दलितों को उद्यमी बनने में मदद करेगी सरकार

लखनऊ (एजेंसी)। प्रदेश सरकार अब दलितों को उद्यमी बनने में मदद करने जा रही है। दलित अच्छे प्रोजेक्ट बनाकर अपना उद्यम शुरू कर सकें इसके लिए सरकार हर जिले में परियोजना कार्यान्वयन इकाइयां (पीआइयू) गठित करेगी। उद्यम लगाने के लिए सरकार वित्तीय मदद भी प्रदान करेगी। सरकार इनके उत्पादों की बिक्री के लिए बाजार भी उपलब्ध कराएगी। कारपोरेट सेक्टर के अलावा सरकारी खरीद में भी इनके उत्पाद प्राथमिकता से खरीदे जाएंगे।

उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त और विकास निगम के अध्यक्ष लालजी निर्मल ने बताया कि सरकार हर जिले में दलितों को उद्यमी बनने में मदद करने के लिए पीआइयू स्थापित करेगी। इनमें एक परियोजना अधिकारी, तकनीकी सहायक, कंप्यूटर सहायक व राज्य स्तर पर एक राज्य समन्वयक होंगे। यह दलित समूहों को व्यवसाय शुरू करने में मदद करेंगे। समूह में दो या दो से अधिक सदस्य हो सकते हैं और प्रत्येक सदस्य को 50 हजार रुपये की वित्तीय सहायता भी दी जाएगी। सरकार उद्यमियों को जमीन भी उपलब्ध कराएगी । चिह्नित हर गांव में 20 लाख रुपये की राशि से विकास कार्य भी कराए जाएंगे। सरकार 6,171 दलित बहुल गांवों को आदर्श ग्राम के रूप में विकसित करेगी, जहां सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इन गांवों में संचालित सभी योजनाएं अब प्रधानमंत्री अनुसूचित जाति अभ्युदय योजना (पीएम- अजय) और पीएम आदर्श ग्राम योजना के नाम से जानी जाएंगी।

लोकेंद्र चौधरी ने फीता काटकर किया झालू रामलीला मंचन का शुभारम्भ

झालू (बिजनौर)। नगर के राम लीला मैदान में श्री गणेश भगवान के पूजन के साथ भाजपा नेता तथा चैयरमैन पद के भावी उम्मीदवार लोकेंद्र चौधरी के करकमलों द्वारा फीता काट कर राम लीला का मंचन प्रारंभ किया गया। इसमें नगर के कलाकारों द्वारा राम चरित्र मानस मंचन दिखाया जाएगा।
पूजन पंडित सुरेश शास्त्री जी द्वारा किया गया। पूजन में कमेटी के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह उर्फ कालू ठेकेदार, व्यापारी व भाजपा नेता नामित सभासद संजय वर्मा, मंडल अध्यक्ष सुरेश वर्मा, छोटे राय जी, डा. जीसी राय बंगाली, सर्वश शर्मा, मंगू कुमार साहब, कमल सिंह, कान्हा सिंह, राकेश अग्रवाल, राजकुमार अग्रवाल, आयोजक मोनू चौधरी आदि उपस्थित रहे।
इस मौके पर चैयरमैन पद के भावी प्रत्याशी लोकेंद्र चौधरी ने कहा कि भगवान श्री राम जी के चरित्र से रूबरू होने का रामलीला मंच एक बेहतरीन विकल्प है इसलिए यहां आकर सभी को धर्म लाभ ज़रूर लेना चाहिए।

प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक: वक्ताओं ने दिया हिन्दी भाषा के प्रयोग पर जोर

बिजनौर। प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय पर हिन्दी दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भाषण प्रतियोगिता, निबन्ध प्रतियोगिता एवं वाद-विवाद प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। अपने संबोधन में सभी वक्ताओं ने हिन्दी भाषा के प्रयोग पर जोर दिया। मुख्य शाखा प्रबन्धक एलपी सिंह, वरिष्ठ प्रबन्धक निशान्त कुमार, रिटायर्ड प्रबन्धक योगेन्द्र पाल सिंह ने हिन्दी भाषा पर अपने विचार प्रकट किए। अंत में प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सहभागियों को पुरस्कार वितरित किए गए।

कार्यक्रम का संचालन श्रीमती वंदना ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में अजय भटनागर, सौरभ कुमार, जगदीश चन्द्र, अंकित सक्सैना, कु. तरूणा, रॉबिन, कु. रीतू, स्वतंत्रवीर सिंह, कु. शिखा, कु. आयुषी त्यागी, कु. ब्रजेश सिंह, श्रीमती प्रीति शर्मा, कु. श्रृंखला शर्मा आदि द्वारा पूर्ण सहयोग किया गया।

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर परखी गई बच्चों की सेहत

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर परखी गई बच्चों की सेहत
प्रतियोगिता में स्वस्थ्य बालक-बालिकाओं को किया गया चिन्हित
02 अक्टूबर को किए जाएंगे पुरस्कृत, स्थानीय स्तर पर निर्मित खिलौनें किए जाएंगे वितरित


बिजनौर। जन्म से लेकर पांच साल तक के बच्चों के पोषण स्तर में सुधार लाने, पोषण की महत्ता के बारे में जागरूक करने और स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का वातावरण बनाने के उद्देश्य से जनपद के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर ‘‘स्वस्थ्य बालक-बालिका प्रतियोगिता‘‘ आयोजित की गयी‌। 3173 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर हुई प्रतियोगिता में हजारों बच्चों को लेकर उनके अभिभावक पहुंचे।


जिला कार्यक्रम अधिकारी नागेन्द्र मिश्र के अनुसार शासन से प्राप्त निर्देशों के अनुपालन में जनपद के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर ‘‘स्वस्थ्य बालक-बालिका प्रतियोगिता‘‘ आयोजित की गयी। इस दौरान मासिक वृद्धि, उसकी साफ-सफाई, पोषण श्रेणी (ऊचाई/लम्बाई के सापेक्ष वजन), आहार की स्थिति, आयु आधारित टीकाकरण एवं डीवार्मिंग कुल 06 मानकों के आधार पर स्वस्थ बालक एवं बालिकाओं की पहचान की गयी। इस प्रतियोगिता में प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र पर तीन स्वस्थ बालक-बालिकाओं की पहचान प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय के रूप में की गयी है। आंगनबाड़ी केन्द्रों पर प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय श्रेणी में चिन्हित किए गए स्वस्थ्य बालक-बालिकाओं को 02 अक्टूबर 2022 गांधी जयंती के अवसर पर पुरस्कृत भी किया जायेगा। पुरस्कार के रूप में बालक एवं बालिकाओं को इनकी रैकिंग के अनुसार आंगनबाड़ी केन्द्र/स्थानीय स्तर पर खिलौने वितरित किए जायेंगे। प्रतियोगिता में 05 वर्ष तक की आयु के बच्चों के साथ-साथ बच्चों के अभिभावकों, ग्राम प्रधान व पोषण पंचायत के सदस्यों द्वारा भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया गया। प्रतियोगिता के बाद आंगनबाड़ी केन्द्रों पर उपस्थित बच्चों के अभिभावकों, ग्राम प्रधान व पोषण पंचायत के सदस्यों को बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण के महत्व के बारे में जानकारी दी गयी। प्रतियोगिता में पंचायती राज विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही। श्री मिश्र के अनुसार प्रतियोगिता के बाद प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकत्री द्वारा वजन, लम्बाई /ऊंचाई लिए गए बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी जैसे वजन, लंबाई एवं उंचाई की फीडिंग पोषण ट्रैकर ऐप पर की जाएगी।

स्वच्छता के प्रति घर-घर जाकर जन सामान्य को करें जागरूक: डीएम उमेश मिश्रा

बिजनौर। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि एएनएम एवं आशाओं को अपने स्तर से निर्देशित करें कि वे अपने कार्य क्षेत्र में घर-घर जाकर जन सामान्य को स्वच्छता के प्रति जागरूक करें, क्योंकि संचारी रोगों का मुख्य कारण गंदगी होता है। बुखार के रोगी का पता चलने पर उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा जिला अस्पताल में भेजते हुए उनका सही तरीके से उपचार कराएं एवं आसपास के क्षेत्रों पर भी गहरी नजर रखें। इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए कि संचारी रोग एवं वैक्टर जनित रोग के बचाव व सावधानी के बारे में प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें, ताकि लोग जागरूक एवं सचेत रह कर स्वयं बचाव एवं सुरक्षा के उपाय करें।

जिलाधिकारी उमेश मिश्रा कलक्ट्रेट महात्मा विदुर सभाकक्ष में आयोजित राष्ट्रीय वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफलतापूर्वक संचालित करने के उद्देश्य से अंतर्विभागीय समन्वय समीक्षात्मक बैठक की अध्यक्षता करते हुए संबंधित अधिकारियो को निर्देश दे रहे थे। उन्होंने बताया कि शासन के निर्देशों के अनुपालन में विगत वर्षाे की भांति इस वर्ष माह अक्तूबर,2022 में संचारी रोगों की रोकथाम हेतु प्रभावी उपाय अपनाते हुए व्यापक अभियान चलाया, संचालित किया जाएगा। इसी क्रम मे वर्ष 2022 मे संचारी रोग नियंत्रण अभियान 01 अक्टूबर से 31 अक्टूबर 2022, तक तथा दस्तक अभियान का प्रथम चरण 07 अक्टूबर से 21 अक्टूबर तक संचालित किया जायेगा। अतः पूर्व की भांति सभी गतिविधियां पुनः विस्तृत कार्ययोजना बनाकर इस वर्ष भी संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियाना को संचालित करना सुनिश्चित करें।

डीएम ने बैठक मे डेंगू/संचारी रोगों एवं अन्य वेक्टर जनित रोगों पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने के लिए पूर्ण गुणवत्ता के साथ विशेष संचारी रोग नियन्त्रण अभियान की गहनता से समीक्षा कर उपस्थित सभी संबंधित अधिकारियों को अभियान को पूर्णतः सफल बनाने के निर्देश दिए। डेंगू/संचारी रोगों तथा मलेरिया बुखार पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनका त्वरित एवं सही उपचार सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकताओं में शामिल है तथा इसके लिए अंतर्विभागीय सहयोग से संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अभियान चलाया जाये। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वर्तमान समय मे संचारी रोगों का प्रभाव है, जिसके कारण डेंगू रोग की सम्भावना को मद्देनजर रखते हुुए इस अभियान को पूर्ण मानक और निष्ठा के साथ संचालित करना सुनिश्चित करें ताकि अधिक से अधिक लोगों के जीवन की सुरक्षा की जा सके।

जिलाधिकारी ने कहा कि इन रोगों से बचाव हमारे लिये चुनौती के रूप में है, जिसको स्वीकार करते हुए हमें अंर्तविभागीय समन्वय के साथ कार्य करते हुये विजय प्राप्त करनी है। इसके लिये सम्बन्धित समस्त विभागों को अपने अपने कार्याे को लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त करने हेतु निर्देशित किया गया है। अभियान के अंतर्गत स्वास्थ्य, शिक्षा, पंचायत, पशु, महिला बाल विकास, नगर निकाय सहित अन्य संबंधित विभागों के कार्याे की समीक्षा की और उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

उन्होंने जिला पंचायज विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सफाई तथा जल निकासी का विशेष ध्यान रखें। नगरीय क्षेत्रों मे समस्त अधिशासी अधिकारी कचरा निस्तारण तथा नालियों की सफाई के साथ-साथ पेयजल की गुणवत्ता पर भी विशेष ध्यान रखें। अपने रोस्टर के अनुसार कार्य करते हुए बुखार के रोगी मिलने पर विशेषतया उस क्षेत्र में लार्वासाइड का छिडकाव एवं फांगिंग कराये जाने के निर्देश प्रदत्त किए जाएं।

इस अवसर पर संचारी रोग एवं वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी/जिला मलेरिया अधिकारी ने बैठक का संचालन करते हुए विस्तार से संचारी रोगों से बचाव एवं सुरक्षा के उपाय के साथ अभियान के दौरान आयोजित होने वाले कार्यक्रमों एव उक्त अभियान की जानकारी उपलब्ध कराई। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, समस्त अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, ई0ओ0 नगर पलिका/नगर पंचायत सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों व संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

दिव्यांगजनों के लिए विकास भवन में कैंप 24 सितम्बर को

बिजनौर। निदेशक, दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग, उ0प्र0 के द्वारा विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार/चिन्हांकन करने हेतु जनपद स्तर पर दिनांक 24 सितम्बर, 2022 को शिविर का आयोजन किया जाना है।

मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 24 सितम्बर, 2022 को प्रातः 10ः00 बजे से 03ः00 बजे तक विकास भवन परिसर बिजनौर में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार/कृत्रिम अंग सहायक उपकरण एवं दिव्यांग पेंशन चिन्हांकन/यू0डी0आई0डी0 कार्ड/आधार प्रमाणीकरण आदि के लिए कैम्प लगाया जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी दिव्यांगजन उक्त कैम्प में अपने समस्त अभिलेख लेकर विभाग द्वारा दी जा रही सुविधाओं का लाभ उठाएं।

पर्यावरण संरक्षण के लिए अमृत सरोवर पर पौधारोपण

बिजनौर। होमगार्ड विभाग द्वारा पर्यावरण एवं जल संरक्षण अभियान के तहत मंगलवार को स्योहारा के ब्लाक बुढ़नपुर की ग्राम पंचायत बुढ़नपुर में अमृत सरोवर पर पौधरोपण किया गया। जिला कमांडेंट अभिलेश नारायण, एसडीएम धामपुर मनोज कुमार व ब्लाक प्रमुख उज्जवल चौहान मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। अमृत सरोवर पर पहुंचे जिला कमांडेंट व सभी होमगार्ड जवानों ने पौधे रोपे। जिला कमांडेंट अभिलेश नारायण ने कहा कि वृक्ष हमारे जीवन की एक पूंजी हैं, जिससे पर्यावरण में शुद्ध ऑक्सीजन हमें प्राप्त होती है। हम सभी लोगों को अपनी खाली जगह पर पौधे लगाने चाहिए जिससे कि शुद्ध जल व वायु हमें मिल सके।

एसडीएम मनोज कुमार ने कहा कि जल से भरे सरोवरों के आसपास प्राकृतिक सौंदर्य की अनुभूति हो इसके लिए सरोवर के चारों तरफ विभिन्न प्रजाति के पौधे भी रोपे जाएंगे। जब पौधे पेड़ हो जाएंगे तो तालाबों के चारों तरफ ठंडी छांव रहेगी। तब सरोवर की सैर का लुत्फ ही अलग होगा। कोई भी मौसम हो, गांव में ही फुर्सत के पल बिताने के लिए प्राकृतिक स्थल उपस्थित रहेगा, जिससे सरोवरों से पर्यावरण का संरक्षण होगा। ब्लाक प्रमुख उज्जवल चौहान ने पर्यावरण संरक्षण के प्रति ग्रामीणों को जागरूक किया। इस मौके पर एडीओ सांख्यिकी अवनीश कुमार, तकनीकी सहायक अरविंद कुमार, ग्राम प्रधान शकीला बानो, डीओ होमगार्ड राजीव चौहान व गंगाराम सिंह, एसीसी हुकम सिंह, सीपी बृजपाल सिंह सहित धामपुर स्योहारा में तैनात सभी होमगार्ड मौजूद रहे।

एक करोड़ रुपए तक का प्राप्त करें ऋण

खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम। एक करोड़ रुपए तक का प्राप्त करें ऋण।

बिजनौर। उ.प्र. खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का क्रियान्वयन किया जा रहा है। उक्त योजना के अन्तर्गत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के बेरोजगार व्यक्त्यिों के लिए निर्माण क्षेत्र में धनराशि रुपया 25.00 लाख के स्थान पर धनराशि रुपया 50.00 लाख तक साथ ही सेवा क्षेत्र के लिए धनराशि रू0 10.00 लाख के स्थान पर रू0 20.00 लाख तक बैंकों के माध्यम से ऋण लेकर रोजगार शुरू कर सकते हैं।

जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कुंवर सेन ने बताया कि योजनान्तर्गत व्यवसायिक गतिविधियां प्रतिबन्धित थीं, किन्तु अब उत्पादन से जुड़ी रिटेल शॉप/ट्रेडिंग पर ऋण हेतु बजट का 10 प्रतिशत की सीमा तक व्यवस्था कर दी गई है। योजनान्तर्गत पूर्व में स्थापित इकाईयों द्वारा निर्मित उत्पाद खादी उत्पादन तथा खादी ग्रामोद्योग आयोग द्वारा प्रमाणित उत्पादों के आउटलेट खोले जाने के लिये धनराशि रुपया 20.00 लाख तक ऋण की व्यवस्था कर दी गई है।

ट्रांसपोर्ट वाहनों पर भी वित्त पोषण: उन्होंने बताया कि पूर्व में ट्रांसपोर्ट वाहनों पर वित्त पोषण के लिए योजना में कोई प्रावधान नहीं था किन्तु अब निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष 10 प्रतिशत अनुदान धनराशि ट्रांसपोर्ट  वाहनों कैब, वैन आदि के क्रय पर व्यय की जा सकती है। यह योजना सभी प्रकार के पब्लिक सेक्टर, कोआपरेटिव, क्षेत्रीय ग्रामीण एवं आरबीआई द्वारा नियंत्रित सभी प्रकार के शिडयूल्ड प्राइवेट, कॉमर्शियल, प्राइवेट बैंक में लागू होगी।

नवीनीकृत की गयी योजना: नवीनीकृत की गयी योजना के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र के लाभार्थियों को 25-35 प्रतिशत तथा शहरी क्षेत्र के लाभार्थियों हेतु 15-25 प्रतिशत तक की मार्जिन मनी अनुदान प्रदान करने का प्रावधान है। द्वितीय ऋण हेतु तीन वर्षों के उपरान्त सफल इकाईयों को विस्तार हेतु धनराशि रुपया 1.00 करोड़ तक का ऋण एवं 15 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान है।

आवेदन करें ऑनलाईन: जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कुंवर सेन ने बताया कि आवेदन ऑनलाईन kviconline.gov.in/pmegpeportal/ पोर्टल पर जाकर किया जा सकता है। योजना के अन्तर्गत आवेदक की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिये साथ ही आवश्यक प्रपत्र यथा पासपोर्ट साइज फोटो, आधार कार्ड, जाति प्रमाण पत्र शैक्षिक योग्यता, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, ग्राम प्रधान द्वारा प्रमाणित अनापत्ति प्रमाण पत्र आदि अपलोड करना अनिवार्य है। इच्छुक ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के व्यक्ति उक्त योजनान्तर्गत अधिक जानकारी हेतु जिला ग्रामोद्योग कार्यालय बिजनौर से मो.-9412657090, 9927090066 तथा 9411044303 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

विराट कवि सम्मेलन: अर्धरात्रि के बाद तक गूंजती रहीं श्रोताओं की तालियां

विराट कवि सम्मेलन: अर्धरात्रि के बाद तक गूंजती रहीं श्रोताओं की तालियां

बिजनौर। इंदिरा बाल भवन में विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। यह कवि सम्मेलन जिला कृषि औद्योगिक एवं सांस्कृतिक प्रदर्शनी में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की कड़ी में से प्रमुख कार्यक्रम था। विराट कवि सम्मेलन में अर्धरात्रि के बाद तक श्रोताओं की तालियों की गड़गड़ाहट गूंजते रही। कवि सम्मेलन में वीर रस के कवि डॉ हरिओम पवार, गीतकार डॉ विष्णु सक्सेना,श्रृंगार रस की कवियत्री सपना सोनी, डॉ प्रवीण शुक्ला, स्वदेश यादव और सर्वेश अस्थाना को श्रोताओं ने बार बार सुना। कार्यक्रम की शुरुआत से लेकर आखिर तक अतिथिगण व श्रोता जमे रहे।

विराट कवि सम्मेलन का शुभारंभ मां शारदे की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्वलित कर किया गया, दीप प्रज्वलित मुख्य अतिथि सदर विधायक श्रीमती सूची चौधरी व वरिष्ठ भाजपा नेता मौसम चौधरी ने किया। कार्यक्रम का संचालन हास्य रस के ख्याति प्राप्त कवि एवं गीतकार डॉ प्रवीण शुक्ला ने किया। कार्यक्रम में शुरुआत गौतम अंगीरा ने की। उन्होंने अट्ठारह सौ सत्तावन की क्रांति और देश की आजादी में शहीदों के योगदान को श्रोताओं तक पहुंचाया और स्वर्ग में पहुंचने पर उनका स्वागत किस रूप में हुआ होगा, उसका काल्पनिक वर्णन किया।

इससे पूर्व श्रृंगार रस की कवियत्री राजस्थान के दौसा से आई सुश्री सपना सोनी ने मां शारदा की वंदना की। मुरादाबाद से आए कवि प्रवीण कुमार राही ने अपने अंदाज में सोता हूं खूब गुदगुदाया और तालियां बजाने पर मजबूर किया।

इसके बाद गाजियाबाद से आए युवा वीर रस के कवि स्वदेश यादव ने लोगों में देशभक्ति का ऐसा जोर का जोश भरा, श्रोता बार-बार उनको सुनने का आग्रह करते रहे। स्वदेश यादव के बाद कार्यक्रम संचालक डॉ प्रवीण शुक्ला ने लखनऊ से पधारे हास्य सम्राट सर्वेश अस्थाना को बुलाया। श्री अस्थाना ने अपने अंदाज में पुलिस पर व्यंग्यात्मक कटाक्ष किए उनके कटाक्ष को सुनकर कई पुलिसकर्मियों ने माला डालकर उनका स्वागत किया। सर्वेश अस्थाना को लोगों ने बार बार सुना। बाद में कार्यक्रम का संचालन कर रहे प्रवीण शुक्ल ने हास्य रस की कई रचनाएं सुनाकर राजनीतिक लोगो पर प्रहार किए, उन्होंने गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। श्रोता बार बार तालियां बजाते रहे।

राजस्थान के दौसा से आई सपना सोनी ने श्रृंगार रस की कई रचनाएं सुनाई और श्रोताओं को झूमने को मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में अलीगढ़ से पधारे गीतकार डॉ विष्णु सक्सेना को श्रोताओं ने इतना उत्साहित किया कि वह कई रचनाएं सुनाने को मजबूर हुए। श्रोताओं ने उनको इतना पसंद किया कि बार-बार खड़े होकर उनके लिए तालियां बजाते रहे। कार्यक्रम के आखिर में डॉ हरिओम पवार को जीभर के सुना गया। श्रोताओं ने उनके मन के अनुसार सुना। श्रोता उनका बार-बार खड़े होकर तालियां बजाकर उत्साहवर्धन करते रहे। बिजनौर के कवि सम्मेलन में संभवत ऐसा पहली बार दिखाई दिया, जब शुरुआत से लेकर आखिर तक मुख्य अतिथि सहित श्रोता अर्द्ध रात्रि के बाद दो बजे तक जमे रहे और कवियों का उत्साह वर्धन करते रहे। कवियों ने भी बिजनौर के कवि सम्मेलन को कोरोना के बाद अब तक का सर्वाधिक सफल कवि सम्मेलन बताया। कार्यक्रम का आयोजन मुख्य रूप से सभासद व भाजपा नेता दीपक गर्ग मोनू ने किया। कार्यक्रम के संयोजक ज्योति लाल शर्मा, राकेश शर्मा, जितेंद्र राजपूत, अनिल गंभीर व कमल कुमार रहे।

हिंदू राष्ट्र सेना ने की भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की मांग

भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की हिन्दू राष्ट्र सेना ने की मांग

-बिजनौर में हुआ एक दिवसीय कार्यकर्ता परिचय सम्मेलन

बिजनौर। हिन्दू राष्ट्र सेना जिला बिजनौर का भव्य व विशाल एक दिवसीय कार्यकर्ता परिचय सम्मेलन जिला अध्यक्ष बिजनौर अवधेश शर्मा की अध्यक्षता व अमरपाल शर्मा, हरिप्रसाद शर्मा के संयुक्त संचालन में हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि हिन्दू राष्ट्र सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि महाराज द्वारा मां भारती के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से राष्ट्रीय संगठन महामंत्री जितेंद्र बालियान राष्ट्रीय संगठन मंत्री, विश्वेंद्र, राष्ट्रीय मंत्री प्रीतम कुमार प्रेम, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामेंद्र चौधरी, प्रदेश उपाध्यक्ष उत्तर प्रदेश सचिन सक्सेना, मंडल अध्यक्ष मेरठ विवेक अत्रे, मंडल अध्यक्ष मुरादाबाद, अनुज कुमार व सीताराम राणा, हिन्दू राष्ट्र सेना महिला प्रकोष्ठ से प्रदेश प्रभारी उत्तर प्रदेश श्रीमती भावना पंडित प्रदेश अध्यक्ष उत्तर प्रदेश श्रीमती मीनाक्षी चौहान आदि ने अपने विचार व्यक्त किए। सभी वक्ताओं का एकमात्र उद्देश्य भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाये जाने पर रहा। जिला संगठन महामंत्री हंस राम राणा, जिला उपाध्यक्ष रविंद्र सैनी, रामनाथ कश्यप, जिला प्रवक्ता कोशिक गोडीयाल, जिला मंत्री गंभीर, चांदपुर तहसील अध्यक्ष निपेन्द्र चौधरी, जलीलपुर ब्लॉक अध्यक्ष वीरेंद्र चौहान, धर्मेंद्र प्रजापति, बिजनौर तहसील अध्यक्ष विशाल त्यागी, तहसील संगठन महामंत्री कार्तिक शर्मा, नगर अध्यक्ष किरतपुर राहुल कुमार, नगर संगठन महामंत्री रमन, तहसील संयोजक धामपुर महिपाल चौधरी, सतीश कुमार, हिमांशु, सुमित, किरतपुर ब्लॉक अध्यक्ष राकेश कुमार, ब्लॉक संगठन महामंत्री राजू पवार, गगन शर्मा ब्लॉक उपाध्यक्ष ऋषि पाल, रतिराम, डॉक्टर पप्पू सिंह व जिला बिजनौर के समस्त पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे। महिला प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष श्रीमती अनीता शर्मा, जिला संगठन महामंत्री श्रीमती रश्मि राजपूत, जिला प्रभारी श्रीमती अंजू मारवाड़ी, जिला संयोजक श्रीमती वंदना चौधरी, मीडिया प्रभारी श्रीमती ललिता राजपूत, नमीता वर्मा, जिला मंत्री मंजू चौहान, जिला मंत्री सुरेखा राणा, किरतपुर ब्लॉक से श्रीमती बीना, मोहम्मदपुर देवमल ब्लॉक अध्यक्ष श्रीमती प्रमिला आदि बड़ी संख्या में उपस्थित रहीं। इस अवसर पर मेरठ, गाजियाबाद, हापुड़, मुरादाबाद, नौएडा आदि स्थानों से भी आये पदाधिकारियों ने सहभागिता की।

साहित्य; समाज में संस्कारों और संस्कृति का संवाहक – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

साहित्य समाज में संस्कारों और संस्कृति का संवाहक – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने पूर्व शिक्षा अधिकारी राम बचन सिंह यादव की तीन पुस्तकों का किया विमोचन

आजमगढ़ में साहित्य की समृद्ध परम्परा रही है – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

आजमगढ़। साहित्य समाज में संस्कारों व संस्कृति का संवाहक है। ऐसे में साहित्यकारों का दायित्व है कि ऐसा लेखन करें जो साहित्य के माध्यम से भारतीय संस्कृति को जन-जन तक पहुंचाए। उक्त उद्गार चर्चित साहित्यकार एवं वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने सेवानिवृत्त उप बेसिक शिक्षा अधिकारी राम बचन सिंह यादव ‘बेराही’ की तीन पुस्तकों – नायाब नायक कर्ण (खंड काव्य), अंतर्बोध (काव्य संग्रह) और असुरवंश बनाम राजवंश (खंड काव्य) का विमोचन करते हुए व्यक्त किया। लाइफ लाइन हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, आजमगढ़ के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में चंद्रजीत सिंह यादव, उप शिक्षा निदेशक, मिर्जापुर मंडल, प्रसिद्ध न्यूरोसर्जन डॉ. अनूप कुमार सिंह, डॉ. गायत्री सिंह, गीता सिंह भी मंचासीन रहे।

पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि एक तरफ रामायण काल की घटनाओं को सहेजे खंड-काव्य ‘असुरवंश बनाम राजवंश’ तो दूसरी तरफ महाभारत काल के ‘नायाब नायक कर्ण’ के जीवन के अंतर्द्वंदों को सहेजे खंड-काव्य की रचना, वहीं जीवन की तमाम अनुभूतियों व संवेदनाओं को सहेजता काव्य संग्रह ‘अंतर्बोध’ एक कवि के रूप में राम बचन सिंह यादव की आध्यात्मिक व दार्शनिक प्रवृत्ति, सांस्कृतिक विरासत से जुड़ाव, इतिहास बोध का भरपूर ज्ञान और महापुरुषों से युवा पीढ़ी को जोड़ने का सत्साहस दिखाता है। परिस्थिति और ऐतिहासिक चेतना के द्वंद से उबरते हुए उन्होंने लोग-मंगल से जुड़कर युगीन सत्य को भेदकर मानवीयता को खोजने का प्रयत्न किया। श्री यादव ने कहा कि रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों ने ज्ञान, भक्ति और कर्म की त्रिवेणी प्रवाहित कर भारतीय जनमानस को जागृत किया। इनमें जिन प्रगतिशील मूल्यों व समानता के भावों पर बल दिया है, उसे आज बार- बार उद्धृत करने की जरूरत है।

ऋषियों-मुनियों, क्रांतिकारियों व साहित्यकारों की पावन धरा- आजमगढ़ से जुड़े अपने अनुभवों को साझा करते हुए श्री यादव ने कहा कि तमाम ऋषियों-मुनियों, क्रांतिकारियों व साहित्यकारों की पावन धरा रहे आजमगढ़ में साहित्य की समृद्ध परंपरा रही है। राहुल सांकृत्यायन, अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’, आचार्य चंद्रबली, श्याम नारायण पांडेय,अल्लामा शिब्ली नोमानी, कैफी आजमी जैसे यहाँ के साहित्यकारों ने देश-दुनिया में ख्याति अर्जित की है। आज भी आजमगढ़ के तमाम साहित्यकार न सिर्फ उत्कृष्ट रच रहे हैं बल्कि समाज को एक नई राह दिखा रहे हैं।

पोस्टमास्टर जनरल श्री यादव ने कहा कि सरकारी सेवाओं में रहते हुए भी साहित्य सृजन का कार्य व्यक्ति की दृष्टि को और भी व्यापक बनाता है। शिक्षा व्यक्ति में ज्ञान उत्पन्न करती है तो साहित्य संवेदना की संपोषक है। इसी कड़ी में राम बचन सिंह यादव न केवल एक शिक्षक एवं पथ प्रदर्शक के रूप में रहे, बल्कि साहित्य के विकास एवम उन्नयन में भी महती भूमिका निभाने को तैयार हैं।

उप शिक्षा निदेशक, मिर्जापुर मंडल चंद्रजीत सिंह यादव ने कहा कि राम बचन सिंह यादव की कविताएं पाठक को खुद अपना अंतर्बोध कराती प्रतीत होती हैं। मानवीय मूल्यों के पतन और समाज की वर्तमान स्थिति को उन्होंने अपनी कविताओं में अक्षरक्ष: उतार दिया है।

