UP कांग्रेस के अध्यक्ष बने बृजलाल खाबरी

बृजलाल खाबरी बने UP कांग्रेस के अध्यक्ष, नसीमुद्दीन सिद्दीकी और अजय राय को भी मिली जिम्मेदारी

कांग्रेस नेता बृज लाल खाबरी. (फोटो- Twitter)

यूपी कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष के साथ 6 प्रांतीय अध्यक्ष भी घोषित किए हैं. इनमें नसीमुद्दीन सिद्दीकी, अजय राय, नकुल दुबे, वीरेंद्र चौधरी, योगेश दीक्षित, अनिल यादव (इटावा) का नाम शामिल है. कांग्रेस की नई टीम के संबंध में महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल ने पत्र जारी किया है.

लखनऊ। कांग्रेस ने बुंदेलखंड के वरिष्ठ नेता बृजलाल खाबरी को प्रदेश अध्यक्ष बनाया है. दलित समाज के खाबरी जालौन-गरौठा से सांसद भी रहे हैं. इसके अलावा, राज्यसभा सदस्य की जिम्मेदारी भी निभाई है. खाबरी को संगठन का पुराना अनुभव है. वे इससे पहले बसपा में पदाधिकारी भी रहे हैं. फिलहाल खाबरी कांग्रेस में राष्ट्रीय सचिव के पद पर हैं.

यूपी कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष के साथ 6 प्रांतीय अध्यक्ष भी घोषित किए हैं. इनमें नसीमुद्दीन सिद्दीकी, अजय राय, नकुल दुबे, वीरेंद्र चौधरी, योगेश दीक्षित, अनिल यादव (इटावा) का नाम शामिल है. कांग्रेस की नई टीम के संबंध में महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल ने पत्र जारी किया है.

खाबरी ने 2017 और 2022 में यूपी विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था. हालांकि, दोनों चुनावों में हार का सामना करना पड़ा. वे दोनों बार ललितपुर जिले की महरौनी (सुरक्षित) से मैदान में उतरे. खाबरी को बीजेपी के मनोहर लाल पंथ (मन्नू कोरी) ने हराया था. मन्नू को यूपी सरकार में दूसरी बार कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. खाबरी उरई (जालौन)  के रहने वाले हैं.

वहीं नसीमुद्दीन सिद्दीकी भी बसपा के दिग्गज नेता रहे हैं. बाद में वे कांग्रेस में शामिल हो गए थे. सिद्दीकी अभी यूपी कांग्रेस में संचार विभाग में दायित्व संभाल रहे थे. वहीं, वाराणसी से कांग्रेस अजय राय को भी प्रदेश टीम में शामिल किया गया है. अजय राय 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी रहे हैं और दोनों बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव में हार का सामना करना पड़ा.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल अध्यक्ष आसिफ रईस व मीडिया प्रभारी बने नसीम अहमद

पश्चिमी उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल अध्यक्ष आसिफ रईस व मीडिया प्रभारी बने नसीम अहमद

स्योहारा। पश्चिमी उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल का समारोह थाने चौराहे स्थित पीडब्यूडी गेस्ट हाउस में आयोजित किया गया। इस दौरान आसिफ रईस को व्यापार मंडल अध्यक्ष तथा नसीम अहमद को मीडिया प्रभारी चुना गया। व्यापार मंडल के मुख्यातिथि प्रदेश महामंत्री मुकुल अग्रवाल, युवा प्रदेश प्रभारी तस्लीम इदरीसी, पूर्व विधायक पूर्व राज्यमंत्री हाजी नईम उल हसन, विशिष्ट अतिथि जिलाध्यक्ष कपिल कुमार ने दोनों नवनियुक्त पदाधिकारियों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि व्यापार मंडल एक समाज का नहीं बल्कि हर समाज का व्यक्ति इसमें मौजूद है। हम सब को एकजुट होकर व्यापारियों पर हो रहे उत्पीड़न को रोकना है। सभी को साथ मिलकर व्यापार के लिए व्यापार के हित में कार्य करना है। अपने संगठन को मजबूत बनाना है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कपिल सर्राफ और संचालन आसिफ रईस ने किया। इस मौके पर पश्चिम उत्तर प्रदेश महामंत्री मुकुल अग्रवाल, जिला अध्यक्ष कपिल सर्राफ, सत्यकाम विश्नोई, विनीत राजपूत, अलीशा सिद्दीकी, गुलाम नबी आजाद, तस्लीम अहमद इदरीसी, पूर्व विधायक हाजी नईम उल हसन को सम्मानित किया गया। इस दौरान नगर अध्यक्ष आसिफ रईस, महामंत्री मोहम्मद शावेज, वरिष्ठ उपाध्यक्ष मोहम्मद जाकिर,
नसीम अहमद मीडिया प्रभारी, प्रिंस चंद्रा, नौशाद, प्रिंस, फैजान खान, अदनान अंसारी, सुभान अली आदि गणमान्य लोग मौजूद रहे।

एक चपरासी का ट्रांसफर नहीं कर सकते डिप्टी सीएम: सुनील साजन

लखनऊ। प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के एक बयान के बाद यूपी की राजनीतिक सियासत गर्म हो गई है. डिप्टी सीएम मौर्य ने कहा कि सपा 25 साल तक सत्ता में नहीं आएगी. उनके बयान पर पूर्व एमएलसी और सपा नेता सुनील सिंह साजन ने पलटवार किया है. सुनील सिंह ने कहा कि जनता ने केशव मौर्य को किस तरह हराया, वो डर अभी उनके अंदर बैठा है. वह अवसाद और डिप्रेशन में हैं. वह अपने विभाग की भी फाइल नहीं देख पा रहे हैं. सपा नेता ने कहा मौर्या एक चपरासी का ट्रांसफर करने की भी स्थिति में नहीं हैं.

ओपी राजजभर पर साधा निशाना
सुनील सिंह ने कहा कि पिछड़ों पर लगातार अत्याचार हो रहा है और केशव मौर्या जो पिछड़ों का चेहरा बनकर इस सरकार में उप मुख्यमंत्री बने हैं. वह बाकी सब बातें तो बोलते हैं लेकिन सरकार के खिलाफ तब नहीं बोलते जब पिछड़ों का आरक्षण उनसे छीना जा रहा है. उन पर मुकदमे लादे जा रहे. केशव मौर्य को समझ जाना चाहिए कि उनका भविष्य बीजेपी में नहीं है. ओपी राजभर की सावधान यात्रा पर सुनील साजन ने कहा की सावधान यात्रा निकाली है, तो किस से सावधान रहना है? वह कहते हैं हम पिछड़ों की बात करते हैं, तो पिछड़ों का सबसे ज्यादा दुश्मन बीजेपी है. दलितों का उत्पीड़न सबसे ज्यादा बीजेपी सरकार में हो रहा. वो स्पष्ट करें कि सावधान किस से रहना है क्योंकि खुद तो बीजेपी से जा मिले, जो पिछड़ों और दलितों का दुश्मन है. लोग भी समझ गए कि अब ओपी राजभर से ही सावधान रहने की जरूरत है.

आजम खान ने बनाई साजिश करने वालों से दूरी
आजम खान के गनर लौटाने पर सुनील साजन ने कहा कि आजम साहब का लगातार उत्पीड़न हो रहा है, अन्याय हो रहा है और यह पुलिस कर रही है. जब सरकार, पुलिस प्रशासन मिलकर उनका नुकसान करना चाहते हैं, फर्जी मुकदमे लिख रहे हैं, जेल भेजना चाहते हैं तो पुलिस पर कैसा भरोसा? जब वहीं पुलिस साजिश कर रही है तो उन्होंने साजिश करने वालों से अपनी दूरी बना ली है.

नीतीश ने दिया है बीजेपी को हटाने का फार्मूला
बिहार के सीएम नीतीश कुमार और अपना दल कमेरावादी की कृष्णा पटेल की मुलाकात पर सुनील साजन ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार से एक फार्मूला दिया है, बीजेपी को हटाने का. वह लगातार बीजेपी और उसकी नीतियों के खिलाफ जो लोग हैं और संविधान को मानने वाले समाजवादी विचारधारा के उन सब से मुलाकात कर रहे हैं. नीतीश कुमार से भी सपा के रिश्ते अच्छे हैं और कृष्णा पटेल हमारे गठबंधन में हैं, यह राजनीतिक मुलाकात है. वह सारे लोग एक प्लेटफार्म पर आ रहे हैं, जिन्हें मिलकर 2024 में दिल्ली से बीजेपी का सफाया करना है.

विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियां

विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियां

01 नवम्बर, 2022 के आधार पर तैयार की जायेेगी बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

डाक द्वारा भी भेजा जा सकता है आवेदन पत्र- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

01 अक्टूबर से 07 नवम्बर तक लिए जायेंगे दावे और आपत्तियां- उप जिला निर्वाचन अधिकारी

बिजनौर। कलक्ट्रेट स्थित महात्मा विदुर सभागर में उत्तर प्रदेश विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की तैयारियों के संबंध में बैठक की अध्यक्षता करते हुए उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविन्द कुमार सिंह ने सर्वसाधारण को सूचित करते हुए बताया कि भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली के निर्देशानुसार, अर्हता तिथि 01 नवम्बर, 2022 के आधार पर निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण नियम, 1960 के नियम 31 के अनुसार उत्तर प्रदेश विधान परिषद के बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां तैयार की जायेगी।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी/ अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविन्द कुमार सिंह ने अवगत कराया कि बरेली-मुरादाबाद स्नातक निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियां तैयार किये जाने हेतु आवेदक द्वारा आवेदन पत्र डाक द्वारा भी भेजा जा सकता है तथा आवेदक अपने परिवार के अन्य पात्र सदस्यों जो एक ही पते पर रह रहे हों, के फार्म-18 प्रस्तुत कर सकता है।

उन्होंने बताया कि जिला निर्वाचन कार्यालय, तहसील तथा समस्त बरेली-मुरादाबाद खण्ड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के पदाभिहित स्थलों (मतदेय स्थलों) पर इनका आलेख्य प्रकाशन किया जायेगा। दिनांक 01 अक्टूबर, 2022 से 07 नवम्बर, 2022 तक दावे और आपत्तियां निर्धारित फार्म-18 में सभी आवश्यक दस्तावेज सहित निर्धारित पदाभिहित स्थलों यथा तहसील कार्यालय या संबंधित मतदेय स्थलों पर प्रस्तुत कर सकता है।

इस अवसर पर जनपद के सभी पदाभिहित/सहायक पदाभिहित/अतिरिक्त पदाभिहित अधिकारियों एवं मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय/राज्यीय राजनैतिक दलों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व पदाधिकारी आदि उपस्थित रहे।

चैयरमैन शहजाद ने नुक्कड़ सभा कर किया चुनाव का आगाज

झालू चैयरमैन शहजाद ने नुक्कड़ सभा कर किया चुनाव का आगाज।

सभा में उमडी भारी भीड़ देख विरोधियों में बौखलाहट

बुजुर्गों एवं महिलाओं ने दिया आशीर्वाद।

जनता की सेवा करने आया हूँ, उनके हक के लिए लड़ता रहूंगा: शहजाद।

बिजनौर। नगर निकाय चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहे हैं प्रत्याशियों ने भी अपने दमखम दिखाने शुरू कर दिये हैं। आदर्श नगर पंचायत झालू के चैयरमैन शहजाद अहमद ने एक चुनावी नुक्कड़ सभा कर विरोधियों की नींद उड़ा दी है। सभा में भारी भीड उमड़ी देख लोगों में सुगबुगाहट शुरू हो गई है कि चैयरमैन शहजाद का प्यार जनता के सिर चढकर बोल रहा है।
मोहल्ला पीरजादगान झोजियान में सतार भट्टे वालों की बैठक पर नुक्कड़ सभा आयोजित की गई। इस दौरान चैयरमैन शहजाद अहमद ने अपने विचार लोगों के बीच में रखे, सभा में लोगों का काफी समर्थन प्राप्त हुआ। नुक्कड़ सभा में भारी भीड़ उमड़ी देख विरोधियों में बोखलाहट शुरू हो गई है। चैयरमैन शहजाद अहमद ने कहा कि मैं जनता की सेवा करने आया हूँ और मैं जनता के हक के लिए लड़ता रहूंगा, चाहे मुझे इसके लिए कितनी बड़ी कुरबानी क्यों ना देनी पड़े, मैं पीछे नहीं हटूंगा। उन्होंने कहा कि जनता का प्यार और आशीर्वाद, जो मुझे मिल रहा है वह बना रहे और हर वक्त मैं आपके काम आ सकूं जहाँ भी आपको मेरी जरूरत महसूस होगी, आपके साथ कांधे से काधां मिलाकर खडा मिलूंगा।

सभा से पूर्व जनसंपर्क भी किया। इस दौरान बुजुर्गों एवं महिलाओं ने चैयरमैन शहजाद को दुआओं से नवाजते हुए तनमन धन से चुनाव लड़ाने का वादा किया। नुक्कड़ सभा की अध्यक्षता सूफी इरफान मलिक राइन की तथा संचालन फरीद एडवोकेट ने किया। सभा में तस्लीम कुरैशी, दादा जक्कड़ कुरैशी, सूफी इरफान राइन, इसरार एडवोकेट, असगर सी डी, जाहिद अंसारी, अशरफ अंसारी, दादा निसार अंसारी, भोला अंसारी, इम्तियाज अंसारी, शाहनवाज अंसारी, नूर अंसारी, दिल्लू , मास्टर ताहिर इदरीसी, मास्टर एहसान इदरीसी, मास्टर नदीम, मोबीन उर्फ (गुड्डू), आसिफ, नदीम शेख, आसिफ शेख, खलील अहमद, इफ्तेखार मलिक, दानिश, नसीम, नवाब शाह, नफीस मिस्त्री, गामा लाइनमैन, फरीद एडवोकेट, मुकीम भट्टे वाले, वरीस, आरिफ, शहजाद कंटरवाले, शकील मंत्री, जाहिद उस्ताद, अकबर मलिक, रईस आदि मौजूद रहे।

जनपद में 109 मतदेय स्थल हुए कम

भौतिक सत्यापन में 3111 मतदेय स्थलों की संख्या हुई 3002

बिजनौर। उप जिला निर्वाचन अधिकारी/अपर जिलाधिकारी वि0रा0 अरविन्द कुमार सिंह की अध्यक्षता में भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में समस्त सांसद/विधायक तथा मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियोें के साथ मतदेय स्थलों के सम्भाजन के संबंध में उनके कार्यालय कक्ष में बुधवार शाम बैठक का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जिला बिजनौर में अवस्थित समस्त विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में जिसमें 04-बिजनौर एवं 05-नगीना (अ0जा0),  17-नजीबाबाद , 18-नगीना (अ0जा0), 19-बढ़ापुर, 20-धामपुर, 21-नहटौर (अ0जा0), 22-बिजनौर, 23 चान्दपुर एवं 24-नूरपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार मतदेय स्थलों के सम्भाजन से संबंधित मतदेय स्थलों की सूची उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने उपस्थित सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों का आह्वान किया कि इस महत्वपूर्ण कार्य में अपना सहयोग प्रदान करें ताकि आयोग को स्वच्छ मतदेय स्थलों की सूची प्रेषित की जा सके।

उन्होंने वर्ष 2022 में मतदेय स्थलों की विवरण की विधानसभा वार जानकारी देते हुए बताया कि 17- नजीबाबाद में 391, जिसके सापेक्ष भौतिक सत्यापन के आधार पर प्रस्तावित मतदेय स्थलों की संख्या 364 अर्थात विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार कम हुए मतदेय स्थलों की संख्या 27 है। इसी प्रकार 18- नगीना विधानसभा क्षेत्र में 406 मतदेय स्थल के सापेक्ष 392 कम हुए 14, 19- बढ़ापुर विधान सभा क्षेत्र में 415 के सापेक्ष 403 कम हुए 12, 20-धामपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 326 के सापेक्ष 322 कम हुए 04, 21-नहटौर के अंतर्गत 354 के विपरीत 348 कम हुए 06, 22-बिजनौर विधानसभा क्षेत्र के 472 के सापेक्ष में 455 कम हुए 17, 23-विधानसभा क्षेत्र चांदपुर 371 के सापेक्ष में 365 कम हुए 06 तथा 24- नूरपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कुल 376 के सापेक्ष 353 जिनमें 23 मतदेय स्थल क्षेत्रवार कम किए गए हैं। इस प्रकार कुल 3111 मतदेय स्थलों के सापेक्ष 3002 भौतिक सत्यापन के आधार पर प्रस्तावित मतदेय स्थल हैं, जिसमें 109 मतदेय स्थल कम किए गए हैं।

इस अवसर पर समस्त निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, सहायक निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी ,राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मुनीष त्यागी जिला उपाध्यक्ष कांग्रेस, यादराम सिंह चंदेल आरएलडी, चौधरी धीर सिंह बीजेपी, अखलाक पप्पू समाजवादी पार्टी, मोहम्मद सिद्दीक बीएसपी सहित समस्त सांसद विधायक प्रतिनिधि व संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

अखिलेश यादव ने दिया संगठन की मजबूती पर जोर

पालिका परिषद के चुनाव की सुगबुगाहट। अखिलेश यादव से मिलने लखनऊ पहुंचे बिजनौर के नेता। पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं महमूद कस्सार!

बिजनौर। पालिका परिषद के आसन्न चुनाव को लेकर राजनैतिक दलों में सरगर्मियां परवान चढ़ने लगीं हैं। इसी क्रम में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करने बिजनौर के सपा नेता राजधानी लखनऊ पहुंचे। पार्टी कार्यालय पर शिष्टाचार भेंट के दौरान सपा प्रमुख ने स्थानीय मुद्दों पर गहन चर्चा करते हुए व्यापक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने पार्टी संगठन को और अधिक मजबूत करने के लिए सदस्यता अभियान द्रुतगति से चलाने पर जोर दिया। पूर्व मुख्यमंत्री से मिलने वालों में पूर्व जिला प्रवक्ता खिजर अहमद, नगर अध्यक्ष महमूद कस्सार व मो. आसिफ उर्फ चांद शामिल रहे। सूत्रों का दावा है कि महमूद कस्सार पालिका अध्यक्ष पद पर ताल ठोंक सकते हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी: शुरू हुआ शह और मात का खेल

बिजनौर। जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने को झंडा उठाने वाले पंचायत सदस्य आयुष चौहान की राह उतनी आसान नहीं है, जितनी कि दर्शाई जा रही है। दरअसल साकेन्द्र प्रताप सिंह के पास समर्पित साथियों की लंबी चौड़ी फौज बताई जाती है। आयुष चौहान द्वारा जिलाधकारी के समक्ष 33 सदस्यों के शपथ पत्र सौंप कर अविश्वास प्रस्ताव लाने का नोटिस देने की कवायद फलीभूत होने के कुछ ठोस कारण अभी भी समझ से परे ही बताए जा रहे हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह के पक्ष में शुभम सांगवान ने अनुराग शर्मा समेत 25 अन्य को टैग करते हुए फेसबुक पर बड़ी तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि चलो भाई एक बार और इस आदमी की गलतफहमी दूर करने का समय आ गया, खुला समर्थन साकेन्द्र प्रताप सिंह जी को है। तन मन धन से। जय भाजपा। जय हो साकेन्द्र प्रताप सिंह।

इस बीच सोशल मीडिया पर इस मामले को लेकर जंग छिड़ गई है। जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह के पक्ष में शुभम सांगवान ने अनुराग शर्मा समेत 25 अन्य को टैग करते हुए फेसबुक पर बड़ी तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि चलो भाई एक बार और इस आदमी की गलतफहमी दूर करने का समय आ गया, खुला समर्थन साकेन्द्र प्रताप सिंह जी को है। तन मन धन से। जय भाजपा। जय हो साकेन्द्र प्रताप सिंह। फेसबुक पर ही चौधरी विशाल बालियान ने कहा कि साकेन्द्र भैया जिंदाबाद। विकास साहनपुर का कमेंट है….साकेन्द्र प्रताप जी जिंदाबाद। चौधरी सुमित मंडियाना व अरुण विश्वकर्मा वंशी ने लिखा चौधरी साकेन्द्र प्रताप सिंह जिंदाबाद। चौधरी सुमित मंडियाना ने ही अलग से राय दी कि कुछ नहीं होगा, चक्कर में मत पड़ो। वहीं दीपक कुमार चौहान ने कमेंट किया कि कुछ नहीं, ये बीजेपी की नौटंकी है। चिरंजीव चौधरी का मानना है कि कुछ नहीं होगा। हनी राणा ने भी लिखा कि कुछ नहीं होगा दोस्त।

गौरतलब है कि पूर्व मंत्री व विधायक ठाकुर यशपाल सिंह के पुत्र आयुष चौहान अर्से से राजनीतिक गलियारों में सक्रिय हैं। अपने पिता की राजनीतिक विरासत को संभालने का जज़्बा लेकर वह येन-केन-प्रकारेण कोई मौका भी गंवाना चाहते। बताया गया है कि सोमवार सुबह जिला पंचायत सदस्य और भाजपा नेता आयुष चौहान के साथ 33 सदस्य कलक्ट्रेट पहुंचे। उन्होंने अविश्वास प्रस्ताव को लेकर हस्ताक्षर सहित शपथ पत्र डीएम को सौंपा। जिला पंचायत सदस्यों का कहना था कि अध्यक्ष साकेंद्र चौधरी द्वारा उनका लगातार उत्पीड़न किया जा रहा है। 

वोट काटने पर फंसे एसडीएम और तहसीलदार, कोर्ट ने दिये एफआइआर के आदेश

एसडीएम, तहसीलदार समेत 5 के खिलाफ एफआइआर के आदेश। अनुसूचित जाति के व्यक्ति का नाम मतदाता सूची से हटाने का मामला। कोर्ट की शरण मे पहुंचा पीड़ित। थाना बढ़ापुर पुलिस को एससी/एसटी एक्ट में मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश। प्रशासन में मचा हड़कम्प।

बिजनौर। एससी/एसटी एक्ट के विशेष न्यायाधीश ने धामपुर के तत्कालीन उपजिलाधिकारी विजय वर्धन तोमर एवं तहसीलदार रमेश चौहान के विरूद्ध अनुसूचित जाति के व्यक्ति पवन कुमार का विधान सभा चुनाव 2022 में वोट काटने के मामले में थाना बढ़ापुर के प्रभारी निरीक्षक को एससी/एसटी एक्ट में मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना कराने का आदेश दिया है। न्यायालय द्वारा तहसीलदार एवं उपजिलाधिकारी के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश से प्रशासन में हड़कम्प मच गया है।

जानकारी के अनुसार धामपुर विधान सभा क्षेत्र के आलमपुर गांवमण्डी निवासी पवन पुत्र कृपाल सिंह ने अपने एडवोकेट शमशाद अहमद के माध्यम से विशेष न्यायाधीश एससी/एसटी न्यायालय, जनपद बिजनौर में 156 (3) द०प्र०सं० में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया था। प्रार्थना पत्र में न्यायालय को अवगत कराया कि प्रार्थी अनुसूचित जाति का व्यक्ति है, विपक्षी गैर अनुसूचित जाति के हैं। विधान सभा चुनाव 2017, लोक सभा चुनाव 2019 एवं ग्राम पंचायत चुनाव 2021 में मतदाता सूची में प्रार्थी का नाम दर्ज था। प्रार्थी गांव का स्थायी निवासी है। तत्कालीन उपजिलाधिकारी विजय वर्धन तोमर एवं तहसीलदार रमेश चौहान ने अपने पद का दुरूपयोग कर उसका नाम मतदाता सूची से जानबूझ कर काट दिया। इस कारण प्रार्थी मतदान के संवैधानिक अधिकार से वंचित रह गया। संविधान के अनुच्छेद 324 में मतदाता सूची बनाना एवं स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव कराना भारत निर्वाचन आयोग की संवैधानिक ड्यूटी है। आयोग के नियमों के अनुरूप मृतक, डुप्लीकेट एवं टेम्प्रेरी रेजिडेंट, जो निवास स्थान छोड़ कर चले गये हैं, का नाम ही मतदाता सूची से डिलीट किया जा सकता है और इनका नाम भी डिलीट करने से पूर्व पंजीकृत डाक से सूचना देनी अनिवार्य है। अपने प्रार्थना पत्र में पवन ने यह भी उल्लेख किया है कि तत्कालीन उपजिलाधिकारी एवं तहसीलदार, जो निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी एवं सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी थे, उन्होने आयोग के दिशा निर्देशों का उल्लंघन करके कुटरचित मतदाता सूची बनाकर उसका चुनाव में उपयोग किया और प्रार्थी को मतदान से वंचित करा दिया। इस संबंध में पहले थाना अफजलगढ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, बिजनौर को दोषियों के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत कराने का प्रार्थना पत्र दिया था, जिस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई। मजबूर होकर पवन ने विशेष न्यायाधीश एससी / एसटी के न्यायालय में प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया, जिस पर विशेष न्यायाधीश ने 30.07.2022 को उक्त प्रार्थना पत्र को स्वीकार करते हुए उपजिलाधिकारी, तहसीलदार एवं 05 अन्य अज्ञात के विरूद्व एससी / एसटी एक्त के तहत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर 03 दिन के अंदर आख्या न्यायालय को प्रेषित किये जाने के आदेश पारित किये हैं। न्यायालय के आदेश के बाद प्रशासन में हड़कम्प मचा हुआ है।

पवन के एडवोकेट शमशाद अहमद का कहना है कि न्यायालय में 420,467,468,471,120बी,166,167 भा0द०सं० व लोक प्रतिनिधि अधिनियम व 3 (2) 5 एससी/एसटी एक्ट में विवेचना कराये जाने की मांग की गई। उनका कहना था कि जिस प्रकार प्रशासनिक अफसरों ने कमजोर वर्ग के लोगों का वोट काटकर उन्हें मतदान से वंचित किया है, इसकी जिम्मेदारी जिला निर्वाचन अधिकारी, मुख्य निर्वाचन अधिकारी और भारत निर्वाचन आयोग की भी है।

मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्रीकरण अभियान का हो रहा है शुभारम्भ

मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्रीकरण अभियान का हो रहा है शुभारम्भ

आधार नम्बर एकत्रीकरण अभियान के अंतर्गत 07 व 21 अगस्त को विशेष कैम्प का होगा आयोजन

लखनऊ। मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने अवगत कराया है कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचक नामावली में सम्मिलित मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्र किए जाने की कार्यवाही 01 अगस्त, 2022 से प्रारम्भ की जा रही है। उन्होंने बताया कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1950 के नियम-23 के अनुसार सम्मिलित मतदाताओं द्वारा आधार नम्बर निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण नियम, 1980 के उप नियम 26बी द्वारा अधिसूचित फार्म-6बी में दिया जाएगा। फार्म-6बी ऑनलाइन nvsp.in पर उपलब्ध रहेगा। स्व प्रमाणन के साथWith Self & authentication सम्बन्धित मतदाता, मतदाता पोर्टल/एप पर ऑनलाइन फार्म-6बी भर सकता है तथा यूआईडीएआई में पंजीकृत अपने मोबाइल नम्बर पर प्राप्त होने वाले ओटीपी का उपयोग करके आधार को स्वयं प्रमाणित कर सकता है। स्व प्रमाणीकरण के बिना Without Self&authentication मतदाताओं द्वारा आवश्यक संलग्नकों के साथ फार्म-6बी ऑनलाइन जमा किया जाएगा।

आधार नम्बर एकत्रीकरण को 2 तिथियां-07 व 21 अगस्त
श्री शुक्ला ने बताया कि जिला निर्वाचन अधिकारी/निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी द्वारा अभियान के दौरान बी० एल०ओ०, ई०आर०ओ० या अधिकृत किसी भी अधिकारी के माध्यम से आफलाइन फार्म जमा कराने हेतु समुचित मात्रा में फार्म 6बी उपलब्ध कराने की कार्यवाही किए जाने के निर्देश निर्गत कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आधार नम्बर एकत्रीकरण हेतु अगस्त माह में 2 तिथियां-07 व 21 अगस्त दिन रविवार को विशेष कैम्प आयोजन के लिए निर्धारित किया गया है। यह कैम्प प्रदेश के समस्त मतदेय स्थलों पर किया गया है, जहां पर मतदाता सूची में शामिल मतदाता फार्म-6बी में स्वैच्छिक रूप से अपना आधार नम्बर भरकर बूथ लेवल अधिकारियों को उपलब्ध करा सकते हैं। मतदाताओं द्वारा आधार उपलब्ध कराना स्वैच्छिक है और इस आधार पर उनका नाम मतदाता सूची डेटाबेस से अपमार्जित नही किया जाएगा कि उनके द्वारा आधार नम्बर उपलब्ध नही कराया गया है। किसी भी परिस्थिति में प्राप्त आधार नम्बर को सार्वजनिक नही किया जाएगा।

परिवर्धन/अपमार्जन/संशोधन इत्यादि से संबंधित फार्मों को किया परिवर्तित- मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि उक्त के अतिरिक्त आयोग द्वारा परिवर्धन/अपमार्जन/संशोधन इत्यादि से संबंधित फार्मों को परिवर्तित किया गया है। परिवर्तित फार्मों में से प्रथम बार आवेदन कर रहे नये मतदाताओं के पंजीकरण हेतु फार्म-6, निर्वाचक नामावली में नाम सम्मिलित करने के प्रस्ताव पर आपत्ति हेतु तथा पूर्व से शामिल नाम को अपमार्जित करने हेतु फार्म-7 तथा निवास परिवर्तन/निर्वाचक नामावली में संशोधन/मतदाता पहचान पत्र का प्रतिस्थापन/दिव्यांग मतदाताओं के चिन्हांकन हेतु फार्म 8 है। उन्होंने बताया कि आयोग द्वारा चार अर्हक तिथियां-01 जनवरी, 01 अप्रैल, 01 जुलाई एवं 01 अक्टूबर निर्धारित की गयी है। उक्त अर्हक तिथियों को या उससे पूर्व यदि कोई मतदाता 18 वर्ष की आयु पूर्ण करता है तो वह अपना नाम मतदाता सूची में शामिल करा सकता है।

