बिजनौर में 24 क्रय केंद्र पर होगी धान खरीद

बिजनौर। प्रदेश में धान खरीद के लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। शनिवार से धान की खरीद शुरू होगी। धान खरीद के लिए बिजनौर जनपद में 24 क्रय केन्द्र बनाए गए हैं।

01 अक्तूबर से प्रदेश में धान की खरीद शुरू होगी। बिजनौर जनपद में धान का रकबा करीब 55 हजार हेक्टेयर है। धान खरीद शनिवार यानी 1 अक्तूबर से शुरु होगी। अधिकारियों ने धान खरीदने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। 24 क्रय केन्द्र स्थापित कर दिए गए हैं। जिले में पिछले साल धान खरीद का लक्ष्य 50,300 मीट्रिक टन था। लक्ष्य के सापेक्ष 40,328 मीट्रिक टन धान की खरीद हुई थी। इस बार लक्ष्य को पूरा करने के लिए अफसरों ने कमर कस ली है। धान बेचने के लिए पंजीकरण कराने में मुरादाबाद मंडल में बिजनौर चौथे स्थान पर है। पहले स्थान पर रामपुर में 6443 किसानों ने, दूसरे स्थान पर मुरादाबाद में 1292 किसानों ने, तीसरे स्थान पर संभल में 756 किसानों ने, चौथे स्थान पर बिजनौर में 548 किसानों ने तथा पांचवे स्थान पर अमरोहा में 100 किसानों ने पंजीकरण कराया है। एडीएम प्रशासन विनय कुमार सिंह ने बताया कि धान खरीदने के लिए क्रय केन्द्रों पर पूरी तैयारी है। 01 अक्टूबर से जिले में धान की खरीदारी होगी।

कृषि उत्पादन आयुक्त को भाकियू अराजनैतिक ने सौंपा ज्ञापन

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक के एक प्रतिनिधिमंडल ने कृषि उत्पादन आयुक्त उत्तर प्रदेश लखनऊ से मुलाकात कर किसानों की समस्याओं के विषयों पर चर्चा की। प्रतिनिधिमंडल ने विभिन्न समस्याओं से संबंधित ज्ञापन देकर उनके समाधान की मांग की और कहा कि उत्तर प्रदेश में सूखा पड़ने से किसान काफी गंभीर स्थिति में है। अगली फसल के लिए निवेश के पैसे भी उसके पास नहीं हैं। ऐसे में किसान को राहत दिया जाना आवश्यक है। कई विषयों पर कृषि उत्पादन आयुक्त मनोज कुमार से वार्ता की गई। भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश सिंह चौहान के नेतृत्व में वार्ता में धर्मेंद्र मलिक राष्ट्रीय प्रवक्ता, हरिनाम सिंह वर्मा प्रदेश अध्यक्ष, दिगंबर सिंह युवा प्रदेश अध्यक्ष मौजूद रहे। ज्ञापन में कहा गया कि कृषि एवं किसान की समस्या हमेशा लगी रहती है। कभी सरकारी नीतियों तो कभी प्रकृति के साथ न देने के कारण किसान पर कर्ज का भार बढ़ता जा रहा है। सरकार द्वारा समय समय पर किसानो को राहत दी जा रही है,लेकिन वह नाकाफी है
वर्तमान में उत्तर प्रदेश में बारिश न होने के कारण किसान अपनी बुवाई समय से कर नही पाए और जितनी बुवाई हुई उसे फसलों को बचाने में काफी खर्च करना पड़ रहा है। हाल में हुई बारिश ने किसानो की परेशानी को अधिक बढ़ा दिया है
खेती को लाभप्रद बनाने हेतु सरकार को छोटे बड़े हजारों कदम उठाने की आवश्यकता है।


किसानों को राहत दिए जाने के लिए भारतीय किसान यूनियन की मांग…
1-प्रदेश को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों के सभी देय पर अगली फसल की बिक्री तक रोक लगाई जाए
2-किसानों के कर्ज (राज्य/केंद्र) पर वर्तमान सीजन का ब्याज सरकार द्वारा सब्सिडी के रूप में दिया जाए। 6 माह के बिजली बिल माफ किए जाए।
3-आगामी सीजन में फसल बुवाई हेतु किसानों को उन्नत एवं गुणवत्ता युक्त बीज नि:शुल्क उपलब्ध कराए जाए। किसानों को खाद व कीटनाशक कर्ज पर दिए जाए।
4-उत्तर प्रदेश में कुछ चीनी मिलों द्वारा भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। किसानों को बुवाई से पहले भुगतान कराया जाए।
5-बारिश की कमी के कारण गन्ने में रेड रोट,केंसर व धान में बौनेपन की समस्या की कारण उत्पादन में लगभग 30% की कमी की संभावना है, लेकिन इस बार फसल उत्पादन के निवेश में वृद्धि हुई है। किसानों को राहत दिए जाने हेतु गन्ना मूल्य में वृद्धि व धान के किसानों को बोनस दिया जाए।
6-आवारा पशुओं की समस्या किसानों के जी का जंजाल बन चुकी है। गौशालाओं की क्षमता वृद्धि के साथ साथ गंगा नदी के किनारे गाय अभिहरण बनाए जाय। अन्ना प्रथा पर कानूनी प्रतिबंध लगाया जाए।
7-सभी अनुदानित उर्वरक की पैकिंग पर क्यूआर कोड के हर कंपनी की पहचान के लिए आवश्यक किया जाए, जिससे नकली उर्वरकों पर रोक लगाने में मदद होगी।
8-कृषि विभाग के तहसील स्तरीय कार्यालय सुचारू रूप से संचालित किए जाए। इनके संचालन हेतु बजट की व्यवस्था की जाए। स्कीम को लागू करने की अधिकार तहसील स्तर के अधिकारियों को दिए जाए।
9-नवसर्जित जनपदों में सामान्य जनपदों के अनुरूप कर्मचारी तैनात किए जाए। नव सृजित तहसीलों में कृषि विभाग के कार्यालय खोले जाए।
10-कृषि रक्षा केंद्रों को प्रभावी बनाने हेतु उन्नत बीज,कीटनाशक,खरपतवार नाशक की गुणवत्ता में सुधार किया जाए।
11- कृषि विभाग में जिप्सम के दाम दोगुने हैं, जो सब्सिडी के बाद भी महंगा है। इसकी जांच की जाए।
12-कृषि प्रसार का कार्य प्रदेश भर में नगण्य है, जिसके कारण किसानों को खेती कीटनाशक, उर्वरक बेचने वाले दुकानदार की सलाह पर करनी पड़ रही है। समय समय पर किसानों को एडवाइजरी जारी की जाए। सभी कृषि विज्ञान केंद्रों को सक्रिय किया जाए।
13-प्रदेश में नहरों की सफाई का कार्य ऐसे समय किया जाता है जब किसानों को पानी की आवश्यकता होती है। किसानों को पानी की जल्दी के बहाने सफाई की धनराशि बंदरबाट की भेट चढ़ जाती है, इसलिए नहरों की सफाई समय के अनुकूल व मैनुवल कराई जाए।
14-पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चौगामा नहर के निर्माण पर सरकार द्वारा हजारों करोड़ रुपए खर्च करने के बाद भी आज तक पानी टेल तक नहीं पहुंच पाया है। चौगामा नहर से डार्क जोन वाले 4जनपदों का लाभ होगा। चौगामा नहर में कम से कम बारिश के समय ही पानी दिया जाए, जिससे भूगर्भ के गिरते जलस्तर को रोका जा सके।
15-धान खरीद की सुचारू व्यवस्था किए जाने हेतु समय पर सभी क्रय केंद्र चालू किए जाए। तराई क्षेत्र में धान की अनाधिकृत बिक्री राइस मिल, मंडियों के बाहर खरीद करने वालो पर कार्यवाही की जाए।
16-पूर्व की भांति अगले माह के मध्य कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में कृषि से संबंधित सभी अधिकारियों के साथ भाकियू अराजनैतिक के पदाधिकारियों के साथ बैठक कराई जाए।

संघर्ष से ही निकलेगा किसानों की समस्या का हल: गजेंद्र टिकैत

बिजनौर। स्योहारा क्षेत्र के ग्राम कृष्णा रामपुर में भारतीय किसान यूनियन की सभा का आयोजन हुआ सभा में
बेसहारा पशुओं का आतंक और महंगाई के हिसाब से गन्ने का रेट बढ़ाया जाने का मुद्दा छाया रहा।
किसानों को संबोधित करते हुए चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार चुनाव के समय किसानों से किए गए वादे घोषणापत्र के हिसाब से पूरे नहीं कर रही। किसानों को बिजली फ्री और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों को गन्ने पर 50 परसेंट लाभकारी मूल्य के हिसाब से लगभग ₹700 प्रति कुंतल दिलाने की बात कही थी। किसानों को केवल सपने दिखाए गए। बढ़ती महंगाई, बेसहारा पशुओं का आतंक, बिजली विभाग का उत्पीड़न किसान को बर्बाद कर देगा। उन्होंने एकजुट होकर किसानों की आवाज को बुलंद करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि किसानों का उत्पीड़न किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संघर्ष से ही किसानों की समस्या का हल निकलेगा। इस अवसर पर ग्राम कृष्णा रामपुर में बड़ी संख्या में किसानों ने भारतीय किसान यूनियन की सदस्यता ग्रहण की।
इस दौरान नीटू यादव दीवान सिंह, रणधीर सिंह, महेंद्र सिंह, महावीर फौजी, बाबूराम, राकेश कुमार, अंकित धीमान मौजूद रहे। सभा की अध्यक्षता मास्टर रघुवीर सिंह और संचालन राम अवतार सिंह ने किया।

रेलवे स्टेशन पर जैविक उत्पादों के विक्रय हेतु कैनोपी की स्थापना

जैविक उत्पादों के विक्रय हेतु रेलवे स्टेशन पर कैनोपी की स्थापना। पहले दिन बिका ₹1200 का गुड, आटा, चावल व सरसों के तेल। शीघ्र ही नजीबाबाद रेलवे स्टेशन पर भी लगेगा स्टाल। उतराखण्ड, पंजाब, जम्मू व कश्मीर, पश्चिम बंगाल, बिहार व हरियाणा आदि में हो सकेगा प्रचार प्रसार। जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्रा ने दी जानकारी।

बिजनौर। कृषि विभाग द्वारा स्थानीय रेलवे स्टेशन पर जैविक उत्पादों के विक्रय हेतु कैनोपी की स्थापना कराई गई है।

जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्रा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि सीएमआई मुरादाबाद से अनुमति प्राप्त करने के उपरान्त एवं जिलाधिकारी द्वारा दिए गए निर्देशों के क्रम में रेलवे स्टेशन बिजनौर पर कैनोपी के माध्यम से जैविक स्टाल का शुभारम्भ किया गया है। जनपद सहित आसपास के जनपदों के साथ-साथ प्रदेश में व प्रदेश के बाहर अन्य जनपदों में जनपद बिजनौर के जैविक उत्पादों का प्रचार प्रसार हो सके। जैविक स्टॉल पर शुक्रवार को लगभग 1200 रुपए के विभिन्न उत्पाद, जिसमें गुड, आटा, चावल व सरसों के तेल का विक्रय किया गया।

जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्रा ने बताया कि नजीबाबाद रेलवे स्टेशन पर भी कैनोपी के माध्यम से जैविक उत्पाद विक्रय हेतु जैविक स्टाल लगाने के लिए सीएमआई मुरादाबाद से अनुमति प्राप्त करने की कार्यवाही चल रही है। शीघ्र ही नजीबाबाद रेलवे स्टेशन पर भी जनपद के कृषकों द्वारा उत्पादित जैविक उत्पादों का कैनोपी के माध्यम से विक्रय कराया जाएगा। इसका उद्देश्य है कि जनपद के जैविक उत्पादों का प्रदेश के बाहर यथा उतराखण्ड, पंजाब, जम्मू व कश्मीर, पश्चिम बंगाल, बिहार व हरियाणा आदि में प्रचार प्रसार हो सके।

किसानों ने सभा स्थल पर अधिकारियों को जबरन बैठाया

बिजनौर। स्योहारा गन्ना समिति में भारतीय किसान यूनियन की मासिक सभा का आयोजन हुआ। सभा की अध्यक्षता ब्लॉक अध्यक्ष चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत ने की। सभा में किसानों की समस्याओं को लेकर बिजली विभाग से एसडीओ प्रेम सिंह व खंड विकास से संबंधित समस्याओं के लिए वीडीओ स्योहारा को गन्ना सट्टे से संबंधित समस्याओं के समाधान हेतु गन्ना विशेष सचिव प्रदीप शर्मा को व शुगर मिल से गन्ना प्रबंधक को किसानों के बीच सभा में घंटों बैठाए रखा।

अधिकारियों ने अपने-अपने विभाग की समस्याओं को दूर करने के लिए समय मांगा। संबंधित अधिकारियों ने कहा कि आने वाले 20 दिनों के अंदर समस्याओं का निस्तारण कर दिया जाएगा। किसी भी किसान का निजी नलकूप बकाया के नाम पर कनेक्शन नहीं कटेगा साथ ही पशुओं में आ रही लंम्पि बीमारी को माहवारी घोषित करने के लिए किसानो ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन किसानों ने स्योहारा को सौंपा। उन्होंने मांग की क्षेत्र के किसानों को इस बीमारी से बचने के लिए टीकाकरण कराया जाए और किसानों के गन्ना सट्टे संबंधित जो त्रुटियां हैं उनको जल्द दूर किया जाए। सभा को संबोधित करते हुए चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत ने कहा जिस विभाग के अधिकारी किसानों के काम में लापरवाही करेंगे उनको दफ्तरों में बैठने नहीं दिया जाएगा।
साथ ही 12 सितंबर को धामपुर तहसील में होने वाली महापंचायत में अधिक से अधिक संख्या में भाग लेने की किसानों से अपील की।
इस अवसर पर गजराम सिंह, यशपाल सिंह, हरिओम यादव, अवनीश कुमार, अमित चौधरी, मुकेश फौजी , बबलू सिंह, महेश यादव, करण जाटव, नरेंद्र चौहान, योगेंद्र सिंह, सुखबीर सिंह आदि मौजूद रहे।

उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन पर ध्यान दें किसान- डीएम

डीएम ने की किसानों से उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन पर चर्चा। किसानों ने भी दिये महत्वपूर्ण सुझाव। कृषि विकास में पीएनबी अपनी भागीदारी अवश्य सुनिश्चित करेगासर्किल हेड संजीव मक्कड़

बिजनौर। जनपद के अग्रणी/प्रगतिशील एवं नवोन्मेशी कार्य कर रहे कृषकों एवं कृषक उत्पादक संगठनों के साथ परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन जिलाधकारी उमेश मिश्रा की अध्यक्षता में किया गया। परिचर्चा कार्यक्रम में विभिन्न किसानों द्वारा किए जा रहे नवोन्मेशी कार्य के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई, साथ ही यह भी अवगत कराया गया कि हमारे द्वारा तैयार उत्पादों के विपणन में समस्याएं आ रही है और व्यक्तिगत रूप से उत्पादक किसान उत्पादों की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग एवं विपणन करने में सक्षम नहीं है।

कार्यक्रम के दौरान किसानों द्वारा सुझाव दिया गया कि सभी नवोन्मेशी कार्य किसान एक प्लेटफार्म पर आकर आपसी सहयोग एवं समन्वय से तैयार उत्पादों की वैल्यू एडिशन प्रोसेसिंग ग्रेडिंग पैकेजिंग ब्रांडिंग आदि तकनीक को अपनाकर एक दूसरे के उत्पादों का प्रचार प्रसार करते हुए मांग जनरेट करें तथा आपूर्ति एवं विपणन में भी एक दूसरे का सहयोग करें। जिलाधिकारी ने समस्त उपस्थित किसान भाइयों से आह्वान किया कि उपरोक्त समस्या का समाधान क्लस्टर अथवा सामूहिक खेती है और जब हमारे पास कोई भी उत्पाद अधिक मात्रा में होगा तो खरीददार स्वयं हमारे पास आएंगे और दर निर्धारण की हमारी शक्ति भी बढ़ेगी। आप यदि अपने उत्पादों को सीधे ना भेज कर उसकी प्रोसेसिंग व वैल्यू एडिशन करें और साथ ही उसकी अच्छी पैकेजिंग व ब्रांडिंग विपणन करेंगे तो निश्चित रूप से हमें अच्छी व लाभकारी कीमत प्राप्त होगी, परंतु इसके लिए आवश्यक है कि किसानों को एकत्रित होकर क्लस्टर अप्रोच के माध्यम से बड़े क्षेत्र में उत्पाद विशेष का उत्पादन करते हुए इसकी प्रोसेसिंग एवं वैल्यू एडिशन की आधारभूत सुविधाओं को विकसित करने की आवश्यकता है। इसके लिए जो भी आर्थिक मदद अथवा ऋण उपलब्ध कराने की आवश्यकता होगी उसके लिए जिला प्रशासन संबंधित विभाग हमेशा तैयार एवं तत्पर है।

परिचर्चा के दौरान यह भी निर्णय लिया गया कि जनपद में यहां की जलवायु मृदा एवं भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कृषि विकास हेतु क्लस्टर एवं फार्मिंग सिस्टम अप्रोच के आधार पर मॉडल तैयार करने हेतु नवोंमेशी कार्य कर रहे कृषकों की एक कोर कमेटी बनाई जाए, जिनके द्वारा नवोंमेशी कार्य कर रहे कृषकों का डाटा एकत्रित कर तदनुसार जनपद के लिए उपयुक्त मॉडल एवं आवश्यक सुविधाओं की रूपरेखा तैयार कर प्रस्तुत करेंगे।

परिचर्चा कार्यक्रम में पंजाब नेशनल बैंक के सर्किल हेड संजीव मक्कड़ द्वारा भी प्रतिभाग किया गया और आश्वस्त किया गया कि जनपद के कृषि विकास में बैंक अपनी भागीदारी अवश्य सुनिश्चित करेगा और किसानों की हर संभव मदद करने की कोशिश करेगा। कार्यक्रम में जिलाधिकारी द्वारा 30 किसानों को तोरिया बीज के मिनीकिट का नि:शुल्क वितरण भी किया गया।

कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक गिरीश चंद, जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र, जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ विजेंद्र सिंह, जिला गन्ना अधिकारी पीएन सिंह, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक वीके बंसल, जिला विकास प्रबंधक नाबार्ड, जिला परियोजना समन्वयक डास्प डॉ. कर्मवीर सिंह, कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ पिंटू कुमार, विषय वस्तु विशेषज्ञ योगेंद्र पाल सिंह योगी सहित जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से लगभग 200 प्रगतिशील कृषक व कृषक उत्पादक संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

सोलर पम्प स्थापना को धनराशि जमा कराने हेतु नहीं किया जाता कोई फोन- उप कृषि निदेशक

उप कृषि निदेशक ने चेताया जालसाजों से बचे किसान। सोलर पम्प स्थापना हेतु धनराशि जमा कराने हेतु नहीं किया जाता कोई फोन

बिजनौर। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र ने जनपद के समस्त किसान भाइयों को सचेत व सूचित करते हुए बताया कि प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पी०एम०-कुसुम) योजनान्तर्गत कृषि विभाग से सोलर पम्प स्थापना हेतु अभिलेख धनराशि बैंक में जमा कराने के सम्बन्ध में कोई फोन नहीं किया जाता है। प्रकाश में आया है कि कुछ जालसाज संस्था/व्यक्तियों द्वारा कृषकों को फोन करके सोलर पम्प स्थापना के सम्बन्ध में कृषक के अभिलेख/धनराशि अपने बैंक खाते में जमा कराने के सम्बन्ध में फर्जी कॉल की जा रही है। उन्होंने कहा कि यदि धनराशि जमा कराने या अभिलेख लेने के संबंध में किसी किसान भाई के पास कोई फोन आता है, तो वह उसके द्वारा बताये गये बैंक खाता सं० में कोई धनराशि जमा न करें और न ही अपना कोई अभिलेख दें। यदि कोई किसान भाई किसी फर्जी कॉल पर सोलर पम्प के सम्बन्ध में अपने अभिलेख या धनाशि जमा करते हैं, तो उनको आर्थिक हानि हो सकती है, जिसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे। कृषि विभाग की इसमें कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

खरीफ उत्पादकता गोष्ठी में लाभान्वित हुए सैकड़ों किसान

सफलतापूर्वक आयोजित हुई खरीफ उत्पादकता गोष्ठी, अनेक किसान हुए लाभान्वित

मेले में कृषि योजनओं, निवेशों, फसल बचाव व कृषि की दी गई नवीनतम जानकारी 

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा की अध्यक्षता में जनपद स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी 2022 एवं नेशनल मिशन ऑन एडिविल ऑयल (ऑयल सीड्स) योजनान्तर्गत खरीफ तिलहन किसान मेले का आयोजन कॉकरान वाटिका, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में किया गया।

कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र सहित कृषि व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी व लगभग 800 कृषकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। गोष्ठी का संचालन अपर जिला कृषि अधिकारी हरज्ञान सिंह द्वारा किया गया।
मुख्य विकास अधिकारी द्वारा किसान मेला/गोष्ठी का फीता काटकर शुभारम्भ एवं दीप प्रज्जवलित किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का निरीक्षण किया। निरिक्षण के समय कृषि विभाग द्वारा लगाये गये स्टाल पर देय अनुदान के सम्बन्ध में उन्होंने जानकारी भी प्राप्त की।

इस अवसर पर उन्होंने निर्देश दिये कि जिन कृषकों द्वारा जैविक विधि से अचार एवं अन्य उत्पाद तैयार किये जा रहे हैं, उन उत्पादों को एफएसएसएआई से प्रमाणित कराया जाये ताकि उत्पाद की गुणवत्ता निर्धारित हो सके। इसके साथ ही महिला समूह द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादों की पैकेजिंग की गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु निर्देशित किया। निरीक्षण के समय उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये कि महिला समूह/एफपीओ एवं डास्प द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादकों के व्यापक प्रचार प्रसार कराने हेतु जनपद में स्थित शॉपिंग मॉल एवं साप्ताहिक बाजारों में जैविक उत्पादकों को रखवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

मुख्य विकास अधिकारी बिजनौर द्वारा अपने सम्बोधन में जैविक खेती पर जोर देते हुए गोष्ठी में उपस्थित कृषकों से अपेक्षा की गई कि किसान अधिक से अधिक जैविक खेती कर अपनी आय में उत्तरोतर वृद्धि कर सकते हैं। साथ ही फसल अवशेष के सम्बन्ध में उपस्थित कृषकों को सलाह दी गई कि आप अपनी फसल से प्राप्त भूसे को सुरक्षित रखें ताकि गोशालाओं में पर्याप्त मात्रा में भूसे की उपलब्धता हो सके तथा फसल अवशेष को न जलाकर इकट्ठा कर डी-कम्पोज कर जैविक खाद का उत्पादन करें। इनके द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को निःशुल्क उर्द बीज मिनीकिट का वितरण किया गया।

जिला कृषि अधिकारी बिजनौर डा0 अवधेश मि़श्र द्वारा कृषि विभाग में संचालित योजनाओं में देय अनुदान के विषय में विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। जिला कृषि अधिकारी द्वारा कृषकों को कृषि निवेशों की उपलब्धता के विषय में विस्तृत जानकारी दी गई। जिला कृषि रक्षा अधिकारी मनोज रावत ने मुरादाबाद में स्थापित आईपीएम लैब द्वारा तैयार किये जा रहे ट्राइकोडर्मा हारजियेनम एवं ब्यूवेरिया बेसियाना के विषय में बताया गया कि जैविक खेती के उत्पादन बढ़ाने हेतु कृषकों को अनुदान पर उपलब्ध कराये जाते हैं तथा 75 प्रतिशत देय अनुदान की धनराशि का भुगतान सीधे कृषक के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजी जाती है। उनके द्वारा फसलों में लगने वाले कीट-रोग से बचाव एवं उपचार के विषय में कृषकों को जानकारी दी गई।
कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को कृषि की नवीनतम जानकारी यथा मशरूम की खेती, खरीफ फसलों में लगने वाले कीट एवं रोग से बचाव आदि के विषय में विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी तथा कृषकों को कृषि वैज्ञानिकों द्वारा अपने मोबाइल नं0 नोट कराये गये। कृषकों का आश्वस्त किया गया कि किसी भी जानकारी के लिए आप हमसे सीधे सम्पर्क कर समस्या का समाधान पा सकते हैं। कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषि संवाद के माध्यम से किसान मेले/गोष्ठी में उठाई गयी समस्याओं का निराकरण मौके पर ही किया गया।

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा0 विजेन्द्र पाल सिंह द्वारा पशुओं में फैल रही बीमारी के रोकथाम एवं उपचार के विषय में कृषकों को विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द द्वारा विभाग में चल रही योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी गयी। पी0एम0 किसान सम्मान निधि योजनार्न्तत कृषकों को अवगत कराया गया कि जिन कृषकों द्वारा ई0-के0वाई0सी0 नहीं कराई गयी, वह तत्काल जनसेवा केन्द्र के माध्यम से ई-के0वाई0सी0 करायें।
अन्त में जिला कृषि अधिकारी डा0 अवधेश मिश्र द्वारा गोष्ठी में आये हुए अधिकारियों एवं कर्मचारियों/कृषकों का धन्यवाद देते हुए किसान मेला/गोष्ठी का समापन किया गया।

इस अवसर पर डा0 अवधेश मिश्र जिला कृषि अधिकारी, मनोज रावत जिला कृषि रक्षा अधिकारी, डा0 कर्मवीर सिंह यादव जिला परियोेजना समन्वयक डास्प, जितेन्द्र कुमार  जिला उद्यान अधिकारी, डा0 विजेन्द्र सिंह मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, हरज्ञान सिंह अपर जिला कृषि अधिकारी, डा0 के0के0 सिंह कृषि वैज्ञानिक, डा0 शिवांगी कृषि वैज्ञानिक, डा0 शकुन्तला गुप्ता प्रभारी अधिकारी कृषि विज्ञान केन्द्र नगीना, डा0 प्रदीप कुमार सिंह सहायक आयुक्त एवं सहायक निबन्धक बिजनौर, जिला गन्ना अधिकारी  मायापति यादव, एस0सी0डी0आई0 नजीबाबाद सहित अन्य अधिकारी व बडी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

अजय मिश्रा की बर्खास्तगी पर अड़े किसान, धरना शुरू

धरना स्थल पर ही चूल्हा चढ़ा कर पका लिए दाल भात। कलक्ट्रेट में ही जमा दिया लंगर। पत्रकार साथियों ने भी चखा भरपूर स्वाद।

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन ने लखीमपुर खीरी प्रकरण को लेकर कलक्ट्रेट में धरना शुरू कर दिया है। जिलाध्यक्ष कुलदीप सिंह ने बताया कि केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने की मांग को लेकर जिला मुख्यालय पर किसान 72 घंटे तक धरना देंगे।

भाकियू जिलाध्यक्ष कुलदीप सिंह और मंडल अध्यक्ष बाबूराम तोमर ने बताया कि राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत के नेतृत्व में केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने व किसानों के मुकदमे वापस लेने सहित अन्य मांगों को लेकर लखीमपुर खीरी में धरना चल रहा है।

बाबूराम तोमर ने बताया कि राकेश टिकैत के निर्देश पर सभी जिला मुख्यालयों पर 72 घंटे का धरना शुरु हो गया है। इस कड़ी में कलक्ट्रेट बिजनौर में भी भाकियू के बैनर तले किसानों का धरना शुरू हो गया है।

इस दौरान वीर सिंह डबास, विरेन्द्र सिंह बाठ, हरिओम यादव, संदीप कुमार, अवनीश, दिनेश कुमार, राजेन्द्र सिंह, संजीव कुमार, वेददत्त शर्मा, धर्मेन्द्र कुमार, नरदेव सिंह, कुमार, विरेन्द्र सिंह, दुष्यंत राणा, डा. विजय सिंह आदि मौजूद रहे। किसानों का जज़्बा इस कदर बुलंद है कि धरना स्थल पर ही चूल्हा चढ़ाकर दाल, सब्जी और चावल बना लिए और पंगत में बैठकर प्रेमपूर्वक गृहण किया। इस दौरान पत्रकार साथियों ने भी स्वाद चखा।

किसान मजदूर संगठन ने सौंपा एसडीएम को ज्ञापन

बिजनौर। किसान मजदूर संगठन ने विभिन्न समस्याओं को लेकर तहसील सदर में एसडीएम मोहित कुमार को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन में कहा कि 1947 से लेकर आज तक हम किसानों ने दिन रात मेहनत कर देश के भंडार भरे एवं खाद्यान की पूर्ति ही नहीं बल्कि खपत से ज्यादा पैदावार की, पर अफसोस है कि इन 75 सालों में किसान की ऐसी दुर्दशा हो गई कि किसान के बच्चे आज खेती नहीं करना चाहते, रोजगार मिल नहीं रहा तो जीविका ना होने के कारण बहुत किसानों के बच्चों का विवाह भी नहीं हो रहा है।

यह भी कहा कि आजादी के बाद जहां हमने हर घर में चाय, मिठाई आदि के माध्यम से मिठास पहुंचाई वहीं हम गन्ना किसान सही दाम एवं समय पर दाम ना मिलने के कारण घाटे की खेती कर रहे हैं और तकरीबन सभी कर्ज में डूबे हुए हैं। ज्ञापन में कहा गया कि जब उत्तर प्रदेश सरकार एवं केंद्र सरकार, राज्य सरकार धारा गन्ना मूल्य तय करने का अधिकार इलाहबाद उच्च न्यायालय में हार गई थी और उच्चतम न्यायालय ने इलाहबाद हाईकोर्ट के आदेश पर स्टे नहीं दिया तब राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के संयोजक  सरदार वीएम सिंह हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट दोनों से जीते उसी का परिणाम है कि आज आपकी सरकार को गन्ना मूल्य तय करने का अधिकार मिला। उन्होंने मुख्यमंत्री से पेराई सत्र 2022 2023 का गन्ना मूल्य कम से कम 450 रुपये प्रति क्विंटल घोषित करने और 2011 से अटका हुआ ब्याज का पैसा चीनी मिलों से दिलवाने की मांग की।

ज्ञापन देने वालों में  विनोद कुमार उर्फ बि‌ट्टू, गौरव कुमार, राजीव कुमार, हरेन्द्र सिंह,वअतुल कुमार, गिरेंद्र सिंह, अमर सिंह, शूरवीर सिंह, सुरेन्द्र कुमार, प्रेम सिंह, वीरेंद्र सिंह, महेन्द्र सिंह, सुखवीर सिंह, गोविन्द, भूपेन्द्र सिंह आदि शामिल रहे।

…तो पीएम किसान सम्मान निधि होगी बंद

16 से 23 अगस्त तक ई-केवाईसी के लिए चलेगा डोर टू डोर अभियान
1.04 लाख किसानों ने नहीं कराई ई- केवाईसी
4.50 लाख किसानों ने कराया था पंजीकरण। 25 अगस्त तक ई- केवाईसी न कराई तो पीएम किसान सम्मान निधि होगी बंद

बिजनौर। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि पाने वाले 1,04,662 किसानों ने अभी तक ई- केवाईसी नहीं कराई है। 25 अगस्त तक ई- केवाईसी न कराने वाले लाभार्थियों की सम्मान निधि बंद कर दी जाएगी। कृषि विभाग द्वारा ई-केवाईसी के लिये 16 से 23 अगस्त तक डोर टू डोर अभियान चलाया जाएगा। बिजनौर जिले में पोर्टल पर 4,50,904 किसानों ने पंजीकरण कराया है। पंजीकृत कृषकों में से 3,77,103 किसानों को योजना का लाभ मिल रहा है। 3,77,103 लाभग्राही कृषकों में से 3,69,223 कृषक आधार प्रमाणित है। योजना का लाभ लेने में हो रहे फर्जीवाड़े को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने जनवरी 2022 में एक नई व्यवस्था के तहत किसानों को पोर्टल पर ई-केवाईसी कराने की सुविधा उपलब्ध कराई थी। इसके अंतर्गत किसानों को नजदीकी जन सेवा केंद्र पर जाकर ई- केवाईसी के लिए बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण कराना था। किसानों की भलाई को देखते हुए भारत सरकार द्वारा 11वीं किश्त बिना ई-केवाईसी के खातों में स्थानांतरित कर दी गई थी। इस बार 25 अगस्त तक ई-केवाईसी न कराने वाले कृषकों की ई-केवाईसी बंद कर दी जाएगी। अपात्र पाये जाने की दशा में उनके खातों में गई किश्तों की वसूली भी प्रारंभ कर दी जाएगी

"प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत लाभ पाने के लिए ई-केवाईसी अनिवार्य है। अभी तक लगभग एक लाख पांच हजार किसानों ने ई- केवाईसी नहीं कराई है। 16 अगस्त से डोर टू डोर अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद भी ई- केवाईसी न कराने वालों की सम्मान निधि बंद कर दी जाएगी"। कृषक भाइयों से अनुरोध है कि वह प्रत्येक दशा में 25 अगस्त तक ई- केवाईसी करवा लें। गिरीश चन्द्र, उप कृषि निदेशक, बिजनौर

सरकार पर साधा बिजनौर पहुंचे राकेश टिकैत ने निशाना

बिजनौर पहुंचे राकेश टिकैत ने साधा सरकार पर निशाना। कलक्ट्रेट में किसानों ने किया अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भारी पुलिस बल रहा तैनात