न्यूरोसर्जन डॉ. अनूप कुमार सिंह ने कहा कि अच्छी पुस्तकें जीवन के लिए टॉनिक का कार्य करती हैं। इनके अध्ययन-मनन से एकाकीपन, निराशा और अवसाद से भी बचा जा सकता है। युवाओं में पुस्तकें पढ़ने की आदत विकसित करनी होगी।

अपनी रचना प्रक्रिया पर राम बचन सिंह यादव ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम और नायक कर्ण का व्यक्तित्व सदैव से प्रभावित करता रहा है, जिन्होंने तमाम संघर्षों और विपरीत परिस्थितियों के बावजूद भी जीवन में मूल्यों का साथ नहीं छोड़ा। इन पर खंड-काव्य लिखकर अपने को बेहद सौभाग्यशाली समझता हूँ। पिताजी के अंतिम दिनों की अवस्था देखकर भी मुझे जीवन का अंतर्बोध हुआ, जिसे काव्य संग्रह के रूप में परिणित किया।

इस अवसर पर प्रो.आरके यादव, सरोज, ऋषि मुनि राय, मिथिलेश तिवारी, घनश्याम यादव, संजय यादव, आलोक त्रिपाठी, सूर्य प्रकाश सहित तमाम साहित्यकार और गणमान्य जन उपस्थित रहे।

कार्यक्रम का संचालन आरके फार्मेसी सठियांव आजमगढ़ के प्राचार्य डॉ. अभय प्रताप यादव ने तथा आभार ज्ञापन प्रेम प्रकाश यादव ने किया।

मलिहाबाद में शिविर लगा कर 112 पशुओं की चिकित्सा

लखनऊ। एस्कैड योजना के अंतर्गत सोमवार को मलिहाबाद के ग्राम टिकरी खुर्द में पशु चिकित्सा शिविर आयोजन किया गया। इस अवसर पर 112 पशुओं की चिकित्सा की गई। शिविर के आयोजन में डॉ. आरएस मिश्र ने पशुपालकों को पशुओं का बीमा करने एवं किसान क्रेडिट कार्ड बनाने हेतु प्रोत्साहित किया गया। शिविर में योगेन्द्र, अनुराग, अतुल कुमार एवं सूरज आदि मौजूद रहे।

विद्युत संबंधी समस्याओं के लिए समाधान सप्ताह आज से 19 तक

बिजनौर। विद्युत संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए दिनांक 12 सितम्बर से 19 सितम्बर तक प्रतिदिन सुबह 08:00 बजे से रात्रि 08:00 बजे तक शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। इस संबंध में उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम देवराज (आईएएस) ने शासकीय पत्र जारी किया है।

पत्र के अनुसार विभाग के आदेश हैं कि हर क्षेत्र में कार्यक्रम के स्थल का पूर्व में प्रचार करना होगा। शिविर सभी 33/11 के0वी0 के उपकेन्द्रों पर अथवा निकटतम बिलिंग केन्द्र पर आयोजित होंगे। उपकेन्द्र के अधीन आने वाले सभी राजस्व गांव / ग्राम पंचायत को एक टाइम टेबल बनाकर 01 सप्ताह के अन्दर आच्छादित करना है।शिविरों में विद्युत उपभोक्ताओं से उनके बकाया विद्युत बिलों का भुगतान प्राप्त करने के साथ ही बिल सम्बन्धित शिकायतों का निस्तारण किया जाएगा। कनेक्शन / लोड बढ़ाने या मीटर लगाने के निवेदन पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी। सभी प्रकार के विद्युत संयोजनों (कनेक्शन) से सम्बन्धित प्राप्त होने वाली शिकायतों / समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जाएगा। ट्रान्सफार्मर, फीडर, लोड / वोल्टेज अथवा जर्जर तार जैसी समस्याओं के निवेदन, जिसमें त्वरित समाधान सम्भव हो। घटित होने वाली विद्युत दुर्घटना के कारण होने वाली जनहानि से सम्बन्धित मुआवजा एवं ऐसी समस्याओं को नगण्य किये जाने के उद्देश्य से त्रुटिपूर्ण अधिष्ठापन पर कार्यवाही की जाएगी। विद्युत उपभोक्ताओं के परिसरों पर स्थापित जले / खराब / क्षतिग्रस्त मीटरों को बदलने के साथ-साथ पुराने मीटरों के स्थान पर नवीन मीटर स्थापित कराने का कार्य किया जायेगा। अन्य विद्युत सम्बन्धी समस्याओं से सम्बन्धित निवेदनों एवं सुझाओं पर विचार / कार्यवाही की जाएगी।

समाधान सप्ताह के प्रत्येक दिन सुबह से सायं तक शिविर के आयोजन एवं संचालन की जिम्मेदारी स्थानीय अवर अभियन्ताओं की होगी एवं उपखण्ड स्तर पर उपखण्ड अधिकारी द्वारा अपने दिशा निर्देशन में यह कार्य किया जायेगा। इसकी मानिटरिंग मण्डल स्तर पर मुख्य अभियन्ता ( वि०), जनपद स्तर पर अधीक्षण अभियन्ता, खण्ड स्तर पर अधिशासी अभियन्ता द्वारा किया जायेगा। राज्य स्तरीय मुख्य कार्यालय एवं विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों के बीच मानिटरिंग के लिये जिम्मेदारी तय की जायेगी। क्षेत्रों में व्यापक प्रचार प्रसार किया जायेगा एवं किस गाँव के लोगों को सप्ताह के किस दिन आना है इसकी समय सारिणी जन सामान्य को उपलब्ध करायी जायेगी। सम्बन्धित क्षेत्र के ग्राम प्रधान / वार्ड सभासद से सम्पर्क स्थापित करके आयोजित होने वाले शिविर के लिये ग्राम जनों को जानकारी देने हेतु निवेदन किया जायेगा। शिविर आयोजन से सम्बन्धित सम्पूर्ण जानकारी सांसद, विधायक, जिला / ब्लाक पंचायत प्रमुख एवं अन्य जनप्रतिनिधियों को दी जायेगी।

12 सितंबर: संविधान सभा में आज ही शुरू हुई थी हिंदी राजभाषा के प्रश्न पर बहस

संदर्भ हिंदी दिवस-12 सितंबर। संविधान सभा में आज ही शुरू हुई थी हिंदी राजभाषा के प्रश्न पर बहस। संविधान सभा में आज ही शुरू हुई थी हिंदी राजभाषा के प्रश्न पर बहस।

लखनऊ। आज 12 सितंबर है। संविधान सभा में हिंदी को राजभाषा बनाए जाने के तैयार किए गए मसौदे पर आए 300 से अधिक संशोधनों पर दिलचस्प बहस आज ही शुरू हुई थी। हिंदी और अहिंदी भाषी राज्यों के प्रतिनिधियों के बीच गरमागरम यह बहस लोकसभा सचिवालय द्वारा 1994 में प्रकाशित की गई ‘भारतीय संविधान सभा के वाद विवाद की सरकारी रिपोर्ट’ का अहम दस्तावेज है। हिंदी को राज या राष्ट्रभाषा बनाए जाने से जुड़े संशोधनों पर संविधान सभा में हुई बहस में पंडित जवाहरलाल नेहरू, राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन, मौलाना अबुल कलाम आजाद, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सेठ गोविंद दास, एन गोपालस्वामी आयंगर, अलगू राय शास्त्री, आरबी धुलेकर, मौलाना हसरत मोहानी, वीएन गाडगिल, नजीरउद्दीन अहमद, मौलाना हिफजुररहमान, श्रीमती जी. दुर्गाबाई , डॉ रघुवीर, मोहम्मद इस्माइल, शंकरराव देव, पंडित रविशंकर शुक्ल, रामसहाय, बीएम गुप्ते, रेवरेंड जिरोम डिसूजा, कुलधार चालिया, टीटी कृष्णमाचारी, आरके सिधवा, डॉ. पी सुब्बरायन, बी. दास, डॉ पीए चक्को, काजी सैयद करीमुद्दीन, पंडित गोविंद मालवीय, पंडित लक्ष्मीकांत मैत्र द्वारा पक्ष विपक्ष में प्रस्तुत किए गए तर्क-वितर्क और बहस पृष्ठ संख्या 2055 से 2332 (277 पृष्ठ) में दर्ज है। तमाम सहमति-असहमति के बीच सभा के कुछ सदस्यों ने बीच का रास्ता भी अपनाया था। इनमें पंडित जवाहरलाल नेहरू और संविधान सभा के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद प्रमुख थे।
हिंदी को राजभाषा के प्रश्न पर हिंदी और अहिंदी भाषी तो लगभग तमाम वाद-विवाद के बाद सहमत हो गए थे लेकिन विवाद के केंद्र में हिंदी और रोमन अंकों के उपयोग का मसला ही था। अंत में अंग्रेजी अंकों के उपयोग पर सभी की सहमति के साथ राजभाषा का यह मसला 12 सितंबर से शुरू होकर 14 सितंबर 1949 की शाम को समाप्त हुआ था। 3 दिनों में करीब 24 घंटे तक बहस चली। कई संशोधन प्रस्ताव एक से होने की वजह से कुछ लोगों को ही बात रखने का अवसर मिला। कुछ संशोधन प्रस्ताव वापस ले लिए गए और हाथ उठाकर मतों के जरिए हिंदी को राजभाषा, देवनागरी लिपि और रोमन अंकों के उपयोग पर सहमति बनी।

संविधान सभा में भाषा के प्रश्न पर हुई इस बहस का समापन करते हुए अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने कहा-‘मैं आश्चर्य कर रहा था कि हमें छोटे से मामले (रोमन अंकों के उपयोग) पर इतनी बहस करने की, इतना समय बर्बाद करने की क्या आवश्यकता है? आखिर अंक हैं क्या? वैसे दस ही तो हैं। इन दस में मुझे याद पड़ता है कि तीन तो ऐसे हैं जो अंग्रेजी और हिंदी में एक से हैं–२, ३ और ०। मेरे ख्याल से चार और है जो रूप में एक से है किंतु उनमें अलग-अलग अर्थ निकलते हैं। उदाहरण के लिए हिंदी का ४ अंग्रेजी के 8 से बहुत मिलता जुलता है। मैं अपने हिंदी के मित्रों से कहूंगा कि वह इसे (दक्षिण भारतीयों की रोमन अंकों के उपयोग के प्रस्ताव) उस भावना से स्वीकार करें। इसलिए स्वीकार करें कि हम उनसे हिंदी भाषा और देवनागरी लिपि स्वीकार करवाना चाहते हैं। मुझे प्रसन्नता है कि सदन ने बहुमत से सुझाव को स्वीकार कर लिया है।

अंकों के उपयोग पर चले वाद विवाद का समापन करते हुए डॉ राजेंद्र प्रसाद ने एक छोटा सा मनोरंजक दृष्टांत भी अपने वक्तव्य में सुनाया-‘हम चाहते हैं कि कुछ मित्र हमें निमंत्रण दें। वे निमंत्रण दे देते हैं। वह कहते हैं, आप आकर हमारे घर में ठहर सकते हैं। उसके लिए आपका स्वागत है, किंतु जब आप हमारे घर आएं तो कृपया अंग्रेजी चलन के जूते पहनिए। भारतीय चप्पल मत पहनिए, जैसे कि आप अपने घर में पहनते हैं। इस निमंत्रण को केवल इस आधार पर ठुकराना मेरे लिए बुद्धिमत्ता नहीं होगी कि मैं चप्पल को नहीं छोड़ना चाहता। मैं अंग्रेजी जूते पहन लूंगा और निमंत्रण को स्वीकार कर लूंगा और इसी सहिष्णुता की भावना से राष्ट्रीय समस्याएं हल हो सकती हैं’

उन्होंने इस बात के साथ अपने वक्तव्य का समापन किया-‘हमारी परंपराएं एक ही हैं। हमारी संस्कृति एक ही है और हमारी सभ्यता में सब बातें एक ही हैं। अतएव यदि हम इस सूत्र (अंग्रेजी अंकों के उपयोग) को स्वीकार नहीं करते तो परिणाम यह होता कि या तो इस देश में बहुत सी भाषाओं का प्रयोग होता या वे प्रांत पृथक हो जाते जो बाध्य होकर किसी भाषा विशेष को स्वीकार करना नहीं चाहते। हमने यथासंभव बुद्धिमानी का कार्य किया है। मुझे हर्ष है। मुझे प्रसन्नता है और मुझे आशा है कि भावी संतति इसके लिए हमारी सराहना करेगी।

गौरव अवस्थी
रायबरेली

पीएम अजय योजना से दलितों का होगा आर्थिक सशक्तिकरण – डा. निर्मल

अनुसूचित जाति का दलित दंश समाप्त करने की दिशा में सरकार ने उठाया बड़ा कदम – पी0एम0 अजय योजना से दलितों का होगा आर्थिक सशक्तिकरण – डा0 निर्मल।

लखनऊ। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अनुसूचित जातियों का दलित दंश समाप्त करने के लिए महत्वाकांक्षी योजनाओं को जमीनी स्तर पर पहुँचाकर दलितों के आर्थिक सशक्तिकरण हेतु बड़ा कदम उठाया है। उक्त बातें अति विशिष्ट अतिथि गृह लखनऊ में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उ0प्र0 अनुसचित जाति वित्त एवं विकास निगम के चेयरमैन डा0 लालजी प्रसाद निर्मल ने कही।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से स्वच्छ भारत मिशन की घर-घर शौचालय योजना ने सदियों से चली आ रही हांथ से मैला उठाने की प्रथा पर पूर्ण विराम लगा दिया उसी प्रकार प्रधानमंत्री अनुसूचित जाति अभ्युदय योजना (पी0एम0-अजय) दलितों का सामूहिक आर्थिक सशक्तिकरण करके सदियों से चले आ रहे दलित त्रासदी(दंश) को समाप्त करेगा। उन्होंने कहा कि अब उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम की योजनाएं प्रधानमंत्री अनुसूचित जाति अभ्युदय योजना के नाम से जानी जायेंगी। इस योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति बाहुल्य गावों में प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना संचालित होगी। दलित बाहुल्य क्षेत्रों में समूहों/क्लस्टर के रूप में अनुसूचित जाति के उद्यमी बनाने हेतु आय-सृजक योजनाएं चलायी जायेंगी तथा उक्त गावों में आय-सृजन हेतु आवश्यक निर्माण भी कराये जायेंगे। पी0एम0-अजय योजना के तहत अनुसूचित जाति के छात्रों हेतु नये छात्रावासों का निर्माण होगा तथा पुराने छात्रावासों का नवीकरण/सुदृढ़ीकरण कराया जायेगा।

आय व अनुदान सीमा बढ़ी- डा0 निर्मल ने कहा कि उ0प्र0अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम की योजनाओं में पात्रता हेतु अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों में वार्षिक आय सीमा रू0 47080 तथा शहरी क्षेत्रों में रू0 56460 तथा अनुदान की धनराशि रू0 10 हजार निर्धारित थी। जुलाई 2018 में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आय सीमा एवं अनुदान सीमा में वृद्धि करने हेतु भारत सरकार से अनुरोध किया था। केन्द्र सरकार ने व्यापक मंथन करके अब पात्रता हेतु आय सीमा और अनुदान में बड़ा बदलाव किया है। इन योजनाओं में अब वार्षिक आय सीमा को सीमामुक्त (सभी के लिए) करते हुए रू0 2.50 लाख रूपये से कम वार्षिक आय के लोगों को योजनाओं में प्राथमिकता देने की व्यवस्था की गयी है। अनुदान राशि रू0 10 हजार के स्थान पर अब सहायता राशि रू0 50 हजार प्रति लाभार्थी दी जायेगी।

उद्यम स्थापित करने के लिए सहायता- अनुसूचित जाति के व्यक्तियों को उद्यम स्थापित करने के लिए लाभपरक परियोजनाओं के माध्यम से उनका आर्थिक सशक्तिकरण किया जायेगा और इस हेतु अनुसूचित जाति के व्यक्तियों के क्लस्टर/समूहों/समितियों का चयन किया जायेगा। इन समूहों द्वारा प्रस्तुत परियोजनाओं के सफल संचालन के लिए उनकी समयबद्ध प्रशिक्षण की व्यवस्था की गयी है। व्यक्तिपरक परियोजनाओं की जगह दलितों के समूहों को उद्यमी बनाया जायेगा। लाभार्थियों के प्रोजेक्ट बनाने के लिए प्रशिक्षण दिलाने तथा उनके उद्यम पर निगरानी रखने के लिए PIU (Project Implementation Unit) की व्यवस्था राज्य और जनपद स्तर पर की गयी है जिसमें प्रोजेक्ट आफिसर, प्रोजेक्ट टेक्निकल असिस्टेंट, प्रोजेक्ट कम्प्यूटर असिस्टेंट तथा राज्य स्तर पर स्टेट को-आर्डीनेटी एवं स्टाफ की व्यवस्था की गयी है। इन लाभार्थियों के उत्पादों को बाजार प्रदान करने की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गयी है। इस हेतु बड़े-बड़े उद्यमी समूहों से संवाद भी किया जा रहा है।

6171 अनुसूचित जाति बाहुल्य गावों को विकसित करेंगे आदर्श ग्राम के रूप में- प्रदेश में 6171 अनुसूचित जाति बाहुल्य गावों को आदर्श ग्राम के रूप में विकसित किये जाने की व्यवस्था की गयी है, जिसमें सारी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। सरकार द्वारा प्रत्येक चयनित गांव में 20 लाख रूपये की राशि से विकास कार्य कराये जायेंगे और अवशेष कार्य विभिन्न विभागों के माध्यम से कराये जायेंगे। इन गावों में क्लस्टर के रूप में चिन्हित लाभार्थियों को उद्यम लगाने हेतु आवश्यक निर्माण भी कराया जायेगा।

6 नये बाबू जगजीवनराम छात्रावासों का निर्माण- डा0 निर्मल ने बताया कि प्रधानमंत्री अनुसूचित जाति अभ्युदय योजना के अंतर्गत प्रदेश में 6 नये बाबू जगजीवनराम छात्रावासों का निर्माण कराया जायेगा तथा वर्तमान में निर्मित/संचालित 261 बाबू जगजीवनराम छात्रावासों में से मरम्मत योग्य छात्रावासों के मरम्मत का कार्य कराया जायेगा। छात्रावासों के निर्माण हेतु प्रति अंतःवासी रू0 3 लाख का व्यय सरकार द्वारा वहन किया जायेगा। फर्नीचर हेतु 5 हजार रूपये प्रति अंतःवासी की दर से धनराशि उपलब्ध करायी जायेगी। बालिका छात्रावासों के निर्माण हेतु उन क्षेत्रों का प्राथमिकता दी जायेगी जहां बालिकाओं की साक्षरता दर कम है। बालिका छात्रावासों में महिला सुरक्षा गार्ड और महिला छात्रावास अधीक्षिका की नियुक्ति की जायेगी। पुराने छात्रावासों की मरम्मत हेतु 50 अंतःवासी छात्रों की क्षमता वाले छात्रावासों के लिए 5 लाख रूपये, 100 अंतःवासी छात्रों की क्षमता वाले छात्रावासों के लिए 10 लाख रूपये तथा 150 अंतःवासी छात्रों की क्षमता वाले छात्रावासों के लिए 15 लाख रूपये खर्च किये जायेंगे।
डा0 निर्मल ने बताया कि अनुसूचित जाति के लिए आजादी के बाद पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में स्टैंड-अप इण्डिया योजना के बाद प्रधानमंत्री अनुसूचित जाति अभ्युदय योजना लागू की गयी है जो दलितों को आर्थिक रूप से सशक्त करेगी और आजादी के 100 वर्ष पूरे होने के पहले ही अनुसूचित जातियों का दलित दंश इस योजना के माध्यम से समाप्त हो जायेगा।

अम्बिका देवी मंदिर में रोपा गया रुद्राक्ष का पौधा

माँ गंगा को स्वच्छ रखने में सहयोग करने की अपील। वन विभाग की ओर से रोपे गए पौधे। बिजनौर रेंज के मिर्जापुर गांव में नेहरु युवा केन्द्र के सहयोग से नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत हुआ जागरूकता गोष्ठी का आयोजन।

बिजनौर। वन विभाग की ओर से बिजनौर रेंज के मिर्जापुर गांव में नेहरु युवा केन्द्र के सहयोग से नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत एक जागरूकता गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में युवाओं को मुख्यतः जागरूक करके माँ गंगा को स्वच्छ रखने में सहयोग करने की अपील की गई। नेहरु युवा केन्द्र द्वारा गंगा दूत चिन्हित कर उनको प्रशिक्षित किया गया है, जो इस कार्यक्रम में अपनी प्रतिभा गंगा नदी के संरक्षण एवं पर्यावरण के संरक्षण के प्रति दिखाए। सभी गंगा दूतों को प्रशस्ति पत्र भी दिया गया। सभी उपस्थित लोगों को नदी संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण एवं वन्यजीवों के प्रति दया भाव रखने एवं उनको संरक्षित रखने के लिए प्रेरित किया गया।इसके अतिरिक्त अम्बिका देवी मंदिर के परिसर में एक रुद्राक्ष के पौधे का रोपड़ भी किया गया। इस अवसर पर डीएफओ अनिल पटेल समेत वन विभाग व नेहरु युवा केन्द्र के अधिकारी, पदाधिकारी उपस्थित रहे।

साउथ कोरिया में PHD को चयनित वैशाली के माता पिता का सम्मान

बिजनौर। साउथ कोरिया में पीएचडी प्रोग्राम के लिए चयनित अभ्यर्थी वैशाली के माता पिता को क्षेत्रीय सांसद द्वारा सम्मानित किया गया।
प्रबंधक कमेटी श्री रविदास मंदिर बालावाली तथा रविदास सभा बिजनौर के तत्वाधान में नजीबाबाद के आदर्श नगर की गली एक-बी में एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सांसद गिरीश चंद रहे। सम्मान समारोह की अध्यक्षता रविदास सभा कमेटी के अध्यक्ष राजेंद्र एडवोकेट ने की। सभा में उपस्थित कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट राजेंद्र, सचिव भूपेंद्र रंजन, सांसद गिरीश चंद ने वैशाली के माता-पिता को शॉल एवं प्रतीक चिन्ह से सम्मानित किया। इस अवसर पर वक्ताओं ने उपस्थित लोगों से बच्चों की शिक्षा पर विशेष ध्यान देने का आह्वान किया।

मुख्य रूप से भूपेंद्र कुमार प्रधानाचार्य एवं पूर्व मंडल कोऑर्डिनेटर बसपा, इंजीनियर मनोहर लाल पूर्व मंडल कोऑर्डिनेटर बसपा, दिलीप कुमार उर्फ पिंटू जिला महासचिव, विजय पाल सिंह पूर्व मंडल कोऑर्डिनेटर, इफ्तेखार भूरे भाई जिला संयोजक बसपा, अमर सिंह जिला पंचायत सदस्य एवं जिला सचिव बसपा, आदिल चौधरी वरिष्ठ बसपा नेता, जगत सिंह जिला संयोजक बीवीएफ, राम कुमार एडवोकेट, गोविंद सिंह सेक्टर अध्यक्ष बसपा, पवन कुमार क्षेत्र पंचायत जिला अध्यक्ष वीडीसी, अवनीश कुमार एडवोकेट, अवधेश कुमार एडवोकेट, अनुज कुमार विधानसभा सचिव, राहुल कुमार प्रत्याशी पूर्व जिला पंचायत सदस्य, दीपक कुमार मंडल कोऑर्डिनेटर, रतिराम पूर्व प्रधान सिकरोड़ा, जग्गू सिंह, दयाराम, विनोद, नीरज, क्षेत्र पंचायत सदस्य धीरज सिंह, रोहित, सोनू आदि सभा में मौजूद रहे।

संत निरंकारी मंडल ब्रांच हल्दौर के शिविर में हुआ 60 यूनिट रक्तदान

संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में संत निरंकारी मंडल ब्रांच हल्दौर द्वारा किया गया विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन। जिला अस्पताल के डॉक्टरों की टीम की देखरेख में हुआ करीब 60 यूनिट रक्तदान।भूपेंद्र निरंकारी

बिजनौर। राकेश फार्म हाउस में संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में संत निरंकारी मंडल ब्रांच हल्दौर के द्वारा एक विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। जिला अस्पताल के डॉक्टरों की टीम की देखरेख में करीब 60 यूनिट रक्तदान हुआ। रक्तदान शिविर में बिजनौर चांदपुर, नूरपुर, नहटौर, धामपुर, नजीबाबाद व बरुकी आदि ब्रांच ने भाग लिया। रक्तदान शिविर का उद्घाटन मुख्य अतिथि बरेली जोन के जोनल इंचार्ज संजीव अग्रवाल ने किया।

इस अवसर पर जोनल इंचार्ज संजीव अग्रवाल व हल्दौर ब्रांच के मुखी महात्मा महेंद्र शर्मा ने संयुक्त रुप से बताया कि रक्तदान एक बहुत ही पुण्य का कार्य है। सद्गुरु बाबा हरदेव सिंह महाराज का कहना था कि रक्त नालियों में नहीं नाड़ियों में बहना चाहिए। रक्तदान से स्वस्थ रहता है। कोई भी स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता है और इससे किसी तरह का कोई भी नुकसान नहीं होता, हमें लाभ ही होता है।

जिला अस्पताल की टीम के कुशल मार्गदर्शन में कार्मेंद्र सिंह, मुकेश किरण शर्मा, सूर्य प्रताप, शशांक वर्मा, सुधा प्रियांशी, सलीम अब्बास, प्रीतम सिंह, तेजपाल, राहुल खन्ना चांदपुर, अशोक कुमार, अमन सोवीर नेतराम आदि सहित करीब 60 व्यक्तियों ने रक्तदान किया। इस अवसर पर बिजनौर ब्रांच के संयोजक महात्मा बाबूराम निरंकारी, नूरपुर ब्रांच के संयोजक महात्मा राजपाल सिंह, चांदपुर ब्रांच के मुखी महात्मा डॉक्टर केपी सिंह, किरतपुर बसी ब्रांच के मुखी महात्मा हुकुम सिंह, नहटौर ब्रांच के मुखी कुशल पाल शर्मा, धामपुर ब्रांच के मुखी महात्मा भीम सिंह एडवोकेट, खानपुर ब्रांच के मुखी कैलाश चंद, सरिता श्रीवास्तव, सुशीला, प्रचारक कृपाल सिंह त्यागी,  गंगाचरण, हीरामणि आदि सहित निरंकारी मिशन के अनेक अनुवाई उपस्थित रहे।

जिला अस्पताल की टीम का विशेष योगदान- जिला अस्पताल की टीम से डॉ. जासमीन, डॉक्टर अंशुला, नरेश कुमार, योगेंद्र शर्मा, अरुण शर्मा, विनोद कुमार का योगदान रहा। इससे पूर्व हल्दौर ब्रांच के मुखी महात्मा महेंद्र कुमार शर्मा ने सभी अतिथियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया। रक्तदान शिविर को सफल बनाने में मुनीश कुमार, गंगाराम, आसाराम, मन्नू सिंह,  शिवम, दिनेश, हीरामणि का विशेष योगदान रहा। अंत में हल्दौर ब्रांच के मुखी महात्मा मास्टर महेंद्र शर्मा ने मुख्य अतिथि जोनल इंचार्ज संजीव अग्रवाल व अन्य अतिथियों, निरंकारी मिशन के अनुयायियों तथा रक्तदान करने वालों का आभार व्यक्त किया।

महान शिक्षाविद, सफल राजनीतिज्ञ तथा महान दार्शनिक थे सर्वपल्ली राधाकृष्णन

महान शिक्षाविद, सफल राजनीतिज्ञ तथा महान दार्शनिक थे डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन। आरजेपी में हुआ शिक्षक दिवस का आयोजन। वक्ताओं ने की महान शिक्षाविद को श्रद्धांजलि अर्पित। चंद्रहास सिंह को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान


बिजनौर। आरजेपी इंटर कॉलेज बिजनौर में राष्ट्रपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्मदिवस शिक्षक दिवस के रूप में उत्साह पूर्वक मनाया गया। प्रार्थना स्थल पर डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के चित्र पर प्रधानाचार्य सहित सभी शिक्षकों शिक्षणेत्तर कर्मचारियों स्काउट एनसीसी तथा एनएसएस के छात्रों ने पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की। शिक्षकों ने अपने पूर्व राष्ट्रपति तथा महान शिक्षाविद को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए देश, शिक्षा तथा शिक्षकों के लिए उनके समर्पण पर अपने विचार प्रकट किए।

प्रधानाचार्य कैप्टन बिशनलाल ने कहा कि डॉ राधाकृष्णन जी भारत के ऐसे रत्न थे जिन्होंने भारतीय संस्कृति भारतीय दर्शनशास्त्र का विदेशों में भी जाकर शिक्षण किया। वह न केवल एक महान शिक्षाविद थे बल्कि एक सफल राजनीतिज्ञ तथा महान दार्शनिक भी थे। उनकी महिमा उनकी सादगी उनकी विद्वता हम सबको प्रेरित करती है कि हम भी अपने देश को आगे ले जाने के लिए विश्व गुरु बनाने के लिए निरंतर प्रयास करते रहें। इस अवसर पर उप प्रधानाचार्य गयूर आसिफ, वीएस चौहान, बालेश कुमार, एसपी गंगवार, सुधीर कुमार, बृजेश राजपूत, सुभाष बाबू, सुधांशु कुमार वत्स, सुभाष बाबू, अतुल रस्तोगी, मनोज कुमार यादव, मीना सिंह, रश्मि, डीओसी स्काउट चंद्रहास सिंह चौहान, अलका अग्रवाल, रेशु शर्मा, मोहम्मद अनस, वाजिद हुसैन, वीरेंद्र कुमार, राजेंद्र कुमार, अभय सिंह, लक्षेश कुमार, पीके सिंह, भूपेंद्र पाल सिंह, नरेश कुमार, भोला नाथ आदि शिक्षकों ने भी पुष्प अर्पित कर डॉक्टर राधाकृष्णन को श्रद्धांजलि अर्पित की तथा भारतीय संस्कृति एवं दर्शन को विदेशों तक पहुंचाने में उनके महत्व योगदान पर विचार प्रकट किए।

चंद्रहास सिंह को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान

बिजनौर। शिक्षक दिवस के पावन पर्व पर रोटरी क्लब बिजनौर द्वारा मंडलाध्यक्ष डी0के0 शर्मा, जिलाध्यक्ष कमल मित्तल, कार्यक्रम प्रमुख गौरव भारद्वाज, सचिव सौरव राजवंशी द्वारा राजा ज्वाला प्रसाद आर्य इंटर कॉलेज बिजनौर में कार्यरत शिक्षक एवं स्काउट डीओसी बिजनौर व अटेवा प्रांतीय उपाध्यक्ष चंद्रहास सिंह को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर चंद्रहास सिंह ने कहा कि कहा शिक्षक एक मोमबत्ती है जो स्वयं जलकर सबको प्रकाश देने का कार्य करता है साथ ही अपने शिष्यों को दुनिया के श्रेष्ठ से श्रेष्ठ पदों पर आसीन कर समाज का अच्छा नागरिक बनने का प्रयास करता है। प्रधानाचार्य कैप्टन बिशन लाल ने रोटरी क्लब द्वारा चंद्रहास सिंह को सम्मानित करने पर आभार व्यक्त करते हुए बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य की ईश्वर से कामना की। इस मौके पर उपप्रधानाचार्य गयूर आसिफ, सुधांशु वत्स, कौशल, एकता, भूपेंद्र चौधरी, मनोज कुमार यादव, बालेश कुमार, डॉक्टर सुनील आदि मौजूद रहे

