ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवारियां मिलीं तो भरना होगा जुर्माना ₹10 हजार

ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवारियां मिलीं तो भरना होगा जुर्माना ₹10 हजार

लखनऊ। कानपुर में ट्रैक्टर-ट्रॉली से हुए हादसे के बाद यातायात निदेशालय ने एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि मालवाहक वाहनों का इस्तेमाल सवारियों के लिए नहीं होना चाहिए. अगर किसी ने नियम तोड़ा तो दस हजार रुपए का जुर्माना भरना होगा. इसको लेकर पूरे प्रदेश में दस दिन तक चेकिंग अभियान चलाया जाएगा.

सीएम योगी आदित्यनाथ. (File Photo)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शनिवार को हुए भीषण हादसे के बाद यातायात निदेशालय ने एक अहम एडवाइजरी जारी की है. इसमें सरकार की ओर से कहा गया है कि दस दिन तक यूपी के सभी जिलों में सघन चेकिंग अभियान चलाया जाए. यह अभियान विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में चलाया जाएगा. अगर कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो दस हजार का जुर्माना भी भरना होगा.

जानकारी के अनुसार, यूपी के यातायात निदेशालय ने जारी एडवाइजरी में 10 दिन तक सभी जिलों मे सघन चेकिंग अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में इस अभियान के तहत यह जांच की जाएगी कि मालवाहक वाहन ट्रैक्टर, ट्रॉली, डाला व डंपर पर सवारियों का इस्तेमाल तो नहीं किया जा रहा है?

सीएम योगी ने कानपुर में हुए हादसे के बाद कहा था कि लोग मालवाहक वाहनों का इस्तेमाल सवारियों को लाने व ले जाने में नहीं करें. यातायात निदेशालय की ओर से जारी एडवाजरी में कहा गया है कि अगर कोई नियम का उल्लंघन करता मिला तो उस पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा.

बिजनौर DM SP ने नशे जैसी कुकृति त्यागने को दिलाई शपथ

DM SP ने नशे जैसी कुकृति को त्यागने की दिलाई शपथ। नया सवेरा को लेकर सभी को किया नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर विशेष कार्यक्रम। एसपी ने किए चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को ट्रैकसूट वितरित।

बिजनौर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह द्वारा रिजर्व पुलिस लाइन में पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई।
जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत सभी को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई गई।
तदोपरान्त पुलिस अधीक्षक ने चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को ट्रैकसूट वितरित किए। इस दौरान पुलिस लाइन प्रांगण में उपस्थित सभी अधिकारी/कर्मचारीगणों को मिष्ठान वितरित किए गए।

धामपुर कोतवाली में एसपी पूर्वी ने पुष्प किए अर्पित

अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल द्वारा कोतवाली धामपुर पहुॅचकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत उपस्थित सभी अधि0/कर्मचारीगणों को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई गई।

एसपी ऑफिस में “नया सवेरा”:

इसी क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राम अर्ज द्वारा पुलिस कार्यालय में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। उन्होंने भी जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत उपस्थित सभी अधि0/कर्मचारीगणों को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई।

स्कूली बच्चों को नेहरू स्टेडियम में शपथ


पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने नेहरू स्टेडियम ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी।
जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक बिजनौर द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान नया सवेरा के दृष्टिगत सभी को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी स्कूली बच्चों को शपथ दिलाई गई।

सीएए विरोधियों को भेजा ₹57 लाख का नोटिस

सीएए का विरोध करने वालों से होगी नुकसान की भरपाई, पुलिस ने 60 प्रदर्शनकारियों को भेजा 57 लाख का नोटिस

बिजनौर। तीन साल पहले सीएए और एनआरसी विरोधी प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा और आगजनी की घटनाओं में शामिल नहटौर के 60 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने नोटिस जारी किया है। साथ ही 57 लाख रुपए के नुकसान की भरपाई करने का निर्देश दिया है।

नहटौर के थाना प्रभारी पंकज तोमर ने शनिवार को बताया कि 20 दिसंबर 2019 को नहटौर में सीएए/एनआरसी के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया था। उन्होंने कहा कि भीड़ ने सरकारी संपत्ति में तोड़-फोड़ की थी और थाने पर खड़ी पुलिस की जीप और मोटरसाइकिलों में आग लगा दी थी। इस दौरान भीड़ ने पुलिस पर पथराव भी किया था और जवाब में पुलिस को गोली चलानी पड़ी थी। हिंसक प्रदर्शन में अनस और सलमान नाम के दो युवकों की गोली लगने से मौत हो गई थी। प्रशासन ने प्रदर्शन के दौरान 57 लाख रुपए की सरकारी संपत्ति के नुकसान का आंकलन किया था। पुलिस ने अब हिंसा मे शामिल 60 आरोपियों को 57 लाख रुपये की भरपाई के लिए नोटिस जारी किए हैं।

…आखिर क्या था मामला?

20 दिसम्बर 2019 को सीएए-एनआरसी को लेकर नहटौर में प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शन हिंसा में परिवर्तित हो गया था। मामले में प्रदर्शनकारियों ने थाने पर भी पथराव किया था। साथ ही पुलिस वाहनों में आग लगा दी थी। प्रदर्शन के दौरान चलाई गई गोली से मोहल्ला मंगू चर्खी निवासी सुलेमान और मोहल्ला कस्बा निवासी अनस पुत्र अरशद की मौत हो गई थी। घटना में तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक राजेश सोलंकी सहित 21 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। मामले को लेकर राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर नहटौर सुर्खियों में आ गया था। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी सहित विभिन्न राष्ट्रीय पार्टियों के प्रतिनिधियों ने नहटौर पहुंचकर घटना की जानकारी ली थी। मृतकों के परिजनों का ढांढस बंधाया था।

एसपी दिनेश सिंह ने बताया कि सीएए-एनआरसी बवाल के दौरान नहटौर थाना क्षेत्र में क्षतिपूर्ति की वसूली के लिए 60 लोगों को नोटिस तामिल कराए गए हैं। पुलिस मुकदमों के आधार पर कार्रवाई कर रही है।

संपूर्ण समाधान दिवस में एसपी दिनेश सिंह ने सुनीं जन समस्याएं

संपूर्ण समाधान दिवस में एसपी दिनेश सिंह ने सुनीं जन समस्याएं

बिजनौर। तहसील चांदपुर संपूर्ण समाधान दिवस में पहुंचे एसपी दिनेश सिंह ने आमजन की जन समस्याएं सुनीं। उन्होंने शीघ्र निस्तारण के लिए संबंधित को आवश्यक को दिशा निर्देश दिए।

तहसील चांदपुर में संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया। एसपी दिनेश सिंह ने संपूर्ण समाधान दिवस में आमजन की समस्या सुनकर शीघ्र निस्तारण कराने के लिए संबंधित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस दौरान क्षेत्राधिकारी चांदपुर व मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा भी मौजूद रहे।
एसपी दिनेश सिंह ने बताया कि समाधान दिवस में भूमि से जुड़े हुए विवादों व अन्य जन समस्याएं सुनीं और आवश्यक को दिशा निर्देश भी दिए गए हैं।

मंडलायुक्त ने कानूनगो व लेखपालों को लगाई कड़ी फटकार

लखनऊ। बख्शी का तालाब लखनऊ पर मंडलायुक्त डा. रौशन जैकब के नेतृत्व में संपूर्ण समाधान संपन्न हुआ। संपूर्ण समाधान तहसील दिवस पर हजारों की संख्या में शिकायती पत्र लेकर शिकायतकर्ता पहुंचे, ज्यादातर शिकायती पत्र जमीन पर अवैध कब्जा, नहर पर कब्जा व अन्य शिकायती पत्र को लेकर मंडलायुक्त डॉ रौशन जैकब ने लेखपाल एवं कानूनगो को कड़ी फटकार लगाते हुए शिकायतों का निस्तारण करने का निर्देश दिया। वहीं कई शिकायती पत्र आवास ना मिलने, शौचालय ना मिलने एवं मनरेगा कार्य में फर्जी नाम चढ़ाकर पैसा निकालने को लेकर शिकायती पत्र अधिकारियों को प्राप्त हुए।

मंडलायुक्त ने कहा कि शिकायती पत्र पर अगर कड़ी कार्यवाही कर दी जाए तो दोबारा तहसील दिवस पर शिकायत लेकर किसान नहीं आएंगे। हर अधिकारी को शिकायत पत्र पर कड़ी कार्यवाही कर उसका निस्तारण करना चाहिए। मंडलायुक्त ने कई मामलों को लेकर कानूनगो व लेखपालों को कड़ी फटकार लगाई। इस मौके पर कई उच्च अधिकारी मौजूद रहे। लखनऊ मंडलायुक्त रौशन जैकब एडीएम (एफ/आर) एसडीएम क्षिप्रा पाल, एसपी ग्रामीण ह्रदेश कुमार, क्षेत्राधिकारी बीकेटी नवीना शुक्ला व खंड विकास अधिकारी पूजा सिंह सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।

एलआईसी अभिकर्ताओं ने बिजनौर कार्यालय पर दिया धरना

एलआईसी अभिकर्ताओं ने मांगों को लेकर बिजनौर कार्यालय पर दिया धरना

बिजनौर। लाइफ इंश्योरेंस एजेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के तत्वावधान में ज्वाइंट एक्शन कमेटी कानपुर मध्य क्षेत्र के निर्देशन में एलआईसी अभिकर्ता 01 सितम्बर से आंदोलनरत हैं। शुक्रवार को आवास विकास कॉलोनी स्थित एलआईसी कार्यालय पर अभिकर्ता एकत्र हुए और एक दिवसीय धरने पर बैठ गए। अभिकर्ताओं ने शोषण का आरोप लगाते हुए अपना मांगपत्र सौंपा। धरने को अध्यक्ष करणवीर सिंह त्यागी, संरक्षक सैय्यद विकार हैदर रिजवी, सचिव हरि सिंह, कोषाध्यक्ष देवेंद्र कुमार, प्रीतम सिंह, अमर सिंह आदि ने संबोधित किया।

चार समूहों को लक्ष्मी-गणेश जी के मूर्ति सांचा वितरित


चार समूहों को लक्ष्मी-गणेश जी के मूर्ति सांचा वितरित

उ.प्र. सरकार द्वारा उ.प्र. माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष ओमप्रकाश गोला प्रजापति के द्वारा निःशुल्क प्रति समूह एक जो़ड़ी मास्टर मोल्ड्स/डाई (मूर्ति सांचा) लक्ष्मी-गणेश जी की चार समूहों को की गई वितरित

बिजनौर। जिला ग्रामोद्योग कार्यालय इण्डस्ट्रीयल स्टेट बिजनौर में प्रजापति कुम्हार जाति के उत्थान एवं उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा उ.प्र. माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष ओमप्रकाश गोला प्रजापति के द्वारा निःशुल्क प्रति समूह एक जो़ड़ी मास्टर मोल्ड्स/डाई (मूर्ति सांचा) लक्ष्मी-गणेश जी की चार समूहों को वितरित की गई।
जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कुंवर सेन ने उक्त जानकारी देते हुए कहा कि अध्यक्ष द्वारा बताया गया कि यदि हमें कुपोषण, कैंसर एवं मधुमेह जैसी बीमारियों को समाप्त करना है तो मिट्टी के बर्तनों का प्रयोग करना होगा। साथ ही प्लास्टिक का उन्मूलन करने, चीन से आयातित उत्पादों को रोकने के लिये मिट्टी के कलात्मक उत्पादों को बढावा देना होगा। एल्युमीनियम आदि धातु के बर्तन में बने भोजन तथा मिट्टी के बर्तन में बने भोजन की गुणवत्ता तथा पौष्टिक तत्वों की विद्यमता के बारे में विस्तार से बताया कि मिट्टी के बर्तन में बने भोजन में किसी प्रकार का रासायनिक दुष्प्रभाव नहीं होता है एवं भोजन पौष्टिक तथा स्वास्थ्यवर्धक होता है।
अध्यक्ष द्वारा माटी कला से जुड़े शिल्पियों को माटी कला तकनीकी के विषय की जानकारी दी गई। उन्होंने माटी कला के परम्परागत कारीगर और शिल्पियों को मण्डलीय प्रशिक्षण केन्द्र अकबरपुर चौगांवा नजीबाबाद से प्रशिक्षण कराकर उनके उत्पादों को गुणवत्तापरक बनाने हेतु प्रोत्साहित किया।

खास दोस्त ने ही छात्र को उतारा था मौत के घाट

धामपुर में घटना स्थल का निरीक्षण करते डीआईसी शलभ माथुर

सहपाठी ने ही की थी दोस्त की हत्या
धामपुर। बहन के उपर गलत नियत रखने के शक में नाबालिग भाई ने अपने ही क्लासमेट को शराब पिलाकर बेहोश कर दिया। शराब का नशा जब तारी हुआ तो दोस्त ने नौवीं कक्षा के अपने ही सहपाठी दोस्त का गला काटकर उसकी हत्या को अंजाम दे डाला। हत्याकांड के दो घंटे के अंदर ही धामपुर पुलिस ने शव की शिनाख्त कराने से लेकर हत्या के आरोपी तक पहुंचने में सफलता हासिल की। पुलिस ने आरोपी को पकडकर उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त चाकू, खून से सने कपड़े, बाइक सहित अन्य कागजात भी बरामद करने का दावा किया है। उधर डीआईजी मुरादाबाद ने भी देर रात घटना स्थल का निरीक्षण किया। जबकि एडीजी ने हत्याकांड के खुलासे पर धामपुर पुलिस को 50 हजार रूपये का ईनाम देने की घोषणा की है।

धामपुर नगीना मार्ग के टोल प्लाजा से ली गई सीसीटीवी कैमरे की फोटो

नगीना मार्ग स्थित ग्राम मंधौरा मार्ग स्थित सडक किनारे आम के बाग में शाम एक किशोर का रक्तरंजित शव पड़ा होने की सूचना मिली। कोतवाल माधो सिंह बिष्ट फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंचे तो औंधे मुंह एक शव बरामद हुआ था। मृतक की पीठ पर स्कूल बैग भी टंगा था। पुलिस ने जब बैग की तलाशी ली तो उसमें नगीना के एमएम इंटर कालेज के कक्षा नौ ए के छात्र रोहित पुत्र सुभाष निवासी काजीवाला का नाम परिचय पत्र पर लिखा था। परिचय पत्र के आधार पर पुलिस ने नगीना पुलिस को मृतक की बाबत शिनाख्त कराने का अनुरोध किया। नगीना पुलिस ने पते के आधार पर उसकी जानकारी जुटाई तो शव की शिनाख्त काजीवाला निवासी 16 वर्षीय रोहित के रूप में परिजनों ने कर दी। घटना के बाद पुलिस महकमे में हडकंप मच गया और सूचना मिलते ही एसपी बिजनौर दिनेश कुमार, सीओ इन्दु सिद्वार्थ, नगीना सीओ सुमित शुक्ला भी घटनास्थल पर पहुंच गए। पुलिस ने दिन ढलते ही मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। उधर देर रात मृतक रोहित के परिजन भी थाना धामपुर पहुंचे और मामले की पुष्टि की। परिजनों ने बताया कि मृतक रोहित की दोस्ती नगीना के मोहल्ला मनिहारी सराय निवासी जुनैद पुत्र गुलजार से थी। दोनों ज्यादातर समय एक साथ ही रहते थे। परिजनों के बताये गये पते के आधार पर धामपुर पुलिस रात में ही जुनैद की तलाश में उसके घर पहुंच गई। आरोपी जुनैद घर के आसपास ही संदिग्ध हालत में घूमता हुआ मिल गया। पुलिस उसे पूछताछ के लिये धामपुर थाने ले आई। पुलिस ने जब उससे रोहित की बाबत जानकारी करना शुरू किया तो जुनैद ने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया। मगर बाद में सख्ती दिखाने पर नाबालिग जुनैद पुलिस के आगे तोते के तरह अपने किये कृत्य को उगलने लगा। आरोपी ने बताया कि दोनों एक ही कक्षा में पढते थे। दोनों का एक दूसरे के घर भी आना जाना था। रोहित जुनैद की 13 वर्षीय बहन से अक्सर छेड़खानी करता था। टोकने के बावजूद कई बार रोहित जुनैद को साला कहकर भी बुलाता था। जुनैद, रोहित की इस बात से पिछले काफी समय से नाराज भी रहने लगा। इसी नाराजगी के चलते जुनैद ने रोहित की हत्या का तानाबाना बुना और घटना को अंजाम दे डाला। आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि गुरूवार को प्रातः स्कूल के दौरान ही जुनैद ने रोहित के साथ शराब पीने का प्लान बनाया। इसके लिये दोपहर स्कूल की छुटटी होने के बाद जुनैद अपने घर गया और अपनी मां से दावत के नाम पर रुपए और बाइक लेकर नगीना में गांधी मूर्ती पर पहुंच गया। वहां पर पहले से ही रोहित अपनी साईकिल के साथ खड़ा था। रोहित ने साईकिल अपने परिचित के पास खड़ी की और बाइक से जुनैद के साथ चल दिया। जुनैद ने बताया कि बाइक में पेट्रोल नहीं था, इसलिये उसने पहले अकबराबाद चौक के पास स्थित पम्प से तेल भरवाया। देशी शराब की दुकान से छह पव्वे एक बैग में रख लिए। इसके बाद जुनैद, रोहित को धामपुर मार्ग स्थित सुनसान आम के बाग में लेकर पहुंच गया। एकांत का फायदा उठाकर जुनैद ने एक पव्वा खुद पिया और रोहित को पांच पव्वे पिलाकर उस पर नशा हावी होने का इंतजार किया। बाद में अपने बैग से चाकू निकालकर एक ही बार में गला रेतकर उसे मौत के घाट उतार दिया। कुछ देर तड़पने के बाद रोहित ने दम तोड़ दिया। देर रात हत्यारोपी के कबूलने के साथ ही उसकी निशानदेही पर पुलिस ने घटना में प्रयुक्त चाकू सहित बाइक व मृतक का मोबाइल भी बरामद कर लिया। उधर जब देर रात 11 बजे जब डीआईजी शलभ माथुर घटना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे तो रात का अंधेरा होने के कारण उनका काफिला नेशनल हाइवे से बाग में जाने का रास्ता भटक गया। काफी प्रयास के बाद ही पुलिस को आम के बाग का रास्ता मिल सका। बाद में डीआईजी ने घटना स्थल का निरीक्षण किया।

जंगल के खाली स्थानों में कराएं अधिक से अधिक वृक्षारोपण: डीएम

जिलाधिकारी से मिले राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के पदाधिकारी

वन्य क्षेत्र से आबादी में प्रवेश करने वाले बाघों पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए जंगल के खाली स्थानों में अधिक से अधिक वृक्षारोपण कराएं। आवश्यतानुसार बाड़ का निर्माण कराएं। चिन्हित स्थानों पर रखवाएं लोहे के पिंजरे।

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने उप सम्भागीय निदेशक वानिकी को निर्देश दिए कि वन्य क्षेत्र से आबादी में प्रवेश करने वाले बाघों पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए जंगल के खाली स्थानों में अधिक से अधिक वृक्षारोपण कराएं और आवश्यतानुसार बाड़ का निर्माण कराएं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि चिन्हित स्थानों पर लोहे के पिंजरे रखवाएं ताकि मानवीय क्षेत्र में प्रवेश करने वाले बाघों को पकड़ कर उन्हें पुनः जंगल के अंदर छोड़ा जा सके। उन्होंने किसानों द्वारा शिकायत पर नगीना क्षेत्र में किसान द्वारा तीन वर्ष पूर्व विद्युत कनेक्शन के लिए आवेदन करने के बावजूद अभी तक कनेक्शन न उपलब्ध कराने पर अधीक्षण अभियंता को उक्त प्रकरण की जांच करने तथा संबंधित किसान को तत्काल विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी श्री मिश्रा कलक्ट्रेट स्थित अपने कार्यालय कक्ष में किसानों से संबंधित समस्याओं के निराकरण सम्बन्धी बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित विभागीय अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि इंसानी आबादी में बाघों का प्रवेश चिंताजनक है, बाघों को वन्य क्षेत्र में ही सीमित रखना और उनका समुचित संरक्षण करना भी नितांत आवश्यक है। उन्होंने डीएफओ को निर्देश दिए कि उक्त समस्या के निदान के लिए किसानों से सम्पर्क करें और उनके साथ सहयोग करते हुए कार्य करें। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करें और विद्युत कनेक्शन के आवेदनों पर तत्काल कार्यवाही करते हुए बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराएं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि जंगल में बिजली के तार लटके हुए न पाए जाने चाहिए, इस प्रकार के प्रकरणों में त्वरित कार्यवाही करते हुए तारों को ठीक कराएं ताकि कोई दुर्घटना न होने पाए।
इस अवसर पर डीएफओ नजीबाबाद मनोज कुमार, अधीक्षण अभियंता विद्युत, जिला गन्ना अधिकारी, किसान यूनियन के पदाधिकारी विनोद कुमार, कैलाश लाम्बा, धर्मपाल प्रधान सहित अन्य किसान बन्धु मौजूद थे।

डीएम शामली जसजीत कौर को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान

जन चेतना दिव्यांग सोसाइटी ने डीएम जसजीत कौर को प्रतीक चिन्ह देकर किया सम्मानित

सोसाइटी सचिव विकास कौशिक ने अन्य अधिकारियों को भी किया सम्मानित

शामली। जनपद शामली मे दिव्यांगजनों को समर्पित संस्था NGO जनचेतना दिव्यांग सोसायटी रजि. द्वारा सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सोसायटी संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष नन्द किशोर मित्तल के निर्देश पर जिला सचिव विकास कौशिक ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को‌ उनके कार्यालय में स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित करते हुए अभिनंदन किया।
जनपद के तमाम अधिकारी जनचेतना दिव्यांग सोसायटी रजि. की कार्यशैली दिव्यांग सेवा कार्य से प्रभावित होकर मन से सहयोगी रूप में साथ हैं। सम्मान क्रम के तहत अपर जिलाधिकारी संतोष कुमार सिंह, उपजिलाधिकारी विशु राजा का भी विकास कौशिक ने उनके कार्यालय जाकर स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित करने का कर्तव्यपालन किया। सम्मान कार्यक्रम नन्द किशोर मित्तल संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा तैयार कर टीम को कार्यालयो में उच्च अधिकारियों का सम्मान हेतु भेजा गया।

खबर का असर: रसगुल्ले की फैक्ट्री पर छापेमारी

खबर का असर: रसगुल्ले की फैक्ट्री पर छापेमारी

बिजनौर। पुलिस और प्रशासन ने संयुक्त कार्यवाही कर मण्डावर में छेना एवं रसगुल्ले बनाने की फैक्ट्री ओम फूड प्रोडेक्ट पर आकस्मिक छापामारी की। सैम्पल भरने के साथ ही परीक्षण के लिए खाद्य विश्वलेषक प्रयोगशाला भेजा गया है।

उप जिलाधिकारी सदर मोहित कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी नगर अनिल कुमार सिंह, खाद्य सुरक्षा अधिकारी बिजनौर एवं संजय कुमार प्रभारी निरीक्षक थाना मण्डावर द्वारा थाना मण्डावर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम शहवाजपुर, तहसील व जिला बिजनौर में संचालित छेना एवं रसगुल्ले बनाने की फैक्ट्री ओम फूड प्रोडेक्ट पर आकस्मिक छापामारी की गई। मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी द्वारा रसगुल्ले एवं छेना का सैम्पल भरा गया, सैम्पल को खाद्य विश्वलेषक प्रयोगशाला भेजा गया है। उप जिलाधिकारी सदर मोहित कुमार ने बताया कि भविष्य में भी समय-समय पर इसी प्रकार की छापेमारी की कार्यवाही जारी रहेगी।

गौरतलब है कि 28 सितंबर 2022 को दैनिक दिव्य विश्वास ने पेज सात पर किसानों की समस्याओं को प्रमुखता से प्रकाशित किया था।

इसी क्रम में आगामी नवरात्रि / दशहरा पर्व के अवसर पर आम जन मानस को सुरक्षित, मिलावट रहित खाद्य / पेय पदार्थ उपलब्ध कराने के उद्देश्य से खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के गठित दल ने छापामारी अभियान चलाया। इस दौरान उमंग डेयरी ग्राम गैंडाजूड स्योहारा, रईस मिष्ठान भण्डार नूरपुर, न्यू क्वालिटी स्वीट हाउस रेस्टोरेण्ट, अतीस मिष्ठान मण्डार नूरपुर तिराहा बिजनौर पर दबिश दी। इस दौरान 03 दूध, 01 खोआ, 01 मावा, 01 छेना, रसगुल्ला के नमूने जनपद बिजनौर के विभिन्न स्थानों से संग्रहित कर शुद्धता की जांच हेतु खाद्य प्रयोगशाला भेजे गये। पंकज कुमार सहायक आयुक्त खाद्य ग्रेड-2 एवं श्री संजीव सिंह मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी बिजनौर के नेतृत्व में शामिल टीम में खाद्य सुरक्षा अधिकारी रामवीर सिंह, यज्ञदत्त आर्य, अनुपम यादव, जितेन्द्र कुमार सम्मलित रहे।

कृषक उत्पादक संगठनों के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

कृषक उत्पादक संगठनों के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम बिजनौर। महात्मा विदुर सभागार कलक्ट्रेट में गठित कृषक उत्पादक संगठनों के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी उमेश मिश्रा एवं निदेशक सामाजिक वानिकी नजीबाबाद मनोज शुक्ला द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया.

इस अवसर पर उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र, जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र, जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र कुमार, जिला गन्ना अधिकारी पीएन सिंह, जिला परियोजना समन्वयक (डास्प) डॉ कर्मवीर सिंह, कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ केके सिंह, विषय वस्तु विशेषज्ञ योगेंद्र प्रताप सिंह योगी एवं जनपद के कृषक उत्पादक संगठनों के चेयरमैन, सीईओ व सचिव तथा जनपद के अग्रणी कृषक कोर कमेटी के सदस्य उपस्थित रहे. इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा कृषक उत्पादक संगठनों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए आह्वान किया गया कि सभी कृषक उत्पादक संगठन जनपद में बाजार की मांग के अनुसार क्लस्टर के रूप में गुणवत्ता युक्त उत्पादों का उत्पादन करें तथा क्लस्टर के अंदर ही उत्पादित उत्पादों के प्रसंस्करण, ब्रांडिंग, पैकेजिंग व विपणन का कार्य सक्षम लोगों से लिए जाने की आवश्यकता है. यदि हमारे किसान कृषक उत्पादक संगठन के माध्यम से एक हो जाएं, उनका एक विचार व एक उद्देश्य हो तो हम एक दूसरे का सहयोग लेने व समन्वय स्थापित करने में सफल होंगे. फिर हमारा दूसरा लक्ष्य होना चाहिए कि हम बाजार की मांग के अनुसार गुणवत्ता युक्त एवं विपणन योग्य उत्पाद का उत्पादन करें तथा उत्पादित उत्पादों का अधिक से अधिक एवं लाभकारी मूल्य प्राप्त करने हेतु विपणन का कार्य योग्य और निपुण हाथों में देना होगा साथ ही इन उत्पादों के प्रसंस्करण व मूल्य संवर्धन की तकनीक भी हमें सीखनी होगी. इन सब कार्यों के लिए निश्चित रूप से पूंजी की आवश्यकता होगी और जो भी कृषक उत्पादक संगठन अथवा क्लस्टर उक्त कार्य करने के लिए तैयार है तो जिला प्रशासन संबंधित विभाग सहयोग करने के लिए कटिबद्ध है. जनपद में गन्ना, खाद्यान, दलहनी व तिलहनी फसलो, सब्जियों, मसाले, जड़ी-बूटी व फूलों की असीम सम्भावनाएं है.

जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र के द्वारा उक्त कार्यक्रम का संचालन करते हुए जिलाधिकारी, निदेशक सामाजिक वानिकी नजीबाबाद एवं अन्य अधिकारियों तथा कृषि उत्पादक संगठन के प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए इस प्रशिक्षण की विषय वस्तु, उद्देश्य व महत्व से अवगत कराया गया. इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के मुख्य प्रशिक्षक डॉ जेपी शर्मा, महाप्रबंधक, शील बायोटेक द्वारा कृषक उत्पादक संगठन के गठन, संगठनात्मक ढांचे, आवश्यकता एवं महत्व के बारे में विस्तार से प्रस्तुतीकरण के माध्यम से अवगत कराया गया. योगेंद्र प्रताप सिंह कृषक उत्पादक संगठन की भूमिका एवं लाभ तथा भविष्य की संभावनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई. डॉ. केके सिंह द्वारा प्राकृतिक खेती तथा कृषि विज्ञान केंद्र पर प्राकृतिक खेती पर आयोजित ट्रायल एवं नवरत्न हरी खाद तथा रवि फसलों की बायोफोर्टीफाइड प्रजातियों एवं उसके महत्व के बारे में बताया गया. डॉ. सोबन, निदेशक मंडावर कृषक उत्पादक संगठन द्वारा कृषक उत्पादक संगठनों के निर्यात के क्षेत्र में संभावना, देय सुविधाएं, विभिन्न निर्धारित मानक व शर्तें, पैकेज फॉर ग्रांटिंग तथा परिवहन के संबंध में बताया गया. अंत में उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र द्वारा क्लस्टर अप्रोच के आधार पर खेती के महत्व और लाभ, प्रसंस्करण व वैल्यू एडिशन पर प्रकाश डालते हुए प्रथम दिवस के प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन किया गया.

