जोर का झटका: ₹50 महंगी हो गई रसोई गैस

एक झटके में 50 रुपये महंगी हो गई रसोई गैस, पटना में 1000 रुपये से महंगा हुआ सिलेंडर

दिल्ली में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 949.50 रुपये हुई

दिल्ली में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 949.50 रुपये हुई

नई दिल्ली (एजेंसी)। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने मंगलवार को रसोई गैस सिलेंडर के दाम बढ़ा दिए. इसकी कीमत में पिछले साल अक्टूबर से कोई बदलाव नहीं हुआ था।

  • दिल्ली में 949.50 रुपये हुई रसोई गैस की कीमत
  • 6 अक्टूबर से कीमतों में नहीं हुआ था बदलाव

रसोई गैस उपभोक्ताओं को मंगलवार को बड़ा झटका लगा। इसकी वजह ये है कि ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने मंगलवार को एक झटके में 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर के दाम में 50 रुपये का इजाफा कर दिया। इसके बाद बिहार की राजधानी पटना में रसोई गैस की कीमत 1,047.50 रुपये हो गई। इसी तरह देश के अधिकतर प्रमुख शहरों में एलपीजी सिलेंडर की कीमत 1,000 रुपये के करीब पहुंच गई है।

दिल्ली, मुबंई में एलपीजी सिलेंडर के दाम

देश में 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर के दाम में 6 अक्टूबर, 2021 के बाद से कोई बदलाव नहीं हुआ था, लेकिन अब रेट अचानक से 50 रुपये बढ़ गए हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) का दाम 899.50 रुपये से बढ़कर 949.50 रुपये हो गया है। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में भी एलपीजी सिलेंडर का मूल्य 949.50 रुपये हो गया है। मायानगरी में भी मंगलवार से पहले रसोई गैस सिलेंडर का भाव 899.50 रुपये पर था।

कोलकाता, चेन्नई में इतने हो गए हैं दाम

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर का मूल्य बढ़कर 965.50 रुपये हो गया है। वहीं, पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में LPG Cylinder लेने के लिए अब 976 रुपये का भुगतान करना होगा। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एलपीजी सिलेंडर की कीमत बढ़कर 987.5 रुपये हो गई है।

कॉमर्शियल सिलेंडर के दाम

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 19 किलोग्राम के कॉमर्शियल गैस सिलेंडर का दाम 2,003.5 रुपये पर है। वहीं, चेन्नई में इसकी कीमत 2,137.50 रुपये पर है. मुंबई में कॉमर्शियल सिलेंडर की कीमत 1954.50 रुपये पर आ गई है।

रेट बढ़ने की वजह

रूस और यूक्रेन के बीच जंग की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में 40 फीसद तक की तेजी देखने को मिली है। इस वजह से घरेलू स्तर पर एलपीजी सिलेंडर और पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के लिए जरूरी हो गया था।

फिर महंगा हो सकता है रसोई गैस सिलेंडर!

फिर से महंगा हो सकता है रसोई गैस सिलेंडर, कीमत बढ़ने के आसार

नई दिल्ली (एजेंसी)। दो दिन के अंतराल के बाद बुधवार को वाहन ईंधन कीमतों में फिर बढ़ोतरी होने के बाद एलपीजी गैस सिलेंडर के रेट एक बार फिर बढ़ने की आशंका है। एलपीजी के मामले में लागत से कम मूल्य पर बिक्री से होने वाला नुकसान (अंडर रिकवरी) 100 रुपए प्रति सिलेंडर पर पहुंच चुका है। इस वजह से इसकी कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। रसोई गैस सिलेंडर का दाम कितना बढ़ेगा, यह सरकार की परमिशन पर निर्भर करेगा।

इससे पहले 6 अक्टूबर को रसोई गैस सिलेंडर के दाम 15 रुपए बढ़ाए गए थे। पेट्रोल और डीजल दोनों के दाम 35 पैसे प्रति लीटर और बढ़ गए हैं। इससे पिछली बार 6 अक्टूबर को LPG के दाम में 15 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई थी।

अब आप खरीदेंगे ₹ 1 हजार का गैस सिलेंडर!

1000 का हो जाएगा गैस सिलेंडर! सरकार बंद करेगी LPG पर मिलने वाली सब्सिडी

1000 रुपए का हो जाएगा गैस सिलिंडर! सरकार बंद करेगी LPG पर मिलने वाली सब्सिडी

नई दिल्ली (एजेंसी)। आने वाले दिनों में ग्राहकों को एक रसोई गैस सिलेंडर के लिए 1,000 रुपए तक चुकाने पड़ सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार केंद्र सरकार एलपीजी सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी बंद कर सकती है!

