एक चपरासी का ट्रांसफर नहीं कर सकते डिप्टी सीएम: सुनील साजन

लखनऊ। प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के एक बयान के बाद यूपी की राजनीतिक सियासत गर्म हो गई है. डिप्टी सीएम मौर्य ने कहा कि सपा 25 साल तक सत्ता में नहीं आएगी. उनके बयान पर पूर्व एमएलसी और सपा नेता सुनील सिंह साजन ने पलटवार किया है. सुनील सिंह ने कहा कि जनता ने केशव मौर्य को किस तरह हराया, वो डर अभी उनके अंदर बैठा है. वह अवसाद और डिप्रेशन में हैं. वह अपने विभाग की भी फाइल नहीं देख पा रहे हैं. सपा नेता ने कहा मौर्या एक चपरासी का ट्रांसफर करने की भी स्थिति में नहीं हैं.

ओपी राजजभर पर साधा निशाना
सुनील सिंह ने कहा कि पिछड़ों पर लगातार अत्याचार हो रहा है और केशव मौर्या जो पिछड़ों का चेहरा बनकर इस सरकार में उप मुख्यमंत्री बने हैं. वह बाकी सब बातें तो बोलते हैं लेकिन सरकार के खिलाफ तब नहीं बोलते जब पिछड़ों का आरक्षण उनसे छीना जा रहा है. उन पर मुकदमे लादे जा रहे. केशव मौर्य को समझ जाना चाहिए कि उनका भविष्य बीजेपी में नहीं है. ओपी राजभर की सावधान यात्रा पर सुनील साजन ने कहा की सावधान यात्रा निकाली है, तो किस से सावधान रहना है? वह कहते हैं हम पिछड़ों की बात करते हैं, तो पिछड़ों का सबसे ज्यादा दुश्मन बीजेपी है. दलितों का उत्पीड़न सबसे ज्यादा बीजेपी सरकार में हो रहा. वो स्पष्ट करें कि सावधान किस से रहना है क्योंकि खुद तो बीजेपी से जा मिले, जो पिछड़ों और दलितों का दुश्मन है. लोग भी समझ गए कि अब ओपी राजभर से ही सावधान रहने की जरूरत है.

आजम खान ने बनाई साजिश करने वालों से दूरी
आजम खान के गनर लौटाने पर सुनील साजन ने कहा कि आजम साहब का लगातार उत्पीड़न हो रहा है, अन्याय हो रहा है और यह पुलिस कर रही है. जब सरकार, पुलिस प्रशासन मिलकर उनका नुकसान करना चाहते हैं, फर्जी मुकदमे लिख रहे हैं, जेल भेजना चाहते हैं तो पुलिस पर कैसा भरोसा? जब वहीं पुलिस साजिश कर रही है तो उन्होंने साजिश करने वालों से अपनी दूरी बना ली है.

नीतीश ने दिया है बीजेपी को हटाने का फार्मूला
बिहार के सीएम नीतीश कुमार और अपना दल कमेरावादी की कृष्णा पटेल की मुलाकात पर सुनील साजन ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार से एक फार्मूला दिया है, बीजेपी को हटाने का. वह लगातार बीजेपी और उसकी नीतियों के खिलाफ जो लोग हैं और संविधान को मानने वाले समाजवादी विचारधारा के उन सब से मुलाकात कर रहे हैं. नीतीश कुमार से भी सपा के रिश्ते अच्छे हैं और कृष्णा पटेल हमारे गठबंधन में हैं, यह राजनीतिक मुलाकात है. वह सारे लोग एक प्लेटफार्म पर आ रहे हैं, जिन्हें मिलकर 2024 में दिल्ली से बीजेपी का सफाया करना है.

अखिलेश यादव ने दिया संगठन की मजबूती पर जोर

पालिका परिषद के चुनाव की सुगबुगाहट। अखिलेश यादव से मिलने लखनऊ पहुंचे बिजनौर के नेता। पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं महमूद कस्सार!

बिजनौर। पालिका परिषद के आसन्न चुनाव को लेकर राजनैतिक दलों में सरगर्मियां परवान चढ़ने लगीं हैं। इसी क्रम में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करने बिजनौर के सपा नेता राजधानी लखनऊ पहुंचे। पार्टी कार्यालय पर शिष्टाचार भेंट के दौरान सपा प्रमुख ने स्थानीय मुद्दों पर गहन चर्चा करते हुए व्यापक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने पार्टी संगठन को और अधिक मजबूत करने के लिए सदस्यता अभियान द्रुतगति से चलाने पर जोर दिया। पूर्व मुख्यमंत्री से मिलने वालों में पूर्व जिला प्रवक्ता खिजर अहमद, नगर अध्यक्ष महमूद कस्सार व मो. आसिफ उर्फ चांद शामिल रहे। सूत्रों का दावा है कि महमूद कस्सार पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं।

9 से 15 अगस्त तक हर घर फहराएं तिरंगा: अखिलेश यादव

राष्ट्रध्वज हमारे राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक। अपना राष्ट्रीय कर्तव्य समझकर इस अभियान में शामिल हो प्रत्येक नागरिक। 9 अगस्त 1942 को देश की जनता ने की थी आजादी की इच्छा की अभिव्यक्ति।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नागरिकों से 9 अगस्त से 15 अगस्त 2022 तक राज्य में हर घर पर तिरंगा ध्वज फहराने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि राष्ट्रध्वज को पूरे सम्मान के साथ फहराया जाना चाहिए। राष्ट्रध्वज की पवित्रता एवं गरिमा कायम रहनी चाहिए। समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने यह जानकारी दी।


सपा मुखिया एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि स्वेच्छा से प्रत्येक नागरिक अपने आवास पर राष्ट्रध्वज फहराएं। यह खादी का बना हो। राष्ट्रध्वज हमारे राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक है। उस पर हर भारतीय गर्व करता है। उन्होंने कहा कि 9 अगस्त 1942 को महात्मा गांधी जी ने अंग्रेजों को भारत छोड़ने की चेतावनी दे दी थी। गांधी जी ने अपने भाषण में देश को ‘‘करो या मरो‘‘ का मंत्र दिया था।
‘‘अंग्रेजों भारत छोड़ो‘‘ प्रस्ताव 8 अगस्त 1942 की रात को पारित होते ही अंग्रेज सरकार का दमन चक्र शुरू हो गया था। सभी नेता तड़के सुबह से गिरफ्तार कर लिए गए। तब जेपी, लोहिया, अरूणा आसिफ अली, ऊषा मेहता आदि समाजवादियों ने आंदोलन का नेतृत्व किया। 9 अगस्त 1942 को चारों तरफ कड़ी सुरक्षा के बावजूद अरूणा आसिफ अली ने अधिवेशन स्थल ग्वालियर टैंक मैदान बम्बई में तिरंगा ध्वज फहरा दिया। डॉ0 लोहिया ने ऊषा मेहता के साथ नेपाल से ‘आजाद रेडियों‘ के माध्यम से आजादी के आंदोलन को पूरी ताकत से जारी रखने का आह्वान करते रहे। जयप्रकाश नारायण हजारीबाग जेल तोड़कर आंदोलन को गति दी।


इस जनांदोलन के फलस्वरूप ही 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ था। इस राष्ट्रीय आंदोलन की पावन स्मृति को बनाए रखने के लिए यह राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया।
भारत की आजादी की आखिरी लड़ाई की याद में 9 अगस्त क्रांति दिवस के रूप में तो मनाया ही जाता है इस वर्ष तो 15 अगस्त को आजादी का 75वां वर्ष भी होगा। डॉ0 राममनोहर लोहिया का मानना था कि 15 अगस्त 1942 राज्य की महान घटना जरूर है, जिस दिन हमें आजादी मिली थी, लेकिन 9 अगस्त 1942 देश की जनता की उस इच्छा की अभिव्यक्ति थी, जिसने ठान लिया था कि हमें आजादी चाहिए और हम आजादी लेकर ही रहेंगे। यह आंदोलन राष्ट्रव्यापी था, जिसमें बड़े पैमाने पर जनता ने हिस्सेदारी की और अभूतपूर्व साहस प्रदर्शित किया।

श्री अखिलेश यादव ने कहा शहर-गांव, अमीर-गरीब, किसान-श्रमिक, व्यापारी- दुकानदार- सरकारी एवं प्राइवेट संस्थानों में कार्यरत कर्मचारियों, सभी को इस आयोजन में स्वेच्छा से सक्रिय भागीदारी निभानी चाहिए। इस अभियान में किसी को भी जुड़ने से बचना नहीं चाहिए। प्रत्येक नागरिक अपना राष्ट्रीय कर्तव्य समझकर इस अभियान में शामिल हो। राष्ट्रध्वज के दिन-रात फहराए जाने पर भी अब कोई प्रतिबंध नहीं है।
श्री यादव ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का अपने-अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर 9 से 15 अगस्त 2022 के बीच नित्य अपने आवास पर राष्ट्रध्वज को ससम्मान फहराये जाने में सहयोग करने का आह्वान किया।

सपा का सदस्यता अभियान: राज्यसभा सांसद ने की शुरुआत

राज्यसभा सांसद जावेद अली खान ने की सदस्यता अभियान की शुरुआत। कार्यकर्ताओं से गांव-गांव, घर-घर जाने की अपील। लोकतंत्र खतरे में है, समाजवाद को करना होगा मजबूत-जावेद अली खां ।

बिजनौर। समाजवादी पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करते हुए राज्यसभा सांसद जावेद अली खां ने कहा कि सदस्यता अभियान में पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता पदाधिकारी व कार्यकर्ता बढ़ चढ़कर हिस्सा लें। उन्होंने पार्टी नेताओं तथा कार्यकर्ताओं से ज्यादा से ज्यादा सदस्य बनाने के लिए गांव-गांव, घर-घर जाने की अपील की। 

समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर सदस्यता अभियान को लेकर एक बैठक हुई। अध्यक्षता समाजवादी पार्टी के निवर्तमान जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन ने की तथा संचालन निवर्तमान जिला महासचिव चौधरी आदित्यवीर सिंह ने किया। बैठक में मुख्य अतिथि के रुप में राज्यसभा सांसद व सदस्यता अभियान के प्रभारी जावेद अली खान उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में नगीना के विधायक/पूर्व मंत्री मनोज पारस, नजीबाबाद के विधायक तस्लीम अहमद, चांदपुर के विधायक/पूर्व मंत्री स्वामी ओमवेश, नूरपुर के विधायक राम अवतार सिंह उपस्थित रहे।  सदस्यता अभियान के प्रभारी ने कहा कि इस अभियान में बूथस्तर तक हर वर्ग तक जाना है। हर दरवाजे तक पहुंचकर पार्टी की नीति, कार्यक्रम और फैसलों की जानकारी दे। उन्होंने कहा कि यह सदस्यता अभियान, लोकतंत्र को बचाओ अभियान चलता रहेगा। इस अभियान में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होगी। उन्होंने कहा कि आज लोकतंत्र खतरे में है। हमें समाजवाद को मजबूत करना होगा। इस अवसर सदस्यता अभियान के प्रभारी राज्यसभा सांसद जावेद अली खान द्वारा सैकड़ों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को सदस्यता दिलाई गई तथा जनपद में पांच लाख नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया। 

कार्यक्रम में अनिल यादव, रफी सैफी, कपिल कुमार, प्रभा चौधरी, कुण्टेश सैनी, राधा सैनी, सतपाल सिंह, असलम कुरेशी, अब्दुल मन्नान, शमशाद अंसारी, अरशद अंसारी, डॉक्टर शफीक राजपूत, शिव कुमार गोस्वामी, मदन सैनी, काजी इदरीस, नसीम प्रधान, शेख जाहिद, नईम मकरानी, कमलेश भुय्यार, कृपा रानी प्रजापति, विमलेश चौधरी, हाजी फैसल, शमशाद सैफी, आजम खान, ओमप्रकाश सिंह, संसार चौधरी, सखी अल्बी, अमन सिंह, जावेद अख्तर, हनी फैसल, नदीम जफर, शैख अंज़ार, मोहम्मद उस्मान, मास्टर लईक,एहतेशाम राजा, रहुल इस्लाम, नाजिम खान, मोहसिन अंसारी, संजय यादव, वीरेंद्र अग्रवाल, शकील पहलवान,डॉक्टर शहबाज़, काज़ी जमाल नासिर, अदनान राइन, डॉक्टर रहमान, अब्दुल वहाब, महमूद कस्सार, इरफान मलिक, मुस्तकीम अहमद, अखलाक पप्पू,शाकिर खान, अशोक आर्य,शुऐब भूरा, दिनेश चौधरी,व अहमद खिज़र खान आदि उपस्थित थे।

त्योहार को लेकर डीएम एसपी से मिले सपा नेता

बिजनौर। समाजवादी पार्टी कै प्रतिनिधि मंडल ने ईदउल अज़हा को लेकर डीएम व एसपी से मुलाक़ात की। बुधवार को समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज पारस, राम अवतार  सैनी, पूर्व विधायक नईम उल हसन, निर्वतमान जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन, पूर्व जिलाध्यक्ष अनिल यादव, प्रवक्ता अहमद खिज़र खान, कार्यालय प्रभारी अख़लाक़ पप्पू, सरफ़राज़ अंसारी ने डीएम एवं एसपी से ईदुल अज़हा को त्योहार को लेकर मुलाक़ात की। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कुर्बानी होती आई है, उसी तरह से होनी चाहिए। त्योहार पर साफ सफाई, बिजली पानी की व्यवस्था सुचारू रूप से होनी चाहिए। लोग त्योहार को आपसी भाईचारे से मिलजुल कर मनाएं।

27 महीने बाद रिहा हुए आजम खां, रामपुर रवाना

लखनऊ (एजेंसी)। 27 महीने बाद शुक्रवार सुबह करीब 8 बजे सपा नेता आजम खां जेल से रिहा हो गए। इससे पहले ही दोनों बेटे अब्दुल्ला, अदीब आजम और शिवपाल सिंह यादव सीतापुर जेल के बाहर पहुंच गए थे, जो उन्हें लेकर रवाना हो गए। गौरतलब है कि 89वें मामले में उन्हें गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम जमानत मिल गई थी, लेकिन रिहाई का फरमान जिला कारागार न पहुंच पाने से वह रिहा नहीं हो सके थे।

पहुंचे पूर्व सपा विधायक अनूप गुप्ता के घर

पहले से ही लगाए जा रहे कयास के अनुसार आजम खां जेल से रिहा होकर सपा के पूर्व विधायक अनूप गुप्ता के घर पहुंचे। अनूप गुप्ता को आजम के सुख दु:ख का साथी माना जाता है। वहीं आजम खां को हिदायत दी गई है कि वह मीडिया आदि से बात न करें, यही वजह रही कि उनकी कार का शीशा नीचे नहीं हुआ और उन्होंने किसी से भी बात नहीं की।

आजम ने खाए आलू के पराठे
पूर्व सपा विधायक अनूप गुप्ता ने पत्रकारों को बताया कि आजम खां ने नाश्ते में आलू के पराठे खाए। गुप्ता ने ये भी बताया कि अखिलेश यादव ने ही आजम खां का पूरा ध्यान रखने को कहा था। उनके परिवार की हर तरह से मदद करने को कहा था। मेरी तबीयत ठीक नहीं थी ऐसे में वह मुझे देखने आए थे। जब उनसे पूछा गया कि क्या आजम अखिलेश यादव से नाराज हैं तो उन्होंने कहा कि ऐसी कोई नाराजगी नहीं है।

अब्दुल्ला आजम बोले हमें न्याय मिला

अब्दुल्ला आजम ने सीतापुर में पत्रकारों से कहा, सुप्रीम कोर्ट ने हमें न्याय दिया। वह पिता को लेने अपने भाई अदीब आजम के साथ सीतापुर पहुंचे हैं।

चौकस रही जेल के बाहर सुरक्षा व्यवस्था

सपा नेता आजम खान की रिहाई से पहले सीतापुर जिला जेल के बाहर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर आजम के बेटे अदीब ने कहा कि मैं शीर्ष अदालत के फैसले से बहुत खुश हूं। हम सीधे रामपुर जाएंगे। वहीं बताया गया है कि आजम की रिहाई के मद्देनजर सपा विधायक आशु मलिक भी सीतापुर जेल पहुंच गए।

मुलायम-अखिलेश चाहते तो जेल के बाहर होते आजम: शिवपाल

शिवपाल यादव ने जेल मे आजम खान से मुलाकात कर की अहम चर्चा

लखनऊ (एजेंसी)। एक घंटे 20 मिनट की मुलाकात के बाद सीतापुर जेल से निकले शिवपाल यादव ने अखिलेश के साथ पहली बार मुलायम सिंह यादव पर भी हमला बोला है। उन्होंने कहा कि नेताजी और अखिलेश यादव चाहते तो आजम खान जेल से बाहर होते। नेताजी ने कुछ नहीं किया, लोकसभा में भी मामला नहीं उठाया। वह चाहते तो धरना कर सकते थे।

सपा के अन्य मुस्लिम नेताओं के बदले रुख और जयंत चौधरी के आजम खान के परिजनों से मुलाकात के बाद शिवपाल यादव की आजम से मुलाकात काफी अहम है। उन्होंने इस मुलाकात के बाद भविष्य में नए राजनीतिक समीकरणों की सुगबुगाहट शुरू कर दी है।
शिवपाल यादव ने साफ कहा है कि आजम साहब बड़े नेता है।

इससे पहले भी शिवपाल सिंह यादव आजम खान से मिलने सीतापुर जेल जा चुके हैं। उनकी गिरफ्तारी को लेकर शिवपाल हमेशा से ही मुद्दा उठाते रहे हैं। शुक्रवार की मुलाकात के बाद शिवपाल ने कहा कि समाजवादी पार्टी को आजम खान के लिए आंदोलन करना चाहिए था। वह विधानसभा में सबसे सीनियर लीडर हैं, लोकसभा और राज्य सभा में भी रह चुके हैं। सपा को आजम खान की बात सुननी चाहिए थी। लेकिन सपा संघर्ष करती नहीं दिखाई दी। शिवपाल ने अखिलेश का नाम लिए बिना निशाना साधते हुए कहा कि नेता जी (मुलायम सिंह यादव) के साथ आजम खान के लिए धरने पर ही बैठ जाते तो प्रधानमंत्री जरूर सुनते। पीएम नेताजी का सम्मान करते हैं। शिवपाल ने कहा कि बहुत छोटे-छोटे मुकदमे हैं।

UP MLC चुनाव: बीजेपी-सपा के प्रत्याशियों में ठाकुर-यादवों का जोर, दोनों की लिस्ट से दलित Out!


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा के बाद विधान परिषद चुनाव को लेकर बीजेपी और सपा ने अपने-अपने पत्ते खोल दिए हैं. दोनों ही प्रमुख पार्टियों ने एमएलसी चुनाव के लिए अपने-अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. विधान परिषद चुनाव में बीजेपी ने जहां सबसे ज्यादा ठाकुर समुदाय के उम्मीदवारों पर दांव लगाया है तो वहीं, सपा ने यादव समुदाय पर भरोसा जताया है. हालांकि, बीजेपी और सपा दोनों ने ही दलित समुदाय से किसी को भी एमएलसी का प्रत्याशी नहीं बनाया है.

बीजेपी का ठाकुर-ओबीसी पर दांव
स्थानीय निकाय क्षेत्र की 36 विधान परिषद सीटों में से बीजेपी ने सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. बीजेपी ने सपा और कांग्रेस से आए दलबदलू नेताओं पर भरोसा जताया है तो सियासी समीकरण को साधने का दांव भी चला है. जातीय समीकरण के लिहाज से बीजेपी ने सबसे ज्यादा ठाकुर और पिछड़ा वर्ग पर सबसे ज्यादा भरोसा जताया है. बीजेपी ने 16 ठाकुर, 11 पिछड़े, 5 ब्राह्मण, 3 वैश्य और 1 कायस्थ को एमएलसी का टिकट दिया है.

सपा ने साधा ऐसे सियासी समीकरण
वहीं, समाजवादी पार्टी 36 एमएलसी सीटों में से 34 सीटों पर खुद चुनावी मैदान में है तो 2 सीटें सहयोगी दल आरएलडी के लिए छोड़ी हैं. सपा ने सबसे ज्यादा 19 यादव समुदाय के प्रत्याशी बनाए हैं और इसके बाद चार अन्य ओबीसी को उम्मीदवार बनाया है. इसके अलावा चार मुस्लिम, तीन ठाकुर, तीन ब्राह्मण और एक जैन समुदाय के नेता को विधान परिषद का टिकट दिया है. इस तरह से सपा ने अपने सियासी समीकरण साधने का दांव चला है.

सपा के 19 यादव एमएलसी कैंडिडेट
सपा ने एमएलसी चुनाव के लिए लखनऊ-उन्नाव सीट से सुनील सिंह साजन, बाराबंकी से राजेश कुमार यादव, इलाहाबाद से वासुदेव यादव, बहराइच से अमर यादव, वाराणसी से उमेश कुमार यादव, पीलीभीत-शाहजहांपुर से अमित यादव, प्रतापगढ़ से विजय बहादुर यादव, आगरा-फिरोजाबाद से दिलीप सिंह यादव, गोरखपुर-महराजगंज से रजनीश यादव, सीतापुर सीट से अरुणेश कुमार यादव, रायबरेली से वीरेंद्र शंकर सिंह यादव, मथुरा-एटा-मैनपुरी से राकेश यादव को प्रत्याशी बनाया है. वहीं, आजमगढ़-मऊ से राकेश कुमार यादव, जौनपुर से मनोज कुमार यादव, झांसी-जालौन-ललितपुर सीट से श्याम सुंदर यादव, कानपुर-फतेहपुर सीट से दिलीप सिंह यादव, इटावा-फर्रुखाबाद से हरीश कुमार यादव, बस्ती-सिद्धार्थनगर से संतोष सनी यादव सनी, अलीगढ़ से जयवंत सिंह यादव और फैजाबाद से हीरालाल यादव को प्रत्याशी बनाया है.