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के पदाधिकारियों ने उठाए कई मुद्दे

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के पदाधिकारियों ने डीएम से की मुलाकात

बिजनौर। बकाया गन्ना भुगतान को लेकर राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के पदाधिकारियों ने डीएम से मुलाकात की। उन्होंने चड्ढा ग्रुप की चीनी मिल पर किसानों के बकाया 26 करोड़ के गन्ना मूल्य भुगतान के विषय में बताया। डीएम ने जिला गन्ना अधिकारी को बजाज ग्रुप के बिलाई शुगर मिल, चड्ढा ग्रुप की बिजनौर शुगर मिल व चांदपुर मिल के खिलाफ नोटिस जारी करने एवं कानूनी कार्रवाई के आदेश दिए। वहीं किसानों ने बिजली विभाग का मुद्दा उठाते हुए उनके कनेक्शन काटने को लेकर डीएम ने शिकायत की। इस पर डीएम ने एसई बिजली विभाग को फटकार लगाई। इसके अलावा किसानों ने खाद्यान्न विभाग का मुद्दा उठाते हुए अवैध रूप से बनाए जा रहे मिलावटी मावा, पनीर और दूध के बारे में डीएम से शिकायत की। डीएम ने खाद्यान्न विभाग के अधिकारी को अभियान चलाकर जांच करने के लिए आदेश दिया। किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने गुलदार की समस्या उठाई। साथ ही क्षेत्र में पिंजरे लगाकर गुलदार पकड़ने की गुहार लगाई। इस पर डीएफओ नजीबाबाद ने किसानों से गुलदार पकड़ने के लिए टीम गठित कर पिंजरा लगाने का आश्वासन दिया। डीएम से मिलने वालों में प्रदेश सचिव कैलाश लांबा, जिला अध्यक्ष विनोद कुमार उर्फ बिट्टू व पार्टी के पदाधिकारी मौजूद रहे।

विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियां

विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियां

01 नवम्बर, 2022 के आधार पर तैयार की जायेेगी बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

डाक द्वारा भी भेजा जा सकता है आवेदन पत्र- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

01 अक्टूबर से 07 नवम्बर तक लिए जायेंगे दावे और आपत्तियां- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

बिजनौर। कलक्ट्रेट स्थित महात्मा विदुर सभागर में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियों के संबंध में बैठक की अध्यक्षता करते हुए उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविन्द कुमार सिंह ने सर्वसाधारण को सूचित करते हुए बताया कि भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली के निर्देशानुसार, अर्हता तिथि 01 नवम्बर, 2022 के आधार पर निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण नियम, 1960 के नियम 31 के अनुसार उत्तर प्रदेश विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां तैयार की जायेगी।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी/ अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविन्द कुमार सिंह ने अवगत कराया कि बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां तैयार किये जाने हेतु आवेदक द्वारा आवेदन पत्र डाक द्वारा भी भेजा जा सकता है तथा आवेदक अपने परिवार के अन्य पात्र सदस्यों जो एक ही पते पर रह रहे हों, के फार्म-18 प्रस्तुत कर सकता है।

उन्होंने बताया कि जिला निर्वाचन कार्यालय, तहसील तथा समस्त बरेली-मुरादाबाद खण्ड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के पदाभिहित स्थलों (मतदेय स्थलों) पर इनका आलेख्य प्रकाशन किया जायेगा। दिनांक 01 अक्टूबर, 2022 से 07 नवम्बर, 2022 तक दावे और आपत्तियां निर्धारित फार्म-18 में सभी आवश्यक दस्तावेज सहित निर्धारित पदाभिहित स्थलों यथा तहसील कार्यालय या संबंधित मतदेय स्थलों पर प्रस्तुत कर सकता है।

इस अवसर पर जनपद के सभी पदाभिहित/सहायक पदाभिहित/अतिरिक्त पदाभिहित अधिकारियों एवं मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय/राज्यीय राजनैतिक दलों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व पदाधिकारी आदि उपस्थित रहे।

बिजनौर की भूमि ऋषि मुनियों की भूमि, यहां से अच्छा संदेश जाना चाहिए-जिलाधिकारी

जनपद बिजनौर में सभी त्योहार आपसी सौहार्द व भाईचारे से मनाए जाते हैं-जिलाधिकारी

बिजनौर की भूमि ऋषि मुनियों की भूमि, यहां से अच्छा संदेश जाना चाहिए-जिलाधिकारी

आपसी भाईचारे, प्रेम व सौहार्द से मनाएं त्योहार: जिलाधिकारी

सोशल मीडिया की अफवाहों पर न दें ध्यान, साफ-सफाई, बिजली व पानी की हो समुचित व्यवस्था-जिलाधिकारी

जुलुस के रूट को स्वयं देखे पुलिस अधिकारी, पुलिस गश्त बढ़ाएं-जिलाधिकारी

बिजनौर। महात्मा विदुर सभागार कलक्ट्रेट सभागार में त्योहारों के दृष्टिगत कानून एवं शांति व्यवस्था बनाये रखने के संबंध में शांति समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक के दौरान विभिन्न धर्मों के धर्मगुरुओं ने त्योहारों को सकुशल संपन्न कराने के संबंध में अपने विचार रखे। जिलाधिकारी ने शांति समिति के सदस्यों द्वारा विगत त्योहारों के दौरान मिले सहयोग की चर्चा एवं सराहना करते हुए आगे भी त्योहारों के दौरान जिला प्रशासन का सहयोग करने को कहा।

जनपद में दशहरा (महानवमी), दशहरा (विजयदशमी), ईद-ए-मिलाद/बारावफात, दीपावली, गोवर्धन पूजा, भैया दूज, चित्रगुप्त जयन्ती आदि त्योहारों को सकुशल संम्पन्न कराने के दृष्टिगत आहूत बैठक में जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि जनपद बिजनौर में सभी त्योहारों आपसी सौहार्द व भाईचारे से मनाये जाते हैं। उन्होंने कहा कि बिजनौर की भूमि ऋषि मुनियों की भूमि रही है। यहां से अच्छा संदेश जाना चाहिए।

जिलाधिकारी ने सभी त्योहारों को शांतिपूर्वक आयोजित कराने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि सभी लोग एक दूसरे का सहयोग करे। त्योहारों को खुशी के साथ मिलजुल कर मनाएं। जिलाधिकारी ने कहा कि जहां कहीं भी किसी दुर्घटना की आशंका हो, तत्काल उच्च अधिकारियों को सूचित करें।

जिलाधिकारी ने जन सामान्य से आह्वान किया कि सभी लोग मिल जुलकर आपसी प्रेम भाव से अपने त्योहारों को परंपरागत ढंग से मनाएं। जिलाधिकारी ने सोशल मीडिया की अफवाहों से बचने एवं तय समय सीमा के दौरान ही अपने कार्यक्रम करने को कहा।

जिलाधिकारी ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि समय का प्रबंधन करते हुए रूट को खुद देखकर जूलूस निकालने में सहयोग करें साथ ही पुलिस गश्त बनाएं। उन्होंने बैठक में उपस्थित संबंधित अधिकारियों उपरोक्त सभी त्योहारों में बिजली, पानी की बेहतर व्यवस्था करने के निर्देश दिए साथ ही साफ सफाई पर भी विशेष ध्यान देने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

बैठक के दौरान अपर जिला अधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक ने भी शांति समिति की बैठक में अपने विचार रखे। बैठक में सभी लोगों ने निर्धारित समय सीमा का पालन करने, अफवाहों से बचने एवं प्रेम पूर्वक त्योहार को मनाने को कहा। बैठक के दौरान विभिन्न धर्मों के धर्मगुरुओं ने त्योहार सकुशल संपन्न कराने के संबंध में अपने विचार रखे।
इस अवसर पर अपर जिला अधिकारी वि0रा0 अरविन्द कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक, समस्त उप जिलाधिकारी, समस्त पुलिस क्षेत्राधिकारी व धर्मगुरू आदि उपस्थित रहे।

काटे खेत में खड़े पेड़, पुलिस को देखकर आरोपी फरार

बिजनौर। कोर्ट में विचाराधीन मुकदमे के दौरान एक पक्ष ने खेत में खड़े पेड़ काट लिये। दूसरे पक्ष ने मामले की शिकायत डायल 112 पुलिस व थाना पुलिस को दी। पुलिस को देख कर आरोपी फरार हो गए।

नहटौर के मोहल्ला लकड़हारान निवासी बिलाल अहमद पुत्र शकील अहमद का कई वर्ष से अपने ताऊ व चाचा से दादा द्वारा फर्जी वसीयत अपने नाम करवाकर उनके हिस्से की जमीन हड़पने का मुकदमा न्यायालय में चल रहा है। आरोप है कि बीती रात उसके ताऊ बाबू अकील व चाचा वकील अहमद पुत्रगण जलील अहमद तथा मंडावर निवासी दानिश पुत्र नसीम अहमद विवादित खेत में खड़े पेड़ काट रहे थे इसकी सूचना उन्होंने डायल 112 पुलिस थाना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस को देख आरोपी फरार हो गए। पुलिस मौके से पेड़ काटने के औजार बरामद कर थाने ले गई। वहीं सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने एक आरोपी को भी हिरासत में लिया है। पीड़ित ने पुलिस से विवादित जमीन में खड़े पेड़ काटने के आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

बीएलओ ने एसडीएम को दी देख लेने की धमकी

लापरवाह बीएलओ ने दी एसडीएम को देख लेने की धमकी, रिकॉर्डिंग हुई वायरल। मतदाता कार्य में रुचि न लेने पर एसडीएम किशनी ने बीएलओ को किया था फोन। एसडीएम के मतदाता पुनरीक्षण कार्य में रुचि न लेने की बात कहने पर भड़का बीएलओ। बीएलओ ने एसडीएम को जमकर दी धमकी, कार्रवाई करने पर एसडीएम को अंजाम भुगतने की दी चेतावनी। बीएलओ का नाम पवन कुमार बताया जा रहा है।

मैनपुरी। एसडीएम किशनी राम नारायण को बीएलओ द्वारा धमकी देने की ऑडियो वायरल हुई है। मामला संज्ञान में आने के बाद जिलाधिकारी ने बीएलओ को निलंबित करने के साथ ही जांच शुरू करा दी है।

दरअसल एसडीएम किशनी राम नारायण ने बीएलओ पवन कुमार को मतदाता पुनरीक्षण कार्य में प्रगति जानने के लिए फोन किया था। बातचीत के दौरान एसडीएम ने मतदाता पुनरीक्षण कार्य में रुचि न लेने की बात कह दी तो बीएलओ भड़क उठा। बीएलओ ने एसडीएम को जमकर धमकी दी। यही नहीं कार्रवाई करने पर एसडीएम को अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दे डाली। पवन कुमार बीएलओ सहायक अध्यापक बताया गया है। दोनों के बीच की बातचीत का ऑडियो वायरल होने के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया। जिलाधिकारी ने तत्काल प्रभाव से बीएलओ पवन कुमार को निलंबित करने के साथ ही जांच शुरू करा दी है।

अब बिजनौर में “एक युद्व-नशे के विरुद्ध”


जिला बिजनौर को नशा मुक्त बनाने के लिए “एक युद्व-नशे के विरुद्ध। जिला प्रशासन ने छेड़ा अभियान, समाज के सभी वर्गाें में अभियान को सफल बनाने एवं जनांदोलन का रूप देने के लिए करें सहयोग, नशा जहां एक ओर सामाजिक बीमारी है वहीं दूसरी और अपराध को प्रेरित करने का मुख्य कारक -जिलाधिकारी उमेश मिश्रा
जिले को नशा मुक्त बनाने में सभी का सहयोग अपेक्षित, पुलिस द्वारा नशे का अवैध करोबार करने वालों के विरूद्व अभियान संचालित, अवैध नशे का करोबार करने वाले तथा नशा करने वालों के सम्बन्ध में व्हाट्सऐप नम्बर 8650601010 फोन अथवा मैसेज कर जानकारी कराएं उपलब्ध-पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि नशा मानसिक बीमारी है, नशा करने वाला व्यक्ति मन और शरीर दोनों से बीमार होता है, जो न केवल स्वयं अपने लिए बल्कि अपने परिवार और समाज के लिए भी समस्याग्रस्त होता है। उन्होंने कहा कि नशा मुक्त एवं स्वस्थ समाज निर्माण के लिए सभी को सामुहिक प्रयास करने होंगे और जन आंदोलन के रूप में इस बुराई को खत्म करने के लिए एकजुट होकर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि नशा जहां एक ओर सामाजिक बीमारी है वहीं दूसरी और अपराध के प्रेरित होने का मुख्य कारक है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी विशेष रूप से छात्र एवं छात्राओं को इस मानसिक बीमारी से बचाने के लिए जागरूक एवं उनकी काउंसलिंग करने तथा उनके लिए स्वस्थ एवं स्वच्छ वातावरण सृजित करने की आवश्यकता है।

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा कलक्ट्रेट स्थित महात्मा विदुर सभागार में स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के सहयोग से आयोजित नशा मुक्ति गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
जिलाधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन के सहयोग से पुलिस विभाग द्वारा “एक युद्व-नशे के विरूद्व” स्लोगन के साथ नशीली दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ नशा मुक्ति जन जागृति अभियान शुरू किया गया है, जो बिजनौर को नशा मुक्त जिला बनाने के लिए जन सहभागिता के साथ संचालित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस आंदोलन में समाज के सभी वर्गाें को शामिल किया गया है ताकि उसे जन आंदोलन का रूप प्रदान किया जा सके। उन्होंने कहा कि नशा एक बीमारी है तथा नशा करने वाला मानसिक बीमारी से ग्रस्त है। उन्होंने कहा कि समाज में नशे की प्रवृति बढ़ती जा रही है, जिसके कारण युवा पीढ़ी को शारीरिक, मानसिक, आर्थिक व सामाजिक रूप से हानि पहुंच रही है। उन्होंने कहा कि नशे पर काबू पाकर न केवल अपराध कम किये जा सकते हैं, साथ ही समाज प्रगति के पथ पर अग्रसर हो सकता है। उन्होंने कहा कि जिला बिजनौर के लोगों को कर्तव्य के साथ-साथ समाज को नशा मुक्त करने हेतु सजग प्रहरी की भूमिका निभानी होगी।
उन्होंने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि वह सभी विद्यालयों व कॉलेजों में नशे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में पोस्टर, निबंध व स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन करें और अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र एवं छात्राओं को पुरूस्कृत करें। यह भी कहा कि स्कूल एवं कॉलेजों द्वारा अभिभावकों को भेजे जाने वाले मैसेज में बच्चों को नशे से बचाने के लिए स्लोगन एवं चेतावनी भेजें और उन्हें अपने बच्चों के बैग चैक करने के लिए प्रेरित करें कि उसमें व्हाईट फ्लूड तो नहीं है, क्योंकि छात्र एवं छात्राओं द्वारा उसका प्रयोग नशे के लिए किया जा रहा है। उन्होंने व्हईटनर का दुरूपयोग रोकने के लिए बुक सेलर्स को निर्देश दिए कि बिना अभिभावकों के किसी भी बच्चे को व्हईटनर न दें और कोई दवाई विक्रेता बिना डाक्टर के दवाई के पर्चे के बिना युवाओं को सिरिंज न बेचें। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देश दिये कि सभी स्कूल व कॉलेजों के प्रधानाचर्याें को निर्देशित करें कि अभिभावकों के साथ बैठक करें तथा नशे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में उन्हें बताएं।

श्री मिश्रा ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि वर्तमान में संचालित संचारित अभियान के अंतर्गत होने वाली बैठकों में नशा मुक्ति अभियान को सफल बनाने के लिए घर-घर भ्रमण वाली टीमों को उक्त सम्बन्ध में आवश्यक प्रशिक्षण उपलब्ध कराएं ताकि वे जन सामान्य को जागरूक और सचेत करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकें।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिले को नशा मुक्त बनाने में सभी का सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा नशे का अवैध करोबार करने वालों के विरुद्ध अभियान संचालित है तथा इसी के साथ युवा पीढ़ी को नशामुक्त करने के लिए काउंसलिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी तथा आवश्यकतानुसार नशा मुक्ति केन्द्र अथवा सुधारगृह में भेजा जा सकता है। उन्होंने जन सामान्य का आह्वान किया कि नशे का करोबार करने वाले तथा नशा करने वाले व्यक्ति के सम्बन्ध में व्हाट्सऐप नम्बर 8650601010 फोन अथवा मैसेज करके उनके बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जा सकती है। उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि उक्त नम्बर पर सम्पर्क करने वाले व्यक्ति के सम्बन्ध में जानकारी गोपनीय रखी जाएगी।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविंद कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक डा0 प्रवीण रंजन, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, बेसिक शिक्षा अधिकारी जयकरण यादव, सहित डाक्टर्स, अधिवक्ता, व्यापारी संगठन, लायंस एवं रोटरी क्लब के प्रतिनिधि सहित अन्य संभ्रांत लोग उपस्थित थे।

बेइंतहां इंतजार: झालू हृदयानंद क्रीड़ा स्थल पर लटका ताला खुलेगा कब?

झालू हृदयानंद क्रीड़ा स्थल को आमजन ने की सुचारू कराने की मांग

लाखों रुपए की लागत से तैयार क्रीड़ा स्थल बना शो पीस

बिजनौर। झालू नगर के प्राईवेट बस स्टैंड के निकट स्थित पंडित हृदयानंद क्रीड़ा मैदान बदहाल स्थिति में है। मिनी स्पोर्ट स्टेडियम का निर्माण खेलकूद व्यायाम आदि के लिए हुआ था। बताया जाता है कि सरकारी मशीनरी की सुस्त नीति से मिनी स्टेडियम का निर्माण आठ वर्ष बाद भी सरकारी फाइलों में उलझा हुआ होने से पूरा नहीं हो पाया है। वर्तमान में कीड़ा स्थल पर ताला लटका हुआ है। बुजुर्ग, युवा, महिलाए, छोटे-छोटे बच्चे क्रीड़ा स्थल में व्यायाम, खेलकूद के अभ्यास से वंचित है।

सरकारी फाइलों में फंसा मामला:
कस्बा झालू में बस स्टैंड के समीप स्थित पंडित हृदयानंद क्रीड़ा स्थल का निर्माण सरकारी फाइलों में फंसने से अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम का निर्माण समय सीमा के अंतर्गत होने के लिए हुआ था। इसके बावजूद समय सीमा समाप्त होने के उपरांत भी मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम का आज तक निर्माण पूरा नहीं हो पाया। लाखों रुपए की लागत से बना मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम शो पीस बनकर रह गया है। मॉर्निंग वॉक पर निकलने वाले बुजुर्गों महिलाओं व बच्चों को स्टेडियम के गेट पर ताला लगा देखकर निराश होकर लौटना पड़ता है। मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम में खेलकूद के लिए लगाई गई सामग्री भी धूल चाट रही है। वहीं मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम में खेल के मैदान के साथ-साथ व्यायाम व छोटे बच्चों के लिए खेलकूद की सामग्री का भी निर्माण कराया गया, जिससे बुजुर्ग महिलाएं छोटे-छोटे बच्चे खेल मैदान में योग व्यायाम दौड़ अभ्यास से वंचित हो रहे हैं।

इस मामले में पुष्पेंद्र अग्रवाल, उमेंद्र अग्रवाल, सुमन, सुनीता, मोहम्मद जावेद, बीना, संध्या, रचित अग्रवाल, इति, सौरभ अग्रवाल, बलवंत वैशाली देवी सुधा, रामपाल सिंह, प्रदीप आदि का कहना है कि मॉर्निंग वॉक के लिए सुबह के समय से ही सड़कों पर वाहनों का अधिक आवागमन होने से प्रदूषण व सड़क हादसे हो जाते हैं जिसके चलते हम सुरक्षा की दृष्टि से पंडित हृदयानंद क्रीड़ा स्थल के अंदर मॉर्निंग वॉक, व्यायाम, योगा आदि करने के लिए जाने का प्रयास करते हैं तो क्रीड़ा स्थल के मेन गेट पर ताला लगा देख कर हमें निराश होकर लौटना पड़ता है। उन्होंने प्रशासन से शीघ्र ही हृदयानंद क्रीड़ा स्थल का उद्घाटन कर शुरू करने की मांग की है।

साजन सिंह एडवोकेट का कहना है कि सरकारी मशीनरी के सुस्त रवैया के कारण हृदयानंद कीड़ा स्थल का अभी तक प्रारंभ ना होना दुर्भाग्यपूर्ण है।

डॉ शुजाउद्दीन ने बताया कि वह वॉलीबॉल के खिलाड़ी रह चुके हैं। सन 1985 में बॉलीबॉल टूर्नामेंट में जिला स्तर पर ट्रॉफी जीती थी। तब के समय में भी खिलाड़ियों को खेलने के लिए कस्बा झालू में मैदान उपलब्ध नहीं थे, और आज भी खिलाड़ियों को खेलने के लिए इधर उधर मैदानों में जाना पड़ता है। इस कारण खिलाड़ियों में खेल के प्रति रुचि कम हो रही है।

डॉक्टर जीसी राय बंगाली ने बताया कि वह फुटबॉल खिलाड़ी रह चुके हैं। झालू में मिनी स्टेडियम न चलने से खिलाड़ियों की प्रतिभा पर अंकुश लग रहा है। उन्होंने प्रशासन से स्टेडियम को शीघ्र चालू करने की मांग की।

अख्तर हुसैन का कहना है कि लगभग पिछले 35 वर्षों से क्रिकेट खेल रहे हैं। झालू में स्पोर्ट्स स्टेडियम न होने से खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा को उजागर करने में बहुत परेशानी पड़ती है। वह अनेक बार नगर पंचायत प्रशासन से मिनी स्पोर्ट्स स्टेडियम को शीघ्र चालू करने की मांग कर चुके हैं।

झालू निवासी शादाब नजर वर्तमान में एयरपोर्ट्स में एयर फोर्स में तैनात हैं तथा एयरफोर्स की तरफ से रणजी ट्रॉफी में खेल रहे हैं। उनके भाई खालिद परवेज व शरीक परवेज बताते हैं कि उनके भाई शादाब नजर को झालू में खेल का मैदान न होने के कारण अभ्यास करने में बहुत कठिनाई का सामना करना पड़ता था। अभ्यास करने के लिए जिला मुख्यालय पर स्टेडियम में जाना पढ़ता था।

एडवोकेट साजन सिंह

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के निरीक्षण को पहुंचे डीएम एसपी

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के निरीक्षण को पहुंचे डीएम एसपी

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने थाना मंडावर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम राजारामपुर के निकट बाढ़ प्रभावित क्षेत्र, गंगा के जल प्रवाह, गंगा द्वारा किये गये मिट्टी कटान आदि का निरीक्षण किया।

इस दौरान वर्तमान में चल रही लगातार बारिश तथा गंगा के जलस्तर बढ़ने के कारण क्षेत्रवासियों को गंगा के आसपास न जाने तथा नाव द्वारा गंगा पार करके पशुओं आदि के लिये चारा न लाने के सम्बन्ध में जागरूक किया गया।

कृषि उत्पादन आयुक्त को भाकियू अराजनैतिक ने सौंपा ज्ञापन

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक के एक प्रतिनिधिमंडल ने कृषि उत्पादन आयुक्त उत्तर प्रदेश लखनऊ से मुलाकात कर किसानों की समस्याओं के विषयों पर चर्चा की। प्रतिनिधिमंडल ने विभिन्न समस्याओं से संबंधित ज्ञापन देकर उनके समाधान की मांग की और कहा कि उत्तर प्रदेश में सूखा पड़ने से किसान काफी गंभीर स्थिति में है। अगली फसल के लिए निवेश के पैसे भी उसके पास नहीं हैं। ऐसे में किसान को राहत दिया जाना आवश्यक है। कई विषयों पर कृषि उत्पादन आयुक्त मनोज कुमार से वार्ता की गई। भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश सिंह चौहान के नेतृत्व में वार्ता में धर्मेंद्र मलिक राष्ट्रीय प्रवक्ता, हरिनाम सिंह वर्मा प्रदेश अध्यक्ष, दिगंबर सिंह युवा प्रदेश अध्यक्ष मौजूद रहे। ज्ञापन में कहा गया कि कृषि एवं किसान की समस्या हमेशा लगी रहती है। कभी सरकारी नीतियों तो कभी प्रकृति के साथ न देने के कारण किसान पर कर्ज का भार बढ़ता जा रहा है। सरकार द्वारा समय समय पर किसानो को राहत दी जा रही है,लेकिन वह नाकाफी है
वर्तमान में उत्तर प्रदेश में बारिश न होने के कारण किसान अपनी बुवाई समय से कर नही पाए और जितनी बुवाई हुई उसे फसलों को बचाने में काफी खर्च करना पड़ रहा है। हाल में हुई बारिश ने किसानो की परेशानी को अधिक बढ़ा दिया है
खेती को लाभप्रद बनाने हेतु सरकार को छोटे बड़े हजारों कदम उठाने की आवश्यकता है।


किसानों को राहत दिए जाने के लिए भारतीय किसान यूनियन की मांग…
1-प्रदेश को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों के सभी देय पर अगली फसल की बिक्री तक रोक लगाई जाए
2-किसानों के कर्ज (राज्य/केंद्र) पर वर्तमान सीजन का ब्याज सरकार द्वारा सब्सिडी के रूप में दिया जाए। 6 माह के बिजली बिल माफ किए जाए।
3-आगामी सीजन में फसल बुवाई हेतु किसानों को उन्नत एवं गुणवत्ता युक्त बीज नि:शुल्क उपलब्ध कराए जाए। किसानों को खाद व कीटनाशक कर्ज पर दिए जाए।
4-उत्तर प्रदेश में कुछ चीनी मिलों द्वारा भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। किसानों को बुवाई से पहले भुगतान कराया जाए।
5-बारिश की कमी के कारण गन्ने में रेड रोट,केंसर व धान में बौनेपन की समस्या की कारण उत्पादन में लगभग 30% की कमी की संभावना है, लेकिन इस बार फसल उत्पादन के निवेश में वृद्धि हुई है। किसानों को राहत दिए जाने हेतु गन्ना मूल्य में वृद्धि व धान के किसानों को बोनस दिया जाए।
6-आवारा पशुओं की समस्या किसानों के जी का जंजाल बन चुकी है। गौशालाओं की क्षमता वृद्धि के साथ साथ गंगा नदी के किनारे गाय अभिहरण बनाए जाय। अन्ना प्रथा पर कानूनी प्रतिबंध लगाया जाए।
7-सभी अनुदानित उर्वरक की पैकिंग पर क्यूआर कोड के हर कंपनी की पहचान के लिए आवश्यक किया जाए, जिससे नकली उर्वरकों पर रोक लगाने में मदद होगी।
8-कृषि विभाग के तहसील स्तरीय कार्यालय सुचारू रूप से संचालित किए जाए। इनके संचालन हेतु बजट की व्यवस्था की जाए। स्कीम को लागू करने की अधिकार तहसील स्तर के अधिकारियों को दिए जाए।
9-नवसर्जित जनपदों में सामान्य जनपदों के अनुरूप कर्मचारी तैनात किए जाए। नव सृजित तहसीलों में कृषि विभाग के कार्यालय खोले जाए।
10-कृषि रक्षा केंद्रों को प्रभावी बनाने हेतु उन्नत बीज,कीटनाशक,खरपतवार नाशक की गुणवत्ता में सुधार किया जाए।
11- कृषि विभाग में जिप्सम के दाम दोगुने हैं, जो सब्सिडी के बाद भी महंगा है। इसकी जांच की जाए।
12-कृषि प्रसार का कार्य प्रदेश भर में नगण्य है, जिसके कारण किसानों को खेती कीटनाशक, उर्वरक बेचने वाले दुकानदार की सलाह पर करनी पड़ रही है। समय समय पर किसानों को एडवाइजरी जारी की जाए। सभी कृषि विज्ञान केंद्रों को सक्रिय किया जाए।
13-प्रदेश में नहरों की सफाई का कार्य ऐसे समय किया जाता है जब किसानों को पानी की आवश्यकता होती है। किसानों को पानी की जल्दी के बहाने सफाई की धनराशि बंदरबाट की भेट चढ़ जाती है, इसलिए नहरों की सफाई समय के अनुकूल व मैनुवल कराई जाए।
14-पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चौगामा नहर के निर्माण पर सरकार द्वारा हजारों करोड़ रुपए खर्च करने के बाद भी आज तक पानी टेल तक नहीं पहुंच पाया है। चौगामा नहर से डार्क जोन वाले 4जनपदों का लाभ होगा। चौगामा नहर में कम से कम बारिश के समय ही पानी दिया जाए, जिससे भूगर्भ के गिरते जलस्तर को रोका जा सके।
15-धान खरीद की सुचारू व्यवस्था किए जाने हेतु समय पर सभी क्रय केंद्र चालू किए जाए। तराई क्षेत्र में धान की अनाधिकृत बिक्री राइस मिल, मंडियों के बाहर खरीद करने वालो पर कार्यवाही की जाए।
16-पूर्व की भांति अगले माह के मध्य कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में कृषि से संबंधित सभी अधिकारियों के साथ भाकियू अराजनैतिक के पदाधिकारियों के साथ बैठक कराई जाए।

धामपुर प्रशासन ने किए अवैध खनन में 6 डंपर सीज

धामपुर पुलिस प्रशासन ने अवैध खनन में 6 डंपर सीज किए। अफजलगढ़ में तीन, शेरकोट में 2 और एक डंपर को धामपुर क्षेत्र में पकड़ा।

बिजनौर। धामपुर क्षेत्र में शासन के निर्देश पर अवैध खनन और ओवरलोड वाहनों के खिलाफ पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने चेकिंग अभियान चलाया। तहसील क्षेत्र में अवैध रूप से ओवरलोड खनन सामग्री ले जा रहे 6 डंपरों को सीज किया गया। जिले में अवैध ओवरलोड खनन सामग्री लाने और ले जाने की शिकायत लगातार जिला प्रशासन को मिल रही थी। अभियान के तहत 6 ओवरलोड अवैध रूप से खनन ले जा रहे डंपर को टीम ने पकड़कर सीज कर दिया। उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जा रही है।

एसडीएम धामपुर मनोज कुमार सिंह ने बताया कि डीएम और एसपी के निर्देश पर यह अभियान चलाया गया है। इस अभियान में अवैध रूप से खनन सामग्री ले जा रहे तीन डंपरों को अफजलगढ़ में पकड़ा गया है, जबकि दो डंपरों को शेरकोट और एक डंपर को धामपुर क्षेत्र में पकड़ा गया है। कुल 6 डंपरों को अभी तक पकड़ा गया है। अभियान लगातार जारी है।

स्वच्छता के प्रति घर-घर जाकर जन सामान्य को करें जागरूक: डीएम उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि एएनएम एवं आशाओं को अपने स्तर से निर्देशित करें कि वे अपने कार्य क्षेत्र में घर-घर जाकर जन सामान्य को स्वच्छता के प्रति जागरूक करें, क्योंकि संचारी रोगों का मुख्य कारण गंदगी होता है। बुखार के रोगी का पता चलने पर उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा जिला अस्पताल में भेजते हुए उनका सही तरीके से उपचार कराएं एवं आसपास के क्षेत्रों पर भी गहरी नजर रखें। इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए कि संचारी रोग एवं वैक्टर जनित रोग के बचाव व सावधानी के बारे में प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें, ताकि लोग जागरूक एवं सचेत रह कर स्वयं बचाव एवं सुरक्षा के उपाय करें।

