍तर पर कार्यकर्ता मंदिरों में लोककल्‍याण के लिए पूजन का कार्यक्रम तय करें और सम्‍पन्‍न कराएं। 
10-जिले में सामाजिग वर्ग के प्रमुख नेताओं सहित समाजसेवी, लेखक-साहित्‍यकार, प्रोफेशनल, डॉक्‍टर, इंजीनियर, धार्मिक, मठ-मंदिरों के साधू-संतों की सूची बनाकर उन्‍हें भी शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित करना है। 
11-विस्‍तारक और प्रवासी कार्यकर्ता को शपथ ग्रहण समारोह की सूचना प्रदेश से दी जाएगी। 
12-किसी अन्‍य जानकारी के लिए अपने क्षेत्रीय प्रभारी या क्षेत्रीय अध्‍यक्ष से बात करें। 

प्रचंड बहुमत से जीती है बीजेपी
यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा की जीत प्रचंड बहुमत से हुई है। भाजपा गठबंधन ने कुल 273 सीटें पाई हैं। इनमें से 255 सीटें अकेले भाजपा ने जीती हैं। अपना दल (सोनेलाल पटेल) को 12 सीट, निषाद पार्टी को छह सीट मिली हैं। वहीं सपा गठबंधन ने 125 सीट जीती हैं। इनमें से सपा को 11, राष्‍ट्रीय लोकदल को आठ और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को छह सीट मिली हैं। बसपा को सिर्फ एक सीट पर संतोष करना पड़ा है। कांग्रेस को दो सीट और अन्‍य के खाते में दो सीट गई हैं। 

बुल्डोजर बाबा को गिफ्ट में मिला चांदी का बुल्डोजर

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश की खराब पड़ी कानून-व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिस बुलडोजर का उपयोग किया आज वह उसी के ब्रांड अम्बेसडर बन गए हैं।

आमतौर पर नेताओं को लोग सार्वजनिक कार्यक्रम में स्मृतिका के रूप में देवी देवताओं की मूर्तियां या फिर गदा, तलवार, धनुष-बाण देते हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उपहार में चांदी का बुलडोजर मिला है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीते तीन दिन से अपनी कर्मस्थली गोरखपुर में थे। होलिका दहन के साथ ही होली में रंग खेलने के बेहद इच्छुक सीएम योगी आदित्यनाथ ने तीन दिन के गोरखपुर प्रवास में हजारों लोगों से भेंट की। इसी बीच उनको गोरखपुर के व्यापारियों ने जो उपहार दिया, उसको तो देखते ही उनके चेहरे पर मुस्कान फैल गई। उत्तर प्रदेश के साथ ही देश में भी बुलडोजर बाबा के नाम से विख्यात हो चुके सीएम आदित्यनाथ के बुलडोजर ने जातीय समीकरण ध्वस्त कर दिए। योगी आदित्यनाथ को अपने ही शहर में चांदी का बुलडोजर उपहार में मिला है। गोरखपुर मंडल में जनता ने भारतीय जनता पार्टी सरकार की योजनाओं को सराहा है, इस कारण राशन से शासन का रास्ता साफ हो पाया। भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई में शानदार जीत दर्ज की। मोदी-योगी की डबल इंजन की सरकार का जादू मतदाताओं के सिर चढ़कर बोला है।

माफिया के खिलाफ चला बुलडोजर- उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री बनने के साथ ही योगी आदित्यनाथ ने अपराधियों और माफिया के खिलाफ एक मुहीम छेड़ दी थी। माफिया और उनके गुर्गों को जेल तो भेजा ही गया, साथ ही उनके अवैध संपत्तियों पर जमकर बुलडोजर चला। विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा ने प्रदेश की कानून-व्यवस्था को ही विपक्ष के खिलाफ अपना सबसे बड़ा हथियार बना लिया। इसी दौरान माफिया पर बुलडोजर चलाने का स्लोगन हर जनसभाओं में गूंजने लगा। (साभार)

DRDO ने 45 दिन में खड़ी कर दी 7 मंजिला इमारत

बेंगलुरु (एजेंसी)। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान (DRDO) ने कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में 45 दिन में ही 7 मंजिला इमारत बनाकर खड़ी कर दी है। इसका उद्घाटन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया। इस मौके पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और डीआरडीओ चीफ जी सतीश रेड्डी भी मौजूद रहे।

इस बिल्डिंग का इस्तेमाल 5वीं पीढ़ी के एडवांस मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (AMCA) के रिसर्च एंड डेवेलपमेंट फैसिलिटी के तौर पर किया जाएगा। बेंगलुरु स्थित एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एस्टैब्लिशमेंट इस बिल्डिंग में एयरक्राफ्ट फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम के लिए एवियोनिक्स का विकास करेगा। रक्षा मंत्री के सामने इससे जुड़े प्रोजेक्ट्स का एक प्रेजेंटेशन भी दिया गया। एक अधिकारी ने बताया कि डीआरडीओ ने एडीई, बेंगलुरु में हाइब्रिड टेक्नोलॉजी के जरिए एक बहु-मंजिली बिल्डिंग का निर्माण रिकॉर्ड 45 दिन में पूरा किया। इस बिल्डिंग में एडवांस मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एएमसीए) प्रोजेक्ट के तहत फाइटर जेट्स और एयरक्राफ्ट फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम (एफसीएस) के लिए एवियोनिक्स डेवलमेंट की सुविधा होगी।

उत्साह और साम्प्रदायिक सौहार्द्र के साथ मनाई जाएगी होली- डीएम


जिला प्रशासन द्वारा साम्प्रदयिक रूप से संवेदनशील चिन्हित स्थानों पर विशेष रूप से निगरानी की व्यवस्था की गई है ताकि किसी भी स्तर पर कोई अप्रिय घटना घटित न होने पाए, रंगों का त्यौहार होली जिले में पूरे उत्साह और साम्प्रदायिक सौहार्द के साथ मनाए जाने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह सजग और प्रतिबद्व- जिलाधिकारी उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि आगामी रंगों का त्योहार होली जिले में पूरे उत्साह और साम्प्रदायिक सौहार्द के साथ मनाया जाएगा, जिसके लिए जिला प्रशासन पूरी तरह सजग और तत्पर है। उन्होंने सभी जन सामान्य का आह्वान किया कि किसी भी अवस्था में ऐसा कोई कार्य न करें जिससे साम्प्रदायिक वातावरण को आंच आए। उन्होंने सचेत करते हुए कहा कि जिला प्रशासन हर स्थिति पर पैनी निगाह रखे हुए है और साम्प्रदयिक रूप से संवेदनशील स्थानों का चिन्हिकरण कर वहां विशेष रूप से निगरानी की व्यवस्था की गई है ताकि किसी भी स्तर पर कोई अप्रिय घटना घटित न होने पाए। उन्होंने उप जिलाधिकारियों एवं क्षेत्राधिकारी पुलिस को निर्देश दिए कि जिन रास्तों पर धार्मिक स्थल मौजूद हैं, वहां होली के जलूस पर विशेष सतर्कता और सजगता रखी जाए और प्रयास किया जाए कि नमाज के समय जलूस का गुजर न हो। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि प्रत्येक तहसील एवं थाना स्तर पर अमन कमेटियों की मीटिंग आयोजित कर जन सामान्य को पूर्ण साम्प्रदायिक सौहार्द के साथ होली के त्यौहार को सम्पन्न कराने में सहयोग के लिए आहवान करें।


जिलाधिकारी श्री मिश्रा विकास भवन के सभागार में शांति व्यवस्था की बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को होली के पावन पर्व को शांतिपूर्वक सम्पन्न कराने के लिए निर्देश दे रहे थे।
उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि जिला प्रशासन ने सौहार्दपूर्ण और शांतिपूर्ण वातावरण में होली त्योहार को सम्पन्न कराने के लिए पूर्व की तरह सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। उन्होंने अपेक्षा करते हुए कहा कि यह पावन त्योहार पूर्ण संयम, समन्वय एवं आम नागरिकों की भावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए मनाया जाएगा और ऐसा कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया जाएगा जिससे दुसरे सम्प्रदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचे। उन्होंने बताया कि सभी नगर पालिका एवं नगर पंचायतों को विशेष सफाई, प्रकाश एवं पानी की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। जिले में साम्प्रदाकि सौहार्द के वातावरण को किसी भी अवस्था में दूषित नहीं होने दिया जाएगा। कोई भी व्यक्ति धार्मिक रूप से कोई अपशब्द, भड़काऊ भाषण अथवा धार्मिक उन्माद फैलाने जैसे किसी भी कार्य का दुस्साहस न करे और न ही सोशल मीडिया आदि पर किसी भी प्रकार की आपत्तिजनक टिप्पणी या पोस्ट की जाए, जिससे शांति एंव कानून व्यवस्था की स्थिति पर कोई आंच आए। जिले में शांति एवं कानून व्यवस्था की स्थिति से खिलवाड़ करने वाले तत्वों पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।


जिलाधिकारी ने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि होली के अवसर पर विक्रय होने वाले खाद्य पदार्थों पर विशेष ध्यान रखते हुए नियमानुसार चैकिंग करें और सामग्री के सिन्थेटिक अथवा दूषित पाए जाने पर दोषी के विरूद्व कड़ी कार्यवाही करें। उन्होंने सभी उप जिलाधिकारी एवं क्षेत्राधिकारी पुलिस को निर्देश दिये कि थाना स्तरीय त्योहार रजिस्टरों का गहनता के साथ अध्ययन कर लें और तहसील एवं थाना स्तर पर शांति मीटिंग का आयोजन करना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर विशेष सर्तकता बरती जाए और असामाजिक तत्वों पर कड़ी निगाह रखें ताकि किसी भी स्तर पर कोई अप्रिय घटना घटित न होने पाए। उन्होंने होली के अवसर पर सभी नगर निकाय क्षेत्रों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष सफाई अभियान चलाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक डा0 धर्मवीर सिंह, मुख्य विकास अधिकारी केपी सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार सिंह, वि/रा अरविंद कुमार सिंह के अलावा अन्य प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी मौजूद थे।

प्रदेश में भाजपा की जीत विकास और सच्चाई की जीत है- चौधरी ईशम सिंह

नजीबाबाद (बिजनौर)। भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश में प्रचंड जीत और बुलडोजर बाबा के नाम से मशहूर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में पुनः सरकार बनने पर क्षेत्रवासियों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर जीत का जश्न भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित मोर्चा की जिला मंत्री गायत्री निराला के आवास पर पहुंचकर मनाया।

सभी ने रंग गुलाल एवं फूलों की होली खेली। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता चौधरी ईशम सिंह ने सभी कार्यकर्ताओं, समर्थकों का आभार प्रकट किया और कहा कि यह जीत हम सब की जीत है आम जनमानस की जीत है गरीब मजदूर की किसान की व्यापारी की महिलाओं की शोषित की वंचितों की जीत है। भारतीय जनता पार्टी कभी भी संप्रदायवाद जातिवाद की राजनीति नहीं करती है। भारतीय जनता पार्टी सिर्फ विकास की राजनीति करती है और यही बात विपक्ष को अच्छी नहीं लगती चौधरी ईशम सिंह ने कहा कि आज महिलाएं अगर अपने आप को सुरक्षित महसूस करती हैं यह उनकी जीत है आने वाले समय में और भी अच्छे विकास के कार्य होने वाले हैं। जातिवाद को खत्म करना हमारा मुख्य उद्देश्य है। राष्ट्र के लिए और अपने धर्म के लिए हम सब एकजुट होकर रहें, यही हमारी जीत का मुख्य उद्देश्य होगा। हमने या हमारी पार्टी ने कभी भी किसी को सताने का कार्य नहीं किया है। वहीं विपक्ष जाति की राजनीति करता है एक दूसरे को बांटने का प्रयास करते हैं। अब जनता समझ चुकी है क्षेत्र का विकास प्रदेश का विकास और राष्ट्र का विकास सिर्फ भारतीय जनता पार्टी ही कर सकती है। इसलिए पूरे देश की जनता आज कंधे से कंधा मिलाकर भारतीय जनता पार्टी को सपोर्ट कर रही है और प्रदेश ही नहीं आने वाले 2024 के चुनाव में भी जनता जनार्दन के माध्यम से फिर से केंद्र नरेंद्र मोदी की सरकार बनेगी।

इस अवसर भाजपा के वरिष्ठ नेता चौधरी ईशम सिंह, भाजपा पिछड़ा मोर्चा के पूर्व जिला मंत्री रितेश सैन, नामित सभासद दीपक बाल्मीकि, अरविंद विश्वकर्मा, रणवीर सिंह निराला, गायत्री निराला, दीपक कर्णवाल, सीमा कर्णवाल, मनीषा सैनी, मंडल अध्यक्ष भाजपा पिछड़ा मोर्चा नरेश सैनी, करुण पाल, कोमल सिंह हल्दिया, हितेंद्र कुमार, वरिष्ठ कार्यकर्ता भगवानदास पाल, अभिषेक पंडित ,मनोज पाल, प्रमोद पाल, विपिन सैनी, मनदीप धस्माना, बंटू शर्मा, अजीत कुमार आदि मौजूद रहे।

नारी शक्ति संगठन ने दीं योगी को अग्रिम शुभकामनाएं

बिजनौर। नारी शक्ति संगठन ने महिला दिवस का कार्यक्रम बड़ी धूम-धाम से मनाया। इस अवसर पर योगी आदित्यनाथ के चित्र का राजतिलक करके उत्तर प्रदेश में दुबारा मुख्यमंत्री पद पर नियुक्ति की अग्रिम शुभकामनाएं दीं गईं।

कार्यक्रम का आयोजन नारी शक्ति संगठन की अध्यक्ष पूनम गोयल के ज्ञान विहार कॉलोनी स्थित निवास स्थान पर किया गया। इस अवसर पर संगठन की बहनों ने योगी आदित्यनाथ के चित्र का राजतिलक करके उत्तर प्रदेश में दुबारा मुख्यमंत्री पद पर नियुक्ति की अग्रिम शुभकामनाएं दीं। वहीं एक दूसरे को मिष्ठान खिलाकर भजन, चुटकुले, कविता, गीत आदि की प्रस्तुति की। संगठन की अध्यक्ष पूनम गोयल ने कहा कि आज नारी सामाजिक, राजनैतिक,आर्थिक, धार्मिक व सांस्कृतिक; किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। नारी अबला नहीं है,सबला बन चुकी है।

इस अवसर पर पूनम गोयल, नीता गुप्ता, मानदेवी शर्मा, सुषमा अग्रवाल, रामकौर, मुनेश गौतम,  मधु भूषण, संगीता शर्मा, रेखा पाल, कल्पना शर्मा, ममता, शशि बाला शर्मा, बीना त्यागी, मृदुला, नीलम, मंजू चौधरी, भावना चौधरी, मोनिका चौधरी, नीलम, कविता, सुमन, राखी चौधरी आदि उपस्थित रहीं।

नगर कल्याण समिति ने बताया महिला दिवस का सार

बिजनौर। राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर नगर कल्याण समिति की इकाई राष्ट्र सेवा समिति द्वारा एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता विद्यालय की उप प्रधानाचार्या श्रीमती रेखा ने की। कार्यक्रम का संचालन समिति की अध्यक्ष श्रीमती राजुल त्यागी ने किया।

कार्यक्रम की संयोजिका श्रीमती छवि कौशल ने, नारी शक्ति महान है; गीत प्रस्तुत कर के कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। उसके उपरान्त वक्ताओं ने नारी सशक्तिकरण पर विभिन्न प्रकार के सुविचार प्रस्तुत किये। डॉ. मंजुला कुमार ने महिला दिवस मनाए जाने के विषय में विस्तार से बताया। श्रीमती मंजू गुप्ता ने बताया कि घर परिवार में रहकर भी एक महिला समाज की  नींव मजबूत कर सकती है। रश्मि गुप्ता ने बताया कि अब महिलाओं को भी शिक्षा रूपी पंख लग चुके हैं। डा. रंजना राजपूत ने महिलाओं की शैक्षिक स्थिति में आए सुधार के विषय में बताया। रचना खन्ना ने बताया कि महिला के पूर्ण विकास में सबसे महत्वपूर्ण रोल महिला की माँ का ही होता है। मनुश्री अशोक निर्दोष ने महिला सशक्तिकरण पर कविता का सुन्दर का पाठ किया।

इस अवसर पर समिति की ओर से समाज सेविका श्रीमती ऊषा चौधरी, पुष्पा, अनीता चौधरी, नीरा अग्रवाल, डॉ.नीता सिंह, डा. मीना बक्शी व राजीव अग्रवाल उपस्थित रहे।

सेवा के संकल्प संग जुटे हुए हैं समाजसेवी विवेक सेन

बिजनौर। संकल्प सेवा समिति की स्थापना वर्ष 2018 में धामपुर के फूलबाग कॉलोनी निवासी समाजसेवी विवेक सेन ने की थी। उनके साथ इस संस्था में जावेद अंसारी, शिवम कुमार, विपुल चौधरी, वैभव चौहान, अर्जुन सिंह, सुखवीर सिंह सहित कुछ अन्य युवा हैं। इन सभी के माध्यम से करीब 70 अन्य युवा अप्रत्यक्ष रूप से इस संस्था से जुड़े हैं। विवेक बताते हैं कि वैसे तो उनकी संस्था का प्रमुख कार्य समाजसेवा करना है लेकिन उन्होंने फेसबुक पर एक पेज बनाया हुआ है। इस पेज से करीब 24 हजार लोग जुड़े हैं। जब किसी को खून की आवश्यकता होती है वे फेसबुक पर मैसेज लिख देते हैं और संस्था से जुड़ा कोई भी युवा खून देने पहुंच जाता है। विवेक बताते हैं कि उनकी संस्था से बिजनौर के अलावा मुरादाबाद में भी कई युवा जड़े हैं।

उनके साथ जुड़े युवा खाद्य सामग्री एकत्रित करने के लिए खुद ही पैसा एकत्रित करते हैं, लेकिन इस सब नेक कार्य में विवेक की मां उर्मिला देवी इस  बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं। विवेक बताते हैं कि मां ने लॉक डाउन में जगह-जगह फंसे गरीबों और अन्य लोगों के लिए सुबह-शाम खाना तैयार करना शुरू कर दिया। करीब ढाई सौ लोगों का खाना हर रोज तैयार करने के बाद पैकेटों में भर कर बांटा गया। उर्मिला देवी ने बताया कि गरीबों की भूख के सामने उनकी ये मेहनत कुछ नहीं है। उनका हाथ बंटाने के लिए पड़ोस की ही महिला धर्मवती देवी के अलावा दीपक चौबे, सरिता आदि भी मदद करते हैं।

घुमंतू परिवारों के बने सहारा- कोरोना कॉल में सभी को भारी परेशानियों से जूझना पड़ा, लेकिन गरीबों को इसकी मार अधिक झेलनी पड़ी। धामपुर और आसपास के क्षेत्रों में बगदाद अंसार रोड और स्योहारा रोड पर कई ऐसे घुमंतू परिवारों को खाने तक के लाले पड़ गए थे। एक घुमंतू ने बताया कि जब वह एक-एक दाने के लिए तरस रहे थे, तब समाजसेवी विवेक सेन ने परिवार के बच्चों और अन्य लोगों को खाने के लिए भोजन के पैकेट बांटे।

धर्म नहीं जरूरी- संस्था में हिंदू और मुसलमान युवा जुड़े हैं। इनके लिए धर्म कभी आड़े नहीं आता। राम को खून की जरूरत पड़ती है तो रहीम तैयार रहता है और रहीम को खून की जरूरत होती है तो राम खून देने के लिए तैयार रहता है। संस्था सदस्यों का ये सांप्रदायिक सौहार्द भी क्षेत्र में चर्चा का विषय है।

आएदिन फेसबुक पर मदद के मैसेज आने और उनकी जरूरतों को पूरा करने का ये काम संकल्प सेवा समिति के सदस्य और पदाधिकारी कर रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय बेटी दिवस पर भी इस एनजीओ के सदस्य ने नहटौर की बिटिया अदीबा को खून दान किया।

किसी कार्य से बिजनौर गए भीम आर्मी जिला उपाध्यक्ष विवेक सेन ने लौटते समय रास्ते में देखा कि एक युवक पीछे बैठी वृद्धा को हाथ से पकड़ कर दूसरे हाथ से बाइक चला रहा है। ऐसा दृश्य देखकर विवेक सेन ने सहानुभूतिपूर्वक उनकी बाइक रुकवा कर पूरे मामले की जानकारी की, तो पता चला बाइक चला रहा युवक महिला का पुत्र है तथा वृद्ध महिला मुरादाबाद से दवाई लेकर लौट रही थी। रास्ते में तबीयत बिगड़ने पर कमजोरी की अवस्था में वह बाइक पर बैठने में भी लाचार थी। यह वाकया सुनकर विवेक सेन का दिल पसीज गया तथा उन्होंने अपनी आन-बान और शान नीला गमछा सड़क पर बिछा दिया तथा उस पर वृद्ध महिला को लेटा दिया। कुछ देर आराम करने के बाद जब महिला की स्थिति में सुधार हुआ, तो महिला को उन्होंने अपनी गाड़ी से अपने दोस्त सनी सिंह जाटव के द्वारा घर तक पहुंचा दिया। विवेक सेन की इस दरियादिली व कुशल व्यवहार पर वृद्ध महिला के परिजनों ने उनकी जमकर सराहना की।