गणेश महोत्सव पर स्योहारा में हुआ विशाल भंडारा

बिजनौर। श्री गणेश महोत्सव के अवसर पर सोमवार को स्योहारा नगर के पंजाबी धर्मशाला परिसर में एक विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। भंडारे में हजारों गणेश भक्तों ने प्रसाद ग्रहण कर धर्मलाभ उठाया। इस भंडारे का आयोजन पंजाबी धर्मशाला की कमेटी की ओर से किया गया। बता दें कि श्री गणेश महोत्सव प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी नगर में बड़े ही श्रद्धाभाव एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। गणेश उत्सव को लेकर नगर के लोगों में काफी उत्साह बना हुआ है। पिछले कई दिनों से चल रहे गणेश उत्सव को लेकर मंदिरों में गणपति बप्पा की पूजा अर्चना की जा रही है।

इस अवसर पर मुकेश मिगलानी, महेश मिगलानी, मयंक वर्मा, पीयूष रस्तोगी, अमित अरोड़ा, मुकेश दुआ, रजत मिगलानी, पम्मी अरोड़ा, पारस बत्रा, राजीव मिगलानी, मनी मिगलानी व सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद रहे।

योगी ने किया महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किया गया महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण, मेडिकल कॉलेज में महात्मा विदुर की प्रतिमा लगाने तथा निर्माण कार्य पूर्ण गुणवत्ता व समयबद्वता के साथ पूरा करने के दिए निर्देश।

बिजनौर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्माणाधीन महात्मा विदुर राजकीय मेडिकल कॉलेज स्वाहेडी का निरीक्षण किया गया। मुख्यमंत्री ने अगले सत्र से वहां कक्षाएं प्रारम्भ करने की बात कही। उन्होंने महात्मा विदुर की प्रतिमा लगाने की व्यवस्था करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि जो भी निर्माण कार्य किये जा रहे हैं, वह पूर्ण गुणवत्ता व समयबद्वता के साथ पूर्ण हों। उन्होंने कॉलेज का ले-आउट प्लान, साइट प्लान व डिजाइन को भी देखा। उन्होंने मेडिकल कॉलेज आगमन पर सर्वप्रथम भगवान श्री गणेश की पूजा अर्चना की।
मुख्यमंत्री ने उपस्थित स्वास्थय विभाग के अधिकारियों से निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज की बिजनौर से दूरी की जानकारी ली। उन्होंने पूछा कि निर्माणाधीन कार्य का थर्ड पार्टी इन्सपेक्शन (निरीक्षण) कराया गया है। इस पर अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 द्वारा अवगत कराया गया कि आईआईटी रूडकी द्वारा इन्सपेक्शन किया गया है।
मुख्यमंत्री द्वारा एनएमसी के निरीक्षण की भी जानकारी ली गयी, जिस पर सीएमएस द्वारा अवगत कराया गया कि दो बार इन्सपेक्शन हुआ है अगला इन्सपेक्शन जनवरी में होगा। मुख्यमंत्री द्वारा निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हास्टल, बॉयज हास्टल आदि कक्षों का निरीक्षण किया गया। उन्होंने कहा कि यहां आकर अच्छा लगा।
अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 चन्द्रशेखर सिंह ने बताया कि निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज 20.71 एकड में बनाया जा रहा है। इसकी लागत रू0 281.52 करोड है। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल बिजनौर में 17.52 एकड में 200 बेड का अस्पताल बनाया जा रहा है। इसके अतिरिक्त 48 बेड की धर्मशाला भी बनायी जा रही है। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल में पूर्व से ही 300 बेड का अस्पताल संचालित है। नया अस्पताल बन जाने से वह 500 बेड का हो जायेगा।
इस अवसर पर विधायक ओम कुमार, विधायक सुचि चौधरी, विधायक अशोक राणा, विधायक सुशांत सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष साकेन्द्र प्रताप सिंह, पूर्व परिवहन मंत्री अशोक कटारिया, क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल, पूर्व विधायक कमलेश सैनी, जिलाध्यक्ष सुभाष वाल्मीकि, जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनय कुमार सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 विजय कुमार गोयल, सीएमएस डा0 अरूण कुमार पाण्डेय, अधिशासी अभियन्ता लो0नि0वि0 चन्द्रशेखर सिंह आदि उपस्थित रहे।

स्वर्गीय रमेश चंद्र यादव की 66 वीं जयंती पर शिविर व मुफ्त दवा वितरण

लखनऊ। आरसी फाउंडेशन व विराट मेड सिटी के सौजन्य से स्वर्गीय रमेश चंद्र यादव की 66 वीं जयंती पर सरोज वाटिका अमानीगंज मलिहाबाद में शिविर व मुफ्त दवा वितरण का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का उद्घाटन आरती फाउंडेशन के संरक्षक रिटायर्ड एडिशनल एसपी शिव कुमार यादव, अध्यक्ष श्रीमती पुष्पा यादव, डॉक्टर महेंद्र यादव, डॉक्टर अरुण यादव, पूर्व विधायक महेंद्र यादव द्वारा किया गया।

मुख्य रूप से शशिकांत यादव, अंकित यादव, मोहित यादव, पूर्व प्रत्याशी मलिहाबाद सोनू कनौजिया, राजबाला रावत व जिला अध्यक्ष जय सिंह जयंती पर अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

सब सुखों की खान है सत्संग: सत्संगी एसएल गर्ग

बिजनौर। सत्संग बड़े भाग्य से मिलता है। यह विचार संत निरंकारी मंडल दिल्ली के कन्वीनर केंद्रीय प्लानिंग एंड एडवाइजरी बोर्ड एसएल गर्ग ने गुरु गद्दी से प्रकट किये।

संत निरंकारी मंडल ब्रांच बिजनौर के तत्वाधान में स्थानीय संत निरंकारी सत्संग भवन पर एक विशेष सत्संग का आयोजन किया गया। 8स अवसर पर संत निरंकारी मंडल दिल्ली के कन्वीनर केंद्रीय प्लानिंग एंड एडवाइजरी बोर्ड एसएल गर्ग ने गुरु गद्दी से विचार प्रकट करते हुए कहा कि सत्संग बड़े भाग्य से मिलता है। सत्संग वह ज्ञान सरोवर है इसमें जो नहीं आएगा वह हीरे और जवाहर के मोती नहीं पाएगा सत्संग सब सुखों की खान है। सत्संग से ही हमें सब सुख प्राप्त होते हैं। सत्संग के लिए देवी देवता भी तरसते हैं क्योंकि बिना सत्संग के बेड़ा पार नहीं है और सत्संग से ही हमें मुक्ति प्राप्त होती है, जो हमारा एकमात्र उद्देश्य है। सत्संग से ही हम भवसागर से पार हो जाते हैं। जो गुरु के दर पर सेवा करता है वह जन बड़े ही भाग्य वाला होता है। जो भी सेवा सत्संग व सुमिरन करता है उनके रास्ते में वह भी रुकावट नहीं आती है। जो सद्गुरु का कार्य करते हैं सदा उनका कार्य करते है। गुरुजी उनकी झोलियां खुशियों से भर देते हैं। आपका सच्चा मित्र कौन है जो आपको सत्संग में अर्थात सच के संग जोड़ता है जो आपको सत्संग में लेकर आता है और आपको सत्संग की प्रेरणा देता है भक्तों का हित करने के लिए सद्गुरु स्वयं आते हैं और सतगुरु किसी के घट से भी अपनी बात प्रकट कर देते हैं तीन लोक नौ खंड में गुरु से बड़ा न कोई कर्ता करे न कर सके मेरा गुरु करे सो होय सतगुरु एक पल के भीतर आकर अपने भक्तों की रक्षा स्वयं करते हैं जो गुरु की बात मानते हैं गुरु उनकी बात मानते हैं।

महात्मा अरुण त्यागी के संचालन में हुए कार्यक्रम में संयोजक महात्मा बाबूराम निरंकारी संचालक, विनोद सिंह एडवोकेट, मीडिया प्रभारी भूपेंद्र कुमार निरंकारी पत्रकार, गीतकार महात्मा खेमराज दिल्ली, महात्मा हरविंदर कुमार हरीश निरंकारी दिल्ली, सुरेंद्र कुमार मुखी नगीना, हुकुम सिंह मुखी कपूर, डीके सागर, रूपल सिंह, राजवीर सिंह, शंकर,  रणबीर, सुरेंद्र पाल, लक्की, अजय कुमार, आशु, बृजेश सागर, अक्सर सागर, दीपक शर्मा, दीपक, वैभव कुमार, सुशीला, बंदना त्यागी, प्रियांशी, खुशी, नेहा, संध्या, ममता, गीता, पारुल, अंजलि, गीतकार श्रवण कुमार, अश्विंदर कौर, आशु, रत्नेश, कुलदीप भारती,आशीष गोलू, मनोज सिंह आदि सहित निरंकारी मिशन के अनेक अनुयाई उपस्थित रहे सत्संग के बाद विशाल लंगर का आयोजन भी किया गया। 

बिजनौर के हीरो लवी चौधरी का भव्य स्वागत

बिजनौर पहुंचने पर लवी चौधरी का हुआ भव्य स्वागत। डीएम ने लवी को बताया बिजनौर का हीरो। युवाओं से किया प्रेरणा लेने का आह्वान।

बिजनौर। जूनियर एशियाई वालीबॉल चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य लवी चौधरी का बिजनौर पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। लवी चौधरी हरियाणा से सोमवार को बिजनौर लौटे।

ईरान के शहर तेहरान में आयोजित हुई जूनियर एशियाई वॉलीबॉल चैंपियनशिप में भारतीय टीम ने कांस्य पदक प्राप्त किया है। भारतीय टीम के सदस्य रहे ग्राम रहमापुर निवासी लवी चौधरी सोमवार को हरियाणा से बिजनौर पहुंचे। गंगा बैराज पर लवी चौधरी का भव्य स्वागत किया गया। वहां से ढ़ोल नगाड़ों की थाप पर भारत माता की जय और वन्दे मातरम के उद्घोष लगाते हुए नेहरु स्टेडियम पहुंचे। स्टेडियम में वालीबाल संघ की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। नेहरु स्टेडियम में डीएम उमेश मिश्रा और एसपी दिनेश सिंह और एएसपी सिटी डा. प्रवीन रंजन सिंह ने लवी चौधरी का जोरदार स्वागत किया। नेहरू स्टेडियम में युवा खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी लवी चौधरी और उनके कोच अजित चौधरी को कंधों पर उठा लिया और मैदान में लेकर पहुंचे। वहां सैकड़ों की संख्या में खिलाड़ी लवी चौधरी का इंतजार कर रहे थे। डीएम उमेश मिश्रा, एसपी दिनेश सिंह, एसडीएम रीतु चौधरी ने लवी चौधरी को फूलों की माला पहनाकर स्वागत किया। डीएम उमेश मिश्रा ने खिलाड़ियों से कहा कि लवी चौधरी से प्रेरणा लेकर जिले का नाम रौशन करें। डीएम ने खिलाड़ियों से लवी चौधरी को बिजनौर का हीरो बताते हुए जिले का नाम रौशन करने का आह्वान किया। डीएम ने कहा कि शिक्षा के साथ खेल जरुरी है। जिले में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। जिले के युवा अगर ठान लें तो हर क्षेत्र में नाम रौशन कर सकते हैं। युवा अपनी प्रतिभा को पहचानें और जिले के साथ देश का नाम रौशन करें। डीएम ने जिला क्रीड़ा अधिकारी जयवीर सिंह से खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने को कहा।

इस अवसर पर जिला क्रीड़ा अधिकारी जयवीर सिंह, बीएसए जयकरन यादव, वॉलीबाल कोच अजित तोमर, योगेन्द्र पाल सिंह योगी, मानव सचेदवा, निपेन्द्र देशवाल, विकास अग्रवाल, विकास सेतिया, पवन कुमार कृष्णा कालेज, चित्रा चौहान, अरविंद देशवाल आदि मौजूद रहे। बाद में गांव पहुंचने पर लोगों ने अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी लवी चौधरी को फूल मालाओं से लाद दिया। उनकी उपलब्धि पर गांव में खुशी का माहौल है और उनके घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। वहीं बताया गया है कि मंगलवार को कोतवाली देहात में लवी चौधरी का भव्य स्वागत किया जाएगा।

व्यापारी पदाधिकारियों का स्वागत

बिजनौर। पश्चिमी उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश संगठन मंत्री (युवा) गौरव गोयल व दीपक मल्होत्रा को जिला मंत्री बिजनौर मनोनीत होने पर एक स्वागत कार्यक्रम का आयोजन किया। इस अवसर पर दोनों व्यापारी बंधुओं को नगर के व्यापारी बंधुओं द्वारा फूल माला पहना कर व मिठाई खिलाकर उनका स्वागत किया।

सदैव करते रहें सेवा सत्संग व सुमिरन: श्री गुरु दयाल जी

नांगल जट में हुआ संत निरंकारी मंडल ब्रांच बिजनौर के तत्वाधान में सत्संग। सत्संग के बाद हुआ विशाल लंगर का आयोजन।

बिजनौर। संत निरंकारी मंडल ब्रांच बिजनौर के तत्वाधान में ग्राम नांगल जट में एक विशाल सत्संग का आयोजन महात्मा धर्मपाल सिंह के निवास स्थान पर किया गया। इस अवसर पर जसपुर से पधारे महात्मा पूर्व क्षेत्रीय संचालक श्री गुरु दयाल जी ने कहा कि हमें सदैव सेवा सत्संग व सुमिरन करते रहना चाहिए, तभी हमारा बेड़ा पार होगा। अगर हमारे जीवन में इन तीनों में से किसी भी एक चीज की कमी है तो हमारी भक्ति अधूरी है। इन तीनों के संगम से ही हमारी भक्ति पूरी होती है।

सब सुखों की खान है सत्संग- महात्मा श्री गुरु दयाल जी ने कहा कि सत्संग में आने से हमें सदैव सुख ही सुख मिलते हैं, क्योंकि सत्संग सब सुखों की खान है। सत्संग के लिए देवी देवता भी तरसते हैं। हमें जो यह मानव जन्म मिला है, यह बहुत ही भाग्य से मिला है क्योंकि इस मानव योनि नहीं हम भवसागर से पार हो सकते हैं और बिना गुरु के मुक्ति नहीं है गुरु ही हमें मुक्ति का रास्ता बताते हैं और भवसागर से हमारा बेड़ा पार कर देते हैं। गुरु की कृपा से ही हमारा यह लोक सुखी होता है। इसीलिए हमें हमेशा सेवा सत्संग सुमिरन करते रहना चाहिए। आज सतगुरु माता जी सुदीक्षा जी महाराज समय की पैगंबर हैं और निरंकारी मिशन की सतगुरु हैं, वही हमारा बेड़ा पार कर रही हैं। उनसे जो हमें ब्रह्म ज्ञान प्राप्त हुआ है वह बहुत ही अच्छा है। ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति होने पर हमारे कई जन्मों के पाप धुल जाते हैं।जो हमें ब्रह्म ज्ञान मिल जाता है तो हम बहुत सुखी हो जाते हैं। सद्गुरु की कृपा से ब्रह्म ज्ञान के द्वारा जब हम रमई राम को पा लेते हैं, तो कुछ भी बाकी नहीं रहता। हमें सदैव प्यार से रहना चाहिए क्योंकि प्यार सजाता है गुलशन को और नफरत वीरान करे।

पूर्व संचालक महात्मा कृपाल सिंह त्यागी के संचालन में हुए सत्संग में संयोजक महात्मा बाबूराम निरंकारी, कुशल पाल मुखी, राजवीर सिंह बगीची, आसाराम, राम अवतार, फकीरचंद, हुकुम सिंह पूर्व ग्राम प्रधान नंगल जट, चंद्रपाल, रमेश, चंद्रपाल सिकंदरी, अक्षय सागर, मीडिया प्रभारी भूपेंद्र कुमार निरंकारी पत्रकार, लोकेश, सुशीला, मंजू, वंदना त्यागी, प्रियांशी, संध्या, खुशी, अंजलि, गीता, सर्वेश, जोगराज, वंश आदि ने अपने अपने विचार व आध्यात्मिक गीत प्रस्तुत किए। सत्संग में अनुयायियों का उत्साह देखते ही बन रहा था। सत्संग के बाद एक विशाल लंगर का आयोजन किया गया। सत्संग कार्यक्रम में सेवा दल के सदस्यों व अन्य महापुरुषों का विशेष योगदान रहा।

दलित, वंचित और शोषितों के मसीहा थे बाबू मंडल जी: चौधरी शैलेंद्र सिंह

अपना दल (एस) ने मनाई बाबू बीपी मंडल जी की जयंती।

बिजनौर। नजीबाबाद में अपना दल (एस) के क्षेत्रीय कार्यालय पर बाबू बीपी मंडल जी की जयंती मनाई गई। इस अवसर चौधरी शैलेंद्र सिंह एडवोकेट पूर्व चेयरमैन की उपस्थिति में एक सभा का आयोजन किया गया। सर्वप्रथम मंडल जी के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किये गए। शैलेंद्र चौधरी एडवोकेट ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मंडल जी ने बिहार के सातवें मुख्यमंत्री के रूप में रहते हुए सामाजिक न्याय के लिए कार्य किया। बाबू जी दलित, वंचित और शोषितों के मसीहा थे। मंडल जी ने समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए जमीनी स्तर पर कार्य कर के समाज में एक चेतना को जागृत करने का काम किया। कार्यक्रम में सूर्य प्रताप सिंह जिलाध्यक्ष आईटी सेल, हिमांशु राजपूत जिला महासचिव, यशपाल एडवोकेट, नरेश चौहान, अमर सिंह कश्यप, नरेश सैनी, राजीव शर्मा, सुंदर सिंह, गोपाल पहलवान, भानु प्रताप आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

नजीबाबाद में अपना दल (एस) के क्षेत्रीय कार्यालय पर बाबू बीपी मंडल जी की जयंती मनाते कार्यकर्ता

जनता को सुरक्षा का अहसास कराने खुद सड़क पर उतरे एसपी दिनेश

सड़कों पर पैदल मार्च कर एसपी ने जनता को दिलाया सुरक्षा का अहसासव्यापारियों, ठेले, रेहड़ी वालों और मुअज्जिज लोगों से किया संवाद स्थापित। एसपी के हाथ से टॉफी पाकर खिल उठे बच्चों के चेहरे।

बिजनौर। आगामी त्योहारों को सकुशल सम्पन्न कराने एवं जनपद की कानून व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने अभियान चला रखा है।

उन्होंने सभी थाना प्रभारियों को इस संबंध में सख्त दिशा निर्देश दे रखे हैं।एसपी खुद भी जनसामान्य से मिल कर पुलिस का इकबाल बुलंद करने में जुटे हुए हैं। यही वजह है कि उनके मिलनसार व्यवहार से आमजन भी उनका मुरीद बना  हुआ है।

इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व क्षेत्राधिकारी चांदपुर सुनीता दहिया ने चांदपुर क्षेत्र में पुलिस फोर्स के साथ पैदल गश्त की।

इस दौरान व्यापारियों, फल व्यापारी, रेहड़ी वालों व संभ्रांत लोगों से संवाद स्थापित किया। यही नहीं रास्ते में मिले बच्चों को टॉफी चॉकलेट भी दी। बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे भी उनके व्यवहार से अभिभूत हो गए। एसपी की इस कार्यप्रणाली से आमजन में सुरक्षा का एहसास बरकरार बना हुआ है।

पोषण पाठशाला में अभिभावकों को किया गया जागरूक

पोषण पाठशाला में अभिभावकों को किया गया जागरूक। वीडियो कान्फ्रेसिंग एवं वेब लिंक के माध्यम से किया गया ’’पोषण पाठशाला’’ का आयोजन।

बिजनौर। पोषण अभियान के अन्तर्गत सचिव, बाल विकास एवं पुष्टाहार की अध्यक्षता में वीडियो कान्फ्रेसिंग एवं वेब लिंक के माध्यम से ’’पोषण पाठशाला’’ का आयोजन किया गया।
जिला कार्यक्रम अधिकारी नागेन्द्र मिश्र के अनुसार पोषण अभियान के अन्तर्गत जन-सामान्य को पोषण के विषय में  जागरूक करने के लिये शासन एवं निदेशालय द्वारा प्रत्येक माह पोषण पाठशाला का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में गुरुवार को पोषण का आयोजन किया गया, जिसमें विभागीय उच्चाधिकारियो के साथ-साथ विषय विशेषज्ञों द्वारा भी प्रतिभाग किया गया। पोषण पाठशाला का थीम ’’सही समय पर ऊपरी आहार की शुरूआत’’ थी। सही कार्यक्रम में उपस्थित विषय विशेषज्ञों द्वारा बच्चों के 06 माह का हो जाने पर सही समय पर ऊपरी आहार की शुरूआत किये जाने के सम्बन्ध में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गयी। इस कार्यक्रम में जनपद की समस्त आंगनबाडी कार्यकत्रियों के द्वारा भी वेब लिंक के माध्यम से प्रतिभाग किया गया तथा आंगनबाडी केन्द्रों पर लाभार्थी भी उपस्थित रहे। आंगनबाडी कार्यकत्रियों के द्वारा शासन से प्राप्त स्मार्ट फोन के माध्यम से आंगनबाडी केन्द्र पर उपस्थित लाभार्थियों एवं जन-सामान्य को कार्यक्रम का सजीव प्रसारण दिखाया गया ताकि लाभार्थी एवं जनसामान्य विषय विशेषज्ञों के द्वारा ऊपरी आहार की शुरूआत किये जाने सम्बन्धी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकें।

कार्यक्रम में उपस्थित विषय विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गयी कि 06 माह पूर्ण होने के उपरान्त बच्चे को ऊपरी आहार दिये जाने की शुरूआत किया जाना नितान्त आवश्यक है, क्योंकि 06 माह की आयु पूर्ण हो जाने के उपरान्त बच्चे को मां के दूध से पूरा पोषण नहीं मिल पाता है, जिससे बच्चे का मानसिक एवं शारीरिक विकास प्रभावित होता है। विशेषज्ञों के अनुसार बच्चे को 06 माह के उपरान्त विभिन्न पोषण विविधताओं से भरपूर अद्र्व ठोस आहार देना चाहिए। एक ही प्रकार का ऊपरी आहार बार-बार दिया जाना उचित नहीं है, इसलिये आहार में विविधता लानी चाहिए ताकि बच्चे के शरीर को प्रत्येक प्रकार के पोषण तत्व मिलते रहें तथा बच्चा मानसिक एवं शारीरिक रूप से विकसित हो सके।
विषय विशेषज्ञों के अनुसार ऊपरी आहार के साथ-साथ मां का दूध भी 02 वर्ष तक जारी रखना चाहिए, क्योकि मां के दूध में बच्चे के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिये जरूरी लगभग सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं। बच्चे के बीमार होने पर भी मां द्वारा स्तनपान कराना तथा ऊपरी आहार दिया जाना जारी रखना चाहिए, इससे बच्चे को कुपोषण से लड़ने में सहायता मिलती है।

अत्याधुनिक होगा बिजनौर रेलवे स्टेशन: अश्विनी वैष्णव

रेलवे और बीएसएल में विशेष योजनाओं पर हो रहा काम: अश्वनी वैष्णव। दो दिवसीय दौरे पर बिजनौर पहुंचे रेलवे एवं दूर संचार मंत्री अश्वनी वैष्णव। प्रेस वार्ता में बताईं सरकार की आगामी योजनाएं। गांव-गांव तक उपलब्ध होंगी आधुनिक संचार सुविधा।

बिजनौर। भारत सरकार रेलवे विभाग को अत्यधिक सुविधाजनक बनाने के लिए विशेष योजनाएं बनाने की तैयारियां कर रही है। रेलवे एवं दूर संचार मंत्री अश्वनी वैष्णव ने यह बात प्रेस वार्ता में कहीं। रेलवे एवं दूर संचार मंत्री मंगलवार को विशेष ट्रेन से दो दिवसीय दौरे पर बिजनौर पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि मेरठ से हस्तिनापुर व बिजनौर रेलमार्ग का सर्वे कराया जाएगा।

भाजपा कार्यालय पर पत्रकारों से वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि बिजनौर रेलवे स्टेशन को अत्याधुनिक बनाने के निर्देश रेलवे विभाग के अधिकारियों को जारी किये जा चुके हैं। अब ये रेलवे स्टेशन अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित नज़र आने लगेगा। बिजनौर रेलवे स्टेशन छोटा ज़रूर है लेकिन अब इसकी सूरत बड़े शहरों के रेलवे स्टेशनों जैसी होगी। बिजनौर नगीना रेलवे फाटक पर बहुत जल्दी फ्लाई ओवर बनाया जायेगा। जन प्रतिनिधियों के माध्यम से भी ये जानकारी मिली है। इसके निदान के लिए उन्होंने डीआरएम को इस्टीमेट बनाकर उनके सामने प्रस्तुत करने के निर्देश जारी किये हैं। सरकार ने इस वर्ष 62 हज़ार करोड़ रुपए की छूट रेलवे यात्रियों को दी है, जो अब तक कि सबसे बड़ी छूट है।

उन्होंने बताया कि सरकार दूर संचार की सुविधाओं से भी जनता को सीधे तौर पर लाभ पहुँचने के लिए प्रयासरत है, जिसके तहत भारत संचार निगम गांव और देहातों में फुल पावर के टावर लगा कर ग्रामीण जनता को नई दूर संचार की सुविधा मुहैया कराएगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने एक लाख 64 हजार करोड़ रुपए जारी किये हैं। पिछले बार 92 हजार करोड़ रुपए जारी हुए थे। पिछली सरकारों ने बीएसएनएल को बिल्कुल बर्बाद कर दिया। अब डेढ़ से दो साल के भीतर हालात सुधार दी जाएगी। संबंधित अधिकारियों को इस दिशा में तेजी से कार्य करने के निर्देश दिये गए हैं। इस दौरान कई बीजेपी कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।

इससे पहले केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव मंगलवार सुबह करीब सवा 10 बजे विशेष ट्रेन से रेलवे स्टेशन बिजनौर पहुंचे। उनके साथ भाजपा क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल भी मौजूद थे। यहां पर भाजपा नेताओं ने उनका फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया। इसके बाद रेल मंत्री ने भाजपा कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक में कार्यकर्ताओं को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। 

खरीफ उत्पादकता गोष्ठी में लाभान्वित हुए सैकड़ों किसान

सफलतापूर्वक आयोजित हुई खरीफ उत्पादकता गोष्ठी, अनेक किसान हुए लाभान्वित

मेले में कृषि योजनओं, निवेशों, फसल बचाव व कृषि की दी गई नवीनतम जानकारी 

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा की अध्यक्षता में जनपद स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी 2022 एवं नेशनल मिशन ऑन एडिविल ऑयल (ऑयल सीड्स) योजनान्तर्गत खरीफ तिलहन किसान मेले का आयोजन कॉकरान वाटिका, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में किया गया।

कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द्र सहित कृषि व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी व लगभग 800 कृषकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। गोष्ठी का संचालन अपर जिला कृषि अधिकारी हरज्ञान सिंह द्वारा किया गया।
मुख्य विकास अधिकारी द्वारा किसान मेला/गोष्ठी का फीता काटकर शुभारम्भ एवं दीप प्रज्जवलित किया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का निरीक्षण किया। निरिक्षण के समय कृषि विभाग द्वारा लगाये गये स्टाल पर देय अनुदान के सम्बन्ध में उन्होंने जानकारी भी प्राप्त की।

इस अवसर पर उन्होंने निर्देश दिये कि जिन कृषकों द्वारा जैविक विधि से अचार एवं अन्य उत्पाद तैयार किये जा रहे हैं, उन उत्पादों को एफएसएसएआई से प्रमाणित कराया जाये ताकि उत्पाद की गुणवत्ता निर्धारित हो सके। इसके साथ ही महिला समूह द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादों की पैकेजिंग की गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु निर्देशित किया। निरीक्षण के समय उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिये कि महिला समूह/एफपीओ एवं डास्प द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादकों के व्यापक प्रचार प्रसार कराने हेतु जनपद में स्थित शॉपिंग मॉल एवं साप्ताहिक बाजारों में जैविक उत्पादकों को रखवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

मुख्य विकास अधिकारी बिजनौर द्वारा अपने सम्बोधन में जैविक खेती पर जोर देते हुए गोष्ठी में उपस्थित कृषकों से अपेक्षा की गई कि किसान अधिक से अधिक जैविक खेती कर अपनी आय में उत्तरोतर वृद्धि कर सकते हैं। साथ ही फसल अवशेष के सम्बन्ध में उपस्थित कृषकों को सलाह दी गई कि आप अपनी फसल से प्राप्त भूसे को सुरक्षित रखें ताकि गोशालाओं में पर्याप्त मात्रा में भूसे की उपलब्धता हो सके तथा फसल अवशेष को न जलाकर इकट्ठा कर डी-कम्पोज कर जैविक खाद का उत्पादन करें। इनके द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को निःशुल्क उर्द बीज मिनीकिट का वितरण किया गया।

जिला कृषि अधिकारी बिजनौर डा0 अवधेश मि़श्र द्वारा कृषि विभाग में संचालित योजनाओं में देय अनुदान के विषय में विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। जिला कृषि अधिकारी द्वारा कृषकों को कृषि निवेशों की उपलब्धता के विषय में विस्तृत जानकारी दी गई। जिला कृषि रक्षा अधिकारी मनोज रावत ने मुरादाबाद में स्थापित आईपीएम लैब द्वारा तैयार किये जा रहे ट्राइकोडर्मा हारजियेनम एवं ब्यूवेरिया बेसियाना के विषय में बताया गया कि जैविक खेती के उत्पादन बढ़ाने हेतु कृषकों को अनुदान पर उपलब्ध कराये जाते हैं तथा 75 प्रतिशत देय अनुदान की धनराशि का भुगतान सीधे कृषक के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजी जाती है। उनके द्वारा फसलों में लगने वाले कीट-रोग से बचाव एवं उपचार के विषय में कृषकों को जानकारी दी गई।
कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों द्वारा गोष्ठी में उपस्थित कृषकों को कृषि की नवीनतम जानकारी यथा मशरूम की खेती, खरीफ फसलों में लगने वाले कीट एवं रोग से बचाव आदि के विषय में विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी तथा कृषकों को कृषि वैज्ञानिकों द्वारा अपने मोबाइल नं0 नोट कराये गये। कृषकों का आश्वस्त किया गया कि किसी भी जानकारी के लिए आप हमसे सीधे सम्पर्क कर समस्या का समाधान पा सकते हैं। कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषि संवाद के माध्यम से किसान मेले/गोष्ठी में उठाई गयी समस्याओं का निराकरण मौके पर ही किया गया।