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा कलक्ट्रेट महात्मा विदुर सभाकक्ष में आयोजित राष्ट्रीय वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफलतापूर्वक संचालित करने के उद्देश्य से अंतर्विभागीय समन्वय समीक्षात्मक बैठक की अध्यक्षता करते हुए संबंधित अधिकारियो को निर्देश दे रहे थे। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशों के अनुपालन में विगत वर्षाे की भांति इस वर्ष माह अक्तूबर,2022 में संचारी रोगों की रोकथाम हेतु प्रभावी उपाय अपनाते हुए व्यापक अभियान चलाया, संचालित किया जाएगा। इसी क्रम मे वर्ष 2022 मे संचारी रोग नियंत्रण अभियान 01 अक्टूबर से 31 अक्टूबर 2022, तक तथा दस्तक अभियान का प्रथम चरण 07 अक्टूबर से 21 अक्टूबर तक संचालित किया जायेगा। अतः पूर्व की भांति सभी गतिविधियां पुनः विस्तृत कार्ययोजना बनाकर इस वर्ष भी संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियाना को संचालित करना सुनिश्चित करें।

डीएम ने बैठक मे डेंगू/संचारी रोगों एवं अन्य वेक्टर जनित रोगों पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने के लिए पूर्ण गुणवत्ता के साथ विशेष संचारी रोग नियन्त्रण अभियान की गहनता से समीक्षा कर उपस्थित सभी संबंधित अधिकारियों को अभियान को पूर्णतः सफल बनाने के निर्देश दिए। डेंगू/संचारी रोगों तथा मलेरिया बुखार पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनका त्वरित एवं सही उपचार सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकताओं में शामिल है तथा इसके लिए अंतर्विभागीय सहयोग से संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अभियान चलाया जाये। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वर्तमान समय मे संचारी रोगों का प्रभाव है, जिसके कारण डेंगू रोग की सम्भावना को मद्देनजर रखते हुुए इस अभियान को पूर्ण मानक और निष्ठा के साथ संचालित करना सुनिश्चित करें ताकि अधिक से अधिक लोगों के जीवन की सुरक्षा की जा सके।

जिलाधिकारी ने कहा कि इन रोगों से बचाव हमारे लिये चुनौती के रूप में है, जिसको स्वीकार करते हुए हमें अंर्तविभागीय समन्वय के साथ कार्य करते हुये विजय प्राप्त करनी है। इसके लिये सम्बन्धित समस्त विभागों को अपने अपने कार्याे को लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त करने हेतु निर्देशित किया गया है। अभियान के अंतर्गत स्वास्थ्य, शिक्षा, पंचायत, पशु, महिला बाल विकास, नगर निकाय सहित अन्य संबंधित विभागों के कार्याे की समीक्षा की और उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

उन्होंने जिला पंचायज विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सफाई तथा जल निकासी का विशेष ध्यान रखें। नगरीय क्षेत्रों मे समस्त अधिशासी अधिकारी कचरा निस्तारण तथा नालियों की सफाई के साथ-साथ पेयजल की गुणवत्ता पर भी विशेष ध्यान रखें। अपने रोस्टर के अनुसार कार्य करते हुए बुखार के रोगी मिलने पर विशेषतया उस क्षेत्र में लार्वासाइड का छिडकाव एवं फांगिंग कराये जाने के निर्देश प्रदत्त किए जाएं।

इस अवसर पर संचारी रोग एवं वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी/जिला मलेरिया अधिकारी ने बैठक का संचालन करते हुए विस्तार से संचारी रोगों से बचाव एवं सुरक्षा के उपाय के साथ अभियान के दौरान आयोजित होने वाले कार्यक्रमों एव उक्त अभियान की जानकारी उपलब्ध कराई। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, समस्त अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, ई0ओ0 नगर पलिका/नगर पंचायत सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों व संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

नगीना तहसील में 17 गावों की 60 हजार बीघा सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे

NGT व हाईकोर्ट के आदेशों को कमिश्नर ने किया दरकिनार? एनजीटी व हाईकोर्ट के आदेशों को दरकिनार कर कमिश्नर ने दिया स्थगन आदेश। योगी सरकार भूमाफियाओं पर कर रही कड़ी कार्रवाई, वहीं भाजपा नेता दे रहे हैं संरक्षण। कमिश्नर मुरादाबाद पर आदेश की अवहेलना का मामला हाईकोर्ट में है विचाराधीन।

बिजनौर। नगीना तहसील में 17 गावों की हजारों बीघा सरकारी जमीन पर चले आ रहे अवैध कब्जे के मामले में एसडीएम कोर्ट के फैसले के विरुद्ध कमिश्नर मुरादाबाद ने स्टे कर 3 अक्टूबर तक यथास्थिति बनाये रखने के आदेश दिए हैं।

60 हजार बीघा सरकारी भूमि पर है कब्जा: गौरतलब है कि एसडीएम नगीना ने उक्त जमीनों पर अवैध कब्जा मानते हुए एनजीटी व हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में खातेदारों के नाम निरस्त कर मूल श्रेणी जंगल, नदी आदि के नाम दर्ज करने के आदेश जारी किये थे।
महत्वपूर्ण तथ्य है कि लगभग 60 हजार बीघा भूमि पर, जो कि सरकारी है पर स्थानीय लोग वर्षों से काबिज हैं। ये प्रकरण एनजीटी व हाईकोर्ट में में जा चुका है, जहाँ इस भूमि को सरकारी मानते हुए अवैध कब्जे हटाये जाने के आदेश जारी हो चुके हैं। मजेदार तथ्य है कि हाईकोर्ट में कमिश्नर मुरादाबाद के विरुद्ध इस मामले में कोर्ट की अवहेलना का मामला भी विचाराधीन है, जिसमें मुख्य पार्टी कमिश्नर मुरादाबाद ही है, क्योंकि कोर्ट के आदेश अवैध कब्जे हटाए जाने व कब्जाने वालों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश का पालन नहीं किया गया है, उस के बावजूद कमिश्नर मुरादाबाद द्वारा कोढ़ में खाज कहावत चरितार्थ करते हुए एसडीएम नगीना के कब्जे हटाए जाने के आदेश को स्टे प्रदान कर हाईकोर्ट के आदेश को दरकिनार कर दिया गया है। यही नहीं स्टे की कार्यवाही कर मुरादाबाद कमिश्नर ने एनजीटी के आदेश को भी ताक पर रख दिया है।

नगीना एसडीएम इससे पूर्व ग्राम मुर्तजा बाद, हल्लोवाली, तथा शंकरपुर के तीन ग्रामों की लगभग 25 हजार बीघा जमीन अवैध कब्जे से हटाकर सरकारी भूमि में दर्ज भी करा चुके हैं। इन तीनों ग्रामों की जमीन जंगल, झाडी़, नदी राजस्व अभिलेखों में दर्ज होने के बावजूद एनजीटी देहली व  हाईकोर्ट इलाहाबाद के भूमि को मूल श्रेणी में दर्ज करते हुए दोषी अधिकारियों, कर्मचारियों तथा हितपद व्यक्तियो के विरुद्ध क्रिमनल केस दर्ज करने के आदेशों के विपरीत कमिश्नर मुरादाबाद ने सरकारी भूमि व सरकार के विरुद्ध ही स्टे पारित कर दिया जबकि कमिश्नर को सरकारी सम्पति की रक्षा का मुख्य दायित्व होता है।

गौरतलब है कि जमींदारी उन्मूलन एक्ट लागू होने के पहले तत्कालीन राजस्व विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत के चलते ग्राम तेलीवाडा़, राजपुर कोट, शंकरपुर, मुर्तजापुर, हल्लोवाली, कादरगंज, मदपुरी, चंपतपुर चकला व सुलेमान शिकोहपुर के जंगल में लगभग 24,050 बीघा में फैली नदियों, झाडि़यों एवं सार्वजनिक सरकारी भूमि को 1360 फसली में राजस्व रिकॉर्ड में लोगों के नाम दर्ज कर दिये गये थे।

बसपा सांसद की शिकायत पर नहीं सुनवाई: इस मामले में किशन चंद व बसपा सासंद गिरिशचंद ने अधिकारियों से शिकायत की थी पर कोई सुनवाई नहीं हुई। इस पर इस मामले में किशन चंद द्वारा इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी। हाईकोर्ट के आदेश पर चकबंदी कमिश्नर की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने मामले की जांच कर तथ्यों को सही मानते हुए राजस्व अभिलेखों को सही करने की आख्या दी थी। इससे पहले तत्कालीन जिला प्रशासन ने भी इस मामले की जांच कराईं थी, जिसमें 17 गाँव की जंगल, रास्तों, नदी की लगभग 60 हजार बीघा सरकारी जमीन को वर्ष 1953 में कूट रचित प्रविष्टि के आधार पर खतौनी फसली वर्ष 1359 में एक लाइन का आदेश करके कुंवर चन्द्रभान सिंह के नाम करना पाया गया था। इसके बाद इन जमीनों के बैनामे होते रहे, तथा ये सरकारी भूमि अन्य लोगों के नाम पर की जाती रही।
एनजीटी देहली की पूर्ण पीठ ने 8 जून 2021 को याची किशन चंद बनाम राज्य सरकार में सुनवाई करते हुए जमीन पर काबिज लोगों को बेदखल कर उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश दिये थे। इस मामले में एसडीएम नगीना शैलेन्द्र कुमार की कोर्ट ने सुनवाई कर उक्त सरकारी भूमि पर काबिज लोगों को नोटिस जारी किये थे। भूमि से कब्जा हटाने की कार्यवाही शुरू होने पर क्षेत्रीय लोगों ने बढ़ापुर  विधानसभा के भाजपा विधायक सुशांत सिंह के दरबार में जाकर गुहार लगाई, जिसके बाद इस मामले में राजनीति शुरू हो गई। सत्तासीन सरकार के विधायक वोट बैंक को साधने के प्रयास में लगे दिखाई दिये तथा अवैध कब्जा धारियों की ऊपर तक पैरवी भी की जबकि मुख्यमंत्री अवैध कब्जे व भूमाफियाओं के विरुद्ध अभियान छेड़ अवैध कब्जे हटवाने में लगे हुए हैं।

सूत्रों की मानें तो इस अवैध कब्जों में बड़े बड़े नाम शामिल हैं, जो प्रभावशाली भूमिका में होने के कारण कई दशक से हजारों बीघा सरकारी भूमि पर काबिज हैं, वहीं करोड़ों अरबों की जमीन बेच भी चुके हैं, जो इन अवैध कब्जाधारियों की आड़ लेकर अपने को सुरक्षित करने तथा इस प्रक्रिया को आगे बढाने में लगे हुए हैं, देखना है कि योगी सरकार इन भू माफियाओं से सरकारी जमीन से कब्जा हटाने के लिए कार्यावाही करेगी या ये मामला राजनीति की भेंट चढे़गा?

दिव्यांगजनों के लिए विकास भवन में कैंप 24 सितम्बर को

बिजनौर। निदेशक, दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग, उ0प्र0 के द्वारा विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार/चिन्हांकन करने हेतु जनपद स्तर पर दिनांक 24 सितम्बर, 2022 को शिविर का आयोजन किया जाना है।

मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 24 सितम्बर, 2022 को प्रातः 10ः00 बजे से 03ः00 बजे तक विकास भवन परिसर बिजनौर में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार/कृत्रिम अंग सहायक उपकरण एवं दिव्यांग पेंशन चिन्हांकन/यू0डी0आई0डी0 कार्ड/आधार प्रमाणीकरण आदि के लिए कैम्प लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी दिव्यांगजन उक्त कैम्प में अपने समस्त अभिलेख लेकर विभाग द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ उठाएं।

प्रशासनिक के स्थान पर न्यायालय के आदेशों को दें प्राथमिकता: डीएम लखनऊ

लखनऊ। गुरुवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी सूर्य पाल गंगवार द्वारा लखनऊ बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ परिचायात्मक बैठक आहूत की गई। बैठक में बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों व जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा एक दूसरे को अपना परिचय दिया गया। जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि प्रशासनिक आदेशों के स्थान पर न्यायालय के आदेशों को प्राथमिकता दी जाए। उन्होंने कहा कि पैमाईश सम्बंधित प्रकरणों को धारा 24 के अंतर्गत उप जिलाधिकारी न्यायालय में वाद दाखिल कराते हुए पैमाईश कराई जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों से सदभावपूर्ण वार्तालाप किया जाये, जिससे आपसी समान्जस बनाया जा सकें। साथ ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से भी समय-समय पर मीटिंग करने की व्यवस्था को सुनिश्चित किया जाए। सभी अधिकारीगण व अधिवक्तागण राजस्व के अंग है।

जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अधिकारियों द्वारा दैनिक कार्यो का समय अवधि में निस्तारण किया जाए, सभी कोर्ट में दैनिक कार्य हो, तहसीलों में पैमाइश आदि के कार्यो का निस्तारण समय से हो, ताकि कोई समस्या उत्पन्न न हो। कोर्ट में वादों का समयबद्ध निस्तारण करनें की व्यवस्था की जाये और प्रशासनिक दयत्वों को निभाते हुए रेगूलर कार्ट की जाये। समस्त अधिवक्तागण तथ्यात्मक रुप से कोर्ट में वाद प्रतिवाद करने के लिए प्रतिबद्ध हों तथा नियमों के आधार पर पक्ष प्रस्तुत किया जाये, जिसके लिए अपने जूनियर के माध्यम से तथ्यों को कोर्ट में पेश किया जाये ताकि कोर्ट के वादों का निस्तारण नियमानुसार गुण्वत्तापूर्ण तथा सही समय पर किया जा सके। बाद में जिलाधिकारी द्वारा बार एसोसिएशन के कार्यालय भवन का भी निरीक्षण किया गया। बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन, अपर जिलाधिकारी नगर पूर्वी, अपर जिलाधिकारी एल0ए0 प्रथम, अपर जिलाधिकारी एल0ए0 द्वितीय, समस्त अपर नगर मजिस्ट्रेट, अध्यक्ष बार एसोसिएशन, उपाध्यक्ष बार एसोसिएशन, महामंत्री बार एसोसिएशन सहित समस्त बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

सक्सेना जी ने तो कटा लिया चालान, लेकिन अब सो रही पुलिस!

गाड़ी पर जाति लिखवाने पर करनी थी कार्रवाई।
UP में ‘Saxena Ji’ के नाम दिसंबर 2020 में कटा था पहला चालान। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर लगाया था प्रतिबंध।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में गाड़ियों पर जातिसूचक शब्द लिखवाने पर कड़ी कार्रवाई ठंडे बस्ते में गई है। दिसंबर 2020 में किसी भी गाड़ी पर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने पर रोक लगा दी गई थी। इस नए आदेश के अनुपालन में प्रदेश का पहला चालान राजधानी में कानपुर के “सक्सेना जी” की गाड़ी का काटा गया था। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

बताया गया है कि महाराष्ट्र के एक शिक्षक ने उत्तर प्रदेश में कार, बाइक, ट्रक, ट्रैक्टर और ई-रिक्शा पर जाति सूचक शब्द लिखे होने का मामला उठाते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की थी। उन्होंने इसे सामाजिक खतरा बताया था।शिकायत का संज्ञान लेते हुए पी.एम.ओ. ने उत्तर प्रदेश सरकार को कार्यवाही करने के आदेश दिए। आदेश का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के अपर परिवहन आयुक्त ने धारा 177 के तहत कार्यवाही करने के आदेश जारी किए। तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक सुजीत दुबे के मुताबिक थाना नाका हिन्डोला अंतर्गत दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन चेक पोस्ट पर वाहनों की चेकिंग कर रहे सब इंस्पेक्टर दीपक कुमार अशोक ने कार पर लिखे ‘जाति सूचक’ शब्द पर पहला चालान किया।

क्या कहा था पुलिस आयुक्त ने?
पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर के अनुसार एक वैन नाका थाना क्षेत्र से होकर कानपुर की ओर जा थी। इस पर नंबर कानपुर का दर्ज होने के साथ ही पीछे शीशे पर “सक्सेना जी” लिखा था। इस दौरान एसआई दीपक कुमार ने वाहन चेकिंग अभियान के तहत गाड़ी को रोका और चालान कर दिया।

वीडियो भी हुआ था वायरल
लखनऊ में वाहनों पर जातिसूचक शब्द लिखे जाने पर कार्रवाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में एक पुलिस कर्मी पहले नए आदेश को गाड़ी चालक को समझता है जिसकी गाड़ी पर ‘सक्सेना जी’ लिखा होता है, फिर कहता है कि वह उसकी गाड़ी का चालान कर रहा है। इसके बाद पुलिसकर्मी 500 रुपए का चालान काट देता है।

पूरे प्रदेश में नियमों की अनदेखी: फिलहाल पूरे उत्तर प्रदेश में यातायात के नियमों की अनदेखी की जा रही है। वाहन चालक खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाते हुए घूम रहे हैं, लेकिन विभाग उदासीन है।

ब्लॉक प्रमुखी जीतने को खर्च किए ₹3 करोड़, वायरल ऑडियो पर शिकायत

अलीगंज ब्लॉक प्रमुख रेखा शाक्य के पति डॉ. अशोक रतन शाक्य के कथित वायरल ऑडियो को लेकर अधिकार सेना के राष्ट्रीय संयोजक रिटायर्ड आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने शासन में शिकायत की है। साथ ही इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो भी उन्होंने जारी किया है। यह भी कहा गया कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव जीतने के लिए तीन करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

ब्लॉक प्रमुख पति के कथित वायरल ऑडियो पर अमिताभ ठाकुर ने की शिकायत
एटा। अलीगंज ब्लॉक प्रमुख रेखा शाक्य के पति डॉ. अशोक रतन शाक्य के कथित वायरल ऑडियो को लेकर अधिकार सेना के राष्ट्रीय संयोजक अमिताभ ठाकुर ने शासन में शिकायत की है। साथ ही इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो भी उन्होंने जारी किया है। हालांकि ब्लॉक प्रमुख के पति इसे अपना ऑडियो मानने से इनकार कर रहे हैं।

भाजपा विरोधी, यादव और मुसलमानों को नहीं देंगे कोई काम: ब्लॉक प्रमुख की फोन कॉल का कथित ऑडियो सोमवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसमें फोन पर उनकी बात कानपुर नगर के रवि द्विवेदी से होती है। बातचीत के दौरान ब्लॉक प्रमुख पति के नाम से व्यक्ति कहता है कि हम भाजपा विरोधी, यादव और मुसलमानों को कोई काम नहीं देंगे। साथ ही अभद्र भाषा का प्रयोग भी किया गया।

जांच कराकर कार्रवाई की मांग: यह भी कहा गया कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव जीतने के लिए तीन करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इसी को लेकर अमिताभ ठाकुर ने मुख्यमंत्री सहित पीएमओ, गृह मंत्रालय, आयकर विभाग व ईडी के अधिकारियों को शिकायत भेजी है। कहा है कि मामला काले धन और कर चोरी से जुड़ा है और आपराधिक कृत्य का मामला है। इस पर जांच कराकर कार्रवाई की जानी चाहिए।

एक यूनिट पर आधा किलो अनाज कम दे रहे हैं राशन डीलर

डीलरों व विभाग की मिलीभगत से राशन वितरण प्रणाली चढ़ी भ्रष्टाचार की भेंट

बिजनौर। जिले में राशन वितरण में धांधली की शिकायतें आने के बावजूद कोई सुधार होता नहीं प्रतीत हो रहा है।  राशन डीलर एक यूनिट पर आधा किलो अनाज कम दे रहे हैं कुछ राशन डीलरों ने नाम न  बताने की शर्त पर बताया कि उन्हें वितरण के लिए आवंटन अनाज प्रति कुन्टल पांच किलो पहले ही कम मिलता है ऊपर से विभाग को भी चढ़ावा चढाना होता है अगर हम पूरा देंगे तो हमें घर बैठना होगा।

गौरतलब है कि कोरोना के समय महिने में दो बार राशन का वितरण किया गया जिसमें भारी घपला किया गया। इसी के चलते ये राशन वितरण राशन डीलरों की बड़ी आय का जरिया बन गया। अधिकांश डीलरों ने मनमाने ढंग से वितरण किया, राशन लेने वाली जनता ने भी कोई शिकायत इसलिए नहीं की कि राशन डीलर नाराज न हो जाये। अब सरकार ने फ्री राशन की योजना बन्द कर दी है तभी से राशन डीलरों ने कटौती करना शुरू कर दिया है।  इस बारे में जिला पूर्ति अधिकारी से जानकारी की गई तो उन्होंने, हम क्या कर सकते हैं कहकर विवशता जता दी।  राशन कम देने का मामला बिजनौर दौरे पर आये प्रभारी मन्त्री के सामने भी उठ चुका है जिस पर जांच कराने की बात कह मन्त्री द्वारा भी औपचारिकता निभा दी गई। राशनकार्ड में भी डीलरों द्वारा हेराफेरी कर राशन का गोलमाल किया जा रहा है कई माह से राशनकार्ड बनवाने के लिए भटक रहे शरीफ ने बताया कि मेरा राशनकार्ड बिना किसी जानकारी के एक साल पहले केन्सिल कर दिया गया था ये जानकारी राशन डीलर से मिली तभी से दो बार आनलाइन आवेदन किया पर अब बताया गया है कि ये राशनकार्ड चालू है तथा इस पर राशन भी दिया जा रहा है। अब शरीफ विभाग के चक्कर काट रहे हैं कि उनके नाम पर कौन किस डीलर से राशन ले रहा है। सूत्रों की माने तो ये सब गोलमाल डीलर व विभाग के बीच का है जो पहले से ही बड़ी संख्या में उपभोक्ता को गफलत में रख राशन डकार जाते हैं। सरकार ने भले ही आनलाइन सब व्यवस्था कर दी है पर घपलेबाज तू डाल डाल, मैं पात पात, की कहावत चरितार्थ कर अपना उल्लू सीधा करने में कामयाब हैं।

गौवंशों की सेवा के लिए प्रिंस चौधरी ने लगाया कैंप

बिजनौर। भाजपा नेता प्रिंस चौधरी ने गौवंशों की सेवा का बीड़ा उठाया है। इसके लिए उनके गोल बाग स्थित कैम्प कार्यालय पर सुविधा उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने बताया कि किसी किसान भाई की गौमाता को लिम्पी रोग या उसके लक्षण हों, तो तुरंत गोल बाग स्थित उनके कैम्प कार्यालय पर सम्पर्क करें। इसके साथ ही उन्होंने सर्वसाधारण से अपील की है कि यदि आपको जंगल में या अपने आसपास कोई गौमाता लिम्पी बीमारी से ग्रसित दिखाई दे तो कृपया उनके मो० नं० 6396117230, 9412567870 पर सूचित कर इस पुण्य कार्य में सहयोग प्रदान करें। भाजपा नेता ने कहा कि वह सुख-दुःख की हर घड़ी में सभी सम्मानित क्षेत्रवासियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं।

तारीख पर तारीख को लेकर भिड़े दो पक्ष

एसडीएम कोर्ट में भिड़ते दो पक्ष

बिजनौर। पंचायत चुनाव में कथित तौर पर फर्जी वोट डलवा कर जीतने वाले पक्ष के खिलाफ एसडीएम बिजनौर कोर्ट में पिटिशन डालने वाले पक्ष और विपक्ष के पैरोकारों में तारीखों को लेकर भिड़ंत हो गई। जमकर बवाल हुआ, हाथापाई तक की नौबत आ गई। मामला सुर्खियों में बना हुआ है।

जानकारी के अनुसार पंचायत चुनाव में पराजित प्रत्याशी की ओर से विजयी प्रत्याशी के खिलाफ फर्जी वोट डलवाने की शिकायत एसडीएम बिजनौर कोर्ट में डाली गई थी। मंगलवार को दोनों पक्ष के पैरोकार एसडीएम बिजनौर कोर्ट पहुंचे।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पराजित पक्ष चाहता था कि तारीख जल्दी की मिले, जबकि दूसरा पक्ष देरी की चाहता था। बस इसी को लेकर दोनों पक्ष भिड़ गए। कोर्ट के अंदर ही तीखी बहस और नोंकझोंक हो गई।

आखिर क्या है मामला? ग्राम पंचायत चुनाव में ग्राम कंभौर में आकेंद्र पाल सिंह की पत्नी शोभना और पूर्व प्रधान ओमवीर सिंह की पत्नी रेनू भाग्य आजमाने को उतरी थीं। चुनाव परिणाम आया तो रेनू ने शोभना को 18 वोट से पराजित कर दिया। आकेंद्र पाल सिंह का कहना है कि उनकी पत्नी शोभना को फर्जी वोट डलवा कर हराया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि जीतने वाले पक्ष ओमवीर सिंह ने लगभग आधा सैकड़ा फर्जी वोटर बनवा कर चुनाव में धांधली की। फर्जी वोटर ग्राम खासपुरा, गंगौड़ा, बिजनौर शहर के मोहल्ला जाटान, कांशीराम कालोनी आदि में रहते हैं और उनके वहां भी वोट हैं। अर्थात उक्त लोग दो जगहों पर वोटर हैं। जुलाई में पराजित पक्ष शोभना की तरफ से एसडीएम बिजनौर कोर्ट में पिटिशन डाली गई। तब से लगातार कई तारीखें लग चुकी हैं।

राजनैतिक आका के दम का दम: दो का कर दिया काम, अब रह गया है एक और…

इसे राजनैतिक आका के दम का दम ही कहा जाएगा कि बिजनौर के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में पेट्रोल पंप के सामने युवक की जान लेने की कोशिश करने हमलावरों के हौसले बुलंद हैं। एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को भी जमकर पीटने वाले कहते घूम रहे हैं कि दो का कर दिया काम, अब रह गया है एक और…। उधर मुखबिरी करने वाले को भी फंसने का अंदेशा हुआ तो उसने भी सारे घोड़े खोल लिए।

बिजनौर। पुलिस की हीलाहवाली के चलते जिला मुख्यालय के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले के आरोपी छुट्टा घूम रहे हैं।राजनैतिक आका की शरण में पहुंचने के बाद जहां हमलावर अपने बुलंद हौसलों के साथ किसी नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं, वहीं पुलिस भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

14 सितंबर को कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने महावीर स्कूल व पेट्रोल पंप के बाहर दिल्ली से आए युवक की जान लेने की कोशिश की गई। युवक जन्मदिन मनाने अपने घर आया हुआ है। कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। थाना शहर कोतवाली पुलिस ने घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

गौरतलब है कि दिल्ली में रहकर इंटीरियर डेकोरेशन का काम करने वाला सजल कुमार 14 सितंबर को जन्मदिन होने के कारण अपने घर ग्राम कम्भौर आया हुआ था। सजल ने अपने मित्रों को बर्थडे पार्टी के तौर पर कुल्फी खिलाने के लिए सिविल लाइंस प्रथम स्थित महावीर स्कूल व पेट्रोल पम्प (कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने) बुलाया। इसी दौरान कम्भौर के ही एक युवक ने सजल से बातचीत की और मोबाइल फोन पर किसी से बात करने लगा। कुछ ही देर में जमालपुर, चौकपुरी व छोइया नंगली निवासी कुछ युवक अपने 5-6 साथियों के साथ वहां पहुंचे और सजल को और जान से मारने की नीयत से मारपीट शुरू कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर आराम से फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। वहीं पेट्रोल पंप व अन्य सीसीटीवी कैमरों में घटना कैद हो गई है। यही नहीं उक्त वारदात को अंजाम देने के कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। पुलिस को दी गई तहरीर में शुभम निवासी जमालपुर, मयंक चौधरी निवासी चौकपुरी व तरुण चौधरी निवासी छोइया नंगली व 5-6 अन्य अज्ञात पर घटनाओं का आरोप लगाया गया। सूचना पर थाना शहर कोतवाली पुलिस ने जिला संयुक्त चिकित्सालय में घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर लगा प्रश्नचिन्ह अब भी बरकरार है।

रहस्यमई महिला पुलिस कांस्टेबल: जानकारों का कहना है कि घटना के वक्त मौजूद एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। इसके बावजूद उसने अब तक थाना चौकी पुलिस को घटना की बाबत कोई जानकारी नहीं दी ही।

राजनैतिक आका का हमलावरों को अभयदान: सूत्रों का कहना है कि मामले में राजनैतिक आका ने हमलावरों को अभयदान दे दिया है। उन्हें पूरा विश्वास दिलाया गया है कि पुलिस कुछ भी नहीं बिगाड़ सकती। इसलिए वे अब और भी ज्यादा खूंखार होकर नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में शिकार की तलाश कर रहे हैं। वैसे राजनैतिक आका भी कृष्ण जन्म भूमि में अंदर बाहर के खेल से बखूबी परिचित हैं।

पर्यावरण संरक्षण के लिए अमृत सरोवर पर पौधारोपण

बिजनौर। होमगार्ड विभाग द्वारा पर्यावरण एवं जल संरक्षण अभियान के तहत मंगलवार को स्योहारा के ब्लाक बुढ़नपुर की ग्राम पंचायत बुढ़नपुर में अमृत सरोवर पर पौधरोपण किया गया। जिला कमांडेंट अभिलेश नारायण, एसडीएम धामपुर मनोज कुमार व ब्लाक प्रमुख उज्जवल चौहान मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। अमृत सरोवर पर पहुंचे जिला कमांडेंट व सभी होमगार्ड जवानों ने पौधे रोपे। जिला कमांडेंट अभिलेश नारायण ने कहा कि वृक्ष हमारे जीवन की एक पूंजी हैं, जिससे पर्यावरण में शुद्ध ऑक्सीजन हमें प्राप्त होती है। हम सभी लोगों को अपनी खाली जगह पर पौधे लगाने चाहिए जिससे कि शुद्ध जल व वायु हमें मिल सके।

एसडीएम मनोज कुमार ने कहा कि जल से भरे सरोवरों के आसपास प्राकृतिक सौंदर्य की अनुभूति हो इसके लिए सरोवर के चारों तरफ विभिन्न प्रजाति के पौधे भी रोपे जाएंगे। जब पौधे पेड़ हो जाएंगे तो तालाबों के चारों तरफ ठंडी छांव रहेगी। तब सरोवर की सैर का लुत्फ ही अलग होगा। कोई भी मौसम हो, गांव में ही फुर्सत के पल बिताने के लिए प्राकृतिक स्थल उपस्थित रहेगा, जिससे सरोवरों से पर्यावरण का संरक्षण होगा। ब्लाक प्रमुख उज्जवल चौहान ने पर्यावरण संरक्षण के प्रति ग्रामीणों को जागरूक किया। इस मौके पर एडीओ सांख्यिकी अवनीश कुमार, तकनीकी सहायक अरविंद कुमार, ग्राम प्रधान शकीला बानो, डीओ होमगार्ड राजीव चौहान व गंगाराम सिंह, एसीसी हुकम सिंह, सीपी बृजपाल सिंह सहित धामपुर स्योहारा में तैनात सभी होमगार्ड मौजूद रहे।