मतदाता पहचान पत्र को आधार से लिंक करने के कार्यक्रम का शुभारंभ

मतदाता पहचान पत्र को आधार से लिंक करने के कार्यक्रम का शुभारंभ


बिजनौर। जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी उमेश कुमार मिश्रा ने कहा कि राष्ट्र निर्माण की बुनियाद संविधान पर आधारित है और संविधान को शक्ति लोकतंत्र से प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि मतदाता सूची जितनी स्वस्थ्य, स्वच्छ और शुद्ध होगी उतना ही लोकतंत्र मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुपालन में मतदाता सूची को और अधिक शुद्ध और पारदर्शी बनाने के लिए उस को आधार से लिंक किया जा रहा है। उन्होंने उक्त कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए जनसामान्य से निर्वाचक नामावली को स्वस्थ एवं स्वच्छ रूप में तैयार किये जाने के लिए अपना सहयोग प्रदान करने का आह्वान किया।
जिलाधिकारी/ जिला निर्वाचन अधिकारी उमेश मिश्रा भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचक नामावली में सम्मिलित मतदाताओं से स्वैच्छिक रूप से आधार नम्बर एकत्र किए जाने संबंधित आज 01- अगस्त से 31- अगस्त तक संचालित कार्यक्रम का पूर्वाह्न 11-00 बजे कंप्यूटर का बटन दबाकर शुभारम्भ करते हुए विवेक कॉलेज, नूरपुर रोड, बिजनौर में आयोजित कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि मतदाताओं द्वारा आधार उपलब्ध कराना स्वैच्छिक है और इस आधार पर उनका नाम मतदाता सूची डेटाबेस से अपमार्जित नहीं किया जाएगा कि उनके द्वारा आधार नम्बर उपलब्ध नहीं कराया गया है। किसी भी परिस्थिति में प्राप्त आधार नम्बर को सार्वजनिक नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1950 के नियम-23 के अनुसार सम्मिलित मतदाताओं द्वारा आधार नम्बर, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण नियम, 1960 के उप नियम-26बी द्वारा अधिसूचित फार्म-6बी में दिया जाएगा। फार्म-6बी ऑनलाइन nvsp.in पर उपलब्ध रहेगा। उन्होंने यह भी बताया कि उनके द्वारा अभियान के दौरान बी0एल0ओ0, ई0आर0ओ0 या अधिकृत किसी भी अधिकारी के माध्यम से आफलाइन फार्म जमा कराने के लिए समुचित मात्रा में फार्म-6बी उपलब्ध कराने की कार्यवाही किए जाने के निर्देश निर्गत कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आधार नम्बर एकत्रीकरण के लिए अगस्त माह में 2 तिथियां यथा-07 अगस्त,22 एवं 21 अगस्त,22 दिन रविवार को विशेष कैम्प आयोजन के लिए निर्धारित किया गया है। यह कैम्प जिले के समस्त मतदेय स्थलों पर आयोजित किए जाएंगे, जहां पर मतदाता सूची में शामिल मतदाता फार्म-6बी में स्वैच्छिक रूप से अपना आधार नम्बर भरकर बूथ लेवल अधिकारियों को उपलब्ध करा सकते हैं।


अपर जिला अधिकारी वित्त एवं राजस्व/उप जिला निर्वाचन अधिकारी अरविंद कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि आयोग द्वारा परिवर्धन/अपमार्जन/संशोधन इत्यादि से संबंधित फार्माें को परिवर्तित किया गया है। परिवर्तित फार्माें में से प्रथम बार आवेदन कर रहे नये मतदाताओं के पंजीकरण के लिए फार्म-6, निर्वाचक नामावली में नाम सम्मिलित करने के प्रस्ताव पर आपत्ति तथा पूर्व से शामिल नाम को अपमार्जित करने के लिए फार्म-7 तथा निवास परिवर्तन/निर्वाचक नामावली में संशोधन/मतदाता पहचान पत्र का प्रतिस्थापन/दिव्यांग मतदाताओं के चिन्हांकन के लिए फार्म-8 है।
आयोग द्वारा चार अर्हक तिथियां यथा-01 जनवरी, 01 अप्रैल, 01 जुलाई एवं 01 अक्टूबर निर्धारित की गयी है। उक्त अर्हक तिथियों को या उससे पूर्व यदि कोई मतदाता 18 वर्ष की आयु पूर्ण करता है तो वह अपना नाम मतदाता सूची में शामिल करा सकता है।


कार्यक्रम के अंत में विवेक कॉलेज के चेयरमैन अमित गोयल द्वारा जिला प्रशासन का आभार व्यक्त करते हुए कहा गया कि उनके कालेज से इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया है, जो कॉलेज प्रशासन के लिए सौभाग्य की बात है। उन्होंने कार्यक्रम को सफल बनाने में स्वयं एवं कॉलेज के प्रशासन के सहयोग के प्रति भी प्रतिबद्धता व्यक्त की।
इस अवसर पर अपर जिला अधिकारी वित्त एवं राजस्व/उप जिला निर्वाचन अधिकारी अरविंद कुमार सिंह, उप जिला अधिकारी मोहित कुमार, सहायक निर्वाचन अधिकारी प्रमोद कुमार के अलावा राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों में भाजपा के धीर सिंह, लोकदल से चंदेल, सपा से अखलाक अहमद, कांग्रेस से मुनीष त्यागी के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी,बीएलओ, अध्यापक एवं छात्र एवं छात्राएं मौजूद थे।

देश की पहली महिला डॉक्टर व विधायक का जन्मदिन आज

डॉक्टर मुत्तुलक्ष्मी रेड्डी (30 जुलाई 1886 — 22 जुलाई, 1968) भारत की पहली महिला विधायक थीं। वे ही लड़कों के स्कूल में प्रवेश लेने वालीं देश की पहली महिला थीं। इसके आलावा मुत्तुलक्ष्मी ही देश पहली महिला डॉक्टर (मेडिकल ग्रेजुएट) भी थीं। मुत्तुलक्ष्मी जीवन भर महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़तीं रहीं और देश की आज़ादी की लड़ाई में भी उन्होंने बढ़-चढ़कर सहयोग दिया।

30 जुलाई 1886 में तमिलनाडु (तब मद्रास) में जन्मीं मुत्तुलक्ष्मी को भी बचपन से ही पढ़ने के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। उनके पिता एस नारायणस्वामी चेन्नई के महाराजा कॉलेज के प्रधानाचार्य थे। उनकी मां चंद्रामाई ने समाज के तानों के बावजूद उन्हें पढ़ने के लिए भेजा। उन्होंने भी मां-बाप को निराश नहीं किया और देश की पहली महिला डॉक्टर बनीं।

अपनी मेडिकल ट्रेनिंग के दौरान की एक बार मुत्तुलक्ष्मी को कांग्रेस नेता और स्वतन्त्रता सेनानी सरोजिनी नायडू से मिलने का मौका मिला। तभी से उन्होंने महिलाओं के अधिकारों और देश की आजादी के लिए लड़ने की कसम खा ली। यहां तक कि उन्हें इंग्लैंडजाकर आगे पढ़ने का मौका भी मिला लेकिन उन्होंने इसे छोड़कर विमेंस इंडियन असोसिएशन के लिए काम करना ज्यादा जरूरी समझा। मुत्तु को सन् 1927 में मद्रास लेजिस्लेटिव काउंसिल से देश की पहली महिला विधायक बनने का गौरव भी हासिल हुआ। उन्हें समाज और महिलाओं के लिए किए गए अपने काम के लिए काउन्सिल में जगह दी गई थी। 1956 में उन्हें समाज के लिए किये गए अपने कार्यों के लिए पद्मभूषण से सम्मानित किया गया।

विधायक के रूप में काम करते हुए उन्होंने लड़कियों की कम आयु में शादी रोकने के लिए नियम बनाए और अनैतिक तस्करी नियंत्रण अधिनियम को पास करने के लिए परिषद से आग्रह किया। सन् 1954 ई. में उन्होंने ‘अद्यार कैंसर इंस्टिट्यूट’ (Adyar Cancer Institute) की नींव रखी थी, जहां आज सालाना करीब 80 हजार कैंसर के मरीजों का इलाज होता है। 

गृह मंत्री अमित शाह का ऐलान- देश में लागू किया जाएगा कॉमन सिविल कोड

देश में लागू किया जाएगा कॉमन सिविल कोड- गृह मंत्री अमित शाह का ऐलान

भोपाल। बीजेपी ने 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी कर ली है. बाकायदा उसका खाका भी तैयार हो चुका है। भोपाल पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बीजेपी कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक में कहा कि राम मंदिर, धारा 370 और ट्रिपल तलाक जैसे मुद्दे पर बीजेपी को सफलता मिली है। अब कॉमन सिविल कोड को लागू कराने की तैयारी शुरू कर दी है।

उत्तराखंड में पायलट प्रोजेक्ट
गृह मंत्री अमित शाह ने बताया उत्तराखंड में कॉमन सिविल कोड पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लागू किया जा रहा है। जंबूरी मैदान में भी अमित शाह ने कहा कि धारा 370 हो, राम मंदिर हो या फिर अन्य मामले पीएम मोदी के नेतृत्व में हमने विवादित मुद्दों को सुलझाया है। अब पूरी तरह से फोकस कॉमन सिविल कोड पर है।

क्या है कॉमन सिविल कोड
इसमें देश में शादी, तलाक, उत्तराधिकार, गोद लेने जैसे सामाजिक मुद्दे एक समान कानून के तहत आ जाएंगे। इसमें धर्म के आधार पर कोई कोर्ट या अलग व्यवस्था नहीं होगी। संविधान के अनुच्छेद 44 के लिए संसद की सहमति जरूरी है। गौरतलब है कि आजादी से पहले हिंदुओं और मुस्लिमों के लिए अलग-अलग कानून लागू किए गए थे। बीजेपी ने इसे अपने तीन मुख्य मुद्दे में शामिल किया।

बीजेपी नेताओं को दी नसीहत
बैठक में अमित शाह ने कहा कि बड़े और जिम्मेदार नेताओं को हार के लिए जिम्मेदार माना जाएगा. इसके साथ ही 2018 के हार की समीक्षा की गई। उन्होंने पूछा कि वोट शेयर बढ़ा तो सीटें क्यों हार गए. उन्होंने कहा कि सरकार तो अच्छा काम कर रही है लेकिन संगठन के कामों का रिपोर्ट कार्ड उतना अच्छा नही है। गृह मंत्री ने कहा कि बूथ मैनेजमेंट का काम मध्यप्रदेश कर रहा है। बूथ को डिजिटल करने के साथ उनकी मॉनिटरिंग भी लगातार करते रहें। प्रदेश में जिस तरह से मंत्रिमंडल और संगठन में मनमुटाव की खबरें बाहर आती हैं, उसे लेकर भी उन्होंने सख्त हिदायत दी कि इस तरह से पार्टी का अनुशासन बिगड़ता है. सभी की जिम्मेदारी है कि पार्टी का अनुशासन बना रहे।

UP MLC चुनाव: बीजेपी-सपा के प्रत्याशियों में ठाकुर-यादवों का जोर, दोनों की लिस्ट से दलित Out!


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा के बाद विधान परिषद चुनाव को लेकर बीजेपी और सपा ने अपने-अपने पत्ते खोल दिए हैं. दोनों ही प्रमुख पार्टियों ने एमएलसी चुनाव के लिए अपने-अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. विधान परिषद चुनाव में बीजेपी ने जहां सबसे ज्यादा ठाकुर समुदाय के उम्मीदवारों पर दांव लगाया है तो वहीं, सपा ने यादव समुदाय पर भरोसा जताया है. हालांकि, बीजेपी और सपा दोनों ने ही दलित समुदाय से किसी को भी एमएलसी का प्रत्याशी नहीं बनाया है.

बीजेपी का ठाकुर-ओबीसी पर दांव
स्थानीय निकाय क्षेत्र की 36 विधान परिषद सीटों में से बीजेपी ने सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. बीजेपी ने सपा और कांग्रेस से आए दलबदलू नेताओं पर भरोसा जताया है तो सियासी समीकरण को साधने का दांव भी चला है. जातीय समीकरण के लिहाज से बीजेपी ने सबसे ज्यादा ठाकुर और पिछड़ा वर्ग पर सबसे ज्यादा भरोसा जताया है. बीजेपी ने 16 ठाकुर, 11 पिछड़े, 5 ब्राह्मण, 3 वैश्य और 1 कायस्थ को एमएलसी का टिकट दिया है.

सपा ने साधा ऐसे सियासी समीकरण
वहीं, समाजवादी पार्टी 36 एमएलसी सीटों में से 34 सीटों पर खुद चुनावी मैदान में है तो 2 सीटें सहयोगी दल आरएलडी के लिए छोड़ी हैं. सपा ने सबसे ज्यादा 19 यादव समुदाय के प्रत्याशी बनाए हैं और इसके बाद चार अन्य ओबीसी को उम्मीदवार बनाया है. इसके अलावा चार मुस्लिम, तीन ठाकुर, तीन ब्राह्मण और एक जैन समुदाय के नेता को विधान परिषद का टिकट दिया है. इस तरह से सपा ने अपने सियासी समीकरण साधने का दांव चला है.

सपा के 19 यादव एमएलसी कैंडिडेट
सपा ने एमएलसी चुनाव के लिए लखनऊ-उन्नाव सीट से सुनील सिंह साजन, बाराबंकी से राजेश कुमार यादव, इलाहाबाद से वासुदेव यादव, बहराइच से अमर यादव, वाराणसी से उमेश कुमार यादव, पीलीभीत-शाहजहांपुर से अमित यादव, प्रतापगढ़ से विजय बहादुर यादव, आगरा-फिरोजाबाद से दिलीप सिंह यादव, गोरखपुर-महराजगंज से रजनीश यादव, सीतापुर सीट से अरुणेश कुमार यादव, रायबरेली से वीरेंद्र शंकर सिंह यादव, मथुरा-एटा-मैनपुरी से राकेश यादव को प्रत्याशी बनाया है. वहीं, आजमगढ़-मऊ से राकेश कुमार यादव, जौनपुर से मनोज कुमार यादव, झांसी-जालौन-ललितपुर सीट से श्याम सुंदर यादव, कानपुर-फतेहपुर सीट से दिलीप सिंह यादव, इटावा-फर्रुखाबाद से हरीश कुमार यादव, बस्ती-सिद्धार्थनगर से संतोष सनी यादव सनी, अलीगढ़ से जयवंत सिंह यादव और फैजाबाद से हीरालाल यादव को प्रत्याशी बनाया है.

सपा का मुस्लिम- ब्राह्मण- ठाकुर- ओबीसी समीकरण
सपा ने मुस्लिम समुदाय से रामपुर-बरेली सीट से मसकूर अहमद, देवरिया-कुशीनगर से गोरखपुर के चर्चित डॉ. कफील खान, हरदोई से रजीउद्दीन और मुजफ्फरनगर-सहारनपुर से मो. आरिफ को टिकट दिया. बांदा- हमीरपुर से आनंद कुमार त्रिपाठी, गोंडा से भानु कुमार त्रिपाठी और गजीपुर से भोलानाथ शुक्ला को प्रत्याशी बनाया. बदायूं से सिनोज कुमार शाक्य, खीरी से अनुराग वर्मा, बलिया से अरविंद गिरी, सुल्तानपुर से शिल्पा प्रजापति को प्रत्याशी बनाया है. वहीं, सपा ने ठाकुर समुदाय के तौर पर मुरादाबाद-बिजनौर से अजय प्रताप सिंह, मिर्जापुर-सोनभद्र रमेश सिंह और मथुरा-एटा-मैनपुरी से उदयवीर सिंह को टिकट दिया है।

बीजेपी की लिस्ट में तीन महिलाएं भी– बीजेपी ने एमएलसी चुनाव में ठाकुर और ओबीसी की जातियों पर दांव खेला है. एमएलसी चुनाव के लिए भाजपा ने सबसे ज्यादा भरोसा ठाकुर समुदाय पर किया है. एमएलसी उम्मीदवारों सूची में 16 ठाकुर, 5 ब्राह्मण, 11 पिछड़े, तीन वैश्य, एक कायस्थ वर्ग का प्रत्याशी है. ओबीसी में तीन यादव, एक सैनी, दो जाट, दो कुर्मी, एक कलवार, एक नाई, एक गुर्जर का सूची में नाम है. तीन महिलाओं को भी भाजपा ने उम्मीदवार बनाया है. बीजेपी के सियासी समीकरण को देखे तो ओबीसी के तमाम जातियों का साधने का दांव चला है.

दल-बदलुओं पर खेला बीजेपी ने दांव
बीजेपी ने कांग्रेस और सपा से आए दलबदलू नेताओं पर भरोसा जताया है. सपा से भाजपा में आए शैलेंद्र सिंह को सुल्तानपुर से, सीपी चंद को गोरखपुर-महराजगंज से, रवि शंकर पप्पू को बलिया से, नरेंद्र भाटी को बुलंदशहर से तो रमा निरंजन को झांसी-जालौन सीट से चुनाव मैदान में उतारा है. इसके अलावा कांग्रेस से आए दिनेश प्रताप सिंह को रायबरेली और निर्दलीय जीत रहे चंचल सिंह को गाजीपुर से एमएलसी का कैंडिडेट घोषित किया है. ऐसे ही बसपा से आए बृजेश सिंह को भी कैंडिडेट बनाया है. बीजेपी ने तीन महिला कैंडिडेट उतारे हैं, जिनमें रमा निरंजन, डॉ. प्रज्ञा और वंदना मुदित वर्मा है.

पूजा पाठ करें, गाड़ियों में लगाएं बीजेपी का झंडा

25 मार्च को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ समेत कई मंत्री लखनऊ के अटल बिहारी बाजपेयी इकाना स्‍टेडियम में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में प्रचंड जीत के बाद 25 मार्च को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ समेत कई मंत्री लखनऊ के अटल बिहारी बाजपेयी इकाना स्‍टेडियम में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां जोरशोर से चल रही हैं। इस बीच पार्टी ने कार्यकर्ताओं के लिए कुछ दिशा निर्देश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि शपथ ग्रहण समारोह वाले दिने कार्यकर्ता पूरे राज्‍य में पूजा-पाठ करें। समारोह में आने वाले कार्यकर्ताओं से अपनी गाड़ियों में पार्टी का झंडा लगाकर आने को कहा गया है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ल ने इस संबंध में 12 सूत्रीय निर्देश जारी किए हैं।

12 सूत्री निर्देश जारी 

1-प्रदेश के सभी जिलों के प्रत्‍येक मंडल और शक्ति केंद्र तक के कार्यकर्ता आएं। 
2-जिलाध्‍यक्ष कार्यकर्ताओं की सूची बनाकर संख्‍या सूचना सुनिश्चित करें। 
3-आवश्‍यकता हो तो आने-जाने के लिए वाहन की व्‍यवस्‍था विधायक, सांसद और संगठन के द्वारा की जाए। अपने व्‍यक्तिगत वाहनों से भी लोग आएं। 
4-हर क्षेत्र से दो कार्यकर्ता एक दिन पहले 24 मार्च को ही भेज दें। 
5-जिले के जनप्रतिनिधियों, सांसद, विधायक, जिला पंचायत अध्‍यक्ष, महापौर, चेयरमैन और अन्‍य प्रमुखों की सूची की अलग से सूचना करें। 
6-सभी आने वाले लोगों के लिए आमंत्रण पत्र/ प्रवेश पत्र की व्‍यवस्‍था की जाएगी। इसको जिलों से ही देकर भेजना है। 
7-अपनी गाड़ियों में लोग झंडा लगाकर आएं। 
8-प्रत्‍येक जिले के प्रमुख चौराहों, बाजारों में होर्डिंग लगाने और साज-सज्‍जा की व्‍यवस्‍था करें। 
9-शपथ ग्रहण समारोह में आने से पहले सुबह 8:10 बजे शक्ति केंद्र स्‍तर पर कार्यकर्ता मंदिरों में लोककल्‍याण के लिए पूजन का कार्यक्रम तय करें और सम्‍पन्‍न कराएं। 
10-जिले में सामाजिग वर्ग के प्रमुख नेताओं सहित समाजसेवी, लेखक-साहित्‍यकार, प्रोफेशनल, डॉक्‍टर, इंजीनियर, धार्मिक, मठ-मंदिरों के साधू-संतों की सूची बनाकर उन्‍हें भी शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित करना है। 
11-विस्‍तारक और प्रवासी कार्यकर्ता को शपथ ग्रहण समारोह की सूचना प्रदेश से दी जाएगी। 
12-किसी अन्‍य जानकारी के लिए अपने क्षेत्रीय प्रभारी या क्षेत्रीय अध्‍यक्ष से बात करें। 

प्रचंड बहुमत से जीती है बीजेपी
यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा की जीत प्रचंड बहुमत से हुई है। भाजपा गठबंधन ने कुल 273 सीटें पाई हैं। इनमें से 255 सीटें अकेले भाजपा ने जीती हैं। अपना दल (सोनेलाल पटेल) को 12 सीट, निषाद पार्टी को छह सीट मिली हैं। वहीं सपा गठबंधन ने 125 सीट जीती हैं। इनमें से सपा को 11, राष्‍ट्रीय लोकदल को आठ और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को छह सीट मिली हैं। बसपा को सिर्फ एक सीट पर संतोष करना पड़ा है। कांग्रेस को दो सीट और अन्‍य के खाते में दो सीट गई हैं। 

वजीर-ए-आजम पाकिस्तान भी हुए मोदी के मुरीद!

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मुरीद हो गए हैं। अपनी गद्दी पर मंडरा रहे खतरे के बीच उन्होंने रविवार को भारत सरकार की विदेश नीति की तारीफ में कसीदे पढ़े। खैबर पख्तूनख्वा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए खान ने कहा कि हमारे पड़ोसी की विदेश नीति अपने लोगों के लिए है। भारत क्वाड का सदस्य है लेकिन प्रतिबंधों के बावजूद वह रूस से तेल खरीद रहा है।

खैबर पख्तूनख्वा के मलकंद जिले की दरगई तहसील में एक रैली को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम इमरान खान ने कहा कि विपक्ष उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाकर जनता के साथ धोखा कर रहा है। वह माफ करने और अपनी पार्टी के बागी सांसदों को वापस लाने के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि विपक्ष लगातार दावा करता रहा है कि पीटीआई (इमरान खान की पार्टी) गठबंधन के कई दल उनके साथ संपर्क में हैं, जो अविश्वास प्रस्ताव में इमरान सरकार के खिलाफ वोट देंगे। पाकिस्तानी लोगों को संबोधित करते हुए इमरान खान ने अपने राजदूतों पर राजनयिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने का आरोप लगाया और कहा कि वे भारत को यह बताने से डरते हैं कि उन्होंने पाकिस्तान से क्या कहा, जैसे यूक्रेन पर रूसी हमले की आलोचना करना। इस जनसभा में चौंकाने वाली बात यह रही कि इमरान खान ने खुले मंच से भारत की तारीफों के पुल बांधे।

भारत को करता हूं सलाम: इमरान
इमरान खान ने कहा, ‘मैं आज भारत को सलाम करता हूं। उन्होंने हमेशा एक स्वतंत्र विदेश नीति का पालन किया है। आज भारत का अमेरिका के साथ गठबंधन है और वह रूस से तेल भी खरीद रहा है जबकि प्रतिबंध लागू हैं क्योंकि भारत की नीति अपने लोगों के लिए है। इमरान खान ने इस जनसभा में पीटीआई के बागी सांसदों को संबोधित करते हुए कहा कि पूरा देश समझ जाएगा कि सांसदों ने चोरों के पक्ष में वोट देकर अपना विवेक बेच दिया है।

इमरान रचेंगे इतिहास?
आगामी 2023 को पाकिस्तान में आम चुनाव होने हैं, लेकिन अभी से ही इमरान खान की कुर्सी खतरे में है। पाकिस्तान में विपक्ष एकजुट है, साथ ही इमरान की पार्टी के कई सांसद भी उनके खिलाफ हैं और इन सबके बीच आगामी 25 मार्च को नेशनल असेंबली में उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा। अगर यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया जाता है तो मतदान होगा। सांसदों के गणित में अभी इमरान सरकार अल्पमत में नजर आ रही है। पाकिस्तान के 75 साल के इतिहास में पाकिस्तान के एक भी प्रधानमंत्री ने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है। इमरान खान से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पनामा मामले में दोषी ठहराते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अयोग्य घोषित कर दिया था और उसके बाद नवाज शरीफ को इस्तीफा देना पड़ा था।

बाजवा ने कहा पद छोड़ें इमरान– यह भी ध्यान योग्य है कि पाकिस्‍तान में अब राजनीतिक संकट अपने चरम पर पहुंचता दिख रहा है। एकजुट विपक्ष अब इमरान खान सरकार के खिलाफ अपने अविश्‍वास प्रस्‍ताव को सोमवार को नैशनल असेंबली के अध्‍यक्ष के पास ले जाएगा। नैशनल असेंबली के अध्‍यक्ष अगर इस प्रस्‍ताव को स्‍वीकार कर लेते हैं तो पाकिस्‍तानी संसद में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर मतदान 28 मार्च होगा। इस बीच खुफिया सूत्रों से जानकारी मिली है कि इमरान खान पर इस्‍तीफे के लिए दबाव बन रहा है और आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा और आईएसआई चीफ नदीम अंजुम ने उन्‍हें इस्‍लामिक देशों के संगठन (OIC) की बैठक के बाद पद छोड़ने के लिए कह दिया है।

सेना के लाडले रह चुके इमरान खान को दोबारा मौका नहीं- हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक इससे पहले इमरान खान की पार्टी ने सरकार बचाने के लिए पूर्व सेना प्रमुख जनरल राहिल शरीफ को मध्‍यस्‍थता के लिए सऊदी अरब से बुलाया था जो संभवत: फेल हो गया है। जनरल राहिल शरीफ ने इमरान खान की ओर से जनरल बाजवा से मुलाकात की लेकिन वह उन्‍हें मना नहीं पाए। जनरल बाजवा और अन्‍य वरिष्‍ठ जनरलों ने कहा कि सेना के लाडले रह चुके इमरान खान को दोबारा मौका नहीं दिया जाए। नई दिल्‍ली के सूत्रों ने बताया कि पाकिस्‍तानी सेना का आंकलन है कि इमरान खान का इस्‍तीफा दे देना ही ठीक रहेगा क्‍योंकि आर्थिक संकट के बीच वर्तमान राजनीतिक संकट देश के हित में नहीं है।

लोकसभा चुनाव को लेकर मायावती का पैंतरा! नेता पद से रितेश की छुट्टी

नई दिल्ली (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश में 18 वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव की मतगणना में मिली शर्मनाक हार से बहुजन समाज पार्टी अभी तक उबर नहीं पाई है। पार्टी की हार का असर लोकसभा के भीतर तक अब दिखाई देने लगा है। बसपा मुखिया ने लोकसभा में पार्टी के नेता पद से रितेश पांडे को हटाकर उनके स्थान पर गिरीश चंद्र जाटव को कमान सौंप दी है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मिली शर्मनाक हार के बाद मंगलवार को बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बड़ा फैसला लिया है। मंगलवार को उन्होंने लोकसभा में पार्टी के नेता पद से रितेश पांडे को हटाकर उनके स्थान पर गिरीश चंद जाटव की तैनाती कर दी है। गिरीश चंद्र जाटव की जगह संगीता आजाद को सौंपी गई है। बसपा मुखिया मायावती ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को खत लिखकर इस आशय की जानकारी दे दी है। बसपा सुप्रीमो मायावती के इस फैसले को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली हार और अगले लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी की रणनीति में बदलाव से जोड़कर देखा जा रहा है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को चिट्ठी लिखकर इस बदलाव की जानकारी दी। साथ बताया कि पार्टी ने लोकसभा में दल के नेता रितेश पांडे के स्थान पर अब गिरीश चंद जाटव को नामित किया है। राम शिरोमणि वर्मा पार्टी के उप नेता बने रहेंगे। संगीता आजाद को गिरीश चंद्र जाटव की जगह सौंपने का फैसला लिया गया है।

उप्र में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी अपना दल (सोनेलाल)

लखनऊ (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक बार फिर से बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है। इस चुनाव में भाजपा गठबंधन (एनडीए) को 273 सीटें प्राप्त हुई हैं जिनमें अपना दल (सोनेलाल) की 12 सीटें शामिल हैं। भाजपा ने तो अकेले 255 सीटें जीतकर बहुमत का आकड़ा पार किया है। पिछले चुनाव की तुलना में पार्टी को कुछ सीटों का नुकसान जरूर हुआ लेकिन सभी भरम टूट गए और करीब 3 दशक बाद सत्तारूढ़ पार्टी की वापसी हुई।

इसी बीच एनडीए की सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) ने जनादेश के लिए उत्तर प्रदेश की जनता का शुक्रिया अदा किया। केंद्रीय मंत्री और अपना दल (सोनेलाल) प्रमुख अनुप्रिया पटेल ने कहा कि एनडीए को दूसरा मौका मिला है और यह एक शानदार सफलता है। इस जनादेश के साथ उत्तर प्रदेश के मतदाताओं के प्रति हमारी और भी बड़ी जिम्मेदारी है।

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अपना दल (सोनेलाल) ने नीट में पिछड़ी जातियों के आरक्षण का मुद्दा उठाया और सरकार ने इस पर फैसला लिया। 1931 के बाद जाति आधारित जनगणना नहीं हुई है और 2021 की जनगणना की कवायद भी टाल दी गई है। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी और कैबिनेट समय के साथ इस पर फैसला लेंगे। उत्तर प्रदेश के चुनावों में तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनने वाली अपना दल (सोनेलाल) का यह चौथा चुनाव था और इस चुनाव में पार्टी ने 12 सीटों पर कब्जा किया।

भाजपा को हराने के लिए सपा की तरफ शिफ्ट हुआ मुस्लिम वोट

लखनऊ (एजेंसी)। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद पहली बार मीडिया के सामने आयी और कहा कि मुस्लिम समाज बसपा के साथ तो लगा रहा लेकिन इनका पूरा वोट भाजपा को हराने के लिए समाजवादी पार्टी की तरफ शिफ्ट कर गया। बसपा को इसी की सजा मिली। भारी नुकसान हुआ। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज ने बार-बार आजमाई पार्टी बसपा से ज्यादा सपा पर भरोसा करने की बड़ी भारी भूल की है।

विधानसभा चुनाव के नतीजों पर बात करने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती मीडिया के सामने आई। चुनाव में मिली भाजपा की जीत और बसपा, कांग्रेस की हार पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने भाजपा और सपा पर निशाना साधा। मायावती ने कहा कि प्रदेश की जनता ने भाजपा को सपा के गुंडाराज से बचने के लिए एकतरफा वोट दिया है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज बसपा के साथ तो लगा रहा परन्तु इनका पूरा वोट समाजवादी पार्टी की तरफ शिफ्ट कर गया। इससे बसपा को भारी नुकसान हुआ।

मायावती ने पार्टी कार्यकताओं का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बसपा की उम्मीद के विपरीत जो नतीजे आए हैं उससे बुरा और क्या हो सकता है ?. लेकिन इससे घबराकर और निराश होकर पार्टी के लोगों को टूटना नहीं है। उसके सही कारणों को समझकर और सबक सीखकर हमें अपनी पार्टी को आगे बढ़ाना है और आगे चलकर सत्ता में जरूर आना है।

उन्होंने कहा कि सपा ने यह प्रचारित किया कि बसपा भाजपा की बी-टीम है। बसपा, सपा के मुकाबले से कम मजबूती से चुनाव लड़ रही है जबकि सच इसके विपरीत है। कहा कि बसपा की भाजपा से लड़ाई राजनीतिक के साथ-साथ सैद्धान्तिक भी है। अगर मुस्लिमों का वोट एकतरफा सपा में नहीं जाता तो यूपी का चुनाव परिणाम ऐसा नहीं होता है। ऐसा करने वाले लोग समय बीतने के बाद पछताएंगे।

बसपा मुखिया ने कहा कि यदि मुस्लिम वोट भी दलित वोटों के साथ मिल जाता, तो पश्चिम बंगाल जैसा चमत्कार हो सकता था। भाजपा फिर से सत्ता में वापस आ गई। यदि त्रिकोणीय संघर्ष हुआ होता तो भाजपा को आने से रोका जा सकता था । मायावती ने कहा कि हर बार की तरह ही दलित वोट बैंक इस बार भी बसपा के साथ पूरी तरह बना रहा।

प्रदेश में भाजपा की जीत विकास और सच्चाई की जीत है- चौधरी ईशम सिंह

नजीबाबाद (बिजनौर)। भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश में प्रचंड जीत और बुलडोजर बाबा के नाम से मशहूर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में पुनः सरकार बनने पर क्षेत्रवासियों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर जीत का जश्न भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित मोर्चा की जिला मंत्री गायत्री निराला के आवास पर पहुंचकर मनाया।

