कोरोना का नया स्ट्रेन: 20 और नए मामले मिले, संक्रमितों की संख्या पहुंची 58

कोरोना के नए स्ट्रेन के 20 नए मामले, संक्रमितों की संख्या हुई 58
नई दिल्ली (धारा न्यूज): देश में ब्रिटेन से लौटे 20 और लोग कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से संक्रमित पाए गए हैं। इस वायरस से पॉजिटिव मरीजों की संख्या 58 पहुंच गई है। ये सभी 20 नए मामले पुणे की लैब में मिले हैं। वर्तमान में भारत में कोरोना की स्थिति कंट्रोल में है, परंतु नए स्ट्रेन को 70 फीसदी ज्यादा घातक और संक्रामक बताया जा रहा है। इस बीच कई विशेषज्ञों ने भरोसा जताया है कि कोरोना की वैक्सीन इस नए वायरस पर भी असरदार साबित होगी।

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन का पता सबसे पहले ब्रिटेन में लगा था, अब यह कई देशों में फैल चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार ब्रिटेन के नए प्रकार के जीनोम के साथ अब तक देश में कुल 58 नमूनों में इसकी पुष्टि हुई है। सरकार के अनुसार संक्रमित लोगों के साथ यात्रा करने वालों और उनके परिवार के सदस्यों के साथ-साथ अन्य संपर्कों का पता लगाने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान चलाया जा रहा है ताकि इसके संक्रमण को रोका जा सके। नए वायरस से डेनमार्क, जापान, स्वीट्जरलैंड, जर्मनी, स्पेन, नीदरलैंड, आस्ट्रेलिया, इटली, स्वीडन, फ्रांस, कनाडा, लेबनान, सिंगापुर में कई लोग संक्रमित हो चुके हैं।

कोरोना: 10 दिन में शुरू हो सकता है टीकाकरण

10 दिन में शुरू हो सकता है टीकाकरण

नई दिल्ली (धारा न्यूज): केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा कि कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिलने के 10 दिन बाद रोलआउट हो सकती है। कोरोना वैक्सीन को DCGI ने 3 जनवरी को मंजूरी दी थी। इस लिहाज से 13 या 14 जनवरी से देश में कोरोना वैक्सीनेशन कार्यक्रम शुरू हो सकती है। आज प्रेस कॉन्फ्रेंस के दाैरान केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि सरकार 10 दिन के अंदर कोरोना वैक्सीन को रोलआउट करने को तैयार है। राजेश भूषण ने कहा, “चूंकि अब कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है, अब 10 दिन के अंदर टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हो जाएगा।”

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार ने किसी भी तरीके से किसी भी वैक्सीन के एक्सपोर्ट को बैन नहीं किया है। कोविशील्ड ओर कोवैक्सीन को 2-8 डिग्री तापमान पर रखे जाने की जरूरत है। कैडिला की वैक्सीन DNA आधारित वैक्सीन है। परीक्षण के दौरान देखा गया कि अच्छी एंटीबॉडी बनी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि Co-WIN सिस्टम भारत में बना है, लेकिन दुनिया के देशों की जरूरतों के हिसाब से इसे तैयार किया गया है। अन्य देश अगर इसे उपयोग करेंगे तो उनकी मदद की जाएगी। कोरोना वैक्सीन की जानकारी देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि करनाल, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में स्थित GMSD नामक 4 प्राथमिक वैक्सीन स्टोर बनाए गए हैं और देश में ऐसे 37 वैक्सीन स्टोर हैं। वे टीकों को थोक में इकठ्ठा करेंगे और फिर आगे वितरित किए जाएंगे।


ब्रिटेन में पाए गए कोरोना वायरस के नए स्वरूप पर अपडेट

ब्रिटेन में पाए गए कोरोना वायरस के नए स्वरूप पर अपडेट

संक्रमित लोगों की कुल संख्या अब तक 38 हो चुकी है

नई दिल्ली। Ministry of Health and Family Welfare के अनुसार ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्वरूप (जीनोम) के कुल 38 नमूने सकारात्मक पाए गए हैं। बेंगलुरु के निमहंस (एनआईएमएचएएनएस) में 10, हैदराबाद के सीसीएमबी में 3, पुणे के एनआईवी में 5, राजधानी दिल्ली के आईजीआईबी में 11, नई दिल्ली के एनसीडीसी में 8 और कोलकाता के एनसीबीजी में एक संक्रमित व्यक्ति की पुष्टि हुई है। एनसीबीएस, इंस्टेम (आईएनएसटीईएम) बेंगलुरु, सीडीएफ़डी हैदराबाद, आईएलएस भुवनेश्वर और एनसीसीएस पुणे में अब तक ब्रिटेन से निकले कोरोना वायरस के नए स्वरूप का कोई मामला नहीं पाया गया है।

संख्या

संस्थान / लैब के अंतर्गत
नए कोविड स्वरुप के संक्रमितों का पता चला


1

एनसीडीसी नई दिल्ली

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय

8



2

आईजीआईबी नई दिल्ली

सीएसआईआर

11



3

एनसीबीजी कल्याणी (कोलकाता)