एक करोड़ रुपए तक का प्राप्त करें ऋण

खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम। एक करोड़ रुपए तक का प्राप्त करें ऋण।

बिजनौर। उ.प्र. खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का क्रियान्वयन किया जा रहा है। उक्त योजना के अन्तर्गत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के बेरोजगार व्यक्त्यिों के लिए निर्माण क्षेत्र में धनराशि रुपया 25.00 लाख के स्थान पर धनराशि रुपया 50.00 लाख तक साथ ही सेवा क्षेत्र के लिए धनराशि रू0 10.00 लाख के स्थान पर रू0 20.00 लाख तक बैंकों के माध्यम से ऋण लेकर रोजगार शुरू कर सकते हैं।

जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कुंवर सेन ने बताया कि योजनान्तर्गत व्यवसायिक गतिविधियां प्रतिबन्धित थीं, किन्तु अब उत्पादन से जुड़ी रिटेल शॉप/ट्रेडिंग पर ऋण हेतु बजट का 10 प्रतिशत की सीमा तक व्यवस्था कर दी गई है। योजनान्तर्गत पूर्व में स्थापित इकाईयों द्वारा निर्मित उत्पाद खादी उत्पादन तथा खादी ग्रामोद्योग आयोग द्वारा प्रमाणित उत्पादों के आउटलेट खोले जाने के लिये धनराशि रुपया 20.00 लाख तक ऋण की व्यवस्था कर दी गई है।

ट्रांसपोर्ट वाहनों पर भी वित्त पोषण: उन्होंने बताया कि पूर्व में ट्रांसपोर्ट वाहनों पर वित्त पोषण के लिए योजना में कोई प्रावधान नहीं था किन्तु अब निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष 10 प्रतिशत अनुदान धनराशि ट्रांसपोर्ट  वाहनों कैब, वैन आदि के क्रय पर व्यय की जा सकती है। यह योजना सभी प्रकार के पब्लिक सेक्टर, कोआपरेटिव, क्षेत्रीय ग्रामीण एवं आरबीआई द्वारा नियंत्रित सभी प्रकार के शिडयूल्ड प्राइवेट, कॉमर्शियल, प्राइवेट बैंक में लागू होगी।

नवीनीकृत की गयी योजना: नवीनीकृत की गयी योजना के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र के लाभार्थियों को 25-35 प्रतिशत तथा शहरी क्षेत्र के लाभार्थियों हेतु 15-25 प्रतिशत तक की मार्जिन मनी अनुदान प्रदान करने का प्रावधान है। द्वितीय ऋण हेतु तीन वर्षों के उपरान्त सफल इकाईयों को विस्तार हेतु धनराशि रुपया 1.00 करोड़ तक का ऋण एवं 15 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान है।

आवेदन करें ऑनलाईन: जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कुंवर सेन ने बताया कि आवेदन ऑनलाईन kviconline.gov.in/pmegpeportal/ पोर्टल पर जाकर किया जा सकता है। योजना के अन्तर्गत आवेदक की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिये साथ ही आवश्यक प्रपत्र यथा पासपोर्ट साइज फोटो, आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र शैक्षिक योग्यता, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, ग्राम प्रधान द्वारा प्रमाणित अनापत्ति प्रमाण पत्र आदि अपलोड करना अनिवार्य है। इच्छुक ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के व्यक्ति उक्त योजनान्तर्गत अधिक जानकारी हेतु जिला ग्रामोद्योग कार्यालय बिजनौर से मो.-9412657090, 9927090066 तथा 9411044303 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंद

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंदबीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।

बिजनौर। चांदपुर में पोस्टर/फ्लैक्सी के चक्कर में नपे भावी प्रत्याशी। पुलिस ने दो लाख के मुचलकों में पाबंद किया। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।
मामला बिजनौर जिले के तहसील चांदपुर क्षेत्र का है, जहां भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेन्द्र सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर शीर्ष नेतृत्व के आभार और शुभकामनाओं के पोस्टर फ्लैक्सी लगे हुए हैं।
निकाय चुनाव को लेकर भावी प्रत्याशी चांदपुर में भी जगह-जगह पोस्टर फ्लेक्सी लगा रहे हैं। चांदपुर में ऐसा मानो जैसा एक तरह से पोस्टर वार चल रहा हो। अब इस पोस्टर वार के चक्कर में बेचारे नगर पालिका परिषद के भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद नफीस नप गए, जिसका उन्हें भारी खामियाजा भुगतना पड़ा है।

बताया जाता है कि पुलिस रोड गश्त कर रही थी। इसी दौरान देखा कि मोहम्मद नफीस निवासी मोहल्ला काजीजादगान कस्बा व थाना चांदपुर अपने फ्लेक्सी पोस्टर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के लगे पोस्टर फ्लेक्सी को हटाकर लगवा रहे थे। इसके लिए उन्होंने नगर पालिका से अनुमति भी प्राप्त नहीं की थी। दूसरी ओर यह देखकर लोगों में आक्रोश फैल गया। उनके द्वारा ऐसा काम करने से मना करने पर मोहम्मद नफीस आग बबूला हो गए। मौके पर विवाद बढ़ने लगा।

मना करने पर भी नहीं माने
उधर पुलिस ने शांति भंग होने की आशंका में भावी प्रत्याशी को गिरफ्तार कर लिया और थाने ले आई। फिर उनको न्यायालय भेजा गया। न्यायालय से ₹200000 के मुचलके पर उन्हें जमानत दे दी गई है।

नया गांव हत्याकांड में सभी 8 आरोपी साक्ष्य के अभाव में बरी

बिजनौर। लगभग साढ़े 5 साल पूर्व नया गांव के बहुचर्चित विशाल हत्याकाण्ड के सभी 8 आरोपियों को अदालत ने साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया है।

जानकारी के अनुसार 10 जनवरी 2017 को ग्राम कच्छपुरा व नया गांव के बीच स्थित सरकारी ट्यूबवैल पर नया गांव निवासी संजय के पुत्र विशाल की अज्ञात लोगों ने चाकू से गोदकर व गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना में पेदा निवासी प्रधान अनीस, पूर्व प्रधान इकबाल तथा शमीम, हनीफ, नफीस, इस्तखार, फुरकान व अकबर को नामजद किया गया था। विशाल की हत्या वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान बिजनौर में हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी सभा के दिन ही सभा के थोड़ी देर बाद हुई थी। इस हत्याकाण्ड को राजनीतिक रूप व काफी तूल दिया गया था। तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी। मामले की विवेचना सीबीसीआईडी बरेली जोन को दी गई थी। सीबीसीआईडी ने सभी नामजद आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की और सभी अभियुक्तों को जेल जाना पड़ा। अभियुक्त इकबाल, हनीफ और फुरकान करीब तीन साल से जेल में थे।

इस मुकदमे का विचारण अपर जिला सत्र न्यायाधीश डॉ. विजय कुमार के न्यायालय में हुआ। न्यायालय ने आरोपियों के जेल में अधिक समय से होने के कारण त्वरित गति से सुनवाई की। अभियोजन पक्ष के मौके के सभी गवाहों की गवाही के साथ पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर के बयान भी कराये गए। सबूत पक्ष के सभी कागजातों की औपचारिकता को बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं द्वारा स्वीकार कर लेने के बाद अभियोजन के गवाहों व अभियुक्तों के बयान तथा बहस सुनकर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश डॉ. विजय कुमार ने साक्ष्य के अभाव में सभी अभियुक्तों को निर्दोष मानते हुए बरी कर दिया। अभियुक्तों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राजेंद्र कुमार पूर्व अध्यक्ष जिला बार एसोसिएशन तथा जकावत हुसैन एड. ने पैरवी की।

पुलिस हुई सख्त: नूरपुर, नहटौर में अवैध संचालित वाहन सीज

बिजनौर। नूरपुर में पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के विरुद्ध अभियान चलाया। इस दौरान 6 वाहनों को सीज कर दिया गया। थाना प्रभारी निरीक्षक धीरज सिंह सोलंकी ने बताया कि उपजिलाधिकारी मांगेराम सिंह चौहान के नेतृत्व में अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही की गई। अवैध रूप से खनन से भरे दो ट्रक, दिल्ली जाने वाली दो डग्गामार बसों व दो अन्य वाहनों को पकड़कर सीज कर दिया गया। इस कार्यवाही से अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के संचालकों में हड़कम्प मच गया। संयुक्त अभियान में एआरटीओ गौरीशंकर सिंह, सीओ सुनीता दहिया, प्रभारी निरीक्षक धीरज सिंह सोलंकी व पुलिसकर्मी मौजूद रहे।

दूसरी ओर नहटौर पुलिस ने अवैध / अनफिट वाहनों के खिलाफ अभियान चला कर तीन निजी बसों को सीज कर दिया। पुलिस ने तीन निजी बसों को रोककर उन्हें चैक किया तो चालकों के पास वैध प्रमाण-पत्र नहीं मिले। इस पर तीनों निजी बसों को सीज कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह दो राज्यमंत्रियों के साथ जिले के दौरे पर आए थे। इस दौरान मंत्री धर्मपाल सिंह से अवैध बसों के चलने की शिकायत की गई थी, जिस पर उन्होंने अवैध बसों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिये थे ।

प्रधानमंत्री के जन्म दिवस पर जीवन और व्यक्तित्व पर आधारित प्रदर्शनी

प्रधानमंत्री के जन्म दिवस पर जीवन और व्यक्तित्व पर आधारित प्रदर्शनी का सीडीओ पूर्ण बोरा ने किया उद्घाटन। लगाई गई चित्र प्रदर्शनी कहानी भारत के सच्चे सपूत की 02 अक्टूबर 2022 तक मनाया जा रहा सेवा पखवाड़ा।

बिजनौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 72वें जन्मदिन के अवसर पर छाया चित्र प्रदर्शनी कहानी भारत माँ के सच्चे सपूत की चित्र प्रदर्शनी कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई। शुभारंभ जिलाधिकारी उमेश मिश्रा के निर्देशों के अनुपालन में मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा द्वारा विधिवत रूप से फीता काटकर किया गया।

उन्होंने प्रदर्शनी का अवलोकन करते हुए  प्रधानमंत्री के जीवन चरित्र पर आधारित संकलित प्रस्तुतियों की प्रशंसा की। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के जीवन व्यक्तित्व एवं सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं तथा नीतियों पर आधारित प्रदर्शनी कलक्ट्रेट सभागार में आम जनमानस के दर्शन के लिए 17 सितंबर से 23 सितंबर तक लगी रहेगी। प्रधानमंत्री के जन्म दिवस को सेवा पखवाड़ा के रूप में 17 सितंबर 2022 से 02 अक्टूबर 2022 तक मनाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन की 72वीं वर्षगांठ के अवसर पर उनके जीवन के विविध पहलुओं से परिचय कराती छाया चित्र प्रदर्शनी कहानी भारत के सच्चे सपूत की का अवलोकन करते हुए अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन की 72वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित होने वाली प्रदर्शनी जन सामान्य को उनके जीवन चरित्र के संबंध में बहुमूल्य जानकारी उपलब्ध कराने में सक्षम एवं प्रेरणा स्रोत सिद्ध होगी।

उन्होंने कहा कि विभिन्न प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों, छात्र-छात्राओं को प्रदर्शनी का अवलोकन करना चाहिए। यह प्रदर्शनी प्रधानमंत्री के जीवन परिचय के साथ साथ केन्द्र सरकार की विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं, नीतियों एवं उपलब्धियों की जानकारी उपलब्ध कराती है। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षण एवं जिला बेसिक शिक्षाधिकारी को निर्देश दिए कि वे सभी बोर्ड के प्राथमिक, उच्च प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों व छात्र-छात्राओं को प्रदर्शनी का अवलोकन कराने के लिए विद्यालयों से सम्पर्क कर उन्हें पत्र प्रेषित भी करें।

सिविल लाइंस में बेखौफ फर्राटा भर रहे लाड़ले

सिविल लाइंस में पेट्रोल पंप के बाहर महावीर स्कूल के सामने खोली जा सकती है पुलिस चेकपोस्ट। फिलहाल डाकघर के बाद एसआरएस पर ही रहती है पुलिस। जागरुक नागरिकों का मानना विचार करें पुलिस अधीक्षक। ट्यूशनखोरों के यहां से निकलने वाली फौज सड़कों पर जमकर मचाती है धमाल।

बिजनौर। शहर में कुछ स्थानों पर पुलिस चेकपोस्ट खोलने की योजना विभाग ने बनाई थी। इनमें शहर के बाहरी क्षेत्र चक्कर रोड के कई पॉइंट, बैराज रोड, मुरादाबाद रोड आदि शामिल हैं। पुलिस चेकपोस्ट बाहरी क्षेत्र के साथ ही शहर के अंदरूनी हिस्सों में भी खोलने पर पुलिस अधीक्षक को विचार करना चाहिए। ऐसा जागरुक नागरिकों का मानना है।

इस समय सबसे अधिक संवेदनशील क्षेत्र सिविल लाइंस है। यहां दिन भर हजारों लोगों का पैदल, रिक्शा अथवा दोपहिया, चौपहिया वाहनों से आवागमन रहता है। यहीं पर लोगों के लाड़ले बेखौफ होकर बाइक्स पर फर्राटा भरते हैं। खासतौर पर दोपहर बाद स्थिति अधिक ख़राब हो जाती है। पूरे सिविल लाइंस क्षेत्र में दिनभर बाइकर्स का आतंक रहता है। दरअसल ट्यूशनखोरों के यहां से निकलने वाली फौज सड़कों पर जमकर धमाल मचाती है। इनके दोपहिया तीन से पांच के बीच ही सवारी बैठा पाते हैं। इससे कम पर कोई समझौता नहीं। हॉर्न पर उंगली, 70-80 की स्पीड पर एक्सीलेटर भीड़ को पानी मे काई की तरह फाड़ देते हैं। देर रात तक ऐसा ही चलता रहता है। लड़कियों, महिलाओं, वृद्धों, बच्चों को सड़क पार करने के लिए दस-दस मिनट तक इंतजार करना पड़ता है।

फिलहाल डाकघर के बाद पुलिस एसआरएस पर ही रहती है। लोगों का मानना है कि सिविल लाइंस में पेट्रोल पंप के बाहर महावीर स्कूल के सामने पुलिस चेकपोस्ट खोली जा सकती है। पुलिस अधीक्षक को इस विषय में विचार करना चाहिए।

मलिहाबाद में शिविर लगा कर 112 पशुओं की चिकित्सा

लखनऊ। एस्कैड योजना के अंतर्गत सोमवार को मलिहाबाद के ग्राम टिकरी खुर्द में पशु चिकित्सा शिविर आयोजन किया गया। इस अवसर पर 112 पशुओं की चिकित्सा की गई। शिविर के आयोजन में डॉ. आरएस मिश्र ने पशुपालकों को पशुओं का बीमा करने एवं किसान क्रेडिट कार्ड बनाने हेतु प्रोत्साहित किया गया। शिविर में योगेन्द्र, अनुराग, अतुल कुमार एवं सूरज आदि मौजूद रहे।

महिला का शव कलक्ट्रेट में रखकर अस्पताल के चिकित्सकों के खिलाफ हंगामा

कलक्ट्रेट में प्रसूता का शव रखकर परिजनों का हंगामा। जिला महिला अस्पताल के चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप।

बिजनौर। प्रसव के बाद इलाज के दौरान मौत से आक्रोशित मृतका के परिजनों ने शव को कलक्ट्रेट परिसर में रखकर जमकर हंगामा किया। उन्होंने जिला महिला अस्पताल के डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने समझा-बुझाकर कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराया।

ग्राम ब्रह्मपुरी रावली, थाना क्षेत्र मंडावर के रहने वाले मनदीप (जाति अनुसूचित जाटव) ने अपनी पत्नी प्रियंका को प्रसव पीड़ा के चलते 5 सितंबर 2022 को जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया था। मनदीप का कहना है कि उसकी पत्नी स्वस्थ थी और ऑपरेशन से उसको लड़का हुआ था। उसी दिन ब्लीडिंग ज्यादा होने से उसकी हालत बिगड़ गई तो डॉक्टरों ने उसे बाहर ले जाने को कहा। इस पर दिनांक 6 सितंबर 2022 को बीना प्रकाश हॉस्पिटल नगर बिजनौर में भर्ती कराया गया। बीना प्रकाश हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने मेरठ ले जाने की सलाह दी, जिस पर परिवार जन अपने घर ले गए तथा दिनांक 11 सितंबर 2022 को भाग्यश्री हॉस्पिटल जनपद मेरठ में भर्ती कराया गया। भर्ती के दौरान आज दिनांक 12 सितंबर 2022 की प्रातः सुबह 4:00 बजे श्रीमती प्रियंका की मृत्यु हो गई। इसके बाद परिजन और भारी संख्या में ग्रामीण महिला का शव लेकर कलक्ट्रेट पहुंचे और जिला महिला अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर मोहित कुमार, एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह, सीओ अनिल सिंह, कोतवाल रविंद्र वशिष्ठ सहित पुलिस-प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कार्रवाई का आश्वासन देते हुए लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया।

उत्पीड़न से तंग आशा बहुओं व संगिनियों का अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन

बिजनौर। आशा कार्यकत्री वेलफेयर एसोसिएशन के तत्वावधान में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से जुड़ी आशा बहुओं व आशा संगिनियों ने विभिन्न मांगों व समस्याओं को लेकर कलक्ट्रेट में अनिश्चितकालीन धरना व प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इस दौरान जिलाधिकारी को ज्ञापन भी दिया गया।

ज्ञापन में कहा गया कि लगभग 25 सौ की संख्या में आशा बहुएं व आशा संगिनी निरन्तर अपनी सेवा प्रदान कर रही हैं। इसके बावजूद उन्हें हेल्थ वैलनेस सेन्टर का कोई पैसा नहीं मिल रहा है। 2 वर्ष से खसरा बूस्टर व डिलीवरी का पैसा नहीं मिला। अप्रैल से अभी तक माह में आने वाले 2200 रुपए भी नहीं मिले। एक अन्य समस्या यह भी है, जब आशा जिला महिला अस्पताल में मरीज लेकर पहुंचती है तो वहां मरीजों को डराया जाता है कि इसका ऑपरेशन होगा परंतु वह डिलीवरी प्राईवेट अस्पताल में जाकर नॉर्मल हो जाती है। खून कम होने पर मरीजों को बाहर रेफर किया जाता है। वह प्राईवेट में जाकर सही हो जाती है। खून कम होने पर मरीजों के साथ वाली से खून लिया जाता है, वह मरीज को लगाते भी नहीं हैं और खून खराब हो जाता है।

नहीं सुनते सीएमओ- इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी को अवगत कराया गया परन्तु इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। आशा व आशा संगिनियों पर नसबन्दी का दवाब डाला जाता है। जब कोई नसबन्दी नहीं कराता है या कोई नसबन्दी फेल हो जाने पर आशा बहु व संगिनियों को हटाने की धमकी दी जाती है। आशाओं व संगिनियों ने जिलाधिकारी से जिला अस्पताल का सुधार करने, आशा व आशा संगिनी को समय पर भुगतान देने, आशा का पैसा अलग-अलग न देकर एक साथ दिए जाने, हर पीएचसी पर मांगे जाने वाले कमीशन को रोके जाने की मांग की। प्रदर्शन में जिला अध्यक्ष रेखा पाल, रीना रानी, रीना, यशोदा, गिरजा देवी, महामंत्री शशीबाला, रेखा रानी, पूर्णिमा सहित सैकड़ों आशा व संगिनी मौजूद रहीं।

डॉक्टर समेत 3 पर रेप का केस

दो अलग अलग मामलों में चिकित्सक सहित तीन पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज

बिजनौर/स्योहारा। दो अलग अलग मामलों में एक चिकित्सक सहित तीन लोगों पर पुलिस ने दुष्कर्म का मामला दर्ज कर कार्यवाई शुरू कर दी है।
धामपुर निवासी एक महिला ने कोर्ट में तहरीर देकर आरोप लगाया कि वह वर्तमान में स्योहारा से सटे एक गांव में रहती है। धामपुर सुहागपुर स्थित लीलावती अस्पताल के डाक्टर रजनीश कुमार से उनका इलाज चलता रहता है। पीड़िता ने तहरीर में आरोप लगाया कि 14 जून को उसके सीने में दर्द होने पर उसने डाक्टर रजनीश को दिखा कर पांच दिन की दवाई ली और फिर घर पर ही आकर देखने को कहा। 19 जून की दोपहर को डाक्टर रजनीश उसके घर आया और तबीयत देखने के बहाने तमंचे के बल पर उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। कोर्ट ने पीड़िता की तहरीर पर आरोपी चिकित्सक डा रजनीश के विरुद्ध दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए, जिस पर पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर आरोपी चिकित्सक के विरुद्ध दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है।

साथी युवती से ब्लैकमेलिंग- स्योहारा थाना क्षेत्र के एक गाँव निवासी व्यक्ति ने पुलिस अधीक्षक को तहरीर देकर आरोप लगाया कि उसकी 20 वर्षीय पुत्री हरिद्वार के रोशनाबाद स्थित एक फैक्ट्री में पैकिंग का काम करती थी। गांव का ही एक युवक देवेन्द्र भी उसके साथ फैक्ट्री में काम करता था। आरोप है कि युवक देवेन्द्र ने उसकी पुत्री को शादी का झांसा देकर उसके साथ दुष्कर्म किया। क़ुछ समय बाद दोनों गांव आ गये। उसने अपनी पुत्री की शादी के लिए अन्य स्थान पर रिश्ता पक्का किया तो युवक ने उसकी लड़की के अश्लील फोटो दिखाकर रिश्ता तुड़वा दिया। 26 जून को युवक ने उसकी पुत्री को घर के पीछे जंगल में बुलाया और युवक व उसके भाई ने जाति सूचक शब्दों का प्रयोग कर अभद्र व्यवहार किया। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस अधीक्षक बिजनौर ने मुकदमा दर्ज कर कार्यवाई के आदेश दिए।

मुकदमा दर्ज, जांच शुरू- थानाध्यक्ष राजीव चौधरी का कहना है कि पुलिस अधीक्षक के आदेश पर देवेंद्र व गजेन्द्र पुत्रगण ओमप्रकाश निवासी ग्राम सुरानंगला स्योहारा के विरुद्ध दुष्कर्म व एससी एसटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी गयी है।

विद्युत संबंधी समस्याओं के लिए समाधान सप्ताह आज से 19 तक

बिजनौर। विद्युत संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए दिनांक 12 सितम्बर से 19 सितम्बर तक प्रतिदिन सुबह 08:00 बजे से रात्रि 08:00 बजे तक शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। इस संबंध में उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम देवराज (आईएएस) ने शासकीय पत्र जारी किया है।

पत्र के अनुसार विभाग के आदेश हैं कि हर क्षेत्र में कार्यक्रम के स्थल का पूर्व में प्रचार करना होगा। शिविर सभी 33/11 के0वी0 के उपकेन्द्रों पर अथवा निकटतम बिलिंग केन्द्र पर आयोजित होंगे। उपकेन्द्र के अधीन आने वाले सभी राजस्व गांव / ग्राम पंचायत को एक टाइम टेबल बनाकर 01 सप्ताह के अन्दर आच्छादित करना है।शिविरों में विद्युत उपभोक्ताओं से उनके बकाया विद्युत बिलों का भुगतान प्राप्त करने के साथ ही बिल सम्बन्धित शिकायतों का निस्तारण किया जाएगा। कनेक्शन / लोड बढ़ाने या मीटर लगाने के निवेदन पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी। सभी प्रकार के विद्युत संयोजनों (कनेक्शन) से सम्बन्धित प्राप्त होने वाली शिकायतों / समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जाएगा। ट्रान्सफार्मर, फीडर, लोड / वोल्टेज अथवा जर्जर तार जैसी समस्याओं के निवेदन, जिसमें त्वरित समाधान सम्भव हो। घटित होने वाली विद्युत दुर्घटना के कारण होने वाली जनहानि से सम्बन्धित मुआवजा एवं ऐसी समस्याओं को नगण्य किये जाने के उद्देश्य से त्रुटिपूर्ण अधिष्ठापन पर कार्यवाही की जाएगी। विद्युत उपभोक्ताओं के परिसरों पर स्थापित जले / खराब / क्षतिग्रस्त मीटरों को बदलने के साथ-साथ पुराने मीटरों के स्थान पर नवीन मीटर स्थापित कराने का कार्य किया जायेगा। अन्य विद्युत सम्बन्धी समस्याओं से सम्बन्धित निवेदनों एवं सुझाओं पर विचार / कार्यवाही की जाएगी।

समाधान सप्ताह के प्रत्येक दिन सुबह से सायं तक शिविर के आयोजन एवं संचालन की जिम्मेदारी स्थानीय अवर अभियन्ताओं की होगी एवं उपखण्ड स्तर पर उपखण्ड अधिकारी द्वारा अपने दिशा निर्देशन में यह कार्य किया जायेगा। इसकी मानिटरिंग मण्डल स्तर पर मुख्य अभियन्ता ( वि०), जनपद स्तर पर अधीक्षण अभियन्ता, खण्ड स्तर पर अधिशासी अभियन्ता द्वारा किया जायेगा। राज्य स्तरीय मुख्य कार्यालय एवं विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों के बीच मानिटरिंग के लिये जिम्मेदारी तय की जायेगी। क्षेत्रों में व्यापक प्रचार प्रसार किया जायेगा एवं किस गाँव के लोगों को सप्ताह के किस दिन आना है इसकी समय सारिणी जन सामान्य को उपलब्ध करायी जायेगी। सम्बन्धित क्षेत्र के ग्राम प्रधान / वार्ड सभासद से सम्पर्क स्थापित करके आयोजित होने वाले शिविर के लिये ग्राम जनों को जानकारी देने हेतु निवेदन किया जायेगा। शिविर आयोजन से सम्बन्धित सम्पूर्ण जानकारी सांसद, विधायक, जिला / ब्लाक पंचायत प्रमुख एवं अन्य जनप्रतिनिधियों को दी जायेगी।

प्रशासनिक मशीनरी के दांवपेंच में फंसा कर्मचारी

बिजनौर। जिला उद्यान अधिकारी कार्यालय मुरादाबाद में तैनात एक वरिष्ठ कर्मचारी प्रशासनिक मशीनरी के दांवपेंच के बीच फंस कर रह गया है। पैरालिसिस से पीडित उक्त कर्मचारी को प्रशासनिक आधार पर बिजनौर कार्यालय से संबद्ध कर दिया गया था। तमाम सरकारी शासनादेशों का हवाला देते हुए कर्मचारी भी अपने स्थानांतरण को रद्द करवाने की कवायद करते हुए थक गया, लेकिन बिजनौर के जिला उद्यान अधिकारी ने रिलीव नहीं किया। लगातार उत्पीड़न से तंग कर्मचारी को समझ में नहीं आ रहा कि आखिर किस दर पर लगाए गुहार!