सपा का मुस्लिम- ब्राह्मण- ठाकुर- ओबीसी समीकरण
सपा ने मुस्लिम समुदाय से रामपुर-बरेली सीट से मसकूर अहमद, देवरिया-कुशीनगर से गोरखपुर के चर्चित डॉ. कफील खान, हरदोई से रजीउद्दीन और मुजफ्फरनगर-सहारनपुर से मो. आरिफ को टिकट दिया. बांदा- हमीरपुर से आनंद कुमार त्रिपाठी, गोंडा से भानु कुमार त्रिपाठी और गजीपुर से भोलानाथ शुक्ला को प्रत्याशी बनाया. बदायूं से सिनोज कुमार शाक्य, खीरी से अनुराग वर्मा, बलिया से अरविंद गिरी, सुल्तानपुर से शिल्पा प्रजापति को प्रत्याशी बनाया है. वहीं, सपा ने ठाकुर समुदाय के तौर पर मुरादाबाद-बिजनौर से अजय प्रताप सिंह, मिर्जापुर-सोनभद्र रमेश सिंह और मथुरा-एटा-मैनपुरी से उदयवीर सिंह को टिकट दिया है।

बीजेपी की लिस्ट में तीन महिलाएं भी– बीजेपी ने एमएलसी चुनाव में ठाकुर और ओबीसी की जातियों पर दांव खेला है. एमएलसी चुनाव के लिए भाजपा ने सबसे ज्यादा भरोसा ठाकुर समुदाय पर किया है. एमएलसी उम्मीदवारों सूची में 16 ठाकुर, 5 ब्राह्मण, 11 पिछड़े, तीन वैश्य, एक कायस्थ वर्ग का प्रत्याशी है. ओबीसी में तीन यादव, एक सैनी, दो जाट, दो कुर्मी, एक कलवार, एक नाई, एक गुर्जर का सूची में नाम है. तीन महिलाओं को भी भाजपा ने उम्मीदवार बनाया है. बीजेपी के सियासी समीकरण को देखे तो ओबीसी के तमाम जातियों का साधने का दांव चला है.

दल-बदलुओं पर खेला बीजेपी ने दांव
बीजेपी ने कांग्रेस और सपा से आए दलबदलू नेताओं पर भरोसा जताया है. सपा से भाजपा में आए शैलेंद्र सिंह को सुल्तानपुर से, सीपी चंद को गोरखपुर-महराजगंज से, रवि शंकर पप्पू को बलिया से, नरेंद्र भाटी को बुलंदशहर से तो रमा निरंजन को झांसी-जालौन सीट से चुनाव मैदान में उतारा है. इसके अलावा कांग्रेस से आए दिनेश प्रताप सिंह को रायबरेली और निर्दलीय जीत रहे चंचल सिंह को गाजीपुर से एमएलसी का कैंडिडेट घोषित किया है. ऐसे ही बसपा से आए बृजेश सिंह को भी कैंडिडेट बनाया है. बीजेपी ने तीन महिला कैंडिडेट उतारे हैं, जिनमें रमा निरंजन, डॉ. प्रज्ञा और वंदना मुदित वर्मा है.

काशी की परंपरा के लिए खतरा है भाजपा: जय प्रकाश पांडेय

समाजवादी नेता जय प्रकाश पांडेय ने भाजपा को बताया काशी की परंपरा के लिए खतरा।


लखनऊ। मतदान की पूर्व संध्या पर बीएचयू गेट पर संवाददाताओं से बात करते हुए समाजवादी नेता एवं चिंतक जय प्रकाश पांडेय ने कहा कि असहमति के प्रति आदर भाव प्रदर्शित करने की परंपरा का नाम है- काशी। पौराणिक मान्यताओं का केंद्र होते हुए भी काशी ने स्थापित व्यवस्था की विसंगतियों के बरक्स मानवतावादी मौलिक विचारों एवं असहमति के स्वरों को धैर्य से सुना। महात्मा बुद्ध, शंकराचार्य से दयानंद सरस्वती तक के शास्त्रार्थ की साक्षी है- काशी। यहां कबीर और संत रविदास की सामाजिक समता की आग्रही दूसरी परंपरा भी संरक्षण पाती रही है। भाजपा की एकरंगी सोच लोकतांत्रिक विमर्श को खारिज करने एवं असहमति को कुचलने की है, जो काशी की परंपरा के खिलाफ है। काशी की इस गौरवपूर्ण विरासत के सच्चे उत्तराधिकारी समाजवादी ही हैं।

अखिलेश से मिलने के लिए कतारबद्ध हो गई अफसरशाही!

योगी के खास अफसर अखिलेश से क्यों मिल रहे? अयोध्या में डीएम ने बोर्ड बदला। लखनऊ में अखिलेश से मिलने के लिए अफसरों की कतार लग रही

लखनऊ (एजेंसी)। यूपी विधानसभा चुनाव के सिर्फ एक चरण की वोटिंग बची है। सरकार किसकी बनेगी, इसका तो अभी इंतजार है, लेकिन नौकरशाही में हलचल मच चुकी है। ताजा उदाहरण अयोध्या के डीएम आवास के बोर्ड के बदलते रंगों से ही ले सकते हैं। बड़े ब्यूरोक्रेट्स अखिलेश से मुलाकात की कोशिशें कर रहे हैं। कुछ पुराने रिश्ते याद दिलाना चाहते हैं, तो कोई नए रिश्ते की नींव रखना चाहता है। ये दृश्य इसलिए भी दिखने लगे हैं क्योंकि ये ब्यूरोक्रेट्स सियासत के मौसम को बखूबी समझते हैं।

योगी के करीबी अधिकारी पहुंचे अखिलेश के दरबार- रोचक तथ्य ये है कि कल तक जो सीएम योगी के सबसे करीबी अधिकारियों में शामिल थे। वह अब अखिलेश यादव से एक मुलाकात करके लिए जुगत भिड़ा रहे हैं। कोई सीधे फोन करके बात कर रहा है। कोई सहयोगी के जरिए अखिलेश तक पहुंचना चाहता है। ब्यूरोक्रेट्स, इतनी परेशानी तब उठा रहें हैं। जब यूपी की सत्ता पर कौन बैठ रहा है, यही तय नहीं है। सपा सूत्रों का दावा है कि पुलिस और प्रशासन के कई बड़े अफसर अब तक मुलाकात कर भी चुके हैं।

अखिलेश से मिलने वालों की कतार में कौन-कौन?

सपा के एक बड़े नेता का दावा है कि योगी सरकार में कई महत्वपूर्ण विभागों की जिम्मेदारी संभालने वाले एक सीनियर आईएएस अफसर अखिलेश से बात करने की कोशिश कर रहे हैं। ये भी अंदरखाने चल रहा है कि अखिलेश फिलहाल उनसे मिलना नहीं चाहते हैं। दूसरी तरफ सपा नेताओं का दावा है कि पुलिस महकमे के भी कई अफसरों से अखिलेश की मुलाकात हो चुकी है। कुछ खास इश्यू पर उनकी चर्चाएं हुईं हैं। इसके साथ ही अखिलेश सरकार में बड़ी जिम्मेदारी संभालने वाली महिला आईएएस भी सपा सुप्रीमो के संपर्क में हैं। अब जो चर्चाएं चल रही हैं, उसके मुताबिक अखिलेश सरकार में पंचम तल पर रहने वाले अधिकारियों को लगता है कि वो दोबारा सीएम बन सकते हैं। इसलिए अभी से अपनी कुर्सी पक्की कर लेना चाहते हैं।

पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन से लगा रहें हैं सिफारिश!
खबर ये भी है कि कुछ अधिकारी अखिलेश सरकार में मुख्य सचिव रहे सीनियर आईएएस आलोक रंजन के जरिए अखिलेश खेमे में अपनी पैठ बनाने की कोशिश में लगे हैं। आलोक रंजन फिलहाल अखिलेश यादव के बेहद करीबी हैं और माना जा रहा है कि अगर सपा की सरकार बनती है, तो उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जाएगी।

डीएम आवास के बोर्ड के ‘बदलते रंग’ की कहानी

अयोध्या के डीएम के बोर्ड का रंग पर उठे बवाल के बाद दोबारा रंग बदला गया। - Dainik Bhaskar

अयोध्या के डीएम के बोर्ड का रंग पर उठे बवाल के बाद दोबारा रंग बदला गया। अयोध्या के डीएम आवास के बोर्ड का रंग बुधवार को बदल दिया गया। पहले भगवा था, जिसे बाद में हरा किया गया। इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं शुरू हो गईं। इन चर्चाओं में लोगों ने सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया है कि क्या उत्तर प्रदेश में एक बार फिर सत्ता परिवर्तन होने जा रहा है? यूपी में भगवा से भाजपा तो हरा रंग को सपा से जोड़ा जाता है। हालांकि, गुरुवार को एक बार फिर डीएम के बोर्ड का रंग हरा से लाल कर दिया गया है।

कई अधिकारी भी होते हैं सियासत के मौसम वैज्ञानिक
सियासत में रंगों का अपना अलग ही महत्व होता है। 2017 में उत्तर-प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही रंग बदलने लगे। सरकारी बिल्डिंग से लेकर मंत्रियों के आवास का रंग भी बदला। रंगों में बदलाव कुर्सियों और उन पर सजने वाले तौलिया तक में दिखाई दिया। सड़क से लेकर चौक-चौराहों पर लगे बोर्ड तक सब कुछ जैसे भगवा मय हो गया। यूपी में योगी सरकार बनने के बाद DM आवास के बोर्ड का रंग भगवा किया गया था। अयोध्या और वाराणसी में कई सारे भवनों को भगवा रंग दिया गया। लेकिन चुनाव के आखिरी पड़ाव में डीएम के बोर्ड के बदलते रंग ने सियासी सरगर्मी बढ़ा दी है। लोगों का तो यहां तक कहना है कि कई अधिकारी भी सियासत के मौसम वैज्ञानिक होते हैं।

मलिहाबाद की सरजमीं पर दहाड़े स्वामी प्रसाद मौर्य; उमड़ा जन सैलाब

लखनऊ। तहसील मलिहाबाद ग्राउंड में समाजवादी पार्टी की ओर से आयोजित जनसभा में लोगों का जन सैलाब उमड़ पड़ा। जनसभा को सम्बोधित करने पहुंचे स्वामी प्रशाद मौर्य का कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया। संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि समाजवाजदी प्रचार प्रसार तूफान की तरह चल रहा है, जो भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकेगी।

आज उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के समर्थन में तमाम नेता समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। पश्चिम से चौधरी चरण सिंह के सपुत्र जयंत सिंह चौधरी, भारतीय सुहेल देव समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर, अपना दल के कर्षण पटेल, संजय सिंह आदि नेता इस महान गठबंधन में शामिल हुए हैं, जो भारतीय जनता पार्टी को जड़ से उखाड़ फेंकेगे।

मौर्य ने कहा कि आप जानते हैं कि मैने भारतीय जनता पार्टी से मंत्री पद से इस्तफ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि मैने बीजेपी सरकार को पाँच वर्षों में पढ़ा, परखा व जाना है। इनका चरित्र दोगला है। योगी ने जो 80 और 20 का नारा दिया था क्या 20 प्रतिशत लोग इस देश के नागरिक नहीं हैं।

उन्होंने पूछा कि क्या आजादी की लड़ाई में रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खां ने अपनी शहादत नहीं दी है, क्या देश आजाद होने के बाद इनकी औलादें, भाई देश में नहीं रह रहे हैं। भारत पाकिस्तान की लड़ाई में योगी जी के बाप दादा तो अंग्रेजों से लड़े ही नही हैं। उन्होंने अंग्रेजों की गुलामी की है। अब 80, 20 नहीं चलेगा। अब 85 तो हमारा है, 15 में बंटवारा है।

उन्होंने कहा भाजपा सरकार ने नौजवानों को धोखा दिया है सरकारी नौकरी देने को कहा था लेकिन इनकी सरकार में एक भी सरकारी भर्ती सही नहीं हो पाई।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचारियों की सरकार है। समाजवादी सरकार बनने पर सारे हिसाब लिए जाएंगे।

वहीं सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने कहा कि भाजपा सरकार ने युवाओं को ठगने का काम किया है और अपने समाज को भी ठगने का काम किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने मलिहाबाद में मंडी बनवाई लेकिन भाजपा सरकार ने आज तक उसका उद्घाटन तक नहीं किया।

हमारी सरकार आने पर माल रोड पर अमानीगंज रेलवे क्रॉसिंग का ओवर ब्रिज बनेगा, जिससे जाम में फंस जाने वाले लोगों को राहत मिलेगी। इसके साथ-साथ क्षेत्र में जो सड़कें बदहाल अवस्था में हैं, उनका भी मरम्मत कार्य करवाया जाएगा। सभा समाप्त होने के बाद कार्यकर्ताओं ने मंच पर स्वामी प्रसाद मौर्या का जोरदार स्वागत किया।

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने किया चुनाव कार्यालय का उद्घाटन

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने फीता काटकर किया चुनाव कार्यालय का उद्घाटन

लखनऊ। मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत मिर्जागंज चौराहे स्थित सपा पार्टी चुनाव कार्यालय का सोमवार को नगर पंचायत मलिहाबाद की अध्यक्ष असमत आरा खां के पुत्र पूर्व जिला उपाध्यक्ष एवं प्रतिनिधि अहसन अजीज खां व प्रत्याशी सोनू कन्नौजिया ने चुनाव कार्यालय का उद्घाटन फीता काट कर किया।

इस अवसर पर सभा को सम्बोधित करते हुये चेयरमैन प्रतिनिधि ने कहा कि भाजपा सरकार मे किसानों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। मंहगाई चरम पर पहुंच गयी है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही किसानों को मुफ्त खाद, डीजल, पेट्रोल दिया जायेगा।

सभा को सम्बोधित करते हुये अहसन अजीज खां ने कहा कि नौजवानों के पास रोजगार नहीं हैं, उन्हें रोजगार पाने के लिये लाठियां खानी पड़ रही हैं। सपा सरकार बनते ही रोजगार युवकों को दिये जायेंगे। भाजपा ने विगत क्षेत्र पंचायत प्रमुख चुनाव में नंगा नाच कर अपने प्रमुखों को जिताया है।

उन्होंने कहा कि पेंशन बहाली करने के साथ रोजगार के रास्ते खोले जायेंगे। देश का किसान, नौजवान, व्यापारी वर्ग भाजपा सरकार से तंग आ चुका है। मोदी योगी सरकार ने नोटबंदी कर भारत को लूटने का काम किया है। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि आगामी 23 फरवरी को मतदान अधिक से अधिक करायें, साथ ही किसानों, नौजवानों विरोधी भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करें, जिससे एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया जा सके।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष जय सिंह जयन्त, विधानसभा अध्यक्ष वीरेन्द्र यादव, पूर्व महासचिव राशिद अली, जिला महासचिव शब्बीर खां, प्रभारी वासुदेव सिंह, मोईन खां, शहजाद खां,नागेन्द्र यादव सहित सैकडों सपाई मौजूद रहे।

स्वाति मिश्रा के साथ उत्कर्ष और दीपांशु ने डोर टू डोर किया जनसंपर्क

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से पीएचडी हैं स्वाति मिश्रा। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं से जनसंपर्क कर अवगत करा रहीं उन्हें पार्टी की नीतियों से अवगत। पति अभिषेक मिश्रा के कंधे से कंधा मिलाकर दे रही हैं साथ।


लखनऊ। सरोजनी नगर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी व पूर्व कैबिनेट मंत्री अभिषेक मिश्रा का प्रचार अभियान जोरो पर है। अभिषेक मिश्रा के साथ ही साथ उनकी पत्नी स्वाति मिश्रा भी पार्टी के लिए दिन रात कैंपेन करके वोट मांग रहीं हैं। इसी कड़ी में रविवार को उन्होंने मानसरोवर सेक्टर- ओ व गुड़ौरा में डोर टू डोर अभियान कर वोट मांगे।

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से पीएचडी स्वाति मिश्रा ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं से जनसंपर्क कर उन्हें पार्टी की नीतियों से अवगत करा रहीं हैं। साथ ही साथ पति का कंधे से कंधा मिलाकर साथ दे रही हैं। प्रसपा युवजन सभा के डॉ उत्कर्ष यादव एवं प्रदेश सचिव लोहिया वाहिनी दीपांशु यादव द्वारा आयोजित जनसंपर्क कार्यक्रम में स्वाति मिश्रा ने कहा कि पिछली सपा सरकार में सरोजनी नगर विधानसभा में जो विकास कार्य हुए थे, उनकी रफ्तार मौजूदा सरकार में मंद पड़ चुकी है। ऐसे में रुके हुए विकास कार्यों को पुनः रफ्तार देने के लिए सपा की सरकार बनानी होगी। इसके लिए एक एक वोट की बहुत कीमत है। उन्होंने गोकुल धाम मंदिर ट्रस्ट और माँ सिहारी देवी विकास समिति के पदाधिकारियों से भी शिष्टाचारिक भेंट की। इसके बाद उन्होंने डोर टू डोर कैम्पेन कर पार्टी के पक्ष में वोट मांगे।

जनसभा में अधिवक्ता विश्वजीत मौर्य, इं अभिषेक यादव, जितेंद्र पाल, दिलीप सिंह कृष्णा, प्रमोद द्विवेदी, आशुतोष दीक्षित, शिव कुमार, शिवम सानिध्य, आदि लोग मौजूद थे।

ब्राह्मण समाज ने भरी हुंकार, आरपी यादव अब की बार!

सदर की जनता को चार दशक की दासता से मुक्ति मिलेगी- ब्राह्मण महासभा

ब्राह्मण समाज ने तिलक लगा कर कहा – आरपी यादव होंगे सदर विधायक !

रायबरेली। सदर विधानसभा से प्रत्याशी आर पी यादव को हर समुदाय का जनसमर्थन और आशीर्वाद मिल रहा है। हर तरफ से यही आवाज आ रही है कि अब की बार किसान के बेटे आरपी यादव को विधायक बनाना है। रविवार को ब्राह्मण महासभा का भी आशीर्वाद मिला है। सदर विधानसभा के कद्दावर ब्राह्मण समाज के नेताओं ने आर पी यादव को तिलक लगाते हुए कहा कि हम लोग यह जीत का तिलक लगा रहे हैं, इस बार आरपी यादव को हमारे समाज का आशीर्वाद मिल रहा है। अपना बेटा आरपी यादव इस बार सदर विधानसभा से विधायक बनने जा रहा है। हमारे बेटे ने बहुत संघर्ष किया है और इस बार हम लोग उसे आशीर्वाद देते हैं कि सदर विधानसभा से विधायक बनने से कोई रोक नहीं सकता है।

वरिष्ठ समाजसेवी राजेंद्र प्रसाद बाजपेई व कमलेश द्विवेदी ने कहा कि सपा मुखिया अखिलेश यादव ने हमारे वर्ग के लोगों के लिए बहुत कुछ किया है। छोटे लोहिया के नाम से पूरे प्रदेश में प्रसिद्ध रहे जनेश्वर मिश्रा के नाम से एशिया का सबसे बड़ा पार्क बनाया है। इसके अलावा परशुराम जी की मूर्ति लगाने का काम सपा सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि जितना सम्मान सपा सरकार में ब्राह्मणों का रहा है, उतना किसी दूसरी सरकार में नहीं रहा है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार में निर्दोष ब्राह्मणों की भी हत्याएं कराई गई है। सैकड़ों ऐसे लोग भी हैं जो कि आज भी योगी सरकार का दंश झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बार पूरे प्रदेश का ब्राह्मण एक वर्ग की राजनीति करने वाली योगी सरकार को प्रदेश की सत्ता से बाहर करने का मन बना लिया है।

शहर ब्राह्मण समाज के लोगों ने कहा कि पूर्व में ही हमारे वर्ग के लोगों की हत्या की गई है। शहर में ही दिन दहाड़े चंद गुण्डों ने ब्राह्मणों की हत्या कर दी थी। उन्होंने कहा कि शहर का ब्राह्मण अभी तक वह मंजर भूला नहीं है। इस बार सदर विधानसभा में बदलाव होगा और इस बार अपना बेटा आरपी यादव विधायक बनेगा। बुजुर्ग ब्राह्मणों ने आरपी यादव को जीत के लिए आशीर्वाद दिया और विश्वास जताया कि आरपी यादव के नेतृत्व में सदर विधानसभा क्षेत्र का विकास होगा सब को सम्मान मिलेगा हर अमीर -गरीब की आवाज को शासन- प्रशासन तक पहुंचाने का काम आरपी यादव के द्वारा किया जाएगा। चार दशकों की दासता से मुक्ति मिलेगी ।

आरपी यादव ने कहा कि सपा सरकार में सदैव ही ब्राह्मणों का सम्मान किया गया है। सपा मुखिया ने ब्राह्मण समाज के लोगों के लिए बहुत कुछ किया है। सपा सरकार में ब्राह्मण समाज के लोगों का अधिक से अधिक प्रतिनिधित्व रहा है। इस बार भी सपा सरकार बनने पर ब्राह्मण समाज के लोगों का सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में जितना अपमान ब्राह्मण समाज के लोगों का किया गया है, उतना किसी अन्य सरकार में नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि इस बार पूरे प्रदेश का ब्राह्मण ऐसी तानाशाही सरकार को सत्ता से बाहर करने का मन बना चुका है। उन्होंने ब्राह्मण महासभा के लोगों से कहा कि मैं आपका बेटा हूं और आपके समाज के लोगों का सम्मान कभी नहीं झुकने दूंगा। सदर विधानसभा के लिए मुझसे जितना अधिक से अधिक से हो सकेगा, मैं उतना अधिक से अधिक काम करूंगा। इस मौके पर शीतला शंकर मिश्रा, दीपक दीक्षित, ओके बाजपेई, सभासद पूनम तिवारी, सुरेश शुक्ला, मनीष त्रिपाठी, हिमांशु बाजपेई, आरपी बाजेपई, राजेंद्र बाजपेई सहित सैकड़ों ब्राह्मण समाज के लोग मौजूद रहे।