वहीं स्योहारा थाना क्षेत्र के ग्राम महमूदपुर सानी में दामाद ने पत्नी के ससुराल न जाने पर सास-ससुर को चाकू गोद कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया था। बीच-बचाव में आए अपने साढू फहीमुद्दीन पर भी चाकू से कई वार कर उसे भी गंभीर रूप से घायल कर दिया था। परिजनों ने फहीमुद्दीन को घायल हालत में नहटौर तिराहा स्थित प्रयास हास्पिटल में भर्ती कराया था। फहीमुद्दीन को भर्ती कराने के बाद लगभग सभी परिजन सास, ससुर को सुपुर्देखाक के दौरान अपने घर लौट गए थे। अस्पताल में तीमारदारी में अस्पताल स्टाफ के अलावा चंद लोग ही मौजूद थे। देर रात करीब आठ बजे फहीमुद्दीन को उपचार के दौरान खून की जरूरत पड़ी, तो चिकित्सक ने मौजूद लोगों से तत्काल एबी प्लस ब्लड का इंतजाम करने को कहा। रात में जब कहीं से भी खून नहीं मिला, तो किसी परिचित ने विवेक सेन को फोन कर हास्पिटल में तत्काल खून की जरूरत की जानकारी दी। विवेक  सेन का ब्लड ग्रुप भी एबी प्लस है। विवेक गांव में आयोजित उस समय एक बैठक में व्यस्त थे। जैसे ही विवेक को इस बात की जानकारी हुई, तो वह बैठक को बीच में ही छोड़कर तत्काल प्रयास हास्पिटल पहुंचे तथा फहीमुद्दीन को खून देकर उसकी जान बचाई। देर रात फहीमुद्दीन के परिजनों के वापस लौटने पर जब उन्हें हिंदु युवक द्वारा खून देने की जानकारी हुई, तो उन्होंने विवेक सेन की मुक्त कंठ से सराहना की। विवेक सेन के इस दरियादिली की जानकारी मिलने पर देर रात तक घायल फहीमुद्दीन की मदद करने को विवेक सेन के समर्थक अस्पताल में ही मौजूद रहे।

इसी तरह एक बार स्योहारा मार्ग स्थित ग्राम हसनपुर पालकी में चिंगारी से कूड़ी में लगी आग तेज हवा के चलते कुछ ही समय में आसपास स्थित खेतों तक पहुंच गई। ग्रामीण जब तक कुछ समझ आग बुझाने का कोशिश करते आग ने कई घरों को भी अपनी चपेट में ले लिया। सूचना मिलने पर जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशी विवेक सेन अपने समर्थकों सहित मौके पर पहुंच गए। विवेक के साथ आए युवा अपने हाथों में बाल्टी व अन्य उपकरण लेकर आग बुझाने में जुट गए। काफी देर बाद फायर बिग्रेड की गाड़ी भी मौके पर पहुंच गई। बाद में कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।

संत निरंकारी मंडल ने मनाया सदगुरू बाबा हरदेव सिंह जी महाराज का जन्मदिन

बिजनौर। सदगुरू बाबा हरदेव सिंह जी महाराज के जन्मदिन पर संत निरंकारी मंडल की ओर से साफ-सफाई अभियान चलाया गया। इस दौरान सत्संग भवन में पौधारोपण भी किया गया।

सदगुरू माता सुदीक्षा ने बताया कि बाबा हरदेव सिंह का जीवन बड़ा ही सराहनीय रहा है। उन्होंने सभी को गले लगाकर प्यार व अमन का पैगाम दिया और अनुयाईयों को सत्य व अंहिसा का मार्ग दिखाया।

इस अवसर पर संयोजक बाबूराम संचालक विनोद सिंह, पूर्व संचालक कृपाल सिंह त्यागी, डीके सागर, दीपक आदित्य, सोनू, राजवीर सिंह, चंद्रपाल सिंह, दयाराम, विक्रांत, सुरेंद्र पाल, ब्रजवीर, अक्षय, सुशीला, प्रियांशी, फूलवती, विजय, कविता, पिंकी, विमला, रेनू, नीरज गौतम, सलोनी, खुशी, प्रियंका सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

विकास और गर्वित ने बढ़ाया जिले का मान

विकास यादव ने उत्तीर्ण की यूजीसी नेट परीक्षा। गर्वित चौधरी ने योग साइंस से पहले ही प्रयास में नेट परीक्षा की पास। दोनों परिवार में खुशी का माहौल



बिजनौर। नूरपुर कस्बे के मोहल्ला इस्लामनगर निवासी रामपाल सिंह यादव के पुत्र विकास यादव ने पहली बार में दिसंबर 2020 एवं जून 2021 यूजीसी की नेट यानी राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा मैनेजमेंट विषय में उत्तीर्ण कर परिवार और समाज का मान बढ़ाया है।

इससे पहले जून 2019 में शिक्षा शास्त्र विषय में पहली बार में ही नेट परीक्षा उत्तीर्ण की थी। विकास यादव वर्तमान में रानी भाग्यवती देवी महिला महाविद्यालय बिजनौर में सहायक प्रोफेसर के पद पर सेवारत हैं। वे अपनी सफलता का श्रेय ईश्वर के अलावा परिजनों को देते हैं। उनकी इस सफलता के लिए महाविद्यालय स्टाफ और प्रबंधतंत्र के अलावा समाज के प्रबुद्धजनों ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

गर्वित चौधरी ने योग साइंस से पहले ही प्रयास में नेट परीक्षा की पास


बिजनौर। कहा जाता है कि जीवन के किसी भी क्षेत्र में की गई मेहनत कभी जाया नहीं जाती है। व्यक्ति को मेहनत का फल हमेशा मिलता है। ऐसा ही कर दिखाया है ग्राम मानसापुर निवासी सुरेंद्र सिंह के होनहार पुत्र गर्वित चौधरी ने। गर्वित ने अपनी मेहनत, लगन व निष्ठा के बल पर अपने पहले ही प्रयास में योग साइंस में नेट परीक्षा उत्तीर्ण की है। गर्वित चौधरी की इस सफलता से उसके परिवार में जश्न का माहौल है। उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में यह सफलता हासिल कर ली है। यह सफलता हासिल कर उसने अपने परिवार गांव ही नहीं बल्कि जनपद का भी नाम रौशन किया है। गर्वित ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता पिता व गुरुजनों के साथ साथ अपने मामा बैंक मैनेजर महेंद्र सिंह को देते हुए कहा कि उनकी प्रेरणा से सफलता का मार्ग प्रशस्त हुआ है। गर्वित की इस सफलता को लेकर उसके साथियों, परिचितों व रिश्तेदारों द्वारा लगातार बधाई देने का सिलसिला जारी है।

मेधावी विद्यार्थियों की आर्थिक मदद करेगा हनुमत अलवर दैवीय स्थल ट्रस्ट

बिजनौर। हनुमत अलवर दैवीय स्थल ट्रस्ट हाई स्कूल और इंटरमीडिएट में 95 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को आगे पढ़ाई करने के लिए स्कूल और कॉलेज की फीस जमा कराएगा। मोहल्ला जाटान घेर रामबाग में ट्रस्ट के कार्यालय पर हुई मीटिंग में यह निर्णय लिया गया।

हनुमत अलवर दैवीय स्थल ट्रस्ट की मीटिंग में ट्रस्टी जिम्मी सिंह ने कहा कि मध्यम वर्ग के छात्र छात्राओं के भविष्य को अधिक से अधिक उज्जवल बनाने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिस किसी छात्र या छात्रा के हाई स्कूल और इंटरमीडिएट में 95 प्रतिशत से अधिक अंक आते हैं तो उन छात्र-छात्राओं को ट्रस्ट की ओर से आगे पढ़ाई करने के लिए स्कूल और कॉलेज की फीस इत्यादि का खर्च हनुमत अलवर दैवीय स्थल ट्रस्ट की ओर से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जो भी छात्र इंजीनियरिंग, टेक्निकल कोर्स या आईएएस, आईपीएस, पीसीएस व विभिन्न परीक्षाओं में सम्मिलित होना चाहते हैं और उनके अभिभावकों की आर्थिक स्थिति मजबूत नहीं है तो ऐसे छात्रों के आगे बढ़ाने के लिए भी हनुमत अलवर दैवीय स्थल ट्रस्ट की ओर से बच्चों की पढ़ाई का शुल्क वहन किया जाएगा। मुख्य ट्रस्टी अशोक चौधरी ने बताया कि इससे मेधावी छात्रों को आगे बढ़ने के लिए एक नया मार्गदर्शन मिलेगा।

जैद बने रालोद अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव

बिजनौर। नहटौर नगर पालिका परिषद के पूर्व चेयरमैन स्वर्गीय रशीद अहमद छिद्दू के पुत्र मोहम्मद जैद को राष्ट्रीय लोक दल अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ का राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है। इस मौके पर पार्टी के जिला अध्यक्ष अली अदनान और अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष गौहर इकबाल एडवोकेट ने मोहम्मद जैद का स्वागत किया।
स्थानीय फुरकान बाग कॉलोनी स्थित मोहम्मद जैद के आवास पर आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष गौहर इकबाल एडवोकेट ने मोहम्मद जैद का फूल माला पहनाकर स्वागत किया और उन से उम्मीद जताते हुए कहा कि मोहम्मद जैद के जुड़ने से संगठन को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि हमारा संगठन मजबूत हुआ है और आगे इसे मजबूत बनाने के लिए निरंतर कार्य चलते रहेंगे। इस मौके पर पार्टी के जिला अध्यक्ष अली अदनान ने मोहम्मद जैद का स्वागत किया और उन्होंने कहा कि मोहम्मद जैद स्वर्गीय रशीद अहमद छिद्दू की विरासत को आगे बढ़ाने का काम करेंगे। उन्होंने बताया कि रशीद अहमद छिद्दू भी राष्ट्रीय लोक दल के जिला अध्यक्ष रह चुके हैं और पहली बार राष्ट्रीय लोक दल में रहते हुए चुनाव लड़ा और नगर पालिका के चेयरमैन बने। इस मौके पर अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के नवनियुक्त राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद जैद ने कहा कि वह पिछले एक साल से निरंतर पार्टी के लिए काम कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी द्वारा जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है, उसको वह पूरी ईमानदारी के साथ निभाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि हमेशा से मैं राष्ट्रीय लोकदल की नीतियों से प्रभावित रहा हूं। इस मौके पर नहटौर नगर अध्यक्ष महफूज उर्फ गुड्डा, मोबिन अहमद, शजर हुसैन, दुलारे भाई, इकरार अहमद, मुनव्वर सरताज, आतिफ खान आदि मौजूद रहे।

आओ चलें मतदान करें, लोकतंत्र का सम्मान करें

लखनऊ। चिकित्सा स्वास्थ्य महासंघ द्वारा प्रदेश व्यापी मतदाता जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में महासंघ द्वारा बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ में एक बैठक कर आज के ही दिन 14/2/2019 को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि व्यक्त की गई। साथ ही उनके परिवार को पेन्शन न मिलने पर चिंता व्यक्त करते हुए सभी को मतदान करने एवं अपने मताधिकार का उपयोग करने के बारे में बताया गया।

इस दौरान पुरानी पेंशन बहाली एवं निजीकरण/प्राइवेटाइजेशन/ आउटसोर्सिंग बंद करने की बात प्रमुखता से करने वाली राजनीतिक पार्टी को ही सभी आने वाले विधानसभा चुनाव में वोट देकर सरकार बनाने हेतु अपनी-अपनी इच्छा प्रकट की। साथ ही साथ चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग में हो रहे निजीकरण एवं संविदा पर रखे गए लोगों को परमानेंट करने की भी बात की गई। कार्यक्रम में चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के लगभग सभी संगठनों के सदस्य उपस्थित रहे। केके सचान, श्रवण सचान, रजत, सुनील, कपिल, सत्येन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह, महेंद्र श्रीवास्तव,आईनिस चार्ल्स, मंजीत कौर, रेनू दूबे, शशि सारस्वत, स्मिता, हुस्ना ख़ातून, मीना, रेनू पटेल, कनक, देवरती, प्रीती आदि मौजूद रहे! प्रधान महासचिव चिकित्सा स्वास्थ्य महासंघ उत्तर प्रदेश अशोक कुमार ने धन्यवाद दिया।

कोरोनाकाल की त्रासदी पर मरहम लगाती 51 सच्चाई- हेमंत पाल 

तीसरी समीक्षा- किताब : ताकि सनद रहे  (51 कोरोना योद्धाओं की सच्ची कहानियों का संग्रहणीय दस्तावेज़) संकलन-संपादन : गौरव अवस्थी समीक्षक: श्री हेमंत पाल, स्थानीय संपादक, सुबह सवेरे, इंदौर (म.प्र.)     

कोरोना त्रासदी की पीड़ा अंतहीन है। जीवन का ये वो दौर था, जो अनसोचा और अनसमझा था। इस महामारी के सामने सारी सरकारी व्यवस्थाएं ध्वस्त हो गई, जो स्वाभाविक भी था। किसी भी शहर, गांव या कस्बे में आबादी के अनुमान से ही स्वास्थ्य सुविधाएं जुटाई जाती  है, पर कोरोना ने उन सारे अनुमानों को गलत साबित कर दिया। प्रशासन भी समझ नहीं पा रहा था कि वो कैसे व्यवस्थाएं जुटाए, दवाइयों का इंतजाम करें, मरीजों और उनके परिजनों के लिए खाने-पीने की जिम्मेदारी पूरी करे और सबसे बड़ा काम ये था कि महामारी से संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार करना।     लेकिन, ये सब हुआ, जिससे जितना हो सकता था, उसने वो सब किया। जो करने वाले थे, वे दुनिया के अलग ही लोग थे। कहते हैं कि इस धरती पर कहीं तो कोई है, जो सबकुछ संचालित कर रहा है। ईश्वर तो हर जगह प्रकट नहीं हो सकता, तो वह अपने ऐसे प्रतिरूपों को भेज देता है, जो ऐसी जिम्मेदारियां वहन कर लेते हैं, जो मनुष्य के बस से बाहर निकल जाती है। कोरोना काल में हर शहर, हर कस्बे और हर गांव में ऐसे कोरोना योद्धा अवतार की तरह सामने आए, जिन्होंने मानव धर्म का पालन किया। 

इस किताब की 51 सच्चाइयां ऐसे ही ईश्वर अवतारों का संकलन है, जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए संक्रमित और परेशान लोगों के लिए दवाइयां भी जुटाई, स्वास्थ्य सुविधाएं भी और उनके परिजनों के लिए खाने-पीने के इंतजाम में भी कमी नहीं आने दी। उनका ये कर्म पूरी तरह नि:स्वार्थ और सेवा का चरमोत्कर्ष था। ऐसे लोगों को उनकी सेवा भावनाओं के लिए सिर्फ धन्यवाद नहीं दिया जा सकता। उन्होंने कोरोना काल में जो किया, वो बरसों नहीं, सदियों तक याद किया जाएगा। 

गौरव अवस्थी का ये किताब निकालने का प्रयास अतुलनीय है। ये अपनी तरह का अनोखा प्रयास है, जो वंदनीय है। किताब की 51 कथाओं में कोरोना योद्धाओं के योगदान को जिस तरह शब्दों में बांधा है, वो बेजोड़ है। नि:स्वार्थ भाव से किया गया उनका ये योगदान भी किसी कोरोना योद्धा से कम नहीं है। जाने-अनजाने इन कोरोना योद्धाओं के साथ गौरव अवस्थी का प्रयास तारीफ के शब्दों से कहीं बहुत विशाल है।

दुनियाभर में जब महामारी चरम पर थी, तब हम और आप घरों में बैठे थे! ऐसे में कई ऐसे लोग भी थे, जो जान की परवाह न करके दूसरों की जान बचाने, उनके लिए दवाइयों का इंतजाम करने, ऑक्सीजन का इंतजाम करने और जो सारी कोशिशों के बाद भी बच नहीं सके उनके अंतिम क्रिया कर्म में लगे थे। इन्हें किसी ने कहा नहीं था और इसके पीछे उनका कोई स्वार्थ था! जो कुछ था, वो इंसानियत और मानवीयता थी। ऐसे भी लोग थे, जिन्होंने अपने वाहनों को एम्बुलेंस बना दिया था। सिर्फ युवा ही नहीं, महिलाएं और बुजुर्ग भी जान की परवाह न करते हुए महीनों लगे रहे।      किसी ने अपनी शादी को आगे बढ़ा दिया और वो सारा पैसा मरीजों की मदद में खर्च कर दिया। कहीं सरकारी अफसरों ने अपनी सीमा से आगे जाकर जनसेवा की ताकि टूटती सांसों में जान फूंकी जा सके। उन्हें टूटते बोल्ट के कारण खत्म होती ऑक्सीजन के पीछे लोगों की जान दिखाई दे रही थी। ये सिर्फ 51 सच्चे अनुभव ही नहीं, परोपकार के 51 शिखर हैं। जब एक-एक सांस की आस टूट रही थी, तब यही लोग थे, जिन्होंने उम्मीद जगाई कि हम हैं न! ये दुनिया उतनी बुरी नहीं है, जितना समझा जाता है, वास्तव में ऐसे ही लोगों से इस दुनिया में जीवन के रंग भी हैं।

धूमधाम से मनाया शिवपाल सिंह यादव का 66 वां जन्मदिन

लखनऊ। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का 66 वां जन्मदिन शनिवार को नगर कार्यालय इंसाफ नगर में केक काटकर बहुत धूमधाम से  मनाया गया।

इस मौके पर नगर अध्यक्ष जनाब मुर्तजा अली ने उनकी लंबी उम्र के लिए दुआएं की और भारी मतों से जीत की भी सबने दुआएं की। जन्मदिन के मौके पर बच्चों और तमाम लोगों को लड्डू वितरण किया गया।

कार्यक्रम के दौरान नगर और प्रदेश के तमाम पदाधिकारी गण उपस्थित रहे। मुख्य रुप से जिला अध्यक्ष रंजीत यादव,  हरिशंकर यादव,व्यापार मंडल के प्रदेश अध्यक्ष रामबाबू, डीपी यादव, वरिष्ठ उपाध्यक्ष एडवोकेट दरुल हसन, खुर्शीद, शमीम सिद्दीकी, आशीष शर्मा, राणा रियाजुद्दीन, सद्दाम सिद्दीकी, पंकज श्रीवास्तव, मोहम्मद कैफ, नाजिया, मोहम्मद फिरोज, अमन मिश्रा, अभय मिश्रा, देवेंद्र शुक्ला, रमेश कुमार, मोहम्मद इमरान, विवेक सिंह, शाहिद सिद्दीकी, जावेद, राष्ट्रीय सलाहकार खालिद इस्लाम, शेख अफजाल,  बबलू श्रीवास्तव, सिद्दीकी आदि लोगों ने कार्यक्रम में शिरकत की ।

सभी पहचान पत्रों के लिए एक ही Unique Digital ID

अब सभी पहचान पत्रों के लिए होगी एक ही Unique Digital ID, केंद्र का प्लान तैयार

अब सभी पहचान पत्रों के लिए होगी एक ही Unique Digital ID, केंद्र का प्लान तैयार 

नई दिल्‍ली (एजेंसी)। देशवासियों के लिए अब एक ऐसी यूनिक डिजिटल आईडी लाने की योजना पर काम हो रहा है, जिसमें सभी आईडी जुड़ी होंगी। इसके लिए इलेक्‍ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने फेडरेटेड डिजिटल आइडेंटिटी का नया मॉडल सुझाया है। इसके तहत नागरिकों की कई डिजिटल आईडी को आपस में इंटरलिंक और संग्रहित किया जा सकेगा। यह संभव हो सकेगा एक यूनिक डिजिटल आईडी के जरिये जिसमें पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार और पैन को लिंक किया जा सकेगा।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मंत्रालय ने सुझाव दिया है कि यह एम्ब्रेला डिजिटल आईडी नागरिक को इन पहचान पत्रों पर नियं‍त्रण रखने और उसे यह चुनने का विकल्प देगी कि किस उद्देश्य के लिए उसकी किस आईडी का इस्‍तेमाल किया जाए। प्रस्ताव के जल्द ही सार्वजनिक होने की उम्मीद है और मंत्रालय 27 फरवरी तक विचार मांगेगा।

सीएससी सेंटरों पर मनाया गया गणतंत्र दिवस

सीएससी सेंटरों पर मनाया गया गणतंत्र दिवस। प्रधानमंत्री के विज़न लोकल फ़ॉर वोकल को बढ़ावा। जिला प्रबंधक ने दी ग्रामीण ई स्टोर की जानकारी।


मलिहाबाद,लखनऊ। सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार की संस्था सीएससी ई- गवर्नेंस सर्विजेज़ इंडिया लिमिटेड द्वारा संचालित कॉमन सर्विस सेंटरों के माध्यम से 73 वें गणतंत्र दिवस का आयोजन मलिहाबाद के गोपेश्वर ऑनलाइन सेंटर तहसील कैम्पस सहित जिले के 800 से ज्यादा सेंटरों पर हुआ।

इस दौरान विशिष्ट अतिथियों द्वारा झंडारोहण किया गया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री के विज़न लोकल फ़ॉर वोकल को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण ई स्टोर की जानकारी जिला प्रबंधक रवींद्र वर्मा द्वारा दी गई। सीएससी के विभिन सर्विसेज हेतु आयुष्मान भारत, ई-श्रम पंजीकरण, प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान, किसान जनधन योजना, फसल बीमा योजना, सम्माननिधि योजना आदि का कैम्प लगाकर लाभार्थी का पंजीकरण किया गया। वहीं जिला प्रबंधक रवींद्र वर्मा ने कॉमन सर्विस सेंटरों की उपयोगिता के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए बताया कि केंद्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार तक जनहित में संचालित सभी योजनाओं का लाभ कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से आम लोगों तक पहुंचाने की व्यवस्था की गई है। अब आपको अपने गांव में ही सभी सरकारी सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा।

Whatsapp पर संपर्क करें

हिंदुस्तान सेवा संस्थान (वाहिद बिरयानी) ने हर्षोल्लास के साथ मनाया गणतंत्र दिवस

हिंदुस्तान सेवा संस्थान (वाहिद बिरयानी) ने हर्षोल्लास के साथ मनाया गणतंत्र दिवस

गरीबों को कंबल वितरण के साथ ही तमाम जरूरतमंदों को कराया भोज

लखनऊ । हिंदुस्तान सेवा संस्थान (वाहिद बिरयानी) ने आशियाना में गणतंत्र दिवस बड़े हर्सोउल्लास के साथ मनाया। मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने झन्डा रोहण किया। झंडारोहण के उपरांत निगहत खान ने देश भक्ति पर तराना पेश किया। इस मौके पर मुरलीधर आहूजा, मौलाना मुश्ताक, मौलाना सूफियान, अदनान, निगहत खान, वामिक़ खान, अब्दुल वहीद, जुबैर अहमद, मुर्तज़ा अली, एमआर नगरामी, एहमन, शह्ज़ादे कलीम, आबिद कुरैशी, वसी अहमद सिद्दीकी, आक़िब कुरैशी, आरिफ मक़ीम, विजय गुप्ता, अवधेश आदि मौजूद थे।


