तमाम बैरिकेटिंग पार कर किसानों ने कलक्ट्रेट घेर कर ही लिया दम

चौधरी दिगंबर सिंह का एलान, मांगें नहीं मानी तो अफसरों को चैन से नहीं बैठने देंगे।

बिजनौर। कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को रोकने की कोशिश की। इसके बावजूद कलक्ट्रेट पहुंचे भाकियू कार्यकर्ताओं ने अपना दमखम दिखा ही डाला।

भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने चेतावनी दी है कि यदि  किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो जिले के अंदर अफसरों को चैन से नहीं बैठने दिया जाएगा। किसानों की समस्याओं का समाधान न होने पर भाकियू ने मंगलवार दोपहर कलक्ट्रेट का घेराव किया। युवा प्रदेश अध्यक्ष चौधरी दिगंबर सिंह ने कहा कि जनपद की चीनी मिलें नहीं चाहती कि कोई नई मिल बने। इसी के चलते नूरपुर में प्रस्तावित चीनी मिल का विरोध किया जा रहा है। अधिकारियों के आश्वासन के बावजूद मनमाना बिजली का बिल वसूला जा रहा है। विद्युत विभाग के अधिकारी वीडियो बनाकर किसानों को डराते और धमकाते हैं। नमामि गंगे अभियान की शुरुआत बिजनौर से की गई इसके बावजूद गंगा वे एक्सप्रेस मेरठ से निकाला जा रहा है और बिजनौर को इससे अछूता रखा जा रहा है। जब अभियानों की शुरुआत बिजनौर से की जाती है तो जिन योजनाओं से जनपद वासियों को लाभ मिले उन योजनाओं को भी बिजनौर से अछूता नहीं रखना चाहिए। बिलाई शुगर मिल के बारे में हर किसी को पता है लेकिन तीन अन्य और भी मिले हैं, जो किसानों का भुगतान नहीं कर रही हैं।  किसानों का लगातार शोषण किया जा रहा है और बार-बार फरियाद लगाने के बावजूद अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है। सभा में कई अन्य वक्ताओं ने भी किसानों की समस्याओं को उठाया और समस्याओं का समाधान ना करने पर अफसरों को चेतावनी दी।

इस मौके पर धर्मेंद्र मलिक, दीपक कुमार, राकेश प्रधान, जितेंद्र सिंह, अंकित, तेजवीर, धर्मेंद्र,  राजवीर सिंह, मांगेराम त्यागी, राजेश सिंह मलिक संरक्षक, अरविंद राजपूत, वीर सिंह, तेजवीर सिंह, अंकित ग्रेवाल, कुलबीर सिंह, समर पाल सिंह, सरदार इकबाल सिंह आदि मौजूद रहे।

इससे पहले कलक्ट्रेट जाने की कोशिश कर रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी नोकझोंक हो गई। पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर किसानों को रोकने की भरपूर कोशिश की। इसके बावजूद किसानों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर ही दम लिया।

रंग लाई सीओ सिटी की कोशिश! बताया गया है कि सीओ सिटी अनिल चौधरी ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से इस संबंध में वार्ता की। अधीक्षण अभियंता विद्युत निरंजन कुमार सिंह ने दावा किया कि नलकूपों की बिलिंग अनमीटर्ड निजी नलकूप संयोजनों के लिए निर्धारित दर पर ही की जायेगी, बिल द्वारा जमा की गई धनराशि समायोजित की जायेगी।

हालात नहीं सुधरे तो सड़क पर उतरेंगे छात्रः अर्जुन मिश्र

एक सप्ताह में बिजली आपूर्ति सुधारने का अल्टीमेटम

अतर्रा/बांदा, के एस दुबे (AMJA) लगातार विद्युत कटौती से आजिज छात्रों व अन्य जागरूक युवाओं ने बिजली विभाग के खिलाफ मुहिम छेड़ दी है। इसी क्रम में उपखण्ड कार्यालय पहुंच कर उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। साथ ही हालात ठीक न होने पर उग्र आन्दोलन की चेतावनी भी दी है।

बिजली की लगातार आंख मिचौली से लोगों का ग़ुस्सा फूटने लगा है। छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष अर्जुन मिश्र (मुन्ना) की अगुवाई में एक दर्जन से अधिक युवाओं ने विद्युत उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपते हुए एक सप्ताह में बिजली सुधारने का अल्टीमेटम दिया। श्री मिश्र ने कहा कि बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय के छात्रों की परीक्षाएं चल रही हैं, बिजली की लगातार कटौती से आम जनजीवन प्रभावित हुआ है। गर्मी अपने चरम पर है, ऐसी स्थिति में व्यापारी, छात्र आदि किसी भी वर्ग की चिंता सरकार को नहीं है।

सुदूर गांवों के गरीब छात्र कमरा लेकर रहते हैं। बिजली गुल होने पर पढ़ने कहां जाएं। इससे आम उपभोक्ताओं में भी भारी आक्रोश है। स्थानीय निवासियों रमाकांत अवस्थी, प्रकाश त्रिवेदी, आदित्य तिवारी, अमित गुप्ता आदि ने भी नाराज़गी व्यक्त की है। कांग्रेस नेता साकेत बिहारी मिश्र, सूरज बाजपेई, रमेश कोरी, विक्की गुप्ता, सपा नेता नीरज द्विवेदी, विवेक बिन्दु तिवारी, दिनेश गुप्ता एवं व्यापारी नेता उमाशंकर गुप्ता, श्रवण गुप्ता आदि ने भी बिजली कटौती पर अपना आक्रोश दर्ज कराया है। सौंपे गए ज्ञापन में बिजली व्यवस्था न सुधरने पर आन्दोलन की चेतावनी दी गई है।ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रूप से पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष अर्जुन मिश्र, कांग्रेस के युवा नेता अविरल पाण्डेय, शिवा सिंह, दिनेश कुमार, मोहम्मद नसीम, आशीष गुप्ता, सत्यम सोनी, नवल रैकवार आदि शामिल रहे।

कागजों में कट गया बिजली कनेक्शन, फिर भी चार साल से चल रहे 2 नलकूप

बिजनौर। बिजली विभाग के भी खेल निराले हैं। बिजली चोरी जैसे मामले तो आम बात हो गई है; जालसाजी के तो ऐसे-ऐसे मामले भरे पड़े हैं जो पता चल जाएं तो सिर घूम जाए। ऐसा ही एक मामला है जो विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत, लापरवाही और अकर्मण्यता की पोल खोलता है।