जानकारी के अनुसार जिला उद्यान अधिकारी कार्यालय मुरादाबाद में तैनात उर्दू अनुवादक सह वरिष्ठ लिपिक वसीम अहमद के विरूद्ध कौसर अली पुत्र कल्लन, मौ० आरिफ पुत्र मकसूद हुसैन व अजीमुश्शान पुत्र जिलेहसन निवासीगण जनपद मुरादाबाद द्वारा मुखामंत्री सहित अन्य उच्चाधिकारियों से शिकायत की गई थी। इस पर वसीम अहमद से दिनांक 4-4-2022 को द्वारा जिला उद्यान अधिकारी, मुरादाबाद के माध्यम से स्पष्टीकरण मांगा गया था। मुरादाबाद मंडल के उप निदेशक उद्यान एसके गुप्ता द्वारा 30 जून 2022 को कहा गया कि संबंधित से मांगे गए स्पष्टीकरण का कोई संतोषजनक उत्तर प्राप्त न होने पर एवं उच्चाधिकारियों द्वारा वसीम अहमद की कार्यशैली शासकीय नियमावली के प्राविधानों के अनुकूल न रहने पर अन्यत्र स्थानान्तरण किये जाने के दिये गये निर्देशों के क्रम में वसीम अहमद का स्थानान्तरण प्रशासनिक आधार पर जिला उद्यान अधिकारी बिजनौर कार्यालय के लिए कर दिया गया। पत्र में कहा गया कि श्री अहमद का वेतन अग्रिम आदेशों तक यथावत जिला उद्यान अधिकारी मुरादाबाद द्वारा वेतन मांग पत्र के आधार पर आहरित किया जायेगा। जिला उद्यान अधिकारी, मुरादाबाद वसीम अहमद को नवीन तैनाती स्थान पर योगदान करने हेतु तत्काल कार्यमुक्त करें। बताया गया है कि उप निदेशक उद्यान मुरादाबाद द्वारा हरजीत नाम के अपने खास सिपहसालार की बातों में आकर अधीनस्थ कर्मचारियों के स्पष्टीकरण की सत्यता को दरकिनार कर उनकी सत्यनिष्ठा एवं कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाकर उत्पीड़ित किया जाता है।

उधर संबंधित उर्दू अनुवादक वसीम अहमद ने 04 जुलाई 2022 को मुरादाबाद के आयुक्त व जिलाधकारी को पूर्व के शासनादेशों का हवाला देते हुए एक पत्र लिखा। इसमें आरोप लगाया कि निदेशक उद्यान मुरादाबाद मण्डल, मुरादाबाद द्वारा उनका स्थानान्तरण जनपद बिजनौर को दिनांक 30 जून 2022 द्वारा किया गया है, जो कि देश के तथा मेरे हित में है। वर्तमान में वह पैरालिसिस से पीडित हैं। उनका इलाज मुरादाबाद में ही राजकीय चिकित्सक डॉ योगेश कुमार से काफी समय से चल रहा है। मुझे चलने-फिरने में कठिनाई  होती है तथा वर्तमान में मेरा दाँया हाथ भी सही से चल नहीं पा रहा है। वह इस उत्पीड़न से काफी समय से ग्रस्त चल रहै हैं। वसीम अहमद ने अधिकारी द्वय से उनकी परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए स्थानान्तरण निरस्त करने की गुहार लगाई। इस पर 04 जुलाई 2022 को अपर आयुक्त (प्रशासन) मुरादाबाद मंडल ने जिलाधकारी को नियमानुसार कार्यवाही करने की लिखा। वहीं अपर जिलाधकारी (प्रशासन) ने 06 जुलाई 2022 को संज्ञान में लिया। 

क्या है शासनादेश!- निदेशालय उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण उत्तर प्रदेश, उद्यान भवन लखनऊ द्वारा दिनांक 13 मई 2022 को उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, उ०प्र० के अन्तर्गत निदेशालय एवं फील्ड में से सम्बद्ध अन्यत्र सम्बद्ध अधिकारी / कर्मचारी की सम्बद्धता को निरस्त करते हुए उन्हें उनकी मूल तेनाली स्थान पर कार्य किये जाने हेतु आदेशित किया गया है। इस पर 23 मई 2022 को निदेशक आरके तोमर ने आदेश पारित कर निदेशालय तथा मण्डल स्तर से लिपिक संवर्ग में पूर्व में अन्यत्र कार्यालय / जनपद में सम्बद्ध किये गये समस्त कर्मचारियों की सम्बद्धता तत्काल प्रभाव से निरस्त करते हुए उन्हें उनकी मूल मैनाली स्थान पर कार्य किये जाने हेतु आदेशित किया। साथ ही कहा कि उपरोक्त आदेशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करते हुए कृत कार्यवाही की आख्या यथाशीघ्र निदेशालय को उपलब्ध कराई जाए।

विभागीय वेबसाइट पर पड़े हैं रॉन्ग नंबर? इस संबंध में उपनिदेशक एस के गुप्ता से संपर्क करने का प्रयास किया गया,किंतु विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध उनके मोबाइल नंबर पर संपर्क किया गया तो दोनों नंबर किसी महिला द्वारा उठाकर रॉन्ग नंबर कहा गया कहा गया। इसके बाद उद्यान अधिकारी बिजनौर जितेंद्र कुमार द्वारा जो नंबर उपलब्ध कराया गया, उस पर बात करने की कोशिश की गई वह मोबाइल नंबर भी किसी महिला द्वारा ही उठाया गया तथा रॉन्ग नंबर बता दिया गया। 

बिजनौर डीएचओ ने दरकिनार कर दिया शासनादेश? आरोप है कि जिला उद्यान अधिकारी बिजनौर ने मुरादाबाद के संबद्ध कर्मचारी को रिलीव नहीं किया। दूसरी ओर तैनाती के समय से खाली बैठे कर्मचारियों को जुम्मा जुम्मा एक हफ्ता पहले उनके कार्य का बंटवारा कर दिया। विभाग में नियुक्त कर्मचारियों का काम अभी तक संविदा पर तैनात कर्मचारी से लिये जाने की सुगबुगाहट है। वहीं जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र कुमार का कहना है कि वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश का पालन किया गया है। कर्मचारी को पनिशमेंट के रूप में बिजनौर भेजा गया है। 

ADM के तेवर सख्त: वसूली कम होने पर एआरटीओ, डीएफओ से मांगा स्पष्टीकरण

वसूली कम होने पर चार अधिकारियों से मांगा स्पष्टीकरण। वसूली कार्य मानक से कम होने पर उप सम्भागीय परिवहन अधिकारी, डीएफओ बिजनौर एवं नजीबाबाद तथा वरिष्ठ निरीक्षक बाट-माप से अपर जिलाधिकारी वि/रा अरविंद कुमार सिंह ने मांगा स्पष्टीकरण।

बिजनौर वसूली कार्य मानक से कम होने पर उप सम्भागीय परिवहन अधिकारी, डीएफओ बिजनौर एवं नजीबाबाद तथा वरिष्ठ निरीक्षक बाट-माप से अपर जिलाधिकारी वि/रा अरविंद कुमार सिंह ने स्पष्टीकरण मांगा है। अपर जिलाधिकारी श्री सिंह अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित कर-करेत्तर एवं राजस्त प्राप्ति की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे। अपर जिलाधिकारी ने उप सम्भागीय परिवहन अधिकारी, डीएफओ बिजनौर एवं नजीबाबाद तथा वरिष्ठ निरीक्षक बाट-माप द्वारा मानक से कम वसूली कार्य करने पर स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश देते हुए स्पष्ट कहा कि वसूली कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाशत नहीं की जाएगी। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि सभी अधिकारी कर करेत्तर से संबंधित विभागीय लक्ष्य को शत प्रतिशत पूरा करना सुनिश्चित करें और प्रर्वतन कार्य में गतिशीलता लाते हुए प्रभावी कार्य करें, ताकि किसी भी स्तर पर करापवंचन का कार्य किया जाना सम्भव न हो सके।

उन्होंने निर्देश दिए कि कर वसूली का कार्य पूरी गंभीरता और सजगता के साथ सम्पादित किया जाए और लक्ष्य के सापेक्ष मासिक और वार्षिक प्रगति सुनिश्चित की जाए और किसी भी अवस्था में करापवंचन न होने पाए। उन्होंने करापवंचन रोकने के लिए जीएसटी, परिवहन और राजस्व अधिकारियों एवं कर्मचारियों पर आधारित संयुक्त टीम बना कर चेकिंग करने के निर्देश दिये।
इस दौरान उन्होंने स्टाम्प, परिवहन, वन, मण्डी सहित अन्य विभागों द्वारा वसूली कार्य की समीक्षा करते हुए संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि पूरी गंभीरता के साथ वसूली के लक्ष्य को शत प्रतिशत रूप से पूरा करना सुनिश्चित करें। बैठक में राजस्व से संबंधित विभागीय अधिकारी सहित सभी उपजिलाधिकारी, तहसीलदार तथा राजस्व से संबंधित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

खेल के मैदान में पढ़ी नमाज, वीडियो वायरल

बिजनौर में खेल के मैदान में पढ़ी गई सामूहिक नमाज, हिंदू संगठनों ने जताया विरोध। पुलिस से कार्रवाई की मांग।

Bijnor Mass prayers were read playground Hindu organizations protested and demanded action from police

खेल के मैदान में नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल। हिंदू संगठनों ने जताया विरोध। शिकायत पर जांच में जुटी पुलिस। बिजनौर के नगीना नगर क्षेत्र अंतर्गत खेल के मैदान में मुस्लिम समाज के कुछ लोगों द्वारा सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। हिंदू संगठनों ने मामला संज्ञान में आने पर विरोध जताते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की है। वीडियो फुटेज के आधार पर पुलिस जांच में जुट गई है।

बिजनौर। जनपद के नगीना नगर क्षेत्र में एक खेल मैदान में नमाज पढ़े जाने का वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें मुस्लिम समाज के कुछ लोगों के सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने की फुटेज है। इसके बाद हिंदू संगठनों में नाराजगी व्याप्त हो गई है। इस मामले में पुलिस से कार्रवाई की मांग की गई है। वहीं पुलिस वीडियो के आधार पर जांच में जुट गई है। मामला गांधी मूर्ति झंडा चौक के पास खेल के मैदान का बताया जा रहा है। वीडियो में इसी मैदान के पास एक मंदिर भी दिखाई दे रहा है।

पढ़ी जा रही नमाज, खेल रहे बच्चे
नगीना थाना नगर क्षेत्र के अंतर्गत गांधी मूर्ति झंडा चौक के पास खेल का मैदान है। यहां बच्चों से लेकर बुजुर्ग मॉर्निंग वॉक करते हैं और शाम के समय युवा कई तरह के गेम खेलते हैं। वायरल हो रहे वीडियो को लेकर बताया गया है कि बुधवार की शाम को करीब 15 मुस्लिम युवकों ने इसी मैदान में सामूहिक रूप से नमाज पढ़ी। इस दौरान बच्चे मैदान में खेलते हुए भी नजर आ रहे हैं। नमाज पढ़ने के समय किसी राहगीर ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। उसके बाद हिंदू संगठनों ने इसको लेकर विरोध शुरू कर दिया। वीडियो में मैदान के पास एक मंदिर भी दिखाई दे रहा है। यहां लोग पूजा-पाठ करने आते हैं। इसलिए खेल मैदान में नमाज पढ़ने का हिंदू संगठनों के लोगों ने विरोध जताया है। उन्होंने इस वीडियो के आधार पर पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।

सीओ को सौंपी है जांच- एसपी देहात रामअर्ज
इस मामले में एसपी देहात राम अर्ज का कहना है कि मामले की जांच सीओ नगीना को सौंपी गई है। सीओ वायरल हो रहे वीडियो की जांच कर रहे हैं। जांच के बाद विधिक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि मैदान में नमाज पढ़ने वालों की पहचान की जा रही है। यह भी जांच के दायरे में है कि वीडियो कब का है?

उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन पर ध्यान दें किसान- डीएम

डीएम ने की किसानों से उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन पर चर्चा। किसानों ने भी दिये महत्वपूर्ण सुझाव। कृषि विकास में पीएनबी अपनी भागीदारी अवश्य सुनिश्चित करेगासर्किल हेड संजीव मक्कड़

बिजनौर। जनपद के अग्रणी/प्रगतिशील एवं नवोन्मेशी कार्य कर रहे कृषकों एवं कृषक उत्पादक संगठनों के साथ परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन जिलाधकारी उमेश मिश्रा की अध्यक्षता में किया गया। परिचर्चा कार्यक्रम में विभिन्न किसानों द्वारा किए जा रहे नवोन्मेशी कार्य के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई, साथ ही यह भी अवगत कराया गया कि हमारे द्वारा तैयार उत्पादों के विपणन में समस्याएं आ रही है और व्यक्तिगत रूप से उत्पादक किसान उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन करने में सक्षम नहीं है।

कार्यक्रम के दौरान किसानों द्वारा सुझाव दिया गया कि सभी नवोन्मेशी कार्य किसान एक प्लेटफार्म पर आकर आपसी सहयोग एवं समन्वय से तैयार उत्पादों की वैल्यू एडिशन प्रोसेसिंग ग्रेडिंग पैकेजिंग ब्रांडिंग आदि तकनीक को अपनाकर एक दूसरे के उत्पादों का प्रचार प्रसार करते हुए मांग जनरेट करें तथा आपूर्ति एवं विपणन में भी एक दूसरे का सहयोग करें। जिलाधिकारी ने समस्त उपस्थित किसान भाइयों से आह्वान किया कि उपरोक्त समस्या का समाधान क्लस्टर अथवा सामूहिक खेती है और जब हमारे पास कोई भी उत्पाद अधिक मात्रा में होगा तो खरीददार स्वयं हमारे पास आएंगे और दर निर्धारण की हमारी शक्ति भी बढ़ेगी। आप यदि अपने उत्पादों को सीधे ना भेज कर उसकी प्रोसेसिंग व वैल्यू एडिशन करें और साथ ही उसकी अच्छी पैकेजिंग व ब्रांडिंग विपणन करेंगे तो निश्चित रूप से हमें अच्छी व लाभकारी कीमत प्राप्त होगी, परंतु इसके लिए आवश्यक है कि किसानों को एकत्रित होकर क्लस्टर अप्रोच के माध्यम से बड़े क्षेत्र में उत्पाद विशेष का उत्पादन करते हुए इसकी प्रोसेसिंग एवं वैल्यू एडिशन की आधारभूत सुविधाओं को विकसित करने की आवश्यकता है। इसके लिए जो भी आर्थिक मदद अथवा ऋण उपलब्ध कराने की आवश्यकता होगी उसके लिए जिला प्रशासन संबंधित विभाग हमेशा तैयार एवं तत्पर है।

परिचर्चा के दौरान यह भी निर्णय लिया गया कि जनपद में यहां की जलवायु मृदा एवं भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कृषि विकास हेतु क्लस्टर एवं फार्मिंग सिस्टम अप्रोच के आधार पर मॉडल तैयार करने हेतु नवोंमेशी कार्य कर रहे कृषकों की एक कोर कमेटी बनाई जाए, जिनके द्वारा नवोंमेशी कार्य कर रहे कृषकों का डाटा एकत्रित कर तदनुसार जनपद के लिए उपयुक्त मॉडल एवं आवश्यक सुविधाओं की रूपरेखा तैयार कर प्रस्तुत करेंगे।

परिचर्चा कार्यक्रम में पंजाब नेशनल बैंक के सर्किल हेड संजीव मक्कड़ द्वारा भी प्रतिभाग किया गया और आश्वस्त किया गया कि जनपद के कृषि विकास में बैंक अपनी भागीदारी अवश्य सुनिश्चित करेगा और किसानों की हर संभव मदद करने की कोशिश करेगा। कार्यक्रम में जिलाधिकारी द्वारा 30 किसानों को तोरिया बीज के मिनीकिट का नि:शुल्क वितरण भी किया गया।

कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक गिरीश चंद, जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र, जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ विजेंद्र सिंह, जिला गन्ना अधिकारी पीएन सिंह, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक वीके बंसल, जिला विकास प्रबंधक नाबार्ड, जिला परियोजना समन्वयक डास्प डॉ. कर्मवीर सिंह, कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ पिंटू कुमार, विषय वस्तु विशेषज्ञ योगेंद्र पाल सिंह योगी सहित जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से लगभग 200 प्रगतिशील कृषक व कृषक उत्पादक संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन के लिये आधार प्रमाणीकरण आवश्यक

निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन के लिये आधार प्रमाणीकरण आवश्यक-जिलाधिकारी। आधार प्रमाणीकरण ना कराने पर नहीं की जा सकेगी पेंशन अंतरित।

बिजनौर। पति की मृत्यु उपरान्त निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन योजनान्तर्गत आच्छादित होने वाले लाभार्थियों को अपनी निराश्रित महिला पेंशन में अपना आधार प्रमाणीकरण कराना आवश्यक है। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन में आधार प्रमाणीकरण न होने की स्थिति में पेंशनरों के बैंक खातों में पेंशन धनराशि अंतरित नहीं की जा सकेगी।

उन्होंने बताया कि पति की मृत्युपरान्त निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन हेतु आधार प्रमाणीकरण की प्रक्रिया अन्तर्गत सर्वप्रथम एकीकृत सामाजिक पेंशन पोर्टल की वेबसाइट https://sspy-up.gov.in पर जाएं इसके बाद निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन पोर्टल पर जाएं। वहां पर लाल रंग की पट्टी आधार प्रमाणीकरण के लिये फ्लैश हो रही है, उसे क्लिक करें।

उन्होंने बताया कि यदि लाभार्थी को अपना रजिस्ट्रेशन नम्बर नहीं पता है, तो निराश्रित महिला पेंशन सेलेक्ट करके पेंशन सूची में जाएं। इसके बाद अपना जनपद सेलेक्ट करें, विकास खण्ड सेलेक्ट करें, ग्राम पंचायत सेलेक्ट करें व ग्राम सेलेक्ट करें। वहां पर पूरी पेंशन सूची उपलब्ध होगी। उससे अपना रजिस्ट्रेशन नम्बर नोट कर लें। उन्होंने बताया कि इसके बाद पेंशन का प्रकार सेलेक्ट करें, निराश्रित महिला पेंशन सेलेक्ट करें, रजिस्ट्रेशन नम्बर दर्ज करें, मोबाईल नम्बर दर्ज करें, बैक एकाउन्ट नम्बर भी एंटर किया जायेगा। कैप्चा लिख कर  सबमिट करें। लाभार्थी के मोबाईल पर ओटीपी आएगा, ओटीपी को दर्ज करें तथा सबमिट करें, लाभार्थी का नाम पेंशनर सूची में व आधार में समान है, तो उसके रजिस्ट्रेशन के साथ-साथ आधार का प्रमाणीकरण हो जायेगा, लाभार्थी का नाम पेंशन सूची तथा आधार के नाम में अंतर हो तो पेंशनर का नाम आधार के अनुसार करेक्शन कर जिला प्राबेशन अधिकारी को फॉरवर्ड करना है। उक्त के अतिरिक्त आधार कार्ड की छायाप्रति में मोबाईल नम्बर दर्ज करते हुए पास बुक की छायाप्रति के साथ कार्यालय जिला प्राबेशन अधिकारी को जमा कर आधार प्रमाणीकरण करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि पेंशन सूची में अंकित नाम व आधार में अंकित नाम में अंतर होने पर किसी भी दशा में दोबारा प्रयास न करें, अन्यथा आपका डाटा लॉक हो जायेगा। जिन लाभार्थियों का डाटा लॉक हो गया है, वह जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय कक्ष संख्या 235 विकास भवन बिजनौर से सम्पर्क कर अपना आधार प्रमाणीकरण करवा सकते हैं। डीएम ने जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देशित किया कि वह प्रतिदिन लाभार्थी से फॉरवर्ड डाटा की विस्तृत रूप से जांच करके नाम में त्रुटि होने पर उसे आधार के अनुसार जांच करके अपने डिजिटल सिग्नेचर से स्वीकृत करेंगे। उपरोक्तानुसार पति की मृत्युपरान्त निराश्रित महिला (विधवा) पेंशन प्राप्त कर रहे लाभार्थियों द्वारा भी एकीकृत सामाजिक पेंशन पोर्टल https://sspy-up.gov.in पर लॉग इन करते हुए जन सुविधा केन्द्रों (कामन सर्विस सेन्टर) साइबर कैफे, निजी इन्टरनेट केन्द्र अथवा विभागीय वेबसाइट पर कम्प्यूटर या मोबाइल के माध्यम से आधार प्रमाणीकरण का कार्य कर सकते हैं। आधार प्रमाणीकरण न होने की दशा में विभाग द्वारा पेंशन का भुगतान रोक दिया जायेगा।

गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर तैयारियां

माहौल बिगाड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई करेगी पुलिस। स्योहारा थाना परिसर में हुई गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर शांति समिति की बैठक।

बिजनौर। स्योहारा थाना परिसर में मंगलवार को गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर शांति समिति की बैठक एसडीएम धामपुर मनोज कुमार व क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक का संचालन थाना प्रभारी निरीक्षक राजीव चौधरी ने किया।

एसडीम धामपुर मनोज कुमार ने कहा की आयोजन को लेकर नगर की सभी गणेश समितियां आस्था व शांति से त्योहार मनाएं। विसर्जन के लिए बच्चों को नहीं ले जाया जाए। पुलिस प्रशासन विसर्जन के दौरान सभी प्रकार की व्यवस्था में रहेगा। इसमें नगर के सभी सम्मानित नागरिक सहयोग करें। नगर पालिका की ओर से भी उत्सव के लिए सभी प्रकार की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी। अनंत चतुर्दशी पर चल समारोह निकालने पर विचार किया गया। इसमें नगर के समस्त सार्वजनिक पंडालों के गणेशजी एक साथ विसर्जन के लिए शामिल होंगे।

सीओ इंदु सिद्धार्थ ने कहा कि आप अपने क्षेत्र के नव युवकों को सावधान कर दें कि वह किसी भी प्रकार की ऐसी हरकत ना करें, जिससे माहौल खराब हो। उत्सव में माहौल खराब करने वाले लोगों के साथ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्सव में शामिल होने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला एसआई व पुलिस बल तैनात रहेगा। रजत रस्तोगी ने कहा कि गणपति विसर्जन के दौरान गोताखोरों व ट्रैफिक व्यवस्था का ध्यान रखा जाए, जिससे किसी को कोई परेशानी ना हो।

इस मौके पर चेयरमैन अख्तर जलील, अरुण कुमार वर्मा, राजपाल प्रजापति, रजत रस्तोगी, मुकुल रस्तोगी, नेपाल सिंह, राजू अरोड़ा, चौधरी फहीम उर रहमान, मोनू कुमार, संदीप शर्मा, देवेंद्र कुमार, अमित शर्मा, संजय जैन, आलोक अग्रवाल, फैसल वारसी मौजूद रहे।

यूपी पुलिस के बाद अब आरटीओ दफ्तर की वसूली लिस्ट वायरल 

यूपी पुलिस के बाद अब आरटीओ दफ्तर की वसूली लिस्ट वायरल 

यह लिस्ट पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने सोशल मीडिया पर वायरल की है

लखनऊ। यूपी पुलिस की वसूली लिस्ट के बाद अब आरटीओ दफ्तर की वसूली लिस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। यह लिस्ट पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने वायरल की है। अमिताभ ठाकुर ने आरटीओ दफ्तर की वसूली लिस्ट को ट्विटर के जरिए कई लोगों को भेजा। अधिकार सेना के संयोजक व पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने रविवार को चंदौली के आरटीओ कार्यालय की वसूली लिस्ट सार्वजनिक की। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव और चंदौली के जिलाधिकारी को ट्वीट किया है। ट्वीट के साथ वसूली लिस्ट संलग्न की गई है। 

आरोप है कि गाजियाबाद से नए एआरटीओ के आने के बाद सूची बनाई गई है। सूची में एक आरआई और एक लिपिक का भी नाम दिया गया है। आरटीओ कार्यालय में कई निजी व्यक्तिों को रखकर वसूली कराई जाती है। अधिकार सेना के संयोजक ने इस मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की मांग की है। 

वसूली लिस्ट का रेट  

ड्राइविंग लाइसेंस-1000, रिन्युअल-300-500, (फिटनेस)-छोटे वाहन-700, बड़े वाहन-1000, (फर्जी बीमा होने पर)-छोटे वाहन-1000, बड़े वाहन-1500, (एनओसी के लिए)-छोटे वाहन-1500, बड़े वाहन-3000, कामर्शियल वाहन- 500-5000, (ट्रांसफर के लिए)-बाइक-400, कार-800, ट्रक-1500, (बिहार के पता वाले वाहन का)-ट्रक-6000,  पिकअप-3000 रुपए।

परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह का कहना है कि वसूली लिस्ट की जानकारी मिल गई है। अधिकारियों को जांच का निर्देश किया गया है। 

सपा नेता हड़प गया ₹ साढ़े चार लाख


जनपद रामपुर के सपा जिला सचिव ने रुपए लेकर नहीं किया दुकान का बैनामा। एक साल से पुलिस अधिकारियों के यहां चक्कर काट रहा पीड़ित परिवार₹ साढ़े चार लाख हड़पने के बाद दे रहा फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी।

रामपुर। जिले में समाजवादी पार्टी के जिला सचिव और टांडा नगर पालिका परिषद के सभासद हाजी मोहम्मद जमील के बेटे मोहम्मद लईक का ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह पुलिस, प्रशासन और प्रयागराज तक धन बल के कारण खास संबंध होने की बात कर रहा है। सपा नेता हाजी मोहम्मद जमील और उसके सहयोगियों पर एक व्यक्ति की मां से करीब चाढ़े चार लाख रुपए हड़पने का आरोप है।


सपा नेता ने दुकान का नहीं किया बैनामा

टांडा निवासी मोहम्मद कफील ने बताया कि वह अखबार बांटने का काम करता है। उसकी मां से चार लाख तीस हजार रुपए सपा नेता हाजी मोहम्मद जमील व अन्य कुछ लोगों ने मिलकर हड़प लिए, जबकि इस रुपए से एक दुकान का बैनामा होना था, जो आज तक नहीं किया गया। साथ ही दुकान को किसी और को बेच दिया गया। उसके नाम भी बैनामा नहीं किया गया है।

फर्जी मुकदमे में फंसाने की दे रहे धमकी

मोहम्मद कफील और उसकी बूढ़ी मां मरियम पुलिस अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर काट-काट कर थक गई हैं। मोहम्मद कफील की बूढ़ी मां ने पुलिस अधीक्षक को भी इस संबंध में प्रार्थना पत्र देकर इंसाफ की गुहार लगाई है। इसका भी आज तक कोई हल नहीं निकल पाया। पीड़ित कफील ने कहा कि उसके मामले में भी लाखों रुपए हड़पने से लेकर आरोपी पक्ष को बचाने आदि में इसी सपा नेता एवं इनके दबंग बेटों की भूमिका है। यही नहीं सपा नेता के बेटे व इनके सहयोगी आएदिन उसे व उसकी बूढ़ी मां को फर्जी मुकदमे आदि में फंसाने की धमकियां देते रहते हैं।

मामला क्या है? गौरतलब है कि जनपद रामपुर नगर की महिला मरियम से दुकान विक्रय के नाम पर कुछ लोगों ने चार लाख तीस हजार की रकम हड़प ली। महिला ने मुख्यमंत्री सहित उच्च अधिकारियों को पत्र प्रेषित कर आरोपियों के खिलाफ उचित मांग करते हुए रकम लौटाए जाने की गुहार लगाई। इसके बावजूद कोई सुनवाई नहीं हुई। मोहल्ला बरगद निवासी महिला का आरोप है कि एक दुकान उसके नाना ने अपनी आठ पुत्रियों के नाम रजिस्ट्री कराई थी। महिला का कहना है कि दो मौसियों ने अपने हिस्से का बैनामा उसके नाम रजिस्टर्ड करा दिया तथा एक मौसी ने स्वेच्छा से अपना हिस्सा मस्जिद को दान कर दिया था। बताया कि 12. 4 फिट चौड़ी दुकान को अलग-अलग हिस्सों में कैसे प्रयोग में लाया जाता। इसलिए कमेटी ने एक हिस्सा महिला को विक्रय कर दिया। साक्षी मोहम्मद रिजवान, रहमत अली व मोहम्मद अरशद की मौजूदगी में उस हिस्से की धनराशि 430000 मस्जिद कमेटी के मुतवल्ली हाजी असगर अली और पूर्व मुतवल्ली हाजी अतीक व जमील मेंबर सपा नेता व रिफाकत अली ने महिला से कुल रकम प्राप्त कर ली।

पर्यावरण की रक्षा के लिए जन सहयोग बेहद जरूरी-DFO

बिजनौर। पर्यावरण की रक्षा के लिए जन सहयोग बेहद जरूरी है। बिना जन आंदोलन के यह कार्य बेहद मुश्किल है। यह बात डीएफओ डा. अनिल कुमार पटेल ने सोमवार सुबह शहर के नूरपुर मार्ग स्थित चक्कर रोड चौराहे पर वृक्षारोपण करते हुए कही।

व्यापारी सुरक्षा फोरम एवं डिसेंट पब्लिक स्कूल के संयुक्त तत्वावधान में डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की स्मृति में शिक्षक दिवस पर पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि श्री पटेल ने कहा कि वर्तमान में तापमान काफी बढ़ रहा है। अगर यही स्थिति रही, तो भविष्य में इसके भयंकर परिणाम होंगे। आने वाली पीढ़ी को शुद्ध हवा व ऑक्सीजन देने के लिए प्रत्येक नागरिक को समय-समय पर वृक्षारोपण करना चाहिए। इसके लिए हमें निरंतर प्रयास करने होंगे, क्योंकि एक पौधे को वृक्ष बनने में सात से आठ वर्ष लगते हैं।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ पत्रकार अवनीश गौड़ ने कहा कि वृक्ष न केवल मनुष्य जाति के लिए बल्कि जीव-जंतुओं एवं प्राकृतिक संतुलन के लिहाज से अति आवश्यक हैं। बिना प्राकृति के धरती पर जीवन संभव ही नहीं है। अगर सरल शब्दों में कहा जाए तो सम्पूर्ण धरती को जीवित रखने के लिए पर्यावरण संरक्षण जरूरी है। किन्तु आज इंसान आधुनिकता की दौड़ में प्राकृतिक संसाधनों का बेहिसाब दोहन कर रहा है। बड़ी-बड़ी इमारतें बनाने के लिए वृक्षों का कटान किया जा रहा है जिसके परिणाम हाल ही के दिनों में हमें देखने को मिले हैं। बिना बारिश के पूरी बरसात निकल गई। तापमान 40 डिग्री से बढ़कर 45 डिग्री तक पहुंच गया है। अगर आने वाले दिनों में यह हाल रहा, तो इसे 50 डिग्री होने में ज्यादा देर नहीं लेगी। व्यापारी सुरक्षा फोरम के जिलाध्यक्ष राजकुमार गोयल ने कहा कि हमारे द्वारा लगाए गए पौधे कल वृक्ष बनकर आने वाली पीढ़ी को जीवन दान देंगे। डिसेंट पब्लिक स्कूल की प्रधानाचार्या मेघना शर्मा ने कहा कि हर नागरिक की जिम्मेदारी बनती है कि वह प्राकृतिक संतुलन एवं नई पीढ़ी को शुद्धि ऑक्सीन देने के लिए वृक्ष अवश्य लगाए।

इस मौके पर जिला मंत्री राहुल वर्मा, जिला संगठन मंत्री प्रदीप कुमार अग्रवाल, नगर अध्यक्ष नवीन अग्रवाल, नगर मंत्री खगेश शर्मा, इकाई अध्यक्ष बह्मपाल सिंह, इकाई मंत्री सुनील अग्निहोत्री, इकाई उपाध्यक्ष वासुदेव, इकाई उपाध्यक्ष संजू शर्मा, राहुल राणा राजपूत, प्रशांत चौधरी आदि उपस्थित रहे।

योगी ने किया महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किया गया महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण, मेडिकल कॉलेज में महात्मा विदुर की प्रतिमा लगाने तथा निर्माण कार्य पूर्ण गुणवत्ता व समयबद्वता के साथ पूरा करने के दिए निर्देश।

बिजनौर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्माणाधीन महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज स्वाहेडी का निरीक्षण किया गया। मुख्यमंत्री ने अगले सत्र से वहां कक्षाएं प्रारम्भ करने की बात कही। उन्होंने महात्मा विदुर की प्रतिमा लगाने की व्यवस्था करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि जो भी निर्माण कार्य किये जा रहे हैं, वह पूर्ण गुणवत्ता व समयबद्वता के साथ पूर्ण हों। उन्होंने कॉलेज का ले-आउट प्लान, साइट प्लान व डिजाइन को भी देखा। उन्होंने मेडिकल कॉलेज आगमन पर सर्वप्रथम भगवान श्री गणेश की पूजा अर्चना की।
मुख्यमंत्री ने उपस्थित स्वास्थय विभाग के अधिकारियों से निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज की बिजनौर से दूरी की जानकारी ली। उन्होंने पूछा कि निर्माणाधीन कार्य का थर्ड पार्टी इन्सपेक्शन (निरीक्षण) कराया गया है। इस पर अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 द्वारा अवगत कराया गया कि आईआईटी रूडकी द्वारा इन्सपेक्शन किया गया है।
मुख्यमंत्री द्वारा एनएमसी के निरीक्षण की भी जानकारी ली गयी, जिस पर सीएमएस द्वारा अवगत कराया गया कि दो बार इन्सपेक्शन हुआ है अगला इन्सपेक्शन जनवरी में होगा। मुख्यमंत्री द्वारा निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हास्टल, बॉयज हास्टल आदि कक्षों का निरीक्षण किया गया। उन्होंने कहा कि यहां आकर अच्छा लगा।
अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 चन्द्रशेखर सिंह ने बताया कि निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज 20.71 एकड में बनाया जा रहा है। इसकी लागत रू0 281.52 करोड है। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल बिजनौर में 17.52 एकड में 200 बेड का अस्पताल बनाया जा रहा है। इसके अतिरिक्त 48 बेड की धर्मशाला भी बनायी जा रही है। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल में पूर्व से ही 300 बेड का अस्पताल संचालित है। नया अस्पताल बन जाने से वह 500 बेड का हो जायेगा।
इस अवसर पर विधायक ओम कुमार, विधायक सुचि चौधरी, विधायक अशोक राणा, विधायक सुशांत सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह, पूर्व परिवहन मंत्री अशोक कटारिया, क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल, पूर्व विधायक कमलेश सैनी, जिलाध्यक्ष सुभाष वाल्मीकि, जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, सीएमएस डा0 अरूण कुमार पाण्डेय, अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 चन्द्रशेखर सिंह आदि उपस्थित रहे।

पत्रकार का खास डीलर नहीं बांटता राशन

बिजनौर। अंधा बांटे रेवड़ी, चीन्ह चीन्ह के दे। ये कहावत चरितार्थ कर रहा है कोतवाली देहात अंतर्गत सिखेड़ा बरुकी का राशन डीलर दयाराम। काम बिल्कुल नाम के विपरीत। दया नाम की कोई चीज नहीं, और राम का नाम लेना नहीं। सुबह से राशन लेने को लाइन में लगे उपभोक्ताओं को भरी दोपहरी ने चलता कर देता है। कहता है कि मशीन अंगूठा नहीं पकड़ रही। जिला पूर्ति अधिकारी से शिकायत करने की बात कहो तो सीना ठोंक कर कहता है कि महीना देता हूं, लखनऊ तक कर लो शिकायत।

कोतवाली देहात अंतर्गत सिखेड़ा बरुकी का राशन डीलर राशन बांटने में मनमर्जी कर रहा है। वह एक पत्रकार को अपना खास बताता है। पत्रकार भी वो जिसने अपनी पत्नी को राशन कोटा दिला रखा है। एक बार जिला पूर्ति अधिकारी की जांच में फंसा तो नदी में डूबकर आत्महत्या करने की बात करने लगा। तब जनपद स्तर के कुछ वरिष्ठ पत्रकारों के सहयोग से उसकी गर्दन बच सकी थी।

हर यूनिट पर कटौती- आरोप है कि दयाराम हर यूनिट पर सभी का एक किलो राशन काटता है। अंगूठा लगा कर भी राशन नहीं देता। कई उपभोक्ताओं ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि तीन से चार महीने हो गए, वह मशीन पर अंगूठा तो लगवा लेता है, लेकिन राधन नहीं देता। फिलहाल अंगूठा नहीं लगने की बात कहकर राशन नहीं बांट रहा। कई उपभोक्ताओं ने उच्चाधिकारियों से शिकायत करने की बात कही तो वह उक्त पत्रकार को अपना खास बताते हुए उल्टा चढ़ बैठा। साथ ही सीना ठोंक कर यह भी कहा कि डीएसओ को पैसा देता हूं, लखनऊ तक कर लो शिकायत, कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

कभी था एक-एक रुपए के लिए मोहताज- एक समय ऐसा भी था जब राशन डीलर दयाराम एक-एक रुपए के लिए मोहताज था। …लेकिन जुगाड़ बिठाकर राशन डीलर बनने के बाद उसकी संपत्ति में यकायक इजाफा हो गया। ग्रामीण बताते हैं कि हाल ही में शादी की सालगिरह पर उसने अपनी पत्नी को सोने के दो हार बतौर गिफ्ट दिये।

बिरादरी का देता है खौफ- राशन डीलर अपनी बिरादरी को लेकर भी लोगों को धमकाने से गुरेज नहीं करता। लोगों को दलित उत्पीड़न के फर्जी मामलों में फंसने की धमकी देता है। इस कारण लोग डर की वजह से सामने आने से डरते हैं।

बोले दयाराम- राशन डीलर दयाराम से उनके मोबाइल नंबर 09837869489 पर जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि मशीन अंगूठा नहीं पकड़ रही। जिला पूर्ति अधिकारी कार्यालय को अवगत कराया था। उन्होंने लखनऊ से समस्या होने की जानकारी दी है। वह सभी को पूरा राशन दे रहे हैं, कटौती की बात गलत है। हालांकि वह मिलकर बात करने को भी कहता है। अब ये तो सभी जानते हैं कि मिल कर क्या बात होती होगी?