बीएड-टेट 2011 अचयनितों का मिला समर्थन
सदर विधानसभा से प्रत्याशी आरपी यादव के समर्थन में बीएड टेट-2011 के चयनित अभ्यर्थियों का समर्थन मिला है। आरपी यादव को समर्थन पत्र देते हुए कहा कि हम आपके साथ और सदर विधानसभा के सैकड़ों नौजवानों और उनके परिवार के लोग आपको जिताकर विधानसभा भेजने का काम करेंगे। एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष आशीष तिवारी ने समर्थन पत्र देते हुए कहा कि हम लोग योगी सरकार में अपनी नौकरी की गुहार लगाते-लगाते थक गए है, लेकिन सरकार की तरफ से हम लोगों की एक भी नहीं सुनी गई। हम जिले के हजारों नौजवान सभी विधानसभा में सपा के प्रत्याशी को जिताकर अखिलेश यादव की सरकार फिर से बनाने का काम करेंगे।

सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार

बिजनौर। सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। जानकारों के अनुसार भाजपा प्रत्याशी सूची मौसम चौधरी की राह इस बार आसान नजर नहीं आ रही। चुनाव में उन्हें जहां सपा रालोद गठबंधन से कड़ी टक्कर मिल रही है, वहीं बसपा प्रत्याशी रूचि वीरा भी पूरी ताकत से चुनाव प्रचार में लगी हुई हैं। आम आदमी पार्टी प्रत्याशी विनीत शर्मा ने भी धुआंधार प्रचार कर अपने चुनाव को मजबूत बना लिया है। उस पर मतदाताओं की चुप्पी से सभी प्रत्यशियों की नींद उड़ी हुई है।

सपा रालोद गठबंधन प्रत्याशी डॉ नीरज चौधरी

चुनावी समीक्षकों के मुताबिक 389356 मतदाताओं वाली बिजनौर सदर सीट पर भाजपा ने इस बार भी अपनी निवर्तमान विधायक सूची मौसम चौधरी को प्रत्याशी बनाया है। सपा रालोद गठबंधन से वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ नीरज चौधरी चुनाव मैदान में हैं। वहीं बसपा के टिकट पर पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा भी पूरी ताकत के साथ डटी हुई है। इस चुनाव में पहली बार आम आदमी पार्टी के टिकट पर पढ़े लिखे नौजवान विनीत शर्मा शिक्षा, बेरोजगारी, महिला सुरक्षा किसानो के गन्ना भुगतान जैसे मुद्दों के साथ चुनाव मैदान में उतरे हैं।

भाजपा प्रत्याशी सूची चौधरी

जातीय समीकरण के लिहाज से इस सीट पर लगभग एक लाख 40 हजार मुस्लिम, 45 हजार जाट, 48 हजार अनुसूचित जाति 40 हजार सैनी, 14 हजार पाल 12 हजार कश्यप, 10 हजार राजपूत, 10 हजार वैश्य, 8 हजार बंगाली, 5 हजार ब्राह्मण व शेष अन्य जातियों के मतदाता हैं।

बसपा प्रत्याशी रुचि वीरा

जाट मतदाता का रुझान स्पष्ट नहीं- 13 महीने चले किसान आंदोलन को लेकर भाजपा से नाराजगी के चलते जाटों का रुझान किसी एक पार्टी की तरफ होता दिखाई नहीं दे रहा है। हालांकि रालोद प्रत्याशी डॉक्टर नीरज चौधरी बिरादरी के दिग्गजों के साथ घर घर जाकर भाईचारे व विकास के वादे कर रहे हैं।

भाजपा के पास भी है जाट समुदाय- किसान आंदोलन को लेकर जाटों के भाजपा से नाराज होने की अटकलें लगाई जा रही हैं। इसके बावजूद, इन दावों में कोई ख़ासा दम नहीं दिखता। पश्चिम उत्तर प्रदेश में बीजेपी के मंत्री, विधायक से लेकर कई वरिष्ठ पदाधिकारी भी जाट हैं। सभी ने सुशासन, विकास, सुरक्षा आदि मुद्दों को लेकर अपनी बिरादरी में खासी पैठ बना रखी है।

मुस्लिम मतदाता भी साधे है चुप्पी- पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा इस बार बसपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। विधानसभा क्षेत्र के ग्रम पेदा में एक वर्ग विशेष के तीन लोगों की हत्या के बाद अल्पसंख्यक समुदाय का उनके प्रति झुकाव तो हुआ लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यक मतदाताओं का उनके पक्ष में ध्रुवीकरण होने के बावजूद चुनाव हार गई थी। इस बार रुचि वीरा दलित व मुस्लिम गठजोड़ के सहारे चुनावी वैतरणी पार करना चाहती हैं। जानकारों का कहना है कि इस बार के चुनाव में मुस्लिम समाज पूरी तरह से एकजुट होता नजर नहीं आ रहा है। समाजवादी पार्टी और रालोद गठबंधन के चलते डॉ नीरज चौधरी को भी इस वर्ग के वोट मिलना तय है।

ठिठका हुआ है मुस्लिम वोटर- बताया जाता है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के कथित बयान कि “चाहे भाजपा को वोट देना पड़े, समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी नहीं जीतना चाहिए!” इसके बाद मुस्लिम मतदाता एक तरह से ठिठक सा गया है। जानकारों के अनुसार इस वर्ग के मतदाताओं के मन में संशय है कि यदि वो बसपा को वोट देते भी हैं, तो वह भाजपा के खाते में ही जाना है। इसलिए वह पशोपेश में है।

आप प्रत्याशी विनीत शर्मा

आम आदमी पार्टी ने इस बार बिजनौर सदर सीट से युवा व पढ़े-लिखे विदित शर्मा को चुनाव मैदान में उतारा है। उनके धुआंधार चुनाव प्रचार, दिल्ली के विकास मॉडल, किसानों की कर्ज माफी, महिला सुरक्षा, रोजगार, शिक्षा तथा स्वास्थ्य जैसे वादों के बाद आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की उनके समर्थन में वीडियो संदेश जनता के बीच पहुंचाए जाने के बाद चुनाव प्रचार के अंतिम चरण में आप प्रत्याशी की स्थिति मजबूत होती दिखाई दी। क्षेत्र की चुनावी समीक्षा के बाद बिजनौर सदर सीट पर इस बार मुकाबला दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा, ये तो आने वाली 10 मार्च को मतगणना के बाद ही पता चल पाएगा, किंतु दूसरे चरण में 14 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए मतदाताओं में काफी उत्साह दिखाई दे रहा है। इसके बावजूद जनता अपने पत्ते खोलने को तैयार नहीं है।

जनता ने बना लिया मन, इस बार विधायक बदल देंगे हम!

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने जनसंपर्क कर जीत की भरी हुंकार

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने 168 विधानसभा मलिहाबाद क्षेत्र में किया जनसंपर्क

जनसंपर्क के दौरान सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया का सपाइयों ने जगह-जगह फूल मालाओं से किया जोरदार स्वागत।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के 168 विधानसभा मलिहाबाद से प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने क्षेत्र के आंट गढ़ी सौरा, घरघटा मंदिर, बरगदिया चौराहा मवई खुर्द, बसंतपुर, वीरपुर, देवरी गजा, बदैइया, शंकरपुर, रायपुर, कमालपुर लोधौरा, अकबरपुर, टिकरी कला, मंझी निकरोजपुर, सैदापुर, शाहपुर गोड़वा, पिपरी कुराखर सहित दर्जनों गांव में वोटरों से सम्पर्क करते हुए समाजवादी पार्टी को जिताने की अपील की।

सोनू कनौजिया ने ग्रामीणों से कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही पूरे उत्तर प्रदेश के हर घर को 300 यूनिट बिजली फ्री दी जाएगी साथ ही समाजवादी पेंशन 1 वर्ष में 6 हजार से बढ़कर 18 हजार रुपये दी जाएगी और सरकारी कर्मचारियों की रुकी हुई पेंशन बहाल कर दी जाएगी।

वहीं श्री कनौजिया ने मलिहाबाद से भारतीय जनता पार्टी की पूर्व विधायक जयदेवी कौशल पर निशाना साधते हुए कहा कि श्रीमती कौशल जबसे विधायक बने हैं, वह घर में बैठकर ही आराम फरमाते रहे हैं। क्षेत्र में ना तो कोई नाली बनी है और ना ही कोई खड़ंजा। विधायक निधि से कोई विकास कार्य नहीं कराया गया है।

इसलिए जनता ने मन बना लिया है कि इस बार विधायक ही बदल देंगे, अब भाजपा के झूठे आश्वासन पर भरोसा कभी नहीं करेंगे। किसानों के हित में  बात करते हुए सोनू कनौजिया ने कहा कि जो किसान दिन भर खेतों में काम करने के बाद अपने घर पर सोता था। आज वह रात को सांडों के आतंक से रात को अपने खेतों की रखवाली कर रहे हैं और रखवाली करते समय न जाने कितने किसानों को साँड़ के हमले से अपनी जान गंवानी पड़ी है। जनसंपर्क अभियान के दौरान सोनू कनौजिया सहित क्षेत्र के काफी तादात में सपा समर्थक मौजूद रहे। सपा प्रत्याशी ने जगह जगह महिलाओं, पुरुषों के पैर छूकर विजयश्री का आशीर्वाद मांगा। लोगों ने भी मत एवं समर्थन देने का वायदा किया।

डोर टू डोर जनसंपर्क कर सपा प्रदेश सचिव दीपांशु यादव ने मांगे वोट

डोर टू डोर जनसंपर्क कर सपा प्रदेश सचिव दीपांशु यादव ने पार्टी के लिए मांगे वोट


लखनऊ। कोविड के बीच हो रहे यूपी विधानसभा चुनाव में न जमीनी रैलियों का शोर है और न ही मेगा जनसंपर्क पर जोर है। इसके बाद भी सत्ता में वापसी के लिए समाजवादी पार्टी के नामी चेहरे संवाद और कार्यक्रमों के अलावा वोटरों के घर-घर पहुंच रहे हैं। इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी की लोहिया वाहिनी विंग के प्रदेश सचिव और सिधौली विधानसभा प्रभारी दीपांशु यादव ने डोर टू डोर जनसंपर्क किया।

चौथे चरण के लिए सीतापुर की सिधौली विधानसभा में 23 फरवरी को मतदान होना है। सपा ने यहां से मौजूदा विधायक हरगोविंद भार्गव को अपना प्रत्याशी बनाया है। अपने प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने के लिए प्रदेश सचिव दीपांशु यादव ने विधानसभा के अंतर्गत आने वाले कई गांव का दौरा कर बड़े, बुजुर्ग एवं युवाओं को पार्टी की नीतियों से अवगत कराया साथ ही साथ यह विश्वास भी दिलाया कि प्रदेश में रुके हुए विकास कार्यों की पुनः शुरुआत सिर्फ अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली सपा सरकार ही करा सकती है। दीपांशु यादव ने कहा कि जनता के बीच समाजवादी पार्टी को लेकर कमाल का उत्साह दिखाई दे रहा है और इस मिलते समर्थन से हम आश्वस्त है कि 10 मार्च को आने वाले नतीजों में समाजवादी पार्टी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है।

जनसंपर्क अभियान में जिला अध्यक्ष लोहिया वाहिनी सीतापुर मदन कनौजिया, उपाध्यक्ष आशीष रावत, सचिव मनोज रावत, विधानसभा अध्यक्ष अतुल भार्गव, आकाश, ललित यादव, शुभम, सतीश मिश्रा आदि कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहे।

भाजपा से सपा में पहुंचे पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बदली गई सीट

लखनऊ। योगी सरकार में मंत्री रहे और समाजवादी पार्टी का दामन थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्या की सीट बदल दी गई है। अब स्वामी प्रसाद मौर्या कुशीनगर की फाजिलनगर से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। पहले वह पडरौना विधानसभा सीट से लड़ने वाले थे। सरोजिनी नगर से अभिषेक मिश्रा और सिराथू से पल्लवी पटेल को टिकट दिया गया है।

पल्लवी पटेल को उतारा केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ-

स्वामी प्रसाद मौर्या हाल ही में बीजेपी छोड़ सपा में आए हैं। अभिषेक मिश्रा पूर्व मंत्री हैं और पल्लवी पटेल अपना दल (के) की नेता हैं। यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ समाजवादी पार्टी ने पल्लवी पटेल को उतारा है। अभिषेक मिश्रा लखनऊ की सरोजिनी नगर से बीजेपी के राजेश्वर सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे।

कृपया whatsapp पर संपर्क करें

भाजपा प्रत्याशी के भाई भतीजे गठबंधन को लड़ा रहे चुनाव!

साहनपुर सल्तनत में सेंध लगा कर भाजपा को सपा रालोद गठबंधन ने दिया तगड़ा झटका। भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेन्द्र के भाई भतीजे की सपा प्रत्याशी हाजी तसलीम अहमद का चुनाव तन मन धन से लड़ाने की घोषणा।

बिजनौर। नजीबाबाद विधान सभा क्षेत्र का चुनावी माहौल बेहद दिलचस्प हो गया है। सपा-रालोद गठबंधन ने साहनपुर सल्तनत में सेंध लगा कर भारतीय जनता पार्टी को तगड़ा झटका धीरे से दिया है। दरअसल भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेन्द्र के भाई भतीजे द्वारा सपा प्रत्याशी हाजी तसलीम अहमद का चुनाव तन मन धन से लड़ाने की घोषणा की गई है।

नजीबाबाद विधान सभा से भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेन्द्र के भाई के सपा प्रत्याशी हाजी तसलीम अहमद का चुनाव तन मन धन से लड़ाने की घोषणा से राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है। भाजपा प्रत्याशी भारतेन्द्र के भाई द्वारा हाजी तसलीम अहमद के स्वागत की खबर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। साहनपुर रियासत के कुंवर रविराज; भाजपा प्रत्याशी राजा भारतेन्द्र के भाई हैं। उनके पुत्र धुवराज सिंह ने सपा प्रत्याशी विधायक हाजी तसलीम अहमद को समर्थन देने के साथ ही पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ाने की घोषणा कर दी है। भाजपा प्रत्याशी के चचेरे भाई के द्वारा लिये गये इस निर्णय से राजनीति के गलियारों में हड़कंप मच गया है। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि कुंवर घराने में सेंधमारी करना कोई मामूली बात नहीं है। कुंवर ध्रुवराज का साथ मिलने से सपा प्रत्याशी हाजी तसलीम अहमद को इसका लाभ जरूर मिलेगा।

लोकदल का सिपाही हूं- कुंवर ध्रुवराज ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि वह लोकदल के सिपाही हैं; लोकदल का सपा से गठबंधन है। इसलिए उन्होंने सपा प्रत्याशी हाजी तसलीम अहमद को चुनाव लड़ाने की घोषणा की है। वह पूरी ताकत के साथ सपा प्रत्याशी को चुनाव लड़ा रहे हैं।

कृपया whatsapp पर संपर्क करें

धृतराष्ट्र बने बैठे रहे अखिलेश यादव, सामने हुई पत्रकार की पिटाई

जयंत चौधरी के बाद अखिलेश यादव के कार्यक्रम में पिटा पत्रकार, देखते रहे नेताजी

हाल ही में RLD सुप्रीमो जयंत चौधरी मुजफ्फरनगर पहुंचे। वहां उनके कार्यक्रम में पत्रकारों के साथ अभद्रता की गई। अब गाजियाबाद में उनके साथी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के कार्यक्रम में भी पत्रकार की पिटाई का मामला सामने आया है।

लखनऊ। हाल ही में मुजफ्फरनगर में रालोद सुप्रीमो जयंत चौधरी के कार्यक्रम में पत्रकारों के साथ अभद्रता की गई। अब गाजियाबाद में उनके साथी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के कार्यक्रम में भी पत्रकार की पिटाई का मामला सामने आया है।

अखिलेश के बॉडीगार्ड ने पत्रकार को पीटा

अखिलेश यादव शनिवार को गाजियाबाद में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करने आए थे। अखिलेश जब यहां से निकल रहे थे तो उनसे एक पत्रकार सवाल करने लगा।  अखिलेश के बॉडीगार्ड ने पत्रकार के साथ धक्का-मुक्की की। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में पत्रकार मारो मत, मारो मत; कहकर खुद को सुरक्षाकर्मियों से बचाने की कोशिश भी कर रहा है। वायरल वीडियो में हाथ में असलहा लिए सुरक्षाकर्मी पत्रकार खालिद चौधरी को धक्का देकर अखिलेश के पास आने से रोक रहे हैं। पत्रकार का आरोप है कि उसके साथ मारपीट की गई।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

एक यूजर ने कहा कि जिस इंसान को विदेश में पढ़ने के बाद सीधा वंशवाद रूपी राजनीति में एक परिवार की पार्टी को आगे बढ़ाना हो, उससे देश के चतुर्थ स्तंभ के मजाक के अलावा कोई भला क्या उम्मीद कर सकते हैं, परंतु 99 प्रतिशत बार बड़बोलापन इंसान को छोटा ही साबित करता है। पत्रकार अंजू निर्वाण ने लिखा कि मीडिया अपनी इज़्ज़त खुद तार-तार करवा रहा है, क्योंकि अब स्टैंड लेना, बॉयकॉट करना जैसे शब्द मीडिया की डिक्शनरी में नहीं रहे। किसी के लिए क्या आवाज़ उठाएंगे जब अपने लिये न कर सके!!

बौखलाहट में पत्रकारों से भिड़ रहे अखिलेश यादव!

चुनाव प्रचार के दौरान कई मौके ऐसे आए, जब अखिलेश यादव पत्रकारों से भिड़ते नजर आए। गाजियाबाद की संयुक्त प्रेस वार्ता में ही अखिलेश यादव बोल रहे थे, तभी थोड़ा शोरगुल होने लगा, जिस पर अखिलेश यादव ने सभी पत्रकारों से शांत होकर सुनने को कहा और मोबाइल से जो लोग रिकॉर्डिंग कर रहे थे उन्हें छोटा पत्रकार बोलकर उनका मजाक उड़ाया। टीवी 9 पर इंटरव्यू के दौरान भी वे भड़क गए थे। आजतक पर इंटरव्यू के दौरान एंकर अंजना ओम कश्यप का मजाक उड़ाने की कोशिश की,  हालांकि अंजना ने फिर क्लास लगा दी।

जयंत के सामने भी पिटते रहे पत्रका

जयंत चौधरी गुरुवार को गठबंधन प्रत्याशियों के समर्थन में प्रचार करने मुजफ्फरनगर पहुंचे। उन्होंने खतौली, बुढाना, चरथावल और मुजफ्फरनगर सदर विधानसभा सीट में सभाओं को संबोधित किया। मुजफ्फरनगर सदर सीट पर गठबंधन समर्थकों ने पत्रकारों के साथ मारपीट की। इस दौरान आरएलडी कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों को भला-बुरा कहा और उनके साथ हाथापाई तक की। हाथापाई और विवाद के बीच जयंत चौधरी मंच पर बैठे मूकदर्शक बने बैठे रहे।

अंततः डॉ. रमेश तोमर ने नहीं कराया नामांकन

बिजनौर। समाजवादी पार्टी से बिजनौर विस क्षेत्र का सिंबल मिलने के बाद प्रचार में जुटे डॉ. रमेश तोमर ने नामांकन नहीं कराया। उन्होंने अचानक पत्रकार वार्ता बुलाकर साफ कर दिया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आदेश पर वह अपना नामाकंन नहीं करा रहे हैं। वह गठबंधन के प्रत्याशी को ही चुनाव लड़ायेंगे। 28 जनवरी शुक्रवार को नामांकन की अंतिम तारीख थी। यहां से रालोद के प्रत्याशी डॉ. नीरज चौधरी पूर्व में ही नामांकन कर चुके हैं।

पत्रकार वार्ता के दौरान डॉ. रमेश तोमर ने कहा कि सपा का सिबंल मिलने के बाद वह प्रचार कर रहे थे और उन्हें हर वर्ग समुदाय का अपार समर्थन मिल रहा था। उन्होंने कहा कि आज सपा मुखिया अखिलेश यादव का उन्हें मैसेज मिला कि नामांकन नहीं कराना है। उनके आदेश का पालन करते हुए वह नामांकन नहीं करा रहे हैं। पार्टी के आदेश पर वह गठबंधन प्रत्याशी का ही चुनाव लड़ायेंगे।

इस अवसर पर मौजूद सपा जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन ने कहा कि तोमर पिछले दो वर्षों से क्षेत्र में काफी मेहनत कर रहे थे। गठबंधन के तहत ये सीट रालोद के खाते में चली गई, जिस कारण ये फैसला लिया गया है। खुद अखिलेश यादव की इच्छा थी कि तोमर ही बिजनौर से चुनाव लड़ें, परंतु अब गठबंधन प्रत्याशी डॉ. नीरज चौधरी का ही चुनाव लड़ायेंगे। इस अवसर पर वीरेन्द्र सिंह, चेयरपर्सन पति शमशाद अहमद, अखलाक पप्पू, डॉ. जमीरूद्दीन उस्मानी आदि उपस्थित थे।

गौरतलब है कि रालोद प्रत्याशी के तौर पर डॉ. नीरज चौधरी का नामांकन होने के बाद सपा से डॉ. रमेश तोमर के भी नामांकन कराने की घोषणा से स्थिति असहज हो गई थी।

युवा कांग्रेस नेता साकिब ज़ैदी सपा में शामिल

युवा कांग्रेस नेता साकिब ज़ैदी सपा में हुए शामिल। अब संभालेंगे जिला सचिव लोहिया वाहिनी की जिम्मेदारी।

बिजनौर/नजीबाबाद। युवा कांग्रेस नेता साकिब ज़ैदी ने कांग्रेस छोड़कर समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है। विधायक हाजी तस्लीम अहमद और जिला अध्यक्ष लोहिया वाहिनी हनी फैसल की संस्तुति पर मोहम्मद साकिब ज़ैदी पुत्र मोहम्मद वासिफ अली को शाहिद मलिक नगर अध्यक्ष और सिकन्दर खान ने उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कराई। इसी के साथ उन्हें जिला सचिव लोहिया वाहिनी के पद पर मनोनयन पत्र देकर नियुक्त किया गया। सपा नेताओं ने साकिब ज़ैदी से आशा की है कि वह अपना कार्य पूर्ण निष्ठा से करेंगे और समाजवादी पार्टी को मजबूत करने का कार्य करेंगे।

इस मौके पर साकिब ज़ैदी ने कहा कि वह विधानसभा चुनाव में सपा को मजबूत करेंगे और विधायक हाजी तस्लीम अहमद को भारी वोटों से जीत हासिल करवाने के लिए पूरा सहयोग देंगे। गांव-गांव जाकर समाजवादी पार्टी के लिए वोट मांगेंगे और अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनायेंगे।