दअरसल दो भाइयों ने 7.5 हॉर्स पावर के दो अलग निजी नलकूप फर्जी तरीके से लगवा लिए। जिस गांव की जमीन के कागजात के आधार पर कनेक्शन स्वीकृत हुए, नलकूप वहां न लगवा कर दूसरे गांव में, वो भी दूसरे की जमीन पर लगा लिए। एक साल बाद शिकायत हुई तो जांच के आदेश कछुआ चाल से चलते रहे। चार साल पहले दोनों नलकूपों के कनेक्शन काटे गए, लेकिन सिर्फ कागजों पर! दोनों ही कनेक्शन आज भी बदस्तूर धड़ल्ले से चल रहे हैं। विभागीय आदेश के अनुपालन में सामान विभागीय भंडार गृह में जमा नहीं कराया गया। इनके द्वारा खपत की जा रही बिजली के बिल की भरपाई कौन करेगा? मामले की शिकायत तहसील दिवस में की गई है।

जानकारी के अनुसार 04 दिसंबर 2017 को ग्राम सदूपुरा निवासी सेवानिवृत्त पोस्ट मास्टर सोमदत्त ने पुलिस अधीक्षक से लिखित शिकायत करते हुए बताया कि ग्राम फरीदपुर सल्लू स्थित 100 बीघा जमीन में से 48 बीघा का बैनामा कराया था। दाखिल खारिज की कार्रवाई के दौरान रफीक अहमद पुत्र अब्दुल हमीद, नफीस अहमद पुत्रगण अब्दुल हमीद अहमद निवासी ग्राम सद्पुरा ने एतराज किया, जिसका मुकदमा रेवन्यु बोर्ड तक चला। हालांकि बाद में दाखिल खारिज भी हो गया। सेवानिवृत्त पोस्ट मास्टर सोमदत्त की शिकायत के अनुसार उक्त दोनों लोगों ने बिजली स्वीकृत कराई ग्राम सदुपुरा की जमीन के लिए जबकि जिस जमीन पर प्रार्थी के बोरिंग में नलकूप लगाया, वह फरीदपुर सल्लु में है। इस प्रकार रफीक अहमद व नफीस अहमद ने जालसाजी, हेराफेरी व झूठा शपथ पत्र देकर बिजली कनेक्शन लगवा लिया ताकि प्रार्थी की जमीन पर मालिकाना हक जाहिर कर सके। सरकारी विभागों में प्रार्थना पत्र घूमता रहा। फिर 03 फरवरी 2018 को उपखंड अधिकारी विद्युत वितरण उपखण्ड द्वितीय बिजनौर जसवीर सिंह ने 33/11 केवी उपकेंद्र गंज के अवर अभियंता बहराम सिंह को उक्त दोनों कनेक्शन गलत स्थान पर संचालित होने की जानकारी देते हुए अविलंब उतारने और अवगत कराने के निर्देश दिए।

इसके बाद विद्युत वितरण खण्ड बिजनौर के अधिशासी अभियन्ता किताब सिंह ने 09 अप्रैल 2018 को निजी नलकूप संख्या 225/5027/130124 के लिए रफीक अहमद व निजी नलकूप संख्या 225/5027/130125 के लिए नफीस अहमद पुत्रगण हमीद निवासी ग्राम सदूपुरा बिजनौर को नोटिस जारी किया। इसमें कहा गया कि उनके द्वारा दिनांक 15 जुलाई 2016 को सामान्य योजना के अन्तर्गत 7.5 हॉर्स पावर के उक्त दो निजी नलकूप हेतु अनुबन्ध किया गया था। शिकायत प्राप्त होने पर जांच में पाया गया कि उनके द्वारा फर्द ग्राम सदुपुरा की लगायी गयी है जबकि निजी नलकूप ग्राम फरीदपुर सल्लू में स्थापित किए गए हैं। इससे स्पष्ट होता है कि उनके द्वारा विभाग को गुमराह करके संयोजन प्राप्त किया गया है। यह भी कहा कि पत्र प्राप्ति के 03 दिन के अन्दर स्पष्ट करें कि उनके द्वारा गलत फर्द क्यों लगायी गयी हैं,अन्यथा उनके विरूद्ध कानूनी कार्यवाही करते हुए संयोजन निरस्त कर दिया जायेगा।

वहीं 17 मई 2018 को अधिशासी अभियंता ब्रह्मपाल ने उक्त दोनों कनेक्शन काटने के संबंध में कार्यालय से पत्र जारी किया। उपखंड अधिकारी विद्युत वितरण उपखण्ड द्वितीय बिजनौर को उक्त दोनों कनेक्शन काटने और नलकूप की समस्त सामग्री उतारकर विभागीय भंडार गृह में जमा कराने के निर्देश दिए। उन्होंने अधीक्षण अभियंता विद्युत वितरण मंडल बिजनौर के साथ ही उक्त दोनों कनेक्शन धारकों को भी इसकी एक प्रति सूचनार्थ भेजी। अब किसी प्रकार दोनों नलकूपों के कनेक्शन कट तो गए, लेकिन सिर्फ कागजों पर! असलियत में दोनों ही कनेक्शन आज तक बदस्तूर धड़ल्ले से चल रहे हैं। आज तक अधिशासी अभियंता ब्रह्मपाल के आदेश के अनुपालन में सामान विभागीय भंडार गृह में जमा नहीं कराया गया। एक बात और विचारणीय है कि तकरीबन चार साल से जिन दो निजी नलकूप का कनेक्शन कथित रूप से कटा हुआ है, उनके द्वारा खपत की गई बिजली के बिल का भुगतान कौन, किस से और कब करेगा? 