सीएम की नजरों में खास साबित हुआ कृषि विभाग

बिजनौर। जिला कृषि अधिकारी अवधेश मिश्रा बहुत ही तन्मयता के साथ कृषि से संबंधित शोधों, खोजो, नई नई तकनीक को आम किसान तक पहुँचाने के लिए कृत संकल्पित रहते हैं। सरकार की जनहितकारी कृषि संबंधी सुविधाओं को प्रचार प्रसार तंत्र के माध्यम से सुविधा दिलाने के लिए बड़े ही ईमानदारी और निष्ठा के साथ जरूरतमंद किसान तक पहुंचाने के लिए जनपद के कोने-कोने के अंतिम व्यक्ति तक, जिसका कोई भी सिफारिशी नहीं है, वहां तक पहुंचने का प्रयास करते हैं। मुख्यमंत्री के बिजनौर भ्रमण के दौरान कृषि विभाग जनपद का पहला ऐसा विभाग बन गया है जिसका उन्होंने अवलोकन किया और पूरी तरह से प्रभावित भी हुए। जिला कृषि अधिकारी अवधेश मिश्रा के करीबियों और अधीनस्थ स्टाफ का कहना है कि वह जहां भी रहते हैं वहां पर कुछ नया करने के लिए प्रयास करते हैं। कुछ पाने की नहीं आमजन को कुछ देने की इनके अंदर ललक रहती है।

जनपद में 109 मतदेय स्थल हुए कम

भौतिक सत्यापन में 3111 मतदेय स्थलों की संख्या हुई 3002

बिजनौर। उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी वि0रा0 अरविन्द कुमार सिंह की अध्यक्षता में भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में समस्त सांसद/विधायक तथा मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियोें के साथ मतदेय स्थलों के सम्भाजन के संबंध में उनके कार्यालय कक्ष में बुधवार शाम बैठक का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जिला बिजनौर में अवस्थित समस्त विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में जिसमें 04-बिजनौर एवं 05-नगीना (अ0जा0),  17-नजीबाबाद , 18-नगीना (अ0जा0), 19-बढ़ापुर, 20-धामपुर, 21-नहटौर (अ0जा0), 22-बिजनौर, 23 चान्दपुर एवं 24-नूरपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार मतदेय स्थलों के सम्भाजन से संबंधित मतदेय स्थलों की सूची उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने उपस्थित सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि इस महत्वपूर्ण कार्य में अपना सहयोग प्रदान करें ताकि आयोग को स्वच्छ मतदेय स्थलों की सूची प्रेषित की जा सके।

उन्होंने वर्ष 2022 में मतदेय स्थलों की विवरण की विधानसभा वार जानकारी देते हुए बताया कि 17- नजीबाबाद में 391, जिसके सापेक्ष भौतिक सत्यापन के आधार पर प्रस्तावित मतदेय स्थलों की संख्या 364 अर्थात विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार कम हुए मतदेय स्थलों की संख्या 27 है। इसी प्रकार 18- नगीना विधानसभा क्षेत्र में 406 मतदेय स्थल के सापेक्ष 392 कम हुए 14, 19- बढ़ापुर विधान सभा क्षेत्र में 415 के सापेक्ष 403 कम हुए 12, 20-धामपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 326 के सापेक्ष 322 कम हुए 04, 21-नहटौर के अंतर्गत 354 के विपरीत 348 कम हुए 06, 22-बिजनौर विधानसभा क्षेत्र के 472 के सापेक्ष में 455 कम हुए 17, 23-विधानसभा क्षेत्र चांदपुर 371 के सापेक्ष में 365 कम हुए 06 तथा 24- नूरपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कुल 376 के सापेक्ष 353 जिनमें 23 मतदेय स्थल क्षेत्रवार कम किए गए हैं। इस प्रकार कुल 3111 मतदेय स्थलों के सापेक्ष 3002 भौतिक सत्यापन के आधार पर प्रस्तावित मतदेय स्थल हैं, जिसमें 109 मतदेय स्थल कम किए गए हैं।

इस अवसर पर समस्त निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, सहायक निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी ,राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मुनीष त्यागी जिला उपाध्यक्ष कांग्रेस, यादराम सिंह चंदेल आरएलडी, चौधरी धीर सिंह बीजेपी, अखलाक पप्पू समाजवादी पार्टी, मोहम्मद सिद्दीक बीएसपी सहित समस्त सांसद विधायक प्रतिनिधि व संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

मनरेगा में भ्रष्टाचार की इंतेहा! होमगार्ड के नाम पर निकाला पैसा

उरई/जालौन। वैसे तो मोदी योगी सरकार भ्रष्टाचार मुक्त शासन की बात करती हैं लेकिन उन्हीं के मातहत सरकारी नुमाईंदे कागजों में काम कर करोड़ों रुपए के फर्जीवाड़े करने में मशगूल हैं। मनरेगा में तो इतना बड़ा घोटाला है कि सीबीआई और ईडी की ही जरूरत पड़ेगी, लेकिन इन शिकायतों पर किसी को कोई दिलचस्पी नहीं है। 

माधौगढ़ विकास खंड में मनरेगा के तहत करोड़ों रुपए के काम कागजों में दिखा कर निकाल लिये गए तो कहीं फ़र्ज़ी जॉबकार्ड भरकर वारे-न्यारे किये जा रहे हैं। आम जनता की शिकायतों को रद्दी की टोकरी में डाल दिया जाता है, या शिकायतकर्ता को इतना परेशान कर दिया जाता है कि वह थक हार कर शांत बैठ जाता है। मिर्जापुर गांव में ग्राम प्रधान मुनीम कुशवाहा द्वारा मनरेगा के आधे से ज़्यादा काम ट्रैक्टरों से करा कर 14 दिनों की मजदूरी होमगार्ड गंभीर जॉबकार्ड संख्या-2 और पीआरडी जवान दिनेश जॉब कार्ड संख्या-3 के जॉबकार्ड में दिखाकर भर दी। जब इसकी शिकायत पंचायत के वार्ड सदस्य अंकित सिंह ने की तो उसके ख़िलाफ़ फर्जी शिकायतें दर्ज कराई जाने लगी। ऐसे ही ग्राम असहना में सुदामा के खेत से मचकचा तक चकबन्ध निर्माण के नाम पर 9 लाख का भुगतान निकाल लिया गया। इस चकबन्ध में एक फावड़ा तक मजदूर ने नहीं डाला और भुगतान भी गांव से 16 किमी दूर अकबरपुरा के मजदूरों के नाम हो गया। पूरे फर्जीबाड़े में न वर्क इंचार्ज को अपनी नौकरी की चिंता न भुगतान प्रक्रिया में शामिल एपीओ, जेई या प्रमुख जिम्मेदार खंड विकास अधिकारी को। ऐसे में योगी सरकार इनके घर कब जमींदोज करेगी? इस बात का इंतजार आम जनता कर रही है। (साभार-जालौन टाइम्स)

विधिक प्राधिकरण के एडीआर केन्द्र में होगी लीगल एड डिफेंस काउन्सिल की नियुक्ति

विधिक प्राधिकरण के एडीआर केन्द्र में होगी लीगल एड डिफेंस काउन्सिल की नियुक्ति। 05 सितम्बर तक विधिक प्राधिकरण में लीगल एड डिफेंस काउन्सिल के लिये करें आवेदन

बिजनौर। सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बिजनौर पप्पू कुमार सिंह द्वारा अवगत कराया गया कि उ0 प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा जारी निर्देशों के अनुपालन में एडीआर केन्द्र, बिजनौर में स्थापित नवीन प्रोजेक्ट-लीगल एड डिफेंस काउन्सिल सिस्टम हेतु 01 चीफ लीगल एड डिफेंस काउन्सिल, 01 डिप्टी चीफ लीगल एड डिफेंस काउन्सिल व 02 सहायक लीगल एड डिफेंस काउन्सिल की नियुक्ति 02 वर्ष के लिए की जानी है। इस हेतु आवेदन पत्र दिनांक 05 सितम्बर 2022 की सांय 5 बजे तक आमन्त्रित किये जाने हैं।
उन्होंने बताया कि उक्त पदों पर नियुक्ति हेतु आवश्यक योग्यता, नियम-शर्तें व आवदेन पत्र का प्रारूप कार्यालय जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, बिजनौर से किसी भी कार्य दिवस में प्रातः 10 बजे से सांय 05 बजे तक के मध्य प्राप्त किया जा सकता है अथवा उक्त सूचना उच्च न्यायालय, इलाहाबाद की आधिकारिक वेबसाईट https://www.allahabadhighcourt.in तथा जनपद न्यायालय, बिजनौर की वेबसाईट https://districts.ecourts.gov.in/bijnor से भी डाउनलोड की जा सकती है।

बिजनौर के हीरो लवी चौधरी का भव्य स्वागत

बिजनौर पहुंचने पर लवी चौधरी का हुआ भव्य स्वागत। डीएम ने लवी को बताया बिजनौर का हीरो। युवाओं से किया प्रेरणा लेने का आह्वान।

बिजनौर। जूनियर एशियाई वालीबॉल चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य लवी चौधरी का बिजनौर पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। लवी चौधरी हरियाणा से सोमवार को बिजनौर लौटे।

ईरान के शहर तेहरान में आयोजित हुई जूनियर एशियाई वॉलीबॉल चैंपियनशिप में भारतीय टीम ने कांस्य पदक प्राप्त किया है। भारतीय टीम के सदस्य रहे ग्राम रहमापुर निवासी लवी चौधरी सोमवार को हरियाणा से बिजनौर पहुंचे। गंगा बैराज पर लवी चौधरी का भव्य स्वागत किया गया। वहां से ढ़ोल नगाड़ों की थाप पर भारत माता की जय और वन्दे मातरम के उद्घोष लगाते हुए नेहरु स्टेडियम पहुंचे। स्टेडियम में वालीबाल संघ की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। नेहरु स्टेडियम में डीएम उमेश मिश्रा और एसपी दिनेश सिंह और एएसपी सिटी डा. प्रवीन रंजन सिंह ने लवी चौधरी का जोरदार स्वागत किया। नेहरू स्टेडियम में युवा खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी लवी चौधरी और उनके कोच अजित चौधरी को कंधों पर उठा लिया और मैदान में लेकर पहुंचे। वहां सैकड़ों की संख्या में खिलाड़ी लवी चौधरी का इंतजार कर रहे थे। डीएम उमेश मिश्रा, एसपी दिनेश सिंह, एसडीएम रीतु चौधरी ने लवी चौधरी को फूलों की माला पहनाकर स्वागत किया। डीएम उमेश मिश्रा ने खिलाड़ियों से कहा कि लवी चौधरी से प्रेरणा लेकर जिले का नाम रौशन करें। डीएम ने खिलाड़ियों से लवी चौधरी को बिजनौर का हीरो बताते हुए जिले का नाम रौशन करने का आह्वान किया। डीएम ने कहा कि शिक्षा के साथ खेल जरुरी है। जिले में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। जिले के युवा अगर ठान लें तो हर क्षेत्र में नाम रौशन कर सकते हैं। युवा अपनी प्रतिभा को पहचानें और जिले के साथ देश का नाम रौशन करें। डीएम ने जिला क्रीड़ा अधिकारी जयवीर सिंह से खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने को कहा।

इस अवसर पर जिला क्रीड़ा अधिकारी जयवीर सिंह, बीएसए जयकरन यादव, वॉलीबाल कोच अजित तोमर, योगेन्द्र पाल सिंह योगी, मानव सचेदवा, निपेन्द्र देशवाल, विकास अग्रवाल, विकास सेतिया, पवन कुमार कृष्णा कालेज, चित्रा चौहान, अरविंद देशवाल आदि मौजूद रहे। बाद में गांव पहुंचने पर लोगों ने अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी लवी चौधरी को फूल मालाओं से लाद दिया। उनकी उपलब्धि पर गांव में खुशी का माहौल है और उनके घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। वहीं बताया गया है कि मंगलवार को कोतवाली देहात में लवी चौधरी का भव्य स्वागत किया जाएगा।

बूढ़े बाबा की दोयज पर लगा मेला, उमड़े श्रद्धालु

बिजनौर। दोयज के मौके पर रोडवेज बस स्टैंड स्थित बूढ़े बाबा के मंदिर में हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद चढ़ाया। इस मौके पर मेले में लोगों ने जमकर खरीदारी की।

भादों माह की दोयज को बूढ़े बाबा के मंदिरों में प्रशाद चढ़ाने की परम्परा सदियों से चली आ रही है। मान्यता है कि मंदिर में प्रशाद चढ़ाने से मन की मुराद पूरी होती है। साथ ही लोगों को दाद, खाज, खुलजी, एक्जिमा जैसे चर्म रोगों से छुटकारा मिलता है। विगत दो वर्षो से कोविड़ के प्रकोप के चलते दूर दराज के श्रद्धालु मंदिरों तक नहीं पहुंच सके थे। सोमवार तड़के से ही मंदिर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं का सिलसिला शुरू हो गया। हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद चढ़ाया। इस मौके पर लगाए गये मेले में बच्चों ने खिलौने, महिलाओं ने सौंदर्य प्रसाधन एवं घरेलू सामान खरीदा। चाट पकौड़ी, गोलगप्पे, मोमोज़, बर्गर के ठेलों पर भी भीड़ उमड़ी। जलेबी, लड्डू, प्रशाद के दुकानदारों ने भी खूब माल बेचा।

हल्दौर में इस दौरान सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस मुस्तैद रही। थानाध्यक्ष उदय प्रताप सिंह व निरीक्षक केपी सिंह, उपनिरीक्षक भीम सिंह आदि तैनात रहे। वहीं मंडावर थाना क्षेत्र के गांव शहवाजपुर, गांव रामजीवाला छकड़ा में इस अवसर पर लगे मेले में खासी भीड़भाड़ रही। आसपास के कई गांव के लोगों ने बुड्ढे बाबा के मंदिर पर प्रसाद चढ़ाया और भगवान से प्रार्थना की। मेले में मंडावर पुलिस भी चप्पे-चप्पे पर तैनात रही। यहां भी हजारों श्रद्धालु प्रसाद चढ़ाने के लिए पहुंचे। मेले में लोग अपनी टैक्टर ट्राली बैलगाड़ी और मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए। बच्चों ने  झुला झूलकर खुशी मनाई।

11 प्लाईवुड फैक्ट्रियों में ताबड़तोड़ विशेष छापामारी

जिले में 11 प्लाईवुड फैक्ट्रियों में चला विशेष छापामार अभियान। सब जगह all is well, लेकिन फिर भी अनुदानित यूरिया का प्रयोग अथवा भंडारण न करने की हिदायत।

बिजनौर। जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में जनपद में संचालित प्लाईवुड फैक्ट्रियों में अनुदानित यूरिया के प्रयोग की शिकायत प्राप्त होने पर विशेष छापामार अभियान चलाया गया। आकस्मिक निरीक्षण एवं जांच के समय किसी भी निरीक्षित औद्योगिक इकाइयों में अनुदानित यूरिया का प्रयोग अथवा भंडारण नहीं पाया गया।

तहसील नजीबाबाद क्षेत्र में 07 जगह छापा- तहसील नजीबाबाद में प्लाईवुड की संचालित 7 फैक्ट्रियों यथा मै. शेजवुड प्राइवेट लिमिटेड, शिवा औद्योगिक संस्थान, रुचि इंटरप्राइजेज, सेठी बोर्ड इंडस्ट्री, ताज प्लाईवुड, नाज प्लाईवुड व अंबिका बोर्ड इंडस्ट्री की गहन जांच उप जिलाधिकारी नजीबाबाद विजयवर्धन तोमर एवं उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र ने की।

तहसील चांदपुर क्षेत्र में 02 जगह दबिश– तहसील चांदपुर में  संचालित मै. जगदंबा प्लाईवुड इंडस्ट्रीज व ईशा प्लाईवुड मैटेरियल सेलर्स की उप जिलाधिकारी चांदपुर मांगेराम चौहान एवं जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र द्वारा जांच की गई।

बिजनौर तहसील क्षेत्र में दो रहे ठिकाने- तहसील बिजनौर में संचालित मै. मंगला प्लाईवुड प्राइवेट लिमिटेड व सुपर बोर्ड इंडस्ट्रीज की उप जिलाधिकारी बिजनौर मोहित कुमार एवं जिला कृषि रक्षा अधिकारी मनोज रावत के द्वारा गहन जांच की गई।

शासन के हैं कड़े निर्देश- उत्तर प्रदेश शासन द्वारा प्लाईवुड की इंडस्ट्री के साथ-साथ कैटल फीड, वार्निश, पेंट, वार्निश, बोर्ड आदि बनाने में अनुदानित यूरिया के प्रयोग को पूर्णतया प्रतिबंधित किया गया है। जाँच के समय समस्त फैक्ट्री के संचालकों को अनुदानित यूरिया के प्रयोग ना किए जाने के संबंध में सचेत करते हुए निर्देशित किया गया कि यदि भविष्य में इसका उल्लंघन पाया जाता है तो संबंधित के विरुद्ध उर्वरक नियंत्रण आदेश-1985 एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम-1955 की धारा 3/7 के अंतर्गत विधिक कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

आकस्मिक निरीक्षण एवं जांच के समय किसी भी निरीक्षित औद्योगिक इकाइयों में अनुदानित यूरिया का प्रयोग अथवा भंडारण नहीं पाया गया, बल्कि 06 औद्योगिक इकाइयों में  टेक्निकल ग्रेड यूरिया का प्रयोग एवं भंडारण पाया गया तथा शेष औद्योगिक इकाई में फॉर्मलडिहाइड का प्रयोग होता हुआ पाया गया। यह जानकारी जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र ने दी।

ANM की पैरवी में CDO के खिलाफ खोला मोर्चा

CDO की खिलाफत में मातृ शिशु एवं परिवार कल्याण संघ ने खोला मोर्चा।

एक हफ्ते में निलंबित ANM की बहाली नहीं तो छेड़ेंगे आंदोलन।

जिलाधकारी को ज्ञापन देकर दिया अल्टीमेटम।

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा द्वारा विकास खण्ड मौ०पुर देवमल के ग्राम पंचायत अलाउद्दीनपुर उर्फ जन्दरपुर में तैनात एएनएम दीपा कोटवाल के निलंबन का मामला गर्मा गया है। मातृ शिशु एवं परिवार कल्याण संघ ने जिलाधकारी को ज्ञापन सौंप कर चेतावनी दी है कि एक सप्ताह में निलंबन स्थगित न होने पर महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली जाएंगीं।

ज्ञापम में कहा गया कि मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा द्वारा विकास खण्ड मौ०पुर देवमल के ग्राम पंचायत अलाउद्दीनपुर उर्फ जन्दरपुर में वीएचएनडी सत्र का औचक  निरीक्षण किया गया। समाचार पत्रों के माध्यम से अवगत हुआ है कि निरीक्षण के दौरान एएनएम दीपा कोटवाल का कार्य असंतोषजनक था, जिस कारण मुख्य विकास अधिकारी ने एएनएम को तत्काल प्रभाव से निलम्बित करने के निर्देश दिये। वीएचएनडी सत्र पर जिन जांचों की जानकारी (एचआईवी  सिफलिस, शुगर एल्बुमिन, बीपी) से संबंधी कोई भी लोजिस्टिक विभाग से प्राप्त नहीं कराई जाती है। समाचार पत्र में दिये गये सामान में से कुछ ही सामान एएनएम को प्राप्त कराया जाता है, जोकि मानक के अनुरूप नहीं होता है, जबकि वीएचएनडी सत्र पर सभी सामान मानक के अनुसार चैक किया जाता है। कम मात्रा में होने पर एएनएम को पूर्ण जिम्मेदार मानते हुए उसके विरुद्ध कार्यवाही की जाती है, जबकि यह पूर्ण जिम्मेदारी विभाग की होती है।

डीएमसी यूनिसेफ की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह? वीएचएनडी सत्र का निरीक्षण किसी भी उच्च अधिकारी द्वारा होने पर पूर्व में सूचना दी जाती है, परन्तु डीएमसी यूनिसेफ और मुख्य विकास अधिकारी द्वारा बिना सीएमओ या एमओआईसी को सूचना दिये बिना मुख्य विकास अधिकारी को डीएमसी यूनिसेफ द्वारा कार्यस्थल पर ले जाया गया।
डीएमसी द्वारा पूर्व में भी एएनएम  का मानसिक उत्पीड़न किया जाता रहा है। जिस सामान का उल्लेख सत्र में किया गया है,उसमें से बहुत से सामान आज तक एएनएम को प्राप्त ही नहीं कराये गये हैं।

ANM के साथ कोई अनहोनी हो गई तो? डीएमसी / मुख्य विकास अधिकारी के उत्पीड़न से परेशान होकर दीपा कोटवाल मानसिक रूप से परेशान हो गयी थी। यदि एएनएम दीपा के साथ कोई भी अनहोनी हो जाती है तो उसकी पूर्ण जिम्मेदारी डीएमसी/मुख्य विकास अधिकारी सम्बन्धित (उच्चाधिकारियों) की होगी। यदि एएनएम का निलम्बन स्थगित नहीं किया जाता तो एक सप्ताह के भीतर मातृ शिशु एवं परिवार कल्याण संघ की सभी महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली जाएंगीं। ज्ञापन देने वालों में अध्यक्ष रूपधारा, मंत्री मीना, वरिष्ठ उपा० उमा, उपाध्यक्ष चंचल, उपमंत्री  संगीता, सँगठन मंत्री सविता,  कोषाध्यक्ष सुशीला देवी, संरक्षक आदेश बाला व ऑडीटर सीमा राजपूत आदि शामिल रहीं।

पशुओं में फैली नई बीमारी “LSD” से मचा हड़कंप

पशुओं में फैली नई बीमारी एलएसडी। लंपी स्किन डिजीज वायरस के कारण होता है गो-जातीय पशुओं में चमड़ी का रोग। पशुपालन विभाग से मांगी साढ़े तीन लाख वैक्सीन। प्रदेश के हिस्से में आ रही साढ़े 17 लाख वैक्सीन। बकरियों में पिछले कुछ वर्षों में फैली गोट पॉक्स की वैक्सीन ही रामबाण साबित होगी!

बिजनौर। जनपद में पशुओं पर नई संक्रामक बीमारी लंपी स्किन डिजीज (एलएसडी) का प्रकोप शुरू हो गया है। अब तक सामने आए 354 मामलों में से चार पशुओं की मौत हो चुकी है, जबकि 45 ठीक भी हुए हैं। पशुपालन विभाग को ढाई लाख वैक्सीन की डिमांड भेजी गई है। वहीं पूरे प्रदेश के हिस्से में मात्र साढ़े 17 लाख वैक्सीन आने की संभावना है। फिलहाल इस बीमारी से बचाव व उपचार की कोई वैक्सीन ही नहीं है, बल्कि बकरियों में पिछले कुछ वर्षों में फैली गोट पॉक्स की वैक्सीन ही रामबाण साबित होगी!

