ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवारियां मिलीं तो भरना होगा जुर्माना ₹10 हजार

ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवारियां मिलीं तो भरना होगा जुर्माना ₹10 हजार

लखनऊ। कानपुर में ट्रैक्टर-ट्रॉली से हुए हादसे के बाद यातायात निदेशालय ने एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि मालवाहक वाहनों का इस्तेमाल सवारियों के लिए नहीं होना चाहिए. अगर किसी ने नियम तोड़ा तो दस हजार रुपए का जुर्माना भरना होगा. इसको लेकर पूरे प्रदेश में दस दिन तक चेकिंग अभियान चलाया जाएगा.

सीएम योगी आदित्यनाथ. (File Photo)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शनिवार को हुए भीषण हादसे के बाद यातायात निदेशालय ने एक अहम एडवाइजरी जारी की है. इसमें सरकार की ओर से कहा गया है कि दस दिन तक यूपी के सभी जिलों में सघन चेकिंग अभियान चलाया जाए. यह अभियान विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में चलाया जाएगा. अगर कोई गड़बड़ी पाई जाती है तो दस हजार का जुर्माना भी भरना होगा.

जानकारी के अनुसार, यूपी के यातायात निदेशालय ने जारी एडवाइजरी में 10 दिन तक सभी जिलों मे सघन चेकिंग अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में इस अभियान के तहत यह जांच की जाएगी कि मालवाहक वाहन ट्रैक्टर, ट्रॉली, डाला व डंपर पर सवारियों का इस्तेमाल तो नहीं किया जा रहा है?

सीएम योगी ने कानपुर में हुए हादसे के बाद कहा था कि लोग मालवाहक वाहनों का इस्तेमाल सवारियों को लाने व ले जाने में नहीं करें. यातायात निदेशालय की ओर से जारी एडवाजरी में कहा गया है कि अगर कोई नियम का उल्लंघन करता मिला तो उस पर 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा.

शराब माफियाओं का नौसैनिक पर जानलेवा हमला

नौसेना के जवान की हत्या का प्रयास, गोलीबारी। शराब माफियाओं का नौसैनिक पर जानलेवा हमला। स्योहारा थाना क्षेत्र का मामला।

बिजनौर। मुंबई में तैनात भारतीय तटरक्षक नौ सेना के जवान को जान से मारने की कोशिश की गई। छुट्टियों पर घर आए नौसेना कर्मी पर शराब माफियाओं ने फायरिंग की। मामला थाना स्योहारा क्षेत्र के ग्राम नरावली का है।

भारतीय तटरक्षक नौ सेना में मुंबई में तैनात आकाश कुमार पुत्र तुकमान सिंह निवासी ग्राम नरावली थाना स्योहारा छुट्टियों पर अपने गाँव आया हुआ है। एक अक्तूबर को रात्रि समय करीब 12:30 बजे गाँव से रामलीला देख कर अपने घर की ओर जा रहा था। आरोप है कि रामलीला ग्राउंड के गेट पर दीपांशु पुत्र परवेंदर, चंद्रवीर पुत्र रवेन्द्र, चरनजीत पुत्र रवेन्द्र निवासीगण नरावली थाना स्योहारा ने नौसैनिक के साथ काफी गाली गलौच की और जान से मारने की धमकी दी। तमंचों से लैस उक्त आरोपी कुछ देर बाद फिर वापस आए और फायर शुरू कर दिए।

घटना के समय काफी लोग मौजूद थे। फायरिंग करने के बाद आरोपी मौका पाकर फरार हो गए। पीड़ित ने घटना की जानकारी डायल 112 की दी। मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने घटना की जांच की। आरोपियों के घर पर भी दबिश दी। सभी आरोपी फरार थे। बताया जाता है कि उक्त आरोपी बदमाश प्रवृत्ति के हैं और आदिन किसी न किसी से लडाई, झगडा करते रहते हैं। यह भी बताया गया है कि क्षेत्र में अवैध रूप से शराब बेचने के धंधे में संलिप्त हैं। नौसैनिक ने उक्त लोगों से अपने जान व माल के खतरे का अंदेशा जताया है।

बिजनौर DM SP ने नशे जैसी कुकृति त्यागने को दिलाई शपथ

DM SP ने नशे जैसी कुकृति को त्यागने की दिलाई शपथ। नया सवेरा को लेकर सभी को किया नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर विशेष कार्यक्रम। एसपी ने किए चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को ट्रैकसूट वितरित।

बिजनौर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह द्वारा रिजर्व पुलिस लाइन में पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई।
जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत सभी को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई गई।
तदोपरान्त पुलिस अधीक्षक ने चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को ट्रैकसूट वितरित किए। इस दौरान पुलिस लाइन प्रांगण में उपस्थित सभी अधिकारी/कर्मचारीगणों को मिष्ठान वितरित किए गए।

धामपुर कोतवाली में एसपी पूर्वी ने पुष्प किए अर्पित

अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल द्वारा कोतवाली धामपुर पहुॅचकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत उपस्थित सभी अधि0/कर्मचारीगणों को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई गई।

एसपी ऑफिस में “नया सवेरा”:

इसी क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राम अर्ज द्वारा पुलिस कार्यालय में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी गई। उन्होंने भी जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान “नया सवेरा” के दृष्टिगत उपस्थित सभी अधि0/कर्मचारीगणों को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी शपथ दिलाई।

स्कूली बच्चों को नेहरू स्टेडियम में शपथ


पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ0 प्रवीन रंजन सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने नेहरू स्टेडियम ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर पुष्प अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी।
जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक बिजनौर द्वारा नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान नया सवेरा के दृष्टिगत सभी को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया गया तथा नशे जैसी कुकृति को त्यागने संबंधी स्कूली बच्चों को शपथ दिलाई गई।

सीएए विरोधियों को भेजा ₹57 लाख का नोटिस

सीएए का विरोध करने वालों से होगी नुकसान की भरपाई, पुलिस ने 60 प्रदर्शनकारियों को भेजा 57 लाख का नोटिस

बिजनौर। तीन साल पहले सीएए और एनआरसी विरोधी प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा और आगजनी की घटनाओं में शामिल नहटौर के 60 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने नोटिस जारी किया है। साथ ही 57 लाख रुपए के नुकसान की भरपाई करने का निर्देश दिया है।

नहटौर के थाना प्रभारी पंकज तोमर ने शनिवार को बताया कि 20 दिसंबर 2019 को नहटौर में सीएए/एनआरसी के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया था। उन्होंने कहा कि भीड़ ने सरकारी संपत्ति में तोड़-फोड़ की थी और थाने पर खड़ी पुलिस की जीप और मोटरसाइकिलों में आग लगा दी थी। इस दौरान भीड़ ने पुलिस पर पथराव भी किया था और जवाब में पुलिस को गोली चलानी पड़ी थी। हिंसक प्रदर्शन में अनस और सलमान नाम के दो युवकों की गोली लगने से मौत हो गई थी। प्रशासन ने प्रदर्शन के दौरान 57 लाख रुपए की सरकारी संपत्ति के नुकसान का आंकलन किया था। पुलिस ने अब हिंसा मे शामिल 60 आरोपियों को 57 लाख रुपये की भरपाई के लिए नोटिस जारी किए हैं।

…आखिर क्या था मामला?

20 दिसम्बर 2019 को सीएए-एनआरसी को लेकर नहटौर में प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शन हिंसा में परिवर्तित हो गया था। मामले में प्रदर्शनकारियों ने थाने पर भी पथराव किया था। साथ ही पुलिस वाहनों में आग लगा दी थी। प्रदर्शन के दौरान चलाई गई गोली से मोहल्ला मंगू चर्खी निवासी सुलेमान और मोहल्ला कस्बा निवासी अनस पुत्र अरशद की मौत हो गई थी। घटना में तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक राजेश सोलंकी सहित 21 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। मामले को लेकर राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर नहटौर सुर्खियों में आ गया था। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी सहित विभिन्न राष्ट्रीय पार्टियों के प्रतिनिधियों ने नहटौर पहुंचकर घटना की जानकारी ली थी। मृतकों के परिजनों का ढांढस बंधाया था।

एसपी दिनेश सिंह ने बताया कि सीएए-एनआरसी बवाल के दौरान नहटौर थाना क्षेत्र में क्षतिपूर्ति की वसूली के लिए 60 लोगों को नोटिस तामिल कराए गए हैं। पुलिस मुकदमों के आधार पर कार्रवाई कर रही है।

सराहना: फाँसी के फंदे से लटकी महिला की पुलिस ने बचाई जान

बिजनौर। झगड़े की सूचना पर पहुंची सिविल लाइन पुलिस ने घर में बहू को पंखे पर लटकने के दौरान बचा लिया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस द्वारा फाँसी के फंदे से महिला को उतराने का लाइव वीडियो भी वायरल हुआ है।

सिविल लाइन चौकी प्रभारी गौरव चौधरी ने बताया कि मंगलवार की शाम उनको सूचना मिली, कि नजीबाबाद मार्ग स्थित काकरान वाटिका के पास प्रगति विहार में झगड़ा हो रहा है। वह अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे, तो उनको आता देख एक पक्ष मौके से फरार हो गया। तभी किसी ने बताया कि पीटने वाले युवक की पत्नी फांसी पर लटक गई है। दरोगा गौरव चौधरी, सिपाही अचिन चौधरी, शुभम सरोहा, महिला सिपाही फिरमिल दौड़कर महिला के कमरे में पहुंचे, तो देखा कि महिला फांसी के फंदे पर झूल रही थी । सिपाही अचिन व शुभम ने तुरंत ही महिला को पैरों से पकड़कर ऊपर उठाया और पास में खड़े एक व्यक्ति ने कैंची से फांसी वाले कपड़े को काट दिया। पलिसकर्मियों ने देखा कि महिला का शरीर गर्म है, तभी आसपास में खड़े एक व्यक्ति ने महिला के सीने को दबाना शुरू किया और एक ने मुंह से महिला को सांस दिया। महिला कुछ होश में आई, तो पुलिस कर्मियों ने उसको एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां महिला का उपचार चल रहा है। चिकित्सकों के मुताबिक महिला की हालत में सुधार है।

इस पूरे मामले की किसी ने वीडियो बना ली, जो शुक्रवार की शाम से सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। चौकी प्रभारी गौरव चौधरी ने बताया कि किरतपुर थाने के गांव छितावर निवासी ईशांत उर्फ संजू की दो साल पहले कोतवाली नगर के गांव हमीदपुर निवासी रामेंद्र की पुत्री निक्की के शादी हुई थी। दोनों की दूसरी शादी थी। शादी के कुछ दिनों बाद से ही दोनों में विवाद चल रहा था। घटना वाले दिन भी निक्की के भाई ईशांत को घर के बाहर पीट रहे थे। इसी झगड़े की सूचना किसी ने पुलिस को दी थी। निक्की के पिता रामेंद्र की तहरीर पर ईशांत के खिलाफ दहेज के लिए मारपीट आदि धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

दो महिलाओं ने बैंक से दिनदहाड़े उड़ा दिए ₹50 हजार

दिनदहाड़े 2 महिलाएं बैंक से 50,000 रुपए चोरी करके हुई रफूचक्कर

बिजनौर। नजीबाबाद में स्टेशन रोड पर स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में दो महिलाएं एक खातेदार के ₹50 हजार लेकर रफूचक्कर हो गई।

जानकारी के अनुसार नजीबाबाद में स्टेशन रोड पर स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में जाब्तागंज निवासी शौकीन अहमद ने अपने भांजे शोएब को ₹50,000 जमा करने भेजा था। दो शातिर महिलाएं मौका देखकर शोएब से बैंक के अंदर से 50,000 रुपए लेकर वहां से रफूचक्कर हो गई। जब शोएब को इस बात का पता चला तो वो बेहोश हो गया। होश में आने पर उसने सारी घटना बैंक कर्मचारियों को बताई। सीसीटीवी फुटेज चेक करने पर दो संदिग्ध महिलाएं शोएब के पास नजर आईं और पैसे लेकर तेजी से बैंक से बाहर निकलते दिखाई दीं।

सिक्योरिटी गार्ड नहीं है तैनात ~ घटना के संबंध में बैंक मैनेजर सतीश कुमार कुछ भी कहने से कतराते हुए नज़र आए! जब उनसे पूछा गया कि आपके बैंक में सिक्योरिटी गार्ड मौजूद है या नहीं है, तो उन्होंने कहा कि हमारे बैंक में सिक्योरिटी गार्ड मौजूद नहीं है तथा बैंक ऑफ बड़ौदा की अन्य कई ब्रांच में भी मौजूद नहीं हैं। यह अपने आप में बहुत बड़ा सवाल है कि बैंक में आखिर सिक्योरिटी गार्ड मौजूद क्यों नहीं है? अगर बैंक में सिक्योरिटी गार्ड मौजूद होता तो उक्त घटना टल सकती थी। अब सवाल यह उठता है कि बैंक ऑफ बड़ौदा सिक्योरिटी गार्ड क्यों नहीं रखता है? जबकि शासन प्रशासन द्वारा समय-समय पर बैंकों की चेकिंग भी की जाती है!
बैंक में आने जाने वाले लोगों के उपर तो सिक्योरिटी गार्ड ही अपनी नज़र रखता है! तो क्या ऐसे में बैंक ऑफ बड़ौदा के ग्राहक और उनका पैसा सुरक्षित है या नहीं? घटना की जानकारी पाकर मौके पर पहुंची पुलिस सीसीटीवी फुटेज को खंगाल कर शातिर महिलाओं की तलाश मे जुट गई है।

नवीं के छात्र की निर्मम हत्या, हड़कंप


धामपुर। नगीना मार्ग स्थित एक सुनसान आम के बाग में एक छात्र की गला काटा हुआ शव बरामद हुआ है। शव के पास ही शराब की टूटी हुई बोतल, बीयर सहित अन्य चीजें भी बरामद हुई हैं। छात्र का शव मिलने की सूचना पर पुलिस क्षेत्राधिकारी तथा कोतवाली प्रभारी निरीक्षक भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे तथा शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।
ग्राम मंधोरा मौजा स्थित एक बाग में एक छात्र का गला कटा हुआ शव दिखाई देने पर जंगल में घास काटने गए किसी ग्रामीण ने सूचना कोतवाली पुलिस को दी। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक माधो सिंह बिष्ट मौके पर पहुंच गए तथा शव की शिनाख्त कराने का प्रयास किया। सूचना पर पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गई। बताया जाता है कि नेशनल हाईवे से करीब 200 मीटर अंदर बाग में छात्र का शव रक्त रंजित हालत में पड़ा हुआ था। शराब तथा बीयर की बोतल भी इसके पास ही पड़ी हुई थी। आशंका जताई जा रही है कि शराब की बोतल तोड़ कर छात्र की गला काटकर हत्या की गई है। पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। सूचना पर नगीना पुलिस क्षेत्राधिकारी सुमित शुक्ला भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए तथा हत्या के संदर्भ में जानकारी ली।

मौके से मिला परिचय पत्र, हत्या के खुलासे को पुलिस ने जुटाए सबूत
शिनाख्त करने के प्रयास के दौरान छात्र के पास मौजूद स्कूल बैग में से एक परिचय पत्र बरामद हुआ। उस पर एमएम इंटर कॉलेज नगीना के कक्षा नौ ए के छात्र रोहित पुत्र सुभाष लिखा हुआ था। उस पर मोबाइल नंबर भी दर्ज था। मौके से छात्र का स्कूल बैग भी बरामद हुआ, जिसमें किताबें सहित अन्य चीजे भी थी। पुलिस की फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल से कई सबूत भी जुटाए। पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ ने मौके से ही नगीना पुलिस को घटना की सूचना दी। इसी सूचना के आधार पर नगीना पुलिस क्षेत्राधिकारी सुमित शुक्ला भी धामपुर घटनास्थल पर पहुंचे। छात्र की हत्या की कारणों को तलाशने को पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है। उधर देर शाम एसपी दिनेश कुमार ने घटना स्थल पहुँच कर मामले की जानकारी की !

हत्याकांड के खुलासे को टीम गठित पुलिस अधीक्षक डॉ दिनेश कुमार ने देर रात बताया कि मृतक 15 वर्षीय रोहित पुत्र सुभाष की शिनाख्त कर ली गई है। हत्याकांड के खुलासे के लिए कई टीमों का गठन किया गया है। उन्होंने हत्याकांड के जल्द ही खुलासे की बात कही है।

लिंटर तोड़ते मलबे में दबे मजदूर, दो की मौत

लिंटर तोड़ रहे मजदूर मलबे में दबे, दो की मौत

पुराने मकान का लिंटर तोड़ते वक्त हुआ हादसा, दो को मामूली चोट

मौके पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से मलबे से निकाला

बिजनौर। थाना नांगल क्षेत्र के शहजापुर में लिंटर को तोड़ रहे मजदूर मलबे में दब गए। इनमें से दो की मौत हो गई तथा दो मामूली घायलों का निजी चिकित्सक से इलाज कराया गया है। 

गांव शहजादपुर निवासी मुफीद अहमद अपने पुराने मकान का लेंटर तुड़वा रहे थे। 4 मजदूर लेंटर के ऊपर चढ़कर घन से लेंटर तोड़ रहे थे। इस दौरान यह लिंटर एक साथ नीचे आ गिरा, जिसमें शहजादपुर निवासी वकील और मोनू नाम के मजदूर इस लिंटर के मलबे में दब गए जबकि, सलीम और सईम लेंटर की चपेट में आने से बाल बाल बच गए। काफी संख्या में ग्रामीण और नांगल पुलिस मौके पर पहुंच गई। लगभग आधे घंटे की मशक्कत के बाद ग्रामीणों और पुलिस ने मिलकर दोनों मजदूरों को मलबे के नीचे से निकाला तथा अस्पताल भिजवाया। बताया गया कि वकील (45 वर्ष) और मोनू (30 वर्ष) की अस्पताल जाते वक्त रास्ते में मौत हो गई।  दोनों परिवारों में कोहराम मच गया। मामूली घायल सलीम और सईम को निजी चिकित्सक के यहां उपचार दिलाया गया। सूचना पर सीओ नजीबाबाद गजेंद्र पाल सिंह ने भी घटनास्थल का जायजा लिया।

नांगल थाना प्रभारी श्यामवीर सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर दोनों शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए हैं। अभी दोनों परिवार पोस्टमार्टम कराने के लिए गए हैं। उक्त संबंध में कार्रवाई हेतु तहरीर मिलने पर पुलिस कार्यवाही शुरू की जाएगी।

समय पर मिलती एंबुलेंस तो बच सकता था वकील

घटनास्थल पर एक ही एंबुलेंस पहुंची, जिससे मलबे के नीचे दबे मोनू को पहले निकालकर अस्पताल भेज दिया गया। लगभग 15 मिनट बाद जब मलबे के नीचे से वकील को निकाला गया तो न तो कोई एंबुलेंस मिली और न ही कोई गाड़ी। आखिर में एक बाइक से ही स्थानीय चिकित्सक के यहां वकील को ले जाया गया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

पत्नी की हत्या कर पति ने भी दे दी जान

बिजनौर। चांदपुर थाना अंतर्गत गांव खानपुर खादर में विवाद के चलते पति की मारपीट से पत्नी की मौत हो गई। बाद में पति ने भी पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली। पति पत्नी की मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। सूचना पर एसपी ग्रामीण, सीओ, प्रभारी निरीक्षक ने मौका मुआयना किया।

जलीलपुर क्षेत्र के गांव खानपुर खादर निवासी जयपाल सिंह अपनी पत्नी मुकेश देवी व अपने बच्चों के साथ मंगलवार को गांव में हो रही रामलीला देखकर घर आए थे। बताया जा रहा है कि पति पत्नी के ‌बीच कुछ विवाद था। बुधवार सुबह मुकेश देवी घर से करीब 200 मीटर दूर खेत में घायल अवस्था में मिली। पति जयपाल सिंह का शव खेत में आम के पेड़ पर लटका मिला। परिजन द्वारा घायल मुकेश देवी को इलाज के लिए अस्पताल ले जाते समय मुकेश ने दम तोड़ दिया। मृतकों के चार बच्चे हैं। माता पिता की मौत से बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। सूचना पर एसपी ग्रामीण रामअर्ज, सीओ सुनीता दहिया, प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार राय ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी ली।

प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार राय के मुताबिक पति, पत्नी में विवाद चल रहा था, जिसको लेकर पति जयपाल सिंह ने पत्नी मुकेश के साथ मारपीट कर घायल कर दिया था। घायल की अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई। जयपाल ने खेत में पेड़ पर लटककर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। मामले की जांच की जा रही है। पुलिस ने दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है।

ढ़ाई लाख के इनामी आदित्य राणा को लेकर पुलिस रही हलकान

ढ़ाई लाख के इनामी आदित्य राणा को लेकर पुलिस रही हलकान। आदित्य के गांव में आने की अफवाह पर दौड़ी पुलिस

  • चार दिन पूर्व गांव राणानंगला में आदित्य के परिवार में हुए एक कार्यक्रम में आने की थी अफवाह
  • आदित्य एक माह पूर्व बिजनौर पेशी से लौटते समय शाहजहांपुर से हुआ था फरार

स्योहारा। परिवार में हुए एक कार्यक्रम में आदित्य के आने की अफवाह पर एसओजी व पुलिस ने गाँव पहुँच कर परिजनों से पूछताछ की। पुलिस ने मात्र अफवाह होने की जानकारी होने पर राहत की साँस ली। एक माह बीत जाने के बाद भी पुलिस आदित्य को तलाश नहीं कर सकी है, जबकि डीजीपी ने आदित्य पर ढाई लाख रुपए का इनाम भी रख दिया है।
23 अगस्त को थाना शिवालाकला के एक मुक़दमे में बिजनौर कोर्ट में पेशी से लौटते समय शाहजहांपुर स्थित एक खाने के ढाबे से आदित्य राणा पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था। इसके बाद से कुख्यात आदित्य राणा के गाँव राणानांगला में पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। आदित्य की तलाश में जैसे जैसे दिन बढ़ते गए वैसे वैसे ही पुलिस द्वारा आदित्य पर ईनाम भी बढ़ता गया। आदित्य की कोई भी सूचना देने पर अब डीजीपी ने ढ़ाई लाख रुपए का ईनाम घोषित कर दिया है। एसओजी टीम को सूचना मिली कि आदित्य राणा परिवार में जन्मे एक बच्चे के कार्यक्रम में शामिल होने गाँव राणानंगला आया हुआ है, जिस पर एसओजी टीम व पुलिस ने गाँव पहुँच कर परिजनों से कई घंटे पूछताछ की। बाद में पता चला कि आदित्य राणा के गाँव आने की खबर कोरी अफवाह है, जिस पर पुलिस ने राहत की साँस ली। थाना प्रभारी निरीक्षक राजीव चौधरी का कहना है कि आदित्य राणा के गाँव में पुलिस फ़ोर्स 24 घंटे तैनात है। उसकी गिरफ़्तारी के लिए पुलिस लगी हुई है। गांव आने की सूचना अफवाह है।

होटल मालिक की हसीन बीवी, लुटेरा नौकर और बेचारे IG साहब…

साभार…

ये वाकया 90 के दशक का है। उत्‍तर प्रदेश के पुलिस महकमे में उन दिनों कानपुर के एक आईजी साहब बड़े मशहूर थे। उनके कारनामे लोग खूब चटखारे लेकर सुनते और सुनाया करते थे। उन्‍हीं दिनों एक इंस्‍पेक्‍टर साहब भी अपनी ईमानदारी और तेज दिमाग के लिए बेहद चर्चित थे। नाम था एसएस लौर। एक बार तत्‍कालीन डीजीपी से इंस्‍पेक्‍टर लौर की मुलाकात हुई। इस दौरान डीजीपी ने कहा – ‘आईजी साहब तुम्‍हारी बड़ी तारीफ करते हैं। क्‍या तुम वाकई इतना अच्‍छा काम करते हो।’ यह सुनकर इंस्‍पेक्‍टर लौर हंसने लगे। उन्‍होंने कहा – ‘आईजी साहब मेरी तारीफ क्‍यों करते हैं, ये बात मैं आपको नहीं बता सकता।’ पर डीजीपी साहब तो पीछे ही पड़ गए। बोले – ‘तुम्‍हें बताना ही पड़ेगा। जब तक बताओगे नहीं यहां से जाने नहीं दूंगा।’ अब इंस्‍पेक्‍टर लौर की मजबूरी बन गई। उन्‍होंने जब पूरी बात बताई तो डीजीपी साहब हंसते-हंसते लोटपोट हो गए। जाते समय कहा – ‘मुझे तो बता दिया पर आगे किसी और को न बताना।’ हालांकि ये किस्‍सा कभी मीडिया की सुर्खी नहीं बनी पर धीरे-धीरे पूरे पुलिस महकमे में फैल गई। जो भी सुनता था, पेट पकड़कर हंसने लगता था। 78 साल के सुरेंद्र सिंह लौर अब डीएसपी के पद से रिटायर हो चुके हैं। अपनी 40 साल की नौकरी में वे जिस भी थाने में तैनात रहे, अपने काम से लोगों को कायल बना लेते थे। कई बार ऐसा भी हुआ जब उनका ट्रांसफर होने पर लोग सड़कों पर उतर आए। एक यूट्यूब चैनल चलाने वाले पत्रकार उस्‍मान सैफी ने कानपुर के आईजी (इंस्‍पेक्‍टर जनरल ऑफ पुलिस) के कारनामों को लेकर एसएस लौर से लंबी बातचीत की है। लौर साहब ने जो किस्‍सागोई की है, उसे पढ़कर आपके होठों पर भी मुस्‍कुराहट तैर जाएगी। आइए आपको बताते हैं वो कहानी… 

मंडी के दुकानदारों से वसूली करता था दबंग


कानपुर का एक थाना है जूही। बतौर इंस्‍पेक्‍टर यहां एसएस लौर की तैनाती होती है। उनके पास आसपास के लोग आकर एक ही शिकायत करते थे। उनकी शिकायत थी कि स्‍थानीय मंडी में एक दबंग शख्‍स के चलते वे काफी परेशान हैं। वे यह भी बताते थे कि दबंग कानपुर जोन के आईजी का बहुत खास आदमी है। वह उन लोगों से अवैध वसूली करता है। इंस्‍पेक्‍टर लौर इस उधेड़बुन में फंस जाते हैं कि इस समस्‍या से कैसे निजात पाया जाए। एक दिन इंस्‍पेक्‍टर साहब भेष बदलकर मंडी जाते हैं। वह कुर्ता-धोती पहन लेते हैं ताकि आम आदमी नजर आएं। उनके आसपास सादी वर्दी में कई पुलिसवाले रहते हैं। एसएस लौर उस दंबग शख्‍स के पास पहुंचते हैं और दुआ-सलाम करते हैं। कहते हैं- ‘मेरे पास कोई काम नहीं है। अगर कोई काम दिला सकें तो बड़ी मेहरबानी होगी।’ उस शख्‍स ने कहा- ‘तुम क्‍या कर सकते हो।’ लौर बोले- ‘आपके पास जो भी काम हो मुझे दे दीजिए।’ दबंग ने कहा- ‘इस समय सावन का महीना चल रहा है। बेलपत्रों की बड़ी मांग है। इसलिए तुम ये काम कर लो। इसके बदले तुम्‍हें हर रोज मुझे 20 रुपये देने पड़ेगे।’ जब लौर ने पूछा-‘ 20 रुपये किस बात के लिए।’ तो दबंग ने कहा- ‘इस मंडी में ऐसे ही वसूली होती है। ऐसा कोई आढ़ती, दुकानदार और फल विक्रेता नहीं जो हर रोज मुझे पैसा न देता हो।’

लोग हो गए इंस्‍पेक्‍टर लौर के तेज दिमाग के कायल


दबंग व्‍यक्ति का इतना कहना ही था कि इंस्‍पेक्‍टर लौर ने उसके हाथ पकड़ लिए। यह देखते ही आसपास सादी वर्दी में खड़े पुलिसकर्मी तुरंत दौड़कर आते हैं। पुलिसवाले उस दबंग के हाथ में हथकड़ी डालते हैं और भरी मंडी में उसे पैदल लेकर चलते हैं। कहते हैं कि कानपुर की ये मंडी उस जमाने में एशिया की सबसे बड़ी मंडी थी। पुलिस दबंग को जूही थाने लेकर आती है। इसी बीच, इंस्‍पेक्‍टर लौर के पास आईजी का फोन आ जाता है। वे कहते हैं- ‘अरे लौर साहब, आप किसको पकड़ कर ले आए हैं। ये हमारे बहुत खास आदमी हैं। इनको छोड़ दीजिए।’ इस पर लौर कहते हैं- ‘ये आपके खास आदमी तो हैं पर वहां भरी मंडी में सबके सामने चिल्‍लाकर बता रहे थे कि अभी हाल ही में आईजी साहब की बेटी की शादी हुई थी। उसमें उन्‍होंने ढेर सारी सब्जियां और फल भिजवाई थी।’ यह सुनकर आईजी साहब को गुस्‍सा आ गया। बोले- ‘उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करो और जेल भेज दो।’ तो देखा न आपने। इंस्‍पेक्‍टर एसएस लौर ने किस तरह एक चाल चली जिसमें वह पूरी तरह कामयाब हो गए। पूरी मंडी के लोग उस दबंग से परेशान थे। उसके जेल जाने से हर किसी ने राहत की सांस ली। अपने इस काम से इंस्‍पेक्‍टर लौर आम जनता में बेहद लोकप्रिय हो गए।

फिर कानपुर के होटल में हो जाता है कांड


कुछ दिनों बाद कानपुर में एक कांड हो जाता है। शहर के बड़े होटल में लूट की वारदात हो जाती है। होटल का मालिक जूही थाने में पहुंचा। उसने बताया कि चोर लाखों के जेवरात के साथ नकदी भी लूट ले गया है। इस पर इंस्‍पेक्‍टर एसएस लौर कहते हैं- आप लिखित में शिकायत दे दीजिए। हम पता लगाते हैं।’ शिकायत देने में होटल मालिक को तीन दिन का समय लग जाता है। जांच पड़ताल में पता चलता है कि इस लूट के पीछे होटल मालिक के घर में काम करने वाले एक नौकर का ही हाथ है। नौकर मौका पाकर लाखों रुपये और जेवर वगैरह बांधकर फरार हो गया था। अब पुलिस के सामने उस नौकर को पकड़ना बड़ी चुनौती बन गई। दिन बीतते गए पर नौकर का कुछ पता नहीं चल पा रहा था। लोगों का दबाव बढ़ता जा रहा था कि इतने बड़े होटल में चोरी हुई है और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी हुई है।