आवश्यकता है

नई दिल्ली से प्रकाशित हिंदी दैनिक श्रीजी एक्सप्रेस (davp/boc से शासकीय विज्ञापनों हेतु मान्यता प्राप्त) को जिला मुख्यालय बिजनौर, नजीबाबाद, धामपुर, नूरपुर, नगीना, चांदपुर व बढ़ापुर के अतिरिक्त सभी महत्वपूर्ण स्टेशनों से प्रतिनिधियों की आवश्यकता है।

सम्पर्क सूत्र- इफ्तिखार कुरैशी (जिला प्रभारी) 9058109919
संजय सक्सेना 8273928100

गठबंधन प्रत्याशी डॉ. रमेश तोमर का तूफानी प्रचार अभियान

गठबंधन के लिए डॉ रमेश तोमर ने किया 50 से अधिक गांवों में डोर टू डोर संपर्क। लोगों ने दिया पूरा समर्थन देकर तन, मन और धन से चुनाव लड़ाने का भरोसा।


बिजनौर। समाजवादी पार्टी गठबंधन के प्रत्याशी डॉ. रमेश तोमर ने 22 बिजनौर विधानसभा के गांवों में अपना चुनावी अभियान तेज कर दिया है। पिछले कई दिनों से अपनी विधानसभा क्षेत्र के 50 से अधिक गांव में डोर टू डोर संपर्क कर गठबंधन के लिए समर्थन जुटाया। उन्होंने ग्रामीणों को युवा किसान छात्र महिलाओं और व्यापारियों को मिलने वाले लाभ की जानकारी दी, साथ ही गठबंधन की सरकार बनने पर 300 यूनिट फ्री होने का लाभ लेने के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की जानकारी दी।


उन्होंने 26 जनवरी को कई गांवों का दौरा किया, गांव के तमाम जिम्मेदार लोगों व प्रधानों ने डॉ. रमेश तोमर का जोरदार स्वागत किया और अपना पूरा समर्थन देकर तन, मन और धन से चुनाव लड़ाने का भरोसा दिया। डॉ. रमेश तोमर ने चुनावी नुकड़ सभाओं को सम्बोधित करते हुए कहा की प्रदेश में अखिलेश यादव की लहर है। आपकी सरकार बनने जा रही है, आप का पूरा सम्मान होगा। गावों में सड़कें और तमाम योजनाओं का आपको लाभ मिलेगा। इस दौरान गांव काजीवाला, चन्दपुरी, धारुवाला, मंडावाली, जमालपुर, नयागांव, पैदा, आदमपुर, भोगी, गढ़ी, स्वाहेड़ी आदि में हर समाज के लोगों ने एक जुट होकर आने वाली 14 फरवरी को साईकिल के सामने वाला बटन दबाने की अपील की।

सपा-रालोद गठबंधन से गुरुवार को नामांकन करेंगे डॉक्टर रमेश तोमर

सपा-रालोद के साथ गुरुवार को चुनावी मैदान में नामांकन कराएंगे: डॉक्टर रमेश तोमर

बिजनौर। समाजवादी पार्टी गठबंधन के प्रत्याशी डॉ. रमेश तोमर ने कहा कि वह जल्दी ही नामांकन कराएंगे। कहा कि हाईकमान के निर्देश पर वह चुनावी मैदान में है।
सपा प्रत्याशी डॉक्टर रमेश तोमर ने मंगलवार को अपने कैम्प कार्यालय बुद्धा हॉस्पिटल में मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि वह सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और सपा प्रमुख के निर्देश पर चुनाव मैदान में है। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव और रालोद राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी के गठबंधन में सदर सीट से चुनाव लड़ेंगे, चूंकि नामांकन पत्रों को भरने में कुछ दस्तावेज अधूरे रह गए थे, जिन्हें पूरा किया जा रहा है और जल्दी ही सपा प्रत्याशी के तौर पर गुरुवार को बिजनौर सदर सीट से नामांकन दाखिल किया जाएगा। उन्होंने मीडिया के सवालों का जबाव देते हुए कहा कि सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश में जो गठबंधन किया है, वह कामयाब है। गठबंधन पर सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और जयंत चौधरी जो भी निर्देश देंगे, उनका पालन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सपा प्रमुख ने प्रदेश में जनता के लिए अपनी सरकार बनने पर 300 यूनिट बिजली फ्री करने के लिए वादा किया है। इसमें बिजनौर के लोगो को जोड़ने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

किसान मजदूर और मजलूम की पार्टी है सपा
डॉ. रमेश तोमर ने कहा कि सपा किसान मजदूर और मजलूम की पार्टी है। प्रदेश में सपा की लहर चल रही है और सपा की सरकार को जनता सुनने जा रही है। जल्दी ही नामांकन प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा और सपा मुखिया अखिलेश यादव का जो भी निर्देश होगा, उसका पालन पूरी निष्ठा के साथ किया जाएगा। इसके बाद सपा और रालोद नेताओं ने चुनावी रणनीति बनाई। इस दौरान बिजनौर नगर पालिका अध्यक्ष के पति शमशाद अंसारी, रालोद नेता वीरेंद्र सिंह समेत काफी नेता मौजूद रहे।

गठबंधन प्रत्याशी डॉ. रमेश तोमर करेंगे नामांकन

बिजनौर। गठबंधन के तहत सपा प्रत्याशी के तौर पर डॉ रमेश तोमर 25 जनवरी 2022 दिन मंगलवार की सुबह 11 बजे बिजनौर (विधानसभा क्षेत्र 22) सदर सीट से अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

इसके बाद दोपहर 12 बजे बुद्धा हॉस्पिटल सिविल लाइन बिजनौर पर प्रेस वार्ता में अपनी आगामी चुनावी रणनीति बताएंगे। सपा प्रत्याशी डॉ रमेश तोमर ने बताया कि नामांकन पत्र में शामिल करने वाले कागजातों में कुछ देरी होने के कारण अधिक समय लग गया; इसके चलते सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया।

300 यूनिट मुफ्त बिजली के मामले में फंसी सपा

लखनऊ (एजेंसी)। समाजवादी पार्टी की ओर से सरकार बनने के बाद 300 यूनिट बिजली मुफ्त दिए जाने के वादे के साथ रजिस्ट्रेशन कराने पर चुनाव आयोग ने जवाब मांगा है। सपा के इस अभियान को लेकर आयोग से शिकायत की गई थी। इसे प्रलोभन देने का मामला बताते हुए शिकायत की गई थी। अब आयोग ने सभी जिलों के निर्वाचन अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है।

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने सरकार बनने पर 300 यूनिट बिजली मुफ्त देने का वादा किया है। इस योजना का लाभ पाने के लिए नाम लिखाओ अभियान की शुरुआत की गई है। हाईकोर्ट के अधिवक्ता अमित जायसवाल ने इस पर आपत्ति जताते हुए शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने चुनाव आयोग से शिकायत करते हुए कहा है कि इस कैंपेन के तहत वोट के लिए लालच और रिश्वत दी जा रही है। यह आचार संहिता का खुला उल्लंघन हैं। उन्होंने शिकायत में कहा है कि चुनाव आयोग इस पूरे मामले की जांच कराकर रोक लगाए। इसके बाद अब चुनाव आयोग ने सभी जिलों के निर्वाचन अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है। चुनाव आयोग जिला निर्वाचन अधिकारियों से रिपोर्ट मिलने के बाद फैसला लेगा। अभी समाजवादी पार्टी की तरफ से इस पर कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।

चांदपुर विधानसभा सीट पर बदला प्रत्याशी, स्वामी ओमवेश लड़ेंगे चुनाव

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने चांदपुर विधानसभा सीट पर बदला प्रत्याशी, स्वामी ओमवेश को दिया टिकट। रफी सैफी को टिकट का हो रहा था भारी विरोध।



बिजनौर। सपा रालोद गठबंधन ने बिजनौर की चांदपुर विधानसभा सीट से प्रत्याशी बदल दिया है। रफी सैफी के स्थान पर अब स्वामी ओमवेश को टिकट दिया गया है। वहीं
सपा-रालोद गठबंधन में बिजनौर सदर सीट को लेकर खींचतान नजर आ रही है। जहां रालोद से डॉ. नीरज चौधरी सिंबल लेकर आए हैं, वहीं डॉ. रमेश तोमर को सपा ने सिंबल दे दिया है। दोनों प्रत्याशियों ने अपनी-अपनी पार्टी के जिलाध्यक्षों के साथ पत्रकारों से वार्ता कर खुद के बिजनौर सदर सीट से प्रत्याशी होने का दावा किया। दोनों ने ही नामांकन के लिए पर्चे भी ले लिए हैं। पार्टी सूत्रों की माने तो अगले दो दिनों में दोनों में से एक प्रत्याशी को सिंबल वापिस करना पड़ सकता है।


बिजनौर जिले की सात विधानसभा सीटों पर लंबे इंतजार के बाद टिकटों की घोषणा हुई तो सदर सीट पर असमंजस की स्थिति बन गई। नूरपुर, धामपुर, नगीना, नजीबाबाद, बढ़ापुर और बिजनौर सदर सीट पर सिंबल बांट दिए। इनमें बाकी सीटों तो पहले ही सपा के खाते में थी, लेकिन बिजनौर पर रालोद का दावा चला आ रहा था।
बिजनौर सदर से रालोद से डॉ. नीरज चौधरी को सिंबल दे दिया गया। सपा से सिंबल लेकर आए डॉ. रमेश तोमर ने कहा कि मुझे पार्टी ने सिंबल लेकर चुनाव की तैयारी करने के लिए कहा है। मैं नामांकन की तैयारी कर रहा हूं। उधर रालोद से सिंबल लेकर आए डॉ. नीरज चौधरी ने भी पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ने और नामांकन कराने की तैयारी का दावा किया।


जो भी पार्टी हाईकमान का आदेश होगा, उसी के अनुसार चुनाव लड़वाया जाएगा। फिलहाल सपा से डॉ. रमेश तोमर को सिंबल मिला है, उन्हीं को चुनाव की तैयारी करा रहे हैं। -राशिद हुसैन, सपा जिलाध्यक्ष


पार्टी ने डॉ. नीरज चौधरी को सिंबल दिया है। हम पार्टी हाईकमान से आदेश का पालन करते हुए उन्हें चुनाव की तैयारी करा रहे हैं। सिंबल का मामला एक से दो दिन में सुलझ जाएगा। -अली अदनान, रालोद जिलाध्यक्ष


कुछ ने लखनऊ तो कई ने दिल्ली में डाला डेरा
बिजनौर जिले में टिकट मिलते ही पार्टी से जुड़े पुराने नेताओं ने विरोध भी शुरू कर दिया है। सूत्रों की मानें तो सपा के कई कार्यकर्ता और नेताओं ने लखनऊ में डेरा डाल लिया है और कुछ टिकटों पर आपत्ति जताई है। वहीं रालोद से भी कई नेता और कार्यकर्ताओं ने दिल्ली पहुंचकर विरोध जताया है। अब किसका विरोध कितना काम आएगा और परिवर्तन करा सकेगा, यह तो अगले दो दिन में साफ हो जाएगा।

पश्चिम UP के सपा-रालोद प्रत्याशी घोषित

लखनऊ। विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने गठबंधन के तहत पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 29 विधानसभा सीटों के लिये उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है।

सपा की ओर से जारी बयान के अनुसार सूची में 20 विधानसभा सीटों पर रालोद और नाै सीटों पर सपा के उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। उम्मीदवारों में कैराना से नाहिद हसन (सपा), शामली से प्रसन्न चौधरी (रालोद), चरथावल से पंकज मलिक (सपा), पुरकाजी से अनिल कुमार (रालोद), खतौली से राजपाल सिंह सैनी (रालोद), नहटौर से मुंशी राम (रालोद), किठौर से शाहिद मंजूर (सपा), मेरठ से रफीक अंसार (सपा), बागपत से अहमद हमीद (रालोद), लोनी से मदन भैया (रालोद), साहिबाबाद से अमर पाल शर्मा (सपा), मोदीनगर से सुरेश शर्मा (रालोद), धौलाना से असलम चौधरी (सपा), हापुड़ से गजराज सिंह (रालोद), जेवर से अवतार सिंह भड़ाना (रालोद), बुलंदशहर से हाजी यूनुस (रालोद), स्याना से दिलनवाज खान (रालोद), खैर से भगवती प्रसाद सूर्यवंशी (रालोद), कोल से सलमान सईद (सपा), अलीगढ़ से जफर आलम (सपा), सादाबाद से प्रदीप चौधरी गुड्ड (रालोद), छाता से तेजपाल सिंह (रालोद), गोवर्धन से प्रीतम सिंह (रालोद), बल्देव से बबीता देवी (रालोद), आगरा कैंट से कुंअर सिंह वकील (सपा), आगरा देहात से महेश कुमार जाटव (रालोद) फतेहपुर सीकरी से ब्रिजेश चाहर (रालोद), खैरागढ़ से रौतान सिंह (रालोद) और बाह से मधुसूदन शर्मा (सपा) शामिल हैं। विदित हो कि इन सीटों पर पहले चरण में 10 फरवरी को मतदान होना है। इस चरण के लिये चुनाव आयोग द्वारा अधिसूचना जारी कर दी गई है।

योगी सरकार के मंत्री ने थामा सपा का हाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव  से पहले सत्ताधारी पार्टी बीजेपी को उनके ही मंत्री ने बड़ा झटका दिया है। भाजपा के बड़े नेता और योगी सरकार के श्रममंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को भाजपा से इस्तीफा दे कर समाजवादी पार्टी का हाथ थाम लिया है। उन्होंने सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव से मुलाकात भी की। श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को अपना इस्तीफा भेजा है। मौर्य ने मौजूदा सरकार में दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों और छोटे व्यापारियों की उपेक्षा होने का आरोप लगाया है।

योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने पत्र में लिखा है कि, “मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में श्रम एवं सेवायोजन व समन्वय मंत्री के रूप में विपरीत परिस्थितियों व विचारधारा में रहकर भी बहुत ही मनोयोग के साथ उत्तरदायित्व का निर्वहन किया है, किंतु दलितों, पिछड़ों, किसानों बेरोजगार नौजवानों एवं छोटे- लघु एवं मध्यम श्रेणी के व्यापारियों की घोर उपेक्षात्मक रवैये के कारण उत्तर प्रदेश के मंत्रिमंडल से मैं इस्तीफा देता हूं.”

वहीं मुलाकात के बाद समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने मौर्य का स्वागत करते हुए ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा है कि, “सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता स्वामी प्रसाद मौर्य एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन! सामाजिक न्याय का इंक़लाब होगा ~ बाइस में बदलाव होगा.”

अखिलेश से सीधे संपर्क में थे स्वामी प्रसाद मौर्य!

पिछले कई दिनों से चर्चा चल रही थी कि स्वामी प्रसाद मौर्य, बीजेपी का दामन छोड़कर अखिलेश यादव की साईकिल पर सवार हो सकते हैं। कहा जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य के ज्वॉइनिंग मामले को सीधे अखिलेश यादव देख रहे थे और बातें उनके स्तर पर ही हो रही थी। स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे को बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

अखिलेश कर रहे पिछड़ी जाति की गोलबंदी

पिछले चुनाव में बीजेपी को सत्ता में पहुंचाने का श्रेय पिछड़ी जातियों को जाता है और इस बार अखिलेश यादव हर हाल में पिछड़ी जातियों को अपने तरफ मोड़ने में लगे हैं। यही वजह है कि छोटे छोटे दलों से गठबंधन के अलावा उन्होंने पिछड़े नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कराने का अभियान छेड़ रखा है। स्वामी प्रसाद मौर्य इस अभियान का हिस्सा हैं।

दो और मंत्री दे सकते हैं इस्तीफा

स्वामी प्रसाद मौर्य के अलावा मंत्री धर्म सिंह सैनी और दारा सिंह चौहान के भी इस्तीफे की अटकलें हैं। धर्म सिंह और दारा सिंह दोनों उनके खेमे के माने जाते हैं। तीनों योगी सरकार में मंत्री हैं, लेकिन तीनों बीएसपी के बड़े नेता रहे हैं और बसपा सरकार में भी मंत्री रहे हैं। ऐसे में इन तीनों के भाजपा छोड़ने की चर्चा है।

संघमित्रा के भाषण में हुई थी टोकाटाकी

पिछले दिनों लखनऊ के कार्यक्रम में स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी और बदायूं से बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य को जब बोलते वक्त टोकाटाकी की गई थी तो उन्होंने मुख्यमंत्री और अध्यक्ष के सामने ही अपनी नाराजगी दिखाते हुए माइक छोड़ दिया था हालांकि बाद में उन्हें मना कर वापस भाषण देने के लिए कहा गया।

स्वामी प्रसाद के सपा में आने की वजह ऊंचाहार सीट

स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे उत्कृष्ट मौर्य रायबरेली की ऊंचाहार सीट से पिछले बार भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे, हालांकि बहुत कम अंतर से वह चुनाव हार गए थे लेकिन कहा यह जा रहा है कि बीजेपी से वह सीट जीतना बेहद मुश्किल है. ऐसे में स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे को अगर यह सीट जीतनी है तो समाजवादी पार्टी से ही वह जीत सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक बीजेपी एक बार फिर स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे को ऊंचाहार सीट से टिकट देने को तैयार है लेकिन स्वामी प्रसाद मौर्य को लगता है कि इस सीट के लिए समाजवादी पार्टी ही मुफीद है।

BJP कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे अधिकारी: सपा

लखनऊ। विधानसभा चुनाव की तिथियों का ऐलान होने के साथ ही उत्तर प्रदेश में चुनावी सरगर्मी बढ़ती जा रही हैं। सभी पार्टियां जोर-शोर से चुनाव की तैयारियों में जुट गई हैं। वहीं अब प्रचार के साथ चुनाव आयोग (EC) से शिकायत करने का सिलसिला तेज होता जा रहा है।

समाजवादी पार्टी ने लिखा EC को पत्र

सपा (SP) ने यूपी सरकार (UP Government) के कई अधिकारियों को हटाने के लिए चुनाव आयोग को पत्र लिखा। शिकायती पत्र में पार्टी ने प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार और एसटीएफ प्रमुख अमिताभ यश को हटाने की मांग की है।

समाजवादी पार्टी के नेताओं का मानना है कि इन सभी अधिकारियों को एक साथ हटाए बिना प्रदेश में निष्पक्ष चुनाव कराना संभव नहीं है। सपा का यह भी कहना है कि ये सभी सरकारी अधिकारी किसी चुनावी कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं।

पूर्व मंत्री दयाशंकर वर्मा को भरोसेमंद नहीं मानते सपा कार्यकर्ता


👉 उरई जालौन विधानसभा क्षेत्र समाजवादी पार्टी की टिकट के प्रबल दावेदार पूर्व मंत्री दयाशंकर वर्मा को भरोसेमंद नहीं मानते सपा कार्यकर्ता।
👉लोकसभा विधानसभा एवं निकाय चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ चला चुके हैं मुहिम, जालौन नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद के चुनाव में थोपन यादव के खिलाफ बागी प्रत्याशी के समर्थन में रहे थे दयाशंकर वर्मा। 👉 गांधी इंटर कॉलेज उरई की जमीन पर दया शंकर वर्मा पर लगे थे कब्जा करने के आरोप, कॉलेज के क्रीड़ा स्थल पर खोल लिया था दरवाजा, कोंच में पूर्व मंत्री के भाइयों पर भी मकान पर कब्जे एवं छेड़खानी के आरोपियों को संरक्षण देने के चलते कटा था 2017 में टिकट।

उरई (जालौन)। उरई-जालौन सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के टिकट की दावेदारी कर रहे पूर्व विधायक दयाशंकर वर्मा के कारनामे ही अब उनके टिकट में बाधक माने जा रहे हैं। उनके क्रियाकलापों से पार्टी कार्यकर्ताओं में व्याप्त नाराजगी को जहां वह दूर करने में असफल रहे हैं, वहीं उनके ऊपर अपने स्वार्थ के लिए ही काम करने के आरोप लग रहे हैं कि वह पार्टी के मूल वोट बैंक यादव समाज के व्यक्ति की सफलता को हजम नहीं कर पाते हैं। जब भी मौका आया उन्होंने हमेशा विरोध में ही काम किया। पूर्वमंत्री दयाशंकर वर्मा पर अपने पिछले विधायकी कार्यकाल में जिस तरह से जमीनों एवं मकानों पर कब्जे के आरोप लगे थे उसके चलते ही वर्ष २०१७ के विधानसभा चुनाव के दौरान नामांकन के बाद उनका टिकट काटकर महेन्द्र कठेरिया को दे दिया गया था, क्योंकि नामांकन के दौरान उनके भाई पर कोंच नगर की युवती ने जबरन मकान पर कब्जा करने एवं उत्पीड़न के आरोप लगाये थे। २०१७ के विधानसभा चुनाव में टिकट कटने के बाद उनके बागी तेवर जगजाहिर हुए थे। तो लोकसभा चुनाव में दयाशंकर वर्मा के रवैये को लेकर समाजवादी पार्टी के आम कार्यकर्ताओं में नाराजगी देखी गई थी। निकाय चुनाव में भी उन पर जालौन नगर पालिका परिषद से समाजवादी पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी चंद्रप्रकाश उर्फ थोपन यादव के खिलाफबागी प्रत्याशी को उतारने का षड़यंत्र रचने के आरोप लगे चुके हैं।

गांधी इंटर कालेज के क्रीडा स्थल पर कब्जे का आरोप

उरई। समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे दयाशंकर वर्मा पर श्री गांधी इंटर कालेज उरई की प्रबंधक श्रीमती इंदु शर्मा एवं तत्कालीन प्रधानाचार्य ने कालेज के क्रीडा स्थल पर कब्जा करने का आरोप बकायदा पत्रकार वार्ता में लगाया था। उनके लॉज में अराजकतत्वों के ठहरने के भी आरोप लगे थे। स्कूल में पढ़ने वाली बच्चियों के साथ अप्रिय घटना घटने की आशंका व्यक्त की गई थी। दरअसल दयाशंकर वर्मा ने अपने लॉज के पीछे एक दरवाजा लगा दिया था जो गांधी इंटर कालेज के क्रीड़ा स्थल में खुलता था। तब समाजवादी पार्टी के नेताओं के दबाव में दयाशंकर वर्मा को यह कहते हुए सफाई देनी पड़ी थी कि लॉज में मरम्मत का कार्य चल रहा है और निर्माण सामग्री अंदर ले जाने के लिए दरवाजा खोला गया था, लेकिन असल मंशा क्रीड़ा स्थल पर कब्जे की मानी जा रही थी।

