यातायात माह में पुलिस ने जुर्माने में वसूले ₹ढ़ाई करोड़

यातायात माह में पुलिस ने जुर्माने में वसूले ₹ढ़ाई करोड़

~सचिन वर्मा

बिजनौर। यातायात माह नवम्बर 2022 का बुधवार को समापन हो गया। इस दौरान पुलिस ने करीब ढ़ाई करोड़ रुपए के चालान काटे। पुलिस द्वारा जिन लोगों के चालान किए गए उनमें से अधिकांश दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का प्रयोग नहीं करने वाले लोग शामिल हैं। इस माह में पूर्व की अपेक्षा अधिक चेकिंग की गई। लोगों को यातायात के नियमों का पालन करना सिखाने के लिए कई अभियान भी चलाए गए, लेकिन लोग जागरूक होने के बाद भी नियमों का पालन करने को तैयार नहीं हुए।

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी नवम्बर को यातायात माह के रूप में मनाया गया। लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित भी किए गए। यातायात पुलिस ने स्कूली बच्चों के साथ मिलकर स्कलों, कॉलेजों व भीड़भाड़ वाले स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किए। स्वयं पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने भी स्कूल व कॉलेजों में जाकर बच्चों को अपने शपथ दिलाई कि वह अपने परिजनों के साथ साथ आसपास के लोगों को भी यातायात के नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित करेंगे। जागरूक अभियानों के साथ साथ पुलिस ने सघन चेकिंग अभियान भी चलाया। इस अभियान के दौरान पुलिस ने करीब ढाई करोड़ के चालान किए। पुलिस द्वारा जिन लोगों के खिलाफ ये कार्यवाही की गई उनमे से अधिकांश लोग हेलमेट के बिना दोपहिया वाहन चलाने वाले शामिल हैं। पुलिस द्वारा की गई इस कार्यवाही से वाहन चालकों में हड़कम्प तो मचा, लेकिन अभी भी अधिकांश चालक सीख लेने को तैयार नहीं।

यातायात माह भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन पुलिस का चेकिंग अभियान अब भी जारी रहेगा। यातायात नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाती रहेगी। जिले में आगामी 15 दिनों तक सघन चेकिंग अभियान चलवाया जाएगा, जो भी वाहन चालक यातायात के नियमों का उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

-दिनेश सिंह, एसपी बिजनौर

भयंकर जाम का सबब बने ओवरलोड वाहन

ओवरलोड वाहनों से जगह~जगह लग रहा भयंकर जाम

सैंट मैरी चौराहा, 28 नवंबर 2022, दोपहर 02:45 बजे

बिजनौर। शहर के मुख्य चौराहों पर वाहनों की चैकिंग के लिए तैनात सिविल और ट्रैफिक पुलिस की भारी भरकम फौज के बावजूद जाम से निजात नहीं मिल पा रही है। यातायात माह समाप्त होने में दो दिन शेष रह गए हैं, फिर भी शहर के अंदुरूनी हिस्सों के साथ ही बाईपास रोड की स्थिति काफी निराशाजनक है। ओवरलोड वाहनों पर प्रतिबंध लगाने को शासन के आदेश हवा हो गए हैं। ओवरलोड वाहन न सिर्फ दुर्घटनाओं का सबब बन रहे हैं, बल्कि जगह~जगह भयंकर जाम का कारण भी बन रहे हैं। सोमवार दोपहर भी सैंट मैरी चौराहे से मॉर्डन एरा स्कूल चौराहे तक कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला।

सैंट मैरी चौराहा, 28 नवंबर 2022, दोपहर 02:45 बजे

सोमवार दोपहर 02:45 बजे सैंट मैरी चौराहे से बाईपास रोड, मॉर्डन एरा स्कूल चौराहे तक जबरदस्त जाम लग गया। जाम के कारण सैकड़ों वाहन फंस गए। दरअसल गन्ने का ओवरलोड ट्रक रेलवे क्रॉसिंग पर फंस गया। यह ट्रक दोपहर 03:03 बजे मॉर्डन एरा स्कूल चौराहा की तरफ पहुंचा, तब कहीं जाकर जाम खुला और अन्य वाहनों को निकलने का रास्ता मिल सका।

बाईपास रोड, मॉर्डन एरा स्कूल चौराहा, 28 नवंबर 2022, दोपहर 03:03 बजे
सैंट मैरी चौराहा
सैंट मैरी चौराहा

ओवरलोड वाहनों पर प्रतिबंध लगाने के आदेश, निर्देश शासन ने दे रखे हैं। यातायात माह भी चल रहा है। सिविल और ट्रैफिक पुलिस पूरे प्रदेश में अभियान चला कर लोगों को जागरूक कर रही है। स्कूल कालेजों में पुलिस प्रशासन गोष्ठियां कर रहा है। बावजूद इसके कोई सुधरने को तैयार नहीं है।