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा0 विजेन्द्र पाल सिंह द्वारा पशुओं में फैल रही बीमारी के रोकथाम एवं उपचार के विषय में कृषकों को विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी। उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द द्वारा विभाग में चल रही योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी गयी। पी0एम0 किसान सम्मान निधि योजनार्न्तत कृषकों को अवगत कराया गया कि जिन कृषकों द्वारा ई0-के0वाई0सी0 नहीं कराई गयी, वह तत्काल जनसेवा केन्द्र के माध्यम से ई-के0वाई0सी0 करायें।
अन्त में जिला कृषि अधिकारी डा0 अवधेश मिश्र द्वारा गोष्ठी में आये हुए अधिकारियों एवं कर्मचारियों/कृषकों का धन्यवाद देते हुए किसान मेला/गोष्ठी का समापन किया गया।

इस अवसर पर डा0 अवधेश मिश्र जिला कृषि अधिकारी, मनोज रावत जिला कृषि रक्षा अधिकारी, डा0 कर्मवीर सिंह यादव जिला परियोेजना समन्वयक डास्प, जितेन्द्र कुमार  जिला उद्यान अधिकारी, डा0 विजेन्द्र सिंह मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, हरज्ञान सिंह अपर जिला कृषि अधिकारी, डा0 के0के0 सिंह कृषि वैज्ञानिक, डा0 शिवांगी कृषि वैज्ञानिक, डा0 शकुन्तला गुप्ता प्रभारी अधिकारी कृषि विज्ञान केन्द्र नगीना, डा0 प्रदीप कुमार सिंह सहायक आयुक्त एवं सहायक निबन्धक बिजनौर, जिला गन्ना अधिकारी  मायापति यादव, एस0सी0डी0आई0 नजीबाबाद सहित अन्य अधिकारी व बडी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

वोटर आईडी के साथ आधार कार्ड लिंक कराने की मुहिम

एडीएम व तहसीलदार ने किया बूथों का निरीक्षण। वोटर आईडी के साथ आधार कार्ड लिंक कराने की मुहिम तेज।

बिजनौर। मतदाताओं को अपने वोटर आईडी कार्ड के साथ आधार कार्ड के नंबर को लिंक करने के लिए फार्म -6बी भरकर जमा करना होगा, हालांकि अभी यह पूरी तरह से मतदाताओं के लिए स्वैच्छिक है, वह अपनी इच्छा के अनुसार लिंक करा सकते हैं। वहीं अगर कोई मतदाता आधार व वोटर आईडी को लिंक नहीं कराते हैं तो अभी उनकी कोई भी जानकारी मतदाता सूची से नहीं हटाई जाएगी।

इसी क्रम में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अरविंद सिंह व तहसीलदार अनुराग ने प्राथमिक विद्यालय दयाल वाला के बूथ संख्या 44, 45 व 46 में फॉर्म 6बी का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधीनस्थ स्टाफ को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। दूसरी ओर अपर जिलाधिकारी ने बूथ संख्या 59 पर निरीक्षण कर कागजातों का अवलोकन किया।

जागरूकता अभियान शुरू-
जुलाई महीने में कर्मचारियों को इसके लिए प्रशिक्षण दिया गया था। वहीं 1 अगस्त से 31 दिसंबर तक जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। लोगों से घर-घर जाकर संपर्क किया जा रहा है। इसके साथ ही कैंप लगाकर मतदाताओं को वोटर आईडी से आधार कार्ड लिंक कराने व आधार नंबर देने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

साहित्य की ‘सरस्वती’ के इतिहास में 20 अगस्त

20 अगस्त : तारीख जो तवारीख बन गई

साहित्य की ‘सरस्वती’ के इतिहास में 20 अगस्त का अपना अलग ही महत्व है। साहित्य की इस ‘सरस्वती’ का उद्गम 20 अगस्त 1899 को ही हुआ था। वैसे, उद्गम का अर्थ स्थान से जोड़ा जाता है लेकिन साहित्य की ‘सरस्वती’ के उद्गम का अर्थ यहां तारीख से है। यह वही तारीख है जो आधुनिक हिंदी साहित्य की तवारीख बन गई। इसी दिन इंडियन प्रेस (प्रयागराज) के संस्थापक-स्वामी बाबू चिंतामणि घोष ने काशी नागरी प्रचारिणी सभा को सचित्र मासिक पत्रिका के प्रकाशन संबंधी पत्र भेजकर संपादन का भार संभालने का प्रस्ताव दिया था। इस पत्र में पत्रिका के शीर्षक का कोई उल्लेख नहीं था। मासिक पत्रिका का नाम ‘सरस्वती’ कैसे पड़ा? यह अब तक रहस्य ही है।
1893 में स्थापित नागरी प्रचारिणी सभा हिंदी के प्रचार- प्रसार में सक्रिय में सक्रिय थी। 7 वर्षों में वह हिंदी को स्थापित करने में कई सफलताएं भी अर्जित कर चुकी थी। दस्तावेज देखने से पता चलता है कि इंडियन प्रेस के सचित्र मासिक पत्रिका के प्रकाशन संबंधी प्रस्ताव को नागरी प्रचारिणी सभा ने पहले- पहल बहुत गंभीरता से नहीं लिया। श्री गोविंददास जी के सभापतित्व में 21 अगस्त 1899 को संपन्न हुए सभा के साधारण अधिवेशन के कुल 25 विचारणीय विषयों में इंडियन प्रेस के सचित्र मासिक पत्रिका के प्रकाशन का विषय 23वें नंबर पर था। 24वें नंबर पर चार पुस्तकों के प्रकाशन संबंधी सूचना और अंतिम विषय के रूप में सभापति का धन्यवाद प्रस्ताव। इसी से स्पष्ट है कि मासिक पत्रिका के प्रकाशन का प्रकरण सभा के लिए कितना महत्वपूर्ण था? नागरी प्रचारिणी सभा के साधारण अधिवेशन में इंडियन प्रेस का यह पत्र विचारार्थ प्रस्तुत तो किया गया लेकिन कार्य अधिक होने के कारण उस दिन उस पत्र पर कोई विचार नहीं किया जा सका। सभा की कार्यवाही में लिखा गया-“(23) इंडियन प्रेस का 20 अगस्त का सचित्र मासिक पत्र संबंधी पत्र सभा में उपस्थित किया गया। आज्ञा हुई कि आगामी अधिवेशन में विचारार्थ उपस्थित किया जाए।”
11 सितंबर 1899 को श्री गोविंददास जी की ही अध्यक्षता में ही संपन्न हुए अधिवेशन में इंडियन प्रेस के पत्रिका प्रकाशन संबंधी प्रस्ताव पर निर्णय लिया गया- ‘इंडियन प्रेस के 20 अगस्त के मासिक सचित्र पत्र संबंधी पत्र पर निश्चय हुआ कि सभा उस पत्र के संपादन करने का वा उसके संबंध में और किसी कार्य का भार अपने ऊपर नहीं ले सकती है परंतु इंडियन प्रेस को सम्मति देती है कि वह उस पत्र को अवश्य निकालें क्योंकि उससे भाषा के उपकार की संभावना है और यदि इंडियन प्रेस के स्वामी चाहे तो सभा उन्हें ऐसे कुछ लोगों के नाम बता सकती है जो संपादक का कार्य करने के उपयुक्त हों। वे उनसे सब बातें स्वयं निश्चय कर लें’। सभा ने मासिक पत्र के प्रकाशन पर अपनी सम्मति तो दी लेकिन संपादन संबंधी कार्यभार स्वीकार नहीं किया लेकिन इंडियन प्रेस के संस्थापक बाबू चिंतामणि घोष ने हार नहीं मानी। वह जानते थे कि प्रस्तावित पत्रिका की सफलता के लिए सभा का सहयोग नितांत आवश्यक है। उन्होंने अपना प्रयत्न जारी रखा और 14 अक्टूबर को पुनः एक मासिक पत्र प्रकाशन संबंधी प्रस्ताव नागरी प्रचारिणी सभा के समक्ष प्रस्तुत किया।
इस नए प्रस्ताव पर 13 नवंबर 1899 को पंडित सुदर्शनदास जी के सभापतित्व में संपन्न हुए नागरी प्रचारिणी सभा के साधारण अधिवेशन में प्रस्तावित मासिक पत्र के लिए संपादक समिति बनाने पर निर्णय लिया गया। सभा की साधारण सभा ने क्रमशः बाबू श्यामसुंदर दास, बाबू राधा कृष्ण दास, बाबू जगन्नाथ दास, बाबू कार्तिक प्रसाद खत्री और पंडित किशोरी लाल गोस्वामी के नाम संपादक समिति के लिए प्रस्तावित किए। अपने प्रयासों की शुरुआती सफलता से उत्साहित बाबू चिंतामणि घोष ने डेढ़ माह में ही सचित्र मासिक पत्रिका के प्रकाशन की व्यवस्था सुनिश्चित की। इस तरह 1 जनवरी 1900 को सरस्वती का जन्म हुआ। उद्गम के साथ ही ‘सरस्वती’ के मुख्य पृष्ठ पर संपादक समिति के सदस्यों के नाम इस क्रम से प्रकाशित किए गए-
बाबू कार्तिक प्रसाद खत्री
पंडित किशोरी लाल गोस्वामी
बाबू जगन्नाथदास बीए
बाबू राधा कृष्ण दास
बाबू श्यामसुंदर दास बीए
सरस्वती के मुख्य पृष्ठ पर संपादक समिति के इन सदस्यों के नाम के ठीक ऊपर ‘काशी नागरी प्रचारिणी सभा के अनुमोदन से प्रतिष्ठित’ भी बड़े- बड़े अक्षरों में छापा गया। सरस्वती के 1 वर्ष पूर्ण होने पर 12वें अंक में बाबू चिंतामणि घोष का प्रकाशकीय वक्तव्य (पृष्ठ 399) पर ‘प्रकाशक का निवेदन’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ। प्रकाशक का यह निवेदन बताता है कि उस समय हिंदी की मासिक पत्रिका निकालना कितने जोखिम का काम था। वह लिखते हैं-‘इसे नष्ट करने के लिए उतारू इतने ही लोगों के कटाक्षों की वज्रवर्षा भी होती रही।’
सरस्वती के दूसरे वर्ष के प्रथम अंक से संपादन संबंधी दायित्व संपादक समिति के स्थान पर अकेले बाबू श्यामसुंदरदास जी ने संभाला। दो वर्ष तक अकेले सरस्वती का संपादन करने के बाद बाबू श्यामसुंदर दास ने व्यस्तता के चलते अपने को संपादन कार्य से अलग कर लिया। दिसंबर 1902 के अंतिम अंक के आरंभ में उन्होंने अपना वक्तव्य ‘विविध वार्ता’ शीर्षक से प्रकाशित किया। उन्होंने लिखा- ‘इस मास की संख्या के साथ सरस्वती का तीसरा वर्ष पूरा होता है। पहले वर्ष से लेकर आज तक मेरा संबंध इस पत्रिका से घनिष्ट बना रहा। पहले वर्ष में एक समिति इस पत्रिका का संपादन करती रही और मैं भी उस समिति का सभासद रहा। दूसरे और तीसरे वर्ष में इसके संपादन का भार पूरा-पूरा मेरे ऊपर रहा परंतु चौथे वर्ष के प्रारंभ से यह कार्य हिंदी के प्रसिद्ध लेखक पंडित महावीर प्रसाद द्विवेदी के अधीन रहेगा। इस परिवर्तन का मुख्य कारण यह हुआ कि मैं समय के अभाव से सरस्वती के संपादन में इतना दत्त चित्त न रह सका जितना कि मुझे होना उचित था। इसलिए केवल नाम के लिए संपादक बना रहना मैंने उचित नहीं समझा परंतु मैं अपने पाठकों और पत्रिका के लिए को विश्वास दिलाता हूं कि यद्यपि आगामी संख्या से मैं इसका संपादक न रहूंगा पर इस पत्रिका के साथ मेरी वैसी ही सहानुभूति बनी रहेगी जैसी अब तक रही और मैं सदा इसकी उन्नति से पसंद होऊंगा। अंत में मुझे अपने उन मित्रों से प्रार्थना करनी है जो लेखों के द्वारा 3 वर्ष तक मेरी सहायता करते रहे। आशा है कि वह अगले वर्ष में भी इसी प्रकार सहायता करते रहेंगे। अब भविष्य में सरस्वती में प्रकाशनार्थ सब लेख परिवर्तन के संवाद पत्र तथा समालोचनार्थ पुस्तक आदि निम्नलिखित पते से भेजे जाने चाहिए-
पंडित महावीर प्रसाद द्विवेदी
संपादक सरस्वती,
झांसी।
पत्रिका का प्रबंध तथा मूल्य संबंधी पत्र व्यवहार पूर्ववत प्रयाग के इंडियन प्रेस से ही रहेगा।’
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के संपादकत्व में निकलने वाली सरस्वती से वर्ष 1903 से लेकर 1905 तक अर्थात 3 वर्ष तक सभा का अनुमोदन संबंध यथावत रहा लेकिन कुछ अपरिहार्य कारणों से सभा को सरस्वती पत्रिका पर से अपना अनुमोदन हटाना पड़ा। वर्ष 1905 में प्रकाशित सभा के वार्षिक विवरण पत्र में इस संबंध में दर्ज है-
‘मासिक पत्रों में अब सबसे श्रेष्ठ सरस्वती है। यद्यपि कई कारणों से अब इस पत्रिका के साथ सभा का कोई संबंध नहीं है पर यह सभा इस पत्रिका की उन्नति देखकर प्रसन्न होती है। सरस्वती में सब प्रकार के लोगों की रूचि के अनुसार सरल भाषा में लेखों के रहने से इसका आदर दिनोंदिन बढ़ता जाता है। सभा को दुख है कि सरस्वती के प्रकाशक ने उसमें अपवादपूर्ण लेखों का रोकना उचित न जानकर सभा से अपना संबंध तोड़ना उचित समझा परंतु सभा को विश्वास है कि इस पत्रिका द्वारा हिंदी का हित निरंतर साधन होता रहेगा।’

काशी नागरी प्रचारिणी सभा का 5 वर्षों तक ‘सरस्वती’ के उत्थान में निरंतर सहयोग और साथ आधुनिक हिंदी साहित्य में एक महत्वपूर्ण परिघटना के रूप में देखी जाती है। माना भी जाता है कि अगर ‘सरस्वती’ प्रकट न हुई होती तो हिंदी और हिंदी साहित्य इस रूप में हम सबके सामने तो और न ही होता।

सरस्वती के पूर्व संपादक
बाबू श्यामसुंदर दास
किशोरी लाल गोस्वामी
बाबू कार्तिक प्रसाद खत्री
जगन्नाथदास रत्नाकर
बाबू राधा कृष्ण दास
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी
पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी
पंडित देवी दत्त शुक्ल
पंडित उमेश चंद्र मिश्र
पंडित देवी दयाल चतुर्वेदी मस्त
पंडित देवी प्रसाद शुक्ल
पंडित श्री नारायण चतुर्वेदी ‘भैया साहब’
नितीश कुमार राय

प्रोफेसर देवेंद्र कुमार शुक्ला

पूर्व संयुक्त संपादक
ठाकुर श्री नाथ सिंह
श्रीमती शीला शर्मा

पंडित बलभद्र प्रसाद मिश्र

∆ गौरव अवस्थी
रायबरेली/उन्नाव

गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए आवेदन 31 अगस्त तक

गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए 31 अगस्त तक मांगे आवेदन मानवाधिकारों की रक्षा एवं राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में सर्वाेत्कृष्ट कार्य करने वालों को मिलेगा गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार, 31 अगस्त तक करें आवेदन

बिजनौर। मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने बताया कि जनपद में निवासरत व्यक्तियों में से कोई व्यक्ति, जिसने मानवाधिकारों की रक्षा, सामाजिक न्याय एवं राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में सर्वाेत्कृष्ट कार्य किया हो तथा इस हेतु पूर्णतः समर्पित रहे हों, को सार्वजनिक रूप से सम्मानित करने के उददेश्य से गुरु गोविन्द सिंह जी के जन्म दिवस (05 जनवरी) पर वर्ष 2022-23 के लिए गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार प्रदान किये जाने व रुपए एक लाख का नगद पुरस्कार तथा प्रशस्ति पत्र दिया जायेगा।

सीडीओ ने कहा कि इस हेतु महानुभावों के प्रस्ताव उनके द्वारा किये गये महत्वपूर्ण कार्याे का तथ्यात्मक विवरण एवं अभिलेखीय साक्ष्यों के साथ दिनांक 30 सितम्बर 2022 तक शासन स्तर पर अनिवार्य अर्हताओं के साथ चाहे गये हैं। उन्होंने बताया कि अर्हताओं में आवेदक भारत का मूल नागरिक हो, उत्तर प्रदेश राज्य की सीमा के भीतर पुरस्कार पर विचार किये जाने के वर्ष में सामान्यतया निवास करता रहा हो, मानवाधिकार, सामाजिक न्याय व राष्ट्रीय एकीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान रहा हो, गुरू गोविन्द सिंह राष्ट्रीय एकता पुरस्कार योजना के अधीन पूर्व में इस राज्य सरकार द्वारा पुरस्कार न दिया जा चुका हो। उन्होंने जनपद के समस्त उप जिलाधिकारियों व समस्त पुलिस क्षेत्राधिकारियों को पत्र प्रेषित कर कहा कि आप उक्त पुरस्कार का व्यापक प्रचार प्रसार कराकर प्राप्त प्रस्ताव का उक्त मानकों के अनुरूप परीक्षण कर लें तथा यह भी सुनिश्चित कर लें कि पात्र महानुभाव के विरूद्ध कोई अपराधिक मामला प्रचलित/लम्बित नहीं है और किसी भी अपराधिक मामले में किसी न्यायालय द्वारा उन्हें दण्डित नहीं किया गया है। प्रस्ताव का भली प्रकार परीक्षण कर 4 प्रतियों में जिलाधिकारी कार्यालय में 31 अगस्त 2022 के भीतर उपलब्ध करा दें।

सैनी प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन 28 को

बिजनौर। महात्मा ज्योतिबा फुले वेलफेयर सोसाइटी जनपद बिजनौर के तत्वावधान में आगामी 28 अगस्त दिन रविवार प्रात: 10:00 बजे शहनाई वेंकट हाल बिजनौर में सैनी प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है।

उक्त जानकारी देते हुए सोसायटी के अध्यक्ष प्रधान कल्याण सिंह सैनी ने बताया कि महात्मा ज्योतिबा फुले वेलफेयर सोसाइटी पिछले 22 वर्षों से प्रतिभा सम्मान समारोह आयोजित करती आ रही है। इस वर्ष यह कार्यक्रम 28 अगस्त रविवार को शहनाई बैंकट हाल में होगा। कार्यक्रम में सैनी समाज के प्रतिभाशाली छात्र छात्राएं, जिन्होंने किसी भी फाइनल परीक्षा में 70% अंक प्राप्त किए हो, उन्हें सम्मानित किया जाएगा।

कल्याण सिंह सैनी ने बताया कि समारोह में डॉ कल्पना सैनी सदस्य राज्यसभा, राम अवतार सैनी, विधायक नूरपुर कमलेश सैनी, निवर्तमान विधायक चांदपुर वीके मौर्य, कुलसचिव मां शाकुंभरी यूनिवर्सिटी सहारनपुर डॉ कमल सैनी प्रतियोगिता एक्सपर्ट जयपुर अतिथि होंगे। उन्होंने सैनी समाज से अपील की है कि वे अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभा सम्मान समारोह में शामिल होकर कार्यक्रम सफल बनाएं।

हर्षोल्लास के साथ मनाई गई जन्माष्टमी

बिजनौर। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार जनपद में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। लोगों ने अपने घरों में लड्डू गोपाल को नई पोशाक व नए श्रृंगार के साथ विराजमान किया। काफी श्रद्धालुओं ने गुरुवार 18 अगस्त को जन्माष्टमी का त्योहार मनाया। वहीं बहुत से गृहस्थों ने शुक्रवार को व्रत रखकर जन्माष्टमी मनाई। मंदिरों को दुल्हन की तरह से सजाने के साथ ही रामडोल सजाए गये हैं। इन पर कान्हा को विराजमान किया गया है।

सर्वविदित है कि जन्माष्टमी का पावन पर्व भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। सिविल लाइन स्थित धार्मिक संस्थान विष्णु लोक के ज्योतिषविद पंडित ललित शर्मा ने बताया कि शास्त्रानुसार मथुरा में भगवान श्री कृष्ण का जन्म अर्ध रात्रि व्यापिनी अष्टमी तिथि को हुआ था। 18 अगस्त 2022 को अष्टमी तिथि अर्धरात्रि व्यापिनी होने के चलते गृहस्थ जीवन जीने वाले ( स्मार्त ) लोगों को गुरुवार 18 अगस्त को जन्माष्टमी का त्योहार मनाना श्रेष्ठ माना गया। वृद्धि और ध्रुव योग का निर्माण भी गुरुवार को शुभ रहा।

वहीं 19 को साधु संत (वैष्णव) लोग जन्माष्टमी मनाएंगे। उन्होंने बताया कि धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो भगवान श्री कृष्ण का जन्म रात्रि में 12:00 बजे हुआ था। 18 अगस्त 2022 को रात्रि में 12:00 बजे अष्टमी तिथि रही।

नहटौर पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री कॉलेज में हुआ टैबलेट वितरण

बिजनौर। नहटौर पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री कॉलेज नहटौर जनपद बिजनौर में परा स्नातक छात्र छात्राओं को टैबलेट वितरण किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फ्री टैबलेट मोबाइल योजना के अंतर्गत विधायक ओम कुमार ने टैबलेट वितरण किया।

इस अवसर पर महाविद्यालय के अध्यक्ष इंजीनियर आशीष सिंघल, प्राचार्य डॉक्टर संजीव गौर, डॉक्टर कैलाश सिंह, डॉक्टर सीमा, डॉक्टर दीपशिखा, अश्वनी, जावेद अली, विपिन सैनी, आबिद हुसैन, चमन सैनी, मनोज हिटलर आदि उपस्थित रहे।

ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी ने किया वृक्षारोपण

बिजनौर। ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी ने आजादी के अमृत महोत्स‌व को धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर ग्राम गंगदासपुर में भूरी सिंह देवता मंदिर पर वृक्षारोपण का आयोजन किया।

इस अवसर पर लोगों को देश पर शहीद होने वाले क्रांतिकारियों की विजय गाथा से अवगत कराया गया। साथ ही पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधरोपण की महत्ता भी समझाई। 

कार्यक्रम के दौरान अमरपाल सिंह, सुमित कुमार, मधुबाला, अजेंद्र देशवाल, निपेंद्र‌ सिंह, अमित कुमार, उदित, कुमार, अभय दहिया उपस्थित रहे।

गौरतलब है कि ह्यूमन लाइफ वेलफेयर सोसायटी का कार्यालय चाहशीरी बी-24, निकट गौरी शंकर मंदिर, मदन का चौराहा बिजनौर पर स्थित है। यहां पर प्रत्येक पर्व पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

किसान मजदूर संगठन ने सौंपा एसडीएम को ज्ञापन

बिजनौर। किसान मजदूर संगठन ने विभिन्न समस्याओं को लेकर तहसील सदर में एसडीएम मोहित कुमार को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन में कहा कि 1947 से लेकर आज तक हम किसानों ने दिन रात मेहनत कर देश के भंडार भरे एवं खाद्यान की पूर्ति ही नहीं बल्कि खपत से ज्यादा पैदावार की, पर अफसोस है कि इन 75 सालों में किसान की ऐसी दुर्दशा हो गई कि किसान के बच्चे आज खेती नहीं करना चाहते, रोजगार मिल नहीं रहा तो जीविका ना होने के कारण बहुत किसानों के बच्चों का विवाह भी नहीं हो रहा है।

यह भी कहा कि आजादी के बाद जहां हमने हर घर में चाय, मिठाई आदि के माध्यम से मिठास पहुंचाई वहीं हम गन्ना किसान सही दाम एवं समय पर दाम ना मिलने के कारण घाटे की खेती कर रहे हैं और तकरीबन सभी कर्ज में डूबे हुए हैं। ज्ञापन में कहा गया कि जब उत्तर प्रदेश सरकार एवं केंद्र सरकार, राज्य सरकार धारा गन्ना मूल्य तय करने का अधिकार इलाहबाद उच्च न्यायालय में हार गई थी और उच्चतम न्यायालय ने इलाहबाद हाईकोर्ट के आदेश पर स्टे नहीं दिया तब राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के संयोजक  सरदार वीएम सिंह हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट दोनों से जीते उसी का परिणाम है कि आज आपकी सरकार को गन्ना मूल्य तय करने का अधिकार मिला। उन्होंने मुख्यमंत्री से पेराई सत्र 2022 2023 का गन्ना मूल्य कम से कम 450 रुपये प्रति क्विंटल घोषित करने और 2011 से अटका हुआ ब्याज का पैसा चीनी मिलों से दिलवाने की मांग की।

ज्ञापन देने वालों में  विनोद कुमार उर्फ बि‌ट्टू, गौरव कुमार, राजीव कुमार, हरेन्द्र सिंह,वअतुल कुमार, गिरेंद्र सिंह, अमर सिंह, शूरवीर सिंह, सुरेन्द्र कुमार, प्रेम सिंह, वीरेंद्र सिंह, महेन्द्र सिंह, सुखवीर सिंह, गोविन्द, भूपेन्द्र सिंह आदि शामिल रहे।

22 को कॉकरान वाटिका में किसान मेला/गोष्ठी का आयोजन

बिजनौर। कृषक भाइयों के लिये दिनाँक 22 अगस्त, 2022 को प्रातः 10ः00 बजे से जिलाधिकारी की अध्यक्षता में किसान मेला/गोष्ठी का आयोजन कॉकरान वाटिका, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में किया जा रहा है।

उप कृषि निदेशक गिरीश चन्द ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि किसान मेले में खरीफ अभियान 2022 के अन्तर्गत कृषकों को खरीफ फसलों की समसामयिक जानकारी, उत्पादकता वृद्धि के मुख्य बिन्दुओं पर विचार-विमर्श, फसलोत्पादन की रणनीति के साथ ही पारम्परिक कृषि विकास के अनेक आयामों पर चर्चा की जायेगी तथा कृषि वैज्ञानिकों द्वारा कृषकों को कृषि की नवीनतम तकनीकी जानकारी एवं कृषक वैज्ञानिक संवाद के माध्यम से कृषकों द्वारा उठायी गयी समस्यायों का निराकरण मौके पर ही किया जायेगा। उन्होंने बताया कि उक्त किसान मेला/गोष्ठी में कृषि, गन्ना, पशुपालन, उद्यान, डेयरी, विद्युत, मत्स्य, सहकारिता, सिंचाई, नलकूप आदि विभागों द्वारा अपने विभाग में संचालित योजनाओं की जानकारी कृषकों को उपलब्ध करायेंगे। उन्होंने जनपद के किसान भाइयों से अपील की है कि उक्त किसान मेला/गोष्ठी में अधिक से अधिक संख्या में प्रतिभाग कर लाभान्वित हों।

डायल 112 की तिरंगा यात्रा देख लोग हुए रोमांचित

बिजनौर। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देश भर में 11 अगस्त से 17 अगस्त तक आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है।

उसी क्रम में आज एसपी की अगुवाई में डायल 112 की गाड़ियों पर सवार होकर पुलिसकर्मियों ने तिरंगा रैली निकाली। इस दौरान 112 में सवार पुलिसकर्मियों हाथों में तिरंगा झंडा लिए हुए नजर आए। इस यात्रा को देखकर लोग रोमांच से भर उठे।

पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह की अगुवाई में डायल 112 की गाड़ियों के साथ पुलिसकर्मियों ने कोतवाली शहर क्षेत्र में डायल 112 की गाड़ियों के साथ तिरंगा रैली निकाली।

सारथी बने एसपी सिटी, ध्वजा पताका एसपी के हाथ में- एसपी दिनेश सिंह और एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह 112 की गाड़ी पर सवार हुए। कार को एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह ने ड्राइव किया जबकि उनके बराबर में फ्रंट सीट पर जिले के कप्तान हाथ में तिरंगा लेकर लहराते हुए नजर आए। तिरंगा रैली में डायल 112 की जिलेभर की गाड़ियां और बाइक शामिल रहीं।

इसमें 112 के पुलिसकर्मी तिरंगा लहराते हुए चल रहे थे।  साथ में देशभक्ति के गीत बज रहे थे। इस मौके पर एसपी पूर्वी ओमवीर सिंह, एसपी सिटी व नोडल 112 डॉक्टर प्रवीन रंजन सिंह, एसपी ग्रामीण श्री राम अर्ज, डायल 112 के इंस्पेक्टर रजा अहमद सहित पुलिस अधिकारी व कर्मचारी शामिल रहे।

संत निरंकारी सत्संग भवन पर मनाया मुक्ति पर्व

बिजनौर। संत निरंकारी मंडल ब्रांच बिजनौर के तत्वाधान में संत निरंकारी सत्संग भवन पर स्वतंत्रता दिवस मुक्ति पर्व के रूप में मनाया गया। संतों महापुरुषों बहनों व मिशन के बच्चों ने अपने अपने विचार व सुंदर सुंदर आध्यात्मिक गीत प्रस्तुत किए।

गुरु गद्दी से साध संगत को संबोधित करते हुए संयोजक महात्मा बाबूराम निरंकारी ने कहा कि मुक्ति पर्व का आयोजन निरंकारी मिशन के संतों, महापुरुषों के त्याग व तपस्या की याद में मनाया जाता है। सतगुरु बाबा बूटा सिंह जी शहंशाह, बाबा अवतार सिंह जी महाराज, सद्गुरु बाबा गुरबचन सिंह जी, सद्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी महाराज, सद्गुरु माता सविंदर जी, जगत माता गुणवंती जी, संत निरंकारी मिशन के सबसे पहले प्रधान श्री लाभ सिंह जी की याद में मनाया जाता है। इन्होंने निरंकारी मिशन की बहुत ही सेवा की है। निरंकारी मिशन के प्रचार व प्रसार में अहम योगदान दिया। इन्हीं के समय में निरंकारी मिशन ने अमित छाप छोड़ी। मिशन के अन्य संतों महापुरुषों व बहनों ने भी बहुत योगदान दिया।

इससे पूर्व प्रातः 7:00 बजे से सत्संग भवन पर संयोजक महात्मा बाबूराम निरंकारी, संचालक विनोद सिंह एडवोकेट, शिक्षक आदित्य सोनू, डीके सागर, मीडिया प्रभारी पत्रकार भूपेंद्र कुमार निरंकारी ने ध्वजारोहण किया। संचालक विनोद सिंह एडवोकेट, शिक्षक आदित्य सोनू व शिक्षिका कलावती के मार्गदर्शन में सेवादल के सदस्यों ने पीटी परेड की। सेवादल के प्रत्येक सदस्य के हाथ में हमारे प्यारे देश भारतवर्ष की आन बान और शान का प्रतीक तिरंगा था। उनका उत्साह देखते ही बन रहा था। सभी जोश और खरोश के साथ सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज व भारत माता की जय के नारे जोशो खरोश के साथ लगा रहे थे।