होटल मालिक की बीवी के खूबसूरती के चर्चे थे आम


एसएस लौर बताते हैं कि उस होटल मालिक की बीवी बहुत सुंदर थी। उसकी खूबसूरती के चर्चे पूरे शहर में आम थे। एक दिन इंस्‍पेक्‍टर लौर के पास फिर आईजी साहब का फोन आ जाता है। कहते हैं- ‘जल्‍द से जल्‍द मेरे ऑफिस आइए।’ इंस्‍पेक्‍टर लौर ऑफिस पहुंचे। वहां उन्‍होंने देखा कि आईजी के साथ एक बेहद खूबसूरत महिला बैठी हुई है। वह कोई और नहीं बल्कि होटल मालिक की बीवी थी। इंस्‍पेक्‍टर लौर को समझते देर न लगी कि उन्‍हें क्‍यों तलब किया गया है। इंस्‍पेक्‍टर लौर के वहां पहुंचते ही आईजी साहब डांटना शुरू कर देते हैं। कहते हैं- ‘आप अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं। इतने दिन हो गए पर अब तक चोरी करने वाले नौकर को नहीं पकड़ पाए हैं। जल्‍द से जल्‍द उसे अरेस्‍ट करिए, नहीं तो मैं आपका ट्रांसफर कर दूंगा।’ आईजी का रौद्र रूप देखकर इंस्‍पेक्‍टर लौर हर तरफ अपना जाल बिछा देते हैं। आखिरकार तीन-चार दिन बाद ही लुटेरा नौकर पुलिस के चंगुल में फंस जाता है। नौकर से पूछा जाता है कि आखिर उसने चोरी क्‍यों की। इस पर नौकर जो बताता है उसे सुनकर इंस्‍पेक्‍टर के कान खड़े हो जाते हैं।

नौकर को कमरे में बुलाती थी मालिक की बीवी


नौकर ने बताया कि वह होटल मालिक की बीवी से तंग आ चुका था। वह रोज रात को जब मालिक सो जाया करता था, उसे अपने कमरे में बुला लिया करती थी। एक दिन उसने इस बला से छुटकारा पाने का प्‍लान बनाया और लाखों रुपये और जेवरात समेटकर चंपत हो गया। इसी दौरान नौकर एक चौंकाने वाली बताता है। वह इंस्‍पेक्‍टर लौर से कहता है-‘साहब, आपने मेरा कसूर तो देख लिया पर आईजी साहब को कौन दंड देगा। वह भी तो आए दिन होटल मालिक की बीवी से मिलने आते हैं और उसके साथ रात बिताते हैं।’ यह सब सुनकर इंस्‍पेक्‍टर पसोपेश में पड़ जाते हैं कि अब करें तो क्‍या करें? इसी बीच, उनके पास आईजी का फोन आ जाता है। वह पूछते हैं- ‘आरोपी गिरफ्तार हुआ या नहीं।’ इंस्‍पेक्‍टर लौर कहते हैं- ‘हां, वह चोर को पकड़ने के बेहद करीब पहुंच चुके हैं।’ आईजी साहब कहते हैं- ‘मुझे इन सारी बातों से मतलब नहीं। मुझे वह चोर हर हाल में चाहिए।’ अब इंस्‍पेक्‍टर लौर नौकर को अपनी गाड़ी में बैठाते हैं और सीधे आईजी के ऑफिस धमक पड़ते हैं। इत्‍तेफाक से उस दिन वहां उनका बेटा भी मौजूद था। इंस्‍पेक्‍टर लौर कहते हैं- ‘मैं चोरी करने वाले नौकर को पकड़कर लाया हूं। वह आपके सामने बताएगा कि उसने चोरी कैसे और क्‍यों की। अगर आपको एतराज न हो तो बेटे को कमरे से बाहर भेज दीजिए।’ आईजी साहब अपने बेटे को विभागीय कामों का हवाला देते हुए बाहर भेज देते हैं।

नौकर की बात सुन कुर्सी से उछल पड़े आईजी
इंस्‍पेक्‍टर लौर नौकर को आईजी के कमरे में ले आते हैं। चोर बताता है कि उसके और होटल मालिक की बीवी के बीच अफेयर था। फिर वह आईजी की तरफ इशारा कर कहता है-‘आप भी तो उससे मिलने आया करते थे और रात बिताया करते थे। वह मुझसे भी शारीरिक संबंध बनाती थी और आपसे भी। इसी बात से नाराज होकर ही मैंने लाखों रुपये चुराए थे और भाग गया था।’ इतना सुनते ही आईजी साहब को काटो तो खून नहीं। वह स्प्रिंग की तरह अपनी कुर्सी से उछल पड़े। नौकर से बोले- ‘अब ये बात किसी को पता नहीं चलनी चाहिए। ये बात सिर्फ तुमको, मुझको और इंस्‍पेक्‍टर लौर तक ही सीमित रहनी चाहिए।’ आईजी साहब इंस्‍पेक्‍टर लौर से बड़ी मिन्‍नतें करते हैं। कहते हैं- ‘अगर ये बात बाहर किसी को पता चल गई तो बड़ी बदनामी हो जाएगी।’ इस पर इंस्‍पेक्‍टर बोलते हैं- ‘साहब, आजकल मीडिया वालों से कुछ भी छिपा पाना बहुत मुश्किल होता है पर मैं कोशिश करूंगा।’

और आईजी साहब जपने लगे इंस्‍पेक्‍टर लौर के नाम की माला


बस, अब क्‍या था। इस कांड के बाद आईजी साहब इंस्‍पेक्‍टर लौर के नाम की माला जपने लगे। वह अपने जोन में आने वाले जिलों चाहे इटावा या हो मैनपुरी, पुलिस अफसरों की हर छोटी-बड़ी मीटिंग में इंस्‍पेक्‍टर लौर की तारीफ करते नहीं थकते थे। कहते थे- ‘सुरेंद्र सिंह लौर जैसा इंसान मैंने अपनी जिंदगी में नहीं देखा। वह बहुत ईमानदारी से काम करते हैं। उनके काम करने का तरीका बहुत शानदार होता है।’ इंस्‍पेक्‍टर लौर की तारीफ करने के पीछे आईजी साहब का जो मकसद था, वह यही था कि कहीं वे उनकी पोल न खोल दें। इसलिए जब यूपी के डीजीपी ने यह किस्‍सा सुना तो उनके मुंह से भी बेसाख्‍ता हंसी फूट पड़ी। उन्‍होंने इंस्‍पेक्‍टर लौर से कहा- ‘भाई ये बात किसी और को मत बताना। नहीं तो आईजी साहब की बड़ी बदनामी हो जाएगी।’

काटे खेत में खड़े पेड़, पुलिस को देखकर आरोपी फरार

बिजनौर। कोर्ट में विचाराधीन मुकदमे के दौरान एक पक्ष ने खेत में खड़े पेड़ काट लिये। दूसरे पक्ष ने मामले की शिकायत डायल 112 पुलिस व थाना पुलिस को दी। पुलिस को देख कर आरोपी फरार हो गए।

नहटौर के मोहल्ला लकड़हारान निवासी बिलाल अहमद पुत्र शकील अहमद का कई वर्ष से अपने ताऊ व चाचा से दादा द्वारा फर्जी वसीयत अपने नाम करवाकर उनके हिस्से की जमीन हड़पने का मुकदमा न्यायालय में चल रहा है। आरोप है कि बीती रात उसके ताऊ बाबू अकील व चाचा वकील अहमद पुत्रगण जलील अहमद तथा मंडावर निवासी दानिश पुत्र नसीम अहमद विवादित खेत में खड़े पेड़ काट रहे थे इसकी सूचना उन्होंने डायल 112 पुलिस थाना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस को देख आरोपी फरार हो गए। पुलिस मौके से पेड़ काटने के औजार बरामद कर थाने ले गई। वहीं सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने एक आरोपी को भी हिरासत में लिया है। पीड़ित ने पुलिस से विवादित जमीन में खड़े पेड़ काटने के आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

चांदपुर पुलिस ने दबोचा नशीले पदार्थों का तस्कर

बिजनौर। थाना चांदपुर पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने नशीले पदार्थ तस्करी करने वाले अभियुक्त को भारी मात्रा में नशीले पदार्थ के साथ गिरफ्तार कर लिया है।

एसपी दिनेश सिंह ने बिजनौर में नशीले पदार्थों की बिक्री करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने को निर्देशित किया हुआ है। जनपद भर की पुलिस अपने स्तर पर कार्रवाई कर भी रही है। इसी क्रम में थाना चांदपुर पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने चलूंगा के दौरान धनौरा फाटक के पास से अभियुक्त राजन उर्फ राजू को भारी मात्रा में नशीले पदार्थों के साथ गिरफ्तार कर लिया।

एसपी ग्रामीण राम अर्ज ने प्रेस वार्ता कर घटना का खुलासा करते हुए बताया कि अभियुक्त को गिरफ्तार कर जेल भेजा रहा है और अन्य विधिक कार्रवाई कराई जा रही है।

बिजनौर पुलिस ने पकड़े 3 शातिर वाहन चोर

बिजनौर। पुलिस ने वाहन चोर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए चोरी की 7 मोटरसाइकिल और अवैध शस्त्रों सहित 3 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है।
पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह के निर्देश पर बिजनौर में अपराध और अपराधी के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत थाना कोतवाली शहर पुलिस को बड़ी सफलता मिली। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर चैकिंग के दौरान चांदपुर चुंगी सिरधनी रोड से तीन अभियुक्त जाहिद, शोएब और सानू को गिरफ्तार कर लिया। उनकी निशानदेही पर चोरी की 7 मोटर साइकिल व अवैध शस्त्र बरामद किए गए हैं। पुलिस का कहना है कि शातिर चोर जनपद बिजनौर के विभिन्न थाना क्षेत्रों से मोटरसाइकिल चोरी कर बेचने का कार्य करते हैं। एसपी सिटी डा. प्रवीण रंजन सिंह ने बताया कि तीनों अभियुक्तों को जेल भेजा रहा है और अन्य विधिक कार्रवाई कराई जा रही है।

बिजनौर में दिनदहाड़े एक और मकान से लाखों की चोरी

इस बार फिर निशाना बना व्यापारी। इससे पहले मेडिकल स्टोर से भी हो चुकी है दिनदहाड़े चोरी की वारदात। हाथ पर हाथ धरे बैठी है पुलिस।

बिजनौर। जिला मुख्यालय पर चोरों का दुस्साहस इतना बढ़ चुका है कि नई बस्ती के अंदर कुछ ही दिनों के अन्तराल पर एक और व्यापारी के घर में लाखों की चोरी को अंजाम दे डाला।

मोहल्ला नई बस्ती में व्यापारी अमित अरोड़ा अपने परिवार के साथ रहते हैं। घर के दूसरे हिस्से में उनके भाई प्रसून अरोड़ा भी रहते हैं। रविवार को उनकी माता संगीता अरोड़ा घर पर मौजूद थी। दोपहर 2:30 बजे वह ताला लगाकर नजदीक ही स्थित आश्रम में चली गईं। शाम 4 बजे घर लौटने पर उनको घर का ताला टूटा मिला। अंदर सभी कमरों, अलमारियों और लाॅकर का ताला टूटा हुआ था और सामान अस्तव्यस्त था। अमित अरोड़ा ने थाना शहर कोतवाली में वारदात की तहरीर दी है। तहरीर के अनुसार चोर घर में रखे अस्सी हजार की नकदी और लाखों की ज्वेलरी ले गए।

व्यापरियों ने जताया रोष
दिनदहाड़े चोरी की वारदात पहली बार नहीं है। कुछ ही दिन पहले नई बस्ती निवासी व्यापारी चिराग अग्रवाल के घर को भी चोरों ने ऐसे ही निशाना बनाया था। उस वारदात का खुलासा करने में पुलिस अभी तक नाकाम रही है। व्यापारियों ने चोरी की वारदातों पर रोष जताते हुए शीघ्र खुलासे की मांग की है।

इससे पहले शुक्रवार शाम साढ़े चार बजे गंज तिराहा नूरपुर रोड स्थित दिनेश मेडिकल स्टोर से ₹20 हजार और कीमती दवाइयां चोरी हो गई। बुलाने पर जाटान पुलिस चौकी से कांस्टेबल संदीप चौधरी और पंकज चौधरी मौके पर पहुंचे और घटनास्थल पर छूटी चोरों की बाइक को उठाकर चौकी ले गए। इस बीच चोरों में से एक अपनी बाइक लेने वहां पहुंचा तो जनता के सहयोग से उसे पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। पीड़ित ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसकी तहरीर अपने पास रख कर मनमुताबिक दूसरी लिखवा ली।

दहेज हत्या के आरोपी सिपाही को बचा रही पुलिस!

बिजनौर। दो दिन पहले पति और ससुराल वालों की प्रताड़ना से विवाहिता की मौत के मामले में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर दर्जनों ग्रामीणों के साथ परिजन थाने पहुंचे। उन्होंने सीओ और कोतवाल से मिलकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

कोतवाली शहर के तिमरपुर के रहने वाले सुनील कुमार की बेटी तनु चौधरी की शादी 11 साल पहले नूरपुर के गांव नंगली पथवारी के रहने वाले विशाल पत्र जयपाल के साथ हुई थी। आरोपी पति विशाल यूपी पुलिस में कांस्टेबल है और वह रामपुर में तैनात है। मृतका के परिजनों का आरोप है कि तनु के ससुराल वाले उसे बहुत प्रताड़ित करते थे और उसके साथ मारपीट भी करते थे, साथ ही दहेज की मांग करते थे। इसी प्रताड़ना के चलते 24 सितंबर को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम हाउस पर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर परिजनों ने काफी हंगामा किया। तब पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर पति विशाल, ससुर जयपाल, ज्योति, पूनम और देवेश के खिलाफ धारा 498 ए 323, 328 और 302 का केस दर्ज कर लिया था। मृतका के भाई मानवेन्द्र चौधरी परिजनों और दर्जनों ग्रामीणों के साथ कोतवाली पहुंचे। शहर कोतवाली और सीओ ऑफिस पहुंचकर सीओ से मिलकर आरोपियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की मांग की। शहर कोतवाली प्रभारी रविंद्र वशिष्ठ ने बताया कि तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर लिया गया है। साक्ष्य संकलन की कार्रवाई की जा रही है, जांच जारी है।

अब बिजनौर में “एक युद्व-नशे के विरुद्ध”


जिला बिजनौर को नशा मुक्त बनाने के लिए “एक युद्व-नशे के विरुद्ध। जिला प्रशासन ने छेड़ा अभियान, समाज के सभी वर्गाें में अभियान को सफल बनाने एवं जनांदोलन का रूप देने के लिए करें सहयोग, नशा जहां एक ओर सामाजिक बीमारी है वहीं दूसरी और अपराध को प्रेरित करने का मुख्य कारक -जिलाधिकारी उमेश मिश्रा
जिले को नशा मुक्त बनाने में सभी का सहयोग अपेक्षित, पुलिस द्वारा नशे का अवैध करोबार करने वालों के विरूद्व अभियान संचालित, अवैध नशे का करोबार करने वाले तथा नशा करने वालों के सम्बन्ध में व्हाट्सऐप नम्बर 8650601010 फोन अथवा मैसेज कर जानकारी कराएं उपलब्ध-पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि नशा मानसिक बीमारी है, नशा करने वाला व्यक्ति मन और शरीर दोनों से बीमार होता है, जो न केवल स्वयं अपने लिए बल्कि अपने परिवार और समाज के लिए भी समस्याग्रस्त होता है। उन्होंने कहा कि नशा मुक्त एवं स्वस्थ समाज निर्माण के लिए सभी को सामुहिक प्रयास करने होंगे और जन आंदोलन के रूप में इस बुराई को खत्म करने के लिए एकजुट होकर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि नशा जहां एक ओर सामाजिक बीमारी है वहीं दूसरी और अपराध के प्रेरित होने का मुख्य कारक है। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी विशेष रूप से छात्र एवं छात्राओं को इस मानसिक बीमारी से बचाने के लिए जागरूक एवं उनकी काउंसलिंग करने तथा उनके लिए स्वस्थ एवं स्वच्छ वातावरण सृजित करने की आवश्यकता है।

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा कलक्ट्रेट स्थित महात्मा विदुर सभागार में स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के सहयोग से आयोजित नशा मुक्ति गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।
जिलाधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन के सहयोग से पुलिस विभाग द्वारा “एक युद्व-नशे के विरूद्व” स्लोगन के साथ नशीली दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ नशा मुक्ति जन जागृति अभियान शुरू किया गया है, जो बिजनौर को नशा मुक्त जिला बनाने के लिए जन सहभागिता के साथ संचालित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस आंदोलन में समाज के सभी वर्गाें को शामिल किया गया है ताकि उसे जन आंदोलन का रूप प्रदान किया जा सके। उन्होंने कहा कि नशा एक बीमारी है तथा नशा करने वाला मानसिक बीमारी से ग्रस्त है। उन्होंने कहा कि समाज में नशे की प्रवृति बढ़ती जा रही है, जिसके कारण युवा पीढ़ी को शारीरिक, मानसिक, आर्थिक व सामाजिक रूप से हानि पहुंच रही है। उन्होंने कहा कि नशे पर काबू पाकर न केवल अपराध कम किये जा सकते हैं, साथ ही समाज प्रगति के पथ पर अग्रसर हो सकता है। उन्होंने कहा कि जिला बिजनौर के लोगों को कर्तव्य के साथ-साथ समाज को नशा मुक्त करने हेतु सजग प्रहरी की भूमिका निभानी होगी।
उन्होंने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि वह सभी विद्यालयों व कॉलेजों में नशे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में पोस्टर, निबंध व स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन करें और अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्र एवं छात्राओं को पुरूस्कृत करें। यह भी कहा कि स्कूल एवं कॉलेजों द्वारा अभिभावकों को भेजे जाने वाले मैसेज में बच्चों को नशे से बचाने के लिए स्लोगन एवं चेतावनी भेजें और उन्हें अपने बच्चों के बैग चैक करने के लिए प्रेरित करें कि उसमें व्हाईट फ्लूड तो नहीं है, क्योंकि छात्र एवं छात्राओं द्वारा उसका प्रयोग नशे के लिए किया जा रहा है। उन्होंने व्हईटनर का दुरूपयोग रोकने के लिए बुक सेलर्स को निर्देश दिए कि बिना अभिभावकों के किसी भी बच्चे को व्हईटनर न दें और कोई दवाई विक्रेता बिना डाक्टर के दवाई के पर्चे के बिना युवाओं को सिरिंज न बेचें। उन्होंने जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देश दिये कि सभी स्कूल व कॉलेजों के प्रधानाचर्याें को निर्देशित करें कि अभिभावकों के साथ बैठक करें तथा नशे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में उन्हें बताएं।

श्री मिश्रा ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि वर्तमान में संचालित संचारित अभियान के अंतर्गत होने वाली बैठकों में नशा मुक्ति अभियान को सफल बनाने के लिए घर-घर भ्रमण वाली टीमों को उक्त सम्बन्ध में आवश्यक प्रशिक्षण उपलब्ध कराएं ताकि वे जन सामान्य को जागरूक और सचेत करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकें।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिले को नशा मुक्त बनाने में सभी का सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा नशे का अवैध करोबार करने वालों के विरुद्ध अभियान संचालित है तथा इसी के साथ युवा पीढ़ी को नशामुक्त करने के लिए काउंसलिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी तथा आवश्यकतानुसार नशा मुक्ति केन्द्र अथवा सुधारगृह में भेजा जा सकता है। उन्होंने जन सामान्य का आह्वान किया कि नशे का करोबार करने वाले तथा नशा करने वाले व्यक्ति के सम्बन्ध में व्हाट्सऐप नम्बर 8650601010 फोन अथवा मैसेज करके उनके बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जा सकती है। उन्होंने आश्वस्त करते हुए कहा कि उक्त नम्बर पर सम्पर्क करने वाले व्यक्ति के सम्बन्ध में जानकारी गोपनीय रखी जाएगी।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 अरविंद कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक डा0 प्रवीण रंजन, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, बेसिक शिक्षा अधिकारी जयकरण यादव, सहित डाक्टर्स, अधिवक्ता, व्यापारी संगठन, लायंस एवं रोटरी क्लब के प्रतिनिधि सहित अन्य संभ्रांत लोग उपस्थित थे।

टिक-टॉक प्रेमी पुलिस कर्मी की सीओ ने निकाली गर्मी

टिक-टॉक प्रेमी पुलिस कर्मी की सीओ ने निकाली गर्मी बिजनौर। चांदपुर थाने में तैनात पुलिस कर्मी के टिक-टॉक प्रेम की गर्मी सीओ ने निकाल दी है। वर्दी पहनकर फिल्मी गानों की रील बनाकर वीडियो वायरल करने वाले को अब घर बैठना होगा। दरअसल चांदपुर थाने में तैनात मुख्य आरक्षी पुष्पेन्द्र कुमार पर आरोप था कि वह वर्दी पहन कर थाने में ड्यूटी के दौरान अलग अलग फिल्मी गानों की रील बना कर सोशल मीडिया साइट टिक-टॉक पर अपलोड करता है। मामला सीओ के दरबार में आया तो जांच शुरू हुई। अंततः परिणाम यह निकला कि मुख्य आरक्षी पुष्पेन्द्र कुमार पुलिस विभाग की छवि धूमिल करने के साथ-साथ उच्चाधिकारीगण के आदेशों की अवहेलना एवं अनुशासनहीनता को प्रदर्शित करता है। इस कारण आज दिनांक 25 सितम्बर 2022 को पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने उक्त मुख्य आरक्षी को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है।

ये है पुलिस विभाग की आख्या___

नाम – पुष्पेन्द्र कुमार
पद – मुख्य आरक्षी
पीएनओ – 052021897
तैनाती – थाना चांदपुर
क्षेत्राधिकारी चांदपुर, जनपद बिजनौर द्वारा प्रस्तुत जांच आख्या दिनांकित 25.09.2022 के माध्यम से संज्ञानित तथ्य कि थाना चांदपुर, जनपद बिजनौर पर ड्यूटी के दौरान थाना कार्यालय में बावर्दी बैठकर अलग-अलग कई फिल्मी गानों पर रील बनाकर पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश के परिपत्र संख्याः 08/2017 दिनांकित मार्च 28, 2017 व परिपत्र संख्याः 53/2018 दिनांकित 04.10.2018 में निहित निर्देशों को दरकिनार करते हुए इसकी सोशल मीडिया पर टिक-टॉक की वीडियो वायरल होने का कृत्य पुलिस विभाग की छवि धूमिल करने के साथ-साथ उच्चाधिकारीगण के आदेशों की अवहेलना एवं अनुशासनहीनता को प्रदर्शित करता है। अतः आज दिनांक 25 सितम्बर 2022 को पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा उक्त मुख्य आरक्षी को तत्काल प्रभाव से निलम्बित किया जाता है।

अपनों को ही चूना लगाकर परिवार समेत फंसे भाजपा नेता!

नेता जी ने अपनों को ही लगा दिया चूना! कोर्ट के आदेश पर नेता जी समेत परिवार के 6 सदस्यों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज

साभार~खबर प्रवाह

काशीपुर। फर्जी हस्ताक्षर कर जमीन हड़पने के मामले में भाजपा नेता और रामलीला कमेटी के मंत्री अनूप अग्रवाल उनके भाइयों समेत परिवार की तीन महिलाओं के खिलाफ न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला इनकी करीबी रिश्तेदार बताई जा रही है।

काशीपुर के चामुंडा विहार निवासी पुष्पा अग्रवाल पत्नी स्व. महेश कुमार अग्रवाल ने अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर कहा कि उसके पति महेश कुमार अग्रवाल एवं केशव शरण अग्रवाल दोनों सगे भाई एक ही परिवार के सदस्य थे। उसके पति का लगभग 11 वर्ष पूर्व स्वर्गवास हो चुका है। केशव शरण अग्रवाल उसके पति के सगे बड़े भाई थे जो कि समाज के एक प्रभावशाली व्यक्ति रहे हैं। उनका स्वर्गवास 29 सितंबर 2021 को हो गया। स्व. केशव शरण अग्रवाल घर के बड़े कार्यकर्ता थे तथा परिवार में उनका दबदबा रहता था। परिवार का प्रबन्धन केशव शरण किया करते थे। उसके पति 4.9020 हेक्टेयर भूमि ग्राम कचनाल गुसाई के सहखातेदार काबिज चले आते रहे हैं। उनकी मृत्यु के पश्चात पीड़िता उक्त भूमि के सहखातेदार होती है। 20 जून 2021 को वह (पुष्पा अग्रवाल) अपनी जमीन को बेचने हेतु खतौनी आदि कागजात लेने तहसील गई। तब पता चला कि उसके हिस्से की शेष सात एकड़ भूमि फर्जी तरीके से अपने पुत्र एवं पुत्रवधुओं के नाम बिना उसके पति स्व. महेशचन्द्र अग्रवाल की राय से उनके स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति को खड़ा करके तथा स्वयं एवं अपनी पत्नी उर्मिला अग्रवाल को गवाह के रूप में खड़ा करके उक्त भूमि को अलग अलग ग्यारह बैनामे रजिस्टर्ड करवा कर अपने नाम करवा लिये। रजिस्ट्रार कार्यालय से अपने अधिवक्ता के माध्यम से उक्त बैनामों की खोजबीन करवाई तो 26 जून 2021 को उक्त बैनामे की प्रतिलिपियां प्राप्त हुई। सभी बैनामों पर अभियुक्तों ने हमसाज होकर उसके पति की सम्पत्ति को हड़पने के इरादे से फर्जी हस्ताक्षर एवं अंगूठे लगाकर बैनामे करवाये हैं। उक्त बैनामों से सर्किल रेट से कहीं कम कीमत दर्शायी गई है तथा आबादी की भूमि को खेती की भूमि दर्शाया गया है, जिससे सरकारी स्टाम्प की चोरी भी किया जाना दर्शाता है। अभियुक्त अजय अग्रवाल, अनूप अग्रवाल (भाजपा नेता और रामलीला कमेटी के मंत्री) पुत्रगण स्वर्गीय केशव शरण अग्रवाल, प्रीति अग्रवाल पत्नी अजय अग्रवाल, अर्चना अग्रवाल पत्नी अतुल अग्रवाल, उर्मिला अग्रवाल पत्नी केशव शरण अग्रवाल, अतुल अग्रवाल पुत्र स्वर्गीय केशव शरण अग्रवाल ने हमसाज होकर बैनामे करवाए हैं। बैनामों में किसी भी स्वतंत्र साक्षी के हस्ताक्षर नहीं कराए गए। इससे यह स्पष्ट है कि अभियुक्तगण ने उक्त बैनामे, उसके पति के स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति को खड़ा करके निष्पादित करवा लिये हैं। पीड़िता ने इस मामले में 18 अगस्त 2021 को काशीपुर पुलिस को तहरीर दी। इसके बाद 10 सितंबर 2021 को एक प्रार्थना पत्र एसएसपी तथा अन्य पुलिस अधिकारियों को दिया गया, किन्तु पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। इसके बाद पीड़िता ने न्यायालय की शरण ली। न्यायालय ने प्रार्थना पत्र का संज्ञान लेते हुए कोतवाली पुलिस को इस मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच के आदेश दिए। कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के निरीक्षण को पहुंचे डीएम एसपी

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के निरीक्षण को पहुंचे डीएम एसपी

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा व पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने थाना मंडावर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम राजारामपुर के निकट बाढ़ प्रभावित क्षेत्र, गंगा के जल प्रवाह, गंगा द्वारा किये गये मिट्टी कटान आदि का निरीक्षण किया।

इस दौरान वर्तमान में चल रही लगातार बारिश तथा गंगा के जलस्तर बढ़ने के कारण क्षेत्रवासियों को गंगा के आसपास न जाने तथा नाव द्वारा गंगा पार करके पशुओं आदि के लिये चारा न लाने के सम्बन्ध में जागरूक किया गया।

मेडिकल स्टोर से दिनदहाड़े ₹ 20 हजार की चोरी

बिजनौर। जिला मुख्यालय पर चोरों के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि दिनदहाड़े वारदात को अंजाम देने से बाज नहीं आते। ऐसा ही एक वाकया शुक्रवार शाम साढ़े चार बजे गंज तिराहा नूरपुर रोड स्थित दिनेश मेडिकल स्टोर पर हुआ। मोहल्ला शिवाजी नगर निवासी मेडिकल स्टोर स्वामी दिनेश कुमार शर्मा वहां पहुंचे तो देखा कि दो व्यक्ति गल्ले से रुपए चुरा रहे हैं। उन्हे देख कर दुकान का शीशा तोड़ते हुए फरार हो गए। इस दौरान चोर अपनी मोटर साइकिल यूपी 20 बीसी 3577 वहीं छोड़ गए। डायल 112 व्यस्त होने के कारण जाटान पुलिस को फोन कर सूचना दी गई। थोड़ी देर बाद जाटान पुलिस चौकी से कांस्टेबल संदीप चौधरी और पंकज चौधरी मौके पर पहुंचे। पूछताछ करने के बाद पुलिस बाइक को उठाकर चौकी ले गई। इस बीच चोरों में से एक अपनी बाइक लेने वहां पहुंचा तो जनता के सहयोग से उसे पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। पीड़ित ने पुलिस को दी लिखित तहरीर में अवगत कराया कि उसके गल्ले से ₹20 हजार और कीमती दवाइयां चोरी हुई हैं। उक्त रुपए उन्होंने आयुष नर्सिंग होम के आक्सीजन सिलेंडर के लिए रखे हुए थे। पीड़ित ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसकी तहरीर अपने पास रख कर मनमुताबिक दूसरी लिखवा ली।

नशे के विरूद्ध चलाया जा रहा विशेष अभियान ”नया सवेरा”

नशा करने वालों को नशे की रात से निकालकर उनके जीवन में ”नया सवेरा” साकार करना एवं नई सुबह का अवतरण करना है उद्देश्य। मेडिकल स्टोर संचालकों से किया नशे की इस प्रवृत्ति पर रोक लगाने में पुलिस की मदद करने का अनुरोध।

बिजनौर। रिजर्व पुलिस लाइन में नशे के विरूद्ध चलाए जा रहे ”नया सवेरा” अभियान के दृष्टिगत जनपद में संचालित मेडिकल स्टोर संचालकों के साथ संवाद गोष्ठी की गई।