बिजनौर। कलक्ट्रेट में शनिवार को सैकड़ों की तादाद में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता ट्रैक्टर ट्राली से पहुंचे और महापंचायत कर अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया। बिजनौर पहुंचे राकेश टिकैत धरने में शामिल हुए और कहा कि किसानों का शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ सरकार किसानों का बिल माफ करने की बात कह रही है तो वहीं किसानों के ट्यूबवेलों पर बिजली के मीटर लगा कर अवैध वसूली की जा रही है, यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। किसानों का गन्ना भुगतान भी अभी तक नहीं किया गया है। इसके साथ ही अन्य कई मांगों को लेकर कलक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन किया।

गौरतलब है कि किसानों ने कुछ दिन पूर्व अधिशासी अभियंता खंड कार्यालय बिजनौर में अपने ट्यूबवेल पर लगे मीटर उखाड़ कर जमा कर दिए थे
और समाधान ना होने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी थी, जिसका असर आज देखने को मिला। सैकड़ों की तादाद में किसान बिजनौर कलक्ट्रेट पहुंचे और अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया।

तपराज सिंह की अपील: परिवार के सबसे छोटे सदस्य से ही फहरवाएं राष्ट्रीय ध्वज

आजादी का अमृत महोत्सव। परिवार के सबसे छोटे सदस्य से फहरवाएं राष्ट्रीय ध्वज: तपराज सिंहसदस्यों को अपने घर पर फहराने हेतु प्रदान किए 135 राष्ट्रीय ध्वज।

बिजनौर। क्षेत्र पंचायत नजीबाबाद के ब्लाक प्रमुख तपराज सिंह देशवाल ने राष्ट्रीय ध्वज को परिवार के सबसे छोटे सदस्य से ही फहराने की अपील की है। ब्लाक कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने उपस्थित सदस्यों को अपने घर पर फहराने हेतु 135 राष्ट्रीय ध्वज प्रदान किए।

ब्लॉक में आयोजित बैठक में क्षेत्र पंचायत प्रमुख तपराज सिंह ने सदस्यों को आजादी के अमृत महोत्सव के संबंध में विस्तार पूर्वक बताया। उन्होंने बताया कि हम सबको राष्ट्रीय ध्वज को परिवार के सबसे छोटे सदस्य के द्वारा फहराया जाना है, जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को भी आज़ादी के संघर्ष में तिरंगे के महत्व का एहसास हो। इस दौरान सदस्यों द्वारा क्षेत्र पंचायत की बैठक नहीं बुलाए जाने को गलत बताए जाने के साथ ही गांव में स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोई स्वास्थ्य शिविर नहीं लगाए जाने, पंचायत सचिवों के सचिवालय में नहीं बैठने, मनरेगा में फर्जी हाजिरी, टंकी स्थापना के कारण गांव की सड़कों के नष्ट होने आदि कई मुद्दों पर गहरी नाराजगी व्यक्त की गई। इस पर ब्लाक प्रमुख तपराज सिंह देशवाल ने शीघ्र अधिकारियों से वार्ता कर समाधान निकालने का आश्वासन दिया।

बैठक में क्षेत्र पंचायत सदस्य ब्रजराज सिंह, कुलदीप ठाकुर, जिलाध्यक्ष पवन कुमार, अंकित गिरी, घसीटा सिंह, पहलवान संजीव कुमार, ललिता, महेंद्र सिंह, दिलशाद अहमद, लातूर सिंह, अंकुर देशवाल आदि उपस्थित रहे।

13 अगस्त की महापंचायत के लिए भाकियू ने झोंकी ताकत

13 अगस्त की महापंचायत के लिए भाकियू ने तैयार की रणनीति। बर्दाश्त नहीं किया जायेगा किसान, मजदूर व युवाओं का शोषण। महापंचायत की सफलता के लिए पंचायतवर जिम्मेदारियां बांटी

बिजनौर। भाकियू पदाधिकारियों की आपात पंचायत में  किसान, मजदूरों और युवाओं पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ 13 अगस्त को किसान महापंचायत की सफलता के लिए रणनीति बनाई गई। इसके लिए न्याय पंचायतवर जिम्मेदारियां बांटी गई।
जिला मुख्यालय स्थित राज मिलन बैंक्वेट हॉल में शनिवार को भाकियू जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने ब्लॉक, तहसील व जिले के मंडल से राष्ट्रीय स्तर के सभी पदाधिकारियों की आपात पंचायत बुलाई। इस दौरान 13 अगस्त को बिजनौर में होने वाली भाकियू की किसान महापंचायत की सफलता के लिए रणनीति तैयार की गई। संगठन में न्याय पंचायत अध्यक्ष से ग्राम पंचायत अध्यक्ष तक को सक्रिय रूप से महापंचायत में किसानों को आने के लिए किसान मजदूर के साथ देश के नौजवान के साथ किए अनेक तरीके से किए जा रहे शोषण के तरीकों को समझाने की ज़िम्मेदारी सौपी गई।

जिले के सभी वरिष्ठ भाकियू पदाधिकारियों की पंचायत को संबोधित करते हुए मंडल अध्यक्ष बाबूराम तोमर ने कहा कि भाकियू के राष्ट्रीय आह्वान के तहत देश के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ करने वाली सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में 7 अगस्त से 14 अगस्त तक अग्निपथ विरोध सप्ताह के रूप में मनाया जा रहा हैं, जिसमे युवाओं के लिए सेना में भर्ती की पुरानी प्रक्रिया को सुचारू करने व पुलिस के जवानों के साथ देश की सेवा व रक्षा करने में लगे सभी जवानों को पेंशन दिए जाने के पक्ष में आंदोलन चलाया जायेगा। बाबूराम तोमर ने कहा कि देश में किसानों की बिना राय मशविरे के तीन काले कृषि कानून तथा नया बिजली संशोधन बिल 2022 लाया जा रहा है। अगर किसान हित के विपरीत बिल आया तो टिकैत साहब के नेतृत्व में इस बिल के खिलाफ भी आंदोलन चलाया जायेगा। इसके साथ जिले के किसानों का अभी तक गन्ना भुगतान न कराने, मुख्यमंत्री की घोषणा के 6 साल बाद भी नजीबाबाद मिल की क्षमता वृद्धि न किए जाने और जिले में बन रही नूरपुर मिल में अड़चन लगा रहे लोगों के खिलाफ़ लड़ाई लड़ने के लिए 13 अगस्त को बिजनौर कलक्ट्रेट में किसान महापंचायत कर सरकार व प्रशासन को मुंह तोड़ जवाब दिया जायेगा।
जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने कहा कि बिजनौर जिले के किसान हजारों ट्रैक्टरों के साथ महापंचायत में पहुंचकर सरकार को किसान की ताकत दिखाएंगे। किसान महापंचायत में मुख्य अतिथि के रूप में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत आयेंगे और किसान और मजदूर के साथ युवाओं के भविष्य के लिए रणनीति तैयार करेंगे।  उन्होंने कहा कि जिले में प्रशासन अगर गुंडे माफियाओं का राज चलाना चाहता हैं तो इसे भाकियू बर्दाश्त नहीं करेगी।

पूर्व डिप्टी एसपी एमपी सिंह की अध्यक्षता व वीरेंद्र सिंह के संचालन में आयोजित पंचायत में प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, जिला संरक्षक मास्टर महेंद्र प्रधान, विजयपाल सिंह, युवा जिला अध्यक्ष सरदार वरिंदर सिंह बाठ, जितेंद्र पहलवान, विकास कुमार, वीर सिंह डबास, मदन राणा, बलजीत सिंह, अवनीश कुमार, वीरेश राणा, गजेंद्र टिकैत, महावीर सिंह आदि उपस्थित रहे।

संयुक्त गन्ना आयुक्त ने किया सर्वे सट्टा प्रदर्शन कार्य का निरीक्षण

बिजनौर पहुंचे संयुक्त गन्ना आयुक्त ने किया सर्वे सट्टा प्रदर्शन कार्य का निरीक्षण
बिजनौर। संयुक्त गन्ना आयुक्त (समितियां) उत्तर प्रदेश/नोडल अधिकारी मंडल मुरादाबाद के द्वारा गन्ना विकास परिषद धामपुर/शुगर मिल धामपुर के अन्तर्गत ग्राम हैजरी में चल रहे सर्वे सट्टा प्रदर्शन कार्य का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित सैकड़ों कृषक बंधुओं को ऑनलाइन घोषणा पत्र भरने सम्बंधी प्रोजेक्टर के माध्यम से गन्ना पर्यवेक्षक के माध्यम से ट्रेनिंग दी गई।

कार्यक्रम में जनपद के गन्ना विकास परिषद धामपुर, चांदपुर एवं स्योहारा से आई हुई 10 महिला स्वयं सहायता समूह के पदाधिकारियों ने योजना के सम्बन्ध अपने अनुभव शेयर किए। नोडल अधिकारी ने शुगर मिल द्वारा उपलब्ध कराए गए। सभी समूह को आरओ, सेनेटरी पैड बनाने की मशीन, चश्मे व अन्य उपहार आदि प्रोत्साहन स्वरूप वितरित किए गए। कार्यक्रम में शेयर प्रमाण पत्र प्राप्त करने वाले कृषक उसे प्रदर्शित करते हुए खुशहाल दिखे। कार्यक्रम में उपस्थित कृषकों के समूह को संबोधित करते हुए नोडल अधिकारी ने 63 कालम पर सर्वे सट्टा प्रदर्शन, स्मार्ट गन्ना किसान, ईआरपी, गाटा वार विवरण आदि के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए कृषकों को संबोधित किया। साथ में उप गन्ना आयुक्त, जिला गन्ना अधिकारी बिजनौर, ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक धामपुर, सचिव गन्ना समिति धामपुर उपस्थित रहे।

नलकूपों से मीटर उखाड़ कर विद्युत विभाग में जमा कराए

नलकूपों से विद्युत मीटर उखाड़ कर किसानों ने विभाग में जमा कराए। भाकियू टिकैत ने शुरू की बिजली विभाग से आरपार की लड़ाई।

बिजनौर। भाकियू टिकैत ने बिजली विभाग के शोषण से किसानों को मुक्ति दिलाने की मुहिम छेड़ दी है। गुरुवार को ट्यूबवेलों पर लगे मीटर उखाड़ कर जिले के सभी अधिशासी अभियंता कार्यालय में जमा करा अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू कर दिया गया।

किसानों की अनेक गंभीर समस्याओं के समाधान के लिए भाकियू के जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह, मंडल अध्यक्ष मुरादाबाद बाबूराम तोमर, प्रदेश महासचिव ठाकुर रामौतार सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, ब्लॉक अध्यक्ष मोहम्मदपुर देवमल डॉ विजय चौधरी, ब्लॉक अध्यक्ष किरतपुर देवदत्त शर्मा के नेतृत्व में भाकियू पदाधिकारियों ने पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार अधिशासी अभियंता खंड कार्यालय बिजनौर व किरतपुर कार्यालय पर प्रदर्शन कर किसानों के निजी नलकूप पर लगे मीटर उखाड़ कर जमा करा दिये।

भाकियू मंडल अध्यक्ष बाबूराम तोमर व जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने कहा कि सरकार के बिना आदेश के ही बिजली विभाग के अधिकारियो ने किसानों के निजी नलकूपों पर मीटर लगाकर बिल उगाही शुरु करके किसानों से लूट शुरू कर दी थी। आंदोलन के दबाव में विद्युत अधीक्षण अभियंता बिजनौर निरंजन कुमार सिंह कह रहे हैं कि किसानों से मीटर से बिल नहीं लिया जाएगा जबकि ये आदेश सरकार ने 12 मई 2021 को किया था। इसलिए किसानों को लूटने वाले अधिकारी से किसान को डबल रिकवरी करके पैसे वापस कराए जाएं। एक दिन पूर्व ही भाकियू के मंडल अध्यक्ष बाबूराम तोमर, जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने अधीक्षण अभियंता निरंजन कुमार सिंह से कहा था कि यूपी की योगी सरकार किसानों का बिल आधा करने के आदेश कर चुकी है तो फिर मीटर लगवा कर किसान अपने नलकूप का बिल 4 गुना क्यों जमा करेगा। उन्होंने कहा कि सरकार को किसानों के नलकूप का बिजली बिल फ्री करना चाहिए क्योंकि किसान जमीन के नीचे से पानी निकाल कर जमीन के ऊपर छोड़कर सिर्फ राष्ट्रहित में देश के लिए अन्न तैयार करता है तो फिर किसान बिजली का बिल क्यों दें।
उन्होंने कहा कि सरकार और अधिकारी अपने इरादे साफ करें और किसानों को कमजोर समझना छोड़ दें। अगर किसान के साथ छेड़छाड़ की जाएगी तो किसान मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार बैठा है।

जिले के सभी आठों विद्युत सब डिवीजन पर जमा कराए मीटर- जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने बताया कि अधीक्षण अभियंता कार्यालय बिजनौर व धामपुर के अंतर्गत पड़ने वाले जिले के सभी आठों विद्युत सब डिवीजन पर भाकियू पदाधिकारियों के नेतृत्व में जिले के किसानों ने अपने ट्यूबवेल पर लगे सैकड़ों विद्युत मीटर उखाड़ कर जमा कर दिये हैं। किरतपुर और बिजनौर में 85 मीटर जमा कराए गए हैं और ये क्रम निरंतर चालू रहेगा। उन्होंने कहा कि जिले का कोई भी किसान किसी भी कार्यालय पर अगर अपना मीटर उखाड़ कर जमा करने जाए तो कोई अधिकारी आनाकानी न करे। अगर किसी किसान को परेशान किया गया तो उस अधिकारी को कुर्सी पर नहीं बैठने दिया जायेगा।

भाकियू के राष्ट्रीय सचिव धीर सिंह बालियान की अध्यक्षता व ब्लाक महासचिव मोहम्मदपुर देवमल पंकज सहरावत के संचालन में तहसील अध्यक्ष बिजनौर कोमन सिंह, जिला मीडिया प्रभारी संदीप त्यागी, जिला सचिव डालचंद प्रधान, बीरेंद्र सिंह, रिटायर्ड डिप्टी एसपी एमपी सिंह, दिनेश कुमार, गजेंद्र सिंह, वीर सिंह, पुष्पेंद्र ढाका एडवोकेट, संजीव कुमार, निपेंद्र सिंह, तपेंद्र सिंह, संदीप सिंह, मास्टर गिरिराज सिंह, मनप्रीत सिंह संधू, रवि शेखर तोमर, शुभम राणा, अनिल पंवार, अरुण नेता जी, जय सिंह, तेजपाल सिंह, अमनदीप सिंह, रोहित राणा, मोनू चौधरी, महावीर सिंह, शीशराम सिंह, सतेंद्र राठी आदि भाकियू पदाधिकारी मौजूद रहे।

तमाम बैरिकेटिंग पार कर किसानों ने कलक्ट्रेट घेर कर ही लिया दम

चौधरी दिगंबर सिंह का एलान, मांगें नहीं मानी तो अफसरों को चैन से नहीं बैठने देंगे।

बिजनौर। कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को रोकने की कोशिश की। इसके बावजूद कलक्ट्रेट पहुंचे भाकियू कार्यकर्ताओं ने अपना दमखम दिखा ही डाला।

भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने चेतावनी दी है कि यदि  किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो जिले के अंदर अफसरों को चैन से नहीं बैठने दिया जाएगा। किसानों की समस्याओं का समाधान न होने पर भाकियू ने मंगलवार दोपहर कलक्ट्रेट का घेराव किया। युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने कहा कि जनपद की चीनी मिलें नहीं चाहती कि कोई नई मिल बने। इसी के चलते नूरपुर में प्रस्तावित चीनी मिल का विरोध किया जा रहा है। अधिकारियों के आश्वासन के बावजूद मनमाना बिजली का बिल वसूला जा रहा है। विद्युत विभाग के अधिकारी वीडियो बनाकर किसानों को डराते और धमकाते हैं। नमामि गंगे अभियान की शुरुआत बिजनौर से की गई इसके बावजूद गंगा वे एक्सप्रेस मेरठ से निकाला जा रहा है और बिजनौर को इससे अछूता रखा जा रहा है। जब अभियानों की शुरुआत बिजनौर से की जाती है तो जिन योजनाओं से जनपद वासियों को लाभ मिले उन योजनाओं को भी बिजनौर से अछूता नहीं रखना चाहिए। बिलाई शुगर मिल के बारे में हर किसी को पता है लेकिन तीन अन्य और भी मिले हैं, जो किसानों का भुगतान नहीं कर रही हैं।  किसानों का लगातार शोषण किया जा रहा है और बार-बार फरियाद लगाने के बावजूद अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है। सभा में कई अन्य वक्ताओं ने भी किसानों की समस्याओं को उठाया और समस्याओं का समाधान ना करने पर अफसरों को चेतावनी दी।

इस मौके पर धर्मेंद्र मलिक, दीपक कुमार, राकेश प्रधान, जितेंद्र सिंह, अंकित, तेजवीर, धर्मेंद्र,  राजवीर सिंह, मांगेराम त्यागी, राजेश सिंह मलिक संरक्षक, अरविंद राजपूत, वीर सिंह, तेजवीर सिंह, अंकित ग्रेवाल, कुलबीर सिंह, समर पाल सिंह, सरदार इकबाल सिंह आदि मौजूद रहे।

इससे पहले कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को रोकने की भरपूर कोशिश की। इसके बावजूद किसानों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर ही दम लिया।

रंग लाई सीओ सिटी की कोशिश! बताया गया है कि सीओ सिटी अनिल चौधरी ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से इस संबंध में वार्ता की। अधीक्षण अभियंता विद्युत निरंजन कुमार सिंह ने दावा किया कि नलकूपों की बिलिंग अनमीटर्ड निजी नलकूप संयोजनों के लिए निर्धारित दर पर ही की जायेगी, बिल द्वारा जमा की गई धनराशि समायोजित की जायेगी।

तमाम बैरिकेटिंग पार कर किसानों ने घेर ही लिया कलक्ट्रेट

चौधरी दिगंबर सिंह का एलान, मांगें नहीं मानी तो अफसरों को चैन से नहीं बैठने देंगे।

बिजनौर। कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को रोकने की कोशिश की। इसके बावजूद कलक्ट्रेट पहुंचे भाकियू कार्यकर्ताओं ने अपना दमखम दिखा ही डाला।

भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने चेतावनी दी है कि यदि  किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो जिले के अंदर अफसरों को चैन से नहीं बैठने दिया जाएगा। किसानों की समस्याओं का समाधान न होने पर भाकियू ने मंगलवार दोपहर कलक्ट्रेट का घेराव किया। युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने कहा कि जनपद की चीनी मिलें नहीं चाहती कि कोई नई मिल बने। इसी के चलते नूरपुर में प्रस्तावित चीनी मिल का विरोध किया जा रहा है। किसानों के 24:00 पर मीटर लगा दिए गए और अधिकारियों के आश्वासन के बावजूद मनमाना बिजली का बिल वसूला जा रहा है। विद्युत विभाग के अधिकारी किसानों के ट्रायल पर जाते हैं और वीडियो बनाकर किसानों को डराते और धमकाते हैं। नमामि गंगे अभियान की शुरुआत बिजनौर से की गई इसके बावजूद गंगा वे एक्सप्रेस मेरठ से निकाला जा रहा है और बिजनौर को इससे अछूता रखा जा रहा है। जब अभियानों की शुरुआत बिजनौर से की जाती है तो जिन योजनाओं से जनपद वासियों को लाभ मिले उन योजनाओं को भी बिजनौर से अछूता नहीं रखना चाहिए। बिलाई शुगर मिल के बारे में हर किसी को पता है लेकिन तीन अन्य और भी मिले हैं, जो किसानों का भुगतान नहीं कर रही हैं।  किसानों का लगातार शोषण किया जा रहा है और बार-बार फरियाद लगाने के बावजूद अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है। सभा में कई अन्य वक्ताओं ने भी किसानों की समस्याओं को उठाया और समस्याओं का समाधान ना करने पर अफसरों को चेतावनी दी। इस मौके पर धर्मेंद्र मलिक, दीपक कुमार, राकेश प्रधान, जितेंद्र सिंह, अंकित, तेजवीर, धर्मेंद्र,  राजवीर सिंह, मांगेराम त्यागी, राजेश सिंह मलिक संरक्षक, अरविंद राजपूत, वीर सिंह, तेजवीर सिंह, अंकित ग्रेवाल, कुलबीर सिंह, समर पाल सिंह, सरदार इकबाल सिंह
आदि मौजूद रहे।

इससे पहले कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को पुलिस ने रोकने की कोशिश की। इसके बावजूद किसानों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर ही दम लिया।

बताया गया है कि सीओ सिटी अनिल चौधरी ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से इस संबंध में वार्ता की। अधीक्षण अभियंता विद्युत निरंजन कुमार सिंह ने दावा किया कि नलकूपों की बिलिंग अनमीटर्ड निजी नलकूप संयोजनों के लिए निर्धारित दर पर ही की जायेगी, बिल द्वारा जमा की गई धनराशि समायोजित की जायेगी।

लखनऊ पहुंच कर किसानों की समस्याएं विद्युत विभाग के एमडी को बताईं

लखनऊ पहुंच कर किसानों की समस्याएं विद्युत विभाग के एमडी को बताईं

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के प्रतिनिधि मण्डल ने पंकज कुमार, प्रबन्ध निदेशक उ0प्र0 पावर कार्पोरेशन लि0 से शक्ति भवन, लखनऊ में मुलाकात कर किसानों की समस्याओं से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि निजी नलकूपों में मीटर लगाये जाने से किसानों में रोष है, जिससे सरकार द्वारा घोषणा पत्र में किसानों को फ्री बिजली दिये जाने के वादे का भी मजाक है। सामान्य योजना के कनेक्शन का सामान निर्गत किये जाने, विद्युत उपकेन्द्रों एवं ट्रांसफार्मर की क्षमता वृद्धि, जर्जर तार बदलने, गलत बिजली बिल दिये जाने आदि समस्याओं पर चर्चा की। प्रबन्ध निदेशक ने बिजली विभाग के विशेष सचिव आदेश संख्या 812/24-1-21-1307/2020 दिनांक 12 मई 2021 का हवाला देते हुए यह आश्वासन दिया कि एलएमवी 5 के अन्तर्गत निजी नलकूपों के संयोजनों की बिलिंग अनमीटर्ड  निर्धारित दरों पर ही की जायेगी। किसानों के भ्रम दूर करने के लिए सभी कंपनियों को आदेशित किया जायेगा। प्रदेश में जर्जर तार एवं क्षमता वृद्धि हेतु आगामी तीन माह में भारत सरकार की योजना के माध्यम से कार्य कराये जाने सुनिश्चित किये जायेंगे। किसानों के बिल पर निगरानी हेतु टीम का गठन किया जा रहा है। किसानों की सुविधा हेतु विभाग द्वारा जल्द ही कई छोटे-छोटे कदम उठाये जायेंगे प्रतिनिधि मण्डल में धर्मेन्द्र मलिक राष्ट्रीय प्रवक्ता, दिगम्बर सिंह युवा प्रदेश अध्यक्ष, उ0प्र0 शामिल रहे।

एमडी को दिये ज्ञापन में बताया गया कि उत्तरप्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में शेड्यूल के मुताबिक बिजली नहीं मिल पा रही है। अघोषित कटौती और फॉल्ट की समस्या बनी ही रहती है। हवा चलने से लाइन फॉल्ट आना, उपकरण खराब होना व् ट्रांसफार्मर में खराबी आना आम बात हो गई है और बिजली ट्रिपिंग किसानों की समस्या बनी रहती है। अगर सही ढंग से लाइनों का सुधार और ट्रांसफार्मर, बिजलीघर की क्षमता वृद्धि की जाए जिससे सप्लाई प्रभावित न हो।
उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों में किसानो द्वारा निजी नलकूप पर मीटर लगाने जाने को लेकर किसान आक्रोशित है। किसानों को आशंका है कि मीटर से किसानों पर बिजली बिल का अतिरिक्त भार पड़ने वाला है।
बिजली विभाग को यह स्पष्ट करना चाहिए कि खेती के लिए निजी नलकूप कनेक्शन पर मीटर लगवाने के बाद भी किसानों पर बिजली बिल का बोझ नहीं बढ़ेगा। किसानों को मीटर रीडिंग के हिसाब से बिजली बिल का भुगतान नहीं करना होगा, बल्कि पहले से निर्धारित बिल ही उनसे लिया जाएगा। मीटर रीडिंग के जरिये बिजली निगम गांवों में नलकूपों पर विद्युत खपत का आंकलन करेगा। बीजेपी के संकल्पपत्र के अनुसार उत्तर प्रदेश के किसानों को अगले 5 साल तक बिजली बिल का भुगतान नहीं करना होगा, इस पर भी सरकार को व्यवस्था करनी चाहिए।
उत्तर प्रदेश निजी नलकूप के नये बिलों में ग्रामीण मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर 2 रुपये प्रति यूनिट से घटकर 1 रुपये प्रति यूनिट व फिक्स चार्ज 70 रुपये प्रति हॉर्स पावर से घटकर 35 रुपये प्रति हॉर्स पावर की गयी थी। अनमीटर्ड कनेक्शन में फिक्स चार्ज 170 रुपये प्रति हॉर्स पावर की जगह 85 रुपये प्रति हॉर्स पावर होगा। किसानों को वाटर लेबिल अधिक गहरे में जाने के कारण बड़ा मोटर रखना पड़ रहा है, इसके लिए बोर के आधार पर प्रति हॉर्स पावर कनेक्शन स्वीकृत किया जा सकता है, ताकि किसान को उचित राहत मिल सके।
जन शिकायतों के प्रभावी निस्तारण एवं सरकारी कार्यक्रमों के असरदार क्रियान्वन के लिए सम्भव पोर्टल sambhav.up.gov.in के माध्यम से पंजीकृत होकर त्वरित निस्तारण का लाभ ग्रामीण जनता व् किसानों को नही मिल रहा है। किसानों को बिजली की समस्याओं के लिये दीर्घकालीन समाधान चाहिये। इसके लिए भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) ने समाधान की मांग की है।

  1. बिजली व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए ट्रांसफार्मरों की क्षमता वृद्धि की जाए। ताकि किसानों की बार-बार ट्रांसफार्मर जलने व् लो-वोल्टेज की वजह से नलकूप न चलने की समस्या का समाधान हो सके।
  2. विद्युत उपकेंद्रों की क्षमता बढ़ाने के साथ ही जर्जर लाइनों और जंग लगे विद्युत पोलों को बदला जाये। लंबी दूरी और बांस बल्ल्यिों के सहारे वाले कनेक्शनों पर पोल लगाए जाएं। विद्युत लाइनों के समीप से पेड़ हटाए जाये ताकि वे लाइनों पर न गिरें। निजी नलकूपों की लाइनों के जर्जर तार अविलंब बदले जाए। जर्जर लाइनों के टूटने से किसानों की फसल बर्बाद होती रहती है।
  3. किसानों को वाटर लेबिल अधिक गहरे में जाने के कारण बड़ा मोटर रखना पड़ रहा है, इसके लिए बोर के आधार पर प्रति हॉर्स पावर कनेक्शन स्वीकृत किया जाये अर्थात चार इंची बोरिंग तक किसानों को 7.5 एचपी व 6 इंच बोरिंग के नलकूप पर 10 हार्स पॉवर का कनेक्शन दिया जाये।
  4. नया कनेक्शन लेने, गलत बिल आना या बिना कनेक्शन बिल आने, एक नाम पर दो कनेक्शन का बिल आने पर किसानों की कठिनाइयों के हल का पारदर्शी व् शीघ्र हल की प्रणाली विकसित की जाये क्योकि नया कनेक्शन लेने व गलत बिल सही कराने से लेकर कनेक्शन देने के मामले में इंजीनियर बिजली ग्राहकों को महीनों इधर से उधर दौड़ाते है, इसलिए तय समय सीमा में समस्या का समाधान नहीं होने पर मुआवजा कानून (स्टैंडर्ड ऑफ परफॉर्मेंस रेगुलेशन, 2019) के तहत मुआवजा दिया जाये।
  5. विद्युत चोरी के प्रकरण में कृषि उपभोक्ता पर वैधानिक दायित्व राशि उचित व तर्क पूर्ण की जाये अर्थात देय अनुदानित दर से की जाये, ताकि कृषि उपभोक्ता उसे जमा कर सके, अन्यथा विवाद बना रहता है। सतर्कता जांच प्रतिवेदन का सहायक अभियंता के स्तर पर पूर्ण निस्तारण किया जाये।
  6. अधिभारित विद्युत उपकेंद्र से बाटकर बिजली सप्लाई की जा रही है।जिससे किसानों को निर्धारित अवधि के सापेक्ष आधी ही आपूर्ति होती है। इसके निवारण हेतु नए विद्युत उपकेंद्र बनाए जाए।
  7. सामान्य योजना के अन्तर्गत निर्गत किए गए निजी नलकूप के कनेक्शन का सामान उपलब्ध कराया जाय। सामान्य योजना के अन्तर्गत दी जाने वाली सब्सिडी में भी वृद्धि की जाये।

अब बिजलीघर को बिजली बेचेंगे किसान

कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से चयनित ग्रामों में होगी ग्रिड संयोजित सौर पावर प्लान्ट की स्थापना। यूपी नेडा-बिजनौर एवं प्रधानमंत्री कुसुम (कम्पोनेन्ट-ए) योजना के तहत होगा कार्य। चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में होगी बढा़ेत्तरी।

प्रतीकात्मक फोटो

बिजनौर। यूपी नेडा-बिजनौर एवं प्रधानमंत्री कुसुम (कम्पोनेन्ट-ए) योजना के अन्तर्गत ग्रिड संयोजित सौर पावर प्लान्ट की स्थापना चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से कृषकों / भूमिधरों को प्रात्साहित कराकर ई-निविदा राज्य के ई-प्रोक्योरमेंट की वेबसाइट पर दिनांक 27 जूलाई 2022 तक निविदा आमंत्रित की गयी है। खास बात यह है कि संबंधित किसान सौर ऊर्जा प्लांट से उत्पादित बिजली को ग्रिड में बेच सकेंगे। इस व्यवस्था से किसानों की आय में बढ़ोत्तरी होगी।

प्रतीकात्मक फोटो

उप कृषि निदेशक बिजनौर गिरीश चन्द्र ने जानकारी देते हुए बताया कि 33/11 केवी सबस्टेशन मंण्डावर के अन्तर्गत चयनित ग्राम लालपुर, लैगपुरी, मण्डावर, मोहड़िया व 33/11 केवी सबस्टेशन अफजलगढ के अन्तर्गत चयनित ग्राम झाड़पुर भागीजोत, मौ0 अलीपुर, मेघपुर, गड़वावाला, जीकरवाला हैं।

प्रतीकात्मक फोटो

उप कृषि निदेशक ने उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी सदर, बिजनौर एवं नगीना को पत्र प्रेषित कर निर्देशित किया है कि वह चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से कृषकों / भूमिधरों को प्रात्साहित कराकर ई-निविदा राज्य के ई-प्रोक्योरमेंट की वेबसाइट पर आमंत्रित निविदा में प्रतिभाग कराना सुनिश्चित करें।

ऐसा करें, वरना नहीं मिलेगी पीएम किसान सम्मान निधि


31 जुलाई तक पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थी कृषक प्रत्येक दशा में कराएं ई-केवाईसी, अन्यथा अगली किस्त का नहीं होगा भुगतान

114904 कृषक ई-केवाईसी कराने से शेष, 31 जुलाई अंतिम तिथि निर्धारित

बिजनौर। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अन्तर्गत जनपद में आधार प्रमाणित कृषकों की संख्या 3,69,221 के सापेक्ष अब तक 2,54,317 कृषकों की ई-के0वाई०सी० हो चुकी है, जो लक्ष्य का 69 प्रतिशत है। अभी भी जनपद के 1,14,904 कृषक ई-के0वाई०सी० कराने से शेष हैं। शासन द्वारा शेष सभी कृषकों को 31 जुलाई, 2022 तक ई-के0वाई०सी० कराने की अन्तिम तिथि निर्धारित की गयी है।

उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र ने बताया कि कृषि विभाग के क्षेत्रीय कर्मचारियों ने जन जन तक यह संदेश पहुंचा दिया था कि ई-के0वाई०सी० कराये बिना प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा। 31 मई को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की 11 वीं किश्त आने के बाद ऐसे लाभार्थी कृषक निश्चित हो गए कि जिन्होंने ई-के0वाई० सी० नहीं करायी थी और अब वह ई- के0वाई०सी० कराने हेतु गम्भीर भी नहीं हैं।
उप कृषि निदेशक श्री गिरीश चन्द्र ने जनपद के कृषकों को पुनः जागरूक करते हुए सलाह दी है कि 31 जुलाई, 2022 तक प्रत्येक दशा में ई-के0वाई०सी० आवश्यक रूप से करा ली जाए , अन्यथा की स्थिति में निश्चित रूप से पी०एम० किसान सम्मान निधि की अगली किश्त भारत सरकार द्वारा रोक दी जाएगी।

उर्वरक विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों व गोदामों में आकस्मिक छापों से हड़कंप

बिजनौर। शासन के निर्देश एवं जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में उर्वरक विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों व गोदामों में आकस्मिक छापामार कार्यवाही से हड़कंप मच गया।