डीबीटी

1



4

एनआईवी पुणे

आईसीएमआर

5



5

सीसीएमबी हैदराबाद

सीएसआईआर

3



6

निमहंस बेंगलुरु

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय

10



कुल

38


जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए पॉजिटिव नमूनों की जांच 10 इंसाकॉग (भारतीय सार्स सीओवी-2 जिनोमिक्स कंसोर्टीयम) प्रयोगशालाओं में की जा रही है। जिनमें (एनआईबीएमजी) कोलकाता, आईएलएस भुवनेश्वर, एनआईवी पुणे, एनसीसीएस पुणे, सीसीएमबी हैदराबाद, सीडीएफ़डी हैदराबाद, इंस्टेम (आईएनएसटीईएम) बेंगलुरु, निमहंस बेंगलुरु, आईजीआईबी दिल्ली और एनसीडीसी दिल्ली शामिल हैं।

इन सभी नये संक्रमित व्यक्तियों को संबंधित राज्य सरकारों द्वारा नामित स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं के अनुसार एकल कमरे के आइसोलेशन में रखा जा रहा है। साथ ही उनके संपर्क में आए हुए लोगों को भी संगरोध के तहत रखा गया है। सह-यात्रियों, पारिवारिक संपर्कों तथा अन्य व्यक्तियों से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए व्यापक संपर्क पहचान कार्य शुरू कर दिया गया है। अन्य नमूनों पर भी जीनोम सिक्वेंसिंग का कार्य चल रहा है।

स्थिति पर सावधानीपूर्वक नज़र रखी जा रही है और निगरानी बढ़ाने, नियंत्रण, जांच तथा नमूनों को इंसाकॉग प्रयोगशालाओं को प्रेषण के लिए राज्यों को नियमित सलाह प्रदान की जा रही है।

***.***

मेरठ में चार और लोगों में मिला कोरोना का नया स्ट्रेन

मेरठ में चार और लोगों में मिला कोरोना का नया स्ट्रेन
देश में संक्रमित होने वाले मामलों की संख्या हुई 42

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में चार और लोगों में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला है। इसी के साथ देश में नए स्ट्रेन से संक्रमित होने वाले मामलों की संख्या 42 पर पहुंच गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी। मेरठ जनपद के संत विहार मोहल्ले की रहने वाली ढाई साल की बच्ची के माता-पिता और बलवंत नगर में रहने वाले बच्ची के फूफा व 15 वर्षीय रिश्तेदार को पुष्टि हुई है।

Meerut में अभी तक पांच लोगों में कोरोना के नए वायरस की पुष्टि हो चुकी है। इससे पहले संत विहार कॉलोनी निवासी ढाई साल की बच्ची में कोरोना के नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई थी। इस बच्ची के माता-पिता 14 दिसंबर की रात को दिल्ली से लौटे थे। सभी का टेस्ट कराया गया था। पांचों लोग एक ही परिवार के हैं। अब तक 13 सैंपल केंद्रीय लैब भेजे गए थे, जिनमें 12 की रिपोर्ट आ गई है। सात की रिपोर्ट निगेटिव है और पांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बच्ची की बुआ की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। सीएमओ डॉ. अखिलेश मोहन ने इसकी पुष्टि की है।

मेरठ में कोरोना का दूसरा स्ट्रेन मिलने से हड़कंप मचा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने संत विहार और लल्लापुरा में 122 लोगों की एंटीजन जांच की। हालांकि इन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कोरोना पॉजिटिव दंपती और बच्ची के संपर्क वाले उनके परिजनों समेत नजदीक के छह लोग हैं, जिनकी जिनोम सीक्वेंसिंग के लिए सैंपल दिल्ली भेजे गए थे।
यह दंपती ब्रिटेन में दो बच्चों के साथ रहता है। यहां अपने परिवार से मिलने 14 दिसंबर की रात आया था। पिछले दिनों में ब्रिटेन से मेरठ लौटे 88 लोग स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में हैं। इनमें से चार लोग कोरोना पॉजिटिव आए थे।

उधर, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि ब्रिटेन से लौटे आठ यात्रियों में कोरोना का नया स्ट्रेन पाया गया है। इनमें से पांच मुंबई और एक-एक पुणे, ठाणे और मीरा भायंदर के हैं। इनसे संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि नए स्ट्रेन से संक्रमित इन 42 मामलों में से आठ नमूनों की पहचान नई दिल्ली स्थित नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल में, 11 की पहचान दिल्ली के जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी में और एक की पहचान कोलकाता के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स में हुई। इसके अलावा पांच नमूनों की पहचान पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) में, तीन की हैदराबाद के सेलुलर एंड मॉलीक्यूलर बायोलॉजी में और 10 नमूनों की पहचान बंगलूरू स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज हॉस्पिटल (एनआईएमएचएएनएस) में हुई।

स्वदेशी टीके पर छिड़ा ट्विटर युद्ध

लखनऊ (धारा न्यूज़): कोरोना संक्रमण से बचाव को देश में तैयार टीके को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बयान पर सियासी ट्विटर युद्ध छिड़ गया है।