महात्मा डीके सागर के संचालन में हुए सत्संग कार्यक्रम में संचालक महात्मा विनोद सिंह एडवोकेट, पूर्व संचालक कृपाल सिंह त्यागी, शिक्षक आदित्य सोनू, महिला सेवा दल संचालिका अरविंदर कौर आशु, शिक्षिका कलावती, सुशीला, वंदना त्यागी, अरुण त्यागी, सुरेंद्र पाल लकी, मीडिया प्रभारी पत्रकार भूपेंद्र निरंकारी, राजवीर सिंह, मनोज सिंह, जोर वीर सिंह, निर्दोष कुमार, अजय कुमार, अक्षय सागर, मयूर सागर, दयाराम, शीशराम सिंह, नरेंद्र कुमार, चंद्रपाल सिकंदरी, चंद्रपाल, मोहित कुमार, आनंद सिंह, ओम प्रकाश गौतम, लंगर सेवा में वैभव कुमार, कल्पना, गीता, पारुल, प्रियांशी, शालिनी, अंजलि, संध्या, आराधना, सिमरन, दीपक जी खेड़की, दिव्या भारती, बृजेश एडवोकेट, सुरेश कुमार, झंडू सिंह, विमला रूहानी आदि सहित निरंकारी मिशन के अनेक अनुयाई उपस्थित रहे। सत्संग के बाद लंगर का आयोजन किया गया।

जलीलपुर में भाकियू ने मनाया स्वतंत्रता दिवस

बिजनौर। भारतीय किसान यूनियन (अराजनीतिक) द्वारा स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाया गया। ब्लॉक जलीलपुर अंतर्गत किसान धर्म कांटा पर स्वतंत्रता दिवस के मौके पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया।

जिला संरक्षक बिजनौर मुखिया रामफल सिंह, पूर्व जिला सचिव याकूब ठेकेदार, तहसील सचिव राजू प्रधान, तहसील उपाध्यक्ष चांदपुर महिपाल सिंह भाटी, तहसील संगठन मंत्री मनोज शर्मा, ब्लॉक जलीलपुर सचिव इमरान भाई, ग्राम अध्यक्ष जलालपुर तेजपाल सिंह, इकबाल प्रधान नवादा, ग्राम अध्यक्ष जहीरूद्दीन, आस मोहम्मद सैफी, पूर्व तहसील संरक्षक उस्मान अली, मीडिया प्रभारी मो, हनीफ तहसील चांदपुर आदि उपस्थित रहे।

पुलिस कर्मियों को पुलिस महानिदेशक प्रशंसा चिन्ह गोल्ड व सिल्वर मैडल

लखनऊ। आजादी का अमृत महोत्सव स्वतंत्रता दिवस के पावन पर्व पर पुलिस आयुक्त लखनऊ एसबी शिरडकर द्वारा रिजर्व पुलिस लाइन्स में ध्वजारोहण किया गया।

ध्वजारोहण कार्यक्रम में पुलिस आयुक्त लखनऊ ने उपस्थित सभी पुलिसकर्मियों को भारतवर्ष के गौरवशाली इतिहास से अवगत कराते हुए शपथ दिलाई। सभी पुलिसकर्मियों को अपने-अपने कार्यों का पूरे मनोयोग व ईमानदारी से निर्वहन करते हुए देश की एकता व अखण्डता को बनाये रखने तथा देश के प्रगति में अपना योगदान देने की शपथ दिलाई गई। ध्वजारोहण के बाद पुलिस आयुक्त द्वारा पुलिस कर्मियों को मिष्ठान वितरण किया गया। इसी के साथ  पुलिस विभाग में रहते हुए अपनी मेहनत व लगन से कर्तव्यों का पालन करते हुए, उत्कृष्ट व सराहनीय कार्य करने वाले पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों को पुलिस महानिदेशक प्रशंसा चिन्ह, गोल्ड व सिल्वर मैडल प्रदान कर सम्मानित किया गया। 

कुंवर सर्वेश व सुशांत सिंह ने किया ऐतिहासिक तिरंगा यात्रा का शुभारंभ

बिजनौर। आजादी के अमृत महोत्सव पर पूर्व सांसद कुंवर सर्वेश एवं विधायक कुंवर सुशांत सिंह ने बढ़ापुर विधान सभा क्षेत्र में ऐतिहासिक तिरंगा यात्रा का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर क्षेत्र के सभी वरिष्ठ कार्यकर्ताओं, अरविंद गहलौत जिला उपाध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी, जिला उपाध्यक्ष युवा मोर्चा जयवीर पंचवाल, मंडल अध्यक्ष बढ़ापुर विजय सिंह चौहान, मंडल अध्यक्ष देशराज, मंडल अध्यक्ष अफजलगढ़ मुकेश शर्मा ने विधायक कुंवर सुशांत सिंह, पूर्व सांसद सर्वेश सिंह का फूल माला पहनाकर स्वागत किया।

विधायक कुंवर सुशांत सिंह व पूर्व सांसद द्वारा तिरंगा दिखाकर यात्रा का शुभारंभ किया गया। आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए शहजादपुर से विधायक आवास आलमपुर तक यात्रा निकाली गई। तिरंगा यात्रा में हजारों की तादात में भीड़ रही। बताया जा रहा है कि लगभग 2000 मोटरसाइकिल व 300 टैक्टर द्वारा तिरंगा यात्रा निकाली गई।

ऐतिहासिक रैली निकालने के लिए कुंवर सुशांत सिंह व कुंवर सर्वेश सिंह ने सभी क्षेत्रवासियों का धन्यवाद किया। साथ ही केंद्र सरकार द्वारा चल रहे आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम को लेकर सभी क्षेत्र वासियों से अपील की कि प्रत्येक घर पर तिरंगा लहराना चाहिए। आज हम आजादी का अमृत महोत्सव बना रहे हैं। उन्होंने सभी क्षेत्रवासियों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई दी।

जनता संघर्ष मोर्चा की तिरंगा यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

लखनऊ। आजादी के अमृत महोत्सव का जश्न पूरा देश मना रहा है, हर घर तिरंगा अभियान के तहत लोग बड़े गर्व के साथ अपने अपने घरों पर तिरंगा लगा रहे हैं और तिरंगा यात्रा भी निकाल रहे हैं।

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जनता संघर्ष मोर्चा के बैनर तले बड़े पैमाने पर लखनऊ उत्तर विधानसभा के लोगों ने तिरंगा यात्रा निकाली। इस मौके पर जनसैलाब उमड़ पड़ा।

यह तिरंगा यात्रा जनता संघर्ष मोर्चा के कैंप कार्यालय से शुरू होकर यश नगर जगलाल पेट्रोल पंप, दाउदनगर, अन्नपूर्णा नगर, केशव नगर, फैजुल्लागंज होते हुए पुरनिया चौराहे पर समाप्त हुई।

इस तिरंगा यात्रा में बड़े पैमाने पर लोगों ने शिरकत करके आजादी के रंग में खुद को रंगा हुआ महसूस किया एवं भारत माता की जयकारों के नारे भी लगाए।

तिरंगा यात्रा के दौरान जनता संघर्ष मोर्चा के संस्थापक सुभाष चंद यादव भी मौजूद रहे।

1941 में जन्मे शर्मा जी का शॉल ओढ़ाकर सम्मान

कृषकों को भेंट किया तिरंगा झंडा व कागजी नींबू की पौध 1941 में जन्मे शर्मा जी का शॉल ओढ़ाकर सम्मान तिरंगा रैली में किसान भाइयों ने लिया बढ़-चढ़कर हिस्सा कृषि भवन के सभागार में हुआ कार्यक्रम

बिजनौर। कृषि भवन बिजनौर के सभागार में आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में जनपद के प्रगतिशील व अग्रणी किसान, कृषक उत्पादक संगठन के सदस्यों व नमामि गंगे परियोजना के लाभार्थी कृषकों को मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा द्वारा उप कृषि निदेशक गिरीश चंद्र, जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र, जिला कृषि रक्षा अधिकारी/उप संभागीय कृषि प्रसार अधिकारी मनोज रावत, जिला उद्यान अधिकारी जीतेंद्र कुमार एवं कृषि विभाग के कार्मिकों की उपस्थिति में तिरंगा झंडा एवं कागजी नींबू की पौध भेंट किया गया।

इस अवसर पर 15 अगस्त 1947 से पूर्व जन्मे श्री रमेश चंद शर्मा पुत्र श्री टोडीराम शर्मा, निवासी ग्राम तिमरपुर विकासखंड मोहम्मदपुर देवमल को मुख्य विकास अधिकारी द्वारा शाल ओढ़ाकर सम्मानित भी किया गया। शर्मा जी का जन्म 15 जुलाई सन् 1941 में हुआ था। इस अवसर पर

मुख्य विकास अधिकारी द्वारा अपने संबोधन में समस्त किसान भाइयों से आह्वान किया गया कि दिनांक 15 अगस्त 2022 को हम सभी लोग हर्षोल्लास के साथ झंडारोहण कर स्वतंत्रता दिवस मनाएंगे और इस विशेष दिवस पर हम सभी लोग वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत अधिक से अधिक संख्या में अपने घरों, खेतों एवं सार्वजनिक स्थानों पर पौधरोपण का कार्य करें और उसको धरोहर के रूप में संरक्षित भी करें।

उप कृषि निदेशक गिरीश चंद ने स्वतंत्रता के 75 वर्ष के उपलक्ष्य में आजादी के अमृत महोत्सव के संबंध में विस्तार से जानकारी देते हुए इसके इतिहास व महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इस शुभ अवसर पर हम सभी लोगों को अपने अपने दायित्वों का पूरी निष्ठा व कर्मठता के साथ निर्वहन करना है और जनपद को कृषि के क्षेत्र में अग्रणी बनाना है।

जिला कृषि अधिकारी डॉ अवधेश मिश्र ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए उपस्थित सभी कृषकों एवं कृषि विभाग के कर्मचारियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दीं।

इसके पश्चात उप कृषि निदेशक के नेतृत्व में सभी अधिकारियों, कर्मचारियों एवं कृषकों के साथ तिरंगा रैली निकाली गई, जिसमें सभी किसान भाइयों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में जनपद के प्रगतिशील कृषक ब्रह्मपाल सिंह, शूरवीर सिंह, मुकेश कुमार, सतीश कुमार, सुरेश कुमार, शिव कुमार, पुनीत कोहली आदि 75 कृषकों द्वारा प्रतिभाग किया गया। अंत में सूक्ष्म जलपान के साथ तिरंगा रैली का समापन किया गया।

जादूगर एनए पाशा ने श्रोताओं को जादू की प्रस्तुतियों से किया मंत्रमुग्ध


देश की आजादी के 75 वर्ष के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम के दूसरे दिन शुक्रवार देर रात तक संचालित कार्यक्रम में एन ए पाशा जादूगर ने श्रोताओं को जादू की प्रस्तुतियों से किया मंत्रमुग्ध, कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले कलाकारों को शाल ओढ़ाकर किया गया सम्मानित

बिजनौर। प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश शासन संस्कृति अनुभाग के तत्वावधान देश की आजादी के 75 वर्ष के अवसर पर 11 से से 15 अगस्त 2022 तक निरंतर रूप से आयोजित होने वाले कार्यक्रम के दूसरे दिन शुक्रवार देर रात तक संचालित कार्यक्रम का मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा द्वारा शाम 07:00 बजे कृणा बेंकट हाल में दीप प्रज्वलित कर विधिवत रूप से शुभारंभ किया गया।

एन ए पाशा जादूगर द्वारा प्रस्तुत किए गए भव्य प्रस्तुतीकरण की श्रोताओं द्वारा मुक्तकंठ से प्रशंसा की गई। इस अवसर पर उनके द्वारा जादू की कलाओं एवं प्रस्तुतियों से देश भक्ति पर आधारित कार्यक्रम तथा प्रदेश सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं एवं नीतियों का प्रभावी रूप से प्रस्तुतीकरण किया गया।

मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा ने कृष्णा बैंकट हॉल, नजीबाबाद रोड, बिजनौर में 11 से 15 अगस्त तक नियमित रूप से शाम को 7:00 से आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि 14 अगस्त को बुंदेली लोक नृत्य का प्रस्तुतीकरण सुश्री राधा प्रजापति, झांसी द्वारा तथा 15 अगस्त को नृत्य नाटिका का मंचन होगा, जिसका प्रस्तुतीकरण अंजना पांडे, लखनऊ द्वारा किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि उक्त कार्यक्रमों में चयनित स्थानीय कलाकारों द्वारा भी अपनी प्रस्तुति प्रस्तुत की जाएगी।
कार्यक्रम का संचालन संस्कृति विभाग उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधि डॉ. राजेंद्र चौधरी, सचिव नाट्यदीप फाउंडेशन, धामपुर द्वारा प्रभावी रूप से किया गया।
कार्यक्रम के अंत में मुख्य विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक डीआरडीए, जिला पंचायत राज अधिकारी तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले एन ए पाशा जादूगर सहित अन्य कलाकारों को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान मुख्य विकास अधिकारी पूर्ण बोरा,परियोजना निदेशक डीआरडीए ज्ञानेश्वर तिवारी, जिला पंचायत राज अधिकारी/नोडल अधिकारी सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं हर घर तिरंगा सतीश कुमार, बेसिक शिक्षा अधिकारी जयकरण यादव, हिमांशु धीमान सहित अन्य अधिकारी, शहर के संभ्रांत नागरिक एवं भारी संख्या में श्रोतागण मौजूद थे।

अनोखे अभियान ने ग्रामवासियों के दिल पर छोड़ी छाप

आजादी का अमृत महोत्सव: अनोखे अभियान ने ग्रामवासियों के दिल पर छोड़ी छाप

बिजनौर। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर देशभर में दिनांक 11 अगस्त से 17 अगस्त 2022 तक “आजादी का अमृत महोत्सव” मनाया जा रहा है।

इस हेतु निर्गत कार्ययोजना के क्रम में शनिवार को पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह व विवेक कॉलेज के शिक्षकों द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम की श्रृंखला में ग्राम सड़ियापुर में अनोखा अभियान चलाकर ग्रामवासियों के दिल पर अपनी छाप छोड़ दी।

हर घर तिरंगा के साथ ही प्रत्येक घर के बाहर स्वच्छता की शपथ को भी छापा गया। पूरे गांव की सफ़ाई के साथ ही प्रत्येक परिवार की मुफ़्त स्वास्थ्य जांच की गई।

विवेक कॉलेज के अध्यक्ष अमित गोयल ने पुष्पगुच्छ देकर पुलिस अधीक्षक का स्वागत किया तथा उनके आगमन हेतु धन्यवाद ज्ञापित किया।

कार्यक्रम का संचालन आयुर्वेदिक कॉलेज के प्राचार्य वैद्य संदीप अग्रवाल द्वारा किया गया।

स्योहारा में तिरंगा लेकर निकले एमएम पब्लिक स्कूल के बच्चे

एमएम पब्लिक स्कूल के बच्चों ने निकाली तिरंगा यात्रा बच्चों ने हर घर तिरंगा फहराने का किया आह्वान, नगर पालिका चेयरमैन भी हुए शामिल

बिजनौर। हर घर तिरंगा अभियान के तहत शनिवार को स्योहारा नगर में तिरंगा यात्रा निकाली गई। यह तिरंगा यात्रा एमएम पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल की तरफ से निकाली गई। इसमें स्कूल के सभी विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया।
इस तिरंगा यात्रा को नगरपालिका के चेयरमैन अख्तर जलील व अधिशासी अधिकारी एपी पांडे ने झंडी दिखाकर रवाना किया और खुद भी यात्रा में शामिल हुए। स्कूल के प्रबंधक आलोक अग्रवाल ने चेयरमैन का स्वागत किया। रैली शहर के विभिन्न चौराहों से होकर गुजरी। इस दौरान नगर के लोगों ने तिरंगा यात्रा का स्वागत किया। बच्चे देश भक्ति के रंग में रंगे नजर आए। चेयरमैन अख्तर जलील ने रैली में पैदल चलकर बच्चों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने विद्यार्थियों का आह्वान किया कि वह अपने अभिभावकों एवं रिश्तेदारों को भी घरों पर तिरंगा फहराने के लिए प्रेरित करें।

एमएम पब्लिक स्कूल के प्रबंधक आलोक अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों में देश भक्ति की भावना पैदा करने के लिए देश की आजादी के 75वें अमृत महोत्सव पर हर घर तिरंगा अभियान शुरू किया है, जो कि सराहनीय है। इस दौरान नगरपालिका का कार्यालय स्टाफ व स्कूल के टीचर मौजूद रहे ।

एसपी पूर्वी ओमवीर सिंह के नेतृत्व में निकाली तिरंगा यात्रा

बिजनौर। आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर पुलिस की ओर से स्योहारा शहर में तिरंगा यात्रा निकाली गई। तिरंगा यात्रा थाने से प्रारंभ होकर शहर के विभिन्न मार्गों से होते हुए वापस वहीं पर समाप्त हुई।

शनिवार को स्योहारा थाने में पूर्वी एसपी ओमवीर सिंह के नेतृत्व में पुलिसकर्मी एकत्र हुए। यहां से तिरंगा यात्रा निकाली गई। तिरंगा यात्रा थाने से प्रारंभ होकर फव्वारा चौक, मेन रोड, हाजी इलियास चौराहा, रेलवे स्टेशन से होते हुए वापस थाने पर जाकर समाप्त हुई। तिरंगा यात्रा में पूर्वी एसपी ओमवीर सिंह, सीओ इंदु सिद्धार्थ, प्रभारी निरीक्षक राजीव चौधरी, कस्बा इंचार्ज मान चंद, उप निरीक्षक गंगवार सिंह, उप निरीक्षक सुभाष बालियान, उप निरीक्षक यशवीर मलिक, उप निरीक्षक प्रशांत कुमार, उप निरीक्षक केपी सिंह व समस्त पुलिस स्टाफ मौजूद रहा।

कुँवर सत्यवीरा इंजीनियरिंग कॉलेज में छात्र छात्राओं को टेबलेट वितरित

बिजनौर। कुँवर सत्यवीरा कॉलेज ऑफ इंजीन्यरिंग एंड मैनेजमेंट बिजनौर में शनिवार को उप्र सरकार द्वारा टेबलेट वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में बीटेक एवं एमबीए के अंतिम वर्ष के सभी छात्र/ छात्राओं को टेबलेट वितरित किए गए।

सर्वप्रथम मुख्य अतिथि भाजपा ज़िला अध्यक्ष, ओमवीर राणा ज़िला उपाध्यक्ष किसान मोर्चा, अजय राणा ज़िला संयोजक सोशल मीडिया, विपुल शर्मा ज़िला संयोजक आइटी सेल व संस्था निदेशक प्रो. (डा.) स्वतन्त्र पोरवाल ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित करके टेबलेट वितरण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्य मुख्य अतिथि ने सभी छात्र/छात्राओं को संबोधित करते हुए अपने विचार रखे। उन्होंने प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को गिनाया, तथा छात्र/ छात्राओ को सभी योजनाओं का लाभ लेकर टारगेट बनाकर पढ़ाई करने तथा अपना भविष्य संवानरने का संदेश दिया।

संस्था सचिव कु॰ उदयन वीरा पूर्व (ज़िला पंचायत अध्यक्ष बिजनौर) एवं कु॰ रुचिवीरा (पूर्व विधायक/ पूर्व ज़िला पंचायत अध्यक्ष बिजनौर) ने सभी छात्र/ छात्राओं को उज्जवल भविष्य की शुभ कामनाए देते हुए कहा कि आज के समय मे टेबलेट या आइटी के अन्य साधन बहुत ही आवश्यक है। अत: इन सभी का उपयोग करते हुए आप सभी को अपनी समुचित पढ़ाई करना चाहिए तथा अपना भविष्य उज्जवल बनाना चाहिए। ग्रुप निदेशक उमेश गुप्ता एवं संस्था निदेशक प्रो॰ (डॉ॰)स्वतन्त्र कुमार पोरवाल ने सभी टेबलेट पाने वाले छात्र/ छात्राओं को उज्जवल भविष्य की शुभ कामनाए दीं। नोडल अधिकारी डा॰ लोकेश कुमार अग्रवाल ने क्रमानुसार छात्र/ छात्राओं को बुलाकर टेबलेट वितरित कराए। कार्यक्रम को सफल बनाने मे सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, रजिस्ट्रार राजीव कुमार, एनपीएस भण्डारी, निगम चौधरी, देवेंद्र पुंडीर, मोनु कुमार आदि का सहयोग रहा। कार्यक्रम का संचालन सुनील भारद्वाज ने किया।

शहीद स्मारक पर धर्म गुरुओं की मौजूदगी में वीर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

जश्न ए आज़ादी ट्रस्ट और पत्रकार एसोसिएशन ने किया स्वतंत्रता सेनानी के परिजन, समाजसेवी, शायर, वकील और पत्रकारों को सम्मानितशहीद स्मारक पर धर्म गुरुओं की मौजूदगी में वीर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

लखनऊ। स्वतंत्रता दिवस से पूर्व जश्न -ए -आजादी ट्रस्ट एवं उ. प्र. ज़िला मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसिएशन ने शहीद स्मारक पर वीर शहीदों की याद में 75 कैंडिल जलाकर तथा पुष्प अर्पित करके उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस मौके पर मौलाना ख़ालिद रशीद फरंगी महली, उदय खत्री, मेजर आशीष चतुर्वेदी, मंत्री दानिश आजाद अंसारी, मेयर संयुक्ता भाटिया, सूचना आयुक्त नरेंद्र श्रीवास्तव, मुरलीधर आहूजा, निगहत खान, अब्दुल वहीद, जुबैर अहमद, वामिक खान ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के परिजनों सहित समाज मे सराहनीय कार्य करने वाले समाज सेवियों, शायर, कवि, वकील और पत्रकारों को सम्मानित किया।कार्यक्रम का संचालन अब्दुल वहीद ने किया।

इस अवसर पर आमिर मुख्तार ने देश भक्ति पर कई तराने गाए। वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के उपरांत सम्मान कार्यक्रम हुआ। उस दौरान उदय खत्री, मेजर आशीष चतुर्वेदी, डॉक्टर नीमा पंत, डॉक्टर रूबी राज सिन्हा, विशाल सिंह फूडमैन, मुर्तुजा अली, शहजादे कलीम, संजय गुप्ता, स्नेहलता सिंह, इमरान खान, रजिया नवाज़, आबिद अली कुरैशी आदि को सम्मानित किया गया।

इस आयोजन में जश -ए -आजादी ट्रस्ट के अध्यक्ष मुरलीधर आहूजा, निगहत खान, मौलाना मुश्ताक, मौलाना सूफियान, वामिक खान, अब्दुल वहीद, अजीज सिद्दीकी सहित संजय सिंह, सुशील दुबे, शाहिद सिद्दीकी, जुबैर अहमद, अजीम खान, बज़्मी युनुस, क़ुदरत उल्ला खान, नीलोफर नवाज,अभय अग्रवाल, योग गुरु कृष्ण दत्त मिश्रा, नजम अहसन, एमएम मोहसिन,संतराम यादव, आरिफ मुक़ीम, भानु प्रताप, रईस खान,कमर अली, आफताब आलम, महेश दीक्षित, प्रिंस आर्य,,नूर आलम खान, शान फरीदी, वसी अहमद सिद्दीकी, आफाक मंसूरी, इस्लाम खान, मुश्ताक बेग आदि मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि ट्रस्ट स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर एक सप्ताह तक देश भक्ति पर तमाम बड़े कार्यक्रम हर वर्ष आयोजित करती है।

शराब विक्रेता वेलफेयर एसोसिएशन ने निकाली हर घर तिरंगा बाइक रैली

शराब विक्रेता वेलफेयर एसोसिएशन ने निकाली हर घर तिरंगा बाइक रैली प्रदेश की सभी शराब दुकानों में तिरंगा फहरा कर मनाएंगे आजादी का महोत्सव।

लखनऊ। स्वतंत्रता दिवस की 75 वीं वर्षगांठ अमृत महोत्सव 2022 के अवसर पर शराब विक्रेता वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ, आबकारी मंत्री नितिन अग्रवाल, प्रमुख सचिव आबकारी व आबकारी आयुक्त सेंथिल सी पांडियन को इस आजादी के अमृत महोत्सव की हार्दिक बधाई दी।

इस अवसर पर एसोसिएशन ने केडी सिंह बाबू स्टेडियम से जीपीओ चौराहे तक बाइक रैली निकाली। इस दौरान लोगों से अपील की गई कि इस बार अमृत महोत्सव में हर घर तिरंगा फहराएं। बाइक रैली को संयुक्त आबकारी आयुक्त  धीरज सिंह, एसोसिएशन के अध्यक्ष सरदार एसपी सिंह ने फ्लैग देकर रवाना किया। एसोसिएशन के सह कोषाध्यक्ष संजय जायसवाल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नीरज जायसवाल ने बताया कि इसी तरह उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में एसोसिएशन के माध्यम से अभियान चलाया जाएगा। 

कोषाध्यक्ष शिव कुमार जायसवाल व मीडिया प्रभारी देवेश जायसवाल ने सभी शराब विक्रेताओं से अपील की है कि आजादी के अमृत महोत्सव में उत्तर प्रदेश की सभी शराब दुकानों में तिरंगा फहरा कर आजादी का महोत्सव मनाएं।  एसोसिएशन के पदाधिकारियों में अध्यक्ष सरदार एसपी सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नीरज जायसवाल, कोषाध्यक्ष शिवकुमार जायसवाल, सह कोषाध्यक्ष संजय जायसवाल, प्रचार मंत्री विजय जायसवाल, रमेश जायसवाल, राम शंकर मिश्रा, सुधीर जायसवाल, धर्मेंद्र सिंह व मीडिया प्रभारी देवेश जायसवाल के साथ तमाम शराब कारोबारी हर घर तिरंगा बाइक रैली का हिस्सा बने।

डीआईजी की अगुवाई में आलाधिकारियों ने लगाई पुलिस लाइन में झाड़ू

गंज पुलिस चौकी इंचार्ज अनिल कुमार

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत पुलिस के आलाधिकारियों ने लगाई झाड़ू। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर चमकेगा हर थाना

बिजनौर। स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर पुलिस लाइन परिसर में गुरुवार सुबह विशेष सफाई अभियान चलाया गया। मुरादाबाद से बिजनौर पहुंचे डीआईजी शलभ माथुर ने अधिकारियों के साथ स्वयं झाड़ू लगाकर श्रमदान किया। वहीं जनपद के प्रत्येक थाना, कोतवाली को सुंदर तरीके से सजाने के निर्देश दिए गए हैं।

स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर पुलिस लाइन परिसर में स्वच्छता अभियान चलाया गया। डीआईजी शलभ माथुर ने गुरुवार सुबह विभागीय अधिकारियों के साथ रिजर्व पुलिस लाइन परिसर में श्रमदान किया। डीआईजी ने खुद झाड़ू लगाकर सफाई अभियान की शुरुआत की। सफाई अभियान बिजनौर पुलिस लाइन के सभी शाखा कार्यालयों और रिहायशी इलाकों में चलाया गया। इसके साथ ही सभी पुलिसकर्मियों व कर्मचारियों ने पुलिस कार्यालय में भी श्रमदान किया। साथ ही सभी से साफ-सफाई रखने की अपील की गई।

डीआईजी के शलभ माथुर के साथ में पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह, एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीण रंजन सिंह, एसपी ग्रामीण राम अर्ज, सीओ ट्रेनर सर्वम सिंह सहित बड़ी संख्या में अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। डीआईजी शलभ माथुर ने सभी पुलिसकर्मियों को स्वच्छता के जरिए अपने आसपास साफ-सफाई रखने के लिए प्रेरित किया। वहीं स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर जनपद के प्रत्येक थाना, कोतवाली को सुंदर तरीके से सजाया संवारा गया है।

वृक्ष हमारे लिए ईश्वरीय वरदान: डॉ मीना बख्शी

बिजनौर (भूपेन्द्र निरंकारी)। वृक्ष हमारे लिए ईश्वरीय वरदान हैं, वह हमें छाया, फल व ऑक्सीजन देते हैं। पेड़ों से हमें छाल प्राप्त होती है, जिसे हम औषधि के रूप में प्रयोग करते हैं। पेडों के अत्यधिक कटान से हमें अनेक दुष्परिणाम भी देखने को मिलते हैं, जिस अनुपात में मानव अपने उपयोग के लिए पेड़ काट रहा है, उस अनुपात में वृक्षारोपण नहीं किया जा रहा है, जो कि बहुत ही चिंतनीय है। यह विचार हैं वर्धमान कॉलेज की पूर्व प्राचार्या एवं समाजसेवी डॉ. मीना बख्शी के।

एक विशेष भेंटवार्ता में उन्होंने कहा कि हमें अधिक से अधिक मात्रा में वृक्षारोपण करना चाहिए और उनके संरक्षण पर भी ध्यान देना चाहिए। हमें अपने घर या किसी खाली स्थान पर वृक्षारोपण करने चाहिए और समय-समय पर उनका ध्यान रखना चाहिए। मीना बख्शी ने बताया कि भविष्य में वह हमें बहुत कुछ देंगे। आप देख सकते हैं कि अबकी बार वर्षा बहुत ही कम हो रही है। इसी तरह अगर पेड़ों का तेरी कटान होता रहा तो ऑक्सीजन का स्तर बहुत ही गिर जाएगा, फिर हमारे लिए सांस लेना भी मुश्किल हो जाएगा। वृक्षों से हमें विशुद्ध ऑक्सीजन तो मिलती है, हमें ऑक्सीजन से जल भी प्राप्त होता है, जिस जगह से पेड़ कट जाते हैं, उस क्षेत्र की जलवायु पर प्रभाव पड़ता है। ऐसा ही पर्वतीय इलाकों में पहाड़ों में व मैदानी क्षेत्र पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ता है। इसीलिए हमें वृक्षों का संरक्षण करना चाहिए। नियमित रूप से उनकी देखभाल करनी चाहिए क्योंकि वृक्षों कटान से वातावरण पर भी बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इससे वातावरण प्रभावित होता है, जो कि ठीक नहीं है। अगर पेड़ सुरक्षित रहेंगे तो हम सुरक्षित रहेंगे। जैसे जल ही जीवन है, वैसे ही पेड़ भी जीवन है। इसलिए हमें अधिक से अधिक मात्रा में वृक्षारोपण करना चाहिए और सभी को इस बारे में जागरूक होना चाहिए। हमे औरों को भी जागरूक करना चाहिए, तभी हमारा मानव जीवन सफल होगा। नि:संदेह केंद्र व प्रदेश सरकार वृक्षारोपण पर विशेष ध्यान दे रही है। वृक्षारोपण पर जोर दिया जा रहा है। सरकार द्वारा समय-समय पर वृक्षारोपण अभियान चलाया जा रहा है इसमें विद्यालयों, स्कूलों उनके अध्यापकों व छात्रों का भी विशेष योगदान है। जैसे सरकार वृक्षारोपण पर विशेष ध्यान दे रही है, उसी प्रकार सरकार को इस तरफ भी विशेष ध्यान देना चाहिए कि जहां पर एक्सप्रेस वे बनते हैं, वहां पर किनारे पर स्थित पेड़ों को तो काट दिया जाता है लेकिन एक्सप्रेस वे के किनारे पर वृक्षारोपण पर ध्यान नहीं दिया जाता है। इसलिए सरकार को जहां पर भी है एक्सप्रेस वे बने, वहां पर जल्द से जल्द सड़क के दोनों किनारों पर अधिक से अधिक संख्या में वृक्षारोपण करना चाहिए। उन्होंने बताया कि जागरूक लोगों का भी इसमें सहयोग लेना चाहिए तभी हम सभी सफल होंगे व सरकारी योजनाएं भी सफल होंगी।