उपभोक्ता ₹1हजार देने को तैयार? मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सरकार के एक आंतरिक मूल्यांकन से पता चला है कि उपभोक्ता एक सिलेंडर के लिए 1,000 रुपए तक देने को तैयार हैं। इस संदर्भ में सरकार सिलेंडर की सब्सिडी को लेकर दो रुख अपना सकती है-

1. मौजूदा समय में जैसा चल रहा है, सरकार वैसा ही चलने दे।

2. सरकार सिर्फ आर्थिक रूप से कमजोर उपभोक्ताओं को ही उज्ज्वला योजना के तहत सब्सिडी प्रदान करे।

फिलहाल सरकार ने सब्सिडी के बारे में कुछ भी साफ-साफ नहीं कहा है।

अब अपनी मर्जी से भरवा सकेंगे एलपीजी गैस

LPG गैस भरवाने में चलेगी अब ग्राहकों की मर्जी। सरकार ने कई शहरों में शुरू की सुविधा। जल्दी ही पूरे देश में मिलेगा लाभ।

LPG Price Hike: How To Reclaim LPG Subsidy, Know The Process in Hindi -  महंगी एलपीजी के बीच फिर शुरू करना चाहते हैं सब्सिडी, ये है तरीका -  Navbharat Times
lpg distributor portability

नई दिल्ली (एकलव्य बाण समाचार)। एलपीजी सिलेंडर इस्तेमाल करने वाले ग्राहक अब अपने मनमुताबिक डिस्ट्रीब्यूटर चुन सकेंगे। अब ग्राहक तय करेंगे कि उन्हें किस डिस्ट्रीब्यूटर से गैस सिलेंडर भरवानी है। वर्तमान में ग्राहकों को किसी एक डिस्ट्रीब्यूटर से गैस सिलेंडर भरवाने के लिए बाध्य होना पड़ता है।

लोकसभा में कुछ सांसदों ने ये सवाल किया था कि क्या LPG ग्राहक ये तय कर सकते हैं कि उन्हें किस डिस्ट्रीब्यूटर से सिलेंडर रिफिल करानी है। इस सवाल पर पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय में राज्य मंत्री रामेश्वर तेली ने नई सुविधा के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि LPG ग्राहक को रिफिल अपनी पसंद के डिस्ट्रिब्यूटर से लेने का विकल्प दिया गया है। अब उपभोक्ता अपने हिसाब से रिफिल बुक करने के लिए डिस्ट्रीब्यूटर का चयन कर सकते हैं। 

पेट्रोलियम राज्य मंत्री ने अपने लिखित जवाब में इस सुविधा के बारे में विस्तार से बताया कि रजिस्टर्ड लॉगिन का उपयोग करके मोबाइल ऐप या ओएमसी वेब पोर्टल के जरिये डिस्ट्रीब्यूटर का चयन कर सकते हैं। इसके साथ ही ग्राहक सिलेंडर डिलीवरी करने वाले वितरक की रेटिंग भी देख सकेंगे। यह रेटिंग डिस्ट्रीब्यूटर के पहले के प्रदर्शन पर आधारित होगी। मतलब ये हुआ कि आप खराब रेटिंग वाले वितरक से पहले ही अलर्ट हो सकते हैं।

मंत्री ने बताया कि रेटिंग के साथ मोबाइल ऐप या तेल कंपनियों के पोर्टल पर वितरकों की पूरी सूची भी दी जाएगी। LPG रिफिल की डिलीवरी के लिए ग्राहक को अपने इलाके की लिस्ट में से किसी भी डिस्ट्रीब्यूटर को केवल टैप कर या क्लिक कर चुन सकते हैं। ये सुविधा देश के कुछ शहरों में शुरू की गई है लेकिन सरकार का इरादा इसे देश भर में लागू करने का है।

14 लाख से अधिक वाहनों में अभी HSRP लगना बाकी

राजधानी में अभी 14 लाख से अधिक वाहनों में HSRP लगना बाकी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) अनिवार्य कर दिया गया है। मतलब जिन गाड़ियों पर HSRP नहीं होंगे, उनका ट्रांसफर, पता परिवर्तन और फिटनेस प्रमाण पत्र जैसे RTO से जुड़े काम नहीं हो पाएंगे। इस नियम के बाद से गाड़ी मालिक परेशान हो गए हैं।
नए नंबर प्लेट के बिना जहां कई काम ठप पड़ गए हैं वहीं वाहन मालिकों में HSRP की बुकिंग को लेकर होड़ मच गई है। ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था के तहत लोगों को दो-दो माह के बाद की तारीख मिल रही है। लखनऊ में अभी 14 लाख से अधिक गाड़ियों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगना बाकी हैं।