मायावती का रुख सकारात्मक

बहुजन समाज पार्टी की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री मायावती ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के टीके को लेकर रविवार को सकारात्‍मक प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की। मायावती ने ट्वीट कर संक्रमण से बचाव के लिए स्‍वदेशी टीके का स्‍वागत किया और इसके लिए वैज्ञानिकों को बधाई दी। मायावती ने साथ ही केंद्र सरकार से देश में सभी स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के साथ-साथ समाज के अति गरीब लोगों के लिए भी इस टीके की निशुल्क व्‍यवस्‍था करने का भी अनुरोध किया।

गर्व का विषय: स्‍वतंत्र देव सिंह

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह ने रविवार को ट्वीट किया ,‘‘ यह गर्व की बात है कि जिन दो वैक्‍सीन के इमरजेंसी इस्‍तेमाल को मंजूरी दी गई है, वे दोनों मेड इन इंडिया हैं। यह आत्‍मनिर्भर भारत के सपने को पूरा करने के लिए हमारे वैज्ञानिक समुदाय की इच्‍छा शक्ति को दर्शाता है।’’

टीकाकरण को इवेंट न समझे BJP: अखिलेश

समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष एवं पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने सुबह ट्वीट किया, ‘‘कोरोना का टीकाकरण एक संवेदनशील प्रक्रिया है इसीलिए भाजपा सरकार इसे कोई सजावटी-दिखावटी इवेंट न समझे और पुख्‍ता इंतज़ामों के बाद ही इसे शुरू करे। ये लोगों के जीवन से जुड़ा विषय है अत: इसमें बाद में सुधार का खतरा नहीं उठाया जा सकता है। गरीबों के टीकाकरण की निश्चित तारीख घोषित हो।’’ इस पर भारतीय जनता पार्टी ने अपनी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की है। भाजपा के प्रदेश उपाध्‍यक्ष व विधान परिषद सदस्‍य विजय बहादुर पाठक ने अखिलेश यादव के ट्वीट को टैग करते हुए कहा,‘‘ बंद कमरे में सियासत करने से बातें देर से समझ आ रही, थोड़ा बाहर निकलें, जनता के बीच जाएं।’’ पाठक ने कहा ,‘‘ वैक्‍सीन का विषय लोगों के जीवन का विषय है, पार्टी का नहीं। इसे पार्टियों के खांचे में न बांट, स्‍वागत करें।’’ इसके पहले अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा था,‘‘ हम भाजपा की राजनीतिक वैक्‍सीन नहीं लगवाएंगे।’’

देश के चिकित्सकों, वैज्ञानिकों का अपमान-केशव प्रसाद मौर्य

अखिलेश यादव ने शनिवार को कोरोना वायरस के टीके को लेकर नई बहस शुरू कर दी जिसके जवाब में भाजपा संगठन और सरकार ने तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए अखिलेश के बयान को देश के वैज्ञानिकों और डॉक्टरों का अपमान बताया। शनिवार को यादव ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था, ‘‘मैं तो नहीं लगवाऊंगा अभी टीका, मैंने अपनी बात कह दी। वह भी भाजपा लगायेगी, उसका भरोसा करूं मैं। अरे जाओ भई, अपनी सरकार आयेगी तो सबको फ्री वैक्सीन लगेगी। हम भाजपा का टीका नहीं लगवा सकते।’’ इसके बाद अखिलेश यादव के बयान पर पलटवार करते हुये प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अखिलेश यादव को टीके पर भरोसा नहीं है और यह देश के चिकित्सकों और वैज्ञानिकों का अपमान है। उन्होंने कहा, ‘‘अखिलेश यादव जी को टीके पर भरोसा नहीं है और उत्तर प्रदेश वासियों को उन पर (अखिलेश यादव) पर भरोसा नहीं है। उनका टीके पर सवाल उठाना, हमारे देश के चिकित्सकों एवं वैज्ञानिकों का अपमान है जिसके लिए उन्हें माफी माननी चाहिए।

₹1000 में खरीदिए सीरम की कोरोना वैक्सीन

Serum Institute ने किया कोरोना वैक्सीन की कीमतों का खुलासा: ₹200 चुकाने होंगे सरकार को, ₹1000 में खरीद सकती है जनता

मुंबई (धारा न्यूज): देश में दो कंपनियों को कोरोना वायरस वैक्‍सीन के इमरजेंसी यूज की ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से अनुमति मिलने के बाद कोविशील्‍ड बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कीमतों का खुलासा कर दिया है। सरकार को ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन 200 रुपए में दी जाएगी, जबकि जनता को इस वैक्सीन के लिए ₹1 हजार चुकाने होंगे। विदित हो कि पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट में ऑक्सफोर्ट-एस्ट्राजैनेका की वैक्सीन कोविशील्ड का निर्माण हो रहा है।

सीईओ अदार पूनावाला ने कि वैक्सीन के लिए दो अलग-अलग कीमतें तय की गई हैं। यह वैक्सीन फाइजर-बायोएनटेक के मुकाबले सस्ती है, इसका ट्रांसपोर्टेशन भी आसान है। उनकी कंपनी हर महीने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजैनेका की वैक्सीन के 50-60 मिलियन डोज बना रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 2021 के मध्य तक देश में 130 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा है। हम सरकार के लिए वैक्सीन उपलब्ध करवाने को तैयार हैं। हमने सरकार को अपना प्रस्ताव भेज दिया है, अब सरकार के साथ कांट्रेक्ट साइन होने का इंतजार है। कांट्रेक्ट होने के 10 दिन के अंदर सरकार को वैक्सीन उपलब्ध कर दिया जाएगा।