गोष्ठी में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने कहा कि नया सवेरा अभियान का उद्देश्य नशा बेचने वालों को चिन्हित करते हुए उनकी गिरफ्तारी सुनिश्चित करना है तथा नशे के प्रति संवेदनशील रवैया अपनाते हुए समाज व समुदाय का सहयोग लेते हुए नशा करने वालों को नशे की रात से निकालकर उनके जीवन में ”नया सवेरा” का साकार करना एवं नई सुबह का अवतरण करना है। समाज में नशे की प्रवृत्तियां तेजी से बढने के कारण यह हम सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है कि जो युवा इस नशे के दलदल में फंसे है उन्हें चिन्हित कर इस दलदल से निकालने/सुधारने का काम करेंगे।

मेडिकल स्टोर संचालकों से अनुरोध: एसपी ने कहा कि अधिकतर युवा इंजेकशन/टेबलेट जैसी नशे की दवाएं मेडिकल स्टोर से खरीदते हैं। मेडिकल स्टोर पर दवाई बेचने वालों से आग्रह किया कि ऐसे युवाओं को चिन्हित करें तथा ऐसी दवा जो नशे के लिए उपयोग किये जाते हैं, उन्हें विक्रय न करें। उन्होंने सभी मेडिकल स्टोर संचालकों से अनुरोध किया कि नशे की इस प्रवृत्ति पर रोक लगाने में पुलिस की मदद करें।

नशा ही ले जाता है अपराध की दलदल में…उन्होंने कहा कि नशा मनुष्य को दलदल में ले जाता है और उससे अपराध कराता है और उस अपराध से हम सभी प्रभावित होते हैं। ये नशा ही है जो उसे अपराध के कुचक्र में फंसाता है।’’

मौजूद रहे 300 मेडिकल स्टोर संचालक: गोष्ठी में जनपद बिजनौर के विभिन्न थाना क्षेत्रों से करीब 300 मेडिकल स्टोर संचालकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। कई मेडिकल स्टोर संचालको द्वारा अपने विचार रखे गए तथा पुलिस द्वारा नशे के विरूद्ध चलाई जा रही मुहीम को सफल बनाने के लिए प्रतिबद्धता जताई गई। अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ. प्रवीन रंजन सिंह मौजूद रहे।

धामपुर प्रशासन ने किए अवैध खनन में 6 डंपर सीज

धामपुर पुलिस प्रशासन ने अवैध खनन में 6 डंपर सीज किए। अफजलगढ़ में तीन, शेरकोट में 2 और एक डंपर को धामपुर क्षेत्र में पकड़ा।

बिजनौर। धामपुर क्षेत्र में शासन के निर्देश पर अवैध खनन और ओवरलोड वाहनों के खिलाफ पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने चेकिंग अभियान चलाया। तहसील क्षेत्र में अवैध रूप से ओवरलोड खनन सामग्री ले जा रहे 6 डंपरों को सीज किया गया। जिले में अवैध ओवरलोड खनन सामग्री लाने और ले जाने की शिकायत लगातार जिला प्रशासन को मिल रही थी। अभियान के तहत 6 ओवरलोड अवैध रूप से खनन ले जा रहे डंपर को टीम ने पकड़कर सीज कर दिया। उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जा रही है।

एसडीएम धामपुर मनोज कुमार सिंह ने बताया कि डीएम और एसपी के निर्देश पर यह अभियान चलाया गया है। इस अभियान में अवैध रूप से खनन सामग्री ले जा रहे तीन डंपरों को अफजलगढ़ में पकड़ा गया है, जबकि दो डंपरों को शेरकोट और एक डंपर को धामपुर क्षेत्र में पकड़ा गया है। कुल 6 डंपरों को अभी तक पकड़ा गया है। अभियान लगातार जारी है।

महिला सुरक्षा बिजनौर पुलिस के लिए सर्वोपरि: एसपी दिनेश सिंह

मिशन शक्ति की सफलता को लेकर पुलिस विभाग तत्पर: एसपी दिनेश सिंहएसपी सिटी प्रवीण रंजन सिंह ने भी सभी महिला पुलिस कर्मचारियों व थानाध्यक्षों को दिए टिप्स।

बिजनौर। मिशन शक्ति कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पुलिस लाइन सभागार में विशेष आयोजन किया गया। इसमें जिले भर की महिला पुलिसकर्मियों व महिला थानाध्यक्षों ने भाग लिया। इस दौरान सभी महिलाओं को सुरक्षा और समय से इंसाफ दिलाने के लिए प्रदेश सरकार की मंशानुरूप सभी थानों में हो रहे कार्य के संबंध में जानकारी हासिल की गई।

मिशन शक्ति कार्यक्रम को लेकर एसपी दिनेश सिंह ने सभी मिशन शक्ति महिला पुलिसकर्मी से कार्यक्रम के बारे में जाना। साथ ही सभी थानों में महिला पुलिस कर्मियों द्वारा महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था व कानून व्यवस्था को देखते हुए मिशन कार्यक्रम चलाने से संबंधित बातचीत की गई।

सभी मिशन शक्ति कर्मियों को महिला थानाध्यक्ष द्वारा जागरूक करने का भी काम किया गया। एसपी सिटी प्रवीण रंजन सिंह ने भी इसे उत्तर प्रदेश सरकार का प्राथमिक मिशन बताते हुए सभी महिला पुलिस कर्मचारियों व महिला थानाध्यक्षों को टिप्स दिए। किसी भी महिला को जल्द से जल्द कैसे न्याय मिले इसके लिए सभी इस कार्यक्रम से जुड़े, पुलिसकर्मी महिलाओं को टिप्स दिए गए। एसपी ने बताया कि मिशन शक्ति कार्यक्रम को सुचारू रूप से चलाने के लिए बिजनौर जिले की पुलिस तत्पर है। इस मिशन की प्रमुखता को देखते हुए जो भी कमियां हैं, उसको सुधारने के लिए गोष्ठी का आयोजन किया गया।

10 दिन की दुल्हन के हत्यारोपी पति, ससुर पुलिस के हत्थे चढ़े

बिजनौर। बढ़ापुर के भोगपुर निवासी नीलम हत्याकांड मामले में पुलिस ने नामजद आरोपी पति बिंदर उर्फ बलविंदर और उसके ससुर गुरनाम को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों को न्यायालय के सामने पेश किया गया। कोर्ट ने दोनों को जेल भेज दिया। मामले के आरोपी सास और देवर फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी हुई है।

प्रेम विवाह की दु:खद परिणति।  डोली उठने के 10 दिन बाद ही दुनिया से विदा हो गई थी दुल्हन दहेजलोभी ससुरालियों ने विवाहिता को जहर देकर उतारा था मौत के घाट।

गौरतलब है कि बढ़ापुर थाना क्षेत्र के गांव भोगपुर निवासी जरनैल सिंह पुत्र गुरबचन सिंह की बेटी नीलम कौर का विवाह 9 सितम्बर 2022 को गांव के ही बिंदर सिंह पुत्र गुरनाम सिंह के साथ हुआ था। जरनैल सिंह ने थाने में दी तहरीर में बताया था कि बेटी की शादी में उसने अपनी क्षमता के अनुसार दान दहेज दिया था। इसके बावजूद शादी के एक दिन बाद ही उसकी बेटी के ससुराल वाले दहेज में दो लाख रुपए नगद और बुलेट मोटरसाइकिल की मांग करने लगे। आरोप है कि दहेज की मांग पूरी न होने पर उसकी बेटी नीलम कौर को लगातार प्रताड़ित किया जाने लगा। रविवार शाम नीलम के पति बिंदर सिंह, देवर सोनू सिंह, ससुर गुरनाम सिंह व सास गुरमीत कौर चारों ने मिलकर उसे जहर देकर मार डाला। घटना की सूचना पड़ोसी ने फोन कर उन्हें दी। जब उन्होंने मौके पर जाकर देखा तो उनकी बेटी का शव घर के बाहर आंगन में चारपाई पर पड़ा था और ससुराल पक्ष के सभी लोग फरार हो चुके थे।

पुलिस ने मृतका के पिता की तहरीर के आधार पर उक्त चारों आरोपियों के विरुद्ध मु.अ.सं. 208/22 धारा 498A/304B भादवि व धारा 3/4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही मृतका के शव को पंचनामा भरने के बाद पीएम के लिये भेज दिया। उधर बताया गया है कि पत्नी नीलम की मृत्यु हो जाने के बाद उसके पति बिंदर सिंह ने भी जहर का सेवन कर लिया। परिजन उपचार के लिये उसे काशीपुर ले गए थे। बताया गया है कि नीलम और बिंदर के बीच प्रेम संबंध चल रहे थे। जानकारी होने पर परिजनों ने आपसी सहमति पर दोनों का विवाह कर दिया था।

चप्पल पहनकर बाइक चलाई तो कटेगा चालान

कुछ यातायात नियम ऐसे हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है। वाहन चालक को लगता है कि वह सभी नियमों का पालन करते हुए सफर कर रहे हैं। उन्हें पता नहीं होता कि वह यातायात नियम का उल्लंघन कर रहे हैं।

नई दिल्ली। मोटर वाहन चलाने वालों को यातायात से जुड़े सभी जरूरी नियमों का पालन करना चाहिए। इससे दो फायदे होंगे, पहला यह कि सुरक्षित यातायात का माहौल बन सकेगा और दूसरा यह कि पुलिस आपका चालान नहीं काटेगी। यातायात से जुड़े नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस द्वारा चालान काटा जाता है, जुर्माना काफी ज्यादा भी हो सकता है। इसके अलावा कुछ मामलों में जेल भी जाना पड़ सकता है। ऐसे में अगर आप चाहते हैं कि आपका चालान ना कटे तो यातायात नियमों का पालन करें।

चप्पल पहनकर नहीं चला सकते टू-व्हीलर

मौजूदा यातायात नियमों के अनुसार, स्लीपर्स या ‘चप्पल’ पहनकर टू-व्हीलर चलाने की इजाजत नहीं है। इस बारे में शायद बहुत ही कम लोगों को पता है। इसके पीछे कारण यह है कि इस तरह के फुटवियर की वजह पकड़ कमजोर होती है और पैर फिसल सकते हैं। इसके अलावा मोटरसाइकिल पर गियर शिफ्ट करते समय, इस बात की पूरी संभावना है कि इस तरह के फुटवियर से पैर फिसल सकता है और दुर्घटना हो सकती है। इसलिए टू-व्हीलर चलाते समय पूरी तरह से बंद जूते पहनने जरूरी हैं। ऐसा नहीं करने पर 1000 रुपए का जुर्माना लग सकता है।

टू व्हीलर चलाते समय पर ड्रेस कोड
टू व्हीलर चलाते समय ड्राइवर को प्रॉपर ड्रेस कोड का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी है। जैसे मोटरसाइकिल चलाते वक्त पैंट, शर्ट या टीशर्ट पहनना चाहिए। ये शरीर को पूरी तरह से कवर कर देते हैं। किसी भी हादसे की स्थिति में ये कपड़े शरीर को कुछ हद सुरक्षित रख सकते हैं। अगर आप इस नियम की अनदेखी करते हैं तो आपका 2000 रुपए तक चालान कट सकता है। इसलिए बाइक चलाते वक्त इस नियम का पालन जरूर करें। इसके अलावा, अगर सामान्य नियमों की बात करें तो बाइक पर हेलमेट न पहनने को लेकर 1000 रुपए का जुर्माना लगता है। वहीं, बाइक से जुड़े दस्तावेज नहीं होने पर भी हजारों रुपए का जुर्माना लग सकता है।

सक्सेना जी ने तो कटा लिया चालान, लेकिन अब सो रही पुलिस!

गाड़ी पर जाति लिखवाने पर करनी थी कार्रवाई।
UP में ‘Saxena Ji’ के नाम दिसंबर 2020 में कटा था पहला चालान। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर लगाया था प्रतिबंध।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में गाड़ियों पर जातिसूचक शब्द लिखवाने पर कड़ी कार्रवाई ठंडे बस्ते में गई है। दिसंबर 2020 में किसी भी गाड़ी पर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने पर रोक लगा दी गई थी। इस नए आदेश के अनुपालन में प्रदेश का पहला चालान राजधानी में कानपुर के “सक्सेना जी” की गाड़ी का काटा गया था। पीएएमओ के निर्देश के बाद यूपी सरकार ने गाड़ियों पर जाति या धर्मसूचक स्टिकर लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

बताया गया है कि महाराष्ट्र के एक शिक्षक ने उत्तर प्रदेश में कार, बाइक, ट्रक, ट्रैक्टर और ई-रिक्शा पर जाति सूचक शब्द लिखे होने का मामला उठाते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की थी। उन्होंने इसे सामाजिक खतरा बताया था।शिकायत का संज्ञान लेते हुए पी.एम.ओ. ने उत्तर प्रदेश सरकार को कार्यवाही करने के आदेश दिए। आदेश का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के अपर परिवहन आयुक्त ने धारा 177 के तहत कार्यवाही करने के आदेश जारी किए। तत्कालीन प्रभारी निरीक्षक सुजीत दुबे के मुताबिक थाना नाका हिन्डोला अंतर्गत दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन चेक पोस्ट पर वाहनों की चेकिंग कर रहे सब इंस्पेक्टर दीपक कुमार अशोक ने कार पर लिखे ‘जाति सूचक’ शब्द पर पहला चालान किया।

क्या कहा था पुलिस आयुक्त ने?
पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर के अनुसार एक वैन नाका थाना क्षेत्र से होकर कानपुर की ओर जा थी। इस पर नंबर कानपुर का दर्ज होने के साथ ही पीछे शीशे पर “सक्सेना जी” लिखा था। इस दौरान एसआई दीपक कुमार ने वाहन चेकिंग अभियान के तहत गाड़ी को रोका और चालान कर दिया।

वीडियो भी हुआ था वायरल
लखनऊ में वाहनों पर जातिसूचक शब्द लिखे जाने पर कार्रवाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में एक पुलिस कर्मी पहले नए आदेश को गाड़ी चालक को समझता है जिसकी गाड़ी पर ‘सक्सेना जी’ लिखा होता है, फिर कहता है कि वह उसकी गाड़ी का चालान कर रहा है। इसके बाद पुलिसकर्मी 500 रुपए का चालान काट देता है।

पूरे प्रदेश में नियमों की अनदेखी: फिलहाल पूरे उत्तर प्रदेश में यातायात के नियमों की अनदेखी की जा रही है। वाहन चालक खुलेआम कानून की धज्जियां उड़ाते हुए घूम रहे हैं, लेकिन विभाग उदासीन है।

ब्लॉक प्रमुखी जीतने को खर्च किए ₹3 करोड़, वायरल ऑडियो पर शिकायत

अलीगंज ब्लॉक प्रमुख रेखा शाक्य के पति डॉ. अशोक रतन शाक्य के कथित वायरल ऑडियो को लेकर अधिकार सेना के राष्ट्रीय संयोजक रिटायर्ड आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने शासन में शिकायत की है। साथ ही इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो भी उन्होंने जारी किया है। यह भी कहा गया कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव जीतने के लिए तीन करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

ब्लॉक प्रमुख पति के कथित वायरल ऑडियो पर अमिताभ ठाकुर ने की शिकायत
एटा। अलीगंज ब्लॉक प्रमुख रेखा शाक्य के पति डॉ. अशोक रतन शाक्य के कथित वायरल ऑडियो को लेकर अधिकार सेना के राष्ट्रीय संयोजक अमिताभ ठाकुर ने शासन में शिकायत की है। साथ ही इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो भी उन्होंने जारी किया है। हालांकि ब्लॉक प्रमुख के पति इसे अपना ऑडियो मानने से इनकार कर रहे हैं।

भाजपा विरोधी, यादव और मुसलमानों को नहीं देंगे कोई काम: ब्लॉक प्रमुख की फोन कॉल का कथित ऑडियो सोमवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसमें फोन पर उनकी बात कानपुर नगर के रवि द्विवेदी से होती है। बातचीत के दौरान ब्लॉक प्रमुख पति के नाम से व्यक्ति कहता है कि हम भाजपा विरोधी, यादव और मुसलमानों को कोई काम नहीं देंगे। साथ ही अभद्र भाषा का प्रयोग भी किया गया।

जांच कराकर कार्रवाई की मांग: यह भी कहा गया कि ब्लॉक प्रमुख चुनाव जीतने के लिए तीन करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इसी को लेकर अमिताभ ठाकुर ने मुख्यमंत्री सहित पीएमओ, गृह मंत्रालय, आयकर विभाग व ईडी के अधिकारियों को शिकायत भेजी है। कहा है कि मामला काले धन और कर चोरी से जुड़ा है और आपराधिक कृत्य का मामला है। इस पर जांच कराकर कार्रवाई की जानी चाहिए।

राजनैतिक आका के दम का दम: दो का कर दिया काम, अब रह गया है एक और…

इसे राजनैतिक आका के दम का दम ही कहा जाएगा कि बिजनौर के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में पेट्रोल पंप के सामने युवक की जान लेने की कोशिश करने हमलावरों के हौसले बुलंद हैं। एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को भी जमकर पीटने वाले कहते घूम रहे हैं कि दो का कर दिया काम, अब रह गया है एक और…। उधर मुखबिरी करने वाले को भी फंसने का अंदेशा हुआ तो उसने भी सारे घोड़े खोल लिए।

बिजनौर। पुलिस की हीलाहवाली के चलते जिला मुख्यालय के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले के आरोपी छुट्टा घूम रहे हैं।राजनैतिक आका की शरण में पहुंचने के बाद जहां हमलावर अपने बुलंद हौसलों के साथ किसी नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं, वहीं पुलिस भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

14 सितंबर को कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने महावीर स्कूल व पेट्रोल पंप के बाहर दिल्ली से आए युवक की जान लेने की कोशिश की गई। युवक जन्मदिन मनाने अपने घर आया हुआ है। कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। थाना शहर कोतवाली पुलिस ने घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

गौरतलब है कि दिल्ली में रहकर इंटीरियर डेकोरेशन का काम करने वाला सजल कुमार 14 सितंबर को जन्मदिन होने के कारण अपने घर ग्राम कम्भौर आया हुआ था। सजल ने अपने मित्रों को बर्थडे पार्टी के तौर पर कुल्फी खिलाने के लिए सिविल लाइंस प्रथम स्थित महावीर स्कूल व पेट्रोल पम्प (कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने) बुलाया। इसी दौरान कम्भौर के ही एक युवक ने सजल से बातचीत की और मोबाइल फोन पर किसी से बात करने लगा। कुछ ही देर में जमालपुर, चौकपुरी व छोइया नंगली निवासी कुछ युवक अपने 5-6 साथियों के साथ वहां पहुंचे और सजल को और जान से मारने की नीयत से मारपीट शुरू कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर आराम से फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। वहीं पेट्रोल पंप व अन्य सीसीटीवी कैमरों में घटना कैद हो गई है। यही नहीं उक्त वारदात को अंजाम देने के कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। पुलिस को दी गई तहरीर में शुभम निवासी जमालपुर, मयंक चौधरी निवासी चौकपुरी व तरुण चौधरी निवासी छोइया नंगली व 5-6 अन्य अज्ञात पर घटनाओं का आरोप लगाया गया। सूचना पर थाना शहर कोतवाली पुलिस ने जिला संयुक्त चिकित्सालय में घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर लगा प्रश्नचिन्ह अब भी बरकरार है।

रहस्यमई महिला पुलिस कांस्टेबल: जानकारों का कहना है कि घटना के वक्त मौजूद एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। इसके बावजूद उसने अब तक थाना चौकी पुलिस को घटना की बाबत कोई जानकारी नहीं दी ही।

राजनैतिक आका का हमलावरों को अभयदान: सूत्रों का कहना है कि मामले में राजनैतिक आका ने हमलावरों को अभयदान दे दिया है। उन्हें पूरा विश्वास दिलाया गया है कि पुलिस कुछ भी नहीं बिगाड़ सकती। इसलिए वे अब और भी ज्यादा खूंखार होकर नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में शिकार की तलाश कर रहे हैं। वैसे राजनैतिक आका भी कृष्ण जन्म भूमि में अंदर बाहर के खेल से बखूबी परिचित हैं।

चांदपुर पुलिस के हत्थे चढ़े 3 शातिर चोर

चांदपुर पुलिस ने किया शातिर चोर गिरोह का पर्दाफाश। चोरी के 31 मोबाइल फोन,7 बैटरी, चोरी के तार, आभूषण व अवैध शस्त्र बराम

बिजनौर। पुलिस ने तीन शातिर चोर गिरोह का भंडाफोड़ किया है। उनके कब्जे से चोरी के 31 मोबाइल फोन,7 बैटरी, चोरी के तार, आभूषण व अवैध शस्त्र बरामद किए गए हैं। जनपद बिजनौर के थाना चांदपुर क्षेत्र में शातिर चोर चोरी की घटना को अंजाम देकर मौके से फरार हो जाते थे। मंगलवार को स्वाट/सर्विलांस टीम व थाना चांदपुर पुलिस ने शातिर चोर गैंग गिरोह का भंडाफोड़ किया।

एसपी ग्रामीण राम अर्ज ने पुलिस लाइंस में प्रेस वार्ता कर घटना का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि अभियुक्त गुलजार, रामपाल, अजय सैनी को चोरी के 31 मोबाइल फोन, 07 बैट्री, चोरी के तार, आभूषण व अवैध शस्त्रों सहित गिरफ्तार किया गया है। प्रेस कांफ्रेंस में सीओ चांदपुर सुनीता दहिया तथा इंस्पेक्टर भी मौजूद थे।

तहसीलकर्मियों ने दलित की जमीन कर दी दूसरों के नाम!

बिजनौर। सरकारी कर्मचारियों के खेल भी निराले हैं। कभी भी, कहीं भी और कुछ भी कर दें, पता नहीं। बाप बड़ा न भइया, सबसे बड़ा रुपैया के सिद्धांत पर ही होता है काम। ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया है। तहसील बिजनौर के  तीन लेखपालों व एक राजस्व निरीक्षक ने भारी भरकम रकम डकार कर करोड़ों की जमीन पर अन्य लोगों का कब्जा करा दिया।

पीड़िता ऊषा के अनुसार उसके दादा छज्जू सिंह पुत्र ज्ञाना निवासी ग्राम फिरोजपुर मान्डू परगना दारानगर तहसील व जिला बिजनौर, अनुसूचित जाति से चमार थे। उनके एकमात्र पुत्र तेजा सिंह उर्फ तेजपाल थे। तेजा सिंह ऊषा के पिता थे। ऊषा के दादा द्वारा छोड़ी गई आराजी काश्त उसकी माता व भाई के नाम बतौर वारिस आनी चाहिए थी। आरोप है कि विरेन्द्र पाल लेखपाल, पवन लेखपाल, सहजराम लेखपाल व प्रमोद कुमार सैनी राजस्व निरीक्षक ने कागजात में हेराफेरी करके फर्जी तरीके से पीड़िता की पुश्तैनी जमीन अन्य व्यक्तियों के नाम कर दी।

कागजात में हेराफेरी कर जमीन की दूसरों के नाम- महिला ने आरोप लगाया कि उक्त सरकारी कर्मचारियों ने कागजात में हेराफेरी कर उसकी दादिलाही जमीन प्रमोद, आमोद पुत्रगण जसबन्त सिंह निवासी मौ0 नई बस्ती-14 निकट करबला थाना को0 शहर जिला बिजनौर, चेतन पुत्र प्रीतम निवासी ग्राम लखपत नगर थाना कोतवाली शहर जिला बिजनौर, नौबहार, महावीर, सोहन, मोहन पुत्रगण मूला निवासी ग्राम मुन्डूपुर थाना-को०शहर जिला बिजनौर, बलजोर पुत्र गिरवर निवासी ग्राम लक्खीवाला थाना-को०शहर जिला बिजनौर, बलवीर पुत्र गरीबा निवासी ग्राम लक्खीवाला थाना को०शहर जिला बिजनौर, राजीव, संजीव पुत्रगण मुनेशवर, नीरज पुत्र तपेशवर नि०गण ग्राम  पृथ्वीपुर थाना को०शहर जिला बिजनौर के नाम कर दी। पीड़िता ने बताया कि उसके दादा व पिता ने अपनी आराजी काश्त का बैनामा कभी भी किसी के नाम नहीं किया।

आखिर क्या है मामला? छज्जू सिंह पुत्र ज्ञाना के खसरा सं0- 72/1, 173/1, 50/6, 52/1, 53, 54/1, 95/1, 109/1 में 9 बीघा पक्की यानी 27 बीघा जमीन थी। मौजा दारानगर बी0ए0 परगना दारानगर तहसील व जिला बिजनौर में खसरा नं0- 336, 337 में आम का बाग भी उनके हिस्से में ही था। छज्जू सिंह व उनके पुत्र तेजा सिंह उर्फ तेजपाल की मृत्यु के बाद उक्त जमीन उनके पुत्रों के नाम बतौर वारिसान दर्ज होनी थी। आरोप है कि सरकारी कर्मचारियों व आरोपित ग्रामीणों ने आपस में हमसाज होकर  कागजात में हेराफेरी करके छज्जू पुत्र ज्ञाना नाम का फायदा उठाकर महिला की पुश्तैनी जमीन छज्जू सैनी पुत्र गरीबा निवासी ग्राम लक्खीवाला के नाम करवा दी। पीड़िता व परिजनों को इस बात की भनक तक न हुई कि आरोपियों ने माल कागजात में हेराफेरी करके उपरोक्त व्यक्तियों के नाम दर्ज कर दिये हैं। जब ऊषा ने अपनी आराजी काश्त की नकल ली, तब मामला सामने आया।

काम के बदले मांगी रिश्वत- पीड़िता ने बताया कि इस बात को लेकर वह राजस्व निरीक्षक प्रमोद कुमार से मिली तो उसने दादा व पिता द्वारा छोड़ी गई जमीन उसकी मां व भाइयों के नाम करने की एवज में 50 हजार रुपए मांगे। इस बात की शिकायत उच्च अधिकारियों से की तो उक्त सभी उससे रंजिश रखने लगे। यह भी आरोप है कि अधिकारियों ने भी कोई सही कार्यवाही आज तक नहीं की।

घर में घुसकर पीटा, तोड़फोड़- 06 जुलाई 2020 को सुबह 7 बजे प्रमोद, आमोद, चेतन, महावीर, सोहन, मोहन व विरेन्द्र पाल, सहजराम, बलजोरा, प्रमोद कुमार सैनी, संजीव, नीरज और राजीव, बलवीर ने ऊषा की उसके घर में घुसकर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए जमकर पिटाई की। इस दौरान हमलावर उच्च अधिकारियों से शिकायत करने पर उसके भाइयों को जान से मारने की धमकी देते रहे। उन्होंने उसके घर के सामान को तोड़फोड़ कर तहसनहस कर दिया। शोर सुनकर पहुंचे नरेश, निधि व बहुत से लोगों ने उस को बचाया।

पुलिस अधीक्षक को सौंपा कोर्ट का आदेश: पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह को प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराया कि उसने अपनी रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए उपरोक्त मुल्जिमान के विरूद्ध थाना कोतवाली शहर बिजनौर को एक प्रार्थना पत्र दिया था, लेकिन उस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई। तत्कालीन पुलिस अधीक्षक बिजनौर को भी प्रार्थना पत्र दिया लेकिन उस भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। इसके बाद न्यायालय में एडीजे कोर्ट नं- 2 बिजनौर परिवाद सं.- 36/20 उषा बनाम प्रमोद आदि दायर किया था। इस पर न्यायालय ने दिनांक 05-04-2022 को उपरोक्त प्रमोद, आमोद, चेतन, नौबहार, महावीर, सोहन, मोहन, बलजोरा, बलवीर, राजीव, संजीव व नीरज को धारा-323, 504, 506 आई.पी.सी. व 3/1 द,ध, एस०सी०/एस०टी० एक्ट में तलब किया था। वहीं विरेन्द्र पाल लेखपाल, पवन लेखपाल, सहजराम लेखपाल व प्रमोद कुमार सैनी राजस्व निरीक्षक को यह कहते हुए तलब नहीं किया कि धारा-197 सीआरपीसी के अन्तर्गत लोक सेवक के विरूद्ध राज्य सरकार से पूर्व में अनुमति प्राप्त किये जाने के पश्चात ही अभियोग लाया जा सकता है। पीड़िता ने उपरोक्त आदेश के विरूद्ध उच्च न्यायालय में उपरोक्त मुल्जिमान को अभियुक्त बनाने के लिए याचिका अन्तर्गत धारा-482 याचिका सं0-22288/2022 उषा बनाम राज्य सरकार 16 आदि दायर की थी। इस पर उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने दिनांक 28-07-2022 को अपनी रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए पुलिस अधीक्षक बिजनौर के समक्ष प्रार्थना पत्र देने हेतु निर्देशित किया है। इसके अलावा पुलिस अधीक्षक को भी प्रार्थिनी के प्रार्थना पत्र पर अभियोग पंजीकृत कराने हेतु आदेशित किया गया है।

एसपी ने दिए जांच के आदेश: पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने सीओ सिटी को पीड़िता ऊषा के प्रार्थना पत्र पर जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने को निर्देशित किया है।

आरोपियों में खलबली: महिला के प्रार्थना पत्र तथा कोर्ट के आदेश की भनक लगते ही आरोपियों में खलबली मच गई है। अब वे जोड़तोड़ की कोशिश में जुट गए हैं। एक तहसील कर्मी प्रमोद कुमार सैनी ने बताया कि बैनामा वर्ष 1960 में हो चुके थे, तब से दो चकबंदी भी निकल चुकी हैं। किसी के भी द्वारा इस मामले में कोई यथोचित पैरवी नहीं की गई।

डोली उठने के 10 दिन बाद ही दुनिया से विदा हो गई दुल्हन

डोली उठने के 10 दिन बाद ही दुनिया से विदा हो गई दुल्हन। दहेजलोभी ससुरालियों ने विवाहिता को जहर देकर मारा। प्रेम विवाह की दु:खद परिणति। पति ने भी खाया जहर। काशीपुर के निजी अस्पताल में हालत चिंताजनक।

बिजनौर। मात्र दस दिन पूर्व प्रेमी से लव मैरिज कर दुल्हन बनी युवती को दहेज की मांग पूरी न होने पर ससुराल वालों ने जहर देकर मार डाला! मृतका के पिता की तहरीर पर पुलिस ने पति सहित चार लोगों के विरुद्ध दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कर शव को पीएम के लिए भेज दिया। दूसरी तरफ पत्नी की मृत्यु होने के बाद युवक ने भी जहरीले पदार्थ का सेवन लिया। काशीपुर के एक अस्पताल में उसकी हालत चिंताजनक बताई जा रही है।

बढ़ापुर थाना क्षेत्र के गांव भोगपुर निवासी जरनैल सिंह पुत्र गुरबचन सिंह की बेटी नीलम कौर का विवाह 10 दिन पूर्व 9 सितम्बर 2022 को गांव के ही बिंदर सिंह पुत्र गुरनाम सिंह के साथ हुआ था। जरनैल सिंह ने थाने में दी तहरीर में बताया कि बेटी की शादी में उसने अपनी क्षमता के अनुसार दान दहेज दिया था। इसके बावजूद शादी के एक दिन बाद ही उसकी बेटी के ससुराल वाले दहेज में दो लाख रुपए नगद और बुलेट मोटरसाइकिल की मांग करने लगे। आरोप है कि दहेज की मांग पूरी न होने पर उसकी बेटी नीलम कौर को लगातार प्रताड़ित किया जाने लगा। रविवार शाम नीलम के पति बिंदर सिंह, देवर सोनू सिंह, ससुर गुरनाम सिंह व सास गुरमीत कौर चारों ने मिलकर उसे जहर देकर मार डाला। घटना की सूचना पड़ोसी ने फोन कर उन्हें दी। जब उन्होंने मौके पर जाकर देखा तो उनकी बेटी का शव घर के बाहर आंगन में चारपाई पर पड़ा था और ससुराल पक्ष के सभी लोग फरार हो चुके थे। पुलिस ने मृतका के पिता की तहरीर के आधार पर उक्त चारों आरोपियों के विरुद्ध मु.अ.सं. 208/22 धारा 498A/304B भादवि व धारा 3/4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही मृतका के शव को पंचनामा भरने के बाद पीएम के लिये भेज दिया। उधर बताया गया है कि पत्नी नीलम की मृत्यु हो जाने के बाद उसके पति बिंदर सिंह ने भी जहर का सेवन कर लिया। परिजन उपचार के लिये उसे काशीपुर ले गये, जहां एक निजी अस्पताल में उसका उपचार चल रहा है। बत हालत भी चिंताजनक बनी हुई है, वह जिंदगी और मौत के बीच जंग से जूझ रहा है।

बताया गया है कि नीलम और बिंदर के बीच प्रेम संबंध चल रहे थे। जानकारी होने पर परिजनों ने आपसी सहमति पर दोनों का विवाह कर दिया था।

छुट्टा घूम रहे हैं इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले के आरोपी!