सभी ने रंग गुलाल एवं फूलों की होली खेली। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता चौधरी ईशम सिंह ने सभी कार्यकर्ताओं, समर्थकों का आभार प्रकट किया और कहा कि यह जीत हम सब की जीत है आम जनमानस की जीत है गरीब मजदूर की किसान की व्यापारी की महिलाओं की शोषित की वंचितों की जीत है। भारतीय जनता पार्टी कभी भी संप्रदायवाद जातिवाद की राजनीति नहीं करती है। भारतीय जनता पार्टी सिर्फ विकास की राजनीति करती है और यही बात विपक्ष को अच्छी नहीं लगती चौधरी ईशम सिंह ने कहा कि आज महिलाएं अगर अपने आप को सुरक्षित महसूस करती हैं यह उनकी जीत है आने वाले समय में और भी अच्छे विकास के कार्य होने वाले हैं। जातिवाद को खत्म करना हमारा मुख्य उद्देश्य है। राष्ट्र के लिए और अपने धर्म के लिए हम सब एकजुट होकर रहें, यही हमारी जीत का मुख्य उद्देश्य होगा। हमने या हमारी पार्टी ने कभी भी किसी को सताने का कार्य नहीं किया है। वहीं विपक्ष जाति की राजनीति करता है एक दूसरे को बांटने का प्रयास करते हैं। अब जनता समझ चुकी है क्षेत्र का विकास प्रदेश का विकास और राष्ट्र का विकास सिर्फ भारतीय जनता पार्टी ही कर सकती है। इसलिए पूरे देश की जनता आज कंधे से कंधा मिलाकर भारतीय जनता पार्टी को सपोर्ट कर रही है और प्रदेश ही नहीं आने वाले 2024 के चुनाव में भी जनता जनार्दन के माध्यम से फिर से केंद्र नरेंद्र मोदी की सरकार बनेगी।

इस अवसर भाजपा के वरिष्ठ नेता चौधरी ईशम सिंह, भाजपा पिछड़ा मोर्चा के पूर्व जिला मंत्री रितेश सैन, नामित सभासद दीपक बाल्मीकि, अरविंद विश्वकर्मा, रणवीर सिंह निराला, गायत्री निराला, दीपक कर्णवाल, सीमा कर्णवाल, मनीषा सैनी, मंडल अध्यक्ष भाजपा पिछड़ा मोर्चा नरेश सैनी, करुण पाल, कोमल सिंह हल्दिया, हितेंद्र कुमार, वरिष्ठ कार्यकर्ता भगवानदास पाल, अभिषेक पंडित ,मनोज पाल, प्रमोद पाल, विपिन सैनी, मनदीप धस्माना, बंटू शर्मा, अजीत कुमार आदि मौजूद रहे।

भाजपा की प्रचण्ड जीत में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन की बड़ी भूमिका

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश में प्रचण्ड बहुमत से जीत में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन की भी अहम भूमिका मानी जा रही है। विधानसभा चुनाव के पहले राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन की हाईपावर कमेटी के निर्णय के बाद संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनिवास यादव ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा जारी चुनावी संकल्प पत्र का समर्थन करते हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों को जिताने का निर्णय लेते हुए भाजपा का समर्थन किया था। जहां एक ओर तमाम किसान विरोधी संगठन भाजपा का विरोध कर रहे थे, वहीं राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने भाजपा का साथ दिया। यूपी में भाजपा की दोबारा प्रचण्ड बहुमत से सरकार बनने में कहीं न कहीं राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन की अहम भूमिका मानी जा रही है।


राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनिवास यादव ने इस संबंध में बताया कि भाजपा सरकार के पिछले कार्यकाल एवं संकल्प पत्र में की गयी नयी घोषणाओं को देखते हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को पाँचों प्रदेशों में समर्थन देने का एलान किया था, जिसके बाद संगठन के सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने तनमन से भाजपा प्रत्याशियों को जिताने का काम किया है। रामनिवास यादव ने बताया कि भाजपा ने अच्छी कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार मुक्त शासन दिया है और किसानों के हितों को ध्यान में रख कर जो संकल्प पत्र जारी था, वह देश एवं प्रदेश के किसानों को काफी फायदा देने वाला है, जिस प्रकार से किसानों को सिंचाई हेतु मुफ्त बिजली देने के साथ ही गन्ना किसानों के भुगतान को 14 दिनों में करने एवं समय से भुगतान न होने पर ब्याज देने की घोषणा की है जिससे लाखों गन्ना किसानों को काफी लाभ होगा। यह स्वागत योग्य निर्णय है। अगले पाँच वर्षों में एम.एस.पी. पर लगातार बढोत्तरी कर रिकार्ड फसल खरीदने की भी घोषणा की, एवं किसान सम्मान निधि दोगुना करने का आश्वासन, साल में दो बार गरीब किसान परिवारों को गैस सिलेंडर मुफ्त देने, असहाय, गरीब एवं बुजुर्ग किसानों को 1500रू प्रतिमाह पेंशन देने इसके साथ ही सभी किसानों को आयुष्मान भारत योजना में 5लाख तक स्वास्थ लाभ देना। चार हजार नये एफ.पी.ओ. गठित कर अठ्ठारह लाख तक वित्तीय मदद करना, उत्तर प्रदेश में 6मैगा फूड पार्क बनाना, किसानों को सस्ती दर पर खाद उपलब्ध कराना, गरीब किसानों को पक्का आवास देना, गरीब किसान की बेटी की शादी में एक लाख रूपया अनुदान देना। पच्चीस हजार करोड़ से सरकार बल्लभ भाई पटेल कृषि इन्फ्राइंस्ट्रक्चर बनाना, जिसमें कोल्ड चेन, गोदाम, फूड प्रोसिसिंग सेन्टर का निर्माण कर किसानों की फसलों को बर्बादी से रोकने एवं उचित मूल्य दिलाने का निर्णय,एक हजार करोड़ का भामा शाह कोष बनाकर किसानों की फसलों को दैवीय आपदा से होने वाले नुकसान से बचाना, पच्चीस हजार करोड़ से गन्ना मिलों का नवीनीकरण एवं नई चीनी मिलों का निर्माण करना, एक हजार करोड़ की लागत से दुग्ध उत्पादन को बढावा देने के लिए “नन्द बाबा यादव दुग्ध मिशन” के अन्तर्गत गांव में ही दूध खरीदने की व्यवस्था करना एवं मछुवारा समाज के लिए “निषाद राज बोट सब्सिडी योजना” का आरम्भ करना, जिसमें नाव खरीदने पर 40% सब्सिडी देने एवं 6 अल्ट्रा माँडल मत्स्य मंडी स्थापित करना। निश्चित रूप से भाजपा के संकल्प पत्र के लागू होने पर किसानों की आमदनी दोगुनी हो जायेगी।

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनिवास यादव

रामनिवास यादव ने भाजपा की प्रचण्ड जीत पर संगठन के सभी सदस्यों का आभार व्यक्त करते हुए जनता का भी आभार व्यक्त किया। साथ इस जीत के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के किसान हितैषी कार्यों के लिए भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को बधाई दी।

नारी शक्ति संगठन ने दीं योगी को अग्रिम शुभकामनाएं

बिजनौर। नारी शक्ति संगठन ने महिला दिवस का कार्यक्रम बड़ी धूम-धाम से मनाया। इस अवसर पर योगी आदित्यनाथ के चित्र का राजतिलक करके उत्तर प्रदेश में दुबारा मुख्यमंत्री पद पर नियुक्ति की अग्रिम शुभकामनाएं दीं गईं।

कार्यक्रम का आयोजन नारी शक्ति संगठन की अध्यक्ष पूनम गोयल के ज्ञान विहार कॉलोनी स्थित निवास स्थान पर किया गया। इस अवसर पर संगठन की बहनों ने योगी आदित्यनाथ के चित्र का राजतिलक करके उत्तर प्रदेश में दुबारा मुख्यमंत्री पद पर नियुक्ति की अग्रिम शुभकामनाएं दीं। वहीं एक दूसरे को मिष्ठान खिलाकर भजन, चुटकुले, कविता, गीत आदि की प्रस्तुति की। संगठन की अध्यक्ष पूनम गोयल ने कहा कि आज नारी सामाजिक, राजनैतिक,आर्थिक, धार्मिक व सांस्कृतिक; किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है। नारी अबला नहीं है,सबला बन चुकी है।

इस अवसर पर पूनम गोयल, नीता गुप्ता, मानदेवी शर्मा, सुषमा अग्रवाल, रामकौर, मुनेश गौतम,  मधु भूषण, संगीता शर्मा, रेखा पाल, कल्पना शर्मा, ममता, शशि बाला शर्मा, बीना त्यागी, मृदुला, नीलम, मंजू चौधरी, भावना चौधरी, मोनिका चौधरी, नीलम, कविता, सुमन, राखी चौधरी आदि उपस्थित रहीं।

एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर मनाया जश्न

नजीबाबाद (बिजनौर)। प्रदेश में भाजपा की प्रचंड बहुमत के साथ ऐतिहासिक जीत पर भाजपा नेता व वरिष्ठ समाजसेवी अवनीश अग्रवाल टांडे वालों के कैंप कार्यालय पर कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर जश्न मनाया।

इस मौके पर पर अवनीश अग्रवाल टांडे वालों ने कहा कि प्रदेश में भाजपा की पूर्ण बहुमत से जीत, हर आम नागरिक की जीत है। जनता विकास चाहती है, उसे पता है कि उत्तर  प्रदेश को उत्तम प्रदेश सिर्फ और सिर्फ भाजपा ही बना  सकती है।

उन्होंने कहा कि चुनाव परिणाम आने से पहले विपक्षी बहुमत से सरकार बनाने का दंभ भर रहे थे, लेकिन तीसरे-चौथे राउंड के बाद से ही भाजपा को पूर्ण बहुमत के रूझान शुरू हो गए। सीएम योगी द्वारा पांच वर्षों में किए गए कार्यों के आगे विपक्षी कहीं नहीं टिक पाए और जनता ने योगी आदित्यनाथ को प्रचंड बहुमत देकर एक बार फिर प्रदेश की कमान सौंप दी। जो विपक्षी बहुमत से सरकार बनाने का दावा कर रहे थे, वह अब मीडिया से मुंह छिपाते फिर रहे हैं।

29 साल बाद दोहराया गया बिजनौर सीट पर इतिहास

बिजनौर। बिजनौर सीट पर 29 साल बाद इतिहास दोहराया गया है। ऐसा 29 साल बाद हो सका जब मौजूदा विधायक को ही जनता ने फिर से जीत का ताज पहनाया, वरना साल 1993 के बाद इस सीट पर कोई भी लगातार दूसरी बार जीत दर्ज नहीं कर पाया। हालांकि दो दो बार विधायक जरूर बने, लेकिन लगातार नहीं।
जिले की बिजनौर सदर सीट पर भाजपा की सूचि चौधरी ने जीत दर्ज कराई है। वह 1445 मतों से भगवा लहराने में कामयाब रहीं। लगातार दूसरी बाद जीतने का यह इतिहास 29 साल बाद दोहराया गया है। इससे पहले 1993 में महेंद्र पाल सिंह भी लगातार दूसरी बार विधायक बने थे। इससे पहले महेंद्र पाल सिंह ने राम लहर में 1991 में जीत दर्ज कराई थी। महेंद्रपाल सिंह ने भी तीन दशक बाद इतिहास को दोहराया था। क्योंकि 1962 में कुंवर सत्यवीर सिंह ही ऐसे विधायक रहे, जो कि 1967 में भी जीते थे। कुंवर सत्यवीर सिंह से पहले 1957 में चंद्रावती लगातार दूसरी बार विधायक चुनी गई थी। बिजनौर सीट पर कुंवर भारतेंद्र सिंह भी दो बार विधायक चुने गए, लेकिन इन्हें भी लगातार चुनाव जीतने का मौका नहीं मिला। बीच में 2007 में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा।


बिजनौर सीट से चुने गए विधायक
1951 चंद्रावती कांग्रेस
1957 चंद्रावती कांग्रेस
1962 कुंवर सत्यवीर कांग्रेस
1967 कुंवर सत्यवीर कांग्रेस
1969 रामपाल सिंह बीकेडी
1974 अजीजुर्रहमान कांग्रेस
1977 कुंवर सत्यवीर जनता पार्टी
1980 अजीजुर्रहमान कांग्रेस
1989 सुखवीर सिंह जनता दल
1991 महेंद्र पाल सिंह भाजपा
1993 महेंद्रपाल सिंह भाजपा
1996 गजंफर अली बसपा
2002 कुंवर भारतेंद्र सिंह भाजपा
2007 शाहनवाज राणा बसपा
2012 कुंवर भारतेंद्र सिंह भाजपा
2014 रुचिवीरा सपा (उपचुनाव)
2017 सुचि चौधरी भाजपा
2022 सुचि चौधरी भाजपा

मतगणना के दौरान चाक चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था

15 मार्च तक लागू रहेगी आदर्श चुनाव आचार संहिता। जिले भर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम।

बिजनौर। जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी के आदेशानुसार जनपद में आदर्श चुनाव आचार संहिता 15 मार्च तक लागू रहेगी। इस दौरान किसी भी विजेता प्रत्याशी को जुलूस निकालने की परमिशन नहीं है। जिले में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए।

सुबह निर्धारित समय पर शुरू हुई मतगणना कभी धीमी तो कभी तेज गति से होती दिखी। दोपहर होते-होते जनपद की चुनावी तस्वीर लगभग साफ हो गई। जनपद की पांच विधानसभाओं पर भाजपा विधायक काबिज थे।

निगरानी के लिए प्रत्येक गणना हॉल में चार-चार सीसीटीवी कैमरे व दो-दो वीडियो हैंडीकेम का इस्तेमाल किया गया। मतगणना स्थल पर एजेंटों को मोबाइल व धूम्रपान का सामान लेकर नहीं जाने दिया गया।

मतगणना के बाद किसी भी विजेता प्रत्याशी को जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई, वहीं हर्ष फायरिंग पर भी रोक लगा दी गई। मतगणना के दौरान सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रही। शांति भंग करने की कोशिश करने वालों से सख्ती से निपटने के लिए जिले में भारी तादाद में फोर्स तैनात किया गया। थाना प्रभारी जिले भर में शांति व्यवस्था कायम रखने में लगे रहे। चुनाव में उनकी ड्यूटी नहीं लगाई गई।

विधानसभा चुनाव पुलिस प्रशासन ने अहम भूमिका निभाई। सुबह से ही मतगणना स्थल पर पुलिस प्रशासन का कड़ा पहरा दिखाई दिया। शक्ति चौक से लेकर सेंट मैरी चौराहा एवं श्री हॉस्पिटल के पास बैरिकेडिंग लगाई गई, ताकि मतगणना स्थल पर अनावश्यक भीड़ न पहुंच सके।

इसके अलावा पार्टी कार्यकर्ताओं को वर्धमान कॉलेज के पास ही रोक दिया गया। मतगणना स्थल पर भी भारी सुरक्षा के इंतजाम किए गए। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. धर्मवीर सिंह द्वारा की गई पूर्व घोषणा के अनुसार ही मतगणना स्थल पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद नजर आई। इसके अलावा हारे हुए प्रत्याशी के खेमो में मायूसी नगर आई और उनके पंडाल भी खाली नजर आए।

भाजपा को तो सत्ता में फिर आना ही था- जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)

बिजनौर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया) किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। बरसों तक संघ परिवार से जुड़े रहने के कारण भाजपा संगठन में उनका खासा कद है। अनेक मुददों पर उनसे बातचीत हुई, उन्होंने बेबाकी से जवाब दिये।

उत्तर प्रदेश में भाजपा की जीत को लेकर आप क्या कहना चाहेंगे?

जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)- जीतना तो तय ही था। सम्मानित मतदाताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के जनहित के कार्यों को देखते हुए एक बार पुनः भाजपा को सत्ता सौंपी है।

आपको क्या लगता है कि आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन कैसा रहेगा?

जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)- यूपी के इस विधानसभा चुनाव को 2024 के लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल मानकर चलिये। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ही बनेंगे। उनके नेतृत्व में देश ने पूरे विश्व में अपनी अलग पहचान बनाई है।

चुनाव में किसान आंदोलन का क्या असर पड़ा?

जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)- किसान आंदोलन के फैक्टर ने उन्हीं जिलों में भाजपा के खिलाफ असर दिखाया जहां जाटों के अलावा मुस्लिमों की भी पर्याप्त संख्या है। आंदोलन के बाद भी भाजपा की स्थिति पश्चिम यूपी में उतनी कमजोर नहीं थी, जितने दावे किए जा रहे थे। खासतौर पर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे, जेवर एयरपोर्ट जैसे प्रोजेक्ट के जरिए भाजपा ने अपनी पकड़ मजबूत की। कई जिलों में मुस्लिम बनाम हिंदू की स्थिति देखने को मिलती है, लेकिन यहां समीकरण बिगड़ते नहीं दिखे।

योगी आदित्यनाथ की छवि का क्या प्रभाव रहा?

जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)- सीएम योगी बीजेपी के पहले ऐसे सीएम हैं, जिन्होंने उत्तर प्रदेश में पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। भाजपा ने पिछला चुनाव बिना किसी सीएम फेस के लड़ा था, लेकिन इस बार योगी आदित्यनाथ का चेहरा सामने रखकर चुनाव लड़ा गया। वहीं नोयडा को लेकर स्थापित मिथक को भी योगी जी ने वहां कई बार पहुंच कर तोड़ा।

कई सर्वे में सपा-रालोद गठबंधन को बढ़त और यहां तक कि सरकार बनाने का दावेदार भी बताया जा रहा था?

जोगेंद्र सिंह कर्णवाल (वालिया)- भाजपा के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के कुशल नेतृत्व में पार्टी ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। सर्वे हमेशा सच नहीं होते, इनमें उतार चढ़ाव आता रहता है। अध्यक्ष जी का रणनीतिक कौशल पार्टी के लिये बेहद कारगर साबित हुआ।

UP में फिर आ सकता है योगी राज, जानिए बाकी राज्यों का EXIT POLL

Exit Poll Results 2022 Live News Updates: Uttar Pradesh, UP, Punjab,  Uttarakhand, Goa, Manipur Assembly Election Exit Poll 2022 Results Live  Coverage - The Financial Express

नई दिल्ली (एजेंसी)। यूपी समेत 5 राज्यों के एग्जिट पोल सामने आए हैं। जी न्यूज-डिजाइन बॉक्स के पोल के मुताबिक, मणिपुर में भाजपा की सरकार बरकरार रहने का अनुमान है। गोवा के एग्जिट पोल में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनती दिख रही है, लेकिन वह बहुमत के आंकड़े से दूर है। सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां सेपिअंस रिसर्च के एग्जिट पोल में भाजपा की सरकार बनती दिख रही है।

उत्तर प्रदेश (403) न्यूज एक्स पोल का अनुमान
भाजपा : 211-225
सपा: 146-160
कांग्रेस :  4-6
बसपा : 14-24
रिपब्लिक -टीवी का अनुमान
भाजपा :  240
सपा : 140
बसपा :  17
अन्य :   2

रिपब्लिक भारत के अनुमान के मुताबिक दलों को सीटें
भाजपा :  240 (+-15)    
कांग्रेस : 0
सपा :  140 (+-10)
बसपा:  17 (+-15)    
अन्य:  2 (+-2)

सुदर्शन न्यूज एग्जिट पोल के मुताबिक उत्तर प्रदेश में बीजेपी को 246 से 265 सीट मिल रही हैं।

गोवा: एबीपी सी वोटर
भाजपा: 13-17
कांग्रेस: 12-16
आप:  01-05
टीएमसी+: 05-09
अन्य: 0-2

गोवा न्यूज एक्स 
भाजपा: 17-19
कांग्रेस: 11-13
आप: 1-4

उत्तराखंड (इंडिया टीवी/ग्राउंड जीरो रिसर्च)
भाजपा:  25-29
कांग्रेस:  37-41
आप: 0
अन्य:  2-4

एबीपी सी-वोटर एग्जिट पोल के अनुसार उत्‍तराखंड में कांग्रेस को 32-38 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि भाजपा को 26-32 सीटें मिल सकती हैं। वहीं इंडिया टीवी सीएनएस के एग्जिट पोल के मुताबिक उत्तराखंड में कांग्रेस को 37 से 41 सीटें, भाजपा को 25-29 जबकि अन्य के खाते में दो से चार सीटें जानें का अनुमान है। इंडिया टुडे- एक्सिस माय इंडिया के एक्जिट पोल के मुताबिक उत्‍तराखंड में भाजपा को 36-46, कांग्रेस को 20-30, बसपा को 02-04 जबकि अन्‍य के खाते में 02 से 05 सीटें मिलने का अनुमान है।

किसकी बनेगी सरकार, जानिए आज शाम!

ABP न्यूज़ और Chanakya Todays के Exit Poll का आज शाम होगा प्रसारण

ABP News UP, Uttarakhand, Punjab Exit Poll: एबीपी न्यूज आज शाम 6 बजे के बाद यूपी चुनाव का एग्जिट पोल दिखाने जा रहा है। एबीपी न्यूज चैनल (ABP News) ने सी वोटर (C-Voter) के साथ मिलकर एग्जिट पोल किया है। मतदान समाप्त होने के बाद एबीपी न्यूज के नेशनल और एबीपी गंगा चैनल पर इसे प्रसारित किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के सातवें फेज की वोटिंग आज खत्म हो रही है। यूपी में किसकी सरकार बनने जा रही है इसका सही जवाब तो 10 मार्च को मतगणना के बाद ही मिलेगा। फिलहाल एबीपी न्यूज सी-वोटर के पोल से रुझान की ओर इशारा जरूर मिल सकता है। एग्जिट पोल से संकेत जरूर मिल सकता है कि यूपी में एक बार फिर योगी आदित्यनाथ की सरकार बनेगी या अखिलेश यादव उनसे सत्ता छीनने में कामयाब रहेंगे। हालांकि, कई बार एग्जिट पोल के उलट भी नतीजे आए हैं।

वहीं ओपिनियन पोल में उत्तराखंड में कांग्रेस और भाजपा के बीच मुख्य लड़ाई देखने को मिल रही थी। यहां एक चरण में मतदान संपन्न हो गए हैं। 10 मार्च को परिणाम आएंगे। इससे पहले एग्जिट पोल में सर्वे के मुताबिक जीत और हार के अनुमान पेश किए जाएंगे। पंजाब में भी इस बार त्रिकोणीय मुकाबला नजर आ रहा है। जहां एक तरफ कांग्रेस और अकाली दल टक्कर में हैं तो वहीं आम आदमी पार्टी की स्थिति बेहद मजबूत नजर आई है। देखना है कि एग्जिट पोल में किसकी सरकार बनती दिखेगी। हालांकि फाइनल नतीजे तो 10 मार्च को ही पता लगेंगे।

उत्तर प्रदेश में सात चरणों में वोटिंग हुई है। पहले चरण की वोटिंग जहां पश्चिमी यूपी में 10 फरवरी को हुई थी वहीं 7 मार्च को सातवें और अंतिम चरण का मतदान हो रहा है। 403 सीटों वाली विधानसभा के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस के बीच मुकाबला हुआ है। भाजपा और सपा ने कुछ क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया है। उत्तराखंड में 14 फरवरी को वोट डाले गए थे। यहां 70 विधानसभा सीटों पर 65.10 फीसदी मतदान हुआ था। पंजाब में 20 फरवरी को वोट डाले गए थे। 

Chanakya Todays Exit Poll: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के सातवें चरण के मतदान की समाप्ती के साथ शाम में एग्जिट पोल (Exit Poll 2022) आने शुरू हो जाएंगे। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर सहित पांच राज्यों में हुए मतदान के बाद सभी को 10 मार्च को आने वाले नतीजों का इंतजार है। 

असली नतीजों से पहले सभी पांच राज्यों के चाणक्य टुडेज एग्जिट पोल (Chanakya Todays Exit Poll) के नतीजे बताएंगे। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में कौन बनेगा मुख्यमंत्री? इसको लेकर कराए गए चाणक्य टुडेज के एग्जिट पोल (Chanakya Todays Exit Poll Results) के नतीजे आज शाम 6 बजे के बाद आने शुरू हो जाएंगे।

काशी की परंपरा के लिए खतरा है भाजपा: जय प्रकाश पांडेय

समाजवादी नेता जय प्रकाश पांडेय ने भाजपा को बताया काशी की परंपरा के लिए खतरा।


लखनऊ। मतदान की पूर्व संध्या पर बीएचयू गेट पर संवाददाताओं से बात करते हुए समाजवादी नेता एवं चिंतक जय प्रकाश पांडेय ने कहा कि असहमति के प्रति आदर भाव प्रदर्शित करने की परंपरा का नाम है- काशी। पौराणिक मान्यताओं का केंद्र होते हुए भी काशी ने स्थापित व्यवस्था की विसंगतियों के बरक्स मानवतावादी मौलिक विचारों एवं असहमति के स्वरों को धैर्य से सुना। महात्मा बुद्ध, शंकराचार्य से दयानंद सरस्वती तक के शास्त्रार्थ की साक्षी है- काशी। यहां कबीर और संत रविदास की सामाजिक समता की आग्रही दूसरी परंपरा भी संरक्षण पाती रही है। भाजपा की एकरंगी सोच लोकतांत्रिक विमर्श को खारिज करने एवं असहमति को कुचलने की है, जो काशी की परंपरा के खिलाफ है। काशी की इस गौरवपूर्ण विरासत के सच्चे उत्तराधिकारी समाजवादी ही हैं।

मतगणना के लिये प्रशासन ने की तैयारियां

बिजनौर। जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी उमेश मिश्रा ने मतगणना कार्मिकों को निर्देश दिए कि विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 के अंतर्गत आगामी 10 मार्च, 2022 को होने वाली मतगणना प्रक्रिया को कोविड- 19 प्रोटोकॉल का अनुपालन |सुनिश्चित कराते हुए पूर्ण रूप से निष्पक्ष एवं पारदर्शी रूप से सम्पन्न कराएं। उन्होंने सभी कार्मिकों को निर्देश दिए कि फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग सहित सुरक्षात्मक उपायों का प्रयोग करते हुए अपने दायित्वों को पूर्ण निष्पक्षता और गंभीरता के साथ निर्वहन करें। उन्होंने निर्देश दिए कि तत्काल मतगणना स्थल का बारीकी के साथ निरीक्षण कर नकशा बना लें और मतगणना टेबिल्स को इस प्रकार नियोजित करें कि सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे और प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं करा लें। को भी मतगणना प्रक्रिया का सुगमता के साथ अवलोकन होता रहे।

विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 के अंतर्गत आगामी 10 मार्च, 2022 को होने वाली मतगणना प्रक्रिया को सुव्यवस्थित, निष्पक्ष और पारदर्शी रूप सम्पन्न कराने के लिए उन्होंने संबंधित को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मतगणना कार्य को सुव्यवस्थित, निर्वाध और पारदर्शी रूप से सम्पन्न कराने में मतदान कार्मिकों की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है, इसलिए सभी मतदान कार्मिक पूरी गंभीरता और ध्यान के साथ प्रशिक्षण ग्रहण करें और निर्वाचन आयोग द्वारा निर्गत हस्तपुस्तिका भी गहनता के साथ अध्यन करें तथा मतगणना से संबंधित अपनी शंकाओं एवं समस्याओं का समाधान मौके पर ही मास्टर ट्रेनर्स से करा लिया जाए।

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि मतगणना स्थल के सभी महत्वूपर्ण स्थानों पर सीसीटीवी कैमरों लगवाए जायें और उनका नियमित संचालन सुनिश्चित करते हुए सतत् निगरानी के लिए कर्मचारियों की क्रमवार नियुक्ति की जाए उन्होंने निर्देश दिए कि मतगणना स्थल के बाहर जन सामान्य को मतगणना परिणाम से नियमित रूप से अवगत कराने के लिए साउण्ड सिस्टेम तथा निर्वाध रूप से प्रकाश की व्यवस्था बनाए रखने के लिए अतिरिक्त जनरेटर की भी व्यवस्था करें तथा प्रत्येक मतगणना स्थल पर अग्नि शमन / अग्नि सुरक्षा के लिए निश्चित रूप से समुचित बन्दोबस्त किया जाए।

अखिलेश से मिलने के लिए कतारबद्ध हो गई अफसरशाही!

योगी के खास अफसर अखिलेश से क्यों मिल रहे? अयोध्या में डीएम ने बोर्ड बदला। लखनऊ में अखिलेश से मिलने के लिए अफसरों की कतार लग रही

लखनऊ (एजेंसी)। यूपी विधानसभा चुनाव के सिर्फ एक चरण की वोटिंग बची है। सरकार किसकी बनेगी, इसका तो अभी इंतजार है, लेकिन नौकरशाही में हलचल मच चुकी है। ताजा उदाहरण अयोध्या के डीएम आवास के बोर्ड के बदलते रंगों से ही ले सकते हैं। बड़े ब्यूरोक्रेट्स अखिलेश से मुलाकात की कोशिशें कर रहे हैं। कुछ पुराने रिश्ते याद दिलाना चाहते हैं, तो कोई नए रिश्ते की नींव रखना चाहता है। ये दृश्य इसलिए भी दिखने लगे हैं क्योंकि ये ब्यूरोक्रेट्स सियासत के मौसम को बखूबी समझते हैं।

योगी के करीबी अधिकारी पहुंचे अखिलेश के दरबार- रोचक तथ्य ये है कि कल तक जो सीएम योगी के सबसे करीबी अधिकारियों में शामिल थे। वह अब अखिलेश यादव से एक मुलाकात करके लिए जुगत भिड़ा रहे हैं। कोई सीधे फोन करके बात कर रहा है। कोई सहयोगी के जरिए अखिलेश तक पहुंचना चाहता है। ब्यूरोक्रेट्स, इतनी परेशानी तब उठा रहें हैं। जब यूपी की सत्ता पर कौन बैठ रहा है, यही तय नहीं है। सपा सूत्रों का दावा है कि पुलिस और प्रशासन के कई बड़े अफसर अब तक मुलाकात कर भी चुके हैं।

अखिलेश से मिलने वालों की कतार में कौन-कौन?