इस मौके पर आबिद अली कुरैशी ने बताया कि हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध आदि सभी धर्मो के लोग इस आयोजन में शामिल हुए। मुरलीधर आहूजा ने कहा कि गणतंत्र दिवस हमारे देश का सबसे बड़ा त्योहार होना चाहिए, बस इसी भावना के साथ गणतन्त्र दिवस हम सब जोर शोर से मनाते हैं।
झंडारोहण का आयोजन वर्तमान में कोरोना महामारी/ लॉकडाउन के कारण सोशल डिस्टेंसिंग और सरकारी गाइडलाइन के अनुसार किया गया। कार्यक्रम में सभी धर्मों के लोगों ने शामिल होकर एकता और अखंडता का संदेश दिया। साथ ही इस राष्ट्रीय पर्व पर मौलाना खालिद रशीद फारंगी महली ने देश की खुशहाली और अमन शांति की दुआ की। इस अवसर पर संस्थान द्वारा गरीबों को कंबल वितरण के साथ ही तमाम जरूरतमंदों को भोज भी कराया गया।

Whatsapp पर संपर्क करें

हमारा नेता कैसा हो?…

आप सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं, हृदय को छू लेने वाले एक संदेश के साथ


सभी देशवासियों से निवेदन है, कि जब हम अपनी बहन बेटी के लिए कोई वर ढूंढते हैं, तो ये देखते हैं कि वर ऐसा हो जो उसकी रक्षा, सुरक्षा हर हाल में करे, अच्छे सभ्य परिवार समाज से, पढ़ा लिखा हो।
अब हमे अपने प्रदेश, जनपद, तहसील, ब्लॉक आदि की सुरक्षा के लिए नेता चुनना है, तो हमारे नेता कैसे होने चाहिएं। आप स्वयं समझदार हैं।
जय हिन्द, जय भारत।”
इतनी अच्छी सोच एवं दृष्टि रखने वाले भी हैं समाज में। राजीव कुमार सैनी एडवोकेट हाईकोर्ट, ने समाज के लिए जो कहा, हमारे समाज, हमारे राष्ट्र को ऐसी दृष्टि के व्यक्तित्व कम देखने को मिलते हैं, जबकि ये ज्यादा होने चाहिए। राजीव कुमार सैनी एडवोकेट इलाहाबाद और लखनऊ हाई कोर्ट बैंच, उत्तर प्रदेश में गत 23 वर्षों से वकालत कर रहे हैं। राजीव कुमार सैनी एडवोकेट बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश का 3 बार चुनाव भी लड़ चुके है। ऐसे व्यक्तित्व की समाज को राष्ट्र के उत्थान के लिए बहुत आवश्यकता है। समाज के प्रति ऐसी सुंदर दृष्टि रखने वालों को, अवश्य ही किसी प्रमुख सामाजिक जिम्मेदारी का दायित्व दिया जाना चाहिए। सूत्रों से यह भी ज्ञात हुआ है कि राजीव बगैर किसी सरकारी जिम्मेदारी के, समाज में जरूरत मंद लोगों की बहुत मदद करते हैं। यहां तक कि राजीव एक मध्यम परिवार से होते हुए भी, किसी टाइम इनके पास किसी जरूरतमंद को देने के लिए कुछ नहीं होता, तो ये उसे उधार लेकर दे देते हैं, फिर उस उधार को स्वयं ही चुकाते हैं। आजकल समाज में हमें उल्टा ही देखे को मिलता है, कि कुछ लोग जिनके पास अपनी जीविका के लिए बहुत ही साधारण से साधन होते हैं, या ये भी कह सकते हैं कि लोक लुभावन वायदों के अलावा भी कुछ नहीं होता; वह समाज सेवा और राजनीति के नाम पर घर से निकलते हैं फिर समाजसेवा छोड़कर, केवल तुष्टिकरण की राजनीति करने लगते हैं, खुद और खुद के परिवार, रिश्तेदारों की भरपूर सेवा कर अवैधानिक लाभ कमाकर कई कई बंगलों और बेनामी संपत्तियों के मालिक बन जाते हैं। पब्लिक के काम के नाम पर क्या होता है, आप स्वयं देख रहे हैं। इसलिए अपने नेता ऐसे चुनो, जिनसे बात करने पर आपको लगे कि ये हमारा, समाज का, राष्ट्र का उत्थान और विकास कर सकते हैं।

मानव अधिकारों की रक्षा के लिएजागरुकता जरूरी

बिजनौर। मोहल्ला चाहशीरी बी 24 मोहम्मद मुस्तकीम के आवास पर विश्व मानवाधिकार परिषद की एक बैठक हुई।
जिला अध्यक्ष विश्व मानवधिकार परिषद नदीम अहमद ने बताया कि मानव अधिकारों की रक्षा के लिए जागरूकता जरूरी है। जब तक लोगों को अपने अधिकारों के बारे में जानकारी नहीं होगी तो वह ना अपने अधिकारों को ले सकते हैं और ना अपनी रक्षा कर सकते हैं। विश्व मानवाधिकार परिषद के कार्यकर्ता मानव अधिकारों की रक्षा के लिए जागरूकता अभियान चलाएंगे।

बैठक में विश्व मानव अधिकार परिषद के नवनियुक्त पदाधिकारी मोहम्मद अफजाल जिला उपाध्यक्ष,
मोहम्मद आसि जिला सचिव, डॉ अनवर अहमद जिला उपाध्यक्ष, राहुल कुमार गौतम सिटी अध्यक्ष को विश्व मानवधिकार परिषद का सर्टिफिकेट और आईडी कार्ड दे कर जनता के हित में काम करने का आह्वान किया गया।
इस अवसर पर मोहम्मद मुस्तकीम शमशेर आलम नाजिम सिद्दीकी मोहम्मद आरिफ आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी हेतु सम्मानित हैं पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव व उनका परिवार

विश्व हिंदी दिवस (10 जनवरी) : तीन पीढ़ियों संग हिंदी के विकास में जुटा है पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव का परिवार

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हिंदी हेतु कई सम्मानों से विभूषित हैं पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव व उनका परिवार

लखनऊ। ‘विश्व हिन्दी दिवस’ प्रति वर्ष 10 जनवरी को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना व हिन्दी को अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है। हिंदी को लेकर तमाम संस्थाएँ, सरकारी विभाग व विद्वान अपने स्तर पर कार्य कर रहे हैं। इन सबके बीच उत्तर प्रदेश में वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव का अनूठा परिवार ऐसा भी है, जिसकी तीन पीढ़ियाँ हिंदी की अभिवृद्धि के लिए न सिर्फ प्रयासरत हैं, बल्कि वैश्विक स्तर पर भी कई देशों में सम्मानित हैं।

वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव के परिवार में उनके पिता श्री राम शिव मूर्ति यादव के साथ-साथ पत्नी आकांक्षा यादव और दोनों बेटियाँ अक्षिता व अपूर्वा भी हिंदी को अपने लेखन से लगातार नए आयाम दे रही हैं। देश-दुनिया की तमाम पत्रिकाओं में प्रकाशन के साथ श्री कृष्ण कुमार यादव की 7 और पत्नी आकांक्षा की 3 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। हिंदी ब्लॉगिंग के क्षेत्र में इस परिवार का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अग्रणी है।

‘दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दम्पति’ सम्मान से विभूषित यादव दम्पति को नेपाल, भूटान और श्रीलंका में आयोजित ‘अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन’ में ‘परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान’ सहित अन्य सम्मानों से नवाजा जा चुका है। जर्मनी के बॉन शहर में ग्लोबल मीडिया फोरम (2015) के दौरान ‘पीपुल्स चॉइस अवॉर्ड’ श्रेणी में सुश्री आकांक्षा यादव के ब्लॉग ‘शब्द-शिखर’ को हिंदी के सबसे लोकप्रिय ब्लॉग के रूप में भी सम्मानित किया जा चुका है।

सनबीम स्कूल, वरुणा, वाराणसी में अध्ययनरत इनकी दोनों बेटियाँ अक्षिता (पाखी) और अपूर्वा भी इसी राह पर चलते हुए अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई के बावजूद हिंदी में सृजनरत हैं। अपने ब्लॉग ‘पाखी की दुनिया’ हेतु अक्षिता को भारत सरकार द्वारा सबसे कम उम्र में ‘राष्ट्रीय बाल पुरस्कार’ से सम्मानित किया जा चुका है, वहीं अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन, श्रीलंका (2015) में भी अक्षिता को “परिकल्पना कनिष्ठ सार्क ब्लॉगर सम्मान” से सम्मानित किया गया। अपूर्वा ने भी कोरोना महामारी के दौर में अपनी कविताओं से लोगों को सचेत किया।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव का कहना है कि, सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। डिजिटल क्रान्ति के इस युग में हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता है। वहीं, उनकी पत्नी आकांक्षा यादव का मानना है कि हिन्दी भाषा भारतीय संस्कृति की अभिव्यक्ति का माध्यम होने के साथ-साथ भारत की भावनात्मक एकता को मजबूत करने का सशक्त माध्यम है। आप विश्व में कहीं भी हिन्दी बोलेगें तो आप एक भारतीय के रूप में ही पहचाने जायेंगे।

प्रधानमंत्री ने श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व के अवसर पर देशवासियों को बधाई दी है।

एक ट्वीट में, प्रधानमंत्री ने कहा;

“श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर बधाई। उनका जीवन और संदेश लाखों लोगों को शक्ति देता है। मैं हमेशा इस तथ्य को संजो कर रखूंगा कि हमारी सरकार को उनके 350वें प्रकाश उत्सव को मनाने का अवसर मिला है। उस समय की अपनी पटना यात्रा की कुछ झलकियां साझा कर रहा हूँ। https://t.co/1ANjFXI1UA

Greetings on the Parkash Purab of Sri Guru Gobind Singh Ji. His life and message give strength to millions of people. I will always cherish the fact that our Government got the opportunity to mark his 350th Parkash Utsav. Sharing some glimpses from my visit to Patna at that time. pic.twitter.com/1ANjFXI1UA— Narendra Modi (@narendramodi) January 9, 2022

“ਕਰਤਾਰ ਕੀ ਸੌਗੰਧ ਹੈ, ਨਾਨਕ ਕੀ ਕਸਮ ਹੈ।
ਜਿਤਨੀ ਭੀ ਹੋ ਗੋਬਿੰਦ ਕੀ ਤਾਰੀਫ਼, ਵੁਹ ਕਮ ਹੈ।”

ਸਰਬੰਸਦਾਨੀ, ਭਗਤੀ ਅਤੇ ਸ਼ਕਤੀ ਦੇ ਮੁਜੱਸਮੇ, ਸ਼ਸਤਰ ਅਤੇ ਸ਼ਾਸਤਰ ਦੇ ਧਨੀ, ਦੱਬੇ-ਕੁਚਲੇ ਹੋਏ ਸਮਾਜ ਨੂੰ ਸਸ਼ਕਤ ਬਣਾ ਕੇ ਨਵੀਂ ਪਛਾਣ ਦੇਣ ਵਾਲੇ ਦਸ਼ਮੇਸ਼ ਪਿਤਾ ਸ੍ਰੀ ਗੁਰੂ ਗੋਬਿੰਦ ਸਿੰਘ ਜੀ ਦੇ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ ਪੁਰਬ ਦੀਆਂ ਲੱਖ-ਲੱਖ ਵਧਾਈਆਂ pic.twitter.com/knUqzfXaFB— Narendra Modi (@narendramodi) January 9, 2022

सर्व दलीय गौरक्षा मंच के महानगर अध्यक्ष बने सोनू ठाकुर

मेरठ। सर्व दलीय गौरक्षा मंच के प्रदेश अध्यक्ष पंडित अमित कुमार शांडिल्य ने मेरठ निवासी भूपेंद्र सिंह (सोनू ठाकुर) को मंच का महानगर अध्यक्ष मनोनीत किया है। इसी के साथ उनसे संगठन हित में कार्य करने की अपेक्षा की है। उनके मनोनयन पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं एवं मेरठ क्षेत्र के प्रबुद्धजनों ने हर्ष व्यक्त कर बधाई दी है।

उत्तर प्रदेश सर्व समाज व्यापार मंडल ने हर्षोल्लास से मनाया 12वां स्थापना दिवस

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सर्व समाज व्यापार मंडल ने 12वां स्थापना दिवस धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर संगठन की ओर से सैकड़ों जरूरतमंदों को मुख्य अतिथि विपिन मिश्रा अपर जिलाधिकारी लखनऊ ने कंबल वितरित किए।

उत्तर प्रदेश सर्व समाज व्यापार मंडल का 12वां स्थापना दिवस केक काटकर हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। हजारों की संख्या में लोगों ने तहरी एवं मिठाइयों के स्वाद का आनंद लिया।

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष सैयद महमूदुर रहमान ‘पम्मू’, प्रदेश के मुख्य संरक्षक प्रमोद अग्रवाल, संरक्षक सैयद नावेद अहमद मैनेजर प्रबंधक करामत कॉलेज, प्रदेश विधि सलाहकार ध्रुव कुमार सिंह, प्रदेश संयुक्त सचिव विनोद सोनकर, प्रदेश उपाध्यक्ष विशाल सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल अकील, प्रदेश महासचिव प्रदीप सिंह बब्बू, प्रदेश महासचिव संदीप सिंह, इकराम अली, विनीत यादव, सीज गोमती अध्यक्ष लखनऊ आलोक सिंह, प्रदेश महासचिव विनय कुमार सिंह सोनू शहर अध्यक्ष लखनऊ, धर्मेंद्र सिंह भदौरिया, सुभाष यादव, मुख्य अतिथि विपिन मिश्रा अपर जिलाधिकारी लखनऊ को पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रदेश, जिला, शहर व क्षेत्रीय इकाई के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

प्रमुख रूप से रेहान सिद्दीकी, मोहम्मद मोहसिन, नरेंद्र सिंह, मोहम्मद नाजिम पप्पू अध्यक्ष टू व्हीलर समाज व्यापार मंडल, गोपाल यादव कोषाध्यक्ष, इमरान मलिक, आदित्य मिश्रा, मोहम्मद यूनुस, मुर्तुजा अली, राहुल सिंह, राकेश कुमार, इमरान खान आदि हजारों लोग उपस्थित रहे|

जल संस्थान कर्मचारी महासंघ का चुनाव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश जल संस्थान कर्मचारी महासंघ के प्रादेशिक चुनाव में अध्यक्ष पद पर लगातार दूसरी बार रणवीर सिंह सिसोदिया व महामंत्री पद पर लगातार तीसरी बार राजेंद्र यादव निर्वाचित हुए हैं।

जलकल विभाग वाराणसी के प्रांगण में प्रादेशिक चुनाव संपन्न हुआ। उत्तर प्रदेश जलकल विभाग के समस्त कर्मचारियों की मौजूदगी में महासंघ द्वारा पिछले कई वर्षों से किए जा रहे उत्कृष्ट कार्यों एवं कर्मचारी हितों की रक्षा के लिए संगठन के 41 सदस्यीय कमेटी ने सर्वसम्मति से एक बार फिर अपने वर्तमान अध्यक्ष रणवीर सिंह सिसोदिया और महामंत्री राजेंद्र यादव पर भरोसा जताया। चुनाव अधिकारी राम प्रकाश गोस्वामी एवं ओपी शर्मा ने बताया कि इन दोनों पदाधिकारियों द्वारा लगातार पूरे प्रदेश के जल संस्थानों में व्याप्त भ्रष्टाचार को दूर करने एवं कर्मचारियों के हितों के लिए लड़ाई लड़ी जा रही थी। बहुत सारी समस्याओं का समाधान इनके कार्यकाल में किया गया। इस वजह से चुनाव की शुरुआत होने के बाद किसी भी अन्य कर्मचारी ने नामांकन ना करते हुए पुनः इन दोनों लोगों को निर्विरोध अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिया। इन लोगों के लिए चुने जाने पर वाराणसी जलकल विभाग के महाप्रबंधक राघवेंद्र कुमार की मौजूदगी में शपथ ग्रहण कार्यक्रम भी संपन्न हुआ। महाप्रबंधक ने दोनों पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि संगठन की वजह से आज हजारों कर्मचारी अपनी समस्याओं के लिए सजग रहते हैं और संगठन उनका निराकरण कराता है इसलिए संगठन में एकता समरूपता अति आवश्यक है।

इस अवसर पर संगठन के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अवधेश नारायण चतुर्वेदी एवं पूर्व महामंत्री नींबू लाल, कोषाध्यक्ष देवी प्रसाद पाल, कलीमुद्दीन बेग, विनोद पटेल, परवेज अख्तर, अरविंद तिवारी, घनश्याम यादव, महादेव यादव, प्रवीण वर्मा, तिलक सिंह यादव, आलोक भट्टाचार्य, दिलीप कुमार भारती, संतोष कुमार, बृजलाल फूलचंद रमाकांत कुशवाहा, मनोज यादव मौजूद रहे।

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर पर विशेष चित्रात्मक मुहर जारी

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी पर पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने जारी किया विशेष चित्रात्मक मुहर

अब देश-विदेश के पत्रों पर लगेगी श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के चित्र वाली मुहर

देश-दुनिया में सांस्कृतिक दूत का कार्य करेगी श्री काशी विश्वनाथ मंदिर अंकित विशेष मुहर -पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

बनारस। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी नगरी की प्राचीनता, ऐतिहासिकता, आध्यामिकता और सांस्कृतिक गौरव को अपने में सहेजे हुए है। इसके दर्शन के लिए देश-दुनिया से लाखों श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं। दुनिया भर के करोड़ों शिव भक्तों के सपने साकार करने वाला यह प्राचीन दिव्य मंदिर काशी की संस्कृति को जीवंतता प्रदान करता है। उक्त उद्गार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी पर एक स्पेशल पिक्टोरियल कैंसिलेशन (Special Pictorial Cancellation) जारी करते हुए व्यक्त किये। इस मुहर के मध्य में मंदिर के शिखर और उस पर अंकित धर्म ध्वजा को उकेरा गया है एवं किनारे गोलाई में हिंदी व अंग्रेजी में श्री काशी विश्वनाथ मंदिर, वाराणसी अंकित किया गया है। मुहर के निचले भाग में दिनांक के साथ वाराणसी प्रधान डाकघर व इसका पिनकोड-221001 लिखा गया है। अब विश्वेश्वरगंज स्थित वाराणसी प्रधान डाकघर से देश-दुनिया को आने-जाने वाले पत्रों पर सामान्य मुहर की बजाय श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के चित्र वाली विशेष मुहर लगेगी।

क्षेत्रीय कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि यह एक अद्भुत संयोग है कि आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का अपने नव्य, भव्य व दिव्य रूप में लोकार्पण किया जा रहा है। ऐसे में डाक विभाग की यह पहल इस दिन को और भी विशिष्टता प्रदान करेगी। डाक विभाग सदैव से सांस्कृतिक राजदूत की भूमिका निभाता रहा है। ऐसे में यह विशिष्ट चित्रमय मुहर देश-विदेश के सभी आने-जाने वाले पत्रों पर अंकित होने से न सिर्फ देश के भीतर बल्कि वैश्विक स्तर पर भी वाराणसी के सांस्कृतिक दूत का कार्य करेगा। मुहर पर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के शिखर का चित्र होने से लोगों की आस्था का विस्तार होगा तथा युवा पीढ़ी में भी इसके बारे में जानने के लिए उत्सुकता बढ़ेगी। श्री यादव ने आगे कहा कि इस विशेष मुहर से पूरे विश्व में वाराणसी और भगवान शिव से जुड़े सांस्कृतिक संबंधों का प्रसार होगा। दुनिया भर के शिव भक्तों के लिए यह एक अमूल्य निधि की तरह साबित होगा। इसका उद्देश्य श्री काशी विश्वनाथ की महिमा, उसकी संस्कृति, उसकी पवित्रता सहित काशी के इतिहास को देश-दुनिया तक पहुँचाना है। दिव्य-काशी, भव्य-काशी के साथ यह काशी के सांस्कृतिक गौरव और अस्मिता को नई पहचान देगा।

वाराणसी (पूर्वी) मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर श्री राजन राव ने कहा कि अब वाराणसी प्रधान डाकघर में देश-दुनिया से आने-जाने वाली सभी चिट्ठियों-पत्रों पर प्रतिदिन श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के स्पेशल पिक्टोरियल कैंसिलेशन की मुहर अंकित कर इसे धरोहर के रूप में संजोया जा सकेगा। वाराणसी प्रधान डाकघर से प्रति माह देश-विदेश में 3 लाख से ज्यादा डाक की बुकिंग होती है, वहीं लगभग 1 लाख डाक का वितरण होता है। ऐसे में डाक टिकट संग्राहकों के लिए यह एक अनमोल उपहार साबित होगा। इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

इस दौरान अधीक्षक डाकघर संजय कुमार वर्मा, सहायक निदेशक राम मिलन, लेखा अधिकारी एमपी वर्मा, सहायक डाक अधीक्षक अजय कुमार, सहायक लेखा अधिकारी संतोषी राय, डाक निरीक्षक श्रीकांत पाल, वीएन द्विवेदी और रामचंद्र यादव, श्रीप्रकाश गुप्ता, राजेन्द्र यादव, राहुल कुमार सहित तमाम अधिकारी – कर्मचारी, फ़िलेटलिस्ट इत्यादि उपस्थित रहे।

81% अंक पाकर कमलप्रीत कौर अव्वल

बिजनौर। जनता कालेज आफ एजुकेशन नूरपुर का बीएड सत्र 2019/21 का परीक्षा परिणाम घोषित हुआ।
प्राचार्य महेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि कमलप्रीत कौर 81 प्रतिशत अंक पाकर प्रथम स्थान पर रही। निशात अंजुम 80 प्रतिशत अंक पाकर द्वितीय व अनु चौधरी 79.5 प्रतिशत अ़ंक पाकर तृतीय स्थान पर रहे।