छुट्टा घूम रहे हैं इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले के आरोपी। राजनैतिक आका की शरण में पहुंचे हमलावर। बिजनौर के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में हुई थी वारदात। पेट्रोल पंप के सामने की थी युवक की जान लेने की कोशिश। हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को भी जमकर पीटा। गांव के ही एक युवक पर है मुखबिरी का शक। 

बिजनौर। पुलिस की हीलाहवाली के चलते जिला मुख्यालय के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले के आरोपी छुट्टा घूम रहे हैं। राजनैतिक आका की शरण में पहुंचने के बाद जहां हमलावर अपने बुलंद हौसलों के साथ किसी नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में हैं, वहीं पुलिस भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

14 सितंबर को कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने महावीर स्कूल व पेट्रोल पंप के बाहर दिल्ली से आए युवक की जान लेने की कोशिश की गई। युवक जन्मदिन मनाने अपने घर आया हुआ है। कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। थाना शहर कोतवाली पुलिस ने घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

जानकारी के अनुसार दिल्ली में रहकर इंटीरियर डेकोरेशन का काम करने वाला सजल कुमार 14 सितंबर को जन्मदिन होने के कारण अपने घर ग्राम कम्भौर आया हुआ था। सजल ने अपने मित्रों को बर्थडे पार्टी के तौर पर कुल्फी खिलाने के लिए सिविल लाइंस प्रथम स्थित महावीर स्कूल व पेट्रोल पम्प (कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने) बुलाया। इसी दौरान कम्भौर के ही एक युवक ने सजल से बातचीत की और मोबाइल फोन पर किसी से बात करने लगा। कुछ ही देर में जमालपुर, चौकपुरी व छोइया नंगली निवासी कुछ युवक अपने 5-6 साथियों के साथ वहां पहुंचे और सजल को और जान से मारने की नीयत से मारपीट शुरू कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर आराम से फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। वहीं पेट्रोल पंप व अन्य सीसीटीवी कैमरों में घटना कैद हो गई है। यही नहीं उक्त वारदात को अंजाम देने के कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। पुलिस को दी गई तहरीर में शुभम निवासी जमालपुर, मयंक चौधरी निवासी चौकपुरी व तरुण चौधरी निवासी छोइया नंगली व 5-6 अन्य अज्ञात पर घटनाओं का आरोप लगाया गया। सूचना पर थाना शहर कोतवाली पुलिस ने जिला संयुक्त चिकित्सालय में घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर लगा प्रश्नचिन्ह अब भी बरकरार है।

रहस्यमई महिला पुलिस कांस्टेबल: जानकारों का कहना है कि घटना के वक्त मौजूद एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। इसके बावजूद उसने अब तक थाना चौकी पुलिस को घटना की बाबत कोई जानकारी नहीं दी ही।

राजनैतिक आका का हमलावरों को अभयदान: सूत्रों का कहना है कि मामले में राजनैतिक आका ने हमलावरों को अभयदान दे दिया है। उन्हें पूरा विश्वास दिलाया गया है कि पुलिस कुछ भी नहीं बिगाड़ सकती। इसलिए वे अब और भी ज्यादा खूंखार होकर नई वारदात को अंजाम देने की फिराक में शिकार की तलाश कर रहे हैं। वैसे राजनैतिक आका भी कृष्ण जन्म भूमि में अंदर बाहर के खेल से बखूबी परिचित हैं।

अब बच्चों से दूर ही रखें जॉनसन बेबी पाउडर!

जॉनसन बेबी पाउडर का लाइसेंस स्थायी रूप से रद्द

मुंबई। खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के माध्यम से बहुराष्ट्रीय कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्मित ‘जॉनसन बेबी पाउडर’ कॉस्मेटिक्स का लाइसेंस 15 सितंबर, 2022 से स्थायी रूप से रद्द कर दिया गया है।


जानकारी के अनुसार खाद्य एवं औषधि प्रशासन के नासिक और पुणे के औषधि निरीक्षकों ने परीक्षण के लिए नमूने लिए थे। सरकारी विश्लेषक, ड्रग कंट्रोल लेबोरेटरी, मुंबई द्वारा बेबी पाउडर उत्पाद को घटिया घोषित किए जाने के बाद यह कार्रवाई की गई।


नवजात शिशुओं और बच्चों की त्वचा को नुकसान पहुंचने की संभावना: ‘जॉनसन बेबी पाउडर’ मुख्य रूप से नवजात शिशुओं के लिए प्रयोग किया जाता है। उपरोक्त निर्माण विधि में दोषों के कारण उक्त उत्पाद का पीएच प्रमाणित मानक के अनुसार नहीं है। इसके इस्तेमाल से नवजात शिशुओं और बच्चों की त्वचा को नुकसान पहुंचने की संभावना रहती है, इसलिए जनहित में इस उत्पादन को जारी रखना उचित नहीं होगा, इसलिए मुलुंड, मुंबई में विनिर्माण संयंत्र का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है।


कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था कि उपरोक्त असत्यापित घोषित पैटर्न के अनुसार संगठन का लाइसेंस रद्द क्यों नहीं किया जाना चाहिए? या उक्त लाइसेंस के तहत स्वीकृत सौंदर्य प्रसाधनों के निर्माण लाइसेंस को निलंबित क्यों नहीं करते? इस संबंध में संगठन को इस उत्पाद के स्टॉक को बाजार से वापस बुलाने का भी निर्देश दिया गया था। चूंकि उपरोक्त नमूने के लिए प्राप्त सरकारी विश्लेषक की रिपोर्ट को स्वीकार नहीं किया गया था, संस्थान ने दवा प्रयोगशाला द्वारा पुन: परीक्षण के लिए नासिक और पुणे की अदालतों में आवेदन किया था।


…और तब की गई कार्रवाई: खाद्य एवं औषधि प्रशासन, मुंबई के संयुक्त आयुक्त गौरी शंकर ब्याले के अनुसार, केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला, कोलकाता के निदेशक ने केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला से उक्त पुन: जांच के नमूनों का परीक्षण करने के बाद रिपोर्ट को असत्यापित घोषित करने के बाद लाइसेंस रद्द करने की कार्रवाई की गई।

यूपी पुलिस का ताबड़तोड़ अभियान

लखनऊ (एजेंसी)। पुलिस महानिदेशक देवेन्द्र सिंह चौहान व अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार के निर्देशन में यूपी पुलिस ने विभिन्न मामलों में 33 अपराधियों को धर दबोचने का काम किया है। यूपी पुलिस द्वारा की गई आज की गिरफ्तारी में 8 बावरिया गैंग का 8 साल से फरार 50 हजारी इनामी बदमाश सहित कई इनामी अपराधी अरेस्ट किये हैं। यूपी पुलिस निरंतर बदमाशों पर ताबडतोड़ कार्रवाई कर उन्हें कारागार में कैद कर रही है।

1.यूपी एसटीएफः एसटीएफ मुख्यालय टीम द्वारा बी-127 सेक्टर-2 नोएडा से फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कंपनी एवं पी.एन.बी.मैट लाइफ इंश्योरेंस के नाम पर धोखाधड़ी करके ग्राहकों से प्रीमियम जमा कराने के नाम पर करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह के सरगना सहित 04 जालसाज अभियुक्तगण अंकित कुमार, सुमित पांडे, आकाश व सागर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से 01 लैपटॉप 10 मोबाइल फोन 08 लैंडलाइन फोन 01 मोटरसाइकिल 06 पेज इंश्योरेंस कंपनी डाटा व नगद 6800 बरामद किया गया है।

2. पुलिस कमिश्नरेट गौतम बुद्ध नगरः थाना दनकौर पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान पुलिस मुठभेड़ में अट्टा फतेहपुर के पास से 01 शातिर गौकश अभियुक्त ताजू पुत्र याकूब निवासी अट्टा फतेहपुर थाना दनकौर जनपद कमिश्नरेट गौतमबुध नगर गोली लगने से घायल होकर गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त के कब्जे से 01 तमंचा कारतूस 01 छुरी, तराजू, लकड़ी का गुटका, रस्सी व गोवंश के अवशेष बरामद किये गये हैं।

3. पुलिस कमिश्नरेट गौतमबुध नगरः थाना नॉलेज पार्क पुलिस व स्वाट की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा टेलीग्राम/ऑनलाइन, डार्क वेब व अन्य वॉलेट एप के माध्यमों से अवैध उच्च कोटि के नशीले पदार्थ (कैलिफोर्निया बेस) व PILL आदि मंगाकर दिल्ली एनसीआर के हॉस्टलों व कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों को सप्लाई कर अवैध धन अर्जित करने वाले 03 मादक पदार्थ तस्कर अभियुक्तगण- भानु, अधिराज , सोनू कुमार निवासीगण सूरजकुंड जिला फरीदाबाद हरियाणा को एलजी गोल चक्कर आईआईएमटी कॉलेज नॉलेज पार्क मोड़ पर गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से नशीला (Original grower Califonia weed) कुल वजन 960 ग्राम कीमत 29 लाख रुपए टेबलेट PILl~ MDMA CCSTASY 01 LSD वजन मापने की छोटी इलेक्ट्रॉनिक वेइंग मशीन व सिल्वर धातु की 01 कृश करने/ पाउडर बनाने की डिब्बी बरामद किया गया है।

4. पुलिस कमिश्नरेट गौतम बुध नगरः थाना सेक्टर 63 नोएडा पुलिस द्वारा फर्जी डिग्री बनाने व देने वाले अंतरराज्यीय गैंग के 02 अभियुक्तगण आनंद शेखर निवासी अनीसाबाद जिला पटना बिहार, चिराग शर्मा निवासी कैलाशपुरी बुलंदशहर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से 85 फर्जी मार्कशीट/ प्रमाण पत्र 58 लिफाफे फर्जी मार्कशीट 38 खाली लेटर पैड 07 खाली अंकतालिका सीट 08 मुहरे 14 डेक्सटॉप 14 सीपीयू 11 माउस 12 की बोर्ड 42 डेस्कटॉप वायर 01 पेपर कटर 01 हेडफोन 01 कलर प्रिंटर 01 राउटर 01 वाईफाई कनेक्टर 02 इंटरनेट स्विच बॉक्स 33 नोकिया मोबाइल फोन कीपैड 55 सिम भिन्न-भिन्न कंपनियों के बरामद किया गया है।

5. पुलिस कमिश्नरेट गौतम बुध नगरः थाना बीटा-2 पुलिस द्वारा दिनांक 05.09.2022 को मर्चेंट नेवी अधिकारी के घर हुई डकैती की घटना का पर्दाफाश कर 02 महिलाओं सहित पंखिया गैंग के 06 शातिर डकैत अभियुक्तगण- पिंकी ,सीमा, झंकार सिंह ,अमन ,संदीपव राहुल वर्मा को अल्फा -1 कमर्शियल बेल्ट मेट्रो स्टेशन थाना क्षेत्र सूरजपुर से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से नगद 20,000 सोने चांदी के जेवरात 01 हैंडीकैम कैमरा व आर्टिफिशियल ज्वेलरी 35 विदेशी मुद्रा आदि महंगे अन्य सामान बरामद किया गया है।

6. पुलिस कमिश्नरेट लखनऊरूः थाना मड़ियांव थाना जानकीपुरम व क्राइम ब्रांच की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा नौबस्ता बड़ा खदान से 03 शातिर चोर अभियुक्तगण- इब्राहिम मुन्ना उर्फ इमरान शाहिद निवासी गण धर्मपुर थाना तालगांव जनपद सीतापुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है.अभियुक्तगण के कब्जे से 01 लाइसेंसी पिस्टल 32,000 घ् नगद सोने चांदी के जेवरात कीमत 05 लाख 01 मोटरसाइकिल बरामद किया गया है।

7. जनपद बुलंदशहरः थाना डिबाई पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर मुरैना नहर पुल अनूपशहर से अलीगढ़ रोड पर चेकिंग के दौरान पुलिस मुठभेड़ में वर्ष 2014 से डकैती में वांछित 50,000 इनामियां बावरिया गैंग का 01 शातिर अभियुक्त कप्तान उर्फ मंगल उर्फ विजय पुत्र दिनेश उर्फ बड़ा बाबरिया निवासी दुर्गापुरी अलापुर थाना जौरा जनपद मुरैना मध्य प्रदेश घायल होकर गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त के कब्जे से एक तमंचा कारतूस व 01 मोटरसाइकिल बरामद किया गया है।

8. जनपद शाहजहांपुरः थाना बंडा पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर नहर कोठी खंडहर से अवैध शस्त्र फैक्ट्री का भंडाफोड़ कर 02 शातिर अवैध शस्त्र निर्माता अभियुक्तगण- बलराम, सरनाम निवासी रसूलपुर थाना बंडा जनपद- शाहजहांपुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से 05 निर्मित तमंचे 02 अधबने तमंचा 03 बॉडी तमंचा की 03 नाल 01 गैस सिलेंडर लोहे की भट्टी व शस्त्र बनाने के उपकरण बरामद किये गये हैं।

9. जनपद शाहजहांपुरः थाना कोतवाली पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान डैम तिराहे के पास से 01 शातिर मादक पदार्थ तस्कर टॉप टेन अभियुक्त चंदन पुत्र ओमप्रकाश निवासी अजीजगंज थाना कोतवाली जनपद शाहजहांपुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त के कब्जे से 160 ग्राम स्मैक अंतरराष्ट्रीय कीमत 64 लाख रुपए की बरामद किया गया है।

10. जनपद प्रतापगढ़ः थाना देल्हुपुर पुलिस व स्वाट की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा प्रतापगढ़-प्रयागराज सीमा पर चेकिंग के दौरान 03 शातिर मादक पदार्थ तस्कर अभियुक्तगण कपिल गिरी मनीष सिंह शिवकुमार निवासीगण क्रमशः अमेठी प्रतापगढ़ रायबरेली को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तगण के कब्जे से 01 कुंतल 35 कि.ग्रा.गांजा 01 डीसीएम गाड़ी 02 मोबाइल फोन 03 मोबाइल कीपैड नगद 2500 01 आधार कार्ड बरामद किया गया है।

11. जनपद गोरखपुरः थाना चिलुआताल पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान पुलिस पर जानलेवा हमले के आरोपी को रामपुर चकबंधा पर अंर्तराज्यीय 01 वांछित गौ तस्कर/ हिस्ट्रीशीटर अभियुक्त जुल्फिकार पुत्र शुकुरूल्लाह निवासी सेमरा हरदो टोला थाना कुबेरस्थान जनपद कुशीनगर गोली लगने से घायल होकर गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है.अभियुक्त के कब्जे से 01 तमंचा कारतूस 01 मोटरसाइकिल बरामद किया गया है।

12. जनपद चंदौलीः थाना इलिया पुलिस व स्वाट की संयुक्त पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर बनरसिया माइनर के पास से 03 शातिर वाहन चोर अभियुक्तगण-विजयमल सिंह, पंकज यादव, अभिषेक खरवार निवासीगण फेसुड़ा थाना सैयदराजा जनपद चंदौली को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है.अभियुक्तगण के कब्जे से 09 मोटरसाइकिल 02 मोबाइल फोन बरामद किया गया है।

13. पुलिस कमिश्नरेट वाराणसीः थाना चौक पुलिस द्वारा अंर्तराज्यीय गैंग का 25,000 घ् इनामियां 01 शातिर लुटेरा अभियुक्त मोहम्मद अमजद पुत्र गुल मोहम्मद निवासी मकान नंबर 5 गली नंबर 3 हमीदिया बॉयज गिन्नौरी रोड भोपाल मध्य प्रदेश को मुखबिर की सूचना पर चारबाग रेलवे स्टेशन लखनऊ से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है।

14. जनपद बदायूंः थाना अलापुर पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान ककराला तिराहे पर 02 मादक पदार्थ तस्कर अभियुक्तगण- फिरोज अहमद, आस्कार हुसैन उर्फ जफर अली निवासीगण महमूदपुर माफी थाना मैनाठेर जिला मुरादाबाद को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है.अभियुक्त गण के कब्जे से 02 किलो अफीम अंतरराष्ट्रीय कीमत 50 लाख रुपए व 01 स्कूटी बरामद किया गया है।

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंद

भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद रफी मुचलका पाबंदबीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।

बिजनौर। चांदपुर में पोस्टर/फ्लैक्सी के चक्कर में नपे भावी प्रत्याशी। पुलिस ने दो लाख के मुचलकों में पाबंद किया। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पोस्टर/फ्लैक्सी के ऊपर लगाई थी अपनी पोस्टर फ्लैक्सी।
मामला बिजनौर जिले के तहसील चांदपुर क्षेत्र का है, जहां भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी भूपेन्द्र सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर शीर्ष नेतृत्व के आभार और शुभकामनाओं के पोस्टर फ्लैक्सी लगे हुए हैं।
निकाय चुनाव को लेकर भावी प्रत्याशी चांदपुर में भी जगह-जगह पोस्टर फ्लेक्सी लगा रहे हैं। चांदपुर में ऐसा मानो जैसा एक तरह से पोस्टर वार चल रहा हो। अब इस पोस्टर वार के चक्कर में बेचारे नगर पालिका परिषद के भावी प्रत्याशी हाजी मोहम्मद नफीस नप गए, जिसका उन्हें भारी खामियाजा भुगतना पड़ा है।

बताया जाता है कि पुलिस रोड गश्त कर रही थी। इसी दौरान देखा कि मोहम्मद नफीस निवासी मोहल्ला काजीजादगान कस्बा व थाना चांदपुर अपने फ्लेक्सी पोस्टर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के लगे पोस्टर फ्लेक्सी को हटाकर लगवा रहे थे। इसके लिए उन्होंने नगर पालिका से अनुमति भी प्राप्त नहीं की थी। दूसरी ओर यह देखकर लोगों में आक्रोश फैल गया। उनके द्वारा ऐसा काम करने से मना करने पर मोहम्मद नफीस आग बबूला हो गए। मौके पर विवाद बढ़ने लगा।

मना करने पर भी नहीं माने
उधर पुलिस ने शांति भंग होने की आशंका में भावी प्रत्याशी को गिरफ्तार कर लिया और थाने ले आई। फिर उनको न्यायालय भेजा गया। न्यायालय से ₹200000 के मुचलके पर उन्हें जमानत दे दी गई है।

नया गांव हत्याकांड में सभी 8 आरोपी साक्ष्य के अभाव में बरी

बिजनौर। लगभग साढ़े 5 साल पूर्व नया गांव के बहुचर्चित विशाल हत्याकाण्ड के सभी 8 आरोपियों को अदालत ने साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया है।

जानकारी के अनुसार 10 जनवरी 2017 को ग्राम कच्छपुरा व नया गांव के बीच स्थित सरकारी ट्यूबवैल पर नया गांव निवासी संजय के पुत्र विशाल की अज्ञात लोगों ने चाकू से गोदकर व गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना में पेदा निवासी प्रधान अनीस, पूर्व प्रधान इकबाल तथा शमीम, हनीफ, नफीस, इस्तखार, फुरकान व अकबर को नामजद किया गया था। विशाल की हत्या वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान बिजनौर में हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी सभा के दिन ही सभा के थोड़ी देर बाद हुई थी। इस हत्याकाण्ड को राजनीतिक रूप व काफी तूल दिया गया था। तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी। मामले की विवेचना सीबीसीआईडी बरेली जोन को दी गई थी। सीबीसीआईडी ने सभी नामजद आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की और सभी अभियुक्तों को जेल जाना पड़ा। अभियुक्त इकबाल, हनीफ और फुरकान करीब तीन साल से जेल में थे।

इस मुकदमे का विचारण अपर जिला सत्र न्यायाधीश डॉ. विजय कुमार के न्यायालय में हुआ। न्यायालय ने आरोपियों के जेल में अधिक समय से होने के कारण त्वरित गति से सुनवाई की। अभियोजन पक्ष के मौके के सभी गवाहों की गवाही के साथ पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर के बयान भी कराये गए। सबूत पक्ष के सभी कागजातों की औपचारिकता को बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं द्वारा स्वीकार कर लेने के बाद अभियोजन के गवाहों व अभियुक्तों के बयान तथा बहस सुनकर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश डॉ. विजय कुमार ने साक्ष्य के अभाव में सभी अभियुक्तों को निर्दोष मानते हुए बरी कर दिया। अभियुक्तों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राजेंद्र कुमार पूर्व अध्यक्ष जिला बार एसोसिएशन तथा जकावत हुसैन एड. ने पैरवी की।

पुलिस हुई सख्त: नूरपुर, नहटौर में अवैध संचालित वाहन सीज

बिजनौर। नूरपुर में पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के विरुद्ध अभियान चलाया। इस दौरान 6 वाहनों को सीज कर दिया गया। थाना प्रभारी निरीक्षक धीरज सिंह सोलंकी ने बताया कि उपजिलाधिकारी मांगेराम सिंह चौहान के नेतृत्व में अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के विरुद्ध बड़ी कार्यवाही की गई। अवैध रूप से खनन से भरे दो ट्रक, दिल्ली जाने वाली दो डग्गामार बसों व दो अन्य वाहनों को पकड़कर सीज कर दिया गया। इस कार्यवाही से अवैध खनन व डग्गामार वाहनों के संचालकों में हड़कम्प मच गया। संयुक्त अभियान में एआरटीओ गौरीशंकर सिंह, सीओ सुनीता दहिया, प्रभारी निरीक्षक धीरज सिंह सोलंकी व पुलिसकर्मी मौजूद रहे।

दूसरी ओर नहटौर पुलिस ने अवैध / अनफिट वाहनों के खिलाफ अभियान चला कर तीन निजी बसों को सीज कर दिया। पुलिस ने तीन निजी बसों को रोककर उन्हें चैक किया तो चालकों के पास वैध प्रमाण-पत्र नहीं मिले। इस पर तीनों निजी बसों को सीज कर दिया गया। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह दो राज्यमंत्रियों के साथ जिले के दौरे पर आए थे। इस दौरान मंत्री धर्मपाल सिंह से अवैध बसों के चलने की शिकायत की गई थी, जिस पर उन्होंने अवैध बसों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिये थे ।

सीओ सिटी व एसओ हल्दौर ने जनता को किया जागरूक

बिजनौर। क्षेत्राधिकारी नगर अनिल कुमार व थानाध्यक्ष हल्दौर उदय प्रताप सिंह द्वारा गोकशी तथा अवैध ड्रग्स के अपराधियों विरुद्ध अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में सीओ सिटी और थानाध्यक्ष ने पुलिस बल के साथ ग्राम अथाई जमरूद्दीन, भवानीपुर ,सोतखेड़ी तथा ग्राम फजलपुर ढाकी में गोष्ठियों का आयोजन किया गया।

इस दौरान ग्रामीणों के साथ गौकशी व अवैध ड्रग्स के अपराध में संलिप्त अपराधियों के विरुद्ध पुलिस को सहयोग व सूचना देने की अपील की गई। इसके अलावा बच्चा चोरी की झूठी अफवाहों से सजग रहने के संबंध में अवगत कराया गया।

यूपी पुलिस के सिपाही समेत चार अपहर्ता गिरफ्तार

बदमाशों के कब्जे से तमंचे, चाकू और नगदी की गई बरामद। बदमाशों की साथी महिला फरार, गिरफ्तारी के प्रयास जारी।

बिजनौर। नजीबाबाद पुलिस ने उत्तराखंड के काशीपुर से दो व्यापारियों का अपहरण कर लाए चार बदमाशों को गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से तमंचे, चाकू और नगदी बरामद की गई है। बदमाशों की साथी महिला की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। पकड़े गए बदमाशो में से एक यूपी पुलिस का सिपाही बताया जा रहा है।

शनिवार को नजीबाबाद थाना क्षेत्र की पूर्वी गंग नहर चौकी के पास पुलिस ने सफेद रंग की ब्रेजा कार में चार बदमाशों को पकड़ लिया। पकड़े गए चारों बदमाश एक दिन पूर्व उत्तराखंड के काशीपुर से कार सवार दो व्यापारियों को अपहरण कर फिरौती की मांग कर रहे थे। शेरकोट थाना क्षेत्र निवासी ब्रुश व्यापारी यशवीर ने बताया कि वह अपने नौकर मुकेश के साथ स्विफ्ट कार से उत्तराखंड के काशीपुर गए थे। इसी दौरान काशीपुर में सड़क किनारे खड़ी युवती ने लिफ्ट मांगी और हमने उसे अपने साथ कार में बैठा लिया। कुछ दूर चलने के बाद युवती ने कार रोकने को कहा जैसे ही कार रुकी तभी दूसरी सफेद रंग की ब्रेजा कार से उतरे खुद को पुलिस बता रहे वर्दी पहने चार लोगों ने उन्हें घेर लिया, और मोबाइल छीन लिए। इस दौरान बदमाशों ने यशवीर और मुकेश को दोनों कारों में अलग-अलग बैठा लिया। इसके बाद दोनों के साथ कार में मारपीट की और कहने लगे कि जिस युवती को तुमने कार में बैठाया है। वह अपने पति को मारकर फरार थी। तुम दोनों भी इस युवती के साथ मिले हुए हो। यह आरोप लगाते हुए 10 लाख की फिरौती मांगने लगे। अपहरणकर्ता दोनों युवकों को उत्तराखंड के रामनगर एक होटल में ले गए और रात भर वहां ठहरे। सुबह होने पर वहां से लेकर चल दिए। इसके बाद धामपुर, नगीना होते हुए नजीबाबाद पहुंचे। उन्होंने यशवीर को फिरौती के पैसे लेने के लिए घर भेज दिया और मुकेश को अपनी कार में बैठा रखा। इसी दौरान नजीबाबाद में पीड़ित यशवीर के रिश्तेदार उनकी तलाश में पूर्वी गंग नहर चौकी के पास घूम रहे थे। तभी कुछ दूरी पर सफेद रंग की ब्रेजा कार दिखाई दी तो उन्होंने पुलिस को कार रोकने के लिए कहा। पुलिस को देखते ही बदमाश कार छोड़कर भागने लगे। पुलिसकर्मियों ने दौड़ कर बदमाशों को पकड़ा। इस दौरान मौके पर लोगों की काफी भीड़ एकत्रित हो गई। वहीं पुलिस बदमाशों को अपनी गाड़ी में बैठा कर थाने ले गई। पुलिस पूछताछ में पकड़े गए बदमाशों ने अपना नाम पंकज पुत्र डालचंद निवासी ग्राम धर्मपुरा थाना जसपुर जिला उधमसिंह नगर, दानवीर सिंह पुत्र कपिल कुमार ग्राम नसीरउद्दीन वाला थाना शेरकोट जनपद बिजनौर हाल निवासी वैशाली कालोनी थाना जसपुर उधमसिंह नगर, दीपक कुमार पुत्र नरेश कुमार, निवासी नूनी खेड़ा थाना जानसठ जिला मुजफ्फरनगर, सुनील उर्फ सन्नी पुत्र राजपाल सिंह निवासी ग्राम गंगढाडी थाना खतौली जिला मुजफ्फरनगर बताया।

शिकार फंसाने के लिए युवती को बनाते चारा

शिकार फंसाने व अपरहण कर लोगों को लूटने के लिए बदमाश युवती का इस्तेमाल करते थे। यह गैंग युवती को इस्तेमाल कर अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहा था। पकड़े गए बदमाश दानवीर ने पुलिस को बताया कि लिफ्ट लेने वाली युवती उसकी फुफेरी साली है, जिसका तलाक भी चुका है।

यूपी पुलिस का सिपाही भी बदमाशों में शामिल

पकड़े गए बदमाशों ने पुलिस को बताया कि शेरकोट के व्यापारियों का अपहरण करने के बाद वह खुद को पुलिस बताकर फिरौती की मांग कर रहे थे। बदमाशों के साथ पकड़ा गया सिपाही मुरादाबाद पुलिस लाईन में तैनात है, पुलिस ने पकड़े गए सिपाही के पर्स से उत्तरप्रदेश पुलिस का परिचय पत्र भी बरामद किया है।