सपा के एक बड़े नेता का दावा है कि योगी सरकार में कई महत्वपूर्ण विभागों की जिम्मेदारी संभालने वाले एक सीनियर आईएएस अफसर अखिलेश से बात करने की कोशिश कर रहे हैं। ये भी अंदरखाने चल रहा है कि अखिलेश फिलहाल उनसे मिलना नहीं चाहते हैं। दूसरी तरफ सपा नेताओं का दावा है कि पुलिस महकमे के भी कई अफसरों से अखिलेश की मुलाकात हो चुकी है। कुछ खास इश्यू पर उनकी चर्चाएं हुईं हैं। इसके साथ ही अखिलेश सरकार में बड़ी जिम्मेदारी संभालने वाली महिला आईएएस भी सपा सुप्रीमो के संपर्क में हैं। अब जो चर्चाएं चल रही हैं, उसके मुताबिक अखिलेश सरकार में पंचम तल पर रहने वाले अधिकारियों को लगता है कि वो दोबारा सीएम बन सकते हैं। इसलिए अभी से अपनी कुर्सी पक्की कर लेना चाहते हैं।

पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन से लगा रहें हैं सिफारिश!
खबर ये भी है कि कुछ अधिकारी अखिलेश सरकार में मुख्य सचिव रहे सीनियर आईएएस आलोक रंजन के जरिए अखिलेश खेमे में अपनी पैठ बनाने की कोशिश में लगे हैं। आलोक रंजन फिलहाल अखिलेश यादव के बेहद करीबी हैं और माना जा रहा है कि अगर सपा की सरकार बनती है, तो उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जाएगी।

डीएम आवास के बोर्ड के ‘बदलते रंग’ की कहानी

अयोध्या के डीएम के बोर्ड का रंग पर उठे बवाल के बाद दोबारा रंग बदला गया। - Dainik Bhaskar

अयोध्या के डीएम के बोर्ड का रंग पर उठे बवाल के बाद दोबारा रंग बदला गया। अयोध्या के डीएम आवास के बोर्ड का रंग बुधवार को बदल दिया गया। पहले भगवा था, जिसे बाद में हरा किया गया। इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं शुरू हो गईं। इन चर्चाओं में लोगों ने सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया है कि क्या उत्तर प्रदेश में एक बार फिर सत्ता परिवर्तन होने जा रहा है? यूपी में भगवा से भाजपा तो हरा रंग को सपा से जोड़ा जाता है। हालांकि, गुरुवार को एक बार फिर डीएम के बोर्ड का रंग हरा से लाल कर दिया गया है।

कई अधिकारी भी होते हैं सियासत के मौसम वैज्ञानिक
सियासत में रंगों का अपना अलग ही महत्व होता है। 2017 में उत्तर-प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही रंग बदलने लगे। सरकारी बिल्डिंग से लेकर मंत्रियों के आवास का रंग भी बदला। रंगों में बदलाव कुर्सियों और उन पर सजने वाले तौलिया तक में दिखाई दिया। सड़क से लेकर चौक-चौराहों पर लगे बोर्ड तक सब कुछ जैसे भगवा मय हो गया। यूपी में योगी सरकार बनने के बाद DM आवास के बोर्ड का रंग भगवा किया गया था। अयोध्या और वाराणसी में कई सारे भवनों को भगवा रंग दिया गया। लेकिन चुनाव के आखिरी पड़ाव में डीएम के बोर्ड के बदलते रंग ने सियासी सरगर्मी बढ़ा दी है। लोगों का तो यहां तक कहना है कि कई अधिकारी भी सियासत के मौसम वैज्ञानिक होते हैं।

मतगणना के दिन नहीं होगी शराब की बिक्री


मतगणना के दिन शराब की बिक्री पर रोक से संबंधित कानून के अधीन “मद्य निषेध दिवस” घोषित, मतगणना की तिथि 10 मार्च,22 को सभी मदिरा एवं भांग की दुकानों को संपूर्ण दिवस पूर्णतया बंद रखने के जिला मजिस्ट्रेट उमेश मिश्रा ने दिए निर्देश।

बिजनौर। मतगणना के दिन शराब की बिक्री पर रोक से संबंधित कानून के अधीन “मद्य निषेध दिवस” घोषित किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिला मजिस्ट्रेट, उमेश मिश्रा ने उक्त जानकारी मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं अपर मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन के पत्र के हवाले से दी।

उन्होंने बताया कि उक्त परिपेक्ष्य में विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के दौरान लोग शांति बनाए रखने के उद्देश्य से आबकारी अधिनियम की धारा-59 के अंतर्गत प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए उनके द्वारा निर्गत निर्देशों के क्रम में जिला बिजनौर की समस्त विधानसभा क्षेत्रों की समस्त देशी मदिरा, विदेशी मदिरा, बियर, भांग की फुटकर दुकानें, मॉडल शॉप्स, बार एवं सीएल-2, एफएल-2 तथा एफएल-2b अनुज्ञापन मतगणना की तिथि 10 मार्च,22 को संपूर्ण दिवस पूर्णतया बंद रहेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि उपरोक्त बंदी की अवधि के लिए अनुज्ञापियो को कोई प्रतिफल देय नहीं होगा। उपरोक्त के संबंध में उन्होंने जिला मजिस्ट्रेट मेरठ, मुजफ्फरनगर, पौड़ी, हरिद्वार एवं उधम सिंह नगर से काफी अनुरोध किया है कि मतगणना की तिथि को जिला बिजनौर की सीमा से 8 किलोमीटर की परिधि में स्थित सभी मदिरा एवं भांग की दुकानों को बंद कराने का कष्ट करें। जिला मजिस्ट्रेट श्री मिश्रा ने उपरोक्त निर्देशों के क्रम में जिले के सभी संबंधित पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देशित किया है कि उक्त आदेशों का कड़ाई से पालन कराना सुनिश्चित करें।

मलिहाबाद की सरजमीं पर दहाड़े स्वामी प्रसाद मौर्य; उमड़ा जन सैलाब

लखनऊ। तहसील मलिहाबाद ग्राउंड में समाजवादी पार्टी की ओर से आयोजित जनसभा में लोगों का जन सैलाब उमड़ पड़ा। जनसभा को सम्बोधित करने पहुंचे स्वामी प्रशाद मौर्य का कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया। संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि समाजवाजदी प्रचार प्रसार तूफान की तरह चल रहा है, जो भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकेगी।

आज उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के समर्थन में तमाम नेता समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। पश्चिम से चौधरी चरण सिंह के सपुत्र जयंत सिंह चौधरी, भारतीय सुहेल देव समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर, अपना दल के कर्षण पटेल, संजय सिंह आदि नेता इस महान गठबंधन में शामिल हुए हैं, जो भारतीय जनता पार्टी को जड़ से उखाड़ फेंकेगे।

मौर्य ने कहा कि आप जानते हैं कि मैने भारतीय जनता पार्टी से मंत्री पद से इस्तफ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि मैने बीजेपी सरकार को पाँच वर्षों में पढ़ा, परखा व जाना है। इनका चरित्र दोगला है। योगी ने जो 80 और 20 का नारा दिया था क्या 20 प्रतिशत लोग इस देश के नागरिक नहीं हैं।

उन्होंने पूछा कि क्या आजादी की लड़ाई में रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खां ने अपनी शहादत नहीं दी है, क्या देश आजाद होने के बाद इनकी औलादें, भाई देश में नहीं रह रहे हैं। भारत पाकिस्तान की लड़ाई में योगी जी के बाप दादा तो अंग्रेजों से लड़े ही नही हैं। उन्होंने अंग्रेजों की गुलामी की है। अब 80, 20 नहीं चलेगा। अब 85 तो हमारा है, 15 में बंटवारा है।

उन्होंने कहा भाजपा सरकार ने नौजवानों को धोखा दिया है सरकारी नौकरी देने को कहा था लेकिन इनकी सरकार में एक भी सरकारी भर्ती सही नहीं हो पाई।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचारियों की सरकार है। समाजवादी सरकार बनने पर सारे हिसाब लिए जाएंगे।

वहीं सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने कहा कि भाजपा सरकार ने युवाओं को ठगने का काम किया है और अपने समाज को भी ठगने का काम किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने मलिहाबाद में मंडी बनवाई लेकिन भाजपा सरकार ने आज तक उसका उद्घाटन तक नहीं किया।

हमारी सरकार आने पर माल रोड पर अमानीगंज रेलवे क्रॉसिंग का ओवर ब्रिज बनेगा, जिससे जाम में फंस जाने वाले लोगों को राहत मिलेगी। इसके साथ-साथ क्षेत्र में जो सड़कें बदहाल अवस्था में हैं, उनका भी मरम्मत कार्य करवाया जाएगा। सभा समाप्त होने के बाद कार्यकर्ताओं ने मंच पर स्वामी प्रसाद मौर्या का जोरदार स्वागत किया।

कांग्रेस प्रत्याशी ने समर्थकों के साथ गांव गांव जाकर जनता से मांगे वोट

समर्थकों के साथ गांव गांव जाकर जनता से कांग्रेस प्रत्याशी ने मांगे वोट। बताया कि सरकार बनते ही
किसानों का क़र्ज़ माफ़ व बिजली बिल हाफ़। छत्राओं को स्मार्ट फ़ोन और स्कूटी दी जाएगी। हर वर्ष 3 गैस सिलेंडर मुफ़्त व महिलाओं को मुफ़्त बस यात्रा के साथ आशा व आंगनबाड़ी बहनों को 10 हजार रुपए व रसोईया का मानदेय 5000 रुपये प्रतिमाह।

लखनऊ। कांग्रेस पार्टी से 168 मलिहाबाद विधानसभा प्रत्याशी व पूर्व विधायक इन्दल रावत ने गुरुवार को क्षेत्र के कस्बा मलिहाबाद, अहमदाबाद कटौली, बंजारन खेड़ा चौराहा, तिरगवा, भटपुरवा, दौलतपुर, बांकीनगर, रहीमाबाद, दिलावरनगर, कहला, सिधरवा
सहित दर्जनों गांवों में जनसम्पर्क कर कांग्रेस पार्टी को जिताने की अपील की।

इन्दल कुमार रावत ने जनसंपर्क के दौरान बताया कि
कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के लिए उन्नति पत्र जारी किया है। कांग्रेस पार्टी की सरकार बनते ही
किसानों का क़र्ज़ माफ़ व बिजली बिल हाफ़, कोरोना काल का बकाया साफ़ किया जाएगा। किसानों को गन्ने का दाम 400 रुपये प्रति कुंटल, गेहूं व धान 2500 रुपये प्रति कुंटल के दाम से खरीदा जाएगा। छत्राओं को स्मार्ट फ़ोन और स्कूटी दी जाएगी। हर वर्ष 3 गैस सिलेंडर मुफ़्त व महिलाओं को मुफ़्त बस यात्रा के साथ आशा व आंगनबाड़ी बहनों को 10 हजार रुपए व रसोईया का मानदेय 5000 रुपये प्रतिमाह
का मानदेय दिया जाएगा। विधवा व वृद्धा पेंशन 500 से बढ़ाकर 1000 रुपये की जाएगी। किसानों को आवारा पशुओं से फसल नुक़सान की भरपाई प्रति एकड़ 3000 रुपये मुआवज़ा के रूप में दिया जाएगा। सफ़ाई कर्मियों को नियमित किया जाएगा। ग्राम प्रधानों का वेतन 6000 रुपये प्रतिमाह होगा। चौकीदारों का वेतन भी 5000 रुपये प्रतिमाह किया जायेगा। स्वास्थ्य सेवाओं के बजट में 5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी होगी। शिक्षकों के 2 लाख खाली पदों को भरा जाएगा। अनुसूचित जाति के छात्रों व अनुसूचित जनजाति के छात्रों को केजी से पीजी तक मुफ़्त शिक्षा उपलब्ध कराई जाएगी। दिव्यांग पेंशन 500 से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रतिमाह की जाएगी। ग्रामीण क्षेत्र की जनता ने कांग्रेस के उन्नति पत्र की सराहना करते हुए इन्दल कुमार रावत को वोट देकर विधायक बनाने की बात कही।

चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे इंदल सिंह रावत

लखनऊ। 168 विधानसभा मलिहाबाद से कांग्रेस प्रत्याशी इन्दल कुमार रावत चुनाव प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। विधानसभा क्षेत्र में गांव-गांव जाकर वोटरों से जनसंपर्क लगातार कर रहे हैं। क्षेत्र की जनता का इंदल रावत को भरपूर सहयोग भी मिल रहा है।

इसी क्रम में बुधवार को कांग्रेस पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी एवं पूर्व विधायक इन्दल रावत ने क्षेत्र के नत्थाखेड़ा, धनाखेड़ा, माल, गुमसेना, नबीपनाह, देवरी डांडा रामनगर, बाजार गांव, शंकरपुर, दिघारा, हन्नी खेड़ा, बसहरी, अटरिया सहित अन्य क्षेत्रों में जनसम्पर्क कर वोट मांगा और भारी बहुमत से जिताने की अपील की।

2012 के बाद अब 2022 भी
जनसम्पर्क के दौरान श्री रावत ने बताया कि वह प्रियंका गांधी के नेतृत्व में मलिहाबाद क्षेत्र की जनता से आशीर्वाद मांग रहे है। जैसे पूर्व में 2012 में हमें मलिहाबाद की जनता ने विधानसभा पहुंचाया वैसे ही 2022 में कांग्रेस की सरकार होगी।

उन्होंने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि लोग महिला उत्पीड़न, रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा की बदहाली का दंश झेल रहे हैं। वह कभी 70 वर्षों में नहीं हुई। आजादी के बाद से आज तक संसाधनों को कांग्रेस ने उपलब्ध कराया।

कहा कि जिस प्रकार से सरकार निजीकरण कर रही है और महंगाई चरम पर है, धर्म के आधार पर लोगों को बांटने का काम किया जा रहा है, वह सही नही है। अब मलिहाबाद की जनता कट्टरपंथी की राजनीति करने वालों को सबक सिखाने को तैयार है।

हमने गुंडाराज को खत्म किया: राजनाथ सिंह

मलिहाबाद,लखनऊ। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने तहसील ग्राउंड में आयोजित जनसभा में विपक्ष पर तंज कसते हुए अपने कार्यकाल में किए गए कार्यों और उपलब्धियों के बारे में बताया। कहा कि हमने गुंडाराज को खत्म किया है। सपा सरकार में गरीब और मजदूरों पर अत्याचार होते थे। आज इस सरकार में सभी लोग स्वतंत्र हैं। एक बार फिर आप भारतीय जनता पार्टी को अपना कीमती वोट देकर विजय बनाएं और मलिहाबाद विधानसभा सीट से जयदेवी कौशल के लिए अपना वोट दें। इस दौरान उन्होंने मलिहाबाद की दशहरी का बखान करते हुए बताया पूरे विश्व में यहां की दशहरी मशहूर है। इसलिए मलिहाबाद की यह सीट भी पूरे देश में मशहूर है। रक्षा मंत्री ने कहा सदन में आप लोग भाजपा का विधायक जिता कर भेजिए। 20 हजार हेक्टेयर में आम पैदा किया जाता है। इतना आम देश मे कहीं नहीं होता है। क्षेत्र का बहुत बड़ा नाम है, इसलिए क्षेत्र का नाम डूबना नहीं चाहिए। जय देवी के जीतने के बाद हम फिर आपकी आम की दावत खाने जरूर आएंगे। उन्होंने कहा आपके क्षेत्रीय सांसद के क्षेत्र में अब ब्रह्मोस मिसाइल बनने लगी है। साथ ही उत्तर प्रदेश में गोली के साथ-साथ गोला भी बनने लगा है। इस दौरान उन्होंने जम्मू कश्मीर से हटाई गई धारा 370, अयोध्या में भव्य राम मंदिर, एयर स्ट्राइक, सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र किया।

रक्षा मंत्री के संबोधन से पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर ने प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में लोगों को विस्तृत रूप से समझाया। विधायक जयदेवी कौशल ने भी जनसभा को संबोधित किया। कार्यक्रम में कुंवर बलवीर सिंह, ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि काकोरी लल्लू यादव, ब्लाक प्रमुख निर्मल वर्मा, संयोगिता सिंह चौहान, अरुण प्रताप सिंह, अंजू सिंह, मंडल अध्यक्ष जितेंद्र अवस्थी, महामंत्री आशीष द्विवेदी, विधानसभा संयोजक जय गोविंद अवस्थी, सभासद सौरभ यादव, राजेश लोधी, सभासद प्रमोद शर्मा, तारीफ खान, पूर्व मंडल अध्यक्ष अरविंद शर्मा, मूलचंद यादव सहित सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

पंखुड़ी पाठक को मोर्फ फोटो के नाम पर ब्लैकमेल करने की कोशिश!

नोएडा से बड़ी खबर ,पंखुड़ी पाठक को मोर्फ फोटो के नाम पर ब्लैकमेल करने की कोशिश, रवि किशन की फेक आईडी से मिली धमकी

नोएडा विधानसभा से कांग्रेस के टिकट पर पंखुड़ी पाठक ने चुनाव लड़ा। पंखुड़ी पाठक को कांग्रेस ने स्टार प्रचारक नियुक्त किया है। वह इस समय फिरोजाबाद में चुनाव प्रचार कर रही हैं, लेकिन अब चुनाव के बाद पंखुड़ी पाठक को लोग परेशान करने लगे हैं। उनको ट्विटर और अन्य सोशल प्लेटफार्म के माध्यम से परेशान किया जा रहा है। इस बात की शिकायत पंखुड़ी पाठक के समर्थकों ने पुलिस को दी है।

सैकड़ों अकाउंट किए ब्लॉक”

पंखुड़ी पाठक ने टीम से बात करते हुए बताया, “चुनाव होने के बाद उनके लिए ट्विटर अकाउंट पर कुछ लोग लगातार लोग अपशब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं। लोग उनके पोस्ट पर अपशब्द लिख रहे हैं। उन्होंने काफी सारे ट्विटर अकाउंट को ब्लॉक भी कर दिया है, लेकिन उसके बावजूद भी लगातार उनको परेशान किया जा रहा है।” पंखुड़ी पाठक का आरोप है कि कुछ लोग उनसे सोशल मीडिया पर बोल रहे है कि जितने अकाउंट ब्लॉक करने हैं कर लो। पंखुड़ी पाठक ने अभी तक सैकड़ों ट्विटर अकाउंट ब्लॉक कर दिए हैं, उसके बावजूद भी उनको परेशान किया जा रहा है।

मॉर्फेड फोटो वायरल करने के नाम पर मिली धमकी

पंखुड़ी पाठक ने बताया, “एक अकाउंट द्वारा मेरी मॉर्फेड फोटो फैलाई जा रही हैं और बैंक अकाउंट डिटेल देकर लिखा गया है कि अगर एक लाख रुपए नहीं जमा किए तो मॉर्फेड फोटो आगे भी फैलाई जाएगी। यह जानकारी उन्होंने अपने ट्वीटर अकाउंट पर भी शेयर की है, जिस पर रवि किशन का फोटो पीएम मोदी के साथ लगा हुआ है और यह आईडी फेक है।

भाजपा आईटी सेल पर लगाए आरोप

पंखुड़ी पाठक ने बातचीत के दौरान भाजपा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा, “यह सब भारतीय जनता पार्टी आईटी सेल का काम है। भाजपा आईटी सेल द्वारा ही अलग-अलग अकाउंट से उनको परेशान किया जा रहा है। उनकी ट्विटर आईडी पर भद्दे-भद्दे कमेंट किए जा रहे हैं। मैंने काफी सारे फर्जी ट्विटर अकाउंट ब्लॉक भी कर दिए हैं, लेकिन उसके बाद भी मुझको परेशान किया जा रहा है।” पंखुड़ी पाठक ने पुलिस कमिश्नर नोएडा और नोएडा पुलिस को टैग करते हुए शिकायत की है।

उन्होंने ट्विटर से ऐसे हैंडल्स के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है. मामले को लेकर पुलिस उपायुक्त (महिला और बाल सुरक्षा) वृंदा शुक्ला ने कहा कि पुलिस को शिकायत मिली है और साइबर सेल ने इस पर काम शुरू कर दिया है.

उन्होंने कहा, “हम इस तरह की शिकायतों का बहुत तत्परता से संज्ञान में लेते हैं और जल्द से जल्द अपराधी का पता लगाने की कोशिश जारी है.” अधिकारी ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी कानून के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है और पुलिस आरोपियों के ठिकाने का पता लगाने की कोशिश कर रही है।

कौन हैं पंखुड़ी पाठक- वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राष्ट्रीय मीडिया पैनलिस्ट हैं। नॉएडा की रहने वाली हैं व उनकी राजनैतिक कर्मभूमि उत्तर प्रदेश है। पंखुड़ी ने अपने राजनैतिक जीवन की शुरुआत दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज कॉलेज में छात्र राजनीति से की। पंखुड़ी पाठक सामाजिक मुद्दों को हमेशा गंभीरता से उठती रही हैं।

छोटे सिंह चौहान ने किया अपने समर्थकों के साथ गांवों में भ्रमण

उरई (जालौन)। भाजपा निषाद पार्टी गठबंधन के प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान ने अपने समर्थकों के साथ विधानसभा क्षेत्र के गांवों में भ्रमण किया।

गठबंधन के प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान ने ग्राम चुर्खी, नादमी छोटी, नाडमी बड़ी, रिनिया, अभेदेपुर, लौना, पिथऊपुर, दमशश, मलथुआ, भिवारी, जहटौली, जखा, मड़ैया छोटी, मड़ैया बड़ी, मघापुर, रामपुर व जितापुर में संपर्क कर वोट की अपील की।

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने किया चुनाव कार्यालय का उद्घाटन

सपा प्रत्याशी सोनू कनौजिया ने फीता काटकर किया चुनाव कार्यालय का उद्घाटन

लखनऊ। मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत मिर्जागंज चौराहे स्थित सपा पार्टी चुनाव कार्यालय का सोमवार को नगर पंचायत मलिहाबाद की अध्यक्ष असमत आरा खां के पुत्र पूर्व जिला उपाध्यक्ष एवं प्रतिनिधि अहसन अजीज खां व प्रत्याशी सोनू कन्नौजिया ने चुनाव कार्यालय का उद्घाटन फीता काट कर किया।

इस अवसर पर सभा को सम्बोधित करते हुये चेयरमैन प्रतिनिधि ने कहा कि भाजपा सरकार मे किसानों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। मंहगाई चरम पर पहुंच गयी है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही किसानों को मुफ्त खाद, डीजल, पेट्रोल दिया जायेगा।

सभा को सम्बोधित करते हुये अहसन अजीज खां ने कहा कि नौजवानों के पास रोजगार नहीं हैं, उन्हें रोजगार पाने के लिये लाठियां खानी पड़ रही हैं। सपा सरकार बनते ही रोजगार युवकों को दिये जायेंगे। भाजपा ने विगत क्षेत्र पंचायत प्रमुख चुनाव में नंगा नाच कर अपने प्रमुखों को जिताया है।

उन्होंने कहा कि पेंशन बहाली करने के साथ रोजगार के रास्ते खोले जायेंगे। देश का किसान, नौजवान, व्यापारी वर्ग भाजपा सरकार से तंग आ चुका है। मोदी योगी सरकार ने नोटबंदी कर भारत को लूटने का काम किया है। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि आगामी 23 फरवरी को मतदान अधिक से अधिक करायें, साथ ही किसानों, नौजवानों विरोधी भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करें, जिससे एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया जा सके।

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष जय सिंह जयन्त, विधानसभा अध्यक्ष वीरेन्द्र यादव, पूर्व महासचिव राशिद अली, जिला महासचिव शब्बीर खां, प्रभारी वासुदेव सिंह, मोईन खां, शहजाद खां,नागेन्द्र यादव सहित सैकडों सपाई मौजूद रहे।

आओ चलें मतदान करें, लोकतंत्र का सम्मान करें

लखनऊ। चिकित्सा स्वास्थ्य महासंघ द्वारा प्रदेश व्यापी मतदाता जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में महासंघ द्वारा बलरामपुर चिकित्सालय लखनऊ में एक बैठक कर आज के ही दिन 14/2/2019 को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि व्यक्त की गई। साथ ही उनके परिवार को पेन्शन न मिलने पर चिंता व्यक्त करते हुए सभी को मतदान करने एवं अपने मताधिकार का उपयोग करने के बारे में बताया गया।

इस दौरान पुरानी पेंशन बहाली एवं निजीकरण/प्राइवेटाइजेशन/ आउटसोर्सिंग बंद करने की बात प्रमुखता से करने वाली राजनीतिक पार्टी को ही सभी आने वाले विधानसभा चुनाव में वोट देकर सरकार बनाने हेतु अपनी-अपनी इच्छा प्रकट की। साथ ही साथ चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग में हो रहे निजीकरण एवं संविदा पर रखे गए लोगों को परमानेंट करने की भी बात की गई। कार्यक्रम में चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के लगभग सभी संगठनों के सदस्य उपस्थित रहे। केके सचान, श्रवण सचान, रजत, सुनील, कपिल, सत्येन्द्र सिंह, जितेन्द्र सिंह, महेंद्र श्रीवास्तव,आईनिस चार्ल्स, मंजीत कौर, रेनू दूबे, शशि सारस्वत, स्मिता, हुस्ना ख़ातून, मीना, रेनू पटेल, कनक, देवरती, प्रीती आदि मौजूद रहे! प्रधान महासचिव चिकित्सा स्वास्थ्य महासंघ उत्तर प्रदेश अशोक कुमार ने धन्यवाद दिया।

मतदाताओं के लिए बनाए गए सेल्फी पॉइंट

बिजनौर जिले की आठों विधानसभाओं पर विधायक चुनने के लिए हुआ मतदान। तमाम जागरूकता कार्यक्रम चलाने के साथ ही मतदाताओं को मतदान केंद्र तक लाने के लिए बनाए गए थे सेल्फी पॉइंट।

सूना पड़ा जिला मुख्यालय बिजनौर का डाकघर चौराहा

बिजनौर। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण में जिला बिजनौर में मतदान हुआ। इस कारण बिजनौर शहर का मुख्य चौराहा डाक घर पर सन्नाटा पसरा पड़ा रहा। शहर का बाजार पूर्ण रूप से बंद रहा।

पर्ची के लिए परेशान हुए मतदाता-
विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण में जिला बिजनौर में हुए मतदान में मतदाताओं ने बढ़ चढ़कर भाग लेते हुए अपने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी लंबी लाइनें लगनी शुरू हो गई। कुछ जगह मतदाताओं की पर्ची न पहुंचने पर अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

एडीजीए समेत डीएम व एसपी सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते रहे। सुबह 7:00 बजे से धीमी गति के साथ कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान शुरू हुआ। डीएम व एसपी ने विभिन्न मतदान बूथों पर पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। विभिन्न प्रत्याशी भी मतदान की स्थिति देखते रहे। हालांकि कुछ मतदान बूथों पर पर्ची न मिलने या लिस्ट में नाम न होने के कारण मतदाता अपने मत का प्रयोग करने के लिए परेशान होते देखे गए। सदर विधानसभा सीट के कई मतदान बूथों को रंग-बिरंगे गुब्बारों से सजाया गया। वोट करने के बाद फोटो लेने के लिए मतदाताओं के लिए सेल्फी पॉइंट भी बनाए गए। वोट करने के बाद उत्साहित मतदाताओं ने सेल्फी पॉइंट पर सेल्फी ली।

योगी का सनसनीखेज बयान, बोले अखिलेश नहीं चाहते कि आजम खान जेल से बाहर आएं….

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण के तहत नौ जिलों की 55 सीटों के लिए मतदान शुरू हो गया है। इस बीच एएनआई न्‍यूज एजेंसी को दिए एक इंटरव्‍यू में सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने यह कहकर चौंका दिया कि आजम खान जेल से बाहर आएं यह खुद अखिलेश यादव नहीं चाहते। आजम बाहर आए तो अखिलेश की कुर्सी खतरे में पड़ जाएगी।
एक सवाल के जवाब में सीएम योगी ने कहा कि अखिलेश यादव ईमानदारी से बताएं कि वे क्‍या चाहते हैं। सीएम योगी ने कहा कि वैसे आजम खान का मामला न्‍यायालय में लंबित है। इसमें राज्‍य सरकार का कोई दखल नहीं है। राज्‍य सरकार सिर्फ कोर्ट द्वारा पूछे जाने पर सही तथ्‍य सामने रख देती है। एक अन्‍य सवाल के जवाब में सीएम योगी ने कहा कि नए भारत में विकास सबका होगा लेकिन तुष्टीकरण किसी का नहीं। सरकार सबका साथ, सबका विकास की भावना के साथ कार्य कर रही है। नया भारत संविधान के अनुरूप चलेगा, शरीयत के अनुरूप नहीं। मैं स्पष्टता से कह सकता हूं कि गजवा-ए-हिंद का सपना कयामत के दिन तक भी साकार नहीं होगा।

मुकदमे भाजपा के समय तो नहीं हुए

चुनाव के समय विपक्ष से जुड़े लोगों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसि‍यों की कार्रवाई पर एक सवाल का जवाब देते हुए सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि अखिलेश जी के खानदान के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला है, क्या ये बीजेपी की सरकार के समय हुआ था? 2013 में तो बीजेपी की सरकार भी नहीं थी। इनके खिलाफ और भी बहुत सारे मामले हैं, क्या ये बीजेपी के कारण हुआ है?