छापामार कार्यवाही उप क़ृषि निदेशक गिरीश चन्द्र, जिला गन्ना अधिकारी प्रभू नाथ सिंह, जिला क़ृषि अधिकारी डॉ. अवधेश मिश्र, सहायक आयुक्त/सहायक निबंधक (सहकारिता) प्रदीप कुमार सिंह, उप संभागीय क़ृषि प्रसार अधिकारी सदर मनोज रावत, जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र कुमार की संयुक्त टीमों द्वारा की गयी। इस दौरान बिक्री केंद्रों के अभिलेखों एवं स्टॉक की जाँच की गई और सभी उर्वरकों, विशेषकर यूरिया उर्वरक की पॉस मशीन में उपलब्ध स्टॉक का मिलान गोदाम में रखे गए भौतिक स्टॉक से किया गया। इस छापामार कार्यवाही के दौरान कुल 59 प्रतिष्ठानों का निरीक्षण किया गया और 29 उर्वरक के नमूने लिए गए।

दुकानें बंद कर भागे; 10 को नोटिस- इस दौरान 10 प्रतिष्ठानों यथा मै. खान खाद भंडार, किरतपुर, मै. शिव किसान सेवा केंद्र से स्याऊ रोड मुकरपुर गुर्जर, मै. कृषि केंद्र (एग्री जक्शन) वन स्टॉप शॉप छाछरी मोड़, मै. दीप इंटरप्राइजेज हीमपुर दीपा, मै.महावीर इंटरप्राइजेज रावटी, मै. चौधरी फर्टिलाइजर रावटी, मै. किसान सेवा केंद्र रावटी, मै. महलके कृषि सेवा केंद्र रौनिया, मै. कृषि सेवा केंद्र रौनिया एवं मै. बालाजी बीज भंडार चांदपुर के द्वारा प्रतिष्ठान बंद कर भाग जाने पर कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए उर्वरक प्राधिकार पत्र को निलंबित किया गया है।

नहीं मिली कोई गड़बड़ी- छापामार कार्यवाही के समय ओवर रेटिंग, कालाबाज़ारी, टैगिंग आदि का कोई प्रकरण प्रकाश में नहीं आया। छापामार कार्रवाई के दौरान समस्त विक्रेताओं को सचेत करते हुए निर्देशित किया गया कि उर्वरकों का वितरण किसानों की कृषि योग्य भूमि और बोई गई फसल के सापेक्ष तत्कालीन आवश्यकता के अनुसार पॉस मशीन से ही किया जाए तथा स्टॉक एवं वितरण पंजिका के साथ-साथ कृषकों द्वारा क्रय किए गए उर्वरकों का विवरण एक पृथक पंजिका में भी अनिवार्य रूप से रखा जाए, जिसमें कृषक का नाम, पिता का नाम और पूर्ण पता, आधार नंबर, मोबाइल नंबर एवं क्रय किए गए उर्वरक का प्रकार व मात्रा, कृषि योग्य भूमि और बोई गई फसल आदि का विवरण अनिवार्य रूप से अंकित किया जाए। किसी भी दशा में यूरिया एवं अन्य मुख्य उर्वरकों की बिक्री बल्क में ना किए जाने के निर्देश दिए गए। उक्त कार्रवाई के दौरान पॉस मशीन के स्टॉक एवं गोदाम में भंडारित स्टाक में कोई अंतर नहीं पाया गया।

मुख्य उर्वरक के साथ कोई अन्य उर्वरक अथवा कीटनाशी रसायन नहीं- निरीक्षण के दौरान सभी उर्वरक विक्रेताओं को हिदायत दी गयी कि सभी उर्वरक की बिक्री निर्धारित मूल्य पर ही की जाए तथा मुख्य उर्वरक के साथ किसी अन्य उर्वरक अथवा कीटनाशी रसायन आदि की टैगिंग किसी भी दशा में न की जाए, अन्यथा की दशा में उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 तथा आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के अंतर्गत दंडात्मक कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। साथ ही यह भी निर्देशित किया गया कि क्रेता किसानों को क्रय किए गए उर्वरक एवं कीटनाशक रसायनों की कैश मेमो रसीद अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराई जाए।

कृभको की सभा में किसानों को मिले बेहतरीन टिप्स

बिजनौर। कृषि विज्ञान केंद्र नगीना में कृभको द्वारा एक किसान सभा का आयोजन किया गया। अध्यक्षता कृषि विज्ञान केंद्र इंचार्ज डॉ शकुंतला गुप्ता द्वारा की गई।

सभा को संबोधित करते हुए उप प्रबंधक (विपणन) जबर सिंह ने कृभको के उत्पादों, मृदा परीक्षण, वृक्षारोपण का महत्व एवं कार्बनिक पदार्थ की उपयोगिता के बारे में विस्तार से किसानों को बताया। तकनीकी सत्र के दौरान डॉ केके सिंह ने प्राकृतिक खेती, मृदा स्वास्थ्य कार्ड, बासमती की खेती एवं सब्जियों की खेती,  दलहनी कृषकों की खेती, हरी खाद की मृदा उर्वरता के लिए  उपयोगिता के बारे में बोलते हुए गेहूं की उन्नतिशील प्रजातियों के विषय में जानकारी दी। इसके अलावा डॉ प्रतिभा गुप्ता ने खेती के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। कार्यक्रम में डॉक्टर भूपेंद्र सिंह, डॉ शकुंतला गुप्ता डॉक्टर, शिवांगी सिंह वीके सिंह के अलावा कई किसान मौजूद रहे।

किसान के मान सम्मान से खिलवाड़ नहीं होने देंगे: नरेश टिकैत


भाकियू की किसान सम्मान बचाओ महापंचायत में पहुंचे भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत। थाना शहर कोतवाली इलाके के खरक गांव में हुई किसान सम्मान बच्चाओ रैली। जिला प्रशासन ने नहीं दी किसानों को महापंचायत करने की अनुमति। बिना अनुमति के की गई किसान रैली। बड़ी संख्या में तैनात रहा पुलिस बल।

बिजनौर। भाकियू के बुलावे पर आज किसान सम्मान बचाओ रैली का आयोजन किया गया।
किसान रैली का आयोजन थाना शहर कोतवाली इलाके के खरक गाँव में किया गया। किसान सम्मान बच्चाओ रैली में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत का स्वागत किया गया।


नरेश टिकैत ने बिजनौर पहुंचकर सबसे पहले पूर्व पीएम किसान मसीहा स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। वहीं मीडिया से बात करते हुए बताया कि बिजनौर हमारा घर है और हम अपने घर आये हैं, किसान रैली को सफल बनाने कि बात भी की।


दरअसल पिछले दिनों किसानो का बिजली अफसरों से विवाद हो गया था, जिसमें तीन किसान जेल गए थे। वो निर्दोष थे। बिजली अफसर रात में घरों में बिजली चेकिंग करने जाते हैं। वह गलत है। किसानों का विवाद नहीं हुआ था, बल्कि बिजली अफसर के चोट गिरने के कारण आई थी। किसानों पर दर्ज कराया गया मुकदमा गलत है। वहीं नरेश टिकैत ने यूपी की बिजली को सबसे महंगी बताते हुए कहा कि हरियाणा और उत्तराखंड में बिजली के दाम बहुत कम हैं।पंजाब में बिजली फ्री है।

सीएम योगी के फ्री बिजली के वादे के सवाल पर बोले कि वादे तो बहुत किये थे लेकिन पूरे नहीं किये। हमें फ्री बिजली नहीं चाहिए लेकिन दाम सही ले लो।
किसान के मान सम्मान से खिलवाड़ नहीं होने देंगे, हमारी सरकार को चेतावनी है। योगी सरकार में किसानों को बिजली बहुत मिल रही है, हम इसकी तारीफ करते हैं, लेकिन किसानों पर भार नहीं डाला जाये।

सम्मान बचाओ महापंचायत के लिए अड़े किसान

हर हाल में होगी किसान सम्मान बचाओ महापंचायत

पुलिस प्रशासन पर किसानों को डराने का आरोप 

बिजनौर। जिले में बिजली और पुलिस व राजस्व अधिकारियों द्वारा किसानों के साथ किए जा रहे उत्पीड़न व तानाशाही के साथ किसान के साथ की गई मारपीट के खिलाफ भाकियू 28 जून को ग्राम जीतपुरा खरख में किसान सम्मान बचाओ महापंचायत का बिगुल फूंक दिया हैं तो वहीं  पुलिस प्रशासन ने जिले के किसानों पर भाकियू का साथ छोड़ने का दवाब बनाकर पीड़ित किसान से ही पंचायत में होने संबंधित लिखित में ले लिया फिर भी भाकियू ने निश्चित समय व निश्चित स्थान पर ही किसान सम्मान बचाओ महापंचायत करने की घोषणा करते हुए मैदान में मंच और टेंट लगवाने के लिए जायजा लिया।

बनाई महापंचायत की रणनीति-
रविवार को भाकियू ने किसानों पर महापंचायत न कराने के लिए पीड़ित किसानों पर पुलिस के बढ़ रहे उत्पीड़न को देखते हुए गन्ना समिति में प्रातः 11 बजे पूरे जिले से भाकियू की जिला, मंडल, व प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर के सभी पदाधिकारियों ने महापंचायत की रणनीति बनाई उसके बाद सभी भाकियू पदाधिकारियों ने महापंचायत स्थल पर पहुंचकर मैदान का जायजा लिया और ग्राम जीतपुरा खरख में ग्रामवासियों की मीटिंग ली, ग्रामवासियों ने भाकियू को महापंचायत में पूर्ण समर्थन देने का ऐलान किया। भाकियू जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने कहा कि बाबा टिकैत की भाकियू ने पंचायत करने के लिए कभी परमिशन नहीं ली है  और न ही कभी परमिशन ली जाएगी।

इमरजेंसी लगा रही पुलिस: कुलदीप सिंह –
जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने जिले के किसानों से महापंचायत में पहुंचने का आह्वान करते हुए कहा कि पुलिस जिले में इमरजेंसी लगाकर किसानों की पंचायत को रोकने की बात करते हुए मुकदमे लिखने को डरा रही है। पुलिस को इसका जवाब जिले का किसान 28 जून को ग्राम जीतपुरा खरख में होने वाली किसान सम्मान बचाओ महापंचायत में हजारों की संख्या में किसान आयेगा तो पुलिस सभी पर मुकदमा लिख लेगी। उन्होंने कहा कि किसानों के मसीहा भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत की पंचायत को रोकने की कोई ताकत नहीं बनी है।

पहले ही दे दी थी चेतावनी-
ज्ञात हो कि ग्राम जीतपुरा खरख में विद्युत कर्मियों के आधी रात किसानों के घरों में घुसने को लेके हुई मारपीट में पुलिस के 3 किसानों को एक तरफा कार्यवाही कर जेल भेजने से भाकियू पिछले एक सप्ताह से आंदोलनरत हैं और भाकियू के इस संबंध में 28 जून को किसान सम्मान बचाओ महापंचायत करने की घोषणा करने से मामला तूल पकड़ गया है। रही सही कसर ग्राम हंसना जट के एक किसान को एक लाख का कर्ज़ जमा न करने पर अमीन द्वारा कर्जदार किसान की भतीजी की शादी के समारोह में ही मारपीट कर बेइज्जती करने से क्षुब्ध किसान की जहर खाकर मौत हो जाने व तहसीलदार सदर द्वारा एक किसान को अपने ऑफिस में बुलाकर की गई मारपीट की सूचना मिली तो भाकियू पदाधिकारियों ने कलक्ट्रेट में प्रदर्शन शुरू कर दिया था।  डीएम व एसपी की मौजूदगी में किसानों से हुए समझौते पर भाकियू ने 3 दिन मे किसानों की सभी समस्याओं के समाधान करने व पुलिस द्वारा झूठे मुकदमो की जांच न होने पर 28 जून को होने वाली किसान सम्मान बचाओ महापंचायत में भाकियू सुप्रीमो की अध्यक्षता में कठोर निर्णय लेने की चेतावनी देकर शाम धरना खत्म किया था। भाकियू जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने जिला प्रशासन पर किसानों को डराने का आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों के सम्मान से कोई समझौता नहीं होगा। महापंचायत निश्चित टाइम और निश्चित स्थान पर ही होगी और प्रशासन अपनी नाकामी छिपाने के लिए भाकियू की महापंचायत को कमजोर करना चाहता हैं जिसका खुद जवाब देने के लिए जिले का किसान तैयार बैठा है और भाकियू द्वारा जिले में 100 गाड़ियों पर माइक लगाकर प्रचार करने की पदाधिकारियों को जिमीदारी दी गई और 200 भाकियू कार्यकर्ताओं की महापंचायत के लिए मंच और टेंट लगवाने की जिम्मेदारी भी दी।
इस अवसर पर प्रदेश महासचिव ठाकुर रामौतार सिंह, प्रांतीय नेता बाबूराम तोमर, प्रदेश उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, होशियार सिंह, डालचंद प्रधान, ब्लॉक अध्यक्ष मोहम्मदपुर देवमल डॉ विजय चौधरी, ब्लॉक महासचिव पंकज सहरावत, तहसील अध्यक्ष कोमन सिंह, युवा तहसील अध्यक्ष सरदार मनप्रीत सिंह, जितेंद्र पहलवान, सतपाल चौधरी, छतर सिंह सिकेट्री, दिनेश कुमार, नरदेव सिंह, धर्मेंद्र कुमार, मुनिदेव सिंह, रविशेखर तोमर, नीटू मौर्य आदि ने महापंचायत की सफलता के लिए जिले के किसानों का एक दुसरे से खुद प्रचार करके आने का आह्वान किया।

किसानों को 6 हजार सालाना देने के खिलाफ उतरे ताकतवर देश

किसानों को 6 हजार सालाना देने के खिलाफ उतरे ताकतवर देश, भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब

नई दिल्ली (एजेंसी)। वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन यानी WTO की बैठक जेनेवा में हुई। इसमें अमेरिका और यूरोपीय देशों ने मोदी सरकार द्वारा भारतीय किसानों को दी जाने वाली एग्रीकल्चरल सब्सिडी का विरोध किया। किसानों को सालाना दिये जाने वाले रुपए 6000 रुपए भी एग्रीकल्चरल सब्सिडी में शामिल है। ऐसे में इसे रोकने के लिए अमेरिका और यूरोप ने पूरी ताकत झोंक दी है। भारत ने भी इस मुद्दे पर ताकतवर देशों के आगे झुकने से इनकार कर दिया है।

12 जून से 15 जून 2022 तक जेनेवा में WTO की बैठक का आयोजन हुआ। बैठक में 164 सदस्य देशों वाले WTO के G-33 ग्रुप के 47 देशों के मंत्रियों ने हिस्सा लिया। भारत की ओर से केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल शामिल हुए। इस साल होने वाली WTO की बैठक में इन 3 अहम मुद्दों पर प्रस्ताव लाने की तैयारी की गई…1. कृषि सब्सिडी को खत्म करने के लिए. 2. मछली पकड़ने पर अंतरराष्ट्रीय कानून बनाने के लिए 3. कोविड वैक्सीन पेटेंट पर नए नियम लाने के लिए। अमेरिका, यूरोप और दूसरे ताकतवर देश इन तीनों ही मुद्दों पर लाए जाने वाले प्रस्ताव के समर्थन में थे, जबकि भारत ने इन तीनों ही प्रस्ताव पर ताकतवर देशों का जमकर विरोध किया। भारत ने ताकतवर देशों के दबाव के बावजूद एग्रीकल्चरल सब्सिडी को खत्म करने से इनकार कर दिया है। वहीं अब इस मामले में भारत को WTO के 80 देशों का साथ मिला है।

अमेरिका और यूरोप चाहते हैं कि भारत अपने यहां किसानों को दी जाने वाली हर तरह की एग्रीकल्चरल सब्सिडी को खत्म करे. इसमें ये सारे एग्रीकल्चरल सब्सिडी में शामिल हैं- PM किसान सम्मान निधि के तहत दिए जाने वाले सालाना 6 हजार रुपए, यूरिया, खाद और बिजली पर दी जाने वाली सब्सिडी। अनाज पर MSP के रूप में दी जाने वाली सब्सिडी। अमेरिका जैसे ताकतवर देशों का मानना है कि सब्सिडी की वजह से भारतीय किसान चावल और गेहूं का भरपूर उत्पादन करते हैं।बइसकी वजह से भारत का अनाज दुनिया भर के बाजार में कम कीमत में मिल जाता है। अमेरिका और यूरोपीय देशों के अनाज की कीमत ज्यादा होने की वजह से विकासशील देशों में इसकी बिक्री कम होती है। यही वजह है कि दुनिया के अनाज बाजार में दबदबा कायम करने के लिए ताकतवर देश भारत को एग्रीकल्चरल सब्सिडी देने से रोकना चाहते हैं। भारत इसे मानने के लिए तैयार नहीं है। WTO में भले ही अमेरिका और दूसरे ताकतवर देश विकासशील देशों के किसानों को सब्सिडी देने से मना करते हों, लेकिन खुद अमेरिका अपने देश के समृद्ध किसानों को सब्सिडी देने में दूसरे देशों से कहीं आगे है, वो भी तब, जब अमेरिकी किसानों की सालाना आय भारतीय किसानों से 52 गुना ज्यादा है।

बेहतरीन उपलब्धि पर डीएम एसपी ने किया किसानों को सम्मानित

बेहतरीन उपलब्धि पर डीएम एसपी ने किया किसानों को सम्मानित

बिजनौर। विभिन्न प्रकार के फल, फूल व जड़ी बूटियों की खेती संबंधित कई क्षेत्र में जिले के किसानों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। उनकी इस उपलब्धि पर डीएम व एसपी ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। 

जानकारी के अनुसार नाहर सिंह ग्राम तिसोतरा, राहुल जवान ग्राम चौकपुरी, अखिलेश कुमार सिंह ग्राम अगरी एवं विपिन कुमार ग्राम मुबारक पुर तालन द्वारा क्रमशः हल्दी, केला, विभिन्न प्रकार के फूलों की खेती के अलावा शतावर व अन्य जड़ी बूटी की खेती करने के साथ ही उत्पादन, प्रसंस्करण, ग्रेडिंग, पैकेजिंग, ब्रांडिंग व मार्केटिंग करते हुए अपने को एक सफल उद्यमी के रूप मे स्थापित किया गया है। उनकी इस उपलब्धि पर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक डा धर्मवीर द्वारा सम्मानित करते हुए प्रशस्ति पत्र देकर पुरस्कृत किया गया। यह जानकारी जिला कृषि अधिकारी अवधेश कुमार मिश्रा ने दी।

कृषि राज्यमंत्री ने किया 100 आम उत्पादकों को मैनुअल हार्वेस्टर तथा प्लास्टिक क्रेट्स का वितरण

कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार तथा कृषि निर्यात राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दिनेश प्रताप सिंह ने किया 100 आम उत्पादकों को मैनुअल हार्वेस्टर तथा प्लास्टिक क्रेट्स का वितरण

उद्यान मंत्री ने मैंगों पैक हाउस मलिहाबाद तथा नवीन आधुनिक मण्डी स्थल का किया निरीक्षण

प्रदेश सरकार आम उत्पादकों की समस्याओं के प्रति सजग

  • लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उद्यान, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार तथा कृषि निर्यात राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दिनेश प्रताप सिंह आज मलिहाबाद के रहमान खेड़ा स्थित उत्तर प्रदेश कृषि अनुसंधान संस्थान में उत्तर प्रदेश राज्य औद्यानिक विपणन संघ (हाफेड) द्वारा आयोजित कार्यक्रम तथा मण्डी परिषद की वित्तीय सहायता से आम उत्पादकों को प्रोत्साहन हेतु लखनऊ क्षेत्र के चयनित 100 आम उत्पादकों को मैनुअल मैंगो हार्वेस्टर तथा प्लास्टिक क्रेट्स का वितरण किया।
  • इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आम उत्पादकों को मैंगो हार्वेस्टर एवं क्रेट्स के वितरण से जहाँ एक ओर आम की गुणवत्ता सुरक्षित होगी और आम उत्पादकों को उनके उत्पादों का उचित मूल्य प्राप्त होगा। जिससे उनकी आय में बढ़ोत्तरी होगी।
  • उद्यान मंत्री ने कहा कि गुणवत्ता युक्त निर्यातनोमुखी आम की उपलब्धता सुनिश्चित कराये जाने के उद्देश्य से आम की तुड़ाई के बाद प्रबन्धन के लिए लखनऊ क्षेत्र के 100 आम उत्पादक का चयन जिला उद्यान अधिकारी द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य कृषि उत्पादन मण्डी परिषद के वित्तीय सहयोग से निर्यात योग्य आम उत्पादन करने वाले किसानों को 75 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आम का निर्यात विदेशों में किया जा रहा है इसके लिए उन्होंने हाफेड द्वारा किये गये कार्यों की सराहना की।
    श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा है कि किसानों और व्यापारियों की समस्या को गम्भीरता से लिया जाये तथा उनका निस्तारण प्राथमिकता पर किया जाये। उन्होंने आम उत्पादकों से उनकी समस्यायें एवं सुझाव मांगे हैं, ताकि उसका निस्तारण प्राथमिकता पर किया जाये। उन्होंने निदेशक उद्यान को निर्देश दिये हैं कि विभाग द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ हर किसान को मिले तथा उनको किसी भी प्रकार की समस्या न आने पाये।
    उद्यान मंत्री को मलिहाबाद के आम उत्पादकों द्वारा अपनी समस्याओं के बारे में अवगत कराया गया, जिसमें सरकारी ट्यूबेल, फल मण्डी में दुकान, मलिहाबाद में आम उत्पादकों के लिए उचित दरों की दवा की दुकानें, पैकिंग बाक्स में जी.एस.टी. कम करने, मलिहाबाद में प्रोसेसिंग युनिट लगाने के लिए अनुरोध किया। इस पर उद्यान मंत्री ने आम उत्पादकों को आश्वस्त किया कि उनकी हर समस्या को प्राथमिकता पर हल करने का प्रयास किया जायेगा।
  • इसके उपरांत उद्यान मंत्री ने मैंगों पैक हाउस, मलिहाबाद तथा आधुनिक मण्डी स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने किसानों एवं व्यापारियों की समस्या को सुना तथा विभागीय अधिकारियों को तत्काल निदान के निर्देश दिए।
    उत्तर प्रदेश कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की अपर निदेशक श्रीमती निधि श्रीवास्तव ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि मण्डी परिषद किसानों के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चला रही है जिसका लाभ किसानों को मिल रहा है। आम उत्पादकों के लिए उनके उत्पाद के निर्यात के लिए मैंगो पैक हाउस तैयार किया जा रहा है। इस अवसर पर उद्यान निदेशक डा0 आर.के. तोमर ने कहा कि आम उत्पादक अपने उत्पादकों पैकिंग तथा ग्रेडिंग करके भेजे जिससे उनकों उचित मूल्य प्राप्त हो। उन्होंने कहा कि लाभार्थियों का चयन प्रथम आवक-प्रथम पावक के माध्यम से किया गया है।
    इस कार्यक्रम में विभागीय विशेषज्ञों तथा निर्यात योग्य आम के उत्पादन हेतु आम की पूर्व एवं तुडाई उपरान्त प्रबन्धन से संबधित तकनीकि जानकारी दी गयी। इसमें गुणवत्तायुक्त पैकेंजिंग हेतु पूर्व कोरूगेटेडट बाक्स की उपयोगिता, उपलब्धता, मानक आदि के सबंध में विस्तार से जानकारी दी गयी।
  • कार्यक्रम में हाफेड के सभापति नवलेश प्रताप सिंह, उपनिदेशक उद्यान डा0 वीरेन्द्र यादव, नोडल अधिकारी शैलेन्द्र कुमार सुमन, जिला उद्यान अधिकारी बैजनाथ सिंह सहित बड़ी संख्या में वैज्ञानिक तथा आम उत्पादक/किसान उपस्थित रहे।

निगम की भंडारण क्षमता का शत प्रतिशत उपयोग किया जाए: जेपीएस राठौर

निगम की भंडारण क्षमता का शत प्रतिशत उपयोग किया जाए: जेपीएस राठौर
मंत्री जेपीएस राठौर ने की भंडारण निगम के अधिकारियों संग बैठक


लखनऊ। सहकारिता मंत्री जेपीएस राठौर ने शुक्रवार को यूपी राज्य भंडारण निगम के क्षेत्रीय प्रबंधकों व वरिष्ठ अधिकारियों संग बैठक कर निगम की मासिक प्रगति की समीक्षा की। बैठक में मौजूद अधिकारियों को निगम को सुचारू रूप से चलाने के दिशा निर्देश दिए गए।

राठौर ने क्षेत्रीय प्रबंधकों को अपने अधीनस्थ सभी केंद्रों का माह में एक बार विधिवत निरक्षण करने का आदेश दिया। साथ ही निगम की भंडारण क्षमता का शत-प्रतिशत उपयोग करने को कहा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गेहूँ के सुरक्षित भंडारण के दृष्टिगत साइलों व पीईजी के गोदामों का निर्माण निर्धारित समयावधि में पूर्ण किया जाए।

उन्होंने कहा कि निगम द्वारा अपने कार्यों का आगामी 5 वर्षों के लिए तैयार किये गए रोड मैप का क्रियान्वयन निर्धारित समय पर किया जाए। निगम कार्यों को पारदर्शी प्रक्रिया के अंतर्गत समस्त केंद्रों का ऑनलाइन डिपो सिस्टम से इस प्रकार जोड़ा जाए कि उसकी सेंट्रलाइज मॉनिटरिंग प्रधान कार्यालय पर की जाए। समस्त भण्डार गृहों को सोलर पैनल से संचालित किए जाने की व्यवस्था जल्द से जल्द की जाए। बैठक में भंडारण एमडी श्रीकांत गोस्वामी, विशेष कार्याधिकारी धीरज चंद्रा, महाप्रबंधक संजीव कुमार आदि अधिकारीगण मौजूद रहे।

आसमान छू रहे निम्बू के दाम

नई दिल्ली। एक महीने में ही नींबू 70 रुपए से 400 रुपए तक पहुंच गया है। सब्जी बेचने वाले 10 रुपए में 1 नींबू दे रहे हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार आने वालों दिनों में इसकी कीमत कम होने के आसार नहीं दिख रहे।

बताया जा रहा है कि इस बार फसल कम होने के साथ ही आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से आने वाले नींबू की महंगाई के लिए डीजल के भाव भी काफी हद तक जिम्मेदार हैं। डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी से माल भाड़े में भी 15% की बढ़ोतरी हो गई है। इससे नींबू की कीमत पर दोगुना असर हुआ है।

सेब, अंगूर व अनार से भी महंगा बिक रहा नींबू- नींबू के दाम बढ़ने से अब घरों के अलावा होटल व ढाबों से भी नींबू गायब हो गया है। स्थिति ये है कि घर, होटल व ढाबों पर भी सलाद से नींबू (जायका) कम हो गया है। होटल व ढाबा संचालक भी सलाद में नींबू का इस्तेमाल कम ही कर रहे हैं। वहीं गन्ने के रस, शिंकजी व सब्जियों में भी नींबू का उपयोग कम मात्रा में कर रहे हैं। इन दिनों नींबू सेब, अंगूर व अनार से भी महंगा बिक रहा है।

बेमौसम बारिश से खराब हुई फसल- मद्रास, महाराष्ट्र और गुजरात समेत देशभर के कई इलाकों में बेमौसम बारिश से नींबू की फसल को काफी नुकसान हुआ है। जरूरत के मुकाबले उत्पादन कम हुआ है, इसलिए कीमतें रिकॉर्ड तोड़ बढ़ी हैं।

नवरात्र और रमजान- इस समय नवरात्र चल रहे हैं और रमजान का महीना है। व्रत और रोजे के दौरान भी नींबू का इस्तेमाल ज्यादा होता है। इस समय उत्पादन कम है और डिमांड ज्यादा है।

महंगा ईंधन- पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ने के साथ ही माल भाड़ा भी बढ़ गया है। इसका असर नींबू सहित सभी फल-सब्जियों की कीमतों में देखने का मिल रहा है।

खेतों से सीधे फैक्ट्रियों मेंसॉफ्ट ड्रिंक के साथ ही कई दवाइयों और फूड प्रोडक्ट में नींबू इस्तेमाल किया जाता है। खेतों से नींबू सीधा फैक्ट्रियों में पहुंच रहा है। इस वजह से भी आम जरूरत के मुताबिक नींबू बाजार तक नहीं पहुंच रहा है।

केले, बांस व फूलों की खेती संवारेंगी कृषकों की किस्मत


बिजनौर। हल्दौर फेड फारमर्स प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड, ग्राम अगरी विकास खंड हलदौर के कार्यालय परिसर में एक कृषक गोष्ठी का आयोजन आत्मा योजना प्रभारी योगेन्द्र पाल सिंह योगी के संचालन में किया गया। इस अवसर पर किसान पाठशाला के संचालक राहुल चौधरी ने केले एवं बांस की व्यावसायिक खेती के संबंध में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि जनपद की भूमि दोनों फसलों की खेती के लिए अनकूल है, जिसे अपनाकर कम लागत में भी कृषक गन्ना से दोगुना आय प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही फसलों पर मिट्टी के घोल का छिड़काव के महत्व से अवगत कराते हुए फसलों के पोषण प्रबंधन एवं कीट रोग नियंत्रण के बारे में बताया गया।


जिला कृषि अधिकारी डा अवधेश मिश्रा द्वारा कृषकों के विकास में एफपीओ की भूमिका की जानकारी देते हुए उपस्थित कृषकों से आवाहन किया गया कि अपने विकास खण्ड में गठित एफपीओ से जुड़े और सामूहिक रूप से इस प्रकार कृषि गतिविधियों का समावेश करें, जिससे प्रत्येक माह आय प्राप्त होती रहे। प्रदेश सरकार एवं भारत सरकार द्वारा गठित व्यक्तियों को दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी ग।


इससे पूर्व उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र द्वारा हल्दौर फेड फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड द्वारा स्थापित आधुनिक डिजिटल भूमि परीक्षण प्रयोगशाला का फीता काट कर शुभारम्भ किया गया। उदघाटन के अवसर पर उप कृषि निदेशक द्वारा अपने उदबोधन के माध्यम से अवगत कराया गया कि यह प्रयोगशाला किसानों के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगी। भूमि स्वास्थ्य के वर्तमान परिवेश के दृष्टिगत सभी किसानों के लिए यह आवश्यक है कि वे अपने अपने खेत की मिट्टी का भूमि परीक्षण अवश्य करा लें, जिससे उनको यह पता लग सके कि उनके भूमि में किन किन पोषक तत्वों की कमी है और तदनुसार उन तत्वों की पूर्ति करते हुए ना केवल वे अच्छा उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं बल्कि अनावश्यक उर्वरकों के प्रयोग से भी बच सकते हैं। इससे परोक्ष रूप से जहां कृषि लागत में कमी होगी, वहीं अपरोक्ष रूप से कृषि उत्पाद, भूमि और जल की गुणवत्ता में वृद्धि भी होगी।


जिला उद्यान अधिकारी जीतेंद्र कुमार के द्वारा पॉलीहाउस के माध्यम से फूलों की खेती के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। ग्राम अगरी के अग्रणी कृषक अखिलेश कुमार के द्वारा पाली हाउस के माध्यम से की जा रही फूलों की खेती की जानकारी दी गई।


हल्दौर फेड फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड अगरी के संरक्षक ब्रह्म पाल सिंह ने बताया कि उनके यहां जैविक जामुन व गन्ना का जैविक सिरका, गुड़, शक्कर, खाण्ड, हल्दी, गेहूं व चावल बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। कृषक उत्पादक संगठन के निदेशक मंडल एवं सदस्यों तथा उपस्थित कृषकों के साथ श्री अखिलेश कुमार के प्रक्षेत्र पर पाली हाउस में उत्पादित किए जा रहे फूलों की खेती का भ्रमण भी किया गया।
इस अवसर पर पूर्व ब्लाक प्रमुख डॉ धर्मवीर सिंह, समर पाल सिंह, शूरवीर सिंह, डा धर्मवीर सिंह, विकास कुमार, धीर सिंह, ओम प्रकाश आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस कार्यक्रम में उप संभागीय कृषि प्रसार अधिकारी सदर मनोज रावत, विषय वस्तु विशेषज्ञ मुकेश पाराशर एवं कुलदीप, सहायक विकास अधिकारी कृषि कमल सिंह आदि उपस्थित रहे।

शेखपुरा आलम में पशुपालन विभाग ने लगाया निःशुल्क पशु आरोग्य शिविर


पशुपालन विभाग ने किया किसान गोष्ठी एवं नि:शुल्क पशु स्वास्थ्य शिविर का आयोजन। गौ पूजन के साथ हुआ शुभारंभ

बिजनौर। नजीबाबाद विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत शेखपुरा आलम में पशुपालन विभाग द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु आरोग्य शिविर लगाया गया। शुभारंभ नजीबाबाद के ब्लाक प्रमुख तपराज सिंह देशवाल, वरिष्ठ भाजपा नेता चौधरी ईशम सिंह, मंडल अध्यक्ष भाजपा जुगनेश कुमार ने संयुक्त रुप से गौ पूजन तथा मुख्य द्वार पर बंधा फीता काटकर किया।