दोनों ही भाइयों के खिलाफ दर्ज हैं कई केस– दरअसल उक्त दोनों ही भाई शातिर किस्म के हैं। उनके खिलाफ वर्ष 1987 से लेकर 2019 तक कई थानों में मुकदमे दर्ज हैं। इनमें हत्या, जान से मारने की धमकी, फ्राड आदि के थाना शहर कोतवाली में आठ व थाना स्योहारा में एक मुकदमा शामिल है।

बहुत ही गंभीर मामला है। वह अधिशासी अभियंता को इस मामले में यथोचित कार्रवाई के लिये निर्देशित कर रहे हैं। यदि  इतने वर्ष से अवैध रूप से दोनों कनेक्शन संचालित हो रहे हैं तो इसमें संलिप्त विभागीय अधिकारी, कर्मचारियों की भूमिका की भी जांच व कार्रवाई की जाएगी। शासकीय धन की वसूली के लिए भी कठोर कार्रवाई की जाएगी। –नंदलाल, अधीक्षण अभियंता।

व्हाट्सएप्प ग्रुप के जरिये समस्या सुलझाएंगे बिजली अधिकारी


राज्यमंत्री ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा विभाग उत्तर प्रदेश सोमेंद्र तोमर ने ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को विधानसभावार व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर उसमें जन प्रतिनिधियों को अनिवार्य रूप से शामिल करने तथा ग्रुप पर प्राप्त होने वाली जन शिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करने एवं जनप्रतिनिधियों से नियमित रूप से संपर्क एवं समन्वय बनाए रखने के दिए निर्देश

बिजनौर। राज्यमंत्री ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा विभाग उत्तर प्रदेश सोमेंद्र तोमर ने ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जन प्रतिनिधियों के साथ नियमित रूप से समन्वय बनाए रखें और विद्युत चोरी रोकने तथा विद्युत देयकों के भुगतान जैसे अहम कार्यों में उनका सहयोग प्राप्त करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि जन सामान्य की विद्युत से संबंधित समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण गुणवत्ता और समयबद्धता के साथ निस्तारण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि यदि पूर्ण गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ निचले स्तर पर ही समस्या का निराकरण कर दिया जाए तो समस्या विकराल रूप धारण नहीं कर सकती। उन्होंने सभी अधिशासी अभियंता विद्युत को निर्देश दिए कि विधानसभावार व्हाट्सएप ग्रुप बनाएं और उसमें जन प्रतिनिधियों को भी अनिवार्य रूप से शामिल करें। विद्युत विभाग के अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि विद्युत देय के बड़े बक़ायादारों की सूची बना कर उनसे वसूली के लिए गंभीरतापूर्वक प्रयास करें।


राज्यमंत्री श्री तोमर कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित विद्युत विभाग के कार्याें की प्रगति से संबंधित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे।
उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के नागरिकों को हर सम्भव राहत और सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्व है और उसमें ज्यादा से ज्यादा सुधार के लिए प्रयासरत भी है। उन्होंने निर्देश दिए कि जिले में निर्धारित रोस्टर के अनुसार विद्युत आपूर्ति करना सुनिश्चित करें तथा किसी कारणवश विद्युत आपूर्ति में बाधा उत्पन्न होती है तो उसकी सूचना संबंधित क्षेत्र के आम नागरिकों को उपलब्ध कराएं। उन्होंने कार्य में पारदर्शिता लाने के लिए निर्देशित किया कि सभी अधिशासी अभियन्ता विधानसभावार व्हाट्सअप ग्रुप बनाएं और उसमें क्षेत्रीय जन प्रतिनिधियों को अनिवार्य रूप से शामिल करते हुए महत्वपूर्ण कार्य की सूचना उपलब्ध कराएं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि वाहट्सअप ग्रुप पर आने वाली समस्याओं का निस्तारण भी पूर्ण गंभीरता और तत्परता के साथ करें ताकि उक्त समस्या इसी स्तर पर निस्तारित हो सके।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा ऊर्जा के क्षेत्र में नए प्रयास किए जा रहे हैं, जिसमें उपभोक्ताओं को विद्युत ऊर्जा के अलावा वैकल्पिक ऊर्जा के तौर पर सौर ऊर्जा के साथ-साथ पवन ऊर्जा भी उपलब्ध कराई जाएगी। भविष्य में वैकल्पिक ऊर्जा अपना महत्वपूर्ण स्थान ग्रहण करेगी, जिससे आम नागरिकों को सस्ती ऊर्जा के साथ ही स्वच्छ पर्यावरण का लाभ भी प्राप्त होगा।

अब सोलर ऊर्जा के साथ उपभोक्ताओं को मिलेगी पवन ऊर्जा- जिले के दौरे पर आए राज्यमंत्री ऊर्जा एवं वैकल्पिक ऊर्जा विभाग सोमेंद्र तोमर ने कहा कि बिजली ही नहीं अब सोलर ऊर्जा के साथ उपभोक्ताओं को पवन ऊर्जा भी उपलब्ध कराने की दिशा में सार्थक प्रयास चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि 2017 से पहले यूपी के कुछ जिलों में ही बिजली पहुंच पाती थी। आज सभी जिलों में एकरूपता के आधार पर बिजली दी जा रही है। 2017 के बाद उत्तर प्रदेश विकास के पथ पर और संस्कृति में भी आगे बढ़ा है। पहले उत्तर प्रदेश बीमार राज्य कहा जाता था, आज 40 स्थानों में उत्तर प्रदेश नंबर एक पर है। उन्होंने आश्रवस्त करते हुए कहा कि कुछ समय पहले विद्युत आपूर्ति के सम्बन्ध में कुछ कारणों से थोड़ी समस्या उत्पन्न हुई थी, लेकिन वर्तमान में उसमें सुधार कर लिया गया है और आगे भी निरन्तर रूप से सुधार किया जाएगा। वर्तमान में बिजली की आपूर्ति पहले से बेहतर है।
श्री तोमर ने यह भी बताया कि सरकार प्रयास कर रही है कि सभी सरकारी दफ्तरों पर सोलर एनर्जी से कनैक्शन दिये जायें, जिसके अंतर्गत वैकल्पिक ऊर्जा स्त्रोतों के दोहन कर कुछ जगह सरकारी संस्थाओं में इसकी शुरुआत भी कर दी गई है। उन्होंने बताया कि उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए प्रदेश में विद्युत नेटवर्क को बेहतर व आधुनिक बनाने के क्षेत्र में लगातार सार्थक रूप से प्रयास किए जा रहे हैं ताकि आमजन और उद्योगों को भरपूर बिजली मिले।
इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह, विधायक नहटौर ओम कुमार, जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, अधीक्षण अभियंता विद्युत के अलावा विद्युत विभाग के अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

घरेलू बिजली दरों में हुई आधे की कटौती

किसानों के बाद उत्तर प्रदेश के अन्य उपभोक्ताओं को बिजली के बिल में बड़ी राहत की घोषणा

प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने शुक्रवार को ट्वीट कर बिजली की दरों में कमी का एलान किया। अब शहरी मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर छह रुपए प्रति यूनिट से घटाकर तीन रुपए प्रति यूनिट हो जाएगी

लखनऊ। विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसानों के बाद अन्य बिजली उपभोक्ताओं को भी बड़ा उपहार दिया है। इसके तहत शहरी मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर छह रुपए प्रति यूनिट से घटाकर तीन रुपए प्रति यूनिट किया गया है।