बिजनौर मतदान अपडेट इसी में बढ़ाये जाएंगे, कृपया इसी न्यूज़ को बार बार चैक करें।

बिजनौर (श्रीजी एक्सप्रेस)। पुलिस प्रशासन की संवेदनशील अति संवेदनशील मतदान केंद्रों पर पैनी नजर। अति संवेदनशील मतदान केंद्रों के इर्द गिर्द ड्रोन कैमरे उड़ा कर रखी जा रही पैनी नजर। दूसरे चरण की वोटिंग के लिए मतदाताओं में भारी उत्साह। लगी है लंबी कतारें। महिलाओं बुजुर्गों ने भी किया अपने मत का प्रयोग। नव युवाओं में वोट डालने को लेकर उत्साह का माहौल।

बिजनौर में आठों सीटो पर हुआ कुल मतदान 66.73

17-नजीबाबाद – 68.21
18-नगीना – 65.43
19-बढ़ापुर – 66.84
20-धामपुर – 67.42
21-नहटौर – 65.55
22-बिजनौर – 65.68
23-चांदपुर – 69.50
24-नूरपुर – 65.32

फुलसंदा में संगत के साथ सद्पुरुष बाबा ने किया मतदान

बिजनौर जिले में 5 बजे तक 61.44 प्रतिशत मतदान

नजीबाबाद – 59.89 प्रतिशत
नगीना – 61.02 प्रतिशत
बढ़ापुर – 59.8 प्रतिशत
धामपुर – 63.94 प्रतिशत
नूरपुर – 63.3 प्रतिशत
बिजनौर – 61.7 प्रतिशत
चांदपुर – 62.6 प्रतिशत
नहटौर – 59.6 प्रतिशत

लुइसली पारकर स्कूल में जिलाधिकारी ने किया मतदान
झालू में मतदान के प्रति लोगों में उत्साह

बिजनौर-धामपुर विधानसभा में EVM ख़राब, मतदाता परेशान।
मतदाताओं की लगी लंबी लंबी लाइन।
प्राथमिक स्कूल तिलक के बूथ संख्या 89 का मामला।

बीएलओ की कारगुजारियों से परेशानी-
नजीबाबाद विकास खण्ड में भाजपा के गढ़ माने जाने वाले जालबपुर गूदड़ पंचायत में सुभाष नगर कॉलोनी, आरसी पुरम कॉलोनी, शिव लोक पुरम कॉलोनी, पारस लोक कॉलोनी, जयनगर कॉलोनी के मतदाताओं को बीएलओ की कारगुजारियों का सामना करना पड़ा। इन सभी कॉलोनियों के मतदाताओं ने आरोप लगाया कि बीएलओ की वजह से वोटर पर्ची नहीं मिल रही हैं क्योंकि पंचायत के दोनों बीएलओ एक ही परिवार और बसपा समर्थित मानसिकता के हैं।
चर्चा है कि इन दोनों बीएलओ ने अपने घर पर बैठ कर ही अपना कार्य पूर्ण किया है, क्षेत्र में एक आध बार ही दिखाई दिए। वोटर पर्ची तक नहीं बांटी गई। संभावना है कि लगभग 300 से 500 वोटर अपने मताधिकार से वंचित रह गए।

बिजनौर जनपद में 3 बजे तक 51.8 प्रतिशत हुआ मतदान

श्री राम अर्ज, अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण द्वारा थाना कोतवाली देहात क्षेत्रान्तर्गत पूर्व माध्यमिक विद्यालय बरुकी में बने मतदान केंद्र को चेक किया गया तथा डयूटीरत कर्मचारीगण को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।

जिले में 1 बजे तक 40.38 हुआ मतदान

नजीबाबाद- 39.46 प्रतिशत
नगीना – 37.9 प्रतिशत
बढ़ापुर- 43.8 प्रतिशत
धामपुर- 41.6 प्रतिशत
नूरपुर – 43.8 प्रतिशत
बिजनौर – 39.3 प्रतिशत
चांदपुर- 31.4 प्रतिशत
नहटौर- 40.8 प्रतिशत
झालू – 27%

बास्टा, मतदान करने के लिए अपनी बारी का इन्तजार करती महिलाएं
बिजनौर  शहर
बिजनौर शहर

ब्रेकिंग न्यूज़-ग्राम करमसखेड़ी में मशीन का वीवीपैट खराब बूथ संख्या 365 पर रुका मतदान।
बिजनौर में 8 विधानसभा सीटों पर सुबह 7 बजे से मतदान शुरू।
8 विधानसभा सीटों के 1673 मतदान केंद्रों पर शांतिपूर्वक चल रहा मतदान।
बिजनौर सदर से भाजपा प्रत्याशी सूची चौधरी ने किया मतदान।
पुलिस की चाक-चौबंद व्यवस्था बीच शांतिपूर्वक चल रहा मतदान।
बिजनौर में 24 अंतर्जनपदीय बैरियर पर चल रही सघन चेकिंग।
बिजनौर-ADG पुलिस बरेली राजकुमार पहुँचे मतदान केंद्रों का जायजा लेने बिजनौर। बिजनौर में सुबह 11 बजे तक 25 फीसदी हुआ मतदान।

बिजनौर जिले में 11 बजे तक 24.51 प्रतिशत मतदान हुआ

नजीबाबाद- 28.69 प्रतिशत
नगीना – 19.8 प्रतिशत
बढ़ापुर- 32.30 प्रतिशत
धामपुर- 25.5 प्रतिशत
नूरपुर – 22.5 प्रतिशत
बिजनौर – 26.6 प्रतिशत
चांदपुर- 19.3 प्रतिशत
नहटौर- 20 प्रतिशत

एडीजी बरेली राजकुमार ने किया निरीक्षण- नहटौर। विधानसभा 21 नहटौर में 337 मध्य स्थलों पर शांतिपूर्वक प्रारंभ हुआ। 7 बजे से 9 बजे तक मतदान काफी धीमा रहा लेकिन 9 बजे के बाद मतदान करने के लिए लोगों में अधिक उत्साह दिखाई दिया। एडीजी बरेली राजकुमार ने भी नहटौर नगर के मतदान केंद्र का निरीक्षण किया। 1 बजे तक नहटौर में 40% मतदान हुआ। पोलिंग बूथों का निरीक्षण करने के लिए पहुंचे एडीजी बरेली राजकुमार ने कहा कि पुलिस प्रशासन पूरी तरह सतर्क है और शांतिपूर्वक मतदान कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो भी अशांति पैदा करने वाले तत्व हैं उन्हें पूर्व में चिन्हित कर लिया गया था और यदि तनिक भी अशांति पैदा होती है तो उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं रायपुर मलिहाबाद और फरीदाबाद में ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी होने की शिकायत आई जिसे प्रशासन द्वारा तत्काल सही कराकर मतदान सुचारू कराया गया। समाचार लिखे जाने तक शांतिपूर्ण ढंग से मतदान जारी था।

व्यवधान की सूचना पर पहुंची पुलिस- धामपुर। मतदान सुबह 6 बजे शांतिपूर्ण ढंग से शुरू हुआ। मतदान प्रभावित ना हो, इसके लिए पुलिस प्रशासन की ओर से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए थे। भाजपा प्रत्याशी अशोक राणा, बसपा प्रत्याशी ठाकुर मूलचंद चौहान, सपा प्रत्याशी नईम उल हसन, कांग्रेस प्रत्याशी हुसैन अहमद अंसारी सहित सातों प्रत्याशियों ने भी वोटिंग की। एसपी पूर्वी ओमवीर सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी अजय कुमार अग्रवाल के संयुक्त निर्देशन भारी पुलिस व पीएसी एवं बीएसएफ के जवानों की मौजूदगी में विभिन्न मतदान स्थलों पर मतदाता लाइन में लगकर वोटिंग करते नजर आए। नगीना मार्ग स्थित के. एम. इंटर कालेज पर बने बूथ संख्या 74 पर मतदान न होने या मतदान रोके जाने की सूचना जैसे ही प्राप्त हुई तुरन्त सीओ अजय कुमार अग्रवाल ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया, लेकिन मतदान प्रक्रिया सही पाई गयी। इसके अलावा धामपुर नगर व क्षेत्र में हर पोलिंग बूथ पर मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पोलिंग एजेंट भी मतदाताओं को गाइड करते नजर आए। दोपहर एक बजे तक 41 प्रतिशत मतदान हुआ था।

पुलिस ने पत्रकारों को रोका- स्योहारा। धामपुर विधानसभा सीट के लिए क्षेत्र में शांतिपूर्ण शुरू हुए मतदान में युवाओं और महिलाओं ने सुबह से ही बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और वोट किया। मतदान के लिए सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रही तो वहीं किसी भी पोलिंग बूथ से किसी अप्रिय घटना की सूचना नही आई। वहीं मतदान केंद्रों पर इस बार चौकीदार और चपरासियों की भी ड्यूटी लगाने से बूथों पर तैनात कर्मियों को पानी आदि की भी समस्या से दो चार होना पड़ा। पुलिस द्वारा लाइन में लगे वोटरों की कवरेज करने से पुलिस  ने रोक लगाई तो पत्रकारों में पुलिस के  प्रति रोष पनप गया।

पुलिसबिजनौर पुलिस लाइंस में मतदान।

स्वाति मिश्रा के साथ उत्कर्ष और दीपांशु ने डोर टू डोर किया जनसंपर्क

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से पीएचडी हैं स्वाति मिश्रा। ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं से जनसंपर्क कर अवगत करा रहीं उन्हें पार्टी की नीतियों से अवगत। पति अभिषेक मिश्रा के कंधे से कंधा मिलाकर दे रही हैं साथ।


लखनऊ। सरोजनी नगर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी व पूर्व कैबिनेट मंत्री अभिषेक मिश्रा का प्रचार अभियान जोरो पर है। अभिषेक मिश्रा के साथ ही साथ उनकी पत्नी स्वाति मिश्रा भी पार्टी के लिए दिन रात कैंपेन करके वोट मांग रहीं हैं। इसी कड़ी में रविवार को उन्होंने मानसरोवर सेक्टर- ओ व गुड़ौरा में डोर टू डोर अभियान कर वोट मांगे।

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से पीएचडी स्वाति मिश्रा ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं से जनसंपर्क कर उन्हें पार्टी की नीतियों से अवगत करा रहीं हैं। साथ ही साथ पति का कंधे से कंधा मिलाकर साथ दे रही हैं। प्रसपा युवजन सभा के डॉ उत्कर्ष यादव एवं प्रदेश सचिव लोहिया वाहिनी दीपांशु यादव द्वारा आयोजित जनसंपर्क कार्यक्रम में स्वाति मिश्रा ने कहा कि पिछली सपा सरकार में सरोजनी नगर विधानसभा में जो विकास कार्य हुए थे, उनकी रफ्तार मौजूदा सरकार में मंद पड़ चुकी है। ऐसे में रुके हुए विकास कार्यों को पुनः रफ्तार देने के लिए सपा की सरकार बनानी होगी। इसके लिए एक एक वोट की बहुत कीमत है। उन्होंने गोकुल धाम मंदिर ट्रस्ट और माँ सिहारी देवी विकास समिति के पदाधिकारियों से भी शिष्टाचारिक भेंट की। इसके बाद उन्होंने डोर टू डोर कैम्पेन कर पार्टी के पक्ष में वोट मांगे।

जनसभा में अधिवक्ता विश्वजीत मौर्य, इं अभिषेक यादव, जितेंद्र पाल, दिलीप सिंह कृष्णा, प्रमोद द्विवेदी, आशुतोष दीक्षित, शिव कुमार, शिवम सानिध्य, आदि लोग मौजूद थे।

ब्राह्मण समाज ने भरी हुंकार, आरपी यादव अब की बार!

सदर की जनता को चार दशक की दासता से मुक्ति मिलेगी- ब्राह्मण महासभा

ब्राह्मण समाज ने तिलक लगा कर कहा – आरपी यादव होंगे सदर विधायक !

रायबरेली। सदर विधानसभा से प्रत्याशी आर पी यादव को हर समुदाय का जनसमर्थन और आशीर्वाद मिल रहा है। हर तरफ से यही आवाज आ रही है कि अब की बार किसान के बेटे आरपी यादव को विधायक बनाना है। रविवार को ब्राह्मण महासभा का भी आशीर्वाद मिला है। सदर विधानसभा के कद्दावर ब्राह्मण समाज के नेताओं ने आर पी यादव को तिलक लगाते हुए कहा कि हम लोग यह जीत का तिलक लगा रहे हैं, इस बार आरपी यादव को हमारे समाज का आशीर्वाद मिल रहा है। अपना बेटा आरपी यादव इस बार सदर विधानसभा से विधायक बनने जा रहा है। हमारे बेटे ने बहुत संघर्ष किया है और इस बार हम लोग उसे आशीर्वाद देते हैं कि सदर विधानसभा से विधायक बनने से कोई रोक नहीं सकता है।

वरिष्ठ समाजसेवी राजेंद्र प्रसाद बाजपेई व कमलेश द्विवेदी ने कहा कि सपा मुखिया अखिलेश यादव ने हमारे वर्ग के लोगों के लिए बहुत कुछ किया है। छोटे लोहिया के नाम से पूरे प्रदेश में प्रसिद्ध रहे जनेश्वर मिश्रा के नाम से एशिया का सबसे बड़ा पार्क बनाया है। इसके अलावा परशुराम जी की मूर्ति लगाने का काम सपा सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि जितना सम्मान सपा सरकार में ब्राह्मणों का रहा है, उतना किसी दूसरी सरकार में नहीं रहा है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार में निर्दोष ब्राह्मणों की भी हत्याएं कराई गई है। सैकड़ों ऐसे लोग भी हैं जो कि आज भी योगी सरकार का दंश झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बार पूरे प्रदेश का ब्राह्मण एक वर्ग की राजनीति करने वाली योगी सरकार को प्रदेश की सत्ता से बाहर करने का मन बना लिया है।

शहर ब्राह्मण समाज के लोगों ने कहा कि पूर्व में ही हमारे वर्ग के लोगों की हत्या की गई है। शहर में ही दिन दहाड़े चंद गुण्डों ने ब्राह्मणों की हत्या कर दी थी। उन्होंने कहा कि शहर का ब्राह्मण अभी तक वह मंजर भूला नहीं है। इस बार सदर विधानसभा में बदलाव होगा और इस बार अपना बेटा आरपी यादव विधायक बनेगा। बुजुर्ग ब्राह्मणों ने आरपी यादव को जीत के लिए आशीर्वाद दिया और विश्वास जताया कि आरपी यादव के नेतृत्व में सदर विधानसभा क्षेत्र का विकास होगा सब को सम्मान मिलेगा हर अमीर -गरीब की आवाज को शासन- प्रशासन तक पहुंचाने का काम आरपी यादव के द्वारा किया जाएगा। चार दशकों की दासता से मुक्ति मिलेगी ।

आरपी यादव ने कहा कि सपा सरकार में सदैव ही ब्राह्मणों का सम्मान किया गया है। सपा मुखिया ने ब्राह्मण समाज के लोगों के लिए बहुत कुछ किया है। सपा सरकार में ब्राह्मण समाज के लोगों का अधिक से अधिक प्रतिनिधित्व रहा है। इस बार भी सपा सरकार बनने पर ब्राह्मण समाज के लोगों का सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में जितना अपमान ब्राह्मण समाज के लोगों का किया गया है, उतना किसी अन्य सरकार में नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि इस बार पूरे प्रदेश का ब्राह्मण ऐसी तानाशाही सरकार को सत्ता से बाहर करने का मन बना चुका है। उन्होंने ब्राह्मण महासभा के लोगों से कहा कि मैं आपका बेटा हूं और आपके समाज के लोगों का सम्मान कभी नहीं झुकने दूंगा। सदर विधानसभा के लिए मुझसे जितना अधिक से अधिक से हो सकेगा, मैं उतना अधिक से अधिक काम करूंगा। इस मौके पर शीतला शंकर मिश्रा, दीपक दीक्षित, ओके बाजपेई, सभासद पूनम तिवारी, सुरेश शुक्ला, मनीष त्रिपाठी, हिमांशु बाजपेई, आरपी बाजेपई, राजेंद्र बाजपेई सहित सैकड़ों ब्राह्मण समाज के लोग मौजूद रहे।

बीएड-टेट 2011 अचयनितों का मिला समर्थन
सदर विधानसभा से प्रत्याशी आरपी यादव के समर्थन में बीएड टेट-2011 के चयनित अभ्यर्थियों का समर्थन मिला है। आरपी यादव को समर्थन पत्र देते हुए कहा कि हम आपके साथ और सदर विधानसभा के सैकड़ों नौजवानों और उनके परिवार के लोग आपको जिताकर विधानसभा भेजने का काम करेंगे। एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष आशीष तिवारी ने समर्थन पत्र देते हुए कहा कि हम लोग योगी सरकार में अपनी नौकरी की गुहार लगाते-लगाते थक गए है, लेकिन सरकार की तरफ से हम लोगों की एक भी नहीं सुनी गई। हम जिले के हजारों नौजवान सभी विधानसभा में सपा के प्रत्याशी को जिताकर अखिलेश यादव की सरकार फिर से बनाने का काम करेंगे।

धुंआधार तरीके से जारी है छोटे सिंह चौहान का प्रचार अभियान

छोटे सिंह चौहान का प्रचार अभियान धुंआधार तरीके से जारी। विधानसभा क्षेत्र 220-कालपी से भाजपा, निषाद पार्टी गठबंधन के हैं प्रत्याशी। विजयी बनाने को आतुर से दिख रहे मतदाता।

उरई (जालौन)। विधानसभा क्षेत्र 220-कालपी से भाजपा, निषाद पार्टी गठबंधन प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान का प्रचार अभियान धुंआधार तरीके से जारी है। गांव-गांव में मतदाता अपने प्रिय प्रत्याशी छोटे सिंह को इस विधानसभा क्षेत्र से विजयी बनाने को आतुर सा दिख रहा है।

चुनाव प्रचार अभियान के दौरान भाजपा-निषाद पार्टी गठबंधन प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान ने अपने समर्थकों के साथ कदौरा मंडल के उकुखा, डाले का पुखा, छोटीमेडी, बड़ागांव, चतेला, पतरेहता, बसरेही, समसी, चनदरसी, कानाखेड़ा, अरगांमा, नाका, पंडोरा, मरगांमा, मठपुखा, सुजानपुर आदि अनेक ग्रामों में भ्रमण किया। ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं ने उन्हें मत व समर्थन देने का वायदा किया। साथ ही उनके लिये हर स्तर से सहयोग का आश्वासन भी दिया।

इस दौरान जगत नारायण विश्वकर्मा अध्यक्ष, ज्ञान सिंह भदोरिया जिला पंचायत सदस्य, महेंद्र सिंह, सूर्यपाल सिंह पूर्व मंडल अध्यक्ष, जगरूप सिंह, वेद प्रकाश पाठक, पूर्व महामंत्री, जगभान पाल मंडल उपाध्यक्ष, गुलाब पाल, सत्य प्रकाश निषाद युवा मोर्चा निषाद पार्टी, भारत सिंह निषाद, बृज बिहारी पाल मंडल उपाध्यक्ष, राजेश कुशवाहा मंडल मंत्री, राहुल सिंह परिहार मंडल युवा मोर्चा मंडल संयोजक, महावीर तिवारी, देवेंद्र सिंह, बाबूराम कुशवाहा, जगदीश पाल पूर्व मंडल अध्यक्ष, राजा शुक्ला, जगमोहन विश्वकर्मा, योगेंद्र पाल सिंह, देवेंद्र सिंह, सौरभ भूषण शर्मा विधानसभा प्रभारी, संजीव उपाध्याय क्षेत्रीय मंत्री, नवीन गुप्ता पूर्व जिला महामंत्री, भूपेंद्र सिंह बारह, देवेंद्र गुप्ता शक्ति केंद्र संयोजक, दिग्विजय सिंह, कोमल सिंह, भारत सिंह यादव, नकुल वर्मा आदि शामिल रहे।

…इसलिए कमल का बटन दबाओ… सपा को हराओ!

बहन कुमारी मायावती जी का संदेश…दूसरे चरण में 14 फरवरी को होने वाले मतदान को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा संदेश।

  • यादव… जाटव का जीना मुश्किल कर देंगे… इसलिए कमल का बटन दबाओ… सपा को हराओ
  • बहन मायावती जी इस बात को लेकर बहुत दु:खी हैं कि पहले फेज़ में बहुत बड़ी संख्या में हमारा कोर वोटर जाटव वोटर वोट डालने नहीं गया और चुपचाप घर बैठ गया… क्योंकि मनुवादी मीडिया ने हर जगह ये प्रचार किया है कि बहन कुमारी मायावती जी चुनाव ही नहीं लड़ रही हैं।

-बहन कुमारी मायवाती जी इस बात से काफी नाराज हैं कि आगरा की फतेहाबाद सीट, सिवालखास और सरधना सीट पर मौजूद हमारा जाटव वोटर वोट देने के लिए पोलिंग बूथ पर गया ही नहीं।

वायरल संदेश में बताया गया है कि बहन कुमारी मायावती ने कल शाम लखनऊ में अपने आवास पर अपने खास लोगों के साथ हुई बैठक के बाद ये फैसला किया है कि अब जाटव भाइयों और बहनों को स्ट्रेटेजिक वोटिंग करने की आवश्यकता है।

मीटिंग में अपने खास लोगों से बहन कुमारी मायावती ने ये बात कही कि इस चुनाव में तो मेरा मुख्यमंत्री बन पाना बहुत ही मुश्किल है क्योंकि सारा मुस्लिम वोट अखिलेश यादव की तरफ शिफ्ट हो गया है… बहन जी ने अपनी रणनीति स्पष्ट करते हुए कहा कि मैं, यानी मायावती 10 पर्सेंट जाटव वोटर की नेता हूं, जबकि अखिलेश भी 10 पर्सेंट यादव वोटर का ही नेता है। हम दोनों में से ताकत उसी की बढ़ती है, जिसके पास मुस्लिम वोटर शिफ्ट होता है… लेकिन दु:ख की बात ये है कि मुसलमान हमको वोट नहीं दे रहा है, जिसकी वजह से अखिलेश ताकतवर हो गया है… जैसे एक मयान में दो तलवार नहीं रह सकती, वैसे ही एक ही मुस्लिम वोट बैंक के दो दावेदार नहीं हो सकते हैं…. मुसलमान इसलिए अखिलेश की तरफ शिफ्ट हो गया है क्योंकि मुसलमान को लगता है कि अखिलेश ही बीजेपी को हरा सकता है… इसीलिए हमारा पहला लक्ष्य बीजेपी नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी को हराना है, ताकी 2024 में मुसलमानों को ये भरोसा हो जाए कि अखिलेश निकम्मा है इसलिए अब मायावती ही एक मात्र विकल्प है….

वायरल संदेश के अनुसार सारी स्थितियां स्पष्ट करने के बाद मायावती ने अपने सहयोगियों को ये गुप्त संदेश दिया है कि जाटव वोटर घर बैठकर आराम ना फरमाएं बल्कि अधिक से अधिक बीजेपी को वोट करके साइकिल की हवा निकाल दे ताकी अगली बार 2024 में मुसलमानों के पास हाथी पर बैठने के सिवाय दूसरा कोई विकल्प ही नहीं रह जाए।

  • बैठक के आखिर में मायावती जी ने ये बताया कि जाटव अपना सारा वोट बीजेपी को ट्रांसफर कर दे क्योंकि अब जब मैं मुख्यमंत्री नहीं बन सकती हूं तो अखिलेश को भी मुख्यमंत्री नहीं बनने दूंगी…. अगर अखिलेश सीएम बन गया तो जाटव का जीना हराम हो जाएगा !

उधर ये भी बताया गया कि जिस तरह हाथरस में सपा नेता के खेत से दलित लड़की की लाश बरामद हुई है, उससे भी बहन कुमारी मायावती जी अखिलेश यादव से काफी ज्यादा नाराज हैं… बहन कुमारी मायावती ने योगी जी की तारीफ करते हुए कहा कि आचार संहिता लगने के बाद अभी सिर्फ लॉ एंड ऑर्डर ही योगी जी के हाथ से निकला है अगर मुख्यमंत्री की कुर्सी भी योगी जी के हाथ से निकल गई तो यादव और मुसलमान गुंडे जाटवों का जीना हराम कर देंगे और उनके घर की बहन बेटियों का घर से निकलना मुश्किल हो जाएगा। इसलिए इस चुनाव में सारे जाटव मिलकर अखिलेश को हराने के लिए बीजेपी को अधिक से अधिक वोट दें और बीजेपी के प्रत्याशियों को विजयी बनाएं… ताकी दलितों का जान और माल सुरक्षित रहे !

सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार

बिजनौर। सदर विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। जानकारों के अनुसार भाजपा प्रत्याशी सूची मौसम चौधरी की राह इस बार आसान नजर नहीं आ रही। चुनाव में उन्हें जहां सपा रालोद गठबंधन से कड़ी टक्कर मिल रही है, वहीं बसपा प्रत्याशी रूचि वीरा भी पूरी ताकत से चुनाव प्रचार में लगी हुई हैं। आम आदमी पार्टी प्रत्याशी विनीत शर्मा ने भी धुआंधार प्रचार कर अपने चुनाव को मजबूत बना लिया है। उस पर मतदाताओं की चुप्पी से सभी प्रत्यशियों की नींद उड़ी हुई है।

सपा रालोद गठबंधन प्रत्याशी डॉ नीरज चौधरी

चुनावी समीक्षकों के मुताबिक 389356 मतदाताओं वाली बिजनौर सदर सीट पर भाजपा ने इस बार भी अपनी निवर्तमान विधायक सूची मौसम चौधरी को प्रत्याशी बनाया है। सपा रालोद गठबंधन से वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ नीरज चौधरी चुनाव मैदान में हैं। वहीं बसपा के टिकट पर पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा भी पूरी ताकत के साथ डटी हुई है। इस चुनाव में पहली बार आम आदमी पार्टी के टिकट पर पढ़े लिखे नौजवान विनीत शर्मा शिक्षा, बेरोजगारी, महिला सुरक्षा किसानो के गन्ना भुगतान जैसे मुद्दों के साथ चुनाव मैदान में उतरे हैं।

भाजपा प्रत्याशी सूची चौधरी

जातीय समीकरण के लिहाज से इस सीट पर लगभग एक लाख 40 हजार मुस्लिम, 45 हजार जाट, 48 हजार अनुसूचित जाति 40 हजार सैनी, 14 हजार पाल 12 हजार कश्यप, 10 हजार राजपूत, 10 हजार वैश्य, 8 हजार बंगाली, 5 हजार ब्राह्मण व शेष अन्य जातियों के मतदाता हैं।

बसपा प्रत्याशी रुचि वीरा

जाट मतदाता का रुझान स्पष्ट नहीं- 13 महीने चले किसान आंदोलन को लेकर भाजपा से नाराजगी के चलते जाटों का रुझान किसी एक पार्टी की तरफ होता दिखाई नहीं दे रहा है। हालांकि रालोद प्रत्याशी डॉक्टर नीरज चौधरी बिरादरी के दिग्गजों के साथ घर घर जाकर भाईचारे व विकास के वादे कर रहे हैं।

भाजपा के पास भी है जाट समुदाय- किसान आंदोलन को लेकर जाटों के भाजपा से नाराज होने की अटकलें लगाई जा रही हैं। इसके बावजूद, इन दावों में कोई ख़ासा दम नहीं दिखता। पश्चिम उत्तर प्रदेश में बीजेपी के मंत्री, विधायक से लेकर कई वरिष्ठ पदाधिकारी भी जाट हैं। सभी ने सुशासन, विकास, सुरक्षा आदि मुद्दों को लेकर अपनी बिरादरी में खासी पैठ बना रखी है।

मुस्लिम मतदाता भी साधे है चुप्पी- पूर्व सदर विधायक रुचि वीरा इस बार बसपा के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। विधानसभा क्षेत्र के ग्रम पेदा में एक वर्ग विशेष के तीन लोगों की हत्या के बाद अल्पसंख्यक समुदाय का उनके प्रति झुकाव तो हुआ लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यक मतदाताओं का उनके पक्ष में ध्रुवीकरण होने के बावजूद चुनाव हार गई थी। इस बार रुचि वीरा दलित व मुस्लिम गठजोड़ के सहारे चुनावी वैतरणी पार करना चाहती हैं। जानकारों का कहना है कि इस बार के चुनाव में मुस्लिम समाज पूरी तरह से एकजुट होता नजर नहीं आ रहा है। समाजवादी पार्टी और रालोद गठबंधन के चलते डॉ नीरज चौधरी को भी इस वर्ग के वोट मिलना तय है।

ठिठका हुआ है मुस्लिम वोटर- बताया जाता है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के कथित बयान कि “चाहे भाजपा को वोट देना पड़े, समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी नहीं जीतना चाहिए!” इसके बाद मुस्लिम मतदाता एक तरह से ठिठक सा गया है। जानकारों के अनुसार इस वर्ग के मतदाताओं के मन में संशय है कि यदि वो बसपा को वोट देते भी हैं, तो वह भाजपा के खाते में ही जाना है। इसलिए वह पशोपेश में है।

आप प्रत्याशी विनीत शर्मा

आम आदमी पार्टी ने इस बार बिजनौर सदर सीट से युवा व पढ़े-लिखे विदित शर्मा को चुनाव मैदान में उतारा है। उनके धुआंधार चुनाव प्रचार, दिल्ली के विकास मॉडल, किसानों की कर्ज माफी, महिला सुरक्षा, रोजगार, शिक्षा तथा स्वास्थ्य जैसे वादों के बाद आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की उनके समर्थन में वीडियो संदेश जनता के बीच पहुंचाए जाने के बाद चुनाव प्रचार के अंतिम चरण में आप प्रत्याशी की स्थिति मजबूत होती दिखाई दी। क्षेत्र की चुनावी समीक्षा के बाद बिजनौर सदर सीट पर इस बार मुकाबला दिलचस्प होने के आसार बढ़ गए हैं। चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा, ये तो आने वाली 10 मार्च को मतगणना के बाद ही पता चल पाएगा, किंतु दूसरे चरण में 14 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए मतदाताओं में काफी उत्साह दिखाई दे रहा है। इसके बावजूद जनता अपने पत्ते खोलने को तैयार नहीं है।

ढह रहा है बीजेपी का क़िला? पहले चरण के मतदान के क्या हैं संकेत?

उत्तर प्रदेश में पहले चरण के मतदान के बाद बीजेपी और समाजवादी पार्टी गठबंधन की तरफ से जीत के दावे किए जा रहे हैं. किसका दावा सच्चा निकलेगा और किसका झूठा साबित होगा. ये तो 10 मार्च को ही पता चलेगा. लेकिन चुनावों पर नजर रखने वाले मतदान पैटर्न और नेताओं के चेहरों के हावभाव से ये अंदाज़ा लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि पहले चरण का मतदान किसके हक में हुआ है. इसी से अंदाज़ा हो जाएगा कि सत्ता की चाबी किसके हाथ लगेगी.

पिछले तीन चुनावों के नतीजे बताते हैं कि पहले चरण में बढ़त बनाने वाली पार्टी ही आख़िर में सत्ता पर काबिज़ होती है. ज़्यादातर चुनाव विश्लेषकों को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के पहले चरण वाले 11 ज़िलों में बीजेपी को बड़ा नुक़सान होता दिख रहा है. खुद बीजेपी के नेता मान रहे हैं कि इस बार बीजेपी पिछले चुनाव में जीती हुई 53 सीटों का आंकड़ा किसी सूरत में नहीं छू पाएगी. उसे होने वाले नुकसान को लेकर आंकलन अलग-अलग है. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी की तरफ से चुनावी रणनीति बनाने और उसे अमलीजामा पहनाने वाली टीम के एक सदस्य के मुताबिक बीजपी 20 से 25 सीटें जीत रही है. ये अंदाज़ा मतदान के बाद विभिन्न सीटों से बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं की तरफ से भेजी गई रिपोर्ट के आंकड़ों के आधार पर लगाया गया है. क़रीब 10 सीटों पर वो कड़े मुकाबल में फंसी है. इन सीटों पर उसकी जीत का दारोमदार मुस्लिम वोटों के बंटवारे पर है. इसके लिए पार्टी को ओवैसी की पार्टी से बहुत उम्मीदें हैं.

सीएसडीएस को दिखी बीजेपी के खिलाफ आंधी
चुनावी सर्वेक्षण और चुनाव से जुड़े आंकड़ों का विश्लेषण करने वाली संस्था सीएसडीएस के निदेशक संजय सिह के मुताबिक पहले चरण में मतदान वाली सीटों पर बीजेपी के खिलाफ़ आंधी चलती दिख रही है. ये आंधी बीजेपी की ‘डबल इंजन’ की सरकार के खिलाफ है. ये बात उन्होंने विभिन्न सीटों पर एक्ज़िट पोल करने गए अपनी टीम के सदस्यों से मिले फीडबैक के आधार पर कही है. उनका कहना है कि बीजेपी का क़िला ढह रहा है. इसकी शुरुआत पहले चरण के मतदान से हो चुकी है. सीएसडीएस का एक्ज़िट पोल एकदम सटीक निकलता है. 2017 के चुनाव में इसने बीजेपी को 300 से ज्यादा सीटें मिलने की भविष्यवाणी की थी और 2012 में समाजवादी पार्टी को 225 सीटें मिलने का अनुमान लगाया था. इस लिहाज से देखें तो संजय सिंह के दावे में दम नज़र आता है.

नहीं चला योगी का कोई दांव
बीजेपी खासकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीत के लिए सारे हथकंडे अपना रहे हैं. उन्होंने, हिंदुत्व, राष्ट्रवाद, विकास के मुद्दों के साथ ही सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का भी कार्ड खेला. चुनाव के ऐलान के फौरन बाद उन्होंने कई टीवी चनलों पर चुनाव को 80 फीसदी बनाम 20 फीसदी की लड़ाई बताया. उनका सीधा मतलब 80 प्रतिशत हिन्दू वोटर्स और 20 प्रतिशत मुस्लिम वोटर्स के बीच संघर्ष से था. इस फॉर्मूले के ज़रिए वो अखिलेश यादव और जयंत चौधरी की जोड़ी के जाट-मुस्लिम समीकरण को तोड़ना चाहते थे. मतदान के दिन सुबह योगी ने वीडियो जारी करके कहा कि अगर यूपी में दोबारा बीजेपी की सरकार नहीं बनी तो ये केरल, कश्मीर और पश्चिम बंगाल बन जाएगा और उनकी पांच साल की मेहनत पर पानी फिर जाएगा. मतदान का पैटर्न देख कर लगता है कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की योगी की ये आख़री कोशिश भी कामयाब नहीं हुई.