थोपन यादव के खिलाफ खड़ा किया था बागी प्रत्याशी- उरई। पूर्वमंत्री दयाशंकर वर्मा पर वर्ष २०१७ के निकाय चुनाव में जालौन नगर पालिका परिषद से अध्यक्ष पद के प्रत्याशी चंद्रप्रकाश उर्फ थोपन यादव के खिलाफ बागी प्रत्याशी खड़ा करने में दयाशंकर वर्मा की भूमिका चर्चा का विषय रही थी। दरअसल समाजवादी पार्टी ने थोपन यादव को टिकट दिया था, लेकिन पार्टी के फैसले के विरूद्ध जाकर उन्होंने इकबाल मंसूरी को निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना समर्थन दे दिया था। जिसके चलते थोपन यादव को पराजय का सामना करना पड़ा था। तो इकबाल मंसूरी भी हार गये थे। इस तरह वोटों के विभाजन का फायदा भाजपा प्रत्याशी गिरीश गुप्ता को मिला था, जो चुनाव में सफल रहे थे। तब थोपन यादव ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से दयाशंकर वर्मा की कुटिल राजनीति करने की शिकायत की थी।

लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव में भितरघात के आरोप

उरई। वर्ष २०१७ के चुनाव में टिकट कटने के बाद प्रत्याशी बनाये गये महेन्द्र कठेरिया के चुनाव में पूर्वमंत्री एवं सपा नेता दयाशंकर वर्मा पर भितरघात के आरोप लगे थे। पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता आज भी यह कहते पाये जाते हैं कि दयाशंकर ने महेन्द्र कठेरिया सपा प्रत्याशी को हराने के लिए भाजपा के उम्मीदबार गौरीशंकर वर्मा के पक्ष में अपने लोगों को लगाया था। तब महेन्द्र कठेरिया ने भी उन पर भितरघात के आरोप लगाये थे। यही नहीं लोकसभा चुनाव २०१९ में सपा बसपा गठबंधन के प्रत्याशी अजय सिंह पंकज के चुनाव प्रचार से दयाशंकर वर्मा ने दूरी बना रखी थी। तत्कालीन जिला कमेटी के अनुरोध के बाद भी दयाशंकर वर्मा ने पार्टी के खिलाफ जाकर अघोषित रूप से भाजपा का साथ दिया था। इस तरह के आरोप आज भी सपा नेता लगाने से नहीं चूकते है।

दयाशंकर को भरोसेमंद नहीं मानते सपाई

उरई। समाजवादी पार्टी से टिकट की दावेदारी कर रहे दयाशंकर वर्मा को समाजवादी पार्टी के नेता भरोसेमंद नहीं मानते, क्योंकि किसान कामगार पार्टी से पहली बार विधायक बनने के बाद से दल बदलने के आरोप लगाये जाते रहे हैं। समाजवादी पार्टी के नेता तो उन्हें सौदेबाज बताते हैं। पार्टी के मिशनरी नेताओं का मानना है कि दयाशंकर वर्मा को टिकट देना नेकी कर दरिया में डालने जैसा होगा, क्योंकि २०१२ में विधायक बनने के बाद गनीमत रही कि सपा की सरकार बन गई अगर कहीं हंग असेम्बली होती तो फिर वह मौके पर चौका लगाने से नहीं चूकते। उनके यह तमाम कारनामे उरई जालौन क्षेत्र से उनके टिकट में बाधक माने जा रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं का तो यह तक कहना है कि दयाशंकर वर्मा को टिकट दिया तो पार्टी के मूलवोट बैंक यादव समाज की नाराजगी का सामना चुनाव में करना पड़ सकता है।

सुरेश खरकया
जिला संवाददाता
स्वतंत्र भारत उरई जालौन

संडीला विधानसभा सीट पर बीजेपी को सपा दे रही है जोरदार टक्कर

संडीला विधानसभा सीट पर बीजेपी हुई कमजोर सपा दे रही है जोरदार टक्कर!

पूर्व जिला पंचायत सदस्य व भावी प्रत्याशी विधानसभा 161 संडीला, सरोज यादव का जनसंपर्क के दौरान जगह जगह हुआ भव्य स्वागत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव करीब हैं। हर सियासी दल अपनी रणनीति पर तेजी से काम कर रहे हैं। इसी क्रम में सबसे महत्वपूर्ण विधानसभाओं में से एक संडीला विधानसभा में भी सियासत अपनी चरम पर है। भाजपा से राजकुमार अग्रवाल 2017 में इस सीट से विधानसभा पहुंचे थे।

लेकिन उनको इस दफा सीधे तौर पर समाजवादी पार्टी से कड़ी टक्कर मिल रही है। पूर्व जिला पंचायत सदस्य सरोज कुमार यादव पूरी तरह से सक्रिय हो चुके हैं। सरोज कुमार यादव पिछले कई दिनों से लगातार एक बेहतर रणनीति के तहत लगातार जनसंपर्क कर रहे हैं। सरोज कुमार यादव ने अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ अपने विधानसभा क्षेत्र में निकले और लोगों से मुलाकात की। इस दौरान वो जनता की समस्याओं से रूबरू हुए और उन्हें हल करने का पूरा आश्वासन दिया।

इससे पहले सरोज कुमार यादव ने अपने काफिले से अपनी ताकत का एहसास करवाया। उनके साथ सैकड़ों कार्यकर्ता पूरी गर्मजोशी के साथ समाजवादी पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने का काम करते देखे जा रहे हैं।

जनसंपर्क कार्यक्रम में अजीम खान, रामगोपाल यादव, रामकिशोर यादव, ईश्वर दिन यादव ,नागेंद्र यादव, वेद प्रकाश यादव, ओपी यादव , राम शंकर यादव ,शिवपाल यादव, मुकेश यादव ,आरपी यादव, सुरजीत यादव ,संदीप यादव, सहित सैकड़ों सपा कार्यकर्ता मौजूद रहे ।

सपा के झंडा अभियान दौरान उमड़ पड़ा जनसैलाब

सेक्टर तिरगंवा में झंडा अभियान दौरान उमड़ा जनसैलाब। लोगों ने लगाए इंदल कुमार जिंदाबाद के नारे

मलिहाबाद (लखनऊ)। सेक्टर तिरगंवा में झंडा लगाओ सरकार बनाओ अभियान के दौरान लोगों की जबरदस्त भीड़ उमड़ी। सेक्टर तिरगंवा के दर्जनों गांवों में समाजवादी पार्टी के कई कार्यकर्ताओं ने झंडा लगाकर जनता से जनसंपर्क किया।

झंडा अभियान के दौरान समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को जनता का जबरदस्त समर्थन हासिल हुआ। इस दौरान उमड़ी भीड़ ने पूर्व विधायक इंदल कुमार जिंदाबाद के नारे लगाए।

पिछले कई साल के मुताबिक तिरंगवा सेक्टर में समाजवादी पार्टी को जबरदस्त वोट मिलते हैं और पूर्व विधायक होने की वजह से इंदल कुमार रावत खासे लोकप्रिय हैं। जनता के बीच लोकप्रियता की वजह पूछने पर इंदल कुमार रावत ने कहा यह सब जनता का प्यार और आशीर्वाद है, जनता के इसी प्यार के चलते उन्हें काम करने की प्रेरणा मिलती है और यदि जनता मौका देती है तो वह आगामी समय में भी जनता की सेवा करते रहेंगे।

आपको बताते चलें कि इंदल कुमार रावत के द्वारा झंडा लगाओ अभियान के पूर्व में भी लगातार क्षेत्र में लोगों से जनसंपर्क अभियान चलता रहा है।

आज आठवें दिन फतेहपुर, तिलक खेड़ा, सरैंया, हामिद खेड़ा, दौलतपुर, भटपुरवा, तिरंगवां, धना खेड़ा, गौंदा मुअज्जमनगर सहित कई अन्य गांवों में झंडा लगाए गए। जनता के अपार जनसमर्थन की वजह से वह पूरी मजबूती के साथ मलिहाबाद से समाजवादी पार्टी के टिकट पर दावेदारी पेश कर रहे हैं।


इस दौरान सेक्टर प्रभारी जनाब सुलेमान बेग पूर्व प्रधान, रमेश यादव पूर्व प्रधान, जनाब इश्तियाक अली पर्यवेक्षक, अवधेश सिंह पूर्व प्रधान, संतोष यादव पूर्व प्रधान, डॉक्टर मनोज यादव, जनाब अमान खान राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड, जनाब आमान हसन खान प्रदेश सचिव अल्पसंख्यक सभा, संतोष यादव पूर्व प्रधान, युवा नेता सन्दीप यादव ब्लॉक अध्यक्ष मलिहाबाद, विकास यादव, जनाब शकील अहमद जिला सचिव पूर्व प्रधान, रंजीत कश्यप धना खेड़ा, अभिषेक कुमार गौतम, महिपाल पाल, बबलू गुप्ता नई बस्ती गोंडा, गुड्डू राठौर, सत्रोहन सिंह, राजेश यादव, लल्लू मौर्य बूथ प्रभारी बुथ प्रवेश गौतम मवाई फतेहपुर राजेश रावत, आदि मौजूद रहे।

हिटलर की थ्योरी पर ही चल रही है भाजपा सरकार: प्रदीप यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय 6, लाजपत राय भवन, कैसरबाग, लखनऊ पर अधिवक्ता सभा के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप यादव द्वारा कराये जा रहे संविधान बचाओ संकल्प यात्रा के अन्तर्गत जिला/महानगर लखनऊ द्वारा जनसभा का आयोजन किया गया।

जनसभा की अध्यक्षता अधिवक्ता सभा जिलाध्यक्ष अंजनी प्रकाश यादव ने एवं संचालन जिला महासचिव सिद्धार्थ आनन्द ने किया। इस अवसर पर अधिवक्ता सभा प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप यादव का फूल-माला एवं अंगवस्त्र पहना कर स्वागत किया गया।


संविधान बचाओ संकल्प यात्रा को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप यादव ने कहा कि आज वर्तमान सरकार द्वारा भारतीय संविधान में परिवर्तन किया जाना जनमानस के अधिकारों का हनन है। प्रदीप यादव ने हिटलर का उदाहरण देते हुए कहा कि आज भाजपा सरकार पूरी तरह से हिटलर की थ्योरी पर ही चल रही है, पहले तो आदमी को मुफ्त का खाने की आदत पड़ने दो और फिर भूखा मारो। भाजपा सरकार ने मंहगाई को चरम सीमा पर ला खड़ा किया है, जिससे मध्यम वर्ग के व्यक्ति की कमर ही टूट रही है और जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने के लिए हम सभी अधिवक्ताओं को एकजुट होकर बूथ स्तर तक पार्टी को मजबूत करना होगा और अखिलेश यादव को पुनः प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाना होगा।


इस अवसर पर जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’, जिला महासचिव शब्बीर अहमद खान, जिला उपाध्यक्ष महेश सिंह लोधी, मीडिया प्रभारी रमेश सिंह ‘रवि’, नगर महासचिव सौरभ यादव, अधिवक्ता सभा महानगर अध्यक्ष आकाश यादव, नगर महासचिव चन्दन वर्मा, आदर्श यादव, मुश्ताक गाजी, रूपराज रावत, वीर बहादुर, रमेश बहादुर सिंह, राधाकृष्ण यादव, अजय यादव, फरहान सिद्दीकी, विदेश पाल यादव, शशिलेन्द्र यादव, फरहा सिद्दीकी के साथ सैकड़ों अधिवक्ता मौजूद रहे।

सपा के इंदल रावत का झंडा अभियान जारी

इंदल रावत का झंडा अभियान जारी सेक्टर ईसापुर के दर्जनों गांवों में चला सरकार बनाओ कार्यक्रम

लखनऊ। सपा के पूर्व विधायक इंदल कुमार रावत द्वारा झंडा अभियान लगातार जारी है। अभियान के सातवें दिन ईसापुर सेक्टर के दर्जनों गांवों में झंडे लगाकर सरकार बनाओ कार्यक्रम चलाया गया। गांव में मिल रहे अपार जनसमर्थन से पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं में जबरदस्त उत्साह है।

छात्र सभा के जिला महासचिव तुषार त्रिपाठी का कहना है कि झंड़ा लगाओ अभियान समाजवादी पार्टी का विजय अभियान साबित होगा। उन्होंने समाजवादी पार्टी की नीतियों की तारीफ करते हुए कहा कि महंगाई और बेरोजगारी से परेशान जनता इस बार भाजपा को सिरे से नकार देगी।
मलिहाबाद से इंदल कुमार रावत जिस तरह जनसंपर्क अभियान चला रहे हैं, उससे समाजवादी पार्टी की विजय बिल्कुल तय है।

आपको बताते चलें कि इंदल कुमार रावत के द्वारा झंडा लगाओ अभियान के पूर्व में भी लगातार क्षेत्र में लोगों से जनसंपर्क अभियान चलता रहा है । जनता का मिल रहा अपार जनसमर्थन की वजह से वह पूरी मजबूती के साथ मलिहाबाद से समाजवादी पार्टी के टिकट पर दावेदारी पेश कर रहे हैं।

आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट के सवाल पर इंदल कुमार रावत ने कहा कि जनता के बीच रहकर जनता की सेवा करना उनका कर्तव्य है। पार्टी द्वारा जो भी जिम्मेदारी उन्हें दी गई हैं उनका हमेशा पालन करेंगे, बाकी पार्टी नेतृत्व का फैसला उनके लिए सर्वोपरि होगा ।

ईशापुर सेक्टर में झंडा अभियान के दौरान सेक्टर प्रभारी अनिल कुमार, पिंटू यादव के नेतृत्व में सैकड़ों सपा नेताओं के साथ सेक्टर के दर्जनों गांव नजर नगर, ईसापुर, माधवपुर अहमदाबाद, रसूलपुर, भुलभुला खेड़ा, फूलचंद खेड़ा, हरिहरपुर, सेंधरवा, काजी खेड़ा इत्यादि गांव झंडा लगाया गया। इस दौरान इंजीनियर मनीष सिंह, शकील अहमद, संदीप यादव, पंकज, वासुदेव यादव, राजू रावत, आदिल अंसारी, शंभू दयाल कश्यप, छंगा रावत, सागर पाल, राम नरेश लोधी, हरिओम लोधी सहित सैकड़ों नेता एवं कार्यकर्ताओं उपस्थित रहे ।

विजय रथ यात्रा का पहिया रुकने वाला नहीं: किरनमय नंदा

भाजपा को सता रहा हार का भय। समाजवादी पार्टी के विजय रथ यात्रा के पहिये रुकने वाले नहीं।


बिजनौर। समाजवादी विजय रथ यात्रा का पहिया रुकने वाला नहीं है, जिसकी वजह से भाजपा में खौफ पैदा हो गया है और बौखलाहट में वह सपा नेताओं पर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रही है। यह बात सपा कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष गकिरनमय नंदा ने कही।

किरनमय नंदा ने कहा कि भाजपा सरकार में नागरिकों के अधिकार सुरक्षित नहीं है। लोकतंत्र को खतरा है। भाजपा बार-बार झूठ बोलकर उसे सच बनाना चाहती है। वह चालाकी से सराबोर है। उसने न केवल नदियों को अपितु राजनीति को भी प्रदूषित कर दिया है। अब मौसम भाजपा के विरूद्ध है। जनता भाजपा से ऊब चुकी है और वह अब उससे निजात पाने तथा समाजवादी पार्टी को सत्ता में लाने के लिए संकल्पित है। नन्दा  ने कहा आगामी विधानसभा के चुनावों से प्रदेश का ही नहीं केन्द्र सरकार का भविष्य भी तय होगा। समाजवादी पार्टी की विजय रथ यात्रा के पहिए रूकने वाले नहीं है।  नन्दा  ने कहा कि भाजपा को हार का भय सता रहा है। बौखलाहट में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है। उसके पूरे पांच साल विफलता के रहे हैं। अब उसके चंद दिन रह गए हैं। जनता भाजपा को सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है। बस 2022 में मतदान का इंतजार है।


राशिद हुसैन की प्रशंसा-
बिजनौर। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर आयोजित सम्मेलन की अध्यक्षता समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष  राशिद हुसैन  ने  तथा संचालन जिला महासचिव चौधरी आदित्य वीर सिंह ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए राशिद हुसैन, प्रवक्ता अहमद खिजर खान सहित तमाम सपा कार्यकर्ताओं को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि किरणमय नंदा ने मंच से खूब प्रशंसा की। राशिद हुसैन ने कहा भाजपा की सरकार में हर
वर्ग के लोग परेशान हैं, इसलिए 2022 के चुनाव में जनता ने मन बना लिया हैबकि इस तानाशाही सरकार को सत्ता से बेदखल करना है और प्रदेश में समाजवादी गठबंधन की सरकार बनानी है। इसलिए आप सभी से गुजारिश है आने वाले विधानसभा चुनाव में गठबंधन के सभी प्रत्याशियों को वोट एवं सपोर्टनकरके कामयाब बनाये। विशिष्ट अतिथि के रूप में समाजवादी युवजन सभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव उपस्थित रहे।

ये रहे मौजूद-
बिजनौर। कार्यक्रम में पूर्व मंत्री ठाकुर मूलचंद चौहान, मनोज पारस विधायक नगीना, तसलीम अहमद विधायक नजीबाबाद, नईम उल हसन विधायक नूरपुर,
स्वामी ओमवेश पूर्व मंत्री, यशवीर सिंह धोबी पूर्व सांसद, शेख सुलेमान पूर्व विधायक, रफी सैफी, मोज़ज़्म खान एडवोकेट, शमशाद अंसारी, डॉ रमेश तोमर, अनिल यादव , महिला सभा की जिलाध्यक्ष प्रभा चौधरी, जि़ला उपाध्यक्ष
राधा सैनी, विपिन चौहान, मदन लाल सैनी, मंशाराम सैनी, डॉक्टर लाखन सिंह पाल, हाजी जावेद राइन ,चौधरी ब्रजवीर सिंह, अयूब अंसारी, मोहम्मद इसहाक, आशुतोष विश्वकर्मा, पंकज अग्रवाल, शहबाज अख्तर, कृपाल सिंह सैनी, कफील
अंसारी, हाजी शहजाद, कपिल गुर्जर, शिव कुमार गोस्वामी, सरदार सरजीत सिंह, अवतार सिंह, राजेंद्र सिंह, सरदार मनदीप सिंह, सरदार जोधबीर सिंह, जियाउल्लाह फिरोज, मोहम्मद अहसान, ठाकुर नृपेंद्र सिंह, कमलेश भुय्यार,
वीरेंद्र कुमार प्रधान, महेंद्र पाल सिंह, युवराज सिंह, डा.विकास, राजाराम मदान, महमूद का सार, मुंतजिऱ चौधरी, पंकज चौधरी, श्वेता चौधरी, कुंतेश सैनी, मोहम्मद सलीम अल्वी, इरशाद अंसारी, ओमकारी यादव, अमित
चौहान, सिकंदर का सार ,ओमपाल कश्यप , डा.रहमान, सतवीर यादव, कमरुल इस्लाम, शेख रईस, संसार चौधरी, नईम मकरानी, खुर्शीद मंसूरी, फुरकान खा, रफीक अंसारी, डा.इरफान मलिक, हनी फैसल, जावेद अख्तर, विशाल यादव, पंकज विश्नोई, बहादुर अंसारी, नसीम राणा, नफीस मंसूरी, सिकंदर का सार, काज़ी जमाल नासिर, कृपा रानी प्रजापति, विमलेश चौधरी, सरदार मंदीप सिंह, पंकज
चौधरी, इकबाल कुरैशी, एहतेशाम राजा, शुजात हुसैन, गुलाम साबिर,अखलाक पप्पू, शिव कुमार यादव, राजकुमार यादव, उदल सिंह चौहान, डा.रहमान, मोहम्मद उस्मान, अंकित चौहान, मोहम्मद शाकिर, मोहम्मद अतहर, जीशान आलम, मुस्तकीम अहमद, सिराज जैदी, अशोक आर्य,व अहमद खिजऱ खान आदि भी उपस्थित थे।

21 दिसंबर को बिजनौर आ रहे हैं सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नन्दा


बिजनौर। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा के पूर्व सांसद किरणमय नन्दा दो दिवसीय दौरे पर जनपद बिजनौर आ रहे हैं।

सपा जिला अध्यक्ष राशिद हुसैन ने बताया कि सभी विधान सभाओं के सेक्टर प्रभारी, विधानसभा अध्यक्ष, नगर अध्यक्ष, ब्लॉक प्रभारी व प्रकोष्ठों के अध्यक्ष तथा सम्बन्धित विधानसभाओं के जिला कार्यकारिणी के पदाधिकारियों का कार्यक्रम पार्टी के जिला कार्यालय बिजनौर पर रहेगा। 21 दिसंबर को सुबह 11.00 बजे से 12.00 बजे तक विधानसभा नजीबाबाद व नगीना। दोपहर 12.00 बजे से 1.00 बजे तक विधानसभा बिजनौर व चान्दपुर। 1.00
बजे से 2.00 बजे तक ब्रेक। सायं 2.00 बजे से 3.00 बजे तक विधानसभा बढ़ापुर व धामपुर। सायं 3.00  से 4.00 बजे तक विधानसभा नूरपुर व नहटौर। 22 दिसंबर को सुबह 11.00 बजे से 2.00 बजे तक जनपद के सभी आवदेनकर्ता व विधायक व पूर्व विधायक व सांसद एवं प्रमुख व वरिष्ठ नेताओं के साथ समीक्षा करेगें। 22 दिसंबर को ही दोपहर 2.00 बजे पार्टी कार्यालय पर प्रेस कांफ्रंस करेगें।

समाजवादी युवजन सभा कार्यकारिणी का विस्तार

लखनऊ। समाजवादी पार्टी जिला कार्यालय 6 लाजपत राय कैसरबाग भवन लखनऊ पर समाजवादी पार्टी लखनऊ जिला अध्यक्ष जय सिंह जयंत की उपस्थिति में युवजन सभा जिला अध्यक्ष अखिलेश सक्सेना द्वारा शहजाद अहमद खान को जिला उपाध्यक्ष युवजन सभा, शिवाकांत यादव को जिला सचिव युवजन सभा मनोनीत किया गया!