सोमवार को प्रमुख सचिव परिवहन की ओर से जारी नए सर्कुलर में साफ कहा गया है कि HSRP के बिना RTO कार्यालय में कोई काम नहीं होगा। इतना ही नहीं वाहनों का फिटनेस भी नहीं किया जाएगा। इतना राहत जरूर दी गई है कि HSRP की रसीद पर कार्यालयों में कामकाज हो सकेगा।

UP में चार वेंडरों को दी गई हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाने की जिम्मेदारी-
प्रदेश में चार वेंडरों को हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वाहन डीलरों के यहां प्रतिदिन दर्जनों पुराने वाहन स्वामी HSRP बुक कराने के लिए जा रहे हैं। वहां पर तैनात कर्मचारी इन वाहन स्वामियों को उनके मोबाइल से ही नंबर प्लेट बुक करा रहे हैं। इतना ही नहीं जिन लोगों ने पहले से बुकिंग करा रखी है‚ प्रतिदिन एक वाहन डीलर के यहां से 50 से 60 हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट दिए जा रहे हैं।

ऑनलाइन बुकिंग का आलम यह है कि गुरुवार यानी 25 फरवरी को जिस वाहन स्वामी ने हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बुक करायी है‚ उसकी बुकिंग 27 अप्रैल की आई है। हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए वाहन स्वामी को दो महीने से ज्यादा का वक्त का इंतजार करना पड़ेगा।

एक अप्रैल 2019 के बाद लखनऊ जनपद में गुरुवार तक दो लाख 15 हजार 182 नए वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाकर वाहन मालिकों को दिया जा चुका है। पुराने वाहनों पर गौर करें तो गुरुवार तक करीब 75 हजार वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाये जा चुका है। इसके चलते भी पुराने वाहन स्वामियों में HSRP के लिए होड़ मची है ताकि बुकिंग की रसीद के आधार पर RTO ऑफिस में काम कराया जा सके।

तय समय सीमा में पूरा हो जाएगा काम-
RTO (प्रशासन) आरपी द्विवेदी ने बताया कि प्रदेश में चार वेंडरों को HSRP बनाने का ठेका है। 26 फरवरी को बुक नंबर प्लेट 27 अप्रैल को मिलेगी। बुकिंग के लिए वाहन डीलरों के यहां जा रहे दर्जनों वाहन स्वामी पुराने वाहनों में तेजी से हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाए जा रहे हैं जो समय सीमा तय की गयी है‚ उसके अंदर ही पुराने वाहन स्वामी अपने-अपने वाहनों में HSRP लगवा लेंगे।

सौजन्य से-Kridha’s icecream parlour Neelkamal Road civil lines Bijnor

पूरे भारत में अब एक मिस्ड कॉल पर Gas बुकिंग

देश में अब कीजिए सिंगल मिस्ड कॉल पर LPG बुकिंग

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एलपीजी उपभोक्ताओं के लिए मिस्ड कॉल सुविधा की शुरुआत की है जो कि लोगों का जीवनयापन आसान बनाने के लिए सरकार के प्रयासों की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है

नई दिल्ली (धारा न्यूज़): पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने भुवनेश्वर में उपभोक्ताओं के लिए मिस्ड कॉल की सुविधा शुरू की, जो कि लोगों का जीवनयापन आसान बनाने के लिए सरकार के प्रयासों की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इंडियन ऑयल के एलपीजी ग्राहक अब रिफिल बुकिंग के लिए सिंगल मिस्ड कॉल नंबर 8454955555 का उपयोग कर सकते हैं- पूरे भारत के लिए और भुवनेश्वर शहर में नए कनेक्शन के लिए।

विश्व स्तरीय प्रीमियम ग्रेड पेट्रोल (ऑक्टेन 100) का दूसरा चरण भी शुरू

इस मौक़े पर श्री प्रधान ने इंडियन ऑयल द्वारा उत्पादित एक्सपी 100 के रूप में ब्रांडेड विश्व स्तरीय प्रीमियम ग्रेड पेट्रोल (ऑक्टेन 100) का दूसरा चरण भी शुरू किया। इस दूसरे चरण में इंडियन ऑयल के ब्रांडेड एक्सपी100 को आज चेन्नई, बैंगलोर, हैदराबाद, कोलकाता, कोच्चि, इंदौर और भुवनेश्वर सहित सात और शहरों में शुरू कर दिया गया। केंद्रीय मंत्री ने एक्सपी100 को पहले चरण में एक महीने पहले 01 दिसंबर 2020 को 10 भारतीय शहरों के चुनिंदा आउटलेट्स में लॉन्च किया था।