उन्होंने यह भी कहा, सरकार ने अभी तक हमें वैक्सीन निर्यात करने की अनुमति नहीं दी है। जबकि, सऊदी अरब और दूसरे कुछ देशों से हमारे द्विपक्षीय संबंध हैं। हमने इस संबंध में सरकार से अनुमति मांगी है। यह मंजूरी मिलने के बाद हम दुनिया के 50 से ज्यादा देशों तक अपनी दवा पहुंचा पाएंगे।

देश में एक करोड़ लोगों को पहली डोज:
ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने रविवार को कोविशील्ड को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। इसी के साथ देश में टीकाकरण के लिए भी ड्राई रन हो रहे हैं। हेल्‍थ सेक्‍टर से जुड़े 1 करोड़ लोगों को भारत में कोरोना वैक्‍सीन की पहली डोज मिलेगी। इनमें आईसीडीएस वर्कर्स, नर्स, सुपरवाइजर, मेडिकल अफसर, पैरामेडिकल स्‍टाफ, सपोर्ट स्‍टाफ और मेडिकल छात्र शामिल हैं।

——

कोरोना मरीजों के ठीक होने के मामले में 96 % की दर हुई पार

दुनियाभर में किसी देश द्वारा हासिल सबसे अधिक दर में से एक
-सक्रिय मामलों की संख्‍या और अधिक घटकर 2.57 लाख पर आई
-ठीक हुए कुल मामले सक्रिय मामलों की तुलना में 96 लाख से अधिक
-ब्रिटेन के म्यूटेंट वायरस के कुल 25 मामलों का पता चला

नई दिल्ली। भारत ने कोविड के खिलाफ अपनी जंग में एक और महत्‍वपूर्ण उपलब्धि हासिल कर ली है।
Ministry of Health and Family Welfare के अनुसार मरीजों के ठीक होने की दर आज राष्‍ट्रीय स्‍तर पर 96 प्रतिशत (96.04 प्रतिशत) को पार कर गई, जोकि विश्‍व में किसी भी देश द्वारा प्राप्‍त सबसे अधिक रिकवरी दर में से एक है। मरीजों के ठीक होने की संख्‍या में वृद्धि होने के चलते रिकवरी दर में सुधार हुआ है।
इसी प्रकार ठीक हुए कुल मामलों की संख्‍या 98.6 लाख (98,60,280) को पार कर गई है, जोकि विश्‍व में सर्वाधिक है। सक्रिय मामलों और ठीक हो रहे मरीजों के मामलों में अंतर बढ़ता जा रहा है और यह 96,02,624 पर आ गया है। एक अन्‍य उपलब्धि यह है कि सक्रिय मामलों की संख्‍या में बहुत ज्‍यादा गिरावट आई है और वह घटकर 2.57 लाख हो गई है। देश में कुल पॉजिटिव मामले 2,57,656 हैं, जोकि कुल मामलों का सिर्फ 2.51 प्रतिशत हैं।।बड़ी संख्‍या में कोविड मरीजों के प्रतिदिन ठीक होने के कारण मृत्‍युदर में भी पर्याप्‍त गिरावट आ रही है और भारत में सक्रिय मामलों के दर्ज होने का रूख गिरावट की ओर है। पिछले 24 घंटों में देशभर में 21,822 नए पुष्‍ट मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 26,139 ठीक हुए  नए मामले दर्ज हुए हैं। इस तरह सक्रिय मामलों की संख्‍या में 4,616 की कुल गिरावट दर्ज की गई है।

नए ठीक हुए मरीजों के 77.99 प्रतिशत मामले 10 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में पाए गए हैं।
-केरल ने जहां एक दिन में ठीक हुए सर्वाधिक 5,707 मामले दर्ज किए हैं, वहीं महाराष्‍ट्र ने 4,913 और छत्‍तीसगढ़ ने 1,588 मामले दर्ज किए हैं।
नए मामलों में से 79.87 प्रतिशत मामले 10 राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों में दर्ज किए गए हैं।
-केरल में सबसे अधिक 6,268 नए मामले प्रतिदिन दर्ज किए गए हैं। इसके बाद महाराष्‍ट्र का नंबर है, जहां प्रतिदिन 3,537 नए मामले दर्ज हुए हैं।

24 घंटों में 299 मामलों में मौतें दर्ज हुई हैं।
इनमें से 80.60 प्रतिशत मौतें 10 राज्‍यों/केन्‍द्र शासित प्रदेशों में हुई हैं।
-महाराष्‍ट्र में एक दिन में सबसे ज्‍यादा 90 मामलों में मौतें दर्ज की गई हैं। केरल और पश्चिम बंगाल दोनों जगह एक दिन में 28 मौतें दर्ज की गई हैं। 