एक दूसरे से दूर रखें पशु- जनपद बिजनौर में पशुओं पर नई संक्रामक बीमारी लंपी स्किन डिजीज (एलएसडी) का प्रकोप शुरू हो गया है। इस बीमारी के लक्षण दिखने के बाद एहतियात के तौर पर पशुओं को एक दूसरे से दूर रखना जरूरी है। क्षेत्र के किसानों को अपने पशुओं की देखभाल में सावधानी बरतनी चाहिए।

घबराएं नहीं, सावधानी बरतें पशुपालक- लंपी स्किन डिजीज (एलएसडी) गो-जातीय पशुओं में चमड़ी का रोग है जो लंपी स्किन डिजीज वायरस के कारण होता है। जानकारों का कहना है कि पशु पालकों को लंपी बीमारी से घबराने की नहीं, बल्कि सावधानी बरतने की जरूरत है। शासन-प्रशासन व पशुपालन विभाग की ओर से बीमारी की रोकथाम के लिए सभी संभव कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने पशुपालकों से अपील करते हुए कहा है कि पशुपालक रोग प्रभावित क्षेत्र से पशु ना खरीदें। यह गौवंश और भैंसों को प्रभावित करने वाली एक संक्रामक, छूत और आर्थिक महत्व की बीमारी है। यह चमड़ी और शरीर के अन्य भागों में गांठ बनने के उपरान्त फटने से बने घावों के कारण कभी-कभी घातक भी हो सकती है।

क्या करें प्राथमिक उपचार? आमतौर पर पशुओं को बुखार आना, भूख न लगना और मुंह, नाक, थन, जननांग, मलाशय की त्वचा और श्लेष्मा झिल्ली पर गांठे बनना, दूध उत्पादन में कमी, गर्भपात, बांझपन और कभी-कभी मृत्यु इस रोग की नैदानिक अभिव्यक्तियां हैं। द्वितीयक जीवाणु संक्रमण होने से प्रभावित पशुओं की स्थिति और खराब हो जाती है। पीड़ित पशु के शरीर पर गांठे बनने के कारण इस रोग को गांठदार या ढेलेदार चमड़ी रोग भी कहा जाता है।
एलएसडी प्रभावित किसी भी पशु में लम्पी स्किन डिजीज होने पर अपने नजदीकी पशु चिकित्सालय से उसका इलाज कराएं। बीमार पशुओं को स्वस्थ पशुओं से अलग कर घावों के उपचार एवं मक्खियों को दूर करने के लिए कीट विकर्षक/एंटीसेप्टिक दवा लगाएं। 

सीवीओ विजेंद्र सिंह ने बताया कि जनपद में 354 केस सामने आए हैं, चार पशुओं की मौत हो चुकी है, जबकि 45 ठीक हुए हैं। जांच के लिए भेजे गए सैम्पल में से 03 पॉजिटिव हैं, जबकि 12 निगेटिव हैं। पशुपालन विभाग को ढाई लाख वैक्सीन की डिमांड भेजी गई है। इस वैक्सीन को एलएसडी प्रभावित क्षेत्रों के आसपास वाले क्षेत्र के पशुओं को लगाया जाएगा। अभी इस बीमारी की कोई वैक्सीन नहीं बनी है। बकरियों की बीमारी में कारगर वैक्सीन इस रोग के उपचार में प्रभावी है।

शैलेन्द्र चौधरी एड. ने जरुतमंद को रक्तदान कर पेश की हिन्दू मुस्लिम एकता की मिसाल

बिजनौर। अपना दल (एस) के कार्यवाहक जिला अध्यक्ष शैलेन्द्र चौधरी एड. ने जरुतमंद को रक्तदान कर हिन्दू मुस्लिम एकता का मिसाल कायम की। युवाओं से रक्तदान करने का भी आह्वान किया। युवा नेता शैलेन्द्र चौधरी को जानकारी मिली कि एक मुस्लिम व्यक्ति को ब्लड की जरूरत है। उन्होंने अपना खून डोनेट करने की इच्छा जाहिर की और ब्लड बैंक पहुंच गये जहां उन्होंने रक्तदान किया।

उन्होंने कहा कि रक्तदान कर दूसरे के जिंदगी बचाने में सहयोग करना ही सबसे बड़ा धर्म होता है। नजीबाबाद की गंगा जमुनी संस्कृति को जिंदा रखते हुए उन्होंने सभी से बिना भेदभाव के जरुरतमंदों की मदद करने का आह्वान किया।

जनता को सुरक्षा का अहसास कराने खुद सड़क पर उतरे एसपी दिनेश

सड़कों पर पैदल मार्च कर एसपी ने जनता को दिलाया सुरक्षा का अहसासव्यापारियों, ठेले, रेहड़ी वालों और मुअज्जिज लोगों से किया संवाद स्थापित। एसपी के हाथ से टॉफी पाकर खिल उठे बच्चों के चेहरे।

बिजनौर। आगामी त्योहारों को सकुशल सम्पन्न कराने एवं जनपद की कानून व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने अभियान चला रखा है।

उन्होंने सभी थाना प्रभारियों को इस संबंध में सख्त दिशा निर्देश दे रखे हैं।एसपी खुद भी जनसामान्य से मिल कर पुलिस का इकबाल बुलंद करने में जुटे हुए हैं। यही वजह है कि उनके मिलनसार व्यवहार से आमजन भी उनका मुरीद बना  हुआ है।

इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व क्षेत्राधिकारी चांदपुर सुनीता दहिया ने चांदपुर क्षेत्र में पुलिस फोर्स के साथ पैदल गश्त की।

इस दौरान व्यापारियों, फल व्यापारी, रेहड़ी वालों व संभ्रांत लोगों से संवाद स्थापित किया। यही नहीं रास्ते में मिले बच्चों को टॉफी चॉकलेट भी दी। बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे भी उनके व्यवहार से अभिभूत हो गए। एसपी की इस कार्यप्रणाली से आमजन में सुरक्षा का एहसास बरकरार बना हुआ है।

पोषण पाठशाला में अभिभावकों को किया गया जागरूक

पोषण पाठशाला में अभिभावकों को किया गया जागरूक। वीडियो कान्फ्रेसिंग एवं वेब लिंक के माध्यम से किया गया ’’पोषण पाठशाला’’ का आयोजन।

बिजनौर। पोषण अभियान के अन्तर्गत सचिव, बाल विकास एवं पुष्टाहार की अध्यक्षता में वीडियो कान्फ्रेसिंग एवं वेब लिंक के माध्यम से ’’पोषण पाठशाला’’ का आयोजन किया गया।
जिला कार्यक्रम अधिकारी नागेन्द्र मिश्र के अनुसार पोषण अभियान के अन्तर्गत जन-सामान्य को पोषण के विषय में  जागरूक करने के लिये शासन एवं निदेशालय द्वारा प्रत्येक माह पोषण पाठशाला का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में गुरुवार को पोषण का आयोजन किया गया, जिसमें विभागीय उच्चाधिकारियो के साथ-साथ विषय विशेषज्ञों द्वारा भी प्रतिभाग किया गया। पोषण पाठशाला का थीम ’’सही समय पर ऊपरी आहार की शुरूआत’’ थी। सही कार्यक्रम में उपस्थित विषय विशेषज्ञों द्वारा बच्चों के 06 माह का हो जाने पर सही समय पर ऊपरी आहार की शुरूआत किये जाने के सम्बन्ध में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गयी। इस कार्यक्रम में जनपद की समस्त आंगनबाडी कार्यकत्रियों के द्वारा भी वेब लिंक के माध्यम से प्रतिभाग किया गया तथा आंगनबाडी केन्द्रों पर लाभार्थी भी उपस्थित रहे। आंगनबाडी कार्यकत्रियों के द्वारा शासन से प्राप्त स्मार्ट फोन के माध्यम से आंगनबाडी केन्द्र पर उपस्थित लाभार्थियों एवं जन-सामान्य को कार्यक्रम का सजीव प्रसारण दिखाया गया ताकि लाभार्थी एवं जनसामान्य विषय विशेषज्ञों के द्वारा ऊपरी आहार की शुरूआत किये जाने सम्बन्धी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकें।

कार्यक्रम में उपस्थित विषय विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गयी कि 06 माह पूर्ण होने के उपरान्त बच्चे को ऊपरी आहार दिये जाने की शुरूआत किया जाना नितान्त आवश्यक है, क्योंकि 06 माह की आयु पूर्ण हो जाने के उपरान्त बच्चे को मां के दूध से पूरा पोषण नहीं मिल पाता है, जिससे बच्चे का मानसिक एवं शारीरिक विकास प्रभावित होता है। विशेषज्ञों के अनुसार बच्चे को 06 माह के उपरान्त विभिन्न पोषण विविधताओं से भरपूर अद्र्व ठोस आहार देना चाहिए। एक ही प्रकार का ऊपरी आहार बार-बार दिया जाना उचित नहीं है, इसलिये आहार में विविधता लानी चाहिए ताकि बच्चे के शरीर को प्रत्येक प्रकार के पोषण तत्व मिलते रहें तथा बच्चा मानसिक एवं शारीरिक रूप से विकसित हो सके।
विषय विशेषज्ञों के अनुसार ऊपरी आहार के साथ-साथ मां का दूध भी 02 वर्ष तक जारी रखना चाहिए, क्योकि मां के दूध में बच्चे के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिये जरूरी लगभग सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। बच्चे के बीमार होने पर भी मां द्वारा स्तनपान कराना तथा ऊपरी आहार दिया जाना जारी रखना चाहिए, इससे बच्चे को कुपोषण से लड़ने में सहायता मिलती है।

धामपुर पहुंचे केन्द्रीय रेलवे मंत्री ने किया रेलवे स्टेशन का निरीक्षण

केन्द्रीय रेलवे मंत्री ने किया धामपुर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण। विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने सौंपे धामपुर रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर व एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव हेतु ज्ञापन।

बिजनौर। केन्द्रीय रेल एवं दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने जनपद बिजनौर के दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन धामपुर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण किया। श्री वैष्णव ने स्टेशन परिसर व भवन, माल गोदाम, सर्कुलेटिंग एरिया आदि के निरीक्षण के साथ ही स्टेशन में संचालित विभिन्न व्यवस्थाओं को देखा। प्लेटफार्म नंबर एक व दो पर पहुंचकर निरीक्षण किया। साथ ही रेल अधिकारियों से विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा भी की। मंत्री ने जनप्रतिनिधियों, गणमान्य व्यक्तियों व किसान भाईयों से भी भेंट व वार्ता की।

इससे पहले पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बुधवार को केन्द्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव धामपुर पहुंचे। रेलवे स्टेशन पर क्षेत्रीय भाजपा विधायक अशोक राणा सहित भाजपा पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने बुके देकर उनका अभूतपूर्व स्वागत किया। इस दौरान विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने धामपुर रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर व एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव हेतु ज्ञापन भी सौंपे। इसके बाद केंद्रीय रेल मंत्री अश्विन वैष्णव अपने काफिले के साथ राष्ट्रीय कोर कमेटी की बैठक में शामिल होने के लिए रवाना हो गये।

इस अवसर पर महानिदेशक आशुतोष गंगल, अपर मण्डल रेल व्यवस्थक (परिचालन) राकेश सिंह, अपर मण्डल रेल व्यवस्थापक (इन्फ्रा) एनएन सिंह, वरिष्ठ मण्डल वाणिज्यिक प्रबंधक सुधीर सिंह, असिस्टेंट कमांडर त्रिलोक सिंह रावत, रेलवे स्टेशन मास्टर प्रतीक चौहान, रेलवे प्रधान कार्यालय के सभी विभागाअध्यक्ष, मण्डल व शाखा कार्यालय के अधिकारी के अलावा चेयरमैन राजू गुप्ता, महेंद्र धनौरिया, एसपी पूर्वी ओमवीर सिंह, दिनेश सैनी, भूपेंद्र बॉबी, प्रियंकर राणा, सभासद पुरुषोत्तम अग्रवाल, डीएस चौहान, प्रमोद राठी, आकाश जोशी, डीएस चौहान, राघव शरण गोयल, सुभाष चौहान, दयाशंकर राणा आदि उपस्थित रहे।

सोलर पम्प स्थापना को धनराशि जमा कराने हेतु नहीं किया जाता कोई फोन- उप कृषि निदेशक

उप कृषि निदेशक ने चेताया जालसाजों से बचे किसान। सोलर पम्प स्थापना हेतु धनराशि जमा कराने हेतु नहीं किया जाता कोई फोन

बिजनौर। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र ने जनपद के समस्त किसान भाइयों को सचेत व सूचित करते हुए बताया कि प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पी०एम०-कुसुम) योजनान्तर्गत कृषि विभाग से सोलर पम्प स्थापना हेतु अभिलेख धनराशि बैंक में जमा कराने के सम्बन्ध में कोई फोन नहीं किया जाता है। प्रकाश में आया है कि कुछ जालसाज संस्था/व्यक्तियों द्वारा कृषकों को फोन करके सोलर पम्प स्थापना के सम्बन्ध में कृषक के अभिलेख/धनराशि अपने बैंक खाते में जमा कराने के सम्बन्ध में फर्जी कॉल की जा रही है। उन्होंने कहा कि यदि धनराशि जमा कराने या अभिलेख लेने के संबंध में किसी किसान भाई के पास कोई फोन आता है, तो वह उसके द्वारा बताये गये बैंक खाता सं० में कोई धनराशि जमा न करें और न ही अपना कोई अभिलेख दें। यदि कोई किसान भाई किसी फर्जी कॉल पर सोलर पम्प के सम्बन्ध में अपने अभिलेख या धनाशि जमा करते हैं, तो उनको आर्थिक हानि हो सकती है, जिसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे। कृषि विभाग की इसमें कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

दिव्यांग लाभार्थी 30 अगस्त तक कराएं पेंशन में आधार प्रमाणीकरण

30 अगस्त तक दिव्यांग पेंशन लाभार्थी करा लें आधार प्रमाणीकरण- सीडीओ

बिजनौर। दिव्यांग पेंशन योजनान्तर्गत आच्छादित होने वाले लाभार्थियों को अपनी दिव्यांग पेंशन में अपना आधार प्रमाणीकरण कराना आवश्यक है। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने उक्त जानकारी देते हुए अवगत कराया कि दिव्यांग पेंशन में आधार प्रमाणीकरण न होने की स्थिति में पेंशनरों के बैंक खातों में पेंशन धनराशि अंतरित नहीं की जा सकेगी। पेंशनधारकों की सुविधा हेतु शासन द्वारा पेंशन की विभागीय बेवसाईट पर पेंशनरों के लिए स्वयं आधार प्रमाणीकरण की सुविधा प्रदान की गयी है।

उन्होंने कहा कि जनपद के ऐसे दिव्यांगजन जिन्होंने अभी तक आधार प्रमाणीकरण नहीं कराया है, वह 30 अगस्त, 2022 तक आधार प्रमाणीकरण अवश्य करा लें। सीडीओ ने बताया कि जिन दिव्यांगजनों के आधार प्रमाणीकरण नहीं हुए हैं, वे किसी भी दिवस में जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी कार्यालय में आकर आधार प्रमाणीकरण करा सकते हैं या अपने नजदीकी जनसेवा केन्द्र से भी आधार प्रमाणीकरण करा सकते हैं। इसके लिए लाभार्थी को अपना आधार कार्ड, दिव्यांगता प्रमाण- पत्र, बैंक पासबुक एवं मोबाईल नम्बर की आवश्यकता होगी, जिन लाभार्थियों द्वारा आधार प्रमाणीकरण नहीं कराया जाता है। तो ऐसी स्थिति में भविष्य में उनको दिव्यांग पेंशन का लाभ दिया जाना सम्भव नहीं होगा, जिसके लिये वह स्वयं उत्तरदायी होंगे। किसी भी समस्या के लिए जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी बिजनौर के मोबाईल नम्बर 7060049900 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

डेंगू से सावधानी व सतर्कता बनाए रखने को डीएम की अपील

डेंगू एक गम्भीर रोग, सावधानी व सतर्कता बनाए रखें-जिलाधिकारी। लक्षण दिखने पर नजदीकी सरकारी अस्पताल में चिकित्सीय परामर्श लें व जांच कराएं। दायित्वों के निर्वहन में यदि शिथिलता या लापरवाही बरती जाती है तो दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध की जायेगी कार्यवाही।

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने शासन स्तर से समय-समय पर कराये गये दिशा-निर्देशों के क्रम में आमजन को अवगत कराते हुए कहा कि डेंगू रोग एक गम्भीर रोग है जो मादा एडीज इजिप्टाई मच्छर के काटने से फैलता है। उन्होंने कहा कि सावधानी व सर्तकता बनायें रखें। लक्षण दिखने पर नजदीकी सरकारी अस्पताल में चिकित्सीय परामर्श लें व जांच करायें। उन्होंने अधिकारियों के दायित्व निर्धारित करते हुए कहा कि शिथिलता या लापरवाही बरती जाती है तो दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध कार्यवाही करने के साथ ही शासन को सूचित कर दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जनपद बिजनौर मे मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिजनौर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गयाहै।

जिलाधकारी ने बताया कि इस रोग का प्रसार अधिकतर माह जुलाई से माह नवम्बर के मध्य होता है। यह मच्छर घर के अन्दर व उसके आस-पास के वातावरण में रहता है और पलता है तथा केवल दिन के समय में काटता है और रात को विश्राम करता है। डेंगू बुखार का वायरस (विषाणु) इन मच्छरों के द्वारा एक प्रभावित व्यक्ति से दूसरे स्वस्थ व्यक्ति में फैलता है। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि डेंगू के नियन्त्रण हेतु विभिन्न कार्यवाहियाँ सुनिश्चित करायी जायें जिसमें प्रत्येक जिला स्तरीय चिकित्सालय में डेंगू के रोगियों के लिये एक पृथक वार्ड चिन्हित किया जाये। प्रत्येक बैड पर रोगी के लिए मच्छरदानी की व्यवस्था हो, सम्भावित डेंगू रोग के सभी रोगियों का चिकित्सालय में भर्ती कर निःशुल्क उपचार किया जाये। इन रोगियों के रोग की पुष्टि हेतु सीरम का जॉच एलाइजा/रेपिड टेस्ट द्वारा कराई जाये। सभी रोगियों का टूर्निकेट टेस्ट तथा प्लेटलेट काउन्ट कराया जाये।
उन्होंने निर्देशित किया कि चिकित्सालय एवं रोगियों के निवास स्थान के क्षेत्र में एडिज इजिप्टाई मच्छर के घनत्व का नियमित अनुश्रवण किया जाये। कन्टेनर इन्डेक्स एवं हाउस इन्डेक्स के माध्यम से एडिज इजिप्टाई मच्छर के लार्वा की जानकारी नियमित रूप से कराई जाये। वाहक मच्छर पर नियन्त्रण हेतु घर के बर्तनों, कूलरों, घड़े, पानी की टंकी में एकत्रित पानी एक सप्ताह के अन्दर अवश्य बदल दें। बहुमंजिली इमारत में वाहक मच्छर की वृद्धि को रोकने के लिये उनके प्रबन्धकों के स्तर से यह सुनिश्चित करा लें कि उनकी इमारतों कूलर, पानी की टंकी आदि दशा में बदल दिया जाये। प्रत्येक व्यक्ति शरीर को अधिक से अधिक ढकने के लिये उपयुक्त कपड़े पहने। मच्छरदानी एवं अन्य उपाय जैसे- मैटस, अगरबत्ती, क्रीम इत्यादि का प्रयोग करे। समस्त स्कूल/कालेज में बच्चों में मच्छर के काटने बचाने की पूरी बॉह के कपडे तथा पैरों में लम्बे मोजे/सलवार इत्यादि पहनने की सलाह दें।

चिकनगुनिया रोग पर भी रखें नजर- उन्होंने कहा कि चिकनगुनिया रोग भी एक वायरस के कारण होता है। इसका प्रसार भी डेंगू के समान एडिज इजिप्टाई मच्छर द्वारा होता है। इस रोग के मुख्य लक्षण भी डेंगू की तरह तेज बुखार के साथ शरीर के सभी जोड़ों में असहनीय दर्द तथा शरीर में दाने होना होता है। इस रोग से बचाव हेतु उपरोक्तानुसार डेंगू के समान सभी उपाय कराये जाएं। रोग की पुष्टि हेतु चिकनगुनिया रोग के सम्भावित रोगियों के सीरम की जाँच एन०सी०डी०सी०, 22 शाम नाथ मार्ग, दिल्ली (भारत सरकार) में भेजकर कराई जाये।

हाई कोर्ट ने तय की जिम्मेदारी- जिलाधकारी ने बताया कि उच्च न्यायालय इलाहाबाद द्वारा पारित आदेश के द्वारा नगर पालिकाओं के अधिशासी अधिकारी एवं नगर निगमों व नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी व चेयरमैन अपने क्षेत्र में सामान्य सफाई के लिए उत्तरदायी होंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में जिला पंचायत राज अधिकारी सफाई के लिए उत्तरदायी होगे। निजी नर्सिंग होम के मालिक व्यवस्थापक एवं प्रभारी अपने जनपद के जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी को डेंगू से पीड़ित व्यक्ति की पॉजिटिव रिपोर्ट होने पर अनिवार्य रूप से सूचित करेगें। राज्य सरकार रोग से बचाव हेतु किये जाने वाले उपायों की जनसामान्य में जानकारी हेतु व्यापक प्रचार- प्रसार करेगी।

सीएमओ बनाए गए नोडल अधिकारी- डीएम ने कहा कि उपरोक्त निर्देशों का कड़ाई के साथ अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु जनपद बिजनौर में मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिजनौर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी स्वयं यह सुनिश्चित करेंगे कि निर्धारित प्रारूप पर सूचना शासन को प्रत्येक दिन समय से प्राप्त होती रहे। कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सोशल डिस्टेसिंग व व्यक्तिगत स्वच्छता/सेनिटाईजेशन को अपनाते हुए समस्त विभागाध्यक्ष अपने से सम्बन्धित कार्याे/निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराना सुनिश्चित करें।

खरीफ उत्पादकता गोष्ठी में लाभान्वित हुए सैकड़ों किसान

सफलतापूर्वक आयोजित हुई खरीफ उत्पादकता गोष्ठी, अनेक किसान हुए लाभान्वित

मेले में कृषि योजनओं, निवेशों, फसल बचाव व कृषि की दी गई नवीनतम जानकारी 

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा की अध्यक्षता में जनपद स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी 2022 एवं नेशनल मिशन ऑन एडिविल ऑयल (ऑयल सीड्स) योजनान्तर्गत खरीफ तिलहन किसान मेले का आयोजन कॉकरान वाटिका, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में किया गया।

कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र सहित कृषि व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी व लगभग 800 कृषकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। गोष्ठी का संचालन अपर जिला कृषि अधिकारी हरज्ञान सिंह द्वारा किया गया।
मुख्य विकास अधिकारी द्वारा किसान मेला/गोष्ठी का फीता काटकर शुभारम्भ एवं दीप प्रज्जवलित किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का निरीक्षण किया। निरिक्षण के समय कृषि विभाग द्वारा लगाये गये स्टाल पर देय अनुदान के सम्बन्ध में उन्होंने जानकारी भी प्राप्त की।

इस अवसर पर उन्होंने निर्देश दिये कि जिन कृषकों द्वारा जैविक विधि से अचार एवं अन्य उत्पाद तैयार किये जा रहे हैं, उन उत्पादों को एफएसएसएआई से प्रमाणित कराया जाये ताकि उत्पाद की गुणवत्ता निर्धारित हो सके। इसके साथ ही महिला समूह द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादों की पैकेजिंग की गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु निर्देशित किया। निरीक्षण के समय उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये कि महिला समूह/एफपीओ एवं डास्प द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादकों के व्यापक प्रचार प्रसार कराने हेतु जनपद में स्थित शॉपिंग मॉल एवं साप्ताहिक बाजारों में जैविक उत्पादकों को रखवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

मुख्य विकास अधिकारी बिजनौर द्वारा अपने सम्बोधन में जैविक खेती पर जोर देते हुए गोष्ठी में उपस्थित कृषकों से अपेक्षा की गई कि किसान अधिक से अधिक जैविक खेती कर अपनी आय में उत्तरोतर वृद्धि कर सकते हैं। साथ ही फसल अवशेष के सम्बन्ध में उपस्थित कृषकों को सलाह दी गई कि आप अपनी फसल से प्राप्त भूसे को सुरक्षित रखें ताकि गोशालाओं में पर्याप्त मात्रा में भूसे की उपलब्धता हो सके तथा फसल अवशेष को न जलाकर इकट्ठा कर डी-कम्पोज कर जैविक खाद का उत्पादन करें। इनके द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को निःशुल्क उर्द बीज मिनीकिट का वितरण किया गया।

जिला कृषि अधिकारी बिजनौर डा0 अवधेश मि़श्र द्वारा कृषि विभाग में संचालित योजनाओं में देय अनुदान के विषय में विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। जिला कृषि अधिकारी द्वारा कृषकों को कृषि निवेशों की उपलब्धता के विषय में विस्तृत जानकारी दी गई। जिला कृषि रक्षा अधिकारी मनोज रावत ने मुरादाबाद में स्थापित आईपीएम लैब द्वारा तैयार किये जा रहे ट्राइकोडर्मा हारजियेनम एवं ब्यूवेरिया बेसियाना के विषय में बताया गया कि जैविक खेती के उत्पादन बढ़ाने हेतु कृषकों को अनुदान पर उपलब्ध कराये जाते हैं तथा 75 प्रतिशत देय अनुदान की धनराशि का भुगतान सीधे कृषक के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजी जाती है। उनके द्वारा फसलों में लगने वाले कीट-रोग से बचाव एवं उपचार के विषय में कृषकों को जानकारी दी गई।
कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को कृषि की नवीनतम जानकारी यथा मशरूम की खेती, खरीफ फसलों में लगने वाले कीट एवं रोग से बचाव आदि के विषय में विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी तथा कृषकों को कृषि वैज्ञानिकों द्वारा अपने मोबाइल नं0 नोट कराये गये। कृषकों का आश्वस्त किया गया कि किसी भी जानकारी के लिए आप हमसे सीधे सम्पर्क कर समस्या का समाधान पा सकते हैं। कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषि संवाद के माध्यम से किसान मेले/गोष्ठी में उठाई गयी समस्याओं का निराकरण मौके पर ही किया गया।

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा0 विजेन्द्र पाल सिंह द्वारा पशुओं में फैल रही बीमारी के रोकथाम एवं उपचार के विषय में कृषकों को विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द द्वारा विभाग में चल रही योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी गयी। पी0एम0 किसान सम्मान निधि योजनार्न्तत कृषकों को अवगत कराया गया कि जिन कृषकों द्वारा ई0-के0वाई0सी0 नहीं कराई गयी, वह तत्काल जनसेवा केन्द्र के माध्यम से ई-के0वाई0सी0 करायें।
अन्त में जिला कृषि अधिकारी डा0 अवधेश मिश्र द्वारा गोष्ठी में आये हुए अधिकारियों एवं कर्मचारियों/कृषकों का धन्यवाद देते हुए किसान मेला/गोष्ठी का समापन किया गया।

इस अवसर पर डा0 अवधेश मिश्र जिला कृषि अधिकारी, मनोज रावत जिला कृषि रक्षा अधिकारी, डा0 कर्मवीर सिंह यादव जिला परियोेजना समन्वयक डास्प, जितेन्द्र कुमार  जिला उद्यान अधिकारी, डा0 विजेन्द्र सिंह मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, हरज्ञान सिंह अपर जिला कृषि अधिकारी, डा0 के0के0 सिंह कृषि वैज्ञानिक, डा0 शिवांगी कृषि वैज्ञानिक, डा0 शकुन्तला गुप्ता प्रभारी अधिकारी कृषि विज्ञान केन्द्र नगीना, डा0 प्रदीप कुमार सिंह सहायक आयुक्त एवं सहायक निबन्धक बिजनौर, जिला गन्ना अधिकारी  मायापति यादव, एस0सी0डी0आई0 नजीबाबाद सहित अन्य अधिकारी व बडी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

राकेश टिकैत को हिरासत में लेने पर कार्यकर्ताओं ने किया थाने का घेराव

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की दिल्ली गाजीपुर बॉर्डर पर गिरफ्तारी के विरोध में बिजनौर में भी उबाल है। इसी क्रम में चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत के नेतृत्व स्योहारा थाने का घेराव किया गया।

गौरतलब है कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसी प्रोग्राम में शामिल होने के लिए दिल्ली जा रहे थे। गाजीपुर बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस ने किसान नेता राकेश टिकैत को हिरासत में लेकर थाने में बैठाया लिया, जिससे देशभर के किसानों में उबाल आ गया। सभी जनपदों में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव किया।

ब्लॉक स्योहारा में चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता इकट्ठे हुए और थाने का घेराव किया। दिल्ली पुलिस 10 मिनट राकेश टिकैत को थाने में नहीं बैठा पाई। उन्हें दिल्ली प्रोग्राम में जाने दिया गया, जिसके बाद स्योहारा थाने का घेराव कर रहे भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता घेराव स्थगित कर अपने अपने घर चले गए। इस अवसर पर अरविंद चौहान, हरिओम सिंह यादव, गज राम सिंह, सत्यवीर सिंह, अवनीश कुमार, महेश यादव, विकास कुमार, इस्लामुद्दीन, अजीम खान, दिनेश कुमार आदि मौजूद रहे।

पर्वतीय इलाकों में भारी वर्षा के कारण बिजनौर में अलर्ट

पर्वतीय इलाकों में भारी वर्षा से हो रहा गंगा नदी में कटानलोगों को नदियों के समीप न जाने की हिदायत।

बिजनौर। पर्वतीय इलाकों में हो रही भारी वर्षा से जनपद के कई स्थानों पर गंगा नदी उफान पर है। साथ ही बड़े पैमाने पर कटान भी हो रहा है। इसे देखते हुए लोगों को गंगा के समीप न जाने की हिदायत दी गई है। बढ़ते जलस्तर को देखते हुए ध्वनि विस्तार यंत्रों के जरिए ग्रामीणों को नदियों के नजदीक न जाने की हिदायत दी जा रही है। वहीं बाढ़ चौकियों पर तैनात कर्मचारियों को सतर्कता बरतने की हिदायत दी गई है।

रविवार को एडीएम वित्त एवं राजस्व/प्रभारी अधिकारी दैवीय आपदा अरविंद सिंह और तहसीलदार अनुराग ने ग्राम कोहरपुर में गंगा के कटान का मौका मुआयना किया।
वहीं ग्राम डैबलगढ बादशाहपुर व ग्राम अकबरपुर देवीदास वाला में भी गंगा के जल स्तर में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। मौके पर पहुंच कर अपर जिलाधिकारी व तहसीलदार ने निरीक्षण कर अधीनस्थ स्टाफ व ग्रामीणों को आवश्यक निर्देश दिए।

पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बारिश एवं भीमगोड़ा बांध से डिस्चार्ज किए 60 हजार क्यूसेक पानी की वजह से गंगा और मालन नदी उफान पर हैं। मंडावर खादर क्षेत्र व रावली-शहजापुर सहित कई गांवों का संपर्क बिजनौर मुख्यालय से टूट गया है। पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बारिश की वजह से शुक्रवार की रात्रि से गंगा का जलस्तर बढ़ना शुरू हुआ। शनिवार पूरे दिन जलस्तर में रुक-रुककर वृद्धि होती रही। मंडावर क्षेत्र के ग्राम सुक्खापुर, कुंदनपुर टीप, राजारामपुर, फतेहपुर सभाचंद, मिर्जापुर, सीमली, मीरापुर, कोहरपुर, डैबलगढ़, चाहड़वाला के जंगल से सटकर गंगा की धार बह रही है।

वोटर आईडी के साथ आधार कार्ड लिंक कराने की मुहिम

एडीएम व तहसीलदार ने किया बूथों का निरीक्षण। वोटर आईडी के साथ आधार कार्ड लिंक कराने की मुहिम तेज।

बिजनौर। मतदाताओं को अपने वोटर आईडी कार्ड के साथ आधार कार्ड के नंबर को लिंक करने के लिए फार्म -6बी भरकर जमा करना होगा, हालांकि अभी यह पूरी तरह से मतदाताओं के लिए स्वैच्छिक है, वह अपनी इच्छा के अनुसार लिंक करा सकते हैं। वहीं अगर कोई मतदाता आधार व वोटर आईडी को लिंक नहीं कराते हैं तो अभी उनकी कोई भी जानकारी मतदाता सूची से नहीं हटाई जाएगी।

इसी क्रम में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अरविंद सिंह व तहसीलदार अनुराग ने प्राथमिक विद्यालय दयाल वाला के बूथ संख्या 44, 45 व 46 में फॉर्म 6बी का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधीनस्थ स्टाफ को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। दूसरी ओर अपर जिलाधिकारी ने बूथ संख्या 59 पर निरीक्षण कर कागजातों का अवलोकन किया।

जागरूकता अभियान शुरू-
जुलाई महीने में कर्मचारियों को इसके लिए प्रशिक्षण दिया गया था। वहीं 1 अगस्त से 31 दिसंबर तक जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। लोगों से घर-घर जाकर संपर्क किया जा रहा है। इसके साथ ही कैंप लगाकर मतदाताओं को वोटर आईडी से आधार कार्ड लिंक कराने व आधार नंबर देने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

राजस्थान में दलित छात्र की पिटाई व मौत पर बसपाइयों में रोष

राजस्थान मामले को लेकर भड़के बसपाई। दलित छात्र की पिटाई व मौत पर बसपाइयों में रोष। डीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी ने राजस्थान के जिला जालोर अंतर्गत ग्राम सुराणा में 9 वर्षीय दलित छात्र इन्द्र कुमार की पिटाई और मौत के मामले को लेकर रोष जताया है। इस संबंध में एक ज्ञापन जिलाधकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा गया है।