कार से बरामद हुई यूपी पुलिस की वर्दी

पुलिस ने पकड़े गए बदमाशों की सफेद रंग की ब्रेजा कार से एक दरोगा व एक सिपाही की वर्दी, तमंचे, चाकू, नगदी भी बरामद की है। पुलिस का मानना है कि उक्त बदमाश पुलिस की वर्दी पहनकर अपहरण जैसी घटनाओं को अंजाम दे रहे थे और वर्दी का रौब गालिब कर खाकी को बदनाम कर रहे थे।

सावधान! हर गली में दौड़ लगाने वाला है कोबरा…

बिजनौर। अब बारी है चेन स्नैचर्स, चोरों, बदमाशों को सावधान रहने की।… क्योंकि अब हर गली में कोबरा दौड़ लगाने वाला है। दरअसल पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने कोबरा मोबाइल बाइक सेटअप की नई शुरुआत की है। एसपी ने पुलिस लाइन से 50 कोबरा बाइक को हरी झंडी दिखाकर नए ड्यूटी चार्ट के साथ रवाना किया। दूसरी ओर देर रात एसपी सिटी डॉ. प्रवीण रंजन सिंह ने एसआरएस चौक पर पहुंचकर सभी कोबरा बाइक पर तैनात पुलिसकर्मी को इकठ्ठा कर चेक किया। साथ ही सतर्कता के साथ ड्यूटी करने के निर्देश दिए।

बिजनौर में अपराध व अपराधियों पर लगाम लगाने के उद्देश्य से एसपी दिनेश सिंह ने कोबरा मोबाइल बाइक को फिर से पुनर्स्थापित किया है। इसी कड़ी में बिजनौर पुलिस लाइन से एसपी ने 50 बाइक को नव निर्धारित ड्यूटी चार्ट देकर आवश्यक दिशा निर्देश दिया। एसपी ने हरि झंडी दिखाकर अलग-अलग थाना क्षेत्रो के लिए रवाना किया।

गलियों में भी होगी निगहबानी

बाइक पर तैनात पुलिसकर्मी अब सड़क और गलियों की निगरानी करेंगे। इसे कोबरा मोबाइल सेटअप की टीम का नाम दिया गया है। डायल 112 के बाद बिजनौर पुलिस का अगला कदम कोबरा मोबाइल सेटअप टीम है। हर बाइक पर दो सिपाही 12 घंटे ड्यूटी करेंगे।

गांव-गांव, शहर शहर बाइक का सायरन बजाते हुए घूमेंगे पुलिसकर्मी

अब से रोजाना पुलिसकर्मी गांव-गांव, शहर शहर बाइक का सायरन बजाते हुए घूमते हुए दिखेंगे। सुबह और शाम के समय अपराध को रोकने के लिए स्कूलों, सर्राफ की दुकान व चौराहों पर कोबरा मोबाइल सेटअप की टीम मुस्तैद रहेगी। बिजनौर में 50 बाइक को एसपी ने ABC कुल 3 लोकेशन स्कीम के तहत बांटा है। पुलिस बाइक के साथ गश्त करने के दौरान क्राइम कंट्रोल करने की उम्मीद जताई जा रही है।

पुलिस संरक्षण में ठुमके लगा रहीं बार बालाएं

प्रतीकात्मक चित्र

बिजनौर जिला मुख्यालय से बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित कस्बा हल्दौर के गुदड़ी मेले में पुलिस संरक्षण में बार बालाओं का अश्लील डांस चल रहा है! इस कारण आम जनता को गुण्डागर्दी और महिलाओं को अभद्रता का सामना करना पड़ रहा है।

प्रतीकात्मक चित्र

जानकारी के अनुसार लगभग दस दिन से चल रहे इस मेले में पुलिस ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की अनुमति प्रदान की थी। आरोप है कि इसकी आड़ में अश्लील डांस पार्टी चलाई जा रही है। इस बारे में समाचार पत्रों में समाचार प्रकाशित होने के बाद पुलिस ने नौटंकी में मोबाईल से वीडियो बनाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है क्योंकि बार बालाओं के अश्लील डांस के वीडियो बनाकर किसी ने वायरल कर दिये थे। इसके बाद मेले में ड्यूटी पर लगी पुलिस सतर्क हो गई।

प्रतीकात्मक चित्र

बताया गया है कि इस नौटंकी की आड़ में मेले में युवाओं का जमघट लगा रहता है जो गुण्डागर्दी व महिलाओं से छेड़छाड़, छीटांकशी करने से बाज नहीं आते हैं। वहीं मेले में बड़ी संख्या में जेबें कटने व पर्समारी की घटनाएं भी होने की बात कही जा रही है। एक तरफ मुख्यमंत्री महिला सुरक्षा व सम्मान की बात कह सुरक्षा देने की बात कह रहे हैं, वहीं पुलिस संरक्षण में महिलाओं से अभद्रता की जा रही है। पुलिस अपनी मुठ्ठी गरम करने के स्वार्थ में महिला सम्मान को ताक पर रखे हुए है। नगर के नागरिकों में मेले में फैलाई जा रही अश्लीलता के कारण सरकार के प्रति काफी नाराजगी देखी जा रही है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक से इस ओर ध्यान देने की मांग की है।

मासिक अपराध गोष्ठी/सैनिक सम्मेलन में एसपी ने कसे पेंच

मासिक अपराध गोष्ठी/सैनिक सम्मेलन में एसपी ने दिये कड़े निर्देश। अपराधों की समीक्षा कर अपराध एवं अपराधियों पर प्रभावी अंकुश लगाने तथा जनपद में शांति व कानून व्यवस्था सुदृढ़ बनाए रखने हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश

बिजनौर। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह की अध्यक्षता में मासिक अपराध गोष्ठी/सैनिक सम्मेलन का आयोजन किया गया। उन्होंने अपराधों की समीक्षा कर अपराध एवं अपराधियों पर प्रभावी अंकुश लगाने तथा जनपद में शांति व कानून व्यवस्था सुदृढ़ बनाए रखने हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह पुलिस लाइन के सभागार कक्ष में सैनिक सम्मेलन आयोजित किया गया। इस दौरान जनपद के विभिन्न थानों/कार्यालयों/पुलिस लाइन में नियुक्त पुलिसकर्मियों द्वारा अपनी समस्याए रखी गईपुलिस अधीक्षक ने शीघ्र निस्तारण हेतु संबंधित को निर्देशित किया

इसके बाद पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह द्वारा जनपद के सभी राजपत्रित अधिकारी/थाना प्रभारी/शाखा प्रभारियों के साथ मासिक अपराध गोष्ठी की गई। उन्होंने कहा कि सायंकाल के समय बाजारों व भीड भरे स्थानों में प्रतिदिन 01 घन्टा पैदल गश्त करते हुए आमजन से संवाद एवं समन्वय स्थापित कर जनता में मित्र पुलिस का संदेश सुनिश्चित करें। विभिन्न प्रकार के माफियाओं यथा-खनन, शराब, पशु, वन तथा भूमाफियाओं को गैंगस्टर एक्ट के अन्तर्गत चिन्हित करें। उनके विरुद्द प्रभावी निरोधात्मक कार्यवाही करने के साथ सुदृढ अभियोजन की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। प्रत्येक थाने में टॉप-10 अपराधियों को चिन्हित कर उनके विरुद्ध नियमानुसार प्रभावी कार्यवाही की जाए तथा उन पर निरन्तर दृष्टि रखी जाए। गैंगस्टर एक्ट के अन्तर्गत जब्तीकरण की प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। थाने में आम जनता के लिए स्वच्छ वातावरण स्थापित करते हुए जन सामान्य के बैठने एवं स्वच्छ पेयजल व प्रसाधन आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। थानों में एकत्रित जब्तशुदा वाहनों को अभियान चलाकर उनके शीघ्र निस्तारण की कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। पीआरवी वाहनों की नियमित पेट्रोलिंग की व्यवस्था को और अधिक सुृद्ढ किया जाए । पीआरवी गाडियों के रुट की समय समय पर समीक्षा की जाए। शरारतपूर्ण बयान जारी करने वालों के साथ कडाई से पेश आएं। माहौल खराब करने की कोशिश करने वाले अराजक तत्वों के साथ पूरी कठोरता की जाए। संवेदनशील क्षेत्रों में ड्रोन का उपयोग कर स्थिति पर नजर रखें। पुलिसकर्मियों द्वारा आपरेशनल कार्यों के दौरान बॉडी वार्न कैमरा का इस्तेमाल किया जाए। यातायात नियमों के सम्बन्ध में जागरुकता अभियान चलाया जाए एवं यातायात नियमों का कडाई से पालन किया जाए, जिससे सडक दुर्घटनाओं में कमी आ सके। मादक पदार्थो, अवैध शराब एवं जहरीली शराब के दुर्व्यसन, कारोबार, संचय, निष्कर्षण व परिसंचरण/तस्करी की घटनाओं को रोकने एवं संलिप्त अभियुक्तो के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाए। जनपदों में स्थित होटल, माल, अस्पताल, स्कूल, आद्योगिक संयत्र, आवासीय मल्टीस्टोरी अपार्टमेन्ट एवं अन्य बडे व्यवसायिक काम्पलेक्स आदि प्रतिष्ठानों में अग्निशमन सुरक्षा के दृष्टिगत नियमानुसार समुचित सुरक्षा ऑडिट कर लिया जाए। आईजीआरएस व अन्य माध्यमों से प्राप्त प्रार्थना पत्रों की समीक्षा की गई तथा लम्बित प्रार्थनापत्रों के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण के निर्देश देते हुए कहा कि प्राप्त शिकायतों के सम्बन्ध में तथ्यात्मक सुस्पष्ट आख्या लगाए व शिकायतकर्ता को संतुष्ट करें। बैंक व लेनदेन वाले स्थानों पर विशेष सतर्कता बरतने, प्रतिदिन बैंक ड्यूटी में जाने वाले कर्मचारियों को ड्यूटी के सम्बन्ध में ब्रीफ करने एवं सभी पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के दौरान दृश्यता, गतिशीलता, सजगता एवं सतर्कता बनाये रखने हेतु विशेष जोर दिया गया। आगामी त्योहारों के दृष्टिगत थानों पर समस्त तैयारिया को पूर्ण कर लिया जाए। थानों पर नियुक्त कर्मचारीगणों की प्रत्येक माह गोष्ठी कर उनकी समस्याओं के बार में जानकारी करें तथा उनकी समस्या कर निस्तारण करते हुए उनकी कार्य की समीक्षा की जाए। थानों के सभी अभिलेखों को अद्यावधिक रखा जाए। बीट सूचना का समय से निस्तारण कर शत-प्रतिशत प्रभावी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें तथा जेल से छूटने वाले अपराधियों पर सतर्क दृष्टि रखी जाए।

गोष्ठी में समस्त अपर पुलिस अधीक्षक, क्षेत्राधिकारी सहित जनपद के समस्त थाना प्रभारी/शाखा प्रभारी सहित जनपदीय पुलिस के अन्य अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

सिविल लाइंस में बेखौफ फर्राटा भर रहे लाड़ले

सिविल लाइंस में पेट्रोल पंप के बाहर महावीर स्कूल के सामने खोली जा सकती है पुलिस चेकपोस्ट। फिलहाल डाकघर के बाद एसआरएस पर ही रहती है पुलिस। जागरुक नागरिकों का मानना विचार करें पुलिस अधीक्षक। ट्यूशनखोरों के यहां से निकलने वाली फौज सड़कों पर जमकर मचाती है धमाल।

बिजनौर। शहर में कुछ स्थानों पर पुलिस चेकपोस्ट खोलने की योजना विभाग ने बनाई थी। इनमें शहर के बाहरी क्षेत्र चक्कर रोड के कई पॉइंट, बैराज रोड, मुरादाबाद रोड आदि शामिल हैं। पुलिस चेकपोस्ट बाहरी क्षेत्र के साथ ही शहर के अंदरूनी हिस्सों में भी खोलने पर पुलिस अधीक्षक को विचार करना चाहिए। ऐसा जागरुक नागरिकों का मानना है।

इस समय सबसे अधिक संवेदनशील क्षेत्र सिविल लाइंस है। यहां दिन भर हजारों लोगों का पैदल, रिक्शा अथवा दोपहिया, चौपहिया वाहनों से आवागमन रहता है। यहीं पर लोगों के लाड़ले बेखौफ होकर बाइक्स पर फर्राटा भरते हैं। खासतौर पर दोपहर बाद स्थिति अधिक ख़राब हो जाती है। पूरे सिविल लाइंस क्षेत्र में दिनभर बाइकर्स का आतंक रहता है। दरअसल ट्यूशनखोरों के यहां से निकलने वाली फौज सड़कों पर जमकर धमाल मचाती है। इनके दोपहिया तीन से पांच के बीच ही सवारी बैठा पाते हैं। इससे कम पर कोई समझौता नहीं। हॉर्न पर उंगली, 70-80 की स्पीड पर एक्सीलेटर भीड़ को पानी मे काई की तरह फाड़ देते हैं। देर रात तक ऐसा ही चलता रहता है। लड़कियों, महिलाओं, वृद्धों, बच्चों को सड़क पार करने के लिए दस-दस मिनट तक इंतजार करना पड़ता है।

फिलहाल डाकघर के बाद पुलिस एसआरएस पर ही रहती है। लोगों का मानना है कि सिविल लाइंस में पेट्रोल पंप के बाहर महावीर स्कूल के सामने पुलिस चेकपोस्ट खोली जा सकती है। पुलिस अधीक्षक को इस विषय में विचार करना चाहिए।

इंटीरियर डेकोरेटर समेत दो युवकों पर दिनदहाड़े जानलेवा हमला

बिजनौर के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में हुई वारदात। पेट्रोल पंप के सामने दिल्ली से आए युवक की जान लेने की कोशिश। जन्मदिन मनाने अपने घर आया है युवक। कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। गांव के ही एक युवक पर है मुखबिरी का शक। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर लग रहा है प्रश्नचिन्ह

बिजनौर। जिला मुख्यालय के पॉश एरिया सिविल लाइंस फर्स्ट में इंटीरियर डेकोरेटर पर दिनदहाड़े जानलेवा हमले की वारदात हुई। कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने महावीर स्कूल व पेट्रोल पंप के बाहर दिल्ली से आए युवक की जान लेने की कोशिश की गई। युवक जन्मदिन मनाने अपने घर आया हुआ है। कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। सूचना पर थाना शहर कोतवाली पुलिस ने घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

जानकारी के अनुसार ग्राम कम्भौर पोस्ट सिरधनी निवासी सजल कुमार दिल्ली में रहकर इंटीरियर डेकोरेशन का काम करता है। 14 सितंबर को अपना जन्मदिन होने के कारण अपने घर आया हुआ है। सजल ने अपने मित्रों को बर्थडे पार्टी के तौर पर कुल्फी खिलाने के लिए सिविल लाइंस प्रथम स्थित महावीर स्कूल व पेट्रोल पम्प (कृष्णा सेंट्रल प्लाजा के सामने) बुलाया हुआ था। इसी दौरान कम्भौर के ही एक युवक ने सजल से बातचीत की और मोबाइल फोन पर किसी से बात करने लगा। कुछ ही देर में जमालपुर, चौकपुरी व छोइया नंगली निवासी कुछ युवक अपने 5-6 साथियों के साथ वहां पहुंचे और सजल को और जान से मारने की नीयत से मारपीट शुरू कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक महिला पुलिस कांस्टेबल ने बीचबचाव की कोशिश की, लेकिन हमलावर उसे भी झटक कर आराम से फरार हो गए। महिला पुलिस कांस्टेबल ने उक्त घटना की वीडियो भी अपने मोबाइल फोन से बना ली। वहीं पेट्रोल पंप व अन्य सीसीटीवी कैमरों में घटना कैद हो गई है। बताया गया है कि उक्त वारदात को अंजाम देने के कुछ ही देर बाद हमलावरों ने एसआरएस मॉल के सामने पुलिस चेकपोस्ट के बराबर में एक अन्य युवक को जमकर पीटा। दूसरी ओर पुलिस को दी गई तहरीर में शुभम निवासी जमालपुर, मयंक चौधरी निवासी चौकपुरी व तरुण चौधरी निवासी छोइया नंगली व 5-6 अन्य अज्ञात पर घटनाओं का आरोप लगाया गया है। सूचना पर थाना शहर कोतवाली पुलिस ने जिला संयुक्त चिकित्सालय में घायल युवकों का मेडिकल कराया और हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है। दिनदहाड़े हुई दोनों घटनाओं से पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

प्राइवेट अस्पताल कर्मी युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

बिजनौर रेफर न कर अपने ही अस्पताल में डॉक्टर ने किया भर्ती। प्राइवेट अस्पताल कर्मी युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत।

बिजनौर। नहटौर में एक फर्जी प्राइवेट अस्पताल में काम करने वाली 16 वर्षीय युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। युवती की मौत से परिवार में कोहराम मच गया है। इससे पहले युवती को सीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां से उसे बिजनौर के लिए रेफर किया गया। फर्जी अस्पताल के मालिक ने युवती को बिजनौर रेफर ना करके अपने ही अस्पताल में उपचार शुरू कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई हालांकि युवती के परिजनों ने मौत का कारण पेट का दर्द बताया है लेकिन उसकी मौत अभी भी एक रहस्य बनी हुई है।

थाना नहटौर क्षेत्र के हल्दौर मार्ग पर स्थित ध्रुवी हेल्थ केयर सेंटर में नूरपुर मार्ग स्थित एक गांव की युवती काम करती थी। चर्चा है कि युवती का किसी युवक से प्रेम प्रसंग था। मोबाइल फोन पर बात करते हुए युवती को परिजनों ने पकड़ लिया, जिससे तंग आकर युवती ने जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। युवती के जहर खाने से परिजनों व अस्पताल संचालिका अंजू के हाथ पांव फूल गए।

गंभीर अवस्था में युवती को सीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां से डॉक्टर ने हालत नाजुक देखते हुए बिजनौर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। आरोप है कि फर्जी अस्पताल ध्रुवी हेल्थ केयर सेंटर के संचालक और संचालिका ने बिजनौर रेफर ना करके युवती को अपने ही अस्पताल में उपचार करना शुरू कर दिया। दूसरी ओर हालत बिगड़ता देख डॉ. अंजू के हाथ पांव फूल गए तब उसको बिजनौर जिला अस्पताल के लिए रेफर किया, रास्ते में ही युवती ने दम तोड़ दिया। युवती के परिजनों का कहना है कि पेट दर्द के कारण उसकी मौत हुई है। इस दौरान अस्पताल संचालिका अंजू से बातचीत करने की कोशिश की गई तो वह अस्पताल से नदारद थीं। शहर में युवती की मौत जहर खाने से होने की चर्चा हो रही है, यदि समय रहते इन फर्जी अस्पतालों पर स्वास्थ्य विभाग में कार्यवाही नहीं की तो गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

लव जेहाद का शिकार कायस्थ युवती ने लगाई इच्छा मृत्यु की गुहार

लव जेहाद का शिकार कायस्थ युवती ने लगाई इच्छा मृत्यु की गुहार। एसपी को सौंपा प्रार्थना पत्र। राहुल सैनी बनकर दिल्ली में रह रहा था गुलशाद। बेनीपुर कोपा का ग्राम प्रधान भी देता है धौंस। कभी भी कोई भी आकर उसका करता है शारीरिक शोषण।

बिजनौर। एक और युवती लव जेहाद का शिकार हो गई। लाचार होकर उसने पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर इच्छा मृत्यु की गुहार लगाई है।

सुल्तानपुरी अमन विहार दिल्ली निवासी कायस्थ बिरादरी की एक युवती ने पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह को प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराया कि उस के घर के सामने गुलशाद नाम का युवक राहुल बनकर रह रहा था। युवती की गुलशाद उर्फ राहुल से 2018 में मुलाकात हुई। राहुल ने कहा कि उसका कारोबार है और वह कई चीजों की सप्लाई करता है। इसके बाद वह उससे मिलता जुलता रहा। राहुल ने युवती को बताया कि वह सैनी जाति से है तथा उससे शादी करना चाहता है। उसने यह भी बताया कि वह जिला बिजनौर के तहसील नगीना अंतर्गत गाम बेनीपुर कोपा थाना बढ़ापुर का रहने वाला है। युवती का आरोप है कि वह गुलशाद उर्फ राहुल की बातों में आ गई। इसके बाद युवक ने उससे शारीरिक सम्बन्ध बना लिए। नगीना में एक मुस्लिम वकील के यहां दिनांक 14 जनवरी 2020 को स्टाम्प पेपर पर हस्ताक्षर करा लिए। स्टाम्प पेपर उसने कोर्ट मैरिज के कागजात बताकर अपने पास ही रख लिए।

दो साल पहले खुला भेद- युवती ने बताया कि उसे नवंबर 2020 में पता लगा कि उक्त राहुल मुस्लिम है। और उसका सही नाम गुलशाद ताहिर है। यह पता लगते ही युवती ने एक प्रार्थना पत्र थाना बढ़ापुर में दिया, परन्तु कोई सुनवाई नहीं हुई। गुलशाद व उसके भाई अरशद, आरिफ व शाहनवाज को जैसे ही पता लगा कि वह पुलिस को उनकी असलियत बताने गयी है तो उन्होंने उसके साथ मारपीट की।  गुलशाद की मां साहिरा व उसके चाचा के लड़के जावेद व कासिफ भी आ गये और मारपीट व गालियां देते हुए कहा कि तुझे इस्लाम धर्म कबूल करना पड़ेगा व नमाज भी पढ़नी पड़ेगी। मना करने पर अरशद व आरिफ ने उसके कपड़े फाड़कर जबरदस्ती की। युवती के माता पिता भी इस कृत्य से नाराज हैं और वह अकेली पड़ गयी है उसका कोई सहारा नहीं है। जावेद व असिफ ने दिनांक 11 सितंबर 2022 को शाम लगभग 4 बजे उसे आकर पकड़ लिया और गालियां देते हुए कहा कि उसे पुलिस में रिपोर्ट करनी हम सिखाएंगे। युवती ने कहा कि वह बड़ी मुश्किल में है, कभी भी कोई भी आकर उसका शोषण कर लेता है। बेनीपुर कोपा का प्रधान रईस अहमद भी धौंस देता है कि 2000/-रुपये ले और यहां  से दिल्ली चली जा। पीड़ित युवती ने पुलिस अधीक्षक से इच्छा मृत्यु की गुहार लगाते हुए कहा कि हिन्दू बनकर मुस्लिम युवक ने उसका शोषण व धोखाधड़ी की है। उसे न्याय दिलाया जाए और उक्त लोगों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करके कानूनी कार्यवाही की कृपा जाए। पुलिस अधीक्षक से युवती के साथ मिलने वालों में अशोक कुमार सैनी जिलाध्यक्ष भागीरथ सेना, मनोज कुमार सैनी जिलाध्यक्ष, मोहित राजपूत, रविन्दर आदि शामिल हैं।

युवक गायब, ससुरालियों ने निकाला- डेढ़ महीने पहले गुलशाद उर्फ राहुल अचानक घर से कहीं चला गया। मुस्लिम ससुरालियों ने उसे यह कह कर धक्के देकर निकाल दिया कि अपने लड़के को उन्होंने अपनी जायदाद से बेदखल कर दिया है। युवती को एक स्थानीय भाजपा नेत्री ने सहारा दिया है।

महिला का शव कलक्ट्रेट में रखकर अस्पताल के चिकित्सकों के खिलाफ हंगामा

कलक्ट्रेट में प्रसूता का शव रखकर परिजनों का हंगामा। जिला महिला अस्पताल के चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप।

बिजनौर। प्रसव के बाद इलाज के दौरान मौत से आक्रोशित मृतका के परिजनों ने शव को कलक्ट्रेट परिसर में रखकर जमकर हंगामा किया। उन्होंने जिला महिला अस्पताल के डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने समझा-बुझाकर कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराया।

ग्राम ब्रह्मपुरी रावली, थाना क्षेत्र मंडावर के रहने वाले मनदीप (जाति अनुसूचित जाटव) ने अपनी पत्नी प्रियंका को प्रसव पीड़ा के चलते 5 सितंबर 2022 को जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया था। मनदीप का कहना है कि उसकी पत्नी स्वस्थ थी और ऑपरेशन से उसको लड़का हुआ था। उसी दिन ब्लीडिंग ज्यादा होने से उसकी हालत बिगड़ गई तो डॉक्टरों ने उसे बाहर ले जाने को कहा। इस पर दिनांक 6 सितंबर 2022 को बीना प्रकाश हॉस्पिटल नगर बिजनौर में भर्ती कराया गया। बीना प्रकाश हॉस्पिटल के चिकित्सकों ने मेरठ ले जाने की सलाह दी, जिस पर परिवार जन अपने घर ले गए तथा दिनांक 11 सितंबर 2022 को भाग्यश्री हॉस्पिटल जनपद मेरठ में भर्ती कराया गया। भर्ती के दौरान आज दिनांक 12 सितंबर 2022 की प्रातः सुबह 4:00 बजे श्रीमती प्रियंका की मृत्यु हो गई। इसके बाद परिजन और भारी संख्या में ग्रामीण महिला का शव लेकर कलक्ट्रेट पहुंचे और जिला महिला अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर मोहित कुमार, एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह, सीओ अनिल सिंह, कोतवाल रविंद्र वशिष्ठ सहित पुलिस-प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कार्रवाई का आश्वासन देते हुए लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया।

नशीली दवा बेचने में पकड़ा कन्हैया मेडिकल स्टोर स्वामी

बिजनौर। थाना क्षेत्र नगीना नगर में कन्हैया मेडिकल स्टोर पर ड्रग इंस्पेक्टर व पुलिस टीम ने छापा मारा। छापामारी के दौरान मेडिकल स्टोर से भारी मात्रा में नशे के इंजेक्शन व नशे की गोलियां बरामद हुईं। पुलिस ने मेडिकल स्वामी को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। बताया जा रहा है कि पुलिस को कई दिन से सूचना मिल रही थी कि कन्हैया मेडिकल स्टोर पर नशे के इंजेक्शन व कैप्सूल धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए ड्रग इंस्पेक्टर के साथ छापेमारी की।

डॉक्टर समेत 3 पर रेप का केस

दो अलग अलग मामलों में चिकित्सक सहित तीन पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज

बिजनौर/स्योहारा। दो अलग अलग मामलों में एक चिकित्सक सहित तीन लोगों पर पुलिस ने दुष्कर्म का मामला दर्ज कर कार्यवाई शुरू कर दी है।
धामपुर निवासी एक महिला ने कोर्ट में तहरीर देकर आरोप लगाया कि वह वर्तमान में स्योहारा से सटे एक गांव में रहती है। धामपुर सुहागपुर स्थित लीलावती अस्पताल के डाक्टर रजनीश कुमार से उनका इलाज चलता रहता है। पीड़िता ने तहरीर में आरोप लगाया कि 14 जून को उसके सीने में दर्द होने पर उसने डाक्टर रजनीश को दिखा कर पांच दिन की दवाई ली और फिर घर पर ही आकर देखने को कहा। 19 जून की दोपहर को डाक्टर रजनीश उसके घर आया और तबीयत देखने के बहाने तमंचे के बल पर उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। कोर्ट ने पीड़िता की तहरीर पर आरोपी चिकित्सक डा रजनीश के विरुद्ध दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए, जिस पर पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर आरोपी चिकित्सक के विरुद्ध दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है।

साथी युवती से ब्लैकमेलिंग- स्योहारा थाना क्षेत्र के एक गाँव निवासी व्यक्ति ने पुलिस अधीक्षक को तहरीर देकर आरोप लगाया कि उसकी 20 वर्षीय पुत्री हरिद्वार के रोशनाबाद स्थित एक फैक्ट्री में पैकिंग का काम करती थी। गांव का ही एक युवक देवेन्द्र भी उसके साथ फैक्ट्री में काम करता था। आरोप है कि युवक देवेन्द्र ने उसकी पुत्री को शादी का झांसा देकर उसके साथ दुष्कर्म किया। क़ुछ समय बाद दोनों गांव आ गये। उसने अपनी पुत्री की शादी के लिए अन्य स्थान पर रिश्ता पक्का किया तो युवक ने उसकी लड़की के अश्लील फोटो दिखाकर रिश्ता तुड़वा दिया। 26 जून को युवक ने उसकी पुत्री को घर के पीछे जंगल में बुलाया और युवक व उसके भाई ने जाति सूचक शब्दों का प्रयोग कर अभद्र व्यवहार किया। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस अधीक्षक बिजनौर ने मुकदमा दर्ज कर कार्यवाई के आदेश दिए।

मुकदमा दर्ज, जांच शुरू- थानाध्यक्ष राजीव चौधरी का कहना है कि पुलिस अधीक्षक के आदेश पर देवेंद्र व गजेन्द्र पुत्रगण ओमप्रकाश निवासी ग्राम सुरानंगला स्योहारा के विरुद्ध दुष्कर्म व एससी एसटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी गयी है।

मुठभेड़ में चांदपुर पुलिस ने पकड़े तीन शातिर बदमाश

मुठभेड़ में चांदपुर पुलिस ने पकड़े तीन शातिर बदमाश। चोरी का ट्रैक्टर, रूटावेटर, तमंचे, कारतूस बरामद।

बिजनौर। चांदपुर पुलिस ने मुठभेड़ के बाद तीन शातिर चोरों को चोरी के ट्रैक्टर व रुटावेटर समेत गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे व निशानदेही पर ट्रैक्टर, रूटावेटर, 315 बोर के दो तमंचे भी बरामद किए हैं। पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज करते हुए तीनों शातिर चोरों का चालान काट दिया।

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार राय, राजेश कुमार सिंह, उदयवीर सिंह, मुख्य आरक्षी अमित कुमार, कांस्टेबल रजनीश कुमार, सचिन कुमार, अमित कुमार की संयुक्त टीम ने रविवार को मुखबिर की सूचना पर ग्राम कराल निवासी फईम के खेत में दबिश दी। बदमाशों ने अपने आप को घिरा पाकर देखकर पुलिस पर जान से मारने की नियत से फायर झोंक दिया परंतु पुलिस टीम ने जवाबी फायरिंग कर मौके से दबिश तीन शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से दो तमंचा 315 बोर, जिन्दा कारतूस 315 बोर, एक चाकू भी बरामद कर लिया। कड़ी पूछताछ पर उन्होंने बताया कि 22 अगस्त 2022 की रात्रि को कस्बा चांदपुर के मौहल्ला काजीजादगान निवासी मौ० आशिक पुत्र तनवीर अहमद के घेर का ताला तोड़कर एक ट्रैक्टर जोन डियर व एक रूटावेटर  (कृषियन्त्र) चोरी किया था। पुलिस ने ट्रैक्टर व रुटावेटर भी बरामद कर लिया।

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार राय ने बताया कि  थाना चांदपुर ग्राम कराल निवासी फईम शेख पुत्र सलाउद्दीन व कलीम पुत्र मेहरबान फरीदी उर्फ मुन्ना व मौ. शौकीन पुत्र मेहरबान उर्फ मुन्ना पुरकाजी बाजार खुर्द जनपद मुजफ्फरनगर के खिलाफ 572/22 धारा 457/380 के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करते हुए उनका चालन काट दिया है।

कोतवाल से मिलकर पत्रकार को फंसाने की रची जा रही साजिश?