10 सरकारी प्रयोगशालाओं के संघ-आईएनएसएसीओसी ने अभी तक जीनोम अनुक्रमण के बाद ब्रिटेन से आए नए म्‍यूटेंट वायरस के कुल 25 मामलों का पता लगाया है। चार नए मामलों का पता पुणे स्थिति एनआईवी ने लगाया है और एक नये मामले का अनुक्रमण दिल्‍ली स्थित आईजीआईबी ने किया है। सभी 25 लोगों को स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल केन्‍द्रों में एकांत (आइसोलेशन) में रखा गया है।

****

Covid-19 चार राज्यों में सफल टीकाकरण को पूर्वाभ्‍यास (ड्राई रन)

Covid-19
चार राज्यों में सफलतापूर्वक टीकाकरण के लिए पूर्वाभ्‍यास (ड्राई रन)

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने चार राज्यों – असम, आंध्र प्रदेश, पंजाब और गुजरात में कोविड-19 टीकाकरण संबंधित गतिविधियों के लिए 28 और 29 दिसंबर, 2020 को दो दिवसीय पूर्वाभ्‍यास (ड्राई रन) का आयोजन किया गया।
इस पूर्वाभ्यास क्रिया का उद्देश्य एक सिरे से दूसरे सिरे तक कोविड-19 टीकाकरण प्रक्रिया का परीक्षण करना है। इसमें परिचालन दिशा-निर्देशों के अनुसार योजना बनाना और तैयारियां करना, सीओ-विन एप्लिकेशन पर सुविधाओं और उपयोगकर्ताओं का सृजन, सत्र स्‍थल का निर्माण और स्‍थलों की मैपिंग, स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल कार्यकर्ताओं (एचसीडब्लू) का डेटा अपलोड करना, जिले में वैक्‍सीन की प्राप्ति और आवंटन, सत्र की योजना बनाना, टीकाकरण टीम की तैनाती, सत्र स्थल पर लॉजिस्टिक प्रबंधन और ब्लॉक, जिला और राज्य स्तर पर टीकाकरण आयोजित करने के लिए मॉक ड्रिल और समीक्षा बैठकों का आयोजन करना शामिल हैं। इस पूर्वाभ्‍यास का उद्देश्य आईटी प्लेटफॉर्म को-विन के क्षेत्र में कार्यान्वयन और वास्‍तविक कार्यान्वयन से पूर्व आगे बढ़ने के तरीकों के बारे में मार्गदर्शन करना शामिल है।

जिला कलेक्टर को जिला और ब्लॉक कार्य बल को शामिल करके पूर्वाभ्‍यास के लिए जिम्‍मेदार बनाया गया था और उनसे टीकाकरण के वास्तविक आयोजन के दौरान किसी भी कमी या परेशानी में मार्गदर्शन उपलब्‍ध कराने की उम्मीद की गई थी।

दो दिवसीय पूर्वाभ्‍यास आंध्र प्रदेश के कृष्‍णा जिले में, गुजरात के राजकोट और गांधीनगर में, पंजाब में लुधियाना और शहीद भगत सिंह नगर (नवांशहर) में तथा असम के सोनितपुर और नलबाड़ी जिलों में आयोजित किया गया था।

जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न कार्यों और डमी लाभार्थी का डेटा अपलोड करने, सत्र निर्माण, टीका आवंटन, टीका लगाने वाले और लाभार्थियों को टीकाकरण के बारे में जानकारी देना, लाभार्थी जुटाने जैसी गतिविधियों के लिए विशेष टीमों का गठन किया गया था।

संयुक्त सचिव (सार्वजनिक स्वास्थ्य) ने पूर्वाभ्‍यास के पहले दिन 29 दिसंबर, 2020 को राज्य और जिला कार्यक्रम अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से क्षेत्र से प्राप्‍त फीडबैक की समीक्षा की। सभी राज्यों ने देशभर में बड़ी संख्या में लोगों का टीकाकरण करने के लिए आवश्‍यक टीकाकरण प्रक्रियाओं की पारदर्शिता और प्रभावी निगरानी सुनिश्चित करने के लिए परिचालन पहुंच और आईटी प्लेटफॉर्म के उपयोग के बारे में संतोष व्यक्त किया। आईटी प्‍लेटफॉर्म के बारे में प्राप्‍त अतिरिक्त सुझावों को को-विन प्लेटफॉर्म को और आगे बढ़ाने के लिए नोट किया गया।

प्राप्त हुई व्‍यापक जानकारी और प्रतिक्रिया से परिचालन दिशा-निर्देशों और आईटी प्लेटफॉर्म को समृद्ध बनाने में मदद मिलेगी तथा कोविड -19 टीकाकरण शुरू करने की योजना को मजबूती मिलेगी।

***

बिहार को कल मिलेगा “डिजिटल इंडिया अवॉर्ड 2020”

बिहार को कल मिलेगा “डिजिटल इंडिया अवॉर्ड 2020”
कोरोना काल में बेहतर कामकाज पर राष्ट्रपति देंगे सम्मान

पटना (धारा न्यूज): कोरोना काल में सरकार द्वारा बिहार के लोगों को समय से राहत पहुंचाने के लिए बेहतरीन प्रयासों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 दिसंबर को डिजिटल इंडिया अवॉर्ड 2020 सम्मान से बिहार को सम्मानित करेंगे।
भारत सरकार ने कोविड-19 के दौरान नागरिकों को विभिन्न प्रकार की सहायता उपलब्ध कराने के लिए की गई बिहार की अभिनव पहल को सराहा है।