कोविड-19 बूस्टर डोज अभियान का शुभारंभ

भाजपा विधायक ने किया कोविड-19 बूस्टर डोज अभियान का शुभारंभ

बिजनौर। आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत कोविड-19 कि बूस्टर डोज लगवाने का शुभारंभ जिला अस्पताल में हो गया। साथ ही विकास भवन बिजनौर में युवा कल्याण एवं प्रादेशिक विकास दल विभाग द्वारा जनपद स्तरीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ भी हुआ।

संगठन के निर्देश अनुसार विधानसभा क्षेत्र 22 बिजनौर के अंतर्गत कार्यक्रम का उद्घाटन सदर विधायक श्रीमती सूची चौधरी द्वारा किया गया। उसके पश्चात विकास भवन बिजनौर में आयोजित युवा कल्याण एवं प्रादेशिक विकास दल विभाग द्वारा जनपद स्तरीय सांस्कृतिक कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ भी सदर विधायक ने किया।

इस अवसर पर विभागीय अधिकारी डॉक्टर एवं जिला उपाध्यक्ष पूनम गोयल, नगर अध्यक्ष संजीव गुप्ता, मंडल अध्यक्ष ललित कुमार, जिला मीडिया प्रभारी दीपक गर्ग मोनू, किसान मोर्चा जिला मंत्री राहुल चौधरी, नगर मंत्री मनदीप चौधरी, पूर्व मंडल अध्यक्ष मनोज कुमार, अंकुर गौतम, अनूप चौधरी, अभिनय, जितेंद्र राजपूत, श्रवण कुमार, राजीव राजपूत, हिमांशु, राजवीर एडवोकेट आदि अनेक भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे

सपा का सदस्यता अभियान: राज्यसभा सांसद ने की शुरुआत

राज्यसभा सांसद जावेद अली खान ने की सदस्यता अभियान की शुरुआत। कार्यकर्ताओं से गांव-गांव, घर-घर जाने की अपील। लोकतंत्र खतरे में है, समाजवाद को करना होगा मजबूत-जावेद अली खां ।

बिजनौर। समाजवादी पार्टी के सदस्यता अभियान की शुरुआत करते हुए राज्यसभा सांसद जावेद अली खां ने कहा कि सदस्यता अभियान में पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता पदाधिकारी व कार्यकर्ता बढ़ चढ़कर हिस्सा लें। उन्होंने पार्टी नेताओं तथा कार्यकर्ताओं से ज्यादा से ज्यादा सदस्य बनाने के लिए गांव-गांव, घर-घर जाने की अपील की। 

समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर सदस्यता अभियान को लेकर एक बैठक हुई। अध्यक्षता समाजवादी पार्टी के निवर्तमान जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन ने की तथा संचालन निवर्तमान जिला महासचिव चौधरी आदित्यवीर सिंह ने किया। बैठक में मुख्य अतिथि के रुप में राज्यसभा सांसद व सदस्यता अभियान के प्रभारी जावेद अली खान उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में नगीना के विधायक/पूर्व मंत्री मनोज पारस, नजीबाबाद के विधायक तस्लीम अहमद, चांदपुर के विधायक/पूर्व मंत्री स्वामी ओमवेश, नूरपुर के विधायक राम अवतार सिंह उपस्थित रहे।  सदस्यता अभियान के प्रभारी ने कहा कि इस अभियान में बूथस्तर तक हर वर्ग तक जाना है। हर दरवाजे तक पहुंचकर पार्टी की नीति, कार्यक्रम और फैसलों की जानकारी दे। उन्होंने कहा कि यह सदस्यता अभियान, लोकतंत्र को बचाओ अभियान चलता रहेगा। इस अभियान में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होगी। उन्होंने कहा कि आज लोकतंत्र खतरे में है। हमें समाजवाद को मजबूत करना होगा। इस अवसर सदस्यता अभियान के प्रभारी राज्यसभा सांसद जावेद अली खान द्वारा सैकड़ों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को सदस्यता दिलाई गई तथा जनपद में पांच लाख नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया। 

कार्यक्रम में अनिल यादव, रफी सैफी, कपिल कुमार, प्रभा चौधरी, कुण्टेश सैनी, राधा सैनी, सतपाल सिंह, असलम कुरेशी, अब्दुल मन्नान, शमशाद अंसारी, अरशद अंसारी, डॉक्टर शफीक राजपूत, शिव कुमार गोस्वामी, मदन सैनी, काजी इदरीस, नसीम प्रधान, शेख जाहिद, नईम मकरानी, कमलेश भुय्यार, कृपा रानी प्रजापति, विमलेश चौधरी, हाजी फैसल, शमशाद सैफी, आजम खान, ओमप्रकाश सिंह, संसार चौधरी, सखी अल्बी, अमन सिंह, जावेद अख्तर, हनी फैसल, नदीम जफर, शैख अंज़ार, मोहम्मद उस्मान, मास्टर लईक,एहतेशाम राजा, रहुल इस्लाम, नाजिम खान, मोहसिन अंसारी, संजय यादव, वीरेंद्र अग्रवाल, शकील पहलवान,डॉक्टर शहबाज़, काज़ी जमाल नासिर, अदनान राइन, डॉक्टर रहमान, अब्दुल वहाब, महमूद कस्सार, इरफान मलिक, मुस्तकीम अहमद, अखलाक पप्पू,शाकिर खान, अशोक आर्य,शुऐब भूरा, दिनेश चौधरी,व अहमद खिज़र खान आदि उपस्थित थे।

अब माह के प्रथम व तृतीय बुधवार को होगा “ब्लाक दिवस” का आयोजन

थाना व तहसील दिवस की तरह एक नई कवायद। प्रदेश के समस्त विकास खण्डों में माह के प्रथम एवं तृतीय बुधवार को “ब्लाक दिवस” का होगा आयोजन। अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने किया इस बाबत शासनादेश जारी।

लखनऊ। तहसीलों पर आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस व थानों पर आयोजित समाधान दिवस की तर्ज पर अब ब्लाक दिवस भी आयोजित किये जायेंगे। ग्रामीण क्षेत्र की बिजली, पानी, सड़क, आवास, पेंशन, शौचालय आदि समस्याओं का निदान ब्लाक मुख्यालयों पर किया जायेगा। संबंधित अधिकारियों द्वारा प्रत्येक समस्या सुनने के बाद उसकी जांच कराकर निराकरण किया जायेगा।

अपर मुख्य सचिव ग्राम विकास विभाग मनोज कुमार सिंह ने इस बाबत शासनादेश जारी करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की जन – समस्याओं / शिकायतों के प्रभावी निस्तारण हेतु यह आवश्यक है कि ग्राम्य जन अपनी समस्याओं / शिकायतों के संबंध में विकास खण्डों में तैनात खण्ड विकास अधिकारियों से माह में कम से कम 02 दिन निर्धारित दिवस को सीधे संवाद कर सकें।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि जन सामान्य की समस्याओं के त्वरित निस्तारण के दृष्टिगत प्रदेश के प्रत्येक विकास खण्ड मुख्यालयों पर माह के प्रथम एवं तृतीय “बुधवार” को “ब्लाक दिवस” का प्रातः 10 बजे से 2.00 बजे तक आयोजन कराये जाने का निर्णय लिया गया है। “ब्लाक दिवस” में विकास खण्ड में कार्यरत समस्त अधिकारियों / कर्मचारियों यथा खण्ड विकास अधिकारी, संयुक्त खण्ड विकास अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी आदि द्वारा प्रतिभाग किया जायेगा। विकास खण्डों में आयोजित “ब्लाक दिवस” के सफलता पूर्वक आयोजन कराये जाने हेतु संबधित विकास खण्ड के खण्ड विकास अधिकारी प्रभारी / नोडल अधिकारी होंगे।

अनु सचिव उमाकान्त सिंह ने उत्तर प्रदेश के समस्त मण्डलायुक्त, जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, ब्लाक प्रमुख, जिला विकास अधिकारी / परियोजना निदेशक / उपायुक्त ( श्रम रोजागार / स्वतः रोजगार) द्वारा जिलाधिकारी / मुख्य विकास अधिकारी, जिला पंचायतराज अधिकारी, निदेशक, पंचायतीराज, खण्ड विकास अधिकारी द्वारा संबंधित जिलाधिकारी को आदेश की प्रतिलिपि सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित की है। उपर्युक्त निर्देशों का प्रभावी अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए हैं।

सभी कोविड टीकाकरण केंद्रों पर 7 अगस्त को लगेगा मेगा डोज कैंप

सभी कोविड टीकाकरण केंद्रों पर लगेगा मेगा डोज कैंप

18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को लगाई जाएगी प्री-कॉशन डोज

बिजनौर। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 15 जुलाई से 75 दिनों के लिए 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को सतर्कता डोज नि:शुल्क लगाई जा रही है। इसी क्रम में 7 अगस्त को टीकाकरण केंद्रों पर मेगा डोज कैंप लगाया जा रहा है।


जिला प्रतिरक्षण अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि सात अगस्त को शासन की ओर से प्रदेश के सभी जनपदों में प्रिकॉशन डोज मेगा कैंप आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इस निर्देश के अनुपालन में जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं चिन्हित हैल्थ एंड वेलनेस सेंटर प्रिकॉशन डोज मेगा कैंप लगाया जाएगा। इसके लिए इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर के माध्यम से फोन कॉल, निगरानी समिति, फ्रंट लाइन वर्कर, आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्री की ओर से फॉलोअप करते हुए सभी लक्षित लाभार्थियों को मेगा कैंप में आकर प्रिकॉशन डोज लगवाने के लिए प्रेरित किया जाएगा।
जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने कहा कि जनपद में अभी तक 106759 लोगों को प्रिकॉशन डोज लगाई जा चुकी है। सात अगस्त को मेगा डोज कैंप के लिए अधिक संख्या में सत्र लगाए जाएंगे। जो भी लोग प्रिकॉशन डोज लगवाना चाहते हैं वह ऑनलाइन बुकिंग या सीधे आकर भी प्रिकॉशन डोज लगवा सकते हैं। अपने साथ आधार कार्ड लेकर जरूर आएं।

डाक विभाग ने हर-घर तिरंगा अभियान के तहत निकाली जन जागरण यात्रा

हर-घर तिरंगा अभियान के तहत डाक विभाग ने निकाली जन जागरण यात्रा

बिजनौर। भारतीय डाक विभाग द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव पर हर-घर तिरंगा अभियान के अंतर्गत एक जन जागरण यात्रा अधीक्षक डाकघर बिजनौर मुकेश कुमार सिंह के नेतृत्व में निकाली गई।
जन जागरण यात्रा में डाक कर्मचारी सामान्य जनमानस को तिरंगा लगाने के लिए प्रेरित कर रहे थे। डाक कर्मचारियों ने बताया कि राष्ट्रीय ध्वज 25/- मूल्य पर डाकघर में आम जनता के लिए उपलब्ध है। बीच-बीच में आम जनता को राष्ट्रीय ध्वज के सामान्य नियम की भी जानकारी दी गई, जैसे यदि कोई अन्य झंडा लग रहा हो तो राष्ट्रीय ध्वज अन्य किसी झंडे से ऊपर लगाया जाएगा, केसरिया रंग राष्ट्रीय ध्वज में सदा ऊपर ही रहेगा आदि।

जन जागरण यात्रा प्रधान डाकघर बिजनौर से सिविल लाइन होते हुए शक्ति चौक पहुंची, शक्ति से जजी चौराहा, नुमाइश ग्राउंड होते हुए कलक्ट्रेट के सामने से रोडवेज चौराहा तथा वहां से प्रधान डाकघर पहुंचकर संपन्न हुई।
यात्रा में झंडे भी उपलब्ध थे तथा सैकड़ों लोगों ने निर्धारित शुल्क देकर उन्हें खरीदा भी। यात्रा में सहायक अधीक्षक डाकघर एसबी यादव, निरीक्षक डाकघर दक्षिणी श्री अंकित चौधरी पोस्ट मास्टर प्रधान डाकघर बिजनौर लक्ष्मीकांत जोशी, अशोक शर्मा, अनुराग मेहरोत्रा, संजीव कुमार, यक्ष चौहान, गौरव कुमार, अभिषेक मेहरोत्रा, दिनेश चंद्र सेन, आबिद, रजनीश कुमार, चक्षु गौड़, विशाल यादव, शकील अहमद, गिरवर पाल, आकांक्षा गुप्ता, नेहा भारद्वाज, राजकुमार सिंह, मोहम्मद इरशाद, राजीव चौधरी, लोकेंद्र पाल सिंह, हरेंद्र सिंह, बालेश राजपूत आदि उपस्थित रहे।
अब तक 5000 से अधिक राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री बिजनौर मंडल के डाकघरों से हो चुकी है।

5 हजार तिरंगे झंडे वितरित करने का संकल्प

बिजनौर। आजादी की 75 वीं वर्षगांठ पर इस वर्ष देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। इसके अंतर्गत 11 से 17 अगस्त 2022 तक हर घर तिरंगा लहराया जाना है, जिसके लिए जनपद के राजकीय निजी आईटीआई एवं कौशल विकास मिशन से जुड़े निजी प्रशिक्षण प्रदाताओं के लिए 5000 तिरंगे झंडे वितरित करने का निर्णय लिया है।  इसके लिए राजकीय आईटीआई बिजनौर के प्रधानाचार्य मंजुल मयंक ने आईटीआई में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे प्रशिक्षुओं को झंडा वितरित करते हुए कहा कि इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाएं तथा झंडे के नियमों का पालन करते हुए हर घर पर झंडा अवश्य लगाएं। इस अवसर पर प्रधान सहायक राकेश शर्मा, सनी तोमर, मनोज कुमार,  योगेश कुमार एवं इकबाल हसन उपस्थित रहे।

जश्न-ए-आजादी ट्रस्ट भारी उत्साह और उमंग के साथ मनाएगा आजादी का उत्सव

जश्न ए आजादी ट्रस्ट भारी उत्साह और उमंग के साथ मनाएगा आजादी का जश्न

महापुरुषों की प्रतिमाओं की साफ सफाई, पौधरोपण के साथ ही एक सप्ताह तक विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से आजादी का जश्न मनाएगा ट्रस्ट

ट्रस्ट के आयोजनों में बड़े पैमाने पर सभी धर्मों के लोग होंगे शामिल

जश्न ए आज़ादी ट्रस्ट ने सरकार से पुराने लखनऊ की ऐतिहासिक इमारतों के आसपास यूपी के सबसे ऊंचे (राष्ट्रीय ध्वज) को लगाने की मांग की

लखनऊ। जश्न ए आजादी ट्रस्ट हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी (15 अगस्त) को आजादी का महा उत्सव मनाएगी। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर ट्रस्ट द्वारा 7 से 15 अगस्त तक देश भक्ति पर विविध कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

इस मौके पर जश्न ए आजादी ट्रस्ट के संरक्षक मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कहा कि यूं तो तमाम संस्थानों में 15 अगस्त के प्रोग्राम आयोजित होते हैं लेकिन आवामी तौर पर कोई बड़ा प्रोग्राम आयोजित नहीं होता था लेकिन जश्न ए आजादी ट्रस्ट ने पिछले कई वर्षों से इस कमी को दूर करने की कोशिश की है। जश्न ए आजादी के कार्यक्रमों में तमाम धर्म के लोग शरीक होकर देश की आजादी का जश्न मनाते हैं और एक दूसरे को मुबारकबाद देते हैं। जश्न ए आज़ादी ट्रस्ट की ओर से मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, राजेंद्र सिंह बग्गा, स्वामी सारंग महाराज ने सरकार से पुराने लखनऊ की ऐतिहासिक इमारतों इमामबाड़ा, घंटाघर, रूमी गेट के आसपास यूपी का सबसे ऊंचा (राष्ट्रीय ध्वज) लगाने की मांग की।

इस बारे में ट्रस्ट के अध्यक्ष मुरलीधर आहूजा और सचिव निगहत खान ने बताया कि देश का सबसे बड़ा त्योहार 15 अगस्त बहुत ही जोशो-खरोश के साथ मनाया जाएगा। हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध,आदि सभी धर्मो के लोग एक साथ मिलकर 15 अगस्त के इस जश्न में शामिल होंगे। साथ ही आयोजन में सभी धर्मों के धर्म-गुरु शामिल होकर एकता और अखंडता का संदेश भी देंगे तथा राष्ट्रीय पर्व पर देश की खुशहाली और अमन शांति की दुआ करेंगे। निगहत खान और मुरलीधर आहूजा ने बताया कि ट्रस्ट के इस आयोजन में विभिन्न सामाजिक संस्थानों का भी योगदान रहता है। इस बार भी ट्रस्ट के साथ टीम केयर इंडिया एंड रिसर्च फाउंडेशन, शराबबंदी संघर्ष समिति, उत्तर प्रदेश आर्टिस्ट एकेडमी, उ. प्र. जिला मान्यता प्राप्त पत्रकार एसोसिएशन, इंसानियत वेलफेयर सोसाइटी आदि का सहयोग रहेगा।
जश्न -ए- अजादी ट्रस्ट के संस्थापक सदस्य वामिक खान, अब्दुल वहीद,जुबैर अहमद ने बताया कि भारत पर्व की शुरुआत 7 अगस्त से होगी। इस दिन लखनऊ में विभिन्न स्थानों पर लगी महापुरुषों की प्रतिमाओं की सफाई के साथ ही जनेश्वर मिश्रा पार्क में योगा और प्रभात फेरी होगी जिसका संचालन योग गुरु केडी मिश्रा द्वारा किया जायेगा। लोहिया अस्पताल में प्रसादम के माध्यम से 8 अगस्त को 775 लोगों को खाने का वितरण किया जाएगा।
9 अगस्त को शहर के विभिन्न स्थानों पर पौधरोपण किया जायेगा। 10 अगस्त को गंभीर रूप से बीमार जरुरतमंदों के लिए स्वास्थ शिविर और रक्त दान शिविर का आयोजन किया जाएगा। 11 अगस्त को शहीद स्मारक पर 75 कैंडिल जलाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी तथा देश भक्ति पर कवि सम्मेलन एवं मुशायरा का आयोजन होगा। 12 अगस्त को 75 बच्चों को खिलौनों का वितरण किया जाएगा। 13 अगस्त को देश भक्ति पर पोस्टर प्रतियोगिता और झण्डे का वितरण किया जाएगा। 14 अगस्त को देश भक्ति पर संगीत की बेहतरीन शाम का आयोजन होने के साथ ही शहर में सराहनीय कार्य करने वालों का सम्मान भी किया जाएगा।
15 अगस्त को हजरतगंज में तिरंगा ध्वज फहरा कर झंडारोहण किया जाएगा और 75 किलो के लड्डू का वितरण भी होगा। 16 अगस्त को प्रातः ट्रस्ट का एक विशेष दल लखनऊ शहर के हर क्षेत्रों में जाकर कागज व झंडों को एकत्रित करेगा तथा उनको सम्मान के साथ यथा स्थान पर रक्खा जायेगा।

कोरोना महामारी को देखते हुए एहितयात के पूरे प्रबंध होंगे। सभी आयोजन कोरोना गाइड लाइन के मुताबिक ही किए जाएगें। इस मौके पर समाजसेवी राजिया नवाज, संजय सिंह, शाहिद सिद्दीकी, सतीश अजवानी, महेश दीक्षित, नजम अहसन, तनवीर सिद्दीकी, एमएम मोहसिन, आफाक मंसूरी, इस्लाम खान आदि प्रमुख रूप से मौजूद थे।

स्कूली वाहनों में सीसीटीवी कैमरे, अग्निशमन यन्त्र लगवाने के निर्देश

स्कूली वाहनों के फिटनेस व अन्य मानक पूर्ण करने की चेतावनी

बिजनौर। तहसील सदर बिजनौर के सभागार में उप जिलाधिकारी, सदर बिजनौर की अध्यक्षता में ’’विद्यालय परिवहन सुरक्षा समिति’’ के सम्बन्ध में बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान तहसील बिजनौर के जिन माध्यमिक विद्यालयों, डिग्री कालेजों/तकनीकी संस्थानों में स्कूली बसों व अन्य स्कूली वाहन उपलब्ध हैं अथवा अनुबन्धित वाहन हैं, के संस्थाधिकारियों को बुलाया गया था। बैठक में शैक्षणिक संस्थाओं के संस्थाधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, बिजनौर, सह जिला विद्यालय निरीक्षक, बिजनौर एवं खण्ड शिक्षा अधिकारी, मौ0पुर देवमल/हल्दौर आदि उपस्थित रहे।

बैठक में सह जिला विद्यालय निरीक्षक, बिजनौर द्वारा उत्तर प्रदेश मोटर यान (छब्बीसवॉं संशोधन) नियमावली, 2019 में दिये गये दिशा निर्देशों के सम्बन्ध में जानकारी दी गयी।
जिला विद्यालय निरीक्षक, बिजनौर द्वारा विद्यालय परिवहन सुरक्षा समिति के गठन एवं मानकानुसार स्कूली वाहनों की फिटनेस, ड्राईवरों/परिचर का स्वास्थ्य परीक्षण आदि कराये जाने के निर्देश दिये गये।

गठित कर लें विद्यालय परिवहन सुरक्षा समिति’’- उप जिलाधिकारी, बिजनौर द्वारा निर्देशित किया गया कि सम्बन्धित समस्त शिक्षण संस्थाएं ’’विद्यालय परिवहन सुरक्षा समिति’’ गठित कर लें तथा विद्यालय परिवहन समिति की बैठक नियमानुसार वर्ष में 04 बार करायें। स्कूली वाहन हेतु शासनादेशानुसार फीस का निर्धारण कर लें। स्कूली वाहनों की सहायक सम्भागीय परिवहन कार्यालय से मानकानुसार फिटनेस कराकर ही मार्ग पर संचालित किये जायं। ड्राईवरों व परिचर की मानकानुसार ड्रेस निर्धारित की जाए तथा पुलिस के द्वारा उनके चरित्र के बारे में सत्यापन अवश्य करा लिया जाए एवं ड्राईवर व परिचर का स्वास्थ्य परीक्षण, विशेषतया नेत्र परीक्षण करा लिया जाए। छात्रों के परिवहन करने वाली स्कूली वाहन मानक के अनुरूप हो तथा वैध फिटनेस, वैध परमिट, वैध बीमा कर जमा युक्त हों। स्कूली वाहनों में सीसीटीवी कैमरे, अग्निशमन यन्त्र तथा यथासम्भव जीपीएस लगवाये जाएं। स्कूली वाहनों पर संस्था, पुलिस हेल्पलाइन आदि का मोबाईल नम्बर अंकित करा लिया जाए। छात्र-छात्राओं की संवेदनशीलता को दृष्टिगत रखते हुए, छात्र-छात्राओं को स्कूली वाहन से लाने एवं ले जाने वाले वाहनों में विद्यालय के शिक्षक को उनके साथ अवश्य भेजा जाए। ड्राईवरों एवं परिचर के पास संस्था का परिचय-पत्र होना आवश्यक है।
निर्देशित किया गया कि कोई भी वाहन अवैध रूप से एवं बिना मानक पूर्ण किये संचालित न किये जाएं। समस्त संस्थाएं विद्यालय सुरक्षा समिति के दायित्वों को अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करायेंगे। किसी प्रकार की अनियमितता एवं निर्देशों की अवहेलना के लिए शिक्षण संस्थाएं किसी भी कार्यवाही के लिए स्वयं उत्तरदायी होंगी।

इंसानों की तरह जीवों में भी भावनाएं एवं संवेदनाएं: प्रधान मुख्य वन संरक्षक

वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए भी जनसहभागिता के साथ पूरी गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ करने होंगे प्रयास। धरती की जीविता को सुरक्षित बनाए रखने के लिए वन्यजीवों की सुरक्षा जरूरी: डीएम। बिजनौर में पर्यटन के विकास हेतु अमानगढ़ रेंज को खुलवाने के लिए डीएम ने किया प्रधान मुख्य वन संरक्षक से अनुरोध।

बिजनौर। वन्यजीव संरक्षण केवल शब्द नहीं बल्कि जीवन का आधार है, इंसानों की तरह जीवों में भी भावनाएं एवं संवेदनाएं पाई जाती हैं। प्रधान मुख्य वन संरक्षक, वन्य जीव के0पी0 दूबे ने कहा कि धरती की जीविता को सुरक्षित बनाए रखने के लिए वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए भी जनसहभागिता के साथ पूरी गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ प्रयास करने होंगे। बिजनौर जिला वन्य बाहुल्य क्षेत्र है और प्राकृतिक सम्पदाओं और सौंदर्य से परिपूर्ण होने के कारण यहां कृषि वानिकी एवं ईको टूरिज्म की अपार संभावनाएं हैं। मत्स्य, कृषि एवं वन विभाग के समन्वय से जिले को कृषि वानिकी के रूप में विकसित कर देश एवं प्रदेश में एक मॉडल के तौर पेश किया जा सकता है।

लोनिवि, परिवहन, विद्युत अधिकारियों को निर्देश
प्रधान मुख्य वन संरक्षक, वन्यजीव के0पी0 दूबे गुरुवार दोपहर कलक्ट्रेट सभागार मानव जीव संगर्ष एवं इको टूरिज़्म से संबंधित आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित अधिकारियों को दिशा-निर्देश दे रहे थे।
उन्होंने कहा कि बिजनौर जिला वन्य बाहुल्य क्षेत्र होने के कारण यहां मानव-जीव संघर्ष की अधिक संभावनाएं हैं, जिसके दृष्टिगत दोनों को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक उपाय सुनिश्चित करने होंगे ताकि मानव सुरक्षा के साथ वन्यजीव भी सुरक्षित रह सकें। उन्होंने अधिशासी अभियंता लोनिवि एवं उप संभागीय अधिकारी परिवहन को निर्देश दिए कि राष्ट्रीय-राज्य राजमार्गाें तथा वन्य क्षेत्र से गुजरने वाले मार्गाें पर ग्लो साईन बोर्ड एवं वन्यजीवों के चित्र के साथ रिफिलैक्टर लागवाएं, ताकि वाहन चालक सचेत और संयमित होकर ड्राइविंग करें। उन्होंने कहा कि वन्यजीव बिना छेड़छाड़ किए किसी भी मानव पर हमला नहीं करते, यदि मार्ग अथवा खेत आदि में कोई जीव नजर आए तो कतई न घबराएं और जाने के लिए उसको रास्ता दें तथा तत्काल उसकी सूचना जिला प्रशासन या वन विभाग के अधिकारी को दें। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को इस प्रकार की सूचना मिलने पर तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए।

वन्यजीव मानव जीवन का एक हिस्सा: डीएम उमेश मिश्रा
जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने कहा कि वन्यजीव मानव जीवन का एक हिस्सा बन चुके हैं, इसलिए उनके साथ जीवनयापन की राह तलाश करनी होगी। बाघ के प्रवास का प्रिय स्थल गन्ने के खेत हैं, जिसके दृष्टिगत उन्होंने जिला गन्ना अधिकारी को निर्देश दिए किसान बंधुओं को खेतों में अकेले न जाने और आवश्यक सावधानी बरते के लिए नियमित रूप से बल्क मैसेज किए जाएं। उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिए वन्यजीव के संरक्षण के लिए “संकल्प संदेश“ का आलेख तैयार करा कर सभी ग्राम पंचायतों में जनसामान्य में जागरूकता और उनके प्रति संवेदनशीलता उत्पन्न करने के लिए सामूहिक रूप से शपथ ग्रहण कार्यक्रमों का आयोजन कराएं तथा खेतों में जो कुएं निष्क्रिय अवस्था में मौजूद हैं, उनपर लोहे का जाल लगाना सुनिश्चित करें ताकि कोई वन्यजीव उसमें न गिर सके। इसी क्रम में उन्होंने अधिशासी अभियंता विद्युत को निर्देशित किया कि वन्यक्षेत्र में कोई भी विद्युत तार लटके हुए तथा नंगी अवस्था में न पाए जाएं और जिन स्थाानों पर ट्रांसफार्मर नीचे स्थानों पर रखे हुए हैं, तत्काल उन्हें ऊंचे स्थान पर स्थापित कराना सुनिश्चित करें।

अमानगढ़ रेंज को पयर्टकों के लिए खुलवाने का अनुरोध
जिलाधकारी ने अधिशासी अभियंता लोनिवि को निर्देश दिए कि बादीगढ़ मार्ग के चौड़ीकरण के लिए कार्ययोजना बना कर उनके स्तर से पत्र शासन को प्रेषित करें ताकि उसका डिवाइडर के साथ डबल रास्ते का निर्माण किया जा सके। इसी के साथ उन्होंने अपर मुख्य अधिकारी को निर्देश दिए कि पर्यटकों के प्रवास के लिए गैस्टहाउस का निर्माण कराएं और साथ ही आधुनिक शौचालय बनवाना भी सुनिश्चित करें। इसी क्रम में उन्होंने अधिशासी अभियंता सिंचाई खण्ड को विभागीय गैस्ट हाउस का रिनोवेशन कराने के लिए भी आदेशित किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रधान मुख्य वन संरक्षक, वन्य जीव के0पी0 दूबे से अमानगढ़ रेंज को पयर्टकों के लिए खुलवाने का अनुरोध किया ताकि वन्यजीवों एवं प्राकृतिक वातावरण के प्रेमी आकर्षित होकर इधर का रूख़ करने के लिए ललायित हो सकें।

इस अवसर पर वन संरक्षक मुरादाबाद विजय सिंह, डीएफओ बिजनौर एवं नजीबाबाद, जिला पंचायत राज अधिकारी सतीश कुमार, बेसिक शिक्षा अधिकारी जयकरण यादव के अलाव अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

जल जीवन मिशन: सुस्त इंजीनियर किए जाएंगे बाहर

लखनऊ। ‘हर घर नल योजना’ में सुस्त रफ्तार से काम करने वाले इंजीनियर अब बाहर किए जाएंगे। जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने जल जीवन मिशन के तहत प्रदेश की ‘हर घर नल योजना’ की गहन समीक्षा करते हुए ये संकेत दिए। उन्होंने साफ कहा कि ऐसे इंजीनियरों की योजना में कोई जगह नहीं है। उन्होंने अधिकारियों को नल कनेक्शन संख्या के आधार पर इंजीनियरों की रफ्तार तय करने के निर्देश देते हुए कहा जिन इंजीनियरों की रफ्तार धीमी है उन्हें तत्काल विभाग से बाहर करें।

मुख्य और अधीक्षण अभियंताओं की लगाई क्लासराज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के गोमती नगर स्थित सभागार में बुधवार रात्रि समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने मुख्य और अधीक्षण अभियंताओं की जमकर क्लास लगाते हुए कहा कि ‘हर घर नल योजना’ की प्रगति की लगातार निगरानी की जिम्मेदारी मुख्य अभियंताओं की है। साथ ही चेतावनी दी कि जिन जिलों में काम गति नहीं पकड़ेगा वहां के इंजीनियरों को हटाया जाएगा।

मत रोइए समस्या का रोना- उन्होंने कहा कि गांव-गांव में काम को गति देने के लिए फील्ड में उतरना पड़ेगा। निगरानी करने के साथ, जिला प्रशासन का सहयोग और ग्राम प्रधानों के साथ बैठकें करनी होंगी। उन्होंने इंजीनियरों से एक-एक कर प्रदेश में महिलाओं को दी जा रही पानी जांच की ट्रेनिंग और नल कनेक्शनों के बारे में सवाल पूछे। जलशक्ति मंत्री ने अधिशासी अभियंताओं को टाइम मैनेजमेंट कर काम करने की सलाह देते हुए कहा कि अगर आप लोग समस्या को रोते रहेंगे तो समस्या का समाधान कभी नहीं हो पाएगा। बैठक में प्रमुख रूप से राज्य मंत्री रामकेश निषाद, नमामि गंगे व ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव, जल निगम के एमडी बलकार सिंह   मौजूद रहे।