वादी पर फैसले का दबाव बनाने और जेल जाने से बचने के लिए आरोपी दे रहे साजिश को अंजाम। रुपयों के अदाईगी की वीडियो का सहारा लेना पड़ेगा भारी। आरोपियों को न्यायालय से जमानत कराने के लिए 14 सितंबर को होना होगा हाजिर।

बिजनौर। बेकरी का बडा झांसा देकर लाखों रुपए की ठगी व हड़पने के मामले में न्यायालय नगीना में हुई आरोपियों के खिलाफ दाखिल चार्जशीट के बाद, अब आरोपीगण कोतवाल से मिलकर पीड़ित/वादी मुकदमा के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराने की चर्चा आम हो गयी है। कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में कस्बा कोटरा निवासी खुर्शीद, फखरे, साजिद, वाजिद,व इरफान पर लाखों रुपए के गबन, मारपीट व साजिश रचना आदि कई संगीन धाराए हैं, जबकि इनके एक भाई नजमुल ने चैक बाउंस के मामले में  27 जुलाई को अपनी जमानत कराई है।

बताया गया है कि क्षेत्र के कस्बा कोटरा निवासी नजमुल आलम व उसकी पत्नी अकलिमा ने वर्ष 2018 में पुणे में एक बड़ी बेकरी का झांसा देकर नगीना निवासी पत्रकार नौशाद अंसारी से 35 लाख रु ले लिए और विश्वास दिलाने के लिए नोटरी एग्रीमेंट भी हुए थे। पीडित ने लोन के रुपयों में से इन्हें भुगतान किया था। नजमुल के अन्य भाइयों खुर्शीद, फखरे, साजिद व वाजिद ने अपने भाई नजमुल व भाभी अकलिमा पर बकाया रकम को वापस करते हुए नगीना के नई बस्ती फुलवाड में स्थित एक मदरसे में दिनांक 26-09-2019 को 30 लाख रु की रकम लौटा दी। इस रकम के लौटाते समय सबूत के तौर पर दोनों पक्षों की सहमति से एक वीडियो भी बनी, जिसमें खुर्शीद अपने भाई नजमुल का पैसा नौशाद को लौटाते दिख रहे हैं। इतना ही नहीं रकम अदाईगी की तहरीर भी हुई थी। उधर नजमुल के भाईयों खुर्शीद, फकरे, साजिद व वाजिद ने फिर नौशाद को अपने झांसे में लेकर मजबूरी बताते हुए 35 लाख रु ले लिये और एक लिखित तहरीर नोटेरी के द्वारा भी हो गयी। खुर्शीद, फकरे, साजिद व वाजिद ने जब पैसा समय पर अदा नहीं किया तो पीड़ित नौशाद ने तत्कालीन पुलिस अधीक्षक के आदेश पर नगीना थाने में 21 अगस्त 021 को मु.अ.स. 309/021 धारा 120 बी 406, 392, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज करा दिया था। क्राइम ब्रांच ने दर्ज कराए गए मुकदमे में खुर्शीद, फखरे, साजिद, वाजिद निवासी कस्बा कोटरा व इरफान पुत्र बाबू अंसारी निवासी ग्राम बैरमनगर नहटौर के खिलाफ जुर्म अंतर्गत धारा 406, 504, 323, 506, 120बी के आरोप पत्र संख्या 140/022 दाखिल न्यायालय कर दिया। न्यायालय ने सभी आरोपियों खुर्शीद, फकरे पुत्र इकबाल, साजिद, वाजिज पुत्र रफीक कस्बा कोटरा व इरफान पुत्र बाबू अंसारी बैरमनगर नहटौर को संज्ञान लेते हुए 29 अगस्त कि तारीख निर्धारित की और समन जारी कर दिए। नगीना पुलिस को समन मिलने के बाद भी सम्मनों की तामिल नहीं हुई। वर्तमान में 14 सितंबर की तारीख न्यायालय में लगी है। अब सभी आरोपियों ने जेल जाने के डर से वादी मुकदमा नौशाद अंसारी पर कोतवाल से मिलकर झूठा मुकदमा दर्ज कराने की साजिश रची। इसके क्रम में आरोपियों ने अपने ही गांव के एक चहेते व्यक्ति वसीम को लालच देकर कोतवाल पर कोई बात न आए, झूठी कहानी रचकर न्यायालय में 156(3) में लाखों रुपए हडपने और घर पर जाकर रंगदारी मांगने का प्रार्थना पत्र दिलवा दिया। न्यायालय ने 31 अगस्त को मुकदमा दर्ज कर निष्पक्ष जांच करने के निर्देश दिए। उधर मुकदमा दर्ज होने से पहले वादी वसीम ने राज खोलते हुए पूरी साजिश बता दी और 03 सितंबर को वादी वसीम ने शपथ पत्र देकर नोटेरी करा दिया कि, मेरे साथ कोई घटना नहीं हुई। चश्मदीद गवाह अनवर सलीम ने तो यहां तक शपथ पत्र में लिखकर दे दिया कि, वसीम ने जो यह मुकदमा लिखवाया है, वह झूठा और फर्जी है। मेरे सामने इस तरह की कोई घटना नहीं घटित हुई और मेरा नाम चश्मदीद गवाह के रुप मे वसीम ने झूठा लिखवा दिया है। गव़ाह वसीम का अनवर सलीम सगा चचेरा भाई है। न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने 05 सितंबर को मु.अ.स. 292/022 दर्ज किया। वरिष्ठ अधिकारियों की जानकारी में पूरा मामला आने के बाद उन्होंने वसीम के मुकदमा को नगीना से हटाकर क्राइम ब्रांच को निष्पक्ष जांच के निर्देश दे दिए। दोनो पत्रकार भाईयों नौशाद व शहजाद को जेल भेजने की साजिश को नाकाम होता देख कोतवाल प्रिंस शर्मा ने अब उन आरोपियों खुर्शीद, नजमुल, फकरे आदि पर अपना आशीर्वाद का हाथ रंख दिया, जिसमें इन सभी आरोपियों को 14 सितंबर तक न्यायालय में हाजिर होकर अपनी जमानत करानी है।

क्या है वीडियो प्रकरण का सच, रुपयों के अदाईगी की वीडियो पर उछल रहे हैं शातिर ठग…

आरोपी खुर्शीद, नजमुल, फखरे आदि उस वीडियो के आधार पर कोतवाल प्रिंस शर्मा के सहयोग से एक झूठा मुकदमा लिखाने की कोशिश कर रहे हैं। इसमें नजमुल पर बकाया रुपए दिनांक 26 सितंबर 2019 में बनी सहमति के साथ वीडियो में यह खुद आरोपी 30 लाख रुपये बकाया नजमुल के देते नौशाद को दिख रहे हैं और उसी रकम की अदाएगी की एक तहरीर भी कराए हुए हैं जो नोटेरी एडवोकेट से प्रमाणित है। उधर न्यायालय में दाखिल चार्जशीट मु 309/ 021 में क्राइम ब्रांच ने कहा है कि नजमुल के भाइयों ने नजमुल पर बकाया वर्ष 2018 की तीस लाख रूपए की रकम वादी नौशाद को दिनांक 26-9-2019 को अदा की है। वर्ष 2019 में बनी पेसों के लेन देन की वीडियो के सहारे अब शातिर आरोपी खुर्शीद, फकरे, नजमुल आदि कोतवाल के सहयोग से दोनों पत्रकार भाईयों नौशाद व शहजाद पर झूठा केस बनाने की एक और कोशिश में लगे हुए हैं!

नौकरी लगवाने के नाम पर तीन लाख की ठगी

नौकरी लगवाने के नाम पर तीन लाख की ठगी। पीड़ित ने डीआईजी को प्रार्थना पत्र देकर की कार्यवाही की मांग।

बिजनौर। नौकरी लगवाने के नाम पर तीन लाख रुपये की ठगी कर ली गई। पीड़ित ने डीआईजी मुरादाबाद को शिकायती पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।

स्योहारा नगर के मोहल्ला मुस्लिम चौधरीयान निवासी फैजान अहमद पुत्र जहीरूद्दीन ने डीआईजी मुरादाबाद को शिकायती पत्र दिया। पत्र में कहा गया कि उसकी नौकरी लगवाने का झांसा देकर 2 वर्ष पूर्व विशाल उर्फ नासिर पुत्र अशफाक, शहजाद पुत्र अशफाक, अफजाल पुत्र अशफाक, दिलशाद पुत्र अशफाक, बबलू पुत्र अशफाक, मुमताज पत्नी विशाल उर्फ नासिर, मेहराजूलनिशा पत्नी शहजाद व अरमान उर्फ फरमान पुत्र विशाल निवासी मोहल्ला काजीयान थाना शेरकोट जनपद बिजनौर तीन लाख रूपए लिए थे। काफी समय बीतने के बाद भी जब नौकरी नहीं लगी तो उसने रुपये वापस मांगे। इस पर इन लोगों ने कुछ समय बाद रुपये वापस करने की बात कहीं। पीड़ित का आरोप है कि अब यह लोग पैसे मांगने पर उसे धमका रहे हैं। आरोप है कि रुपये वापस मांगने पर आरोपियों ने गाली गलौच करते हुए जान से मारने की धमकी दी। घटना की एक तहरीर पुलिस अधीक्षक को दी गई लेकिन आरोपियों के विरुद्ध अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई। पीड़ित ने डीआईजी मुरादाबाद को शिकायती पत्र सौंपकर आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है।

सौतेली मां के उत्पीड़न से तंग दो सहेलियों संग भागी थीं दो बहनें

बिजनौर। नजीबाबाद से गायब हुई चार स्कूली छात्राओं को पुलिस ने 24 घंटे के भीतर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से सकुशल बरामद कर लिया है। चारों छात्राएं घर वालों के तानों से तंग आकर नौकरी की तलाश में चली गई थीं।

विदित हो कि थाना नजीबाबाद क्षेत्र के मोहल्ला रम्पुरा की निशा (17 वर्ष), वंशिका (13 वर्ष) पुत्री अरविन्द सालवान,  आस्था (14 वर्ष) पुत्री अनूप वाल्मिकी तथा मोहल्ला भवन निवासी शिवानी सैनी (14 वर्ष) सुभाष सैनी नजीबाबाद के ही आर्य कन्या इन्टर कालेज की छात्राएं हैं। गुरुवार को इनके गायब होने की सूचना परिजनों द्वारा पुलिस को दी गई। पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। वहीं पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने छात्राओं की सकुशल व शीघ्र बरामदगी हेतु स्वाट/सर्विलांस सहित 03 टीम गठित कर दीं।

अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) डॉ. प्रवीण रंजन सिंह ने बताया कि स्वाट/सर्विलांस टीम व थाना नजीबाबाद पुलिस द्वारा चारों छात्राओं को 24 घन्टे के अन्दर देहरादून (उत्तराखण्ड) से बरामद कर लिया गया है। पूछताछ में ज्ञात हुआ है कि सगी बहनों निशा व वंशिका की माँ का पूर्व में ही देहान्त हो चुका है। उनके पिता ने दूसरी शादी कर ली, जिससे उनके एक बेटा है। सौतेली माँ द्वारा उनके साथ लगातार उत्पीड़न किया जा रहा था। वहीं अन्य दो छात्राएं भी अपने परिजनों के रोज रोज के तानों से तंग थीं। इस कारण वह नौकरी कर के कमाने और अपने पैरों पर खड़े होने की लालसा में घर छोड़ कर चली गई थीं।

सर्किल की किसी भी कोतवाली व थाने में नहीं होगा दिव्यांगों का शोषण:धर्म सिंह मार्छाल

सर्किल की किसी भी कोतवाली व थाने में नहीं होगा दिव्यांगों का शोषण- धर्म सिंह मार्छाल

नवागत एसपी पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल को एमआर पाशा व वसीम ने दी बधाई

बिजनौर। नवागत अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल को उनके धामपुर कार्यालय में राष्ट्रीय विकलांग एसोसिएशन के अध्यक्ष एमआर पाशा व मौहम्मद वसीम ने गुलदस्ता देकर बधाई दी।
राष्ट्रीय विकलांग एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एमआर पाशा ने अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल को दिव्यांगों की समस्याओं से अवगत कराया। एमआर पाशा ने कहा कि दिव्यांगों का तहसील धामपुर के सर्किल में हर थानों कार्यालयों में शोषण किया जाता है। उनके साथ अभद्र व्यवहार किया जाता है। मदद करने की बजाय उन्हें भगा दिया जाता है।
एमआर पाशा ने धामपुर सर्किल अंतर्गत सभी सीओ कार्यालयों, कोतवाली व थानों के अलावा नई चौकियों व चेक पोस्ट पर दिव्यांगों के लिए व्हीलचेयर व रैम्प की व्यवस्था कराने की मांग की।

सभी समस्याओं का होगा निस्तारण-अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी धर्म सिंह मार्छाल ने आश्वासन दिया कि जल्द ही सभी समस्याओं का निस्तारण कराया जाएगा। साथ ही कहा कि वह अपने सर्किल अंतर्गत सभी पुलिस क्षेत्राधिकारियों व थाना प्रभारियों को अवगत कराएंगे। किसी भी दिव्यांग का शोषण नहीं किया जाएगा। अगर पुलिस द्वारा किसी दिव्यांग का शोषण किया जाता है तो संबंधित पर कार्यवाही की जाएगी। इस मौके पर वाइस प्रेसिडेंट मौहम्मद वसीम, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मौहम्मद आजम, शमशेर आदि मौजूद रहे।

पुलिस पेंशनरों की समस्याओं के निस्तारण के निर्देश

बिजनौर। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राम अर्ज द्वारा पुलिस लाइन सभागार कक्ष में पुलिस पेंशनरों के साथ मासिक संवाद गोष्ठी की गई। इस दौरान दोनों अधिकारियों ने उनकी समस्याओं को ध्यान पूर्वक सुना। इसी के साथ निस्तारण हेतु संबंधित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

खेल के मैदान में पढ़ी नमाज, वीडियो वायरल

बिजनौर में खेल के मैदान में पढ़ी गई सामूहिक नमाज, हिंदू संगठनों ने जताया विरोध। पुलिस से कार्रवाई की मांग।

Bijnor Mass prayers were read playground Hindu organizations protested and demanded action from police

खेल के मैदान में नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल। हिंदू संगठनों ने जताया विरोध। शिकायत पर जांच में जुटी पुलिस। बिजनौर के नगीना नगर क्षेत्र अंतर्गत खेल के मैदान में मुस्लिम समाज के कुछ लोगों द्वारा सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। हिंदू संगठनों ने मामला संज्ञान में आने पर विरोध जताते हुए पुलिस से कार्रवाई की मांग की है। वीडियो फुटेज के आधार पर पुलिस जांच में जुट गई है।

बिजनौर। जनपद के नगीना नगर क्षेत्र में एक खेल मैदान में नमाज पढ़े जाने का वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें मुस्लिम समाज के कुछ लोगों के सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने की फुटेज है। इसके बाद हिंदू संगठनों में नाराजगी व्याप्त हो गई है। इस मामले में पुलिस से कार्रवाई की मांग की गई है। वहीं पुलिस वीडियो के आधार पर जांच में जुट गई है। मामला गांधी मूर्ति झंडा चौक के पास खेल के मैदान का बताया जा रहा है। वीडियो में इसी मैदान के पास एक मंदिर भी दिखाई दे रहा है।

पढ़ी जा रही नमाज, खेल रहे बच्चे
नगीना थाना नगर क्षेत्र के अंतर्गत गांधी मूर्ति झंडा चौक के पास खेल का मैदान है। यहां बच्चों से लेकर बुजुर्ग मॉर्निंग वॉक करते हैं और शाम के समय युवा कई तरह के गेम खेलते हैं। वायरल हो रहे वीडियो को लेकर बताया गया है कि बुधवार की शाम को करीब 15 मुस्लिम युवकों ने इसी मैदान में सामूहिक रूप से नमाज पढ़ी। इस दौरान बच्चे मैदान में खेलते हुए भी नजर आ रहे हैं। नमाज पढ़ने के समय किसी राहगीर ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। उसके बाद हिंदू संगठनों ने इसको लेकर विरोध शुरू कर दिया। वीडियो में मैदान के पास एक मंदिर भी दिखाई दे रहा है। यहां लोग पूजा-पाठ करने आते हैं। इसलिए खेल मैदान में नमाज पढ़ने का हिंदू संगठनों के लोगों ने विरोध जताया है। उन्होंने इस वीडियो के आधार पर पुलिस से कार्रवाई की मांग की है।

सीओ को सौंपी है जांच- एसपी देहात रामअर्ज
इस मामले में एसपी देहात राम अर्ज का कहना है कि मामले की जांच सीओ नगीना को सौंपी गई है। सीओ वायरल हो रहे वीडियो की जांच कर रहे हैं। जांच के बाद विधिक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि मैदान में नमाज पढ़ने वालों की पहचान की जा रही है। यह भी जांच के दायरे में है कि वीडियो कब का है?

गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर तैयारियां

माहौल बिगाड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई करेगी पुलिस। स्योहारा थाना परिसर में हुई गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर शांति समिति की बैठक।

बिजनौर। स्योहारा थाना परिसर में मंगलवार को गणपति विसर्जन व दिगंबर जैन यात्रा को लेकर शांति समिति की बैठक एसडीएम धामपुर मनोज कुमार व क्षेत्राधिकारी इंदु सिद्धार्थ की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक का संचालन थाना प्रभारी निरीक्षक राजीव चौधरी ने किया।

एसडीम धामपुर मनोज कुमार ने कहा की आयोजन को लेकर नगर की सभी गणेश समितियां आस्था व शांति से त्योहार मनाएं। विसर्जन के लिए बच्चों को नहीं ले जाया जाए। पुलिस प्रशासन विसर्जन के दौरान सभी प्रकार की व्यवस्था में रहेगा। इसमें नगर के सभी सम्मानित नागरिक सहयोग करें। नगर पालिका की ओर से भी उत्सव के लिए सभी प्रकार की व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगी। अनंत चतुर्दशी पर चल समारोह निकालने पर विचार किया गया। इसमें नगर के समस्त सार्वजनिक पंडालों के गणेशजी एक साथ विसर्जन के लिए शामिल होंगे।

सीओ इंदु सिद्धार्थ ने कहा कि आप अपने क्षेत्र के नव युवकों को सावधान कर दें कि वह किसी भी प्रकार की ऐसी हरकत ना करें, जिससे माहौल खराब हो। उत्सव में माहौल खराब करने वाले लोगों के साथ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्सव में शामिल होने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिला एसआई व पुलिस बल तैनात रहेगा। रजत रस्तोगी ने कहा कि गणपति विसर्जन के दौरान गोताखोरों व ट्रैफिक व्यवस्था का ध्यान रखा जाए, जिससे किसी को कोई परेशानी ना हो।

इस मौके पर चेयरमैन अख्तर जलील, अरुण कुमार वर्मा, राजपाल प्रजापति, रजत रस्तोगी, मुकुल रस्तोगी, नेपाल सिंह, राजू अरोड़ा, चौधरी फहीम उर रहमान, मोनू कुमार, संदीप शर्मा, देवेंद्र कुमार, अमित शर्मा, संजय जैन, आलोक अग्रवाल, फैसल वारसी मौजूद रहे।

सपा नेता हड़प गया ₹ साढ़े चार लाख


जनपद रामपुर के सपा जिला सचिव ने रुपए लेकर नहीं किया दुकान का बैनामा। एक साल से पुलिस अधिकारियों के यहां चक्कर काट रहा पीड़ित परिवार₹ साढ़े चार लाख हड़पने के बाद दे रहा फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी।

रामपुर। जिले में समाजवादी पार्टी के जिला सचिव और टांडा नगर पालिका परिषद के सभासद हाजी मोहम्मद जमील के बेटे मोहम्मद लईक का ऑडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह पुलिस, प्रशासन और प्रयागराज तक धन बल के कारण खास संबंध होने की बात कर रहा है। सपा नेता हाजी मोहम्मद जमील और उसके सहयोगियों पर एक व्यक्ति की मां से करीब चाढ़े चार लाख रुपए हड़पने का आरोप है।


सपा नेता ने दुकान का नहीं किया बैनामा

टांडा निवासी मोहम्मद कफील ने बताया कि वह अखबार बांटने का काम करता है। उसकी मां से चार लाख तीस हजार रुपए सपा नेता हाजी मोहम्मद जमील व अन्य कुछ लोगों ने मिलकर हड़प लिए, जबकि इस रुपए से एक दुकान का बैनामा होना था, जो आज तक नहीं किया गया। साथ ही दुकान को किसी और को बेच दिया गया। उसके नाम भी बैनामा नहीं किया गया है।

फर्जी मुकदमे में फंसाने की दे रहे धमकी

मोहम्मद कफील और उसकी बूढ़ी मां मरियम पुलिस अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर काट-काट कर थक गई हैं। मोहम्मद कफील की बूढ़ी मां ने पुलिस अधीक्षक को भी इस संबंध में प्रार्थना पत्र देकर इंसाफ की गुहार लगाई है। इसका भी आज तक कोई हल नहीं निकल पाया। पीड़ित कफील ने कहा कि उसके मामले में भी लाखों रुपए हड़पने से लेकर आरोपी पक्ष को बचाने आदि में इसी सपा नेता एवं इनके दबंग बेटों की भूमिका है। यही नहीं सपा नेता के बेटे व इनके सहयोगी आएदिन उसे व उसकी बूढ़ी मां को फर्जी मुकदमे आदि में फंसाने की धमकियां देते रहते हैं।

मामला क्या है? गौरतलब है कि जनपद रामपुर नगर की महिला मरियम से दुकान विक्रय के नाम पर कुछ लोगों ने चार लाख तीस हजार की रकम हड़प ली। महिला ने मुख्यमंत्री सहित उच्च अधिकारियों को पत्र प्रेषित कर आरोपियों के खिलाफ उचित मांग करते हुए रकम लौटाए जाने की गुहार लगाई। इसके बावजूद कोई सुनवाई नहीं हुई। मोहल्ला बरगद निवासी महिला का आरोप है कि एक दुकान उसके नाना ने अपनी आठ पुत्रियों के नाम रजिस्ट्री कराई थी। महिला का कहना है कि दो मौसियों ने अपने हिस्से का बैनामा उसके नाम रजिस्टर्ड करा दिया तथा एक मौसी ने स्वेच्छा से अपना हिस्सा मस्जिद को दान कर दिया था। बताया कि 12. 4 फिट चौड़ी दुकान को अलग-अलग हिस्सों में कैसे प्रयोग में लाया जाता। इसलिए कमेटी ने एक हिस्सा महिला को विक्रय कर दिया। साक्षी मोहम्मद रिजवान, रहमत अली व मोहम्मद अरशद की मौजूदगी में उस हिस्से की धनराशि 430000 मस्जिद कमेटी के मुतवल्ली हाजी असगर अली और पूर्व मुतवल्ली हाजी अतीक व जमील मेंबर सपा नेता व रिफाकत अली ने महिला से कुल रकम प्राप्त कर ली।

असली पुलिस के हत्थे चढ़ा फर्जी दरोगा

बिजनौर। पुलिस ने एक फर्जी दरोगा को पुलिस की वर्दी पहने गिरफ्तार किया है। फर्जी दरोगा पुलिस में लोगों की भर्ती कराने के नाम पर पैसा लेता था। बिजनौर कोतवाली शहर पुलिस ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया। अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) डॉ प्रवीण रंजन सिंह ने बताया कि उक्त फर्जी दरोगा लोगों को जॉइनिंग लेटर देने आया हुआ था। कुछ लोगों से एक लाख रुपए ले चुका था और बाकी रकम आज लेने आया था। इसी दौरान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फर्जी दरोगा बिजनौर के थाना हल्दौर अंतर्गत कुम्हारपुरा का रहने वाला सेल्फी कुमार है। उसे गिरफ्तार करने के बाद अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह अपर पुलिस अधीक्षक नगर बिजनौर

अचानक जाफराबाद चौकी पहुंचे एसपी

बिजनौर। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने थाना नजीबाबाद की चौकी जाफराबाद का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने चौकी की साफ-सफाई, क्षेत्र की कानून व्यवस्था एवं आगामी त्योहारों के दृष्टिगत सम्बन्धित को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। साथ ही चौकी पर मौजूद समस्त पुलिकर्मियों को डयूटी के प्रति सजग रहने हेतु बताया।

पति के एचआइवी पीड़ित होने की जानकारी के पांच दिन बाद रेलवे ट्रैक पर मिला था विवाहिता का शव

पति के एचआइवी पीड़ित होने की जानकारी से परेशान थी विवाहिता। पांच दिन बाद रेलवे ट्रैक पर मिला था विवाहिता का शव। पुलिस की पड़ताल में हुआ खुलासा। रात पौने तीन बजे रेलवे ट्रैक की ओर जाते सीसीटीवी फुटेज बरामद।आरोपी पति भेजा गया जेल।

लखनऊ। मलिहाबाद थाना क्षेत्र में रेलवे ट्रैक पर मिले विवाहिता के शव के प्रकरण में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस का कहना है विवाहिता का पति सोनू एचआईवी संक्रमण से ग्रसित है। बीस अगस्त को पत्नी को इसकी जानकारी हुई थी। तब से दोनों में अनबन चल रही थी। उसके पांच दिन बाद पत्नी सुभासनी का शव रेलवे ट्रैक पर मिला था।

मामले की जानकारी देते हुए क्षेत्राधिकारी योगेंद्र सिंह ने बताया कि मृतक महिला के भाई की तहरीर पर दर्ज एफआईआर व पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आयी हेड ऐंजरी के आधार पर आरोपी पति सोनू को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है बाकी जांच चल रही है। इधर आरोपियों की पैरवी में लगे उनके परिचितों ने पुलिस को कुछ अहम साक्षय सौंपे है जो विवाहिता के द्वारा आत्महत्या किये जाने की ओर इशारा कर रहे हैं। उन्होंने ग्रामीणों के सहयोग से कुछ ऐसे सीसीटीवी फुटेज एकत्र कर पुलिस को उपलब्ध कराए हैं, जिसमें यह दिख रहा है 25/26 की रात दो बजकर 38 मिनट पर विवाहिता हाथ मे डिब्बा लिए रेलवे फाटक की तरफ जाने वाली सड़क पर दिख रही है। परिचितों का कहना है गांव से प्राप्त किये सीसीटीवी फुटेज में जब रात में महिला अकेले जाती दिख रही है तो हत्या का सवाल ही नहीं बनता है। उनका कहना है कि महिला के परिजनों द्वारा लगाया गया दहेज हत्या का आरोप निराधार है। पुलिस निष्पक्ष जांच न्याय करें। इस मामले में क्षेत्राधिकारी का कहना है आरोपी पति एचआईवी ग्रसित है, इसकी रिपोर्ट प्राप्त कर ली गयी है। इसके साथ ही कुछ सीसीटीवी फुटेज व अन्य जो भी साक्ष्य भी प्राप्त हुए है, जो जांच का विषय हैं। पुलिस की तरफ से किसी के साथ अन्याय नहीं होगा, जो सच होगा वह सामने आएगा।

मालूम हो कि गोसवा गांव निवासी सोनू पुत्र गुड्डू की पत्नी सुभासनी (23) का शव 26 अगस्त को गांव से कुछ दूर रेलवे ट्रैक पर पड़ा मिला था। मृतका के भाई सुशील कुमार ने उसके पति, सास, ससुर, देवर व ननदों के विरुद्ध दहेज हत्या का मामला दर्ज कराया था।

बैंक मैनेजर के बहनोई ने की थी शिखा व बच्चे की हत्या

हत्यारोपी को गिरफ्तार कर पुलिस ने किया दोहरे हत्याकांड का खुलासा। पकड़े जाने के डर से साथी ने की गोली मारकर आत्महत्या।

बिजनौर/मेरठ। जनपद बिजनौर के जलीलपुर ब्लॉक स्थित पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजर संदीप कुमार के बहनोई ने अपने साथी के साथ मिलकर गर्भवती शिखा व उसके 5 वर्षीय बेटे की हत्या की थी। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है, जबकि उसके साथी रिश्तेदार ने पकड़े जाने के डर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

एसएसपी रोहित सिंह सजवाण, एसपी क्राइम अनित कुमार और एसपी देहात केशव कुमार ने पुलिस लाइन में प्रेस वार्ता कर दोहरे हत्याकांड का खुलासा किया। एसएसपी ने बताया कि हस्तिनापुर में बैंक मैनेजर संदीप के बहनोई हरीश ने अपने रिश्तेदार के साथ मिलकर उसकी गर्भवती पत्नी शिखा और 5 साल के बेटे रूकांश की हत्या को अंजाम दिया था। हरीश नोएडा के सेक्टर-51 में होशियारपुर की गली नंबर दो में रहता है और कैब चलाता है। पूछताछ में खुलासा हुआ कि संदीप के भाई की शादी समारोह के दौरान चोरी की घटना हुई थी। चोरी का आरोप हरीश पर लगाया गया था। संदीप द्वारा हरीश को चोर कहने को लेकर वह रंजिश रखता था। इसी के चलते उसने अपने साले समेत पूरे परिवार की हत्या की साजिश रची। वारदात को अंजाम देने के लिए हरीश ने पिलखुवा के अहमदपुर नया गांव निवासी अपने रिश्तेदार रवि को साथ मिलाया था। इसके बाद दोनों ने हत्या को अंजाम दिया और घर से नगदी जेवर लूटकर फरार हो गए थे। पुलिस ने हरीश को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने शिखा की स्कूटी को गाजियाबाद में निवाड़ी के पास नहर में फेंक दिया था, जो बरामद कर ली गई है।