बिहार मुख्यमंत्री सचिवालय, आपदा प्रबंधन विभाग और राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) को कोरोना काल में उनके द्वारा किए गए बेहतरीन कार्यो के लिए महामारी श्रेणी में विजेता चुना गया है। डिजिटल इंडिया अवॉर्ड भारत सरकार द्वारा नागरिकों को अनुकरणीय डिजिटल उत्पाद और सेवाओं के लिए दिया जाने वाला एक राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार है। इसके लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकारों के विभिन्न विभागों से 6 श्रेणियों में 190 प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं।
मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव रामचंद्र डू और एनआईसी के शैलेश कुमार और नीरज कुमार को डिजिटल इंडिया अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा।

21 लाख से अधिक लोगों को पहुंचाई वित्तीय सहायता

बिहार से बाहर फंसे श्रमिकों को बिहार कोरोना सहायता मोबाइल एप्प के माध्यम से 21 लाख से अधिक लोगों को वित्तीय सहायता पहुंचाई गई। इसके अलावा 1.64 करोड़ राशन कॉर्ड रखने वाले परिवारों को तीन महीने का अग्रिम राशन दिया गया और 1000 रुपये की वित्तीय सहायता भी दी गई। इसके अलावा भी कई और कार्य किए।

—-

क्रिमसम और न्यू ईयर की पार्टी पर बैन

DM देहरादून डॉ आशीष कुमार श्रीवास्तव का आदेश

क्रिमसम और न्यू ईयर की पार्टी पर बैन
देहरादून। कोरोना ने इस पूर साल कई बड़े आयोजनों को रद्द करवा दिया। लोगों को उम्मीद थी कि नया साल आते-आते कोरोना से कुछ राहत मिलेगी, लेकिन कोरोना से राहत मिलने के बजाय और मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। लोग इस बार कोरोना के कारण क्रिसमस और नये साल का जश्न भी नहीं मना पाएंगे। देहरादून डीएम डॉ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश में कहा गया कि क्रिमसम और न्यू ईयर की पार्टी होटल, रेस्टोरेंट और सार्वजनिक स्थानों पर बैन रहेगी। आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ आपदा एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में संबंधित विभाग के अधिकारियों को कड़ाई से निर्देशित कर दिया गया है।
——

कोरोना योद्धा: महिला पुलिस अधिकारियों, चिकित्सकों का सम्मान

महिला पुलिस अधिकारियों, चिकित्सकों का कोरोना योद्धाओं के रूप में सम्मान

सेवा भारती मातृ मंडल ने किया कोरोना योद्धाओं का सम्मान

जब हम घरों में थे, तो कोरोना से दो-दो हाथ कर रहे थे डॉक्टर और पुलिस: शोभा

बिजनौर। सेवा भारती मातृ मंडल की ओर से
महिला पुलिस अधिकारियों व महिला चिकित्सकों को कोरोना योद्धाओं के रूप में सम्मानित किया गया।
आवास विकास कॉलोनी में मंगलवार को सेवा भारती मातृ मंडल की ओर से कोरोना योद्धा सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया।