नूरपुर के उभरते शायर नबील मिकरानी दिल्ली में सम्मानित

नूरपुर (बिजनौर)। राजधानी दिल्ली में आयोजित एक कवि सम्मेलन में नगर के उभरते हुए युवा शायर नबील मिकरानी को टाइम इण्डिया द्वारा शील्ड देकर सम्मानित किया गया। सोमवार को दिल्ली के डी ब्लॉक जनकपुरी इलाके में आयोजित कवि सम्मेलन व स्वागत समारोह में देश विदेश से पहुंचे मशहूर शायरों व कवियों के बीच उन्हें यह सम्मान मिलने से नगर का नाम रौशन हुआ है। उभरते शायर नबील मिकरानी ने ओजस्वी कलामों से खूब वाहवाही बटोरी। उनके कलाम दर्शकों के दिलों पर छा गये। मंगलवार को नगर पहुंचने पर उन्हें बधाई देने वालों का तांता लग गया। बधाई देने वालों में महमूद मिकरानी, वरिष्ठ पत्रकार गुणवंत सिंह राठौर, चौधरी शेर सिंह, सभासद असलम मलिक, व्यापारी नेता तसलीम अहमद,जाहिद अल्वी आदि शामिल रहे।

वरिष्ठ पत्रकार गुणवंत सिंह राठौर की कलम से

गर्ल्स गैलरी लेडीज गारमेंट्स एवं कॉस्मेटिक शॉप का उद्घाटन

नूरपुर (बिजनौर)। सोमवार को मुरादाबाद रोड पर गर्ल्स गैलरी लेडीज गारमेंट्स एवं कॉस्मेटिक शॉप का उद्घाटन क्षेत्र के प्रबुद्ध समाजसेवी चौधरी जबर सिंह द्वारा पूजा अर्चना के बाद फीता काटकर किया गया।
उदघाटन कार्यक्रम में पश्चिम उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के युवा प्रभारी तसलीम अहमद, युवा नगराध्यक्ष मुकुल गुप्ता, सभासद असलम मलिक, जावेद इदरीसी, राजीव जोशी, पूर्व प्रधानाचार्य राजेंद्र चौधरी, प्रदीप चौधरी, ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के ब्लॉक अध्यक्ष चौधरी शेर सिंह, धामपुर तहसील प्रभारी इंदर सिंह चौहान, जिला संगठन मंत्री गुणवंत सिंह राठौर, चौधरी कुशल पाल सिंह, बिरेन्द्र चौधरी, योगेश शर्मा,एडवोकेट अजयवीर चौधरी, सपा नेता सलीम अंसारी, सुहेल अंसारी, जयपाल सिंह, सतपाल सिंह, चौधरी राजेंद्र चौधरी, चौधरी जयवीर सिंह, कामेंद्र सिंह, विपिन कुमार एडवोकेट,बविवेक चौधरी, नितिन मोहन शर्मा, नसीम अहमद सैफी आदि मौजूद रहे। शॉप स्वामी संजीव चौधरी ने सभी आगंतुकों का आभार प्रकट किया।

आजादी का अमृत महोत्सव: नूरपुर में तिरंगा दौड़ 12 को


नूरपुर/बिजनौर। आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आगामी 12 दिसंबर को नगर में तिरंगा दौड़ का आयोजन किया जाएगा। यह निर्णय गुरुवार को आर आर पब्लिक स्कूल में हुई बैठक में लिया गया।
प्रधानाचार्य प्रणय मनु गुप्ता ने बताया कि भारत सरकार द्वारा स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ को आजादी के अमृत महोत्सव के रूप में मनाया जा रहा है। इसी क्रम में स्कूल प्रबंधन द्वारा युवाओं एवं गणमान्य नागरिकों तक स्वतंत्रता की महत्ता, एकता व देश प्रेम का संदेश देने को तिरंगा दौड़ कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि दौड़ ब्लॉक मुख्यालय से सुबह 7 बजे प्रारंभ होकर नगर के प्रमुख चांदपुर तिराहा, पंजाब नेशनल बैंक, रोडवेज बस अड्डा व शिव मंदिर चौराहे से होते हुए स्योहारा रोड पर आर आर पब्लिक स्कूल पर सम्पन्न होगी। दौड़ में विजेताओं एवं प्रतिभागियों को सम्मानित किया जाएगा।

बैठक में क्रीड़ा भारती अध्यक्ष योगेंद्र पाल सिंह, टीकम सिंह, संजीव डबास, नवीन कुमार, राजेश कुमार, अतुल चौधरी, शेखर चौधरी, पंडित त्रिलोक शर्मा, अनिल कुमार, वीरेंद्र, चंचल कटारिया, नरेंद्र सिंह, नीरज त्यागी तथा अनुराग शर्मा आदि मौजूद रहे।

बाल काव्य प्रतियोगिता में देश विदेश के 24 बच्चों ने दिखाई प्रतिभा

गाजियाबाद के शौर्य अभि ने भी दिखाया दमखम

नई दिल्ली। काव्य मंजरी साहित्यिक_मंच (रजि०) द्वारा बाल दिवस पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हुई बाल काव्य प्रतियोगिता में देश-विदेश से 24 बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता का उद्देश्य था बच्चों की प्रतिभा को निखारने का, उनके अंदर की योग्यता को सबके सामने लाने का और उनको एक ऐसा मंच देने का, जिससे उनको एक नया अनुभव व पहचान मिले।

कविता पाठ का विषय था “शिक्षाप्रद कविता” जिस पर विभिन्न कविताएं सुनने को मिलीं। अपने उत्साह और आत्मविश्वास का परिचय देते हुए बच्चों ने साबित कर दिया कि वर्तमान पीढ़ी आगे जाकर अपनी एक खास पहचान बनाने में कामयाब होगी।

आयोजक डॉ नीरजा मेहता ने सभी बच्चों को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। साथ ही बताया कि *किसी भी प्रतियोगिता में प्रतिभागी की प्रस्तुति खास महत्व रखती है और इस प्रतियोगिता का आकलन हमारे निर्णायकों ने बखूबी किया। प्रबुद्ध निर्णायक प्रहलाद मराठा, सुश्रीइंदु सिंह, सुश्री मनीषा शर्मा ने निष्पक्ष निर्णय दिया और परिणाम इस प्रकार रहा –

पहली श्रेणी का परिणाम

(6 से 8 वर्ष)

प्रथम स्थान – अदिति नागर

द्वितीय स्थान – ध्वनि डुडेजा

तृतीय स्थान- अविका नागर

सराहनीय स्थान

अन्वी बैजल

लायरा डुडेजा

दूसरी श्रेणी का परिणाम –

(9 से 11 वर्ष)

प्रथम स्थान- प्रखर कानूनगो

द्वितीय स्थान – प्रकृति श्रीवास्तव

तृतीय स्थान – शौर्य अभि

सराहनीय स्थान कृतिका कानूनगो शाश्वत श्रीवास्तव

सभी बच्चों को सहभागिता प्रमाण पत्र दिया गया।आयोजन का संचालन डॉ अनीश गर्ग ने मनमोहक अंदाज़ में किया। संयोजिका नेहा शर्मा ‘नेह’, सहयोगिनी पदमा शर्मा ‘आँचल’, मार्गदर्शक डॉ आभा नागर और मंच के सभी रचनाकारों के सहयोग से आयोजन सफल हुआ।

आयोजक डॉ नीरजा मेहता ‘कमलिनी संस्थापिका एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष काव्य मंजरी साहित्यिक मंच (रजि) ने बताया कि अब समाचार, रचनाएँ और फोटो दिए गए प्रारूप के माध्यम से ही भेजना होगा तभी प्रकाशन होगा। प्रारूप के लिए हमारे मेनू सेक्शन पर रचना अपलोड करें का लिंक दिया गया हैं। देखें तथा उसमें ही पोस्ट करें। गौरतलब है कि ‘काव्य मञ्जरी’ चुने हुए रचनाकारों का एक साहित्यिक समूह है जो 29 जनवरी 2016 को स्थापित किया गया था। प्रतियोगिता रविवार, 14 नवंबर 2021 को गूगल मीट पर हुई।

खासपुरा में गुरु नानक देव जी के प्रकाशपर्व पर सजा महान कीर्तन दरबार

वरिष्ठ पत्रकार गुणवंत सिंह राठौर की रिपोर्ट

खासपुरा में गुरु नानक देव जी के प्रकाशपर्व पर सजा महान कीर्तन दरबार। भव्य शोभायात्रा व अखाड़ों का हैरतअंगेज प्रदर्शन।


नूरपुर (बिजनौर) गुरुद्वारा श्री गुरु सिंघ सभा गुरु नानक चौक खासपुरा के तत्वावधान में जगतगुरु श्री गुरु नानक देव जी के 552 वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में 90 वां सालाना महान कीर्तन दरबार सजाया गया। नगर में पंथ की मनमोहक झांकियों के साथ भव्य शोभायात्रा निकाली गई।
रविवार को नवनिर्मित गुरुद्वारा हाल में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की हजूरी में आयोजित अध्यात्मिक सत्संग समारोह में पंथ के विद्वान रागी भाई जसवेंदर सिंह अमृतसर, भाई बलबीर सिंह व जगजीत सिंह बबीहा चंडीगढ़ ने मधुर गुरुवाणी कीर्तन से संगत को निहाल किया। इसके अलावा कथावाचक रविंद्र सिंह अनमोल व दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के यूपी प्रचारक भाई बूटा सिंह ने श्री गुरुनानक देव जी जीवन दर्शन पर प्रकाश डालते हुए उनके उपदेशों पर अमल करने का संदेश दिया। समारोह में गुरुघर के सेवकों को सरोंपा देकर सम्मानित किया गया। संचालन स्टेज सेकेट्री पूर्व प्रधानाचार्य कोमल सिंह ने किया। अरदास उपरांत पंज प्यारो की अगुवाई में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की भव्य शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा में पंथ की मनमोहक झांकियां, अखाड़ा दल आकर्षण का केंद्र रहे। शोभायात्रा और समूचे समारोह के दौरान हल्दौर थानाध्यक्ष उदय प्रताप सिंह और पैजनिया चौकी इंचार्ज विनोद मिश्रा भारी पुलिस और पीएसी बल के साथ सुरक्षा व्यवस्था बनाने में तैनात रहे। समारोह में उपस्थित संगत ने गुरु का लंगर ग्रहण किया। समारोह के आयोजन में कमेटी के प्रधान सतपाल सिंह, सेक्रेटरी कुलदीप सिंह, खजांची रविंद्र सिंह रवि, आडीटर गुरमीत सिंह, अभिषेक सिंह, मा.जोगेंद्र सिंह आदि का सहयोग रहा।

समाज की प्रथम आईएएस अभिलाषा कौर को समाज रत्न से नवाजा
नूरपुर। समारोह में सिख समाज की प्रथम आईएएस चुनी गई अभिलाषा कौर को खालसा संगठन समिति सिख छावनी हैदराबाद के चेयरमैन भाग सिंह द्वारा समिति की ओर से शाल ओढाकर व शील्ड देकर सम्मानित करते हुए समाजरत्न की उपाधि से नवाजा गया। इसके अलावा गुरुद्वारा कमेटी की ओर से भी उन्हे सम्मानित किया गया। इस मौके पर अभिलाषा कौर ने उपस्थित संगत का उन्हें सम्मान देने के लिए आभार प्रकट करते हुए कहा कि उनकी मंशा समाज की बेटियों को देश सेवा मे आगे लाने की है। समाज को उनकी इस सफलता पर गर्व है। बता दें कि इससे पहले शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी अमृतसर की प्रधान बीबी जागीर कौर द्वारा प्रतिनिधि मंडल और गुरु की नगरी श्री पटना साहिब के जत्थेदार भाई रणजीत सिंह द्वारा भी उन्हें सम्मानित किया जा चुका है। अभिलाषा कौर खासपुरा निवासी खालसा इंटर कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य कोमल सिंह की सुपुत्री हैं।

हर हर गंगे के जयघोष से गूंज उठे गंगा घाट

हर हर गंगे के जयघोष से गूंज उठे गंगा घाट कार्तिक पूर्णिमा का पर्व शुरू होते ही श्रद्धालु लगाने लगे अर्ध रात्रि से ही गंगा में डुबकी। दिन निकलते ही शंख तथा मां गंगा के जयकारों के साथ गूंजने लगे मां भागीरथी के तट।

बिजनौर। कार्तिक पूर्णिमा पर जिले भर में गंगा स्नान मेला लगा। इस पावन अवसर पर  लगभग 9 लाख श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई। गंगा घाट हर हर गंगे के जयघोष से गूंज उठा। गंगा स्नान में श्रद्धालुओं ने अपने बच्चों का मुंडन संस्कार कराया और घी के साथ खिचड़ी का प्रसाद ग्रहण कर अपने घरों को लौटे।

विदुर कुटी में मुख्य घाट पर कार्तिक पूर्णिमा गंगा स्नान मेले में उमड़े करीब साढ़े चार लाख श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई। इसके अलावा बैराज गंगा घाट, नांगल सोती, बालावाली, नारनौर, रामगंगा आदि घाटों पर भी लाखों श्रद्धालुओं ने पहुंचकर गंगा स्नान किया। रात्रि 12 बजे से ही श्रद्धालुओं ने गंगा में स्नान करना शुरू कर दिया। सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया। श्रद्धालुओं का जनसैलाब गंगा में आस्था की डुबकी लगाकर अपने-अपने घरों को वापस लौटने लगा है। श्रद्धालुओं ने गंगा के पावन जल में डुबकी लगाकर मां गंगा का आशीर्वाद लिया। विदुर कुटी सहित गंज क्षेत्र में घंटों तक जाम की स्थिति बनी रही।

शुक्रवार को कार्तिक पूर्णिमा का पर्व शुरू होते ही श्रद्धालु अर्ध रात्रि से ही गंगा में डुबकी लगाने लगे। दिन निकलते निकलते मां भागीरथी का तट शंख तथा मां गंगा के जयकारों के साथ गूंजने लगा। गंगा के जल में लोग अपने परिवार के साथ समूह में स्नान करते हुए नजर आए। स्नान के दौरान युवाओं ने गंगा में अठखेलियां कर खूब मौज मस्ती की। इस दौरान लोगों में अपने अपने वाहनों को आगे निकालने की होड़ लगी रही। इस कारण विदुर कुटी तथा गंज क्षेत्र में कई बार जाम की स्थिति बन गई।

महिलाओं ने की मेले में जमकर खरीदारी- मीना बाजार में महिलाओं का जनसैलाब उमड पड़ा। बच्चों व महिलाओं ने जमकर खरीदारी की। झूले एवं सर्कस में भी लोगों ने खूब मनोरंजन किया।

मां गंगा को प्रशाद चढ़ाकर लिया आशीर्वाद– श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई और अनेक दंपतियों ने अपने नवजात शिशु का मुंडन संस्कार कराया। मुंडन संस्कार के बाद अपने बच्चों को मां गंगा में स्नान करा कर उनकी दीर्घायु की कामना की।

गंगा में फंस गए कई ट्रैक्टर- मेले में गंगा की धार में कई ट्रैक्टर पानी में फंस गए। उन्हें निकालने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। कई लोगों ने मिलकर ट्रैक्टर निकलवाए।

गंदगी का ढ़ेर छोड़ गए श्रद्धालु– विदुर कुटी में 4 दिन तक तम्बूओं का ही नजारा दिखा। लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान मेले में पहुंचकर स्नान कर मां गंगा का आशीर्वाद लिया। शुक्रवार को गंगा स्नान मेले से श्रद्धालुओं ने अपने घरों को जाना शुरू कर दिया, लेकिन अपने पीछे गंदगी का अम्बार छोड़ गए। हर तरफ गंदगी के ढे़र लगे हुए हैं। गंगा घाट के अलावा बीच मेले में गंदगी ही गंदगी पसरी पड़ी है। गंदगी को साफ कराने के लिए जिला प्रशासन अब कड़ी मशक्कत से जुटा हुआ है।

गंगा घाट पर खिचड़ी और घी का लिया आनंद– खिचड़ी और देसी घी की खुशबू से गंगा मेले महका रहा। लोगों ने खिचड़ी के साथ अचार, गुड़ और दही का भी आनंद लिया। वहीं गंगा स्नान मेले में चल रहे कई भंडारों में श्रद्धालुओं खिचड़ी का प्रशाद गृहण किया।

विदुर कुटी पर अभी भी हैं काफी श्रद्धालु– गंगा स्नान करने के बाद करीब 80 प्रतिशत श्रद्धालु तो अपना डेरा उखाड़कर अपने घर को लौट रहे है, लेकिन अभी भी काफी श्रद्धालु गंगा घाट पर जमे हुए हैं। इनकी घर वापसी आज होने की संभावना है।

गंगा बैराज पर लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी- बिजनौर। गंगा बैराज पर लाखों श्रद्धालुओं ने आस्था की डूबकी लगाकर मां गंगा का आशीर्वाद लिया। मेले में सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। देवी मां के जागरण के चलते माहौल भक्तियम बना रहा। श्रद्धालुओं ने स्नान करने के बाद देशी घी के साथ खिचड़ी, चाट-पकौड़ी, जलेबी व अन्य व्यंजनों का भरपूर आनंद उठाया। 

नांगल खादर मेले में उमड़े हजारों श्रद्धालु- बिजनौर। कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले नांगल खादर मेले में हजारों लोगों ने गंगा में आस्था की डुबकी लगाई तथा जमकर खरीदारी करते हुए चाट पकोड़ी का लुत्फ उठाया। गुरुवार की शाम से नांगल सोती में गंगा किनारे लगने वाले मेले में हजारों श्रद्धालुओं ने गंगा जल में डुबकी लगाई। इस दौरान लोगों ने पितृदान करके गंगा में दीपदान कर प्रसाद चढ़ाया। मेले में लोगों ने अपने बच्चों का मुंडन संस्कार भी कराया। खेल खिलौनों, मिट्टी के बर्तनों, श्रृंगार के सामान सहित अनेक घरेलू उपयोगी सामान की जमकर खरीदारी की गई। चाट पकौड़ी, जलेबी का जमकर लुत्फ उठाया गया। बच्चों ने झूले पर झूल कर और नवयुवकों ने नौका विहार कर खूब मनोरंजन और मस्ती की। मेले में मेला समिति, किसान यूनियन, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग, आर्य समाज पूर्ण सहयोग किया।

नगीना चौक पर लगा रहा जाम- धामपुर में गंगा स्नान के मौके पर नगीना चौक पर जाम की स्थिति रही। इस कारण लोग काफी परेशान रहे। जाम खुलवाने के लिए पुलिसकर्मी मुस्तैद रहे, लेकिन भीड़ अधिक होने के कारण जाम की स्थिति थोड़े समयंतराल पर बनी रही। वहीं शेरकोट में खो नदी में काफी पानी होने के बावजूद लोगों ने कुछ जगह स्नान किया। धामपुर शहर के अलावा आसपास के गांवों से लोग गंगा स्नान के लिए हरेवली, भूतपुरी आदि की ओर गए।

20 घंटे जाम में फंसा रहा दिल्ली-पौड़ी हाईवे- गंगा स्नान मेले के चलते दिल्ली-पौड़ी हाईवे पर करीब 20 घंटे जाम लगा रहा। हाईवे पर वाहन रेंगते रहे। दूर-दूर तक वाहनों की लंबी कतारें लगी रहीं। मेला हल्का होने के बाद स्वयं ही जाम खुलना शुरू हो गया। यातायात पुलिस पूरे दिन जाम खुलवाने के प्रयास में लगी रही। श्रद्धालुओं ने अपने वाहनों व बैलबुग्गी को हाईवे किनारे व इधर-उधर लगा दिया था। इस कारण गुरुवार की शाम से लगना शुरू जाम शाम करीब साढ़े सात बजे तक बिजनौर से लेकर मीरापुर बाइपास तक लग गया। हाईवे पर दूर-दूर तक वाहन व उनकी लाइटें नजर आती रहीं। हाईवे पर वाहन रेंगते रहे। बीच-बीच में  थोड़ी देर खुलने के बाद भी जाम लगता रहा। शुक्रवार  तड़के से ही स्थानीय श्रद्धालुओं के भी गंगा स्नान मेले में पहुंचना शुरू होने से भयंकर जाम लग गया। दोपहर करीब दो से तीन बजे के बाद जब मेला हल्का हुआ और श्रद्धालु घरों को लौटना शुरू हुए, तो जाम से लोगों को राहत मिलनी शुरू हुई। ।