फाइल फोटो।

दूसरे आरोपी ने की गोली मारकर आत्महत्या- हत्याकांड में शामिल रहे रवि ने पकड़े जाने के डर से अपने ही गांव के जंगल में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गुरुवार की सुबह रवि का गोली लगा शव पिलखुवा के जंगल में ट्यूबवेल के पास मिला। पुलिस के अनुसार, रवि ने आत्महत्या करने से पहले अपने भाई कहर सिंह को बताया कि उसने बड़ा अपराध कर दिया है, अब उसे आत्मग्लानि हो रही है। रवि के शव के पास से तमंचा बरामद हुआ है।

फाइल फोटो।

घटना कब हुई- सोमवार दोपहर 12:30 बजे बैंक मैनेजर संदीप की पत्नी शिखा अपने बेटे रूकांश को स्कूल से लेकर घर पर आईं थी। इसी दौरान हरीश पिलखुवा के अहमदपुर नया गांव निवासी बहनोई शेर सिंह के चचेरे भाई रवि के साथ संदीप के घर पहुंच गया। वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों शिखा की स्कूटी से नोएडा भाग गए। शिखा के पिता श्रीपाल व पति संदीप ने हरीश पर हत्या का शक जताया था। पुलिस ने हरीश को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने सब कुछ उगल दिया। वहीं पोस्टमार्टम में शिखा के गर्भ से बच्चा पूरा निकला है। डाक्टरों का कहना है कि बच्चा पूरा हो चुका था, जल्द ही डिलीवरी होने वाली थी। उससे साफ है कि आरोपियों ने तीन हत्याएं कीं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस ने अपने रिकार्ड में भी तीन हत्याएं दर्ज की हैं।

धरना प्रदर्शन कर राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने सौंपा ज्ञापन

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने धरना प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन। मांगें न मानी तो किसी भी दिन आंदोलन छेड़ देंगे किसान।

बिजनौर। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन जनपद बिजनौर के कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन कर जिलाधकारी को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि आजादी के 75 वर्षों के बाद भी कृषि प्रधान देश कहलाने वाले भारत के अन्नदाता किसानों की अब तक भी दशा व दिशा नहीं बदली है। अब तक पाँच लाख अन्नदाता किसानों ने कर्ज में दबे होने के कारण आत्महत्या कर ली है। यह दुःख एवं विचारणीय विषय है। किसानों के बच्चे खेती छोड़ बनिये की नौकरी करने को मजबूर हैं। किसानों की फसलों का महंगाई के हिसाब से रेट सरकार तय नहीं करती है। खेती में काम आने वाले खाद, बीज, कीटनाषक दवायें, डीजल, कृषि यंत्र आदि के आये दिन सरकार मनमाने रेट बढ़ा देती है। फसलों का सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारन्टी न होने के कारण किसानों को अपनी फसल औने पौने दाम में ही व्यापारियों को देनी पड़ती है। इससे किसानों को बहुत बड़ी आर्थिक हानि होती है।

वक्ताओं ने कहा कि किसानों का समय पर कर्ज जमा न होने पर आर० सी० काट दी जाती है। गन्ना मिल मालिकों द्वारा गन्ना पेमेन्ट न होने पर भी कोई आर० सी० नहीं काटी जाती है। किसानों को आँकडे व वायदों में ही उलझाकर समय बीता देते हैं। अगला गन्ना सीजन आ जाता है और भोले किसान सब कुछ भूलकर फिर से गन्ना मिलों को गन्ना सप्लाई करने में लग जाते हैं। इस सब के बाद भी किसान खेती करने पर मजबूर हैं क्योंकि बच्चे बेरोजगार हैं।  इन सभी परेशानियों को देखते हुए सरकार को कोई ठोस कदम उठाना चाहिये। किसानों को सरकार द्वारा पूर्णत: कर्ज मुक्त किया जाना चाहिये एवं सभी फसलों का महंगाई के हिसाब व स्वामीनाथन रिपोर्ट के अनुसार लागत का डेढ़ गुना दाम तय कर गारंटी देना अनिवार्य कर देना चाहिए। अन्यथा एक दिन किसान खेती छोड़ने को मजबूर हो जायेंगे। तब इस भारत देश का क्या होगा, केवल पूँजीपति ही खेती में नजर आयेंगे। किसान बिरादरी खत्म हो जायेगी। ऐसा हम सभी भारत के किसान कभी सपने मे भी नही होने देंगे।   जिलाधकारी को दिये ज्ञापन में बजाज शुगर मिल बिलाई का बकाया गन्ना सीजन 2021-22 का गन्ना भुगतान 15%ब्याज सहित प्राथमिकता के आधार पर कराने, बिजली विभाग द्वारा जनपद बिजनौर में शेड्यूल के अनुसार बिजली आपूर्ति कराने, ट्यूबवेलों पर मीटर न लगाने, बिजली बिलों की आर० सी० न काटने, जनपद बिजनौर में आवारा पशुओं को पकड़कर गऊशालाओं में तत्काल भेजने की शासन व प्रशासन द्वारा ठोस योजना बनाने, जनपद के सभी क्षेत्रों में आएदिन देखे जा रहे वन्यजीव गुलदारों को वन विभाग द्वारा तत्काल  पकड़वाकर वनों में भेजने, वर्षा न होने के कारण जनपद बिजनौर को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों को फसलों का उचित मुआवजा दिलाने आदि की मांग की गई। ज्ञापन में किसानों की सभी मांगों का निराकरण कम से कम समय में शासन व प्रशासन द्वारा करने की मांग करते हुए चेतावनी दी कि निराकरण न होने पर जनपद के किसान कोई भी तारीख तय कर एक बड़ा अन्दोलन करेंगे जिसकी जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी।

धरना प्रदर्शन के दौरान प्रदेश अध्यक्ष कैलाश लांबा, जिलाध्यक्ष विनोद कुमार बिट्टू, राजपाल भगत जी, वेद प्रकाश, भीम सिंह, वीरेंद्र सिंह, गौरव कुमार, रजनीश कुमार, भूरे, कल्लू, गिरेंद्र, सुंदर सिंह, यशपाल सिंह, रोहित कुमार, शूरवीर सिंह, मुनेंद्र सिंह, रमेश चंद, बृजपाल सिंह, सुभाष चंद्र, धर्मपाल सिंह, राजवीर सिंह, राकेश जी, खेलंदर सिंह, संजीव कुमार, संजीव, देवराज, बिल्लू सिंह, विजेंद्र सिंह, हरपाल सिंह, नरेंद्र सिंह, शकील, सुरेश सिंह, दरोगा जी आदि किसान पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

प्रेम संबंधों में बाधक दुधमुंहे बच्चे को जालिम मां ने उतारा मौत के घाट

10 वर्षीय नौकरानी से नाले में फिंकवा कर रच दी बाइक सवारों द्वारा अपहरण की झूठी कहानी। सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई करतूत।

बिजनौर। अवैध संबंधों में बाधक छह माह के बच्चे को कलयुगी मां ने मौत के घाट उतार दिया। शातिर महिला ने अपने इस कुकृत्य का भागीदार अपनी 10 वर्षीय नौकरानी को बनाया और पुलिस के सामने बेटे के अपहरण की झूठी कहानी गढ़ दी। गहन छानबीन के बाद पुलिस ने जब आरोपी महिला को हिरासत में ले कर पूछताछ की तो वह टूट गई और सारा सच उगल दिया। दोनों को हिरासत में लेने के साथ ही पुलिस अब महिला के प्रेमी की तलाश में जुट गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना नगीना क्षेत्र के मोहल्ला लोहारी सराय निवासी मोहम्मद आसिफ की शादी थाना कांठ क्षेत्र के कला उमरी गांव में खुदशीया ताजीम उर्फ अफशा के साथ हुई थी। मौ. आसिफ कई वर्ष से सऊदी अरब में नौकरी करता है। अफशा ने लगभग आठ मह पूर्व एक बच्चे को जन्म दिया और उसका नाम अरहान रखा गया। बच्चे के जन्म के 14 दिन बाद अफशा अपने मायके चली गई। 10-12 दिन पूर्व अफशा अपने मायके से एक पड़ोसी की 9 वर्षीय बच्ची सुमईय्या को साथ लेकर अपनी ससुराल आई थी। इधर अफशा के संपर्क अपने पुराने प्रेमी से बढ़ गए। उससे मिलने को जाते में बालक अरहान बाधक साबित होने लगा। तब उससे पीछा छुड़ाने की योजना बनाई गई।

योजना अनुसार पुलिस को बताया गया कि बुधवार रात नौकरानी बच्चे को सड़क पर लेकर घूम रही थी तभी बाइक सवार दो बदमाश बच्चे को छीनकर ले गए। सूचना पर हड़कंप मच गया और पुलिस तलाश में जुट गई। इस दौरान घटनास्थल के पास एक हैन्डीक्राफ्ट कारखाने पर लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला गया। उसमें नौकरानी सुमईय्या बच्चे को कब्रिस्तान के पास नाले में फेंकते हुए व वहां पर घूमते हुए दिखाई दी। सीसीटीवी कैमरे के आधार पर लगभग एक घंटे बाद अरहान को नाले से निकाला गया।

परिजन भारी संख्या में लोगों के साथ उसे एक प्राईवेट चिकित्सक के पास लेकर गए जहां पर मासूम को मृत घोषित कर दिया गया। पुलिस ने मृतक अरहान के चाचा बिलाल की तहरीर के आधार पर मृतक अरहान की माँ अफशा व उसकी सहयोगी नौकरानी सुमईय्या को हिरासत में ले लिया। अब महिला के प्रेमी की तलाश की जा रही है।

डीएम एसपी ने किया नई पुलिस लाइन निर्माण स्थल का निरीक्षण

डीएम एसपी ने निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का लिया जायजा। नई पुलिस लाइन का निर्माण कार्य द्रुतगति से जारी

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व अपर पुलिस अधीक्षक नगर डॉ प्रवीण रंजन सिंह द्वारा मंडावर रोड पर निर्माणाधीन नवीन पुलिस लाइन का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान ग्राउण्ड, मंच व आवासीय परिसर का भ्रमण कर प्रतिसार निरीक्षक को निर्माण कार्य समय से पूरा करने व निर्माण कार्य में प्रयुक्त सामग्री के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

गौरतलब है कि मंडावर मार्ग गांव गजरौला शिव के पास नई पुलिस लाइन का निर्माण द्रुतगति से चल रहा है। फिलहाल पुलिस लाइन बिजनौर में शहर के बीचों बीच स्थापित है। पुलिस लाइन को बाहर शिफ्ट करने की लंबे समय से कवायद चल रही थी। नई पुलिस लाइन में पुलिस कर्मियों के 13 मंजिल की दो इमारतें बनेंगी। इनमें दो कमरों के 104 फ्लैट 22 करोड़ की लागत से बनेंगे। आठ मंजिल का पुरुष हॉस्टल डेढ़ करोड़ की लागत से एवं चार मंजिल का महिला हॉस्टल एक करोड़ से ज्यादा की लागत से बनेगा। नई पुलिस लाइन में छह सौ से ज्यादा पुलिस कर्मी शिफ्ट हो सकेंगे। नई पुलिस लाइन के बनने से पुलिस कर्मियों की दिक्कतें भी कम होंगी।

15 दरोगाओं के तबादले, अब थानेदारों की बारी?

बिजनौर। जिले में कानून व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए कप्तान दिनेश सिंह ने 15 दरोगाओं के तबादले कर दिये हैं। अब बहुत जल्दी ही अर्से से जमे थाना प्रभारियों को भी इधर से उधर करने की संभावना जताई जा रही है।

मंगलवार देर रात पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने 15 दारोगाओं के तबादला आदेश जारी किए। पुलिस विभाग से जारी सूची के अनुसार मनोज कुमार नगीना से हल्दौर, गौरव चौधरी किरतपुर से चौकी ऊधम सिंह कल्लूवाला रेहड, तनवीर अहमद अफजलगढ से हल्दौर, दीपक कुमार नूरपुर से जलालाबाद चौकी प्रभारी, चन्द्रवीर सिंह जलालाबाद चौकी से थाना बढ़ापुर, राजेन्द्र शर्मा मण्डावली से हल्दौर, सुनील कुमार अफजलगढ से पुलिस लाइन बिजनौर, प्रवीण मलिक पुलिस लाइन से चौकी शुगर मिल चांदपुर, विनोद कुमार चौकी शुगर मिल से चांदपुर, विजय राज पुलिस लाइन से थाना हल्दौर, मुकेश सिंह पुलिस लाइन से अफजलगढ, अभिलाष प्रधान हीमपुर से बास्टा चौकी, ललित मोहन शर्मा चौकी बास्टा चौकी फायरिंग रेज हीमपुरदीपा, आशा तोमर थाना कोतवाली नगर से थाना महिला बिजनौर व प्रदीप कुमार नजीबाबाद से नगीना देहात भेजे गए हैं।

लंबे वक्त से जमे थानेदारों की उड़ी नींद- इस बीच पुलिस विभाग में सुगबुगाहट है कि उपनिरीक्षकों के तबादले के बाद अब बहुत जल्दी ही थाना प्रभारियों को भी इधर से उधर किया जा सकता है। स्थानांतरण होने की संभावना के चलते काफी समय से जमे थानेदारों की नींद उड़ गई है। सूत्रों का दावा है कि कुर्सी हिलने या जाने की स्थिति से बचने के लिए ऐसे थानेदारों ने अपने राजनीतिक आकाओं की चरण वंदना शुरू कर दी है।

सुनार से ठगी के आरोपी महिला पुरूष गिरफ्तार

बिजनौर। चांदपुर पुलिस ने एक महिला व एक पुरुष ठग को गिरफ्तार कर सुनार से हुई ठगी का खुलासा करने का दावा किया है। पुलिस ने ठगी की घटना का खुलासा दो दिन में ही कर दिया। नहटौर रोड पर रेलवे फाटक के पास से दोनों की गिरफ्तारी की गई है।

चांदपुर थाना क्षेत्र में मंगलवार को दोपहर पुलिस ने रविवार को हुई कस्बे में दिनदहाड़े सुनार से ठगी का खुलासा कर दिया है। इंस्पेक्टर सतीश कुमार राय ने बताया कि दोनों महिला व पुरुष ठग को चेकिंग के दौरान गिरफ्तार किया है। इन्होंने सुनार कुलदीप कुमार पुत्र कन्हैया सिंह निवासी शंकर बाजार चांदपुर से रविवार दोपहर ठगी की थी। चांदपुर पुलिस ने नहटौर रोड पर रेलवे फाटक के पास से एक महिला व एक पुरूष को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार ठग बाबू पुत्र तोफीक निवासी सराय वाली सड़क मोहल्ला पहाड़ी दरवाजा कस्बा व थाना धामपुर जनपद बिजनौर तथा रोशन उर्फ पोपल पत्नी अज्जू उर्फ फुरकान मोहल्ला पक्का बाग कस्बा व थाना धामपुर जनपद बिजनौर निवासी हैं। पुलिस ने इनके कब्जे से एक जोड़ी बाली पीली धातु व एक लोंग पीली धातु तथा 150 ग्राम चरस बरामद की है। पुलिस ने दो दिन में ही ठगी की घटना के खुलासे का दावा किया है।

शिखा को मैसेज भेजने वाला KS है कौन?

मेरठ/बिजनौर। चांदपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत जलीलपुर में बैंक मैनेजर संदीप के हस्तिनापुर स्थित घर में उनकी गर्भवती पत्नी शिखा और पांच साल के पुत्र रुपांश की हत्या के मामले में एक महत्वपूर्ण सुराग पुलिस के हाथ लगा है। मृतका शिखा के मोबाइल पर रात 11 बज कर 02 मिनट पर किसी केएस के नाम से एक मैसेज आया। मैसेज में लिखा था कि तुम नहीं मिलोगी न? इसके अलावा दो मैसेज और थे। एसपी देहात का कहना है कि इस नंबर की सीडीआर निकाल कर पता लगाया जाएगा कि “केएस” कौन है ? और उसका इन घटना से क्या संबंध है? यह भी पता चलेगा कि इस नंबर का महिला से क्या नाता था।

छह साल पहले हुई थी शादी- मैनेजर संदीप कुमार की सुबह 9:30 बजे शिखा से फोन पर बात हुई थी। वह सुबह 8:00 बजे घर से चले थे। बैंक में पहुंचने के बाद ही बात हुई। उसके बाद कोई बात नहीं हुई। छह साल पहले उनकी शादी हुई थी। शाम 4:00 बजे संदीप की मां घर पर गई थी, उस समय भी ताला लगा हुआ था। पड़ोसी ने बताया कि दोपहर बाद शिखा को घर के बाहर देखा था। हत्या की जानकारी लगने पर शिखा के मायके वाले भी हस्तिनापुर पहुंच गए।

मेरठ में डबल मर्डर

परिवार की महिलाओं का हाल बुरा- शिखा के पेट में पल रहा गर्भ दुनिया देखने से पहले ही मां के साथ दुनिया से विदा हो गया। यह देख सुनकर परिवार की महिलाओं का रो रोकर बुरा हाल हो गया। वहीं पति संदीप। भी बदहवास हालत में था। उसे उम्मीद नहीं थी कि उसका पूरा परिवार ही खत्म हो जाएगा। उसकी आंख के आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे।

मेरठ में डबल मर्डर

कई एंगिल पर हो रही है जांच- शिखा के दोनों मोबाइल घर में टेबल पर रखे थे, जबकि स्कूटी गायब थी। परिजनों का कहना है कि शिखा गर्भवती थी और वह घर से बाहर नहीं जाती थी। किसी करीबी पर ही डकैती व हत्या करने का शक जताया जा रहा है। पुलिस ने कई लोगों से पूछताछ की है। यह भी बताया गया कि घर में बाहर के लोगों की आवाजाही बहुत कम थी। सिर्फ परिचित ही आते थे। इस कारण अंदेशा लगाया जा रहा है कि शिखा से दरवाजा खुलवाया गया।

पुलिस की पकड़ से अब भी दूर है आदित्य राणा

आदित्य फरारी प्रकरण ۔۔۔۔
आदित्य की तलाश में एसओजी ने डाला डेरा। आदित्य के सम्बन्धियों को थाने लाकर की घंटों पूछताछ। फरारी के छठे दिन भी राणा नंगला में पुलिस बल तैनात।

बिजनौर। एक लाख के ईनामी बदमाश आदित्य राणा की तलाश में एसओजी टीम ने स्योहारा थाना क्षेत्र के गांव राणा नंगला पहुँच कर आदित्य के सम्बन्धियों से घंटों पूछताछ की। आदित्य की फरारी के पांचवे दिन भी गाँव राणा नंगला में पुलिस बल तैनात है।

तमाम टीम हैं खाली हाथ-
थाना शिवाला कला के एक मुक़दमे में मंगलवार को बिजनौर कोर्ट में पेशी के लिए आया कुख्यात आदित्य राणा वापसी में शाहजहांपुर के ढाबे से पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया था। तब से लेकर जिले भर की कई पुलिस टीम व कई एजेंसियां आदित्य की तलाश में लगी हैं। आदित्य की फरारी के छह दिन बीत जाने के बाद भी गांव गली खेत व जंगलों में ख़ाक छानने के बाद पुलिस आदित्य की परछाई से कोसों दूर नजर आ रही है।

SOG ने की रिश्तेदारों से पूछताछ- रविवार को एसओजी की टीम आदित्य के पैतृक गांव राणा नंगला पहुंची और कई अलग अलग बिंदुओं पर जाँच की। इस दौरान एसओजी की टीम ने आदित्य के बड़े भाई ग्राम प्रधान बिट्टू व तहेरे भाई रोबिन व जयवीर को थाने लाकर आदित्य के सम्बन्ध में घंटो पूछताछ की। आदित्य की फरारी के पीछे क्या मकसद छिपा है, पुलिस इस बिंदु की भी गहराई से पड़ताल में जुटी है। पुलिस को अंदेशा है कि आदित्य पुनः कोई बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए गाँव राणा नंगला भी आ सकता है। पुलिस ने मृतक मुकेश व राकेश के घर को सुरक्षा घेरे में ले रखा है। थानाध्यक्ष राजीव चौधरी का कहना है कि गाँव में 24 घंटे पुलिस का पहरा लगा हुआ है। आदित्य की तलाश में कई टीम लगातार काम कर रही हैं।

पति की हत्या में पत्नी, साले व सास के खिलाफ केस दर्ज

युवक की हत्या: पत्नी, साले व सास के खिलाफ केस दर्ज मृतक के पिता ने कोर्ट के आदेश पर कराया मृतक की पत्नी साला व सास के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज 11 माह पूर्व ससुराल में हुई थी नीरज की संदिग्ध हालत में मौत।


बिजनौर। ससुराल में 11 माह पूर्व संदिग्ध हालत में हुई मौत के मामले में मृतक युवक के पिता की तहरीर पर कोर्ट के आदेश से मृतक की पत्नी, साला व सास के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।


नूरपुर थाना क्षेत्र के गाँव सादपुरी निवासी रोहिताश सैनी पुत्र तिरमल सैनी ने कोर्ट में में तहरीर देकर आरोप लगाया था कि उसके पुत्र नीरज की शादी चार वर्ष पूर्व स्योहारा क्षेत्र के गांव लांबाखेड़ा निवासी आशु कुमारी पुत्री सोमराज के साथ हुई थी। रोहिताश का आरोप है कि आशु के अवैध संबंधों के कारण शादी के बाद से ही उसके पुत्र नीरज व पुत्रवधु आशु में अनबन होनी शुरू हो गई, जिसको लेकर आशु अपने मायके लांबाखेड़ा में आ गई। 13 सितम्बर 2021 को उसका पुत्र अपनी पत्नी आशु को लेने के लिए उसके मायके लांबाखेड़ा आया, जहाँ नीरज के साले दाताराम, सास मिथलेश व पत्नी आशु ने उसको जहरीला पदार्थ देकर उसकी हत्या कर दी। अगले दिन नीरज का शव उनके घर के बाहर फेंक गए। आरोप है कि उसने पुलिस को शिकायत कर आरोपियों के विरुद्ध कार्यवाई की मांग की थी, मगर स्योहारा पुलिस ने उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी। पीड़ित की तहरीर पर संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने स्योहारा पुलिस को मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। थानाध्यक्ष राजीव चौधरी का कहना है कि न्यायालय के आदेश पर मृतक नीरज की पत्नी आशु, साला दाताराम व सास के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज कर कार्यवाई शुरू कर दी गई है।

बूढ़े बाबा की दोयज पर लगा मेला, उमड़े श्रद्धालु

बिजनौर। दोयज के मौके पर रोडवेज बस स्टैंड स्थित बूढ़े बाबा के मंदिर में हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद चढ़ाया। इस मौके पर मेले में लोगों ने जमकर खरीदारी की।

भादों माह की दोयज को बूढ़े बाबा के मंदिरों में प्रशाद चढ़ाने की परम्परा सदियों से चली आ रही है। मान्यता है कि मंदिर में प्रशाद चढ़ाने से मन की मुराद पूरी होती है। साथ ही लोगों को दाद, खाज, खुलजी, एक्जिमा जैसे चर्म रोगों से छुटकारा मिलता है। विगत दो वर्षो से कोविड़ के प्रकोप के चलते दूर दराज के श्रद्धालु मंदिरों तक नहीं पहुंच सके थे। सोमवार तड़के से ही मंदिर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं का सिलसिला शुरू हो गया। हजारों श्रद्धालुओं ने प्रसाद चढ़ाया। इस मौके पर लगाए गये मेले में बच्चों ने खिलौने, महिलाओं ने सौंदर्य प्रसाधन एवं घरेलू सामान खरीदा। चाट पकौड़ी, गोलगप्पे, मोमोज़, बर्गर के ठेलों पर भी भीड़ उमड़ी। जलेबी, लड्डू, प्रशाद के दुकानदारों ने भी खूब माल बेचा।

हल्दौर में इस दौरान सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस मुस्तैद रही। थानाध्यक्ष उदय प्रताप सिंह व निरीक्षक केपी सिंह, उपनिरीक्षक भीम सिंह आदि तैनात रहे। वहीं मंडावर थाना क्षेत्र के गांव शहवाजपुर, गांव रामजीवाला छकड़ा में इस अवसर पर लगे मेले में खासी भीड़भाड़ रही। आसपास के कई गांव के लोगों ने बुड्ढे बाबा के मंदिर पर प्रसाद चढ़ाया और भगवान से प्रार्थना की। मेले में मंडावर पुलिस भी चप्पे-चप्पे पर तैनात रही। यहां भी हजारों श्रद्धालु प्रसाद चढ़ाने के लिए पहुंचे। मेले में लोग अपनी टैक्टर ट्राली बैलगाड़ी और मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए। बच्चों ने  झुला झूलकर खुशी मनाई।

समाधान दिवस पर डीआईजी ने सुनीं समस्याएं

शलभ माथुर ने स्योहारा थाने के अभिलेखों और मेस का किया निरीक्षण। डीआईजी मुरादाबाद ने समाधान दिवस पर सुनीं समस्याएं। 

बिजनौर। डीआईजी शलभ माथुर ने जनपद बिजनौर के स्योहारा थाना क्षेत्र का निरीक्षण किया। थाना समाधान दिवस पर शिकायतकर्ताओं की समस्याएं सुनी। इसके उपरांत थाने के अभिलेखों, साफ सफाई और मेस का निरीक्षण भी किया। थाना समाधान दिवस के अवसर पर डीआईजी के सामने एकमात्र शिकायत आई, जिसका मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश दिए।

नगर के मोहल्ला पटवारियान की रहने वाली शिकायतकर्ता कविता रस्तोगी ने डीआईजी मुरादाबाद शलभ माथुर को बताया कि उसकी पुत्री अंशिका रस्तोगी ने ओएलएक्स पर अपना टेबलेट बेचने के लिए विज्ञापन दिया था, जिसको खरीदने के लिए उनकी बेटी के नंबर पर फोन आया कि हम आपका टेबलेट खरीदना चाहते हैं। उन्होंने कविता रस्तोगी से पेटीएम नंबर ले लिया, जिसके बाद उसके बैंक खाते से तीस हजार छ सौ रूपए निकाल लिए गए। डीआईजी शलभ माथुर ने मामले में मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश दिए।

साफ-सफाई, अभिलेखों व मेस का निरीक्षण

डीआईजी शलभ माथुर ने थाने की साफ-सफाई और थाने के अभिलेखों के अलावा मेस का भी निरीक्षण किया। वहीं पूर्व की शिकायतों की भी समीक्षा की गई। इसके अलावा पूर्व में चल रहे प्रकरणों में भी दिशा निर्देश दिए गए।

आदित्य राणा को पकड़ने के लिए लगीं हैं टीम

फरार चल रहे आदित्य राणा के संबंध में डीआईजी ने बताया कि आदित्य को पकड़ने के लिए कई टीमें लगी हुई हैं। एडीजे के द्वारा उस पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया जा चुका है। इसके अलावा पीड़ित परिवार की सुरक्षा के लिए पुलिस तैनात कर दी गई है। आदित्य गैंग से संबंधित पुराने मुकदमों में जो भी विधिक कार्यवाही की जानी है, उस पर भी टीमें काम कर रही हैं।

जनता को सुरक्षा का अहसास कराने खुद सड़क पर उतरे एसपी दिनेश

सड़कों पर पैदल मार्च कर एसपी ने जनता को दिलाया सुरक्षा का अहसासव्यापारियों, ठेले, रेहड़ी वालों और मुअज्जिज लोगों से किया संवाद स्थापित। एसपी के हाथ से टॉफी पाकर खिल उठे बच्चों के चेहरे।

बिजनौर। आगामी त्योहारों को सकुशल सम्पन्न कराने एवं जनपद की कानून व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने अभियान चला रखा है।

उन्होंने सभी थाना प्रभारियों को इस संबंध में सख्त दिशा निर्देश दे रखे हैं।एसपी खुद भी जनसामान्य से मिल कर पुलिस का इकबाल बुलंद करने में जुटे हुए हैं। यही वजह है कि उनके मिलनसार व्यवहार से आमजन भी उनका मुरीद बना  हुआ है।

इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व क्षेत्राधिकारी चांदपुर सुनीता दहिया ने चांदपुर क्षेत्र में पुलिस फोर्स के साथ पैदल गश्त की।

इस दौरान व्यापारियों, फल व्यापारी, रेहड़ी वालों व संभ्रांत लोगों से संवाद स्थापित किया। यही नहीं रास्ते में मिले बच्चों को टॉफी चॉकलेट भी दी। बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे भी उनके व्यवहार से अभिभूत हो गए। एसपी की इस कार्यप्रणाली से आमजन में सुरक्षा का एहसास बरकरार बना हुआ है।

न बन सका काबिल CRPF अफसर, कुख्यात हो गया आदित्य राणा!