सफल दिख रही अखिलेश की सोशल इंजीनियरिंग
बीजपी की रणनीति के खिलाफ अखिलेश जाट-मुस्लिम के साथ ही सैनी, मौर्य, कुशवाहा और कश्यप जैसी अतिपिछड़ी जातियों की सोशल इंजीनियरिंग के साथ मैदान में उतरे थे. पहले चरण वाली सीटों पर इसका असर दिखा. इस बार अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के गठबंधन ने बीजेपी के उम्मीदवारों को कुछ हद तक बांध दिया कि वो खुल कर नहीं खेल पाए. शहरी इलाकों में बीजेपी के वोटर जहां उदासीन दिखें, वहीं मुस्लिम इलाक़ों में मतदान को लेकर उत्साह देखा गया. तमाम टीवी चनलों के रिपोर्टर्स ने रिपोर्टिंग के दौरान ये बात कही कि हिंदू वोटर्स में मतदान को लेकर उतना उत्साह नहीं है जितना पिछले चुनाव में था. जिस कैराना के उम्मीदवार का नाम लेकर योगी ने ‘10 मार्च के बाद गर्मी निकालने’ और ‘मई-जून में यूपी को शिमला बनाने’ वाला बयान दिया था, वहां सबसे ज्यादा 75 फीसदी मतदान हुआ है. क्या ये बीजेपी का किला ढहने के संकेत हैं?

क्या है मतदान का पैटर्न
पहले चरण की 58 सीटों पर हुए मतदान के पैटर्न और पिछल चुनाव के तुलनात्मक विश्लेषण से नतीजों के रुझान का अंदाज़ा लगाया जा सकता है. इस बार करीब 61.06 फीसदी वोट पड़े हैं. ये पिछले 2017 के चुनाव से 2 फीसदी कम है.


2017 में इन 58 सीटों पर औसतन 63.75 फीसदी मतदान हुआ था, यानि इस बार करीब 2 फीसदी वोटिंग कम हुई है. 2012 में इन्हीं 58 सीटों पर 61.03 फीसदी वोटिंग हुई थी. यानि 2017 में करीब 2 फीसदी वोटों में इजाफा हुआ था. पिछली बार 2 फीसदी वोट बढ़े थे तो बीजेपी को 43 सीटों का फायदा हुआ था. जबकि बसपा 18 और सपा को 12 सीटों का नुकसान हुआ था. 2017 में भाजपा को इन 58 में से 53 सीटों पर जीत मिली थी. 2012 में इन 58 सीटों में बीजपी को 10 सीटें, सपा को 14 और बसपा को 20 सीटें मिली थीं. 11 सीटें निर्दलियों ने जीती थीं.

उदास दिखे मोदी-योगी के मंत्री
पहले चरण में दिग्गजों की सीटों पर कम मतदान बीजेपी को खल रहा है. योगी सरकार के मंत्रियों वाली सीटों पर कम मतदान होना उनकी हार की तरफ इशारा कर रहा है. मतदान के बाद विभिन्न टीवी चैनलों पर मोदी सरकार के मंत्री संजीव बालियान से लेकर योगी सरकार के मंत्री श्रीकांत शर्मा, संगीत सोम और सुरेश राणा यूं तो जीत के दावे करते दिखे, लेकिन उनके चेहरों के भाव उनके मुंह से निकलने वाले शब्दों का साथ देते नहीं दिख रहे थे. कई टीवी चैनलों की रिपोर्ट के मुताबिक योगी सरकार के दिग्गज मंत्रियों वाली सीटों पर हिंदू मतदाता मतदान को लेकर काफी उदासीन थे, वहीं मुस्लिम मतदाताओं में काफी उत्साह था. अक्सर देखा गया है कि बीजेपी का कट्टर वोटर उससे नाराज होने की स्थिति में उसके खिलाफ वोट नहीं डालता. इसके बजाय वो वोट डालने ही नहीं निकलता. ये स्थिति योगी सरकार के लिए ख़तरे की घंटी है.

पहला चरण जिसका, सत्ता पर क़ब्ज़ा उसका
ग़ौरतलब है कि पिछले दोनों चुनाव में इन जिलों में पहले चरण में ही मतदान हुआ था. दो प्रतिशत वोटिंग बढ़ने से बीजेपी ने पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश जीता और बाक़ी के चरणों में पूरे उत्तर प्रदेश में बीजपी का भगवा लहरा गया था. तो क्या 2 प्रतिशत कम मतदान बीजेपी के खिलाफ जा रहा है. अगर पहले चरण में बीजेपी को बड़ा नुकसान होता है तो बाकी के चरणों में भी नुकसान जारी रहेगा. आख़िरकार सत्ता उसके हाथ से निकल जाएगी. पिछले तीन चुनावों में ऐसा ही हुआ है. 2017 में पहले चरण से ही बीजेपी ने बढ़त बना ली थी. 2012 के चुनाव के पहले चरण में समाजवादी पार्टी को सबसे ज्यादा सीटें मिली थीं और सत्ता पर पूर्ण बहुमत से उसका क़ब्ज़ा हो गया था. यही पैटर्न 2007 में भी रहा था. बीएसपी पहले चरण से ही बढ़त बनाते हुए चली और पहली बार पूर्ण बहुमत से उसकी सरकार बनी थी.

दिग्गजों की सीटों पर कम मतदान का क्या मतलब?
योगी सरकार में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा की मथुरा विधानसभा सीट पर 57.33 प्रतिशत मतदान हो सका. 2017 में यहां 59.5 फीसदी मतदान हुआ था. उत्तराखंड की राज्यपाल का पद छोड़कर विधानसभा चुनाव लड़ने आई बेबीरानी मौर्या की आगरा ग्रामीण विधानसभा सीट पर 62.00 प्रतिशत मतदान हुआ. पिछली बार 63.7 फीसदी मतदान हुआ था. हस्तिनापुर विधानसभा सीट पर 60 प्रतिशत मतदान हो सका. 2017 में 67.8 फीसदी मतदान हुआ था.


योगी सरकार मंत्री और फायरब्रांड नेता संगीत सोम की सरधना सीट पर 62.30 प्रतिशत मतदान हो सका. 2017 में 71.8 फीसदी मतदान हुआ था. जेवर विधानसभा सीट पर 60.30 प्रतिशत मतदान हुआ. 2017 में 65.5 फीसदी मतदान हुआ था. जिस कैराना से गृहमंत्री अमित शाह ने हिंदुओ के पलायन का मुद्दा उठाया था और योगी ने उम्मीदवार की गर्मी निकालने की बात की थी, वहां 6 प्रतिशत मतदान बढ़ गया. वहां 75.12 प्रतिशत मतदान हुआ है. 2017 में 69.6 फीसदी मतदान हुआ था.


पहले चरण के मतदान का पैटर्न बताता है कि चुनाव को 80 फीसदी बनाम 20 फीसदी की लड़ाई में तब्दील करने का योगी आदित्यनाथ का फॉर्मूला नहीं चला. बीजेपी 20 प्रतिशत मुस्लिम वोटर्स को छोड़ कर बाकी 80 प्रतिशत हिन्दू वोटर्स को एकजुट करने पर ज़ोर दे रही थी. लेकिन वो इसमें नाकाम होती दिखी. वहीं अखिलेश यादव और जयंत की जोड़ी ने 20 प्रतिशत मुस्लिम वोटर्स को एकजुट रखा. ज्यादातर चुनाव विश्लषकों को इस जोड़ी की सोशल इंजीनियरिंग कामयाब होती दिख रही है. मुजफ्फरनगर में 41 प्रतिशत मुस्लिम आबादी के बावजूद ज़िले की 6 विधानसभा सीटों पर इस गठबंधन ने एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं उतारा. इसके बावजूद जाट-मुस्लिम समीकरण एकजुट नज़र आया. पहले चरण में ज्यादातर सीटों पर बीएसपी मुख्य मुकाबल से बाहर दिखी तो ओवैसी की पार्टी का मुस्लिम इलाक़ों में कोई खास असर होता नहीं दिखा. यहीं ट्रेंड दूसरे चरण में भी जारी रहने की उम्मीद जताई जा रही है.

सौजन्य से- theyoungadmin 

कालपी में छोटे सिंह चौहान को मिल रहा भरपूर समर्थन

जनसंपर्क के दौरान ग्रामीण दे रहे सहयोग का आश्वासन

कालपी (उरई/जालौन)। भाजपा-निषाद पार्टी के गठबंधन प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। जनसंपर्क अभियान के दौरान उन्हें भारी समर्थन भी मिल रहा है।

इसी क्रम में कालपी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत बाबई मंडल के छानी, पीपरी, हथना खुर्द, ऊद, मऊ, गधेला, पखुना, रिनिया, हीरापुर, जगनवा, हरीपुर, प्रतापपुरा, माहिया, ओरेखी, सहाब, शेखपुर बुजुर्ग, कुदारी अनेक ग्रामों में भ्रमण किया। गठबंधन प्रत्याशी छोटे सिंह चौहान ने समस्त ग्राम वासियों से निवेदन किया कि उनके चुनाव चिन्ह भोजन भरी थाली का बटन दबाकर भारी मतों से विजयी बनायें।

वहीं बाबई मंडल के ही सींगपुरा, माहिया खास, पर्वतपुरा, ऐदलपुरा, सिहारी पडेया, उरगांव, सारंगपुर, ऐदलपुर, दहगुवा, बाबई, कुसमरा, सूरजपूरा, हरदोई राजा, बिरहरा, पनहरा, गोकुलपुरा आदि अनेक ग्रामों में भ्रमण किया। हर जगह उन्हें फूल मालाओं से लाद दिया गया। लोगों ने उन्हें भारी मतों से विजयी बनाने का भरोसा दिलाया।

जनसंपर्क अभियान के दौरान सौरभ भूषण शर्मा विधानसभा प्रभारी, संजीव उपाध्याय क्षेत्रीय मंत्री, नवीन गुप्ता पूर्व जिला महामंत्री, भूपेंद्र सिंह बारा, देवेंद्र गुप्ता शक्ति केंद्र संयोजक, दिग्विजय सिंह पूर्व किसान मोर्चा महामंत्री, कोमल सिंह, भारत सिंह यादव, नकुल वर्मा आदि शामिल रहे।

प्रदेशीय नेतृत्व के लाडले मूलचन्द्र कटा सकते हैं भाजपा की नाक

संजय श्रीवास्तव- प्रधान सम्पादक

माधौगढ़ मे भाजपा को पड़ गया राम से काम, वही कर सकतें हैं अब नईया पार

मूलचन्द्र और उनकी शातिर चौकड़ी द्वारा जनता की उपेक्षा का हो सकता है घातक अंजाम

अपने कार्यकाल में मूलचन्द्र में हुए भेदभाव का पूरा हिसाब चुकता करने के मूड में है मतदाता

जनपद मे प्रशासन के सबसे प्रिय रहे मूलचन्द्र को खूब मिली वरीयता, मगर जनता भेज सकती है उन्हे हाशिए पर

निरंजनों का बहुमत भी कर रहा है मूलचन्द्र से किनारा

उरई(जालौन)। जनपद जालौन की तीन विधानसभाओं में सबसे ज्यादा रूतबा भाजपा के सत्ता काल मे माधौगढ के विधायक मूलचन्द्र निरंजन का रहा। वजह बडे़ नेताओं का आशीर्वाद उनके साथ था, जिस कारण पहली बार विधायक बने मूलचन्द्र सत्ता का सुख और अधिकारियों को अपने पीछे देख कर कुछ इस कदर मुग्ध रहे कि उन्हें वारे न्यारे करने के अलावा जनता की सेवा के दायित्व का कभी ख्याल ही नहीं आया।
पुराने राजा महाराजों का गढ़ और दस्यु राजों का प्रिय रहा माधौगढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता ने पिछले चुनाव मे मोदी लहर के चलते जब मूलचन्द्र को विजयश्री सौपीं तो आपे से बाहर हुए सत्ताधारी विधायक और उनकी चौकड़ी ने क्षेत्र का न सिर्फ दम से शोषण किया बल्कि भाजपा के आदर्श ईमानदारी और सेवा जैसे दावों की यहां खुल कर धज्जियां उड़ा दी। प्रान्तीय नेताओं की लटक बने मूलचन्द्र का अधिकांश समय राजधानी लखनऊ में बीतता था और अगर वो जिले मे आए तो डीएम और एसपी से ही चिपके दिखायी देते थे। सत्ता की ललक और उसकी ताकत का भरपूर दुरूपयोग करने वाले मूलचन्द्र ने अच्छे काम तो कम किए मगर अपने ही जनपद के लोगों का प्रशासन से उत्पीड़न कराने मे उन्होंने तीनों विधायकों में अव्वल स्थान प्राप्त किया। यहीं नहीं प्रदेशीय नेतृत्व के दम पर उन्होंने पुलिस के मामलों में जबरदस्त हस्ताक्षेप किया और तमाम प्रतिष्ठित और अच्छे लोगों के पुलिस का डंडा करवाने में वे नही चूके। यही वजह रही कि मूलचन्द्र शरीफ और प्रतिष्ठित लोगों के मन से उतर गए। वे सत्ता के मद में यह भी नही समझ पाए कि उनकी हरकतों के कारण विधानसभा क्षेत्र की जमीन उनके पैरों के नीचे से सरक गयी है। अब जब चुनाव का एलान हुआ तो सारे सत्ताधारियों के ताम झाम धर गए तो अभिमानी मूलचन्द्र काफी अकेले पड़ गए। क्योंकि खाने कमाने वाले स्वार्थी तत्व तो सत्ता जाते ही सबसे पहले भाग जाते हैं। ऐसी विपरीत स्थिति का सामना करने के लिये भी मूलचन्द्र मानसिक रूप से तैयार नहीं थे, क्योंकि उनके चापलूसों और खाउ कमाउ रिश्तेदारों ने उन्हें पूरा क्षेत्र “सॉलिड” करते रहने की झूठी डींगे हांक कर ऐसे अंधेरे मे रखा था कि जब चुनाव का उजाला हुआ तो जनता का बदला रूख देख कर मूलचन्द्र के तो मानो होश ही उड़ गए। मगर भाजपा के चन्द समर्थकों, रिश्तेदारों के दम पर जब वे दोबारा जीतने के लिये क्षेत्र में गए तो जनता के कड़े “रिएक्शन” का उन्हें सामना करना पड़ा। चुनाव प्रचार की बोहनी ही इतनी खराब हुई कि मूलचन्द्र की इस चुनावी पिच पर लाइन लेन्थ ही बिगड़ गयी और वह बुरी तरह घबरा गए। पूर्व विधायक ने चुनावी “महाभारत” में अपने को दिग्गज महारथियों से घिरा पाया। वास्तविकता यह है कि अब इस जंग में मूलचन्द्र से काफी ज्यादा तवज्जो वोटर बसपा प्रत्याशी शीतल कुशवाहा और सपा प्रत्याशी ठा.राघवेन्द्र प्रताप सिंह को खुलेआम दे रहा है। दूसरी बात यह कि अपनी उपेक्षा के चलते मूलचन्द्र का सजातीय कुर्मी वोट भी बहुमत में उनके साथ नहीं दिखता। वास्तविकता तो यह है कि इस ठाकुर बाहुल्य विधानसभा में ठाकुरों का इन्हें तो आंशिक वोट ही मिल पाएगा वह भी ठाकुरों में सबसे लोकप्रिय हो चुके भाजपा के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बल पर। मुख्य मुकाबला यहां त्रिकोणीय होने के आसार नजर आ रहे हैं, जिनमें सपा बसपा के मुकाबले मूलचन्द्र (फिसडृडी) माने जा रहे हैं।

कहने का मतलब यह है कि सेवा के इस क्षेत्र मे सत्ता का मद पाकर अगर कोई जन प्रतिनिधि सरकारी ठाठ बाट से मदांध हो जाता है तो लोकतंत्र के पर्व, यानी कि चुनाव में जनता उसकी दुर्दशा भी कर देती है। यह सबक भी मूलचन्द्र की दशा को देख कर अन्य नेता गणों को भी लेना चाहिये, क्योंकि अब भाजपा का बेड़ा जो भवर मे फंसा है, राम नाम जपने से ही हो सकता है पार।

संजय श्रीवास्तव-प्रधान सम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

बहकावे में न आएं, बसपा को करें वोट: डॉ शकील

बसपा प्रत्याशी की जनसभा में उमड़ा जनसैलाब

बिजनौर। राम लीला ग्राउन्ड चाँदपुर में विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए बसपा प्रत्याशी डॉ शकील ने कहा कि जनता किसी बहकावे में न आये और बहुजन समाज पार्टी को वोट करें।


जनसभा को उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री धनीराम, इफतखार कुरैशी, याहया सैफी, भूपेन्द्र सिह, सदाकत अंसारी, महेन्द्र सिह, डा. अरशद जैदी, मुनीश भारती, अकील अंसारी आदि के अतिरिक्त बसपा प्रत्याशी शकील हाशमी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आप लोग बहकाने न आएं और बसपा को वोट करें।

वक्ताओं ने मायावती की सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि प्रदेश का विकास केवल बसपा की सरकार में ही हो सकता है। बसपा के शासन में हर वर्ग का व्यक्ति खुश रहता है।

शिवपाल की करीबी फातिमा को बीएसपी का टिकट

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी ने गाजीपुर जिले की जहूराबाद सीट से सपा की बागी शादाब फातिमा को उम्मीदवार व प्रभारी विधानसभा घोषित किया है।

यह जानकारी बसपा के गाजीपुर जिले के अध्यक्ष अजय कुमार भारती ने ट्विट कर दी है। उन्होंने लिखा है कि बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती से शादाब फातिमा ने शुक्रवार को मुलाकात की। पूर्व मंत्री शादाब फातिमा ने समाजवादी पार्टी छोड़कर बसपा की सदस्यता ग्रहण कर ली है। मायावती ने उन्हें जहूराबाद विधानसभा से प्रभारी- उम्मीदवार बनाया है।

अखिलेश सरकार में मंत्री रहीं शादाब फातिमा ने वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में जहूराबाद सीट पर ही ओम प्रकाश राजभर को हराया था। शिवपाल सिंह यादव की करीबी मानी जाने वाली शादाब फातिमा ने अखिलेश और शिवपाल के बीच हुए विवाद में शिवपाल का साथ दिया था। मगर इस बार अखिलेश ने शिवपाल के अलावा उनके किसी अन्य सहयोगी को टिकट नहीं दिया। इस वजह से पहले शादाब फातिमा के निर्दलीय चुनाव लड़ने की चर्चा चल रही थी। मगर9 बसपा ने उन्हें जहूराबाद सीट से उम्मीदवार घोषित कर दिया।

बसपा प्रत्याशी की अपने ही गांव में हो रही छीछालेदर

बसपा प्रत्याशी इजी. बृजपाल से लोग कर रहे सवाल….

नोएडा में रहने वाले बसपा प्रत्याशी अपने गांव की नहीं लेते खबर तो क्षेत्र की क्या लेंगे? खुद उनके गांव की सड़कें बनी हुई हैं तालाब। उनके लुभावने वादों पर भरोसे के लिए तैयार नहीं है मतदाता।

बिजनौर। बहुजन समाज पार्टी ने नगीना सुरक्षित सीट पर इस बार नोएडा में रहने वाले इंजीनियर बृजपाल सिंह को प्रत्याशी बनाकर चुनाव मैदान में उतारा है। बसपा प्रत्याशी विधानसभा क्षेत्र के ही ग्राम कड़कपुर उर्फ लकड़ा के रहने वाले हैं। वह अपने गांव में कभी कभार ही आते हैं। यही कारण है कि मतदाता उन के बड़े-बड़े चुनावी वादों पर विश्वास करने के लिए तैयार होते दिखाई नहीं दे रहे हैं।

प्रत्याशी के गांव की सड़कें हुईं तालाब में तब्दील
बसपा प्रत्याशी के गांव की सड़कें तालाब में तब्दील हो चुकी हैं। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि जिस प्रत्याशी के गांव की ये हालत है, वह पूरे क्षेत्र का विकास करा पाएगा, इसमें उन्हे संदेह है। बसपा प्रत्याशी गांव गांव जाकर लोगों से विकास के बड़े बड़े वादे कर रहे हैं, जबकि ग्रामीणों का कहना है कि चुनाव के दौरान वादों का खेल जो एक राजनेता मतदाताओं के सामने खेलता है, वही खेल बसपा प्रत्याशी अपने गांव के लोगों के साथ खेल रहे हैं। बसपा प्रत्याशी के गांव के ही कुछ लोगों का कहना है कि इंजी. साहब जब यहां से सुबह सुबह अपने काफिले के साथ बड़ी-बड़ी गाड़ियों के काफिले को लेकर निकलते हैं तो अपने ही गांव के एक छोर पर मुख्य सडक पर गुजरते समय साइड में चल रहे बच्चों, बुजर्गों, माताओं, बहनों को भी नहीं देखते और गाड़ी के टायरों से सड़क में भरे गंदे पानी को उन पर उछाल कर चले जाते हैं। इस सड़क की हालत इस कदर खराब है कि उसमें जहरीले सांप व अन्य जहरीले कीड़े पलते रहते हैं। अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए गांव के लोग इस जहरीले कीड़ों को मारने में लगे रहते हैं। सड़क न हो मानो गंदगी का तालाब हो।

विधायक बनूंगा, तो सड़क की सोचूंगा- बसपा प्रत्याशी के जनता से किए वादों की बात करें तो शिक्षा को लेकर वह मंझे हुए राजनेता की तरह बात करते हैं। बताया जाता है कि ग्रामीणों ने बसपा प्रत्याशी से मिलकर उनके सामने एक सड़क की समस्या का प्रस्ताव रखा। लोगों ने कहा कि आप हर सभा व रैली में लाखों रुपए खर्च करते हो, क्या इस सड़क से अपनी ही गाड़ियों को निकालने के लिए ठीक नहीं करा सकते, यह सड़क बनवा दीजिए। इस पर बसपा प्रत्याशी इंजीनियर बृजपाल सिंह ने जवाब दिया कि जब मैं विधायक बन जाऊंगा, तब इस गांव सड़क के बारे में कुछ सोच लूंगा। इसी बात से नाराज हुए ग्रामीणों ने मीडियाकर्मियों को बताया कि नेता जी अपने ही गांव के लोगों की कोई खबर नहीं लेते। गांव व क्षेत्र की सड़के खराब हैं, जिनसे होकर मासूम बच्चों, छात्राओं, बुजुर्गों व महिलाओं का आना जाना लगा रहता है। बार-बार ध्यान दिलाने के बाद भी उनकी अपने गांव के विकास में कोई रुचि नहीं है। फिर भी बसपा प्रत्याशी बन कर क्षेत्र के विकास करने का दावा कर रहे हैं। ग्रामीण उनसे सवाल कर रहे हैं कि जो
व्यक्ति अपने ही गांव का विकास नहीं करा सकता, वह क्षेत्र का क्या विकास करेगा। ग्रामीणों का कहना है कि बसपा प्रत्याशी बृजपाल सिंह क्षेत्र के लोगों को विकास की बात कर सब्जबाग दिखा रहे हैं और क्षेत्र के लोगों को धोखा देने में लगे हैं। गुस्साए ग्रामीणों ने मीडिया कर्मियों को सड़क की हालत दिखाते हुए उनसे अपनी इस समस्या का समाधान कराने की मांग की।

तुम तो ठहरे परदेसी- ग्रामीणों का कहना है कि बृजपाल का एक घर तो नोएडा सेक्टर 62 में भी मौजूद है और एक हॉस्टल भी नोएडा में ही है। इंजीनियर साहब तो विधायक बनने के बाद अपने नोएडा वाले घर में शिफ्ट हो जाएंगे और गांव ज्यों का त्यों ही रह जाएगा। सभी ग्रामीण बार बार एक ही बात को दोहरा रहे हैं कि जो अपने गांव का ही विकास नहीं करवा पाये वह क्षेत्र का क्या विकास करेंगे।

विजय अभियान पर हर वर्ग को साथ लेकर निकले डॉ. शकील हाशमी

बिजनौर। चांदपुर के राजनीतिक इतिहास की अब तक की सबसे ऐतिहासिक मीटिंग मोहल्ला मिर्दगान में इमामबाड़ा पर आयोजित की गई। बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ. शकील हाशमी भी इस मीटिंग को देखकर भावुक हो उठे और उनकी आंखें नम हो गईं। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि चांदपुर शहर के मुस्लिम समाज के इस ऐतिहासिक जनसैलाब को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो पूरा जिला बिजनौर मोहल्ला इमामबाड़ा अनसारयान में एकत्रित हो गया हो।

जैसे-जैसे दूसरे चरण का चुनाव नजदीक आता जा रहा है। वैसे वैसे चुनावी जनसभाएं भी तेजी से हो रहीं हैं। ऐसे में चांदपुर की सीट पर मुकाबला एक दिलचस्प मोड़ पर आ खड़ा हुआ है। चांदपुर सीट पर भारतीय जनता पार्टी की मौजूदा विधायक कमलेश सैनी प्रत्याशी हैं तो दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ, शकील हाशमी हैं। बताया गया है कि बसपा प्रत्याशी के साथ दलित वोटर के साथ-साथ मुस्लिम वोटर भी एक चट्टान की तरह खड़ा है। जो हरदम डॉ. शकील हाशमी के साथ कंधे से कंधा मिला कर साथ दे रहा है।

इस बात का एहसास चांदपुर के लोगों को उस वक्त हुआ जब गुरूवार को चांदपुर के राजनीतिक स्थान, जहां पर प्रत्याशियों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी रहती है। वह स्थान जहां पर इलेक्शन का रुख मोड़ दिया जाता है। उस स्थान पर मुस्लिम समाज का जनसैलाब डॉ शकील हाशमी के लिए एक साथ एक होकर उमड़ पड़ा।

चांदपुर में अब चुनाव उस मोड़ पर आकर खड़ा हो गया है, जहां पर दो ही प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला होता दिखाई रहा है।

राजनीति के जानकर कहते हैं; यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि चांदपुर सीट किसके कब्जे में जाती है परंतु जिस तरह से मुस्लिम समाज की हर बिरादरी का समर्थन बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी को मिल रहा है तो ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार सीट बसपा के खाते में जाना तय है।

चिकित्सकों ने डॉ. शकील को दिये ₹ पांच लाख- विधानसभा क्षेत्र के चिकित्सकों ने हमपेशा डॉ. शकील को चुनाव के लिए ₹ पांच लाख भेंट स्वरूप दिये। बसपा प्रत्याशी ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए हर वक़्त उनका साथ निभाने का वायदा किया।

बिना भय, लालच के अपना मतदान कर लोकतंत्र को मजबूत बनाएं: जय सिंह

गीत संगीत के माध्यम से जगह जगह मतदान के लिए दिया गया संदेश

लखनऊ। प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से चार दिवसीय मतदाता जागरूकता अभियान के तहत गुरुवार को राजधानी के विभिन्न स्थानों पर मतदाता जागरूकता के तहत गीत के माध्यम से मतदान की विशेषता को बताया गया।

दर्शकों को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी जय सिंह ने बताया कि इस जागरूकता अभियान के तहत लखनऊ शहर में जागरूकता प्रचार वाहन घूम घूम कर लोगों को आडियो के माध्यम से मतदान जनजागरूकता संदेश दिया जा रहा है। साथ ही साथ गीत संगीत व पंपलेट, स्टिकर वितरित करके उनको मतदान करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

लखनऊ के विभिन्न भीड़भाड़ वाली जगहों पर विभाग के पंजीकृत सांस्कृतिक दल द्वारा नाटक, गीत के माध्यम से संदेश दिया जा रहा है। प्रचार अभियान के दूसरे दिन हजरतगंज, कचहरी, चारबाग, लखनऊ विश्वविद्यालय, बर्लिंगटन चौराहा, गंज चौराहा, गोल चौराहा, महानगर इत्यादि जगहों पर जागरूकता अभियान चलाया गया।

बसपा राज में थे सब सुखी: जगदीश रावत

मलिहाबाद,लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने जनपद लखनऊ की 168 मलिहाबाद विधानसभा सीट से बसपा से जगदीश रावत को चुनाव मैदान में उतारा है। जगदीश रावत अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र में लगातार डोर-टू-डोर प्रचार अभियान चलाकर मतदाताओं से वोट देने की अपील कर रहे हैं।

इसी कड़ी में गुरुवार को जगदीश रावत ने अपने क्षेत्र नई बस्ती, पहाड़पुर, बहरू, जमोलिया, संतनगर, अटौरा, दतली सहित दर्जनों गांवों में डोर-टू-डोर प्रचार करने के लिए समर्थकों के साथ बसपा को जिताने के लिए वोटरों से अपील की। प्रचार के दौरान जगदीश रावत ने पत्रकारों को बताया कि जब बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी तो कानून व्यवस्था एकदम स्वस्थ दुरुस्त रहती थी।

सरकारी कार्यालयों में अधिकारी कर्मचारी समय से पहुंचकर आम जनता का काम करते थे। रिश्वतखोरी पूरी तरह से बंद थी। स्वास्थ्य सेवाओं में गुणवत्ता थी। काफी संख्या में बेरोजगार को रोजगार दिया गया और रिक्त पड़े पदों पर भर्तियां की गई थी।

किसानों को बिजली पानी खाद की कोई समस्या नहीं रहती थी, लेकिन इस सरकार में आम जनता परेशान है। बसपा की सरकार बनते ही पूरे उत्तर प्रदेश में खुशहाली ही खुशहाली होगी और मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र में भरपूर विकास होगा। इसलिए क्षेत्र के वोटरों से अपील है कि बहुजन समाज पार्टी को वोट देकर मायावती को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाएं।

पूर्व विधायक इन्दल कुमार रावत के जनसंपर्क अभियान में आई तेजी

यूपी के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के उन्नति पत्र की खूबी बताई

मलिहाबाद,लखनऊ। कांग्रेस पार्टी के मलिहाबाद विधानसभा प्रत्याशी व पूर्व विधायक इन्दल रावत ने क्षेत्र के ईशापुर, गोसवा, दिलावर नगर, चंदी खेड़ा, मधवापुर सहित दर्जनों गांवों में जनसम्पर्क कर कांग्रेस पार्टी को जिताने की अपील की।

इन्दल कुमार रावत ने जनसंपर्क के दौरान बताया कि कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी के लिए उन्नति पत्र जारी किया है। कांग्रेस पार्टी की सरकार बनते ही किसानों का क़र्ज़ माफ़ व बिजली बिल हाफ़, कोरोना काल का बकाया साफ़ किया जाएगा।


किसानों कसे गन्ना 400 रुपये प्रति कुंटल, गेहूं व धान 2500 रुपये प्रति कुंटल के दाम से खरीदा जाएगा। छत्राओं को स्मार्ट फ़ोन और स्कूटी दी जाएगी। हर वर्ष 3 गैस सिलेंडर मुफ़्त व महिलाओं को मुफ़्त बस यात्रा के साथ आशा व आंगनबाड़ी बहनों को 10 हजार रुपए व रसोईया का मानदेय 5000 रुपये प्रतिमाह दिया जाएगा।

विधवा व वृद्धा पेंशन 500 से बढ़ाकर 1000 रुपये की जाएगी। किसानों को आवारा पशुओं से फसल नुक़सान की भरपाई प्रति एकड़ 3000 रुपये मुआवज़ा के रूप में दिया जाएगा। सफ़ाई कर्मियों को नियमित किया जाएगा।