इस अवसर पर उप जिला मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ विनोद कुमार ने विस्तार से पशुपालन विभाग की योजनाओं के बारे में शिविर में उपस्थित किसानों एवं पशुपालकों को बताया। उन्होंने कहा कि सरकार अनेक योजनाएं चलाकर किसानों के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए कार्य कर रही है जिसमें पशुपालन विभाग पशुओं के लिए नि:शुल्क दवाइयां नि:शुल्क उपचार टीकाकरण आदि की व्यवस्था कर रहा है। अपने संबोधन में पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ कर्मवीर सिंह एवं डा अंकित चौधरी ने कहा कि पशुओं की किसी भी समस्या के लिए हम सब तत्पर हैं। हर समय जो भी समस्या किसी को होती है, वह किसान भाई संपर्क कर सकते हैं।

ब्लाक प्रमुख तपराज सिंह देशवाल ने कहा कि पशुपालन विभाग द्वारा दी जा रही योजनाओं का समुचित प्रचार-प्रसार ना होने के कारण क्षेत्र के किसान भाई सरकारी योजनाओं से अनभिज्ञ रह जाते हैं। उन्होंने अधिकारियों से अधिक से अधिक प्रचार प्रसार का आह्वान करते हुए सभी किसान भाइयों से आग्रह किया कि सरकार की योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाएं।

अपने संबोधन में वरिष्ठ भाजपा नेता चौधरी ईशम सिंह ने कहा कि सरकार सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास के आधार पर विकास योजनाएं चलाकर जनता के विकास का कार्य कर रही है। इसमें पशुपालन विभाग पंडित दीन दयाल उपाध्याय पशु आरोग्य शिविर लगाकर घर-घर तक विभागीय योजनाओं का लाभ किसान भाइयों, पशुपालकों तक पहुंचने का कार्य कर रही है। यह विभाग का सराहनीय कार्य है। उन्होंने सभी से उन सरकारी योजनाओं का लाभ लेने की अपील की। इस अवसर पर ग्राम प्रधान भागीरथ सिंह की अध्यक्षता एवं अनुज कुमार के संचालन में किसान गोष्ठी एवं पशु आरोग्य शिविर का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य रूप से ब्लाक प्रमुख तपराज सिंह देशवाल, चौधरी ईशम सिंह, गजेंद्र सिंह, अनुज कुमार, चमन सिंह सैनी, राम कुमार सिंह, पूर्व प्रधानाचार्य अतर सिंह चौहान, ओमप्रकाश सिंह, पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ अंकित कुमार, पैरावेट जुगनेश कुमार, युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष अभय रघुवंशी, सुधीर चौधरी चंदोक सहित क्षेत्र के अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे। इस अवसर पर पशु आरोग्य शिविर में 406 पशुओं का पंजीकरण हुआ, जिसमें 404 बड़े पशु एवं दो छोटे पशु शामिल हैं। शिविर में 104 पशुओं की सामान्य चिकित्सा की गई। कृमि नाशक दवाइयों का वितरण 404 पशुओं के लिए किया गया, बांझपन चिकित्सा 32, पशुओं की गर्भधान 12, बधियाकरण दो, टीकाकरण 300, पशुओं का किया गया, उक्त सभी कार्य नि:शुल्क किए गए।

गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के अंतर्गत भरपूर लाभ कर सकेंगे अर्जित: डीएम उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि रबी विपणन वर्ष 2022-23 में न्यूनतम मूल्य समर्थन योजना के अंतर्गत कृषक बंधुओं को भरपूर लाभ दिलाए जाने के उद्देश्य से जिला बिजनौर में गेहूं ख़रीद के लिए कुल 34 क्रय केंद्र अनुमोदित किए गए हैं।

उन्होंने बताया कि अनुमोदित क्रय केंद्रों में खाद्य विभाग के 09 एवं पीसीएस के 25 क्रय केंद्र शामिल हैं। उन्होंने यह भी बताया कि शासन की महत्वपूर्ण गेहूं खरीद योजना आगामी 1 अप्रैल 2022 से शुरू होगी, जिसके तहत गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹ 2015 प्रति कुंतल निर्धारित किया गया है। गेहूं खरीद के लिए किसानों का पंजीयन खाद्य विभाग की वेबसाइट http://www.fcs.up.gov.in पर (बैंक खाता संख्या खतौनी आधार कार्ड एवं मोबाइल नंबर के आधार पर) कृषक द्वारा स्वयं, जन सूचना केंद्र अथवा इंटरनेट कैफे के द्वारा कराया जा सकता है। उन्होंने और अधिक जानकारी देते हुए बताया कि कृषक बंधु ख़रीफ़ विपणन वर्ष 2021-22 में धान खरीद के लिए पंजीकरण करा चुके हैं, उन्हें गेहूं विक्रय के लिए पंजीयन कराने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन उन्हें पंजीयन प्रपत्र में यथा आवश्यक संशोधन करते हुए पंजीयन में दर्ज कुल रकबे में अपने हिस्से में बोए गए गेहूं के रकबे की घोषणा करते हुए पंजीयन प्रपत्र को पुनः लाक करना अनिवार्य होगा। उन्होंने बताया कि उक्त संबंध में आवश्यक जानकारी प्राप्त करने के लिए अपर जिलाधिकारी प्रशासन/ जिला ख़रीद अधिकारी (गेहूं ख़रीद) बिजनौर के मोबाइल नंबर 9454416895 तथा जिला खाद्य विपणन अधिकारी, बिजनौर के मोबाइल नंबर 9794032966 पर संपर्क स्थापित किया जा सकता है।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय आरोग्य पशु मेले में हुआ 433 पशुओं का पंजीकरण

ग्राम धौलागढ में हुआ पंडित दीनदयाल उपाध्याय आरोग्य पशु मेले का आयोजन। मेले में हुआ 433 पशुओं का हुआ पंजीकरण।

बिजनौर। नूरपुर क्षेत्र की ग्राम पंचायत धौलागढ में पशुपालन विभाग द्वारा एक दिवसीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु आरोग्य शिविर व मेला का आयोजन किया गया।
बुधवार को आयोजित मेले का उद्घाटन मुख्य अतिथि ग्राम प्रधान चंद्रप्रभा ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। इसके बाद गोपूजन किया। इस अवसर पर नूरपुर के पशु चिकित्सा अधिकारी डा. मोहम्मद अहमद ने पशुपालन विभाग द्वारा संचालित विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी पशुपालकों को दी। उन्होंने पशु टीकाकरण, बांझपन, संतुलित आहार आदि के प्रति पशु पालकों को जागरूक किया। मेले में वैक्सीनेटर मुनेश कुमार, मोहम्मद दानिश, अमन कुमार आदि उपस्थित रहे। मेले में कुल 433 पशुओं का पंजीकरण हुआ। विभाग की ओर से पशु पालकों को निःशुल्क मिनरल मिक्सचर का वितरण किया गया।

न्याय के लिए किसानों का डीएफओ कार्यालय गेट पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन

बिजनौर। गंगोड़ा जट में गुलदार की मौत के मामले में एक किसान को जेल भेजने व कई किसानों को झूठे मुकदमे में फसाने से आक्रोषित भाकियू पदाधिकारियों ने गन्ना समिति बिजनौर में इक्कट्ठा होकर मासिक पंचायत की और जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह के नेतृत्व में सभी किसान जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए डीएफओ ऑफिस पहुंचे और डीएफओ ऑफिस के गेट के बाहर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। धरना प्रदर्शन में किसानों के साथ काफी संख्या में महिलाएं भी मौजूद रही।

भाकियू जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कहा कि किसान के खेत में कोई जाल लगा जाए और उसमे गुलदार फंस जाए और किसान उस गुलदार को पकड़ कर वन व पुलिस विभाग को जिंदा सौप दे फिर में वन विभाग अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए किसानों के खिलाफ मुकदमा लिखाए और एक बेकसूर किसान को जेल भेजकर जिला प्रशासन इस मामले में इति श्री कर ले ऐसा भाकियू कतई बर्दास्त नही करेगी उन्होंने कहा कि वन विभाग व पुलिस किसानों के घर दबिश देने की आड़ में खुले आम घर में घुस जाते हैं और एक किसान की मोटर साइकिल चोरी कर लाए ये कौन से कानून की किताब में लिखा हैं कि किसान का सामान चोरी करने वाले के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं होती और गंगोडा जट में एक गुलदार की मौत के मामले में एक मुकदमा हल्दौर थाने में और एक मुकदमा अपने विभाग में दर्ज कर बेकसूर किसानों का शोषण किया जा रहा है और प्रशासन आंखे मूंद कर बैठा है।

किसानों के धरना प्रदर्शन के बीच डीएफओ के न आने से आक्रोषित भाकियू जिला अध्यक्ष के आदेश पर भाकियू पदाधिकारी ऑफिस में बैठे सहायक वन संरक्षक डॉक्टर हरेन्द्र सिंह को उठाकर मीटिंग में ले आए और खूब खरी खोटी सुनाई और अपने बीच ही बैठा लिया। भाकियू जिला अध्यक्ष चौधरी कुलदीप सिंह ने कहा कि भाकियू ने जिला प्रशासन को एक महीने का टाइम दे दिया कि प्रशासन मामले की सही जांच कर जाल लगाने वाले शिकारी और गुलदार को नशे की ओवर डोज देकर मौत के घाट उतारने वाले वन कर्मियों के खिलाफ कारवाही करे परन्तु जिला प्रशासन इस मामले में आंख मूंद कर बैठ गया है इसलिए आज किसान वन विभाग की आंखे खोलने के लिए धरना प्रदर्शन करने को मजबूर हैं।

धरना प्रदर्शन का नेतृत्व भाकियू प्रदेश महासचिव ठाकुर रामौतार सिंह, प्रांतीय नेता बाबूराम तोमर, राष्ट्रीय प्रचार मंत्री होशियार सिंह, पूर्व मंडल महासचिव सुरपाल सिंह, जिला महासचिव नरदेव सिंह, जिला मिडिया प्रभारी संदीप त्यागी, ब्लॉक अध्यक्ष मोहम्मदपुर देवमल चौधरी विजय सिंह, स्योहारा ब्लॉक अध्यक्ष गजेंद्र टिकैत, अल्लेहार पुर ब्लॉक अध्यक्ष कविराज सिंह, जलीलपुर ब्लॉक अध्यक्ष महिपाल सिंह, लक्ष्मी नारायण सिंह, अशोक कुमार, लुद्धियांन सिंह, जय सिंह, संजीव कुमार, सत्यपाल सिंह, अनुज चौधरी, मुकेश कुमार, सोनू विर्क, रवि शेखर तोमर, देवेश चौधरी, हरिओम यादव, संदीप सिंह, विकास कुमार, मुनेश कुमार, कल्याण सिंह, अजय वालियान, श्रीशपाल सिंह, अवनीश कुमार, बलजीत सिंह, पंकज सहरावत, मास्टर महेंद्र सिंह, दलेल सिंह, मोनू चौधरी, किसान यूनियन नेत्री रानी, ममता, बाला, मुनिया, राजो, पिंकी, उषा आदि सकड़ो महिला पुरुष पदाधिकारी मौजूद रहे।

खेत की रखवाली कर रहे किसान को सांड ने उतारा मौत के घाट

मलिहाबाद, लखनऊ। क्षेत्र के बहेलिया गांव में अपनी फसल की रखवाली कर रहे किसान शिवगुलाम यादव (65 वर्ष) को आवारा सांड ने खेत मे पटक कर मार डाला। किसान सुबह नित्य क्रिया कर भोर पहर खेत की रखवाली करने के लिए गया हुआ था। तैयार हो रही गेहूं और सरसों की फसल में बेसहारा सांड को देखकर उन को खदेड़ने लगा। इतने में ही सांड किसान पर उग्र हो गया और दौड़ा कर किसान को मौत के घाट उतार दिया। यह वाकया देख पड़ोस के खेतों में अन्य किसान बचाने के लिए जब तक दौड़े तब तक वृद्ध किसान की प्राण निकल चुके थे। घटना की जानकारी अन्य किसानों ने परिजनों सहित पुलिस को दी।क्षेत्र के किसानों में घटना को लेकर भारी आक्रोश व्याप्त है। ग्रामीणों के अनुसार न्याय पंचायत वार गौशाला बनी हुई है, इसके बावजूद भी प्रशासन की अनदेखी के कारण यह आवारा सांड बस्ती से लेकर खेतों तक ग्रामीणों को दिन-ब-दिन भारी नुकसान पहुंचा रहे हैं। घटना की जानकारी होते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर परिजनों से वार्ता कर शव को पीएम के लिए भेज दिया।

किसानों के साथ का भाजपा ने दिखाया दम

बिजनौर। जिला मुख्यालय पर ट्रैक्टर रैली में जिले भर से पहुंचे भाजपा नेताओं ने विपक्षी दलों पर जमकर तंज कसे। उन्होंने 2022 में प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार प्रचंड बहुमत से बनाने का दावा किया। कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शनी मैदान से नूरपुर रोड स्थित विवेक कॉलेज तक
ट्रैक्टर रैली निकाली गई।

सोमवार को भाजपा की ट्रैक्टर रैली का शुभारंभ
नुमाइश ग्राउंड से हुआ। सुबह से ही ट्रैक्टर नुमाइश ग्राउंड में पहुंचने लगे थे। ट्रैक्टर रैली के मुुख्य अतिथि भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल, किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष तेजा गुर्जर रहे।

किसानों का साथ है भाजपा के साथ-बेनीवाल
ट्रैक्टर रैली को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल ने कहा कि यहां किसान ट्रैक्टरों को लेकर राष्ट्रवाद की विचारधारा के साथ जुड़ते हुए एकत्रित हुए हैं। पश्चिम में गन्ना मिठास घोलता है। किसानों ने मिठास 2014 के चुनाव में देकर भाजपा की केंद्र में सरकार बनवाई थी, फिर 2017 के चुनाव में मिठास भरी और 2019 में भी ऐतिहासिक सरकार बनाने का काम किया। यह किसानों के प्यार से संभव हो पाया। आज नरेंद्र मोदी के कारण अमेरिका में भी भारत माता की जयकारे गूंजते हैं। भाजपा सरकार में सीमा पर तैनात जवानों का भी सीना गर्व से चौड़ा होता है। उन्होंने कहा कि किसानों का बेटा मिट्टी में खेल कर बड़ा होता है, तो जवान बनकर सीमा की रक्षा करता है। किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष तेजा गुर्जर ने कहा कि प्रदेश में सपा की सरकार के दौरान गुंडागर्दी होती थी। महिलाएं सुरक्षित नहीं थीं। अब
महिलाओं को सम्मान और सुरक्षा दिलाने का काम भाजपा ने किया है।

ट्रैक्टर चलाकर पहुंचे बेनीवाल-
प्रदर्शनी मैदान से शुरु ट्रैक्टर रैली में क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल ने खुद ट्रैक्टर चलाया। बाईपास रोड से होते हुए रैल शाम करीब चार बजे विवेक कॉलेज पहुंच कर संपन्न हुई। दावा किया गया कि सदर विधायक सूचि चौधरी सबसे ज्यादा 500 से ज्यादा ट्रैक्टर लेकर पहुंचीं। इसके अलावा अन्य
नेताओं ने भी ट्रैक्टर की संख्या के साथ अपना शक्ति प्रदर्शन किया।

मंच पर ये रहे मौजूद-
मुख्य अतिथि क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल, किसान मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष तेजा गुर्जर, प्रदेश महामंत्री किसान मोर्चा श्याम बाबू त्रिवेदी, जिला पंचायत अध्यक्ष साकेंद्र चौधरी, सदर विधायक सुचि मौसम
चौधरी, विधायक कमलेश सैनी, पूर्व सांसद राजा भारतेंद्र सिंह, चौधरी ओमपाल सिंह, प्रिंस चौधरी, खेल सिंह राजपूत, राहुल चौधरी, सीपी सिंह, अनूप वाल्मीकि, राजीव सिसौदिया पूर्व जिलाध्यक्ष, सुखविन्दर सोम क्षेत्रीय अध्यक्ष युवा मोर्चा मंच पर मौजूद रहे।

आयुष चौहान ने भी दिखाई ताकत

बिजनौर। भारतीय जनता पार्टी के सिपाहियों ने बढ़ चढ़कर ट्रैक्टर अभियान में भाग लिया। जिला पंचायत सदस्य आयुष चौहान के नेतृत्व में 101 ट्रैक्टर का रेला नूरपुर से बिजनौर के लिए रवाना हुआ। इसमें नूरपुर के नगर अध्यक्ष धर्मेंद्र जोशी, भाजपा युवा नेता अंकित जोशी, प्रेमपाल सिंह रवि, सरदार हरभजन सिंह रवि, सरदार गुरनाम सिंह, सचिन राणा, विनीत चौधरी आदि उपस्थित रहे। आयुष चौहान ने बताया कि ट्रैक्टर ट्रॉली रैली नूरपुर से बिजनौर ऐतिहासिक रूप में पहुंच रही है। यह अब तक की सबसे बड़ी ट्रैक्टर रैली होगी।

विनोद राठी व मंजू चौधरी भी दलबल के साथ पहुंचे- बिजनौर। पूर्व ब्लॉक प्रमुख और सदर सीट से प्रबल दावेदार विनोद राठी 251 ट्रैक्टर के साथ विधानसभा – 22 से आए समर्थकों व मंजू चौधरी ट्रैक्टर ट्राली के दलबल के साथ रैली में शामिल हुई। राठी द्वारा रैली मार्ग पर टेंट लगाकर ट्रैक्टर रैली आए हुए सभी लोगों के जलपान की व्यवस्था की गई।

उधर सदर सीट से ही भाजपा के टिकट की महिला दावेदार मंजू चौधरी ने खुद ट्रैक्टर चलाकर रैली में भागीदारी। ट्रैक्टर रैली पर पुष्पवर्षा की गई। महिला का ट्रैक्टर चलाकर रैली में शामिल होना जितना चर्चा का विषय बना, उतनी ही चर्चा उस ट्रैक्टर की भी हुई, जिस पर वे सवार थी। उनके साथ भी ट्रैक्टरों की लंगी कतारें गई और किसानों ने भाजपा के साथ मंजू चौधरी के जयकारे लगाकर विपक्षियों को ताकत का अहसास कराया।

कृषि कानून: जीता कोई भी हो, हारा तो किसान ही है!

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के तीनों कृषि कानून वापिस लेने की घोषणा पर आंदोलनरत किसान नेता इसे अपनी जीत मान रहे हैं। कुछ कह रहे हैं कि इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार की छवि खराब हुई है। भाजपाई खुश हैं कि इससे उन्हें किसानों का विरोध नहीं झेलना होगा। इस राजनैतिक शतरंज की बाजी में चाहे किसी दल को लाभ मिले या न मिले पर सबसे बड़ा नुकसान किसान का हुआ है। अब कोई भी राजनैतिक दल, कोई भी सरकार किसान हित के कानून बनाते डरेगी। किसान हित की बात करते कई बार सोचेगी। इस लड़ाई में जीता कोई भी हो पर वास्तव में हारा तो किसान है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कानून वापस लेने की घोषणा से कांग्रेस सहित देश का विपक्ष परेशान है कि उसके हाथ से एक बड़ा मुद्दा छिन गया। तीनों कृषि कानून काफी समय से लंबित थे। भाजपा से पूर्ववर्ती सरकार इन पर चिंतन और मनन कर रही थीं। उनकी इच्छा शक्ति नहीं थी। इसलिए वह लागू नहीं कर पाई।भाजपा ने यह सोचकर ये कृषि कानून बनाए कि इनका किसानों के साथ उन्हें लाभ मिलेगा, पर हुआ उल्टा। उन्हें ये कानून वापिस लेने पड़े। बकौल कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर; हम आंदोलनकारी किसान नेताओं को अपनी बात सही से नहीं समझा पाए। एक बात और क्या तीनों कृषि कानून में सब गलत थाॽ क्या कुछ भी किसान हित में नही थाॽ क्या कोई सरकार ऐसा कर सकती हैॽ इस पर सोचना किसी ने गंवारा नहीं किया।

किसी ने कहा है कि एक झूठ को इतनी बार बोलो, इस तरह बोलो कि वह सच लगने लगे; सच बन जाए। इस मामले में ऐसा ही हुआ भी। किसानों के लाभ के लिए बने कृषि कानून लगातार बोले जा रहे झूठ के कारण किसान विरोधी लगने लगे।

कानून लागू करने के बाद किसान आंदोलन को देखते हुए सरकार ने बार− बार किसान नेताओं से कहा कि वे कानूनों की कमियां बताए, सरकार संशोधन करेगी। सुधार करेगी। किसान नेता ने कभी कमी नहीं बताई। उनकी एक ही रट रही कि सरकार तीनों कानून वापिस ले।

आंदोलनकारी बजिद थे कि सरकार कानून वापिस ले। आंदोलनकारियों के बीच कुछ ऐसे लोग आ गए कि वह इस मामले को निपटने देना नहीं चाहते थे। एक तरह से हालात यह बनते जा रहे थे कि सरकार बल प्रयोग करे। गोली चलाए। किसान नेता चाहते थे कि आंदोलन वापिस हो या सरकार लाठी −गोली चलाए। सरकार इससे बचना चाहती थी। जो हालत 26 जनवरी पर किसान प्रदर्शन के दौरान थे, वैसे ही अब थे । इसीलिए ये सब टलता रहा। आ रही सूचनाओं , सूचना तंत्र की मिल रही खबरों के आधार पर सरकार पीछे हट गई। उसने किसान कानून वापिस लेने की घोषणा कर दी।

प्रधानमंत्री मोदी तथा भाजपा के नेतृत्व को लगा कि इससे मामला टल जाएगा। …लेकिन ऐसा होने वाला लगता नहीं। विपक्ष और आंदोलनकारी नेता इसे चुनाव तक गरमाए रखना चाहतें हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती ने मांग की है कि सरकार किसान आंदोलन में मरने वाले सात सौ किसानों के परिवार को मुआवजा और परिवार के एक – एक सदस्य को सरकारी नौकरी दे। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आंदोलन के दौरान शहीद हुए प्रत्येक किसानों के परिजनों को 25-25 लाख रुपए का मुआवजा देने की । यही बात कई अन्य विपक्षी नेता कह रहे हैं।

किसान नेता राकेश टिकैत और किसान संयुक्त मोर्चा के सदस्य शिवकुमार शर्मा कक्काजी का कहना है कि कानून वापिस होने के बाद ही वह आंदोलन खत्म करेंगे। वे किसान की उपज का न्यूनतम मूल्य निर्धारित करने के लिए कानून बनाने तक आंदोलन जारी रखने की बात कह रहे हैं। राकेश टिकैत ने मांग की है कि सरकार एमएसपी पर उनसे बात करे। इस पर बात होगी तो और कुछ मामला उठ जाएगा। किसान नेता एसपी सिंह का कहना है कि सरकार ने बहुत देर से फैसला लिया। हमारे 700 से अधिक किसान आंदोलन की भेंट चढ़ चुके हैं। उनकी शहादत हुई है। हमने बहुत कुछ खोया है। इसलिए सरकार के लिए तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना भर काफी नहीं है। उसे इस आंदोलन में अपनी जान गंवाने वाले किसानों को मुआवजा देने की घोषणा भी करनी होगी। कुछ बिजली बिल माफ करने की मांग कर रहे हैं। हालत यह हो गई है कि जितने मुंह हैं, उससे ज्यादा नई मांग हो रही हैं। किसान नेताओं की इस प्रतिक्रिया से लग रहा है कि अभी बहुत आसानी से सबकुछ पटरी पर आने वाला नहीं है। कांग्रेस और विपक्ष भी अभी इस मुद़दे को खत्म नहीं होने देगा। एक बात और पश्चिम उत्तर प्रदेश का किसान विशेषकर जाटों का बड़ा मुद्दा अभी नहीं उठा। पिछले चुलाव में जाट आरक्षण की मांग उठी थी। तब भी कहा गया था कि भाजपा जाटों को आरक्षण दे, नहीं तो उसका बाँयकाट किया जाएगा। अब फिर चुनाव आने को है, जाट समाज इसे फिर गरमाएगा। अभी वह किसान आंदोलन की वजह से चुप है।

इस पूरे आंदोलन की खास बात ये है कि किसान नेता सक्रिय हैं, विपक्ष सक्रिय है, सक्रिय नहीं है तो किसान। खमोश है तो किसान। उसकी ये खामोशी, उसकी ये चुप्पी उसे अब लंबे समय तक नुकसान पहुंचाएगी। उसके हित की; कल्याण की योजनाएं बनाते आने वाली सरकारें डरेंगी।

अशोक मधुप (लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं)

भाकियू की मासिक पंचायत में उठा गन्ना क्रय केंद्रों पर घटतौली का मुद्दा

गन्ना समिति में भारतीय किसान यूनियन की पंचायत

भाकियू की मासिक पंचायत में गन्ना क्रय केंद्रों पर घटतौली का मुद्दा उठाया। रोक न होने पर गन्ना अधिकारियों का करेंगे घेराव।

नूरपुर (बिजनौर)। गन्ना विकास समिति परिसर में भारतीय किसान यूनियन की मासिक पंचायत सम्पन्न हुई। मंगलवार को हुई पंचायत में किसानों ने गन्ना क्रय केंद्रों पर घटतोली का मुद्दा उठाते हुए रोक न होने पर गन्ना अधिकारियों का घेराव करने का निर्णय लिया है।
इसके अलावा धान क्रय केन्द्र पर किसान के आधार संख्या के साथ किसान की फर्द लिंक करने, गन्ना क्रय केंद्रों पर 9 कुंटल की बजाय अट्ठारह कुंटल की पर्ची जारी करने की मांग की। कहा कि 19 कुंटल की पर्ची कैलेंडर में दर्शाने पर किसान भ्रमित हो रहे हैं क्योंकि 9 क्विंटल की दो पर्ची मिलाकर ही क्रय केंद्रों पर गन्ना तोला जा रहा है। गन्ने की पर्ची मोबाईल पर भेजने के बजाय किसान को सीधे मुहैया कराने की मांग की गई। ब्लाक अध्यक्ष लक्ष्मी नारायण शर्मा ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में गन्ना समिति द्वारा किसानों से घोषणा पत्र मांगने का विरोध करते हुए कहा कि कोई भी किसान समिति को घोषणा पत्र प्रस्तुत नही करेगा। उन्होंने साफ चेतावनी दी कि शासन प्रशासन ने किसान को घोषणा पत्र जमा करने के लिए बाध्य किया तो यूनियन उग्र स्तर पर इसका विरोध करेगी। यूनियन के वरिष्ठ नेता जिला पंचायत सदस्य उत्तम सिंह के संचालन में सम्पन्न हुई पंचायत में ब्लॉक सचिव मोनू चौधरी, विक्रम सिंह, यशवंत सिंह, सीताराम, मोती सिंह, अशोक कुमार, देवेंद्र कुमार, ओमप्रकाश सिंह, वीर सिंह, बलजीत सिंह, नन्हे सिंह, धर्मवीर सिंह, गजेंद्र सिंह, बबलू, चमन सिंह, छत्रपाल सिंह, रामकुमार, महेश सिंह, राजबहादुर, अमर सिंह आदि किसानों ने विचार व्यक्त किये।

लाखों किसानों को बर्बाद फसलों का मुआवजा ₹ साढ़े 74 करोड़

लखनऊ (प्रयाण समाचार)। प्रदेश में 48 जिलों के 208793 किसानों को उनकी बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा देने के लिए 74 करोड़ 52 लाख 94 हजार 208 रुपए दिए जा रहे हैं। अपर मुख्य सचिव राजस्व मनोज कुमार सिंह ने बुधवार को इस संबंध में शासनादेश जारी कर दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभागीय अधिकारियों को बाढ़ प्रभावित किसानों को हर संभव सहायता देने का निर्देश दिया है। इस आधार पर जिलों से फसलें बर्बाद होने से प्रभावित किसानों का ब्यौरा मांगा गया था।

राहत आयुक्त कार्यालय की वेबसाइट पर ऐसे 827451 प्रभावित किसानों की जानकारी फीड की गई है। इस आधार पर 48 जिलों के 208793 किसानों को सहायता राशि देने का फैसला किया गया है। किसानों को सहायता राशि बांटने की जानकारी राहत आयुक्त कार्यालय को ऑनलाइन दी जाएगी। राज्य सरकार इसके पहले भी बाढ़ प्रभावित किसानों को सहायता राशि बांटने के लिए पैसे दे चुकी है।

अपर मुख्य सचिव राजस्व ने झांसी, ललितपुर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, देवरिया, खीरी, बहराइच, अलीगढ़, गाजीपुर, मऊ, कुशीनगर, संतकबीर नगर, वाराणसी, सीतापुर, पीलीभीत, बलरामपुर, बलिया, बरेली, बाराबंकी, जालौन, बस्ती, चंदौली, कानपुर देहात, बिजनौर, अंबेडकरनगर, रामपुर, महोबा, हमीरपुर, मुरादाबाद, कानपुर शहर, श्रावस्ती, हरदोई, गोंडा, चित्रकूट, सुल्तानपुर, अमेठी, आजमगढ़, कन्नौज, फर्रुखाबाद, मेरठ, उन्नाव, बदायूं, भदोही व मुजफ्फरनगर के डीएम को इस संबंध में निर्देश भेजते हुए सहायता राशि देने का निर्देश दिया है।

किसान कल्याण मिशन: 1 नवंबर से प्रारंभ होंगी किसान पाठशालाएं


किसान कल्याण मिशन के अंतर्गत जनपद में 1 नवंबर से प्रारंभ होंगी किसान पाठशालाएं।

बिजनौर। किसान कल्याण मिशन के अंतर्गत जनपद में 1 नवंबर से किसान पाठशालाएं प्रारंभ होंगी। यह जानकारी देते हुए उप कृषि निदेशक गिरीश चंद ने अवगत कराया कि जनपद की प्रत्येक न्याय पंचायतों की 2 ग्राम सभाओं में किसान पाठशालाओं का आयोजन किया जाएगा। रवि अंतर्गत न्याय पंचायत के पहले ग्राम में दिनांक 1 व 2 नवंबर को व दूसरी किसान पाठशाला दिनांक 11 में 12 नवंबर को अपराह्न 2:30 बजे से 5:00 बजे तक आयोजित की जाएगी। इन पाठशालाओं के माध्यम से कृषकों को फसल प्रबंधन एवं रवि मौसम में बोई जाने वाली फसलों की तकनीकी जानकारी दिए जाने के साथ साथ गन्ना, पशुपालन, मत्स्य व उद्यान विभाग की योजनाओं के संबंध में भी जानकारी दी जाएगी।

राहत: बिना सत्यापन 100 कुंतल तक धान बेच सकेंगे किसान

लखनऊ। किसानों के लिए बिना सत्यापन के धान बेचने की सीमा 50 कुंतल से बढ़ा कर 100 कुंतल कर दी गई है। किसानों को बुआई के रकबे के सत्यापन के लिए एसडीएम के चक्कर लगाने पड़ते थे। इससे सत्यापन के मामले बढ़ने के साथ ही धान खरीद में तेजी नहीं आ पा रही थी।

धान खरीद में बुआई के रकबे के सत्यापन के बिना धान बेचने का प्रावधान नहीं था। अक्तूबर की शुरुआत में ही 50 कुंतल तक रकबे के  सत्यापन की शर्त हटा दी गई थी। अब इस सीमा को बढ़ाते हुए 100 कुंतल किया गया है। किसानों को अफसरों के न मिलने पर तहसीलों का चक्कर लगाना पड़ता था। इसके बावजूद चकबंदी के तहत गांवों के किसानों का धान, चकबंदी सबंधी प्रमाणपत्रों के ऑनलाइन सत्यापन के बाद ही खरीदा जाएगा।  इस बार कॉमन धान श्रेणी 1940 रुपए प्रति कुंतल व ग्रेड ए के धान का मूल्य 1960 रुपये प्रति कुंतल तय किया गया है।  

गन्ना ब्याज हुंकार रैली से सरकार पर बनेगा दबाव: सरदार वीएम सिंह

लोहा गरम है, किसान चोट कर दे। बढ़े हुए 25 रुपए वापस ले ले सरकार। डीजल आदि हर चीज का दाम पांच साल पहले जैसा कर दे।

बिजनौर। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सरदार वीएम सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने 27 अक्तूबर तक ब्याज सहित गन्ना भुगतान के निर्देश दिए हैं। सरकार पर कोर्ट का दबाव है। मिल मालिकों से एक बार ब्याज ले लिया तो फिर कभी किसान को भुगतान के लिए धरना नहीं देना होगा।

अमरोहा में आयोजित गन्ना ब्याज हुंकार रैली में जाने से पहले बिजनौर पहुंचे वीएम सिंह ने गन्ना समिति में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि किसान को लागत का डेढ़ गुना वादा करने वाली सरकार अब गन्ने में चार साल बाद केवल 25 रुपए बढ़ा रही है। सरकार ये बढ़ी रकम वापस ले ले और डीजल आदि हर चीज का दाम पांच साल पहले जैसा कर दे। गन्ना दाम कम से कम 450 रुपए प्रति क्विंटल होना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि 25 साल हम लड़े। पिछली सरकार ने ब्याज माफ कर दिया। लोहा गरम है, किसान चोट कर दे। चुनाव आ गए हैं, योगी जी को पता चल जाएगा। ब्याज मिल जाए तो हर एकड़ पर किसान के घर मे 25-25 हजार रुपए ब्याज आ जाएगा, उसके त्योहार अच्छे मन जाएंगे। कई मिल ग्रुप ऐसे भी हैं जो किसानों को विलंब भुगतान का ब्याज देने के नाम पर नुकसान दिखा रहे थे और अब कई कई चीनी मिल खोल चुके हैं। उन्होंने कहा कि भुगतान न मिलने पर किसान को गन्ना समिति को ब्याज देना पड़ता है तो किसान को भी सरकार से ब्याज लेने का अधिकार है। सुप्रीम कोर्ट ने ब्याज सहित भुगतान देने को कहा है। सरकार पर कोर्ट का दबाव है।