प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने शुक्रवार को ट्वीट कर बिजली दरों में कमी का एलान किया। इसके तहत शहरी मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर छह रुपए प्रति यूनिट से घटाकर तीन रुपए प्रति यूनिट किया गया है। इसके साथ ही फिक्स चार्ज 130 रुपए प्रति हॉर्स पावर से घटकर 65 रुपए प्रति हॉर्स पावर किया गया है। एनर्जी एफिशिएंट पंप में दर 1.65 रुपए प्रति यूनिट से घटकर 83 पैसे प्रति यूनिट तथा फिक्स चार्ज 70 रुपए प्रति हॉर्स पावर की जगह 35 रुपए प्रति हॉर्स पावर किया गया है।

श्रीकांत शर्मा ने बताया कि निजी नलकूप के नए बिलों में, ग्रामीण मीटर्ड कनेक्शन में बिजली दर 2 रुपए प्रति यूनिट से घटकर एक रुपए यूनिट व फिक्स चार्ज 70 रुपए प्रति हॉर्स पावर से घटकर 35 रुपए प्रति हॉर्स पावर होगा। अनमीटर्ड कनेक्शन में फिक्स चार्ज 170 रुपए प्रति हॉर्स पावर की जगह 85 रुपए प्रति हॉर्स पावर होगा। श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में निजी नलकूप कनेक्शनों की विद्युत दरों में 50 प्रतिशत की कमी कर बड़ी राहत देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हार्दिक अभिनंदन है।”

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने गुरुवार को सिंचाई के लिए निजी नलकूप की मौजूदा बिजली दर में 50 प्रतिशत की कटौती करने का निर्णय किया था। इससे राज्य के 13 लाख किसानों को सीधा फायदा होगा। उनका सिंचाई का खर्चा आधा हो जाएगा। बिजली की दरों में 50 प्रतिशत की कटौती करने के लिए सरकार लगभग एक हजार करोड़ रुपए का अनुदान उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड को देगी। देश के दूसरे कई राज्यों में जहां सिंचाई के लिए किसानों को मुफ्त बिजली मिल रही है, वहीं उत्तर प्रदेश में किसानों के निजी नलकूप की बिजली की दर दो रुपए से छह रुपए यूनिट तक है। फिक्स चार्ज भी 70 रुपए से 130 रुपए प्रति हार्सपावर (एचपी) है।

अखिलेश ने किया था 300 यूनिट फ्री का वादा

हाल ही में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने चुनावी वादे में घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 300 यूनिट बिजली मुफ्त देने का वादा किया था। इसके अलावा कहा था कि किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त मिलेगी। वहीं आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आजकल कई दल जगह जगह जाकर 300 यूनिट और 200 यूनिट फ्री बिजली देने का दावा कर रहे हैं, लेकिन यह कोई नहीं दे सकता है। इसका फॉर्मूला सिर्फ और सिर्फ हमारी सरकार को आता है।

मुख्य रास्ते के बीचों बीच विद्युत पोल से आवागमन ठप

बिजनौर। धामपुर क्षेत्र के ग्राम मटौरा दुर्गा में मुख्य रास्ते के बीचों बीच खड़ा बिजली का पोल आवागमन में बाधक बन रहा है। इस पोल के कारण ट्रैक्टर, टिपलर व अन्य वाहनों का ग्राम में आवागमन बन्द हो गया है। इस कारण ग्रामवासियों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

मामले की शिकायत एसडीओ से की गयी तो उनके द्वारा मौके का निरीक्षण करने के बाद भी अभी तक कोई कार्रवाही नहीं हुई। ग्रामीणों का कहना है कि इस पोल की वजह से उनको बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उनके वाहनों का आवागमन बंद हो गया है।

उमड़ घुमड़ कर आए बदरा…और बरसात हो गई

बिजनौर (एकलव्य बाण समाचार)। जिले में मौसम का मिजाज सुबह से ही लगातार कई बार करवट बदलता रहा। कभी बादल छाए तो कभी बूंदाबांदी और कभी धूप निकल आई। हालांकि मौसम का मिजाज बदलने से गर्मी से थोड़ी राहत जरूर मिली। जनपद में अलग-अलग जगह पर मौसम भी अलग-अलग रंग में दिखाई दिया।

मंगलवार सुबह आसमान में हल्के बादल छाए हुए थे।फिर हल्की धूप तो निकली, लेकिन मध्यम गति से चलती हवाओं ने अन्य दिनों जैसी गर्मी का अहसास नहीं होने दिया। हालांकि घरों के अंदर का तापमान बढ़ा रहा। हल्की सी बौछार भी हुई और मौसम सामान्य हो गया। दोपहर 12 बजे मौसम ने फिर करवट बदली। आसमान में काले बादल छा गए। तेज हवाएं चलने लगीं। ढाई बजे फिर हल्की बारिश शुरू हो गई।

मुख्यालय के अलावा जिले में कुछ स्थानों पर सुबह बूंदाबांदी और दोपहर में हल्की बारिश के समाचार हैं। इस दौरान तेज हवाएं सिहरन पैदा करती रहीं।

मौसम के लगातार मिजाज बदलते रहने के बाद तापमान में भी उतार-चढ़ाव देखा गया। सोमवार को अधिकतम तापमान 33.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिन में बूंदाबांदी और बादलों के छाए रहने से मौसम सुहाना हो गया।

सोमवार-मंगलवार की दरम्यानी रात का तापमान 1 डिग्री की गिरावट के साथ 25.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। नगीना के कृषि अनुसंधान केंद्र में सोमवार को 2 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई। हालांकि तेज बारिश होने का अनुमान लगाया जा रहा था, लेकिन बादल बिन बरसे ही निकल गए।

बिजली गायब- पिछले करीब 15 दिन से जनता अंधाधुंध बिजली कटौती से जूझ रही है। विभाग के अफसरों का कहना है कि बिजली चोरी और ओवरलोड के कारण बार-बार फाल्ट हो रहे हैं। भीषण गर्मी और उस पर घंटों की कटौती ने लोगों का जीना दुश्वार कर दिया। इन्वर्टर ठप हो गए, पेयजल की किल्लत हो गई, छोटे-बड़े सब त्राहिमाम कर उठे थे। हालात तो यह हैं कि हवा का हल्का सा झोंका भी आता है तो बिजली आपूर्ति बंद कर दी जाती है। आज भी यही हुआ, हवा चली और बिजली गई।