बिना हेलमेट गाड़ी चलाते लोगों को पुलिस ने दिए फूल

बिजनौर। विदुर कुटी गंज तट पर लगने वाले गंगा मेले में बिना हेलमेट लगाए मोटर साइकिल चालकों को फूल देकर हेलमेट लगाने के लिए अभियान चलाया गया। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह के निर्देशन में चलाए गए अभियान को लेकर यातायात पुलिस चौकन्ना रही। मेले में आने जाने दोपहिया वाहन चालकों को हेलमेट और चारपहिया वाहन चालकों को सीट बेल्ट के इस्तेमाल के प्रयोग के लिए जागरूक किया गया। टीएसआई बलराम सिंह यादव ने बताया कि यातायात के नियमों का पालन कराने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

डीएम एसपी ने किया यातायात माह का शुभारंभ

डीएम एसपी ने किया यातायात माह का शुभारंभ। स्कूली बच्चों/ट्रैफिक पुलिस ने स्लोगन/पोस्टर/बैनर के माध्यम से किया जागरूक।

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने रिजर्व पुलिस लाइंस से यातायात माह-नवम्बर 2022 के अंतर्गत यातायात रैली का हरी झंडी दिखाकर शुभारंभ किया। इससे पहले अधिकारियों द्वारा गुब्बारे उड़ाए गए। रैली में यातायात पुलिस के साथ एनसीसी कैडेट्स द्वारा प्रतिभाग किया गया। स्कूली बच्चों/ट्रैफिक पुलिस द्वारा स्लोगन/पोस्टर/बैनर के माध्यम से लोगों को यातायात नियमों का पालन करने हेतु जागरुक किया गया। दोपहिया वाहनों पर हेलमेट तथा केवल दो सवारी बैठाने एवं चार पहिया वाहनों में सीट बेल्ट लगाने, नशे में ड्राइविंग न करने, यातायात नियमों का पालन करने व सड़कों पर सावधानीपूर्वक वाहन चलाने के लिये जागरूक किया गया।

इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक नगर/यातायात डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राम अर्ज, क्षेत्राधिकारी यातायात अनिल कुमार सिंह, प्रभारी यातायात आदि अन्य अधिकारी/कर्मचारी मौजूद रहे।

चप्पल पहनकर बाइक चलाई तो कटेगा चालान

कुछ यातायात नियम ऐसे हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है। वाहन चालक को लगता है कि वह सभी नियमों का पालन करते हुए सफर कर रहे हैं। उन्हें पता नहीं होता कि वह यातायात नियम का उल्लंघन कर रहे हैं।

नई दिल्ली। मोटर वाहन चलाने वालों को यातायात से जुड़े सभी जरूरी नियमों का पालन करना चाहिए। इससे दो फायदे होंगे, पहला यह कि सुरक्षित यातायात का माहौल बन सकेगा और दूसरा यह कि पुलिस आपका चालान नहीं काटेगी। यातायात से जुड़े नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस द्वारा चालान काटा जाता है, जुर्माना काफी ज्यादा भी हो सकता है। इसके अलावा कुछ मामलों में जेल भी जाना पड़ सकता है। ऐसे में अगर आप चाहते हैं कि आपका चालान ना कटे तो यातायात नियमों का पालन करें।

चप्पल पहनकर नहीं चला सकते टू-व्हीलर

मौजूदा यातायात नियमों के अनुसार, स्लीपर्स या ‘चप्पल’ पहनकर टू-व्हीलर चलाने की इजाजत नहीं है। इस बारे में शायद बहुत ही कम लोगों को पता है। इसके पीछे कारण यह है कि इस तरह के फुटवियर की वजह पकड़ कमजोर होती है और पैर फिसल सकते हैं। इसके अलावा मोटरसाइकिल पर गियर शिफ्ट करते समय, इस बात की पूरी संभावना है कि इस तरह के फुटवियर से पैर फिसल सकता है और दुर्घटना हो सकती है। इसलिए टू-व्हीलर चलाते समय पूरी तरह से बंद जूते पहनने जरूरी हैं। ऐसा नहीं करने पर 1000 रुपए का जुर्माना लग सकता है।

टू व्हीलर चलाते समय पर ड्रेस कोड
टू व्हीलर चलाते समय ड्राइवर को प्रॉपर ड्रेस कोड का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी है। जैसे मोटरसाइकिल चलाते वक्त पैंट, शर्ट या टीशर्ट पहनना चाहिए। ये शरीर को पूरी तरह से कवर कर देते हैं। किसी भी हादसे की स्थिति में ये कपड़े शरीर को कुछ हद सुरक्षित रख सकते हैं। अगर आप इस नियम की अनदेखी करते हैं तो आपका 2000 रुपए तक चालान कट सकता है। इसलिए बाइक चलाते वक्त इस नियम का पालन जरूर करें। इसके अलावा, अगर सामान्य नियमों की बात करें तो बाइक पर हेलमेट न पहनने को लेकर 1000 रुपए का जुर्माना लगता है। वहीं, बाइक से जुड़े दस्तावेज नहीं होने पर भी हजारों रुपए का जुर्माना लग सकता है।

सक्सेना जी ने तो कटा लिया चालान, लेकिन अब सो रही पुलिस!