…तो एजेंसियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई-

जल जीवन मिशन के तहत रेट्रोफिटिंग योजना से जुड़े गांवों में योजना पूरी होने के बाद भी यदि सभी घरों में नल कनेक्शन नहीं मिले तो एजेंसियों को बड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। ऐसी एजेंसियों के खिलाफ विभाग मुकदमा भी दर्ज कराएगा। जांच और कार्रवाई में लापरवाही बरतने वाले इंजीनियरों के खिलाफ भी बड़े एक्शन की तैयारी है। समीक्षा बैठक के दौरान प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव ने रेट्रोफिटिंग योजना से जुड़े गांव की चर्चा करते हुए यह चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि योजना से अंतर्गत आने वाले गांव में हर हाल में सौ फीसदी कनेक्शन होना चाहिए. दोषी एजेंसियों पर कार्रवाई करने में देरी करने वाले इंजीनियरों के खिलाफ भी सख्त एक्शन लिया जाएगा।

ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रहा विश्व, जरूरी है वृहद स्तर पर पौधारोपण

ग्लोबल वार्मिंग से जूझते विश्व में वृहद स्तर पर पौधारोपण आवश्यक। राम व पर्यावरण संरक्षण ने कराया वृहद पौधारोपण कार्यक्रम।  नहर पटरी, साहू जैन कॉलेज, आकाशवाणी परिसर में लगाए पांच सौ पौधे।


बिजनौर। राष्ट्रीय आत्मनिर्भरता मंच (राम) व पर्यावरण संरक्षण गतिविधियां बिजनौर विभाग मेरठ प्रांत के संयुक्त तत्वावधान में वन महोत्सव कार्यक्रम 2022 मनाया जा रहा है। इसके अंतर्गत बड़े स्तर पर कराए जा रहे पौधारोपण के अवसर पर प्रांत प्रचारक राम अवतार ने कहा कि आज सम्पूर्ण विश्व ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रहा है।बइस विश्व व्यापी समस्या से लड़ने को हमें वृहद स्तर पर पौधारोपण कराना होगा और अन्य लोगों को भी इस आंदोलन से जुड़ने के लिए प्रेरित करना होगा।

बुधवार को वृहद पौधारोपण कार्यक्रम के अंतर्गत दोनों संगठनों के संयुक्त तत्वावधान में नजीबाबाद के समीपुर-हरिद्वार नहर मार्ग पर आईटीआई कालेज के निकट एवं साहू जैन डिग्री कॉलेज, आकाशवाणी नजीबाबाद परिसर में पीपल, पाकड़, बरगद, सहजन, जामुन, आंवला, अमरुद, अर्जुन, जामुन, नींबू, कटहल आदि के लगभग 500 पेड़ रोपित कराए गए। इस अवसर पर प्रांत प्रचार प्रमुख हिमांशु गोयल ने कहा कि ग्लोबल वॉर्मिंग के दो कारण प्राकृतिक एवं मानव निर्मित हैं। इनमें प्राकृतिक निर्मित ग्रीनहाउस गैस, ज्वालामुखी विस्फोट, मीथेन गैस का अत्यधिक उत्पादन, मानव निर्मित में अवैध खनन एवं वनों की कटाई, मवेशी पालन, जीवाश्म ईंधन जलाना है। उन्होंने कहा कि पौधारोपण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को बिजनौर निवासी विक्रांत शर्मा, दानापानी नजीबाबाद के सुशील राजपूत एवं रविंद्र काकरान जैसा बनना होगा। जो अपनी नौकरी, व्यवसाय को भली-भांति करते हुए पौधारोपण कार्यक्रम से जुड़े और स्वयं बड़े स्तर पर पेड़ तैयार कर उन्हें अन्य लोगों को भी उपलब्ध करा रहे हैं।

इस अवसर पर बिजनौर निवासी विक्रांत शर्मा द्वारा उपलब्ध कराए गए हरी शंकरी (पीपल, बरगद, पाकड़) आकाशवाणी नजीबाबाद परिसर में लगाए गए। उन्होंने जिला उद्यान अधिकारी जितेंद्र सिंह व अवनीश अग्रवाल टांडे वाले, तरुण अग्रवाल को भी धन्यवाद ज्ञापित किया, जिन्होंने इस महान यज्ञ में पौधों को उपलब्ध कराकर आहुति दीं व अन्य संसाधन उपलब्ध कराए, जिस कारण बड़े स्तर पर पौधारोपण कार्यक्रम धरातल पर उतर सका।

कार्यक्रम के दौरान साहनपुर रेंज के डिप्टी रेंजर विशेष कुमार, वन रक्षक रघुवीर, साहू जैन डिग्री कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. अभय मित्तल, डॉ. श्रीमती दिव्या बाला पाठक, आकाशवाणी नजीबाबाद के इंजीनियर हेड इंजी. दिनेश चंद्रा, प्रोग्राम हेड अमर सिंह, नवीन जोशी, बलराम सिंह, स्वदेशी जागरण मंच के जिला सह प्रचार प्रमुख पुनीत गोयल, अरहान अहमद, पूर्व सभासद राजीव टंडन, वृक्षारोपण कार्यक्रम की सह संयोजक श्रीमति शैली शर्मा, सुशील राजपूत, डॉ भूपेंद्र सिंह, संजय अग्रवाल, विचित्र रस्तौगी मेरठ आदि मौजूद रहे।

सदा सुहागन तीज मिलन कार्यक्रम कायस्थ महिलाओं ने मनाया

शिव मंदिर चाहशीरी में सदा सुहागन तीज मिलन कार्यक्रम कायस्थ महिलाओं ने मनाया

बिजनौर। कायस्थ महिलाओं के द्वारा नौबत राय कायस्थ शिव मंदिर में मोहल्ला चहशीरी बिजनौर में हरियाली तीज का त्योहार हर्षोल्लास एवं उमंग के साथ मनाया गया।

इस अवसर पर महिलाओं ने पूर्ण श्रृंगार कर अपने परिवार के लिए मंगल कामना की एवं झूला झूल कर मंगल गीत गाए। महिलाओं ने मंगल गीत के साथ एक दूसरे को तीज की शुभकामनाएं दी। विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं एवं सांस्कृतिक नृत्य हुए।

कार्यक्रम का संचालन श्रीमती रंगोली भटनागर ने किया। तीज क्वीन श्रीमती रचिता भटनागर रहीं। श्रीमती शोभा भारतीय एवं श्रीमती उषा भटनागर को लाइफटाइम अवार्ड देकर सम्मानित किया गया। श्रीमती गार्गी भटनागर, श्रीमती हिमानी भटनागर, श्रीमती अंजलि भटनागर एवं श्रीमती किरन भटनागर ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान प्राप्त किए।

कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीमती दीपांजलि भटनागर, श्रीमती महिमा भटनागर, श्रीमती चेतना भटनागर, श्रीमती रेखा भटनागर, श्रीमती संगीता भटनागर एवं श्रीमती प्रीति भटनागर ने अपना उल्लेखनीय योगदान दिया ।अंत में कल्याण मंत्र के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। महिला सशक्तिकरण के लिए किए जा रहे प्रयास के लिए योगी जी एवं मोदी जी को धन्यवाद ज्ञापित किया गया तथा इसे और बढ़ाने की आवश्यकता बताई गई।

हर घर तिरंगा के लिए प्रेरित कर रहे दो सामाजिक संगठन

हर घर तिरंगा के लिए अभियान चला कर प्रेरित कर रहे गौरक्षा वाहिनी व राइजिंग चैरिटेबल सोसायटी

बिजनौर। भारतीय गौ रक्षा वाहिनी एवं राइजिंग चैरिटेबल सोसायटी के तत्वाधान में दोनों सामाजिक संगठनों के सदस्यों ने कई गांवों में घूम कर हर घर तिरंगा राष्ट्रीय कार्यक्रम की जागृति के लिए जनसंपर्क अभियान चलाया।

भारतीय गौ रक्षा वाहिनी के जिला अध्यक्ष विकुल मलिक, रावेंद्र सिंह आर्य तथा राइजिंग चैरिटेबल सोसायटी के शुभम कुमार, सचिन मलिक, अंकुर कुमार आदि के नेतृत्व में दोनों समाजसेवी संगठनों के सदस्यों ने हर घर तिरंगा राष्ट्रीय कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अभियान चला रखा है। उन्होंने ग्राम निजामपुर, फतनपुर, गंगोड़ा जट, गंगोड़ा शेख, नयागांव, बैबलपुर, खंडसाल, गुजरपुरा, रसूलपुर आदि में घूम कर ग्रामीणों से संपर्क किया। साथ ही 13 से 17 अगस्त तक अपने घरों पर अनिवार्य रूप से तिरंगा फहराने का आह्वान किया। ग्रामीणों को बताया कि हर घर तिरंगा फहराना कार्यक्रम स्वतंत्रता सेनानियों की शहादत, उनके त्याग, उनके संघर्ष और उनके बलिदान के लिए सच्ची श्रद्धांजलि है। उन्हीं के संघर्ष की बदौलत हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। जनसंपर्क अभियान में शुभम कुमार, विकास मलिक, बबलू सैनी आदि कई युवा कार्यकर्ता शामिल रहे।

विधानसभा अध्यक्ष ने किया वरिष्ठ सदस्यों को सम्मानित

लखनऊ (पंचदेव यादव)। उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष सतीश महाना ने मंगलवार को विधान सभा के वरिष्ठ सदस्यों को सम्मानित करते हुए एक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम में 5 बार या उससे अधिक चुनाव जीत कर आये वरिष्ठ सदस्यों से विधान सभा की गरिमा को और बढ़ाये जाने पर विचार विमर्श किया। इस अवसर पर उन्होनें कहा कि मेरा प्रयास होगा विधानसभा की गरिमा बनी रहे। जनता अगर हमे सदन भेज रही है उस सम्मान को बनाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है।


विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि राजनीतिक विचारधारा अलग हो सकती है पर वरिष्ठों का सम्मान बना रहना चाहिए। मेरा प्रयास होगा कि सभी सदस्यों से सीधा संवाद हो, जिससे विधान सभा को और अच्छा किया जाय सके। इसलिए इस तरह का संवाद कार्यक्रम शुरू किया है। हम चाहते हैं कि समाज में जनप्रतिनिधियों के प्रति सकारात्मक भाव पैदा हो क्योंकि इस विधानसभा में हर तरह की मेधा के लोग है। विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि हम चाहते हैं कि विधायकों की गरिमा और बढ़े, हमारे सदस्यों को राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रमों में अवसर मिले जिससे उत्तर प्रदेश की पहचान बने।

संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने महाना जी को हार्दिक बधाई देत हुए कहा कि आपने कई नई परम्पराएं डाली हैं। एक भी दिन विधानसभा स्थगित नहीं हुई और कोई भी सदस्य वेल में नहीं आया। इसके साथ ही सत्र के दौरान सदस्यों के जन्म दिन के मनाने की भी नई परम्परा की शुरूआत की। श्री खन्ना ने कहा कि ग्रुप बनाकर विधायकों के साथ शुरू किया गया संवाद का कार्यक्रम एक बहुत ही सुखद संकेत है। राजनीतिक व्यक्ति की छवि का समाज पर बहुत असर पड़ता है। हम सभी वरिष्ठों को नए सदस्यों को रास्ता दिखाना है। संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि विधायिका के प्रति हमे जनता की सोच को बदलना है। विधानसभा सबसे बड़ा चर्चा व परिचर्चा तथा विचार का मंच है। इसी से हम सभी जनता के प्रति अपने सेवा भाव के उद्देश्य को प्राप्त कर सकते हैं।

संवाद कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए विधान सभा के पूर्व अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय ने कहा कि यह खुशी की बात है कि श्री महाना ने नयी परिपाटी की शुरूआत की है। इस तरह के कार्यक्रम से सदन को लाभ मिलेगा। हम सभी सदस्यों को मिलकर विधान सभा अध्यक्ष को और ताकतवर बनाना है, जिससे उनका सम्मान बना रहे। श्री पाण्डेय ने कहा कि सत्तापक्ष और विपक्ष में मतभेद हो सकता है लेकिन सदन और अध्यक्ष का सम्मान बनाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। आज जिस तरह से वरिष्ठ सदस्यों का सम्मान किया गया उसके लिए विधान सभा अध्यक्ष धन्यवाद के पात्र है। पूर्व विधान सभा के अध्यक्ष ने कहा कि श्री महाना ने बहुत अच्छी तरह से सदन को चलाया और सभी सदस्यों को बोलने का मौका दिया। यह एक अच्छी परम्परा है।

इस क्रम में वरिष्ठ सदस्य अवधेश प्रसाद ने अपने अनुभव साझा किये और कहा कि महाना जी ने जो शुरुआत की है। उसे भविष्य में इतिहासकार लिखेंगे। 1977 जब पहली बार चुनकर आया था, तब से अब तक कई विधानसभा अध्यक्ष देखें हैं पर श्री महाना की कार्यशैली अनूठी है। पहली बार सदन स्थगित नहीं हुआ और लगभग सभी सदस्यों को बोलने का मौका मिला जिससे प्रदेश में एक अच्छा संदेश गया। श्री प्रसाद ने कहा कि सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सुखद संयोग से रचनात्मक सुझाव सामने आए, जिससे प्रदेश के विकास के रास्ते खुल रहे हैं। लोकतंत्र की जड़े और मजबूत हो रही हैं। यह एक बहुत अच्छी पहल है। इसी तरह सत्ता पक्ष विपक्ष मिलकर काम करते रहें, यही प्रदेश की जनता को अपेक्षा है।

इस दौरान रघुराज प्रताप सिंह राजा राजा भैया ने कहा कि आज जितने सदस्य यहां मौजूद हैं, उन सभी ने विधान सभा अध्यक्ष के इस कार्य को सराहा है। उत्तर प्रदेश की विधानसभा अपना पुराना गौरव प्राप्त करे। ये तभी संभव होगा जब अधिक से अधिक सदन चले। उन्होंने कहा कि जितना अधिक सदन चलेगा। उतना ही इस सदन के सदस्यों की गरिमा बढ़ेगी। विधानसभा में जो बदलाव हो रहा है वह सब अध्यक्ष की विलक्षण प्रतिभा का परिचायक है।
वहीं शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि आप बधाई के पात्र हैं, जो आपने वरिष्ठों को सम्मानित करने का काम किया है। यह पहली बार हुआ है। श्री यादव ने कहा कि यदि जनता बार बार जिताकर भेज रही है तो ऐसे लोगों का जनता के बीच कहीं न कहीं सम्मान है। ऐसे लोगों ने जरूर जनता से अपना वादा पूरा किया है। यू0पी0 विधानसभा को फिर से गौरव मिल सके इसके लिए हम सबको मिलकर काम करना पडेगा। यू0पी0 विधानसभा की मिसाल पूरे देश में दी जाती रही है।


श्री लालजी वर्मा ने कहा कि वरिष्ठ सदस्यों को जो आज सम्मान दिया गया इसके लिए हम सभी अध्यक्ष के आभारी हैं। इस नई शुरुआत के लिए बधाई। श्री वर्मा ने कहा कि आपसी विचार विमर्श से संसदीय परंपराएं मजबूत होंती हैं और नए सदस्यों को संसदीय परंपराओं की जानकारी देना हम सब वरिष्ठों की जिम्मेदारी है। हम सबको संसदीय लोकतंत्र को मजबूत करना चाहिए। ओम प्रकाश सिंह ने कहा कि अध्यक्ष जी के व्यवहार और स्वभाव से हम सब प्रभावित हैं। उन्होंने लीक से हटकर जो नई परंपरा शुरू की है, वह अपने आप में अनूठी है। लोकतंत्र में लोक और लाज का महत्व होता है। संसदीय व्यवस्था में संवाद बहुत आवश्यक है। उत्तर प्रदेश देश का हृदय है। इसलिए इसे मजबूत रखने की जरूरत है। ये परपरा बनी रहनी चाहिए। ये हमारा सम्मान नहीं, आपका भी सम्मान है। जय प्रताप सिंह ने कहा कि इस कार्यक्रम से एक अच्छा संदेश जाएगा। सत्र के दौरान जनता की समस्याओं को कैसे उठाया जाए, नए सदस्यों को और सीखने की जरूरत है। इस तरह के कार्यक्रम से नये सदस्यों को प्रेरणा मिलेगी। आपसी बहस से नया रास्ता निकलता है।
सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि विधान सभा में सबको बोलने का अवसर देकर अनुशासन बनाए रखना लोकतंत्र की पहचान रही है। पहली बार  विपक्ष शालीन तरीके से अपनी भूमिका निभा रहा है। वरिष्ठों सदस्यों को सम्मान दिया जा रहा है, जिससे एक नया इतिहास बन रहा है। विधानसभा परिसर के सुन्दरीकरण से लेकर सदन को डिजिटल बनाने तक किया गया कार्य सरहनीय है।। महबूब अली ने कहा कि महाना जी ने सदन को पहली बार में ही सुचारू रूप से चलाने का काम किया है। रमापति शास्त्री ने कहा कि यह हमारा सम्मान नहीं, देवतुल्य कार्यकर्ताओं का सम्मान है जिसे उन तक पहुंचाऊंगा।


इस मौके पर विधान सभा अध्यक्ष श्री महाना ने कार्यक्रम में उपस्थित अरविन्द गिरि, पूरन प्रकाश, श्रीराम चौहान, बावन सिंह, फरीद महफूज किदवई, धर्मपाल सिंह, मयंकेश्वर शरण सिंह, राम चन्द्र यादव व कार्यालय कक्ष में चौधरी लक्ष्मी नारायण, राम कृष्ण भार्गव सहित सभी वरिष्ठ सदस्यों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर विधान सभा के प्रमुख सचिव प्रदीप कुमार दुबे व अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद रहे।

दिव्यांगजनों को वितरित किए कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण

सैकड़ों दिव्यांगजनों क़ो वितरित किए गए कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण। श्री गोपेश्वर गौशाला में हुआ आयोजन।

मलिहाबाद,लखनऊ। सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करते हुए श्री गोपेश्वर गौशाला में श्रावण मास के पावन अवसर पर चल रही सप्त दिवसीय श्री शिवपुराण कथा के अवसर पर हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड केसीएसआर योजना के अंतर्गत दिव्यांगजनों क़ो कृत्रिम अंग एवं सहायक उपकरण वितरण हेतु परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में क्षेत्र के सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।
आयोजन श्री गोपेश्वर गौशाला के संचालक उमाकांत गुप्ता और मनोज कुमार मौर्या जिला दिव्यांग प्रकोष्ठ अध्यक्ष लखनऊ द्वारा किया गया। कार्यक्रम मे एचएएल की समस्त जांच टीम उपस्थित रही।
शिविर मे दिव्यांग जनों को रोजमर्रा मे प्रयोग आने वाले उपकरण जैसे ट्राईसाईकिल, व्हीलचेयर, बैसाखी, छड़ी, कान की मशीन, कृतिम पैर एवं हाथ आदि के लिए 107 दिव्यांगजन भाई बहनों का परिक्षण किया गया। शिविर में एचएएल लखनऊ के पदाधिकारियों के साथ ही एलिको कंपनी कानपुर के अधिकारी भी उपस्थित रहे।

हमारा परिवार नशा मुक्त परिवार मिशन- युवाओं को दिलाया नशे से दूर रहने का संकल्प

युवाओं को नशे से दूर रहने का संकल्प दिलाया।
हिन्दू इण्टर कॉलेज किरतपुर में हुआ नशे के विरुद्ध जागरूकता के एवं संकल्प कार्यक्रम।

बिजनौर। हमारा परिवार नशा मुक्त परिवार मिशन के अंतर्गत शनिवार को हिन्दू इण्टर कॉलेज किरतपुर में युवाओं में बढ़ते नशे के विरुद्ध जागरूकता एवं संकल्प कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में समस्त स्कूल स्टाफ़ और हज़ारों छात्र छात्राओं ने नशे से दूर रहने के लिए शपथ ली।

युवाओं को बना रहे नशे का आदी
हरवेंद्र राणा ने बताया कि किस प्रकार नशे के धन्धे को फ़ैलाया जा रहा है। पहले तो युवाओं को नशे का आदी बनाया जा रहा है और फिर नशा छुड़ाने का धन्धा या ये कहिये कि नशे का दूसरा बाज़ार भी तैयार किया जा रहा है। पहले नशे की लत लगाकर जनता से कमाई की जा रही है और फिर नशा छुड़ाने के प्रोडक्ट महँगे दामों में बेचकर कमाई की जा रही है, यानि आम के आम और गुठलियों के दाम।
हरवेंद्र राणा ने बच्चों को बताया कि नशे के इस धन्धे को बड़े बड़े लोग, फ़िल्मी कलाकार भी प्रमोट कर रहे हैं। आप सभी अच्छे बच्चे हैं, समझदार हैं तो आपको इन सब बातों को समझना है और ग़लत कामों से दूर रहना है नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना है।

ख़ुद भी बचें व दूसरों को भी बचाएं-डॉ. प्रेमराज आर्य
कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. प्रेमराज आर्य ने छात्र छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि बुरे कामों का नतीजा बुरा होता है इसलिए ग़लत आदतों से ख़ुद भी बचें व दूसरों को भी बचाएँ। प्रधानाचार्य ने हरवेंद्र राणा द्वारा चलाये जा रहे अभियान की सराहना करते हुए उन्हें सम्मानित किया और नशे के विरुद्ध सहयोग का आश्वासन दिया।
कार्यक्रम में छात्र छात्राओं के अतिरिक्त मुख्य रूप से महेन्द्र कुमार, (प्रवक्ता) राम कुमार सिंह (प्रवक्ता) जैनेन्द्र तोमर (पी टी आई) संजीव चौधरी, जीवेन्द्र कुमार, ब्रजवीर सिंह राजपूत, सुभाष चंद्र राजपूत, चंद्रवीर सिंह, आशीष कुमार, गुरविन्दर कौर आदि उपस्तिथ रहे।

राहत: बिना पैकिंग के आटा दाल लस्सी बेचने पर GST नहीं

नई दिल्ली (एजेंसी)। हाल ही में देश में कई चीजों के दाम बढ़ गए हैं। इस बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक लिस्ट शेयर करते हुए कहा कि लिस्ट में मौजूद 14 चीजों को यदि खुला (Loose) बेचा जाएगा, अर्थात बिना पैकिंग के बेचा जाएगा तो उन पर जीएसटी की कोई भी दर लागू नहीं होगी। इस लिस्ट में दाल, गेहूं, बाजरा, चावल, सूजी और दही/लस्सी जैसी रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली महत्वपूर्ण चीजें शामिल हैं अनाज, चावल, आटा और दही जैसी चीजों पर 5 फीसदी GST के सरकार के फैसले का बचाव करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि यह जीएसटी केवल उन्हीं उत्पादों पर लागू है जो प्री-पैक्ड और लेबल्ड हैं। विदित हो कि पिछले महीने जीएसटी परिषद की चंडीगढ़ में हुई 47वीं बैठक में ये फैसले लिए गए थे।

GST को लेकर फैली हैं गलतफहमियां
निर्मला सीतारमण ने आगे बताया कि, ‘हाल ही में, जीएसटी परिषद ने अपनी 47 वीं बैठक में दाल, अनाज, आटा जैसे विशिष्ट खाद्य पदार्थों पर जीएसटी लगाने के फैसले पर पुनर्विचार करने की सिफारिश की है। हालांकि काफी गलतफहमियां फैली है, यहां तथ्यों को सामने लाने की कोशिश है।’ “क्या यह पहली बार है; जब इस तरह के खाद्य पदार्थों पर कर लगाया जा रहा है? नहीं, राज्य सरकारें जीएसटी से पहले की व्यवस्था में खाद्यान्न से काफी राजस्व एकत्र कर रहे थे। अकेले पंजाब ने पर्चेज टैक्स के रूप में खाद्यान्न पर 2,000 करोड़ रुपए से अधिक का संग्रह किया। यूपी ने ₹700 करोड़ जुटाए।

अब बिजलीघर को बिजली बेचेंगे किसान

कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से चयनित ग्रामों में होगी ग्रिड संयोजित सौर पावर प्लान्ट की स्थापना। यूपी नेडा-बिजनौर एवं प्रधानमंत्री कुसुम (कम्पोनेन्ट-ए) योजना के तहत होगा कार्य। चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में होगी बढा़ेत्तरी।

प्रतीकात्मक फोटो

बिजनौर। यूपी नेडा-बिजनौर एवं प्रधानमंत्री कुसुम (कम्पोनेन्ट-ए) योजना के अन्तर्गत ग्रिड संयोजित सौर पावर प्लान्ट की स्थापना चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से कृषकों / भूमिधरों को प्रात्साहित कराकर ई-निविदा राज्य के ई-प्रोक्योरमेंट की वेबसाइट पर दिनांक 27 जूलाई 2022 तक निविदा आमंत्रित की गयी है। खास बात यह है कि संबंधित किसान सौर ऊर्जा प्लांट से उत्पादित बिजली को ग्रिड में बेच सकेंगे। इस व्यवस्था से किसानों की आय में बढ़ोत्तरी होगी।

प्रतीकात्मक फोटो

उप कृषि निदेशक बिजनौर गिरीश चन्द्र ने जानकारी देते हुए बताया कि 33/11 केवी सबस्टेशन मंण्डावर के अन्तर्गत चयनित ग्राम लालपुर, लैगपुरी, मण्डावर, मोहड़िया व 33/11 केवी सबस्टेशन अफजलगढ के अन्तर्गत चयनित ग्राम झाड़पुर भागीजोत, मौ0 अलीपुर, मेघपुर, गड़वावाला, जीकरवाला हैं।

प्रतीकात्मक फोटो

उप कृषि निदेशक ने उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी सदर, बिजनौर एवं नगीना को पत्र प्रेषित कर निर्देशित किया है कि वह चयनित ग्रामों में अनुपजाऊ व बंजर भूमि के कृषकों की आय में बढा़ेत्तरी के उद्देश्य से कृषकों / भूमिधरों को प्रात्साहित कराकर ई-निविदा राज्य के ई-प्रोक्योरमेंट की वेबसाइट पर आमंत्रित निविदा में प्रतिभाग कराना सुनिश्चित करें।

31 जुलाई से पूर्व किसान करा लें प्रधानमंत्री फसल बीमा

मौसम की मार से पीड़ित किसान उठाएं प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ

जिला कृषि अधिकारी ने किसान भाइयों से की अपील

बिजनौर। खरीफ वर्ष 2022 मे माह मई एवं जून में सामान्य से अधिक वर्षा हुई है, परन्तु माह जुलाई में अनुमान के अनुसार वर्षा न होने से खरीफ फसलों मुख्य रूप से धान फसल की बुवाई/रोपाई प्रभावित हो रही है। जनपद के अधिकांश कृषकों द्वारा धान की नर्सरी तैयार की गई है परन्तु वर्षा न होने से धान रोपाई का कार्य प्रभावित हो रहा है।

डा० अवधेश मिश्र जिला कृषि अधिकारी बिजनौर ने किसान भाइयों को अवगत कराया है कि भारत सरकार द्वारा कियान्वित प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत क्षेत्र आधारित जोखिम यथा खरीफ में 15 अगस्त व रबी में 15 जनवरी तक प्रतिकूल मौसमीय स्थितियों से फसल की बुवाई न कर पाने, असफल बुवाई से प्रभावित ग्राम पंचायत व फसल की लिखित सूचना जारी होने, फसल की प्रारम्भिक अवस्था से कटाई के 15 दिन पूर्व तक एवं उत्पादकता में कमी तथा व्यक्तिगत आधार पर खडी फसलों को ओलावृष्टि, जलभराव (धान फसल को छोड़कर), भूस्खलन, बादल फटना, आकाशीय बिजली से उत्पन्न आग से क्षति, फसल कटाई के 14 दिन उपरान्त ओलावृष्टि, चक्रवात, बे-मौसमी वर्षा से क्षति होना कवर किया गया है। वर्तमान में किसान भाइयों द्वारा धान रोपाई / बुवाई की सम्पूर्ण तैयारी होने के फलस्वरूप भी वर्षा न होने से धान की रोपाई नहीं हो पा रही है, जो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत ग्राम पंचायत की इकाई के आधार पर आच्छादित है। इस प्रकार यदि किसान भाई जनपद हेतु खरीफ में अधिसूचित फसलों यथा धान, उर्द एवं मूंगफली का फसल बीमा कराते हैं तो वर्तमान में प्राकृतिक आपदा – सूखे की स्थिति में  उपरोक्तानुसार क्षति होने पर क्षतिपूर्ति का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यद्यपि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना स्वैच्छिक हो गई है और खरीफ मौसम में जनपद हेतु अधिसूचित फसलों हेतु 02 प्रतिशत प्रीमियम देकर किसान अपनी फसलों को दिनांक 31.07.2022 तक बीमित करा सकते हैं। इस योजना के अन्तर्गत समस्त ऋणी किसान कवर हैं, परन्तु यदि कोई ऋणी किसान योजना में सम्मिलित नहीं होना चाहता है तो बीमा की अन्तिम तिथि से 7 दिन पूर्व सम्बन्धित बैंक शाखा में ऑप्ट-आउट फार्म या स्वघोषणा-पत्र प्रस्तुत कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत बीमा प्राप्त करने के इच्छुक गैर ऋणी कृषक निकटतम बैंक शाखा / सहकारी समिति / जन सेवा केन्द्र (सी०एस०सी०) / बीमा कम्पनी के अधिकृत एजेन्ट से सम्पर्क कर योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। जिला कृषि अधिकारी अवधेश मिश्र ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु प्रभावित बीमित किसान को आपदा / नुकसान के 72 घन्टे के अन्दर सीधे बीमा कम्पनी के टोल फ्री नम्बर – 18001035490 पर या फसल बीमा पोर्टल http://www.pmfby.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन करना होता है अथवा लिखित रूप में सम्बन्धित बैंक / कृषि विभाग के अधिकारियों के माध्यम से सूचित करना आवश्यक होता है, जिसमें किसान का नाम, मो०नं०, बैंक खाता नं० व आपदा / प्रभावित का नाम आदि सूचना अंकित होनी चाहिए।

भारत सरकार द्वारा इस योजना के अर्न्तगत राज्य जनसम्पर्क अधिकारी नवनियुक्त किया गया है, जिनके द्वारा सोशल मीडिया के विभिन्न लिंक भी बनाये गये हैं। किसान भाई Twiter https://twitter.com/pmfbyUp, Facebook-https://www. -facebook.com/PMFBY-UP-103167632023154, Instagram-https://www.instagram.com/pmfbyup/, Koo App @pmfbyup, पर जाकर भी  प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ उठा सकते हैं।  उन्होंने कहा कि उक्त योजना का अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने हेतु किसान भाई अन्तिम तिथि 31.07.2022 से पूर्व बीमा कराएं।