कालरात्रि के चाँद गुरु नानक देव

मित्रों, इस वर्ष के गुरु नानक दिवस के उपलक्ष्य में अपने सिख भाई व पड़ोसी के यहाँ प्रभात-फेरी कथा में जाने का मौका मिला। बड़े प्यार और आदर से निमंत्रण दिया था, इसलिए कुंडलिनी की प्रेरणा से सुबह के चार बजे से पहले ही आंख खुल गई। जैसे ही तैयार होकर कथा में पत्नी के साथ पहुंचा, वैसे ही गुरुद्वारा साहिब से ग्रन्थ साहिब भी पहुंच गए। ऐसा लगा कि जैसे मुझे ही सेवादारी के लिए विशेष निमंत्रण मिला था। बहुत ही भावपूर्ण व रोमांचक दृश्य था। सुबह साढ़े चार बजे से लेकर साढ़े पांच बजे तक मधुर संगीत के साथ शबद कीर्तन हुआ, अच्छा लगा। यह समय ब्रह्ममुहूर्त के समय के बीचोंबीच था, जो लगभग 4 बजे से 6 बजे तक रहता है। ऐसा लगा कि हम पूरी रात भर कीर्तन कर रहे हों। ऐसा ब्रह्ममुहूर्त की उच्च आध्यात्मिक ऊर्जा के कारण ही लगता है। इसीलिए आध्यात्मिक साधना के लिए यही समय सर्वोपरि निश्चित किया गया है। ब्रह्ममुहूर्त में आध्यात्मिक साधना से कुंडलिनी चरम के करीब पहुंच जाती है। मुझे भी कुछ ऐसा ही लगा। कथा-कीर्तन के अंत में हल्का जलपान भी हुआ। आदमी हर पल कुछ न कुछ सीखता है। सिख मतलब सीख। इससे सिद्ध हो जाता है कि यह धर्म अत्याधुनिक और वैज्ञानिक भी है, क्योंकि आजकल सीखने का ही तो युग है। इसी तरह से इसमें सेवादारी का भी बड़ा महत्त्व है। आजकल का उपभोक्तावाद, व्यावसायिक व प्रतिस्पर्धा का युग जनसेवा या पब्लिक सर्विस का ही तो युग है। आत्मसुरक्षा का भाव तो इस धर्म के मूल में है। यह भाव भी आजकल बहुत प्रासंगिक है, क्योंकि हर जगह झूठ-फरेब, और अत्याचार का बोलबाला दिखता है। ब्रह्ममुहूर्त के बारे में सुना तो बहुत था, पर खुद अच्छी तरह से अनुभव नहीं किया था। लोगों को जो इसकी शक्ति का पता नहीं चलता, उसका कारण यही है कि वे ढंग से साधना नहीं करते। शक्ति के पास बुद्धि नहीं होती। बुद्धि आत्मा या विवेक के पास होती है। यदि शक्ति के साथ विवेक-बुद्धि का दिशानिर्देशन है, तभी वह आत्मकल्याण करती है, नहीं तो उससे विध्वंस भी संभव है। उदाहरण के लिए पाकिस्तान को देख सकते हैं। सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी सेना निर्दोष व निहत्थी जनता को मारती है। कई बार यह देश कम, और दुष्प्रचार करने वाली मशीन ज्यादा लगता है। बन्दर के हाथ उस्तरा लग जाए, तो अंजाम कुछ भी हो सकता है। शक्ति तो एक धक्का है। यदि मन में पहले से ही कचरा है, तो शक्ति से उसीको धक्का मिलेगा, जिससे वह और ज्यादा फैल जाएगा। इससे तो आदमी ब्रह्ममुहूर्त में जागने से भी तौबा करेगा। यदि मन में कुंडलिनी है, तो विकास का धक्का कुंडलिनी को ही मिलेगा। मेरा जन्म से ही एक हिंदु परिवार से सम्बन्ध रहा है। मेरे दादाजी एक प्रख्यात हिंदु पुरोहित थे। मैंने कई वर्षों तक उनके साथ एक शिष्य की तरह काम किया है। लगता है कि वे अनजाने में ही मेरे गुरु बन गए थे। मुझे तो हिंदु धर्म और सिख धर्म एकजैसे ही लगे। दोनों में धर्मध्वज, ग्रन्थ और गुरु का पूजन या सम्मान समान रूप से किया जाता है। दरअसल, भीतर से सभी धर्म एकसमान हैं, कुछ लोग बाहर-2 से भेद करते हैं। तंत्र के अनुसार, कुंडलिनी ही गुरु है, और गुरु ही कुंडलिनी है। हाँ, क्योंकि सिक्ख धर्म धर्मयौद्धाओं से जुड़ा हुआ है, इसलिए इसमें पारम्परिक हिंदु धर्म की अपेक्षा थोड़ी ज्यादा संक्षिप्तता, व्यावहारिकता और कट्टरता होना स्वाभाविक ही है। पर वह भी कुछ विशेष धर्मों के सामने तो नगण्यतुल्य ही है। हालांकि सिक्ख धर्म बचाव पक्ष को लेकर बना है, आक्रामक पक्ष को लेकर नहीं। यदि कभी आक्रामक हुआ भी है, तो अपने और हिंदु धर्म के बचाव के लिए ही हुआ है, अन्यथा नहीं। मैं यहाँ किसी धर्मविशेष का पक्ष नहीं ले रहा हूँ। हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं। केवल मानवीय सत्य को स्पष्ट कर रहा हूँ। युक्तिपूर्ण विचार व लेखन से सत्य ज्यादा स्पष्ट हो जाता है। कुछ न कुछ कट्टरता तो सभी धर्मों में है। कुछ सकारात्मक कट्टरता तो धर्म के लिए जरूरी भी है, पर यदि वह मानवता और सामाजिकता के दायरे में रहे, तो ज्यादा बेहतर है, जिसके लिए सिक्ख धर्म अक्सर जाना और माना जाता है। मध्ययुग में जिस समय जेहादी आक्रांताओं के कारण भारतीय उपमहाद्वीप अंधेरे में था, उस समय ईश्वर की प्रेरणा से पूर्णिमा के पूर्ण चन्द्रमा की तरह गुरु नानकदेव का अभ्युदय हुआ था, जिसने भयजनित अंधेरे को सुहानी चांदनी में तब्दील कर दिया था। (साभार)

सतनाम श्री वाहे गुरु, गुरु पर्व की ढेर सारी शुभकामनाएं.. आप सभी पर वाहे गुरु की मेहर हो! 552वें गुरुपर्व की लख-लख बधाईयां…

कुंबले की जगह सौरव गांगुली संभालेंगे बीसीसीआई अध्यक्ष की जिम्मेदारी

नई दिल्ली (एजेंसी)। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को आईसीसी पुरुष क्रिकेट समिति का चेयरमैन नियुक्त किया गया है। यह फैसला दुबई में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की बोर्ड बैठक में लिया गया। गांगुली अपने पूर्व साथी और भारत के कप्तान अनिल कुंबले की जगह लेंगे, जिन्होंने अपने नौ साल के कार्यकाल पूरा करने के बाद पद को छोड़ा है।

आईसीसी अध्यक्ष ग्रेग बार्कले ने कहा, मुझे आईसीसी क्रिकेट समिति के चेयरमैन के पद पर सौरव का स्वागत करते हुए खुशी हो रही है। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक और बाद में एक प्रशासक के रूप में उनका अनुभव हमें आगे बढ़ने और क्रिकेट निर्णयों को सही दिशा प्रदान करने में मदद करेगा। मैं अनिल को भी धन्यवाद देना चाहता हूं। पिछले नौ वर्षों में उनके उत्कृष्ट नेतृत्व के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय खेल में सुधार करने में मदद मिली, जिसमें डीआरएस और संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन की पहचान करना शामिल है।

आईसीसी बोर्ड ने आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (डब्ल्यूटीसी) को जारी रखने की भी मंजूरी दी। जिसमें शीर्ष दो टीमों के बीच फाइनल के साथ दो सालों तक नौ टीमों के बीच टूर्नामेंट आयोजित किया जाएगा।

2027 में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के 14 टीम के आयोजन के विस्तार को भी बोर्ड ने मुख्य कार्यकारी समिति (सीईसी) की एक सिफारिश को स्वीकार कर लिया है। इस आयोजन के लिए कुछ योग्यता रखी गई हैं, जिसमे ओडीआई रैंकिंग के टॉप 10 टीमें सीधे क्वोलीफाई करेगी। वहीं, अन्य टीमों को क्वालीफायर राउंड के माध्यम से टूर्नामेंट में जगह बनानी पड़ेगी।

इसके साथ ही, बोर्ड ने प्रथम श्रेणी की स्टेटस को भी अनुमति दी, जो पुरुषों के खेल के साथ महिला क्रिकेट पर लागू किया जा रहा है। वहीं, आने वाले समय में आईसीसी महिला समिति को आईसीसी महिला क्रिकेट समिति के रूप में जाना जाएगा और महिला क्रिकेट से संबंधित सभी निर्णय की जानकारी सीईसी को सौंपेगी जाएगी। क्रिकेट वेस्टइंडीज के सीईओ जॉनी ग्रेव को आईसीसी महिला क्रिकेट समिति में नियुक्त किया गया है।

बार्कले के अनुसार, यह बोर्ड की बैठकों का महत्वपूर्ण फैसला रहा है और मैं अपने साथी बोर्ड निदेशकों को दुबई आने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। यह हमारी दो साल से अधिक समय बाद आमने-सामने बैठक हुई है। कोरोना महामारी में अंतर्राष्ट्रीय यात्रा आसान नहीं है, लेकिन हमने एक ही कमरे में बैठकर महत्वपूर्ण फैसले किए हैं।

बधाई हो बधाई.. खुशी है छाई..

बधाई हो बधाई.. खुशी है छाई..

हिंदीसेवी मंजु मिश्रा को अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी अनुयाई परिवार के लिए बहुत ही गर्व और खुशी का दिन है।
अमेरिका में हिंदी का प्रचार-प्रसार करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता एवं आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की अमेरिकी इकाई की अध्यक्ष श्रीमती मंजु मिश्रा को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने “लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड” से सम्मानित किया है।


लखनऊ निवासी श्रीमती मंजु मिश्रा अमेरिका के कैलिफोर्निया में प्रवास कर रही हैं। अमेरिका में आप हिंदी के प्रचार प्रसार के साथ-साथ जरूरतमंदों की हर तरह से मदद करने को हर वक्त तत्पर रहती हैं। अमेरिका में कुछ मित्रों के साथ मिलकर वर्ष 2011 में श्रीमती मंजु मिश्रा ने विश्व हिंदी ज्योति नामक संस्था की शुरुआत की। यह संस्था अमेरिका के प्रवासी भारतीयों के बच्चों के साथ साथ अमेरिकी नागरिकों को भी हिंदी सिखाने का काम करती है। दो दशक से भी अधिक समय से कैलिफोर्निया में रह रहीं श्रीमती मंजु मिश्रा अमेरिका में अब तक हजारों भारतीय मूल के तथा गैर भारतीयों को हिंदी भाषा सिखा चुकी हैं।
अपने काम से यह संस्था आज काफी लोकप्रिय हो चुकी है। प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले हिंदी संवर्धन के कार्यक्रमों में भारतीय काउंसलेट भी सहयोग करता है। हिंदी की उल्लेखनीय सेवा के लिए आपको वर्ष 2014 में विश्व हिंदी सेवा सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है। उनका सपना है कि अमेरिका के स्कूलों में भी छात्रों के लिए विदेशी भाषा के रूप में हिंदी एक विकल्प हो। अपने इस सपने को पूरा करने में भी वह लगातार प्रयासरत हैं।


मंजु मिश्रा का जीवन पूर्ण रूप से समाज सेवा एवं हिंदी की सेवा को समर्पित है। श्रीमती मंजु मिश्रा उत्तर प्रदेश मंडल ऑफ अमेरिका (उपमा) की बोर्ड मेम्बर हैं तथा भारत में चलने वाले संस्था के कार्यक्रमों का काम-काज देखती हैं। प्रवासी भारतीय नीलू गुप्ता द्वारा द्वारा गठित उपमा संस्था उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बच्चों की पढ़ाई और जरूरतमंदों की आर्थिक मदद सुनिश्चित करती है। इस संस्था के प्रोजेक्ट बुंदेलखंड रीजन के चित्रकूट एवं निसवारा में संचालित हो रहे हैं। एक प्रोजेक्ट साईधाम (फ़रीदाबाद- हरियाणा) में भी चल रहा है। कोरोना संकट के दौरान भी उत्तर प्रदेश मंडल ऑफ अमेरिका (उपमा) ने उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में जरूरतमंदों के लिए 20 लाख से अधिक रुपए भेजें। इस आर्थिक मदद से विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई गई। भोपाल की सामाजिक कार्यकर्ता श्रीमती माया विश्वकर्मा की संस्था सुकर्मा को भी श्रीमती मंजु मिश्रा ने आई.सी. सी ट्राई वैली के माध्यम से मास्क सेनीटाइजर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए आर्थिक मदद उपलब्ध कराई थी। कोरोना संकट के दौरान उपमा के किए गए प्रयासों की अभी हाल ही में गौरव अवस्थी द्वारा संकलित और संपादित कोरोना योद्धाओं के काम पर केंद्रित पुस्तक “ताकि सनद रहे” में भी प्रमुखता से चर्चा हुई है। नारिका नाम की संस्था जो सैन फ़्रैन्सिस्को बे एरिया में घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं के लिए काम करती है उसके साथ बोर्ड मेम्बर के रूप में जुड़ कर आप भारतीय महिलाओं की मदद करने का काम भी कई वर्षों से कर रही हैं ।
श्रीमती मंजु मिश्रा को हिंदी साहित्य में भी महारत हासिल है। उनका एक काव्य संग्रह “जिंदगी यूं तो”प्रकाशित हो चुका है। 50 से अधिक संग्रहों एवं विभिन्न ई-पत्रिकाओं में भी आपकी कविता और कहानियां प्रकाशित हो चुकी हैं।
आपकी मातृभाषा और सामाजिक सेवा को देखते हुए ही आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की ओर से वर्ष 2017 में आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी युगप्रेरक सम्मान से रायबरेली के भव्य समारोह में सम्मानित किया गया था। तभी से आप मातृभाषा हिंदी के साथ-साथ आचार्य द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान को भी अपना संरक्षण-सहयोग-स्नेह प्रदान कर रही हैं।
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन द्वारा लाइव टाइम अचीवमेंट अवार्ड प्राप्त होने पर श्रीमती मंजु मिश्रा को आचार्य द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की भारत इकाई एवं हिंदी प्रेमियों की तरफ से बहुत-बहुत बधाई। आप का सानिध्य पाकर हम सब गौरवान्वित हैं। आप ऐसे ही सामाजिक कार्य और सात समंदर पार मातृभाषा हिंदी को पुष्पित पल्लवित करती रहें, यही सच्ची राष्ट्र सेवा है। यही राष्ट्रीय धर्म है। यही भारतीय समाज का मर्म है।

हम सब हिंदी प्रेमी भी आपके स्वास्थ्य सार्थक और दीर्घ जीवन की कामना करते हैं।

गौरव अवस्थी “आशीष”
रायबरेली/उन्नाव

प्रवासी भारतीय मंजु मिश्रा को अमेरिका का लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

प्रवासी भारतीय मंजु मिश्रा को अमेरिका का लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

नई दिल्ली। अमेरिका में हिंदी का प्रचार-प्रसार करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता एवं आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की अमेरिकी इकाई की अध्यक्ष श्रीमती मंजु मिश्रा को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने “लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड” से सम्मानित किया है।


लखनऊ निवासी श्रीमती मंजु मिश्रा अमेरिका के कैलिफोर्निया में प्रवास कर रही हैं। अमेरिका में आप हिंदी के प्रचार प्रसार के साथ-साथ जरूरतमंदों की हर तरह से मदद करने को हर वक्त तत्पर रहती हैं। अमेरिका में कुछ मित्रों के साथ मिलकर वर्ष 2011 में श्रीमती मंजु मिश्रा ने विश्व हिंदी ज्योति नामक संस्था की शुरुआत की। यह संस्था अमेरिका के प्रवासी भारतीयों के बच्चों के साथ साथ अमेरिकी नागरिकों को भी हिंदी सिखाने का काम करती है। दो दशक से भी अधिक समय से कैलिफोर्निया में रह रहीं श्रीमती मंजु मिश्रा अमेरिका में अब तक हजारों भारतीय मूल के तथा गैर भारतीयों को हिंदी भाषा सिखा चुकी हैं।
अपने काम से यह संस्था आज काफी लोकप्रिय हो चुकी है। प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले हिंदी संवर्धन के कार्यक्रमों में भारतीय काउंसलेट भी सहयोग करता है। हिंदी की उल्लेखनीय सेवा के लिए आपको वर्ष 2014 में विश्व हिंदी सेवा सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है। उनका सपना है कि अमेरिका के स्कूलों में भी छात्रों के लिए विदेशी भाषा के रूप में हिंदी एक विकल्प हो। अपने इस सपने को पूरा करने में भी वह लगातार प्रयासरत हैं।


अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन द्वारा लाइव टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किए जाने पर समिति के संयोजक गौरव अवस्थी, अध्यक्ष विनोद शुक्ला, वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह, लेखक पत्रकार श्रीमती कुसुमलता सिंह, सप्रे संग्रहालय के संस्थापक पद्मश्री विजय दत्त श्रीधर, लखनऊ की साहित्यकार स्नेहलता, श्रीमती संध्या सिंह, श्रीमती कल्पना वार्ष्णेय, नई दिल्ली की पत्रकार शेफाली सुरभि ने श्रीमती मंजु मिश्रा को बधाई दी है।


कोरोना संकट में भी भारतीयों की मदद में सक्रिय रहीं मंजु मिश्रा
मंजु मिश्रा का जीवन पूर्ण रूप से समाज सेवा एवं हिंदी की सेवा को समर्पित है। श्रीमती मंजु मिश्रा उत्तर प्रदेश मंडल ऑफ अमेरिका (उपमा) की बोर्ड मेम्बर हैं तथा भारत में चलने वाले संस्था के कार्यक्रमों का काम-काज देखती हैं। प्रवासी भारतीय नीलू गुप्ता द्वारा द्वारा गठित उपमा संस्था उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बच्चों की पढ़ाई और जरूरतमंदों की आर्थिक मदद सुनिश्चित करती है। इस संस्था के प्रोजेक्ट बुंदेलखंड रीजन के चित्रकूट एवं निसवारा में संचालित हो रहे हैं। एक प्रोजेक्ट साईधाम (फ़रीदाबाद- हरियाणा) में भी चल रहा है। कोरोना संकट के दौरान भी उत्तर प्रदेश मंडल ऑफ अमेरिका (उपमा) ने उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में जरूरतमंदों के लिए 20 लाख से अधिक रुपए भेजे। इस आर्थिक मदद से विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई गई। भोपाल की सामाजिक कार्यकर्ता श्रीमती माया विश्वकर्मा की संस्था सुकर्मा को भी श्रीमती मंजु मिश्रा ने आई.सी. सी ट्राई वैली के माध्यम से मास्क सेनीटाइजर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए आर्थिक मदद उपलब्ध कराई थी। कोरोना संकट के दौरान उपमा के किए गए प्रयासों की अभी हाल ही में “गौरव अवस्थी” द्वारा संकलित और संपादित कोरोना योद्धाओं के काम पर केंद्रित पुस्तक “ताकि सनद रहे” में भी प्रमुखता से चर्चा हुई है। “नारिका” नाम की संस्था जो सैन फ़्रैन्सिस्को बे एरिया में घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं के लिए काम करती है, उसके साथ बोर्ड मेम्बर के रूप में जुड़ कर आप भारतीय महिलाओं की मदद करने का काम भी कई वर्षों से कर रही हैं।


आचार्य द्विवेदी युग प्रेरक सम्मान से हो चुकी है सम्मानित
सात समंदर पार अमेरिका में मातृभाषा और सामाजिक सेवा को देखते हुए ही आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की ओर से वर्ष 2017 में आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी युगप्रेरक सम्मान से रायबरेली के भव्य समारोह में सम्मानित किया गया था। तभी से आप मातृभाषा हिंदी के साथ-साथ आचार्य द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान को भी अपना संरक्षण-सहयोग-स्नेह प्रदान कर रही हैं। इसी वर्ष उन्होंने आचार्य द्विवेदी की स्मृतियों को जीवंत बनाने के लिए अमेरिकी इकाई की अध्यक्ष का परिवार भी ग्रह किया है।

लोग दीर्घायु होंगे, स्वस्थ होंगे तो राष्ट्र का धन विकास के कार्यों में लगेगा: राजेश सैनी

राष्ट्रीय प्राकृतिक चिकित्सा दिवस पर गोष्ठी का आयोजन। मंडी धनौरा से आए चेयरमैन का फूल मालाओं से भव्य स्वागत 

बिजनौर। इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन इकाई जनपद बिजनौर के जिला अध्यक्ष डॉक्टर नरेंद्र सिंह संरक्षक राजपाल सिंह योगी, अनंत योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा सेवा संस्थान के अध्यक्ष योगेश कुमार, सचिव अनंत कुमार, कोषाध्यक्ष श्रीमती सुनीता, सदस्य सोमदत्त शर्मा, उपाध्यक्ष राजवीर सिंह  एडवोकेट, मंडी धनौरा जिला अमरोहा से आए राजेश सैनी चेयरमैन भाजपा, उनकी पत्नी डॉली सैनी, संजीव सैनी, ललित सैनी, चंद्रप्रकाश, चंद्रभान,  जयप्रकाश, बिजनौर नहर कॉलोनी से डालचंद, भरत विहार से इंद्रपाल, मास्टर राजीव कुमार, रवि कुमार प्राकृतिक चिकित्सा गोष्ठी में उपस्थित रहे।

इस अवसर पर श्री सैनी ने कहा 18 नवंबर 2021 प्राकृतिक चिकित्सा के कार्यक्रम के लिए समाज को स्वस्थ करने की योजना बनाई जाए। समाज को बिना किसी औषधि के कैसे स्वस्थ करना है, इसके लिए गांव-गांव, शहर-शहर में प्राकृतिक चिकित्सा का प्रचार प्रसार आंदोलन के रूप में हो ताकि प्रत्येक व्यक्ति बिना किसी औषधि के दीर्घायु और स्वस्थ हो। इससे समाज का और राष्ट्र का दोनों प्रकार से लाभ होगा। लोग दीर्घायु होंगे, स्वस्थ होंगे तो राष्ट्र का धन विकास के कार्यों में लगेगा। इंटरनेशनल नेचरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन यूनिट बिजनौर एवं योगी अनंत योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा सेवा ट्रस्ट के लिए पूरी मदद करने के लिए पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि हम प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग के लिए तन मन धन से पूर्ण तरीके से सहायता करेंगे।

इस अवसर पर डॉक्टर नरेंद्र सिंह जिला अध्यक्ष इंटरनेशनल नेचरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन यूनिट बिजनौर, योगी अनंत योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा सेवा ट्रस्ट के अध्यक्ष योगेश कुमार ने चेयरमैन राजेश सैनी का फूल मालाओं से स्वागत किया और जनपद बिजनौर में आने के लिए उनका हृदय से धन्यवाद किया। बाद में सभी लोगों को जलपान कराया गया।

खेलों व स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करेगी क्रीड़ा भारती