ज्ञापन में कहा गया है कि दिनांक 14 अगस्त 2022 को राजस्थान के जिला जालोर ग्राम सुराणा में 9 वर्षीय दलित छात्र इन्द्र कुमार मेघवाल को प्यास लगने के कारण पानी से भरे मटके को छूने पर मनुवादी विचारधारा के अध्यापक छैल सिंह द्वारा बेहरमी से पीटा गया। उसकी दाहिनी आंख तक फोड़ दी गई, इलाज के दौरान मृत्यु हो गयी। इस घटना से समस्त दलित समाज में रोष व्याप्त है। राजस्थान सरकार उपरोक्त घटना तथा राज्य में हो रहे दलितों पर अत्याचार के मामलों की पूर्ण जानकारी होते हुए भी कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। इससे यह प्रतीत हो रहा है कि राजस्थान में सरकार के इशारे पर दलितों पर जानबूझकर अत्याचार किये जा रहे हैं।

ज्ञापन में बहुजन समाज पार्टी जनपद बिजनौर की यूनिट ने घटना की घोर निन्दा करते हुए अनु०जाति के मृतक छात्र इन्द्र कुमार मेघवाल के परिवार में से किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी तथा 1 करोड़ रुपए की सहायता राशि प्रदान करने के साथ ही अध्यापक छैल सिंह को फांसी की सजा देने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में जितेंद्र सागर (जिला अध्यक्ष), धनीराम सिंह (मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल), दीपक कुमार सिंह (मुख्य सेक्टर प्रभारी मुरादाबाद मंडल), नाजिम अहमद अल्वी (जिला उपाध्यक्ष), दलीप कुमार उर्फ चिन्टू (जिला महासचिव), पंकज शर्मा (जिला कोषाध्यक्ष), दीपक राज, राजेन्द्र सिंह, मुनीश भारती, सुल्तान अहमद, परम सिंह प्रधान, छोटे सिंह, करतार सिंह, काके रवि, विनोद कुमार, रामपाल, मोहम्मद अशरफ, लाल सिंह प्रधान, महमूद अहमद (पूर्व प्रत्याक्षी विधानसभा), कविराज सिट (पूर्व मंडलद्‌भा), ब्रह्मपाल सिंह, अनिल कुमार, पुष्पेन्द्र कुमार, चेतराम सिंह, अमित चौधरी, अनुज राठी, समर सिंह एड० प्रमोद कुमार, बलवन्त सिंह, अजय कुमार, लखवीर सिंह, रोहिताश सिंह, राजेन्द्र सिंह, अंसार उलहक, नसीमुदीन अंसारी, तिलकराज वौद्ध, मुंशी सद्दीक, इसरार नवी, अनुज कुमार, मोंटी कुमार, तिमिरुदीन, मोहम्मद सकी, नौशाद अहमद, श्रीराम, गजराज, दिलशाद अहमद, राकेश कुमार, विपिन कुमार, राजकुमार, राजू, संजीव कुमार, आमिर अहमद, विपिन कुमार, संजय कुमार, सुदेश कुमार, अमित, प्रधान, ब्रजवीर प्रधान आदि शामिल रहे।

गंगाधरपुर में 11 हजार एचटी लाइन टूट कर घर पर गिरी दो पशुओं की झुलसकर मौत, एक पशु गंभीर रूप से घायल

बिजनौर। स्योहारा क्षेत्रान्तर्गत गंगाधरपुर में 11 हजार एचटी लाइन टूट कर घर पर गिरने से वहां बंधे दो पशु करंट की चपेट में आ गए। झुलसने से दोनों की मौत हो गई जबकि एक पशु गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना के बाद ग्रामीण आक्रोशित हो उठे। रात में ही एकत्र होकर विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया।

मामला थाना क्षेत्र के ग्राम गंगाधरपुर का है। गांव से बाहर घसीटा सिंह का पूरा परिवार रहता है। परिवार में कुल 13 सदस्य हैं। शुक्रवार की रात्रि लगभग 1 बजे उनके घर के ऊपर से गुजर रही 11 हजार एचटी लाइन का तार अचानक टूट कर गिर गया। घर के बाहर बंधे तीन पशु तारों की चपेट में आ गए। एक बैल और एक भैंसे की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक बैल गंभीर रूप से घायल हो गया। पशुओं का शोर सुनकर घर के सभी सदस्य जाग गए। तारों से निकलती चिंगारी को देखकर घर में चीख-पुकार मच गई। शोर सुनकर पड़ोसियों ने मामले की सूचना सहसपुर फीडर पर दी। बिजली विभाग ने शटडाउन दिया, तब तारों से चिंगारी निकलनी बंद हुई। घटना के बाद एकत्र हुए लोगों ने पास जाकर देखा तो एक बैल और एक भैंसा करंट की चपेट आकर झुलसे वहीं मृत पड़े थे। लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंच गईं। पुलिस कर्मियों के सामने ही ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग की। इस पर पुलिस ने उन्हें समझाकर शांत कराया। पुलिस ने पशुओं के नुकसान पर मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया।

पशु मालिक घसीटा सिंह ने बताया कि 11 हजार एचटी लाइन टूटने से दो पशु करंट की चपेट में आ गए और उनकी मौत हो गईं, जिससे उसे लगभग 80 हजार का नुकसान हुआ है। जिस समय लाइन टूट कर उनके घर पर गिरी, सभी सदस्य सो रहे थे। गनीमत रही कि पशुओं का शोर सुनकर वे लोग जाग गए और उन्होंने तारों से निकलती हुई चिंगारी को देख लिया। इसके बाद सभी सदस्य अपनी अपनी चारपाई पर ही बैठे रहे और लाइट के जाने तक चारपाई से नीचे नहीं उतरे, जिससे एक बड़ी घटना होने से बच गई।

बिजली अफसरों ने नहीं सुनी फरियाद? घरों के ऊपर से गुजरी लाइन को हटाने के लिए कई बार बिजली विभाग को सूचित किया गया है। लेकिन, इसकी कोई सुनवाई नहीं की गई। स्थानीय निवासी रामकरन सिंह ने बताया कि जिस समय ये हादसा हुआ। तब वो घटना स्थल से कुछ ही दूरी पर थे और मौसम खराब होने की वजह से अपने पशुओं को घटनास्थल के पास से खोल रहे थे, तभी अचानक तार टूटा और तेज चिंगारी उठी। देखते ही देखते दोनों पशुओं ने दम तोड़ दिया और वह बाल बाल बच गए। पीड़ित घसीटा सिंह ने विद्युत विभाग से मुआवजे की मांग की है।

बोतल लेकर नशे में टल्ली डॉक्टर पहुंचे अस्पताल!

नशे में टल्ली होकर डॉक्टर पहुंचे अस्पताल! टेबल पर ही बोतल रखकर शुरू हो गए दिनदहाड़े। सीएमओ ने कही कार्रवाई की बात

बिजनौर। समीपुर अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी की कार्यप्रणाली विभाग के लिए जी का जंजाल बन गई है। एक महीने की छूट्टी बाद डॉक्टर साहब अस्पताल तो पहुंचे, लेकिन नशे में टल्ली होकर। यही नहीं मेज पर ही दिनदहाड़े शराब की बोतल रखकर महफ़िल भी जमा डाली। उन्हें इस बात से कतई सरोकार न था कि इलाज के लिए आने वाले मरीजों का क्या होगा?

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार नजीबाबाद अंतर्गत समीपुर अस्पताल के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी कृष्ण गोपाल तिवारी लगभग एक माह के अवकाश के बाद शुक्रवार को शराब की बोतल के साथ अस्पताल पहुंचे। डा. गोपाल कृष्ण तिवारी अपने टेबल पर शराब की बोतल रखकर मदिरा प्रेम में ऐसे डूबे कि उन्हें अपना भी होश नहीं रहा और पास में ही बेड पर लेट गए। काफी देर तक स्टाफ उन्हें होश में लाने में लगा रहा, लेकिन कोई कामयाबी नहीं मिली। कुछ मीडिया कर्मियों के मौके पर पहुंचने पर स्टाफ में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में स्टाफ ने चिकित्सक अधिकारी को स्ट्रेचर से कमरे तक पहुंचाया। मीडिया कर्मियों ने मामले की जानकारी सीएमओ व स्थानीय अधिकारियों को भी दी। यही नहीं शनिवार को भी डॉक्टर साहब नशे की हालत में अस्पताल पहुंचे। प्रभारी के नशे की हालत में रहने से मरीज भी परेशान नजर आए। उधर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं भी बाधित रहीं। इस संबंध में सीएमओ डा. विजय गोयल का कहना है कि यह मामला संज्ञान में आ चुका है। चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। उन्हें अवकाश पर भेज दिया गया है।

हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर महिला व 20 पशुओं की मौत

हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर गिरा महिला व 20 पशुओं की मौत

बिजनौर। थाना बढ़ापुर क्षेत्र में पशुशाला पर हाई टेंशन लाइन का तार टूट कर गिरने से महिला व 20 पशुओं की मौत हो गई। सूचना पर पहुंचे आला अधिकारी और स्थानीय पुलिस जांच पड़ताल में जुट गए हैं।

थाना बढ़ापुर क्षेत्र के गांव कुआं खेड़ा खादर में पशुशाला पर हाई टेंशन लाइन का तार टूट कर गिर गया। इस दौरान पशुओं को चारा डालने गई महिला भजन कौर निवासी ग्राम कुआं खेड़ा व 20 पशुओं की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। घटना से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। ग्राम प्रधान व ग्रामीणों ने घटना की सूचना आला अधिकारीयों को दी। मौके पर पहुंचे आला अधिकारी और स्थानीय पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई है। कुआं खेड़ा के ग्राम प्रधान सत्यपाल सिंह ने बताया कि हाई टेंशन लाइन का तार टूट कर पशुशाला में गिर गया। घटना में पशुओं को चारा डालने गई महिला भजन कौर व लगभग 20 पशुओं की मौत हो गई। लगभग 4 लाख रूपए का नुकसान हुआ है।

गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए आवेदन 31 अगस्त तक

गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए 31 अगस्त तक मांगे आवेदन मानवाधिकारों की रक्षा एवं राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में सर्वाेत्कृष्ट कार्य करने वालों को मिलेगा गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार, 31 अगस्त तक करें आवेदन

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने बताया कि जनपद में निवासरत व्यक्तियों में से कोई व्यक्ति, जिसने मानवाधिकारों की रक्षा, सामाजिक न्याय एवं राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में सर्वाेत्कृष्ट कार्य किया हो तथा इस हेतु पूर्णतः समर्पित रहे हों, को सार्वजनिक रूप से सम्मानित करने के उददेश्य से गुरु गोविन्द सिंह जी के जन्म दिवस (05 जनवरी) पर वर्ष 2022-23 के लिए गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार प्रदान किये जाने व रुपए एक लाख का नगद पुरस्कार तथा प्रशस्ति पत्र दिया जायेगा।

सीडीओ ने कहा कि इस हेतु महानुभावों के प्रस्ताव उनके द्वारा किये गये महत्वपूर्ण कार्याे का तथ्यात्मक विवरण एवं अभिलेखीय साक्ष्यों के साथ दिनांक 30 सितम्बर 2022 तक शासन स्तर पर अनिवार्य अर्हताओं के साथ चाहे गये हैं। उन्होंने बताया कि अर्हताओं में आवेदक भारत का मूल नागरिक हो, उत्तर प्रदेश राज्य की सीमा के भीतर पुरस्कार पर विचार किये जाने के वर्ष में सामान्यतया निवास करता रहा हो, मानवाधिकार, सामाजिक न्याय व राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान रहा हो, गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार योजना के अधीन पूर्व में इस राज्य सरकार द्वारा पुरस्कार न दिया जा चुका हो। उन्होंने जनपद के समस्त उप जिलाधिकारियों व समस्त पुलिस क्षेत्राधिकारियों को पत्र प्रेषित कर कहा कि आप उक्त पुरस्कार का व्यापक प्रचार प्रसार कराकर प्राप्त प्रस्ताव का उक्त मानकों के अनुरूप परीक्षण कर लें तथा यह भी सुनिश्चित कर लें कि पात्र महानुभाव के विरूद्ध कोई अपराधिक मामला प्रचलित/लम्बित नहीं है और किसी भी अपराधिक मामले में किसी न्यायालय द्वारा उन्हें दण्डित नहीं किया गया है। प्रस्ताव का भली प्रकार परीक्षण कर 4 प्रतियों में जिलाधिकारी कार्यालय में 31 अगस्त 2022 के भीतर उपलब्ध करा दें।

चारा पानी के अभाव में तड़प तड़प कर दम तोड़ रहे हैं गौवंश

चारा पानी के अभाव में तड़प तड़प कर दम तोड़ रहे गौवंश। जिम्मेदारों को इनके इलाज से नहीं कोई सरोकार। शवों को नोच-नोच कर खा रहे गीदड़।

बिजनौर। थाना हीमपुर दीपा व विकास खण्ड हल्दौर के ग्राम माडी़ में स्थित गौशाला में गौवंशों की दुर्दशा देख हर किसी का दिल पसीजने को मजबूर हो जाएगा। कैमरे में कैद इन तस्वीरों को देख गौशाला में कार्यरत किसी कर्मी के पास कोई जबाब नहीं था, इस मामले में पूछे जाने पर टालमटोल करते रहे।

बताया गया है कि घने जंगल में स्थित इस गौशाला में करीब सौ गौवंश से ऊपर मौजूद थे परंतु अब इनकी संख्या बहुत कम हो गई है। इसकी वजह जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही मानी जा रही है। भूख प्यास से तड़प रहे चार गौवंशों ने कैमरे में कैद होते होते ही दम तोड़ दिया। विशेष बात तो यह है कि मरने वाले इन चारों गौवंशों के कानों में टैग लगा हुआ था। किसी भी गौवंश के आगे चारे का एक भी दाना नजर नहीं आया। ये भरी दोपहरी में इधर उधर घूमते हुए बंजर जमीन पर घास के तिनके खाते नजर आ रहे थे।  इन गौवंशों में किसी के कान से, तो किसी के मुँह से खून आ रहा था। उनकी हालात चिंताजनक थी, परंतु किसी भी जिम्मेदार को इनके इलाज से कोई सरोकार नहीं था। गौशाला से महज चंद कदम की दूरी पर जेसीबी से खुदा कई मीटर लम्बा व कई फिट चौड़ा गड्ढा नजर आया, जो कई गौवंश के शवों से भरा हुआ था। उनके शवों को गीदड़ नोच-नोच कर खा रहे थे।

कैसे भरेगा 30 ₹ में पेट? जब इस संबंध में वहां मौजूद दो कर्मियों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि तीस रुपए प्रति पशु के चारे में इनका पेट कैसे भरेगा? उसमें भी उन्हें तीस रुपए पूरे नहीं मिलते। कैमरे में कैद हुए तड़प तड़प के दम तोड़ने वाले इन पशुओं की आकाल मौत ने एक बात तो साफ कर दी है कि मुख्यमंत्री को गौवंशों की भेजी जाने वाली रिपोर्ट व तस्वीरें इससे कहीं जुदा होंगी!

नया नहीं है मामला- चांदपुर तहसील क्षेत्र में स्थित इस गौशाला की दयनीय हालत के प्रति प्रशासन भी आखें बंद किये हुए है। जिला बिजनौर में पशुओं की इस दयनीय स्थिति का पहला मामला नहीं है, बल्कि इससे पूर्व में भी कई गौशालाओं में गौवंशों की ऐसी दुर्दशा जगजाहिर चुकी है। उधर लॉकडाउन के समय पर भी इस गौशाला को जाने वाले रास्ते पर करीब आधा दर्जन से अधिक गौवंशों के शव पड़े मिले थे, जिनको बीच रास्ते पर फेंकने वाले का आज तक पता नही चल सका।

ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी ने किया वृक्षारोपण

बिजनौर। ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी ने आजादी के अमृत महोत्स‌व को धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर ग्राम गंगदासपुर में भूरी सिंह देवता मंदिर पर वृक्षारोपण का आयोजन किया।

इस अवसर पर लोगों को देश पर शहीद होने वाले क्रांतिकारियों की विजय गाथा से अवगत कराया गया। साथ ही पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधरोपण की महत्ता भी समझाई। 

कार्यक्रम के दौरान अमरपाल सिंह, सुमित कुमार, मधुबाला, अजेंद्र देशवाल, निपेंद्र‌ सिंह, अमित कुमार, उदित, कुमार, अभय दहिया उपस्थित रहे।

गौरतलब है कि ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी का कार्यालय चाहशीरी बी-24, निकट गौरी शंकर मंदिर, मदन का चौराहा बिजनौर पर स्थित है। यहां पर प्रत्येक पर्व पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

22 को कॉकरान वाटिका में किसान मेला/गोष्ठी का आयोजन

बिजनौर। कृषक भाइयों के लिये दिनाँक 22 अगस्त, 2022 को प्रातः 10ः00 बजे से जिलाधिकारी की अध्यक्षता में किसान मेला/गोष्ठी का आयोजन कॉकरान वाटिका, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में किया जा रहा है।

उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि किसान मेले में खरीफ अभियान 2022 के अन्तर्गत कृषकों को खरीफ फसलों की समसामयिक जानकारी, उत्पादकता वृद्धि के मुख्य बिन्दुओं पर विचार-विमर्श, फसलोत्पादन की रणनीति के साथ ही पारम्परिक कृषि विकास के अनेक आयामों पर चर्चा की जायेगी तथा कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषकों को कृषि की नवीनतम तकनीकी जानकारी एवं कृषक वैज्ञानिक संवाद के माध्यम से कृषकों द्वारा उठायी गयी समस्यायों का निराकरण मौके पर ही किया जायेगा। उन्होंने बताया कि उक्त किसान मेला/गोष्ठी में कृषि, गन्ना, पशुपालन, उद्यान, डेयरी, विद्युत, मत्स्य, सहकारिता, सिंचाई, नलकूप आदि विभागों द्वारा अपने विभाग में संचालित योजनाओं की जानकारी कृषकों को उपलब्ध करायेंगे। उन्होंने जनपद के किसान भाइयों से अपील की है कि उक्त किसान मेला/गोष्ठी में अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभाग कर लाभान्वित हों।

ट्राईसाइकिल पाकर खिले दिव्यांगजनों के चेहरे

35 दिव्यांगजनों को हुआ ट्राईसाइकिल का वितरण

ट्राईसाइकिल पाकर खिले दिव्यांगजनो के चेहरे, जताया मुख्यमंत्री का आभार

बिजनौर। विकास भवन प्रांगण में दिव्यांगजनों को ट्राईसाइकिल वितरण कार्यक्रम आयोजित हुआ। विधायक सदर श्रीमती सूचि चौधरी ने द्विव्यांगजनों को ट्राईसाइकिल का वितरण किया। दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में 35 दिव्यांगजन को ट्राईसाईकिल का वितरण किया गया। ट्राईसाइकिल पाकर दिव्यांगजनों के चेहरे खिल गये और उन्होंने मुख्यमंत्री उ0प्र0 व प्रदेश सरकार का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि सरकार दिव्यांगजनों व आमजनों के हित मे कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार आमजन की मदद करने वाली लोकप्रिय सरकार है। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा, परियोजना निदेशक डीआरडीए ज्ञानेश्वर तिवारी, जिला दिव्यांगजन कल्याण अधिकारी अजय कुमार सहित अन्य अधिकारी, कर्मचारी व दिव्यांगजन मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम होगा संचालित

मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम होगा  संचालित। आवेदन 10 अगस्त, 2022 से प्रारम्भ। आवेदन की अंतिम तिथि 24 अगस्त, 2022 निर्धारित।

k प्रदेश के युवाओं को सरकार के साथ नीति, प्रबन्धन, क्रियान्वयन, अनुश्रवण के कार्यों में सहभागिता का विशिष्ट अवसर प्रदान करने के उददेश्य से प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम संचालित किये जाने का निर्णय लिया गया है। जिलाधकारी उमेश मिश्रा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के 100 आकांक्षात्मक विकास खण्ड में केन्द्र/ राज्य सरकार द्वारा संचालित समस्त योजनाओं का समवर्ती मूल्यांकन कार्य करने के लिए शोधार्थियों का चयन किया जायेगा। यह कार्य शोधार्थियों द्वारा उप जिलाधिकारी एवं खण्ड विकास अधिकारी से समन्वय करते हुए किया जाएगा तथा उक्त कार्य के प्रभावी सम्पादन के लिए योजनाओं का सर्वेक्षण, अध्ययन, प्राथमिक आँकड़ों का संकलन, अनुश्रवण का कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शोधार्थियों द्वारा योजनाओं के संचालन में आ रही चुनौतियों के निराकरण तथा योजनाओं से जनमानस को अपेक्षित लाभ पहुँचाने के लिए सुझाव भी प्रस्तुत किये जायेंगे तथा साथ ही शोधार्थियों द्वारा योजना से सम्बंधित नीति निर्धारण, योजना संरचना एवं योजना के कार्यान्वयन से सम्बंधित कार्यों में प्रतिभाग किया जायेगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम के लिए आनलाईन आवेदन प्रक्रिया वेबसाइट http://www.cmfellowship.upsdc.gov.in पर दिनांक 10 अगस्त, 2022 से प्रारम्भ है एवं आवेदन की अंतिम तिथि 24 अगस्त, 2022 निर्धारित की गई है। उन्होंने यह भी बताया कि उक्त कार्यक्रम के विस्तृत दिशा-निर्देश/ शासनादेश नियोजन विभाग की वेबासाइट http://www.planning.up.nic.in तथा CMIS Portal पर उपलब्ध है। उन्होंने कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश सरकार के विकास कार्यक्रम में सहयोग प्रदान करने के इच्छुक प्रतिभाशाली एवं ऊर्जावान युवाओं से सहभागिता सुनिश्चित करने का आह्वान किया है।

गौरतलब है कि यूपी के कैबिनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही के अनुसार शोधार्थियों की नियुक्ति एक साल के लिए की जाएगी, जिसके दौरान वे अपने-अपने जिलों के जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी के अधीन काम करेंगे। सरकार अब शोधार्थियों पारिश्रमिक के रूप में 30 हजार रुपए प्रतिमाह सैलरी, अतिरिक्त भ्रमण के लिए 10 हजार प्रति माह और टेबलेट खरीद के लिए एकमुश्त 15 हजार रुपए देने का ऐलान किया है।

₹20 करोड़, 280 छात्र- उत्तराखंड पेपर लीक मामले में खुलासे के करीब पहुंची STF

लखनऊ (एजेंसी)। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की परीक्षा के पेपर लीक मामले में मास्टरमाइंड हाकम सिंह रावत का नाम सामने आया है। जनपद बिजनौर अंतर्गत नगीना के पास धामपुर में नकल सेंटर बनाना भी इसी कनेक्शन का हिस्सा बताया जा रहा है। एसटीएफ के सूत्रों का दावा है कि इस पूरे मामले के तार अब आयोग की आउटसोर्स कंपनी आरएमएस टेक्नो सॉल्यूशन के आला अधिकारियों से जुड़ रहे हैं। 

STF सूत्रों का कहना है कि कंपनी के आला अधिकारियों में से एक जिला बिजनौर के धामपुर का रहने वाला है। उसी के कहने पर वहां सेंटर बनाया गया। ये इत्तफाक तो नहीं हो सकता कि उत्तराखंड में नकल कराने के बजाय इसके लिए बिजनौर के धामपुर को चुना गया। अभी तक कंपनी के सिर्फ कुछ कर्मचारियों का ही नाम मामले में सामने आ रहा था। पूरी तरह से कंपनी की भूमिका का पता नहीं चल पा रहा था, लेकिन जब कड़ी से कड़ी जोड़ी गई तो सब बातें समझ आने लगी हैं। एसटीएफ को जब इस संबंध के बारे के पता चला तो उस अधिकारी को बयानों और पूछताछ के लिए बुलाया गया, लेकिन वह कई दिनों से टाल मटोल कर रहा है।

 280 छात्रों पर मुकदमा होगा दर्ज

लीक पेपर से पास हुए करीब 280 छात्रों का चयन खारिज कराने के साथ इन्हें अब मुकदमे में आरोपी बनाया जाएगा।एसटीएफ की जांच में सामने आया कि युवाओं से 12 से 15 लाख रुपए में पेपर उपलब्ध कराने की डील की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, लीक पेपर के प्रश्न 280 से ज्यादा युवाओं तक पहुंचे।

₹20 करोड़ से अधिक का लेनदेन!

200 के करीब युवाओं ने सीधे तौर पर पास होने की डील कर पेपर खरीदा जबकि, कुछ ने अपने करीबियों को 30-35 तक प्रश्न बताए। संभावना है कि इस घपले में 20 करोड़ रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ। एसटीएफ सौ चयनितों समेत 150 से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। एसटीएफ के एसएसपी अजय सिंह ने बताया, लीक पेपर से चयनित अभ्यर्थी आरोपी बनाए जाएंगे। इनकी सूची बनाई जा रही है।

दबाव बनाने में जुटा आरोपी- अधिकारियों और नकल माफिया का बिजनौर कनेक्शन पुष्ट हो चुका है। लंबे समय से कंपनी के अधिकारी को बुलाना और उसका न आना भी संलिप्तता की ओर इशारा कर रहा है। यही नहीं, अब वह कई लोगों के नाम लेकर दबाव बनाने में जुटा है। माना जा रहा है कि जल्द ही इस अधिकारी समेत कई और लोग सलाखों के पीछे जा सकते हैं।

निजी कंपनी के संचालक से पूछता
आरएमएस टेक्नोलॉजी नामक कंपनी चयन आयोग को तकनीकी सेवा और पेपर प्रिंटिंग की सुविधा देती थी। इस कंपनी के संचालक को एसटीएफ ने मंगलवार को पूछताछ के लिए बुलाया। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि कंपनी संचालक प्रिंटिंग प्रेस की डीवीआर लेकर आया था। हालांकि, इसमें बीते 15 दिन का रिकॉर्ड होता है। ऐसे में इससे ज्यादा मदद नहीं मिली। प्रिंटिंग प्रेस संचालक ने घर में पूजा का कार्यक्रम बताया और वह एसटीएफ कार्यालय में कुछ समय रुकने के बाद चला गया। उसे पूछताछ को जल्द दोबारा बुलाया जाएगा।

श्रीकांत को लेकर आरपार की लड़ाई के मूड में त्यागी समाज

श्रीकांत त्यागी के मामले को लेकर त्यागी समाज उद्वेलित। कलक्ट्रेट में, धरना प्रदर्शन कर दी चेतावनी। नोएडा के सांसद डॉ. महेश शर्मा के खिलाफ क्यों नहीं कार्रवाई? समाज को अपमानित करने का हक मीडिया को दिया किसने?



बिजनौर। श्रीकांत त्यागी कांड को लेकर त्यागी समाज के लोगों में भारी आक्रोश व्याप्त है। दरअसल 05 अगस्त 2022 को नोएडा के ओमेक्स सोसाइटी सेक्टर-93 का विवाद दिन प्रतिदिन गहराता जा रहा है। श्रीकांत त्यागी की पत्नी को हिरासत में रखने तथा घर की बिजली, पानी की आपूर्ति बंद करने, संवेदना प्रकट करने पहुंचने वाले को गिरफ्तार करने से आक्रोशित त्यागी समाज ने मुख्यमंत्री को संबोधित आठ सूत्रीय ज्ञापन एडीएम को देकर मामले में निष्पक्ष जांच की मांग उठाई।

कलक्ट्रेट में त्यागी समाज का जोरदार प्रदर्शन
भारी संख्या में एकत्र त्यागी समाज के लोगों ने कलक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन एडीएम को सौंपा। ज्ञापन में कहा गया कि श्रीकांत त्यागी के मामले में बढ़ा चढ़ाकर धाराएं लगाई गई हैं। उन्होंने मामले की जांच कर उचित धाराओं में कार्यवाही करने की मांग की।

महिला सम्मान की मंशा पर लगा प्रश्नचिन्ह
ज्ञापन में कहा गया कि श्रीकांत त्यागी की पत्नी को अवैध रूप से अमानवीय व्यवहार करते हुए पुरुष पुलिस थाने में हिरासत में रखने से महिला सम्मान पर प्रश्न चिन्ह लगा है। श्रीकांत त्यागी के घर की बिजली और पानी काट कर अनैतिक कार्य किया गया है, जिससे बच्चे सहमे हुए हैं। परिवार से मिलने समाज के जो व्यक्ति गए उन्हें भी पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, उन्हें तुरंत रिहा करने की भी मांग उठाई गई।

अभद्र भाषा प्रयोग करने पर सांसद के खिलाफ भी हो FIR

त्यागी समाज ने आठ सूत्रीय ज्ञापन में निष्पक्ष जांच की मांग करने के साथ ही कहा कि नोएडा सांसद डॉ. महेश शर्मा के खिलाफ भी पुलिस कमिश्नर को भारी भीड़ में अभद्र भाषा प्रयोग करने पर मुकदमा दर्ज करना चाहिए।

समाज को अपमानित करने वाले मीडिया कर्मियों पर हो कार्रवाई– ज्ञापन में यह भी कहा गया कि जिस महिला ने श्रीकांत के घर पर दंगा किया, उसकी भी उच्चस्तरीय जांच कराई जाए। इसके अलावा देश की मीडिया ने जो त्यागी समाज को अभद्र भाषा से अपमानित किया है, उनके विरुद्ध भी कार्रवाई की जाए। वहां की हरियाली और लगे हुए वृक्षों को अपने हाथ में कानून लेते हुए उखाड़ने वालों के विरुद्ध वन विभाग द्वारा कार्रवाई कराई जाए क्योंकि पेड़ों को विस्थापित करने का अधिकार सिर्फ वन विभाग को है।

कलक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन के दौरान इन्द्रजीत त्यागी, पराग त्यागी, नागेश त्यागी, मुदित त्यागी, राकेश त्यागी, मृणाल त्यागी, विकास त्यागी, शांति प्रकाश त्यागी, सुभाष चंद्र त्यागी, गौतम त्यागी, सौरभ मुनि त्यागी, अनिल त्यागी, राजपाल त्यागी, अनुनय भारद्वाज, सचिन भारद्वाज, ओमेंद्र त्यागी, अनुज त्यागी, पवन त्यागी, विक्की त्यागी, संदीप त्यागी, मनोज त्यागी आदि शामिल रहे।