“सेवा मित्र” एप से घर बैठे पाएं विभिन्न सेवाएं

घर बैठे सेवाएं पाने के लिये डाउनलोड करें सेवा मित्र एप 

बिजनौर। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सेवामित्र पोर्टल एप विकसित किया गया है। इसे प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है, जिले के कई सेवाप्रदाता इससे जुड़े हैं। 0

जिला सेवायोजन अधिकारी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि क्षेत्र में कुशल युवा सेवामित्र पोर्टल पर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। इस पोर्टल पर एसी सर्विस एण्ड रिपेयर, कारपेन्टर, आई0 टी0 हार्डवेयर एण्ड सर्विसेज, मैन पावर सर्विस, प्रिंटिंग सर्विस, आर०ओ० रिपेयर, सैलून, वैल्डिंग, स्वास्थ्य आदि सेवाएं उपलब्ध हैं, जो ग्राहकों को घर बैठे सेवाएं प्रदान कर रही हैं। इसके जरिये कुशल युवाओं को भी रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। सभी सरकारी कार्यालयों को भी निर्देश दिये गये हैं कि इस एप से ही सेवाएं ली जायें।

जुड़ने के लिए कोई भी करा सकता है रजिस्ट्रेशन-
जिला सेवायोजन अधिकारी ने बताया कि सेवामित्र पोर्टल से जुड़ने के लिये कोई भी कम्पनी या कुशल युवा अपना पंजीकरण कराकर सेवाप्रदाता बन सकते हैं। कम्पनियों को पंजीकरण करने के लिये सभी प्रमाण पत्रों की जाँच की जाती है, इसके बाद ऑनबोर्ड करने से पहले कम्पनी और सेवायोजन विभाग के बीच एक एमओयू भी साइन किया जाता है। कुशल कामगार (स्किल्ड वर्कर) को पंजीकृत होने के लिये किसी मान्यता प्राप्त संस्था से सर्टिफाइड होना आवश्यक है। पंजीकरण करने वाले के पास आई०टी०आई० या अन्य किसी मान्यता प्राप्त संस्थान का प्रमाण पत्र होना चाहिए।

20 जुलाई को महिला जन सुनवाई एवं जागरूकता चौपाल

विकास भवन बिजनौर में 20 जुलाई को महिला जन सुनवाई एवं जागरूकता चौपाल। राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती अवनी सिंह की अध्यक्षता में किया जाएगा आयोजन।

बिजनौर। महिलाओं की समस्याओं के निस्तारण, उन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी व लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से 20 जुलाई को पूर्वाहन 11ः30 बजे विकास भवन सभागार बिजनौर में महिला जनसुनवाई एवं जागरूकता चौपाल का आयोजन किया गया है। जिलाधिकारी उमेश मिश्रा ने जन सामान्य को सूचित करते हुए बताया कि कार्यक्रम का आयोजन राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती अवनी सिंह की अध्यक्षता में किया जाएगा।


उन्होंने जनसुनवाई के सफल आयोजन व अधतन आख्या के लिए पुलिस अधिकारियों व मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र भी प्रेषित किया है। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि वह अपनी समस्याओं को सदस्य राज्य महिला आयोग के समक्ष रख सकती हैं, जिसका गुणवत्तापरक निस्तारण सुनिश्चित कराया जाएगा। उन्होंने कहा की मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश की प्राथमिकताओं में आमजन व महिलाओं की समस्याओं का निस्तारण कराना है। उन्होंने बताया कि विकास खंड नूरपुर व स्योहारा मे राज्य महिला आयोग की  सदस्य श्रीमती अवनी सिंह की अध्यक्षता में जन सुनवाई जन जागरूकता चौपाल व शिविर का आयोजन भी किया जाएगा।

सीएमओ को राजकीय वाहन चालक संघ चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण ने भेजा मांगपत्र

बिजनौर। राजकीय वाहन चालक संघ चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण उ०प्र० जनपद शाखा बिजनौर ने सीएमओ को ज्ञापन देकर विभिन्न समस्याओं के निदान की मांग की है।

इस संबंध में संघ द्वारा एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष मीनू कुमार एवं संचालन जिला मंत्री नरेन्द्र कुमार ने किया। बैठक में जनपद बिजनौर के अधिकांश सदस्यों तथा पदाधिकारियों ने भाग लिया और वाहन चालकों की समस्याओं पर विचार विमर्श किया गया। तत्पश्चात पदाधिकारियों/सदस्यों की भावनाओं को देखते हुए कई निर्णय लिये गए। इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिजनौर को माँग पत्र भी प्रेषित किया गया।  मांगपत्र में सीएमओ को महानिदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सेवाएं उत्तर प्रदेश लखनऊ के पत्र संख्या 12फ/597 दिनांक 27/04/2022 का हवाला दिया गया। कहा कि इसके अनुपालन में शासनादेश संख्या 13 /2/ का-1-2013 वाहन चालक नियमावली दिनांक 8 मई 2013 एवं शासनादेश 18 सितम्बर 2012 / तथा शासनादेश संख्या वे०आ०-2-433 / दस 2005-44/2001 टी०सी० दिनांक 11-05-2006 संशोधित शासनादेश संख्या वे०मा०-2624 /दस-287-44/2001 टी०सी० दिनांक 26-06-2007 एवं शासनादेश संख्या वे०आ०-02-1140/दस-2007-44/2001 टी०सी० दिनांक 23-01-2008 द्वारा निर्देशित किया गया है कि 9 वर्ष / 15 वर्ष /18  वर्ष / 19 वर्ष की सेवा पर नियमित वाहन चालकों की वरिष्ठता सूची जारी करते हुए प्रोन्नति वेतनमान अनुमन्य कराया जाए।

यह भी कहा कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी परिसर में सरकारी वाहन खड़े करने हेतु गैराज बनाये गये थे लेकिन उन गैराजों में कुछ लिपिकों का सामान रखा हुआ है। उन्हें खाली कराये जाये, यदि खाली होना असम्भव हो तो टीन शेड का गैराज बनवाया जाये ताकि वाहनों को बरसात में खड़े किये जा सके। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग बिजनौर के समस्त वाहन चालाकों को शासनादेश संख्या 1651/18-02-12-47 एम0पी0 / 10 के अनुसार ग्रीष्म कालीन वर्दी एवं शीतकालीन वर्दी जूता /कम्बल / छाता सभी वाहन चालकों को दिलाया जाये। प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश, लखनऊ के आदेश संख्या दिनांक 31 मार्च, 2004 के सन्दर्भ में चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग बिजनौर का कोई भी राजकीय वाहन दूसरे विभागों में कार्य करने के लिये (आपातकालीन को छोड़कर) ना भेजा जाये एवं कलेक्ट्रेट विभाग से वाहन संख्या यू०पी०-32बी०जी० 3281 को वापस कराया जाये। मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिजनौर के आधीन वाहन जो कई वर्षो में ऑफ रोड खडे हुये है। उन वाहनों को निष्प्रयोजन कराने की कार्यवाही की जाये। उन्हें नीलाम कराते हुये नये वाहनों को लाने हेतु विभागीय कार्यवाही की जाये। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग बिजनौर के समस्त वाहन चालकों की जी०पी०एफ०/पासबुक/सर्विस बुक पूरी कराते हुए सम्बधिंत कर्मचारी के हस्ताक्षर कराये जाये। पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना के अन्तर्गत समस्त कर्मचारियों के कैशलेस कार्ड जारी कराये जाएं। इसके अलावा सामुदायिक स्वाथ्य केन्द्र नगीना पर कार्यरत रामपाल सिंह वाहन चालक जो 30-06-2022 को सेवानिवृत्त हो गए हैं, उनके देयों का भुगतान शीघ्र कराया जाए।

डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में ₹299 में होगा 10 लाख का बीमा – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

डाक विभाग के इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में ₹299 में होगा 10 लाख का बीमा – पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

लखनऊ। महंगे प्रीमियम पर बीमा करवाने में असमर्थ लोगों के लिए डाक विभाग का इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक एक विशेष सामूहिक दुर्घटना सुरक्षा बीमा लेकर आया है, जिसमें वर्ष में महज 299 और 399 रुपए के प्रीमियम के साथ लाभार्थी का 10 लाख रुपए का बीमा होगा। एक साल खत्म होने के बाद अगले साल यह बीमा रिन्यू करवाना होगा। इसके लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में लाभार्थी का खाता होना अनिवार्य है। उक्त जानकारी वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक और टाटा ए.आई.जी के मध्य हुए एक एग्रीमेंट के तहत 18 से 65 वर्ष आयु के लोगों को यह सामूहिक दुर्घटना बीमा सुरक्षा मिलेगी। इसके तहत, दोनों प्रकार के बीमा कवर में दुर्घटना से मृत्यु, स्थाई या आंशिक पूर्ण अपंगता, अंग विच्छेद या पैरालाइज्ड होने पर 10 लाख रुपए का कवर मिलेगा। साथ ही साथ इस बीमा में दुर्घटना से हॉस्पिटल में भर्ती रहने के दौरान इलाज हेतु 60,000 रुपए तक का आई.पी.डी खर्च और ओ.पी.डी में 30,000 रुपए तक का क्लेम मिलेगा। वहीं, 399 रुपए के प्रीमियम बीमा में उपरोक्त सभी लाभों के अलावा दो बच्चों की पढ़ाई के लिए एक लाख तक का खर्च, दस दिन अस्पताल में रोजाना का एक हजार खर्च, किसी अन्य शहर में रह रहे परिवार हेतु ट्रांसपोर्ट का 25,000 रूपए तक का खर्च और मृत्यु होने पर अंतिम संस्कार के लिए 5,000 तक का खर्च मिलेगा।

इस बीमा सुविधा में पंजीकरण के लिए लोग अपने नजदीकी डाकघर में संपर्क कर सकते हैं। इसके तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों को कवर करने हेतु डाक विभाग द्वारा ‘मिशन सुरक्षा’ अभियान 15 अगस्त तक चलाया जा रहा है।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान; वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्गल जी के विचार

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=pfbid02uv7FYX2j1NyaCRSpSkZexwU15eZDT8hhadZyRR2xb96re1Qy4gM3KxMYRZLPkwCql&id=100010324394979
आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के संदर्भ में वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्गल जी के विचार। उनकी फेसबुक वॉल से…

गांधी शांति प्रतिष्ठान की 9 जुलाई 2022 की सांझ समर्पित थी हिंदी को गढने, स॔वारने और उसे विषय गत वैविध्य से समृद्ध करने, सरस्वती पत्रिका के माध्यम से उसे निरंतर सृजनात्मक नया उन्मेष प्रदान करने वाले युग प्रवर्तक साहित्यकार, संपादक आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी के नाम।
महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मारक समिति ने अपने अनेक समर्पित गणमान्य सदस्यों और वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार गौरव अवस्थी के दायित्वपूर्ण देखरेख और संचालन में, अपने 25 वर्षों का सार्थक और सक्रिय सफर पूरा किया है। इस स्वागत योग्य संकल्प के साथ कि यह वर्ष महावीर प्रसाद द्विवेदी के जयंती वर्ष के रूप में मनाया जाएगा देश के कोने कोने में और उसकी पहली कड़ी का आरंभ हो रहा है, देश की राजधानी दिल्ली से।
अचानक अस्वस्थ होने के चलते गौरव अवस्थी जी की अनुपस्थिति में, मीडिया विशेषज्ञ, पत्रकार श्री अरविंद सिंह जी ने पूरे समय उनकी अनुपस्थिति को अपनी सरस उपस्थिति के चलते महसूस नहीं होने दिया।

बैसवाड़ा के साहित्य प्रेमियों के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश और विश्व भर में फैले हिंदी प्रेमियों के लिए यह सूचना हर्ष और गौरव का विषय है।
महावीर प्रसाद जयंती वर्ष के शुभारंभ के साथ ही 9 जुलाई की यह सांझ साक्षी बनी देश के प्रतिष्ठित जाने-माने पत्रकार त्रिलोक दीप जी के सम्मान के साथ, वरिष्ठ पत्रकार रहे साहित्य तक के प्रस्तोता श्री जय प्रकाश पांडे जी के साथ देश के कोने-कोने से आए अपने-अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देने वालों विशिष्ट जनों को आदर पूर्वक सम्मानित करने का भी।…

पर्यावरण की सुरक्षा को आगे आए NSG कमांडो

लखनऊ (पंचदेव यादव)। पर्यावरण बचाओ अभियान के तहत एनएसजी कमांडो ने नई और बेहद महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संभाल ली है। “एन० एस० जी० प्लान्टेशन ड्राइव -2022” के तहत टास्क फोर्स लखनउ स्थित एन० एस० जी० कमाण्डोज द्वारा वन विभाग के सहयोग से रिजर्व फोरेस्ट कुकरैल में पौधारोपण किया गया। इस दौरान इमली, आंवला, मेंहदी, अमरूद, जामुन, मोलसरी तथा सहजन जैसे पौधे लगाए गए।


इस दौरान एन० एस० जी० टास्क फोर्स लखनउ के विजय कुमार टास्क फोर्स कमाण्डार, रवि सुशान्त सहायक कमाण्डर व अन्य कमाण्डोज ने भागेदारी की। साथ ही वन
विभाग की तरफ से दिनेश कुमार तथा अन्य सहयोगी उपस्थित रहे।


सभी जवानों ने इस दौरान न केवल पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया अपितु भविष्य में भी इसी तरह के पौधारोपण कार्यक्रम समय समय पर आयोजित करते रहने की भी जिम्मेदारी ली।

पर्यावरण की सुरक्षा के लिए वृक्षारोपण जरूरी- अशोक राणा

पर्यावरण की सुरक्षा को करें वृक्षारोपण-अशोक राणा अभी तक हो चुका लगभग एक लाख पौधारोपण

बिजनौर। धामपुर विधायक अशोक कुमार राणा ने मंगलवार को स्योहारा क्षेत्र के गांव गेंडाजुड़ व महमूदपुर में पौधारोपण करते हुए कहा कि बिगड़ते पर्यावरण से धरती का तापमान लगातार बढ़ रहा है। इस कारण मानव जीवन जीव-जंतु व पेड़ पौधों पर बुरा असर पड़ रहा है। हम सभी को अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए ताकि पर्यावरण की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम द्वारा ब्लॉक के तीन ग्राम पंचायतों में पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया। बुढ़नपुर विकास खंड के ग्राम पंचायत महमूदपुर व गेंडाजुड़ में मंगलवार को पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि धामपुर विधायक अशोक कुमार राणा ने पौधरोपण करने के बाद कहा कि आज के बदलते परिवेश में सभी लोगों को पुनीत कार्य पौधरोपण में बढ़-चढ़ कर अपनी भूमिका निभानी चाहिए। बीडीओ ऋषि पाल सिंह ने बताया कि पूरे ब्लॉक में 1 लाख 33 हजार नौ सौ पैतीस पौधारोपण का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें अभी तक लगभग एक लाख पौधारोपण किया जा चुका है।


इस मौके पर धामपुर विधायक अशोक कुमार राणा, ब्लॉक प्रमुख उज्जवल चौहान, बीडीओ ऋषि पाल सिंह व दोनों ग्राम के प्रधान व ग्रामीण मौजूद रहे।

सरकारी स्कूलों में अब होगी तिमाही परीक्षा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब तिमाही परीक्षा की शुरुआत की जाएगी, यानी हर तीन महीने पर स्टूडेंट्स को परीक्षा देनी होगी. राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत बेसिक शिक्षा विभाग में ये बदलाव किया जा रहा है।  दरअसल बेसिक शिक्षा विभाग के नए सत्र की शुरुआत 1 अप्रैल 2022 से हुई है और 16 जून तक बच्चों के गर्मी की छुट्टी खत्म खोने के बाद स्कूल खोल दिए गए हैं। अप्रैल से शुरू हुए सेशन में जून तक 3 महीने कि पढ़ाई पूरी हो गई है इसीलिए जुलाई के अंत में अब इन स्कूलों में परीक्षाएं करवाई जाएंगी। इस तरह से पहली परीक्षा जुलाई, फिर अक्टूबर और जनवरी में परीक्षा कराने की तैयारी की जा रही है।

हर तीन महीने में परीक्षा

बेसिक शिक्षा विभाग कि ओर से हर जिले में तिमाही परीक्षा करवाने के निर्देश दे दिए गए हैं। विभागीय सूत्रों ने बताया कि शिक्षा विभाग ने तिमाही परीक्षा करवाने के निर्देश दिए हैं।  परीक्षा का परिणाम एक हफ्ते में आएगा, इन परीक्षाओं से स्टूडेंट्स और टीचर दोनों को फायदा होगा क्योंकि टीचर्स आसानी से पता लगा सकेंगे कि बच्चों ने उनके पढ़ाए हुए सिलेबस को कितना समझा है। इसके साथ ही बच्चों पर भी एकसाथ बोझ नहीं पड़ेगा और वो थोड़ी-थोड़ी तैयारी करते रहेंगे।

पढ़ाई में मिलेगी बच्चों को मद

दरअसल तिमाही परीक्षा के निर्णय से पहले राज्य सरकार ने साल में 2 बार मिशन प्रेरणा के तहत परीक्षा का निर्णय लिया था, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से ये नही हो पाया। वहीं तिमाही परीक्षा को लेकर शिक्षा विभाग का कहना है कि उससे बच्चों की पढ़ाई और बेहतर होगी क्योंकि समय समय पर उनका आंकलन हो सकेगा। बच्चे जिस सब्जेक्ट में कमज़ोर होंगे, उन्हें उस हिसाब से पढ़ाई करवाई जाएगी। जिन बच्चों के अच्छे अंक नहीं आएंगे, उन्हें रेडमीडियल टीचिंग के तहत पढ़ाया जाएगा और फिर जो अगला एग्जाम होगा उसमें चेक किया जाएगा कि टीचिंग तकनीक से बच्चों को कितना फायदा हुआ है।

आर्टीफिशियल इंटैलीजेंस टेक्निक से चेक होंगी कॉपियां

योगी सरकार ने रिजल्ट जल्दी और आसानी से तैयार करने के लिए एक ऐप तैयार किया है। आर्टीफिशियल इंटैलीजेंस टेक्निक से कॉपियों की चेकिंग होगी। इस ऐप की टेस्टिंग लखनऊ में हुई थी, लेकिन प्रदेश स्तर पर इसका इस्तेमाल नहीं किया गया है। उम्मीद है इस ऐप का इस्तेमाल जल्द की जाए। हाल ही में सरकार ने यूपी के स्कूलों एग्जाम पैटर्न में बदलाव किया था। नई शिक्षा नीति के तहत बच्चों की शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए यूपी शिक्षा विभाग ने कई बदलाव किए हैं।

सरकार ने बदले नियम; अब घर बैठे मिलेगा नया sim

अब इन ग्राहकों को नहीं मिलेगा नया Sim, नियमों में सरकार ने किया बदलाव। अब करना होगा ऑनलाइन अप्लाई, घर पहुंचेगा सिम।

18 साल से अधिक उम्र के लोगों को नया सिम कार्ड लेने के लिए आधार देना होगा या डिजिलॉकर में सेव किसी दस्तावेज से खुद को वेरिफाई करना होगा। ये सभी काम ऑनलाइन भी किए जा सकते हैं और इसके लिए केवाईसी भी ऑनलाइन की जाएगी। ऑनलाइन सिम कार्ड की बुकिंग कर सकते हैं, जिसकी डिलीवरी घर के पते पर की जाएगी।

नई दिल्ली (एजेंसी)। सरकार ने सिम कार्ड को लेकर नियमों को बदल दिया है। नए नियम के तहत अब कुछ कस्टमर्स के लिए नया सिम लेना आसान हो गया है, लेकिन कुछ कस्टमर्स के लिए नया सिम लेना मुश्किल हो गया है।

Extend Sim Card re-registration to the end of the year and stop the  pressure -NIA to government - myactiveonline

करना होगा ऑनलाइन अप्लाई- नए नियम के तहत कस्टमर्स अब नए सिम के लिए ऑनलाइन अप्लाई करेंगे और सिम कार्ड उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। ग्राहकों को मोबाइल कनेक्शन एक ऐप/पोर्टल बेस्ड प्रोसेस के जरिए दिया जाएगा, जिसमें ग्राहक घर बैठे मोबाइल कनेक्शन के लिए आवेदन कर सकते हैं। दरअसल, पहले मोबाइल कनेक्शन के लिए या प्रीपेड से पोस्टपेड कराने के लिए ग्राहकों को KYC प्रोसेस से गुजरना पड़ता था।

बस एक रुपए का भुगतान- सरकार ने सिम के लिए नियमों में बदलाव कर दिया है। अब नए नियम के तहत 18 साल से कम उम्र के कस्टमर्स को कंपनी नया सिम नहीं बेच सकती है। वहीं, 18 साल के ऊपर के उम्र के कस्टमर अपने नए सिम के लिए आधार या डिजीलॉकर में स्टोर्ड किसी भी डॉक्यूमेंट से खुद को वेरिफाई कर सकते हैं। विदित हो कि DoT का यह कदम 15 सितंबर 2021 को कैबिनेट द्वारा अप्रूव्ड टेलीकॉम रिफॉर्म्स का हिस्सा है। अब यूजर्स को नए मोबाइल कनेक्शन के लिए UIDAI की Aadhaar बेस्ड e-KYC सर्विस के माध्यम से सर्टिफिकेशन के लिए बस एक रुपए का भुगतान करना होगा।

इनको नहीं मिलेगी नई सिम– टेलीकॉम डिपार्टमेंट के नए नियमों के मुताबिक अब कंपनी 18 साल से कम उम्र के यूजर्स को सिम कार्ड नहीं मिलता। इसके अलावा अगर कोई शख्स मानसिक रूप से बीमार है तो ऐसे व्यक्ति को भी नया सिम कार्ड जारी नहीं किया जाएगा। अगर ऐसे शख्स नियमों का उल्लंघन करते पकड़ा गया तो उस टेलीकॉम कंपनी को दोषी माना जाएगा, जिसने सिम बेचा है। वैसे उन लोगों के लिए सिम खरीदना आसान होगा जिनका यूआईडीएआई से वेरिफिकेशन हो जाए। अगर वेरिफिकेशन नहीं हो तो सिम कार्ड लेना मुश्किल होगा। अब सबकुछ यूआईडीएआई से वेरिफिकेशन पर निर्भर करेगा। मोबाइल और सिम कार्ड के जरिये होने वाले फ्रॉड पर शिकंजा कसने के लिए यह नया नियम लाया गया है। सिम कार्ड से जुड़े ये नए नियम टेलीकॉम विभाग ने जारी किए हैं जिन्हें कैबिनेट की मंजूरी मिली है।

5 स्‍टेप्‍स में पूरी होगी सेल्‍फ केवाईसी की प्रक्रिया-


1. सिम प्रोवाइडर का ऐप डाउनलोड करें. फिर अपने फोन से रजिस्टर करें।

2. अपना दूसरा या अपने परिवार के किसी व्‍यक्ति का नंबर दें।

3. इसके बाद मिले वन टाइम पासवर्ड (OTP) की मदद से लॉगिन करें।

4. इसमें सेल्फ केवाईसी का ऑप्शन चुनें।

5. जानकारी भरकर प्रक्रिया पूरा करें।

इस नियम के तहत लागू किया गया है नियम
इस कॉन्ट्रैक्ट को इंडियन कॉन्ट्रैक्ट लॉ 1872 के तहत लागू किया गया है। इस कानून के तहत कोई भी कॉन्ट्रैक्ट 18 से ज्यादा उम्र के लोगों के बीच होना चाहिए। भारत में एक व्यक्ति अधिकतम अपने नाम से 12 सिम खरीद सकता है। इसमें से 9 सिम का इस्तेमाल मोबाइल कॉलिंग के लिए किया जा सकता है, जबकि अन्य सिम का इस्तेमाल मशीन-टू-मशीन कम्यूनिकेशन के लिए उपयोग किया जा सकेगा।

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय पुरस्कार 9 जुलाई को

लखनऊ। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी स्मृति संरक्षण अभियान के रजत जयंती वर्ष पर समारोह की श्रंखला नई दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान के सभागार में 9 जुलाई 2022 दिन शनिवार को प्रारंभ होने जा रही है।
राष्ट्रीय आयोजन समिति के संयोजक वरिष्ठ पत्रकार गौरव अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि समारोह की मुख्य अतिथि प्रसिद्ध कथाकार श्रीमती चित्रा मुद्गल जी हैं।

समारोह में बुजुर्ग पत्रकार आदरणीय श्री त्रिलोकदीप जी को आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राष्ट्रीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा। उनके अतिरिक्त अन्य दिग्गज पत्रकार-साहित्यकार विभिन्न पुरस्कारों से पुरस्कृत किए जाएंगे (विस्तार से विवरण आमंत्रण पत्र में उल्लिखित है)। उन्होंने कहा कि अपने पूर्वज की स्मृतियों से जुड़ने का यह सुनहरा मौका हाथ से जाने न दें।

वन विभाग ही दे रहा कटान माफिया को संजीवनी!

बिजनौर। पर्यावरण की रक्षा के लिए महत्वपूर्ण जिम्मेदारी वन विभाग के कंधों पर है, उसी विभाग के अफसरों को उन पेड़ों की पहचान नहीं है। जिन्हें 10 साल का बच्चा भी पहचान ले। …या यह कहें कि वन माफियाओं को संरक्षण देने के लिए वन अफसर इन पेड़ों की पहचान नहीं करना चाहते। ऐसा ही नजारा उस समय देखने को मिला जब माफियाओं ने आम व शीशम के हरे-भरे पेड़ काट डाले। मामले ने तूल पकड़ा तो वन दरोगा को मौके पर भेजा गया लेकिन वहां कटे पड़े आम व शीशम के पेड़ों को यूकेलिप्टिस व सिम्बल के पेड़ बताकर माफियाओं को संजीवनी दी जाने लगी। अब देखने वाली बात होगी कि जिला स्तर के अधिकारी इन पेड़ों की पहचान कर पाते हैं या नहीं।


शेरकोट में थाने से चंद दूरी पर ईदगाह के निकट एक आम का बाग है। इसमें शीशम, जामुन आदि के पेड़ भी खड़े हैं।  बताया जाता है कि धामपुर निवासी एक माफिया ने आम के इस हरे भरे बाग पर आरी चलवा दी। सूत्रों का कहना है कि लगभग 50 आम व शीशम आदि के पेड़ों को काटा जा चुका है। इनमें से कुछ पेड़ तो ढो लिए लेकिन कई पेड़ अभी भी मौके पर ही पड़े हुए हैं। शुरूआत में तो वन विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को इस बारे में कुछ पता नहीं चल सका या यह कहें कि जानकर अंजान बने रहे लेकिन जब मामले ने तूल पकड़ा तो वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। हालांकि तब तक पेड़ काटने व कटवाने वाले तो चंपत हो चुके थे लेकिन कटे हुए पेड़ मौके पर थे।

वन दरोगा का दावा आम व शीशम नहीं- वन विभाग इस मामले में माफियाओं पर क्या कठोर कार्यवाही करेगा, जब इस संबंध में रेंजर से बात की गई तो लोगों का वो अंदेशा बिल्कुल सच साबित होता दिखा, जिसमें यह कटान का कार्य माफियाओं और वन अफसरों की मिली भगत से होना जताया जा रहा था। रेंजर का दावा है कि मौके पर वन दरोगा लक्ष्मीचंद को भेजा गया था। उनके मुताबिक आम व शीशम नहीं बल्कि यूकेलिप्टिस और सिम्बल के पेड़ों को काटा गया है।

जिस जगह से आम व अन्य कई प्रजातियों के पेड़ काटे गए हैं, वह शमशान घाट की भूमि है। सरकारी भूमि से पेड़ काटने से पहले वन विभाग की ओर से मूल्यांकन कराया जाता है और उसके बाद नीलामी प्रक्रिया पूरी कर पेड़ काटे जाते हैं। इन पेड़ों को काटने से पहले ऐसा कुछ नहीं किया गया। सरकारी भूमि पर पेड़ काटने से पहले ऐसा कुछ नहीं किया गया जिस कारण यह कटान पूरी तरह अवैध है। अगर यह भूमि ग्राम पंचायत के अधीन आती है तो ग्राम प्रधान और अगर नगरीय क्षेत्र में आती है तो ईओ इस संबंध में एफआईआर दर्ज कराएंगे।
डा. अनिल कुमार पटेल
डीएफओ बिजनौर

1 जुलाई 2022 से चिन्हित एकल उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध


प्रतिबंधित एकल उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं के अवैध निर्माण, आयात, भंडारण, वितरण, बिक्री और उपयोग पर रोक लगाने के लिए राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित किए जायेंगे

सभी हितधारकों द्वारा प्रभावी भागीदारी और ठोस कार्रवाई के माध्यम से ही इस प्रतिबंध की सफलता संभव है

एकल उपयोग वाली प्लास्टिक (एसयूपी) पर प्रतिबंध लगाने में जनभागीदारी महत्वपूर्णPosted Date:- Jun 28, 2022

नई दिल्ली (PIB)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2022 तक एकल उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं को समाप्त करने के लिए दिए गए स्पष्ट आह्वान के अनुरूप, भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने 12 अगस्त 2021 को प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन संशोधन नियम, 2021 को अधिसूचित किया। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ की भावना को आगे बढ़ाते हुए, देश द्वारा कूड़े एवं अप्रबंधित प्लास्टिक कचरे से होने वाले प्रदूषण को रोकने के उद्देश्य से एक निर्णायक कदम उठाया जा रहा है। भारत 1 जुलाई, 2022 से पूरे देश में चिन्हित एकल उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं, जिनकी उपयोगिता कम और प्रदूषण क्षमता अधिक है, के निर्माण, आयात, भंडारण,  वितरण, बिक्री और उपयोग पर प्रतिबंध लगाएगा।

समुद्री पर्यावरण सहित स्थलीय और जलीय इकोसिस्टम पर एकल उपयोग वाली प्लास्टिक  वस्तुओं के प्रतिकूल प्रभावों को वैश्विक स्तर पर पहचाना गया है। एकल उपयोग वाली प्लास्टिक वस्तुओं के कारण होने वाले प्रदूषण को दूर करना सभी देशों के लिए एक महत्वपूर्ण पर्यावरणीय चुनौती बन गया है।

2019 में आयोजित चौथी संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण सभा में, भारत ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक उत्पादों के प्रदूषण से निपटने के लिए एक प्रस्ताव रखा था, जिसमें वैश्विक समुदाय द्वारा इस बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने की तत्काल आवश्यकता को स्वीकार किया गया था। यूएनईए 4 में इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया जाना एक महत्वपूर्ण कदम था। मार्च 2022 में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण सभा के हाल ही में संपन्न पांचवें सत्र में, भारत प्लास्टिक प्रदूषण के खिलाफ वैश्विक स्तर पर कार्रवाई शुरू करने के संकल्प पर आम सहमति विकसित करने के लिए सभी सदस्य देशों के साथ रचनात्मक रूप से जुड़ा।

भारत सरकार ने सिंगल यूज प्लास्टिक से उत्पन्न कचरे से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए ठोस कदम उठाए हैं। प्रतिबंधित वस्तुओं की सूची में ये वस्तुएं शामिल हैं- प्लास्टिक स्टिक वाले ईयर बड, गुब्बारों के लिए प्लास्टिक स्टिक, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी स्टिक, आइसक्रीम स्टिक, सजावट के लिए पॉलीस्टाइनिन (थर्मोकोल), प्लास्टिक की प्लेट, कप, गिलास