क्रीड़ा भारती करेगी खेलों व स्वास्थ्य के प्रति जागरूक। 12 जनवरी को होगी एक दौड़ राष्ट्र के नाम। जनपद की सभी तहसीलों में होगी दौड़


बिजनौर। क्रीड़ा भारती की बैठक डीएवी इंटर कालेज बिजनौर के गोलवलकर कक्ष में योगेन्द्र पाल सिंह योगी की अध्यक्षता व जैनेन्द्र सिंह के संचालन में सम्पन्न हुई।

बैठक में जनपद में खेलों व स्वास्थ्य के प्रति युवाओं को जागरूक करने के लिए स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर 12 जनवरी को जनपद की समस्त तहसीलों में एक दौड़ राष्ट्र के नाम आयोजन करने का निर्णय लिया गया।
बैठक में कई महत्वपूर्ण लिए गए, जिनके अन्तर्गत कब्बड्डी, शूटिंग वॉलीबॉल, फुटबॉल, कुश्ती, शूटिंग व रोलर स्केटिंग समेत कुल छःह खेलों का चयन कर प्रतिवर्ष एक जूनियर वर्ग की जनपद स्तरीय प्रतियोगिता कराने, अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को महिला सशक्तिकरण हेतु वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई दौड़ प्रतियोगिता धामपुर व बिजनौर मुख्यालय पर आयोजित की जाएगी। दिसंबर के अंत तक शूटिंग वॉलीबॉल, कब्बड्डी व कुश्ती प्रतियोगिता कराने का निर्णय लिया गया। स्थान व दिनांक निर्धारित करने की जिम्मेदारी धर्मदेव भाटी आकाश चौधरी, सुधीर कुमार दी गई।
बैठक में विद्या भारती के प्रांतीय मंत्री डा. सुबोध शर्मा व क्रीड़ा भारती जनपद बिजनौर के पालक उदयवीर सिंह ने क्रीड़ा भारती के विस्तार पर बल देते हुए कहा कि युवाओं के चरित्र निर्माण व राष्ट्र निर्माण के लिए क्रीड़ा भारती को ग्राम स्तर पर पहुंचाना जरूरी है।
क्रीड़ा भारती द्वारा समय-समय पर कालेजों में खेल प्रश्नोत्तरी व वाद विवाद व योग प्रतियोगिताओं को कराने का निर्णय भी लिया, जिसके लिए अभी से प्रयास प्रारंभ किया जायेगा
बैठक में देशराज सिंह, अरविंद अहलावत, मुज्जफर ज़ैदी, डिम्पल सिंह, प्रीतीका राठी, विनय तितोरिया, ज्ञान सिंह, संजीव डवास ,दीपक राज ,प्रभात कुमार, मनोज यादव, अशोक त्यागी आदि ने विचार व्यक्त किए

पं. अमित कुमार शांडिल्य को मिली सर्वदलीय गौ रक्षा मंच के प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी

सर्वदलीय गौ रक्षा मंच के प्रदेश अध्यक्ष बने पंडित अमित कुमार शांडिल्य


नूरपुर (बिजनौर)। सर्व दलीय गौरक्षा मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज श्री धर्मवीर ठाकुर जयपाल सिंह नयाल सनातनी ने मूलतः मोहल्ला रामनगर हाल में मेरठ निवासी पंडित अमित कुमार शांडिल्य को मंच का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया है। उनके मनोयन पर बीजेपी के मेरठ महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंघल, राज्य मंत्री लोकेश प्रजापति, बलराज गुप्ता मंडल अध्यक्ष मेरठ भाजपा के अलावा नूरपुर क्षेत्र के प्रबुद्धजनों ने हर्ष व्यक्त कर बधाई दी है।

रायबरेली में सम्मानित हुए कोरोना योद्धा, आंसू भी छलके

सम्मान समारोह
आचार्य स्मृति दिवस पर फिरोज गांधी कालेज सभागार में हुआ भव्य कार्यक्रम
खचाखच भरा रहा सभागार। आचार्य द्विवेदी को सभी ने किया याद


रायबरेली। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी की स्मृति में आयोजित सम्मान समारोह में देश के विभिन्न राज्यों से आए कोरोना योद्धाओं को खचाखच भरे सभागार में सम्मानित किया गया। योद्धाओं की गाथा सुनकर लोगों की आंखों में आंसू आ गए। योद्धा भी भाव विह्वल हो गए।

रायबरेली ने किया असली सम्मान-
आचार्य स्मृति दिवस के उपलक्ष्य में फिरोज गांधी कालेज सभागार में आचार्य द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की ओर से आयोजित कार्यक्रम में समाजसेवी मुकेश बहादुर सिंह ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान लोगों की जान बचाने वाले यह योद्धा देश के प्रेरणा स्रोत हैं। नई दिल्ली से आए वरिष्ठ पत्रकार संजीव कुमार ने योद्धाओं के सम्मान में उमड़े जनसमूह का उल्लेख करते हुए कहा कि रायबरेली ने इन्हें योद्धाओं के प्रति असली सम्मान प्रकट किया है।


महाराष्ट्र से आए कोरोना योद्धा राहुल तिवरेकर ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान आदिवासियों की सेवा का संकल्प एक कठिन काम था, लेकिन दिगंत स्वराज फाउंडेशन के स्वयंसेवकों ने आदिवासियों के बच्चों की पढ़ाई जारी रखने की चुनौती स्वीकार की और 70 गांवों के करीब 2000 आदिवासी बच्चों की पढ़ाई स्पीकर के माध्यम से कराई गई।

गुजरात के सूरत शहर से आए कोरोना योद्धा अजय राय पलायन करने वाले मजदूरों की सेवा के बीच ही छोटे भाई के हुए निधन की बात कहते हुए रो पड़े। उनकी गाथा सुनकर लोग भी भाव विह्वल हो गए।
मणिपुर के कोरोना योद्धा मथनमी हुंग्यो ने बताया कि पहाड़ों में लॉकडाउन के दौरान भूखे लोगों को राशन पहुंचाना कितना कठिन था? उन्होंने कहा कि लोगों के सहयोग से राशन एकत्र कर गांवों में फंसे लोगों को जीवन दिया गया। पंजाब के कोरोना योद्धा हरजीत सिंह गिल ने उस वाकये का भावपूर्ण वर्णन किया, जब तलवार से लैस निहंगों ने हमला कर हाथ की कलाई काट दी थी। इस गाथा को सुनकर सब के रोंगटे खड़े हो गए।


लखनऊ की कोरोना योद्धा श्रीमती वर्षा वर्मा ने कहा कि लॉकडाउन संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार करा कर सम्मान से अंतिम विदाई के लिए “एक कोशिश ऐसी भी अभियान..” चलाया गया। एक साधन संपन्न दोस्त की मौत के बाद एंबुलेंस मिलने में आई कठिनाई ने इस काम के लिए प्रेरित किया। उनको एंबुलेंस की मुफ्त सेवा भी उपलब्ध कराई गई।


समिति के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने रूपरेखा प्रस्तुत की और कोषाध्यक्ष विनय द्विवेदी ने अभियान पर प्रकाश डाला। महामंत्री अनिल मिश्रा ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। इस मौके पर डॉ आर. एस. मालवीय, पीएनबी के सर्किल हेड रोहिताश्व इंद्रायण, डॉ ज्ञानेंद्र चतुर्वेदी, डॉक्टर अमिता खुबेले, राजीव भार्गव, मुक्ता भार्गव, निर्मल सिंह, राजेश वर्मा, डॉ रुचि सिंह, महेश प्रताप सिंह, वीरेंद्र विक्रम सिंह भाजपा नेता अजय त्रिपाठी, डॉ मनीष चौहान राकेश भदौरिया, सभासद एसपी सिंह, डॉक्टर बृजेश सिंह, सुनील ओझा, अमर द्विवेदी, सुधीर द्विवेदी, राकेश मोहन मिश्रा, स्वतंत्र पांडे, राजेश द्विवेदी, घनश्याम मिश्रा, अभिषेक मिश्रा आदि उपस्थित रहे।

हरजीत सिंह को मिला प्रभाष जोशी स्मृति सम्मान

रायबरेली। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की ओर से पटियाला पंजाब से आए हरजीत सिंह गिल को प्रभाष जोशी स्मृति सम्मान प्रदान किया गया। महाराष्ट्र के कोरोना योद्धा राहुल तिवरेकर को डॉक्टर राम मनोहर त्रिपाठी लोक सेवा सम्मान, मथनमी हुंग्यो को शिवानंद मिश्र लाले सम्मान और अजय राय को सरिता द्विवेदी स्मृति सम्मान से सम्मानित किया गया।
पद्मश्री पुरस्कार मिलने की वजह से नई दिल्ली के कोरोना योद्धा जितेंद्र सिंह शंटी नहीं आ पाए। उन्हें ऑनलाइन आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी युग प्रेरक सम्मान दिया गया। उनका वीडियो मैसेज सभागार में सुनाया गया।

स्मारिका “आचार्य पथ” का विमोचन-
रायबरेली। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की ओर से प्रति वर्ष प्रकाशित की जाने वाली स्मारिका “आचार्य पथ” का विमोचन कोरोना योद्धाओं और समाजसेवी मुकेश बहादुर सिंह ने किया। संपादक आनंद स्वरूप श्रीवास्तव ने स्मारिका के विषय में विस्तार से बताया। इस मौके पर अरुण कुमार सिंह भी मौजूद रहे।

शोभा यात्रा में उमड़ जन समूह, शहीद चौक पर दीपदान
रायबरेली। कोरोना योद्धाओं के सम्मान समारोह के पहले शहर के सुपर मार्केट से शोभा यात्रा निकाली गई। कोरोना योद्धाओं के सम्मान में पूरा शहर उमड़ पड़ा। योद्धाओं को फूल मालाओं से लाद दिया गया। पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने देश भर से आए कोरोना योद्धाओं के काम की तारीफ करते हुए कहा कि संकट से उबारने में इनकी अहम भूमिका रही। शोभायात्रा शुरू होने के पहले पीएससी बैंड ने राष्ट्रीय धुन बजाई। एनसीसी और स्काउट गाइड ने योद्धाओं को सलामी दी। गुरु तेग बहादुर मार्केट व्यापार मंडल, व्यापारी नेता बसंत सिंह बग्गा, मनोज गुप्ता, रोटरी क्लब की ओर से उमेश सिकरिया, विभिन्न खेल संघों की ओर से मुन्ना लाल साहू, हिमांशु तिवारी, ममता पांडे, अनुपमा रावत आदि ने पुष्प वर्षा कर योद्धाओं का स्वागत किया।
सुपर मार्केट से सभागार तक योद्धाओं का जगह-जगह फूल मालाओं से स्वागत किया गया। योद्धाओं पर पुष्प वर्षा हुई। योद्धाओं ने शहीद चौक पर शहीदों की याद में दीपदान किया। शहीद चौक पर क्षमता मिश्रा अपनी महिला साथियों के साथ उपस्थित रहीं। इस मौके पर अभिषेक द्विवेदी करुणा शंकर मिश्रा नीलेश मिश्रा अभिषेक मिश्रा पीयूष द्विवेदी अजय दीक्षित शिखर द्विवेदी शिखर अवस्थी, यशी अवस्थी, कल्याणी मिश्रा, जागृति मिश्रा, तान्या सिंह आदि ने कोरोना योद्धाओं का स्वागत किया। संचालन सर्वेश पांडे ने किया।


विजेता बच्चों को किया गया पुरस्कृत
रायबरेली। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की अमेरिकी इकाई की ओर से हिंदी दिवस के उपलक्ष में आयोजित की गई अंतरष्ट्रीय काव्य पाठ प्रतियोगिता में प्रथम द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले रजत द्विवेदी उन्नाव, अचिंत्य शाही लखनऊ और कात्यायनी त्रिवेदी रायबरेली को पुरस्कृत किया गया। समिति की ओर से उन्हें प्रमाण पत्र और नकद पुरस्कार दिए गए। समिति की अमेरिकी इकाई की अध्यक्ष श्रीमती मंजु मिश्रा और श्रीमती रचना श्रीवास्तव ने सभी विजेता बच्चों को बधाई दी।

महालक्ष्मी के स्वागत में सजा बिजनौर, घर-घर जलेंगे खुशियों के दीप

November 4, 20211 navdhardna.com

बिजनौर। कोरोना और डेंगू की परेशानियों से दूर आज खुशियों के दीप घर-घर में जगमग होंगे। घरों से लेकर बाजारों तक में उल्लास है। सुप्रीम कोर्ट ने हरित पटाखों की अनुमति दी तो प्रशासन ने भी आज आतिशबाजी के लिए दो घंटे निर्धारित किए हैं। रंगोली, बंदनवार से सजे घरों को रंगबिरंगी झालरों से सजाने के बाद महालक्ष्मी के आगमन के लिए तैयार किया गया है। शाम को घरों और प्रतिष्ठानों में शुभ मुहूर्त में भगवान श्रीगणेश और महालक्ष्मी का पूजन किया जाएगा। पूजन के बाद हरित पटाखों की धूम मचेगी। महालक्ष्मी के स्वागत के लिए पूरा शहर सज-धजकर तैयार है। हर गली-मोहल्ले, कॉलोनी, बाजार, शोरूम को सतरंगी रोशनी से सजाया गया है।

ज्योतिषाचार्य के अनुसार दिवाली पर महालक्ष्मी के पूजन के लिए चौकी पर लाल वस्त्र बिछाकर भगवान श्री गणेश और लक्ष्मी जी की प्रतिमा स्थापित करें। गंगाजल छिड़क कर उस स्थान एवं आसन को पवित्र करें। मां लक्ष्मी के समीप केसर युक्त चंदन से अष्टदल कमल बनाकर चांदी का सिक्का रखकर पूजा करें।  गणेश लक्ष्मी को वस्त्र, आभूषण, पुष्पमाला, केसर, चंदन, अक्षत, इत्र अर्पित करें। प्रतिमा के दाहिनी ओर शुद्ध घी का दीपक जलाएं और बायीं ओर तेल का दीपक जलाकर रखें। मां सरस्वती पूजन के निमित्त बहीखाते, कॉपी, पेन का पूजन करें। रुपये रखने के स्थान पर स्वास्तिक बनाकर कुबेर भगवान का पूजन करें। दवात की शीशी या पेन लेखनी पर काली मां का पूजन करना चाहिए। भगवान श्रीगणेश एवं महालक्ष्मी को पांच प्रकार की मेवा, पांच फल, पांच मिठाई, खील बताशे, नैवेद्य, पान, सुपारी, इलायची लौंग अर्पित करें। सभी देवी देवताओं को नैवेद्य अर्पित करें। 21 दीपक मां लक्ष्मी के समीप प्रज्ज्वलित करें। घर  के सभी कमरों के कोने-कोने में दीपमाला का प्रकाश फैलाएं। धूप दीप से आरती करें।

पूजन का समय

घरों में - शाम 6:30 बजे से रात 8:26 बजे तक।

दफ्तरों के लिए - प्रात: 10.30 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक।

व्यापारिक प्रतिष्ठान – शाम 4:28 बजे से 6:00 बजे तक।

दिवाली पर 51 साल बाद बन रहा दुर्लभ योग

दिवाली पर बृहस्पतिवार को चित्रा व स्वाति नक्षत्र के बीच लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त है। इस बेला में प्रति और चतुस्पद का दुर्लभ योग 51 साल बाद बन रहा है। ज्योतिषाचार्य पूनम वार्ष्णेय और शिवशरण पाराशर ने बताया कि गोधूलि बेला शाम 5:30 बजे से 8:15 बजे तक रहेगी। रात्रि बेला में चित्रा स्वाति का संयोग, प्रीति और चतुस्पद योग निशीथ बेला में सिंह लग्न रात्रि 12:40 से 3 बजे के बीच रहेगा।

विक्रांत चौधरी ने किया चिकित्सकों का अभिनंदन

बिजनौर। भारत सरकार द्वारा 100 करोड़ कोविड वैक्सीन का आँकड़ा सबसे कम समय में सफलता पूर्वक पूरा करने के उपलक्ष्य में नजीबाबाद स्थित लाला भोजराम नेत्र चिकित्सालय में अभिनंदन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर भाजपा जिला सह मीडिया प्रभारी विक्रांत चौधरी ने वैक्सीनेशन टीम का अभिनंदन किया। साथ ही अस्पताल में मौजूद सभी चिकित्सकों  और स्टाफ़ का धन्यवाद किया। सभी ने देशवासियों की कोरोना काल में समय हर सुविधा मुहैया कराने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि हमारे पीएम वास्तव में जननायक हैं, जो बिना भेदभाव किए हमेशा देशवासियों की चिंता में लगे रहते हैं।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ फ़ैज़ हैदर, ब्लॉक प्रोग्राम मैनेजर निपेंद्र चौधरी, अखिलेश वर्मा, वैशाली कुमारी, अभिषेक त्यागी, संदीप पांडे फार्मेसिस्ट, बृजेश कुमार फार्मेसिस्ट, कौशिक, विशाल कुमार, राजवीर कुशवाहा बाला देवी  आदि उपस्थित रहे।

कृषि विभाग: प्राविधिक सहायकों को नियुक्ति पत्र वितरित

बिजनौर। कृषि विभाग में नव चयनित निशांत कुमार व सागर तोमर को प्राविधिक सहायक ग्रुप सी के पद पर नियुक्ति पत्र का वितरण जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह व जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा किया गया।

लोक भवन लखनऊ में हुआ मुख्य कार्यक्रम-
कृषि विभाग में 1863 प्राविधिक सहायक ग्रुप सी में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों का विवरण व अभिलेख का सत्यापन ऑनलाइन किये जाने के उपरांत पूरे प्रदेश में आज शुक्रवार सायं चार बजे चयनित समस्त अभ्यर्थियों को नियुक्ति वितरण किए गए जाने के निर्देश शासन द्वारा दिए गए थे। नियुक्ति पत्र वितरित करने का मुख्य कार्यक्रम लोकभवन लखनऊ में आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सात जनपदों के चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र वितरित किए गए।

उज्जवल भविष्य की कामना-
जिला पंचायत अध्यक्ष व जिलाधिकारी ने चयनित प्राविधिक सहायकों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए लगन से काम करने करने के लिए कहा।
बिजनौर में नियुक्ति पत्र वितरण के समय उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र, आत्मा प्रभारी योगेंद्र पाल सिंह योगी व अरविंद कुमार उपस्थित रहे।

पीएफपी म्यूजिक कंपनी ने जारी किया म्यूजिक वीडियो

पी.एफ.पी. म्यूजिक कंपनी ने जारी किया म्यूजिक वीडियो ‘जिस्म को जिस्म से’

संवाददाता सुनिल ज्ञानदेव भोसले


प्राजक्ता फिल्म प्रोडक्शन के बैनर तले बनी म्यूजिक वीडियो ‘जिस्म को जिस्म से’ को पीएफपी म्यूजिक कंपनी ने जारी कर दिया है। केलवा बीच के लोकेशंस पर फिल्माई गई इस म्यूजिक वीडियो में कंचन भोर और अजीत पंडित की रोमांटिक जोड़ी नज़र आएगी।

मधुबाला और माधुरी दीक्षित को अपना आदर्श मानने वाली अभिनेत्री कंचन भोर इस सोलो नंबर के रिलीज होने के बाद बहुत रोमांचित और उत्साहित हैं। रेखा सुरेंद्र जगताप द्वारा निर्मित इस म्यूजिक वीडियो के गीत को जमील अहमद ने लिखा है, स्वर दिया है अनुपमा ने और संगीतकार राजा अली हैं। डीओपी सद्दाम शेख हैं और प्रोडक्शन हेड हैं मोहम्मद जावेद।

इमरान मालगुनकर द्वारा वीडियोग्राफी और कोरियोग्राफी से सजी इस म्यूजिक वीडियो के रिलीज के बाद रेखा सुरेंद्र जगताप द्वारा नवोदित प्रतिभाओं को प्रकाश में लाने के उद्देश्य से एल्बम और फिल्मों का निर्माण करने की योजना बनाई जा रही है।

पटरी दुकानदारों के लिए सभी शहरों में लगेगा दीपावली मेला

लखनऊ। राज्य सरकार इस बार प्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में दीपावली मेले का आयोजन कराने जा रही है। यह मेला 28 अक्तूबर से शुरू होकर चार नवंबर को समाप्त होगा। प्रभारी अपर मुख्य सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह ने इस संबंध में शासनादेश जारी कर दिया है।

शासनादेश में कहा गया है कि मेले के आयोजन के लिए शहरों में पर्याप्त व समुचित स्थान का चयन किया जाएगा। इसमें पटरी विक्रेताओं के लिए उपयुक्त स्थान चिह्नित किया जाएगा। इसमें फूड स्टाल, मनोरंजन के झूले आदि व सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मेला स्थल के पास पार्किंग की समुचित व्यवस्था की जाएगी। स्ट्रीट वेंडर के लिए समुचित स्थान की व्यवस्था की जाएगी। इसका मकसद पटरी दुकानदारों का कारोबार बढ़ाना है। पटरी दुकानदारों को इसके लिए समुचित स्थान उपलब्ध कराया जाएगा साथ में फूड स्टाल व बच्चों के लिए सुरक्षित प्रकार के झूले आदि भी लगवाए जाएंगे। मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। इसके लिए मंच की व्यवस्था की जाएगी।

होंगीं ये प्रतियोगिताएं: मेले को आकर्षक बनाने के लिए सेल्फी, सेल्फी विद ग्रेट लीडर्स और विभिन्न प्रकार के पोस्टर, स्लोगन आदि की प्रतियोगिताएं आयोजित कराई जाएंगी। मेला स्थल पर सफाई की विशेष व्यवस्था की जाएगी। कोविड से बचाव के भी जरूरी उपाय किए जाएंगे। स्वनिधि योजना के लाभार्थियों के एक डेडीकेटड पंजीकरण डेस्क की व्यवस्था भी की जाएगी। प्रत्येक शहर में इसके लिए डीएम की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी। प्रभारी अधिकारी स्थानीय निकाय इसके सदस्य सचिव होंगे। एसएसपी, एसपी, सीएमओ, ईओ, जिला सूचना अधिकारी व डीएम द्वारा नामित एक अधिकारी इसका सदस्य होगा। मेला स्थल का चयन 16 अक्तूबर से शुरू कर दिया जाएगा।