श्री प्रधान ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि, मिस्ड कॉल सुविधा लोगों को उत्कृष्ट सेवा उपलब्ध कराने के लिए डिजिटल इंडिया मिशन की सफलता का एक बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि, सरकार सभी सेवाओं को आमजन तक पहुंचाने और नागरिकों के जीवनयापन में सुगमता लाने के लिए प्रत्येक भारतीय के साथ समान व्यवहार करने की इच्छुक होने के चलते प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि, भुवनेश्वर से शुरू की जा रही इस सेवा का विस्तार जल्द ही पूरे देश में किया जाएगा। श्री प्रधान ने गैस एजेंसियों तथा वितरकों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि, एलपीजी सिलेंडर की डिलीवरी की अवधि 1 दिन से कुछ घंटों तक कम होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि, देश ने एलपीजी वितरण में एक लंबा सफर तय किया है। वर्ष 1955 से लेकर 2014 तक लगभग 13 करोड़ लोगों को एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराया गया था, लेकिन आज यह आंकड़ा 30 करोड़ गैस कनेक्शन तक पहुंचने वाला है, जो एक बड़ी सफलता प्राप्त होने और जनता को स्वच्छ ईंधन प्रदान करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि, एलपीजी कनेक्शन ने भारतीय महिलाओं को वास्तव में सशक्त बनाया है।
श्री प्रधान ने आम आदमी के जीवन को आसान बनाने में प्रौद्योगिकी की शक्ति के महत्त्व के बारे में भी चर्चा की। उन्होंने ओडिशा खनन निगम-ओएमसी के वितरण के प्रयासों की सराहना की। केंद्रीय मंत्री ने विशेष रूप से डिलिवरी बॉयज़ को ‘कोरोना योद्धा’ के रूप में संबोधित किया, जिन्होंने कोविड महामारी के समय में भी बिना किसी रुकावट के लोगों के दरवाजे तक रसोई गैस की आपूर्ति करने की हिम्मत और ईमानदारी दिखाई। उन्होंने कहा कि, जब पूरी दुनिया अपने संसाधनों एवं समृद्धि के बावजूद कोरोना के कारण परेशान थी, तब भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में संघर्ष किया, जिससे पूरा देश संगठित हुआ और भारत की सफलता ने दुनिया के समक्ष एक नया मॉडल प्रस्तुत किया।

असम के डिगबोई में कार्यरत देश की सबसे पुरानी रिफाइनरी से XP-100 की पहली खेप को रवाना करते हुए श्री प्रधान ने कहा कि, यह प्रधानमंत्री के पूर्वोदय के विकास के दृष्टिकोण को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि, एक्सपी100 विश्व स्तरीय किस्म का पेट्रोल है जो आधुनिक तेज़ रफ़्तार वाली कारों की कार्यक्षमता को बढ़ाएगा। श्री प्रधान ने कहा कि, डिगबोई रिफाइनरी से उत्पादित यह उन्नत क्षमताओं वाला पेट्रोल देश के पूर्वोत्तर क्षेत्र में स्थित शहरों में खुदरा दुकानों की जरूरतों को पूरा करेगा। डिगबोई मौजूदा बुनियादी ढांचे और माध्यमिक प्रसंस्करण सुविधाओं का उपयोग करते हुए एक्सपी100 पेट्रोल का उत्पादन करके मथुरा और बरौनी रिफाइनरीज के कुलीन समूह में शामिल हो गया है। यह वास्तव में एक सराहनीय उपलब्धि है, जो देश में उपलब्ध सबसे उन्नत पेट्रोल का उत्पादन करने वाली सबसे पुरानी रिफाइनरी है।

Ministry of Petroleum & Natural Gas की जानकारी के अनुसार-

आईवीआरएस सुविधा पर मिस्ड कॉल रिफिल बुकिंग सुविधा के फायदे इस प्रकार से हैं:

• त्वरित बुकिंग, ग्राहक को लंबे समय तक कॉल होल्ड नहीं करना है।

• आईवीआरएस कॉल में जहां सामान्य कॉल दरें लागू होती हैं, वहीं उसकी तुलना में इस सुविधा में ग्राहकों को कोई कॉल शुल्क नहीं लगता है।

• जो लोग आईवीआरएस सुविधा से परिचित नहीं हैं या वृद्धावस्था वाले ऐसे ग्राहक जो आईवीआरएस का उपयोग करने में समस्याओं का सामना करते हैं, वे सभी मिस्ड कॉल के ज़रिये रिफिल बुकिंग का विकल्प चुन सकते हैं।

• इससे ग्रामीण उपभोक्ताओं का जीवन और भी आसान होगा।

***