इस दौरान अभिराज यादव जिला उपाध्यक्ष युवजन सभा, मनीष यादव जिला महासचिव, गुरविंदर यादव, रमेश वर्मा, छात्र नेता केकेसी, विनय यादव “मानु” समेत दर्जनों नेता एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

हाजी उस्मान ने बसपा छोडी, थामा सपा का दामन

हाजी उसमान ने बसपा छोड़कर थामा सपा का दामन। बसपा के टिकट पर नूरपूर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके हैं कपड़ा उद्यमी हाजी उसमान अंसारी।

नूरपुर/बिजनौर। क्षेत्र के गांव रवाना शिकारपुर निवासी कपड़ा उद्यमी हाजी उसमान अंसारी ने सोमवार को सपा का दामन थाम लिया है। बता दें कि हाजी उसमान नूरपुर विधानसभा सीट से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं, हालांकि उन्हें विजय नहीं मिल पाई थी। उनके सपा में आने से जहां बसपा को झटका लगा है, वहीं सपा की स्थिति मजबूत होना माना जा रहा है। गौरतलब है कि राजधानी लखनऊ में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मौलाना आब्दी के माध्यम से मुलाकात कर हाजी उसमान अंसारी ने सपा का दामन थामा है।

क्या रही है चुनावी तस्वीर- 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में नूरपुर विधानसभा सीट से भाजपा के लोकेंद्र सिंह चुनाव जीतकर विधायक बने थे। उन्होंने बसपा के हाजी मोहम्मद उस्मान को हराया था। इस चुनाव में भाजपा प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह को 47566 वोट मिले थे, जबकि बसपा के मोहम्मद उस्मान को 42093 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर रहे समाजवादी पार्टी के कुतुबुद्दीन को 34798 वोट मिले थे, वहीं महान दल के गौहर इकबाल को 32141 वोट प्राप्त हुए थे। इसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से भारतीय जनता पार्टी के लोकेंद्र सिंह ने समाजवादी पार्टी के नईम उल हसन को हराया था। इस चुनाव में लोकेंद्र सिंह को 79172 वोट मिले  थे, जबकि दूसरे नंबर पर रहे सपा के प्रत्याशी नईम उल हसन को 66436 वोट मिले थे. वहीं बसपा के गौहर इकबाल तीसरे नंबर पर थे, उन्हें 45902 वोट मिले थे. चौथे नंबर पर महान दल के विजय पाल सिंह थे, उन्हें 5338 वोट मिले थे. रालोद के योगेश उर्फ टिल्लू त्यागी को 2172 वोट मिले थे। भाजपा विधायक लोकेंद्र सिंह की सड़क हादसे में मौत हो जाने के बाद यह सीट खाली हो गई थी, जिस पर साल 2018 में उपचुनाव कराया गया। इस चुनाव में सपा के नईम उल हसन ने बाजी मारी और चुनाव जीतकर विधायक बन गए। उन्होंने भाजपा की अवनी सिंह को हराया था। दूसरी तरफ सोमवार को बसपा के सम्मेलन में बसपा के उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड प्रभारी शमशुद्दीन राईन ने नूरपुर विधानसभा सीट से हाजी जियाउद्दीन अंसारी, बिजनौर से पूर्व विधायक कुंवरानी रुचिवीरा, नजीबाबाद से शाहनवाज आलम, बढापुर से पूर्व विधायक मोहम्मद गाजी, नहटौर सुरक्षित से प्रिया सिंह, चांदपुर से डा. शकील हाशमी, नगीना से इं. ब्रजपाल सिंह को प्रत्याशी घोषित किया है।

36 सीटों से कि‍तनी मजबूत होगी रालोद?

अखिलेश के आवास पर जयंत मंगलवार को पहुंचे और दोनों के बीच गठबंधन को लेकर बातचीत हुई। सूत्रों के अनुसार जयंत चौधरी का दावा 45 सीटों पर था। उन्होंने तर्क रखा कि यूपी की 45 सीटों पर उनकी मजबूत पकड़ है। इस लिहाज से उन्हें इतनी सीटें दी जानी चाहिए। बैठक के बाद रालोद को 36 सीटें देने पर सहमति बनने की बात कही जा रही है।

लखनऊ। ताजा हालात के अनुसार 36 सीटों के अलावा जहां रालोद की स्थिति मजबूत होगी, वहां पर उसके सिंबल पर सपा अपना उम्मीदवार उतारेगी। सपा मुखिया अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख जयंत चौधरी के बीच उनके आवास पर करीब दो घंटे चली बैठक में यह सहमति बनी। अखिलेश ने जयंत चौधरी के साथ फोटो ट्वीट कर गठबंधन पर मुहर लगा दी।

जैसा कि समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के बीच गठबंधन की सहमति हो चुकी है। दोनों पार्टियों में हुए समझौते के मुताबिक सपा रालोद को विधानसभा की करीब 36 सीटें देगी। इनमें से जयंत 30 सीटों पर रालोद और छह सीटों पर सपा के सिंबल पर अपने उम्मीदवार उतारेंगे।

अखिलेश यादव ने पहले ही साफ कर दिया था कि इस बार वह बड़े दलों से गठबंधन नहीं करेंगे। रालोद से गठबंधन से पहले अखिलेश ने केशव देव मौर्य के महान दल, डा. संजय सिंह चौहान की जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट), शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी से गठबंधन किया है। ओमप्रकाश राजभर वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ थे। ओमप्रकाश राजभर गाजीपुर के हैं और आसपास के जिलों में राजभर जाति का अच्छा वोट बैंक है। जाहिर है, छोटे दलों से गठबंधन के पीछे अखिलेश की जातीय समीकरणों को साधने की रणनीति है, जिसकी सफलता की कसौटी अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के परिणाम होंगे। जहां तक रालोद का सवाल है तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कुछ सीटों पर उसका प्रभाव है। रालोद से दोस्ती कर अखिलेश की मंशा पश्चिम की जाट बेल्ट में स्थिति मजबूत करने की है।

2019 के लोस चुनाव में भी हुआ था सपा-रालाेद गठबंधन

समाजवादी पार्टी और रालोद के बीच पहला गठबंधन लोकसभा चुनाव वर्ष 2019 में हुआ। वैसे तो इस चुनाव में मुख्य गठबंधन सपा और बसपा के बीच हुआ, लेकिन अखिलेश ने अपने कोटे की तीन सीटें बागपत, मुजफ्फरनगर और मथुरा रालोद को देकर इसकी शुरुआत की। लोकसभा चुनाव में करारी हार और बसपा से गठबंधन तोड़ने के बाद भी अखिलेश ने रालोद का साथ नहीं छोड़ा। यह भी सर्वविदित है कि विधानसभा चुनाव-2022 के लिए रालोद मुखिया जयंत चौधरी पर भले ही अन्य दलों ने डोरे डाले हों मगर उन्होंने सपा के साथ ही जाना मुनासिब समझा। सपा और रालोद के बीच चुनाव से पहले यह तीसरा गठबंधन है।

विधानसभा चुनाव के लिए जब पार्टियां एक-दूसरे के संपर्क में थी तब जयंत चौधरी और प्रियंका गांधी की मुलाकात चर्चाओं में रही। कांग्रेस और रालोद के गठबंधन को लेकर भी कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन अखिलेश और जयंत की मंगलवार को हुई मीटिंग ने साफ कर दिया कि दोनों पार्टियां 2022 के चुनाव में भी साथ-साथ रहेंगी।

भतीजे से 100 टिकट चाहते हैं शिवपाल!

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के मौके पर उनके भाई प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने भतीजे अखिलेश के नेतृत्व वाली सपा में अपनी पार्टी के विलय का साफ संकेत दिया।

यादव परिवार के गढ़ सैफई में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत में कहा कि वह समाजवादी पार्टी में अपनी पार्टी प्रसपा का विलय करने के लिए तैयार हैं। वहीं इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सपा के साथ गठबंधन की संभावना से भी कतई इंकार नहीं है और एक हफ्ते के अंदर अपने लोगों से राय लेकर इस पर फैसला करेंगे। शिवपाल यादव ने हालांकि अखिलेश यादव के सामने एक शर्त भी रखी है। उन्होंने साफ किया कि वह चुनाव में अपने समर्थकों के लिए 100 टिकटें चाहते हैं। शिवपाल यादव ने कहा, ‘हमने तो 2019 में ही कहा था कि चलो हम ही झुक जाएंगे. आज दो साल हो गए, लेकिन कोई बात बनी नहीं बनी.’

बातों में छलका उपेक्षा का दर्द
समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के मौके पर सैफई के मास्टर चंदगीराम स्पोर्ट्स स्टेडियम में दंगल से पहले शिवपाल यादव के संबोधन में उपेक्षा का दर्द भी छलका, जब उन्होंने कहा, ‘आज यहां पर तेजप्रताप और अंशुल को भी होना चाहिए था। अंशुल को हराने के लिए कितनी ताकतें लगी थीं। हमारी ताकत पर अंशुल निर्विरोध चुन लिए गए। उन्हीं की तरफ से 22 तारीख को दंगल की बात चली थी, लेकिन वह यहां नहीं आए। हमने सोचा था कि यह दंगल ऐतिहासिक दंगल होगा, लेकिन नहीं हुआ। हमने हमेशा त्याग किया, हम चाहते तो 2003 में मुख्यमंत्री बन सकते थे, लेकिन मैंने नेता जी को दिल्ली से बुलाकर सीएम बनाया था।’

पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का सपाइयों ने जन्मदिन मनाया

सपाइयों ने मनाया पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन। एक दूसरे को मिठाइयां बांटकर खुशियां मनाई तथा उनकी लंबी उम्र की कामना की।

नूरपुर (बिजनौर)। समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने मिलकर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन केक काटकर मनाया।
सोमवार को समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मुरादाबाद रोड स्थित सपा नेता सलीम अंसारी के किसान कोल्हू वर्कशॉप स्थित कार्यालय पर एकत्र हुए। सपाइयों ने समाजवादी पार्टी के मुखिया प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं देश के पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन केक काटकर मनाया। एक दूसरे को मिठाइयां बांटकर खुशियां मनाई तथा उनकी लंबी उम्र की कामना की।

अखिलेश यादव को फिर से मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प- इस अवसर पर सपा नेताओं ने मुलायम सिंह के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उनके आदर्शों पर चलकर हमें सीख लेनी चाहिए। समाजवाद में हमें ऐसा नेता नहीं मिलेगा। उनके नेतृत्व में प्रदेश का चंहुमुखी विकास हुआ है। उसी नक्शेकदम पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव चल रहे हैं। संकल्प लिया कि आगामी 2022 के चुनाव में अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना है। इस अवसर पर युवजन छात्र सभा के जिलाध्यक्ष विशाल यादव, सुहेल अंसारी, सपा के वरिष्ठ नेता पूर्व नगर अध्यक्ष जुल्फकार कुरैशी, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य गांव पीपला जागीर मोहम्मद आसिफ, मोहम्मद वसीम मकरानी, सलीम अंसारी, राहुल सिंह पाल, प्रमोद चौधरी, पूर्व सभासद साजिद कमाल जावेद अंसारी, वकार अहमद अंसारी, इशरत अली अंसारी आदि सपा कार्यकर्ता आदि मौजूद रहे।

UP में फिर भाजपा सरकार, लेकिन नुकसान भी संभव!

एबीपी न्यूज-सी वोटर का लेटेस्ट सर्वे। सपा को होगा फायदा, बसपा को झटका, कांग्रेस का हाल और भी बुरा।

लखनऊ। अगले साल होने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए अभी से ही राजनीतिक पार्टियां जोर आजमाइश में जुट गईं हैं। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में किसकी सरकार बनेगी और किसकी विदाई होगी, इस पर अभी से ही सियासी गुणा-गणित का काम शुरू हो चुका है। उत्तर प्रदेश में इस बार जनता का क्या मूड है, इसका पता तो चुनाव बाद ही चलेगा, मगर अभी से ही टीवी चैनलों और एजेंसियों ने जनता की नब्ज को टटोलना शुरू कर दिया है। एबीपी न्यूज-सी वोटर ने अपने लेटेस्ट सर्वे में यूपी का मूड बताया है, जिसके हिसाब से यूपी में एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी बाजी मारती नजर आ रही है। 

नवंबर महीने के पहले सप्ताह में किए गए सर्वे में एबीपी न्यूज-सी वोटर ने बताया कि उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा सरकार बनाने में कामयाब होती नजर आ रही है। हालांकि, भाजपा को काफी सीटों का नुकसान हो रहा है और 300 का आंकड़ा भी पार करती नहीं दिख रहा है। इधर, समाजवादी पार्टी को फायदा होता दिख रहा है, जबकि मायावती को तगड़ा झटका लगता दिख रहा है। सर्वे का सैंपल साइज 1,07,193 था और इनमें पांचों राज्यों के लोग शामिल थे।

ABP-CVoter सर्वे के मुताबिक, 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा को 213 से 221 सीटें मिलती दिख रही हैं। यहां ध्यान देना जरूरी है कि 2017 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को 325 सीटें मिली थीं। भले ही भाजपा की सीटों में गिरावट का अनुमान लगाया गया है, मगर अब भी भगवा पार्टी यूपी में आसानी से लीड करती नजर आ रही है और योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार बनाती दिख रही है। 

सर्वे में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को 152 से 160 सीटों पर जीत दिखाया गया है। वहीं, मायावती की बसपा के खाते में महज 16 से 20 सीटें जाती दिख रही हैं। बता दें कि बसपा ने पिछले चुनाव में 19 सीटें जीती थीं। अगर कांग्रेस की बात करें तो उसका हाल और भी बुरा दिख रहा है। सर्वे में कांग्रेस के खाते में महज 6 से 10 सीटें जाती दिख रही हैं। 

वहीं वोट फीसदी की बात करें तो भाजपा को करीब 41 फीसदी वोट शेयर मिलने का अनुमान है। यह 2017 से थोड़ा सा कम है। सपा को 31 फीसदी तो बसपा को 15 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है। कांग्रेस को 9 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है। यहां सपा को फायदा होता दिख रहा है, क्योंकि अखिलेश यादव की पार्टी को पिछले चुनाव में महज 23.6 फीसदी वोट ही मिले थे। 

पिता के जन्मदिन पर चाचा को तोहफा देंगे अखिलेश

लखनऊ। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर चाचा शिवपाल सिंह यादव को तोहफा देंगे। सैफई में पत्रकारों से बातचीत में अखिलेश ने कहा कि चाचा की पार्टी प्रसपा से भी गठबंधन करेंगे। इस दौरान उन्होंने कहा कि लखीमपुर में मारे गए किसानों की याद में पार्टी ने स्मृति दिवस मनाया। सपा का हर कार्यकर्ता किसानों की याद में इस दिवाली एक दीपक जलाएगा। 

देरशाम परिवार संग सैफई में पैतृक आवास पहुंचे सपा मुखिया ने पार्टीजनों से मुलाकात कर दीपावली की बधाई दी। वहीं मीडिया से कहा कि वह नेताजी (मुलायम सिंह) के जन्मदिन 22 नवंबर को चाचा शिवपाल सिंह यादव को बड़ा तोहफा देंगे। सपा में प्रसपा के विलय पर अखिलेश ने कहा कि विलय किसी पार्टी का नहीं होगा। सपा विधानसभा चुनाव छोटे दलों के साथ मिलकर लड़ेगी और चाचा की पार्टी से भी गठबंधन करेंगे। कहा कि चाचा को जितना वह सम्मान देंगे उतना कोई नहीं दे पाएगा। 

उन्होंने बताया कि मऊ में ओमप्रकाश राजभर ने सपा के साथ रहने की घोषणा की है, इसी तरह अन्य कई छोटे दल मिलकर चुनाव लड़ने को तैयार हैं। प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि महंगाई से हर वर्ग परेशान हैं। सरकार किसानों को खाद तक नहीं दे पा रही। सपा सरकार के कामों का मुख्यमंत्री उद्घाटन कर रहे हैं। उन्होंने देश, प्रदेश व जिले के लोगों को दीपावली की शुभकामनाएं भी दीं।

फिर एक हो सकते हैं चाचा भतीजा!

लखनऊ। समाजवादी पार्टी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बीच जल्द ही गठबंधन का ऐलान हो सकता है। इस बात के संकेत सोमवार को सपा मुखिया अखिलेश यादव ने दिए। उन्होंने कहा कि उन्हें और उनके लोगों को समाजवादी पार्टी में उचित सम्मान दिया जाएगा। इससे पहले शिवपाल कई बार इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि वह तो गठबंधन के लिए तैयार हैं लेकिन अखिलेश की तरफ से जवाब नहीं आ रहा। 

नेता जी ने पूछा था कब आ रहे हो साथ:

एक दिन पहले ही मेरठ में समाजवादी पार्टी से गठबंधन के मामले में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के चीफ शिवपाल सिंह यादव ने कहा था कि नेताजी ने उनसे पूछा था कि अखिलेश के साथ कब आ रहे हो। वहीं बुलंदशहर में शिवपाल यादव ने कहा कि समान विचार धारा वाले दलों से उत्तर प्रदेश में गठबंधन किया जाएगा। वह सपा से गठबंधन के लिए भी तैयार हैं, क्योंकि विधानसभा चुनावों में भाजपा को हराना जरूरी है। यदि अखिलेश नहीं माने तो छोटी पार्टियों से गठबंधन कर भाजपा को हराया जाएगा।

हमेशा रहेगा चाचा-भतीजे का रिश्ता

शिवपाल यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के लिए सामाजिक परिवर्तन रथ यात्रा निकाली जा रही है। भाजपा सरकार में किसान, मजदूर, व्यापारी हर वर्ग परेशान है। भ्रष्टाचार व बेरोजगारी बढ़ गई है। महंगाई का जिक्र करते हुए कहा कि रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल की कीमतें दो गुनी हो गईं। भाजपा की जन विरोधी नीतियों से जनता परेशान है। शिवपाल यादव ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यदि सपा से उनका गठबंधन नहीं हुआ तो नेताजी मुलायम सिंह यादव उनके साथ रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि उनका अखिलेश से चाचा-भतीजे का रिश्ता है, जो हमेशा रहेगा।

हक वापस मिले तो शिवपाल सपा में वापसी को तैयार!

लखनऊ। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी को ऊंचाई तक पहुंचाने में 75 फीसदी योगदान नेताजी मुलायम सिंह यादव का है तो 25 फीसदी उनका है। अखिलेश यादव पार्टी में उनका 25 फीसदी हक दें तो वह पार्टी में वापसी को तैयार हैं। शिवपाल यादव ने रविवार को गाजियाबाद में पत्रकार वार्ता के दौरान उक्त बातें कहीं।

उन्होंने किसानों, डीजल, पेट्रोल, गैस और बिजली महंगे होने और बेरोजगारी पर सरकार पर तंज कसे। प्रदेश में अपराध का बोलबाला बताया।
उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को ऊंचाइयों तक पहुंचने में उनका काफी योगदान रहा है। जब उन्हें उनका हक नहीं मिला तो उन्हें पार्टी से अलग होना 
पड़ा। यदि उन्हें अपना हक वापस मिले तो वह आज भी पार्टी में वापसी को तैयार हैं। शिवपाल ने चुनाव के संबंध मे कहा कि स्थानीय दलों के साथ एक 
बड़ी राष्ट्रीय पार्टी से गठबंधन करेंगे। उन्होंने केंद्र सरकार से वर्तमान में जातिगत जनगणना कराने की मांग की। पत्रकार वार्ता में जिला प्रवक्ता नाहर सिंह 
यादव, अध्यक्ष हाजी नूर मोहम्मद, वीर सिंह, सुंदर लाल, महानगर अध्यक्ष जेपी अग्रवाल, पूजा खन्ना आदि शामिल रहे।

जनजागृति के लिए यात्रा

श्री यादव सामाजिक परिवर्तन यात्रा लेकर शनिवार देर शाम गाजियाबाद पहुंचे। उन्होंने बताया कि दो अक्तूबर को मथुरा से यात्रा शुरू की गई। आगरा, फिराजाबाद, इटावा, सैफई, कानपुर नगर, फतेहपुर, प्रयागराज, अमेठी, मेरठ, मुजफ्फनगर, सहारनपुर, बागपत से गाजियाबाद पहुंची। रविवार को यात्रा नोएडा के लिए रवाना हुई। इसका मकसद लोगों को जागरूक कर सरकार का उखाड़ फेंकना है।

वन विभाग में कायम जंगल राज!

वन विभाग में कायम जंगल राज!

बिजनौर। वन विभाग में जंगल राज का बोलबाला हो गया है! दो महिला विभागीय कर्मियों ने एक रेंजर के खिलाफ शारीरिक व मानसिक शोषण की शिकायत डीएफओ से की है! नजीबाबाद रेंज के इस मामले ने विभाग की कलई खोल कर रख दी है।

बताया गया है कि डीएफओ एम. सैमरान ने शिकायत मिलने के बाद संबंधित रेंजर को नोटिस जारी किया है। आरोप है कि उक्त महिला कर्मचारी काफी समय से रेंजर की करतूतों को बर्दाश्त कर रही थीं। अब, जब पानी सिर के ऊपर पहुंच गया तो शिकायत की गई।

रंगीला रेंजर- बताया जाता है कि उक्त रेंजर आशिक मिजाज है। जंगल में मंगल मनाना उसके खानदानी शौक में शामिल है। जंगल में लकड़ी बीनने आने वाली आसपास के गांवों की लड़कियों व महिलाओं से अभद्रता जगजाहिर है!