ग्राम प्रधानों का वेतन 6000 रुपये प्रतिमाह होगा। चौकीदारों का वेतन भी 5000 रुपये प्रतिमाह किया जायेगा। स्वास्थ्य सेवाओं के बजट में 5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी होगी।


शिक्षकों के 2 लाख खाली पदों को भरा जाएगा। अनुसूचित जाति के छात्रों व अनुसूचित जनजाति के छात्रों को केजी से पीजी तक मुफ़्त शिक्षा उपलब्ध कराई जाएगी। दिव्यांग पेंशन ₹ 500 से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रतिमाह की जाएगी। ग्रामीण क्षेत्र की जनता ने कांग्रेस के उन्नति पत्र की सराहना करते हुए इन्दल कुमार रावत को वोट देकर विधायक बनाने की बात कही।

ठगबंधन नहीं; मुझे बनाएं कामयाब: डॉ शकील

बिजनौर। चाँदपुर नगर के मोहल्ला पतियापाडा में बसपा प्रत्याशी डाक्टर शकील हाशमी के समर्थन में एक विशाल जनसभा का आयोजन किया गया। सभा को सम्बोधित करते हुए डाक्टर शकील हाशमी ने कहा कि ठग बन्धन के प्रत्याशी के कारनामों को आप लोग पहले ही देख चुके हैं। आप लोगों के पास मौका है। मुझे आप अधिक से अधिक मत देकर कामयाब बनाएं, जिससे मैं आप लोगों की लडाई लड सकूं।

मदतान हमारा अधिकार, इसकी महत्ता को समझें और वोट करें

चुनावी महापर्व में खुद भी वोट करें और दूसरों को भी मतदान करने के लिए करें प्रेरित

रिजवान सिद्दीकी

देश के पांच राज्यों में चुनावी महासंग्राम छिड़ा हुआ है। जनपद बिजनौर में 14 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए आमजन कितना जागरूक है, आइए जानते हैं मतदाता से इसकी महत्ता…

मतदान कर अच्छा प्रतिनिधि चुनने का दायित्व निभाएं : सूरज सिंह

ग्राम धर्मपुरा के प्रधान सूरज सिंह ने कहा; हमारा देश लोकतांत्रिक देश है।इसमें सभी को अपने मत का प्रयोग करने का अधिकार दिया गया है। मतदाता लोकसभा, विधानसभा, नगर पंचायत, ग्राम पंचायत आदि चुनाव में अपने मत का इस्तेमाल करता है और एक अच्छा प्रतिनिधि चुनने का दायित्व निभाता है। मतदान करने के लिए सरकार को हर बार जागरूकता अभियान चलाना पड़ता है। वोट को बेकार ना समझेंओर अपने मताधिकार का प्रयोग जरूर करें।

मतदान सरकार के लिए नहीं, अपने लिए जरूरी: डॉ0 अरशद जैदी

नगर के मोहल्ला सादात निवासी डॉ0 अरशद जैदी का कहना है कि देखा जाए तो, मतदान में इतनी शक्ति होती है कि वह जिसको चाहे उसको ताज पहना देता है। इसीलिए मतदान केवल सरकार के लिए ही नहीं होता है बल्कि आम नागरिक के लिए भी बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

मतदान से अच्छा प्रतिनिधि मिलने की आस: एहसान इदरीसी

समाजसेवी एहसान इदरीसी ने कहा कि देश में सरकार चुनने के लिए आम नागरिक को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। इसीलिए आम नागरिक को भी अपने कर्तव्य को समझते हुए मताधिकार का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। वोट से एक अच्छा प्रतिनिधि मिलने की आस रहती है।

भारत में हर नागरिक के वोट का महत्व सर्वोपरि: मा0 गिरिराज सिंह

पूर्व माध्यमिक शिक्षक संघ अध्यक्ष एवं वरिष्ठ नागरिक सेवा समिति संरक्षक मास्टर गिरिराज सिंह ने कहा कि भारत में हर नागरिक को सबसे सर्वोपरि माना जाता है क्योंकि जो ताकत जनता के पास होती है, वह ताकत सरकार के पास भी नहीं होती है। इसीलिए आम नागरिक को यह अंदाजा होना चाहिए कि मतदान कितना जरूरी है।

मतदान के प्रति जागरूक होना जरूरी: नाइल हाशमी

समाजसेवी नाइल हाशमी ने कहा कि गांव हो या शहर हो, हर नागरिक को 0मतदान के प्रति जागरूक होना चाहिए। अपने मताधिकार के लिए अगर ऐसा नहीं करते हैं तो उनकी प्रगति में रुकावट आती है।

जांच पड़ताल कर प्रतिनिधि चुनने को करें मतदान: रियासत हुसैन

युवा समाजसेवी रियासत हुसैन ने कहा कि आम जनता सरकार को वोट देना चाहती है, तो वह इस असमंजस में रहती है कि हमारे लिए कौन सा प्रतिनिधित्व सही है? कौन प्रतिनिधित्व हमारे देश में विकास कर सकता है या कौन सा भ्रष्टाचारी हो सकता है। अगर आप भी इस विषय में असमंजस में पड़ जाते हैं, तो जांच पड़ताल कर अच्छा जनप्रतिनिधि चुनने के लिए वोट जरूर करे !

पर्व के रूप में उत्साहित होकर करें मतदान: राजकुमार अग्रवाल

व्यापारी राजकुमार अग्रवाल ने कहा कि जब प्रत्येक नागरिक 18 वर्ष की आयु पूरी कर लेता है, तब हमें मतदान करने का मौका मिलता है। यह मौका हमें पूरे जीवन मिलता है, लेकिन इस मौके का अवसर हमें किसी ना किसी चुनाव के रूप में मिलता है। हमें अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करना चाहिए; यह मौका छोड़ना नहीं चाहिए बल्कि एक पर्व के रूप में उत्साहित होते हुए अपने कीमती मत का प्रयोग करें।

अपने वोट का महत्व समझ कर करें मतदान: शहजादा

युवा नेता रागिब हुसैन उर्फ शहजादा ने कहा कि वोट देना हमारा हक है। इस हक का हमें फायदा उठाना चाहिए, अपने वोट के महत्व को समझे व मतदान वाले दिन वोट जरूर करें।

जनता की ताकत उसका मत: सलीम अंसारी

मोहल्ला बंबा निवासी मो0 सलीम अंसारी ने कहा कि जनता की ताकत का एहसास उसके वोट से ही होता है। लोकतंत्र में विश्वास जागृत रखते हुए चुनावी महापर्व में खुद भी वोट करें और दूसरों को भी वोट डालने के लिए प्रेरित करें तभी हम एक अच्छा नागरिक कहलाने के हकदार हैं।

मतदान कर देश हित की सरकार बनाएं: मा0 सत्येंद्र

सभासद मास्टर सत्येंद्र का कहना है कि जितनी ताकत सरकार के पास नहीं होती है, उससे कहीं अधिक ताकत जनता के पास होती है क्योंकि अगर जनता मतदान नहीं करेगी तो सरकार नहीं बन पाएगी। मतदान की पहल करते हुए एक अच्छा प्रतिनिधि चुनकर देश हित की सरकार बनाएं।

देश की जनता खुशनसीब वोट का अधिकार मिला: अख्तर मलिक

मेडिकल स्वामी अख्तर मलिक का कहना है कि हमारा देश लोकतांत्रिक देश है और हम बहुत खुशनसीब लोग हैं कि हमें वोट देने का अधिकार मिला है। अपनी सरकार खुद चुनने का अधिकार दिया गया है। वोट जरूर करें आपका वोट एक अच्छी सरकार चुनने में सहायक सिद्ध हो सकता है।

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने दिया भाजपा को समर्थन

भारतीय जनता पार्टी को समर्थन पत्र। निश्चित रूप से भाजपा के संकल्प पत्र के लागू होने पर किसानों की आमदनी दोगुनी हो जायेगी।

लखनऊ। बुधवार को राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन की हाईपावर कमेटी के निर्णय को बताते हुए अध्यक्ष रामनिवास यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का संकल्प पत्र, समाजवादी पार्टी का वचन पत्र, कांग्रेस पार्टी का उन्नति विधान पत्र तीनों के घोषणा पत्रों की जब हाई पावर कमेटी ने तुलनात्मक अध्ययन किया तो सपा कांग्रेस का घोषणा पत्र किसानों के साथ छलावा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि जब कांग्रेस की सरकार थी तो सबसे ज्यादा दुर्दशा किसानों की थी, जिसमें प्रतिवर्ष हजारों किसान आत्महत्या को मजबूर होते थे। किसान खेती का काम छोड़कर मजदूरी करने लगा था क्योकि किसानों को न समय से खाद मिलती थी न ही पानी। उल्टे अपने फायदों के लिए किसानों की जमीनों का जबरदस्ती अधिग्रहण कर लेते थे सालों मुआवजा भी नही दिया जाता था। कई बार जब किसान विरोध करते थे उनपर गोलियां चलाई गयी। यही हाल अखिलेश की सरकार में था। इनके पार्टी के कार्यकर्ता ही किसानों की जमीनों पर जबरदस्ती कब्जा कर लेते थे। किसान जब शिकायत करता था तो उल्टे उस पर ही पुलिस द्वारा दबाव बनाकर जमीन औने-पौने दामों पर बेचने को मजबूर किया जाता था। यही कारण है कि भाजपा सरकार के पिछले कार्यकाल एवं संकल्प पत्र में की गयी नयी घोषणाओं को देखते हुए आगामी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को पाँचों प्रदेशों में समर्थन देने का एलान किया है और कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने अच्छी कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार मुक्त शासन दिया है और किसानों के हितों को ध्यान में रख कर जो संकल्प पत्र जारी किया। वह देश एवं प्रदेश के किसानों का काफी फायदा देने वाला है जिस प्रकार से किसानों को सिचाई हेतु मुफ्त बिजली देने के साथ ही गन्ना किसानों के भुगतान को 14 दिनों में करने एवं समय से भुगतान न होने पर ब्याज देने की घोषणा की है, जिससे लाखों गन्ना किसानों को काफी लाभ होगा यह स्वागत योग्य निर्णय है।

अगले पाँच वर्षों में एम.एस.पी. पर लगातार बढोत्तरी कर रिकार्ड फसल खरीदने की भी घोषणा की एवं किसान सम्मान निधि दोगुना करने का आश्वासव, साल में दो बार गरीब किसान परिवारों को गैस सिलेंडर मुफ्त देने, असहाय, गरीब एवं बुजुर्ग किसानों को 1500रू प्रतिमाह पेंशन देने। इसके साथ ही सभी किसानों को आयुष्मान भारत योजना में 5लाख तक स्वास्थ लाभ देना। चार हजार नये एफ.पी.ओ. गठित कर अठ्ठारह लाख तक वित्तीय मदद करना, उत्तर प्रदेश में 6मैगा फूड पार्क बनाना, किसानों को सस्ती दर पर खाद उपलब्ध कराना, गरीब किसानों को पक्का आवास देना, गरीब किसान की बेटी की शादी में एक लाख रूपया अनुदान देना। पच्चीस हजार करोड़ से सरकार बल्लभ भाई पटेल कृषि इन्फ्राइंस्ट्रक्चर बनाना, जिसमें कोल्ड चेन, गोदाम, फूड प्रोसिसिंग सेन्टर का निर्माण कर किसानों की फसलों को बर्बादी से रोकने एवं उचित मूल्य दिलाने का निर्मय, एक हजार करोड़ का भामा शाह कोष बनाकर किसानों की फसलों को दैवीय आपदा से होने वाले नुकसान से बचाना, पच्चीस हजार करोड़ से गन्ना मिलों का नवीनीकरण एवं नई चीनी मिलों का निर्माण करना, एक हजार करोड़ की लागत से दुग्ध उत्पादन को बढावा देने के लिए “नन्द बाबा यादव दुग्ध मिशन” के अन्तर्गत गांव में ही दूध खरीदने की व्यवस्था करना एवं मछुवारा समाज के लिए “निषाद राज बोट सब्सिडी योजना” का आरम्भ करना, जिसमें नाव खरीदने पर 40% सब्सिडी देने एवं 6 अल्ट्रा माँडल मत्स्य मंडी स्थापित करना। निश्चित रूप से भाजपा के संकल्प पत्र के लागू होने पर किसानों की आमदनी दोगुनी हो जायेगी।

ब्राह्मण समाज ने दिया अंजनी श्रीवास्तव को वोट व सपोर्ट का भरोसा

लखनऊ। भाजपा ने लखनऊ पश्चिम से अंजनी श्रीवास्तव को विधानसभा प्रत्याशी बनाया गया है। लखनऊ पश्चिम में भाजपा प्रत्याशी की स्थिति मजबूत दिखाई दे रही है। भाजपा का प्रचार प्रसार जोरों से चल रहा है। 

प्रचार प्रसार के इसी क्रम में लखनऊ पश्चिम में अंजनी श्रीवास्तव ने राजाजीपुरम के हरीदीन रॉय नगर वार्ड का भ्रमण कर ब्राह्मण समाज के लोगों से मुलाकात की। ब्राह्मण समाज के गणमान्यों ने भाजपा प्रत्याशी अंजनी श्रीवास्तव का माल्यार्पण कर स्वागत किया। ब्राह्मण समाज के गणमान्यों ने अपने वक्तव्यों में श्रीवास्तव को पूर्ण समर्थन दिया और सभी से भाजपा प्रत्याशी को समर्थन कर जिताने की अपील की। साथ ही क्षेत्र में जाकर अंजनी श्रीवास्तव के समर्थन में प्रचार प्रसार किया। कार्यक्रम का आयोजन भाजपा कार्यकर्ता अनूप शुक्ला के निवास पर हुआ। इस अवसर पर भाजपा ब्राम्हण परिवार से आलोक तिवारी, सौरभ शुक्ला, डॉ कुलभूषण शुक्ल,आलोक पांडे   सहित विभिन्न ब्राम्हण संगठनों के पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।

तन-मन-धन से लड़ा रहे डॉ शकील का चुनाव

बिजनौर। चाँदपुर विधानसभा क्षेत्र में बसपा प्रत्याशी डॉ शकील हाशमी का चुनाव प्रचार जोर पकड़ चुका है। जगह जगह जनसंपर्क के दौरान लोग उन्हें हाथों हाथ ले रहे हैं। यही नहीं उन्हें तन-मन-धन से चुनाव लड़ाने का यकीन भी दिला रहे हैं।

ग्राम शेख पुरा मडयो में उनके समर्थन में जन सैलाब उमड़ पड़ा। यहां मोहसिन ठेकेदार के निवास पर एक चुनावी सभा हुई। इस दौरान सभी गाँव वालों ने उनका स्वागत फूल मालाओं से किया। साथ ही उन्हें यकीन दिलाया कि पूरा गांव तन मन धन से उनके साथ खडा है। इस अवसर पर बसपा प्रत्याशी डॉ शकील हाश्मी ने कहा कि यह ग्राम शेख पुरा मडयो चाँदपुर क्षेत्र की अर्थिक राजधानी के नाम से जाना जाता है। उन्होंने गांव वालों का शुक्रिया अदा करते हुए बसपा को वोट देने की अपील की। इससे पूर्व गांव में घर घर पर शकील हाश्मी का स्वागत किया गया। इस अवसर पर असलम ठेकेदार ने पचास हजार व मोहसिन ठेकेदार ने एक लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की।

माफिया, गुंडे मांग रहे जान की भीख: योगी

बिजनौर। सोमवार को वर्धमान कालेज में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैं महात्मा विदुर की धरती पर सभी का स्वागत करता हूं। आप सब जानते है कि बिजनौर जनपद यूपी का महत्वपूर्ण जनपद है। महात्मा विदुर के जिले में राजकीय मेडिकल कालेज बन रहा है। इसके लिए मैं अपनी शुभकामनाएं देता हूं। पांच साल तक डबल इंजन की सरकार को देखा है, यूपी में हर सुविधा डबल और ट्रिपल तरीके से जनता को दी है। पांच साल पहले पश्चिमी यूपी की हालत क्या होती थी, दंगा, कफर्यू और पलायन यहां की नियति बन चुकी थी। यहां दंगा होता था, हर दंगे के साथ महीनों तक चलने वाला कर्फ्यू लगता था और कर्फ्यू के कारण व्यापारी और आम जनजीवन त्रस्त होता था। बेटी की सुरक्षा खतरे में होती थी, कोई महिला बाजार नहीं जा सकती थी। व्यापारी पलायन कर रहा था, गुंडागर्दी चरम पर थी। पांच साल में कोई दूंगा यूपी में नहीं हुआ। अब माफिया और अपराधी गले में तख्ती लटकाकर थाने में भीख मांगते घूम रहे हैं। सत्ता बदलते ही अपराधी और माफिया को कहते सुना होगा, जान बख्श दो, मैं ठेला चलाकर पेट भर लूंगा, लेकिन अपराध नहीं करूंगा। ये काम सपा और बसपा की सरकार नहीं कर सकती थी। पांच साल पहले सड़के नहीं बनती थी, राहगीरों के साथ लूट होती थी। लोग परेशान थे, लेकिन पांच साल के दौरान भाजपा की डबल इंजन की सरकार ने इस नर्क से मुक्ति दिलाकर एक बार फिर से विकास, सुशासन की नींव डालकर हर चेहरे पर खुशहाली लाने का कार्य किया है।

मतदान दिवस: 48 घण्टे पहले से बंद हो जाएंगी शराब की दुकानें


मतदान दिवस पर 48 घण्टे पूर्व से लेकर मतदान की समाप्ति तक तथा मतगणना के दिन बिजनौर की समस्त विधानसभा क्षेत्रों की समस्त देशी मदिरा, विदेशी मदिरा, बीयर, भांग की फुटकर दुकानें, मॉडल शॉप्स, बार एवं सी0 एल0-2, एफ0 एल0-2, एफ0 एल0-2बी अनुज्ञापन रहेंगे बन्द-जिला मजिस्ट्रेट उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिला मजिस्ट्रेट उमेश मिश्रा ने अपर मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश शासन आबकारी अनुभाग-2 लखनऊ तथा मुख्य निर्वाचन अधिकारी उ0 प्र0 के निर्देशों के अनुपालन में जानकारी देते हुए बताया कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 को स्वतंत्र, निष्पक्ष, शान्तिपूर्ण और निर्विघ्न निर्वाचनों के संचालन हेतु मतदान समाप्त होने से 48 घण्टे पूर्व से लेकर मतदान की समाप्ति तक, मतगणना के दिन तथा यदि आवश्यक हुआ तो पुनर्मतदान के दिन को शराब की बिक्री पर रोक से सम्बन्धित कानून के अधीन मद्यनिषेध दिवस घोषित किये जाने के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि जिला बिजनौर में द्वितीय चरण में मतदान 14 फरवरी,2022 एवं मतगणना 10 मार्च,2022 को नियत की गयी है।
जिला मजिस्ट्रेट श्री मिश्रा द्वारा आबकारी अधिनियम की धारा 59 मे अन्तर्गत प्रदत्त अधिकारों प्रयोग करते हुए जिला बिजनौर में विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के दौरान लोक शान्ति बनाये रखने के उद्देश्य से एतद्द्वारा आदेशित किया गया है कि जिला बिजनौर की समस्त विधानसभा क्षेत्रों की समस्त देशी मदिरा, विदेशी मदिरा, बीयर, भांग की फुटकर दुकानें, मॉडल शॉप्स, बार एवं सी0 एल0-2, एफ0 एल0-2, एफ0 एल0-2बी अनुज्ञापन द्वितीय चरण के मतदान दिवस 14फरवरी, 2022 के 48 घण्टे पूर्व से लेकर मतदान समाप्ति तक अर्थात 12 फरवरी,2022 के सायंकाल 6ः00 बजे से 14 फरवरी,2022 को मतदान समाप्ति तक पूर्णतया बन्द रहेंगे तथा पड़ोसी राज्यों से भी समन्वय स्थापित कर मतदान के दिन 08 कि0मी० की परिधि में स्थित समस्त देशी मदिरा, विदेशी मदिरा, बीयर, भांग की फुटकर दुकानें, मॉडल शॉप्स, बार एवं सी० एल०-2, एफ0 एल0-2, एफ0 एल0-2बी अनुज्ञापन पूर्णतया बन्द रहेंगे।
उन्होंने यह भी बताया कि इसके अतिरिक्त 10 फरवरी,2022 को जिला मेरठ एवं मुजफ्फरनगर में प्रथम चरण के होने वाले विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 के दौरान जिला मेरठ व मुजफ्फरनगर के मतदान स्थल से 08 कि०मी० की परिधि में आने वाली बिजनौर की मदिरा दुकानें मतदान के दौरान 10 फरवरी,2022 को प्रथम चरण के लिए मतदान के 48 घण्टे पूर्व से लेकर मतदान समाप्ति तक अर्थात 08 फरवरी,2022 के सायंकाल 6ः00 बजे से 10 फरवरी,2022 को मतदान समाप्ति तक पूर्णतया बन्द रहेंगे। उन्होेंने बताया कि उपरोक्त बन्दी की अनुज्ञापियों को कोई प्रतिफल देय नहीं होगा।

बदला लेने को तैयार बैठे हैं गुंडे: मोदी

मौसम खराब होने के कारण टला पीएम का बिजनौर दौरा। वर्चुअल माध्यम से किया संबोधित। जन चौपाल में मोदी की जगह पहुंचे योगी आदित्यनाथ।

भ्रष्टाचार, अपराध, विकास के मुद्दे पर मोदी ने टटोली नब्ज

बिजनौर। मौसम खराब होने के कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिजनौर नहीं पहुंच सके। उन्होंने वर्चुअल माध्यम से बिजनौर, अमरोहा व मुरादाबाद की जनता से संवाद किया। विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली फिजिकल रैली बिजनौर में होनी थी। उन्होंने बिजनौर न पहुंचने पर जनता से क्षमा मांगी और अपना संबोधन शुरू किया।

वर्धमान कालेज में पीएम को सुनने के लिए महिलाएं एवं पुरूष काफी तादाद में सुबह आठ बजे से ही पहुंचना शुरू हो गए थे। किंतु उनके न आने से उन्हें निराश होना पड़ा वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ बिजनौर पहुंचे और उन्होंने  अखिलेश यादव पर जमकर प्रहार किए। उन्होंने कहा कि गुंडे, बदमाशों को संरक्षण देने वाले लोग सत्ता का इंतजार कर रहे हैं मगर आपको उन्हें रोकना होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जन चौपाल की शुरुआत मशहूर कवि दुष्यंत कुमार की लाइनों से की। उन्होंने कहा कि अपनी बात की शुरुआत मैं इस क्षेत्र के ही मशहूर कवि दुष्यंत कुमार जी की दो लाइनों से करूंगा। उन्होंने कहा था- यहां तक आते – आते सूख जाती हैं कई नदियां, मुझे मालूम हैं पानी कहां ठहरा हुआ होगा। इसके बाद उन्होंने कहा कि यह धरती, भगवान श्रीकृष्ण और पांडवों के श्रीचरणों की साक्षी है, महात्मा विदुर की कर्मभूमि और भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अनेक वीर सपूत पैदा करने वाली इस धरती को मैं आदर पूर्वक नमन करता हूं। आज यहां बिजनौर के साथ ही अमरोहा और मुरादाबाद के साथी भी जुड़े हुए हैं। उनका भी मैं स्वागत करता हूं। पीएम मोदी ने कहा दुष्यंत कुमार जी ने लिखा था, यहां तक आते आते, सूख जाती हैं कई नदियां, मुझे मालूम है पानी कहां ठहरा हुआ होगा। 2017 से पहले यूपी में भी विकास की नदी का पानी ठहरा हुआ था। ये पानी नकली समाजवादियों के परिवार में उनके करीबी लोगों की प्यास  बुझती रही। गरीबी की प्यास से कभी मतलब नहीं रहा, सिर्फ अपनी प्यास बुझाते रहे, अपने करीबियों की प्यास बुझाते रहे और अपनी तिजोरियों की प्यास बुझाते रहे। बस अपना स्वार्थ सोचने वाली यही प्यास विकास की नदी के हर बहाव को सोख लेती है। अपना घर भर लेने की यही प्यास गरीबों को घर नहीं देने देती थी। अपनी जेबें भर लेने की यही प्यास गरीब का राशन चट कर जाती थी। प्रोजेक्ट लटकाकर कमाई करने की इसी प्यास से लालफीताशाही और लेटलतीफी को ताकत मिलती थी। पीएम मोदी ने कहा कि पांच वर्ष में योगी आदित्यनाथ की सरकार का प्रयास रहा है, कि विकास कुछ ही इलाकों तक सीमित नहीं रहना चाहिए। इसी सोच के साथ हमारी सरकार मुरादाबाद, बिजनौर, अमरोहा जैसे शहरों में भी कनेक्टिविटी बढ़ा रही है। करीब 500 किलोमीटर का दिल्ली लखनऊ इकोनामिक कारिडोर भी मुरादाबाद से ही होकर गुजरेगा। अलीगढ मुरादाबाद कारिडोर का काम तेजी से हो रहा है। मुरादाबाद बरेली कारिडोर भी पूरा होने जा रहा है। गंगा एक्सप्रेसवे के रूप में इस इलाके को बहुत बड़ी सौगात मिलने जा रही है। बिजनौर से मुरादाबाद फोरलेन हाइवे पर तेजी से काम हो रहा है। योगीजी की सरकार ने पिछले पांच साल में इन इलाकों में बहुत से बड़े और जहां जरूर पड़ी, वहां छोटे भी पुल बनवाए। इनसे गंगा पार से आने जाने वाले किसानों का रास्ता भी आसान हुआ है। डबल इंजन सरकार ने सड़कें और रिंग रोड बनाकर यहां के लोगों की जिंदगी में रोजमर्रा की मुश्किलों को आसान किया है। बिजनौर में 300 करोड़ की लागत से महात्मा विदुर मेडिकल कालेज का काम तेजी से चल रहा है। प्रधनमंत्री ने कहा कि कुछ लोग लोग आज चौधरी चरण सिंह की विरासत की दुहाई देकर आपको बरगलाने की कोशिश कर रहे हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा, पहले की सरकार में गेहूं की जितनी खरीद हुई थी, योगी जी की सरकार में उससे दोगुना से भी ज्यादा गेहूं एमएसपी पर खरीदा गया है। किसानों से अनाज खरीद में हर साल नए रिकार्ड बनाए हैं। किसानों और पूरी पश्चिमी यूपी को याद दिलाना चाहता हूं, जो लोग आपको बहकाने की कोशिश कर रहे हैं, उनसे जरूर पूछना, जब उनकी सरकार थी तब वो इस इलाके में आपके गांव में कितनी बिजली देते थे। पश्चिम यूपी में तो यह बात होती थी, कि हमारा किसान और युवा बिना बिजली के मात खा जाता है, घर घर में यह चर्चा होती थी। नौजवानों का भविष्य रौंदा जा रहा था। आज जब गांव-गांव में बिजली आ रही है, तो इसका हिसाब भी होना चाहिए। उन्होंने प्रदेश को अंधेरे में रखा, ताकि अपराध बढ़े, हमने तो सभी को बिजली दी, ताकि विकास बढ़े। पीएम मोदी ने कहा कि अब यूपी को उस नुकसान की भरपाई करते हुए और तेजी से आगे बढ़ना है। पहले की सरकारों का माडल समस्या पैदा करो, फिर सहानुभूति के नाम पर सब समेट लो का था, उनके इस माडल से किसान, नौजवान, गरीब, शोषित, दलित सब परेशान थे। उन्होंने कहा कि महिलाओं से छेड़छाड़ आम बात थी, चेन लूटे जाने पर इस बात का शुक्र मनाया जाता था कि चलो जान तो बच गई। योगी जी की सरकार ने बेटियों को उस भय से मुक्त करके दिखाया है, हमने बेटियों को उनका असल सम्मान दिलाया है। हमारी सरकार ने बिजनौर, मुरादाबाद और अमरोहा में हजारों बहनों को उज्ज्वला के जरिए मुफ्त कनेक्शन देकर उनका जीवन आसान बनाया है। पिछले पांच वर्ष में इन इलाकों में इंटर कालेज, आईटीआई, पालीटेक्निक, डिग्री कालेज बनाए हैं। पिछली सरकारों के लिए गरीब उनके राजनीति का माध्यम रहा, हमारी सरकार गरीब की हर जरूरत का ध्यान रखते हुए, उसकी हर चिंता को कम करने का प्रयास कर रही है। आयुष्मान भारत के जरिए बीमारी के इलाज के खर्चे की चिंता से मुक्त किया है। मुरादाबाद, बिजनौर, अमरोहा के तीन लाख से ज्यादा गरीब को लाभ मिला है। अब तो हर जिले में स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए अस्पताल बन रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता देख रही है, समझ रही है कि यूपी का विकास कौन कर सकता है। पहले शुद्ध जल भी नसीब नहीं होता था, आज हर गांव के हर परिवार को नल से जल की सुविधा दी जा रही है। माताएं बहनें, इन कामों के कारण हमें आशीर्वाद देती हैं। पहले गिनती के एक्सप्रेसवे थे, आज नए एक्सप्रेसवे बनकर तैयार हो चुके हैं। पहले की सरकारों ने यूपी की छवि को खराब किया। आज यूपी पांच अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला देश का पहला राज्य बन रहा है। यह सब भाजपा की डबल इंजन सरकार में ही हो सकता है, क्योंकि हमारी सोच इमानदार है और काम असरदार है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के कार्यकाल में जो अपराधी खुद जेल गए, वह चुनाव का इंतजार कर रहे हैं। वह तो इस फिराक में हैं कि कैसे भी सरकार बदल जाए, ताकि वो जेल से बाहर आ सकें। ये सभी अपराधी किसी भी तरह पुरानी वाली माफियाराज वाली सरकार आने की मंशा पाले हैं। जो अपराधी यूपी छोड़कर भाग गए थे, वह भी उम्मीद लगाए बैठे हैं कि सरकार बदले तो फिर लौट आएं। लूट, छिनैती, डकैती का धंधा ठप पड़ा है, यूपी की जनता से उसकी भरपाई करने और बदला लेने के मूड में हैं। इनके गुर्गे भी पूरी ताकत लगाए हैं, ये लोग जात पात के नाम पर बंटवारा करके भाजपा को रोकना चाहते हैं। इस खेल से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि चुनाव में केवल भाजपा और कमल का निशान देखना है। भाजपा आएगी तो आपकी सुरक्षा होगी, ये आएंगे तो गुंडों के सपने पूरे होंगे। जब आप वोट डालने जाएं तो भी याद रखें, यूपी के लिए ही नहीं, बल्कि देश के लिए भी वोट दे रहे हैं। यूपी के विकास के बिना देश का विकास भी नहीं हो सकता है। पहले भी आपने साबित किया है और आज भी जोश बता रहा है, एकजुट होकर सही फैसला लेने को तैयार हैं। इसलिए जिस मिजाज से यूपी ने भरी हुंकार, एक बार फिर योगी सरकार।

राहत: सियासी दलों को खुले मैदान में रैली की इजाजत

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के मामलों में लगातार गिरावट के चलते चुनाव आयोग ने चुनावी रैलियों से रोक हटा दी है। सियासी दलों को चुनाव आयोग ने खुले मैदान में रैली की इजाजत दे दी है। इनडोर के लिए 50 प्रतिशत क्षमता की अनुमति दी गई है। आउटडोर रैलियों के लिए 30 प्रतिशत क्षमता की अनुमति दी गई है।