कार्यक्रम संयोजक एवं संगठन जिला अध्यक्ष शोभा शर्मा ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि कोरोना काल में जब हम अपने घरों में थे उस समय डॉक्टर और पुलिस कोरोना से दो-दो हाथ कर रहे थे। इस महामारी से बिना डरे और अपने घर परिवार की चिंता छोड़ कर ये कोरोना योद्धा केवल और केवल हम लोगों की रक्षा कर रहे थे। अगर चिकित्सक या पुलिस अपने कार्य से थोड़ा भी पीछे हटते तो शायद हम लोग इतना सुरक्षित नहीं रह पाते। समारोह की मुख्य अतिथि महिला थाना प्रभारी गुड्डी गंगवार ने कहा कि उनका प्रयास है कि समाज के मन में पुलिस के प्रति नकारात्मकता दूर हो सके। समाज के लोग पुलिस को अपने बीच का हिस्सा माने और सहयोग करें। पुलिस को भी समाज से जुड़ना अच्छा लगता है, इसलिए पुलिसकर्मी दिन-रात, सर्दी-गर्मी, सुख-दुख सब कुछ नजरअंदाज कर अपने फर्ज को अंजाम देने में लगे रहते हैं। विशिष्ट अतिथि एंटी रोमियो स्क्वायड की जिला प्रभारी नीलम सिंह ने कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के प्रयास करने चाहिए। अगर कुछ गलत होता है तो उसका बिना डरे बहादुरी के साथ सामना करे। उन्होंने महिला हेल्पलाइन नंबरों के बारे में भी विस्तार पूर्वक जानकारी दी। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ अनुभव विश्नोई ने कहा कि चिकित्सा कार्य की व्यवस्था के कारण डॉक्टरों के पास समय का अभाव रहता है, लेकिन ऐसे मंचों के माध्यम से उन्हें समाज से जुड़ने का मौका मिलता है। वरिष्ठ लेखिका सुमन चौधरी ने महिलाओं को समाज में पहचान बनाने के लिए प्रेरित किया, वहीं कई ऐसे मुद्दों पर चर्चा कि जो महिला जगत में बेहद जरुरी है। डॉ आभा आत्रेय ने कहा कि महिलाओं को समाज की मुख्यधारा से जोड़ना चाहिए। कुंदन हॉस्पिटल की संचालिका डॉ रेनू सिंह ने कहा कि महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहें, जिस तरह महिला अपने घर को संभालती है, उस तरह समाज को भी संभालने के लिए आगे बढ़े। चाहे कोई सा भी क्षेत्र हो, महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी काबिलियत के बल पर एक मुकाम हासिल कर रही है। एंटी रोमियो स्क्वायड की सदर प्रभारी आशा तोमर ने कहा कि किसी भी अपराध को सहना उस समस्या का हल नहीं है बल्कि अपराध का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सही मार्ग अपनाना महिलाओं की नैतिक जिम्मेदारी भी है। महिलाएं अपने प्रति घटित होने वाले अपराधों के विरुद्ध आवाज उठा कर अपराधियों को सजा दिलाएं।
समारोह में मातृ मंडल सेवा भारती की जिला अध्यक्ष शोभा शर्मा के नेतृत्व में संगठन के पदाधिकारियों ने उपस्थित महिला पुलिस अधिकारियों व महिला चिकित्सकों को कोरोना योद्धाओं के रूप में सम्मानित किया। इस मौके पर जिला उपाध्यक्ष सरस्वती जोशी, जिला मंत्री मंगेश शर्मा, जिला कोषाध्यक्ष प्रेमा श्रीवास्तव, नगर अध्यक्ष भारती सिंह, ममता शर्मा, नगर उपाध्यक्ष ममता वर्मा, नगर मंत्री शशि शर्मा, मीनाक्षी गुप्ता, संगीता अग्रवाल अन्नू, शैली शर्मा, रचना शास्त्री, संजू प्रधान, उषा शर्मा, रानी शर्मा, ममता सिंह, गीता अग्रवाल, आशु वर्मा, लता, शिखा मित्तल, अनीता व लाल बहादुर शास्त्री आदि मौजूद रहे।
——

भारत में ब्रिटेन से आने वाली Flights पर 31 दिसंबर तक प्रतिबंध

भारत में 31 दिसंबर तक नहीं आ सकेंगी Britain से Flights

नई दिल्ली। भारत सरकार ने ब्रिटेन से आने वाली सभी उड़ानों पर 23 दिसंबर से 31 दिसंबर तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। ब्रिटेन में कोविड-19 के नए स्ट्रेन के सामने आने के बाद यहां एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि 31 दिसंबर की रात 11 बजकर 59 मिनट तक ब्रिटेन से या ब्रिटेन होकर आने वाली सभी उड़ानों पर प्रतिबंध रहेगा। यह प्रतिबंध 22 दिसंबर की रात 12 बजकर 01 मिनट से प्रभावी होगा। जो उड़ानें ब्रिटेन से उड़ान भर चुकी हैं या देश से रवाना हो चुके जिन भारतीय विमानों को ब्रिटेन से या वहाँ के रास्ते वापस आना है उनके लिए 22 दिसंबर की रात 11 बजकर 59 मिनट तक देश में उतरने की अनुमति होगी। इन विमानों में आने वाले सभी यात्रियों और क्रू की अनिवार्य रूप से हवाई अड्डे पर ही आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी।

सभी यात्रियों का अनिवार्य रूप से आरटी-पीसीआर टेस्ट

मंत्रालय ने ट्वीट कर बताया, सावधानी बरतते हुये 22 दिसंबर की रात 11 बजकर 59 मिनट तक ब्रिटेन से या ब्रिटेन होकर भारत पहुँचने वाली उड़ानों के सभी यात्रियों का अनिवार्य रूप से आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में कोविड-19 का नया स्ट्रेन सामने आया है जिसका संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यह पुराने स्ट्रेन से कहीं ज्यादा घातक और संक्रामक बताया जा रहा है।

——–

कोरोना: एस्वाटिनी के PM का निधन, अमेरिका में तीन लाख पहुंचा मौत का आंकड़ा

कोरोना:
एस्वाटिनी के प्रधानमंत्री एम्ब्रोस डलामिनी का निधन
अमेरिका में करीब तीन लाख लोगों की मौत
दुनिया में अब तक मर चुके हैं 716,11,344 लोग

एस्वाटिनी/न्यूयॉर्क। विश्व में कोरोना ने अपना आतंक बरकरार रखा है। लोग संक्रमित भी हो रहे हैं और मौत का शिकार भी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 11 मार्च को कोरोना वायरस को महामारी घोषित किया था। अब तक दुनिया भर में 7.21 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 16,11,344 लोगों की मौत हो चुकी हैै।

इसी बीच दक्षिण अफ्रीकी देश एस्वाटिनी के प्रधानमंत्री एम्ब्रोस डलामिनी का कोरोना संक्रमण से निधन हो गया है। वह 52 वर्ष के थे। सरकार की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गयी।