डीएफओ का कहना- डीएफओ ने बताया कि इस मामले में संबंधित रेंजर को नोटिस दिया गया है। जवाब मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

वोट के ज़रिए भाजपा को बाहर का रास्ता दिखाएगी जनता

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के विधानसभा मलिहाबाद से संभावित प्रत्याशी व प्रदेश सचिव व्यापार सभा सोनू कनौजिया ने प्रेस वार्ता आयोजित कर पत्रकारों को सम्मानित किया।

ग्राम सहिलामऊ गंगा केवल ढाबा पर समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव व्यापार सभा सोनू कनौजिया द्वारा प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। उन्होंने भाजपा पर हमलावर होते हुए जमकर निशाना साधा। प्रदेश सचिव ने बताया कि भाजपा के लिये दोबारा सरकार में आने के सभी रास्ते बंद हो चुके हैं। किसान नौजवान, व्यापारी, गरीब सभी भाजपा सरकार से परेशान हैं। भाजपा से मुक्ति पाने के लिये आगामी 2022 के विधानसभा चुनाव में जनता वोट के ज़रिए उन्हें बाहर का रास्ता दिखायेगी। रसोई गैस के दाम दिन प्रतिदिन महंगे होने के कारण महिलाओं ने चूल्हे पर खाना बनाना शुरू कर दिया है। बिजली दरों में सरकार लगातार बढ़ोत्तरी करती जा रही है। योगी सरकार के अपराध नियंत्रण की पोल खुल गईं है। अपराधी दिनदहाड़े घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। बिना किसी डर के अपराध व अपराधियों की संख्या चरम सीमा पर पहुँच गई है। सोनू कनौजिया ने भाजपा पर तीख़े वार करते हुए कहा कि चुनाव सिर पर आता देख भाजपा बौखला गई है। सपा सरकार के कार्यों का उद्घाटन करने में जुट गई है, जबकि हक़ीक़त यह है कि भाजपा ने सिर्फ़ विकास के नाम पर लोगों को बांटने का काम किया है। समाजवादी पार्टी के कार्यों को अपना बताने के अलावा भाजपा के पास कुछ नहीं बचा है। आगामी विधानसभा के चुनाव में भाजपा के झूठे वादों और लुभावने भाषण से अब जनता प्रभावित होने वाली नहीं है।

उन्होंने प्रेस वार्ता में मौजूद पत्रकारों का माला पहनाकर सम्मानित किया। प्रदेश सचिव ने कहा कि पत्रकार समाज का आईना है। यही एक माध्यम है, जिनके द्वारा सच्चाई सामने आ जाती है। इस मौके पर कई दर्जन पत्रकार शमिल हुए।

डॉक्टर रमेश तोमर ने फूंका विजय बिगुल

बिजनौर। विधानसभा क्षेत्र के ग्राम टिकोपुर, नरुल्लापुर में वरिष्ठ सपा नेता एवं प्रख्यात चिकित्सक डॉ. रमेश तोमर का जोरदार स्वागत किया गया। डॉ. रमेश तोमर ने ग्रामीणों से कहा कि इस बार अखिलेश यादव को एकजुट होकर मुख्यमंत्री बनाना है।

असद मामू प्रधान के आवास पर वरिष्ठ सपा नेता डॉ. रमेश तोमर ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि आने वाले चुनाव में एक जुट होकर सपा को वोट करना है और सभी का सम्मान भी अखिलेश यादव सरकार में होता है। आज इस सरकार में गरीब की जेब को काटा जा रहा है और भाई को भाई से लड़ाया जा रहा है। डॉ. रमेश तोमर ने कहा कि सरकार बनते ही भ्रष्टाचारी और गरीब जनता को लूटने वाले अधिकारी इस इलाके को छोड़कर भाग जाएंगे। यदि आप लोग क्षेत्र का विकास चाहते हो तो आने वाले विधानसभा चुनाव 2022 में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों को भारी बहुमत से जिता कर अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाएं। सपा नेता डॉ. रमेश तोमर ने आगे कहा जो बच्चे वर्ष के हो गए हैं उनके वोट जरूर बनवा लें। इस दौरान गांव के बहुत जिम्मेदार लोग मौजूद रहे इनमें बाबा शफीक, हाजी नईमुद्दीन, काले खा, मुना ठेकेदार, शाह आलम, जावेद पूर्व प्रधान, बिजनौर से वरिष्ठ सपा नेता डॉ जमरुद्दीन उस्मानी, अख़लाक पप्पू आदि शामिल रहे।

बीजेपी के झूठ की पोल खोल रहे अमान हसन

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता अमान हसन विधानसभा मलिहाबाद क्षेत्र में लगातार जनता के बीच में जाकर बीजेपी के झूठ को उजागर कर रहे हैं! इसके लिए रोज सुबह प्रत्येक गांवों में जाकर ग्रामीणों को समझा कर समाजवादी पार्टी से जोड़ने का काम किया जा रहा है!

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के दिशा निर्देशन व जिला अध्यक्ष जय सिंह जयंत के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता अमान हसन पार्टी की गतिविधियों को बढ़ाने में तत्परता से जुटे हुए हैं।

इसी क्रम में शुक्रवार को 50 दिन पूर्ण होने के उपलक्ष्य में नबिपनाह, सैफलपुर, पीर बाबा की मजार जमुलिया, इब्राहिमपुर व सलात खेड़ा सहित दर्जनों गांवों में मीटिंग का आयोजन किया गया। एक दर्जन गांव में चौपाल लगाकर बैठक की गई।

कार्यक्रम में जिला अध्यक्ष जय सिंह जयन्त ने कहा कि प्रदेश की जनता में भाजपा सरकार की नीति-रीति के खिलाफ जनाक्रोश चरम पर है। वादा खिलाफी का दंश झेल रहे किसानों के लिए भाजपा का जंगलराज काल बन गया है। युवाओं ने युवा व छात्र विरोधी भाजपा सरकार के खिलाफ जगह-जगह संघर्ष छेड़ दिया है। दूसरी तरफ प्रशासन दिन पर दिन बिगड़ती आर्थिक व सामाजिक स्थितियों के प्रति उदासीन है। जनता को उसके भाग्य पर छोड़कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जहां-तहां व्यस्त हो जाते हैं। उनसे यह प्रदेश सम्हलने वाला नहीं है। भाजपा सरकार की खुशहाली विनाशक नीतियों के चलते श्रमिक, किसान लगातार अपनी जानें गंवा रहे हैं। हत्या, लूट अपहरण और छेड़छाड़ की घटनाएं तो रोज की बात हो गई है। इन पर कोई लगाम नहीं लगी है।भाजपा सरकार की किसानों के प्रति निष्ठुरता का पता इसी से लगता है। युवाओं में भाजपा सरकार के प्रति गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। रोजगार के नाम पर लोगों को भटकाया जा रहा है। गरीब छात्रों के पास बस वही लैपटाप हैं, जो समाजवादी सरकार ने बांटे थे। भाजपा ने भी लैपटाप देने का वायदा किया था लेकिन वायदा खिलाफी भाजपा का स्थायी चरित्र है।


जिला अध्यक्ष ने कहा कि समाजवादी पार्टी की मांग है कि भाजपा सरकार युवाओं एवं छात्रों की समस्याओं के समयबद्ध समाधान के लिए ‘यूथचार्टर‘ जारी करे। एक बात बहुत साफ है कि नौजवानों और किसानों ने ही हमेशा आगे बढ़कर व्यवस्था और सत्ता में परिवर्तन किया है। जब यूथ काफिला बढ़ता है तो तमाम विरोधी ताकतें इनके रास्ते से भाग खड़ी हो जाती है। भाजपा सरकार के खिलाफ बढ़ता जनरोष अब नए बदलाव की दिशा तय करेगा।

इस अवसर पर मनोज यादव (प्रदेश प्रवक्ता), नागेन्द्र यादव, मसूद हसन खां, वीरेन्द्र प्रताप यादव विधान सभा अध्यक्ष, मोइन खान विधान सभा महासचिव, संदीप यादव ब्लॉक अध्यक्ष, सौनिश मोर्या, आशीष यादव, राजीव रत्न गुप्ता, शारीक खान (आशु खान) , पुन्नू यादव, कालिका दादा समेत बहुत लोग मौजूद रहे।

लखनऊ समाजवादी पार्टी महिला विंग का विस्तार

लखनऊ। राजधानी में समाजवादी महिला सभा व लोहिया वाहिनी में पदाधिकारियों की घोषणा की गई है। इस अवसर पर दर्जनों लोगों ने समाजवादी पार्टी की सदस्या ग्रहण की।

राजधानी स्थित समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय 6, लाजपत राय भवन, कैसरबाग  लखनऊ पर जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’, जिला महासचिव शब्बीर अहमद खान एवं विधायक अम्ब्रीश सिंह पुष्कर की उपस्थिति में समाजवादी महिला सभा में रामकली रावत उर्फ सुनीता को जिला उपाध्यक्ष, सरोज यादव को जिला सचिव और तनवीर अहमद को समाजवादी लोहिया वाहिनी में जिला उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया। साथ ही दर्जनों लोगों ने समाजवादी पार्टी की सदस्या ग्रहण की। इस अवसर पर जिला समाजवादी पार्टी कार्यालय पर सभी का फूल-मालाओं से स्वागत किया गया। इस मौके पर जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ ने कहा कि आप सभी के मनोनयन से समाजवादी पार्टी को बूथ स्तर पर मजबूती मिलेगी एवं 2022 विधानसभा चुनाव में आप सभी की अहम भूमिका रहेगी।

मीडिया प्रभारी रमेश सिंह ‘रवि’ ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से उक्त जानकारी देते हुए बताया कि इस दौरान पूर्व प्रदेश सचिव विजय सिंह यादव, पूर्व सदस्य प्रदेश कार्यकारिणी वीर बहादुर सिंह, पूर्व प्रदेश सचिव अल्पसंख्यक सभा इरशाद अहमद ‘गुड्डू’, जिला सचिव शहीम खान, मुन्ने बेग, सतीष गुप्ता, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष शशिलेन्द्र यादव, महिला सभा जिलाध्यक्ष प्रेमलता यादव, जिला पंचायत सदस्य विजय लक्ष्मी, दाऊद नदवी, मौलाना रईस अहमद, हकीम साहब मौजूद रहे।

सपा में नहीं होगा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का विलय!

लखनऊ। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उनकी पार्टी सेक्युलर दलों से गठबंधन करेगी। परिवर्तन यात्रा लेकर निकले श्री यादव कहा कि सपा उनकी प्राथमिकता में है लेकिन पार्टी का विलय नहीं गठबंधन होगा। उन्होंने दावा किया नेताजी उनके साथ हैं और पूरी तरह से उनका आशीर्वाद उन्हें प्राप्त है।

प्रसपा की परिवर्तन यात्रा पुखरायां से शुरू होनी थी, लेकिन विपरीत मौसम के चलते यात्रा अहरौली शेख से जालौन के लिए रवाना हुई। अहरौली शेख बाईपास स्थित एक गेस्ट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में प्रसपा अध्यक्ष ने कहा कि परिवर्तन यात्रा का उद्देश्य सत्ता का परिवर्तन है। मौजूदा समय में प्रदेश की जनता मंहगाई, भ्रष्टाचार व बेरोजगारी से परेशान है। खाद व बीज के दाम बढ़ गए हैं। निजीकरण के नाम पर रेल, टेलीफोन, एयरपोर्ट सब पूंजीपतियों को सौंपे जा रहे हैं। इससे पूंजीपतियों की आय 40 गुना बढ़ गयी है, जबकि आम लोग महंगाई से परेशान हैं।

उन्होंने कहा कि किसानों पर काला कानून थोपा गया है। प्रसपा की सरकार बनने पर वह 300 यूनिट बिजली मुफ्त देंगे। उन्होंने कहा कि 2022 में सरकार बनाने की चाबी उनके पास है, वह सेक्युलर दलों से समझौता कर रहे हैं। सपा उनकी प्राथमिकता में हैं, लेकिन पार्टी का विलय नहीं सिर्फ गठबंधन ही संभव है। देर शाम यात्रा झांसी पहुंची, रात्रि विश्राम के बाद मंगलवार को यात्रा आगे बढ़ेगी।

वोट से तय करनी है परिवर्तन की नई मंजिल:अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि लोकतंत्र पर आए संकट को देखते हुए वोट से परिवर्तन की नई मंजिल तय करनी है। विजयदशमी का पर्व हमें यह संदेश देता है कि अहंकार और अत्याचार का परिणाम सदैव बुरा होता है। यह भी सुनिश्चित है कि बुराई और असत्य के मुकाबले हमेशा सत्य की जीत होती है और असत्य पराजित होता है। हमें इसलिए अपने आचरण में सद्भाव को बढ़ावा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज संक्रमण के दौर से गुजर रहा है। संकीर्ण मानसिकता के चलते आपसी सौहार्द बिगड़ रहा है। अधिनायकशाही सोच से सरकारअसहमति की आवाज का दमन कर रही है।

लोकतंत्र और सामाजिक समरसता को कमजोर करना ही भाजपा का मूल एजेंडा है। जनता के हित में भाजपा सरकार की नीतियां पूरी तरह विफल है। शुक्रवार को दशहरे के मौके पर सपा कार्यालय आए वकीलों, सामाजिक कार्यकर्ताओं समेत महिलाओं व अल्पसंख्यकों आदि की बधाई स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा कि चंद महीने बाद ही प्रदेश की जनता को अपने भाग्य के निर्णय का अधिकार मिलेगा। इस मौके पर राजपुरोहित पण्डित हरि प्रसाद मिश्रा ने विजयदशमी पर अखिलेश यादव को ‘विजयी भव‘ का आशीर्वाद दिया और रक्षा सूत्र बांधा। उन्होंने कहा समय, परिस्थतियां ग्रह-नक्षत्र सब अखिलेश यादव के अनुकूल हैं। वह ही मुख्यमंत्री बनेंगे। 
 

…और अखिलेश ने दे दीं रामनवमी की शुभकामनाएं!

लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के  अध्यक्ष अखिलेश यादव रामनवमी की अनंत मंगल कामनाएं देकर हंसी का पात्र बन गए हैं। नवरात्र के आखिरी दिन महानवमी के अवसर पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव रामनवमी की शुभकामनाएं देकर विपक्षी दलों के साथ ही सोशल मीडिया के निशाने पर आ गए। हालांकि बाद में अखिलेश यादव ने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया और फिर महानवमी की शुभकामनाएं दीं।

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि जिसे रामनवमी और महानवमी का अंतर नहीं पता, वह अब जनता को अपने झूठे बयानों से बरगला रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को कहा कि कोरोना के दौरान घर में दुबके रहने वाले अखिलेश यादव अब जनता को ठगने के लिए यात्रा निकाल रहे हैं जबकि सीएम योगी कोरोना काल में पॉजिटिव होने के बाद भी लगातार बैठकें और दौरे करते रहे। यह अंतर दशार्ता है कि जनता की सेवा के लिए कौन तत्पर है और कौन सत्ता में आकर लूटने के लिए लालायित है।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि ऐसे लोगों को जनता ने कई बार नकार दिया है, इनकी सरकारों में सिर्फ गुंडागर्दी, जंगलराज, अराजकता, भ्रष्टाचार और तुष्टीकरण का बोल बाला रहा है। योगी सरकार में बुंदेलखंड में पहली बार किसी सरकार ने तरक्की के दरवाजे खोले हैं, जो दशकों से पिछड़े बुंदेलखंड को नई पहचान देगा। दरअसल, आज सुबह अखिलेश यादव ने अपने निजी ट्विटर हैंडल से ट्विट किया था कि आपको और आपके परिवार को रामनवमी की अनंत मंगलकामनाएं। जबकि शारदीय नवरात्र में महानवमी होती है। लोगों के विरोध के कारण उन्हें ट्विट डिलीट करना पड़ा, लेकिन तब तक सोशल मीडिया पर स्क्रीन शॉट वायरल हो गया।

इसे लेकर ही कैबिनेट मंत्री ने कहा कि अपनी पार्टी में सभी वरिष्ठों को किनारे कर अखिलेश यादव खुद तानाशाह के रूप में अध्यक्ष बन गए हैं, उनसे बड़ा झूठा खोजने पर भी नहीं मिलेगा। योगी सरकार के हर कार्य को अपना बताने लगते हैं, ऐसा लगता है कि योगी सरकार के कार्यकाल में कराए गए कार्य उन्हें रात में सपने में भी आते हैं। जिस कारण दिन में वह उन्हें अपना बताने लगते हैं। 

भाजपा के लिए सत्ता सेवा का माध्यम: सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि भाजपा के लिए सत्ता सेवा का माध्यम है, लेकिन प्रदेश में कांग्रेस, सपा और बसपा की सरकारों में अधिक से अधिक भ्रष्टाचार करने की प्रतिस्पर्धा थी। यह दल सिर्फ अपना पेट भरने के लिए सत्ता में आना चाहते हैं। यूपी कांग्रेस के संगठन में भी घोटाले की बातें सामने आ रही हैं। इस बारे में सच कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ही बता सकती हैं, लेकिन सवाल यह है कि जो पार्टी अपने संगठन में घोटाला नहीं रोक पा रही है, उसे नैतिकता के आधार पर जनता के बीच जाने भी नहीं जाना चाहिए।

वहीं भाजपा नेता अमित मालवीय ने अखिलेश पर हमला बोलते हुए कहा कि जिन लोगों ने कार सेवकों पर गोली चलाई, वे नाटक कर रहे हैं। क्योंकि चुनाव आ गए हैं और वह हिंदू होने का दिखावा कर रहे हैं। अखिलेश यादव के ट्वीट पर मालवीय ने लिखा है कि चैत्र के महीने में रामनवमी का त्योहार मनाया जाता है जबकि महानवमी शारदीय नवरात्रों में मनाई जाती है। जिसमें देवी दुर्गा की पूजा की जाती है। इसके बाद दशहरा आता है अर्थात जिस दिन भगवान राम रावण का वध करते हैं। यही होता है जब कार सेवकों पर गोली चलाने वाले, चुनाव आते ही हिंदू बनने का ढोंग करने लगते हैं। भाजपा नेता और प्रवक्ता संबित पात्रा ने ट्वीट किया कि जिन लोगों ने श्री राम भक्तों पर गोलियां चलाई थीं। आज चुनावी डर से उनके सपनों में भगवान श्रीराम आने लगे हैं। आज वह रामनवमी की बधाई दे रहे हैं, बधाइयां।

यूपी बीजेपी ने भी साधा निशाना

वहीं यूपी बीजेपी ने भी अखिलेश यादव पर निशाना साधा और ट्वीट कर कहा कि जिन्हें यह भी नहीं पता कि रामनवमी और महानवमी में क्या अंतर है, वह ‘राम’ और ‘परशुराम’ की बात करते हैं। जनता को ‘टोपी’ मत पहनाइए, वह आप पर ज्यादा अच्छी लगती है।

अखिलेश यादव ने डिलीट किया ट्वीट

सोशल मीडिया और बीजेपी के निशाने पर आने के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव को अपनी भूल का अहसास हुआ और उन्होंने अपने ट्वीट डिलीट किया और उसके बाद उन्होंने महानवमी की शुभकामनाएं दी और लिखा कि आपको और आपके परिवार को महानवमी की अनंत मंगलकामनाएं!

प्रदेश के हालात पर सपा ने भेजा राष्ट्रपति को ज्ञापन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही किसानों एवं व्यापारियों की हत्याएं, बेतहाशा मूल्य वृद्धि, महंगाई, बच्चियों के साथ दुष्कर्म, लूट की घटनाएं एवं भ्रष्टाचार से कानून व्यवस्था की स्थिति अत्यन्त गम्भीर है। हत्या, लूट, अपहरण, बलात्कार की घटनाएं रोज ही घट रही हैं, जिस पर प्रदेश सरकार नियंत्रण लगा पाने में पूर्णतया विफल है। जनता स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रही है, चारों तरफ भय और आतंक का माहौल व्याप्त हो चुका है। भाजपा राज में सर्वाधिक किसान, महिलाएं एवं बच्चियां असुरक्षित हैं। इन आरोपों को लगाते हुए समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ एवं जिला महासचिव शब्बीर अहमद खान के नेतृत्व में राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी लखनऊ को कलक्ट्रेट में सौंपा गया। ज्ञापन देने के दौरान हजारों की संख्या में समाजवादी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

जिलाध्यक्ष ने गिनाईं सरकार की नाकामियां:
ज्ञापन देने केे दौरान जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ ने कहा कि खाद्य पदार्थों एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं पर सरकार द्वारा बेतहाशा मूल्य वृद्धि किये जाने के कारण जनमानस त्राहि-त्राहि करने पर मजबूर है। पेट्रोल एवं डीजल के दाम, रसोई गैस के दाम, दालें, सब्जियों आदि के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसी स्थिति में लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। लखीमपुर खीरी में 03 अक्टूबर 2021 को दिनदहाड़े भाजपा सरकार के केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे द्वारा गाड़ी चढ़ा कर कई किसानों की निर्मम हत्या कर दी गयी। गृह राज्य मंत्री और उनके बेटे के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज होने के बावजूद अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है। उन्होंने प्रत्येक मृतक किसान के परिवारों को 2-2 करोड़ रुपए मुआवजा देने की मांग की। जिलाध्यक्ष ने कहा कि गोरखपुर में पुलिस द्वारा कानपुर के व्यापारी को पीट-पीट कर मार दिया गया, जिसमें अभी तक किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। कानपुर में 5 लोगों की हत्या कर दी गयी, परन्तु अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। तत्काल कार्यवाही कर परिवारों को न्याय दिलाया जाये।
इस दौरान जयप्रकाश नारायण जी की जयन्ती के अवसर पर सभी समाजवादी कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर माल्यार्पण कर उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश  डाला।