लखनऊ। पश्चिम उत्तर प्रदेश के जनपद बिजनौर के कुख्यात बदमाश आदित्य राणा की कस्टडी से फरारी के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई थानों में आदित्य के खिलाफ संगीन धाराओं में ढाई दर्जन केस दर्ज है। बिजनौर एसपी दिनेश के अनुसार आरोपी की फरारी के बाद पुलिस सतर्कता बरत रही है। संवेदनशील इलाकों में पुलिस की नाकेबंदी कर दी गई है। इसके साथ ही उसके केस में वादी और गवाहों की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। फरार बदमाश आदित्य राणा जल्द पुलिस के कब्जे में होगा।

CRPF में जाकर करता देश की सेवा- बिजनौर के गांव राणा नंगला निवासी आदित्य पुत्र राजपाल का नाम पहली बार 2013 में गांव कासमाबाद में हुई धर्मवीर की हत्या में आया था। उसका सीआरपीएफ में चयन हो गया था, लेकिन हत्या में नाम आने के कारण वह ट्रेनिंग पर नहीं जा पाया।

बिजनौर में पुलिस सतर्क, बढ़ाई चौकसी 
आदित्य के फरार होने के बाद बिजनौर पुलिस सतर्क हो गई है। जिले के बॉर्डर पर निगाह रखने के साथ-साथ छह टीमों को उसकी तलाश में लगाया गया है। आदित्य के फरार होने की सूचना मिलते ही बिजनौर में अलर्ट कर दिया गया। एसपी दिनेश सिंह ने सभी थाना प्रभारियों को निर्देश जारी किए हैं। डायल 112 की गाड़ियों को भी जेड मिशन पर रखा गया है। आदित्य के गांव राणा नंगला के आसपास भी पुलिस की गतिविधियां बढ़ा दी गई हैं।

कस्टडी से पहले भी हो चुका था फरार
कुख्यात आदित्य पुलिस की कस्टडी से पहले भी फरार हो चुका है। अगस्त 2017 में पेशी के दौरान मुरादाबाद पुलिस की कस्टडी से भी फरार हो गया था। फरार होने के बाद उसने अपने गांव के ही मुकेश की 14 अक्तूबर को मुखबिरी के शक में हत्या कर दी थी। पुलिस सूत्रों की मानें तो आदित्य पुलिस की घेराबंदी से चार बार फायरिंग कर फरार हो चुका है।

“आदित्य राणा का लंबा आपराधिक इतिहास है। इसका लूट और हत्या करने का गैंग है, जो रजिस्टर्ड है। आदित्य के फरार होने के बाद पुलिस सतर्क है। उन लोगों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है, जो आदित्य के खिलाफ दर्ज कराए गए केस में वादी या गवाह हैं। शाहजहांपुर पुलिस के साथ तालमेल कर उसे गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैैं। छह टीमों को लगाया गया है” – दिनेश सिंह, एसपी बिजनौर

चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात- राणा के फरार होने के बाद बिजनौर पुलिस बेहद सतर्क हो गई है। एसओजी व सर्विलांस सहित छह पुलिस टीमों को उसकी खोज में लगाया गया है। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने सभी थाना प्रभारियों को अलर्ट किया है। आदित्य राणा के गांव स्थित घर पर भी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। उसके गांव राणा नंगला को पुलिस ने छावनी में तबदील कर दिया है। आदित्य के गैंग में 20 से अधिक बदमाश बताए जा रहे हैं।

बोले SO स्योहारा- स्योहारा थानाध्यक्ष राजीव चौधरी ने बताया कि दो परिवारों की रंजिश का मामला है। दो मर्डर हो चुके हैं। कानून व्यवस्था और परिवार की सुरक्षा के मद्देनजर गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

पांच हत्या, लूट, डकैती, रंगदारी के मुकदमे- अपराध की दुनिया में आदित्य राणा का सफर वर्ष 2013 में एक हत्या के साथ ही शुरू हो गया था। उसके खिलाफ जनपद बिजनौर के थाना स्योहारा में 12, धामपुर में 01, नहटौर में 03, हीमपुर दीपा में 01, शेरकोट में 01, चांदपुर में 01 व सिविल लाइंस मुरादाबाद में 02 मुकदमे दर्ज हैं। अन्य जानकारियां जुटाई जा रही हैं।

लखनऊ पुलिस की कस्टडी से बिजनौर का कुख्यात बदमाश आदित्य फरार

दरोगा समेत 4 पुलिस कर्मियों पर मुकदमा दर्ज। बिजनौर पेशी से लौटते शाहजहांपुर में हुई वारदात। खाना खाने के दौरान टॉयलेट के बहाने निकल भगा। बिजनौर से लेकर लखनऊ तक हड़कंप

लखनऊ/ बिजनौर। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की जेल में बंद कुख्यात बदमाश आदित्य राणा पुलिस हिरासत से फरार हो गया। मंगलवार को लखनऊ पुलिस बिजनौर जिला अदालत में एक मुकदमे में पेशी के लिए राणा को  लेकर आई थी। बिजनौर से वापस जाते हुए शाहजहांपुर में ढाबे पर खाना खाने के दौरान वह पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। राणा के फरार हो जाने से उसे हिरासत में लेकर चल रहे पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया। आला अधिकारियों को इस मामले की जानकारी दी गई। सूचना पर रामचंद्र मिशन थाना क्षेत्र की पुलिस और आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। काफी देर तक तलाश की, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला। आदित्य राणा बिजनौर जिले के थाना स्योहारा के राणा नंगला गांव का रहने वाला है। उस पर लूट, हत्या, अपहरण, रंगदारी समेत तमाम संगीन धाराओं में  29 मुकदमे दर्ज हैं। 

टॉयलेट करने के बहाने हुआ चंपत
आदित्य राणा को पेशी से वापस लेकर लखनऊ पुलिस लौट रही थी। शाहजहांपुर में रेड चिली ढाबे पर वह खाना खाने को रुके। इसी दौरान टॉयलेट करने के बहाने चकमा देकर वह फरार हो गया। देर रात फरार हुए अपराधी की तलाश में पुलिस लगातार तलाशी अभियान छेड़ दिया। इस मामले में लापरवाही बरतने के कारण दरोगा समेत चार पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

दरोगा समेत 4 पुलिस कर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज- सीओ अखंड प्रताप सिंह ने बताया कि पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर लखनऊ और बिजनौर पुलिस को सूचना दे दी गई है। चार पुलिसकर्मियों और फरार कैदी आदित्य राणा के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इसमें लखनऊ पुलिस लाइन में तैनात सब-इंस्पेक्टर दीपक कुमार, सिपाही अमित कुमार, रिंकू और चालक मनोज शामिल हैं।

2 दर्जन से अधिक मुकदमे हैं दर्ज- बिजनौर के स्योहारा निवासी आदित्य राणा पर दो दर्जन से अधिक मुकदमे पंजीकृत हैं। वह संगीन धाराओं में दर्ज मुकदमों को लेकर लखनऊ जेल में बंद था। राकेश, मुकेश के घर पर पुलिस तैनात कर दी गई है। इससे पहले 4 अगस्त 2017 को हत्या के आरोप में जेल में बंद आदित्य मुरादाबाद मे पेशी के लिए कचहरी स्थित सेशन कोर्ट से सिपाही की आंखों में मिर्च झोंक कर हथकड़ी सहित फरार हो गया था।

सुर्खियों में आया कब- स्योहारा थाना क्षेत्र के ग्राम राणा नंगला निवासी कुख्यात बदमाश आदित्य चौधरी गांव के ही दो सगे भाइयों राकेश व मुकेश की हत्या करके सुर्खियों में आ गया था। आदित्य ने पुलिस से मुखबिरी के शक में 14 अक्टूबर 2017 को गांव के पास ही मुकेश की गोलियों से भून कर हत्या कर दी थी और फरार हो गया था। मामले की पैरवी मुकेश का भाई राकेश कर रहा था। फिर 27 सितंबर 2018 को आदित्य ने राकेश की भी हत्या कर दी। मुकेश हत्याकांड के पैरोकार राकेश की हत्या के मामले में मेरठ जेल में बंद आदित्य, उसकी बहन मोनिका समेत सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

क्या हुआ था वर्ष 2017 में? गांव राणा नंगला निवासी राकेश की गांव बेरखेड़ा में बाइक सवार तीन बदमाशों ने गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी। राकेश हत्याकांड में कुख्यात बदमाश आदित्य गैंग का नाम सामने आया था। आदित्य ने 14 अक्तूबर 2017 को राकेश के भाई मुकेश को पुलिस को मुखबिरी करने के शक में गोलियों से भून डाला था। मुकेश हत्याकांड की पैरवी उसका भाई राकेश कर रहा था। इस बात पर ही आदित्य गैंग ने राकेश का भी कत्ल कर दिया। मेरठ जेल में बंद आदित्य ने राकेश की हत्या की जिम्मेदारी अपने गैंग को दी थी। इस मामले में जेल में बंद आदित्य, उसकी बहन मोनिका, चाचा जयवीर, जयवीर के बेटे शुभम, दूसरे चचेरे भाई राहुल, आदित्य के भाई बिट्टू व रोबिन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। मोनिका पर पहले से ही अपने भाई आदित्य की मदद करने के आरोप लगते रहे थे। आदित्य के गैंग की कमान मोनिका के हाथ में रहती थी। आदित्य की फरारी के दौरान भी मोनिका ही गैंग को चला रही थी। राकेश की हत्या के बाद गांव राना नंगला व बेरखेड़ा में सन्नाटा पसर गया था ।

डेढ़ हजार गोलियों समेत नशे के 2 सौदागर गिरफ्तार

स्योहारा पुलिस ने 1560 एलप्रो जॉम नशीली गोलियों के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार।

बिजनौर। नशे के खिलाफ स्योहारा पुलिस द्वारा चलाए जा रहे अभियान का असर क्षेत्र में दिखने को मिल रहा है। आम लोग पुलिस को नशा सप्लाई करने वालों के बारे में सूचना दे रहे हैं और इसी जागरूकता अभियान के तहत मिली एक सूचना पर स्थानीय पुलिस ने दो लोगों को डेढ़ हजार नशीली गोलियों के साथ गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने सूचना के आधार पर नफीस पुत्र खुर्शीद निवासी मोहल्ला जुमेरात का बाजार के पास से 720 एलप्रो जॉम की नशीली गोलियों व प्रदीप पुत्र छोटे सिंह निवासी भगवानपुर रैनी के पास से 840 एलप्रो जॉम की नशीली गोलियां बरामद करते हुए गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी नशे की गोलियों का व्यापार करते हैं। दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर दिया गया है।

जागरूकता अभियान का नतीजा- प्रभारी निरीक्षक राजीव चौधरी ने बताया कि पुलिस की ओर से नशे के खिलाफ जागरूकता के लिए अभियान चलाया जा रहा है। क्षेत्र में पुलिस आम लोगों को नशे के खिलाफ जागरूक कर रही है। इसी का नतीजा है कि इन दोनों आरोपियों को नशे की गोलियों सहित गिरफ्तार करने में सफलता हासिल हुई।

25 से सुरक्षा जवान व सुपरवाईजर की नियुक्तियों के लिए शिविर

सुरक्षा जवान व सुपरवाईजर की नियुक्तियों के लिए 25 से शिविर।

25 अगस्त से सुरक्षा जवान व सुपरवाईजर की नियुक्ति हेतु विकास खण्ड मुख्यालयों पर होगा शिविर का आयोजन।

मुख्य विकास अधिकारी बिजनौर पूर्ण बोरा

बिजनौर। जनपद के सभी विकास खण्ड मुख्यालयों में बेरोजगारों को रोजगार उलपब्ध कराने के लिए शिविर का आयोजन किया जायेगा। शिविर में सुरक्षा जवान व सुपरवाईजर की नियुक्ति की जायेगी। ब्लॉक स्तर पर इसके लिए शिविर की तिथियाँ घोषित कर दी गयी हैं। यह जानकारी भर्ती अधिकारी रिजनल ट्रेनिंग एकेडेमी देहरादून रजनीश सिंह द्वारा दी गई।

इस संबंध में मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने सभी विकास खण्ड अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पूर्ण रूप से अपेक्षित सहयोग प्रदान करें तथा भर्ती अधिकारी द्वारा आयोजन को लेकर अपेक्षाओं के अनुरूप अपना सहयोगात्मक योगदान दें। मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि विकास खण्ड कार्यालय पर प्रातः 10ः00 बजे से 3ः30 बजे तक अलग-अलग विकास खण्डों में भर्ती आयोजित की जायेगी। दिनांक 25 अगस्त को विकास खण्ड नजीबाबाद एवं अफजलगढ़, 26 अगस्त को विकास खण्ड किरतपुर एवं धामपुर, 27 अगस्त को विकास खण्ड कोतवाली एवं हल्दौर, 29 अगस्त को विकास खण्ड स्योहारा एवं जलीलपुर, 30 अगस्त को विकास खण्ड नूरपुर एवं नहटौर और अन्तिम रोजगार शिविर 31 अगस्त को विकास खण्ड मौहम्मदपुर देवमल में आयोजित किया जायेगा।

भर्ती अधिकारी रिजनल ट्रेनिंग एकेडेमी देहरादून रजनीश सिंह द्वारा अवगत कराया गया कि इस भर्ती के इच्छुक अभ्यर्थी जो 10 वीं पास आयु 21 से 35 वर्ष और वजन 56 किलो से 96 किलो तक और न्यूनतम लम्बाई 168 सेमी0 ही पात्र होंगे। इच्छुक अभ्यर्थी समस्त दस्तावेजों एवं आधार कार्ड, एक पासपोर्ट साईज फोटो और केवल चयनित अभ्यर्थी रूपये 350 लेकर विकास खण्ड कार्यालय पर तिथिवार स्वयं उपस्थित हों। उन्होंने बताया कि चयनित अभ्यर्थियों के एक माह के प्रशिक्षण उपरान्त 65 वर्ष स्थाई नौकरी के साथ 12,000 रूपये से 15,000 रूपये तक के साथ पी0एफ0, ग्रेच्युटी, पेंशन, बोनस, फैमली मेडिकल सुविधा, वेतन वृद्धि, प्रोमेशन जैसी अनेक सुविधायें दी जायेगी। प्रशिक्षण समाप्त होने के बाद प्रमाण पत्र भी दिया जायेगा। भर्ती की अधिक जानकारी के लिए कमाण्डेन्ट कार्यालय मो 0 नं0-7456026599 , 9140281994 पर संपर्क किया जा सकता है।

पुलिस का इकबाल रहे बुलंद: सिटी एएसपी व सीओ ने की पैदल गश्त

सिटी एएसपी व सीओ ने शहर में की पैदल गश्त

बिजनौर। आगामी त्योहारों को सकुशल सम्पन्न कराने एवं जनपद की कानून व्यवस्था को सुदृढ करने हेतु पुलिस विभाग सतत प्रयासरत है। इसी क्रम में अपर पलिस अधीक्षक नगर डॉ प्रवीण रंजन सिंह व क्षेत्राधिकारी नगर अनिल कुमार द्वारा थाना कोतवाली शहर क्षेत्रान्तर्गत पुलिस फोर्स के साथ आमजन को सुरक्षा का एहसास कराने के लिए पैदल गश्त की गई। इस दौरान उन्होंने लोगों को समझाया कि किसी भी संदिग्ध व्यक्ति या मामले को देखते ही समीपवर्ती थाना, चौकी पर सूचित करें।

पॉक्सो अधिनियम: 20 साल की जेल के साथ ₹20 हजार अर्थदण्ड भुगतेगा आरोपी

पॉक्सो अधिनियम के तहत आरोपी को 20 साल की जेल व ₹20 हजार अर्थदण्ड।

मॉनिटरिंग सेल, विशेष लोक अभियोजक व स्थानीय पुलिस द्वारा की गई प्रभावी पैरवी।

बिजनौर। पॉक्सो अधिनियम के तहत न्यायालय द्वारा आरोपी को 20 साल की जेल व ₹20 हजार के अर्थदण्ड की सजा सुनाई गई है।

मॉनिटरिंग सेल, विशेष लोक अभियोजक व स्थानीय पुलिस द्वारा की गई प्रभावी पैरवी से दिनॉक 22.08.2022 को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012) द्वारा थाना नगीना देहात पर पंजीकृत मु0अ0सं0 135/17 धारा 376 भादवि व धारा 3/4 लैंगिग अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की सुनवाई के उपरान्त फैसला सुनाते हुए अभियुक्त सूरज पुत्र हरपाल उर्फ पाल्ले निवासी ग्राम अलीपुर थाना नगीना देहात जनपद बिजनौर को 20 वर्ष कारावास व 20 हजार रुपए के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार दिनॉक 19.06.2017 को अभियुक्त सूरज द्वारा 15 वर्षीय नाबालिग लड़की के साथ गन्ने के खेत में दुष्कर्म किया गया। इस सम्बन्ध में थाना नगीना देहात पर तहरीर के आधार पर मु0अ0सं0 135/17 धारा 376 भादवि व 3/4 पॉक्सो अधिनियम पंजीकृत किया गया था। न्यायालय द्वारा लिए गए ऐतिहासिक फैसले से जनमानस में कानून के प्रति विश्वास बढ़ेगा तथा अपराधियों में भी भय का माहौल व्याप्त होगा।

विदित हो कि पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार द्वारा पॉक्सो अधिनियम के अभियोगों में प्रभावी पैरवी कर अभियुक्तों को न्यायालय से अतिशीघ्र कठोर से कठोर सजा दिलाए जाने हेतु मॉनिटरिंग सेल, विशेष लोक अभियोजक व स्थानीय पुलिस को निर्देशित किया जा रहा है।

नहटौर चेयरपर्सन पुत्र राजा अंसारी को गोली मारने की धमकी

बिजनौर। नहटौर चेयरपर्सन पुत्र राजा अंसारी को गोली मारने की धमकी दी गई है। अज्ञात व्यक्ति ने उनको मोबाइल पर मैसेज और कॉल कर धमकी दी। राजा अंसारी ने सुरक्षा दिलाने की मांग करते हुए पुलिस को तहरीर दी है।

नहटौर नगर पालिका परिषद की चेयरपर्सन फिरोजा खातून के पुत्र राजा अंसारी के मोबाइल पर अज्ञात व्यक्ति ने 4 मैसेज भेज कर गोली मारने की धमकी दी है। इसके अलावा दो बार कॉल कर भी गोली मारने की धमकी दी गई। राजा अंसारी ने मामले की शिकायत नहटौर पुलिस सहित उच्चाधिकारियों से करते हुए सुरक्षा की मांग की है। राजा अंसारी ने बताया कि उनके विरोधी बौखला गए हैं और वह उन्हें व उनके परिवार को हानि पहुंचा सकते हैं। उन्होंने पुलिस को शिकायती पत्र देकर सुरक्षा की मांग की है। दूसरी ओर राजा अंसारी के समर्थकों में इस मामले को लेकर रोष व्याप्त हो गया है। उन्होंने पुलिस प्रशासन से तत्काल धमकी देने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई और मामले की जांच गहनता से करने की मांग की है। प्रभारी निरीक्षक पंकज तोमर ने बताया कि मामले में तहरीर प्राप्त हुई है। धमकी देने वाले को जल्द ही तलाश कर सलाखों के पीछे भेजा जाएगा।

लुटेरी दुल्हन को नजीबाबाद पुलिस ने साथियों समेत दबोचा

साथियों समेत नजीबाबाद पुलिस के हत्थे चढ़ी लुटेरी दुल्हन

ससुरालियों को जहरीला पदार्थ खिलाकर हो जाती है फरार

बिजनौर। नजीबाबाद पुलिस ने लुटेरी दुल्हन समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। नई नवेली दुल्हन अपने ससुरालियों को खाने में जहरीला पदार्थ खिलाकर और नकदी व जेवर समेट कर फरार हो जाती है। यहां के पहले भी यह गिरोह कई लोगों को अपना शिकार बना चुका है।

नशीला पदार्थ खिलाकर हो गई फरार- पुलिस सूत्रों के अनुसार मनोज कुमार पुत्र सत्यवीर सिंह निवासी तांबाखेरी रामसराताल थाना सिद्धमुख जिला चुरु राजस्थान ने थाना नजीबाबाद पर तहरीर दी थी कि अभियुक्त राजेन्द्र नि० आदर्श नगर नजीबाबाद ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर उससे शादी कराने के लिए 02 लाख रुपए लिये तथा उसकी ज्योति उर्फ पूजा से फर्जी शादी कराई। उसके उपरान्त खाने में नशीला पदार्थ मिलाकर सभी को बेहोश कर दुल्हन ज्योति उर्फ पूजा घर से शादी के जेवरात, नकदी व उपहार आदि लेकर फरार हो गई।

मुकदमा हुआ था दर्ज- तहरीर के आधार पर थाना नजीबाबाद पर मु0अ0सं0-397/2022 धारा 420/406/467/468/471/328/411 भादवि अंतर्गत   राजेन्द्र, पूनम, ज्योति उर्फ पूजा व मंजीत के खिलाफ पंजीकृत किया गया था। शुक्रवार को थाना नजीबाबाद पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर राजेन्द्र, पूनम व ज्योति उर्फ पूजा को रोडवेज बस स्टैण्ड के पास से गिरफ्तार कर लिया। इनके कब्जे से रुपए 36000 नकद के अलावा कई जेवरात बरामद किए गए हैं।  इनके फरार साथी मंजीत की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम जुटी हुई है।

पूछताछ में बताया- अभियुक्तों ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि वह सभी मिलकर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर फर्जी आधार कार्ड आदि कागजात तैयार कराते हैं तथा लोगों से शादी के नाम पर पैसा लेते हैं। ज्योती उर्फ पूजा को वधू बनाकर झूठी शादी करवा देते हैं। शादी के बाद ज्योति घर के सदस्यों को खाने में नशीला पदार्थ खिलाकर वहां से शादी के जेवरात, नकदी व उपहार को लेकर अपने तलाकशुदा पति मंजीत के साथ फरार हो जाती है।

इस पुलिस टीम को मिली सफलता– पुलिस टीम में उप निरीक्षक सतेन्द्र नागर, कांस्टेबल प्रवीण शर्मा, महिला कांस्टेबल प्रियंका व पूजा शामिल रहे।

पुलिस के हत्थे चढ़े 3 वाहन चोर, एक फरार

बिजनौर। अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण के नेतृत्व में वाहन चोर गिरोह का खुलासा किया गया है। पुलिस कार्रवाई में तीन वाहन चोर हत्थे चढ़ गए, जबकि एक फरार होने में कामयाब हो गया।

पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह द्वारा जनपद में वाहन चोरी/अन्य चोरी की घटनाओं की रोकथाम व संलिप्त अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु अभियान चलाया जा रहा है।

इसी क्रम में अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राम अर्ज के निर्देशन व क्षेत्राधिकारी चांदपुर के पर्यवेक्षण में स्वाट/सर्विलांस टीम व थाना चांदपुर पुलिस ने गुरुवार को यह सफलता प्राप्त की। दरअसल टीम ने मुखबिर की सूचना पर चैकिंग के दौरान कस्बा चांदपुर में कालोनी के गेट के पास 03 अभियुक्तों रहीश उर्फ भूरे, दिग्विजय व कासिम उर्फ मुर्गा को चोरी के 03 चार पहिया वाहन, 03 दो पहिया वाहन व 03 अदद चाकू के साथ गिरफ्तार किया। अभियुक्तों का एक अन्य साथी सरताज पुत्र शमशुद्दीन निवासी ग्राम बास्टा थाना चांदपुर जनपद बिजनौर मौके पाकर फरार हो गया। उसकी गिरफ्तारी हेतु टीमें लगायी गई हैं।

इस सम्बन्ध में थाना चाँदपुर मु0अ0सं0-546/22 धारा 411/414/420/468/471 भादवि बनाम रहीश उर्फ भूरे आदि 04 के खिलाफ पंजीकृत किया गया है। इसके अलावा अवैध शस्त्र बरामदगी के सम्बन्ध में मु0अ0सं0 -547/22 से 549/22 धारा 4/25 शस्त्र अधि0 में पंजीकृत किये गए हैं।

₹20 करोड़, 280 छात्र- उत्तराखंड पेपर लीक मामले में खुलासे के करीब पहुंची STF

लखनऊ (एजेंसी)। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की परीक्षा के पेपर लीक मामले में मास्टरमाइंड हाकम सिंह रावत का नाम सामने आया है। जनपद बिजनौर अंतर्गत नगीना के पास धामपुर में नकल सेंटर बनाना भी इसी कनेक्शन का हिस्सा बताया जा रहा है। एसटीएफ के सूत्रों का दावा है कि इस पूरे मामले के तार अब आयोग की आउटसोर्स कंपनी आरएमएस टेक्नो सॉल्यूशन के आला अधिकारियों से जुड़ रहे हैं। 

STF सूत्रों का कहना है कि कंपनी के आला अधिकारियों में से एक जिला बिजनौर के धामपुर का रहने वाला है। उसी के कहने पर वहां सेंटर बनाया गया। ये इत्तफाक तो नहीं हो सकता कि उत्तराखंड में नकल कराने के बजाय इसके लिए बिजनौर के धामपुर को चुना गया। अभी तक कंपनी के सिर्फ कुछ कर्मचारियों का ही नाम मामले में सामने आ रहा था। पूरी तरह से कंपनी की भूमिका का पता नहीं चल पा रहा था, लेकिन जब कड़ी से कड़ी जोड़ी गई तो सब बातें समझ आने लगी हैं। एसटीएफ को जब इस संबंध के बारे के पता चला तो उस अधिकारी को बयानों और पूछताछ के लिए बुलाया गया, लेकिन वह कई दिनों से टाल मटोल कर रहा है।

 280 छात्रों पर मुकदमा होगा दर्ज

लीक पेपर से पास हुए करीब 280 छात्रों का चयन खारिज कराने के साथ इन्हें अब मुकदमे में आरोपी बनाया जाएगा।एसटीएफ की जांच में सामने आया कि युवाओं से 12 से 15 लाख रुपए में पेपर उपलब्ध कराने की डील की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, लीक पेपर के प्रश्न 280 से ज्यादा युवाओं तक पहुंचे।

₹20 करोड़ से अधिक का लेनदेन!

200 के करीब युवाओं ने सीधे तौर पर पास होने की डील कर पेपर खरीदा जबकि, कुछ ने अपने करीबियों को 30-35 तक प्रश्न बताए। संभावना है कि इस घपले में 20 करोड़ रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ। एसटीएफ सौ चयनितों समेत 150 से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है। एसटीएफ के एसएसपी अजय सिंह ने बताया, लीक पेपर से चयनित अभ्यर्थी आरोपी बनाए जाएंगे। इनकी सूची बनाई जा रही है।

दबाव बनाने में जुटा आरोपी- अधिकारियों और नकल माफिया का बिजनौर कनेक्शन पुष्ट हो चुका है। लंबे समय से कंपनी के अधिकारी को बुलाना और उसका न आना भी संलिप्तता की ओर इशारा कर रहा है। यही नहीं, अब वह कई लोगों के नाम लेकर दबाव बनाने में जुटा है। माना जा रहा है कि जल्द ही इस अधिकारी समेत कई और लोग सलाखों के पीछे जा सकते हैं।

निजी कंपनी के संचालक से पूछता
आरएमएस टेक्नोलॉजी नामक कंपनी चयन आयोग को तकनीकी सेवा और पेपर प्रिंटिंग की सुविधा देती थी। इस कंपनी के संचालक को एसटीएफ ने मंगलवार को पूछताछ के लिए बुलाया। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि कंपनी संचालक प्रिंटिंग प्रेस की डीवीआर लेकर आया था। हालांकि, इसमें बीते 15 दिन का रिकॉर्ड होता है। ऐसे में इससे ज्यादा मदद नहीं मिली। प्रिंटिंग प्रेस संचालक ने घर में पूजा का कार्यक्रम बताया और वह एसटीएफ कार्यालय में कुछ समय रुकने के बाद चला गया। उसे पूछताछ को जल्द दोबारा बुलाया जाएगा।

डायल 112 की तिरंगा यात्रा देख लोग हुए रोमांचित

बिजनौर। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश भर में 11 अगस्त से 17 अगस्त तक आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है।

उसी क्रम में आज एसपी की अगुवाई में डायल 112 की गाड़ियों पर सवार होकर पुलिसकर्मियों ने तिरंगा रैली निकाली। इस दौरान 112 में सवार पुलिसकर्मियों हाथों में तिरंगा झंडा लिए हुए नजर आए। इस यात्रा को देखकर लोग रोमांच से भर उठे।

पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह की अगुवाई में डायल 112 की गाड़ियों के साथ पुलिसकर्मियों ने कोतवाली शहर क्षेत्र में डायल 112 की गाड़ियों के साथ तिरंगा रैली निकाली।

सारथी बने एसपी सिटी, ध्वजा पताका एसपी के हाथ में- एसपी दिनेश सिंह और एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह 112 की गाड़ी पर सवार हुए। कार को एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह ने ड्राइव किया जबकि उनके बराबर में फ्रंट सीट पर जिले के कप्तान हाथ में तिरंगा लेकर लहराते हुए नजर आए। तिरंगा रैली में डायल 112 की जिलेभर की गाड़ियां और बाइक शामिल रहीं।

इसमें 112 के पुलिसकर्मी तिरंगा लहराते हुए चल रहे थे।  साथ में देशभक्ति के गीत बज रहे थे। इस मौके पर एसपी पूर्वी ओमवीर सिंह, एसपी सिटी व नोडल 112 डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह, एसपी ग्रामीण श्री राम अर्ज, डायल 112 के इंस्पेक्टर रजा अहमद सहित पुलिस अधिकारी व कर्मचारी शामिल रहे।

पुलिस कर्मियों को पुलिस महानिदेशक प्रशंसा चिन्ह गोल्ड व सिल्वर मैडल

लखनऊ। आजादी का अमृत महोत्सव स्वतंत्रता दिवस के पावन पर्व पर पुलिस आयुक्त लखनऊ एसबी शिरडकर द्वारा रिजर्व पुलिस लाइन्स में ध्वजारोहण किया गया।

ध्वजारोहण कार्यक्रम में पुलिस आयुक्त लखनऊ ने उपस्थित सभी पुलिसकर्मियों को भारतवर्ष के गौरवशाली इतिहास से अवगत कराते हुए शपथ दिलाई। सभी पुलिसकर्मियों को अपने-अपने कार्यों का पूरे मनोयोग व ईमानदारी से निर्वहन करते हुए देश की एकता व अखण्डता को बनाये रखने तथा देश के प्रगति में अपना योगदान देने की शपथ दिलाई गई। ध्वजारोहण के बाद पुलिस आयुक्त द्वारा पुलिस कर्मियों को मिष्ठान वितरण किया गया। इसी के साथ  पुलिस विभाग में रहते हुए अपनी मेहनत व लगन से कर्तव्यों का पालन करते हुए, उत्कृष्ट व सराहनीय कार्य करने वाले पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों को पुलिस महानिदेशक प्रशंसा चिन्ह, गोल्ड व सिल्वर मैडल प्रदान कर सम्मानित किया गया। 

अनोखे अभियान ने ग्रामवासियों के दिल पर छोड़ी छाप

आजादी का अमृत महोत्सव: अनोखे अभियान ने ग्रामवासियों के दिल पर छोड़ी छाप

बिजनौर। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर देशभर में दिनांक 11 अगस्त से 17 अगस्त 2022 तक “आजादी का अमृत महोत्सव” मनाया जा रहा है।

इस हेतु निर्गत कार्ययोजना के क्रम में शनिवार को पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व विवेक कॉलेज के शिक्षकों द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम की श्रृंखला में ग्राम सड़ियापुर में अनोखा अभियान चलाकर ग्रामवासियों के दिल पर अपनी छाप छोड़ दी।

हर घर तिरंगा के साथ ही प्रत्येक घर के बाहर स्वच्छता की शपथ को भी छापा गया। पूरे गांव की सफ़ाई के साथ ही प्रत्येक परिवार की मुफ़्त स्वास्थ्य जांच की गई।