एक महीने पहले हुए थे कोरोना वायरस से संक्रमित

डलामिनी एक महीने पहले कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये थे और दक्षिण अफ्रीका के एक अस्पताल में भर्ती थे, जहां रविवार की दोपहर उन्होंने अंतिम सांसे ली। उप प्रधान मंत्री थेम्बा मसुकु ने एक बयान में कहा , “ मैं अत्यंत दुख के साथ सूचित कर रहा हूं कि हमारे प्रधानमंत्री एम्ब्रोस डलामिनी का असामयिक और दुखद निधन हो गया है।”
यह बयान एस्वाटिनी सरकार के आधिकारिक फेसबुक पेज पर भी पोस्ट किया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक एस्वाटिनी में कोरोना संक्रमण के 6768 मामले सामने आये हैं जबकि 124 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है।

अमेरिका में बढ़ रही मरने वालों की संख्या

दूसरी ओर अमेरिका में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर करीब तीन लाख पहुंच गई है। जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण से अब तक 2,99,057 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 16,225,124 लोग इस महामारी के चपेट में आ चुके हैं। ————–

कोरोना: भारत में सक्रिय मामलों की संख्या घटकर हुई 3.63 लाख

पिछले 24 घंटों के दौरान 37,528 मरीज ठीक हुए, इसी अवधि के दौरान दैनिक नये मामलों की संख्या 29,398 रही

कोरोना: भारत में कुल सक्रिय मामलों की संख्या घटकर हुईं 3.63 लाख
संक्रमण से मुक्त, होने की दर बढ़कर 94.84 प्रतिशत
पिछले 24 घंटों में 414 मरीजों की मौत दर्ज भारत ने ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की: 146 दिनों के बाद सक्रिय मामलों की संख्‍या घटकर 3.63 लाख हुई, 30,000 से कम दैनिक नये मामले दर्ज हुए

नई दिल्ली। भारत में कोरोना के कुल सक्रिय मामलों की संख्या महत्वपूर्ण रूप से घटकर आज 3.63 लाख (3,63,749) हो गई। 146 दिनों के बाद यह सबसे कम संख्या है। 18 जुलाई को कुल सक्रिय मामलों की संख्या 3,58,692 थी। देश में सक्रिय मामलों की संख्या में गिरावट का रुख जारी है। भारत में वर्तमान सक्रिय मामले देश के कुल पॉजिटिव मामलों के केवल 3.71 प्रतिशत हैं।

पिछले 24 घंटे में ठीक हुए 37,528 मरीज

पिछले 24 घंटों के दौरान 37,528 मरीज ठीक हुए हैं और उन्हें अस्प्ताल से छुट्टी दी गई है। इससे कुल सक्रिय मामलों की संख्या में 8,544 की गिरावट आई है। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 30,000 से भी कम दैनिक नये मामले सामने आए हैं। पिछले 24 घंटे में दैनिक नये मामलों की संख्या 29,398 रही है। कुल ठीक हुए मरीजों की संख्या अब लगभग 93 लाख (92,90,834) हो गई है। ठीक हुए रोगियों और सक्रिय मामलों के बीच अंतर लगातार बढ़ रहा है। आज यह बढ़कर 89 लाख से अधिक हो गया है। वर्तमान में यह संख्या 89,27,085 हो गई है।

रिकवरी दर बढ़कर हुई 94.84 प्रतिशत

नये मामलों की तुलना में नई रिकवरी अधिक होने से आज रिकवरी दर बढ़कर 94.84 प्रतिशत हो गई है। 79.90 प्रतिशत नये ठीक हुए मरीज दस राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों से हैं। कर्नाटक में एक दिन में सबसे अधिक संख्या में मरीज ठीक हुए हैं। राज्य में 5076 नये मरीज ठीक हुए हैं। महाराष्ट्र में ठीक हुए नये मरीजों की संख्या 5068 और केरल में 4847 रही है। ये आंकड़े पिछले एक सप्ताह में औसत दैनिक ठीक हुए मरीजों के मामले दर्शाते हैं। महाराष्ट्र में सबसे अधिक 6703 औसतन दैनिक मरीज ठीक हुए हैं। इसके बाद केरल और दिल्ली में क्रमश: 5173 और 4362 रोगी स्वस्थ हुए हैं।

केरल में सबसे अधिक दैनिक नये मामले दर्ज

72.39 प्रतिशत नये मामले दस राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों के हैं। केरल में सबसे अधिक दैनिक नये मामले दर्ज हुए हैं। यहां 4,470 दैनिक नये मामलों का पता चला है। इसके बाद महाराष्ट्र में 3,824 नये मामले सामने आए।

महाराष्ट्र में सबसे अधिक, 70 मरीजों की मौत

पिछले 24 घंटों में 414 मरीजों की मौत होने का पता चला है। 79.95 प्रतिशत मौत के नये मामले दस राज्यों /केन्द्रशासित प्रदेशों से हैं। महाराष्ट्र में सबसे अधिक (70) मरीजों की मौत हुई है। दिल्ली और पश्चिम बंगाल में क्रमश: 61 और 49 दैनिक मौत मामले दर्ज हुए हैं।

——-