लखीमपुर खीरी प्रकरण में राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि गृह राज्यमंत्री अजय शर्मा के गलत बयान की वजह से किसान भड़के और ये हादसा हुआ। मंत्री पर एफआईआर दर्ज होनी चाहिए। उनके साथ वेस्ट यूपी महासचिव कैलाश लांबा, जिलाध्यक्ष विनोद कुमार आदि रहे।

55,243 अपात्रों से वसूली जाएगी किसान सम्मान निधि योजना की रकम

बरेली। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा फर्जीवाड़ा पकड़े जाने के बाद अब अपात्रों से रिकवरी की तैयारी है। सरकारी नौकरी में होने या फिर अच्छा बिजनेस करने के बावजूद भी 55,243 खातों में सम्मान निधि की धनराशि पहुंच रही थी। बरेली मंडल में सितंबर में शासन स्तर पर मामले की जांच कराई गई। तब फर्जीवाड़ा पकड़ा गया। अब इन अपात्रों को जिला कृषि विभाग की ओर से रिकवरी नोटिस जारी किए जा रहे हैं। वसूली गई रकम भारत सरकार के कोष में जमा कराई जाएगी।

केंद्र सरकार के पास तीन महीने पहले प्रधानमंत्री कृषि सम्मान निधि योजना के संबंध में फर्जीवाड़ा की शिकायतें पहुंची थीं। आरोप था कि बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं, जो किसान नहीं बल्कि सरकारी नौकरी में हैं या फिर बड़े बिजनेस कारोबारी हैं। इसके बावजूद भी उनके खाते में सम्मान निधि योजना की रकम पहुंच रही है। शासन स्तर पर मामले की जांच के दौरान जिला स्तर पर जब सम्मान निधि की रिपोर्ट मांगी गई तो जांच में खुलासा हुआ।

विभागीय सूत्रों का कहना है कि प्रदेश में 2,34,010 आयकर दाता, 32,393 मृतक, 3,86,250 गलत खाते पकड़े गए। 57,987 अपात्र और 68,540 अवैध आधार कार्ड मिले। प्रदेश में 7,79,180 अपात्रों को सम्मान निधि का लाभ मिल रहा था। बरेली मंडल में सम्मान निधि का लाभ लेने वाले आयकर दाता 8,314, मृतक 2189, गलत खाता में भुगतान वाले 31,637, अपात्र 5,336, अवैध आधार 7,767 कुल मिलाकर 55,243 लोग चिन्हित किए गए। यह वह लोग हैं, जो गलत तरीके से सम्मान निधि का लाभ ले रहे थे। बरेली जिले में 16707, बदायूं में 15743, पीलीभीत में 12817 व शाहजहांपुर में 9,976 लोग सम्मान निधि को अपात्र चुने गए हैं।

आधार कार्ड से पकड़ में आया घपला

सरकार ने किसान सम्मान निधि लेने वाले किसानों की सत्यापन रिपोर्ट आधार कार्ड से कराई। बैंक एकाउंट में आधार नंबर को डालकर सर्च करते ही आधार से जुड़े सभी एकाउंट लिंक हो गए। जांच में बरेली मंडल में 8,314 आयकर दाता किसान सम्मान निधि का लाभ लेते मिले। 5,336 ऐसे किसान चिन्हित हुए, जिनके एक परिवार में कई- कई लोग सम्मान निधि ले रहे थे। पत्नी, बेटे और बहू के खाते में भी सम्मान निधि पहुंच रही थी। जो किसान मर गए, उनके खाते भी सम्मान निधि आ रही थी। ऐसे 2189 मृतकों के खाता पकड़ में आए। 31,637 गलत खाते मिले।

बरेली मंडल में कुल 55,243 अपात्र: किसान सम्मान निधि पाने वालों का सत्यापन जिला स्तर पर किया गया। किसान के नाम, पिता या पति का नाम, गांव, आधार संख्या, खसरा खतौनी की जांच ऑनलाइन की गई। मण्डल में 55,243 अपात्र मिले। उनको रिकवरी नोटिस भेजे जा रहे हैं। -धीरेंद्र सिंह चौधरी प्रभारी उप कृषि निदेशक

चोरी करने से रोका तो दबंगों ने जहर डाल कर तालाब की मछलियों को मारा

बिजनौर। तालाब में मछलियां पालने वाले ने गांव के ही चार दबंगों को मछली चोरी करते पकड़ा तो पुत्र समेत पीटा गया। इतने पर भी मन नहीं भरा तो दबंगों ने तालाब में जहर डाल कर सभी मछलियों की जान ले ली। उस पर थाना पुलिस भी उस्ताद निकली, पीड़ित की शिकायत पर दोनों ही पक्षों का चालान कर दिया। अब पीड़ित मछली पालक की पत्नी ने कलक्ट्रेट पहुंच कर न्याय की गुहार लगाई है। मरी हुई मछलियों की कीमत ₹पांच लाख बताई गई है।

ये है पूरा मामला: नूरपुर थाना क्षेत्र के गांव उमरी खादान निवासी किसान शहीद अहमद ने गांव में ही एक तालाब में मछली पालन किया हुआ है। एक रात्रि में शहीद ने अपने तालाब से मछलियां चोरी करते हुए गांव के ही कुछ दबंगो को मौके पर पकड़ा। आरोप है कि शहीद ने जब इन सभी को मछली चोरी करने के लिए मना किया तो उक्त लोगों ने शहीद व उसके लड़के सैफ अली की जमकर मारपीट कर दी। इसमें शहीद और सैफ घायल हो गए। घायलों द्वारा अस्पताल में उपचार कराया गया। बाद में इकबाल, मानू, इसरार और फयाजू के खिलाफ तहरीर दी गई तो पुलिस ने कार्यवाही करते हुए दोनों पक्ष के लोगों का चालान कर दिया।

न्याय की गुहार: इसी के चलते पीड़ित शहीद की पत्नी ग्रामीणों और परिजनों के साथ कलक्ट्रेट परिसर पहुंची। वहां उसने जिला प्रशासन से मरी मछलियों के मुआवजे और उक्त दबंगो के खिलाफ कार्यवाही की गुहार लगाई। मरी हुई मछलियों की कीमत ₹पांच लाख बताई गई है।

प्रधानमंत्री ने विशेष गुणों वाली फसलों की 35 किस्में कीं राष्ट्र को समर्पित


राष्ट्रीय जैविक तनाव प्रबंधन संस्थान, रायपुर का नवनिर्मित परिसर राष्ट्र को समर्पित।

कृषि विश्वविद्यालयों को ग्रीन कैंपस अवार्ड भी वितरित।

“जब भी किसानों और कृषि को सुरक्षा कवच मिलता है, उनका तेजी से विकास होता है”- मोदी

“हमारी प्राचीन कृषि परंपराओं के साथ-साथ भविष्य की ओर आगे बढ़ना भी समान रूप से महत्वपूर्ण है”

नई दिल्ली (PMO)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विशेष गुणों वाली फसलों की 35 किस्में राष्ट्र को समर्पित कीं। उन्होंने राष्ट्रीय जैविक तनाव प्रबंधन संस्थान, रायपुर का नवनिर्मित परिसर भी राष्ट्र को समर्पित किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कृषि विश्वविद्यालयों को ग्रीन कैंपस अवार्ड वितरित किये। उन्होंने उन किसानों के साथ बातचीत की, जो नवोन्मेषी तरीकों का उपयोग करते हैं तथा सभा को भी संबोधित किया।  

प्रधानमंत्री ने जम्मू और कश्मीर के गांदरबल की श्रीमती जैतून बेगम, बुलंदशहर उत्तर प्रदेश के किसान और बीज उत्पादक श्री कुलवंत सिंह, बारदेज, गोवा की रहने वाली श्रीमती दर्शना पेडनेकर, मणिपुर के श्री थोइबा सिंह व उधम सिंह नगर, उत्तराखंड के निवासी श्री सुरेश राणा से उनके क्षेत्र व कार्य से संबंधित बातचीत की।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले छह-सात वर्षों में कृषि से संबंधित चुनौतियों के समाधान के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी का प्राथमिकता के आधार पर उपयोग किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा, “हमारा सबसे ज्यादा ध्यान अधिक पौष्टिक बीजों पर है, जो खासकर बदलते मौसम में, नई परिस्थितियों के अनुकूल हैं।”

प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि जब भी किसानों और कृषि को सुरक्षा कवच मिलता है तो उनका विकास तेजी से होता है। उन्होंने बताया कि भूमि के संरक्षण के लिए 11 करोड़ मृदा स्वास्थ्य कार्ड जारी किए गए हैं। प्रधानमंत्री ने सरकार की किसान-हितैषी पहलों के बारे में बताया, जैसे – किसानों को जल सुरक्षा प्रदान करने के लिए लगभग 100 लंबित सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने के लिए अभियान, फसलों को बीमारियों से बचाने के लिए किसानों को नई किस्मों के बीज उपलब्ध कराना और इस प्रकार अधिक उपज प्राप्त करना। उन्होंने कहा कि एमएसपी बढ़ाने के साथ-साथ खरीद प्रक्रिया में भी सुधार किया गया ताकि अधिक से अधिक किसानों को इसका लाभ मिल सके। रबी सीजन में 430 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं की खरीद की गई है और किसानों को 85 हजार करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान किया गया है। महामारी के दौरान गेहूं खरीद केंद्रों की संख्‍या को तीन गुना से अधिक बढ़ाया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों को तकनीक से जोड़कर हमने उनके लिए बैंकों से मदद लेना आसान बना दिया है। आज किसानों को मौसम की जानकारी बेहतर तरीके से मिल रही है। हाल ही में 2 करोड़ से अधिक किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड उपलब्‍ध कराए गए हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के कारण जो नए प्रकार के कीट, नई बीमारियां, महामारियां आ रही हैं, इससे इंसान और पशुधन के स्वास्थ्य पर भी बहुत बड़ा संकट आ रहा है और फसलें भी प्रभावित हो रही है। इन पहलुओं पर गहन रिसर्च निरंतर जरूरी है। उन्होंने कहा कि जब साइंस, सरकार और सोसायटी मिलकर काम करेंगे तो उसके नतीजे और बेहतर आएंगे। किसानों और वैज्ञानिकों का ऐसा गठजोड़, नई चुनौतियों से निपटने में देश की ताकत बढ़ाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि किसान को सिर्फ फसल आधारित इनकम सिस्टम से बाहर निकालकर, उन्हें वैल्यू एडिशन और खेती के अन्य विकल्पों के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि साइंस और रिसर्च के समाधानों से अब मोटे अनाजों सहित अन्य अनाजों को और विकसित करना ज़रूरी है। उन्‍होंने कहा इसका मकसद ये कि देश के अलग-अलग हिस्सों में, अलग-अलग ज़रूरतों के हिसाब से इन्हें उगाया जा सके। उन्होंने लोगों से कहा कि वे संयुक्त राष्ट्र द्वारा आगामी वर्ष को मिलेट वर्ष घोषित किए जाने के फलस्‍वरूप उपलब्‍ध होने वाले अवसरों का उपयोग करने के लिए तैयार रहें।

बीते 6-7 सालों में साइंस और टेक्नॉलॉजी को खेती से जुड़ी चुनौतियों के समाधान के लिए प्राथमिकता के आधार पर उपयोग किया जा रहा है।

विशेष रूप से बदलते हुए मौसम में, नई परिस्थितियों के अनुकूल, अधिक पोषण युक्त बीजों पर हमारा फोकस बहुत अधिक है: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

पिछले वर्ष ही कोरोना से लड़ाई के बीच में हमने देखा है कि कैसे टिड्डी दल ने भी अनेक राज्यों में बड़ा हमला कर दिया था।

भारत ने बहुत प्रयास करके तब इस हमले को रोका था, किसानों का ज्यादा नुकसान होने से बचाया था: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

किसानों को पानी की सुरक्षा देने के लिए, हमने सिंचाई परियोजनाएं शुरू कीं, दशकों से लटकी करीब-करीब 100 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने का अभियान चलाया।

फसलों को रोगों से बचाने के लिए, ज्यादा उपज के लिए किसानों को नई वैरायटी के बीज दिए गए: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

MSP में बढ़ोत्तरी के साथ-साथ हमने खरीद प्रक्रिया में भी सुधार किया ताकि अधिक-से-अधिक किसानों को इसका लाभ मिल सके।

रबी सीजन में 430 लाख मीट्रिक टन से ज्यादा गेंहूं खरीदा गया है।

इसके लिए किसानों को 85 हजार से अधिक का भुगतान किया गया है: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

किसानों को टेक्नोलॉजी से जोड़ने के लिए हमने उन्हें बैंकों से मदद को और आसान बनाया गया है।

आज किसानों को और बेहतर तरीके से मौसम की जानकारी मिल रही है।

हाल ही में अभियान चलाकर 2 करोड़ से ज्यादा किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड दिए गए हैं: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

जलवायु परिवर्तन के कारण जो नए प्रकार के कीट, नई बीमारियां, महामारियां आ रही हैं, इससे इंसान और पशुधन के स्वास्थ्य पर भी बहुत बड़ा संकट आ रहा है और फसलें भी प्रभावित हो रही है।

इन पहलुओं पर गहन रिसर्च निरंतर ज़रूरी है: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

जब साइंस, सरकार और सोसायटी मिलकर काम करेंगे तो उसके नतीजे और बेहतर आएंगे।

किसानों और वैज्ञानिकों का ऐसा गठजोड़, नई चुनौतियों से निपटने में देश की ताकत बढ़ाएगा: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

किसान को सिर्फ फसल आधारित इनकम सिस्टम से बाहर निकालकर, उन्हें वैल्यू एडिशन और खेती के अन्य विकल्पों के लिए भी प्रेरित किया जा रहा है: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

साइंस और रिसर्च के समाधानों से अब मिलेट्स और अन्य अनाजों को और विकसित करना ज़रूरी है।

मकसद ये कि देश के अलग-अलग हिस्सों में, अलग-अलग ज़रूरतों के हिसाब से इन्हें उगाया जा सके: PM @narendramodi— PMO India (@PMOIndia) September 28, 2021

Cafe D, शॉपर्स प्राइड मॉल, बिजनौर

अभूतपूर्व रहा किसानों का चक्का जाम

बिजनौर। कृषि कानून, किसानों की समस्याओं को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने जनपद में करीब 33 स्थानों पर चक्का जाम किया। इस दौरान किसानों ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया।

भारतीय किसान यूनियन की ओर से 27 सितंबर को भारत बंद के आह्वान के तहत जनपद बिजनौर में करीब 33 स्थानों पर चक्का जाम किया गया। इस दौरान उन्होंने एंबुलेंस, अंतिम संस्कार के वाहन व स्कूली वाहनों को जाने दिया। किसानों के द्वारा किए गए चक्का जाम से पूरे जिले भर में वाहनों की लंबी-लंबी कतारें सड़कों पर दिखाई दी। किसानों ने बिजनौर के बैराज मार्ग पर कुलदीप सिंह, चांदपुर धनौरा मार्ग बागढपुर में रोहताश सिंह, जलीलपुर चौराहा पर हुकुम सिंह, चांदपुर बास्टा मार्ग पर ग्राम कौशल्या में महिपाल सिंह, स्याऊ छाछरी लदुपुरा में कल्याण सिंह, बिजनौर चांदपुर मार्ग पर रौनिया में अशोक कुमार, चांदपुर थाना चौराहे पर अशोक कुमार, बालकिशन पुर चौराहे पर उदयवीर सिंह, गोलबाग चौराहा पर नितेन्द्र सिंह प्रधान, दारानगर गँज में डालचंद प्रधान, नगीना बढापुर मार्ग पर धर्मवीर सिंह, नहटौर नूरपुर मार्ग पर बालापुर में देवेन्द्र सिंह, नहटौर धामपुर मार्ग पर गागन नदी पर विजयपाल सिह, फुलसदा खाकम में सदीप कुमार, नहटौर चादपुर मार्ग पर सदरूद्दीन नगर में सजीव कुमार, बिजनौर कोतवाली मार्ग पर पीली चौकी में मौन्टी कुमार, मण्डावर में पीतमद्वार पर विजयपाल सिंह, बिजनौर चंदक मार्ग पर दौलतपुर में डा. विजयपाल सिंह, स्योहारा थाना चौक पर गजेन्द्र सिंह, अफजलगढ़ चौराहा पर दर्शनपाल सिंह फौजी, धामपुर नहटौर मार्ग पर गजुपुरा में दुष्यंत राणा, धामपुर नूरपुर मार्ग पर नीदडू में राजेन्द्र सिंह, पुरैनी चौराहा पर डा योगेन्द्र सिंह, अकबराबाद चौराहा पर बलजीत सिंह, कोतवाली नहटौर मार्ग पर साहबपुरा में मुनेश कुमार, बिजनौर कोतवाली मार्ग पर बान के पुल पर समरपाल सिंह, बिजनौर किरतपुर मार्ग पर हुसैनपुर में भोपाल राठी, मण्डावली चौराहा पर अवनीश चौहान, नागलसोती चौराहा पर राजवीर सिंह काकरान, नजीबाबाद बूंदकी मार्ग पर लालपुर में महेन्द्र सिंह, नूरपुर शहीद चौक पर लक्ष्मीनारायण शर्मा, फीना नौगांव मार्ग पर मुराहट में मलूक, किरतपुर में नगीना चौराहे पर अरविन्द राजपूत, नगीना रायपुर मार्ग तिराहे पर वीरसिह डबास के नेतृत्व में किसानों ने चक्का जाम किया।

गंज। संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने हल्दौर चौराहे पर जाम लगाया, जिससे सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें लग गईं। भारत बंद का गंज में मिलाजुला असर देखने को मिला। धरना प्रदर्शन की अगुवाई शंकर सिंह रवि, शेखर तोमर, परविंदर सिंह उर्फ नीटू, सरदार बूटा सिंह, चौधरी दिनेश कुमार, लवली सिंह, हरि सिंह, कबीर सिंह, परम सिंह, जयराम सिंह, सरदार सरदार मलकीत सिंह, सरदार अजीत सिंह, सरदार लाडी सिंह, अमर सिंह, उपेंद्र कुमार, नरेंद्र उर्फ कलवा आदि ने की।

स्योहारा। थाना चौराहे पर भाकियू ब्लाक अध्यक्ष चौधरी गजेंद्र सिंह टिकैत की अगुवाई में चक्का जाम किया गया। इस दौरान थानाध्यक्ष आशीष कुमार तोमर के नेतृव में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रही। इस रास्ते से गुजरने वाले ट्रैफिक को भी डायवर्ट किया गया। इस मौके पर सेकड़ो किसानों की भारी भीड़ मौजूद रही।

रोड जाम कोई हल नहीं: नरेश प्रधान

कोतवाली देहात। बंद का असर ग्रामीण क्षेत्र में देखने को नहीं मिला। रोज की तरह ही सामान्य तौर पर दुकानें खुली रही। लोग सामान्य दिनों की तरह ही अपने दुकानें व प्रतिष्ठान खोले रहे। सड़कों पर भी लोगों की आवाजाही सामान्य दिनों की तरह ही दिखाई दी। भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने नेशनल हाईवे 74 पर अकबराबाद पेट्रोल पंप के सामने रोड जाम किया। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस रोड पर गश्त करती रही। भारतीय किसान यूनियन (भानु) के जिला अध्यक्ष चौधरी नरेश प्रधान का कहना है कि रोड जाम करना किसी समस्या का हल नहीं है। समस्या का हल निकालने के लिए दोनों पक्षों को आपस में बातचीत करनी चाहिए। रोड जाम करने से केवल जनता को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

अराजकता का शिकार हो गया बंद: रामनिवास यादव

लखनऊ। सोमवार को राष्ट्रीय अन्नदात यूनियन के अध्यक्ष रामनिवास यादव ने वक्तव्य जारी कर कहा कि किसान हितैषी कृषि बिलों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा एवं विपक्ष की राजनैतिक पार्टियों द्वारा बुलाया गया भारत बंद पूरी तरह अराजकता का शिकार हो गया।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से संयुक्त किसान मोर्चा के नेता एवं विपक्षी पार्टी मिलकर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, झारखण्ड, केरल, तमिलनाडु, महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में सड़क जाम करके आम जनता से अभद्रता कर रहे हैं वो पूरी तरह से गलत है। ये वही प्रदेश हैं जहां विपक्ष की सरकार है। इसी प्रकार बिहार में राष्ट्रीय जनता दल एवं वामपंथी संगठनों ने अराजकता फैलाई। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता एवं नेताओं ने उत्तर प्रदेश में भी दो तीन जगहों पर अराजक आंदोलन किये। जिस प्रकार पूरे देश में संयुक्त किसान मोर्चा कथित अंदोलन, विपक्ष के कुछ राजनैतिक दलों के साथ सांठ गांठ करके किसानों को मोहरा बनाकर कर रहे हैं। वह अपनी राजनैतिक रोटियां सेक रहे हैं। यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है एवं देश के किसानों को बदनाम करने की बहुत बड़ी साजिश है। अब यह कथित किसान आंदोलन संयुक्त किसान मोर्चा का न होकर विपक्ष की राजनैतिक पार्टियों का आंदोलन हो गया है। कथित किसान आंदोलन के नाम पर पूरे देश में अराजकता फैलाने का काम किया जा रहा है। इससे एक बात साफ़ होती जा रही है कि कथित अंदोलन की आड़ में राजनैतिक पार्टियां
अपना एजेंडा चलाने में सफल हो गयी हैं, जिसमें संयुक्त किसान मोर्चा सिर्फ मोहरा बना है। इस कथित किसान आंदोलन में वही सब शामिल हो रहे हैं, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटने, देश में CAA, NRC लागू करने पर अराजकता फैला कर देश की राजधानी दिल्ली को आग लगाकर, दंगा फैलाकर कई लोगो की जाने ले ली थी। आज वही संगठन कथित किसान आंदोलन में शामिल होकर अराजकता फैलाने का काम कर रहे हैं। यह बात साफ़ हो गई है कि किसान हितैषी कृषि बिल तो बहाना है, असली काम दंगे कराकर अराजकता फैलाना है। इनके इस अराजक कृत्य को राष्ट्रीय अन्नदात यूनियन कभी सफल नहीं होने देगी। इस कथित किसान आंदोलन को बेनकाब करके रहेगी।

गन्ना किसानों को बुआई और बीमारियों से बचाव की दी जानकारी

बिजनौर (दीपक कुमार)। सहकारी गन्ना विकास समिति में राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर गन्ना किसानों को गन्ने की बुआई और बीमारियों से बचाव के बारे में जानकारी दी गई।

गन्ना किसान संस्थान प्रशिक्षण केंद्र मुरादाबाद के तत्वावधान में आयोजित शिविर में किसानों को गन्ने की फसल संबंधी विभिन्न जानकारी दी गई। इसके अलावा सहफसली खेती पर भी जोर दिया गया। कृषि वैज्ञानिक डॉ. मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि किसानों को गन्ने की अच्छी पैदावार लेने के लिए अच्छे बीज की बुआई करनी चाहिए। उर्वरकों का प्रयोग भी संतुलित मात्रा में करना चाहिए।

ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक दलेश्वर मिश्र ने बताया की वैज्ञानिक विधि से गन्ने की खेती करने से और भी अच्छी पैदावार होती है। उन्होंने फसल को लगने वाली बीमारियों व उसके बचाव के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सामान्य गन्ने की बुवाई से जमीन मजबूत होती है। प्रत्येक किसान को चाहिए की एक बीघा में पांच कुंतल गन्ने की बुवाई करें। किसानों को गन्ने की पैदावार लेने के लिए अच्छे बीज की बुवाई करनी चाहिए तथा उर्वरकों का प्रयोग भी संतुलित मात्रा में करना चाहिए।

डिफेंस एक्सपो में शामिल होगी राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन

लखनऊ। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 26 सितम्बर2021 को डिफेंस एक्सपो वृन्दावन योजना लखनऊ उत्तर प्रदेश में किसान कल्याण सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में हमारी राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने सम्मिलित होने का निर्णय लिया है। यह कार्यक्रम देश एवं प्रदेश के किसानों के कल्याण के लिए किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में प्रदेश की अन्य किसान यूनियन भी सम्मिलित हो रही है एवं भारी संख्या में प्रदेश भर के किसान भाई सम्मिलित हो रहे है।

यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार एवं प्रदेश की योगी सरकार किसान भाईयों की आय बढाने हेतु लगातार कार्य कर रही है लेकिन कुछ कथित किसान यूनियन नेता राजनैतिक कारणों से कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं। ऐसे कथित किसान नेताओं की कड़ी आलोचना करते हुए राम निवास यादव ने कहा कि आज पूरे देश का किसान नये कृषि बिलों का स्वागत एवं समर्थन करते हुए बिल के साथ है तो वहीं कुछ तथाकथित किसान नेता कुछ राजनैतिक दलों से साँठ-गाँठ कर किसान भाईयों के कृषि बिलों का विरोध कर भ्रमित कर रहे हैं जबकि इनका उद्देश्य किसान हित न होकर अपनी-अपनी राजनैतिक जमीन बनाना है।

इन कथित किसान नेताओं की करतूते पूरे देश का किसान अच्छी तरह देख एवं समझ रहा है। देश का असली किसान इन कथित किसान नेताओं का साथ नहीं दे रहा है, जिससे यह बौखलाकर बिचौलियों एवं कुछ राजनैतिक दलों के साथ साँठ-गाँठ करके मोदी सरकार को बदनाम करने की नीयत से आन्दोलन को चला रहे हैं, जबकि किसान मसीहा स्व0 महेन्द्र सिंह टिकैत ने सबसे पहले किसानों की इन्ही मांगों को लेकर आन्दोलन किया था, जिसको पूर्ववर्ती सरकारें लागू करने का साहस नहीं दिखा पायी थीं। किसानों को बिचौलियों से मुक्त किया जाये तथा देश के किसानों को अपनी फसल को अपने दामों में प्रदेश एवं देश में कही भी बेचने की अनुमति दी जाये। इसके साथ ही खेती एवं कृषि यंत्रों में भी अन्य उद्योगों की तरह सहूलियतें दी जाये। इसको मोदी सरकार ने कृषि बिलों के माध्यम से लागू किया है। राम निवास यादव ने कहा कि आज जब मोदी सरकार ने किसानों की समस्याओं को देखते हुए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार किसान हितों के लिए कृषि बिल लागू किया है तो कुछ कथित किसान नेता इन बिलों का विरोध करने लगे हैं, ऐसे किसान नेताओं का हमारी राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन घोर विरोध एवं निन्दा करती है।

राकेश टिकैत का जिले में जगह जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत

बिजनौर। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का जिले में जगह जगह कार्यकर्ताओं ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। वह उत्तराखंड के लक्सर में होने वाली महापंचयत में शामिल होने जा रहे थे।

भाकियू बिजनौर कार्यालय पर भाकियू युवा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह, भाकियू के जिलाध्यक्ष कुलदीप सिंह, सुनील कुमार, राम अवतार सिंह, अतुल कुमार, संदीप सिंह, दीपक तोमर आदि किसानों ने उनका पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। इस दौरान इकरार, वजीर, सत्यपाल, धर्मेंद्र राठी, बाबू राम तोमर, डॉ. विजय सिंह, विकास, कार्मेंद्र, सुभाष कैलाश, अंकित चौधरी, शाहनवाज अब्बासी, वजीर हसन, आजाद, शब्बू, माजिद हुसैन, राजा, शबाब काजी, दानिश सैफी आदि मौजूद रहे।

इसके बाद राकेश टिकैत के काफिले का मण्डावर चुंगी पर नगर अध्यक्ष वकार अहमद के नेतृत्व में क्षेत्र व कस्बा मण्डावर के सैकड़ों किसानों ने जोरदार स्वागत किया। इस दौरान बाबा महेन्द्र सिह टिकैत अमर रहें व राकेश टिकैत जिदाबाद के नारे गूंजते रहे।

स्वागत करने वालों में नगर पंचायत सभासद, हाजी तहज़ीब बेग, नगर अध्यक्ष विकार अहमद के पिता इकबाल अहमद, डॉक्टर अनीस, रशीद अहमद, खुर्शीद ठेकेदार, शाहिद हुसैन, अमान हैदर, विशाल, वकील अहमद, जितेंद्र पहलवान, डॉक्टर विजय सिंह, योगेश आदि शामिल रहे। वहीं मंडावर चुंगी से बालावाली जाने के दौरान क्षेत्र के ग्राम देविदासवाला, दयालवाला, मोद्दीनपुर नारायणपुर, नारायणपुर, रामजीवाला आदि में उनका जोरदार स्वागत किया गया।

किसान पाठशालाओं में फसल अवशेष न जलाने की शपथ दिलाई


बिजनौर। कृषकों को किसान पाठशालाओं में फसल अवशेष न जलाने की शपथ दिलाई गई।
द मिलियन फारमर्स स्कूल के अंतर्गत द्वितीय चरण में जनपद की 130 न्याय पंचायतों में किसान पाठशाला का आयोजन किया गया। विकास खण्ड स्योहारा के ग्राम दौलतपुर में मण्डलीय संयुक्त कृषि निदेशक जेपी चौधरी द्वारा कृषकों को फसल अवशेष न जलाने की शपथ दिलाई गई। जेपी चौधरी द्वारा फसल अवशेष जलाने से पर्यावरण व भूमि की भौतिक व जैविक दशा पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभावों के संबंध में जानकारी दी गई। इन किसान पाठशाला के माध्यम से कृषकों को फसल अवशेष प्रबंधन, खरीफ फसलों के प्रबंधन व रवि फसलों की बुवाई के संबंध में जानकारी दी गई।
नोडल अधिकारी बनाये गए आत्मा प्रभारी योगेंद्र पाल सिंह योगी द्वारा विकासखंड नहटौर के ग्राम विलासपुर व विकास खण्ड नूरपुर के कुण्डा खुर्द ग्राम में कृषकों को खरीफ फसल प्रबंधन व फसल अवशेष प्रबंधन व विभागीय योजनाओं की जानकारी दी गई। सत्य प्रकाश सहायक अधिकारी कृषि रक्षा द्वारा खरीफ फसल खरीफ फसलों में कीट रोग नियंत्रण के संबंध में अवगत कराया गया।

Cafe D, शॉपर्स प्राइड मॉल, बिजनौर

भाजपा सरकार से बेहद खफ़ा है किसान-सुरेश शर्मा

मोदीनगर। उत्तर प्रदेश का किसान व गन्ना किसान भाजपा सरकार से बेहद खफा है। इसका जवाब वे उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा 2022 चुनाव में भाजपा सरकार को हरा कर देंगे।

यह आरोप राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस (इंटक) उत्तर प्रदेश के प्रदेश प्रवक्ता सुरेश शर्मा ने अपने कैम्प कार्यालय मोदी नगर में लगाया। उन्होंने कहा कि किसान लगभग नौ माह से तीन काले कानूनों को वापस करवाने को लेकर बार्डर पर बैठा हुआ है, पर भाजपा की हिटलरशाह सरकार किसानों की समस्याओं का समाधान करने को तैयार नहीं हैं। गन्ना भुगतान शासनादेश व नियमानुसार न करवाने को लेकर किसान भाजपा सरकार की केन्द्र व उत्तर प्रदेश सरकार से बेहद रूष्ट है। भाजपा सरकार ने किसानों की समस्याओं का समाधान करने के बजाय उन पर लाठियां व पानी की बौछार करने का कार्य किया है। इसके जवाब में किसान उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का कार्य करेंगे।
इंटक नेता ने कहा कि अधिनियम के अनुसार 14 दिन पूर्व अवधि तक देय अवशेष गन्ना मूल्य का भुगतान न करवाने के संबंध में अधिकारीगण भी दोषी हैं। नियमानुसार व शासनादेशों के अंतर्गत बकाया गन्ना भुगतान न दिलवाने के परिणाम स्वरूप अधिकारी भी अपराधी की श्रेणी में आते हैं, क्योंकि उत्तर प्रदेश में शुगर मिल्स ने नियमानुसार 14 दिन पूर्व अवधि तक गन्ना किसानों का देय गन्ना मूल्य भुगतान नहीं किया है और न ही किया जा रहा है? जबकि उत्तर प्रदेश गन्ना (पूर्ति एवं खरीद विनियमन) अधिनियम, 1953 की धारा- 17 (3) के अंतर्गत 14 दिन पूर्व अवधि पर गन्ना मूल्य भुगतान किये जाने की स्पष्ट व्यवस्था दी गई है। अग्रेतर निर्धारित अवधि में भुगतान न करने पर 12 प्रतिशत ब्याज की देयता बन जाती है। गन्ना किसानों में बकाया भुगतान मिल प्रबंधकों द्वारा न दिये जाने पर जबरदस्त रोष व्याप्त है। उत्तर प्रदेश के मिल प्रबंधक गन्ना किसानों का न तो पूर्ण रूप से भुगतान कर रहे हैं न ही ब्याज दे रहे हैं। उत्तर प्रदेश शुगर मिल विभाग के अधिकारीगण व मिल प्रबंधक उत्तर प्रदेश शुगर मिल टैगिंग आदेश का उल्लंघन कर रही हैं। गन्ना एवं चीनी उत्तर प्रदेश विभाग लखनऊ के अधिकारीगण सांठ-गांठ के चलते शुगर मिलों से टैगिंग आदेश का पालन नहीं करवा पा रहे हैं, जबकि अधिनियमों व शासनादेशों का पालन करवाना अधिकारियों की जिम्मेदारी है।