गुदड़ी के लाल-करेंगे कमाल..एक दिन

गुदड़ी के लाल-करेंगे कमाल..एक दिन

रूबरू के बच्चों से रू-ब-रू होना…गौरव अवस्थी “आशीष”
रायबरेली/उन्नाव

लखनऊ की सामाजिक संस्था “रूबरू एक्सप्रेस” महिलाओं खासकर गृहणियों की बनाई और चलाई जा रही है। कभी किटी पार्टी में व्यस्त रहने वाली महिलाएं पिछले 3 साल से जानकीपुरम और उसके आसपास के गरीबों के बच्चों को पढ़ा-बढ़ा रही हैं। अब इन महिलाओं के मनोरंजन का पैसा और समय दोनों बच्चों का भविष्य गढ़ने में खर्च हो रहा है। गरीबों के 8 बच्चों से यह सिलसिला कभी पार्क के खुले मैदान में और कभी बांके बिहारी कुंज के बेसमेंट में फटी चटाइयों, गांव में कुछ मिली स्टेशनरी से शुरू हुआ था। आज इस केंद्र में गुदड़ी के 60 लाल शिक्षा और संस्कार दोनों साथ-साथ गृहण करते हुए बड़े हो रहे हैं। घर के कामकाज करते हुए यह महिलाएं बच्चों में छिपी प्रतिभाओं को निखार कर उनके भविष्य का सुखद और सफल मार्ग प्रशस्त कर रही हैं।


इन महिलाओं की मुखिया हैं, पंजाब नेशनल बैंक ब्रांच मैनेजर मुकेश वार्ष्णेय की बहुमुखी प्रतिभा की धनी धर्मपत्नी श्रीमती कल्पना वार्ष्णेय। उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं अलका गुप्ता (सचिव), सविता वार्ष्णेय, मधुलिका गुप्ता, शालिनी कपूर, सुधा वार्ष्णेय, प्रीति तिवारी, नम्रता, ममता गुप्ता, किरण गुप्ता, सरिता, ज्योति खरे एवं कृति वार्ष्णेय। मुकेश वार्ष्णेय, राजीव वार्ष्णेय, संजीव गुप्ता, राजीव श्रीवास्तव, यूएस अवस्थी, अमरनाथ मिश्रा, विकास मेहरोत्रा, आकाश उनके घर की दहलीज लांघ कर बच्चों का भविष्य बनाने निकली महिलाओं का कदम से कदम मिलाकर साथ देकर काबिले तारीफ काम कर रहे हैं।


कभी लखनऊ जाएं तो महिलाओं के प्रयास को अपनी आंखों से देखें जरूर। संस्था के तीसरे स्थापना दिवस पर इन मातृ शक्तियों और गुदड़ी के लालों से हमें भी मिलने का मौका मिला। झोपड़ी, कच्चे घरों, दूसरे के प्लाट में छप्पर डालकर रह रहे परिवारों के इन बच्चों- पूजा, प्राची, नीलू, मनीषा, मुस्कान, शिवांश, उर्मिला, यश में गजब की प्रतिभा के दर्शन हमने भी किए। छोटे-छोटे बच्चे नन्हे हाथों से पोस्टर बना कर लाए। बच्चों की कढ़ाई के एक से बढ़कर एक नमूने देखने को मिले। शिक्षा संस्कार बीज रोपना तो महिलाओं का प्रमुख ध्येय है ही। भोजन के पहले मंत्र उच्चारण। स्कूल छोड़ने के पहले प्रार्थना। सुमधुर स्वर में गीतों की प्रस्तुतियां हम सबका मन मोहने वाली रहीं। मात्र 3 दिन की तैयारियों में लघु नाटिका प्रभावी और आकर्षक प्रस्तुति आसान नहीं थी, लेकिन इस केंद्र पर बच्चों ने अपनी प्रस्तुति से शानदार-जानदार प्रतिभा का परिचय प्रस्तुत किया। एक स्कूल संचालक होने के नाते भी हम जानते हैं कि छोटे बच्चों की स्टेज पर प्रस्तुति के समय शिक्षिकाएं नीचे से डायरेक्शन देती रहती हैं, लेकिन यहां ऐसा कुछ भी नहीं था। बच्चों के प्रभाव का ही परिणाम था कि लघु नाटिका के एक दृश्य के बीच हम भी पात्र के रूप में प्रस्तुत हो गए। ऐसे रूबरू शिक्षा संस्कार केंद्र के दो बच्चों-अभिषेक वाल्मीकि और आर्यन साहू ने आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति राष्ट्रीय स्मारक समिति की भारत और अमेरिका इकाई द्वारा संयुक्त रुप से हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में 11 सितंबर 2021 को पहली बार ऑनलाइन आयोजित की गई अंतर्राष्ट्रीय काव्य पाठ प्रतियोगिता में द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त किए थे। पूरे आत्मविश्वास के साथ इन दोनों बच्चों ने अपनी कविताएं प्रस्तुत कर सबको चौंका दिया था। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि प्रतिभा के बल पर ही इन बच्चों ने यह स्थान प्राप्त किया होगा। किसी कृपा की बदौलत नहीं। इनके द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने के निर्णायक और कोई नहीं 120 साल पुरानी पत्रिका "सरस्वती" के वर्तमान प्रधान संपादक प्रोफ़ेसर देवेंद्र शुक्ल थे। बच्चों की पारिवारिक परिस्थिति ऐसी नहीं है कि वह स्कूली शिक्षा ग्रहण कर पाएं। अभिषेक वाल्मीकि के पिता मुकेश वाल्मीकि मूल रूप से बाराबंकी के रहने वाले हैं और जानकीपुरम में ही स्थित एक नर्सिंग होम में सफाई कर्मी के तौर पर कार्यरत हैं। नर्सिंग होम के मालिक द्वारा ही दी गई जगह पर कच्चा घर बनाकर परिवार के साथ रहने वाले मुकेश वाल्मीकि का यह सुयोग्य पुत्र अभिषेक केवल कविता करना ही नहीं जानते। उसके अंदर अन्य तमाम प्रतिभाएं छिपी हुई हैं। रूबरू के प्रयासों से यह प्रतिभाएं अंकुरित होकर सामने भी आने लगी हैं। रूबरू शिक्षा संस्कार केंद्र की प्रेरणा से ही इस वर्ष सरकारी विद्यालय में कक्षा 5 में वह पढ़ाई कर रहा है। तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले आर्यन साहू के पिता चेतराम राजमिस्त्री है और मां सोनी गृहणी। मूल रूप से छत्तीसगढ़ के रहने वाले चेतराम जानकीपुरम में ही किसी के खाली पड़े प्लाट में कच्चा घर बना कर गुजर-बसर करते हैं। रूबरू के प्रयासों का ही फल है कि आर्यन भी कक्षा चार में एडमिशन ले पाया है।

आर्यन की स्वरचित कविता पढ़िए-
“देश से प्यार”
अब कोई ना आगे आए
ना हम से टकराए
हमें देश से इतना प्यार
अपना झंडा हम फहराएं
दुश्मन को हम मजा चखाएं
अपनी धरती पर मिट जाएं
और देश की शान बढ़ाएं

अभिषेक की स्वरचित कविताओं की चंद लाइन-
आज तिरंगा फहराता है अपनी पूरी शान से
हमें आजादी मिली शहीदों के बलिदान से
आजादी के लिए हमारी लंबी चली लड़ाई थी
लोगों ने प्राण की कीमत बड़ी चुकाई थी
व्यापारी बनकर आए और छल से हम पर राज किया
हम को आपस में लड़ाने की नीति अपनाई थी
हमने अपना गौरव पाया अपने स्वाभिमान से
हमें मिली आजादी वीर शहीदों के बलिदान से..”

गुदड़ी के इन लालों द्वारा लिखी गई यह कविताएं शब्द शिल्प में आपको भले कमजोर लगें लेकिन भाव इसमें भरपूर है। इन कविताओं के वाचन की प्रस्तुति भी आपको आश्चर्य में डालने वाली लगेगी। अंतस से निकली कविताएं यह साबित करने के लिए काफी हैं कि यह बच्चे भविष्य में हमारी-आपकी-सबकी शान बनेंगे। हम सबको गर्व का मौका प्रदान करेंगे। बशर्ते हम इनके संघर्ष में साथ दें और साक्षी बनें।
इन बच्चों को गढ़ने में अपना पैसा पसीना और समय लगा रहीं रूबरू एक्सप्रेस सामाजिक सेवा संस्था की सभी मातृ शक्तियों को प्रणाम है..प्रणाम है..प्रणाम है..

भाजपा युवा मोर्चा ने किया सैनिकों के परिवारों को सम्मानित

भारतीय जनता युवा मोर्चा मना रहा आजादी का अमृत महोत्सव। मंडल मंडावर अंतर्गत गांव फजलपुर में सैनिकों के सम्मान में सैनिकों के परिवारों को किया सम्मानित।


बिजनौर। आजादी का अमृत महोत्सव पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है। इसी क्रम में भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा सैनिकों के सम्मान में सैनिकों के परिवारों को सम्मानित किया गया।

बिजनौर विधानसभा के मंडल मंडावर अंतर्गत गांव फजलपुर में ओमवीर सिंह व बंटी कुमार के परिवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा सम्मानित किया गया। इस शुभ अवसर पर संकित राठी जिला मंत्री भाजपा युवा मोर्चा बिजनौर, सुभाष कुमार, अनुज कुमार, गौरव कुमार, प्रमोद कुमार, गोविंदा सिंह, सानू कुमार आदि उपस्थित रहे।

देवा शरीफ की दरगाह पर पत्रकारों और समाजसेवियों ने पेश की अकीदत की चादर

देवा शरीफ की दरगाह पर पत्रकारों और समाजसेवियों ने पेश की अकीदत की चादर

प्रदेश की खुशहाली और अमन- शांति के लिए की गई दुआ

बाराबंकी। हिंदु मुस्लिम एकता की प्रतीक देवा शरीफ, बाराबंकी ख्याति प्राप्त हाजी वारिस अली शाह की पाक दरगाह पर उत्तर प्रदेश जिला मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसिएशन, न्यूज़ पेपर ट्रस्ट ऑफ इंडिया, टीम केयर इंडिया एंड रिसर्च फाउंडेशन और शराबबंदी संघर्ष समिति के पदाधिकारियों द्वारा प्रदेश में अमन, शांति, एकता-अखंडता और समस्त प्रदेश वासियों की खुशहाली की दुआ के साथ अकीदत की चादर पेश की गई।
इस अवसर पर पत्रकारों एवं उनके परिजनों की खुशहाली के लिए विशेष रूप से दुआ भी की गई। दरगाह पर चादर पेश करने वालो में पत्रकार एसोसिएशन के महामंत्री अब्दुल वहीद, सचिव जुबैर अहमद न्यूज़ पेपर ट्रस्ट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष नजम अहसन, शराबबंदी संघर्ष समिति के अध्यक्ष मुर्तुजा अली, टीम केयर इंडिया एंड रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष शहज़ादे कलीम आदि प्रमुख थे।
इस अवसर पर आल इंडिया वारसी समाज के राष्ट्रीय अध्यछ हाजी वासिक वारसी द्वारा सभी को अंग वस्त्र पहनाकर सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर नेशनल वाइस के डायरेक्टर वकास वारसी साहब ने अपने घर पर सभी का पुरजोर तरीके से स्वागत किया।

देवा शरीफ की दरगाह पर पत्रकारों और समाजसेवियों ने पेश की अकीदत की चादर

देवा शरीफ की दरगाह पर पत्रकारों और समाजसेवियों ने पेश की अकीदत की चादर

प्रदेश की खुशहाली और अमन- शांति के लिए की गई दुआ

बाराबंकी। हिंदु मुस्लिम एकता की प्रतीक देवा शरीफ, बाराबंकी ख्याति प्राप्त हाजी वारिस अली शाह की पाक दरगाह पर उत्तर प्रदेश जिला मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसिएशन, न्यूज़ पेपर ट्रस्ट ऑफ इंडिया, टीम केयर इंडिया एंड रिसर्च फाउंडेशन और शराबबंदी संघर्ष समिति के पदाधिकारियों द्वारा प्रदेश में अमन, शांति, एकता-अखंडता और समस्त प्रदेश वासियों की खुशहाली की दुआ के साथ अकीदत की चादर पेश की गई।
इस अवसर पर पत्रकारों एवं उनके परिजनों की खुशहाली के लिए विशेष रूप से दुआ भी की गई। दरगाह पर चादर पेश करने वालो में पत्रकार एसोसिएशन के महामंत्री अब्दुल वहीद, सचिव जुबैर अहमद न्यूज़ पेपर ट्रस्ट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष नजम अहसन, शराबबंदी संघर्ष समिति के अध्यक्ष मुर्तुजा अली, टीम केयर इंडिया एंड रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष शहज़ादे कलीम आदि प्रमुख थे।
इस अवसर पर आल इंडिया वारसी समाज के राष्ट्रीय अध्यछ हाजी वासिक वारसी द्वारा सभी को अंग वस्त्र पहनाकर सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर नेशनल वाइस के डायरेक्टर वकास वारसी साहब ने अपने घर पर सभी का पुरजोर तरीके से स्वागत किया।

पीएम मोदी ने दी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को जन्मदिन की बधाई

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी समृद्ध अंतर्दृष्टि और नीतिगत मामलों की समझदारी राष्ट्र के लिए बहुत बड़ी अमानत है। वह कमजोरों की सेवा करने के प्रति बेहद दयालु हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
  • पीएम ने राष्ट्रपति को दी जन्मदिन की बधाई
  • ‘कमजोरों की सेवा करने को लेकर बेहद दयालु’
  • राष्ट्रपति के अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी समृद्ध अंतर्दृष्टि और नीतिगत मामलों की समझदारी राष्ट्र के लिए बहुत बड़ी अमानत है। वह कमजोरों की सेवा करने के प्रति बेहद दयालु हैं।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘राष्ट्रपति जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं। उनकी समृद्ध अंतर्दृष्टि और नीतिगत मामलों की समझदारी हमारे राष्ट्र के लिए बहुत बड़ी संपत्ति है। वह कमजोरों की सेवा करने को लेकर बेहद दयालु हैं। मैं उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबे जीवन के लिए प्रार्थना करता हूं।

आत्मीय बधाई: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने राष्ट्रपति को जन्मदिन की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि विनम्र और स्नेहिल व्यक्तित्व के धनी राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद जी को जन्मदिन की आत्मीय बधाई व शुभकामनाएं। प्रभु श्रीराम जी से प्रार्थना है कि आप स्वस्थ और दीर्घायु हों व आपके कुशल मार्गदर्शन में राष्ट्र इसी प्रकार प्रगति के नित नए आयाम स्थापित करता रहें।

सर्वोच्च पद पर पहले स्वयंसेवक: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कठिन संघर्ष से देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचे हैं। रामनाथ कोविंद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक रहे। ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोई स्वयंसेवक देश का राष्ट्रपति बना। उन्होंने कई तरह की भूमिका निभाई। इन्होंने एक समाज सेवी, एक वकील और एक राज्यसभा सांसद के तौर पर काम किया, लेकिन इनकी पिछली पृष्ठभूमि में जाएं तो वो एक बहुत ही साधारण इंसान हैं।

हिन्दी सिर्फ साहित्य नहीं बल्कि विज्ञान व नवाचार की भी भाषा – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

हिन्दी सिर्फ साहित्य नहीं बल्कि विज्ञान व नवाचार की भी भाषा – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

डाक विभाग द्वारा पोस्टमास्टर जनरल कार्यालय, वाराणसी में हुआ हिंदी पखवाड़े का समापन

वाराणसी। सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। हिन्दी अपनी सरलता, सुबोधता, वैज्ञानिकता के कारण ही आज विश्व में दूसरी सबसे बड़ी बोली जाने वाली भाषा है। हिन्दी सिर्फ साहित्य ही नहीं बल्कि विज्ञान से लेकर संचार-क्रांति, सूचना – प्रौद्योगिकी और नवाचार की भाषा भी है। हिंदी हमारी मातृभाषा के साथ-साथ राजभाषा भी है, ऐसे में इसके विकास के लिए जरुरी है कि हम हिंदी भाषा को व्यवहारिक क्रियाकलापों के साथ-साथ राजकीय कार्य में भी प्राथमिकता दें।

उक्त उद्गार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने डाक विभाग, क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी द्वारा 28 सितंबर को आयोजित ‘हिंदी पखवाड़ा’ के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किये। पोस्टमास्टर जनरल ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के हिंदी के प्रोफ़ेसर एवं वरिष्ठ हिंदी साहित्यकार डॉ. सदानंद शाही के साथ पखवाड़े के दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को सम्मानित भी किया।

मुख्य अतिथि के रूप में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के हिंदी के प्रोफ़ेसर एवं वरिष्ठ हिंदी साहित्यकार डॉ. सदानंद शाही ने कहा कि संविधान में वर्णित सभी प्रांतीय भाषाओं का पूर्ण आदर करते हुए इस विशाल बहुभाषी राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने में हिन्दी की महत्वपूर्ण भूमिका है। ऐसे में हिंदी भाषा के प्रयोग पर हमें गर्व महसूस करना चाहिए। हिंदी भाषा की सरलता सहज ही अपनी तरफ सभी को आकर्षित कर लेती है। यह ऐसी भाषा है, जिसके माध्यम से समाज का हर वर्ग आसानी से अपनी भावनाओं व विचारों को एक दूसरे तक पहुँचा सकता है।

सहायक निदेशक (राजभाषा) श्री राम मिलन ने बताया कि डाक विभाग की ओर से 14 से 28 सितंबर तक आयोजित हिंदी पखवाडे़ में कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें सभी कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया और हिन्दी पखवाड़े को सफल बनाने में अपना योगदान दिया।

हिंदी पखवाड़ा के दौरान आयोजित कार्यक्रम के विजेताओं को भी इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव और प्रो. सदानंद शाही ने सम्मानित किया। हिंदी निबंध प्रतियोगिता में कु.अभिलाषा राजन, श्री प्रकाश गुप्ता, शम्भू कुमार, हिंदी टंकण प्रतियोगिता में कुमारी अजिता, ललित कुमार, विजय कुमार, हिन्दी टिप्पण एवं आलेखन प्रतियोगिता में शम्भू कुमार, मनीष कुमार, राहुल कुमार, हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता में श्री प्रकाश गुप्ता, शम्भू प्रसाद गुप्ता, श्रवण कुमार सिंह, काव्य पाठ प्रतियोगिता में शम्भू प्रसाद गुप्ता, कुमारी अजिता, मो. नौशाद एवं हिंदी श्रुतलेखन प्रतियोगिता में प्रशांत पाण्डेय, नागेन्द्र कुमार को क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम में प्रवर डाकघर अधीक्षक वाराणसी पूर्वी मंडल राजन, डाकघर अधीक्षक वाराणसी पश्चिमी मंडल कृष्ण चन्द्र, सहायक निदेशक (राजभाषा) राम मिलन, लेखा अधिकारी एमपी वर्मा, सहायक अधीक्षक अजय कुमार, सहायक लेखा अधिकारी संतोषी राय, डाक निरीक्षक विश्वम्भर नाथ द्विवेदी, श्रीकांत पाल, प्रमोद कुमार, राजेन्द्र यादव, रामचंद्र, भूपेंद्र, नरेंद्र, पंकज कुमार सहित तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन गणेश गंभीर ने किया।

प्रधानमंत्री ने लता मंगेशकर को उनके जन्मदिवस पर दी बधाई

प्रधानमंत्री ने सुश्री लता मंगेशकर को उनके जन्मदिवस पर बधाई दी

नई दिल्ली (PIB)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लता मंगेशकर को उनके जन्मदिवस पर बधाई दी है और उनके दुर्घायु होने तथा स्वस्थ जीवन की कामना की है।

अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा है….