विधवा का कनेक्शन ऑन लाइन काटा, जोड़ने के नाम पर वसूली भी की

विधवा का कनेक्शन ऑन लाइन काटा, वसूली भी की कई ऑपरेशन झेल रही अकेली विधवा महिला के कनेक्शन को ऑनलाइन बिना सूचना के काटा, बिल के अलावा अतिरिक्त वसूली भी की।

बिजनौर। एक तरफ लॉक डाउन की मार और दूसरी तरफ विद्युत विभाग का वसूली अभियान अब गरीब औऱ परेशान तबके का खून चूसने का काम बखूबी करेगा।
रसूखदार, नेताओं व बड़े बकायदारों को छोड़ कर ये वसूली अभियान गरीबों के कनेक्शन भी काटेगा। बिल के अलावा उनसे कनेक्शन जोड़ने के नाम पर 600 रु की अतिरिक्त वसूली भी की जा रही है।
आरोप है कि वसूली टीम में शामिल जेई समय सिंह, मलखान सिंह आदि मिलकर गरीबों को खूब तंग कर बड़े लोगों को अभयदान दे रहे हैं। बताया गया है कि स्योहारा के मोहल्ला इस्लाम नगर में एक विधवा अकेली महिला रहती है। इसका घरेलू कनेक्शन न्याज़ अहमद पुत्र रमजानी के नाम से है। हाल ही में विधवा की आंख एवं कूल्हे का ऑपरेशन हुआ है। वो अकेली ही ज़िंदगी से लड़ रही है। कुछ बकाया बिजली विभाग का था, दो दिन पूर्व वसूली टीम ने उसका ऑनलाइन कनेक्शन काट दिया। इसकी सूचना महिला को किसी भी रूप में नही दी गयी। अब ऐसे में यदि कोई बड़ा अधिकारी उक्त कनेक्शन, जिसको ऑनलाइन काटा हुआ दर्शा दिया गया है, को चेक करने आ जाये और वहां उसको बिजली जली हुई मिल जाये तो यकीनन उक्त महिला पर बिजली चोरी का आरोप और जड़ दिया जाएगा। महिला के परिचित आपस मे सहयोग करते हुए बिजली का बिल जमा करने पहुंचे तो उनसे 600 रु कनेक्शन जोड़ने के नाम पर और वसूले गए। जबकि न कनेक्शन कटा और न ही इसकी सूचना महिला को दी गयी थी। बरहाल जैसे तैसे वो 600 रु भी अवैध वसूली के रूप में जमा करा दिए गए। दु:खी महिला ने बताया कि उसके पड़ोस में काफी लोगों पर बड़ा बड़ा बकाया बाकी है, लेकिन सिर्फ कार्यवाही उसी पर क्यों की गयी! बहरहाल बिना सूचना दिए ऑनलाइन कनेक्शन कटा होने व फिर भी बिजली जुड़ी रहने की बाबत जब एसडीओ, जेई व लाइनमैन से पूछा गया तो वो सब बगले झांकते नज़र आए।
आरोप है कि विभाग का रवैया इसी तरह चलता रहा और अमीरों को छोड़ गरीबों को तंग करने का सिलसिला चलता रहा तो कोई बड़ा विवाद वसूली टीम के साथ हो सकता है क्योंकि गरीब तबका इस समय लाकडाउन की मार झेलने के कारण रोज़ी रोटी से जूझ रहा है। ऊपर से विभाग का ये पक्षपात वाला रवैया आग में घी डालने जैसा साबित हो सकता है।

हादसों को दे रहे दावत नीचे झूलते विद्युत तार

काफी नीचे झूलते विद्युत तार हादसों को दे रहे दावत। बिजनौर में हुए हादसे भी सबक नहीं ले रहा विद्युत विभाग। एसडीएम ने कहा समस्या का कराया जाएगा निदान।

बिजनौर। नजीबाबाद तहसील के नगर पंचायत साहनपुर क्षेत्र समेत कई स्थानों पर विद्युत तार काफी नीचे लटके और जर्जर हालत में होने के बावजूद विद्युत विभाग के अधिकारी कुंभकर्णी नींद से जागने को तैयार नहीं है। विभागीय अधिकारी बिजनौर क्षेत्र में नहाने के दौरान विद्युत तार टूटकर गिरने से करंट की चपेट में आकर युवक की मौत हो जाने के बावजूद सबक नहीं ले रहे हैं। इसके चलते लोगों को हादसों के होने का भय सता रहा है।

तहसील के नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में कई स्थानों पर बिजली की उच्च क्षमता, हाईटेंशन और लोटेंशन के विद्युत तार काफी नीचे होकर गुजर रहे हैं। विद्युत लाइनें किसी के घर के ऊपर से होकर गुजर रही हैं और किसी के दरवाजे से बिल्कुल सट कर विद्युत लाइनें गुजर रही हैं। ये विद्युत लाइन की तार हादसों को दावत दे रही हैं। इसके बावजूद बिजली विभाग के अधिकारी मानों बड़े हादसे के होने का ही इंतजार कर रहे हैं। ऐसे ही एक नजारा नगर पंचायत साहनपुर के मोहल्ला नददाफान में देखने को मिला है। जहां कई परिवार जानलेवा विद्युत लाइनों के साए में जीवन व्यतीत कर रहे हैं। इन लोगों को इनके घरों के ऊपर झूलती मौत की तार हमेशा जान जोखिम में रहने का अहसास दिलाती रहती हैं। अपने ही घरों के छत पर एक ओर से दूसरी ओर आने-जाने और इस दौरान जरा सी चूक होना ही जीवन पर भारी पड़ सकता है। नगर पंचायत वासियों की मानें तो काफी नीचाई पर गुजर रही विद्युत लाइनों की चपेट में आने से कई हादसे हो चुके हैं, जिनमें लोग चोटिल व झुलस चुके हैं। हादसों के बाद विद्युत विभाग के अधिकारियों को मोहल्लेेवासियों के जोरदार विरोध का सामना करना पड़ा था। इसके बावजूद आज तक घरों की छतों के उपर से होकर गुजरने वाली विद्युत लइन की तारों को नहीं हटाया गया है। साहनपुर के मोहल्ला नददाफान निवासी नफीस, तसलीम, मोनू, साबिर आदि बताते हैं कि उन्होंने घरों की छतों के ऊपर से होकर गुजर रही विद्युत लाइनों के तारों को हटाए जाने को लेकर बिजली विभाग के उच्चाधिकारियों से भी कई बार गुहार लगायी परंतु उनके कानों पर जूं नहीं रेंगी। मोहल्लेवासियों ने अब घरों के ऊपर से गुजर रहे विद्युत तारों को हटवाए जाने के लिए मुख्यमंत्री जनसुनववाई पोर्टल पर शिकायत करने का मन बना लिया है। विद्युत उपभोक्ताओं का कहना है कि उक्त विद्युत तारों के नीचे होकर गुजरने की वजह से वह अपने घरों की छतों के ऊपर निर्माण कार्य नहीं कर पा रहे है। इस सम्बन्ध में उपजिलाधिकारी परमानन्द झा से बात किए जाने पर उन्होंने कहा कि मामला उनके अब संज्ञान में आया है, वह विद्युत विभाग के अधिकारियों से बात करेंगे और समस्या के समाधान कराने का प्रयास करेंगे।