ज्ञापन देने के दौरान सदस्य राष्ट्रीय कार्यकारिणी चौ. जगदीप सिंह यादव, विधायक अम्ब्रीष सिंह पुष्कर, पूर्व लोकसभा प्रत्याशी सीएल वर्मा, पूर्व प्रदेश सचिव विजय सिंह, रामसागर यादव, दिनेश सिंह, पूर्व विधायक गोमती यादव, राजेन्द्र यादव, इन्दल रावत, पूर्व प्रत्याशी अनुराग यादव, शिवशंकर सिंह ‘शंकरी’, राजबाला रावत, वरिष्ठ नेता नागेन्द्र सिंह यादव, टीबी  सिंह, मनोज यादव, मीडिया प्रभारी रमेश सिंह ‘रवि’, जिला उपाध्यक्ष मान सिंह वर्मा, अनिल पासी, महेश  सिंह लोधी, कुलदीप यादव, विनय दीक्षित, वरिष्ठ नेता अभिषेक यादव, मधुलिका यादव, पूर्व ब्लाक प्रमुख रामगोपाल यादव, सरोज यादव, सुशील यादव ‘गुड्डू’, पूर्व जिला उपाध्यक्ष रूद्र विनायक यादव, मनीष यादव, पूर्व केकेसी अध्यक्ष रवि भूषण यादव ‘राजन’, जिला सचिव राजकुमार यादव, डाॅ0 संतोष रावत, अजय सिंह चैहान, मो0 अकरम ‘बब्लू’, मो0 इब्राहीम, पंकज रावत, सुनीता कष्यप, सुहागवती, आदिल इदरीश, मुर्सरफअली सिद्दीकी, अरविन्द गौतम ‘सुनील’, सतीष गुप्ता, अंकित मौर्या, मो0 शफीक, नजम मुस्तफा, मसूद हसन खान, पूर्व जिला पंचायत सदस्य मोहन यादव, चिकित्सा प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष डाॅ0 मोहनलाल पासी, अधिवक्ता सभा जिलाध्यक्ष अंजनी प्रकाश यादव एवं महासचिव सिद्धार्थ आनन्द, महिला सभा जिलाध्यक्ष प्रेमलता यादव, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष शशिलेन्द्र यादव, पिछड़ा वर्ग जिलाध्यक्ष मनोज कुमार पाल, छात्र सभा जिलाध्यक्ष महेन्द्र यादव एवं महासचिव तुषार त्रिपाठी, मजदूर सभा जिलाध्यक्ष रामबाबू चैरसिया, अल्पसंख्यक सभा जिलाध्यक्ष एसयू खान ‘भईया जी’, पूर्व जिलाध्यक्ष लोहिया वाहिनी रामप्रकाश  यादव, सरोजनी नगर विधानसभा अध्यक्ष चन्द्रशेखर यादव, बीकेटी विधानसभा अध्यक्ष विदेश पाल यादव, मलिहाबाद विधानसभा अध्यक्ष वीरेन्द्र प्रताप सिंह, अमेठी चयरमेन मो0 वाहिद, जिला पंचायत सदस्य निहाल अहमद, जितेन्द्र यादव ‘गुड्डू’, महेश कुमार रावत, मायाराम वर्मा, लोहिया वाहिनी जिला महासचिव विनय रावत, आरपी यादव ‘दिलीप’, पार्षद मोनू कनौजया, लल्लू यादव, रेषभ खान, रईस अहमद, कामिनी पटेल, सुधा यादव, मनीषा साहा, आशा यादव, कुमुदिनी यादव, रंजना पटेल, डाॅ0 मंजू यादव, शिल्पी चौधरी, राधा यादव, त्रिभुवन यादव, गोविन्द यादव, पूर्व जिला पंचायत सदस्य सोनीश मौर्या, शिवम यादव ‘गोलू’, सुदीप कुमार यादव, सुहेल सिद्दीकी, सिराज खान, वीर बहादुर सिंह, रूपराज रावत, नन्द किशोर यादव, फरहा खान, राजेश यादव, मनोज यादव, विमलेश, विमल यादव, धर्मेन्द्र वर्मा, रामनरेश यादव के साथ हजारों की संख्या में समाजवादी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

भाजपा सरकार के खिलाफ जनाक्रोश चरम पर: सीएल वर्मा

युवाओं एवं छात्रों की समस्याओं के समयबद्ध समाधान के लिए भाजपा सरकार जारी करे ‘यूथ चार्टर’ गरीब छात्रों के पास बस वही लैपटाप हैं, जो समाजवादी सरकार ने बांटे-सीएल वर्मा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अखिलेश यादव के निर्देशन में पूर्व लोकसभा प्रत्याशी सीएल वर्मा ने मलिहाबाद क्षेत्र अंतर्गत ग्राम जिन्दाना सहित दर्जनों गांवों में बैठक कर पार्टी की नीतियों एवं सपा सरकार द्वारा कराए गए विकास कार्यों को जनता को बताया।

बताते चलें कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देशन में मोहनलालगंज लोकसभा सीट के पूर्व संयुक्त प्रत्याशी सीएल वर्मा समाजवादी पार्टी द्वारा किए गए विकास कार्यों को तथा पार्टी की नीति को गांव गांव जाकर जनता के बीच बताने का काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में मलिहाबाद के जिदाना गांव सहित एक दर्जन गांव में चौपाल लगाकर उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता में भाजपा सरकार की नीति-रीति के खिलाफ जनाक्रोश चरम पर है। वादा खिलाफी का दंश झेल रहे किसानों के लिए भाजपा का जंगलराज काल बन गया है। भाजपा सरकार की किसानों के प्रति निष्ठुरता का पता इसी से लगता है। युवाओं में भाजपा सरकार के प्रति गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है। इसीलिए युवाओं ने युवा व छात्र विरोधी भाजपा सरकार के खिलाफ जगह-जगह संघर्ष छेड़ दिया है। दूसरी तरफ प्रशासन दिन पर दिन बिगड़ती आर्थिक व सामाजिक स्थितियों के प्रति उदासीन है। जनता को उसके भाग्य पर छोड़कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जहां-तहां व्यस्त हो जाते हैं। उनसे यह प्रदेश संभलने वाला नहीं है। भाजपा सरकार की खुशहाली विनाशक नीतियों के चलते श्रमिक, किसान लगातार अपनी जानें गंवा रहे हैं। हत्या, लूट अपहरण और छेड़छाड़ की घटनाएं तो रोज की बात हो गई हैं। इन पर कोई लगाम नहीं लगी है। रोजगार के नाम पर लोगों को भटकाया जा रहा है।गरीब छात्रों के पास बस वही लैपटाप हैं, जो समाजवादी सरकार ने बांटे थे। भाजपा ने भी लैपटाप देने का वायदा किया था, लेकिन वायदा खिलाफी भाजपा का स्थायी चरित्र है। समाजवादी पार्टी की मांग है कि भाजपा सरकार युवाओं एवं छात्रों की समस्याओं के समयबद्ध समाधान के लिए ‘यूथ चार्टर‘ जारी करे। एक बात बहुत साफ है कि नौजवानों और किसानों ने ही हमेशा आगे बढ़कर व्यवस्था और सत्ता में परिवर्तन किया है। जब यूथ काफिला बढ़ता है तो तमाम विरोधी ताकतें इनके रास्ते से भाग खड़ी हो जाती है। भाजपा सरकार के खिलाफ बढ़ता जनरोष अब नए बदलाव की दिशा तय करेगा।

भाजपा ने धनबल, बाहुबल से चुनाव जीते: सुनील साजन

लखनऊ। विधानसभा मलिहाबाद क्षेत्र स्थित रॉयल गार्डन में शनिवार को सपा का बूथ स्तरीय कार्यकर्ता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सदस्य सुनील सिंह साजन, पूर्व सांसद सुशीला सरोज, पूर्व विधायक इंदल कुमार रावत, पूर्व मंत्री इंसराम अली, रामगोपाल यादव, सरोज यादव सहित कई वरिष्ठ सपा नेता सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे। आगामी विधान परिषद चुनाव को लेकर विधानसभा के अंतर्गत काकोरी, माल और मलिहाबाद ब्लॉक के कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ उमड़ी। माल क्षेत्र से आये रामविलास, काकोरी से पूर्व विधायक इरशाद खां ने अपने अपने विचार रखे।

सोनू कनौजिया ने एमएलसी सुनील सिंह साजन को मुकुट पहनाने के साथ ही गदा भेंट कर स्वागत किया।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक इंदल कुमार रावत और रामगोपाल यादव ने समाजवादी पार्टी द्वारा प्रदेश में किये गए विकास की सराहना करते हुए बताया कि मोदी, योगी देश और प्रदेश बेचने का काम कर रहे हैं। साथ ही पार्टी की नीतियों के बारे में जागरूक किया। सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन ने बूथ के कार्यकर्ताओं को बताया कि भाजपा ने धनबल, बाहुबल से चुनाव जीते हैं। आगामी विधान परिषद चुनाव में हमे सतर्क रहना है और पूरी जिम्मेदारी के साथ एक एक वोट परिवर्तन के लिए बूथ तक पहुचाना है।अखिलेश सरकार ने आम बागवानों को मंडी दी एक्सप्रेस वे दिया। प्रदेश के युवा रोजगार के लिए तरस रहे हैं। सड़कें खराब हैं, आएदिन खराब सड़कों पर गिर कर लोग अपनी जान गवा रहे हैं। 2022 में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का काम सपा करेगी। कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष जय सिंह जयंत, एडवोकेट रामसिंह यादव, राशिद अल्वी, शहजाद खा, सन्नू खा, संतोष यादव, प्रधान वासुदेव यादव सहित दर्जनों वरिष्ठ सपा नेता उपस्थित रहे।

सपा किसान,नौजवान पटेल यात्रा का हुआ जोरदार स्वागत

सपा किसान, नौजवान पटेल यात्रा का हुआ जोरदार स्वागत

समाजवादी पार्टी व्यापार सभा के प्रदेश सचिव सोनू कनौजिया की अगुवाई में हुआ जोरदार स्वागत

लखनऊ। समाजवादी पार्टी की किसान नौजवान पटेल यात्रा का प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में लखनऊ जनपद में प्रवेश करने पर सपाइयों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया। समाजवादी पार्टी व्यापार सभा के प्रदेश सचिव सोनू कनौजिया की अगुवाई में जनपद लखनऊ में वापस लौटने पर मोहनलाल गंज और निगहो के बीच एकत्र सैकड़ो की संख्या में अपने कार्यकर्ताओं के साथ किसान नौजवान पटेल यात्रा के लखनऊ जनपद प्रवेश होने पर जोरदार स्वागत किया । यह यात्रा प्रदेश अध्यक्ष एवं एमएलसी नरेश उत्तम पटेल की अगुवाई में दोपहर करीब 12:30 पर पहुंची। वहां पहले से ही मौजूद हजारों की संख्या में सपाइयों ने फूल मालाओं से अपने प्रदेश अध्यक्ष को लाद दिया। सपा के समर्थन में जमकर नारेबाजी की भीड़ देखकर उत्साहित प्रदेश अध्यक्ष सड़क पर उतर पड़े और कार्यकर्ताओं को सफल आयोजन की बधाई दी। सभी से उन्होंने माला पहनी। प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने उपस्थित कार्यकर्ताओं से कहा कि वह मिशन 2022 की तैयारी में जुट जाएं, जनपद रायबरेली के समस्त सीटों पर समाजवादी पार्टी का परचम लहरा दें। उत्तर प्रदेश में जब अखिलेश यादव के अगुवाई की सरकार बनेगी तभी उत्तर प्रदेश का चौमुखी विकास होगा। किसान खुशहाल होगा, नौजवान खुशहाल होगा, महिलाएं खुशहाल होंगी, छात्र खुशहाल होगा, बेरोजगार खुश होंगे। स्वागत समारोह में बड़ी तादाद में सपाई उपस्थित रहे।

पूर्व एमएलसी एसआरएस यादव की प्रथम पुण्यतिथि पर श्रृद्धासुमन अर्पित

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय कैसरबाग लखनऊ पर वरिष्ठ नेता एवं पूर्व एमएलसी एसआरएस यादव की प्रथम पुण्यतिथि पर श्रृद्धासुमन अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।

जिला अध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ एवं जिला महासचिव शब्बीर अहमद खान की उपस्थिति में पार्टी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने कोविड-19 की गाइड लाइन के तहत सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए श्रृद्धासुमन अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ ने कहा कि श्री एसआरएस यादव ने 1989 से तत्कालीन मुखिया मुलायम सिंह यादव के साथ पार्टी की प्रत्येक गतिविधियों में विषेष योगदान दिया। संगठन में उनकी गहराई से पकड़ थी।

श्रृद्धांजलि देने वालों में मुख्य रूप से पूर्व राष्ट्रीय सचिव चौधरी जगदीप सिंह यादव, जिला उपाध्यक्ष अनिल पासी, पूर्व जिला उपाध्यक्ष टीबी सिंह, रूद्र विनायक यादव, मु. सिंह यूथ ब्रिगेड के पूर्व राष्ट्रीय सचिव नागेन्द्र सिंह, जिला पंचायत सदस्य निहाल अहमद, मीडिया प्रभारी रमेश सिंह ‘रवि’, जिला सचिव सुहागवती, अकरम ‘बब्लू’, डाॅ. संतोष रावत, नईमुद्दीन, बीकेटी विधानसभा अध्यक्ष विदेश पाल यादव, सरोजनी नगर विधानसभा अध्यक्ष चन्द्रशेखर यादव, अधिवक्ता सभा जिलाध्यक्ष अंजनी प्रकाश यादव, महासचिव सिद्धार्थ आनन्द, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष शशिलेन्द्र यादव, शौकत अली, शिवम यादव ‘गोलू’ साथ अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

“झण्डा लगाओ अभियान” व ‘‘किसान पटेल यात्रा’’ की तैयारियों में जुटे सपाई

महिला सभा के संगठन को और अधिक मजबूत बनाने के लिए सरोजनी अम्बेडकर, सुप्रिया कश्यप एवं इन्द्राणी रावत जिला सचिव मनोनीत।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय 6, लाजपत राय भवन, कैसरबाग लखनऊ पर जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ की अध्यक्षता में मासिक बैठक आयोजित की गयी। बैठक का संचालन जिला महासचिव शब्बीर अहमद खान ने किया।


बैठक को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष जयसिंह ‘जयन्त’ ने सभी पदाधिकारियों को विधानसभा चुनाव 2022 में पूर्ण बहुमत से समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने हेतु प्रत्येक बूथ पर अधिक से अधिक मतदाताओं को जोड़ने के निर्देश दिये। साथ ही 15 सितम्बर से ‘पार्टी का झण्डा लगाओ अभियान’ चलाने हेतु सभी विधानसभा, ब्लाक, नगर पंचायत, सेक्टर, बूथ एवं वार्डों के कार्यकर्ताओं को लगाने के लिए कहा। उन्होंने खेत-खलिहान, कुटीर उद्योग बचाओ, रोजगार दो ‘‘किसान पटेल यात्रा’’ कार्यक्रम के अन्तर्गत दिनांक 23 सितम्बर 2021 को प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल के लखनऊ आगमन पर टोल प्लाजा, निगोहां मोहनलालगंज से प्रदेश कार्यालय तक उनके भव्य स्वागत की तैयारियों पर बल दिया।


बैठक में पूर्व सांसद सुशीला सरोज, पूर्व मंत्री आर0के0 चौधरी, पूर्व लोकसभा प्रत्याशी सी0एल0 वर्मा, पूर्व प्रदेश सचिव विजय सिंह, वीर बहादुर सिंह, पूर्व विधायक गोमती यादव, इन्दल रावत, इरशाद खान, टी0बी0 सिंह, मु0सिंह यूथ ब्रिगेड पूर्व राष्ट्रीय सचिव नागेन्द्र सिंह यादव, वरिष्ठ नेता मनोज यादव, पूर्व जिला महासचिव राशिद अली, कमला यादव, जिला उपाध्यक्ष मान सिंह वर्मा, अनिल पासी, सुभाष यादव एडवोकेट, मीडिया प्रभारी रमेश सिंह ‘रवि’, पूर्व ब्लाक प्रमुख रामगोपाल यादव, रूप नारायण यादव, पूर्व जिला उपाध्यक्ष महताब सिंह यादव, रूद्र विनायक यादव, पूर्व सदस्य पिछड़ा वर्ग आयोग शंकर लोधी, सोनू कनौजिया, जिला सचिव राजकुमार यादव, मो0 अकरम ‘बब्लू’, मो0 इब्राहीम, पंकज रावत, मनोज यादव, रामलखन यादव, हरिशकर यादव, जिलाजीत पाल, पन्ना लाल रावत, सुहागवती, अर्जुनी गोसाईं, रियाज अहमद, आदिल इदरीष, रामकिशोर यादव ‘जग्गी’, पूर्व जिला पंचायत सदस्य मोहन यादव, चिकित्सा प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष डाॅ0 मोहनलाल पासी, महिला सभा जिलाध्यक्ष प्रेमलता यादव, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष शशिलेन्द्र यादव, छात्र सभा जिलाध्यक्ष महेन्द्र यादव, मजदूर सभा जिलाध्यक्ष रामबाबू चैरसिया, सांस्कृति प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष राजकुमार यादव ‘गुड्डू’, अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष सुरेश रावत, सरोजनी नगर विधानसभा अध्यक्ष चन्द्रशेखर यादव, मलिहाबाद विधानसभा महासचिव मोईन खान, शिवम यादव ‘गोलू’, विपुल मित्र यादव, सुनीता कश्यप, ममता रावत, चाॅदनी चौरसिया, अनीता रावत उपस्थित रहीं। साथ ही महिला सभा के संगठन को और अधिक मजबूत बनाने के लिए सरोजनी अम्बेडकर, सुप्रिया कश्यप एवं इन्द्राणी रावत को जिला सचिव मनोनीत किया गया।

पूर्व मुख्यमंत्री सपा प्रमुख अखिलेश यादव का जगह जगह जोरदार भव्य स्वागत

पूर्व मुख्यमंत्री सपा प्रमुख अखिलेश यादव का जगह जगह जोरदार भव्य स्वागत

मलिहाबाद चौराहा पर व्यापार सभा के प्रदेश सचिव सोनू कनौजिया ने अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ किया पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का भव्य जोरदार स्वागत

लखनऊ (पंचदेव यादव)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बुधवार को हरदोई जिले में थे। वो समाजवादी पार्टी से एमएलसी राजपाल कश्यप के पिता की तेहरवीं संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे। वहीं, लखनऊ लौटते वक्त समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र के रहिमाबाद चौराहा पर पवन यादव ने अपने दर्जनों कार्यकर्ताओं के साथ सपा प्रमुख अखिलेश यादव को राधा कृष्ण का स्मृति चिन्ह भेंट कर स्वागत किया।
मलिहाबाद चौराहा पर व्यापार सभा के प्रदेश सचिव सोनू कनौजिया ने अपने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का भव्य जोरदार स्वागत किया।

काकोरी चौराहे भी सपा कार्यकर्ताओं ने अपने नेता का काफिला रोककर जोर-शोर से स्वागत किया। इस दौरान समाजवादियों में जबरदस्त उत्साह देखा गया।

स्वागत के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर कई मुद्दों को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि योगीराज में महंगाई से आम जनता पूरी तरह त्रस्त है। जनता अब योगी सरकार से परेशान हो चुकी है। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर भी चिंता जाहिर की। उन्होंने बताया कि तीसरी लहर को लेकर भी सरकार पूरी तरह लापरवाह बनी हुई है। इसे रोकने के लिए सरकार ने कोई खास तैयारियां नहीं की है।

स्वागत कार्यक्रम में पूर्व प्रधान संतोष यादव जालामऊ, अवधेश मवाई कला, पवन यादव रहीमाबाद, अभिषेक यादव रहीमाबाद, विजय सिंह मवाई कला, संदीप यादव प्रधान, प्रधान तरौना प्रभु दयाल प्रजापति मौजूद रहे।

विकास के मामले में पिछड़ा रहा फाफामऊ: महावीर यादव

प्रयागराज को स्मार्ट सिटी का छलावा। सपा नेता महावीर यादव ने लगाया आरोप फाफामऊ विकास के मामले में पिछड़ रहा।

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 नजदीक आते ही राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ती ही जा रही है। आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है। प्रयागराज में कुल 12 विधानसभाएं है। अब तमाम राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है, वहीं फाफामऊ विधानसभा के समाजवादी पार्टी के नेता महावीर यादव ने बीजेपी सरकार व वर्तमान विधायक पर बड़ा आरोप लगाया है।

केवल स्मार्ट सिटी का छलावा- महावीर यादव ने आरोप लगाया कि बीजेपी सरकार ने स्मार्ट सिटी का छलावा दे कर केवल जनता के करोड़ों रुपए का बंदरबाट किया है। वहीं अगर विकास व काम की तुलना किया जाए तो सरकार व प्रशासन ने फाफामऊ को खूब उपेक्षित किया है।
वर्तमान बीजेपी विधायक ने कोरोना महामारी में कितनी बार अपने जिम्मेदारी अदा की? फाफामऊ में एक रोजगार के लिए न तो एक भी फैक्ट्री है और ना ही उचित स्वास्थ्य व्यवस्था के संसाधन हैं।
बीजेपी सरकार ने एक भी नए सीएचसी, पीएचसी व स्कूल नहीं खुलवाए हैं। सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य का निजीकरण कर आम जनता को लूटना और बर्बाद करना चाहती है। बीजेपी बताए पिछले 7 साल में 70 साल के देश की संपति को केवल बेचा है।

बुधेश्वर विकास महासभा ने किया कोविड योद्धाओं का सम्मान

बुधेश्वर विकास महासभा उत्तर प्रदेश द्वारा किया गया सम्मान समारोह का आयोजनमुख्य अतिथि रहीं सपा संरक्षक पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की बहू श्रीमती अपर्णा। विशिष्ट अतिथि महंत श्री गोविंद आचार्य प्रवासी नैमिष धाम सीतापुर की गौरवशाली उपस्थिति।

लखनऊ। बुद्धेश्वर विकास महासभा द्वारा सम्मान समारोह श्री बुद्धेश्वर महादेव मंदिर प्रांगण में आयोजित किया गया। इस अवसर पर कोरोना काल खंड के दौरान सावन माह में बुद्धेश्वर धाम पधारे श्रद्धालुओं को दर्शन पूजन में कोविड-19 का पालन करते हुए समुचित व्यवस्थाओं को संचालित करने वाले शासन प्रशासन एवं संस्था से जुड़े समाज सेवियों, पदाधिकारियों, सेवादारों एवं मीडिया बंधुओं को सम्मानित कर उत्साहवर्धन किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में लखनऊ कैन्ट विधानसभा से समाजवादी पार्टी की पूर्व प्रत्याशी एवं सपा संरक्षक पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की बहू समाजसेवी श्रीमती अपर्णा यादव बिष्ट एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में महंत श्री गोविंद आचार्य जी प्रवासी नैमिष धाम सीतापुर की गौरवशाली उपस्थिति रही।