किसान पाठशालाओं में दिलाई फसल अवशेष न जलाने की शपथ

बिजनौर। द मिलियन फारमर्स स्कूल के अंतर्गत जनपद की 130 न्याय पंचायतों में किसान पाठशाला का आयोजन किया गया। इन किसान पाठशाला के माध्यम से कृषकों को फसल अवशेष प्रबंधन, खरीफ फसलों के प्रबंधन व रवि फसलों की बुवाई के संबंध में जानकारी दी गई।

कृषि मंत्री ने किया किसान पाठशाला का शुभारंभ-
किसान पाठशाला का शुभारंभ कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही द्वारा लाइव स्ट्रीमिंग के माध्यम से किया गया । यह लाइव स्ट्रीमिंग पूरे प्रदेश में दिखाई गई। जनपद के सभी विकास खंडों में किसान पाठशालाओं के सफल आयोजन हेतु विकास खंड स्तर पर नोडल अधिकारी नामित किए गए। विकास खंड नहटौर के ग्राम फतेहपुर में मुख्य अतिथि ब्लाक प्रमुख राकेश कुमार द्वारा किसान पाठशाला का शुभारंभ किया गया।

इस अवसर पर “आत्मा” प्रभारी योगेंद्र पाल सिंह योगी द्वारा कृषकों को खरीफ फसल प्रबंधन व फसल अवशेष प्रबंधन व विभागीय योजनाओं की जानकारी दी गई। सत्य प्रकाश सहायक अधिकारी कृषि रक्षा द्वारा खरीफ फसल खरीफ फसलों में कीट रोग नियंत्रण के संबंध में अवगत कराया गया। कार्यक्रम के अंत में ब्लाक प्रमुख राकेश कुमार ने कृषकों को फसल अवशेष न जलाने की शपथ दिलाई। उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र द्वारा एनआईसी बिजनौर में कृषकों के साथ किसान पाठशाला की लाइव स्ट्रीमिंग में प्रतिभाग किया गया। जिला कृषि अधिकारी डॉ. अवधेश मिश्रा ने हल्दौर विकास खंड के ग्राम कुम्हारपुरा में कृषकों को खरीफ फसल प्रबंधन व विभागीय योजनाओं की जानकारी दी।

कृषि बिलों का विरोध ओछी राजनीति: रामनिवास यादव

लखनऊ। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्य्क्ष रामनिवास यादव ने संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा तीनों कृषि बिलों के विरोध में आयोजित किसान महापंचायत की आलोचना की है।

राष्ट्रीय अध्य्क्ष ने एक बयान में कहा कि मुजफ्फरनगर की किसान महापंचायत पूरी तरह से फेल हो गयी। इसमें सपा, बसपा, कांग्रेस, लोकदल सहित किसानों की फसलों को लूटने वाले दलाल किसानों के नाम पर शामिल हुए। इससे संयुक्त किसान मोर्चा का किसान हितैषी कृषि बिल पर असली चेहरा किसानों के सामने आया, जिसको पूरे देश का किसान अच्छी तरह से समझ गया है। जिस तरह से कथित किसान महापंचायत में देश विरोधी एवं देश के खिलाफ नारे लगाने वाले शामिल हुए, उससे देश का किसान अपने आप को शर्मिंदा महसूस कर रहा है। नाम किसान महापंचायत का परन्तु किसानों का एक भी मुद्दा नहीं रखा, जिन तीन कृषि बिलों का विरोध संयुक्त किसान मोर्चा एवं कुछ राजनैतिक दलों द्वारा किया जा रहा है, वह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। इनको लागू करने की मांग किसानों के मसीहा स्व. महेंद्र सिंह टिकैत जी द्वारा लगातार की जा रही था, जिसको पिछली सरकारों ने कभी लागू नहीं किया। जब केंद्र की मोदी सरकार ने किसान हित को देखते हुए तीनों कृषि बिलों को लागू किया तो पहले इन्ही किसान संगठनों ने स्वागत किया था, परन्तु आज राजनैतिक कारणों एवं कुछ राजनैतिक दलों की सांठगांठ के कारण विरोध कर रहे हैं। ये वे राजनैतिक दल हैं, जिन्होंने कभी किसान हितों के लिए स्वामीनाथन आयोग बनाया था, परन्तु इनकी सिफारिशों को कभी लागू नहीं किया। जब आज मोदी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की लगभग सभी सिफारिशों को मानते हुए तीनों कृषि बिलों को लागू किया तो वही राजनैतिक दल विरोध करने लगे हैं। यह राजनैतिक दल एवं कुछ किसान संगठन कभी किसानों का हित नहीं चाह रहे थे, सिर्फ राजनीति करना चाह रहे थे, जिसको आज देश का किसान जान गया है। आज जब किसानों के मसीहा स्व. महेंद्र सिंह टिकैत जी का सपना पूरा हुआ तो कुछ राजनैतिक दलों ने पैसों के बल पर इनके बेटों को इन्ही की मांगों के खिलाफ खड़ा कर दिया। इनके बेटे पैसे के लालच में आकर किसान हितैषी तीनों कृषि बिलों का विरोध करने लगे जबकि पहले इनका स्वागत किया था। आज स्व. महेंद्र सिंह टिकैत जी जीवित होते तो वो भी पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चौधरी चरण सिंह जी की तरह निर्णय लेकर अपने बेटों को अपना उत्तराधिकारी कभी नहीं बनाते। उनकी अचानक मौत का फायदा उठा कर उनके बेटों ने किसान आंदोलन को राजनैतिक आंदोलन बना दिया। वह किसानों का भला करने के नाम पर सीधा नुकसान कर रहे हैं एवं स्व. महेंद्र सिंह टिकैत जी के नाम को बदनाम करने का काम कर रहे हैं, जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है परन्तु राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इनके मंसूबों को कभी सफल नहीं होने देगी। इनके खिलाफ देश भर में आंदोलन चलाएगी।

सरकार को झुकाने के लिए वोट की चोट जरूरी: टिकैत

मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत, 27 सितंबर को भारत बंद का ऐलान

मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत, 27 सितंबर को भारत बंद का ऐलान; टिकैत बोले- सरकार को झुकाने के लिए वोट की चोट जरूरी

लखनऊ (एजेंसी)। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि अब “महापंचायत पूरे देश में होगी। वह तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के जीआईसी मैदान में किसान महापंचायत में शामिल होने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, “हमें देश बिकने से बचाना है। हमारी मांग रहेगी कि देश, किसान, व्यापार और युवा बचे।”

LIVE Kisan Mahapanchayat in Muzaffarnagar: Now India will be closed on September  27, not 25, Kisan Morcha announced

महापंचायत के मंच से लाखों की भीड़ के बीच राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार बात करने के लिए तैयार नहीं है, बात करनी बंद कर दी है। सिर्फ मिशन यूपी नहीं, देश बचाना है। हम सिर्फ किसानों के मुद्दे नहीं उठा रहे हैं, देश में जहां-जहां गलत हो रहा है, उन्हें सामने रख रहे हैं। देश में संस्थाएं बेची जा रही हैं। सरकारी कर्मचारियों की पेंशन खत्म कर दी गई। बड़े लोग पैसे लेकर भाग रहे हैं। बिजली को प्राइवेट किया जा रहा है। सरकार एलआईसी को बेच रही है। देश का संविधान खतरे में है, इसे बचाना है। टिकैत ने कहा कि सरकार को झुकाने के लिए वोट की चोट जरूरी है।

25 नहीं, 27 सितंबर को भारत बंद-
किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि अब 25 नहीं बल्कि 27 सितंबर को भारत बंद होगा। इस दौरान सबकुछ बंद रहेगा। पहले 25 को भारत बंद का आह्वान किया गया था। अब यूपी संयुक्त किसान मोर्चे का गठन होगा।

महापंचायत को लेकर सुरक्षा व्यवस्था सख्त- जीआईसी मैदान के मंच से लेकर पार्किंग तक की व्यवस्था एसकेएम और बीकेयू के वालंटियर के जिम्मे रही। पहचान के लिए वालंटियर्स को आईडी कार्ड दिए गए। वहीं पुलिसबल किसानों की जिले और शहर में सुरक्षित एंट्री और उनके सकुशल प्रस्थान तक पूरी व्यवस्था पर नजर रखे है।

किसान मोर्चा ने किया 25 सितंबर को भारत बंद का ऐलान, कहा- ईंट का जवाब पत्थर  से देंगे - kisan andolan protest preparations for bharat bandh on september  25 rakesh tikait ntc - AajTak

300 से ज्यादा सक्रिय संगठन शामिल-
उधर किसान नेताओं ने आरोप लगाया कि यूपी पुलिस मुजफ्फरनगर की ओर जाने वाली बसों को रोक रही है। महापंचायत में देशभर के 300 से ज्यादा सक्रिय संगठन शामिल हुए हैं। महापंचायत के मंच पर कई बड़े किसान नेता मौजूद रहे। ये सभी वे नेता हैं जो पिछले 10 महीनों से किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं।

किसान देश का गौरव: प्रियंका- किसानों की महापंचायत को लेकर यूपी कांग्रेस प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्विट कर कहा, ‘किसान इस देश की आवाज हैं। किसान देश का गौरव हैं। किसानों की हुंकार के सामने किसी भी सत्ता का अहंकार नहीं चलता। खेती-किसानी को बचाने और अपनी मेहनत का हक मांगने की लड़ाई में पूरा देश किसानों के साथ है।’

जालंधर में किसानों का धरना खत्म

चंडीगढ़ (एजेंसी)। गन्ने का मूल्य प्रति क्विंटल 360 रुपए तय होने के बाद किसानों और पंजाब सरकार के बीच जारी विवाद समाप्त हो गया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट में स्वयं यह जानकारी दी। इसी के साथ किसानों ने जालंधर से धरना हटाने की घोषणा कर दी है।

कैप्टन ने लिखा कि उनकी सरकार का उद्देश्य समूची फसली विभिन्नता के प्रयासों के रूप में पंजाब में गन्ने के उत्पादन को बढ़ाना व चीनी की रिकवरी सुधार करना है। बैठक के बाद किसानों ने कैप्टन अमरिंदर सिंह का मुंह मीठा भी करवाया। इसी के साथ किसानों ने जालंधर से धरना हटाने की घोषणा कर दी है। किसान नेता मनजीत सिंह राय ने इसकी पुष्टि की है। विदित हो कि किसान पिछले शुक्रवार से जालंधर में धन्नोवाली फाटक के सामने दिल्ली नेशनल हाईवे और रेलवे ट्रैक को ब्लाक करके बैठे थे। इसके कारण शहर की ट्रैफिक व्यवस्था पटरी से उतर गई थी। रोजाना पंजाब रूट की ट्रेनों को कैंसिल करना पड़ रहा था। इसका असर पंजाब के साथ-साथ पूरे देश में पड़ रहा था।  

अनुदान पर दिए जाने वाले कृषि यंत्रों की पंजीकरण की तिथियों में परिवर्तन


अनुदान पर दिए जाने वाले कृषि यंत्रों की पंजीकरण की तिथियों में परिवर्तन किया गया


बिजनौर। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिनांक 23 व 25 अगस्त से कृषि यंत्र एवं कस्टम हायरिंयग सेंटर के पंजीकरण का कार्यक्रम घोषित किया गया था। अब प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व राज्यपाल हिमाचल प्रदेश राजस्थान कल्याण सिंह के आकस्मिक निधन होने से एवं 23अगस्त का सार्वजनिक अवकाश घोषित हो जाने के कारण कारण प्रदेश सरकार द्वारा अनुदान पर दिए जाने वाले कृषि यंत्रों व कस्टम हायरिंग सेंटर का पंजीकरण की दिनांक में परिवर्तन कर दिया गया है। कृषि यंत्रों हेतु पंजीकरण 24 अगस्त व कस्टम हायरिंग सेंटर हेतु 26 अगस्त को अपराहन 3:00 बजे से कृषक भाई अपना पंजीकरण कृषि विभाग के वेबसाइटwww.upagriculture.com पर पहले आवक पहले पावक के सिद्धांत पर करके टोकन कटवाएंगे ।

उप कृषि निदेशक बिजनौर गिरीश चंद्र ने बताया कि टोकन के रूप में 10,000 से 1 लाख रुपए तक 2500 व एक लाख से अधिक के यंत्र पर 5000 की धनराशि जमानत के रूप में रखी गई है। यह राशि यूनियन बैंक की किसी शाखा में प्राप्त चालान के माध्यम से जमा करनी होगी। 10000 से कम के कृषि यंत्र पर कोई टोकन राशि नहीं रखी गई है। कृषक रोटावेटर पावर टिलर हैरो, मिनी राइस मिल कल्टीवेटरकृ, थ्रेशिंग फ्लोर मिनी गोदाम ऑयल मिल विद फिल्टर, पम्प सेट स्ट्रारीपर, ट्रेक्टर माउन्टेड स्प्रेयर, लेजर लैंड लेवलर, डिस्क प्लाउ आदि किसी एक यंत्र का पंजीकरण करा सकते हैं। इन यंत्रों पर 50% व कस्टम हायरिंग सेंटर पर 40% का अनुदान निर्धारित लक्ष्यों तक देय है। इच्छुक कृषक, पंजीकृत कृषक समितियां,एफ पी ओ,एन आर एल एम् के समूह निर्धारित तिथि को अपनी प्री-बुकिंग करा सकते हैं।

कृषकों को अनुदान पर कृषि यंत्रों की सुविधा


बिजनौर। प्रदेश सरकार द्वारा अनुदान पर दिए जाने वाले यंत्रों एवं कस्टम हायरिंग सेंटर हेतु पंजीकरण करने की तिथियों की घोषणा कर दी गई है ।
यह जानकारी देते हुए उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र ने अवगत कराया की प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के कृषि यंत्रों को कृषकों को अनुदान पर उपलब्ध कराया जाता है। वर्ष 2021-22 में पंजीकरण पर दिए जाने वाले यंत्रों व कस्टम हायरिंग सेंटर के पंजीकरण कृषि विभाग की बेबसाइट पर दिनांक 23 अगस्त से कृषि यंत्रों के लिए एवं कस्टम हायरिंग सेंटर मिनी गोदाम व थ्रेसिंग फ्लोर का पंजीकरण दिनांक 25 अगस्त से सायं तीन बजे से प्रारंभ होंगे। अनुदान पर कृषि यंत्र प्राप्त करने की पात्रता पहले आओ, पहले पाओ के सिद्धांत पर है।

भाजपा किसान मोर्चा के नव निर्वाचित जिलाध्यक्ष खेल सिंह राजपूत का भव्य स्वागत

बिजनौर। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के नव निर्वाचित जिलाध्यक्ष खेल सिंह राजपूत का भाजपा की प्रांतीय पार्षद श्रीमती लीना सिंघल के कोतवाली रोड स्थित कार्यालय पर भव्य स्वागत किया गया।
इस अवसर पर लीना सिंघल ने भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता खेल सिंह को जिलाध्यक्ष मनोनीत होने की बधाई देते हुए प्रदेश एवं जिला नेतृत्व का आभार जताया और आशा व्यक्त की, कि उनके नेतृत्व में किसान मोर्चा मजबूती से कार्य करेगा।

कार्यकर्तायों के द्वारा भव्य स्वागत से अभिभूत खेल सिंह राजपूत ने प्रदेश नेतृत्व का आभार व्यक्त करते हुए सभी कार्यकर्तायों को साथ लेकर चलने की बात कही। साथ ही सभी से आगामी विधानसभा चुनाव में जुट जाने का आह्वान किया। स्वागत करने वालो में जिला मंत्री बलराज त्यागी, पूर्व अध्यक्ष कमल सैनी, मंडल महामंत्री शिवम चौहान, पूर्व अध्यक्ष ज्ञानेंद्र ठाकुर, समर सिंह, प्रधान हिमांशु राजपूत आदि भी शामिल थे।
प्रांतीय पार्षद लीना सिंघल के नेतृत्व में नगर अध्यक्ष मुकुल रंजन दीक्षित, किसान नेता नितिन त्यागी, पिछड़ा मोर्चा जिला उपाध्यक्ष रितेश सैन, ग्राम प्रधान राकेश चौधरी, शिव कुमार जोशी, देवेंद्र जोशी, रिंकू चौहान, रामपाल सिंह, सोशल मीडिया विधानसभा प्रभारी आशीष वर्मा, विपिन कुमार शर्मा, सुधीर भुइयार, उमापति गर्ग, पूर्व प्रधान गरीब सिंह, सुमित जोशी, मलखान सिंह, शोभित चौधरी आदि ने भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के नव निर्वाचित जिलाध्यक्ष खेल सिंह राजपूत का जोरदार नारेबाजी से स्वागत किया।

कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले किसानों का सम्मान

भारत अमृत महोत्सव के अंतर्गत किसान सम्मान कार्यक्रम। जनपद के 15 कृषकों को कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने हेतु किया गया सम्मानित।  दलहनी फसलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से 30  कृषकों को पांच-पांच किग्रा उर्द के मिनी किट का वितरण।


बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। भारत अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित किसान सम्मान कार्यक्रम में जनपद के 15 कृषकों को कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने हेतु सम्मानित किया गया। दलहनी फसलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से तीस कृषकों को पांच किग्रा उर्द के मिनी किट का वितरण भी जिला पंचायत अध्यक्ष के कर कमलों द्वारा किया गया।

75 वे स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारत अमृत महोत्सव के अंतर्गत किसान सम्मान कार्यक्रम व कृषक वैज्ञानिक संवाद का आयोजन कृषि भवन बिजनौर के प्रांगण में किया गया ।

कार्यक्रम में कृषि के विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार व उल्लेखनीय कार्य करने वाले 15 कृषकों को मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा सम्मानित किया गया। सम्मानित किए कृषकों नाहर सिंह, विजेन्द्र सिंह रजनी देवी व नीटू राजपूत द्वारा हल्दी उत्पादन, मत्स्य पालन, फल संरक्षण व रिंग विधि से गन्ना की खेती के संबंध में अपने अनुभव बताए गए।

इस अवसर पर दलहनी फसलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से तीस कृषकों को पांच पांच किग्रा के उर्द के मिनी किट का वितरण भी जिला पंचायत अध्यक्ष के कर कमलों द्वारा किया गया। उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र ने सम्मानित कृषकों को नवाचार के लिए बधाई देते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि हम  परम्परागत कृषि के स्थान पर बाजार की मांग के अनुसार कृषि फसलों का चयन करें। कार्यक्रम में कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डा. डीपी सिंह, डा. केके सिंह, डा. शकुंतला गुप्ता द्वारा औषधीय फसलों , बासमती धान की खेती व फल तथा सब्जियों के संरक्षण के बारे में जानकारी दी गई। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. विजेन्द्र सिंह द्वारा पशुपालन विभाग की योजनाओं के संबंध में जानकारी दी गई।
इससे पूर्व जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में कृषकों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम का संचालन योगेन्द्र पाल सिंह योगी द्वारा किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सुधीर कुमार, मत्स्य अधिकारी अरविंद कुमार, कुलदीप सिंह, रजत कुमार, गजेन्द्र कुमार, लाखन सिंह आदि का सहयोग रहा।

खतौली विधायक विक्रम सिंह ने फिर दिया विवादित बयान

मुजफ्फरनगर (एकलव्य बाण समाचार)। खतौली विधायक विक्रम सिंह विवादित बयान देकर फिर से चर्चा में आ गए हैं। शनिवार को सफेदा रोड पर मान्या फार्म हाउस में एक अभिनंदन कार्यक्रम में उन्होंने खुले मंच से किसान आंदोलन पर बैठे लोगों को नकली किसान ठहरा दिया। ब्लाक प्रमुख संजो देवी ने ग्राम प्रधानों व बीडीसी सदस्यों के अभिनन्दन कार्यक्रम का आयोजन किया था। खतौली विधायक विक्रम सैनी कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे।

बताया गया है कि विधायक विक्रम सैनी ने कहा कि बॉर्डर पर अगर असली किसान होते तो गत 26 जनवरी को लालकिले पर उपद्रव नहीं करते। इस दौरान उन्होंने उग्र शब्दों का भी प्रयोग किया। लखनऊ में धरने को लेकर विधायक का कहना है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं और उनके राज्य में अगर किसी ने फन उठाने का प्रयास किया तो उसको कुचल दिया गया। कार्यक्रम का संचालन ग्राम सचिव विजय शेखर ने किया। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सुधीर सैनी, गौतम सिंह, यशपाल प्रधान,अनिल पुण्डीर आदि उपस्थित रहे।

राजधानी में नहीं होने देंगे किसान विरोधियों का आन्दोलन

पंचदेव यादव (एकलव्य बाण समाचार)।

लखनऊ। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने कृषि बिल का विरोध कर रहे किसान नेताओं की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि आज पूरे देश का किसान नये कृषि बिलों का स्वागत करते हुए बिल के साथ है तो वहीं कुछ तथाकथित किसान नेता कुछ राजनैतिक दलों से साँठ-गाँठ कर इन बिलों का विरोध कर रहे हैं।

इनका उद्देश्य किसान हित नहीं- राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष ने कहा कि इनका उद्देश्य किसान हित न होकर अपनी-अपनी राजनैतिक जमीन बनाना है, जिसको पूरे देश का किसान समझ गया है। यही कारण है कि देश का असली किसान इन कथित किसान नेताओं का साथ नहीं दे रहा है। इस कारण यह बौखला कर बिचौलियों के साथ साँठ-गाँठ करके आन्दोलन कर रहे हैं। हम सब के नेता स्व. महेन्द्र सिंह टिकैत ने सबसे पहले इन्ही मांगों को लेकर आन्दोलन किया था कि किसानों को बिचौलियों से मुक्त किया जाये तथा देश के किसानों को अपनी फसल अपने दामों में कही भी बेचने की अनुमति दी जाये। इसके साथ ही खेती में भी उन लोगों की तरह सहूलियतें दी जाएं। आज जब मोदी सरकार ने किसानों के हितों को देखते हुए नये कृषि बिल लागू किए हैं, तो कुछ कथित किसान नेता इन बिलों का विरोध करने लगे हैं।

जनता व प्रशासन को दे रहे धमकी? राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के मीडिया प्रभारी केशरी राव धारा सिंह यादव ने उक्त जानकारी देते हुए कहा कि बिचौलियों के समर्थन के कारण इनका हौसला इतना बढ़ गया है कि बात-बात पर उत्तर प्रदेश पुलिस के जवानों का बक्कल (बिल्ला) नोचने की बात करते हैं। इसका राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन कड़ा विरोध करती है। इन सब से पुलिस बल का भी मनोबल गिरता है। कल जिस प्रकार से लखनऊ में प्रेस-कांफ्रेस करके उत्तर प्रदेश की जनता एवं प्रशासन को धमकाने का काम किया गया है। वह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

किसी भी कीमत पर नहीं करेंगे बर्दाश्त- इसके विरोध में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इनके हिंसक और अराजक आन्दोलन को लखनऊ में किसी भी कीमत पर नहीं होने देगी और न ही राजधानी के मार्गो को बंधक बनाने देगी। अगर ये अराजकता फैलाने का प्रयास करेंगे, तो राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन राजधानी में ऐसे अराजक प्रदर्शन का पुरजोर विरोध करेगी और इनके मंसूबों को सफल नहीं होने देगी। लखनऊ एवं आसपास के जिलों के किसान भाईयों को एकत्र कर इनको मुँह तोड़ जवाब दिया जायेगा, जिससे दिल्ली जैसी अराजकता लखनऊ में न होने पाए।

दिल्ली बॉर्डर न जाएं किसान: नरेश प्रधान

जिलाध्यक्ष नरेश प्रधान

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन (भानु) बिजनौर के जिलाध्यक्ष नरेश प्रधान ने किसानों से 24 तारीख को टिकैत यूनियन के साथ दिल्ली न जाने की अपील की है। आरोप लगाया कि क्योंकि वह गाजीपुर बार्डर पर किसान आंदोलन की आड़ में आने वाले विधान सभा चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। भोले भाले किसानों को धोखा दे रहे हैं। इसलिए सभी किसानों से अपील की है कि सभी किसान हमारे साथ मिलकर गन्ने का भुगतान शीघ्र,आने वाले सीजन में 500 रुपए कुंतल गन्ने के भाव की मांग उत्तर प्रदेश सरकार से करें। इसी में उत्तर प्रदेश के किसान की भलाई है। यह लड़ाई भारतीय किसान यूनियन भानु, सभी किसान भाईयों के साथ मिलकर लड़ेंगी। जब दिल्ली में सरकार से कोई मांग उत्तर प्रदेश के किसान की नहीं रखी, तब बीएम सिंह व भानु प्रताप सिंह ने आंदोलन छोड़ा था। भानु प्रताप सिंह ने सरकार से किसान आयोग के गठन करने की मांग की थी, क्योंकि किसान आयोग बनने से फसल की कीमत किसान आयोग तय करेगा। इसी से उत्तर प्रदेश के किसान को लाभ मिलेगा।

किसानों के लिये डिजिटल प्लेटफार्म किसान सारथी लॉन्च

किसानों को उनकी भाषा में ‘सही समय पर सही जानकारी’ प्राप्त करने की सुविधा के लिए डिजिटल प्लेटफार्म किसान सारथी लॉन्च किया गया


किसान डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से वैज्ञानिकों से सीधे कृषि और संबद्ध क्षेत्रों पर व्यक्तिगत परामर्श का लाभ उठा सकते हैं: सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव

नई दिल्ली (PIB)। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर द्वारा संयुक्त रूप से आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के 93वें स्थापना दिवस के अवसर पर किसानों को उनकी वांछित भाषा में सही समय पर सही जानकारी प्राप्त करने के लिए एक डिजिटल प्लेटफार्म ‘किसान सारथी’ लॉन्च किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता मत्स्य, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री सुश्री शोभा करंडलाजे ने की।

इस अवसर पर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव अजय साहनी, सचिव (डीएआरई) एवं महानिदेशक (आईसीएआर) डॉ. त्रिलोचन महापात्र, डिजिटल इंडिया कारपोरेशन के एमडी एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी अभिषेक सिंह एवं आईसीएआर एवं डीएआरई के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम को देश भर में किसानों, हितधारकों और आईसीएआर, डीएआरई, सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा केवीके भागीदारों ने देखा।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री वैष्णव ने दूरदराज के क्षेत्रों में किसानों तक पहुंचने के लिए तकनीकी हस्तक्षेप के साथ किसानों को सशक्त बनाने की दिशा में किसान सारथी की इस पहल के लिए कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को बधाई दी। उन्होंने कहा कि डिजिटल प्लेटफार्म से किसान सीधे तौर पर कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके) के संबंधित वैज्ञानिकों कृषि और संबद्ध क्षेत्रों पर व्यक्तिगत सलाह प्राप्त कर सकते हैं।

श्री वैष्णव ने आईसीएआर के वैज्ञानिकों से कहा कि वे किसान की फसल को उनके खेत के गेट से गोदामों, बाजारों और उन जगहों पर ले जाने के क्षेत्र में नए तकनीकी हस्तक्षेपों पर अनुसंधान करें जहां वह कम से कम नुकसान के साथ बेचना चाहते हैं। केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने आश्वासन दिया कि इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय, संचार मंत्रालय, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय किसानों को सशक्त बनाने में आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार रहेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि रेल मंत्रालय फसलों के परिवहन के लिए लगने वाले समय को कम से कम करने की योजना बना रहा है।

श्री वैष्णव ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद को 93वें स्थापना दिवस पर बधाई देते हुए कहा कि कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के सक्षम नेतृत्व और मार्गदर्शन में किसान सारथी पहल न केवल किसानों की विशिष्ट सूचना आवश्यकताओं को पूरा करने में बल्कि आईसीएआर की कृषि विस्तार, शिक्षा और अनुसंधान गतिविधियों में भी अत्यधिक मूल्यवान होगी।

एकलव्य बाण समाचार

स्वस्थ रहने के लिए अपनानी होगी जैविक खेती: योगी

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। नमामि गंगे योजना अंतर्गत विकासखंड जलीलपुर के ग्राम बसंतपुर में बुधवार को कृषक प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता आत्मा योजना के प्रभारी योगेंद्र पाल सिंह योगी द्वारा कृषकों को जैविक खेती के महत्व के संबंध में जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि एक भारतीय नस्ल की गाय द्वारा कृषक बंधु 15 एकड़ से अधिक भूमि पर जैविक खेती कर सकते हैं। योगेंद्र पाल सिंह योगी ने मौजूद लोगों को जीवामृत बीजामृत, दशपर्णी अर्क बनाने की विधि के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने कृषकों को व्यूबेरिया वैसियाना व ट्राइकोडरमा से भूमि व बीज शोधन का तरीका बताया। आत्मा प्रभारी द्वारा रासायनिक खेती के मनुष्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे में बताते हुए कहा गया कि स्वस्थ रहने के लिए हमें जैविक खेती को अपनाना ही होगा।

जिला प्रभारी लवकुश मिश्रा द्वारा बताया गया कि योजना अंतर्गत जनपद के चार विकास खंड के छियालिस ग्राम हैं, जिसमें जैविक खेती के अठ्ठावन ग्रुप बनाये गये हैं। उन्होंने नमामि गंगा अन्तर्गत कृषकों को दी जाने वाली सुविधाओं के संबंध में जानकारी दी। प्रशिक्षण को सफल बनाने में देवेन्द्र सिंह, राजपाल सिंह ग्रुप लीडर द्वारा सहयोग प्रदान किया गया।

जैविक खेती, प्रसंस्करण व पैकेजिंग से बढ़ेगी कृषकों की आय

जैविक खेती, प्रसंस्करण व पैकेजिंग से बढ़ेगी कृषकों की आय।
जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा उक्त विचार आत्मा गवर्निंग बोर्ड की बैठक में जिलाधिकारी द्वारा के द्वारा व्यक्त किए गए।

कृषि तकनीकी प्रबंध अभिकरण आत्मा शासी निकाय गवर्निंग बोर्ड की बैठक जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व अध्यक्ष गवर्निंग बोर्ड की अध्यक्षता व गिरीश चंद्र उप कृषि निदेशक सचिव आत्मा के संचालन में कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई सर्वप्रथम गत बैठक की कार्यवाही का शासी निकाय द्वाराअनुमोदन किया गया।
बैठक में आत्मा योजना कि वर्ष 2021- 22 की जनपदीय वार्षिक योजना अंकन रुपए तीन करोड़ इकसठ लाख छः हजार का सर्वसम्मति से अनुमोदन किया गया ।उप कृषि निदेशक द्वारा वर्ष 2021-22 में इन सीटू मैनेजमेंट ऑफ क्रॉप रेजिड्यू एकीकृत धान्य विकास कार्यक्रम नेशनल फूड सिक्योरिटी मिशन पीएम किसान सोलर पम्प योजना के भौतिक एवं वित्तीय लक्ष्य के संबंध में जानकारी दी गई।


जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा निर्देश दिए गए कि जनपद में गन्ने के क्षेत्र को कम करने के लिए ऐसी नकदी फसलों को बढ़ावा दिया जाए, जिनकी पानी की आवश्यकता कम हो। जिन किसानों को फसल बोने के लिए प्रेरित किया जाए। उनका पंजीकरण भी अवश्य कराया जाए तथा इन उत्पादों की विपणन की सुनिश्चित व्यवस्था की जाए। साथ ही इस कार्य के लिए कृषि उत्पादक संगठनों का गठन प्राथमिकता के आधार पर कराया जाए। जिलाधिकारी द्वारा यह भी अपेक्षा की गयी कि फल फूल सब्जियां बासमती व गुड़ आदि के निर्यात व विपणन हेतु जनपद में प्रसंस्करण एवं पैकेजिंग यूनिटों की स्थापना के प्रयास किए जाएं, जिससे कृषकों को अपने उत्पादों का अच्छी कीमत मिल सके।

मुख्य विकास अधिकारी केपी सिंह द्वारा निर्देश दिए गए कि आत्मा योजना अंतर्गत आयोजित किए जाने वाले प्रदर्शन फार्म स्कूल आदि कार्यक्रमों को गुणवत्तापूर्ण वह अनुकरणीय ढंग से संपादित कराया जाए। बैठक में डॉक्टर अवधेश जिला कृषि अधिकारी, जिला कृषि रक्षा अधिकारी योगेंद्र पाल सिंह योगी, प्रभारी आत्मा डॉक्टर यशवीर सिंह, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी यशपाल सिंह, जिला गन्ना अधिकारी जितेंद्र कुमार, जिला उद्यान अधिकारी सुधीर कुमार, सहायक निदेशक मत्स्य डॉक्टर केके सिंह, वरिष्ठ वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केंद्र नगीना वीरेश आर नायक डीडीएम नाबार्ड, गौरव कुमार एफपीओ प्रतिनिधि, कृषक प्रतिनिधि भीष्म सिंह, जितेंद्र सिंह द्वारा प्रतिभाग किया गया।