आग: पांच बीघा गन्ना, दो बीघा गेहूं की फसल नष्ट

आग की तीन घटनाओं में पांच बीघा गन्ना व दो बीघा गेहूं की फसल हुई राख
जीतपुरा में जर्जर विद्युत तारों की चिंगारी ने बरपाया कहर
नगीना के किरतपुर व पखनपुर में अज्ञात कारणों से लगी आग

बिजनौर/नगीना। जिला मुख्यालय के गांव जीतपुरा में खेत के ऊपर से गुजरे जर्जर विद्युत तारों की चिंगारी से किसान का पांच बीघा गन्ने की फसल जल कर राख हो गई। वहीं नगीना के ग्राम किरतपुर व पखनपुर में अज्ञात कारणों से लगी आग से दो किसानों का एक-एक बीघा गन्ना जल गया। घटनाओं की सूचना तहसील प्रशासन को दे दी गई है।
जानकारी के अनुसार बिजनौर सदर तहसील के गांव जीतपुरा निवासी धर्मपाल सिंह पुत्र नेतराम सिंह के खेत के ऊपर से बिजली की लाइन गुजर रही है। बिजली की लाइन जर्जर होने के साथ ही उसके तार गन्ने की फसल को छूते हुए निकल रहे हैं। बताया जाता है कि बुधवार को इन्हीं जर्जर तारों से निकली चिंगारी से किसान धर्मपाल सिंह के गन्ने ने आग पकड़  ली। आसपास के लोगों की सूचना पर पहुंचे धर्मपाल सिंह व अन्य किसानों ने आग पर बामुश्किल काबू पाया, लेकिन तब तक 5 बीघा से अधिक गन्ना जल कर राख हो चुका था। किसान का कहना है कि उसके खेतों के ऊपर से गुजर रहे बिजली की लाइन को ठीक कराने के लिए विद्युतकर्मी सुविधा शुल्क की मांग करते हैं। आरोप लगाया कि  सुविधा शुल्क न देने के कारण ही बिजली के तारों को ठीक नहीं किया गया और उसका इतना बड़ा नुकसान हो गया।
वहीं नगीना थाना क्षेत्र के ग्राम किरतपुर निवासी निपेंद्र के खेत के पास पड़े कूड़े के ढ़ेर ने किन्हीं कारणों से आग पकड़ ली। क्षेत्र में तेज हवा ने भीषण रूप धारण कर रखा था, जिसके कारण कूड़ी से कोई चिंगारी उठी और गेहूं के खेत में आग लग गई। गांव के पास होने के कारण तुरंत लोग खेत पर पहुंचे और फायर ब्रिगेड को सूचना दी। ग्राम वासियों ने अग्रिशमन कर्मियों की मदद से तुरंत आग पर काबू पा लिया। पीडि़त किसान दीपेंद्र ने बताया कि उसके लगभग 1 बीघा गेहूं जलकर राख हो गए। गांव के पास खेत होने कारण बड़ी घटना होने से बच गई। उधर तेज हवा के चलते क्षेत्र के ग्राम पखनपुर में बिजली के तारों से उठी चिंगारी से मुकेश के खेत में आग लग गई, जिससे उसका एक बीघा गन्ना जलकर राख हो गया। पीडि़त ने घटना की सूचना तहसील प्रशासन को दे दी है।

UP को 1920 करोड़ रुपए की विद्युत परियोजनाओं की सौगात

प्रदेश को 1920 करोड़ रुपए की विद्युत परियोजनाओं की सौगात
सीएम ने किया 220/132 एवं 132/ 33 केवी के 27 उपकेंद्रों का लोकार्पण व शिलान्यास

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड के 1920 करोड़ रुपए की लागत से बने 220/132 एवं 132/ 33 केवी के 27 उपकेंद्र की सौगात दी है। उन्होंने शनिवार को अपने सरकारी आवास पर परियोजनाओं का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में उपकेंद्र मिलने के बाद से अब प्रदेश की बिजली व्यवस्था काफी अच्छी हो जाएगी। 27 उपकेंद्रों का लोकार्पण व शिलान्यास होने के बाद से अब बिजली विभाग के काफी काम आसान हो जाएंगे। वहीं बिजली का बिल जमा करने की प्रक्रिया भी सरल हो जाएगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जब किसान पहले अपने खेत में पानी डालने जाता था तब बिजली नहीं होती थी, लेकिन आज ऐसा नहीं है। प्रदेश की अच्छी विद्युत की आपूर्ति ने किसानों की लागत को कम किया और उत्पादन बढ़ाने में योगदान दिया। आज गांव हो या शहर रात्रि में बिजली हर जगह होती है। अब हमारा प्रयास सभी जगह 24 घंटे बिजली देने का है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना कालखंड में प्रदेश के सुदूर क्षेत्रों में कोविड हॉस्पिटल बनाने और टेलीमेडिसिन व टेलीकंसल्टेशन की सुविधा देने में इसलिए मदद मिली, क्योंकि वहां विद्युत की आपूर्ति संभव हो पाई थी। इससे वहां बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने में मदद मिली। उन्होंने कोरोना कालखंड में लॉकडाउन के दौरान निर्बाध विद्युत आपूर्ति कर लोगों के जीवन को सहज बनाने के लिए पावर कॉरपोरेशन का अभिनंदन करते हुए कहा कि प्रदेश में 1.21 लाख से अधिक गांव व मजरों में विद्युतीकरण का कार्य हुआ है। 1.38 करोड़ उपभोक्ताओं को नि:शुल्क विद्युत के कनेक्शन उपलब्ध कराए गए हैं। टोल फ्री नंबर जारी कर किसानों और उपभोक्ताओं की समस्याओं के निराकरण का काम हुआ है। निर्बाध विद्युत आपूर्ति ने किसानों की लागत को कम किया है और उत्पादन बढ़ाने में योगदान दिया है। गांव हों या शहर, आज हर ओर बिजली चमकती हुई दिखाई देती है। इन परियोजनाओं से प्रदेश में लगभग सभी कमिश्नरी को लाभ मिलेगा। साथ ही प्रदेश की जनता को निर्बाध रूप से विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकती है। प्रदेश में 400 केवीए से उच्च प्रकृति के पारेषण कार्यों को भी पीपीपी मोड में संपादित करने के लिए कार्यवाही आगे बढ़ाई जा रही है।