 “आदरणीय लता दीदी को जन्मदिवस की बधाई। उनकी मधुर वाणी पूरे विश्व में गूंजती है। अपनी विनम्रता और भारतीय संस्कृति के प्रति लगाव के लिये उनका आदर किया जाता है। निजी तौर पर उनका आशीर्वाद मेरे लिये शक्ति का स्रोत है। मैं लता दीदी की दीर्घायु और उनके स्वस्थ जीवन के लिये प्रार्थना करता हूं।”

Birthday greetings to respected Lata Didi. Her melodious voice reverberates across the world. She is respected for her humility & passion towards Indian culture. Personally, her blessings are a source of great strength. I pray for Lata Didi’s long & healthy life. @mangeshkarlata— Narendra Modi (@narendramodi) September 28, 2021

हिंदू युवा सेना में प्रियांशु वर्मा को मंडल मुरादाबाद अध्यक्ष की जिम्मेदारी

बिजनौर। हिंदू युवा सेना में प्रियांशु वर्मा को मंडल मुरादाबाद का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। हिंदू युवा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अंश चैतन्य जी महाराज ने उक्त जानकारी देते हुए सभी लोगों से अपील की है कि प्रियांशु वर्मा जी के मोबाइल नंबर 9756071328 पर संपर्क में रहें और उनका सहयोग करते हुए संगठन को आगे बढ़ाएं। महात्मा विदुर कुटी धाम, बिजनौर से जारी नियुक्ति पत्र में राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अंश चैतन्य जी महाराज ने बताया कि दुर्गा विहार कालोनी नहटौर, बिजनौर निवासी प्रियांशु वर्मा काफी समय से हिंदू समाज के लिये कार्य कर रहे हैं।

साहित्य लोक काव्य सृजन समारोह का सफलतापूर्वक आयोजन

सांध्य दैनिक पब्लिक इमोशन के सहित्यलोक पृष्ठ की 5 वीं वर्षगांठ पर हुआ शानदार कार्यक्रम। व्यंजन वाटिका रिसोर्ट में हुआ साहित्य लोक काव्य सृजन समारोह का आयोजन। अपनी रचनाएं सुनाकर कवियों एवं कवियित्रियों ने कर दिया मंत्रमुग्ध।

बिजनौर। सांध्य दैनिक पब्लिक इमोशन के सहित्यलोक पृष्ठ की 5 वीं वर्षगांठ पर स्थानीय बैराज मार्ग स्थित व्यंजन वाटिका रिसोर्ट के हॉल में साहित्य लोक काव्य सृजन समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर तमाम कवियों एवं कवियित्रियों ने अपनी रचनाएं सुनाकर मंत्रमुग्ध कर दिया।

साहित्य संपादक मनोज मानव के शानदार संचालन में आयोजित कार्यक्रम पांच सत्रों में हुआ। प्रत्येक सत्र की अध्यक्षता क्रमशः रश्मि अग्रवाल, रमेश माहेश्वरी राजहंस, डॉ. अनिल चौधरी, डॉ. दिग्विजय सिंह, शुचि शर्मा द्वारा की गई। कार्यक्रम का शुभारम्भ जाने माने ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद शर्मा, अमर उजाला के जिला प्रभारी रजनीश त्यागी, सुप्रसिद्ध समाजसेवी गोपाल खन्ना, शिक्षाविद् एवं प्रबंधक श्री ओम शिक्षण संस्थान लालबहादुर शास्त्री ने मां सरस्वती एवं गुरुदेव डॉ. नारायण दत्त श्रीमाली जी के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित एवं माल्यार्पण कर किया।

काव्य सृजन समारोह में दीप अंजुम, अमन त्यागी, कर्मवीर सिंह, हरिओम नामदेव, संजीव एकल, नीमा शर्मा, राशि अग्रवाल, राजकुमार सिंह, मनोरंजन शर्मा, रचना शास्त्री, नरेंद्र जीत अनाम, डॉ. अशोक कुमार, देवेश अग्रवाल, अंजली गोयल, अनिल शर्मा अनिल, कृष्ण कुमार पाठक, जगदीश वर्मा, रंजना हरित, कपिल जैन, पंकज बिश्नोई, राजीव शर्मा, नीरजकान्त सोती, नमनदीप गिल्होत्रा ने काव्य पाठ कर उपस्थित लोगों की खूब तालियां बटोरीं।

मोदी ने मनमोहन सिंह को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को उनके जन्मदिन पर बधाई दी

नई दिल्ली (PIB)। प्रधानमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को उनके जन्मदिन पर बधाई दी है।

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा-

“पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह जी को उनके जन्मदिन की बधाई। मैं उनके लंबे जीवन और बेहतर स्वास्थ्य के लिए कामना करता हूं।”

Birthday greetings to our former Prime Minister Dr. Manmohan Singh Ji. I pray for his long life and wonderful health.— Narendra Modi (@narendramodi) September 26, 2021

विदित हो कि डॉ. मनमोहन सिंह का जन्म 26 सितंबर 1932 को पंजाब पाकिस्तान में हुआ। वह भारत गणराज्य के 13वें प्रधानमन्त्री रहने के साथ ही साथ एक अर्थशास्त्री भी हैं। लोकसभा चुनाव 2009 में कांग्रेस को मिली जीत के बाद वे जवाहरलाल नेहरू के बाद भारत के पहले ऐसे प्रधानमन्त्री बने, जिनको पाँच वर्ष का कार्यकाल सफलता पूर्वक पूरा करने के बाद लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने का अवसर मिला। इन्हें 21 जून 1999 से 16 मई 1996 तक पीवी नरसिंह राव के प्रधानमंत्रित्व काल में वित्त मन्त्री के रूप में किए गए आर्थिक सुधारों के लिए भी श्रेय दिया जाता है।

टोक्यो पैरालिंपिक: डीएम सुहास के रैकेट का बेस प्राइज ₹50 लाख

जब भारत ने कहा ‘शुक्रिया सुहास’ “नमामि गंगे परियोजना” में किया जाएगा ई-ऑक्शन में मिली राशि का उपयोग। पदक जीतने वाले देश के पहले आईएएस।

नई दिल्ली (PIB) जो पिछले 56 साल के इतिहास में कभी नहीं हुआ वह कर दिखाया सुहास एल यथिराज ने। तभी पूरे देश के दिल से आवाज आयी शुक्रिया सुहास। टोक्यो पैरालिंपिक में नोएडा के डीएम  सुहास एल यथिराज ने बेडमिंटन की मेंस सिंगल्स प्रतियोगिता में ना केवल सिल्वर मेडल जीता बल्की इतिहास भी रच दिया। अभी तक के पैरालिंपिक खेलों में एक प्रशासनिक अधिकारी का यह सबसे बेहतरीन प्रदर्शन था। वो पदक जीतने वाले देश के पहले आईएएस बन गए ।

टोक्यो पैरालिंपिक में मेंस सिंगल्स एसएल-4 कैटिगिरी में सुहास एल यथिराज का सामना फ्रांस के लुकास मजूर से हुआ। फाइनल मुकाबले में सुहास ने पहला राउंड जीत लिया था, लेकिन अगले दो राउंड में उनको हार मिली और वे गोल्ड मेडल से चूक गए लेकिन उन्होंने गर्व के साथ पोडियम पर रजत पदक पहन कर भारत को गौरवान्वित किया।  

सेवा और खेल का एक शानदार संगम! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुहास एल यथिराज को ट्वीट संदेश के जरिये बधाई देते हुए करते हुए कहा, “सेवा और खेल का एक शानदार संगम! डीएम गौतमबुद्ध नगर सुहास यतिराज ने अपने असाधारण खेल प्रदर्शन से हमारे पूरे देश की कल्पना पर कब्जा कर लिया है। बैडमिंटन में रजत पदक जीतने पर उन्हें बधाई। उन्हें उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।”

बचपन से ही रही खेल के प्रति बेहद दिलचस्पी- सुहास एलवाई का जन्म कर्नाटक के शिमोगा में हुआ। जन्म से ही दिव्यांग सुहास शुरुआत में IAS नहीं बनना चाहते थे। वो बचपन से ही खेल के प्रति बेहद दिलचस्पी रखते थे। इसके लिए उन्हें पिता और परिवार का भरपूर साथ मिला। 2007 में उत्तर प्रदेश कैडर से आइएएस बनने के बाद जहां उन्होंने कई विश्व स्तरीय प्रतियोगिताओं में देश के लिये मैडल जीते वहीं प्रयागराज और नोएडा के जिलाधिकारी की भी जिम्मेदारियां निभायीं।

ऐतिहासिक बेडमिंटन रैकेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट- जिस बेडमिंटन रैकेट से सुहास ने इतिहास रचा उसे उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट कर दिया है। अब जबकी प्रधानमंत्री को मिले उपहारों का ई-ऑक्शन शुरू हो चुका है। सुहास का बैडमिंटन भी उन वस्तुओं की सूची में शामिल है जिनका ऑक्शन किया जा रहा है। 17 सितम्बर से शुरू यह ई-आक्शन  7 अक्टूबर तक चलेगा। सुहास की उपलब्धि की निशानी को आप हासिल कर गौरवान्वित हो सकते हैं। इससे मिली राशि का उपयोग “नममि गंगे परियोजना” में किया जाएगा। ई-ऑक्शन में डीएम सुहास के रैकेट का बेस प्राइज 50 लाख रखा गया हैI

नोएडा के डीएम सुहास के बैडमिंटन रैकेट को बनाएं अपना, अभी www.pmmementos.gov.in पर करें लॉग ऑन।

बेटियों को बनाया अतिथि, नई परंपरा से कराया Cafe D का उद्धघाटन

बेटियों को बनाया अतिथि, नई परंपरा से कराया उद्धघाटन

बिजनौर। दिल्ली की चाय, मुंबई की कॉफी, मेरठ का छोला भटूरा और पंजाब का पराठा, लखनऊ का कटलेट समेत कई लजीज आइटम अब अपने बिजनौर में मिल सकेंगे। यह सब आइटम कैफे डी पर उपलब्ध रहेंगे। इसकी शुरुआत बिजनौर शहर के प्रसिद्ध शॉपर्स प्राइड मॉल में रविवार सुबह नए अंदाज में हुई। कैफे डी का उद्घाटन बेटी पढ़ाओ, बेटी पढ़ाओ की तर्ज पर हुआ। इसी को लेकर कैफे डी का उद्घाटन, कार्यक्रम में आई बिटिया और बच्चों से कराया गया। इस नई शुरुआत की लोगों ने काफी तारीफ की। कैफे डी का उद्घाटन रेस्टोरेंट व्यवसायी दुष्यंत चौधरी की बेटी सुहानी चौधरी और मां श्रीमती उर्मिला देवी के साथ भतीजी रोली त्यागी, एनी चौधरी ने संयुक्त रूप से फीता काटकर किया। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि डॉक्टर बागेश सिंह, डॉक्टर दीपेन्द्र सिंह, डॉ. रेनू चौधरी, डॉक्टर हिमांशु राठी, व्यवसायी पंकज चौधरी, भाजपा नेता विजयदीप चौधरी उर्फ बबलू भाई, समाजसेवी केके अग्रवाल, रिटायर्ड सहायक सांख्यिकी अधिकारी यशपाल सिंह, वरिष्ठ पत्रकार अनुज चौधरी, रजनीश त्यागी, मनोज त्यागी, राइफल शूटिंग कोच शमीम अहमद, शॉपर्स प्राईड मॉल मैनेजर केडी सिंह समेत शहर के काफी संख्या में प्रमुख लोग मौजूद रहे।

Cafe D, शॉपर्स प्राइड मॉल, बिजनौर

“वरिष्ठ नागरिक दिवस” के रूप में मनाया वार्षिक सम्मेलन

बिजनौर। वरिष्ठ नागरिक परिषद, पश्चिमी उत्तर प्रदेश बिजनौर ने अपना वार्षिक सम्मेलन “वरिष्ठ नागरिक दिवस” के रूप में पंडित शिवराम शर्मा के निवास शिवाशीष नई बस्ती बिजनौर पर मनाया। मंच गठन के साथ गायत्री मंत्र व ओम प्रार्थना के सामूहिक पाठ के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। अध्यक्ष जी ने सभी का स्वागत किया। कार्यक्रम में पूरे वर्ष के कार्यो की समीक्षा की गयी। सभी सदस्य ने अपने अपने विचार रखे। इसके अलावा कविता पाठ के साथ साथ अपने जीवन में विशेष घटना को भी बताया। परिषद द्वारा विजयादशमी और दीपावली के मध्य एक टूर मथुरा-वृंदावन ले जाना निश्चित किया गया।

परिषद के निर्णयनुसार श्री रमेश चन्द्र राजपूत को जन्मदिन का उपहार देते हुए शुभकामनाएं दी गई। वार्षिक सम्मेलन को “राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक दिवस” के रूप में मनाते हुए सभी सदस्यों का तिलक कर व उपहार देकर सम्मानित करते हुए शुभकामनाएं दीं गईं। परिषद की प्रत्येक मासिक बैठक में सहयोग करने पर प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक, शाखा सम्भलहेडा जिला मुजफ्फरनगर में कार्यरत राजीव कुमार शर्मा को परिषद सदस्य दिनेश कुमार अग्रवाल ने तिलक कर व उपहार देकर सम्मानित किया। परिषद की आगमी बैठक दिनांक 31-10-21 को इसी स्थान पर आयोजित करने का निर्णय लिया गया। बैठक में सर्वश्री लेखा सिंह, शिवराम शर्मा, धर्मवीर शर्मा, श्रीमती आशा शर्मा, श्रीमती संतोष शर्मा, श्रीमती आदेश कुमारी शर्मा, बीआर मेहरा, श्रीमती मालती देवी मेहरा, रमेश चन्द्र राजपूत, श्रीमती हीरा देवी, दिनेश कुमार अग्रवाल, नरेश कुमार अग्रवाल, श्रीमती सुधा रानी अग्रवाल, डॉक्टर राजेन्द्र शर्मा, राकेश कुमार अग्रवाल आदि उपस्थित रहे। बैठक का समापन सामूहिक प्रार्थना एवं शांति पाठ के साथ हुआ।

किसान पुत्र मोहम्मद सुहैल ने किया नाम रौशन

किसान के बेटे मोहम्मद सुहैल ने किया नाम रौशन। डीफार्मा की परीक्षा 82% से की उत्तीर्ण। भारतीय किसान यूनियन के नेता अनीस अहमद के पुत्र हैं मोहम्मद सुहैल।

बिजनौर। कृष्णा कॉलेज ऑफ इंस्टिट्यूट बिजनौर के छात्र मोहम्मद सुहैल पुत्र अनीस अहमद निवासी मोहल्ला पीरजादगान कस्बा झालू ने डीफार्मा की अंतिम परीक्षा 82 प्रतिशत अंक से पास की है। मोहम्मद सुहैल ने इस परीक्षा को पास करके अपने कॉलेज के साथ-साथ अपने माता-पिता का नाम भी रौशन किया। मोहम्मद सुहैल भारतीय किसान यूनियन के नेता अनीस अहमद के पुत्र हैं। मोहम्मद सुहैल अपनी पढ़ाई के साथ-साथ किसानी कामकाज में अपने पिता की भी बहुत मदद करते हैं। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने गुरुजन और अपने माता-पिता, भाई बहन को दिया है।

पीएम मोदी के जन्मदिन पर महिला मोर्चा ने किया फल वितरण

बिजनौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71 वें जन्मदिन पर महिला मोर्चा की जिला उपाध्यक्ष गार्गी अग्रवाल के नेतृत्व में फल वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71 वें जन्मदिन के अवसर पर फल वितरण का कार्यक्रम किया गया। इस अवसर पर गार्गी अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आज हमारा देश विकास की राह पकड़ चुका है। उन्होंने कहा कि आज हमारा देश आत्मनिर्भरता के साथ अपनी सुरक्षा में मजबूत हुआ है और विश्व में देश को अमेरिका, चीन , रूस के बाद महाशक्ति बनाने में नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा योगदान है। उनके लिए हम लंबी उम्र की कामना करते हैं, और उम्मीद करते हैं कि देश निरंतर ऐसे ही तरक्की करता रहेगा। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने हिंदुओं को विश्व में सम्मान दिलाया है, जिसका हर देशवासी ऋणी रहेगा। महिला मोर्चा की महामंत्री भारती गौड़ ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लंबी उम्र की कामना करते हुए देश में मोदी सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों का उल्लेख किया और योजनाओं से अवगत कराया।

इस दौरान साथ में जिला उपाध्यक्ष संजू, रानी, प्रीति ढाका, डिंपल सिंह, कविता, शिवानी शर्मा, सरिता सैनी, दीपा, शारदा चौधरी, मंडल अध्यक्ष राजेंद्र सिंह, जिला मंत्री अनुसूचित मोर्चा दुष्यंत सिंह, मंडल मंत्री पिंटू शर्मा, रूपक कुमार आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

तीन पीढ़ियों संग हिंदी के विकास में जुटे हैं पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

हिंदी दिवस विशेष :

तीन पीढ़ियों संग हिंदी के विकास में जुटे हैं पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी हेतु कई सम्मानों से विभूषित हैं पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

हमारे देश में प्रतिवर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को ही संविधान सभा में एक मत से हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया था और इसके बाद से हर साल इसे ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाने लगा। हिंदी को लेकर तमाम विद्वान, संस्थाएँ, सरकारी विभाग अपने स्तर पर कार्य कर रहे हैं। इन सबके बीच एक परिवार ऐसा भी है, जिसकी तीन पीढ़ियाँ हिंदी और हिंदी साहित्य की अभिवृद्धि के लिए निरंतर अपने लेखन के माध्यम से प्रयासरत हैं।

भारतीय डाक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी एवं सम्प्रति वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव के परिवार में उनके पिता श्री राम शिव मूर्ति यादव के साथ-साथ पत्नी सुश्री आकांक्षा यादव और दोनों बेटियाँ अक्षिता व अपूर्वा भी हिंदी को अपने लेखन से लगातार नए आयाम दे रहे हैं। देश-विदेश में तमाम सम्मानों से अलंकृत यादव परिवार की रचनाएं प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन के साथ रेडियो और दूरदर्शन पर भी प्रसारित होती रहती हैं। हिंदी ब्लॉगिंग के क्षेत्र में इस परिवार का नाम अग्रणी है।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्ययन पश्चात वर्ष 2001 में हिंदी माध्यम से अपने प्रथम प्रयास में ही भारत की प्रतिष्ठित ‘सिविल सेवा’ में चयन पश्चात श्री कृष्ण कुमार यादव सूरत, कानपुर, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, प्रयागराज, जोधपुर, लखनऊ व वाराणसी में विभिन्न पदों पर पदस्थ रहे हैं।

प्रशासनिक सेवा के दायित्वों के निर्वहन के साथ श्री कृष्ण कुमार यादव की अभिलाषा (काव्य संग्रह), अभिव्यक्तियों के बहाने, अनुभूतियाँ और विमर्श (निबंध संग्रह), क्रांति यज्ञ : 1857-1947 की गाथा, जंगल में क्रिकेट (बाल गीत संग्रह) एवं 16 आने – 16 लोग सहित कुल सात पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक – साहित्यिक संस्थाओं द्वारा विशिष्ट कृतित्व, रचनाधर्मिता व प्रशासन के साथ-साथ सतत् साहित्य सृजनशीलता हेतु शताधिक सम्मान प्राप्त श्री यादव को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ के राज्यपाल भी सम्मानित कर चुके हैं।

श्री कृष्ण कुमार यादव के पिता श्री राम शिव मूर्ति यादव हिंदी में निरंतर लेखन कार्य कर रहे हैं। वहीं पत्नी सुश्री आकांक्षा यादव की भी तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। हिंदुस्तानी एकेडमी, प्रयागराज द्वारा प्रकाशित “आधी आबादी के सरोकार” इनकी चर्चित पुस्तक है। ‘दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दम्पति’ सम्मान से विभूषित यादव दम्पति को नेपाल, भूटान व श्रीलंका में आयोजित ‘अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन’ में “परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान” सहित अन्य सम्मानों से नवाजा जा चुका है। जर्मनी के बॉन शहर में ग्लोबल मीडिया फोरम (2015) के दौरान ‘पीपुल्स चॉइस अवॉर्ड’ श्रेणी में सुश्री आकांक्षा यादव के ब्लॉग ‘शब्द-शिखर’ को हिंदी के सबसे लोकप्रिय ब्लॉग के रूप में भी सम्मानित किया जा चुका है।

सनबीम स्कूल, वरुणा, वाराणसी में अध्ययनरत इनकी दोनों बेटियाँ अक्षिता (पाखी) और अपूर्वा भी इसी राह पर चलते हुए अंग्रेजी माध्यम की पढाई के बावजूद हिंदी में सृजनरत हैं। अपने ब्लॉग ‘पाखी की दुनिया’ हेतु अक्षिता को भारत सरकार द्वारा सबसे कम उम्र में ‘राष्ट्रीय बाल पुरस्कार’ से सम्मानित किया जा चुका है। अक्षिता को प्रथम अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन, नई दिल्ली (2011) में भारत के पूर्व मानव संसाधन विकास मंत्री डा. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने ‘श्रेष्ठ नन्ही ब्लॉगर‘ सम्मान से अलंकृत किया, तो अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लॉगर सम्मेलन, श्रीलंका (2015) में भी अक्षिता को “परिकल्पना कनिष्ठ सार्क ब्लॉगर सम्मान” से सम्मानित किया गया। अपूर्वा ने भी कोरोना महामारी के दौर में अपनी कविताओं से लोगों को सचेत किया।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव का कहना है कि, सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है।हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। डिजिटल क्रान्ति के इस युग में हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता है। वहीं, सुश्री आकांक्षा यादव का मानना है कि, आज परिवर्तन और विकास की भाषा के रूप में हिन्दी के महत्व को नये सिरे से रेखांकित किया जा रहा है। नई शिक्षा नीति में भी हिंदी को महत्ता दी गई है।

भारत के रजत द्विवेदी और अमेरिका के ओजस ने जीती काव्य पाठ प्रतियोगिता

भारत के रजत द्विवेदी और अमेरिका के ओजस ने जीती काव्य पाठ प्रतियोगिता

पहली बार भारत और अमेरिका के बच्चों की संयुक्त रूप से आयोजित हुई अंतर्राष्ट्रीय काव्य पाठ एवं कहूट प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता।
दोनों देशों के 5 दर्जन बच्चों ने किया प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग।
हिंदी को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की भारत एवं अमेरिका इकाई ने की सराहनीय पहल।

रायबरेली। हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में एवं आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति में पहली बार भारत और अमेरिका के बच्चों की काव्य पाठ एवं कहूट प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित की गई। अंतरराष्ट्रीय काव्य पाठ प्रतियोगिता में भारत के रजत द्विवेदी और अमेरिका के ओजस एवं शुभम सजवाल विजेता रहे। विजेता प्रतिभागियों को समिति की ओर से हिंदी दिवस पर प्रमाण पत्र प्रदान किए जाएंगे। ‌समारोह में उपस्थित प्रवासी भारतीय सम्मान से सम्मानित अमेरिका की वरिष्ठ साहित्यकार नीलू गुप्ता ने $51 का प्रथम पुरस्कार और अन्य विजेतओं के लिए $11 का नक़द पुरस्कार घोषित किया। बुजुर्ग साहित्यकार शकुंतला बहादुर ने भी $21 डॉलर अमेरिकी विजेताओं को तथा Rs. 101 भारतीय विजेताओं को नगद पुरस्कार देने की घोषणा की।

स्वरचित कविताओं से जीता सभी का दिल-
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय स्मारक समिति की भारत और अमेरिका इकाई के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय कविता पाठ प्रतियोगिता में भारत और अमेरिका के करीब 5 दर्जन बच्चों ने प्रतिभाग किया। दो अलग-अलग वर्गो में आयोजित इस प्रतियोगिता में बच्चों ने स्वरचित कविताएं प्रस्तुत कर सभी का दिल जीत लिया। अमेरिका के प्रतिभागी ओजस ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई की कविता सुनाकर तालियां बटोरी।

जूम पर ऑनलाइन प्रतियोगिता-
प्रतियोगिता के निर्णायक सरस्वती मासिक पत्रिका के प्र