आम खाने का मजा तो है बागों में, सीजन में एक बार जरूर पधारें मलिहाबाद

आम खाने का मजा तो बागों में, आमों की सीजन में एक बार जरूर पधारे मलिहाबाद…

मलिहाबाद लखनऊ। राजधानी की शोभा बढ़ाने में आम्रनगरी मलिहाबाद क्षेत्र का विषेष योगदान है। विश्व के कई देशों को मलिहाबादी आम का इन्तजार प्रति वर्ष रहता है। आम का सीजन आते ही क्षेत्र के किसानों के चेहरे खिलने लगते हैं।

मलिहाबाद के रामदत्त मौर्य कहते हैं कि आम की दावत की मेजबानी वही कर सकता है, जिसके बाग में कई किस्म के आम होते हैं। जैसे दशहरी, मलका, हुसनारा, खासमखास, चौसा, सफेदा, लंगड़ा, सुर्ख, आम्रपाली सहित सैकड़ों अन्य प्रजाति के आम दिखाई देते हैं। बाजार में बिकने वाले आम तो कोई भी खरीद कर खा सकता है। आम की ऐसी सैकड़ों प्रजातियां हैं, जिन्हें लोग न जानते हैं न ही वे बाजार में आती हैं। बागवान उन्हें केवल अपने शौक के लिए ही उगाते हैं।

रामदत्त मौर्य ने बताया कि ऐसी किस्मों से मेजबानों को रूबरू करवाने के लिए दावतों का सिलसिला हमारे मलिहाबाद नई बस्ती धनेवा स्थित 17 बीघा में फैले अपने बाग में शुरू हुआ है। यहां दर्जनों किस्म के आम होते है। आमों की सैकड़ों प्रकार की किस्मों का प्रदर्शन गोपेष्वर गौशाला में दावते आम रखते हैं।
मेजबान आम की दावत के साथ बागों में नमकीन व्यंजन, बेसन रोटी, चोखा बाटी सहित एक किस्म का आम खाने का बाद मुंह का जायका बदल कर दूसरी वैराइटी का लुत्फ लिया जाता है। आम के खाने में मेहमान सोचते हैं कि कौन से आम पहले खाया जाए… और कौन सा उसके बाद ये मेजबान की समझदारी पर निर्भर करता है।

महेन्द्र मौर्य फरमाते हैं- इंसान के हाथों की बनाई नहीं खाते, हम आम के मौसम में मिठाई नहीं खाते। आम की दावत देने वाले मेजबान का दिल बड़ा होना चाहिए।
गोपेष्वर गौशाला प्रबन्धक रमाकान्त गुप्ता कहते हैं मलिहाबाद की शान गोपेष्वर गौशाला का भी बहुत महत्व है। यहां गाय की सेवा करने सहित मनोरम बजरंग बली का मन्दिर पहुँचते ही मन को असीम शान्ति मिलती है। जैसे लगता है कि स्वर्ग के समान अनुभूति प्राप्त होती है। प्रतिवर्ष आमों की कई विषेष अतिथियों के साथ दावते आम का कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
पद्मश्री हाजी कलीमुल्ला आम की दावतों की बाबत बताते हैं कि ये सिलसिला कब से चल रहा है, सही-सही बताना तो मुमकिन नहीं है, पर ये काफी पुराना और पीढि़यों से चला आ रहा है। वे कहते हैं कि मेरे यहां होने वाली दावत में लोगों को अपने बाग का खास पेड़ (जिसमें लगभग 300 तरह के फल आते हैं) दिखा कर एकता का संदेश देता हूं।
बागवान रामदत्त मौर्य का कहना है कि आम खाने से ज्यादा लोगों को आम खिलाने में अधिक प्रसन्नता होती है, जिसके बाग में आम नहीं उनको आम खिलाते है। प्रतिवर्ष सैकड़ों लोगों को आम की दावते खास का आयोजन करके लोगों के साथ बाग में बैठकर आम का खाने का अलग ही मजा आता है। जब बरसात हो रही हो और पके आम बागों में झड़ी लगी हो तो आम के खाने की स्वाद ही अलग रहता है। आम खाने के बाद लोगों को घर ले जाने के लिए देते है तो उनके चेहरे पर दोहरी खुशी दिखाई पड़ती है।

गेहूं खरीद में बिचौलिए व वित्तीय अनियमितता बर्दाश्त नहीं: डीएम

गेहूं खरीद में बिचौलिए व वित्तीय अनियमितता बर्दाश्त नहीं। भुगतान में न किया जाए अनावश्यक विलंब। वरना होगी संबंधित अधिकारी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज। डीएम ने किया क्रय केंद्र का निरीक्षण।

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्र ने गेहूॅ क्रय केन्द्र के निरीक्षण के दौरान सभी केन्द्र व्यवस्थापकों को सचेत करते हुए कहा कि गेहूं क्रय कार्य में बिचौलिए की संलिप्तता तथा वित्तीय अनियमितता पाए जाने पर संबंधित अधिकारी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करा कर सख्त दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। किसानों को गेहूं क्रय केन्द्र पर कोई समस्या होनी चाहिये। 

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा द्वारा शुक्रवार पूर्वान्ह 10 बजे ग्राम फरीदपुर भोगी स्थित गेहूॅ क्रय केन्द्र का औचक रूप से निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के मौके पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/उप जिलधिकारी सदर विक्रमादित्य सिंह मलिक, तहसीलदार सदर श्रीमती प्रीति सिंह, उप खाद्य विपणन अधिकारी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

जिलाधिकारी श्री मिश्रा ने गेहूॅ क्रय केन्द्र के निरीक्षण के दौरान सफाई व्यवस्था एवं अभिलेखों का मुआयना किया, जो सभी दुरूस्त और अद्यतन पाई गईं। उन्होंने उप खाद्य विपणन अधिकारी को निर्देश दिए कि गेहॅू विक्रय के लिए गेहूं क्रय केन्द्रों पर आने वाले किसान बन्धुओं के साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाए तथा केन्द्र पर उनके लिए स्वच्छ पेयजल तथा बैठने की समुचित व्यवस्था का प्रबन्ध सुनिचित किया जाए तथा भीषण गर्मी के दृष्टिगत उनके पशुओं के लिए पानी आदि की व्यवस्था का प्रबंध केन्द्र पर जरूर किया जाए। उन्होंने संबंधित अधिकारी को सचेत करते हुए कहा कि गेहूं क्रय के कार्य में किसी भी प्रकार से बिचौलिए अथवा दलाल की संलिप्तता तथा वित्तीय अनियमितता प्रकाश में आती है, तो केन्द्र व्यवस्थापक के साथ जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी के विरूद्व दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

उन्होंने निर्देश दिए कि गेहूं किसानों को उनके गेहूं मूल्य का भुगतान समयपूर्वक करने की व्यवस्था करें और किसी भी अवस्था में भुगतान के मामले अनावश्यक रूप से विलम्ब न किया जाए।उन्होंने सभी उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिए की सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत खाद्यान्न के अवैध रूप से विक्रय का मामला प्रकाश में आता है तो जांच कर संबंधित के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराते हुए सख्त दण्डात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाए। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी केंन्द्र पर अनियमितता प्रमाणित होने पर केन्द्र व्यवस्थापक के विरूद्व तत्काल प्राथमिकी दर्ज करा कर उसके विरूद्व भी सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने सभी केन्द्र व्यवस्थापकों को आश्वस्त करते हुए कहा कि केन्द्रों पर बारदाना सहित किसी भी सामग्री की कमी नहीं आने दी जाएगी।

किसानों ने मनाया काला दिवस, फूंके सरकार के पुतले 

बिजनौर। तीन कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 6 माह से दिल्ली में चल रहे विरोध प्रदर्शन के चलते संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने जिले भर में काला दिवस मनाया और केंद्र सरकार का जगह-जगह पुतला फूंका।

काले कपड़े, हाथ में भी, घर के बाहर भी काले झंडे-भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने तीन कृषि कानूनों के विरोध में काला दिवस मनाते हुए नगीना तहसील क्षेत्र के ग्राम तेलीपुरा, शेखपुरा तुर्क, राजपुरा और गढ़ी, नियामतपुर सहित बढ़ापुर क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक गांव में काले झंडे लेकर, काले कपड़े पहन कर और घरों पर काले झंडे लगाकर कृषि कानूनों का विरोध किया। भारतीय किसान यूनियन युवा के जिला अध्यक्ष नितिन सिरोही ने बताया कि सभी किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने शांति पूर्वक काला दिवस मनाया क्योंकि आज बुद्ध पूर्णिमा है इसलिए हमें बुद्ध के आदर्शों का अनुसरण करना चाहिए। वह शांति के प्रतीक थे इसलिए सभी कार्यकर्ताओं ने अपने अपने गांव में काला दिवस मनाया। इस मौके पर यूनियन के कार्यकर्ता अपने अपने गांव में काला दिवस मनाते हुए केंद्र सरकार का पुतला भी फूंका।

हल्दौर क्षेत्र में भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव ठाकुर रामौतार सिंह की अगुवाई में नगर के मोहल्ला तोल्हावाला में काले झंडे लेकर काला दिवस मनाया गया। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को करीब छह माह पूरे हो गए हैं, लेकिन अभी तक केन्द्र सरकार ने किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनो को वापस नहीं लिया है। इस अवसर पर नगर अध्यक्ष टीकम सिंह, इंदर सिंह, कृष्ण कुमार, पीताबंर सिंह, हुकुम सिंह, सोनू, करन सिंह, बब्लू, नाजिम, सागेन्द्र सिंह व विपिन कुमार आदि मौजूद रहे।

नजीबाबाद क्षेत्र में पुलिस की चांकचौबंद व्यवस्था के बावजूद किसानों ने नांगलसोती थाना क्षेत्र में खानपुर तिराहे पर एकत्रित होकर नारेबाजी करते हुए केन्द्र सरकार का पुतला फूंका। किसानों ने कहा कि किसान आंदोलन तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने पर ही समाप्त होगा। इस अवसर पर भारतीय किसान यूनियन के राजवीर सिंह, कुलवीर सिंह, भोपाल सिंह, राजीव कुमार, नीटू सिंह, गार्विन देव, मुकेश कुमार आदि मौजूद रहे।

Watch “बिजनौर:किसान आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर किसानों ने घरों पर काला झंडा लगाया, प्रदर्शन कर पुतला फूंका” on YouTube। https://youtu.be/iY92ylyQjG8

किसान आंदोलन के छह माह: आज धिक्कार दिवस मना रही राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन

किसान आंदोलन के छह माह पूर्ण होने पर आज 26 मई को धिक्कार दिवस के रूप में मना रही है राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन

लखनऊ। 26 मई को किसान आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर इस दिन को राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन धिक्कार दिवस के रूप में मना रही है। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय संयोजक रामनिवास यादव ने बताया कि छह माह से चल रहा आंदोलन नकली किसानों का आंदोलन है। असली किसान आज भी अपने खेतों में अपना काम कर रहे हैं तथा फसल उगा रहे हैं, जिसकी वजह से देश में पिछली बार से ज़्यादा फ़सल इस बार हुई है। नकली किसानों द्वारा बॉर्डर पर तथा उसके आसपास अराजकता फैलाई जा रही है। बलात्कार हत्याएं की जा रही हैं तथा सरकार विरोधी काम किए जा रहे हैं ।

उन्होंने बताया कि इस दिन को हर किसान एवं भारतवासी धिक्कार दिवस के रूप में हमेशा याद रखेंगे कि कैसे नक़ली किसान विपक्षी राजनीतिक पार्टियों के पैसे पर बिरयानी और पनीर की दावत उड़ा रहे हैं और सरकार एवं किसान विरोधी काम कर रहे हैं, जिससे देश का किसान बदनाम हो रहा है। इनके किसान विरोधी एवं देश विनरोधी कृत्य से पूरी दुनिया में देश की बदनामी हो रही है। आज जब कोरोना जैसी महामारी से देश संघर्ष कर रहा है तब किसान आंदोलन एवं काला दिवस के नाम पर इस जंग में व्यवधान डालने का काम कर रहें हैं। देश की जनता एवं किसान इन्हें कभी माफ़ नहीं करेंगे। असली किसान सरकार द्वारा जारी नीतियों का फायदा लेकर अपनी खेती कर रहा है, जिससे खेतों में फसल लहलहा रही है परंतु दलाल परेशान हैं।

सोम देव सिंह ग्राम प्रधान संगठन के जिला अध्यक्ष नामित 

सोम देव सिंह ग्राम प्रधान संगठन के जिला अध्यक्ष नामित। राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन के अध्यक्ष ने सौंपी जिम्मेदारी।

बिजनौर। राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन का जिला अध्यक्ष सोम देव सिंह पुत्र घसीटा सिंह निवासी ग्राम पंचायत पपावर खुर्द उर्फ गढ़ी बगीची ब्लाक मोहम्मदपुर देवमल को नामित किया गया है। राष्ट्रीय पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन उत्तर प्रदेश के प्रदेश महासचिव गणेश ठाकुर की संस्तुति  पर प्रदेश अध्यक्ष कौशल किशोर पांडेय ने उन्हें यह दायित्व सौंपा। साथ ही नवनियुक्त जिला अध्यक्ष से अपेक्षा की है कि वह एक माह के भीतर जिला व ब्लाक कमेटियां गठित करेंगे। सघन सदस्यता अभियान चलायेंगे तथा तन-मन-धन से संगठन का  सहयोग करेंगे। साथ ही संगठन की प्रगति के संबंध में लगातार प्रदेश अध्यक्ष को अवगत कराएंगे। 

बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त, रात भर गायब रही बिजली, ठप हो गए इंर्वटर

बारिश ने अस्त व्यस्त कर दिया जन जीवन रात भर गायब रही बिजली, ठप हो गए इंर्वटर 

बिजनौर। पिछले 36 घंटे से लगातार हो रही बारिश के कारण जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया। बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। लोग घरों में कैद रहे। मौसम विभाग ने शुक्रवार को भी तेज हवा के साथ बारिश होने की संभावना व्यक्त की है। वहीं रात भर बिजली गायब रहने से इंर्वटर ठप हो गए। इस कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।जिले भर में लॉकडाउन के चलते बाजारों में सन्नाटा छाया रहा। आकाश में घने बादल छाए रहने के साथ ही मौसम में आद्रता बढ़ी हुई है। इस कारण किसी भी समय तेज बारिश होने की संभावना मौसम विज्ञानियों ने जताई है। नगीना क्षेत्र में बारिश 9 प्रतिशत रिकॉर्ड की गई है। आम की फसल को लाभ पहुंचा है तो जायद की फसल को काफी नुकसान हुआ है। क्षेत्र की नदियों में जल आ जाने से फसलें बुरी तरह प्रभावित है। हल्दौर क्षेत्र में बेमौसम रिमझिम  बारिश से नगर मे  सडक़ों से घरों तक में पानी भर गया। जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने के कारण बारिश का पानी सडक़ों पर जमा रहा। जगह-जगह जल  भराव  हो जाने से लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ा। कई मुहल्लों में तो लोगों को पानी में घुसकर ही आवाजाही करनी पड़ी। हालांकि एक घंटे की तेज बारिश के बाद दो तीन घंटे हल्की बारिश होती रही। बारिश होने से इधर कुछ दिनों से पड़ रही गर्मी से लोगों को राहत मिली है।अब किसान भी अपनी खेती में जुट गए हैं। खेतों में नमी आएगी। बारिश हो जाने से किसानों को फायदा पहुंचा है। सुबह से शुरू हुई बारिश थमने का नाम नहीं ले रही थी,लेकिन एक घंटे तक मुसलाधार बारिश होने से जनजीवन  अस्त व्यस्त हो गया। बारिश के कारण नगर के कई मुहल्ले जलमग्न हो गए। नगर के मोहल्ला रईसान, सराय सहित अन्य मुहल्लों में हल्की सी भी बारिश होने पर सडक़ पर पानी लग जाता है। जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने के कारण ऐसी समस्या उत्पन्न होती है। मुहल्लों में बारिश होने पर घरों के आंगन तक पानी लग जाता है। जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।राजा का ताजपुर क्षेत्र में लगातार हो रही दूसरे दिन बारिश ने जन जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया। मौसम तो खुशगवार हो गया लेकिन लगातार बारिश से नाली नाला उफान की तरह भर गए। सडक़ों पर पानी भर गया। मोहल्ला रहमान चौक कई घरों में पानी भर गया। लोग बाल्टी से पानी को खींचते रहे। कई परिवारों के लोगों ने रात भर रात जाग कर गुजारी। कई मोहल्लों में जलभराव देखने को मिला। कई जगह ऐसी है जहां पर पानी की निकासी ना होने से चारों तरफ पानी भरा हुआ रहता है। अक्सर बरसात के दिनों में यह दिक्कत आम होती है, जिससे बरसात में लोगों का जीना दुश्वार होता है। अफजलगढ़ क्षेत्र में 24 घंटे से लगातार बारिश होने से ग्रामीण इलाके जलमग्न हो गए। बरसाती नदी नालों पर उफान आ गया है अफजलगढ़ थाने के मेघपुर गांव के बाहर हाईवे पर बुधवार से लगातार बारिश होने से सामान्य जीवन अस्त-व्यस्त हो गया। नदी नालों में उफान आ गया है। ग्रामीण इलाके जलमग्न हो गए तथा लगातार बारिश होने से आना-जाना ठप हो गया और सडक़ों पर सन्नाटा पसर गया।

किसान जिंदाबाद: पहले मतदान, बाद में खेत

पहले मतदान, बाद में खेत: जिला बिजनौर में किसानों ने भी मतदान में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। प्रात: से सायं तक किसानों ने पोलिंग बूथों पर पहुंचकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। अधिकांश किसानों ने पहले मतदान और बाद में खेत पर काम को प्राथमिकता दी तो वहीं कुछ किसानों ने खेत का काम निपटाने के बाद मतदान किया। वर्तमान में जिले की सभी चीनी मिलें चल रही हैं। वहीं किसानों के खेतों में गन्ना भी खड़ा है और गेहूं की कटाई भी चल रही है। इसके बावजूद काफी किसानों ने पहले वोट देने को प्राथमिकता दी। कुछ किसानों ने पहले खेत का काम निपटाया और बाद में मतदान किया। प्रत्याशी और उनके समर्थक भी किसानों को मोबाइल पर फोन कर मतदान करने के लिए प्रेरित करते रहे। यहही नहीं कुछ समर्थक तो वोटर को लेने के लिए खेतों तक पहुंचे।

जोश में दिखे युवा: मतदान को लेकर युवा भी बेहद उत्साहित रहे। युवाओं के कंधों पर प्रत्याशियों ने काफी जिम्मेदारी सौंपी थी। युवाओं ने अपने घरों की महिलाओं व सभी बुजुर्गों का मतदान कराया। यह पता चलते ही कि अमुक वोट नहीं पड़ा है, युवा उसे लेने के लिए निकल पड़ते।

थर्मल स्क्रीनिंग के बाद मतदाताओं को पोलिंग बूथों में प्रवेश: पोलिंग बूथों के बाहर मतदाताओं की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। जिन मतदाताओं के पास मास्क नहीं थे उन्हें मास्क उपलब्ध कराए गए। पंचायती राज विभाग ने सभी पोलिंग बूथों के बाहर मतदाताओं की थर्मल स्क्रीनिंग कराई। पल्स ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन लेवल की जांच भी कराई गई। इसके बाद ही उन्हें मतदान करने के लिए भेजा गया। जिन मतदाताओं के पास मास्क नहीं थे, उन्हें निगरानी समिति के सदस्यों ने मास्क उपलब्ध कराए। अधिकांश मतदाता मास्क लगाकर मतदान करने के लिए पोलिंग बूथ पर पहुंचे।

नगीना क्षेत्र में भी मतदाताओं ने दिखाया जोश: पंचायत चुनाव के लिए मतदाताओं ने जमकर मतदान किया। धूप में भी सुबह से ही मतदेय स्थलों पर ग्रामीण क्षेत्रों में लंबी लंबी कतारें लग गई। मुस्लिम व हिंदू समाज की महिलाएं भी भारी संख्या में सुबह से ही वोट डालने के लिए पहुंच गई। पुलिस प्रशासन ने कोविड-19 के निर्देशों का पालन कड़ाई से कराया। पुलिस क्षेत्राधिकारी नगीना सुमित शुक्ला, एसडीएम नगीना घनश्याम वर्मा, चुनाव पर्यवेक्षक बराबर चौकसी बरते रहे। पोलिंग बूथों पर भीड़ जमा नहीं होने दी गई। दोपहर 12:00 बजे तक काफी भीड़ देखी गई। बाद में करीब 1 घंटे के लिए मतदान धीमी गति से चला। फिर लंबी-लंबी कतारें लगना शुरू हो गई। मतदान स्थलों पर बराबर मास्क लगाने की हिदायत देते हुए पुलिस प्रशासन के लोग पाए गए।

गरीब दलित किसान से वन रक्षक सिपाही ने की 19 हजार रूपए की अवैध वसूली

गरीब दलित किसान से वन रक्षक सिपाही ने की 19 हजार रूपए की अवैध वसूली

पूर्व में भी कई मामलों को लेकर सुर्खियों में रहा वनरक्षक

अपने करीबियों व सत्ताधारियों की धौंस जमा कर करता है अवैध वसूली

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के वन रेंज मलिहाबाद क्षेत्र अंतर्गत एक गांव के दलित किसान को अपने खेत में सूखे खड़े आम के पेड़ों को काटना भारी पड़ा। गरीब बागवान पर वन रक्षक ने उसे जातिसूचक गालियां देते हुए जूते से पीटने के साथ झूठे मुकदमें में फंसाने की धमकी देते 19 हजार रुपए की अवैध वसूली कर ली। पीड़ित ने घटना की तहरीर थाने पर दी है।
शनिवार को ग्राम नबीनगर निवासी रमेश कुमार गौतम अपने गांव के पास ही स्थित आम के बाग से 4 सूखे आम के पेड़ काट कर जलौनी वाली लकड़ी को बेचने के लिये जा रहा था। रमेश का कहना है कि इसके लिए क्षेत्रीय वन रक्षक दिलीप कुमार चौहान से अनुमति ले ली थी। रास्ते मे ग्राम खड़ता के निकट वनरक्षक दिलीप कुमार चौहान उसे रोक उससे 50 हजार रुपए की मांग करने लगे। रमेश कुमार द्वारा विरोध किया गया तो वनरक्षक दिलीप कुमार चौहान बागवान रमेश कुमार गौतम को जातिसूचक गालियां देते हुए जूते से मारने पीटने के साथ झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देने लगा। इस पर डरे सहमे बागवान रमेश कुमार गौतम ने पूर्व ग्राम प्रधान जमशेद अली को सूचना दी। मौके पर पहुंचे जमशेद अली ने काफी मन मनौव्वल के बाद 19 हजार रुपए दिलीप कुमार चौहान को देकर मामला शान्त कराया।
दूसरे दिन जब इस घटना की खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी तो वन विभाग के अधिकारियों के हांथ पांव फूल गए। घटना को संज्ञान लेते हुए वन विभाग के अधिकारियों ने 5 पेड़ों पर जुर्माना कर मामले को दबाने का प्रयास किया। पीड़ित बागवान ने थाने मे दी गयी तहरीर मे वन रक्षक दिलीप कुमार चौहान पर आरोप लगाया है कि मारने पीटने के साथ उससे 19 हजार रुपए की अवैध वसूली की है।
इस संबंध में जिला वन अधिकारी अवध रवि कुमार का कहना है कि रेंज अधिकारी से बात की गयी है। घटना की जांच कराकर दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।

वन विभाग नाकाम: ग्राम टंडेरा में गुलदार घूम रहा खुलेआम

भयभीत ग्रामीणों का अल्टीमेटम, पिंजरा लगा कर नहीं पकड़ा तो करेंगे आंदोलन

बिजनौर। राजा का ताजपुर क्षेत्रान्तर्गत गांव टंडेरा में गुलदार की आमद लगातार बनी हुई है। देर रात गुलदार एक घर में घुस आया तो ग्रामीणों ने मशाल जला कर बमुश्किल उसे भगाया।
जानकारी के अनुसार गांव में पंचायतघर के पास स्थित अपने घर में जनाब अहमद व परिजन देर रात बैठे हुए थे। अचानक गुलदार अंदर घुस आया। शोर मचाते हुए सभी ने स्वयं को एक कमरे में बंद कर लिया। शोर पर एकत्र ग्रामीणों ने मशाल जलाकर गुलदार को भगाया और पूरी रात पहरा देते हुए बिताई। इस बीच बुधवार दोपहर 12 बजे पंचायत घर के सामने तालाब पर भी गुलदार देखा गया। गुलदार के लगातार गांव में घूमने से भयभीत लोग घर से निकलने में घबरा रहे हैं। किसान अकेले खेतों पर जाने से बच रहे हैं। क्षुब्ध ग्रामीणों का आरोप है कि सूचना देने के बाद भी वन विभाग का कोई अधिकारी गांव में नहीं पहुंचा। वहीं किसानों की खड़ी गन्ने की फसल का नुकसान बढ़ता जा रहा है क्योंकि गुलदार की दहशत से किसान गन्ना काटने अपने खेत पर जाने से कतरा रहे हैं। बीती रात भी गुलदार ने एक बकरी पर हमला कर दिया। गनीमत तो यह रही कि आंख खुलने पर परिवार वालों ने लाठी डंडे से गुलदार को खदेड़ दिया। गौरतलब है कि गोपालपुर टंडेरा में तीन दिन पहले गुलदार ने चार बकरों को अपना निवाला बना डाला था।
उधर पूर्व प्रधान अफसर अली, मोहम्मद अकरम, हाफिज इंतजार, मुस्तकीम अहमद, नरेंद्र सिंह, जयपाल सिंह, रमेश कुमार, रफीक अहमद, सत्तार अहमद आदि ने वन विभाग के अधिकारियों, शासन प्रशासन से मांग की है कि जल्द से जल्द पिंजरा लगाकर गुलदार को पकडऩे का काम करें। अगर कोई घटना घटित होती है तो इसका जिम्मेदार शासन प्रशासन होगा और ग्रामीण आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। गांव में लगातार दहशत का माहौल बना हुआ है।

SDM अजय कुमार राय ने किया गेंहू क्रय केंद्र का औचक निरीक्षण

उपजिलाधिकारी अजय कुमार राय ने गेंहू क्रय केंद्र का किया औचक निरीक्षण

गेंहू क्रय केंद्र की व्यवस्था पाई गई संतोषजनक। कांटे भी ठीक कार्य करते पाए गए। एसडीएम ने की केंद्र प्रभारी की सराहना।

लखनऊ मलिहाबाद। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश के निर्देशन में तेजतर्रार उपजिलाधिकारी अजय कुमार राय के नेतृत्व में गुरुवार को तहसीलदार शम्भू शरण व जिला खाद्य विपणन अधिकारी निश्चल आनन्द द्वारा माल रोड स्थित खाद्य विभाग द्वारा संचालित गेहूँ क्रय केंद्र का निरीक्षण किया गया।

इस दौरान एसडीएम ने गेंहू तौल के कांटों की भी जांच की और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर गेहूं खरीदने की हिदायत दी। उपजिलाधिकारी ने कहा कि किसानों को गेहूं बेचने में किसी तरह की दिक्कत नहीं आनी चाहिए। उन्होंने केंद्र पर गुड़ व पानी की व्यवस्था भी कराने के निर्देश दिए। उपजिलाधिकारी ने बताया कि गेंहू क्रय केंद्र की व्यवस्था संतोषजनक मिली है। कांटे भी ठीक कार्य कर रहे हैं। उपजिलाधिकारी ने कहा कि बिचौलियों से गेहू खरीद करने और किसान के उत्पीड़न की शिकायत पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने क्रय केंद्र प्रभारी से भुगतान के बारे में जानकारी ली। क्रय केंद्र प्रभारी शशि सिंह ने बताया कि गेहूँ का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रु प्रति कुंतल है, जिसका कृषकों के खाते में पीएफएमएस के माध्यम से भुगतान किया जाएगा।

बिजनौर में स्वतंत्रदेव सिंह को भाकियू ने दिखाए काले झंडे

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को दिखाए काले झंडे
चार भाकियू कार्यकर्ता हिरासत में
थाना कोतवाली पर बवाल

बिजनौर। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को भारतीय किसान यूनियन ने बिजनौर के नगीना मार्ग पर ग्राम रशीदपुर गढ़ी में काले झंडे दिखाए। पुलिस ने भाकियू कार्यकर्ताओं को रोकने का भरसक प्रयत्न किया, लेकिन रोक न सकी। इस मामले में पुलिस ने चार कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया है। समाचार लिखे जाने तक थाना कोतवली पर बवाल जारी था।
सोमवार शाम प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का काफिला धामपुर के कार्यक्रम के बाद नहटौर होते हुए बिजनौर आ रहा था। सूचना पर भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता बिजनौर-झालू मार्ग पर गांव जलालपुर के पास एकत्र हो गए। बाद में पता चला कि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का काफिला नहटौर वाया कोतवाली होते हुए बिजनौर पहुंचेगा। इस पर भाकियू प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह के नेतृत्व में शहर से लगे गांव रशीदपुर गढ़ी में एकत्र हो गए। शाम करीब पांच बजे जैसे ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का काफिला  वहां से गुजरा, भाकियू कार्यकर्ता बीजेपी के खिलाफ नारे लगाते हुए काले झंडे दिखा दिए। भाकियू कार्यकर्ताओं को हटाने में मौके पर मौजूद पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। पुलिस के समझाने के बावजूद भाकियू कार्यकर्ता नहीं माने। वहीं स्वतंत्रदेव सिंह के अलावा भाजपा के जिस नेता की भी गाड़ी काफिले के साथ गुजरी उसे भी काले झंडे दिखाए गए।
वहीं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को काले झंडे दिखाने के मामले में पुलिस ने चार कार्यकर्ताओं को लिया हिरासत में लिया है। इसके बाद भाकियू नेताओं में आक्रोश फैल गया और बिजनौर कोतवाली को घेर लिया। पुलिस कार्यकर्ताओं को समझाने में जुटी रही।

बैराज पर गंगा आरती में हुए शामिल
इस बीच प्रदेश अध्यक्ष भाजपा स्वतंत्र देव सिंह ने बिजनौर बैराज पहुंच कर गंगा आरती में हिस्सा लिया।विदित हो कि प्रदेश सरकार ने बिजनौर से बलिया तक प्रतिदिन गंग तट पर आरती का कार्यक्रम चला रखा है। इसी परिप्रेक्ष्य में स्वतंत्र देव वहां पहुंचे।  इससे पहले उन्होंने राधा माधव कुंज मंडावर रोड बिजनौर में मातृ शक्ति अभिनंदन कार्यक्रम में हिस्सा लिया। कार्यक्रमों के दौरान जिले के सभी भाजपा नेता, कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने गिनाए कृषि बिल के फ़ायदे

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने गिनाए कृषि बिल के फ़ायदे। गांव गांव जाकर किसानों को बता रहे हैं कृषि बिल के फायदे।
नए कृषि बिल से किसानों की आय दोगुनी होगी।

लखनऊ। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि बिलों के समर्थन में लखनऊ की विधानसभा मलिहाबाद के ग्रामखंडसरा, गोपालपुर, गोड़वा बरौकी सहित दर्जनों गांवों में चौपाल लगाकर कृषि कानूनों बिलों के विषय में किसानों को समझा कर जागरूक किया।

बताते चलें कि राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनिवास यादव ने केंद्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि बिलों के फायदे की जानकारी गांव गांव जाकर किसान चौपाल के माध्यम से बता रहे हैं।

चौपाल को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि अराजकतावादी तथाकथित किसान संगठन व उनके नेता किसानों के नाम पर कृषि बिलों के खिलाफ लगातार दुष्प्रचार कर देश में अराजकता फैलाने का काम कर रहे है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के नाम पर दलालों ने जबरन कब्जा कर रखा है, जिससे देश का अन्नदाता बदनाम हो रहा है। किसानों के नाम पर राजनीति चमकाने वालों के खिलाफ देश का अन्नदाता एवं असली किसान उठ खड़ा हुआ है।

उन्होंने कृषि सुधार कानून बिलों से मिलने वाले फायदों से किसानों को अवगत कराया। राष्ट्रीय अध्यक्ष कहा कि मोदी सरकार ने इन तीनों कृषि सुधार कानून (बिलों) को खेत, खिलहान, किसान को केन्द्र बिन्दु मान कर लागू किया है। कुछ किसान संगठन के दलालों द्वारा कृषि बिल का विरोध कर किसानों को भ्रमित किया जा रहा है। दुर्भाग्य से देश के कुछ विपक्षी राजनेता और दल भी इस तथाकथित किसान आंदोलन की आड़ में देश के किसानों के खिलाफ षडयंत्र रचने का काम कर रहे है, जो भारी चिंता का विषय है। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इन नकली किसान संगठनों एवं इनके नेताओं के खिलाफ लगातार आंदोलन जारी रखेगी एवं इनके द्वारा किये जा रहे किसानों के खिलाफ षडयंत्र को बेनकाब करेगी। कार्यक्रम में मुख्य रूप से राजकुमार लोधी, मूलचंद यादव,भैया लाल यादव,बिजय शर्मा,रामकुमार शुक्ला सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे।

अलियारपुर के आसपास गुलदार की आमद से भय


अलियारपुर के आसपास फिर से मंडरा रहा है गुलदार
गुलदार देख सिर पर पैर रख कर भागे ग्रामीण
वन विभाग से पिंजरा लगवा कर पकड़वाने की मांग