गाड़ी पर जाति लिखवाने पर करनी थी कार्रवाई।
UP में ‘Saxena Ji’ के नाम दिसंबर 2020 में कटा था पहला चालान। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर लगाया था प्रतिबंध।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में गाड़ियों पर जातिसूचक शब्द लिखवाने पर कड़ी कार्रवाई ठंडे बस्ते में गई है। दिसंबर 2020 में किसी भी गाड़ी पर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने पर रोक लगा दी गई थी। इस नए आदेश के अनुपालन में प्रदेश का पहला चालान राजधानी में कानपुर के “सक्सेना जी” की गाड़ी का काटा गया था। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

बताया गया है कि महाराष्ट्र के एक शिक्षक ने उत्तर प्रदेश में कार, बाइक, ट्रक, ट्रैक्टर और ई-रिक्शा पर जाति सूचक शब्द लिखे होने का मामला उठाते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की थी। उन्होंने इसे सामाजिक खतरा बताया था।शिकायत का संज्ञान लेते हुए पी.एम.ओ. ने उत्तर प्रदेश सरकार को कार्यवाही करने के आदेश दिए। आदेश का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के अपर परिवहन आयुक्त ने धारा 177 के तहत कार्यवाही करने के आदेश जारी किए। तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक सुजीत दुबे के मुताबिक थाना नाका हिन्डोला अंतर्गत दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन चेक पोस्ट पर वाहनों की चेकिंग कर रहे सब इंस्पेक्टर दीपक कुमार अशोक ने कार पर लिखे ‘जाति सूचक’ शब्द पर पहला चालान किया।

क्या कहा था पुलिस आयुक्त ने?
पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर के अनुसार एक वैन नाका थाना क्षेत्र से होकर कानपुर की ओर जा थी। इस पर नंबर कानपुर का दर्ज होने के साथ ही पीछे शीशे पर “सक्सेना जी” लिखा था। इस दौरान एसआई दीपक कुमार ने वाहन चेकिंग अभियान के तहत गाड़ी को रोका और चालान कर दिया।

वीडियो भी हुआ था वायरल
लखनऊ में वाहनों पर जातिसूचक शब्द लिखे जाने पर कार्रवाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में एक पुलिस कर्मी पहले नए आदेश को गाड़ी चालक को समझता है जिसकी गाड़ी पर ‘सक्सेना जी’ लिखा होता है, फिर कहता है कि वह उसकी गाड़ी का चालान कर रहा है। इसके बाद पुलिसकर्मी 500 रुपए का चालान काट देता है।

पूरे प्रदेश में नियमों की अनदेखी: फिलहाल पूरे उत्तर प्रदेश में यातायात के नियमों की अनदेखी की जा रही है। वाहन चालक खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाते हुए घूम रहे हैं, लेकिन विभाग उदासीन है।

तेज रफ्तार बाइक की टक्कर से शिक्षिका की मौत

यातायात माह के दौरान बाइक राइडर बेलगाम। शिक्षिका को उतारा मौत के घाट।

बिजनौर। यातायात माह के दौरान बेलगाम बाइक दौड़ाने वालों ने एक वीभत्स घटना को अंजाम दिया। समीपवर्ती गांव से दूध लेकर पैदल घर लौटती सरकारी शिक्षिका को तेज रफ्तार बाइक ने टक्कर मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। प्राइवेट हॉस्पिटल में उपचार के बाद शिक्षिका को मेरठ रेफर कर दिया गया। रास्ते में ही शिक्षिका की मौत हो गई। शिक्षिका के पति की ओर से पुलिस को दो सगे भाईयों के खिलाफ तहरीर दी गई है।

नगर की इंद्रलोक कालोनी निवासी गंगाराम पुत्र स्व. अमर सिंह की पत्नी गीता देवी सरकारी शिक्षिका थीं। वह मंगलवार शाम करीब छह बजे ग्राम पेदा से दूध लेकर पैदल घर लौट रही थीं। बताया गया है कि इंद्रलोक कॉलोनी गेट नंबर-2 के सामने तेज रफ्तार बाइक ने उन्हें टक्कर मार दी। बाइक पर सवार दो युवक दुर्घटना के बाद मौके से फरार हो गए। राहगीरों ने गंभीर घायल गीता देवी को उपचार के लिए नजीबाबाद मार्ग स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल भर्ती कराया। प्राथमिक उपचार के बाद उनकी हालत नाजुक देखते हुए चिकित्सक ने उन्हें मेरठ के लिए रेफर कर दिया। मेरठ ले जाते समय रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। घटना से मृतका के परिजनों में कोहराम मच गया। मृतका के पति गंगाराम ने ग्राम नया गांव निवासी आर्यन व रूद्रा पुत्रगण गुड्डू के खिलाफ पुलिस को तहरीर सौंपी है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।