घटते कोरोना वायरस के मद्देनजर चुनाव आयोग ने यह फैसला लिया है। रोड शो, बाइक रैली पर अभी भी रोक जारी रहेगी। जुलूस निकालने पर भी प्रतिबंध जारी रहेगा। सार्वजनिक बैठकों, इनडोर हॉल और आउटडोर बैठकों के लिए छूट दी गई है।

विदित हो कि कोरोना के चलते पांच राज्यों में होने जा रहे चुनावों को लेकर प्रचार प्रसार पर कई प्रतिबंध लगे हुए थे, लेकिन अब कोविड संक्रमण की लगातार गिरती दर और बढ़ते टीकाकरण के मद्देनजर इन प्रतिबंधों में ढील दे दी गई है। यानि इनडोर और आउटडोर रैलियों में छूट दे दी गई है। अब खुली जगहों पर मैदानों में होने वाली रैलियों के लिए जगह के अनुपात में संख्या तय कर इजाजत मिलेगी।

डीएम एसपी ने किया पीएम के रैली स्थल का मुआयना

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने पुलिस अधीक्षक के साथ प्रधानमंत्री के बिजनौर के प्रस्तावित भ्रमण कार्यक्रम के अंतर्गत सभा स्थल का दौरा कर सुरक्षा व्यवस्था का बारीकी के साथ मुआयना किया, संबंधित अधिकारियों को पूरी सजगता और सतर्कता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करने के दिए निर्देश

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा प्रधानमंत्री के कल 07 फरवरी,22 को प्रस्तावित बिजनौर भ्रमण कार्यक्रम के अंतर्गत पुलिस अधीक्षक के साथ वर्धमान कॉलेज स्थित सभा स्थल का दौरा कर सुरक्षा व्यवस्था का बारीकी के साथ मुआयना किया गया। इस अवसर पर उन्होंने स्थानीय एवं बाहरी पुलिस बल को निर्देश दिए कि तैनाती के निर्धारित स्थानों पर पूर्ण सजगता और सतर्कता के साथ अपने-अपने दायित्वों का निर्वहन करना सुनिश्चित करें और किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरती जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि यातायात व्यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखने के लिए मार्गाें का डायवर्जन करें और वहां पर भी पुलिस तैनात करें ताकि कोई भी वाहन निर्धारित क्षेत्र में प्रवेश न करने पाए।
उन्होंने बताया कि सभा स्थल एवं उसके आसपास विशेष सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं, जिसके अंतर्गत कोई भी व्यक्ति बिना विशेष चैकिंग के सभा स्थल में प्रवेश नहीं कर सकेगा। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि अपने अधीनस्थ अधिकारी एवं कर्मचारियों को पूरी सजगता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करने के लिए निर्देशित करें ताकि किसी भी स्तर पर लापरवाही का अंदेशा बाक़ी न रहे तथा अन्य जिलों से आने वाले पुलिस बल को उनके तैनाती के स्थानों पर पूर्व में तैनात करना सुनिश्चित करें ताकि वहां जा कर वह अपने स्तर से सुरक्षा के दृष्टिगत मौक़ा मुआयना कर सकें।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक डा0 धर्मवीर सिंह, मुख्य विकास अधिकारी के0पी0 सिंह, अपर जिलाधिकारी विनय कुमार सिंह के अलावा अन्य प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी मौजूद थे।

PM की बिजनौर रैली को लेकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

बिजनौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे को लेकर पुलिस प्रशासन के आला अफसर व एसपीजी अधिकारी तैयारी में जुटे हैं। सेना का चॉपर शनिवार को वर्धमान डिग्री कॉलेज व आइटीआई के मैदान में उतरा। प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर अधिकारी तैयारियों में जुटे है। चॉपर में सवार एयरफोर्स व एसपीजी के अधिकारियों ने कार्यक्रम स्थल व सुरक्षा का जायजा लिया। उन्होंने पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से भी काफी देर वार्ता की। जनपद में एसपीजी और इंटलीजेंस की टीमें डेरा डाल चुकी हैं। कार्यक्रम स्थल पर भारी पुलिसबल तैनात कर दिया गया है। प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतेजाम किये जा रहे हैं। जनपद से लेकर प्रदेश के अधिकारी अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। अभी प्रधानमंत्री के हेलीकाप्टर लैडिंग स्थान के लिए निर्णय लिया जाना है।

ADG व DIG ने डाला डेरा- एडीजी बरेली जोन राजकुमार व डीआइजी मुरादाबाद शलभ माथुर ने शनिवार को जनपद में डेरा डाल दिया। उन्होंने स्थानीय अधिकारियों के साथ वर्धमान कॉलेज व आईटीआई कॉलेज के मैदान का निरीक्षण किया। एडीजी व डीआईजी ने प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को लेकर जनपद के शीर्ष अधिकारियों से विचार विमर्श किया।

ऊर्जा का संचार- बिजनौर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आने से जहां एक ओर भाजपाईयों के चुनाव में ऊर्जा का संचार होता दिख रहा है वहीं जिला प्रशासन भी सुरक्षा व्यवस्थाओं को लेकर पूरी तरह सतर्क है। इसी के चलते शनिवार को जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक डा. धर्मवीर सिंह ने वर्धमान कालेज पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

UP west: पीएम मोदी की पहली प्रत्यक्ष रैली बिजनौर में कल

बिजनौर। वेस्ट यूपी के पहले चरण के मतदान से पूर्व माहौल बनाने के लिए भाजपा ने सोमवार 7 फरवरी को बिजनौर में पीएम मोदी की पहली प्रत्यक्ष रैली कराने का फैसला लिया है। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिजनौर में यूपी की अपनी पहली जनसभा को संबोधित करेंगे। वर्धमान कालेज के मैदान में होने जा रही रैली की तैयारियों के मद्देनजर सभी इंतजाम पुख्ता करने में जिला प्रशासन जुट गया है।

विदित हो कि कोविड प्रोटोकॉल के तहत प्रधानमंत्री मोदी ने अभी तक 1 व 4 फरवरी को जनचौपाल वर्चुअल रैली की थी। खुले मैदान में अभी तक बड़ी रैली करने की इजाजत नहीं थी। आयोग ने अब खुले मैदान में एक हजार लोगों की रैली करने की मंजूरी दी है। माना जा रहा है कि इसी कारण भाजपा ने वेस्ट यूपी के पहले चरण के मतदान से पूर्व माहौल बनाने के लिए सोमवार 7 फरवरी को बिजनौर में पीएम मोदी की पहली प्रत्यक्ष रैली कराने का फैसला लिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वर्धमान कॉलेज के मैदान में कोविड प्रोटोकॉल के तहत एक हजार कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। इसी के साथ आसपास के जिलों के अंतर्गत आने वाले विधानसभा क्षेत्रों के करीब एक लाख से अधिक लोग वर्चुअली प्रधानमंत्री को सुनेंगे। इस रैली/जनसभा के जरिए पहले व दूसरे चरण वाली 113 विधानसभा सीटों को साधने की भाजपा की कवायद माना जा रहा है।

पहले चरण में 11 जिलों की 58, दूसरे में जिले 9, सीटें 55 पर मतदान

10 फरवरी को पहले चरण का इन 11 जिलों में मतदान-

  • 1. शामली
  • 2. मुजफ्फरनगर
  • 3. बागपत
  • 4. मेरठ
  • 5. हापुड़
  • 6. गाजियाबाद
  • 7. गौतमबुद्धनगर (नोएडा)
  • 8. बुलंदशहर
  • 9. मथुरा
  • 10. आगरा
  • 11. अलीगढ़

ये हैं 58 विधानसभा सीटें-– मीरापुर, सिवालखास, सरधाना, मथुरा, बलदेव, एतमादपुर, फतेहपुर सीकरी, हस्तिनापुर, किठौर, मेरठ कैंट, मेरठ, मेरठ दक्षिण, गाजियाबाद, मोदी नगर, धौलाना, हापुड़, गढ़मुक्तेश्वर, नोएडा, अनूपशहर, देबई, शिकारपुर, खुरजा, खैर, बरौली, अतरौली, छर्रा, कैराना, थाना भवन, बरौत,दादरी, जेवर, सिंकदराबाद, खेरागढ़, फतेहाबाद, आगरा कैंट, आगरा दक्षिण, आगरा उत्तर, आगरा देहात, बुलंदशहर, स्याना, बागपत, लोनी, मुरादनगर, साहिबाबाद, पुरकाजी, मुजफ्फरनगर, शामली, बुढ़ाना, चरथावल, छपरौली, खतौली, कोइल, अलीगढ़, इगलास, छटा, मांट और गोवर्धन।

दूसरे चरण में इन 9 जिलों में होगी वोटिंग 

सहारनपुर, बिजनौर, अमरोहा, संभल, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर.
 

इन 55 विधानसभा सीट पर होगा मतदान- बेहट, नकुड, सहारनपुर नगर, सहारनपुर, देवबंद, रामपुर मनिहारन, गंगोहा, नजीबाबाद, नगीना, बढ़ापुर, धामपुर, नहटौर, बिजनौर, चांदपुर, नूरपुर, कांठ, ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद ग्रामीण, मुरादाबाद नगर, कुदरकी, बिलारी, चंदौसी, असमौली, संभल, स्वार, चमरउवा, बिलासपुर, रामपुर, मिलक, धनौरा, नौगावां सादात, अमरोहा, हसनपुर, गुन्नौर, बिसौली, सहसवान, बिल्सी, बदायूं, शेखूपुर, दातागंज, बहेडी, मीरगंज, भोजीपुरा, नवाबगंज, फरीदपुर, बिथरीचैन, बरेली, बरेली कैँट, आंवला, कटरा, शाहजहांपुर, जलालाबाद, तिलहर, पवायां व ददरौली।

MLC चुनाव; 12 मतदान केन्द्रों पर कुल 4041 मतदाता

बिजनौर। उत्तर प्रदेश विधान परिषद के स्थानीय द्विवार्षिक निर्वाचन के लिए आगामी 03 मार्च को मतदान तथा 12 मार्च को मतगणना होगी। जनपद बिजनौर के 12 मतदान केन्द्रों पर कुल 4041 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दो चरणों में निर्वाचन का कार्यक्रम घोषित किया गया है। यह जानकारी देते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी उमेश मिश्रा ने बताया कि उत्तर प्रदेश विधान परिषद के स्थानीय निर्वाचन क्षेत्रों से निर्वाचित सदस्यों, जिनका कार्यकाल आगामी 07 मार्च, 22 को समाप्त हो रहा है, उनके द्विवार्षिक निर्वाचन के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दो चरणों में निर्वाचन का कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है। निर्वाचन कार्यक्रम के प्रथम चरण के अंतर्गत 04 फरवरी, 22 को निर्वाचन की अधिसूचना जारी की जा चुकी है। इसके अंतर्गत नाम निर्देशन के लिए अंतिम तिथि 11 फरवरी, नाम निर्देशनों की जांच 14 फरवरी, नाम वापसी की अंतिम तिथि 16 फरवरी, मतदान की तारीख 3 मार्च, मतदान का समय प्रातः 8 बजे से शाम 4 बजे तथा मतगणना की तिथि 12 मार्च, 2022 निर्धारित की गई है।

मलिहाबाद कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व विधायक इन्दल रावत ने किया जनसम्पर्क मिला अपार जनसमर्थन

मलिहाबाद कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व विधायक इन्दल रावत ने किया जनसम्पर्क, मिला अपार जनसमर्थन।

मलिहाबाद की जनता हमारे साथ किये गये अन्याय का बदला लेगी- पूर्व विधायक इन्दल कुमार रावत

मलिहाबाद, लखनऊ। विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां काफी तेज हो गई हैं। इसी क्रम में कांग्रेस मलिहाबाद विधानसभा प्रत्याशी पूर्व विधायक इन्दल रावत ने जनसम्पर्क कर कहा कि हमारे साथ सपा ने विश्वासघात किया है और यदि जनता की सुनी जाती तो हमारा ही सपा से टिकट होता, लेकिन पार्टी में कुछ ऐसे लोग है जिन्होंने सपा को पहले भी हराने व राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को गुमराह करने का काम किया है।

उन्होंने कहा कि अब प्रियंका गांधी के नेतृत्व में मलिहाबाद की जनता से आशीर्वाद मांगने आये हैं। जैसे पूर्व में 2012 में हमें मलिहाबाद की जनता ने विधानसभा पहुंचाया और सपा की सरकार बनी वैसे ही 2022 में कांग्रेस की सरकार होगी। जिस प्रकार से महिला उत्पीड़न, रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा की बदहाली इस सरकार में हुई वह कभी 70 वर्षों में नहीं हुई। आजादी के बाद से आज तक संसाधनों को कांग्रेस ने उपलब्ध कराया। सरकार निजीकरण कर रही है और महंगाई चरम पर है। धर्म के आधार पर बांटने का काम सही नहीं है।

कांग्रेस प्रत्याशी ने कहा कि मलिहाबाद की जनता कट्टरपंथ की राजनीति करने वालों को सबक सिखाने को तैयार है और अपने भाई अपने बेटे इंदल को जिताकर पुनः विधानसभा भेजने का कार्य करेगी, जिससे विधानसभा क्षेत्र का समुचित विकास हो सके। मलिहाबाद की जनता न्याय करेगी और मैं जनता की उम्मीदों पर खरा उतरकर विकास के लिये प्रतिबद्ध रहूँगा। मुझे जनता ने विधानसभा भेजा था। अब समय आ गया है कि जनता ही न्याय करेगी।

इस अवसर पर काकोरी, गोला कुआं, मोटी नीम, महमूद नगर ढाल, मलिहाबाद, अहमदाबाद, कटौली, भतौईया, रहीमाबाद, ससपन, अटेर, अटारी, बरगदिया वीरपुर, पिपरी, सैदापुर, गोपामऊ, जेहटा, सैथा सहित अन्य क्षेत्रों में जनसम्पर्क किया।

पीएम मोदी का बिजनौर दौरा

बिजनौर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सात फरवरी को महात्मा विदुर की धरती पर पधारेंगे। बिजनौर मुख्यालय स्थित  वर्धमान कालेज के मैदान में उनका कार्यक्रम प्रस्तावित है। मोदी के आने से जहां एक ओर भाजपाईयों के चुनाव में ऊर्जा का संचार होता दिख रहा है वहीं जिला प्रशासन भी सुरक्षा व्यवस्थाओं को लेकर पूरी तरह सतर्क है। इसी के चलते शनिवार को जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक डा. धर्मवीर सिंह ने वर्धमान कालेज पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

भाजपा राज में व्यापारियों को मिला सुरक्षा का माहौल

भाजपा प्रत्याशी अशोक कुमार राणा को ग्राम प्रधानों, सामाजिक संगठनों के साथ व्यापारिक संगठनों का भी मिल रहा समर्थन।

बिजनौर। धामपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी अशोक कुमार राणा को ग्राम प्रधानों, सामाजिक संगठनों के साथ व्यापारिक संगठनों का भी समर्थन मिल रहा है। समर्थन देने वाले व्यापारियों का कहना है कि भाजपा राज में व्यापारियों को सुरक्षा का माहौल मिला। इसलिए वह भाजपा की सरकार दोबारा से बनाने के लिए भाजपा प्रत्याशी अशोक राणा को समर्थन कर रहे हैं।

देर रात नगर के एक मंडप में अटल जन शक्ति व्यापार उद्योग मंडल के संयोजन में भाजपा प्रत्याशी को समर्थन देने की घोषणा की गई। संगठन के जिला संरक्षक पंडित दिनेश चंद भारद्वाज, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नीरज जैन, प्रदेश अध्यक्ष पंकज राजपूत, राष्ट्रीय महासचिव आदित्य कुमार चौहान, जिलाध्यक्ष शुभम सहित सैकड़ों व्यापारियों ने अशोक राणा का कार्यक्रम स्थल पहुंचने पर माला पहनाकर व स्मृति चिन्ह देकर समर्थन दिया।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि हिंदू युवा वाहिनी के मंडल प्रभारी डॉ एनपी सिंह ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार में व्यापारियों के साथ आएदिन लूट, डकैती की घटना होती थी। बदमाश इतने बेखौफ थे कि वह रात में ही नहीं दिन में भी दुकानों में घुसकर लूट की घटना को अंजाम देते थे। बसपा सरकार में दलितों को छोड़कर अन्य सभी बिरादरी का जमकर उत्पीड़न किया गया। भाजपा सरकार में व्यापारियों को सुरक्षा का माहौल मिला है। लुटेरे या तो जेल के अंदर बंद हैं या प्रदेश छोड़कर भाग गए हैं। व्यापारियों को इसी तरह सुरक्षा का माहौल लेने के लिए उन्होंने भाजपा सरकार को दोबारा लाने का आह्वान किया।

बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी का फूल मालाओं से लाद कर स्वागत

बिजनौर। चांदपुर विधानसभा से बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी का आज विधानसभा क्षेत्र के ग्राम खेड़की में सभी ग्राम वासियों ने फूल मालाओं से लाद कर स्वागत किया।

भारी तादाद में उपस्थित सभी ग्राम वासियों ने अपना समर्थन बसपा प्रत्याशी डॉक्टर शकील हाशमी को दिया। सभी ग्राम वासियों ने एक सुर में कहा कि इस बार इस चुनाव में एक एक वोट हाथी के सामने वाला बटन दबाकर डॉक्टर शकील हाशमी को विजयी बनाया जाएगा।

पोलिंग पार्टी ने घर घर जाकर डलवाए वृद्ध और विकलांगों के वोट

झालू में वृद्ध और विकलांगों को पोलिंग पार्टी ने घर घर जाकर डलवाए वोट। सभी वार्डों में कुल 13 मत पड़े 6 महिलाएं 7 पुरुष शामिल। बैलट पेपर द्वारा हुआ मतदान।

बिजनौर। 22 विधानसभा क्षेत्र बिजनौर के कस्बा झालू में चुनाव आयोग के आदेशानुसार पहली बार वृद्ध एवं दिव्यांगों के घर-घर जाकर पोलिंग पार्टियों द्वारा पोस्टल बैलेट के जरिए 13 लोगों को मतदान कराया गया। इनमें 6 महिलाएं 7 पुरुष शामिल हैं। मतदान के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन किया गया।


विधानसभा चुनाव में पहली बार नगर के सभी वार्डों में दिव्यांगों व वृद्धावस्था (80 वर्ष से अधिक आयु) के मतदाताओं को चुनाव आयोग द्वारा घर पर मतदान करने की सुविधा दी गई। इसके चलते शुक्रवार को कस्बा झालू में 13 व्यक्तियों ने पहली बार अपने घर से मतदान किया। पोलिंग पार्टी घर-घर पहुंची और मतदान बूथ बनाकर पोस्टल बैलेट द्वारा मतदान कराया। मतदान प्रक्रिया कोरोना गाइडलाइन के साथ पूरी की गई। मतदान करने के बाद दिव्यांग व वृद्ध गदगद नजर आए। मतदान प्रक्रिया में बूथ नंबर 421, 425 पर 3 व 424, 337 पर 2 एवं 429 पर 1 कुल 13 मतदान हुआ, जिसमें 7 महिला व 6 पुरुष रहे।

मिली खुशी –
राज नारायण प्रसाद का कहना है कि चुनाव आयोग द्वारा इस मुहिम का वह स्वागत करते हैं, वृद्धावस्था व पैरालाइज होने के कारण मतदान करने के लिए बूथ पर जाना पड़ता था। बूथ घर से काफी दूर पड़ता है। इस बार घर पर मतदान कर खुशी है।

दूसरे पर थे निर्भर-
मोहम्मद इमरान का कहना है कि वह पैर से दिव्यांग है। उन्हें मतदान करने के लिए बूथ पर जाने के लिए दूसरे पर निर्भर रहना पड़ता कि कोई व्यक्ति उन्हें बूथ तक लेकर जाए। इस बार चुनाव आयोग की पहल से घर पर ही मतदान करने का अवसर मिला, जिससे वह उत्साहित हैं।

पोलिंग पार्टी में लेखपाल राम सिंह, बीएलओ मास्टर समबील हसन, मा o मोहम्मद शमाइल, मा o मोहम्मद इदरीश, मा 0 मोहम्मद काशिफ सहित सभी वार्डों के बीएलओ का सराहनीय सहयोग रहा।

डॉ नीरज के समर्थन में उतरे अधिवक्ता

रालोद सपा गठबंधन प्रत्याशी डॉक्टर नीरज चौधरी

बिजनौर। रालोद सपा गठबंधन प्रत्याशी डॉक्टर नीरज चौधरी के समर्थन में जिला बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर विवादित वीडियो में छेड़छाड़ करने वाले आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एसपी को दिए ज्ञापन में अधिवक्ताओं ने कहा कि बिजनौर विधानसभा क्षेत्र से सपा-रालोद गठबंधन प्रत्याशी डॉ. नीरज चौधरी के विरुद्ध थाना शहर कोतवाली में धारा 188,171 एच, 269, 270,290,124, 153, 295ए, आईपीसी 51 बी आपदा प्रबंधन अधिनियम 2003 महामारी अधिनियम 1857 में पंजीकृत किया गया है। जिस वीडियो के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है, उसमें एडिटिंग करके छेड़छाड़ की गई है। डा. नीरज व उनके समर्थकों द्वारा देश विरोधी गतिविधि एवं नारेबाजी नहीं की गई है। उन्होंने मामले की जांच कराने तथा वीडियो के साथ छेड़छाड़ करने वाले शरारती तत्वों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की। ज्ञापन देने वालों में रमेश, शेर सिंह, विनीत राणा, मनोज, ललित चौधरी, जावेद अहमद आदि अधिवक्ता मौजूद थे।

पूर्व विधायक इन्दल कुमार रावत को मलिहाबाद से कांग्रेस ने बनाया प्रत्याशी

पूर्व विधायक इन्दल कुमार रावत को मलिहाबाद से कांग्रेस पार्टी ने विधायक प्रत्याशी बनाया है

लखनऊ। मलिहाबाद क्षेत्र की देव तुल्य जनता के सेवक इन्दल कुमार रावत पूर्व विधायक मलिहाबाद को कांग्रेस पार्टी से विधायक प्रत्याशी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ज्वाइन करने के बाद पहली बार विधान सभा में आ रहा हूं। कांग्रेस पार्टी के सम्मानित नेताओं से तथा हमारे सभी शुभचिंतक साथियों से अनुरोध है कि नीचे जो पॉइंट दिए गए हैं उन पर समय से पहुंचकर इस कार्यक्रम को सफल बनाएं।

स्वागत के लिए कल दिनांक 5 फरवरी को सम्मानित नेताओं और कार्यकर्ताओं के द्वारा निम्नलिखित स्थानों पर स्वागत किया जाएगा। प्रातः 10:00 दुर्गा गंज चौराहे पर, 10:10 पर गोला कुआं, 10:30 पर मोटी नीम के नीचे, 10:40 पर महमूदनगर ढाल, 11:00 बजे मलिहाबाद पेट्रोल पंप पर, 11:20 पर अहमदाबाद कटौली 11:30 पर भतईया 1140 पर रहीमाबाद, 12:00 बजे रहीमाबाद स्टेशन 12:30 पर सस्पन 12:40 गहदों 12:50 थरी गेट के पास 1:00 बजे पर रुदान खेड़ा पुलिया 1:20 अटारी 2 बजे बरगदिया तिरहा 2:10 पर मवई खुर्द 2:20 वीरपुर 2:30 पिपरी 2:40 पर सैदापुर चौराहा 2:50 बजे गुमसेना 3:00 रामनगर 3:20 माल 3:40 वीरपुर नई बस्ती भिटौरा 3 ‍:50 पर गौरैया चौराहा 4:00 बजे गोपरामऊ चौराहा 4:25 पर बंसीगढ़ी 4:40 पर काकराबाद 5:00 जेहटा तिरहा 5.30 सैथा टंकी मौरा पर कार्यक्रम का समापन होगा।

ओवैसी को मिली Z+ सुरक्षा, देशभर में करेगा सुरक्षा CRPF जवानों का काफिला

ओवैसी को मिली Z+ सुरक्षा, भारत सरकार ने किया ऐलान। CRPF जवानों का काफिला देशभर में करेगा सुरक्षा। UP में काफिले पर हुई थी फायरिंग।

नई दिल्ली (एजेंसी)। हैदराबाद के लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के चीफ असदुद्दीन ओवैसी को जेड प्लस सिक्योरिटी मुहैया कराई गई है। भारत सरकार ने इसका ऐलान किया है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की जेड प्लस सिक्योरिटी उनके साथ पूरे देश में रहेगी। 

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi). -फाइल फोटो.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, असदुद्दीन ओवैसी को जेड प्लस सिक्योरिटी में 22 सुरक्षा जवान मिलेंगे। जो हर दिन 24 घंटे उनके साथ रहेंगे। वहीं उनके आवास पर भी एक पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर और सिक्योरिटी रहेगी।

Attack On Asaduddin Owaisi Z Category Security Provided To Asaduddin Owaisi  After Attack | UP Election 2022: हमले के बाद Asaduddin Owaisi की सिक्योरिटी  बढ़ाई गई, सरकार ने दी Z कैटेगरी की

गौरतलब है कि केंद्र का यह फैसला यूपी में ओवैसी के काफिले पर हुई गोलीबारी के बाद लिया गया है। AIMIM प्रमुख ओवैसी के काफिले पर हापुड़ टोल प्लाजा पर गोलीबारी हुई थी। माना जा रहा है कि AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी आज 3:30 बजे स्पीकर से मिल सकते हैं। लोकसभा में भी आज ओवैसी अपने ऊपर हमले का मसला उठाएंगे। 

प्रशासन कर रहा एकतरफा कार्यवाही: डॉक्टर नीरज चौधरी

बौखलाहट में भाजपा को नहीं दिख रहा आकिब व पाकिस्तान में फर्क


बिजनौर। डॉक्टर नीरज चौधरी ने कहा कि भाजपा नेताओं को बौखलाहट में आकिब की जगह पाकिस्तान दिख रहा है।
दरसल मामला बीती रात का है, जब मोहल्ला जुलाहान निवासी सभासद आकिब अंसारी के आवास पर आयोजित कार्यक्रम में डॉ नीरज चौधरी पहुंचे। उनके समर्थकों ने डॉक्टर नीरज चौधरी जिंदाबाद व आकिब भाई जिंदाबाद के नारे लगाए। इस दौरान युवाओं ने उस नारेबाजी सहित कार्यक्रम की वीडियो बनाई।

भाजपा आईटी सेल पर आरोप
डॉक्टर नीरज चौधरी ने पत्रकार वार्ता में बताया कि उस वीडियो को भाजपा का आईटी सेल गलत तरीके से वायरल कर रहा है। भाजपा आईटी सेल के लोग सोशल मीडिया पर लिख रहे हैं कि उक्त वीडियो में आकिब भाई जिंदाबाद की जगह पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाया जा है। डॉक्टर नीरज चौधरी ने कहा कि भाजपा अपनी हार की बौखलाहट में यह सब कर रही है। जब वह किसी गांव में जाते हैं तो उनके पीछे पुलिस की गाड़ियां लगा दी जाती है। उनके खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन के भी दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

भाजपा नेता कर रहे उत्पीड़न- भाजपा नेता गठबंधन प्रत्याशी का उत्पीड़न कर रहे हैं। वह हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई आपसी भाईचारे पर चुनाव लड़ रहे हैं। उनका मुद्दा भाईचारा कायम रखना है, जबकि दूसरे दल हिंदू मुस्लिम की राजनीति करते हैं। उन्होंने पूरे जिले का माहौल खराब कर रखा है, लेकिन वह बिजनौर में भाईचारा कायम करके ही दम लेंगे। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन एकतरफा कार्यवाही कर रहा है, इसीलिए वीडियो की बिना जांच किए उनके व उनके समर्थकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया गया। इस प्रकरण में डॉक्टर नीरज चौधरी ने मामले की शिकायत ऑब्जर्वर व डीएम से की है।

BJP पर मेहरबान प्रशासन- डॉक्टर नीरज चौधरी ने यह भी कहा कि भाजपा नेता की वीडियो वायरल हो रही है, जिसमें वह हमारे मुस्लिम भाइयों से कुरान पर हाथ रखकर कसम खाने की बात करते हुए उन्हें प्रलोभन दे रहे हैं; जो सीधा सीधा आचार संहिता का उल्लंघन है, लेकिन पुलिस प्रशासन द्वारा उनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। पुलिस प्रशासन एकतरफा गठबंधन प्रत्याशी के खिलाफ लगातार कार्यवाही कर रहा है, जिससे लोगों में रोष है।

आयोजक ने दी तहरीर- उधर बीती रात हुए कार्यक्रम के आयोजक सभासद आकिब अंसारी ने थाना कोतवाली शहर में तहरीर देकर शहर की फिजा बिगाड़ने की कोशिश करने वाले व वीडियो वायरल करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

जनता के मन की आवाज: कैसा हो हमारे क्षेत्र का विधायक

हमारा विधायक शिक्षित और योग्य हो जो विधानसभा में क्षेत्र की सभी समस्याओं को उजागर करें। हमारे क्षेत्र के विधायक मे वह सभी गुण होने चाहिए जो जनता के बीच जीतने के बाद उनके दु:ख सुख एवं उनकी सभी समस्याओं का ध्यान पूर्वक सुनवाई करे और इसके साथ ही सभी विधायक अपने अपने क्षेत्र की समस्याओं का समाधान करने के लिए विधानसभा में उन सभी समस्याओं को पेश करें तथा राज्य के द्वारा जारी की गई सभी योजनाओं का लाभ दिलाने का काम करें तथा जनता की सभी समस्याओं का समाधान करने की कोशिश करें। अक्सर यह देखा गया है कि वोट के लिए तो जनता के बीच आ जाते हैं और जीतने के बाद आना तो दूर की बात है, बात करने का भी टाईम नहीं होता। ऐसे नेता देश में रहने वाले भोले भाले इंसानों को नहीं चाहिए। लुभावने वायदे जनता के सामने ना किए जाएं, जो वायदा करें उस पर खरे उतरने की कोशिश की जाए। ऐसा विधायक चुना जाए जो जनता की समस्याओं के लिए संघर्ष करें जनता की बात सुने और उनके हित में सुविधाओं की वृद्धि करें। जनता के मुद्दों को प्राथमिकता दें व ग्रामीण क्षेत्र में विकास को प्राथमिकता दे। विधायक वही बने जो सरकारी धन का उपयोग जनहित व  समाज के हित में करें, उसके लिए जनता सर्वोपरि हो। चुना गया विधायक जनता को बिना किसी दिक्कत के उपलब्ध हो। किसान की चिंता करें एवं क्षेत्र की मूलभूत आवश्यकताओं का ध्यान रखें। हर वर्ग के लिए इमानदारी से कार्य करें ना कि चुनाव जीतने के बाद 5 वर्ष तक गायब रहे। चुनावी नेताओं के लिए वोटर बहुमूल्य है, इसे कभी उदास (निराश) न होने दे; खासतौर से उनके दु:ख में हमेशा साथ रहे तभी आप तरक्की के रास्ते कामयाब रहेंगे ।


जात पात में भेदभाव न रखें : शब्बू

मोहल्ला मालवीय निवासी शब्बू का कहना है कि देश में गंगा जमुनी तहजीब बनी हुई है। इसको बरकरार रखें हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई जात पात मैं भेदभाव ना रखें। सभी के साथ एक जैसा व्यवहार करें, उनकी समस्याएं सुने। सभी के कार्य को ईमानदारी के सा