बिजनौर। अफजलगढ़ केअलियारपुर में फिर से गुलदार देखे जाने से गांव में दहशत का माहौल है। गांव की ओर गुलदार को आता देख कर कई ग्रामीण सिर पर पैर रख कर भाग खड़े हुए। ग्रामीणों ने वन विभाग के अधिकारियों से पिंजरा लगवा कर गुलदार को पकड़वाने की मांग की है।
अफजलगढ़ के ग्राम अलियारपुर में ग्रामीण बाला देवी पत्नी राजेंद्र, आनंद सिंह, वीरेंद्र सिंह, राजपाल सिंह, शेर सिंह, विजेंद्र, हरिओम सिंह, महिपाल सिंह, अरविंद सिंह आदि ग्रामीणों का कहना है कि गांव की ओर आता गुलदार देखा गया। गुलदार को देखकर उन्होंने शोर मचा दिया तो वह भाग कर गंगा किनारे पहुंच गया। वहां पर संतोष देवी पत्नी शीशराम अपने खेत में बरसीम काट रहे थे। अचानक गुलदार देख कर वह वहां से शोर मचाते भाग खड़े हुए। शोर सुनकर खेत में काम कर रहे अन्य किसान अपने अपने खेत से भाग निकले। किसानों का कहना है कि गुलदार का आतंक दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। किसानों का वन विभाग के विरुद्ध आक्रोश बना हुआ है। उनका कहना है अलियारपुर की घटना के बाद वन विभाग वाले पिंजरा ले कर चले गए और दोबारा यहां आ कर नहीं देखा। किसानों की खेती बर्बाद होती जा रही है। किसान खेतों में जाते हुए कतरा रहे हैं, अगर ऐसे ही रहा तो सारी खेती बर्बाद हो जाएगी। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों से जल्द से जल्द गुलदार को पकड़ वा कर समस्या का समाधान कराने की मांग की है।

पिंजरे में फंसा गुलदार, सुबह बालक को उतारा था मौत के घाट

पिंजरे में फंस ही गया गुलदार, जंगल में छोड़ेगा वन विभाग। क्षेत्र के ग्राम अलियारपुर में रविवार प्रात: श्याम सिंह के 10 वर्षीय पुत्र नितेश कुमार को गुलदार ने मार डाला था।

बिजनौर।अफजलगढ़ क्षेत्र के ग्राम अलियारपुर में रविवार को देर शाम शाम एक गुलदार पिंजरे में कैद हो गया। बताया जा रहा है कि यह वही गुलदार है, जिसने सुबह के समय किशोर को मौत के घाट उतार दिया था।
क्षेत्र के ग्राम अलियारपुर में रविवार प्रात: श्याम सिंह के 10 वर्षीय पुत्र नितेश कुमार को गुलदार ने मार डाला था। घटना के वक्त श्याम सिंह अपने परिवार के साथ गांव के ही किसान ब्रहम्पाल सिंह के सरसों के खेत में लाही काटने के लिए गया हुआ था। घटना के बाद पीड़ित परिजनों व ग्रामीणों की पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों से नोकझोंक भी हुई थी। बताया गया है कि अक्रोशित पीडित परिवार व ग्रामीणों ने पांच लाख का मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की। इस पर अधिकारियों ने सांत्वना देने के साथ ही उनकी मांग प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया। ग्रामीणों द्वारा क्षेत्र में ही आसपास हमलावर गुलदार की मौजूदगी का दावा किया जा रहा था। इस पर वन विभाग द्वारा घटनास्थल के ईर्दगिर्द दो पिंजरे लगाकर एक में कुत्ता तथा दूसरे में बकरा बांध दिया गया। कुछ ही देर के बाद गुलदार पिंजरे में जा घुसा। गुलदार के पकड़े जाने की खबर मिलते ही सैकड़ों ग्रामीण मौके पर एकत्र हो गए।
दूसरी ओर सुरक्षा के मद्देनजर पुलिसबल सहित सीओ सुनीता दहिया तथा प्रभारी निरीक्षक नरेश कुमार मौके पर पंहुच गए। डीएफओ एम. सेम्मरान ने किशोर के हमलावर गुलदार के पकड़े जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि गुलदार को घने जंगल में छोड़ा जाएगा।

पांच महीने में तीसरी वारदात
अफजलगढ़ क्षेत्र में गुलदार के हमले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। इससे पहले भोजपुर में एक महिला पर हमले के बाद कैमरा ट्रैप और पिंजरा लगाया गया था। काफी प्रयास के बाद भी वह पकड़ में नहीं आ रहा था। पिछले 5 महीने में छोटे बच्चों को मारने की यह तीसरी घटना है। भयभीत ग्रामीण जंगल में जाने से कतरा रहे थे।
———-

गुलदार के हमले में 12 वर्षीय बालक की मौत

गुलदार ने बनाया 10 वर्षीय बालक को शिकार

गुलदार के हमले में 10 वर्षीय बालक की मौत बिजनौर। अफजलगढ़ के ग्राम अलियारपुर में गुलदार ने 10 वर्षीय बालक को शिकार बना लिया। परिजनों के खेत में काम करने के दौरान हुए हमले में बालक ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं घटना से आक्रोशित पीड़ित परिजनों व ग्रामीणों ने मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की।
जानकारी के अनुसार ग्राम अलियारपुर निवासी श्याम सिंह अपने परिवार के साथ गांव के ही किसान ब्रहम्पाल सिंह के सरसों के खेत में लाही काटने के लिए गया हुआ था। इसी दौरान उसके पुत्र नितेश कुमार (12 वर्ष) को पीछे से आया गुलदार उठा ले गया। परिवार वालों के काफी शोर मचाने पर गुलदार मौके से भाग गया, लेकिन तब तक नितेश की मौके पर ही मौत हो चुकी थी। सूचना मिलते ही भारी पुलिस बल के साथ एएसपी अनित कुमार, क्षेत्राधिकारी सुनीता देवी, कोतवाल नरेश कुमार, वन विभाग के रेंजर वीरेंद्र सिंह बोरा, डिप्टी रेंजर सुनील कुमार राजौरा व अन्य वन कर्मी मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी हासिल की।
बताया गया है कि अक्रोशित पीडित परिवार व ग्रामीणों ने पांच लाख का मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की। इस पर अधिकारियों ने सांत्वना देने के साथ ही उनकी मांग प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंचाने का आश्वासन दिया। उधर घटना से गांव व क्षेत्र में सनसनी फैली हुई है। वन विभाग कर्मियों ने बताया कि जल्द ही पिंजरा लाकर गुलदार को पकड़ा जाएगा।
————

गुलदार के हमले में युवती घायल

गुलदार के हमले में युवती घायल

बिजनौर। अफजलगढ़ के ग्राम झाड़पुरा भागीजोत दिन पर दिन घटनाओं के चलते सुर्खियों में है। आज फिर से गुलदार ने दोनों गांव में कोहराम मचा दिया।
जानकारी के अनुसार प्रियंका सैनी पुत्री प्रेम सिंह सैनी (१७ वर्ष) परिवार के साथ जंगल काम करने के लिए गई हुई थी। इस दौरान अचानक गुलदार ने उस पर हमला कर दिया। परिवार वालों व ग्रामीणों ने शोर मचा कर बड़ी मुश्किल से गुलदार को वहां से भगाया। बताया जाता है कि गुलदार वहां से भाग कर पड़ोसी गांव भागीजोत में पहुंचा और कपिल कुमार पुत्र वीर सिंह (२५ वर्ष) हमला कर दिया। किसी तरह से कपिल कुमार वहां से बच कर भाग निकलने में कामयाब हो गया। गुलदार के हमले में घायल प्रियंका को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भर्ती कराया गया है।
घटना के बाद से दोनों गांव में दहशत का माहौल छा गया है । ग्रामीणों को कहीं आने जाने में घबराहट महसूस हो रही है। वन अधिकारी सुनील राजौरा ने बताया कि वन कर्मियों को भेजकर समस्या का समाधान कराया जाएगा।

राजधानी लखनऊ में होने वाली है लख्खी किसान रैली

कृषि कानूनों के समर्थन में राजधानी लखनऊ में होगी लख्खी रैली। एक लाख किसान करेंगे तीनों कृषि कानूनों का समर्थन। किसान सम्मान एवं कृषि यंत्र पूजन कार्यक्रम सपन्न। ट्रैक्टर पर तिलक, अक्षत लगाकर पुष्प वर्षा। प्रगतिशील कृषकों का फटका पहनाकर तिलक लगाकर सम्मान।

लखनऊ। केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) के समर्थन में प्रदेश की राजधानी लखनऊ के ब्लाक गोसाईगंज के ग्राम लक्ष्मणपुर में किसान सम्मान एवं कृषि यंत्र पूजन कार्यक्रम का आयोजन शनिवार को किया गया। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्र व्यापी महासम्पर्क अभियान के अन्तर्गत सातवें दिन यह आयोजन हुआ।

कृषि यंत्र पूजन के अन्तर्गत राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के पदाधिकारियों ने ट्रैक्टर पर तिलक, अक्षत लगाकर पुष्प वर्षा की। तत्पश्चात प्रगतिशील कृषकों का फटका पहनाकर तिलक लगाकर सम्मान किया। कार्यक्रम में उपस्थित अन्नदाता किसानों को संबोधित करते हुए यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि कृषि बिल से संबंधित किसानों के मन में योजना पूर्वक किसान विरोधी तत्वों ने तथाकथित किसान आन्दोलन की आड़ में भ्रांतियों के बीज बो दिये हैं। किसान को भ्रम में उल्झाकर किसानों के नाम पर राजनैतिक रोटियां सेकने का काम किया जा रहा है। राम निवास यादव ने कहा कि जल्द ही इस तथाकथित किसान आन्दोलन की आड़ में किये जा रहे भ्रामक दुष्प्रचार के खिलाफ तीनों कृषि कानूनों के समर्थन में राजधानी लखनऊ में लख्खी रैली आयोजित कर एक लाख किसानों को बुलाकर तीनों कृषि कानूनों का समर्थन किया जायेगा।

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने तीनो बिलों के समर्थन में बोलते हुए कहा कि यह तीनों बिल केवल कानून नहीं हैं, बल्कि यह अन्नदाता की वास्तिवक आजादी का प्रतीक हैं। किसी को भी किसान, खेत, खलिहान के हितकारी इन बिलों से खेलने की अनुमति नही दी जायेगी, किसानों के नाम पर राजनीति करने वालों के खिलाफ देश का अन्नादाता उठकर खड़ा हो गया है। फर्जी किसान नेता बेनकाब हो रहे हैं। दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ राजनीतिक दल जगह-जगह पर किसान रैलियों के नाम पर गन्दी राजनीति करने का काम कर रहे हैं।

कार्यक्रम का संचालन राष्ट्रीय महामंत्री वीरेन्द्र कुमार रावत ने किया, क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं वरिष्ठ किसान नेता जागेश्वर मौर्या, राम जियावन यादव, कार्यक्रम संयोजक एवं यूनियन के गोसाईगंज ब्लाक अध्यक्ष शिव कुमार यादव ने भी संबोधित किया। यूनियन के उपाध्यक्ष राज कुमार लोधी, मंत्री विमल यादव, ब्लाक प्रमुख गोसाईगंज डा0 नरेन्द्र रावत, यूनियन के मंत्री संतोष शर्मा, शिव कुमार रावत, मुराद अली, मातादीन रावत, ललित साहू सहित अनेक पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

दिल्ली पुलिस को सम्मान स्वरूप भेजे चिन्ह, पत्र एवं सूखे मेवे

लखनऊ 11फरवरी, किसान आंदोलन की आड़ में लोकतंत्र के महापर्व 26जनवरी को दिल्ली के लालकिले पर अराजकतावादियों द्वारा की गयी भीषण हिंसा, दिल्ली पुलिस एवं सुरक्षा बलों पर हथियारों से किये गये घातक हमलों को शांतिपूर्वक झेलते हुए दिल्ली पुलिस ने जिस असीम धैर्य एवं दूरदर्शिता का परिचय दिया उसके सम्मान में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन द्वारा राजधानी लखनऊ के जिलाधिकारी के माध्यम से सम्मान चिंह, सम्मान पत्र एवं सूखे मेवे दिल्ली पुलिस को सम्मान स्वरूप भेजे गये।

जिलाधिकारी कार्यालय में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव के नेतृत्व में अन्नदाता यूनियन के कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी को उक्त सामग्री सौपी। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के कार्यकर्ता सम्मान चिन्ह, सम्मान-पत्र सूखे मेवे, काजू, बादाम, छोहारा, किशमिश, खजूर, मखाना, मूंगफली, गुड़, एवं तिल गुड, चीनी के बताशे एवं लखनऊ की प्रसिद्ध रेवड़ी भी दिल्ली पुलिस के सम्मानार्थ अपने साथ लेकर पहुँचे थे।

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के अध्यक्ष राम निवास यादव ने उक्त अवसर पर मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि 26 जनवरी को लालकिले में जो कुछ भी घटित हुआ वो भारत विरोधियों के राष्ट्र के प्रति षडयंत्र का अंग था दिल्ली पुलिस एवं अन्य केन्द्रीय एजेन्सियों द्वारा की जा रही जाँच में उनके इरादे कितने घातक थे यह लगातार साफ होता जा रहा है, 26जनवरी को लालकिले में जो कुछ भी घटित हुआ वो भारत विरोधी अंतराष्ट्रीय साजिश का अंग था, दिल्ली पुलिस के अधिकारियों एवं जवानों व लालकिले पर तैनात अन्य सुरक्षा बलों के साथ जिस बर्बरता पूर्ण व्यवहार का प्रदर्शन अराजकतावादियों ने किया, मीडिया के माध्यम से सम्पूर्ण देश ने देखा कि हथियारों से जानलेवा हमले किये गये, लालकिला जो विश्व धरोहर श्रेणी का स्मारक है कि पूरा-संपदा को नष्ट किया गया। हमारी आन-बान-शान के प्रतीक राष्ट्र ध्वज तिरंगे का अपमान किया गया। राम निवास यादव ने कहा कि अराजकतावादियों की मंशा दिल्ली पुलिस को गोलियां चलाने पर विवश करने की थी जिससे देश भर में अराजकता माहौल पैदा हो जाय। यदि दिल्ली पुलिस अभूतपूर्व संयम एवं दूरदर्शिता का परिचय नही देती तो ये अराजकतावादी अपने इरादों में कामयाब हो जाते, जिसे दिल्ली पुलिस ने विफल कर दिया। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पुलिस की इस धैर्यशीलता, गम्भीरता, दूरदर्शिता, क्षमाशीलता का सम्पूर्ण भारत गुणगान कर रहा है। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन दिल्ली पुलिस द्वारा किये गये इस महान कार्य की प्रशंसा करती है और सम्मान स्वरूप सम्मान चिन्ह, सम्मान-पत्र, और मेवा मिठाई भेटकर अभिनन्दन करती है।

अध्यक्ष राम निवास यादव के साथ महामंत्री अवधेश प्रताप सिंह, उपाध्यक्ष राज कुमार लोधी, अरविन्द यादव, डा0 अनूप सिंह, कोषाध्यक्ष अनिल जायसवाल, वीरेन्द्र कुमार रावत, लवकुश यादव, विमल यादव, शिव कुमार यादव, राकेश शर्मा, राकेश यादव, पुरूषोत्तम यादव पूर्व उप ब्लाक प्रमुख, बंटी यादव, मूलचन्द्र यादव, बलीराम वर्मा, राजेश यादव, रंजीत यादव, भईया लाल यादव, मनीष गुप्ता, शिवहरि द्विवेदी, राजेश अवस्थी, अमित मिश्रा, सहनवाज हुसैन, प्रदीप गुप्ता सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।

कृषि बिल के समर्थन में जुलूस निकालेगी राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन

लखनऊ। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) का समर्थन करते हुए कृषि बिलों को यथावत रखने की मांग की है।

राजधानी लखनऊ के होटल चरण में आयोजित प्रेसवार्ता में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के नेताओं ने एक स्वर में कृषि कानूनों को लेकर भ्रामक विवाद की कड़े शब्दो में निंदा की एवं केन्द्र सरकार से तथाकथित किसान संगठनों एवं उनके नेताओं पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग की। प्रेसवार्ता के दौरान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि तथाकथित किसान संगठन व उनके नेता किसानों के नाम पर कृषि बिलों के खिलाफ लगातार दुष्प्रचार कर देश में अराजकता फैलाने का काम कर रहे है, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर जबरन कब्जा कर, 26जनवरी गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रध्वज तिरंगे का अपमान कर, सुरक्षाबलों पर हिंसक हमले कर, चक्का जाम कर ये हिंसक अराजकतावादी किन किसानों का भला करना चाहते है, समझ से परे है। किसान के नाम पर राजनीति चमकाने वालों के खिलाफ देश का अन्नदाता उठ खड़ा हुआ है। कृषि सुधार कानूनों (बिलों) से मिलने वाले फायदों को लेकर देश का अन्नदाता उत्साहित है। अन्नदाता इन तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) की अपनी वास्तविक आजादी का प्रतीक मान रहा है। आजादी के 70वर्षों में पहली बार यदि केन्द्र की किसी सरकार ने खेत, खिलहान, किसान को केन्द्र बिन्दु मान कर योजनाएं बनाई है, तो केवल नरेन्द्र मोदी सरकार ने बनाई। दुर्भाग्य से देश के कुछ विपक्षी राजनेता और दल भी इस तथाकथित किसान आंदोलन के बहाने खोई राजनैतिक जमीन को तलाशने में लगे हैं और अराजकतावादियों के मनोबल को बढाने का काम कर रहे हैं। इस तथाकथित किसान आंदोलन की आड़ में भारत के खिलाफ देश के दुश्मनों द्वारा षडयंत्र रचे जा रहे हैं, जो भारी चिंता का विषय है। सच्चा किसान कभी इस प्रकार के राष्ट्रद्रोह को स्वीकार नहीं कर सकता। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इन नकली किसान संगठनों एवं इनके नेताओं के खिलाफ लगातार रचनात्मक आंदोलन जारी रखेगी।

प्रेसवार्ता में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन द्वारा राट्रव्यापी पोस्टर अभियान का प्रारम्भ करने हेतु पोस्टर जारी किया गया। पोस्टर में केन्द्र सरकार से 5 बिन्दुओं को लेकर मांग की गयी है कि 1-संसद द्वारा पारित तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) को यथावत रखा जाए। 2-गणतंत्र दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर पर लगे राष्ट्रध्वज तिरंगे को अपमानित करने वालों की सम्पत्ति जब्त की जाए एवं सरकारी सम्पत्ति नष्ट करने से हुए नुकसान की भरपायी उक्त अराजकतावादियों से की जाए। साथ ही पुलिस एवं सुरक्षाबलों पर हमला करने वालों से घायल सुरक्षाबलों का चिकित्सा खर्च वसूल किया जाए। 3-अराजकतावादी तथाकथित किसान संगठनों पर प्रतिबंध लगा कर उनके नेताओं को जेल को भेजा जाए। 4-संसद द्वारा पारित कृषि सुधार कानूनों से कृषि और किसान को होने वाले क्रांतिकारी लाभों से परिचित कराने के लिए देश भर से प्राख्यात कृषि विशेषज्ञों को लेकर उनकी उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर रिपोर्ट जारी करवायी जाए। 5-राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के विभिन्न बॉर्डर पर जबरन कब्जा जमाये बैठे तथाकथित किसान संगठनों एवं नेताओं से स्थान खाली करवाकर आवागमन सुचारू किया जाए।

कल राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के नेता रोहित जायसवाल एवं आचार्य पुष्पेन्द्र के नेतृत्व में प्रयागराज के माघ मेला स्थित मछली बन्दर मठ में संतों का आशीर्वाद लेकर राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन एवं अखिल भारतीय संयुक्त धर्माचार्य मंच द्वारा कृषि बिल के समर्थन में जुलूस निकाल कर धन्यवाद प्रस्ताव प्रधानमंत्री को भेजा जायेगा।

प्रेसवार्ता में महामंत्री अवधेश प्रताप सिंह, वीरेन्द्र कुमार रावत, उपाध्यक्ष राज कुमार लोधी, बलीराम वर्मा, मोहम्मद खलील अहमद, अनिल जायसवाल, डा0 अनूप सिंह, मूलचन्द्र यादव, लवकुश यादव, अजीत सिंह यादव गाजीपुर, यशवंत यादव बाराबंकी, राम नरेश वर्मा सीतापुर, आलोक बाजपेयी हरदोई, विमल यादव उपस्थित रहे।

UP, उत्तराखंड, दिल्ली में नहीं होगा चक्का जाम!

राकेश टिकैत ने कहा, UP, उत्तराखंड और दिल्ली छोड़कर पूरे देश में होगा चक्का जाम

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में कल चक्का जाम नहीं होगा! शनिवार को होने वाले चक्का जाम की तैयारियों के बीच किसान नेता राकेश टिकैत और बलबीर सिंह राजेवाल ने यह ऐलान किया है!

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि ‘कल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दिल्ली को छोड़कर पूरे देश में चक्का जाम होगा। इन दोनों राज्यों में जिला मुख्यालय पर किसान कृषि कानूनों के विरोध में केवल ज्ञापन दिए जाएंगे। उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में चक्का जाम टालने को लेकर राकेश टिकैत ने कहा कि इन दोनों जगहों को लोगों को स्टैंडबाय पर रखा गया है और उन्हें कभी भी दिल्ली बुलाया जा सकता है। इसलिए यूपी-उत्तराखंड के लोग अपने ट्रैक्टरों में तेल-पानी डालकर तैयार रहें। उन्होंने कहा कि अन्य सभी जगहों पर तय योजना के अनुसार शांतिपूर्ण ढंग से काम होगा।

उधर, किसान नेता दर्शनपाल सिंह ने कहा कि हम कल दिल्ली में चक्का जाम नहीं कर रहे हैं। हम सभी बार्डरों पर शांतिपूर्ण तरह से बैठेंगे। दोपहर 12 से 3 बजे तक ही चक्का जाम रहेगा। वहीं दिल्ली पुलिस के PRO चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि प्रदर्शनकारी किसानों ने चक्का जाम का प्रस्ताव रखा है। इस दौरान 26 जनवरी जैसे हालात न हो जाएं, इसलिए दिल्ली पुलिस ने पुख्ता इंतजाम किए हैं, ताकि दिल्ली की सीमाओं से कोई भी असमाजिक तत्व राजधानी के भीतर न घुस सके। वहीं किसानों के चक्का जाम को लेकर पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव की बैठक में दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने कल होने वाले किसानों के चक्का जाम को लेकर चर्चा की।

America ने किया कृषि कानूनों का समर्थन, इससे भारत का बाजार सुधरेगा

वाशिंगटन। अमेरिका ने भारत के नए कृषि कानूनों का समर्थन किया है। कहा कि वह ऐसे कदमों का स्वागत करता है जो भारतीय बाजारों की ‘निपुणता में सुधार’ करेंगे और निजी क्षेत्र के अधिक निवेश को आकर्षित करेंगे। भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका यह मानता है कि शांतिपूर्ण विरोध किसी भी संपन्न लोकतंत्र की पहचान है। मतभेदों को बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए। प्रवक्ता ने कहा, ‘हमारा मानना है कि शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किसी भी संपन्न लोकतंत्र की पहचान है और यहां ध्यान देने वाली बात है कि भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने भी यही कहा है।’ प्रवक्ता ने कहा कि हम प्रोत्साहित करते हैं कि पार्टियों के बीच किसी भी तरह के मतभेदों को बातचीत के माध्यम से हल किया जाएगा। सामान्‍य तौर पर अमेरिका भारतीय बाजारों की कार्यकुशलता को सुधारने और बड़े पैमाने पर निजी सेक्‍टर के निवेश को आकर्षित करने के लिए उठाए गए कदमों का स्‍वागत करता है।

विदित हो कि कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 26 नवंबर से किसान प्रदर्शऩ कर रहे हैं। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में हिंसा भी हुई। कृषि कानून पर सहमति को लेकर किसानों और सरकार के बीच 11 दौर की वार्ता हो चुकी है, मगर सभी बेनतीजा रहे। 22 जनवरी को प्रदर्शनकारी किसानों के साथ 11वें दौर की वार्ता के दौरान सरकार ने नए कानूनों को डेढ़ साल के लिए निलंबित करने का प्रस्ताव रखा और अधिनियमों पर चर्चा के लिए एक संयुक्त समिति गठित करने का भी प्रस्ताव रखा, लेकिन किसान तब भी नहीं माने।

महापंचायत में कृषि कानून के खिलाफ लामबंद रहने का आह्वान


बिजनौर। जिला मुख्यालय के आईटीआई में भारतीय किसान यूनियन की सम्मान बचाओ महापंचायत में भारी भीड़ उमड़ी। चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के पौत्र गौरव टिकैत व पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पौत्र जयंत चौधरी ने किसानों से एकजुट रहने और कृषि कानून के खिलाफ लामबंद रहने का आह्वान किया।

सोमवार को नगर के आईटीआई मैदान में भारतीय किसान यूनियन के तत्वाधान में आयोजित किसान सम्मान बचाओ महापंचायत का आयोजन किया गया। किसान नेताओं ने किसान विरोधी कृषि कानून के प्रति लामबंद होकर एकजुट रहने और सरकार से बिल्कुल ना डरने का आह्वान किया।

मुख्य अतिथि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के युवा पुत्र गौरव टिकैत ने किसानों से सरकार को अपनी ताकत का अहसास कराने को कहा। उन्होंने कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के साथ गद्दारी करने वालों को कभी माफ नहीं किया जाएगा। किसानों से एकता बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि सरकार को काले कानून हर हाल में वापस लेने होंगे।

राष्ट्रीय लोकदल के युवा नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पौत्र चौधरी जयंत सिंह ने अपने भाषण में मोदी और योगी सरकार पर जमकर प्रहार किये। उन्होंने कहा कि सरकारें किसानों को बहरूपिया बनकर ठग रही हैं। किसान जाग चुका है और अब वक्त आ गया है कि इन सरकारों को जड़ से उखाड़ कर फेंका जाए। उन्होंने चौधरी राकेश टिकैत के आंसुओं का जिक्र करते हुए कहा कि आंसू सैलाब बन गये हैं, जो अब रुकने वाले नहीं है या तो सरकार कृषि कानून वापस लेगी या फिर सरकार के नुमाइंदे गद्दी छोड़ कर भागेंगे। महापंचायत को भाकियू के राष्ट्रीय सचिव चौधरी युद्धवीर सिंह, कर्नाटक से आए किसान नेता केडी गंगाधर, केरल से आए करनैल सिंह, जिला अध्यक्ष कुलदीप सिंह ने संबोधित किया। अध्यक्षता शमशाद हुसैन ने तथा संचालन जितेंद्र सिंह ने किया।

चौधरी दिगंबर सिंह का कद बढ़ा-
पंचायत में उमड़ा किसानों का जनसैलाब भारतीय किसान यूनियन के युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह का कद बढ़ाने वाला साबित हुआ। चौधरी दिगंबर सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के विरुद्ध जो लड़ाई लड़ी जा रही है, अब किसानों की अस्मिता की लड़ाई बन गई है। किसान इसे जीत कर ही दम लेंगे। महापंचायत में विभिन्न सियासी दलों के कार्यकर्ता और पदाधिकारी भी शामिल हुए। विशेषकर समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोक दल के कार्यकर्ता और पदाधिकारी भारी संख्या में नजर आए।

पुलिस प्रशासन की रही पैनी नजर- महापंचायत में जुटी किसानों की भीड़ के सामने आईटीआई का मैदान भी छोटा पड़ गया। सैकड़ों की संख्या में ट्रैक्टरों में बैठकर हजारों किसान सुबह नौ बजे से ही कार्यक्रम स्थल पर पहुंचना शुरू हो गए थे। इस दौरान पुलिस की भी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रही। जगह-जगह भारी पुलिस बल लगाया गया था। 4 कंपनी पीएससी, 4 अपर पुलिस अधीक्षक, 8 डीएसपी, 22 थाना प्रभारी और 600 सिपाही तैनात रहे। साथ ही ड्रोन कैमरे से  महापंचायत पर पैनी नजर रखी गई। आईजी रमेश कुमार, पुलिस अधीक्षक डॉ. धर्मवीर सिंह, एसपी देहात संजय कुमार तथा एसपी नगर प्रवीण रंजन सिंह मौजूद रहे।

किसान महापंचायत में शामिल हुए समाजवादी पार्टी के दिग्गज

बिजनौर। किसान महापंचायत में समाजवादी पार्टी के नजीबाबाद विधायक हाजी तसलीम अहमद किसान के रूप में अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ शामिल हुए। इस मौके पर पूर्व मंत्री व विधायक नगीना मनोज पारस, नूरपुर विधायक नईम उल हसन, पूर्व मंत्री स्वामी ओमवेश, पूर्व मंत्री ठाकुर मूलचंद चौहान, जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ महापंचायत में किसानों के रूप में शामिल हुए।

कार्यक्रम में जिला अध्यक्ष महिला सभा प्रभा चौधरी, जिला महासचिव आदित्य वीर, डॉ रमेश तोमर, जिला पंचायत सदस्य राधा सैनी, चेयरपर्सन पति बिजनौर शमशाद अंसारी, पूर्व जिला अध्यक्ष महिला सभा श्लोक पंवार, चौधरी नसीम राणा, डॉक्टर राजपाल विश्वकर्मा, शुजात हुसैन, विमलेश चौधरी, शिव कुमार गोस्वामी, असलम कुरेशी, मौलाना अतीक, उदल सिंह चौहान, राशिद मलिक, ओमप्रकाश सिंह, जिला सचिव जाहिद अंसारी, विधानसभा अध्यक्ष नजीबाबाद नईम मकरानी, नगर अध्यक्ष नजीबाबाद शाहिद मलिक, जिला कार्यकारिणी सदस्य एजाज अंसारी, नगर अध्यक्ष साहनपुर शेख अंजार अहमद, जगजीत सिंह जीत आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

किसान सम्मान निधि की आगामी किश्तों के लिये 01 से 03 फरवरी तक “समाधान दिवस”

आधार संख्या इनवैलिड अथवा आधार कार्ड में उल्लिखित नाम के अनुरूप डाटा बेस में फीड न होने वाले किसानों के सम्मान निधि की आगामी किश्तों का भुगतान भारत सरकार द्वारा रोक, सभी प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के लिए विकास खण्ड स्तर पर पीएम किसान समाधान दिवस का होगा आयोजन-जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय



बिजनौर। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अन्तर्गत आधार आॅथेन्टिकेशन अनिवार्य हो जाने के कारण भारी संख्या में ऐसे किसानों, जिनका आधार संख्या इनवैलिड है अथवा आधार कार्ड में उल्लिखित नाम के अनुरूप डाटा बेस में नाम नहीं फीड हुआ है, उनकी किसान सम्मान निधि की आगामी किश्तों का भुगतान भारत सरकार द्वारा रोक दिया गया है। जिलाधिकारी रमाकान्त पाण्डेय ने जानकारी देते हुए बताया कि इन सभी प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के लिए विकास खण्ड स्तर पर 01फरवरी, 2021 से 03फरवरी, 2021 तक प्रात 10:00 बजे से शाम 04:00 बजे तक पीएम “किसान समाधान दिवस” का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि जिन किसानों को योजना की कम से कम एक किश्त प्राप्त हो गयी है किन्तु उनका आधार संख्या या नाम त्रुटिपूर्ण होने के कारण अथवा अन्य कारणों से अगली किश्तें प्राप्त नहीं हो पा रही हैं, तो ऐसे किसानों का विवरण यथा उनका पता, सम्पर्क नं0 आदि सम्बन्धित न्याय पंचायत प्रभारी द्वारा उल्लिखित अवधि में सम्बन्धित बैक से प्राप्त करते हुए उनका शत प्रतिशत सत्यापन कराते हुए उनका डाटा संशोधित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि समाधान दिवस के नोडल अधिकारी उप जिलाधिकारी होंगे और अपनी तहसील के समस्त विकास खण्डों में इस कार्यक्रम का आयोजन अपने सुपरविजन में ससमय आयोजित कराना सुनिश्चित करेंगे। समाधान दिवस में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की सभी समस्याओं का निराकरण किया जायेगा और इस दौरान कोविड-19 की रोकथाम हेतु निर्गत दिशा-निर्देशों का पूर्णतया पालन किया जायेगा।

हल्दी निर्यात में 42 फीसदी की उल्लेखनीय बढ़ोतरी

मसाला बोर्ड द्वारा वित्त वर्ष 2020-21 में 14वीं क्रेता-विक्रेता बैठक का आयोजन किया गया। बैठक मिर्च और हल्दी के लिए आयोजित की गई। मसाला बोर्ड और बागवानी विभाग, मिर्च, हल्दी और काली मिर्च जैसे मसालों का उत्पादन करने वाले आंध्र प्रदेश और तेलंगाना राज्य में लगातार विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों को लागू कर रहे हैं।

नई दिल्ली। दुनिया में मिर्च और हल्दी के सबसे बड़े निर्यातक देशों में भारत शामिल है। इऩके निर्यात में पिछले कुछ वर्षों में लगातार बढ़ोतरी हुई है। 2019-20 के दौरान, भारत ने 4,84,000 टन मिर्च और मिर्च उत्पादों का निर्यात किया, जिनका मूल्य 6211.70 करोड़ रुपये था। इनकी मात्रा के आधार पर भारत के कुल मसाला निर्यात में 40 फीसदी से अधिक और मूल्य के आध