शिलान्यास व लोकार्पण:
आज 220 केवी क्षमता के 10 व 132 केवी क्षमता के 06 पारेषण उपकेंद्रों का शिलान्यास लखनऊ, फर्रुखाबाद, मुजफ्फरनगर, आगरा, सहारनपुर, झांसी, महाराजगंज, फैजाबाद, बस्ती, बांदा, बागपत व कुशीनगर में सम्पन्न हुआ है। इनकी लागत 1,347.91 करोड़ रुपए है। लोकार्पण होने वाली परियोजना में 571.57 करोड़ रुपए व्यय कर 220/132 एवं 132/33 केवी के 09 उपकेंद्र शामिल हैं। इनकी बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, अयोध्या, चित्रकूट, सीतापुर, मिर्जापुर, लखनऊ, वाराणसी, फतेहपुर और गोंडा में स्थापना हुई है।

सौजन्य से-Kridha’s icecream parlour Neelkamal Road civil lines Bijnor

सी.एस.सी. केन्द्रों के माध्यम से विद्युत बिल में ”एकमुश्त समाधान योजना” शुरू

सी.एस.सी. केन्द्रों के माध्यम से विद्युत बिल में ”एकमुश्त समाधान योजना” शुरू
उपभोक्ता 100 प्रतिषत सरचार्ज छूट के साथ जमा कर सकते हैं अपना बिजली बिल

बिजनौर। प्रदेश सरकार द्वारा विद्युत बिल जमा करने हेतु एकमुश्त समाधान योजना का शुभारम्भ किया गया है। इसके द्वारा एलएमवी-1 घरेलू एवं एलएमवी निजी नलकूप श्रेणी के समस्त विद्युत उपभोक्ताओं के विलम्बित भुगतान अधिभार की 100 प्रतिशत छूट हेतु ”एकमुश्त समाधान योजना” कॉमन सर्विस सेन्टरों के माध्यम से शुरू की गयी है। यह जनपद में स्थित सभी कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी केंद्रों) पर उपलब्ध है।
एकमुश्त समधान योजना में ग्रामीण क्षेत्र के सभी घरेलू और निजी नलकूप के बकायेदारों को उनके दिनांक 31.01.2021 तक के विद्युत बकाये पर सरचार्ज के रुप में लगायी गयी धनराशि में 100 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। इस योजना में पंजीकरण दिनांक 01 मार्च 2021 से शुरु हो चुका है और 15 मार्च 2021 तक लागू रहेगा। सभी विद्युत बकायेदार इस अवधि में अपने नजदीकी किसी भी कॉमन सर्विस केंद्र पर जाकर पंजीकरण कराकर छूट का लाभ लेते हुये अपना बकाया विद्युत बिल जमा कर सकते हैं।

सीएससी ई-गर्वनेन्स सर्विसेज इण्डिया लिमिटेड के जिला प्रबन्धक नसीम अहमद ने यह जानकारी देते हुए कहा कि उक्त योजना का लाभ पाने हेतु उपरोक्त श्रेणी के उपभोक्ताओं का योजना के अंतर्गत सबसे पहले आनलाइन पंजीकरण अनिवार्य होगा। योजना में उपभोक्ता के आनलाइन पंजीकरण के समय खाता संख्या फीड करते ही उपभोक्ता का समस्त विवरण यथा पंजीकरण हेतु देय धनराशि, मूल बिल धनराशि, सरचार्ज मे छूट, भुगतान की स्थिति इत्यादि परिलक्षित होंगी। पंजीकरण के समय उपभोक्ता का फोन नम्बर एवं बिल संशोधन का विकल्प अवश्य लिया जाएगा। पंजीकरण के समय उपभोक्ताओं को उनके माह जनवरी 2021 तक के विद्युत बिल में प्रदर्शित मूल धनराशि का 30 प्रतिशत एवं दिनांक 31 जनवरी 2021 के उपरान्त के वर्तमान देयों को एकसाथ जमा करना होगा, जिसके बाद ही उपभोक्ता का पंजीकरण पूर्ण होगा। पंजीकरण के बाद यदि उपभोक्ता बिल संशोधन का विकल्प चुनता है तो सम्बन्धित विद्युत वितरण खण्ड के अधिशासी अभियन्ता का यह दायित्व होगा कि वह 07 दिन के अन्दर उपभोक्ता का बिल आनलाइन संशोधन करें, जिससे उपभोक्ता को तत्काल एसएमएस के माध्यम से संषोधित बिल की सूचना प्रेषित हो जाएगी। जनपद बिजनौर में मौजूद लगभग 1700 सीएससी केंद्रों पर विद्युत उपभोक्ता इस योजना में अपना पंजीकरण कराकर सरचार्ज में 100 प्रतिशत छूट के साथ अपना बकाया विद्युत बिल संशोधन कराकर जमा कर सकते हैं।
—-

विद्युत अधिकारियों पर हमले के आरोपी सपा नेता समेत तीन अरेस्ट

विद्युत अधिकारियों पर हमले के आरोपी सपा नेता समेत तीन गिरफ्तार
बकाया जमा न होने पर विद्युत कनेक्शन काटने पहुंची टीम पर हुआ था हमला
विरोध में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति भी उतरी, SDM को ज्ञापन।

बिजनौर। नगीना में सपा नेताओं द्वारा विद्युत अधिकारियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी सहित 3 आरोपियों को अवैध तमंचा के साथ गिरफ्तार कर सुसंगत धारा में उनका चालान कर दिया।
शनिवार को एसडीओ विद्युत अंकित कुमार व जेई डीके मौर्य अपनी टीम के साथ विद्युत बिल की बकाया होने पर मोहल्ला कलालान स्थित सपा नेता एहतेशाम के घर पर विद्युत कनेक्शन काटने के लिए गए थे। आरोप है कि तभी एहतेशाम ने अपने भाइयों के साथ विद्युत अधिकारियों के साथ गाली गलौज करते हुए मारपीट शुरू कर दी और लगातार अभद्रता करते हुए गोली मारने की धमकी दी। यहां तक कि विद्युत विभाग के एसडीओ अंकित कुमार का गला दबाकर जान से मारने की कोशिश भी की। मौके पर पहुंची पुलिस ने विद्युत अधिकारियों को आरोपियों के चंगुल से छुड़ाया था। घटना को लेकर विद्युत कर्मियों में आक्रोश फैल गया। इधर विद्युत अधिकारियों के साथ मारपीट की वीडियो भी वायरल हो गई।
मामले में एसडीओ अंकित कुमार द्वारा पुलिस को हमलावरों के विरुद्ध तहरीर दी गई। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तहरीर के आधार पर मुख्य आरोपी एहतेशाम सहित उसके दो भाइयों के विरुद्ध संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से मारपीट करने के मुख्य आरोपी तीनों भाइयों मोहल्ला कलालान निवासी ऐहतशाम उर्फ राजा, सलीम तथा आदिल को 315 बोर के एक अवैध तमंचे व 2 जीवित कारतूस के साथ गिरफ्तार कर सुसंगत धाराओं में उनका चालान कर दिया। थाना प्रभारी कृष्ण मुरारी दोहरे के अनुसार मामले के मुख्य आरोपी एहतेशाम उर्फ राजा का अपराधिक इतिहास भी है। वर्ष 2015 में वह पुलिस पर हमला करने जैसी घटना कोअंजाम दे चुका है।

उधर रविवार को विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति नगीना की ओर से जिलाधिकारी रमाकांत पांडे को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम घनश्याम वर्मा को सौंप कर घटना की निंदा करते हुए आरोपियों पर रासुका लगाने की मांग की गई है, जिससे भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो सके। ज्ञापन पर राष्ट्रीय विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर के मंडल अध्यक्ष जाहिद इकबाल, अभियंता संघ के मंडल सचिव जोनित कुमार, उत्तर प्रदेश विद्युत मजदूर संगठन के मंडल अध्यक्ष वसीम अहमद तथा राष्ट्रीय विद्युत संघ के जिला अध्यक्ष लोकेंद्र सिंह के हस्ताक्षर हैं। ज्ञापन देते समय विद्युत कर्मचारी संघ के तमाम पदाधिकारी मौजूद रहे।

विभाग को चूना लगा रहा जेई, ऊर्जा मंत्री से बर्खास्तगी की मांग

पाल तिराहे उपकेंद्र पर भ्रष्टाचार का बोलबाला, विरोध में उ.प्र.अपना व्यापार मंडल हुआ लामबंद

लखनऊ। उ.प्र.अपना व्यापार मंडल की अतिआवश्यक बैठक मारुति पुरम निकट लेखराज स्थित संगठन के कार्यालय पर सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष अनिल वर्मा एवं संचालन प्रदेश प्रवक्ता अजय यादव ने किया। बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष अनिल वर्मा ने कहा कि राजाजीपुरम पाल तिराहे उपकेंद्र पर भ्रष्टाचार का बोलबाला है। पाल तिराहा उपकेंद्र पर तैनात जूनियर इंजीनियर हेमंत राय द्वारा लगातार उपभोक्ताओं एवं व्यापारियों का उत्पीड़न जारी है। विभागीय अधिकारियों को पूरे मामले से अवगत करा दिया गया है। आरोप लगाया कि जेई हेमन्त राय द्वारा मानक के विपरीत कई लम्बी दूरी के कनेक्शन मोटी रकम लेकर जारी कर दिये गये, जबकि वास्तविक आवेदकों के कनेक्शन क्वेरी लगाकर निरस्त किये गये हैं। उन्हें बताया गया कि यह एरिया अनइलेक्टिफाइड है, जबकि आवेदकों के परिसर से पोल की दूरी मात्र 6-7 मीटर है, 630 केवी ट्रांसफार्मर भी एकदम पास में है। बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश प्रवक्ता अजय यादव ने कहा कि जेई हेमंत राय द्वारा मोटी रकम लेकर कई बहुमंजिला कॉम्प्लेक्स में नियम विपरीत कनेक्शन जारी कर दिये गये। कई व्यापारियों से इस्टीमेट के नाम पर अवैध वसूली का दबाव बनाया जा रहा है। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि नियमों की अनदेखी कर कई काम विभागीय नियम के विपरीत जेई हेमंत राय द्वारा किए गए। सारे मामलों को उच्च अधिकारियों के समक्ष रखा गया है। बैठक में सर्वसम्मति से प्रदेश के ऊर्जा मंत्री से पूरे मामले मे हस्तक्षेप कर जेई हेमंत राय को बर्खास्त कर विभागीय जांच की मांग की गई, जिससे व्यापारियों व आमजन मे विभाग के प्रति विश्वास पैदा हो सके। इस बैठक में संस्थापक शिव बहादुर पटेल, अनिल वर्मा, अजय यादव, संतोष सिंह, संजीव गुप्ता, अजीत सिंह, हरिशंकर वर्मा, जतिन शुक्ला, अमित श्रीवास्तव, आशीष पाण्डेय आदि प्रमुख व्यापारीगण मौजूद थे।

कैम्प लगाकर जमा कराया विद्युत बकाया



चांदपुर/बिजनौर (धारा न्यूज़): विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं के निवारण हेतु ब्लॉक जलीलपुर अंतर्गत ग्राम अजदेव में महा कैम्प लगाया गया। इस दौरान उपभोक्ताओं के बकाया बिल के लगभग साढ़े पांच लाख रुपए जमा कराए गए।
पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की ओर से लगाए गए महा कैम्प में अधिकारियों ने बकायदारों को भुगतान समय से करने के लिए प्रेरित किया। साथ ही बिजली चोरी न करने की नसीहत देते हुए राष्ट्र निर्माण में सहयोग की अपील भी की। सहायक अभियंता अरविंद कुमार, एसडीओ अजय शर्मा, जेई जलीलपुर मनोज शर्मा, निर्मल कुमार, शक्ति सिंह, टीयूटी स्टाफ व लाइनमैन के अलावा जनप्रतिनिधियों वरुण गुर्जर व विनोद कुमार उपस्थित रहे। इस अवसर पर उपभोक्ता विनोद शर्मा, मेहराजुद्दीन, इरशाद खान करीब सौ डेढ़ सौ लोगों की समस्याओं का निवारण किया गया।